Hindi Kavita
वारिस शाह
Waris Shah
 Hindi Kavita 

Heer Waris Shah in Hindi

हीर वारिस शाह

1. हमद

अव्वल हमद ख़ुदाय दा विरद कीजे, इशक कीता सू जग्ग दा मूल मियां ।
पहले आप है रब ने इशक कीता, माशूक है नबी रसूल मियां ।
इशक पीर फ़कीर दा मरतबा है, मरद इशक दा भला रंजूल मियां ।
खिले तिन्हां दे बाग़ कलूब अन्दर, जिन्हां कीता है इशक कबूल मियां ।

(अव्वल=सभ तों पहलां, हमद=सिफत, विरद=सिमरन,ज़िकर, मूल=जड़्ह,
बुन्याद, नबी रसूल=हज़रत मुहंमद साहब, रंजूल=रंजूर,ग़मनाक,
मरतबा=पदवी, कलूब=दिल, बाब=दरवाज़ा;
पाठ भेद: कीजे=कीचै, खिले तिन्हां दे बाग़=खुल्हे तिन्हां दे बाब)

2. रसूल दी सिफ़त

दूई नाअत रसूल मकबूल वाली, जैंदे हक्क नज़ूल लौलाक कीता ।
ख़ाकी आख के मरतबा वडा दित्ता, सभ ख़लक दे ऐब थीं पाक कीता ।
सरवर होइके औलियां अम्बियां दा, अग्गे हक्क दे आप नूं ख़ाक कीता ।
करे उम्मती उम्मती रोज़ क्यामत, खुशी छड्ड के जीउ ग़मनाक कीता ।

(नाअत=रसूल दी शान विच्च सिफत भरे शियर जां कविता,
नज़ूल=रब ने उतार्या,नाज़ल कीता, लौलाक=हदीस वल इशारा है,
''बलौलाका लमा ख़लकतुल अफलाक" भाव जे कर तूं ना हुन्दा तां मैं
आकाश पैदा ना कीते हुन्दे, हदीस=रसूल दे कहे शबदां अते कंम दी
ख़बर, ख़ाकी=मिट्टी दा बण्या, सरवर=सरदार, औलिया=वली दा
बहु-वचन,रब दे प्यारे, अम्बियां=नबी दा बहु-वचन,रब दे नायब,
हक्क=रब, उमती=उमत दा इक्कवचन,मुसलमान)

3. रसूल दे चौहां साथियां दी सिफ़त

चारे यार रसूल दे चार गौहर, सभ्भे इक्क थीं इक्क चड़्हन्दड़े ने ।
अबू बकर ते उमर, उसमान, अली, आपो आपने गुणीं सोहन्दड़े ने ।
जिन्हां सिदक यकीन तहकीक कीता, राह रब दे सीस विकन्दड़े ने ।
ज़ौक छड्ड के जिनां ने ज़ुहद कीता, वाह वाह उह रब्ब दे बन्दड़े ने ।

(गौहर=मोती, अबू बकर, उमर, उसमान अते अली इह पहले
चार ख़लीफ़े हन, खलीफ़ा=रसूल साहब वांगूं इसलाम दे रूहानी
लीडर, ज़ुहद=बन्दगी;
पाठ भेद=ज़ौक=शौक)

4. पीर दी सिफ़त

मदह पीर दी हुब दे नाल कीचै, जैंदे ख़ादमां दे विच्च पीरियां नी ।
बाझ ओस जनाब दे पार नाहीं, लख ढूंडदे फिरन फ़कीरियां नी ।
जेहड़े पीर दी मेहर मनज़ूर होए, घर तिन्हां दे पीरिया मीरियां नी ।
रोज़ हशर दे पीर दे तालिबां नूं, हत्थ सजड़े मिलणगियां चीरियां नी ।

(मदह=सिफ़त, हुब=प्यार,शरधा, रोज़ हशर=क्यामत दा दिन
जदों सारे दफन कीते मुरदे कबरां विच्चों ज्यूंदे हो के उट्ठणगे, चीरी=
परवाना, मीरी=सरदारी, तालिब=मुरीद,सच्ची तलब रक्खन वाला)

5. बाबा फरीद शकर गंज दी सिफ़त

मौदूद दा लाडला पीर चिशती, शकर-गंज मसउद भरपूर है जी ।
ख़ानदान विच्च चिशत दे कामलियत, शहर फकर दा पटन मामूर है जी ।
बाहियां कुतबां विच्च है पीर कामल, जैंदी आजज़ी ज़ुहद मनज़ूर है जी ।
शकर गंज ने आण मुकाम कीता, दुख दरद पंजाब दा दूर है जी ।

(मौदूद=खवाजा मुहंमद मौदूद चिशती, इन्हां दा मज़ार चिशत खुरासान
विच्च हरात शहर दे लागे है, मसऊद=बाबा फरीद शकर गंज दा पूरा नां
फरीदउद्दीन मसऊद सी, गुरू ग्रंथ साहब विच्च इन्हां दी बानी शामल है,
कामल=पूरा, पटण=पाक पटन, ज़िला साहीवाल जित्थे बाबा फरीद जी ने
आ के डेरा लायआ सी, मामूर=आबाद,ख़ुशहाल, कामलियत=पूरणताई;
पाठ भेद= मुकाम=मकान)

6. किस्सा हीर रांझा लिखन बारे

यारां असां नूं आण सवाल कीता, किस्सा हीर दा नवां बणाईए जी ।
एस प्रेम दी झोक दा सभ किस्सा, जीभ सुहनी नाल सुणाईए जी ।
नाल अजब बहार दे शियर कह के, रांझे हीर दा मेल कराईए जी ।
यारां नाल बह के विच मजलिसां, मज़ा हीर दे इशक दा पाईए जी ।

(झोक=डेरा पिंड, मजालसां=मजलस दा बहु-वचन,
पाठ भेद: किस्सा=इशक, जीभ सुहणी=ढब सुहणे, बहके विच मजलिसां=
मजालसां विच्च बह के)

7. वाक कवी

हुकम मन्न के सज्जणां प्यार्यां दा, किस्सा अजब बहार दा जोड़्या ए ।
फ़िकरा जोड़ के ख़ूब दरुसत कीता, नवां फुल गुलाब दा तोड़्या ए ।
बहुत जीउ दे विच्च तदबीर करके, फ़रहाद पहाड़ नूं तोड़्या ए ।
सभ्भा वीन के ज़ेब बणाय दित्ता, जेहा इतर गुलाब नचोड़्या ए ।

