Hindi Kavita
वारिस शाह
Waris Shah
 Hindi Kavita 

Heer Waris Shah in Hindi-Part-4

हीर वारिस शाह भाग-4

304. रांझा रंगपुर खेड़ीं पुज्जा

रांझे अग्गे याल ने कसम खाधी, नगर खेड़्यां दे जाय धस्स्या ई ।
यारो कौन गिराउं सरदार केहड़ा, कौन लोक कदोकना वस्स्या ई ।
अग्गे पिंड दे खूह ते भरन पाणी, कुड़ियां घत्त्या हस्स ख़रखस्स्या ई ।
यार हीर दा भावें ते इह जोगी, किसे लभ्या ते नाहीं दस्स्या ई ।
पानी पी ठंडा छांवें घोट बूटी, सुन पिंड दा नाउं खिड़ हस्स्या ई ।
इहदा नाउं है रंगपुर खेड़्यां दा, किसे भाग भरी चा दस्स्या ई ।
अरी कौन सरदार है भात खाणी, सख़ी शूम केहा ल्या जस्स्या ई ।
अज्जू नाम सरदार ते पुत सैदा, जिस ने हक्क रंझेटे दा खस्स्या ई ।
बाग़ बाग़ रंझेटड़ा हो ग्या, जदों नाउं जटेटियां दस्स्या ई ।
सिंङी खप्परी बन्न्ह त्यार होया, लक्क चा फ़कीर ने कस्स्या ई ।
कदी लए हूलां कदी झूलदा ए कदी रो प्या कदी हस्स्या ई ।
वारिस शाह किरसान ज्युं हण राज़ी, मींह औड़ दे देहां ते वस्स्या ई ।

(ख़रखस्स=झगड़ा, भात खाणी=चौल खाणी,किसमत वाली. सखी=पैसे
टके वल्लों खुल्ल्ह दिल, सूम=सखी दा उलट,हत्थ घुट, हूलां=ठंडे साह,
औड़=मींह वलों सोका)

305. रांझे दुआले गभ्भरू

आ जोगिया केहा इह देस डिट्ठो, पुच्छन गभ्भरू बैठ विच्च दारियां दे ।
ओथे झल्ल मसतानियां करे गल्लां, सुख़न सुनो कन्न पाट्यां प्यार्यां दे ।
करां कौन सलाह मैं खेड़्यां दी, डार फिरन चौतरफ़ कवारियां दे ।
मार आशकां नूं करन चा बेरे, नैन तिखड़े नोक कटारियां दे ।
देन आशकां नूं तोड़े नाल नैणां, नैन रहन नाहीं हर्यारियां दे ।
एस जोबने दियां वणजारियां नूं, मिले आण सौदागर यारियां दे ।
सुरमा फुल दन्दासड़ा सुरख़ महन्दी, लुट लए ने हट्ट पसारियां दे ।
नैणां नाल कलेजड़ा छिक कढ्ढन, दिसन भोलड़े मुख विचारियां दे ।
जोगी वेख के आण चौगिरद होईआं, छुट्टे पर्हे विच्च नाग़ पटारियां दे ।
ओथे खोल्ह के अक्खियां हस्स पौंदा, डिठे ख़ाब विच्च मेल कवारियां दे ।
आन गिरद होईआं बैठा विच्च झूले, बादशाह ज्युं विच्च अंमारियां दे ।
वारिस शाह ना रहन निचल्लड़े बह, जिन्हां नरां नूं शौक ने नारियां दे ।

(तोड़े देणा=दिखावा करना कि उन्हां नूं कोई परवाह नहीं, छिक्क
कढ्ढण=कढ लैन, अंमारियां=हाथी उते बैठन लई परबंध, निचल्लड़े=
चुप चाप)

306. रांझा

माही मुंड्यु घरीं ना जा कहणा, जोगी मसत कमला इक्क आइ वड़्या ।
कन्नीं मुन्दरां सेल्हियां नैन सुन्दर, दाड़्ही पटे सिर भवां मुनाय वड़्या ।
जहां नाउं मेरा कोई जा लैंदा, महा देव लै दौलतां आइ वड़्या ।
किसे नाल कुदरत फुल्ल जंगले थीं, किवें भुल भुलावड़े आइ वड़्या ।
वारिस कंम सोई जेहड़े रब्ब करसी, मैं तां ओस दा भेज्या आइ वड़्या ।

(माही मंड्यु =रांझा मुंड्यां नूं उलटा कह रेहा कि तुसीं घर जा के
ना दस्यु कि जोगी आया है क्युंकि उहनूं पता है एदां कहन नाल
माही मुंडे ज़रूर घर जा के दस्सणगे ।जेहड़ा कंम करवाउना होवे उसतों
उलट करन लई आखणा, जंगले=जंगल दा, जहां नाउं =जित्थे कोई मेरा
नां लैंदा है शिव जी महाराज आप नाल लै के आउंदे हन)

307. कुड़ियां दियां घर जा के गल्लां

कुड़ियां वेख के जोगी दी तबाय सारी, घरीं हस्सदियां हस्सदियां आईआं ने ।
माए इक्क जोगी साडे नगर आया, कन्नीं मुन्दरां ओस ने पाईआं ने ।
नहीं बोलदा बुरा ज़बान विच्चों, भावें भिच्छ्या नाहीउं पाईआं ने ।
हत्थ खप्परी फाहुड़ी मोढ्यां ते, गल सेल्हियां अजब बणाईआं ने ।
अरड़ांवदा वाग जलालियां दे, जटां वांग मदारियां छाईआं ने ।
ना उह मुंडिया गोदड़ी नाथ जंगम, ना उदासियां विच्च ठहराईआं ने ।
प्रेम-मत्तियां अक्खियां रंग भरियां, सदा गूड़्हियां लाल सवाईआं ने ।
ख़ूनी बांकियां नशे दे नाल भरियां, नैणां खीवियां सान चड़्हाईआं ने ।
कदी संगली सुट्ट के शगन वाचे, कदी औंसियां सवाह ते पाईआं ने ।
कदी किंग वजायके खड़्हा रोवे, कदी संख ते नाद घूकाईआं ने ।
अट्ठे पहर अल्लाह नूं याद करदा, ख़ैर ओस नूं पाउंदियां माईआं ने ।
नशे बाझ भवां उहदियां मत्तियां ने, मिरगाणियां गले बणाईआं ने ।
जटां सुंहदियां छैल ओस जोगीड़े नूं, जिवें चन्द दवाले घटां आईआं ने ।
ना कोइ मारदा ना किसे नाल लड़्या, नैणां ओस द्यां झम्बरां लाईआं ने ।
कोई गुरू पूरा ओस नूं आण मिल्या, कन्न छेद के मुन्दरां पाईआं ने ।
वारिस शाह चेला बालनाथ दा ए झोकां प्रेम दियां किसे ते लाईआं ने ।

(जलाली=सय्यद शाह जलाली दे मुरीद,जोशीले अते गुसैले सुभा वाले
मलंग, मदारी=हज़रत शाह मदार दे मुरीद मुंडी, गोदड़ी अते जंगम=
फ़कीरां दे फिरके हन, शाह मदार=इन्हां दा मज़ार मक्कनपर (अवध)
भारत विच्च है,इहदे चेले सिर ते बहुत संघणियां जटां रक्खदे हन ।
मदारी साध भंग बहुत घोटदे अते पींदे हन, उन्हां नूं बखश है कि सप्प
दे कट्टे दा इलाज कर सकदे हन, जे ज़हरीला सप्प इन्हां दी हद्द विच्च
आ जावे तां दस्सदे हन कि उह अन्न्हां हो जांदा सी, मिरगाणियां=हरन,
शेर जां चीते दी खल, झम्बरां=छहबरां)

308. हीर दी ननान सहती ने हीर नूं जोगी बारे दस्सणा

घर आइ निनान ने गल्ल कीती, हीरे इक्क जोगी नवां आया नी ।
कन्नीं ओस दे दरशनीं मुन्दरां ने, गल हैंकला अजब सुहाहआ नी ।
फिरे ढूंडदा विच्च हवेलियां दे, कोई ओस ने लाल गवायआ नी ।
नाले गांवदा ते नाले रोंवदा ए वड्डा ओस ने रंग वटायआ नी ।
हीरे किसे रजवंस दा उह पुत्तर, रूप तुध थीं दून सवायआ नी ।
विच्च त्रिंञणां गांवदा फिरे भौंदा, अंत ओसदा किसे ना पायआ नी ।
फिरे वेखदा वहुटियां छैल कुड़ियां, मन किसे ते नहीं भरमायआ नी ।
काई आखदी प्रेम दी चाट लग्गी, तां ही ओस ने सीस मुनायआ नी ।
काई आखदी किसे दे इशक पिच्छे, बुन्दे लाह के कन्न पड़ायआ नी ।
कहन तखत हज़ारे दा इह रांझा, बाल नाथ तों जोग ल्याया नी ।
वारिस इह फ़कर तां नहीं ख़ाली, किसे कारने ते उते आया नी ।

(अजब=अजीब, सुहायआ=सजायआ, रजवंस=राजवंस,शाही
ख़ानदान, कारने उते=कारा करन)

309. हीर

मुठी मुठी इह गल्ल ना करो भैणां, मैं सुणद्यां ई मर गई जे नी ।
तुसां इह जदोकनी गल्ल टोरी, खली तली ही मैं लह गई जे नी ।
गए टुट सतरान ते अकल डुब्बी, मेरे धुख कलेजड़े पई जे नी ।
कीकूं कन्न पड़ायके जींवदा ए गल्लां सुणद्यां ही जिन्द गई जे नी ।
रोवां जदों सुण्यां ओसदे दुखड़े नूं, मुट्ठी मीट के मैं बह गई जे नी ।
मस्सु-भिन्ने दा नाउं जां लैंदियां हो, जिन्द सुणद्यां ही लुड़्ह गई जे नी ।
किवें वेखीए ओस मसतानड़े नूं, जिस दी त्रिंञणां विच्च धुंम पई जे नी ।
वेखां केहड़े देस दा उह जोगी, ओस थों कैन प्यारी रुस्स गई जे नी ।
इक्क पोसत धतूरा भंग पी के, मौत ओस ने मुल्ल क्युं लई जे नी ।
जिस दा माउं ना बाप ना भैन भाई, कौन करेगा ओस दी रई जे नी ।
भावें भुखड़ा राह विच्च रहे ढट्ठा, किसे ख़बर ना ओस दी लई जे नी ।
हाए हाए मुट्ठी उहदी गल्ल सुन के, मैं तां निघ्घड़ा बोड़ हो गई जे नी ।
नहीं रब दे ग़ज़ब तों लोक ड्रदे, मत्थे लेख दी रेख वह गई जे नी ।
जिस दा चन्न पुत्तर सवाह ला बैठा, दित्ता रब दा माउं सह गई जे नी ।
जिस दे सोहने यार दे कन्न पाटे, उह तां नढ्ढड़ी चौड़ हो गई जे नी ।
वारिस शाह फिरे दुक्खां नाल भर्या, ख़लक मगर क्युं ओस दे पई जे नी ।

(मुठी मुठी=दुहाई दे शबद हन,हाए लोका मैं धोखे विच्च लुट्टी गई,
जदोकनी=जदों दी, लह गई=धरती विच्च निघ्घर गई, सतराण=ताकत,
कलेजड़े धुख लग्गी=कालजा सड़न लग्गा, चौड़ हो गई=बरबाद हो गई)

310. तथा

रब्ब झूठ ना करे जे होए रांझा, तां मैं चौड़ होई मैनूं पट्ट्या सू ।
अग्गे अग्ग फ़िराक दी साड़ सुट्टी, सड़ी बली नूं मोड़ के फट्ट्या सू ।
नाले रन्न गई नाले कन्न पाटे, आख इशक थीं नफ़ा की खट्या सू ।
मेरे वासते दुखड़े फिरे जरदा, लोहा ताय जीभे नाल चट्ट्या सू ।
बुक्कल विच्च चोरी चोरी हीर रोवे, घड़ा नीर दा चा पलट्ट्या सू ।
होया चाक मली पिंडे खाक रांझे, लाह नंग नामूस नूं स्ट्ट्या सू ।
वारिस शाह इस इशक दे वनज विच्चों, जफा जाल की खट्ट्या वट्ट्या सू ।

(जरदा=झलदा,सहन्दा, ताय के=गरम करके, नीर=पाणी,हंझू,
नंग नामूस=शरम ह्या, जफ़ा जाल के=दुख झल्ल के)

311. हीर कुड़ियां नूं

गल्लीं लायके किवें ल्याउ उसनूं, रल पुछीए केहड़े थांउंदा ई ।
खेह लायके देस विच्च फिरे भौंदा, अते नाउं दा कौन कहांउंदा ई ।
वेखां केहड़े देस दा चौधरी है, अते ज़ात दा कौन सदाउंदा ई ।
वेखां रोहीओं, माझ्युं पट्टीउं है, रावी ब्यास दा इक्के झनाउं दा ई ।
फिरे त्रिंञना विच्च ख़ुआर हुन्दा, विच्च वेहड़्यां फेरियां पाउंदा ई ।
वारिस शाह मुड़ टोह इह कास दा नी, कोई एस दा भेत ना पाउंदा ई ।

(भौंदा=घुंमदा, रोही=बहावलपुर चूलसतान बीकानेर दा इलाका)

312. कुड़ियां जोगी कोल

लैन जोगी नूं आईआं धुम्बला हो, चलो गल्ल बणाय सवारीए नी ।
सभ्भे बोलियां 'वे नमसकार जोगी', क्युं नी साईं सवारीए प्यारीए नी ।
वड्डी मेहर होई एस देस उते, वेहड़े हीर दे नूं चल तारीए नी ।
नगर मंग अतीत ने अजे खाणा, बातां शौक दियां चाय विसारीए नी ।
मेले कुंभ दे हमीं अतीत चल्ले, नगर जायके भीख चितारीए नी ।
वारिस शाह तुमहीं घरों खाय आईआं, नाल चावड़ां लउ गुटकारीए नी ।

(धुम्बला=गरोह बण के, अतीत=जोगी, बैरागी, साईं सवारी=जेहदे उते
रब आप मेहर करे, गुटकारीए=गुटकणा;
पाठ भेद: गुटकारीए=घुमकारीए)

313. कुड़ियां

'रसम जग दी करो अतीत साईं', साडियां सूरतां वल ध्यान कीचै ।
अजू खेड़े दे वेहड़े नूं करो फेरा, ज़रा हीर दी तरफ़ ध्यान कीचै ।
वेहड़ा महर दा चलो विखा ल्याईए, सहती मोहनी ते नज़र आण कीचै ।
वारिस वेखीए घरां सरदार दियां नूं, अजी साहबो ! ना गुमान कीचै ।

(मोहणी=मोह लनै वाली,सुहणी)

314. रांझा

हमीं बड्डे फ़कीर सत पीड़्हीए हां, रसम जग दी हमीं ना जानते हां ।
कन्द मूल उजाड़ विच्च खायके ते, बण बास लै के मौजां मानते हां ।
बघ्याड़ शेर अर मिरग चीते, हमीं तिन्हां दियां सूरतां झानते हां ।
तुमहीं सुन्दरां बैठियां ख़ूबसूरत, हमीं बूटियां झाणियां छानते हां ।
नगर बीच ना आतमा परचदा ए उद्यान पखी तम्बू तानते हां ।
गुरू तीरथ जोग बैराग होवे, रूप तिन्हां दे हमीं पछानते हां ।

(अर=अते, झानते=वेखदे, झानियां=वेखदे, उद्यान=वसों तों दूर,
जंगल विच्च पक्खी तम्बू=झुग्गी,दो बांस जां लक्कड़ां सिद्धियां गड्ड के उन्हां
दे सिर्यां उपर विचकार इक्क होर लक्कड़ बन्न्ह के, उप्पर पाई ढालू
छत्त)

315. कुझ्झ होर कुड़ियां

पिच्छों होर आईआं मुट्यार कुड़ियां, वेख रांझने नूं मूरछत होईआं ।
अक्खीं टड्डियां रहउं ने मुख मीटे, टंगां बाहां वग्गा बेसत्त होईआं ।
अनी आउ खां पुछीए नढ्ढड़े नूं, देहियां वेख जोगी उदमत होईआं ।
धुप्पे आण खलोतियां वेंहदियां ने, मुड़्हके डुब्बियां ते रत्तो-रत्त होईआं ।

(मूरछत=बेसुध, टड्डियां=अड्डियां होईआं, वग्गा=चिट्टा, बेसत=
बिना साह सत दे, उदमत=मसत,हैरान)

316. कुड़ियां आपो विच्च

सईउ वेखो ते मसत अलस्सत जोगी, जैंदा रब दे नाल ध्यान है नी ।
इन्हां भौरां नूं आसरा रब दा है, घर बार ना तान ना मान है नी ।
सोइने वन्नड़ी देही नूं खेह करके, चलना ख़ाक विच्च फ़कर दी बान है नी ।
सोहना फुल गुलाब माशूक नढ्ढा, राज पुत्तर ते सुघड़ सुजान है नी ।
जिन्हां भंग पीती सवाह लाय बैठे, ओन्हां माहणूआं दी केही कान है नी ।
जिवें असीं मुट्यार हां रंग भरियां, तिवें इह भी असाडड़ा हान है नी ।
आयो, पुच्छीए केहड़े देस दा है, अते एस दा कौन मकान है नी ।

(भौर=आशक, काण=शरम,परवाह, मकान=थां)

317. कुड़ियां रांझे नूं

सुनी जोगिया गभ्भरूआ छैल बांके, नैणां खीव्या मसत दीवान्या वे ।
कन्नीं मुन्दरां खप्परी नाद सिंङी, गल सेल्हियां ते हथ गान्या वे ।
विच्चों नैन हस्सन होठ भेत दस्सन, अक्खीं मीटदा नाल बहान्या वे ।
किस मुन्युं कन्न किस पाड़्यु नी, तेरा वतन है कौन दीवान्या वे ।
कौन ज़ात है कास तों जोग लीतो, सच्चो सच्च ही दस्स मसतान्या वे ।
एस उमर की वायदे पए तैनूं, क्युं भौना एं देस बेगान्या वे ।
किसे रन्न भाबी बोली मार्या ई हिक्क साड़्या सू नाल तान्हआं वे ।
विच्च त्रिंञना पवे विचार तेरी, होवे ज़िकर तेरा चक्की-हान्यां वे ।
बीबा दस्स शताब हो जीऊ जांदा, असीं धुप दे नाल मर जानियां वे ।
करन मिन्नतां मुट्ठियां भरन लग्गियां, असीं पुछ के ही टुर जानियां वे ।
वारिस शाह गुमान ना पवीं मियां, अवे हीर द्या माल ख़ज़ान्या वे ।

(वायदे=दुख, चक्की हाना=चक्की-ख़ाना, शताब=छेती, जीऊ जांदा=
गरमी नाल दिल घबरा रेहा)

318. रांझा

रांझा आखदा ख्याल ना पवो मेरे, सप्प शींह फ़कीर दा देस केहा ।
कूंजां वांग ममोलियां देस छड्डे, असां ज़ात सिफ़ात ते भेस केहा ।
वतन दमां दे नाल ते ज़ात जोगी, सानूं साक कबीलड़ा ख़ेश केहा ।
जेहड़ा वतन ते ज़ात वल ध्यान रक्खे, दुनियांदार है उह दरवेश केहा ।
दुनियां नाल पैवन्द है असां केहा, पत्थर जोड़ना नाल सरेश केहा ।
सभ्भा ख़ाक दर ख़ाक फ़ना होणा, वारिस शाह फिर तिन्हां नूं ऐश केहा ।

(कबीलड़ा=टब्बर,कुटंभ, दमां=साहां)

319. तथा

सानूं ना अकाउ री भात खाणी, खंडा करोध का हमीं ना सूतने हां ।
जे कर आपनी आई ते आ जाईए, खुल्ल्ही झंड सिर ते असीं भूतने हां ।
घर महरां दे कासनूं असां जाणा, सिर महरियां दे असीं मूतने हां ।
वारिस शाह मियां हेठ बाल भांबड़, उलटे होइके रात नूं झूटने हां ।

320. कुड़ियां ते रांझा

असां अरज़ कीता तैनूं गुरू करके, बाल नाथ दियां तुसीं निशानियां हो ।
तन छेद्या है किवें ज़ालमां ने, कशमीर दियां तुसीं ख़ुरमानियां हो ।
साडी आजज़ी तुसीं ना मन्नदे हो, ग़ुस्से नाल पसार दे आनियां हो ।
असां आख्या महर दे चलो वेहड़े, तुसीं नहीं करदे मेहरबानियां हो ।
सभे सोंहदियां त्रिंञणीं शाह परियां, जिवें तकरशां दियां तुसीं कानियां हो ।
चल करो अंगुशत फ़रिशत्यां नूं, तुसीं असल शैतान दियां नानियां हो ।
तुसां शेख साअदी नाल मकर कीता, तुसीं वड्डे शरर दियां बानियां हो ।
असीं किसे परदेस दे फ़कर आए, तुसीं नाल शरीकां दे सानियां हो ।
जाउ वासते रब दे ख़्याल छड्डो, साडे हाल थीं तुसीं बेगानियां हो ।
वारिस शाह फ़कीर दीवानड़े ने, तुसीं दानियां अते परधानियां हो ।

(तन छेद्या=सरीर विच्च गलियां कीतियां, आनियां पसारदे=डेले
कढ्ढदे हो, तरकश=तीरां दा भत्था, अंगुशत=उंगली,इशारा, शेख़ साअदी=
ईरान दे बहुत वड्डे शायर, 'गुलिसतां' अते 'बोसतां' दो जगत प्रसिद्ध
किताबां दे रचेता हन ।दस्स्या जांदा है कि उह भारत वी आए सन।
उन्हां औरतां दे चलित्तरां बारे सुण्या होया सी ।इक्क पिंड जा के सभ
तों वध भलीमानस औरत दा पता कीता ।जदों उह खूह ते पानी भरन आई
तां उहनूं चलित्तरां बाबत पुच्छ्या ।उह कहन लग्गी कि उहनूं नहीं आउंदे,
उह होर औरतां दा पता दस्स सकदी है ।उहनूं इक्क निक्की जही मकरी आउंदी
है ।उह दिखा सकदी है ।शेख दे हां कहन ते उहने केहा कि जदों उह उहदे
कोलों कुझ्झ कदम परे जावेगा शुरू करेगी ।जदों शेख साहब कुझ्झ कदम परे नाल
दी गली मुड़े तां उहने रोला पा दित्ता कि लोको फड़ो, नाल दी गली जान वाला
काना पुरश उहदी इज़्ज़त लुट्टनी चाहुन्दा है, लोकां फड़ के शेख़ दी खिच्च धूह
कीती ।कोतवाल कोल लिजा के इक्क मकान विच्च बन्द कर दित्ता ।फिर उह
औरत फड़न वाल्यां नूं कहन लग्गी तुसीं उस काने आदमी नाल चंगी
कीती उह बदमाश एसे दा हक्कदार सी ।फड़न वाले आखन लग्गे कि उह
गलत पुरश फड़ ल्याए हन ।शेख नूं वेख के उह आखन लग्गी कि मैनूं
छेड़न वाला पुरश अक्खों काना सी ।जेहड़ा तुसीं फड़ ल्याए हो उह ता
शेख़ साअदी है जेहड़ा उहने रातीं सुफ़ने विच्च वेख्या सी ।औरत ने शेख़
दे पैरीं हत्थ लाए अते केहा इह तां वली पुरश फरिशता है ।उह काणा
सूर वी इसे गली विच्च भज्जा सी ।मैनूं मुआफ़ करो' फड़न वाल्यां वी
साअदी तों मुआफ़ी मंगी । जांदी होई उह औरत कह गई कि उहनूं तां
निक्की जही मकरी आउंदी सी उह दिखा दित्ती है, शरर=शरारत, सानी=
बराबर)

