Hindi Kavita
वारिस शाह
Waris Shah
 Hindi Kavita 

वारिस शाह

वारिस शाह (१७२२ -१७९८) का जन्म सय्यद गुलशेर शाह के घर लाहौर से करीब ५० किलोमीटर दूर शेखूपुरा जिले के गाँव जंडिआला शेर ख़ान में हुआ। बचपन में वारिस शाह को गाँव की ही मस्जिद में पढ़ने के लिए भेजा गया। उस के बाद उन्होंने दर्शन-ए-नजामी की शिक्षा कसूर में मौलवी ग़ुलाम मुर्तजा कसूरी के पास से हासिल की। वहाँ से फ़ारसी और अरबी में शिक्षा प्राप्त करके वह पाकपटन चले गए। पाकपटन में बाबा फ़रीद की गद्दी पर मौजूद बुज़ुर्गों के पास से उन को आत्मिक ज्ञान की प्राप्ति हुई, जिस के बाद वह रानी हांस की मस्जिद में इमाम रहे और धार्मिक शिक्षा का प्रसार करते रहे। उनका नाम पंजाबी के सिरमौर कवियों में आता है। वह मुख्य तौर पर अपने किस्से हीर-रांझा के लिए मशहूर हैं।

    हीर वारिस शाह

1. हमद
2. किस्सा हीर रांझा लिखन बारे
3. किस्से दा आरंभ, तख़त हज़ारा अते रांझे बारे
4. रांझे नाल भाईआं दा साड़ा
5. भों दी वंड
6. रांझे दा हल वाहुना अते भाबियां नाल तकरार
7. रांझे दे घरों जान दी भरावां नूं ख़बर मिलणी
8. रांझे दा मसीत विच्च पुज्जणा
9. मुल्लां ते रांझे दे सवाल-जवाब
10. रांझे दा मसीतों जाणां अते नदी ते पुज्जणा
11. रांझे दे मलाह नूं तरले
12. रांझे दा हीर दे पलंघ बारे पुच्छणा
13. रांझे दा हीर दे पलंघ ते बैठणा
14. हीर दा आउना ते गुस्सा
15. हीर दे रूप दी तारीफ़
16. हीर दी मलाहां ते सखती ते उन्हां दा उत्तर
17. हीर रांझे नूं जगाउंदी है
18. हीर दा मेहरवान होणा
19. रांझे ते हीर दे सवाल जवाब
20. रांझे तों हीर ने हाल पुच्छना
21. हीर दा रांझे नूं चूचक कोल लिजाणा
22. चूचक दी मनज़ूरी
23. पंजां पीरां नाल मुलाकात
24. पीरां दी बखशिश
25. हीर दा भत्ता लै के बेले नूं जाणा
26. कैदो रांझे कोल
27. हीर दा कैदो नूं टक्करना
28. कैदों दा फ़र्याद करना
29. हीर दी मां कोल औरतां वल्लों चुग़ली
30. हीर दा मां कोल आउणा
31. हीर दे मां प्यु दी सलाह
32. चूचक रांझे नूं
33. रांझे ने चूचक दे घरों चले जाणा
34. गाईआं मझ्झां दा रांझे बिना ना चुगणा
35. मलकी चूचक नूं
36. मलकी दा रांझे नूं लभ्भणा
37. रांझे दा मलकी दे आखे फेर मझियां चारना
38. पीरां दा उत्तर
39. काज़ी अते मां बाप वल्लों हीर नूं नसीहत
40. रांझे दा पंजां पीरां नूं याद करना
41. पीरां ने रांझे नूं असीस देणी
42. हीर रांझे दी मिट्ठी नायन नाल सलाह
43. कैदों दा मलकी कोल लूतियां लाउणा
44. हीर दा मां कोल आउणा
45. कैदों दा स्यालां नूं कहणा
46. हीर नूं सहेलियां ने कैदों बाबत दस्सणा
47. हीर दी सहेलियां नाल कैदो नूं चंडन दी सलाह
48. कैदों दी पंचां अग्गे फ़र्याद