(बहार=सुहणा,खुशी, दरुसत=ठीक, सही, वीन के=चुन के, ज़ेब=सुन्दर)

8. किस्से दा आरंभ, तख़त हज़ारा अते रांझे बारे

केही तख़त हज़ारे दी सिफ़त कीजे, जित्थे रांझ्यां रंग मचायआ ए ।
छैल गभ्भरू, मसत अलबेलड़े नी, सुन्दर हिक्क थीं हिक्क सवायआ ए ।
वाले कोकले, मुन्दरे, मझ लुंङी, नवां ठाठ ते ठाठ चड़्हायआ ए ।
केही सिफ़त हज़ारे दी आख सकां, गोया बहशत ज़मीन ते आया ए ।

(मझ=लक्क दुआले, लुंङी=चादरा, बहशत=भिसत;
पाठ भेद:केही तख़त हज़ारे दी सिफ़त कीजे=इक्क तख़त हज़ार्युं गल्ल कीचै,
केही सिफ़त हज़ारे दी आख सकां, गोया बहशत=वारिस की हज़ारे दी
सिफ़त आखां, गोया)

9. रांझे दा बाप

मौजू चौधरी पिंड दी पांध वाला, चंगा भाईआं दा सरदार आहा ।
अट्ठ पुत्तर दो बेटियां तिस दियां सन, वड्ड-टब्बरा ते शाहूकार आहा ।
भली भाईआं विच्च परतीत उसदी, मन्न्या चौंतरे 'ते सरकार आहा ।
वारिस शाह इह कुदरतां रब दियां नी, धीदो नाल उस बहुत प्यार आहा ।

(पांध=इज़्ज़त,पुछ गिछ वाला, दरब=दौलत, चौंतरा=चबूतरा,
पाठ भेद: वड्ड-टब्बरा ते शाहूकार=दरब ते माल परवार)

10. रांझे नाल भाईआं दा साड़ा

बाप करे प्यार ते वैर भाई, डर बाप दे थीं पए संगदे ने ।
गुझे मेहने मार दे सप्प वांङूं, उस दे कालजे नूं पए डंगदे ने ।
कोई वस्स ना चल्ले जो कढ्ढ छडन, देंदे मेहने रंग बरंग दे ने ।
वारिस शाह इह गरज़ है बहुत प्यारी, होर साक न सैन ना अंग दे ने ।

(सैन=रिशतेदार,सबंधी;
पाठ भेद= चल्ले जो =चल्लणे, देंदे=दे दे )

11. मौजू दी मौत

तकदीर सेती मौजू फ़ौत होया, भाई रांझे दे नाल खहेड़दे ने ।
खाएं रज्ज के घूरदा फिरें रन्नां, कढ्ढ रिक्कतां धीदो नूं छेड़दे ने ।
नित्त सज्जरा घाउ कलेजड़े दा, गल्लां त्रिक्खियां नाल उचेड़दे ने ।
भाई भाबियां वैर दियां करन गल्लां, एहा झंझट नित्त नबेड़दे ने ।

(खहेड़दे=लड़दे,खह बाज़ी करदे, रिक्कतां=मखौल, झंजट=झगड़ा,
पाठ भेद: फ़ौत=हक्क)

12. भों दी वंड

हाज़िर काज़ी ते पैंच सदाय सारे, भाईआं ज़िमीं नूं कच्छ पवाई आही ।
वढ्ढी दे के ज़िमीं लै गए चंगी, बंजर ज़िमीं रंझेटे नूं आई आही ।
कच्छां मार शरीक मज़ाख करदे, भाईआं रांझे दे बाब बणाई आही ।
गल्ल भाबियां एह बणाय छड्डी, मगर जट्ट दे फक्कड़ी लाई आही ।

(कछ पवाई=मिणती कराई, कच्छां मार=खुश हो के, बाब=बुरी हालत,
फक्कड़ी लाई=मौजू बना छड्ड्या;
पाठ भेद= ज़िमीं लै गए चंगी=भुइं दे बने वारिस)

13. भाबियां दे मेहणे

मूंह चट्ट जो आरसी नाल वेखन, तिन्हां वाहन केहा हल वाहुना ई ।
पिंडा पाल के चोपड़े पटे जिन्हां, किसे रन्न की उन्हां तों चाहुना ई ।
जेहड़ा भुइं दे मामले करे बैठा, एस तोड़ ना मूल निबाहुना ई ।
प्या वंझली वाहे ते राग गावे, कोई रोज़ दा इह प्राहुना ई ।

(आरसी=शीशा, देहें=दिन वेले;
पाठ भेद:प्या वंझली वाहे ते राग =देहें वंझली वाहे ते रात)

14. रांझे दा हल वाह के आउणा

रांझा जोतरा वाह के थक्क रहआ, लाह अरलियां छाउं नूं आंवदा ए ।
भत्ता आण के भाबी ने कोल धर्या, हाल आपना रो सुणांवदा ए ।
छाले पए ते हत्थ ते पैर फुट्टे, सानूं वाही दा कंम ना भांवदा ए ।
भाबी आखदी लाडला बाप दा सैं, वारिस शाह प्यारा ही माउं दा ए ।

15. रांझा

रांझा आखदा भाबीउ वैरनो नी, तुसां भाईआ नालों विछोड़्या जे ।
ख़ुशी रूह नूं बहुत दिलगीर कीता, तुसां फुल्ल गुलाब दा तोड़्या जे ।
सके भाईआं नालों विछोड़ मैनूं, कंडा विच्च कलेजेड़े पोड़्या जे ।
भाई जिगर ते जान सां असीं अट्ठे, वक्खो वक्ख ही चाय निखोड़्या जे ।
नाल वैर दे रिक्कतां छेड़ भाबी, सानूं मेहना होर चिमोड़्या जे ।
जदों सफ़ां हो टुरनगियां तरफ जन्नत, वारिस शाह दी वाग ना मोड़्या जे ।

(दिलगीर=उदास, पोड़्या=चुभोया, निखोड़्या=जुदा कीता, सफ़ां हो
टुरनगियां तरफ जन्नत=क्यामत वाले दिन)