321. रांझा

हमीं भिछ्या वासते त्यार बैठे, तुमहीं आण के रिक्कतां छेड़दियां हो ।
असां लाह पंजालियां जोग छड्डी, तुसीं फेर मुड़ खूह नूं गेड़दियां हो ।
असीं छड्ड झेड़े जोग लाय बैठे, तुसीं फेर आलूद लबेड़दियां हो ।
पिच्छों कहोगी भूतने आण लग्गे, अन्न्हे खूह विच्च संग क्युं रेड़्हदियां हो ।
हमीं भिख्या मांगने चले हां री, तुम्हीं आण के काह खहेड़दियां हो ।

(आलूद=लिबड़्या होया, संग=पत्थर, अन्न्हा खूह=बेआबाद जां
उजड़्या खूह जिस बाबत वहम सी कि उस विच्च इट्ट पत्थर मारन
नाल भूत लग जांदे हन)

322. रांझा गदा करन तुर प्या

रांझा खप्परी पकड़ के गज़े चड़्हआ, सिंङी दवार-ब-दवार वजाउंदा ए ।
कोई दे सीधा कोई पाए टुक्कड़, कोई थालियां परोस ल्याउंदा ए ।
कोई आखदी जोगीड़ा नवां बण्या, रंग रंग दी किंग वजाउंदा ए ।
कोई दे गाली धाड़े मार फिरदा, कोई बोलदी जो मन भाउंदा ए ।
कोई जोड़ के हत्थ ते करे मिन्नत, सानूं आसरा फ़कर दे नाउं दा ए ।
कोई आखदी मसत्या चाक फिरदा, नाल मसतियां घूरदा गाउंदा ए ।
कोई आखदी मसत दीवानड़ा है, बुरा लेख जनैंदड़ी माउं दा ए ।
कोई आखदी ठग उधाल फिरदा, सूहा चोरां दे किसे राउं दा ए ।
लड़े भिड़े ते गालियां दए लोकां, ठठे मारदा लोड़्ह कमांउदा ए ।
आटा कनक दा लए ते घ्यु भत्ता, दाना टुकड़ा गोद ना पाउंदा ए ।
वारिस शाह रंझेटड़ा चन्द चड़्हआ, घरो घरी मुबारकां ल्याउंदा ए ।

(गज़ा करन=मंगन, सीधा=कच्चा खुशक राशन, धाड़े मार=चोर,डाकू,
ठट्ठे मार=मखौल उडाउन वाला)

323. रांझा

आ वड़े हां उजड़े पिंड अन्दर, काई कुड़ी ना त्रिंञणीं गांवदी है ।
नाहीं किकली पांवदी ना संमी, पम्बी पा ना धरत हलांवदी है ।
नाहीं चूहड़ी दा गीत गांउंदियां ने, गिद्धा राह विच्च काई ना पांवदी है ।
वारिस शाह छड्ड चल्लीए इह नगरी, ऐसी तब्हा फ़कीर दी आंवदी है ।

(संमी=हलका चुसत नाच, पम्बी=छाल मार के नच्चणा)

324. कुड़ियां

चल जोगिया असीं विखा ल्याईए, जित्थे त्रिंञणीं छोहरियां गाउंदियां ने ।
लै के जोगी नूं आण विखाल्यु ने, जित्थे वहुटियां छोप रल पाउंदियां ने ।
इक्क नच्चदियां मसत मलंग बण के, इक्क सांग चूड़्ही दा लाउंदियां ने ।
इक्क बायड़ां नाल घसा बायड़, इक्क माल्ह ते माल्ह फिराउंदियां ने ।
वारिस शाह जोगी आण धुस्स दित्ती,कुड़ियां सद्द के कोल बहाउंदियां ने ।

(छोप=जोटे, बायड़ां=लकड़ी दा गोल चक्कर)

325. त्रिंञन विच्च ज़ातां दा वेरवा

जित्थे त्रिंञणां दी घुमकार पौंदी, अत्तन बैठियां लख महरेटियां ने ।
खतरेटियां अते बहमनेटियां ने, तुरकेटियां अते जटेटियां ने ।
लुहारियां लौंग सुपारियां ने, सुन्दर खोजियां अते रंघड़ेटियां ने ।
सुन्दर कुआरियां रूप संगारियां ने, अते व्याहियां मुशक लपेटियां ने ।
अरोड़ियां मुशक विच्च बोड़ियां ने, फुलहारियां छैल सुनरेटियां ने ।
मनेहारियां ते पक्खीवारियां, ने सुन्दर तेलणां नाल मोचेटियां ने ।
पठाणियां चादरां ताणियां ने, पशतो मारदियां नाल मुग़लेटियां ने ।
पिंजारियां नाल चम्यारियां ने, राजपूतनियां नाल भटेटियां ने ।
दरज़ानियां सुघड़ स्याणियां ने, बरवालियां नाल मछेटियां ने ।
सईअद्द ज़ादियां ते शैख़ ज़ादियां, ने तरखाणियां नाल घुमरेटियां ने ।
राउल्याणियां बेटियां बाणियां दियां, छन्नां वालियां नाल वणेटियां ने ।
चंगड़्याणियां नायणां मीरज़ादां, जिन्हां लस्सियां नाल लपेटियां ने ।
गंधीलणां छैल छबीलियां ने, ते कलालणां भाबड़ियां बेटियां ने ।
बाज़ीगरनियां नटनियां कुंगड़ानियां, वीरा राधणां राम जणेटियां ने ।
पूरब्याणियां छींबणां रंगरेज़ां, बैरागणां नाल ठठरेटियां नी ।
संडासणां अते ख़रासणां नी ,ढालगरनियां नाल वणसेटियां नी ।
कुंगराणियां डूमणियां दाईं कुट्टां, आतिशबाज़णां नाल पहलवेटियां ने ।
खटीकणां ते नेचा बन्दनां ने, चूड़ीगरनियां ते कंमगरेटियां ने ।
भरायणां वाहनां सरसस्याणियां, साउंस्याणियां कितन कोझेटियां ने ।
बहरूपणां रांझणां ज़ीलवट्टां, बरवालियां भट्ट बहमनेटियां ने ।
लुबाणियां ढीडणां पीरनियां ने, साऊआणियां दुध दुधेटियां ने ।
झबेलना म्युणियां फफेकुटणियां, जुलहेटियां नाल कसेटियां ने ।
काग़ज़-कुट्ट डबगरनियां उरद-बेगां, हाथीवानियां नाल बलोचेटियां ने ।
बांकियां गुजरियां डोगरियां छैल बणियां, राजवंसणां राजे दियां बेटियां ने ।
पकड़ अंचला जोगी नूं ला गल्लीं, वेहड़े वाड़ के घेर लै बैठियां ने ।
वारिस शाह जीजा बैठा हो जोगी, दवाले बैठियां सालियां जेठियां ने ।

(घुमकार=गूंज, अत्तण=कुड़ियां दी महफ़ल, वणेटी=वान वट्टन वाली,
मीरज़ादी=सय्यदज़ादी, कलालण=शराब कढ्ढन ते वेचन वाली, राम जणी=
नाची, वणसेटी=बांस, नड़े अते सरकंडे दा समान बणाउन वाली, अंचला=
आंचल,पल्ला, कुंगराणी=मिट्टी दे खिडौने बणाउन वाली, पहलवेटी=
पहलवान दी इसतरी, कंमगरेटी=कमान बणाउन वाली)

326. तथा

काई आ रंझेटे दे नैन वेखे, काई मुखड़ा वेख सलाहुन्दी है ।
अड़ीउ वेखो तां शान इस जोगीड़े दी, राह जांदड़े मिरग फहाउंदी है ।
झूठी दोसती उमर दे नाल जुस्से, दिन चार ना तोड़ निबाहुन्दी है ।
कोई ओढनी लाह के मुख पूंझे, धो धा बिभूत चा लाहुन्दी है ।
काई मुख रंझेटे दे नाल जोड़े, तेरी तब्हा की जोगिया चाहुन्दी है ।
सहती लाड दे नाल चवा करके, चाय सेल्हियां जोगी दियां लाहुन्दी है ।
रांझे पुच्छ्या कौन है इह नढ्ढी, धी अजू दी काई चा आंहदी है ।
अज्जू बज्जू छज्जू फज्जू अते कज्जू, हुन्दा कौन है तां अग्गों आंहदी है ।
वारिस शाह निनान है हीर सन्दी, धीउ खेड़्यां दे बादशाह दी है ।

327. रांझे ते सहती दे सवाल जवाब

अज्जू धी रक्खी धाड़े मार लप्पड़, मुशटंडड़ी त्रिंञणीं घुंमदी है ।
करे आण बेअदबियां नाल फ़क्करां, सगों सेल्हियां नूं नाहीं चुमदी है ।
लाह सेल्हियां मारदी जोगियां नूं, अते मिलदियां महीं नूं टुम्बदी है ।
फिरे नचदी शोख़ बेहान घोड़ी, ना इह बहे ना कतदी तुम्बदी है ।
सिरदार है लोहकां लाहकां दी, पीहन डोल्हदी ते तौन लुम्बदी है ।
वारिस शाह दिल आंवदा चीर सुट्टां, बुन्याद पर ज़ुलम दी खुम्ब दी है ।

(धाड़ेमार=वारदातन, बेहाण=बछेरी, लुम्बणा=झपटा मारना,
तौण=गुन्न्या होया आटा)

328. सहती

लग्गें हत्थ तां पकड़ पछाड़ सुट्टां, तेरे नाल करसां सो तूं जाणसें वे ।
हक्को हिक्क करसां भन्न लिंग गोडे, तदों रब नूं इक्क पछाणसें वे ।
वेहड़े वड़्युं तां खोह चटकोर्यां नूं, तदों शुकर बजा ल्यावसें वे ।
गद्दों वांग जां जूड़ के घड़ां तैनूं, तदों छट्ट तदबीर दी आणसें वे ।
सहती उठ के घरां नूं खिसक चल्ली, मंगन आवसैं तां मैनूं जाणसें वे ।
वारिस शाह वांगूं तेरी करां ख़िदमत, मौज सेजिय दी तदों माणसें वे ।

(हक्को हिक्क करसां=हड्ड गोडे सुजा के इक्क कर देवांगी, सेज्या=सेज)

329. रांझा

सप्प शीहनी वांग कुलहणीएं नी, मास खाणीएं ते रत्त पीणीएं नी ।
काहे फ़क्कर दे नाल रेहाड़ पईएं, भला बखश सानूं मापे जीणीएं नी ।
दुखी जीउ दुखा ना भाग भरीए, सोइन-चिड़ी ते कूंज लखीणीएं नी ।
साथों निशा ना होसिया मूल तेरी, सके ख़सम थीं ना पतीणीएं नी ।
चरखा चाय नेहत्थड़े मरद मारे, किसे यार ने पकड़ पलीहणीएं नी ।
वारिस शाह फ़कीर दे वैर पईए, जरम-तत्तीए करम दी हीणीएं नी ।

(रेहाड़=झगड़ा, लखीणीएं=वेखन योग, पलीहणा=बीजन तों पहलां
खेत नूं सिंजणा)

330. रांझा इक्क जट्ट दे वेहड़े विच्च

वेहड़े जट्टां दे मंगदा जा वड़्या, अग्गे जट्ट बैठा गाउं मेलदा है ।
सिंङी फूक के नाद घूकायआ सू, जोगी गज्ज गजे विच्च जाय ठेल्हदा है ।
वेहड़े विच्च औधूत जा गज्ज्या ई मसत सान्ह वांगूं जाय मेल्हदा है ।
हू, हू करके संघ टड्ड्या सू, फ़ीलवान ज्युं हसत नूं पेलदा है ।

(मेलदा=चोन लई त्यार करदा, फीलवान=हथवान,महावत, हसत=
हाथी, पेलदा=हकदा)

331. जट्ट ने केहा

न्याना तोड़ के ढांडड़ी उठ नट्ठी, भन्न दोहनी दुद्ध सभ डोहल्या ई ।
घत्त ख़ैर एस कटक दे मोहरी नूं, जट्ट उठके रोह हो बोल्या ई ।
झिरक भुक्खड़े देस दा इह जोगी, एथे दुन्द की आण के घोल्या ई ।
सूरत जोगियां दी अक्ख गुंड्यां दी, दाब कटक दे ते जीऊ डोल्या ई ।
जोगी अक्खियां कढ के घत त्यूड़ी, लै के खप्परा हत्थ विच्च तोल्या ई ।
वारिस शाह हुन जंग तहकीक होया, जम्बू शाकनी दे अग्गे बोल्या ई ।

(न्याणा=टंगीं पाई रस्सी, ढांडड़ी=बुढ्ढी गां, दुन्द=फसाद, झिरक=भुखड़,
जम्बू=देवत्यां विरुद्ध लड़न वाला इक्क राकश, शाकणी=इक्क भ्यानक देवी
जेहड़ी दुरगा दी सेवादारनी सी)

332. जट्टी ने रांझे नूं बुरा भला केहा

जट्टी बोल के दुद्ध दी कसर कढ्ढी, सभ्भे अड़तने पड़तने पाड़ सुट्टे ।
पुने दाद पड़दादड़े जोगीड़े दे, सभ्भे टंगने ते साक चाड़्ह सुट्टे ।
मार बोलियां गालियां दे जट्टी, सभ फ़क्कर दे पित्तड़े साड़ सुट्टे ।
जोगी रोह दे नाल खड़लत्त घत्ती, धौल मार के दन्द सभ झाड़ सुट्टे ।
जट्टी ज़िमीं 'ते पटड़े वांग ढट्ठी, जैसे वाहरू फट्ट के धाड़ सुट्टे ।
वारिस शाह मियां जिवें मार तेसे फ़रहाद ने चीर पहाड़ सुट्टे ।

(अड़तने पड़तने=अग्ग पिच्छा, टंगने ते साक चाड़्ह दित्ते=साकां
नूं गालां कढ्ढियां, पित्तड़े=पित्ते, ग़ुस्सा करन वाला बकवास कीता,
फ़रहाद=शीरीं फ़रहाद दी प्यार गाथा दा नायक ।ईरानी
बादशाह खुसरो परवेज़ दी मलका दा आशक ।खुसरो ने फ़रहाद
दी आज़मायश करन लई इह शरत रख दित्ती कि जे उह
वसतून नामी पहाड़ विच्चों दुद्ध दी नहर रानी दे महल्ल तक्क
लै आवे तां शीरीं उहदे हवाले कर दित्ती जावेगी ।फ़रहाद
दे सच्चे प्यार ने पत्थर दे पहाड़ नूं सिदक अते बेमिसाल
हंमत लाल कट्ट के दुद्ध दी नहर कढ्ढ दित्ती ऐपर बादशाह
ने बादशाहां वाली गल्ल कीती अते इक्क फफाकुटनी राहीं
फ़रहाद नूं केहा कि शीरीं मर गई ।उहने इस ख़बर
नूं सच्च मन्न के पहाड़ कट्टन वाला तेशा आपने सिर विच्च
मार के आपनी जान लै लई ।इह ख़बर सुन के शीरीं
ने वी महल्ल तों छाल मार के जान दे दित्ती)

333. जट्ट दी फ़र्याद

जट्ट वेख के जट्टी नूं कांग घत्ती, वेखो परी नूं रिछ पथल्ल्या जे ।
मेरी सैआं दी महर नूं मार जिन्दों, तिलक महर दी जूह नूं चल्ल्या जे ।
'लोका बाहुड़ी' ते फ़र्याद कूके, मेरा झुग्गड़ा चौड़ कर चल्ल्या जे ।
पिंड विच्च इह आण बलाय वज्जी, जेहा जिन्नपछवाड़ विच्च मल्ल्या जे ।
पकड़ लाठियां गभ्भरू आण ढुक्के, वांग काढवें कनक दे हल्ल्या जे ।
वारिस शाह ज्युं धूंयां सरक्यां 'ते, बद्दल पाट के घटां हो चल्ल्या जे ।

(कांग=दुहाई पाहर्या, झुग्गड़ा=वसदा घर, वज्जी=आ गई)

334. जट्टी दी मदद ते लोक आए

आइ, आइ मुहाण्यां जदों कीती, चौहीं वलीं जां पलम के आइ गए ।
सच्चो सच्च जां फाट ते झवें वैरी, जोगी होरीं भी जी चुराय गए ।
वेखो फ़क्कर अल्लाह दे मार जट्टी, ओस जट नूं वायदा पाय गए ।
जदों मार चौतरफ़ त्यार होई, ओथों आपना आप खिसकाय गए ।
इक्क फाट कढ्ढी सभे समझ गईआं, रन्नां पिंड दियां नूं राह पाय गए ।
जदों ख़सम मिले पिच्छों वाहरां दे, तदों धाड़वी खुरे उठाय गए ।
हत्थ लायके बरकती जवान पूरे, करामात ज़ाहरा दिखलाय गए ।
वारिस शाह मियां पटे बाज़ छुट्टे, जान रक्ख के चोट चलाय गए ।

(मुहाण्यां=वग्ग दे छेड़ूआं दियां तीवियां, चौंही वलीं=चारे
पास्युं, पलम के=इकट्ठियां होके, झवें=त्यार होए, वायदा=
दुख,ख़सम=मालक, बरकती जवान=बरकत वाला फ़कीर, पटे बाज़=
लकड़ी जां गतके नाल दो हत्थ दिखाउन वाला)

335. जोगी दी त्यारी

जोगी मंग के पिंड त्यार होया, आटा मेल के खप्परा पूर्या ई ।
किसे हस्स के रुग चा पायआ ई किसे जोगी नूं चा वडूर्या ई ।
काई दब्ब के जोगी नूं डांट लैंदी, किते ओन्हां नूं जोगी ने घूर्या ई ।
फले खेड़्यां दे झात पायआ सू, जिवें सोल्हवीं दा चन्द पूर्या ई ।

(वडूर्या=चंगा मन्दा केहा, फले=दरवाज़े, सोल्हवीं दा चन्द=भावें
उह चौधवीं दा चन्द सी पर जोगी बण के सोल्हवीं दा लगदा सी)

336. रांझा खेड़्यां दे घरीं आया

कहियां वलगणां वेहड़े ते अरलखोड़ां, कहियां बक्खलां ते खुरलाणियां नी ।
कहियां कोरियां चाटियां नेहींआं ते, कहियां किल्लियां नाल मधाणियां नी ।
ओथे इक्क छछोहरी जेही बैठी, किते निकलियां घरों सवाणियां नी ।
छत्त नाल टंगे होए नज़र आवन, खोपे नाड़ियां अते पराणियां नी ।
कोई पलंघ उते नागरवेल पईआं, जेहियां रंग महल विच्च राणियां नी ।
वारिस कुआरियां कशटने करन पईआं, मोए मापड़े ते मेहनताणियां नी ।
सहती आख्या भाबीए वेखनी हैं, फिरदा लुच्चा मुंडा घर सवाणियां नी ।
किते सज्जरे कन्न पड़ा लीते, धुरों लाहनतां इह पुराणियां नी ।

(अरल खोड़=वारिस शाह दे समें चोरां दे डर तों पसूआं वाली हवेली नूं
अन्दरों बन्द करके सुरक्ख्या लई अन्दर ही सौंदे सन ।दरवाज़े दे पिच्छे इक्क
लकड़ी दा अरल वी रक्ख्या जांदा सी जेहदे दोनों सिरे कंध विच्च चले जांदे
सन ।इक्क पासे सारा अरल कंध विच्च चला जांदा सी, बुक्खल=पशूआं वाला
मकान, नेहियां=छोटी घड़ौंजी, नागर वेल=सभ तों वधिया पान दी वेल
नाज़ुक सरीर वाली सुहणी, कशटने=सखत मेहनत वाले कंम)

337. रांझा हीर दे घर आया

जोगी हीर दे साहुरे जा वड़्या, भुखा बाज़ ज्युं फिरे ललोरदा जी ।
आया ख़ुशी दे नाल दो चन्द हो के, सूबादार ज्युं नवां लाहौर दा जी ।
धुस्स दे वेहड़े जा वड़्या, हत्थ कीता सू सन्न्ह दे चोर दा जी ।
जा अलख वजायके नाद फूके, सवाल पाउंदा लुतपुता लोड़ दा जी ।
अनी खेड़्यां दी प्यारीए वहुटीए नी, 'हीरे सुख है' चाय टकोरदा जी ।
वारिस शाह हुन अग्ग नूं पई फवी, शगन होया जंग ते शोर दा जी ।

(ललोरदा=लूर लूर करदा,भालदा, दो चन्द=दुगणा, लुतपुता=सुआदला,
टकोरदा=टनकाउंदा,टुंहदा)

338. सहती

सच्च आख तूं रावला कहे सहती, तेरा जीऊ काई गल्ल लोड़दा जी ।
वेहड़े वड़द्यां रिक्कतां छेड़ियां नी, कंडा विच्च कलेजड़े पोड़दा जी ।
बादशाह दे बाग़ विच्च नाल चावड़, फिरें फुल गुलाब दा तोड़दा जी ।
वारिस शाह नूं शुतर मुहार बाझों, डांग नाल कोई मूंह मोड़दा जी ।

(रावला=इह जोगियां दा फिरका है जिस बाबत कथा प्रचल्लत है
कि जद हीर दे वियोग विच्च रांझा बालनाथ दा चेला होया, उस
तों इह फिरका चल्या, काई=केहड़ी, पोड़दा=चुभोंदा, शुतर=ऊठ)

339. रांझा

आ कुआरीए ऐड अपराधने नी, धक्का दे ना हिक्क दे ज़ोर दा नी ।
बुन्दे कंधली नथली हस्स कड़ियां, बैसें रूप बणायके मोर दा नी ।
अनी नढ्ढीए रिकतां छेड़ नाहीं, इह कंम नाहीं धुंम शोर दा नी ।
वारिस शाह फ़कीर ग़रीब उते, वैर कढ्ढ्युई किसे खोर दा नी ।

(अपराधने=ज़ालमे, बुन्दे, नथली, हस कड़ियां=गहन्यां दे नां,
खोर=खोरी)

340. सहती

कल्ह जायके नाल चवाय चावड़, सानूं भन्न भंडार कढायउ वे ।
अज्ज आण वड़्युं जिन्न वांग वेहड़े, वैर कल्ह दा आण जगायउ वे ।
गदों आण वड़्युं विच्च छोहरां दे, किन्हां शामतां आण फहायउ वे ।
वारिस शाह रज़ाय दे कंम वेखो, अज्ज रब्ब ने ठीक कुटायउ वे ।

(भन्न=भंड के, छोहरां=कुड़ियां)