49. स्यालां ने कुड़ियां तों पुच्छणा
50. कैदों ने बेले विच्च लुक के बहणा
51. चूचक ने बेले विच्च हीर नूं रांझे नाल देखणा
52. रांझे दे भरावां ते भाबियां दा चूचक ते हीर नाल चिट्ठी-पत्तर
53. रांझे दियां भाबियां नूं हीर दा उत्तर
54. चूचक दी अपने भरावां नाल सलाह
55. खेड़्यां ने कुड़मायी लई नायी भेजणा
56. हीर दा मां नाल कलेश
57. हीर दे व्याह दी त्यारी
58. स्यालां दा मेल
59. खेड़्यां दी जंञ दी चड़्हत
60. काज़ी नाल हीर दे सवाल जवाब
61. रांझे बिनां गाईआं मझ्झां दा काबू ना आउणा
62. हीर ने रांझे नूं केहा
63. रांझे ने स्यालां नूं गाल्हां कढ्ढणियां
64. हीर दे जान पिच्छों रांझा हैरान ते भाबियां दा ख़त
65. इक्क वहुटी हत्थ हीर दा सुनेहा
66. रांझे ने हीर नूं चिट्ठी लिखवाई
67. हीर दी चिट्ठी
68. रांझे दा उत्तर लिखणा
69. रांझे दा जोगी बनन दा इरादा
70. टिल्ले जाके जोगी नाल रांझे दी गल्ल बात
71. रांझे ते नाथ दा मेहरबान होना अते चेल्यां दे ताअने
72. रांझा टिल्ले तो तुर प्या
73. आजड़ी अते रांझे दे सवाल जवाब
74. रांझा रंगपुर खेड़ीं पुज्जा
75. कुड़ियां दियां घर जा के गल्लां
76. हीर दी ननान सहती ने हीर नूं जोगी बारे दस्सणा
77. कुड़ियां जोगी कोल
78. रांझा गदा करन तुर प्या
79. रांझे ते सहती दे सवाल जवाब
80. रांझा इक्क जट्ट दे वेहड़े विच्च
81. रांझा खेड़्यां दे घरीं आया
82. हीर नूं जोगी दी सच्चायी दा पता लग्गणा
83. हीर रांझे वल्ल होई
84. नौकरानी दा ख़ैर पाउना ते जोगी दा होर भड़कणा
85. सहती ते रांझे दी लड़ाई
86. रांझा काले बाग़ विच
87. कुड़ियां काले बाग़ विच्च गईआं
88. रांझे दा कुड़ी हत्थ हीर नूं सुनेहा
89. हीर सहती नूं
90. सहती ने जोगी लई भेटा लिजाणी
91. रांझे ने सहती नूं करामात विखाउणी
92. हीर सज के काले बाग़ नूं गई
93. हीर ते सहती दे सवाल जवाब
94. सहती दी मां दी सहती नाल गल्ल
95. हीर आपनी सस्स कोल
96. सहती दी सहेलियां दे नाल सलाह
97. हीर दा सप्प लड़न दा बहाना
98. खेड़्यां सैदे नूं जोगी कोल भेज्या
99. रांझा सैदे दुआले
100. अज्जू जोगी कोल ग्या
101. जोगी दा अजू नाल आउणा
102. हीर ते रांझे ने पंजे पीर याद कीते
103. सहती नूं मुराद ने ते हीर नूं रांझे ने लै जाणा
104. वाहर ने रांझे ते हीर नूं फड़ लैणा
105. रांझे ने उच्ची उच्ची फ़र्याद कीती
106. फ़ौज ने खेड़्यां नूं राजे दे पेश कीता
107. काज़ी दा ग़ुस्सा ते हीर खेड़्यां नूं दित्ती
108. रांझे दा शहर नूं सराप
109. हीर रांझे नूं मिली
110. हीर नूं स्यालां ने घर ल्याउणा
111. स्यालां ने हीर नूं मार देणा
112. हीर दी मौत दी ख़बर सुणके रांझे ने आह मारी
113. किताब दा ख़ातमा
 
 
 Hindi Kavita