16. भाबी

करें आकड़ां खाय के दुद्ध चावल, इह रज्ज के खान दियां मसतियां ने ।
आखन देवरे नाल नेहाल होईआं, सानूं सभ शरीकणियां हस्सदियां ने ।
इह रांझे दे नाल हन घ्यु-शक्कर, पर जीउ दा भेत ना दस्सदियां ने ।
रन्नां डिगदियां वेख के छैल मुंडा, जिवें शहद विच मक्खियां फसदियां ने ।
इक्क तूं कलंक हैं असां लग्गा, होर सभ सुखालियां वसदियां ने ।
घरों निकलसें ते जदों मरें भुखा, भुल जान तैनूं सभ्भे ख़रमसतियां ने ।
वारिस जिन्हां नूं आदतां भैड़ियां नी, सभ ख़लकतां उन्हां तों नसदियां ने।

(नेहाल=खुश, घ्यु शक्कर=इक्क मिक)

17. रांझा

तुसां छत्तरे मरद बना दित्ते, सप्प रस्सियां दे करो डारीउ नी ।
राजे भोज दे मूंह लगाम दे के, चड़्ह दौड़ियां हो टूने हारीउ नी ।
कैरो पांडवां दी सफ़ा गाल सुट्टी, ज़रा गल्ल दे नाल बुर्यार्यु नी ।
रावन लंक लुटायके ग़रक होया, कारन तुसां दे ही हैंस्यारीउ नी ।

(तुसां छतरे मरद=कहन्दे हन कि जदों राजा रसालू आपदे तोते नूं
नाल लै के रानी कोकलां नूं व्याहुन ग्या तां रसते विच्च इक्क शहर
विच्चों लंघ्या तां इक्क जादूगर इसतरी ने उहनूं घोड़े तों थल्ले सुट्ट
ल्या । उस पिच्छों इक्क मंतर पड़्हआ अते राजे दे सिर विच्च इक्क
सूई चभो के उस नूं छतरा बना दित्ता । राजे दा तोता परेशानी विच्च
राजे दे भाई पूरन भगत कोल ग्या अते सारी गल्ल दस्सी । पूरन
भगत आपने गुरू कोलों आग्या लै के ओथे पुज्जा । उहने सारियां
जादूगरनियां इकट्ठियां करके पुछ गिछ कीती । अखीर इक्क
जादूगरनी मन्न गई । उहने छतरा ल्या के पेश कीता । पूरन
भगत दे हुकम नाल छतरे दे सिर विच्चों सूई कढ्ढ के उहनूं फेर
मनुक्खी रूप विच्च ल्यांदा, गरद होया=मिट्टी हो गया;
पाठ भेद: कारन तुसां दे ही हैंस्यारीउ=वारिस शाह फ़कीर दीयो मारीउ)

18. भाबी

भाबी आखदी गुंड्या मुंड्या वे, साडे नाल की रिक्कतां चाईआं नी ।
वली जेठ ते जिन्हां दे फ़तू देवर, डुब्ब मोईआं उह भरजाईआं नी ।
घरो घरी विचारदे लोक सारे, सानूं केहियां फाहियां पाईआं नी ।
तेरी गल्ल ना बणेगी नाल साडे, जा परना ल्या स्यालां दियां जाईआं नी ।

(परना ल्या=व्याह ल्या)

19. रांझा

मूंह बुरा दिसन्दड़ा भाबीए नी, सड़े होए पतंग क्युं साड़नी एं।
तेरे गोचरा कंम की प्या मेरा, सानूं बोलियां नाल क्युं मारनी एं।
कोठे चाड़्ह के पौड़ियां लाह लैंदी, केहे कलह दे महल उसारनी एं।
वारिश शाह दे नाल सरदारनी तूं, पर पेक्यां वल्लों गवारनी एं।

(कलह=फरेब, पेक्या वलों गवारनी=गंवारां दी धी;
पाठ भेद: पतंग=फ़कीर, कोठे=उत्ते, सरदारनी तूं=की प्या तैनूं)

20. भाबी

सिद्धा होइ के रोटियां खाह जट्टा, अड़ियां कास नूं एडियां चाईआं नी ।
तेरी पनघटां दे उत्ते पेउ पेई, धुंमां त्रिंञणां दे विच्च पाईआं नी ।
घर-बार विसार के ख़वार होईआं, झोकां प्रेम दियां जिन्हां ने लाईआं नी ।
ज़ुलफां कालियां कुंढियां नाग़ काले, जोकां हिक ते आण बहाईआं नी ।
वारिस शाह एह जिन्हां दे चन्न देवर, घोल घत्तियां सभ भरजाईआं नी ।

(पेउ पेई=रौला, चरचा, घोल घत्तियां=कुरबान होईआं)

21. भाबी

अठखेल्या अहल दीवान्यां वे, थुक्कां मोढ्यां दे उत्तों स्ट्टना एं ।
चीरा बन्न्ह के भिन्नड़े वाल चोपड़, विच्च त्रिंञणां फेरियां घत्तना एं ।
रोटी खांद्यां लून जे पवे थोड़्हा, चा अंङने विच्च पलट्टना एं ।
कंम करें नाहीं हच्छा खाएं पहनें, जड़्ह आपने आप दी पट्टना एं ।

(चीरा=पगड़ी;
पाठ भेद: भिन्नड़े=भम्बले,भम्बड़े, जड़्ह आपने आप दी=वारिस शाह क्युं आप नूं)

22. रांझा

भुल गए हां वड़े हां आण वेहड़े सानूं बख़श लै डारीए वासता ई ।
हत्थों तेर्युं देस मैं छड्ड जासां, रख घर हैंस्यारीए वासता ई ।
देहें रात तैं ज़ुलम ते लक्क बद्धा, अनी रूप शिंगारीए वासता ई ।
नाल हुसन दे फिरें गुमान लद्दी, समझ मसत हंकारीए वासता ई ।
जदे जिसे दे नाल ना गल्ल करें, किबर वालीए मारीए वासता ई ।
वारिस शाह नूं मार ना भाग भरीए, अनी मुनस प्यारीए वासता ई ।

(भाग भरीए=सुभागन, जीत सिंघ सीतल अनुसार 'रचना दुआब विच्च
हर व्यांहदड़ नूं भाग भरी कह के बुलाउंदे हन । पर कई लोकीं
दन्द कथा करदे हन कि भाग भरी वारिस शाह दी महबूबा सी अते
उह 'हीर' लिखवाउन दा इक्क कारन सी, मुणस=मालक,पती)