341. रांझा

कच्ची कुआरीए लोड़्ह दीए मारीए नी, टूने हारीए आख की आहनी हैं ।
भल्यां नाल बुर्यां काहे होवनी हैं, काई बुरे ही फाहुने फाहुनी हैं ।
असां भुख्यां आण सवाल कीता, कहियां ग़ैब दियां रिक्कतां डाहुनी हैं ।
विच्चों पक्कीए छैल उचक्कीए नी, राह जांदड़े मिरग क्युं फाहुनी हैं ।
गल्ल हो चुक्की फेर छेड़नी हैं, हरी साख नूं मोड़ क्युं वाहुनी हैं ।
घर जान सरदार दा भीख मांगी, साडा अरश दा किंगरा ढाहुनी हैं ।
केहा नाल परदेसियां वैर चायउ, चैंचर हारीए आख की आहनी हैं ।
राह जांदड़े फ़कर खहेड़णीं हैं, आ नहरीए सिंग क्युं डाहुनी हैं ।
घर पेईअड़े धरोहियां फेरियां नी, ढगी वेहरीए सान्हां नूं वाहुनी हैं ।
आ वासता ई नैणां गुंड्यां दा, इह कल्हा किवें पिच्छों लाहुनी हैं ।
शिकार दर्या विच्च खेड मोईए, केहियां मूत विच्च मच्छियां फाहुनी हैं ।
वारिस शाह फ़कीर नूं छेड़नी हैं, अक्खीं नाल क्युं खक्खरां लाहुनी हैं ।

(साख=खेती, नहरी=कौड़, ढग्गी वहरी…सान्हां नूं वांहदी=मच्छरी
होई गां सान्हां ते चड़्हदी है, कल्हा=झगड़ा)

342. सहती

अनी सुनो भैणां कोई छिट जोगी, वड्डी जूठ भैड़ा किसे थाउं दा है ।
झगड़ैल मरखनां घंढ मच्चड़ रप्पड़ खंड इह किसे गिराउं दा है ।
परदेसियां दी नहीं डौल इस दी, इह वाकिफ़ हीर दे नाउं दा है ।
गल्ल आख के हत्थां ते पवे मुक्कर, आपे लांवदा आप बुझाउंदा है ।
हुने भन्न के खप्परी तोड़ सेल्ही, नाले जटां दी जूट खुहाउंदा है ।
जे मैं उठ के पान पत्त लाह सुट्टां, पैंच इह ना किसे गिराउं दा है ।
कोई डूम मोची इक्के ढेड कंजर, इक्के चूहड़ा किसे सराउं दा है ।
वारिस शाह मियां वाह ला रहियां, इह झगड़्युं बाज़ ना आउंदा है ।

(छिट=बहुत बुरा,फसादी, घंड=हंढ्या होया, रप्पड़ खंड=झगड़ालू,
रप्पड़ जमीन वरगा, मरखना=मारन खंडा, जूट=जूड़ा, ढेड=ढीठ,बेशरम,
बाज़ नहीं आउंदा=हटदा नहीं,टलदा नहीं)

343. रांझा

पकड़ ढाल तलवार क्युं गिरद होई, मत्था मुन्नीए कड़मीए भागीए नी ।
चैंचर हारीए डारीए जंग बाज़े, छप्पर नक्कीए बुरे ते लागीए नी ।
फसाद दी फ़ौज दीए पेशवाए, शैतान दी लक्क तड़ागीए नी ।
असीं जट्टियां नाल जे करे झेड़े, दुख ज़ुहद ते फ़कर क्युं झागीए नी ।
मत्था डाह नाहीं आओ छड्ड पिच्छा, भन्ने जांदे मगर नाहीं लागीए नी ।
वारिस शाह फ़कीर दे कदम फड़ीए, छड्ड किबर हंकार त्यागीए नी ।

(मत्था मुन्नी=सिर मुन्नी, कड़मी=मन्दभागी, छप्पर नक्की=बदसूरत,
बुरे ते लागीए=माड़े कंमां ते लग्गी होई, पेशवा=आगू,दक्खनी भारत
विच्च मरहट्यां दे लीडर नूं पेशवा केहा जांदा सी, लक्क तड़ागी=
लक्क दी तड़ागी,गूड़्हा साथी, भन्ने=दौड़े,भज्जे)

344. सहती

चक्की-हान्यां विच्च विचार पौंदी, इहदी धुंम तनूर ते भट्ठ है नी ।
कमज़ात कुपत्तड़ा ढीठ बैंडा, डिब्बीपुरे दे नाल दी चट्ठ है नी ।
भेड़ूकार घुठा ठग्ग माझड़े दा, जैंदा रन्न यरोली दा हट्ठ है नी ।
मंग खाने हराम मुशटंड्यां नूं, वड्डा सार हशधात दी लट्ठ है नी ।
मुशटंडड़े तुरत पछान लईदे, कंम डाह द्यु इह वी जट्ट है नी ।
इह जट्ट है पर झुघ्घा पट है नी, इह चौधरी चौड़ चुपट्ट है नी ।
गद्दों लद्द्या सने इह छट्ट है नी, भावें वेलने दी इह लठ है नी ।
वारिस शाह है इह ते रस मिट्ठा, एह तां काठे कमाद दी गट्ठ है नी ।

(चक्की हाणा=जित्थे बन्दे इकट्ठे हुन्दे हन, भट्ठ=दाने आदि भुन्नण
दी वड्डी भट्ठी, बैंडा=खुंढा, चठ=चुड़ेल, यरोली=यार, हठ=ज़िद,
हशधात=हशतधात, अठधाता 1. सोना, 2. चांदी, 3. लोहा, 4. तांबा,
5. जिसत, 6. पित्तल, 7. सिक्का अते 8 टीन, काठा=सख़त कमाद)

345. गुआंढणां दा उत्तर

वेहड़े वालियां दानियां आण खड़्हियां, क्युं बोलदी एस दीवानड़े नी ।
कुड़ीए कास नूं लुझदी नाल जोगी, इह जंगली खरे निमानड़े नी ।
मंग खायके सदा इह देस त्यागन, तम्बू आस दे इह ना ताणदे नी ।
जाप जाणदे रब्ब दी याद वाला, ऐडे झगड़े इह ना जाणदे नी ।
सदा रहन उदास निरास नंगे, बिरछ फूक के स्याल लंघांवदे नी ।
वारिस शाह पर असां मालूम कीता, जट्टी जोगी दोवें इकसे हान दे नी ।

(दानियां=अकल वालियां, लुझदी=लड़दी)

346. सहती

नैणां हीर द्यां वेख के आह भरदा, वांग आशकां अक्खियां मीटदा ई ।
जिवें ख़सम कुपत्तड़ा रन्न भंडे, कीती गल्ल नूं प्या घसीटदा ई ।
रन्नां गुंडियां वांग फ़रफ़ेज करदा, तोड़न हारड़ा लग्गड़ी प्रीत दा ई ।
घत घगरी बहे इह वड्डा ठेठर, इह उसतादड़ा किसे मसीत दा ई ।
चूंढी वक्खियां दे विच्च वढ्ढ लैंदा, पिच्छों आपनी वार मुड़ चीकदा ई ।
इक्के ख़ैर-हत्था नहीं इह रावल, इक्के चेलड़ा किसे पलीत दा ई ।
ना इह जिन्न ना भूत ना रिछ बांदर, ना इह चेलड़ा किसे अतीत दा ई ।
वारिस शाह प्रेम दी ज़ील न्यारी, न्यारा अंतरा इशक दे गीत दा ई ।

(फ़रफ़ेज=फ़रेब, घगरी घत बहणा=डेरा ला लैणा, ठेठर=गंवार,
अतीत=जोगी, अंतरा=गीत दे दो हिस्से हन, इक्क मुड़ मुड़ दुहरायआ
जान वाला दूजा अंतरा)

347. रांझा

इह मिसल मशहूर है जग सारे करम रब दे जेड ना मेहर है नी ।
हुनर झूठ कमान लहौर जेही, अते कांवरू जेड ना सेहर है नी ।
चुगली नहीं दीपालपुर कोट जेही, उह नमरूद दी थाउं बे मेहर है नी ।
नकश चीन ते मुशक ना खुतन जेहा, यूसफ़ जेड ना किसे दा चेहर है नी ।
मैं तां तोड़ हशधात दे कोट सुट्टां, रैनूं दस्स खां कास दी वेहर है नी ।
बात बात तेरी विच्च हैन कामन, वारिस शाह दा शियर की सेहर है नी ।

(कांवरू=कामरूप,पूरबी बंगाल दा इक्क ज़िल्हा जेहड़ा जादू टूने लई
मशहूर है, चेहर=चेहरा, कामण=जादू, टूने वाली, वेहर=दुक्ख)

348. तथा

कोई असां जेहा वली सिध नाहीं, जग आंवदा नज़र ज़हूर जेहा ।
दसतार बजवाड़्युं ख़ूब आवे, अते बाफ़ता नहीं कसूर जेहा ।
कशमीर जेहा कोई मुलक नाहीं, नहीं चानना चन्द दे नूर जेहा ।
अग्गे नज़र दे मज़ा माशूक दा है, अते ढोल ना सोंहदा दूर जेहा ।
नहीं रन्न कुलच्छनी तुध जेही, नहीं ज़लज़ला हशर दे सूर जेहा ।
सहती जेड ना होर झगड़ैल कोई, अते सुहना होर ना तूर जेहा ।
खेड़्यां जेड ना नेक नसीब कोई, कोई थाउं ना बैतुल मामूर जेहा ।
सहज वसदियां जेड नाल भला कोई, बुरा नहीं है कंम फतूर जेहा ।
हंग जेड ना होर बदबू कोई, बासदार ना होर कचूर जेहा ।
वारिस शाह जेहा गुनाहगार नाहीं, कोई तायो ना तपत तन्दूर जेहा ।

(दसतार=पगड़ी, बाफ़ता=रेशम दा कप्पड़ा, कुलच्छणी=भैड़े लच्छणां
वाली, ज़लज़ला=भुचाल, हशर=क्यामत, सूर=बिगल, बैतुल मामूर=
चौथे असमान उपरे ज़मुरद दी बनी इक्क मसजिद ।कहन्दे हन कि जे
कर कोई चीज़ ओथों डिग पवे तां उह काअबे दी छत 'ते आ टिकदी है ।
फतूर=फसाद,ख़राबी, कचूर=काफ़ूर)

349. सहती

जोग दस्स खां किद्धरों होया पैदा, कित्थों होया सन्दास बैराग है वे ।
केती राह हैं जोग दे दस्स खां वे, कित्थों निकल्या जोग दा राग है वे ।
इह खप्परी सेल्हियां नाद कित्थों, किस बद्ध्या जटां दी पाग है वे ।
वारिस शाह भिबूत किस कढ्ढ्या ई कित्थों निकली पूजनी आग है वे ।

(सन्दास=सन्यास, केती=किन्ने, पाग=पगड़ी, भिबूत=सरीर उते
मली जान वाली सुआह)

350. रांझा

महांदेव थों जोग दा पंथ बण्यां, देवदत है गुरू सन्दासियां दा ।
रामानन्द थों सभ वैराग होया, परम जोत है गुरू उदासियां दा ।
ब्रहमा बराहमना दा राम हिन्दूआं दा, बिशन अते महेश सभ रासियां दा ।
सुथरा सुथर्यां दा नानक उदासियां दा, शाह मक्खन है मुंडे उपासियां दा ।
जिवें सईअद्द जलाल जलालियां दा, ते अवैस करनी खग्गां कासियां दा ।
जिवें शाह मदार मदारियां दा, ते अंसार अंसारियां तासियां दा ।
है वशिशट निरबान वैरागियां दा, स्री कृष्ण भगवान उपासियां दा ।
हाजी नौशाह जिवें नौशाहियां दा, अते भगत कबीर जौलासियां दा ।
दसतगीर दा कादरी सिलसला है, ते फ़रीद है चिशत अब्बासियां दा ।
जिवें शैख़ ताहर पीर है मोचियां दा, शमस पीर सुन्यार्यां चासियां दा ।
नाम देव है गुरू छींब्यां दा, लुकमान लुहार तरखासियां दा ।
ख़ुआजा खिज़र है मेआं मुहाण्यां दा, नकशबन्द मुग़लां चुग़तासियां दा ।
सरवर सखी भराईआं सेवकां दा, लाल बेग़ है चूहड़्यां खासियां दा ।
नल राजा है गुरू जवारियां दा, शाह शम्मस न्यारियां हासियां दा ।
हज़रत शीश है पीर जुलाहआं दा, शैतान है पीर मरासियां दा ।
जिवें हाजी गिलगो नूं घुम्यार मन्नन, हज़रत अली है शियां खासियां दा ।
सुलेमान पारस पीर नाईआं दा, अली रंगरेज़ अदरीस दरज़ासियां दा ।
इशक पीर है आशकां सार्यां दा, भुख पीर है मसत्यां पासियां दा ।
हस्सू तेली ज्युं पीर है तेलियां दा, सुलेमान है जिन्न भूतासियां दा ।
सोटा पीर है विगड़्यां तिगड़्यां दा, ते दाऊद है ज़र्हा-नवासियां दा ।
वारिस शाह ज्युं राम है हिन्दूआं दा, अते रहमान है मोमनां ख़ासियां दा ।

(चासी=किसान, खासी=कूड़ा करकट चुक्कन वाले, तासी=सोने दे गहणे
बनाउन वाले, पासी=ताड़ दे दरखत्त तों ताड़ी कढ्ढन वाला, पीर=गुरू,
ज़र्हा-नवासी=हर वेले ज़र्रह बख़तर पहनन वाला)

351. सहती

माया उठाई फिरन एस जग्ग उते, जिन्हां भौन ते कुल बेहार है वे ।
एन्हां फिरन ज़रूर है देहुं रातीं, धुरों फिरन एन्हांदड़ी कार है वे ।
सूरज चन्द घोड़ा अते रूह चकल, नज़र शेर पानी वणजार है वे ।
ताना तनन वाली इल्ल गधा कुत्ता, तीर छज्ज ते छोकरा यार है वे ।
टोपा छाणनी तक्कड़ी तेज़ मरक्कब, किला तरक्कला फिरन वफ़ार है वे ।
बिल्ली रन्न फ़कीर ते अग्ग बांदी, एन्हां फिरन घरो घरी कार है वे ।
वारिस शाह वैली भेखे लख फिरदे, सबर फ़कर दा कौल करार है वे ।

(माया =मायआ, भौण=घुंमन घिरन, बेहार=कंम, चकल=चक्कर,
मरक्कब=सवारी दे जानवर जां गड्डी, वैली=वैल वाले)

352. तथा

फिरन बुरा है जग ते एन्हां ताईं, जे इह फिरन तां कंम दे मूल नाहीं ।
फिरे कौल ज़बान जवान रण थीं, सतरदार घर छोड़ माकूल नाहीं ।
रज़ा अल्लाह दी हुकम कतई्ई जाणो, कुतब कोह काअबा है मामूल नाहीं ।
रन्न आए विगाड़ ते चेह चड़्ही, फ़क्कर आए जां कहर कलूल नाहीं ।
ज़िंमींदार कनकूतियां ख़ुशी नाहीं, अते अहमक कदे मलूल नाहीं ।
वारिस शाह दी बन्दगी लिल्ह नाहीं, वेखां मन्न लए कि कबूल नाहीं ।

(रण=जंग, कनकूतियां=महकमा माल दे उह नौकर जेहड़े खड़ी
फ़सल दा अन्दाज़ा लाउंदे सन, लिल्ह=बिना मतलब)

353. तथा

अदल बिनां सरदार है रुख अफ्फल, रन्न गधी है जो वफ़ादार नाहीं ।
न्याज़ बिनां है कंचनी बांझ भावें, मरद गधा जो अकल दा यार नाहीं ।
बिना आदमियत नाहीं इनस जापे, बिना आब कत्ताल तलवार नाहीं ।
सबज ज़िकर इबादतां बाझ जोगी, दमां बाझ जीवन दरकार नाहीं ।
हंमत बाझ जवान बिन हुसन दिलबर, लून बाझ तुआम सवार नाहीं ।
शरम बाझ मुच्छां बिनां अमल दाड़्ही, तलब बाझ फ़ौजां भर भार नाहीं ।
अकल बाझ वज़ीर सलवात मोमन, बिन दीवान हिसाब शुमार नाहीं ।
वारिस, रन्न, फ़कीर, तलवार, घोड़ा, चारे थोक इह किसे दे यार नाहीं ।

(अफल=जेहनूं फल ना लग्गे, कंचनी=नाची, इनस=इक्क आदमी, आब=
धार,तेज़ शाशतर दी, कत्ताल=तलवार, इबादत=भजन बन्दगी, दमां=साहां,
दरकार नाहीं=नहीं चाहीदा, तुआम=खाणा, सवार=सुआद, तलब=तनखाह,
सलवात=नमाज़, दीवान=वज़ीरे माल)

354. रांझा

मरद करम दे नकद हन सहतीए नी, रन्नां दुशमणां नेक कमाईआं दियां ।
तुसीं एस जहान विच्च हो रहियां, पंज सेरियां घट धड़वाईआं दियां ।
मरद हैन जहाज़ ने कोकियां दे, रन्नां बेड़ियां हैन बुराईआं दियां ।
माउं बाप दा नाउं नामूस डोबन, पत्ता लाह सुट्टन भल्यां भाईआं दियां ।
हड्ड मास हलाल हराम कप्पन, एह कुहाड़ियां हैन कसाईआं दियां ।
लबां लाहुन्दियां साफ़ कर देन दाड़्ही, जिवें कैंचियां अहमकां नाईआं दियां ।
सिर जाए, ना यार दा सिर दीचे, शरमां रक्खीए अक्खियां लाईआं दियां ।
नी तूं केहड़ी गल्ल ते ऐड शूकें, गल्लां दस्स खां पूरियां पाईआं दियां ।
आढा नाल फ़कीरां दे लाउंदियां ने, ख़ूबियां वेख ननान भरजाईआं दियां ।
वारिस शाह तेरे मूंह नाल मारां, पंडां बन्न्ह के सभ भल्याईआं दियां ।

(करम दे नकद=नेक भाव भले कंम नूं देर नहीं लाउंदे, कप्पण=कट्टण,
सिर=भेद, मूंह नाल मारन=नामंज़ूर करन)

355. सहती

रीस जोगियां दी तैथों नहीं हुन्दी, हौंसां केहियां जटां रखाईआं दियां ।
बेशरम दी मुछ ज्युं पूछ पिद्दी, जेहियां मुंजरां बेट दे धाईआं दियां ।
तानसैन जेहा राग नहीं बणदा, लख सफ़ां जे होन अताईआं दियां ।
अखीं डिट्ठियां नहीं तूं चोबरा वे, पिरम कुट्ठियां बिरहों सताईआं दियां ।
सिर मुन्न दाड़्ही खेह लाईआ ई कदरां डिट्ठीउं एडियां चाईआं दियां ।
तेरी चराचर बिरकदी जीभ एवें, ज्युं मुरकदियां जुत्तियां साईआं दियां ।
लंड्यां नाल घुलना मन्दे बोल बोलन, नहीं चालियां एह भल्याईआं दियां ।
नहीं काअब्युं चूहड़ा होइ वाकिफ, ख़बरां जाणदे चूहड़े गुहाईआं दियां ।
नहीं फ़कर दे भेत दा ज़रा वाकिफ, ख़बरां तुध नूं महीं चराईआं दियां ।
चुतड़ सवाह भरे वेख मगर लग्गों, जिवें कुत्तियां होन गुसाईआं दियां ।
जेहड़ियां सून उजाड़ विच्च वांग खच्चर, कदरां उह की जाणदियां दाईआं दियां ।
गद्दों वांग जां रज्युं करें मसती, कच्छां सुंघनैं रन्नां पराईआं दियां ।
बापू नहीं पूरा तैनूं कोई मिल्या, अजे टोहीउं बुक्कलां माईआं दियां ।
पूछां गाई नूं महीं दियां जोड़ना एं, खुरियां महीं नूं लाउनैं गाईआं दियां ।
हासा वेख के आउंदा सिफ़लवाई, गल्लां तब्हा दियां वेख सफ़ाईआं दियां ।
मियां कौन छुडावसी आण तैनूं, धमकां पौणगियां जदों कुटाईआं दियां ।
गल्लां इशक दे वालियां नेईं रुलियां, कच्चे घड़े ते वहन लुड़्हाईआं दियां ।
परियां नाल की देवां नूं आख लग्गे, जिन्हां वक्खियां भन्नियां भाईआं दियां ।
इह इशक की जाणदै चाक चोबर, ख़बरां जाणदै रोटियां ढाईआं दियां ।
वारिस शाह ना बेटियां जिन्हां जणियां, कदरां जाणदे नहीं जवाईआं दियां ।

(होस=हवस,लालच बेट दे धईआं=बेट दे चौल, मुंजरां=बल्लियां, सिट्टे,
अताईआं=बेसुआद गवई्ईआ, बिरकदी=चलदी, चालियां=चाले,तौर तरीके,
मरकदियां=चीकदियां, गुहाईआं=गोहे,गुसईं=हन्दू फ़कीर, बापू=पूरा उसताद
सिफ़लवाई=घटियापन, ख़फ़ाई=आपने भेद नूं लुकाउन वाला, नेईं=नदी)

356. रांझा

असीं सहतीए मूल नाल ड्रां तैथों, तिक्खे दीदड़े तैंदड़े सार दे नी ।
हाथी नहीं तसवीर दा किला ढाहे शेर मक्खियां नूं नाहीं मारदे नी ।
कहे कांवां दे ढोर ना कदे मोए, शेर फूईआं तों नाहीं हारदे नी ।
फट हैं लड़ाई दे असल ढाई, होर ऐवें पसार पसारदे नी ।
इक्के मारना इक्के तां आप मरना, इक्के नस्स जाना अग्गे सार दे नी ।
हंमत सुसत बरूत सरीन भारे, इह गभरू किसे ना कार दे नी ।
बन्न्ह टोरीए जंग नूं ढिग्ग करके, सगों अगल्यां नूं पिच्छों मारदे नी ।
सड़न कप्पड़े होन तहकीक काले, जेहड़े गोशटी होन लोहार दे नी ।
झूठे मेहण्यां नाल ना जोग जांदा, संग गले ना नाल फुहार दे नी ।
खैर दित्त्यां माल ना होए थोड़्हा, बोहल थुड़े ना चुने गुटार दे नी ।
जदों चूहड़े नूं जिन्न करे दखला, झाड़ा करीदा नाल पैज़ार दे नी ।
तैं तां फ़िकर कीता सानूं मारने दा, तैनूं वेख लै यार हुन मारदे नी ।
जेहा करे कोई तेहा पांवदा है, सच्चे वायदे परवरदगार दे नी ।
वारिस शाह मियां रन्न भौंकनी नूं, फ़कर पाय जड़ियां चाय मारदे नी ।

(फूईआं=बहारे आई गिदड़ियां, सरीन=चुत्तड़, बरूत=ठंड, लुहार दे
गोशटी=लुहार कोल बैठन उठन वाले, संग=पत्थर, चुणे=चुगे, पैज़ार=जुत्ती,
परवरदगार=पालणहार, जड़ियां=जादू टूने नाल लग्गा इक्क रोग जेहड़ा
अखीर विच्च जान लेवा साबत हुन्दा है)

357. सहती

तेरियां सेल्हियां थों असीं नहीं ड्रदे, कोई ड्रे ना भील दे सांग कोलों ।
ऐवें मारीदा जावसें एस पिंडों, जिवें खिसकदा कुफ़र है बांग कोलों ।
सिरी कज्ज के टुरेंगा जहल जट्टा, जिवें धाड़वी सरकदा कांग कोलों ।
मेरे डिट्ठ्यां कम्बसी जान तेरी, जिवें चोर दी जान झलांग कोलों ।
तेरी टूटनी फिरे है सप्प वांगूं, आइ रन्नां दे ड्रीं उपांग कोलों ।
ऐवें ख़ौफ़ पौसी तैनूं मारने दा, जिवें ढक्क दा पैर उलांघ कोलों ।
वारिस शाह इह जोगीड़ा मोया प्यासा, पानी देणगियां जदों पुड़सांग कोलों ।