23. भाबी

साडा हुसन पसन्द ना ल्यावना एं, जा हीर स्याल व्याह ल्यावीं ।
वाह वंझली प्रेम दी घत जाली, काई नढ्ढी स्यालां दी फाह ल्यावीं ।
तैंथे वल्ल है रन्नां विलावणें दा, रानी कोकलां महल तों लाह ल्यावीं ।
दिनें बूहउं कढ्ढणीं मिले नाहीं, रातीं कंध पिछवाड़्युं ढाह ल्यावीं ।
वारिस शाह नूं नाल लै जाय के ते, जेहड़ा दाउ लग्गे सोई ला ल्यावीं ।

(वल=तरीका, ढंग, विलावणा=खिसकाउणा,फसाउना)

24. रांझा

नढ्ढी स्यालां दी व्याह ल्यावसां मैं, करो बोलियां क्युं ठठोलियां नी ।
बहे घत्त पीड़्हा वांग महरियां दे, होवन तुसां जेहियां अग्गे गोलियां नी ।
मझ्झु वाह विच्च बोड़ीए भाबियां नूं, होवन तुसां जेहियां बड़बोलियां नी ।
बस करो भाबी असीं रज्ज रहे, भर दित्तियां जे तुसां झोलियां नी ।

(ठठोली=ठट्ठा,मखौल, महरियां=सवाणियां,गोली=नौकराणी,मझ्झु वाह=
मंझधार,नदी दे विचाले, बोड़ीए=डोबीए;
पाठ भेद: बस करो भाबी असीं=वारिस बस करीं)

25. भाबी अते रांझा

केहा भेड़ मचायउ ई कच्च्या वे, मत्था डाहउ सौंकणां वांङ केहा ।
जाह सज्जरा कंम गवा नाहीं, होइ जासिया जोबना फेर बेहा ।
रांझे खा गुस्सा सिर धौल मारी, केही चम्बड़ी आण तूं वांङ लेहा ।
तुसीं देस रक्खो असीं छड्ड चल्ले, लाह झगड़ा भाबीए गल्ल एहा ।
हथ पकड़ के जुत्तियां मार बुक्कल, रांझा होइ टुर्या वारिस शाह जेहा ।

(मत्था डाहुणा=झगड़ा करना;
पाठ भेद: कच्च्या=लुच्या, डाहउ=लायओ,)

26. रांझे दे घरों जान दी भरावां नूं ख़बर मिलणी

ख़बर भाईआं नूं लोकां जाय दित्ती, धीदो रुस्स हज़ार्युं चल्या जे ।
हल वाहुना ओस तों होए नाहीं, मार बोलियां भाबियां सल्ल्या जे ।
पकड़ राह टुर्या, हंझू नैन रोवन, जिवें नदी दा नीर उछल्ल्या जे ।
वारिस शाह अग्गों वीर दे वासते भाईआं ने, अधवाट्यु राह जा मल्ल्या जे ।

(सल्ल्या=विन्हआ, मंझो नैन रोवन=नदी वांगूं हंझू वगदे हन;
पाठ भेद:रुस्स=उठ, हंझू=मंझो)

27. वाक कवी

रूह छड्ड कलबूत ज्युं विदाय हुन्दा, तिवें एह दरवेश सिधार्या ई ।
अन्न पानी हज़ारे दा कसम करके, कसद झंग स्याल चितार्या ई ।
कीता रिज़क ने आण उदास रांझा, चलो चली ही जीउ पुकार्या ई ।
कच्छे वंझली मार के रवां होया, वारिस शाह ने वतन विसार्या ई ।

(कलबूत=सरीर, कसद=इरादा, चितार्या=धार्या, रवां होया=
तुर प्या)

28. रांझे दे भरा

आख रांझ्या भा की बनी तेरे, देस आपना छड्ड सिधार नाहीं ।
वीरा अम्बड़ी जायआ जाह नाहीं, सानूं नाल फ़िराक दे मार नाहीं ।
एह बांदियां ते असीं वीर तेरे, कोई होर विचार विचार नाहीं ।
बख़श इह गुनाह तूं भाबियां नूं, कौन जंम्या जो गुनाहगार नाहीं ।
भाईआं बाझ ना मजलसां सोंहदियां ने, अते भाईआं बाझ बहार नाहीं ।
भाई मरन ते पैंदियां भज बाहां, बिनां भाईआं पर्हे परवार नाहीं ।
लक्ख ओट है कोल वसेंद्यां दी, भाईआं ग्यां जेडी कोई हार नाहीं ।
भाई ढांवदे भाई उसारदे ने, भाईआं बाझ बाहां बेली यार नाहीं ।

(फ़िराक=विछोड़ा,जुदाई, बांदी=गोली, पर्हा=सत्थ,पंचायत, ओट=
आसरा,पनाह;
पाठ भेद: कोल वसेंद्यां=भाईआं वसद्यां, ग्यां जेडी कोई=जींवद्यां
दे काई, भाईआं बाझ बाहां=वारिस भाईआं बाझों)

29. रांझा

रांझे आख्या उठ्या रिज़क मेरा, मैथों भाईयो तुसीं की मंगदे हो ।
सांभ ल्या जे बाप दा मिलख सारा, तुसीं साक ना सैन ना अंग दे हो ।
वस लग्गे तां मनसूर वांङूं, मैनूं चाय सूली उते टंगदे हो ।
विच्चों ख़ुशी हो असां दे निकलने 'ते, मूंहों आखदे गल्ल क्युं संगदे हो ।

(रिज़क=अन्न पाणी, मनसूर (हल्लाज)=इक्क रब दा प्यारा फ़कीर,
इबन-इ-खुलकान ने आपनी तारीख विच्च इस दा नां हुसैन पुत्तर
मनसूर लिख्या है ।इह रूं पिंजन वाला पेंजा सी इस लई इहनूं
'हल्लाज' दे नां नाल वी याद कीता जांदा है ।ईरान दे शहर 'बैज़ा'
विच्च पैदा होया । काफी पड़्हआ लिख्या सूझवान सी । तुरदा
फिरदा 'अनलहक्क' भाव 'मैं रब हां' दे नाहरे लाउंदा सी ।मुलायणआं
ने खलीफा मकतदिर ते ज़ोर पा के 30 मारच 922 नूं इहनूं सूली ते
चड़्हा दित्ता । उह मनसूर नूं काफर कहन्दे सन । दो प्रसिद्ध शायर
मौलामा रूमी अते जनाब अत्तार मनसूर नूं वली अल्ला ख्याल करदे
हन ।मनसूर ने चार दरजन किताबां लिखियां सन । मशहूर सूफी
साईं बुल्ल्हे शाह आपणियां काफियां विच्च मनसूर नूं बड़े आदर
नाल याद करदा है)