(भील=भील कौम जेहड़ी विंधियाचल परबत कोल बसी होई है, कज के=
ढक के, जहल=जाहल,गंवार, झलांग=सवेरा, उपांग=उप अंग,किसे अंग)

358. रांझा

केहियां आण पंचायतां जोड़ियां नी, असीं रन्न नूं रेवड़ी जाणने हां ।
फड़ीए चित्थ के लईए लंघा पल विच्च, तम्बू वैर दे नित ना ताणने हां ।
लोक जागदे महरियां नाल परचन, असीं ख़ुआब अन्दर मौजां माणने हां ।
लोक छाणदे भंग ते शरबतां नूं, असीं आदमी नज़र विच्च छाणने हां ।
फूई मगर लग्गी इस दी मौत आही, वारिस शाह हुन मार के राणने हां ।

(रेवड़ी=र्युड़ी, नज़र विच्च छाणना=जाचणा, राणने=पैरां थल्ले मिधणां)

359. रांझा-इह ना भले

जेठ मींह ते स्याल नूं वाउ मन्दी, कटक माघ विच्च मन्हा हन्हेरियां नी ।
रोवन व्याह विच्च गावना विच्च स्यापे, सतर मजलसां करन मन्देरियां नी ।
चुगली खावन्दां दी बदी नाल मीएं, खाय लून हराम बद-ख़ैरियां नी ।
हुकम हत्थ कमज़ात दे सौंप देणा, नाल दोसतां करनियां वैरियां नी ।
चोरी नाल रफ़ीक दे दग़ा पीरां, पर नार पर माल उसीरियां नी ।
ग़ीबत तरक सलवात ते झूठ मसती, दूर करन फरिशत्यां तीरियां नी ।
लड़न नाल फ़कीर सरदार यारी, कढ्ढ घत्तना माल वसेरियां नी ।
मुड़न कौल ज़बान दा फिरन पीरां, बुर्यां दिनां द्यां इह भी फेरियां नी ।
मेरे नाल जो खेड़्यां विच्च होई, ख़चरवादियां इह सभ तेरियां नी ।
भले नाल भल्यांईआं बदी बुर्यां, याद रक्ख नसीहतां मेरियां नी ।
बिनां हुकम दे मरन ना उह बन्दे, साबत जिन्न्हां दे रिज़क दियां ढेरियां नी ।
बदरंग नूं रंग के रंग लायउ, वाह वाह इह कुदरतां तेरियां नी ।
एहा घत्त के जादूड़ा करूं कमली, पई गिरद मेरे घत्तीं फेरियां नी ।
वारिस शाह असां नाल जादूआं दे, कई राणियां कीतियां चेरियां नी ।

(मजलिस=महफ़ल, खा लून करे बदख़ैरियां=नमकहरामी, रफ़ीक=साथी,
पर नार=पराई इसतरी, पर माल=परायआ माल, उसीरी=किसे चीज़
नूं प्रापत करन लई हर वेले कुड़्हना,सड़णां, ग़ीबत=चुग़ली, तीरी=उड़ान,
चेरी=चेली)

360. सहती

असां जादूड़े घोल के सभ पीते, करां बावरे जादूआं वाल्यां नूं ।
राजे भोज जेहे कीते चा घोड़े, नहीं जाणदा साड्यां चाल्यां नूं ।
सके भाईआं नूं करन नफ़र राजे, अते राज बहांवदे साल्यां नूं ।
सिरकप्प रसालू नूं वख़त पायआ, घत मकर दे रौल्यां राल्यां नूं ।
रावन लंक लुटायके गरद होया, सीता वासते भेख विखाल्यां नूं ।
यूसफ़ बन्द विच्च पा ज़हीर कीता, सस्सी वख़त पायआ ऊठां वाल्यां नूं ।
रांझा चार के महीं फ़कीर होया, हीर मिली जे खेड़्यां साल्यां नूं ।
रोडा वढ्ढ के डक्करे नदी पायआ, ते जलाली दे वेख लै चाल्यां नूं ।
फोगू उमर बादशाह ख़ुआर होया, मिली मारवन ढोल दे राल्यां नूं ।
वली बलम बाऊर ईमान दित्ता, वेख डोब्या बन्दगी वाल्यां नूं ।
महींवाल तों सोहनी रही एवें, होर पुछ लै इशक दे भाल्यां नूं ।
अठारां खूहनी कटक लड़ मोए पांडो, डोब डाब के खट्ट्या घाल्यां नूं ।
रन्ना मार लड़ाए इमाम-ज़ादे, मार घत्त्या पीरियां वाल्यां नूं ।
वारिस शाह तूं जोगिया कौन हुन्नैं, ओड़क भरेंगा साड्यां हाल्यां नूं ।

(घोल के पीते=ख़तम कर दित्ते, नफ़र=गुलाम,दास, ज़हीर=दुखी,
सिरकप्प=गक्खरफ़ति हूडी राजा जो वैरियां दे सिर कप (वढ) लैंदा सी।
रसालू=सलवान दा पुत्तर अते पूरन भगत दा भरा, राल्यां=मिलाप,
फोगू उमर=ऊमर सूमर सिंध दा इक्क अमीर जो अरबी नसल दा सी ।
जद ढोला मारवन नूं लै के पुगल तों ग्या तां राह विच्च इस अमीर ने
मारवन नूं खोहन दा यतन कीता पर मारवन दे इशारे नाल ढोले ने ओथों
अपना उठ, जिस दी इक्क लत्त बद्धी सी, उसे तर्हां भजा ल्या अते राणी
नूं बचा के लै ग्या, वली बलम बाऊर=कुरबानियां दा इक्क मशहूर वली ।
जद हज़रत मूसा ने मदायन वाल्यां उपर हमला कीता तां ओथों दे बादशाह
ने बलम बाऊर नूं केहा कि उह मूसा नूं बद दुआं देवे ।उहने बददुआ लई
हत्थ उपर नूं चुक्के पर मूंहों बददुआ ना निकली, अठारां खूहणी=महांभारत दे
युद्ध विच्च, आख्या जांदा है कि दोवें पास्यां दियां फ़ौजां दी गिणती अठारां
खूहणियां सी ।पांडोआं दा लशकर सत खूहणियां अते कौरवां दा ग्यारां
खूहणियां, हाले भरने=खराज भरना,मालिया जां मामला, इमाम-ज़ादे=
इमाम हसन हजरत अली दे वड्डे पुत्तर (24. 670 ई हज़रत अली दे
शहीद होन पिच्छों कूफा दे लोकां इन्हां नूं छे कु महीने खलीफा मन्न ल्या ।
अमीर मुआविया नाल कुझ इक्क शरतां ते आप ने उस दे हक्क विच्च खिलाफ़त
छड्ड दित्ती ।मुआवियां दे मरन पिच्छों उहदा पुत्तर तख़त ते बैठा ।उस ने जैनब
नामी बीवी राहीं इमाम हसन नूं ज़हर दवा दित्ती)

361. रांझा

आ नढ्ढीए ग़ैब क्युं विढ्ढ्या ई साडे नाल की रिक्कतां चाईआं नी ।
करें नरां दे नाल बराबरी क्युं, आख तुसां विच्च की भल्याईआं नी ।
बेकसां दा कोई ना रब्ब बाझों, तुसीं दोवें निनान भरजाईआं नी ।
जेहड़ा रब्ब दे नांउं ते भला करसी, अग्गे मिलणगियां उस भल्याईआं नी ।
अग्गे तिन्हां दा हाल ज़बून होसी, वारिस शाह जो करन बुर्याईआं नी ।

(ग़ैब विढना=वाधू दी लड़ाई छेड़णी, बेकस=कमज़ोर,निमाणा, ज़बून =बुरा)

362. तथा

मरद साद हन चेहरे नेकियां दे, सूरत रन्न दी मीम मौकूफ़ है नी ।
मरद आलम फाज़ल अज्जल काबल, किसे रन्न नूं कौन वकूफ़ है नी ।
सबर फ़र्हा है मन्न्या नेक मरदां, एथे सबर दी वाग मातूफ़ है नी ।
दफतर मकर फ़रेब ते ख़चरवाईआं, एहनां पिसत्यां विच्च मलफ़ूफ़ है नी ।
रन्न रेशमी कप्पड़ा मन्हा मुसले, मरद जौज़कीदार मशरूफ़ है नी ।
वारिस शाह वलायती मरद मेवे, अते रन्न मसवाक दा सूफ़ है नी ।

(साद=सादे,निरासरे, मौकूफ़=रद्द कीती होई, वकूफ़=अकल,समझ,
फर्हा=लगाम, मातूफ़=मुड़ी होई, मलफ़ूफ़=लपेट्या होया, मशरूफ़=
माणयोग, मसवाक=दातन, सूफ़=चिथ्या होया बुरश वरगा)

363. सहती-इह जहान ते भले

दोसत सोई जो बिपत विच्च भीड़ कट्टे, यार सोई जो जान कुरबान होवे ।
शाह सोई जो काल विच्च भीड़ कट्टे, कुल पात दा जो निगाहबान होवे ।
गाउं सोई जो स्याल विच दुद्ध देवे, बादशाह जो नित्त शब्बान होवे ।
नार सोई जो माल बिन बैठ जाले, प्यादा सोई जो भूत मसान होवे ।
इमसाक है असल अफ़ीम बाझों, ग़ुस्से बिना फ़कीर दी जान होवे ।
रोग सोई जो नाल इलाज होवे, तीर सोई जो नाल कमान होवे ।
कंजर सोई जो ग़ैरतां बाझ होवन, जिवें भांबड़ा बिनां इशनान होवे ।
कसबा सोई जो वैर बिन प्या वस्से, जल्लाद जो मेहर बिन ख़ान होवे ।
कवारी सोई जो करे ह्या बहुती, नीवीं नज़र ते बाझ ज़बान होवे ।
बिना चोर ते जंग दे देस वसे, पट सूई बिन अन्न दी पान होवे ।
सईअद सोई जो सूम ना होवे कायर, ज़ानी स्याह ते ना कहरवान होवे ।
चाकर औरतां सदा बेउज़र होवन, अते आदमी बेनुकसान होवे ।
पर्हां जा वे भेसिया चोबरा वे, मतां मंगणों कोई वधान होवे ।
वारिस शाह फ़कीर बिन हिरस ग़फ़लत, याद रब्ब दी विच्च मसतान होवे ।

(कुल पात=ख़ानदान दी इज़्ज़त, शबान=रखिअक आजड़ी, इमसाक=
बंधेज, बाझ ज़बान=घट बोले, ज़ानी=भोगी, सूम=कंजूस, वधाण=वाधा)

364. रांझा

कार साज़ है रब्ब ते फेर दौलत, सभ्भो मेहनतां पेट दे कारने नी ।
पेट वासते फिरन अमीर दर दर, सय्यद-ज़ाद्यां ने गधे चारने नी ।
पेट वासते परी ते हूर-ज़ादां, जान जिन्न ते भूत दे वारने नी ।
पेट वासते रात नूं छोड घर दर, होइ पाहरू होकरे मारने नी ।
पेट वासते सभ ख़राबियां ने, पेट वासते ख़ून गुज़ारने नी ।
पेट वासते फ़क्कर तसलीम तोड़न, सभे समझ लै रन्ने गवारने नी ।
एस ज़िमीं नूं वाहुन्दा मुलक मुक्का, अते हो चुक्के वड्डे कारने नी ।
गाहवन होर ते राहक ने होर इस दे, ख़ावन्द होर दम होरनां मारने नी ।
मेहरबान जे होवे फ़कीर इक्क पल, तुसां जेहे करोड़ लक्ख तारने ने ।
नेक मरद ते नेक ही होवे औरत, उहनां दोहां ने कंम सवारने नी ।
वारिस शाह जे रन्न ने मेहर कीती, भांडे बोल के ही मूहरे मारने नी ।

(कार साज़=कंम बणाउन वाला, होकरे=ललकारे, राहक=काशतकार)

365. सहती

रब्ब जेड ना कोई है जग्ग दाता, ज़िमीं जेड ना किसे दी साबरी वे ।
मझीं जेड ना किसे दे होन जेरे, राज हिन्द पंजाब दा बाबरी वे ।
चन्द जेड चालाक ना सरद कोई, हुकम जेड ना किसे अकाबरी वे ।
बुरा कसब ना नौकरी जेड कोई, याद हक्क दी जेड अकाबरी वे ।
मौत जेड ना सख़त है कोई चिट्ठी, ओथे किसे दी नहीउं नाबरी वे ।
मालज़ादियां जेड ना कसब भैड़ा, कमज़ात नूं हुकम है ख़ाबरी वे ।
रन्न वेखनी ऐब फ़कीर ताईं, भूत वांग है सिरां ते टाबरी वे ।
वारिस शाह शैतान दे अमल तेरे, दाड़्ही शेख़ दी हो गई झाबरी वे ।

(साबरी=सबर, बाबरी=बाबर दा राज, अकाबरी=वड्याई,
नाबरी=नांह,इनकार, ख़ाबरी=टुट्टी सड़्हक, झाबरी=ऐब ढकण
दा इक्क वसीला)

366. रांझा

रन्न वेखनी ऐब है अन्न्हआं नूं, रब्ब अक्खियां दित्तियां वेखने नूं ।
सभ ख़लक दा वेख के लउ मुजरा, करो दीद इस जग दे पेखने नूं ।
राउ राज्यां सिरां दे दाउ लाए, ज़रा जाय के अक्खियां सेकने नूं ।
सभ्भा दीद मुआफ़ है आशकां नूं, रब्ब नैन दित्ते जग वेखने नूं ।
महां देव जहआं पारबती अग्गे, काम ल्याउंदा सी मथा टेखने नूं ।
इज़राईल हत्थ कलम लै वेखदा ई तेरा नाम इस जग तों छेकने नूं ।
वारिस शाह मियां रोज़ हशर दे नूं, अंत सद्दीएंगा लेखा लेखने नूं ।

(लउ मुजरा=सलाम कबूल करो, छेकणा=रद कर देणा, लेखा लेखणे
नूं =कीते कंमां दा लेखा देन लई)

367. सहती

जेही नीत हई तेही मुराद मिलिया, घरो घरी छाई सिर पावना हंै ।
फिरें मंगदा भौंकदा ख़ुआर हुन्दा, लख दग़े पखंड कमावना हैं ।
सानूं रब्ब ने दुद्ध ते दहीं दित्ता, हत्था खावना अते हंढावना हैं ।
सोइना रुप्पड़ा पहन के असीं बहीए, वारिस शाह क्युं जीऊ भरमावना हैं ।

(छाई=सुआह, सोइना रुपड़ा=सोना चांदी)

368. रांझा

सोइना रुपड़ा शान सवाणियां दा, तूं तां नहीं असील नी गोलीए नी ।
गधा उड़दकां नाल ना होइ घोड़ा, बांझ परी ना होए यरोलीए नी ।
रंग गोरड़े नाल तूं जग मुट्ठा, विच्चों गुणां दे कारने पोलीए नी ।
वेहड़े विच्च तूं कंजरी वांग नच्चें, चोरां यारां दे विच्च विचोलीए नी ।
असां पीर केहा तूं हीर आखें, भुल गई हैं सुनन विच्च भोलीए नी ।
अंत इह जहान है छड्ड जाणा, ऐडे कुफ़र अपराध क्युं तोलीए नी ।
फ़कर असल अल्लाह दी हैन मूरत, अग्गे रब्ब दे झूठ ना बोलीए नी ।
हुसन मत्तीए बूबके सोइन चिड़ीए, नैणां वालीए शोख़ ममोलीए नी ।
तैंडा भला थीवे साडा छड्ड पिच्छा, अब्बा ज्यूणीए आलीए भोलीए नी ।
वारिस शाह कीती गल्ल होइ चुक्की, मूत विच्च ना मच्छियां टोलीए नी ।

(असील=भली मानस, यरोलीए=रांझा नफ़रत नाल सहती नूं कहन्दा
है कि उह उहदी यारी बारे जाणदा है, बूबके=बेसमझ कुआरी कुड़ी)

369. सहती

छेड़ ख़ुन्दरां भेड़ मचावना एं, सेकां लिंग तेरे नाल सोट्यां दे ।
असीं जट्टियां मुशक लपेटियां हां, नक्क पाड़ सुट्टे जिन्हां झोट्यां दे ।
जदों मोल्हियां पकड़ के गिरद होईए पिसते कढीए चीन्यां कोट्यां दे ।
जुत्त घेरनी कुतके अते सोटे, इह इलाज ने चितड़ां मोट्यां दे ।
लपड़ शाह दा बालका शाह झक्खड़, तैंथे वल्ल हन वड्डे लपोट्यां दे ।
वारिस शाह रोडा सिर कन्न पाटे, इह हाल चोरां यारां खोट्यां दे ।

(खुन्दरां=छेड़ां छेड़णियां, मोल्ही=निक्का मोल्हा, पिसता=किसे बीज दा
मग़ज़, घेरनी=चरखे दी हत्थी, लप्पड़=झगड़ालू, लपोटा=वड्डियां गप्पां
मारन वाला)

370. रांझा

फ़कर शेर दा आखदे हैन बुरका, भेत फ़क्कर दा मूल ना खोल्हीए नी ।
दुद्ध साफ़ है वेखना आशकां दा, शक्कर विच्च प्याज़ ना घोलीए नी ।
सरे ख़ैर सो हस्स के आण दीचे, लईए दुआ ते मिट्ठड़ा बोलीए नी ।
लईए अघ्घ चड़्हायके वद्ध पैसा, पर तोल थीं घट्ट ना तोलीए नी ।
बुरा बोल ना रब्ब दे पूर्यां नूं, नी बेशरम कुपत्तीए लोल्हीए नी ।
मसती नाल फ़कीरां नूं दएं गालीं, वारिस शाह दो ठोक ना बोलीए नी ।

(फ़कर शेर दा बुरका=फ़कीर असल विच्च रब्ब दे शेर हन जिन्हां ने
फ़कीरी दा बुरका पायआ होया है, शक्कर विच्च प्याज़ घोलणा=
कंम विगाड़णा, सरे ख़ैर=जे ख़ैर (भिख्या) सरदी है, दो ठोक=कणक
दे दो मोटे रोट खा के)

371. सहती

असीं भूत दी अकल गवा देईए, सानूं ला बिभूत ड्राउना हैं ।
त्रिंञन वेख के वहुटियां छैल कुड़ियां, ओथे किंग दी तार वजाउना हैं ।
मेरी भाबी दे नाल तूं रमज़ मारें, भला आप तूं कौन सदाउना हैं ।
उह पई हैरान है नाल ज़हमत, घड़ी घड़ी क्युं प्या अकाउना हैं ।
ना तूं वैद ना मांदरी ना मुल्लां, झाड़े ग़ैब दे कास नूं पाउना हैं ।
चोर चूहड़े वांग है टेढ तेरी, प्याजापदा सिरी भनाउना हैं ।
कदी भूतना होइके झुंड खोलें, कदी जोग धारी बण आउना हैं ।
इट्ट सिट्ट फगवाड़ ते कुआर गन्दल, इह बूटियां खोल्ह विखाउना हैं ।
दारू ना ख़िताब ना हत्थ शीशी, आख कास दा वैद सदाउना हैं ।
जा घरों असाड्युं निकल भुक्खे, हुने जटां दी जूट खोहाउना हैं ।
खोह बाबरियां खपरी भन्न तोड़ूं, हुन होर की मूंहों अखाउना हैं ।
रन्ना बलम बाउर दा दीन खोहआ, वारिस शाह तूं कौन सदाउना हैं ।

(रमज़=इशारे, ज़हमत=बीमारी,तकलीफ़, अकाउणा=दुखी करना,
इट सिट, फगवाड़, कवार गन्दल=तिन्न बूटियां हन, खोह बाबरिया=
वाल पुट के)

372. रांझा

असां मेहनतां डाढियां कीतियां ने, अनी गुंडीए ठेठरे जट्टीए नी ।
करामात फ़कीर दी वेख नाहीं, ख़ैर रब तों मंग कुपत्तीए नी ।
कन्न पाट्यां नाल ना ज़िद कीचै, अन्न्हे खूह विच्च झात ना घत्तीए नी ।
मसती नाल तकब्बरी रात दिने, कदी होश दी अक्ख परत्तीए नी ।
कोई दुख ते दरद ना रहे भोरा, झाड़ा मेहर दा जिन्हां नूं घत्तीए नी ।
पड़्ह फूकीए इक्क अज़मत सैफ़ी, जड़ जिन्न ते भूत दी पट्टीए नी ।
तेरी भाबी दे दुखड़े दूर होवन, असीं मेहर जे चाय पलट्टीए नी ।
मूंहों मिठड़ा बोल ते मोम हो जा, तिक्खी हो ना कमलीए जट्टीए नी ।
जांदे सभ आज़ार यकीन करके, वारिस शाह दे पैर जे चट्टीए नी ।

(अज़मत=तलिसमी दुआ दा असर, सैफ़ी=दुशमन दा वार उतारन
लई अटल तासीर वाली दुआ, केहा जांदा है कि सैफ़ी वाले पुरश
दे कबज़े विच्च सत्तर हज़ार जिन्न अते सत्तर हज़ार फ़रिशते हुन्दे हन,
आज़ार=दुख)

373. सहती

फ़रफ़ेजिया बीर बैताल्या वे, औखे इशक दे झाड़ने पावने वे ।
नैणां वेख के मारनी फूक साहवें, सुत्ते परेम दे नाग जगावने वे ।
कदों 'यूसफ़ी तिब मीज़ान' पड़्हउं, 'दसतूर इलाज' सिखावने वे ।
'कुरतास सकन्दरी' 'तिब्ब अकबर', ज़खीर्युं बाब सुणावने वे ।
'कानून्न मौजज़' 'तुहफ़ा मोमनीन' वी, 'किफ़ायआ मनसूरी' थीं पावने वे ।
'परान संगली' वेद मनौत सिमृति, 'निरघंट' दे ध्याइ फुलावने वे ।
'कराबादीन' 'शिफ़ाई' ते 'कादरी' वी, 'मुतफ़रिक तिब्बा' पड़्ह जावने वे ।
'रतन जोत' 'बलमीक ते सांक' 'सौछन' 'सुखदेउ गंगा' तैंथे आवने वे ।
फ़ैलसूफ़ जहान दियां असीं रन्नां, साडे मकर दे भेत किस पावने वे ।
अफ़लातून शागिरद ग़लाम अरस्सतू, लुकमान थीं पैर धुआवने वे ।
गल्लां चाय चवाय दियां बहुत करनैं, इह रोग ना तुध थीं जावने वे ।
एन्हा मकर्यां थों कौन होवे चंगा, ठग्ग फिरदे ने रन्नां विलावने वे ।
जेहड़े मकर दे पैर खिलार बैठे, बिनां फाट खाधे नहीं जावने वे ।
मूंह नाल कहआं जेहड़े जान नाहीं, हड्ड गोडड़े तिन्हां भन्नावने वे ।
वारिस शाह इह मार है वसत ऐसी, जिन्न भूत ते देव निवावने वे ।