30. भाबियां

भरजाईआं आख्या रांझ्या वे, असीं बांदियां तेरियां हुन्नियां हां ।
नाउं ल्या है जदों तूं जावने दा, असीं हंझूआं रत्त दियां रुन्नियां हां ।
जान माल कुरबान है तुध उतों, अते आप वी चोखने हुन्नियां हां ।
सानूं सबर करार ना आंवदा है, वारिस शाह थों जदों विछुन्नियां हां ।

(मुन्नियां=चेलियां बणियां, हंझरा=हंझू;
पाठ भेद: हुन्नियां=मुन्नियां, हंझूआं=हंझरों, वारिस शाह थों जदों=जिस
वेलड़े तैथों)

31. रांझा

भाबी रिज़क उदास जां हो टुर्या, हुन कास नूं घेर के ठगदियां हो ।
पहलां साड़ के जीऊ निमानड़े दा, पिच्छों मल्हमां लावने लगदियां हो ।
भाई साक सन सो तुसां वक्ख कीते, तुसीं साक की साडियां लगदियां हो ।
असीं कोझड़े रूप करूप वाले, तुसीं जोबने दिया नईं वगदियां हो ।
असां आब ते तुआम हराम कीता, तुसीं ठगणियां सारड़े जग्गदियां हो ।
वारिश शाह इकल्लड़े की करना, तुसीं सत इकट्ठियां वगदियां हो ।

(तुआम=खाणा;
पाठ भेद: घेर के ठगदियां=खलियां हटकदियां, इकल्लड़े की करना=
इकल्लड़ा की करसी)

32. रांझे दा मसीत विच्च पुज्जणा

वाह लाय रहे भाई भाबियां भी, रांझा रुठ हज़ार्युं धायआ ए ।
भुख नंग नूं झाग के पंध करके, रातीं विच्च मसीत दे आया ए ।
हथ वंझली पकड़ के रात अद्धी, रांझे मज़ा भी ख़ूब बणायआ ए ।
रन्न मरद ना पिंड विच्च रहआ कोई, सभा गिरद मसीत दे आया ए ।
वारिस शाह मियां पंड झगड़्यां दी, पिच्छों मुल्लां मसीत दा आया ए ।

33. मसीत दी सिफ़त

मसजिद बैतुल-अतीक मिसाल आही, ख़ाना काअब्युं डौल उतार्या ने ।
गोया अकसा दे नाल दी भैन दूई, शायद सन्दली नूर उसार्या ने ।
पड़्हन फाज़िल दरस दरवेश मुफती, ख़ूब कढ्ढी इलहानि-पुरकार्या ने ।
ताअलील मीज़ान ते सरफ वाही, सरफ़ मीर भी याद पुकार्या ने ।
काज़ी कुतब ते कनज़ अनवाह चौदां, मसऊदियां जिलद सवार्या ने ।
ख़ानी नाल मजमूआ सुलतानियां दे, अते हैरतुल-फिका नवार्या ने ।
फ़तव बरहना मनज़ूम शाहां, नाल ज़बदियां हिफ़ज़ करार्या ने ।
मारज़ुल नबुवतां अते फ़लास्यां तों, रौज़े नाल इख़लास पसार्या ने ।
ज़र्रादियां दे नाल शर्हा मुल्लां, ज़िनजानियां नहव नतार्या ने ।
करन हिफज़ कुरान तफ़सीर दौरां, ग़ैर शर्हा नूं दुर्र्यां मार्या ने ।

(बैतुल-अतीक=काअबा, डौल=शकल,नकशा, मिसाल=उहदे वरगा,
ख़ाना काअबा=मक्का शरीफ़, अकसा=यहूदियां दी पवित्तर मसजिद
जेहनूं 'बैतुल मुकद्दस' वी कहन्दे हन, दरस=सबक,पाठ, मुफती=
फतवा देन वाला,काज़ी, इलहान=सुरीली आवाज़, कारी=कुरान दी
तलावत करन वाले, ताअलील,मीज़ान=किताबां दे नांउ हन)

34. बच्चे जो पड़्हदे हन

इक्क नज़म दे दरस हरकरन पड़्हदे, नाम हक्क अते ख़ालिक बारियां ने ।
गुलिसतां बोसतां नाल बहार-दानिश, तूतीनाम्युं वाहद-बारियां ने ।
मुनशात नसाब ते अब्बुलफ़ज़लां, शाहनाम्युं राज़क-बारियां ने ।
किरानुल सादैन दीवान हाफिज़, शीरीं ख़ुसरवां लिख सवारियां ने ।

(हरकरन, खालकबारी=पड़्हाईआं जान वालियां किताबां दे नां;
पाठ भेद: शीरीं ख़ुसरवां=वारि शाह ने)

35. बच्च्यां दा पड़्हना

कलमदान दफ़तैन दवात पट्टी, नावें एमली वेखदे लड़क्यां दे ।
लिखन नाल मसौदे स्याक ख़सरे, स्याे अवारज़े लिखदे वरक्यां दे ।
इक्क भुल के ऐन दा ग़ैन वाचन, मुल्लां जिन्द कढ्ढे नाल कड़क्यां दे ।
इक्क आंवदे शौक जुज़दान लै के, विच्च मकतबां दे नाल तड़क्यां दे ।

(दफतैन=फाईल, नांवें=नावां दा लिखणा, एमली=इमला,खुशख़त
लिखाई, मसौदे=कच्ची लिखाई, हत्थीं लिखी किताब जेहड़ी छापण
लई त्यार कीती गई होवे, स्याक=हसाब दे कायदे, खसरा=
पिंड दे खेतां दी सूची, अवारज़े=बहु-वचन 'अवारज़ा' दा,वही खाता,
हसाब किताब, जुज़दान=बसता;
पाठ भेद:विच्च मकतबां दे नाल=वारिस शाह होरीं)

36. मुल्लां ते रांझे दे सवाल-जवाब

मुल्लां आख्या चूनियांचूंड्यां देखद्यां ई ग़ैर शर्हा तूं कौन हैं दूर हो ओए ।
एथे लुच्यां दी काई जा नाहीं ,पटे दूर कर हक्क मनज़ूर हो ओए ।
अनलहक्क कहावना किबर करके, ओड़क मरेंगा वांङ मनसूर हो ओए ।
वारिस शाह ना हिंग दी बास छुपदी, भावें रसमसी विच्च काफ़ूर हो ओए ।

(चूंड्यां, चूनियां=कुआरे मुंडे दे मत्थे दे वाल, किबर=हंकार, रसमसी=
मिली होई,रली होई;
पाठ भेद: चूंड्यां=चूनियां, ओए=वे)

37. रांझा

दाड़्ही शेख़ दी अमल शैतान वाले, केहा राण्यो जांद्यां राहियां नूं ।
अग्गे कढ कुरान ते बहे मिम्बर ,केहा अड्यो मकर दियां फाहियां नूं ।
एह पलीत ते पाक दा करो वाकिफ़, असीं जाणीएं शर्हा गवाहियां नूं ।
जेहड़े थांयों नापाक दे विच्च वड़्यों, शुकर रब दियां बेपरवाहियां नूं ।
वारिस शाह विच्च हुजर्यां फ़िअल करदे, मुल्ला जोतरे लांवदे वाहिया नूं ।

(राण्यो=पैरां थल्ले मिधणा, मिम्बर=मसीत विच्च उच्ची थां जित्थे चड़्ह के
इमाम अवाज़ करदा है, पाक=साफ़, नापाक=जेहड़ा पाक नहीं,गन्दा,
हुजरा=मसीत दा अन्दरला कमरा, फ़िअल=कारे)

38. मुल्लां

घर रब दे मसजिदां हुन्दियां ने, एथे ग़ैर शर्हा नाहीं वाड़ीए ओए ।
कुत्ता अते फ़कीर पलीत होवे, नाल दुर्र्यां बन्न्ह के मारीए ओए ।
तारक हो सलात दा पटे रक्खे, लब्बां वाल्यां मार पछाड़ईए ओए ।
नीवां कपड़ा होवे तां पाड़ सुट्टीए, लब्बां होन दराज़ तां साड़ीए ओए ।
जेहड़ा फ़िका असूल दा नहीं वाकिफ़, उहनूं तुरत सूली उत्ते चाड़्हीए ओए ।
वारिस शाह ख़ुदा द्यां दुशमणां नूं, दूरों कुत्त्यां वांग दुरकारीए ओए ।

(दुर्रे=कोरड़े,कोड़े, तारक=त्यागी, सलात=नमाज़, लबां=शर्हा दे
उलट उप्परले बुल्ह दे वाल, दराज़=लम्बे, फ़िका=इसलामी कानून्न)

39. रांझा

सानूं दस्स नमाज़ है कासदी जी, कास नाल बणाय के सारिया ने ।
कन्न नक नमाज़ दे हैन कितने, मत्थे किन्हां दे धुरों इह मारिया ने ।
लम्बे कद्द चौड़ी किस हान दी है, किस चीज़ दे नाल सवारिया ने ।
वारिस किल्लियां कितनियां उस दियां ने, जिस नाल इह बन्न्ह उतारिया ने ।

(कास=किस, हाण=थां किस थां पड़्ही जांदी है, किल्लियां=मलाह दियां
उह कीलियां जां किल्ले जिन्हां नाल उह किशती बन्न्हदे हन, नक्क कन्न=नमाज़
दे नक कन्न, इमाम ग़ज़ाली दी पुसतक 'अज़कार व तसबीहात' दे पहले
नमाज़ दे नक्क अते कन्नां दा वरनन मिलदा है)

40. मुल्लां

असां फ़िक्का असूल नूं सही कीता, ग़ैर शर्हा मरदूद नूं मारने आं ।
असां दस्सने कंम इबादतां दे पुल सरात तों पार उतारने आं ।
फरज़ सुन्नतां वाजबां नफल वितरां, नाल जायज़ा सच नितारने आं ।
वारिस शाह जमायत दे तारकां नूं, ताज़्यान्यां दुर्र्यां मारने आं ।

(मरदूद=रद्द कीता ग्या, पुल सरात=इसलाम अनुसार दोज़ख़
अते बहशत दे विचकार इक्क तंग अते तलवार नालों वी तिक्खा पुल,
फरज़=शर्हा दे अनुसार उह सारे अंग जेहड़े कप्पड़े नाल ढकने ज़रूरी
हन, आदमी लई धुन्नी तों गोडे तक्क सरीर दा हिस्सा ढकना ज़रूरी है,
इबादतां=भजन,बन्दगी, सुन्नतां=राह, दसतूर,खतना, वाजबां=जायज़,
नफल=उह इबादत जेहड़ी फरज़ ना होवे, वित्तर=तिन्न रिक्कतां जेहड़ियां
इशा दी नमाज़ विच्च पड़्हियां जांदियां हन, रिक्कत=नमाज़ दा इक्क हिस्सा
खड़्हे होन तों बैठन तक्क, ताज़्याना,दुर्रा=कोरड़ा)

41. रांझा

बास हलव्यां दी ख़बर मुरद्यां दी नाल दुआई दे जींवदे मारदे हो ।
अन्न्हे कोड़्हआं लूल्यां वांग बैठे, कुर्हा मरन जमान दा मारदे हो ।
शर्हा चाय सरपोश बणायआ जे, रवादार वड्डे गुन्हागार दे हो ।
वारस शाह मुसाफरां आयां नूं, चल्लो चली ही पए पुकारदे हो ।

(बास=महक कुर्हा मारना=पासा सुट्टणा,फाल कढ्ढणां, सरपोश=
परदा,ढक्कन, रवादार=किसे कंम नूं जायज़ दस्सन वाला)

42. मुल्लां

मुल्लां आख्या नामाकूल जट्टा, फ़ज़र कट्ट के रात गुज़ार जाईं ।
फ़ज़र हुन्दी थों अग्गे ही उठ एथों, सिर कज्ज के मसजदों निकल जाईं ।
घर रब्ब दे नाल ना बन्न्ह झेड़ा, अज़ग़ैब दियां हुजत्तां ना उठाईं ।
वारिस शाह ख़ुदा दे ख़ान्यां नूं, इह मुल्ला भी चम्बड़े हैन बलाईं ।