(बीर बैताला=जिन्न, भूत अते मसान आदि दा इलाज करन वाला,
तिब्ब,हकमत दियां किताबां=तिब्ब यूसफ़ी, मीज़ानुल तिब्ब, दसतूरुल इलाज,
कुरतास सकन्दरी, तिब्ब अकबर ज़खीरा,तुहफा=-ए-मोमनीन, किफ़ायआ
मनसूरी, परान संगली, वेद मनौत, सिमरित निरघंट, कराबादीन सफ़ाई,
कराबादीन कादरी, मुतफ़रिक तिब्ब, रतन जोत=मसाले विच्च पाउन लई इक्क
वसत खाना बनाउन विच्च वरती जांदी है अते दवाई दे तौर ते वी वरती जांदी
है ते इहदा रंग गूड़्हा लाल हुन्दा है, सांक बलमीक=इक्क गरभ सहायक बूटी,
फ़ैलसूफ़=चालाक,हुश्यार, अफ़लातून यूनान दा जगत प्रसिद्ध फ़िलासफ़र,
जेहड़ा सुकरात दा शागिरद सी । सुकरात नूं उहदे नौजवानां नूं कीते प्रवचनां
करके ज़हर दा प्याला पीना प्या सी)

374. रांझा

एहा रसम कदीम है जोगियां दी, उहनूं मारदे हैं जेहड़ी ट्रकदी है ।
ख़ैर मंगने गए फ़कीर ताईं, अग्गो कुत्त्या वांगरां घुरकदी है ।
इह खसम दे खान नूं किवें देसी, जेहड़ी ख़ैर दे देन तों झुरकदी है ।
ऐडी पीरनी इक्के पहलवाननी है, इक्के कंजरी इह किसे तुरक दी है ।
पहले फूक के अग्ग महताबियां नूं, पिच्छों सरद पानी वेखो बुरकदी है ।
रन्न घंड नूं जदों पैज़ार वज्जन, ओथों चुप चुपातड़ी छुरकदी है ।
इक्क झुट दे नाल मैं पट्ट लैणी, जेहड़ी ज़ुलफ़ गल्ल्हां उते लुड़कदी है ।
स्याने जाणदे हन धनी जाए झोटी, जेहड़ी सान्हां दे मूतरे खुरकदी है ।
फ़कर जान मंगन ख़ैर भुख मरदे, अग्गों सगां वांगूं सगों दुरकदी है ।
लंडी पाहड़ी नूं खेत हत्थ आया, पई उपरों उपरों मुरकदी है ।
वारिसे मौर फुरदे अते लण चुत्तड़, सवा मनी मुतहर वी फुरकदी है ।

(टरकदी=वाधू बोलदी, झुरकदी=पिच्छे हटदी, बुरकदी=छिड़कदी,
छुड़कदी=दौड़ जांदी, धनी जाए=नवीं हो जाए, सग=कुता, मुरकदी=खांदी)

375. सहती

जेहड़ियां लैन उडारियां नाल बाज़ां, उह बुलबुलां ठीक मरींदियां नी ।
उहनां हरनियां दी उमर हो चुक्की, पानी शेर दी जूह जो पींदियां नी ।
उह वाहनां जान कबाब होईआं, जिड़ियां हई्ईड़ियां नाल खहींदियां नी ।
इक्क दिन उह फेरसन आण घोड़े, किड़ां जिन्हां दियां नित्त सुणीदियां नी ।
थोड़्हियां करन सुहाग दियां उह आसां, जेहड़ियां धाड़वियां नाल मंगीदियां नी ।
जोकां इक्क दिन पकड़ नचूहणगियां, अणपुने लहू नित पींदियां नी ।
दिल माल दीचे लक्ख कंजरी नूं, कदी दिलों महबूब ना थींदियां नी ।
इक्क देहुं पकड़ियां जाणगियां हाकमा थे, पर सेज जो नित चड़्हींदियां नी ।
इक्क दिन गड़े वसाय सन उह घटां, हाठां जोड़ के नित घरींदियां नी ।
तेरे लौन मोढे साडे लौन नाड़े, मुशकां किसे दियां अज्ज बझींदियां नी ।

(वाहनां=हरनियां, हईड़्यां=शिकारियां, किड़ां=भिणक,नचूहणा=
निचोड़णा, पर सेज=पराई सेज, हाठां जोड़=इकट्ठियां हो के,जुड़ के)

376. रांझा

सुन सहतीए असीं हां नाग काले, पड़्ह सैफ़ियां ज़ुहद कमावने हां ।
मकर फ़न नूं भन्न के साफ़ करदे, जिन भूत नूं साड़ विखावने हां ।
नकश लिख के फूक यासीन देईए, साए सूल दी ज़ात गवावने हां ।
दुख दरद बलाय ते जाए तंगी, कदम जिन्हां दे वेहड़्यां पावने हां ।
सने तसमियां पड़्हां इख़लास सूरा, जड़्हां वैर दियां पुट्ट वगाहवने हां ।
दिलों हुब्ब दे चाय तावीज़ लिखीए, असीं रुठड़े यार मिलावने हां ।
जेहड़ा मारना होवे तां कील करके, ऐतवार मसान जगावने हां ।
जेहड़ी गभ्भरू तों रन्न रहे विटर, लौंग मन्दरे चा खवावने हां ।
जेहड़े यार नूं यारनी मिले नाहीं, फुल मन्दर के चाय सुंघावने हां ।
उहनां वहुटियां दे दुख दूर दरद जांदे, पड़्ह हिक्क ते हत्थ फिरावने हां ।
कील डयणां कच्चियां पक्कियां नूं, दन्द भन्न के लिटां मुनावने हां ।
जां सेहर जादू चड़्हे भूत कुद्दे, गंडा कील दवाले दा पावने हां ।
किसे नाल जे वैर वरोध होवे, उहनूं भूत मसान चिमड़ावने हां ।
बुरा बोलदी जेहड़ी जोगियां नूं, सिर मुन्न के गधे चड़्हावने हां ।
जैंदे नाल मुदप्पड़ा ठीक होवे, उहनूं बीर बैताल पहुंचावने हां ।
असीं खेड़्यां दे घरों इक्क बूटा, हुकम रब्ब दे नाल पुटावने हां ।
वारिस शाह जे होर ना दाउ लग्गे, सिर प्रेम दियां जड़ियां पावने हां ।

(सूरा यासीन=जेहड़ी आम करके मुशकिल वेले पड़्ही दा है अते हर
कंम विच्च सौख पैदा करदा है, साए=परछावें, हुब्ब=प्यार, तसमिया=
बिसमिल्ला उल रहमान उल रहीम, विटर=नाराज़, गंडा=धागा,
मुदप्पड़ा=दुशमनी)

377. सहती

महबूब अल्लाह दे लाडले हो, एस वहुटड़ी नूं कोई सूल है जी ।
कोई गुझड़ा रोग है एस धाणा, पई नित्त इह रहे रंजूल है जी ।
हत्थों लुड़्ही वंेहदी लाहू लत्थड़ी वी, देही हो जांदी मख़तूल है जी ।
मूंहों मिठड़ी लाड दे नाल बोले, हर किसे दे नाल माकूल है जी ।
मूधा प्या है झुगड़ा नित साडा, इह वहुटड़ी घरे दा मूल है जी ।
मेरे वीर दे नाल है वैर इस दा, जेहा काफ़रां नाल रसूल है जी ।
अग्गे एस दे साहुरे हत्थ बद्धे, जो कुझ्झ आखदी सभ कबूल है जी ।
वारिस पलंघ ते कदे ना उठ बैठे, साडे ढिड्ड विच्च फिरे डंडूल है जी ।

(धाउणा=हमला करना, लाहूलत्थड़ी=भुस जां साह दा रोगी,
मख़तूल=पाग़ल, डंडूल=पेट दरद)

378. रांझा

नबज़ वेख के एस दी करां कारी, देइ वेदना सभ बताय मैनूं ।
नाड़ वेख के करां इलाज इसदा, जे इह उठ के सत्त विखाए मैनूं ।
रोग कास तों चल्ल्या करे ज़ाहर, मज़ा मूंह दा देइ बताए मैनूं ।
वारिस शाह मियां छत्ती रोग कट्टां, बिलक मौत थीं लवां बचाय इहनूं ।

(कार=इलाज, वेदना=दुख,रोग, नाड़=नबज़, सत=हंमत,ताकत,
बिलक=पकड़)

379. तथा

खंघ खुरक ते साह ते अक्ख आई, सूल दन्द दी पीड़ गवावने हां ।
कौलंज तपदिक ते मुहरका तप्प होवे, उहनूं काड़्हआं नाल गवावने हां ।
सरसाम सौदाय ज़ुकाम नज़ला, इह शरबतां नाल पटावने हां ।
सन्न नफ़ख़ इसतसका होवे, लहम तबल ते वाउ वंजावने हां ।
लूत फोड़्यां अते गंभीर चम्बल, तेल लायके जड़्हां पटावने हां ।
होवे पुड़पुड़ी पीड़ कि अद्ध सीसी, खट्टा दहीं उत्ते उहदे पावने हां ।
अधरंग मुख-भैंगिया होवे जिस नूं, शीशा हलब दा कढ विखावने हां ।
मिरगी होवस तां लाह के पैर छित्तर, उह नक्क ते चाय सुंघावने हां ।
झोला मार जाए टंग सुन्न होवे, तदों पैन दा तेल मलावने हां ।
रन्न मरद नूं काम जे करे ग़लबा, धनियां भ्युं के चा पिलावने हां ।
नामरद नूं चीच वहुटियां दा, तेल कढ्ढ के नित्त मलावने हां ।
जे किसे नूं बाद फ़रंग होवे, रसकपूर ते लौंग दिवावने हां ।
परमेउ सुज़ाक ते छाह मूती, उहनूं इन्दरी झाड़ दिवावने हां ।
अतीसार नबाहियां सूल जेहड़े, ईसबगोल ही घोल पिवावने हां ।
वारिस शाह जेहड़ी उठ बहे नाही,ं उहनूं हत्थ ई मूल ना लावने हां ।

(खुरक=खाज, अक्ख आई=अक्ख दुखणा, कौलंज=पेट दा सख़त दरद,
तप मुहरका=टाईफायड, नफ़ख़=अफारा, इसतसका,लहम तबल=
पेट दा रोग, इह दो भांत दा हुन्दे 1. लहम दे रोग विच्च पेट वध
जांदा है ।2. तबल दे रोग विच्च पेट तबले वांगूं कस हो जांदा है,
लूत, फोड़े, गंभीर, चम्बल=चमड़ी दे रोग, पुड़पुड़ी पीड़=पुड़पुड़ी
दा दरद, अध सीसी=अद्धा सिर दुखना भैंगिया=मूंह विंगा हो
जाणा,लकवा, शीशा हलब=शाम देस दे हलथ शहर दा शीशा,
जेहड़ा जादू लई मशहूर है, पैन=इक्क पंछी जेहदा तेल मालिश
लई वरत्या जांदा है, चीच वहुटी=चीज वहुटी,वीर वहुटी,
बाद फ़रमग=आतशक, परमेउ=पेशाब जल के आउणा, इन्दरी
झाड़=मसाने दी सफ़ाई लई पेशाब ल्याउन वाली दवाई,
अतीसार=बार बार टट्टी जाणा, नबाहियां=दरद नाल टट्टियां
लगना)

380. सहती

लख वैदगी वैद लगा थक्के, धुरों टुटड़ी किसे ना जोड़नी वे ।
जित्थे कलम तकदीर दी वग चुक्की, किसे वैदगी नाल ना मोड़नी वे ।
जिस कंम विच्च वहुटड़ी होवे चंगी, सोई ख़ैर है असां ना लोड़नी वे ।
वारिस शाह आज़ार होर सभ मुड़दे, इह कतई्ई ना किसे ने मोड़नी वे ।

381. रांझा

तैनूं आखदा हां हौली गल्ल करीए, गल्ल फ़कर दी नूं नाहीं हस्सीए नी ।
जो कुझ्झ कहन फ़कीर सो रब्ब आखे, आखे फ़कर दे थों नाहीं नस्सीए नी ।
होवे ख़ैर ते देही दा रोग जाए, नित पहनीए खाईए वस्सीए नी ।
भला बुरा जो वेखीए मशट करीए, भेत फ़कर दा मूल ना दस्सीए नी ।
हत्थ बन्न्ह फ़कीर ते सिदक कीजे, नहीं सेल्हियां टोपियां खस्सीए नी ।
दुख दरद तेरे सभ जान कुड़ीए, भेत जीऊ दा खोल्ह के दस्सीए नी ।
मुख खोल्ह विखाय जो होवे चंगी, अनी भोल-याणीए सस्सीए नी ।
रब्ब आण सबब्ब जां मेलदा ई ख़ैर होइ जांदी नाल लस्सीए नी ।
सुल्हा कीत्यां फ़तेह जे हत्थ आवे, कमर जंग ते मूल ना कस्सीए नी ।
तेरे दरद दा सभ इलाज मैंथे, वारिस शाह नूं वेदना दस्सीए नी ।

(मशट करीए=चुप करीए, खस्सीए=खोहीए)

382. सहती

सहती गज्ज के आखदी छड्ड जट्टा, खोह सभ नवालियां स्ट्टियां नी ।
होर सभ ज़ातां ठग्ग खांदियां नी, पर एस वेहड़े विच्च जट्टियां नी ।
असां एतनी गल्ल मालूम कीती, इह जट्टियां मुलक दियां फट्टियां नी ।
डूमां रावलां काउं ते जट्टियां दियां, जीभां धुरों शैतान दियां चट्टियां नी ।
पर असां भी जिन्हां नूं हथ लायआ, उह बूटियां जड़ां थीं पट्टियां नी ।
पोले ढिड ते अकल दी मार वारिस, छाहां पीन तरबेहियां खट्टियां नी ।

(पोले ढिड=हामला, तरबेही=तिबेही,तिन्नां डंगां दी बेही, छाह=लस्सी)

383. रांझा

हौली सहज सुभाउ दी गल्ल कीचै, नाहीं कड़कीए बोलीए गज्जीए नी ।
लख झुट तरले फिरे कोई करदा, दित्ते रब्ब दे बाझ ना रज्जीए नी ।
ध्यान रब्ब ते रक्ख ना हो तत्ती, लख औगुणां होन तां कज्जीए नी ।
असीं नज़र करीए तुरत होन चंगे, जिन्हां रोगियां ते जा वज्जीए नी ।
चौदां तबक नौ खंड दी ख़बर सानूं, मूंह फ़कर थों कास नूं कज्जीए नी ।
जैंदे हुकम विच्च जान ते माल आलम, ओस रब्ब थों कास नूं भज्जीए नी ।
सारी उमर ई पलंघ ते पई रहसें, एस अकल दे नाल कुचज्जीए नी ।
शरम जेठ ते सौहर्युं करन आई, मूंह फ़कर थों कासनूं लज्जीए नी ।
वारिस शाह तां इशक दी नबज़ दिसे, जदों आपनी जान नूं तज्जीए नी ।

(चौदां तबक=सत्त असमान अते सत्त पताल, नौखंड=सारी धरती,
आलम=जहान)

384. सहती

केही वैदगी आण मचाईआ ही, किस वैद ने दस्स पड़्हायआ हैं ।
वांग चौधरी आण के पैंच बन्युं, किस चिट्ठियां घल सदायआ हैं ।
सेल्ही टोपियां पहन लंगूर वांगूं, तूं ते शाह भोलू बण आया है ।
वड्डे दग़े ते फंध फ़रेब पड़्हउं, ऐवें कन्न पड़ा गवायआ हैं ।
ना तूं जट रहउं ना तूं फ़कीर होइउं, ऐवें मुन्न के घोन करायआ हैं ।
ना जंम्युं ना किसे मत दित्ती, मुड़ पुट्ट के किसे ना लायआ हैं ।
बुरे देहां दियां फेरियां एह है नी, अज्ज रब ने ठीक कुटायआ हैं ।
वारिस शाह कर बन्दगी रब्ब दी तूं, जिस वासते रब्ब बणायआ हैं ।

(शाह भोलू=बांदर)

385. रांझा

तेरी तब्हा चालाक छल छिद्दरे नी, चोर वांग की सेल्हियां सिल्लियां नी ।
पैरीं बल्लियां होन फिरन्द्यां दे, तेरी जीभ हर्यारीए बल्लियां नी ।
केहा रोग है दस्स इस वहुटड़ी नूं, इक्के मारदी फिरें ट्रपल्लियां नी ।
किसे एस नूं चा मसान घत्ते, पड़्ह ठोकियां सार दियां किल्लियां नी ।
सहंस वेद ते धूप होर फुल हरमल, हरे शरींह दियां छमकां गिल्लियां नी ।
झब करां मैं जतन झड़ जान कामन, अनी कमलीउ होइउ ना ढिल्लियां नी ।
हथ फेर के धूप देइ करां झाड़ा, फिरें मारदी नैन ते खिल्लियां नी ।
रब्ब वैद पक्का घर घल्ल्या जे, फिरो ढूंडदियां पूरबां दिल्लियां नी ।
वारिस शाह प्रेम दी जड़ी घत्ती, नैणां हीर दियां कच्चियां पिल्लियां नी ।

(सिल्लियां=चोरां वांगूं ताड़णा, ट्रपल्लियां=पखंडी गल्लां, सहंस=हज़ार,
खिल्लियां मारना=हस्सना टप्पणा, पूरबां दिल्लियां=दिल्ली दक्खण,दूर दूर)

386. सहती

मेरे नाल की प्या हैं वैर चाका, मत्था सौकणां वांग की डाहआ ई ।
ऐवें घूर के मुलक नूं फिरें खांदा, कदी जोतरा मूल ना वाहआ ई ।
किसे जोगीड़े ठग फ़कीर कीतों, अनजान ककोहड़ा फाहआ ई ।
मांउं बाप गुर पीर घर बार तज्यू, किसे नाल ना कौल निबाहआ ई ।
बुढ्ढी मां नूं रोंदड़ी छड्ड आइउं, उस दा अरश दा किंगरा ढाहआ ई ।
पेट रक्ख के आपना पाल्यु ई किते रन्न नूं चाय तराहआ ई ।
डब्बीपुरे द्या झल्ल वलल्ल्या वे, असां नाल की खचर पौ चाहआ ई ।
सवाह लाईआ पान ना लथियाई, ऐवें कपड़ा चीथड़ा लाहआ ई ।
वारिस आखनी हां टल जाह साथों, गांडू साथ लद्धो हुंड वधायआ ई ।

(ककोहड़ा=तिक्खी आवाज़ वाला पानी दा पंछी, तज्या=छड्या,
आपना पेट पालणा=खुदग़रज़, पान लत्थणी=सुभा बदलणा)

387. रांझा

मान मत्तीए रूप गुमान भरीए, भैड़ कारीए गरब गहेलीए नी ।
ऐडे फ़न फ़रेब क्युं खेडनी हैं, किसे वड्डे उसताद दीए चेलीए नी ।
एस हुसन दा ना गुमान कीचै, मान मत्तीए रूप रुहेलीए नी ।
तेरी भाबी दी नहीं परवाह सानूं, वड्डी हीर दी अंग सहेलीए नी ।
मिले सिरां नूं ना विछोड़ दीचै, हत्थों विछड़्यां सिरां नूं मेलीए नी ।
केहा वैर फ़कीर दे नाल चायउ, पिच्छा छड्ड अनोखीए लेलीए नी ।
इह जट्टी सी कूंज ते जट उल्लू, पर बद्ध्या जे गुल खेलीए नी ।
वारिस जिनस दे नाल हमजिनस बणदी भौर ताज़णां गधे नाल मेलीए नी ।

(गरब गहेली=हंकारी होई, रोहेली=गुलाम कादर रोहेला दा सिपाही,
खेला=जवान सान्ह जां झोटा, हम जिणस=इक्को जिनस दे, जिवें बाज़ ते
कबूतर दो वक्खरियां जिणसां हन, भौर ताज़ण=मुशकी रंग दी अरबी घोड़ी,
मेलणा=बच्चे लैन लई नवीं कराउणा)

388. हीर नूं जोगी दी सच्चाई दा पता लग्गणा

हीर कन्न धर्या इह कौन आया, कोई इह तां है दरद ख़ाह मेरा ।
मैनूं भौर ताज़न जेहड़ा आखदा है, अते गधा बणायआ सू चा खेड़ा ।
मतां चाक मेरा किवें आण भासे, एसे नाल मैं उठ के करां झेड़ा ।
वारिस शाह मत कन्न पड़ाय रांझा, घत मुन्दरां मन्न्यां हुकम मेरा ।

(कन्न धर्या=ख़्याल नाल सुण्या, दरद ख़ाह=हमदरद)

389. हीर

बोली हीर वे अड़्या जाह साथों, कोई ख़ुशी ना होवे ते हस्सीए क्युं ।
परदेसियां जोगियां कमल्यां नूं, विच्चों जीऊ दा भेत चाय दस्सीए क्युं ।
जे तूं अंत रन्ना वल वेखना सी, वाही जोतरे छड्ड के नस्सीए क्युं ।
जे तां आप इलाज ना जाणीए वे, जिन्न भूत ते जादूड़े दस्सीए क्युं ।
फ़कीर भारड़े गोरड़े होइ रहीए, कुड़ी चिड़ी दे नाल खरखस्सीए क्युं ।
जेहड़ा कन्न लपेट के नस्स जाए, मगर लग्ग के ओस नूं धस्सीए क्युं ।
वारिस शाह उजाड़ दे वसद्यां नूं, आप ख़ैर दे नाल फेर वस्सीए क्युं ।

(धस्सीए=वड़ीए, जादूड़े=जादू, भारड़े गोरड़े=चुप चाप,संजीदा, खरखस्स=
खरमसती)

390. रांझा

घरों सक्खना फ़कर ना डूम जाय, अनी खेड़्यां दीए ग़मख़ोरीए नी ।
कोई वड्डी तकसीर है असां कीती, सदका हुसन दा बखश लै गोरीए नी ।
घरों सरे सो फ़कर नूं खैर दीजे, नहीं तुरत जवाब दे टोरीए नी ।
वारिस शाह कुझ्झ रब्ब दे नाम दीचै, नहीं आजज़ां दी काई ज़ोरीए नी ।

(सक्खणा=ख़ाली)

391. हीर

हीर आखदी जोगिया झूठ आखें, कौन रुट्ठड़े यार मिलांवदा ई ।
एहा कोई ना मिल्या मैं ढूंड थक्की, जेहड़ा ग्यां नूं मोड़ ल्यांवदा ई ।
साडे चंम दियां जुत्तियां करे कोई, जेहड़ा जीऊ दा रोग गवांवदा ई ।
भला दस्स खां चिरीं विछुन्न्यां नूं, कदों रब्ब सच्चा घरीं ल्यांवदा ई ।
भला मोए ते विछड़े कौन मेले, ऐवें जीऊड़ा लोक वलांवदा ई ।
इक्क बाज़ थों काउं ने कूंज खोही, वेखां चुप्प है कि कुरलांवदा ई ।
इक जट्ट दे खेत नूं अग्ग लग्गी, वेखां आण के कदों बुझांवदा ई ।
द्यां चूरियां घ्यु दे बाल दीवे, वारिस शाह जे सुणां मैं आंवदा ई ।

(जीऊड़ा वलाउंदे=तसल्ली दिन्दे, घ्यु दे दीवे बालणे=ख़ुशियां करनियां)

392. रांझा

जदों तीक ज़िमीं असमान कायम, तदों तीक इह वाह सभ वहणगे नी ।
सभ्भा किबर हंकार गुमान लद्दे, आपो विच्च इह अंत नूं ढहणगे नी ।
इसराफ़ील जां सूर करनाय फूके, तद ज़िमीं असमान सभ ढहणगे नी ।
कुरसी अरशी ते लौह कलम जन्नत, रूह दोज़खां सत इह रहणगे नी ।
कुर्रा सुट के प्रशन मैं लांवदा हां, दस्सां उहनां जो उठ के बहणगे नी ।
नाले पत्तरी फोल के फाल घत्तां, वारिस शाह होरीं सच्च कहणगे नी ।

(वाह वहणगे=दुनियां दा कारोबार चलदा रहेगा, इसराफ़ील सूर
करनाय=क्यामत वाले दिन जदों इसराफ़ील बिगल वजावेगा, इह
सत्त=1. कुरसी 2. अरश, 3. लोहफट्टी, 4. कलम, 5. जन्नत, 6. दोज़ख,
7. रूह, कुर्रा सुट= जोतिश नाल पता करना, फ़ाल घत्तां=शगन दस्सां)

393. तथा

तुसीं छत्त्यां नाल उह मस्स भिन्ना, तदों दोहां जा जीऊ रल ग्या सी नी ।
योस वंझली नाल तूं नाल लटकां, जीऊ दोहां दा दोहां ने ल्या सी नी ।
उह इशक दे हट्ट विकाय रहआ, महीं किसे दियां चारदा प्या सी नी ।
नाल शौक महीं उह चारदा सी, तेरा व्याह होया लुड़्ह ग्या सी नी ।
तुसीं चड़्हे डोली तां उह हक महीं, टमक चायके नाल लै ग्या सी नी ।
हुन कन्न पड़ा फ़कीर होया, नाल जोगियां दे रल ग्या सी नी ।
अज्ज पिंड तुसाडड़े आ वड़्या, अजे लंघ के अग्हां ना ग्या सी नी ।
हुन संगली सुट के शगन बोलां, अग्गे सांवरी थे शगन ल्या सी नी ।
वारिस शाह मैं पत्तरी भाल डिट्ठी, कुर्रा इह नज़ूम दा प्या सी नी ।

(छत्ती=कुआरी, मस भिन्नां=मुछ फुटदी, लटक=सजनी दी नखरीली
चाल, लुड़्ह ग्या=बरबाद हो ग्या)

394. तथा

छोटी उमर दियां यारियां बहुत मुशकल, पुत्तर महरां दे खोलियां चारदे ने ।
कन्न पाड़ फ़कीर हो जान राजे, दरद मन्द फिरन विच्च बार दे ने ।
रन्नां वासते कन्न पड़ाय राजे, सभ्भा ज़ात सिफ़ात निघारदे ने ।
भले दिंहु ते नेक नसीब होवन, सज्जन आ बहसन कोल यार दे ने ।
वारिस शाह जां ज़ौक दी लग्गे गद्दी, जौहर निकले असल तलवार दे ने ।

(गदी=ढाल दा विचकारला हिस्सा जित्थे फड़न वाला हत्थ पाउंदा है )

395. तथा

जिस जट्ट दे खेत नूं अग्ग लग्गी, उह राहकां वढ्ढ के गाह लया ।
लावेहार राखे सभ विदा होए, नाउमीद हो के जट्ट राह पया ।
जेहड़े बाज़ थों कांउ ने कूंज खोही, सबर शुकर कर बाज़ फ़ना थया ।
दुनियां छड्ड उदासियां बन्न्ह लईआं, सय्यद वारिसों हुन वारिस शाह भया ।

(राहकां=मुजारा, लावेहार=फसल वढ्ढन वाले लावे, फ़ना=फ़नाह,
जींदा ही मर ग्या, उदासी=उदासी फ़कीर)

396. हीर समझ गई

हीर उठ बैठी पते ठीक लग्गे, अते ठीक निशानियां सारियां नी ।
इह तां जोगीड़ा पंडत ठीक मिल्या, बातां आखदा ख़ूब करारियां नी ।
पते वंझली दे एस ठीक दित्ते, अते महीं भी साडियां चारियां नी ।
वारिस शाह इह इलम दा धनी डाढा, खोल्ह कहे निशानियां सारियां नी ।

(इलम दा धनी=बहुत इलम वाला)

397. हीर

भला दस्स खां जोगिया चोर साडा, हुन केहड़ी तरफ़ नूं उट्ठ ग्या ।
वेखां आप हुन केहड़ी तरफ़ फिरदा, अते मुझ ग़रीब नूं कुट्ठ ग्या ।
रुठे आदमी घरां विच्च आण मिलदे, गल्ल समझ जां बद्धड़ी मुट्ठ ग्या ।
घरे विच्च पौंदा गुणां सज्जणां दा, यार होर नाहीं किते गुट्ठ ग्या ।
घर यार ते ढूंडदी फिरें बाहर, किते महल नाल माड़ियां उट्ठ ग्या ।
सानूं सबर करार ते चैन नाहीं, वारिस शाह जदोकना रुट्ठ ग्या ।

(कुट्ठ ग्या=मार ग्या, गुट्ठे=पासे, जदोकणा=जिस वेले दा,
बद्धड़ी मुट्ठ=चुप करके, गुना पौणा=वंड करन वेले कुदरत ते
छड्ड देना)

398. रांझा

एस घुंड विच्च बहुत ख़वारियां ने, अग्ग लायके घुंड नूं साड़ीए नी ।
घुंड हुसन दी आब छुपाय लैंदा, लंमे घुंड वाली रड़े मारीए नी ।
घुंड आशकां दे बेड़े डोब देंदा, मैना ताड़ ना पिंजरे मारीए नी ।
तदों इह जहान सभ नज़र आवे, जदों घुंड नूं ज़रा उतारीए नी ।
घुंड अन्न्हआं करे सुजाख्यां नूं, घुंड लाह तूं मूंह तों लाड़ीए नी ।
वारिस शाह ना दब्बीए मोतियां नूं, फुल्ल अग्ग दे विच्च ना साड़ीए नी ।

(ताड़णा=बन्द करना)

399. हीर रांझे दी आपो विच्च गल्ल

अक्खीं साम्हने चोर जे आइ फासन, क्युं दुक्ख विच्च आप नूं गालीए वे ।
मियां जोगिया झूठियां इह गल्लां, घर होन तां कास नूं भालीए वे ।
अग्ग बुझी नूं धीरियां लक्ख दिच्चन, बिना फूक मारे ना बालीए वे ।
हीर वेख के तुरत पछान लीता, हस्स आखदी बात संभालीए वे ।
सहती पास ना देवना भेत मूले, शेर पास ना बक्करी पालीए वे ।
वेख माल चुरायके प्या मुक्कर, राह जांदड़ा कोई ना भालीए वे ।
वारिस शाह मलखई्ईआं नूं माल लद्धा, चलो कुज्जियां बदर पवालीए वे ।

(फासण=आ जावन, धीरियां देणा=छेड़ना, मलखई्ईआं=माल दे मालक)

400. रांझा

कही दस्सनी अकल स्याण्यां नूं, कदी नफ़र कदीम संभालीए नी ।
दौलतमन्द नूं जाणदा सभ कोई, नेहुं नाल ग़रीब दे पालीए नी ।
गोदी बाल ढंडोरड़ा जग सारे, जीऊ समझ लै खेड़्यां वालीए नी ।
साड़ घुंड नूं खोल के वेख नैणां नी अनोख्यां सालू वालीए नी ।
वारिस शाह एह इशक दा गाउ तकिया, अनी हुसन दी गरम नेहालीए नी ।

(सुजाखा=सूझ अक्खां,अकलमन्द, गोदी बाल, ढंडोरा जग्ग विच्च=गुआची
वसत कोल हुन्द्यां एधर ओधर भाव दूर परे भालना, गाउ तकिया=
वड्डा सिर्हाणा, नेहाली=रजाई)

401. सहती

सहती समझ्या इह रल गए दोवें, लईआं घुट फ़कीर बलाईआं नी ।
इह वेख फ़कीर नेहाल होई, जड़ियां एस ने घोल पिवाईआं नी ।
सहती आखदी मग़ज़ खपा नाहीं, अनी भाबीए घोल घुमाईआं नी ।
एस जोगीड़े नाल तूं खौझ नाहीं, नी मैं तेरियां लवां बलाईआं नी ।
मतां घत्त जग-धूड़ ते करू कमली, गल्लां एस दे नाल की लाईआं नी ।
इह ख़ैर ना भिछ्या लए दाणे, कित्थों कढ्ढीए दुध मलाईआं नी ।
डरन आंवदा भूतने वांग इस थों, किसे थांउं दियां इह बलाईआं नी ।
ख़ैर घिन के जा फ़रफ़ेजिया वे, अत्तां रावला केहियां चाईआं नी ।
फिरें बहुत पखंड खिलारदा तूं, एथे कई वलल्लियां पाईआं नी ।
वारिस शाह ग़रीब दी अकल घुत्थी, इह पट्टियां इशक पड़्हाईआं नी ।

(जग-धूड़=किसे नूं ख़ाबू करन दा तवीत, घुथी=जांदी रही)

402. रांझा

मैं इकल्लड़ा गल्ल ना जाणना हां, तुसीं दोवें निनान भरजाईआं नी ।
मालज़ादियां वांग बना तेरी, पाई बैठी हैं सुरम-सलाईआं नी ।
पैर पकड़ फ़कीर दे दे भिछ्या, अड़ियां केहियां कवारीए लाईआं नी ।
ध्यान रब्ब ते रक्ख ना हो तत्ती, ग़ुस्से होन ना भल्यां दियां जाईआं नी ।
तैनूं शौक है तिन्हां दा भागभरीए, जिन्हां डाचियां बार चराईआं नी ।
जिस रब्ब दे असीं फ़कीर होए, वेख कुदरतां ओस विखाईआं नी ।
साडे पीर नूं जाणदी ग्या मोया, तांही गाल्हियां देणियां लाईआं नी ।
वारिस शाह उह सदा ही ज्युंदे ने, जिन्हां कीतियां नेक कमाईआं नी ।

(मालज़ादी=कंजरी, बणा=बणतर, ग्या मोया=ग्या गुज़र्या,
अत्तां=अत्त दा बहु=वचन, तत्ती=गरम)

403. सहती

पते डाचियां दे पूरे लावना हैं, देंदा मेहने शामतां चौरियां वे ।
मत्था डाहउ नाल कवारियां दे, तेरियां लौंदियां जोगिया मौरियां वे ।
तेरी जीभ मवेसिया हत्थ इल्लत, तेरे चुतड़ीं लड़दियां भौरियां वे ।
ख़ैर मिले सो लएं ना नाल मसती, मंगें दुद्ध ते पान गलौरियां वे ।
रुग देन आटा इक्के टुक चप्पा, भर देन ना जट्टियां कौरियां वे ।
एस अन्न नूं ढूंडदे उह फिरदे, चड़्हन हाथियां ते होवन चोरियां वे ।
सोटा वड्डा इलाज कुपत्त्यां दा, तेरियां भैड़ियां दिसदियां तौरियां वे ।
वड्डे कमल्यां दी असां भंग झाड़ी, एथे कई फ़कीरियां सौरियां वे ।
वारिस मार सवारदे भूत राकश, जेहड़ियां महरियां होन अपौड़ियां वे ।

(जीभ मवेसिया=जीभ दी बवासीर,बोलदा बहुत है, फलौरियां=पकौड़ियां,
कौरी=पानी वाली घरोटी, चौरी=चौर होणी, तौरियां=तौर तरीके, अपौड़=
उलटी अकल वाली)

404. रांझा

बुरा खहन फ़कीरां दे नाल पईआं, अठखेल बुर्यार उचक्कियां नी ।
रातब खायके हंजरन विच्च तल्ले, मारन लत्त इराकियां बक्कियां नी ।
इक्क भौंकदी दूसरी दए टिचकर, इह ननान भाबी दोवें सकियां नी ।
एथे बहुत फ़कीर ज़हीर करदे, ख़र देंदियां देंदियां अक्कियां नी ।
जिन्हीं डब्बियां पायके सिरीं चाईआं, रन्नां तिन्हां दियां नहीउं सकियां नी ।
नाले ढिड्ड खुरकन नाले दुध रिड़कन, अते चाटियां कुत्त्यां लक्कियां नी ।
झाटा खुरकदियां गुन्हदियां नक्क सिणकन, मारन वायके चाड़्ह के नक्कियां नी ।
लड़ो नहीं जे चंगियां होवना जे, वारिस शाह तों लउ दो फक्कियां नी ।

(बुर्यार=बुरियां, रातब=घोड़े दा खाणा, हंजरना=चंगा खाना पीना पर
मालक दे ख़ाबू ना आउणा,हणकणा, इराकी बक्की=इराक देश दियां घोड़ियां,
डब्बियां पा के=डब्बी विच्च पा के, कहानी दस्सी जांदी है कि इक्क साध औरतां दी
बेवफ़ाई तों तंग आ ग्या सी ।उहने इक्क सुन्दर इसतरी नाल शादी कीती
अते जादू दे ज़ोर नाल उस नूं इक्क डब्बी विच्च पा ल्या ।उह डब्बी नूं हर वेले
आपने वालां विच्च लुकाई रखदा ।दिल परचावे लई कदे कदे उहनूं बाहर
कढ्ढदा ।उस सुन्दरी ने वी आपना यार डब्बी विच्च पाके सिर विच्च लुकायआ
सी ।इक्क दिन उस साधू ने नदी विच्च नहाउन वेले आपनी घर वाली नूं
नदी दे कंढे आपने कप्पड़्यां दी राखी छड्ड दित्ता ।मौका ताड़ के पतनी
आपने यार नूं डब्बी विच्चों कढ्ढ के लागे इक्क बिरछ उहले उहदे नाल मसत
हो गई ।नदी कंढे बैठे किसे होर पुरश ने सभ कुझ्झ देख ल्या ।उस ने
तिकालां नूं साधू नूं आपने घर प्रीती भोजन ते सद्द्या ।खान वेले उहने
साधू अग्गे तिन्न थालियां प्रोस दित्तियां ।जदों उहने पुच्छ्या तां घर वाले
ने केहा कि इक्क थाली तुहाडी पतनी लई है । पर जदों तीजी थाली
दी गल्ल पुच्छी तां उहने दस्स्या कि इह उहदी पतनी दे यार वासते है
तां कि उह भुक्खा ना रहे तां साधू नूं सारा पता लग्गा, कुते लक्की=ढिड
मोटे लक्क पतले वाली, वायके=सुड़्हके, फक्की=पीसी होई दवाई)

405. सहती

अनी वेखो नी वासता रब्ब दा जे, वाह पै ग्या नाल कुपत्त्यां दे ।
मगर हलां दे चोबरां लाय दीचन, इक्के छेड़ दीचन मगर कट्ट्यां दे ।
इक्के वाढियां लावियां करन चोबर, इक्के डाह दीचन हेठ झट्ट्यां दे ।
इह पुराणियां लान्हतां हैन जोगी, गद्दों वांग लेटन विच्च घट्ट्यां दे ।
हीर आखदी बहुत है शौक तैनूं, भेड़ पाय बहें नाल डट्ट्यां दे ।
वारिस शाह मियां खहड़े ना पवीए, कन्न पाट्यां रब द्यां पट्ट्यां दे ।

(डट्ट्यां=ढट्ठ्यां)

406. हीर नूं सहती

भाबी जोगियां दे वड्डे कारने नी, गल्लां नहीं सुणियां कन्न-पाट्यां दियां ।
रोक बन्न्ह पल्ले दुध दहीं पीवन, वड्डियां चाटियां जोड़दे आट्यां दियां ।
गिट्ठ गिट्ठ वधायके वाल नाख़ुन, रिछ पलमदे लांगड़ां पाट्यां दियां ।
वारिस शाह इह मसत के पाट लत्थे, रगां किरलियां वांग ने गाट्यां दियां ।

(रोक=नकद, लांगड़=लंगोटी, पाट लत्थे=खा खा के पाटने आए हन)

407. रांझा

इह मिसल मशहूर जहान सारे, जट्टी चारे ही थोक सवारदी है ।
उन तुम्बदी मन्हे 'ते बाल लेड़्हे, चिड़ियां हाकरे लेलड़े चारदी है ।
बन्न्ह झेड़े फ़कीर दे नाल लड़दी, घर सांभदी लोकां नूं मारदी है ।
वारिस शाह दो लड़न माशूक एथे, मेरी संगली शगन विचारदी है ।

(हाकरे=उड़ावे, बाल लेड़्हे=बाल दुध चुंघे)

408. सहती

मेरे हत्थ लौंदे तेरी लवें टोटन, कोई मारसीगा नाल मुहल्यां दे ।
असीं घड़ांगे वांग कलबूत मोची, करें चावड़ां नाल तूं रुहल्यां दे ।
सुट्टूं मार चपेड़ ते दन्द भन्नूं, सवाद आवसी चुहल्यां मुहल्यां दे ।
वारिस हड्ड तेरे घाट वांग छड़ियन, नाल कुतक्यां पौल्यां मुहल्यां दे ।

(चावड़ां=शरारतां, चुहल मुहल=हासा मखौल, पौले=जुत्तियां)

409. रांझा

तेरे मौर लौंदे फाट खान उत्ते, मेरी फरकदी अज्ज मुतहर है नी ।
मेरा कुतका लवें ते तेरे चुतड़, अज्ज दोहां दी वड्डी कुदहड़ है नी ।
चिभ्भड़ वांग तेरे बीउ कढ्ढ सुट्टां, मैनूं आया जोश दा कहर है नी ।
एस भेड दे ख़ून तों किसे चिड़्ह के, नहीं मार लैना कोई शहर है नी ।
उजाड़े-ख़ोर गद्दों वांग कुट्टीएंगी, केही मसत तैनूं वड्डी वेहर है नी ।
वारिस शाह इह डुगडुगी रन्न कुट्टां, किस छडावनी वेहर ते कहर है नी ।

(फाट=भुन्ने होए जौं, लौंदे=चाहुन, कुदहड़=कुदना, ब्यु=बी भाव बीज,
चिड़्ह=चिड़, वेहर ते कहर=वेहरने वाले उते कहर टुट्टदा है)

410. तथा

असीं सबर करके चुप हो बैठे, बहुत औखियां इह फ़कीरियां ने ।
नज़र थल्ले क्युं ल्यावनी कन्न पाटे, जिसदे हस्स दे नाल ज़ंजीरियां ने ।
जेहड़े दरशनी हुंडवी वाच बैठे, सभ्भे चिठियां उहनां ने चीरियां ने ।
तुसीं करो ह्या कवारीउ नी, अजे दुद्ध दियां दन्दियां खीरियां ने ।
वांग बुढ्यां करे पक्कचंड गल्लां, मत्थे चुंडियां कवार दियां चीरियां ने ।
केही चन्दरी लग्गी हैं आण मत्थे, अखीं भुख दियां भौन भम्बीरियां ने ।
मैं तां मार तलेटियां पुट सुट्टां, मेरी उंगली उंगली पीरियां ने ।
वारिस शाह फ़ौजदार दे मारने नूं, सैनां मारियां वेख कशमीरियां ने ।

(कन्न पाटे=कन्नां विच्च छेद, हुंडवी=हुंडी,इकरारनामा, पक्कचंड=
स्याण्यां वालियां गल्लां, तलेटी=किसे चीज़ दा थल्ले दा भाग,
सैनां=सैनतां)

411. हीर रांझे वल्ल होई

सैनी मार के हीर ने जोगीड़े नूं, कहआ चुप कर एस भकाउनी हां ।
तेरे नाल जे एस ने वैर चायआ, मत्था एस दे नाल मैं लाउनी हां ।
करां गलों गलायन नाल इस दे, गल एसदे रेशटा पाउनी हां ।
वारिस शाह मियां रांझे यार अग्गे, इहनूं कंजरी वांग नचाउनी हां ।

(सैनी=सैनत,इशारा, करां गलों गलायन=गल्ल वधा लैणी, रेशटा=
झगड़ा)

412. हीर सहती नूं

हीर आखदी एस फ़कीर नूं नी, केहा घत्यु ग़ैब दा वायदा ई ।
एन्हां आजज़ां भौर निमाण्यां नूं, पई मारनी हैं केहा फ़ायदा ई ।
अल्लाह वाल्यां नाल की वैर पईएं, भला कवारीए एह की कायदा ई ।
पैर चुंम फ़कीर दी टहल कीचै, एस कंम विच्च ख़ैर दा ज़ायदा ई ।
पिच्छों फड़ेंगी कुतका जोगीड़े दा, कौन जाणदा केहड़ी जाय दा ई ।
वारिस शाह फ़कीर जे होन ग़ुस्से, ख़ौफ़ शहर नूं कहत वबाय दा ई ।

(ख़ैर=भलाई, ज़ायदा=ज़्यादा, कुतका=डंडा, वबा=बिमारी,
कहत=काल,भुखमरी)

413. सहती ते हीर

भाबी इक्क धिरों लड़े फ़कीर सानूं, तूं भी जिन्द कढें नाल घूरियां दे ।
जे तां हिंग दे निरख दी ख़बर नाहीं, काह पुच्छीए भा कसतूरियां दे ।
एन्हां जोगियां दे नाहीं वस्स काई, कीते रिज़क ने वायदे दूरियां दे ।
जे तां पट्ट पड़ावना ना होवे, काह खहन कीचै नाल भूरियां दे ।
जान सहतीए फ़क्कर नी नाग काले, मिले हक्क कमाईआं पूरियां दे ।
कोई दे बद दुआ ते गाल सुट्टे, पिच्छों फ़ायदे की एन्हां झूरियां दे ।
लछू लछू करदी फिरें नाल फक्करां, लुच्च चालड़े इहनां लंगूरियां दे ।
वारिस शाह फ़कीर दी रन्न वैरन, जिवें वैरी ने मिरग अंगूरियां दे ।

(काह=क्युं, लछू लछू करदी=गल्लां बातां नाल लड़न दा सद्दा दिन्दी,
अंगूरी=पौदे दे ताज़े फुट्टे पत्ते)

414. सहती

भाबी करें र्याइतां जोगियां दियां, हत्थीं सुच्चियां पाय हथौड़ियां नी ।
जेहड़ी दीद विखायके करे आकड़, मैं तां पट सुट्टां एहदियां चौड़ियां नी ।
गुरू एस दे नूं नहीं पहुंच ओथे, जित्थे अकलां असाडियां दौड़िया नी ।
मार मुहलियां स्ट्टां सू भन्न टंगां, फिरे ढूंडदा काठ कठौरियां नी ।
जिन्न भूत ते देउ दी अकल जावे, जदों मार के उट्ठियां छौड़ियां नी ।
वारिस शाह फ़कीर दे नाल लड़ना, कप्पन ज़हर दियां गन्दलां कौड़ियां नी ।

(हथौड़ियां=हत्थ कंङन, काठ कठौरियां=वसाखियां,फहुड़ियां)

415. हीर

हाए हाए फ़कीर नूं बुरा बोलें, बुरे सहतीए तेरे अपौड़ होए ।
जिन्हां नाल नमाण्यां वैर चायआ, सने जान ते माल दे चौड़ होए ।
कन्न पाट्यां नाल जिस चेह बद्धी, पस-पेश थीं अंत नूं रौड़ होए ।
रहे औत नखत्तरी रंड सुंञी, जेहड़ी नाल मलंगां दे कौड़ होए ।
इन्हां तेहां नूं छेड़ीए नहीं मोईए, जेहड़े आशक फ़कीर ते भौर होए ।
वारिस शाह लड़ाई दा मूल बोलन, वेख दोहां दे लड़न दे तौर होए ।

(अपौड़=पुठे कंम, चेह=ज़िद्द, नखत्तरी=बेनसीब औरत, चौड़=बरबाद,
तेहां=तिन्नां,आशक,फ़कीर,भौर)