(नामाकूल=बेसमझ,मूरख, फ़ज़र=सवेर, ख़ाना= घर,मसीत,
अज़ग़ैबदियां हुज्जतां=उह गल्लां जेहड़ियां किसे ने ना कीतियां होन)

43. रांझे दा मसीतों जाणां अते नदी ते पुज्जणा

चिड़ी चूहकदी नाल जां टुरे पांधी, पईआं दुध दे विच्च मधाणियां नी ।
उठ ग़ुसल दे वासते जा पहुते, सेजां रात नूं जिन्हां ने माणियां नी ।
रांझे कूच कीता आया नदी उते, साथ लद्द्या पार मुहाण्यां ने ।
वारिस शाह मियां लुड्डन वडा कुप्पन, कुप्पा शहद दा लद्द्या बाणियां ने ।

(ग़ुसल=इशनान, मुहाणे=मांझी,मलाह)

44. रांझा मलाह दे तरले करदा है

रांझे आख्या पर लंघा मियां, मैनूं चाड़्ह लै रब्ब दे वासते ते ।
हथ जोड़ के मिन्नता करे रांझा, तरला करां मैं झब्ब दे वासते ते ।
तुसीं चाड़्ह लवो मैनूं विच बेड़ी, चप्पू धिकसां दब्ब दे वासते ते ।
रुस्स आया हां नाल भाबियां दे, मिन्नतां करां सबब्ब दे वासते ते ।

(झब=छेती,जलदी)

45. मलाह

पैसा खोल्ह के हत्थ जो धरे मेरे, गोदी चाय के पार उतारना हां ।
अते ढेक्या ! मुफ़त जे कन्न खाएं, चाय बेड़ीउं ज़िमीं ते मारना हां ।
जेहड़ा कप्पड़ा दए ते नकद मैनूं, सभ्भो ओस दे कंम सवारना हां ।
ज़ोरावरी जो आण के चड़्हे बेड़ी, अधवाटड़े डोब के मारना हां ।
डूमां अते फ़कीरां ते मुफ़तख़ोरां, दूरों कुत्त्यां वांग दुरकारना हां ।
वारिस शाह जेहआं पीर ज़ाद्यां नूं, मुढ्ढों बेड़ी दे विच्च ना वाड़ना हां ।

(ढेक्या=अहमका,कई वारी गाल दे तौर ते केहा जांदा है)

46. वाक कवी

रांझा मिन्नतां करके थक्क रहआ, अंत हो कंधी पर्हां जाय बैठा ।
छड अग्ग बेगानड़ी हो गोशे, प्रेम ढांडड़ी वक्ख जगाय बैठा ।
गावे सद्द फ़िराक दे नाल रोवे, उते वंझली शबद वजाय बैठा ।
जो को आदमी त्रीमतां मरद है सन, पत्तन छड्ड के ओस थे जाय बैठा ।
रन्नां लुड्डन झबेल दियां भरन मुट्ठी, पैर दोहां दी हिक टिकाय बैठा ।
गुस्सा खायके लए झबेल झईआं, अते दोहां नूं हाक बुलाय बैठा ।
पिंडा ! बाहुड़ीं जट लै जाग रन्नां, केहा शुगल है आण जगाय बैठा ।
वारिस शाह इस मोहियां मरद रन्नां, नहीं जाणदे कौन बलाय बैठा ।

(कंधी=कंढे, गोशे=इक्क नुक्करे,निवेकले, ढांडड़ी=अग्ग, हाक=आवाज़,
पिंडा बाहुड़ी=पिंड वाल्यु लोको दौड़ो अते मदद करो, लै जाग=लै जावेगा)

47. लुड्डन मलाह दा हाल पाहर्या

लुड्डन करे बकवास ज्युं आदमी नूं, यारो वसवसा आण शैतान कीता ।
देख शोर फसाद झबेल सन्दा, मीएं रांझे ने जीउ हैरान कीता ।
बन्ह सिरे ते वाल त्यार होया, तुर ठिल्ल्हने दा सम्यान कीता ।
रन्नां लुड्डन दियां देख रहम कीता, जो कुझ्झ नबी ने नाल महमान कीता ।
इहो जेहे जे आदमी हत्थ आवन, जान माल परवार कुरबान कीता ।
आउ करां हैं एस दी मिन्नत ज़ारी, वारिस कास थों दिल परेशान कीता ।

48. मलाह दियां रन्ना दा रांझे नूं तसल्ली देणा

सैईं वंझीं झनाउं दा अंत नाहीं, डुब मरेंगा ठिल्ह ना सज्जना वो ।
चाड़्ह मोढ्यां ते तैनूं असीं ठिल्ल्हां, कोई जान तों ढिल ना सज्जना वो ।
साडा अकल शऊर तूं खस्स लीता, रेहआ कुखड़ा हिल ना सज्जना वो ।
साडियां अक्खियां दे विच्च वांग धीरी, डेरा घत बहु हिल ना सज्जना वो ।
वारस शाह मियां तेरे चौखने हां, साडा कालजा सल्ल ना सज्जना वो ।

(सैंई वंझीं=झनां सौ बांसां जिन्नी डूंघी है, शऊर=सूझ समझ, खस
लीता=खोह ल्या, कुखड़ा=कुख, जान तों ढिल ना=जान वार देणी,
धीरी=पुतली, चौखने=कुरबान जांदे हां;
पाठ भेद: जान तूं)

49. मलाह दियां रन्नां ने रांझे नूं किशती विच्च चाड़्हना

दोहां बाहां तों पकड़ रंझेटड़े नूं, मुड़ आण बेड़ी विच्च चाड़्हआ ने ।
तकसीर मुआफ कर आदमे दी, मुड़ आण बहशत विच्च वाड़्या ने ।
गोया ख़ाब दे विच्च अज़ाज़ील ढट्ठा, हेठों फेर मुड़ अरश ते चाड़्हआ ने ।
वारिस शाह नूं तुरत नुहायके ते, बीवी हीर दे पलंघ ते चाड़्हआ ने ।

(तकसीर=गुनाह,कसूर, आदमे=बाबा आदम, ख़ाब=सुपना,
अज़ाज़ील=इक्क फ़रिशते दा नां, पाठ भेद:बीवी=बीबी)