416. सहती

भाबी एस जे गधे दी अड़ी बद्धी, असीं रन्नां भी चह चहारियां हां ।
इह मार्या एस जहान ताज़ा, असीं रोज़े-मीसाक दियां मारियां हां ।
इह ज़िद दी छुरी जे हो बैठा, असीं चेह दियां तेज़ कटारियां हां ।
जे इह गुंड्यां विच्च है पैर धरदा, असीं खचरियां बांकियां डारियां हां ।
मरद रंग महल्ल हन इशरतां दे, असीं ज़ौक ते मज़े दियां माड़ियां हां ।
इह आप नूं मरद सदांवदा है, असीं नरां दे नाल दियां नारियां हां ।
एस चाक दी कौन मजाल है नी, राजे भोज थीं असीं ना हारियां हां ।
वारिस शाह विच्च हक्क सफ़ैद-पोशां, असीं होली दियां रंग पिचकारियां हां ।

(चह चहारियां=ज़िद दियां पक्कियां, रोज़-ए-मीसाक=रब नाल कौल
इकरार दा दिन, इशरत=ऐश आराम, माड़ियां=महल, राजे भोज=
राजे भोग दी बेवफ़ा पतनी उस दे किसे छोटी पद्धर दे नौकर नूं प्यार
करन लग्गी ।राजे नूं पता लग्गन ते रानी ने आख्या कि उह उस पुरश
नूं की आखे भाव उह उहदे बराबर दा नहीं ।रानी ने आपने यार
प्यारे नूं इह साबत करन लई कि राजा कुझ्झ करन जोगा नहीं उहदे
साम्हने राजे उते सवारी कर लई, होरी=होली)

417. हीर

जिन्हां नाल फ़कीर दे अड़ी बद्धी, हत्थ धो जहान थीं चल्लियां नी ।
आ टलीं कवारीए डारीए नी, कोहियां चाईयों भवां अवल्लियां नी ।
हैन वस्सदे मींह भी हो नींवें, धुंमां कहर दियां देस ते घल्लियां नी ।
कारे हत्थियां कवारियां वेहु-भरियां, भला कीकरूं रहन नचल्लियां नी ।
मुनस मंगदियां जोगियां नाल लड़ के, रातीं औखियां होन इकल्लियां नी ।
पच्छी चरखड़ा रुले है सड़न जोगा, कदी चार ना लाहीउं छल्लियां नी ।
जित्थे गभरू होन जा खहें आपे, पर्हे मार के बहें पथल्लियां नी ।
टल जा फ़कीर थों गुंडीए नी, वारिस कवारीए राहीं क्युं मल्लियां नी ।

(हत्थ धो=ख़ाली)

418. सहती

भला दस्स भाबी केहा वैर चायउ, भईआं पिट्ट्यां नूं पई लूहनी हैं ।
अणहुन्दियां गल्लां दे नाउं लै के, घा अल्लड़े पई खनूंहनी हैं ।
आप छाननी छेड़दी दी दोहनी नूं, ऐवें कंड्यां तों पई धूहनी हैं ।
सोहनी होई हैं नहीं तूं ग़ैब चायआ, खून ख़लक दा पई नचूहनी हैं ।
आप चाक हंढायके छड्ड आईएं, होर ख़लक नूं पई वडूहनी हैं ।
आख भाई नूं हुने कुटाय घत्तूं, जेहे असां नूं मेहने लूहनी हैं ।
आप कमली लोकां दे सांग लाएं, खच्चरवाईआं दी वड्डी खूहनी हैं ।
वारिस शाह केही बघ्याड़ी एं नी, मुंडे मोहनी ते वड्डी सूहनी हैं ।

(अल्लड़े=ताज़े, वडूहनी=बदनाम करदी, सूहणी=सूह लैन वाली)

419. हीर

ख़ुआर खज्जलां रुलदियां फिरदिया सन, अक्खीं वेखद्यां होर दियां होर होईआं ।
अते दुध दियां धोतियां नेक नीतां, आखे चोरां दे ते असीं चोर होईआं ।
चोर चौधरी गुंडी परधान कीती, इह उलट अवल्लियां ज़ोर होईआं ।
बदज़ेब ते कोझियां भेड मूंहियां, आके हुसने दे बाग़ दियां मोर होईआं ।
इह चुग़ल बलोचां दे नेहुं मुट्ठी, अन्न्हीं डौर घूठी मनखोर होईआं ।
इहदी बनत वेखो नाल नख़र्यां दे, मालज़ादियां विच्च लहौर होईआं ।
भरजाईआं नूं बोली मारदियां ने, फिरन मंडियां विच्च ललोर होईआं ।
वारिस शाह झन्हाउं ते धुम इहदी, जिवें सस्सी दियां शहर भम्बोर होईआं ।

(बदज़ेब=कोझा, भेड मूंहियां=भद्दियां, घूठी=चुप गुप, जेहड़ी खुल्ह के दिल
दी गल्ल ना करे)

420. सहती

लड़े जट्ट ते कुट्टीए डूम नाहीं, सिर जोगीड़े दे गल्ल आईआ ई ।
आ कढ्ढीए वढ्ढीए इह फसता, जगधूड़ काई एस पाईआ ई ।
एस मार मंतर वैर पाय दित्ता, चाणचक्क दी पई लड़ाईआ ई ।
हीर नहीं ख़ांदी मार असां कोलों, वारिस गल्ल फ़कीर ते आईआ ई ।

(फसता वढ्ढीए=झगड़ा मुकाईए, चाणचक=अचानक)

421. सहती नौकरानी नूं

सहती आख्या उठ रबेल बांदी, ख़ैर पा फ़कीर नूं कढ्ढीए नी ।
आटा घत्त के रुग कि बुक चीणां, विच्चों अलख फ़साद दी वढ्ढीए नी ।
दे भिछ्या वेहड़्युं कढ आईए, होड़ा विच्च बरूंह दे गड्डीए नी ।
अंमां आवे तां भाबी तों वक्ख होईए, साथ उट्ठ बलेदे दा छड्डीए नी ।
आवे खोह नवालियां हीर सुट्टीए, ओहदे यार नूं कुट के छड्डीए नी ।
वांग किला दीपालपुर हो आकी, झंडा विच्च मवास दे गड्डीए नी ।
वारिस शाह दे नाल दो हत्थ करीए, अवे उट्ठ तूं सार दीए हड्डीए नी ।

(रबेल बांदी=नौकराणी, होड़ा विच्च बरूंह=दरवाज़ा बन्द करीए,
बलेदा=बलद, आकी=बागी, मवास=फ़नाह घर)

422. नौकरानी दा ख़ैर पाउना ते जोगी दा होर भड़कणा

बांदी हो ग़ुस्से नक्क चाड़्ह उठी, बुक चीने दा चाय उलेर्या सू ।
धरोही रब्ब दी ख़ैर लै जा साथों, हाल हाल कर पल्लूड़ा फेर्या सू ।
बांदी लाड दे नाल चवाय करके, धक्का दे नाथ नूं गेर्या सू ।
लै के ख़ैर ते खप्परा जा साथों, ओस सुत्तड़े नाग नूं छेड़्या सू ।
छिब्बी गल्ल्ह विच्च दे पशम पुट्टी, हत्थ जोगी दे मूंह ते फेर्या सू ।
वारिस शाह फरंग दे बाग़ वड़ के, वेख कला दे खूह नूं गेड़्या सू ।

(पल्लूड़ा फेरना=दूर खड़्हे नूं मदद दा इशारा करना, पशम=वाल,
फरंग=अंगरेज़)

423. रांझा

रांझा वेख के बहुत हैरान होया, पईआं दुद्ध विच्च अम्ब दियां फाड़ियां नी ।
ग़ुस्से नाल ज्युं हशर नूं ज़िमीं तपे, जीऊ विच्च कलीलियां चाड़्हियां नी ।
चीना चोग चमूण्या आण पायउ, मुन्न चल्ली हैं गोलीए दाड़्हियां नी ।
जिस ते नबी दा रवा दरूद नाहीं, अक्खीं भरन ना मूल उघाड़ियां नी ।
जिस दा पक्के पराउंठा ना मंडा, पंड ना बझ्झे विच्च साड़्हियां नी ।
डुब्ब मोए ने कासबी विच्च चीणे, वारिस शाह ने बोलियां मारियां नी ।
नैणूं यूशबा बोल अबोल कह के, डुब्बे आपने आपनी वारियां नी ।
अवो भिच्छ्या घत्त्यु आण चीणा, नाल फ़कर दे घोलीउं यारियां नी ।
औह लोहड़ा वड्डा कहर कीतो, कंम डोब सुट्ट्या रन्नां डारियां नी ।
वारिस खप्परी चा पलीत कीती, पईआं धोणियां सेहलियां सारियां नी ।

(दुध विच्च अम्ब दियां फाड़ियां=कंम विगड़ जाणा, कलीलियां
चाड़्हियां=ग़ुस्से विच्च दन्द पीहन लग्गा,कचीचियां वट्टियां, चमूणी=
छोटी चिड़ी, दाड़्ही मुनणी=बेइज़ती करनी, दरूद रवा नहीं=
फ़ातेह पड़्हना ठीक नहीं, अखीं नहीं भरदियां=बहुत बरीक है,
कासबी=जुलाहा)

424. सहती

चीणां झाल झल्ले जटा धारियां दी, माई बाप है नंग्यां भुक्ख्यां दा ।
अन्न चीने दा खावीए नाल लस्सी, सवाद दुद्ध दा टुकड़्यां रुक्ख्यां दा ।
बनन पिन्नियां एस दे चाउलां दियां, खावे देन मज़ा चोखा चुक्ख्यां दा ।
वारिस शाह मियां नवां नज़र आया, इह चालड़ा लुच्च्यां भुक्ख्यां दा ।

(चोखा=वद्ध, चुख्यां दा=टोटे कीतियां)

425. रांझा

चीना ख़ैर देना बुरा जोगियां नूं, मच्छी भाबड़े नूं मास बाहमणां नी ।
कैफ़ भगत काज़ी तेल खंघ वाले, वढ्ढ सुट्टना लुंग पलाहमणां नी ।
ज़हर जींवदे नूं अन्न सन्न्ह वाले, पानी हलक्यां नूं, धरन साहमना नी ।
वारिस शाह ज्युं संखिया चूहआं नूं, संख मुल्लां नूं बांग ज्युं बाहमणां नी ।

(कैफ़=नशा, लुंग पलाहमन=कूम्बलां, सन्न्ह=लकवा, धरन=रक्खना)

426. सहती

क्युं विगड़ के तिगड़ के पाट लत्थों, अन्न आबे-हआत है भुक्ख्यां नूं ।
बुढ्ढा होवसें लिंग जा रहन टुरनों, फिरें ढूंडदा टुक्करां रुक्ख्यां नूं ।
किते रन्न घर बार ना अड्ड्या ई अजे फिरें चलाउंदा तुक्क्यां नूं ।
वारिस शाह अज्ज वेख जो चड़्ही मसती, ओहनां लुच्च्यां भुक्ख्यां सुक्क्यां नूं ।

(तीर तुक्के=किसे पिंड विच्च इक्क भोला पुरश रहन्दा सी ।उहदे घर वाली
ने उहनूं कमाई करन लई परदेस भेज दित्ता अते पिच्छों इक बदचलन
नाल फस गई ।उह पुरश कुझ्झ समे पिच्छों घर आया ।उह बहुता समां
घर ही रहन्दा जिस करके घर वाली बहुत तंग सी ।अख़ीर घरवाली दे
यार ने उहदे पती नाल दोसती ज़ाहर कीती ।पती नूं तीर अन्दाज़ी दी
कला सिक्खन लई मनायआ अते आपना शगिरद थाप्या ।जदों घरवाली
दा मालक तीर (तुक्का) चलाउंदा तां आशक चक के ल्याउंदा अते फिर
दूजी बारी दिन्दा ।आशक दे तुक्के दिनो दिन दूर जान लग्गे ।कई वारी उह
चुक के ल्याउन नूं 30-40 मिंट लग्गदे ।ओनी देर विच्च उह उहदी घर
वाली नाल मौजां करदा ।इक्क वार घर वाला शक्क कारन तीर चुक्कन ग्या
रसते विच्चों दो चार मिंट विच्च मुड़ आया अते आपनी पतनी अते आशक
नूं मौके ते नप्प ल्या ।उस ने उहनूं कुट्ट कुट्ट के पिंडों कढ्ढ दित्ता ।उह दूर
दे इक्क पिंड जा वस्या ।इक्क वारी इसतरी दा मालक उस पिंड इक्क
जनेते ग्या उस बदमाश नूं मिल प्या अते उहनूं पुच्छ्या कि उहने किते
घर बार वसा ल्या है जां हालीं तीर तुक्के ही चलाउंदा है, अन्न=रोटी,
आबे-हआत=अंमृत, अड्ड्या=वसायआ)

427. जोगी लड़न लई त्यार

जोगी ग़ज़ब दे सिर ते स्ट्ट खप्पर, पकड़ उठ्या मार के छौड़्या ई ।
लै के फाहुड़ी घुलन नूं त्यार होया, मार वेहड़े दे विच्च अपौड़्या ई ।
साड़ बाल के जीऊ नूं ख़ाक कीता, नाल कावड़ां दे जट कौड़्हआ ई ।
जेहा ज़करिया ख़ान मुहंम करके, लै के तोप पहाड़ नूं दौड़्या ई ।
जेहा महर दी सथ दा बान-भुच्चर, वारिस शाह फ़कीर ते दौड़्या ई ।

(अपौड़्या=पिच्छे मुड़्या, कौड़्हआ=कुड़्हआ,जल भुज्ज ग्या,
बान-भुच्चर=मोटा कुत्ता)

428. रांझा नौकरानी नूं

हत्थ चाय मुतहरड़ी कड़क्या ई तैनूं आउंदा जग सभ सुंञ रन्ने ।
चावल नेहमतां कनक तूं आप खाएं, ख़ैर देन ते कीता है खुंझ रन्ने ।
खड़ दहे चीना घर ख़ावन्दां दे, नहीं मार के करूंगा मुंज रन्ने ।
फिट चड़्हद्यां चूड़ियां कढ सुटां, ला बहीएं जे वैर दी झुंज रन्ने ।
सिर फाहुड़ी मार के दन्द झाड़ूं, टंगां भन्न के करूंगा लुंज रन्ने ।
तेरी वरी-सूई हुने फोल सुट्टां, जही रहेंगी उंज दी उंज रन्ने ।
वारिस शाह सिर चाड़्ह विगाड़ीएं तूं, हाथी वांग मैदान विच्च गुंज रन्ने ।

(सुंञ=सुंञां, खुंझ=गलती, मुंज करनी=मुंज वांगू कुट्टूं, चूड़ियां कढ्ढणा=
बाहों फड़ के झटका देणा, वरी सूई फोल सुट्टां=वरी भाव सहुर्यां ने
वरी विच्च दित्ता समान,भाव तेरे सारे भेद फोल देवांगा, कुंज=हाथी दा
विखावे दा दन्द, लुंज=लूल्हा,लंगड़ा)

429. सहती नौकरानी नूं

बांदी होइके चुप खलो रही, सहती आखदी ख़ैर ना पायउ क्युं ।
इह तां जोगीड़ा लीक कंमज़ात कंजर, एस नाल तूं भेड़ मचायउ क्युं ।
आप जाय के दे जे है लैंदा, घर मौत दे घत फहायउ क्युं ।
मेरी पान पत्त एस ने लाह सुट्टी, जान बुझ्झ बेशरम करायउ क्युं ।
मैं तां एस दे हत्थ विच्च आण फाथी, मूंह शेर दे मास फहायउ क्युं ।
वारिस शाह मियां एस मोरनी ने, दवाले लाहीके बाज़ छुडायउ क्युं ।

(लीक=बदनामी दा धब्बा, दवाले लाहीके=बाज़ दे तसमे खोल्ह के)

430. रांझा

झाटा खोह के मीढियां पुट्ट घत्तूं, गुत्तों पकड़ के द्युं विलावड़ा नी ।
जे तां पिंड दा ख़ौफ़ विखावनी हैं, लिखां पशम ते इह गिरांवड़ा नी ।
तेरा असां दे नाल मुदपड़्ड़ा है, नहीं होवना सहज मिलावड़ा नी ।
लत मार के छड़ूंगा चाय गुम्बड़, कढ आई हैं ढिड ज्युं तावड़ा नी ।
सने कवारी दे मार के मिझ्झ कढूं, चुतड़ घड़ूंगा नाल फहावड़ा नी ।
हत्थ लगे तां सुटूंगा चीर रन्ने, कढ लऊंगा सारियां कावड़ां नी ।
तुसीं तरै घुलाटणां जाणदा हां, कढ्ढा दोहां दा पोसत्यावड़ा नी ।
वारिस शाह दे मोढ्यां चड़्ही हैं तूं, निकल जाणगियां जवानियां दियां चावड़ां नी ।

(पशम ते लिखणा=कोई परवाह ना करना, मदप्पड़ा=नेड़ता, गुम्बड़=
मोटा ढिड्ड, गोगड़, तावड़ा=तौड़ा, कवारी=कुआरी भाव हीर, घुल्हाटां=
पहलवानणी, पोसत्यावड़ा=कचूमर)

431. तथा

हीरे करां मैं बहुत ह्या तेरा, नहीं मारां सू पकड़ पथल्ल के नी ।
सभ्भा पान पत्त एस दी लाह सुट्टां, लक्ख वाहरां दए जे घल्ल के नी ।
जेहा मार चितौड़ गड़्ह शाह अकबर, ढाह मोरचे लए मचल्लके नी ।
ज्युं ज्युं शरम दा मार्या चुप करनां, नाल मसतियां आंवदी चल्ल के नी ।
तेरी पकड़ संघी जिन्द कढ्ढ सुट्टां, मेरे खुस्स ना जाणगे तल्लके नी ।
भला आख की खट्टना वट्टना हई, वारिस शाह दे नाल पिड़ मल्ल के नी ।

(पथल्ल=उलटा के, मचल्लके=इकरार नामे, तल्लके=जगीर)

432. हीर

बोली हीर मियां पा ख़ाक तेरी, पिच्छा टुट्टियां असीं परदेसणां हां ।
प्यारे विछड़े चौंप ना रही काई, लोकां वांग ना मिट्ठियां मेसणां हां ।
असीं जोगिया पैर दी ख़ाक तेरी, नाहीं खोटियां अते मलखेसणां हां ।
नाल फ़कर दे करां बराबरी क्युं, असीं जट्टियां हां कि कुरेशणां हां ।

(पाय ख़ाक=पैरां दी मिट्टी, पिच्छा टुट्टी=जेहदी पुशत पनाह करन
वाला कोई ना होवे, चौंप=चाउ, मिट्ठी मेसणी=चुप ऐपर खचरी,
कुरेशणां=कुरैशी ख़ानदान दियां, हज़रत मुहंमद साहब दे कबीले
दा नाम कुरैश है)

433. हीर नूं सहती

नवीं नूचीए कच्चीए यारनीए नी, कारे-हत्थीए चाक दीए प्यारीए नी ।
पहले कंम सवार हो बहें न्यारी, बेली घेर लै जाणीए डारीए नी ।
आप भली हो बहें ते असीं बुरियां, करें खचर-पौ रूप शिंगारीए नी ।
अखीं मार के यार नूं छेड़ पाउ नी महां सतीए चह चहारीए नी ।
आउ जोगी नूं लईं छुडा साथों, तुसां दोहां दी पैज सवारीए नी ।
वारिस शाह हत्थ फड़े दी लाज हुन्दी, करीए साथ तां पार उतारीए नी ।

(कारे हत्थी=हुश्यार, चलाक)

434. सहती ने ख़ैर पाउणा

सहती हो ग़ुस्से चा ख़ैर पायआ, जोगी वेखदे तुरत ही रज्ज प्या ।
मूंहों आखदी रोह दे नाल जट्टी, कटक खेड़्यां दे भावें अज्ज प्या ।
इह लै मकर्या ठकर्या रावला वे, काहे वाचना एं ऐड धरज्ज प्या ।
ठूठे विच्च सहती चीना घत दित्ता, फट्ट जोगी दे कालजे वज्ज प्या ।
वारिस शाह शराब ख़राब होया, शीशा संग ते वज्ज के भज्ज प्या ।

(रज्ज प्या=दुखी होया, शीसा=प्याला, संग=पत्थर,
कालजे वज्ज प्या=बहुत तकलीफ़ होई)

435. रांझा

ख़ैर फ़कर नूं अकल दे नाल दीचै, हत्थ संभल के बुक्क उलारीए नी ।
कीचै ऐड हंकार ना जोबने दा, घोल घत्तीए मसत हंकारीए नी ।
होईउं मसत गरूर तकब्बरी दा, लोड़्ह घत्युं रन्ने डारीए नी ।
कीचै हुसन दा मान ना भाग भरीए, छल जायसी रूप विचारीए नी ।
ठूठा भन्न फ़कीर नूं पट्ट्यु ई शाला यार मरी अनी डारीए नी ।
मापे मरन हंकार भज्ज पवे तेरा, वारिस पत्तने दीए वणजारीए नी ।

(शाला=रब करे)

436. सहती

घोल घत्युं यार दे नाउं उतों, मूंहों संभलीं जोगियां आर्या वे ।
तेरे नाल मैं आख की बुरा कीता, हत्थ ला नाहीं तैनूं मार्या वे ।
माउं सुणद्यां पुणें तूं यार मेरा, वड्डा कहर कीतो लोड़्हे मार्या वे ।
रुग आटे दा होर लै जा साथों, किवें वढ्ढ फ़साद हर्यार्या वे ।
तैथे आदमीगरी दी गल्ल नाहीं, रब्ब चाय बथुन्न उसार्या वे ।
वारिस किसे असाडे नूं ख़बर होवे, ऐवें मुफ़त विच्च जाएंगा मार्या वे ।

(मां सुणद्यां=मां साहमणे, पुणें=गालां कढ्ढें, आदमीगरी=
इनसानियत, बथुन्न=बेढबा,पसू, असाडे=साडे टब्बर दे बन्दे नूं)

437. रांझा

जे तैं पोल कढावना ना आहा, ठूठा फ़कर दा चा भनाईए क्युं ।
जे तैं कवार्यां यार हंढावने सन, तां फिर मांउं दे कोलों छुपाईए क्युं ।
ख़ैर मंगीए तां भन्न दएं कासा असीं आखदे मूंहों शरमाईए क्युं ।
भरजाई नूं मेहना चाक दा सी, यारी नाल बलोच दे लाईए क्युं ।
बोती हो बलोच दे हत्थ आईएं, जड़्ह कवार दी चा भनाईए क्युं ।
वारिस शाह जां आकबत ख़ाक होणा, एथे आपनी शान वधाईए क्युं ।

(पोल कढावणा=पोल ज़ाहर कराउणा, बोती=ऊठनी कवार दी जड़्ह
भनाईए=कवार पुना बरबाद कराउणा, आकबत=अंत)

438. सहती

जो को जंम्या मरेगा सभ कोई, घड़्हआ भज्जसी वाह सभ वहणगे वे ।
मीर पीर वली ग़ौस कुतब जासन, इह सभ पसारड़े ढहणगे वे ।
जदों रब आमाल दी ख़बर पुच्छे, हथ पैर गवाहियां कहणगे वे ।
भन्नें ठूठे तों ऐड वधा कीतो, बुरा तुध नूं लोक सभ कहणगे वे ।
जीभ बुरा बोलेस्या रावला वे, हड्ड पैर सज़ाईआं लैणगे वे ।
कुल चीज़ फ़नाह हो ख़ाक रलसी, साबत वली अल्लाह दे रहणगे वे ।
ठूठा नाल तकदीर दे भज्ज प्या, वारिस शाह होरीं सच्च कहणगे वे ।

(वाह=नदी, आमाल=अमल दा बहु-वचन,कंम, वधा कीता=वड्डी
गल्ल बना लई, रलसी=रलेगी)

439. रांझा

शाला कहर पौसी छुट्टे बाज़ पैणी, ठूठा भन्न के लाड भंगारनी हैं ।
लक्क बन्न्ह के रन्ने घुल्हक्कड़े नी, माड़ा वेख फ़कीर नूं मारनी हैं ।
नाले मारनी हैं जीऊ साड़नी हैं, नाले हाल ही हाल पुकारनी हैं ।
मरे हुकम दे नाल तां सभ कोई, बिना हुकम दे ख़ून गुज़ारनी हैं ।
बुरे नाल जे बोलीए बुरा होईए, असीं बोदले हां तां तूं मारनी हैं ।
ठूठा फेर दरुसत कर देह मेरा, होर आख की सच्च नितारनी हैं ।
लोक आखदे हन इह कुड़ी कवारी, साडे बाब दी धाड़वी धारनी हैं ।
ऐडे फ़न फ़रेब हन याद तैनूं, मुरदारां दी सिर सरदारनी हैं ।
घर वालीए वहुटीए बोल तूं वी, कही जीऊ विच्च सोच विचारनी हैं ।
सवा मनी मुतहर पई फरकदी है, किसे यारनी दे सिर मारनी हैं ।
इक्क चोर ते दूसरी चतर बणीउं, वारिस शाह हुन ढाय के मारनी हैं ।

(शाला=रब चाहे, लाड भंगारनी=मखौल करदी,गल्लां मारदी, घुलक्कड़ी=
घुलन वाली, हाल ही हाल पुकारना=हाए हाए करना,रौला पाउणा,
धाड़वी=धाड़ा मारन वाली, मुरदार=गन्दा,हरामी)

440. हीर

हीर आखदी इह चवाय केहा, ठूठा भन्न फ़कीरां नूं मारना की ।
जिन्हां हिक अल्लाह दा आसरा है, ओन्हां पंखियां नाल खहाड़ना की ।
जेहड़े कन्न पड़ाय फ़कीर होए, भला उन्हां दा पड़तना पाड़ना की ।
थोड़्ही गल्ल दा वढा वधा करके, सौरे कंम नूं चा विगाड़ना की ।
जेहड़े घरां दियां चावड़ां नाल मारें, घर चक्क के एस लै जावना की ।
मेरे बूहउं फ़कर क्युं मार्यु ई वसदे घरां तों फ़कर मोड़ावना की ।
घर मेरा ते मैं नाल खुनस चायउ, एथों कवारीए तुध लै जावना की ।
बोल्ह राहकां दे हौस चूहड़े दी, मरशू मरशू दिन रात करावना की ।
वारिस शाह इह हिरस बेफ़ायदा ई ओड़क एस जहान तों चावना की ।

(चवा=चा, सौरे=संवारे होए, चंगे भले, खुणस=वैर,झगड़ा, हौस=आकड़,
मरशू मरशू करना=जायदाद दे झगड़े विच्च गलत गल्लां करनियां)

441. सहती हीर नूं

भला आख की आंहदी एं नेक पाके, जिस दे पल्लू ते पड़्हन नमाज़ आई ।
घर वार तेरा असीं कोई होईआं, जापे लद्द के घरों जहाज़ आई ।
मुंडे मोहणीएं ते झोटे दोहणीएं नी, अजे तीक ना इशक थीं बाज़ आई ।
वारिस शाह जवानी दी उमर गुज़री, अजे तीक ना याद हजाज़ आई ।

(नेक पाक=भलीमानस अते पवित्तर, जापे=जापदा है, झोटे दोहणी=झोटे
चोंदी एं,औखे ते ना होन वाले कंम करदी हैं, हजाज़=सऊदी अरब दा इक्क
सूबा है मक्का मुअज़्ज़मा अते मदीना मनव्वरा दे पवित्तर शहर इसे सूबे विच्च
सथित हन)

442. हीर

इह मसत फ़कीर ना छेड़ लीके, कोई वड्डा फसाद गल पासिया नी ।
मारे जान खेड़े उजड़ जान मापे, तुध लंडी दा कुझ्झ ना जासिया नी ।
पैर पकड़ फ़कीर दे करस राज़ी, नहीं एस दी आह पै जासिया नी ।
वारिस शाह जिस किसे दा बुरा कीता, जा गोर अन्दर पछोतासिया नी ।

(करस राज़ी=उस नूं राज़ी कर)

443. सहती

तेरे जेहियां लक्ख पड़्हाईआं मैं, ते उडाईआं नाल अंगूठ्यां दे ।
तैनूं सिद्ध कामल वली गौंस दिस्से, मैनूं ठग्ग दिस्से भेस झूठ्यां दे ।
साडे खौंसड़े नूं याद नहीं चोबर, भावें आण लावे ढेर ठूठ्यां दे ।
इह मसत मलंग मैं मसत एदूं, इस थे मकर हन टुकड़्यां जूठ्यां दे ।
वारिस शाह मियां नाल चवाड़ियां दे, लिंङ सेकीए चोबरां घूठ्यां दे ।

(चवाड़ियां=बांसां)

444. हीर

एस फ़क्कर दे नाल की वैर पईएं, उधल जायसैं तैं नहीं वस्सना ई ।
ठूठा भन्न फ़कीर नूं मारनी हैं, अग्गे रब्ब दे आख की दस्सना ई ।
तेरे कवार नूं ख़वार संसार करसी, एस जोगी दा कुझ ना घस्सना ई ।
नाल चूहड़े खत्तरी घुलन लग्गे, वारिस शाह फिर मुलक ने हस्सना ई ।

(कवार नूं ख़वार करना=उधाली गई औरत उते हर थां हमले करने,
चूहड़े दा ख़तरी घोल=हर हालत विच्च ख़तरी दा नुकसान है,माड़े नूं
मारना वी बेइज़ती है अते उस तों मार खानी वी निरादरी)

445. सहती

इक्के मरांगी मैं इक्के एस मारां, इक्के भाबीए तुध मरायसां नी ।
रोवां मार भुब्बां भाई आंवदे ते,तैनूं ख़ाह-मख़ाह कुटायसां नी ।
चाक लीक लाई तैनूं मिले भाबी, गल्लां पिछलियां कढ्ढ सुणइसां नी ।
इक्के मारीएं तूं इक्के इह जोगी, इहो घगरी चाय विछायसां नी ।
सीता दहसिरे नाल जो गाह कीता, कोई वड्डा कमन्द पवायसां नी ।
रन्न ताहीं जां घरों कढाय तैनूं, मैं मुराद बलोच हंढायसां नी ।
सिर एस दा वढ के अते तेरा, एस ठूठे दे नाल रलायसां नी ।
रख हीरे तूं एतनी जम्हां ख़ातर, तेरी रात नूं भंग लुहायसां नी ।
मैं कुटायसां अते मरायसां नी, गुत्तों धरूह के घरों कढायसां नी ।
वारिस शाह कोलों भन्नाय टंगायसां नी, तेरे लिंङ सभ चूर करायसां नी ।

(दहसिरा=रावन, जो गाह=जिद्दां करे, जम्हां ख़ातर रक्ख=तसल्ली रक्ख)

446. हीर

ख़ून भेड दे जे पिंड मार लईए, उजड़ जाए जहान ते जग्ग सारा ।
हत्थों जूआं दे जुल्ल जे सुट्ट वेचन, कीकूं कट्टीए पोह ते माघ सारा ।
तेरे भाई दी भैन नूं खड़े जोगी, हत्थ लाए मैनूं कई होस कारा ।
मेरी भंग झाड़े उहदी टंग भन्नां, स्याल साड़ सुट्टन उहदा देस सारा ।
मैनूं छड्ड के तुध नूं करे सैदा, आख कवारीए पायउ तूं केहा आड़ा ।
वारिस खोह के चूंडियां तेरियां नूं, करां ख़ूब पैज़ार दे नाल झाड़ा ।

(जुल्ल=जुल्ली, होस=होवेगा, भंग झाड़े=मैनूं कुट्टे, आड़ा=झगड़ा, पैज़ार=
जुत्ती, झाड़ा करना=भूत लाहुने)

447. सहती

कज्जल पूछल्यालड़ा घत नैणीं, ज़ुलफां कुंडलां दार बणावनी हैं ।
नीवियां पट्टियां हिक पलमा ज़ुलफां, छल्ले घत के रंग वटावनी हैं ।
अते आशकां नूं दिखलावनी हैं, नत्थ वेहड़े दे विच्च छणकावनी हैं ।
बांकी भख रही चोली बाफ़ते दी, उते कहर दियां अल्लियां लावनी हैं ।
ठोडी गल्ल्ह ते पायके ख़ाल ख़ूनी, राह जांदड़े मिरग फहावनी हैं ।
किन्हां नखर्यां नाल भरमावनी हैं, अखीं पा सुरमा मटकावनी हैं ।
मल वट्टणां लोड़्ह दन्दासड़े दा, ज़री बादला पट हंढावनी हैं ।
तेड़ चूड़ियां पा के कहर वाला, कुंजां घत के लावना लावनी हैं ।
नवां वेस ते वेस बणावनी हैं, लएं फेरियां ते घुमकावनी हैं ।
नाल हुसन गुमान दे पलंघ बह के, हूर परी दी भैन सदावनी हैं ।
पैर नाल चवाय दे चावनी हैं, लाड नाल गहने छनकावनी हैं ।
सरदार हैं ख़ूबां दे त्रिंञणां दी, ख़ातर तले ना किसे ल्यावनी हैं ।
वेख होरनां नक्क चड़्हावनी हैं, बैठी पलंघ ते तूतीए लावनी हैं ।
महन्दी लाय हत्थीं पहन ज़री ज़ेवर, सोइन मिरग दी शान गवावनी हैं ।
पर असीं भी नहीं हां घट तैथों, जे तूं आप नूं छैल सदावनी हैं ।
साडे चन्न सरीर मथैलियां दे, सानूं चूहड़ी ही नज़र आवनी हैं ।
नाढू शाह दी रन्न हो पलंघ बह के, साडे जीऊ नूं ज़रा ना भावनी हैं ।
तेरा कंम ना कोई वगाड़्या मैं, ऐवें जोगी दी टंग भनावनी हैं ।
सने जोगी दे मार के मिझ कढ्ढूं, जैंदी चावड़ां पई दखावनी हैं ।
तेरा यार जानी असां ना भावे, हुने होर की मूंहों अखावनी हैं ।
सभ्भा अड़तने पड़तने पाड़ सुट्टूं, ऐवें शेखियां पई जगावनी हैं ।
वेख जोगी नूं मार खदेड़ कढ्ढां, वेखां ओसनूं आइ छुडावनी हैं ।
तेरे नाल जो करांगी मुलक वेखे, जेहे मेहने लूतियां लावनी हैं ।
तुद्ध चाहीदा की एस गल्ल विच्चों, वारिस शाह ते चुग़लियां लावनी हैं ।

(पूछल्यालड़ा=पूछां वाला, पलमा ज़ुलफां=ज़ुलफां खिलार के, भख
रही=चमकां मारदी, अल्लियां=किनारियां, ज़री=सुनहरी तारां वाली,
बादला=चांदी रंगा, चूड़ियां=इक्क भांत दा धारीदार कप्पड़ा, लावण=
कप्पड़े ते लग्गी कोर, ख़ातर तले ना ल्याउणा=किसे नूं कुझ्झ ना समझणा,
मथैली=मनमोहणी, अड़तने पड़तने पाड़ सुटूं=सारे भेत फोल देऊं, खदेड़
कढ्ढां=कुट कुट के भजा देना)

448. हीर

भला कवारीए सांग क्युं लावनी हैं, चिब्बे होठ क्युं पई बणावनी हैं ।
भला जीऊ क्युं भरमावनी हैं, अते जीभ क्युं पई लपकावनी हैं ।
लग्गी वस्स ते खूह विच पावनी हैं, सड़े कांद क्युं लूतियां लावनी हैं ।
ऐडी लटकनी नाल क्युं करें गल्लां, सैदे नाल निकाह पड़्हावनी हैं ।
वारिस नाल उठ जा तूं उद्धले नी, केहियां पई बुझारतां पावनी हैं ।

(चिब्बे=विंगे टेढे, कांद=अंगारी, लूती=अग्ग)

449. सहती ते रांझे दी लड़ाई

सहती नाल लौंडी हत्थीं पकड़ मोल्हे, जैंदे नाल छड़ेंदियां चावले नूं ।
गिरद आ भवियां वांग जोगणां दे, ताउ घत्त्यु ने ओस रावले नूं ।
खपर सेल्हियां तोड़ के गिरद होईआं, ढाह ल्यु ने सोहने सांवले नूं ।
अन्दर हीर नूं वाड़ के मार कुंडा, बाहर कुट्यु ने लट-बावले नूं ।
घड़ी घड़ी वलाय के वार कीता, ओहनां कुट्ट्या सी एस लाडले नूं ।
वारिस शाह मियां नाल मोल्हआं दे, ठंडा कीतो ने ओस उतावले नूं ।

(गिरद आण भवियां=आले दुआले घुंमियां,घेर ल्या, उतावला=
जोशीला, तेज़)

450. तथा

दोहां वट लंगोटड़े लए मोल्हे, कारे वेख लै मुंडियां मुन्नियां दे ।
निकल झुट्ट कीता सहती रावले ते, पासे भन्हउं ने नाल कूहणियां दे ।
जट मार मधाणियां फेह सुट्ट्या, सिर भन्न्यां नाल दधूणियां दे ।
ढो कटक हुसैन ख़ान नाल लड़्या, जिवें अबू समुन्द विच्च चूहणियां दे ।

(कटक ढो के=फ़ौज ल्या के, हुसैन खां…चूहणियां=नवाब हुसैन खां
पेशगी दी जंग अबदल समद हाकम लहौर नाल चूनियां विच्च होई सी)

451. रांझे ने सहती होरां नूं कुट्टणा

रांझा खायके मार फिर गरम होया, मारू मार्या भूत फ़तूर दे ने ।
वेख परी दे नाल ख़म मार्या ई एस फ़रेशते बैत माअमूर दे ने ।
कमर बन्न्ह के पीर नूं याद कीता लाई थापना मलक हज़ूर दे ने ।
डेरा बखशी दा मार के लुट्ट लीता, पाई फ़तह पठान कसूर दे ने ।
जदों नाल टकोर दे गरम होया, दित्ता दुखड़ा घाउ नासूर दे ने ।
वारिस शाह जां अन्दरों गरम होया, लाटां कढ्ढियां ताउ तनूर दे ने ।

(मारू=ऐलाने जंग दा नगारा, ख़म मार्या=थापी मारी, बैत माअमूर=
ख़ाना काअबा, फ़तूर दा भूत=फसाद दा शैतान)

452. रांझे ने स्ट्टां मारनियां

दोवें मार सवारियां रावले ने, पंज सत्त फाहुड़ियां लाईआं सू ।
गल्लां पुट्ट के चोलियां करे लीरां, हिक्कां भन्न के लाल कराईआं सू ।
नाले तोड़ झंझोड़ के पकड़ गुत्तों, दोवें वेहड़े दे विच्च भवाईआं सू ।
खोह चूंडियां गल्ल्हां ते मार हुज्जां, दो दो धौन दे मुढ्ढ टिकाईआं सू ।
जेहा रिछ कलन्दरां घोल पौंदा, सोटे चुतड़ीं ला नचाईआं सू ।
गिट्टे लक्क ठकोर के पकड़ तग्गों, दोवें बांदरी वांग टपाईआं सू ।
जोगी वासते रब दे लड़े नाहीं, हीर अन्दरों आख छुडाईआं सू ।

453. होर कुड़ियां दा सहती कोल आउणा

ओहनां छुटदियां हाल पुकार कीती, पंज सत्त मुशटंडियां आ गईआं ।
वांग काबली कुत्त्यां गिरद होईआं, दो दो अली-उल-हसाब टिका गईआं ।
उहनूं इक्क ने धक्क के रक्ख अग्गे, घरों कढ्ढ के ताक चड़्हा गईआं ।
बाज़ तोड़ के तुआम्युं लाहउ ने, माशूक दी दीद हटा गईआं ।
धक्का दे के स्ट्ट पलट्ट उस नूं, होड़ा वड्डा मज़बूत फहा गईआं ।
सूबेदार तग़ईयर कर कढ्ढ्यु ने, वड्डा जोगी नूं वायदा पा गईआं ।
अग्गे वैर सी नवां फिर होर होया, वेख भड़कदी ते भड़का गईआं ।
घरों कढ्ढ अरूड़ी ते स्ट्ट्यु ने, बहशतों कढ्ढ के दोज़ख़े पा गईआं ।
जोगी मसत हैरान हो दंग रहआ, कोई जादूड़ा घोल पिवा गईआं ।
अग्गे ठूठे नूं झूरदा ख़फ़ा हुन्दा, उतों नवां पसार बना गईआं ।
वारिस शाह मियां नवां सेहर होया, परियां जिन्न फ़रिशते नूं ला गईआं ।

(ताक चड़्हा गईआं=बन्द कर गईआं, तुअमा=बाज़ नूं शिकार लई त्यार
करन वासते उहदे मूंह नूं लायआ मास, फहा गईआं=फसा जां अड़ा गईआं,
तग़ईअर=बदल के, वायदा=मुशकिल,समस्स्या, अरूड़ी=ढेर, सेहर=जादू)

454. कवी

घरों कढ्ढ्या अकल शऊर गया, आदम जन्नतो कढ्ढ हैरान कीता ।
सिजदे वासते अरश तों दे धक्के, जिवें रब ने रद्द शैतान कीता ।
शद्दाद बहशत थीं रहआ बाहर, नमरूद मच्छर परेशान कीता ।
वारिस शाह हैरान हो रहआ जोगी, जिवें नूह हैरान तूफ़ान कीता ।

(अकल शऊर ग्या=मत मारी गई, रद कर दित्ता=नापसन्द कर
दित्ता, शद्दाद=आद कौम दा इक्क बादशाह, नमरूद=हज़रत मूसा दे
समें दा बादशाह इस ने वी रब्ब होन दा दाअवा कीता सी ।इस ने
इबराहीम नूं अग्ग विच्च सुट्ट्या पर अग्ग रब दे हुकम नाल गुलज़ार
बन गई । इक्क मच्छर दे नास विच्च वड़ जान नाल इहदी मौत होई)

455. रांझा आपने आप नाल

हीर चुप बैठी असीं कुट कढ्ढे, साडा वाह प्या नाल डोर्यां दे ।
उह वेलड़ा हत्थ ना आंवदा है, लोक दे रहे लख ढंडोर्यां दे ।
इक्क रन्न गई दूआ आउन ग्या, लोक साड़दे नाल नेहोर्यां दे ।
नूंहां राज्यां ते रन्नां डाढ्यां दियां, कीकूं हत्थ आवन नाल ज़ोर्यां दे ।
असां मंग्या उन्हां नां ख़ैर कीता, मैनूं मार्या नाल फहौड़्यां दे ।
वारिस ज़ोर ज़र ज़ारियां यारियां दे, साए ज़रां ते ना कमज़ोर्या दे ।

(डोरा=बोला,जेहनूं उच्चा सुणे, ज़ोरी=ताकत)

456. रांझा दुखी हो के

धूंआं हूंझदा रोइके ढाह मारे, रब्बा मेल के यार विछोड़्यु क्युं ।
मेरा रड़े जहाज़ सी आण लग्गा, बन्ने लायके फेर मुड़ बोड़्यु क्युं ।
कोई असां थीं वड्डा गुनाह होया, साथ फ़ज़ल दा लद्द के मोड़्यु क्युं ।
वारिस शाह इबादतां छड के ते, दिल नाल शैतान दे जोड़्यु क्युं ।

(ढाह=धाह)

457. तथा

मैनूं रब बाझों नहीं तांघ काई, सभ डंडियां ग़मां ने मल्लियां ने ।
सारे देश ते मुलक दी सांझ चुक्की, साडियां किसमतां जंगलीं चल्लियां ने ।
जित्थे शींह बुक्कन शूकन नाग काले, बघ्याड़ घत्तन नित जल्लियां ने ।
चिल्ला कट के पड़्हां कलाम डाहढी, तेगां वज्जियां आण अवल्लियां ने ।
कीतियां मेहनतां वारिसा दुख झागे, रातां जांदियां नहीं निचल्लियां ने ।

(तांघ=खाहश,अरमान, जल्लियां घत्तण=चांभड़ां पाउंदे)

458. रांझे नूं पीर याद आए

रोंदा कासनूं बीर बैतालिया वे, पंजां पीरां दा तुध मिलाप मियां ।
ला ज़ोर ललकार तूं पीर पंजे, तेरा दूर होवे दुख ताप मियां ।
जिन्हां पीरां दा ज़ोर है तुध नूं वे, कर रात दिंह ओहनां दा जाप मियां ।
ज़ोर आपना फ़कर नूं याद आया, बालनाथ मेरा गुरू बाप मियां ।
वारिस शाह भुखा बूहे रोए बैठा, देइ उन्हां नूं वड्डा सराप मियां ।

459. रांझा आपने आप नूं कहन्दा है

करामात जगाय के सेहर फूकां, जड़्ह खेड़्यां दी मुढों पट्ट सुट्टां ।
फ़ौजदार नाहीं पकड़ कवारड़ी नूं, हत्थ पैर ते नक्क कन्न कट्ट सुट्टां ।
नाल फ़ौज नाहीं द्यां फूक अग्गां, कर मुलक नूं चौड़ चुपट्ट सुट्टां ।
'अलमातरा कैफ़ा बुदू कह्हार' पड़्ह के, नईं वहन्दियां पलक विच्च अट्ट सुटां ।
सहती हत्थ आवे पकड़ चूड़ियां थों, वांग टाट दी तपड़ी छट्ट सुटां ।
पंज पीर जे बहुड़न आण मैनूं, दुख दरद कजियड़े कट्ट स्ट्टां ।
हुकम रब दे नाल मैं काल जीभा, मगर लग्ग के दूत नूं चट्ट सुट्टां ।
जट वट ते पट ते फट बद्धे, वर देन स्याण्यां सत्त सुटां ।
पार होवे समुन्दरों हीर बैठी, बुक्कां नाल समुन्दर नूं झट्ट सुट्टां ।
वारिस शाह माशूक जे मिले ख़िलवत, सभ जीऊ दे दुख उलट्ट सुट्टां ।

(सेहर फूकां=जादू करां, अलमातरा कैफ़ा=सूरा फ़ील
जिस विच्च अबरह दे हाथियां ते अबाबीलां दे लशकर वल्लों हमले
दा वरनन है ।आबबीलां ने कंकरियां मार मार के हाथियां दा
कचूमर कढ्ढ दित्ता, बुदू कह्हार=इह इक्क जलाली अमल है जेहड़ा
वैरी उते ग़ालब आउन लई पड़्हआ जांदा है, नईं वहन्दियां=
वगदियां नदियां नूं अक्ख दे फोरे विच्च सुका के उन्हां नूं मिट्टी नाल
भर देवां, कजियड़े=कज़ीए, झट्ट सुट्टां=ख़ाली कर देवां)

हीर वारिस शाह (भाग-5)
हीर वारिस शाह (भाग-3)
 
 
 Hindi Kavita