50. रांझे दा पलंघ बारे पुच्छणा

यारो पलंघ केहा सुंञी सेज आही, लोकां आख्या हीर जटेटड़ी दा ।
बादशाह स्यालां दे त्रिंञणां दी, महर चूचके ख़ान दी बेटड़ी दा ।
शाह-परी पनाह नित लए जिस थों, एह थाउं उस मुशक लपेटड़ी दा ।
असीं सभ झबेल ते घाट पत्तन, सभ्भा हुकम है ओस सलेटड़ी दा ।

(मुशक लपेटड़ी=जेहदे कप्पड़्यां विच्च कसतूरी दी महक वसी होवे;
पाठ भेद: असीं सभ=वारिस शाह)

51. मलाह दा गुस्सा अते बेकरारी

बेड़ी नहीं इह जंञ दी बनी बैठक, जो को आंवदा सद्द बहावन्दा है ।
गडा-वड अमीर फ़कीर बैठे, कौन पुछदा केहड़े थांव दा है ।
जिवें शम्हां ते डिगन पतंग धड़ धड़, लंघ नईं मुहायना आवन्दा है ।
ख़वाजा ख़िजर दा बालका आण लत्था, जना खना शरीनियां ल्यांवदा है ।
लुड्डन ना लंघायआ पार उस नूं, ओस वेलड़े नूं पच्छोतांवदा है ।
यारो झूठ ना करे ख़ुदाय सच्चा, रन्नां मेरियां इह खिसकांवदा है ।
इक्क सद्द दे नाल इह जिन्द लैंदा, पंखी डेगदा मिरग फहांवदा है ।
ठग सुने थानेसरों आंवदे ने, इह तां ज़ाहरा ठग झनांवदा है ।
वारिस शाह मियां वली ज़ाहरा है, वेख हुने झबेल कुटांवदा है ।

(गडा-वड=जना खणा, नईं=नदी, शरीनियां=शरधा वजों
ल्यांदी मठ्याई, सद्द=आवाज़)

52. रांझे दे आउन दी ख़बर

जाय माहियां पिंड विच्च गल्ल टोरी, इक्क सुघड़ बेड़ी विच्च गांवदा है ।
उहदे बोल्यां मुख थीं फुल्ल किरदे, लक्ख लक्ख दा सद्द उह लांवदा है ।
सने लुड्डन झबेल दियां दोवें रन्नां, सेज हीर दी ते अंग लांवदा है ।
वारिस शाह कवारियां आफ़तां ने, वेख केहा फ़तूर हुन पांवदा है ।

(माहियां=गाईआं मझ्झां दे छेड़ू, कवारियां=नवियां, फ़तूर=आफ़त,
ख़राबी)

53. लोकां दा रांझे नूं पुच्छणा

लोकां पुच्छ्या मियां तूं कौन हुन्दा, अन्न किसे ने आण खवाल्या ई ।
तेरी सूरत ते बहुत मलूक दिस्से, एड जफ़र तूं कास ते जाल्या ई ।
अंग साक क्युं छड के नस्स आइउं, बुढ्ढी मां ते बाप नूं गाल्या ई ।
ओहले अक्खियां दे तैनूं किवें कीता, किन्हां दूतियां दा कौल पाल्या ई ।

(मलूक=सुन्दर, जफ़र जालणा=मुसीबत झल्लणी, दूतियां=चुगलखोरां;
पाठ भेद: किन्हां दूतियां दा कौल=वारिस शाह दा कौल नांह)

54. रांझे दा हीर दे पलंघ ते बैठणा

हस्स खेड के रात गुज़ारिया सू, सुब्हा उठ के जीउ उदास कीता ।
राह जांदड़े नूं नदी नज़र आई, डेरा जाय मलाहां दे पास कीता ।
अग्गे पलंघ बेड़ी विच्च विछ्या सी, उते ख़ूब विछावना रास कीता ।
बेड़ी विच्च वजाय के वंझली नूं, जा पलंघ उते आम ख़ास कीता ।
वारिस शाह जा हीर नूं ख़बर होई, तेरी सेज दा जट्ट ने नास कीता ।

(रास कीता=विछायआ होया)

55. हीर दा आउना ते गुस्सा

लै के स्ट्ठ सहेलियां नाल आई, हीर मत्तड़ी रूप गुमान दी जी ।
बुक मोतियां दे कन्नीं झुमकदे सन, कोई हूर ते परी दी शान दी जी ।
कुड़ती सूही दी हिक्क दे नाल फब्बी, होश रही ना ज़िमीं असमान दी जी ।
जिस दे नक्क बुलाक ज्युं कुतब तारा, जोबन भिन्नड़ी कहर तूफान दी जी ।
आ बुन्द्यां वालीए टलीं मोईए, अग्गे गई केती तम्बू ताणदी जी ।
वारिस शाह मियां जट्टी लोड़्ह लुट्टी, परी किबर हंकार ते मान दी जी ।

(मत्तड़ी=मदमाती,नशई, सूहा=कसुंभे नाल रंग्या सूहा कप्पड़ा,लाल,
फबी=सजी, बुलाक=कोका, किबर=गरूर,हंकार, लोड़्ह लुटी=लोड़्ह दी मारी;
पाठ भेद: परी किबर हंकार ते मान=भरी किबर हंकार गुमान)

56. हीर दे रूप दी तारीफ़

केही हीर दी करे तारीफ शायर, मत्थे चमकदा हुसन महताब दा जी ।
ख़ूनी चूंडियां रात ज्यु चन्न गिरदे, सुरख रंग ज्युं रंग शहाब दा जी ।
नैन नरगसी मिरग ममोलड़े दे, गल्ल्हां टहकियां फुल्ल गुलाब दा जी ।
भवां वांङ कमान लाहौर दे सन, कोई हुसन ना अंत हिसाब दा जी ।
सुरमा नैणां दी धार विच्च फब रहआ, चड़्हआ हिन्द ते कटक पंजाब दा जी ।
खुल्ल्ही त्रिंञणां विच्च लटकदी है, हाथी मसत ज्युं फिरे नवाब दा जी ।
चेहरे सुहने ते ख़त ख़ाल बणदे, ख़ुश ख़त ज्युं हरफ किताब दा जी ।
जेहड़े वेखने दे रीझवान आहे, वड्डा फ़ायदा तिन्हां दे बाब दा जी ।
चलो लैलातुलकदर दी करो ज़्यारत, वारिस शाह इह कंम सवाब दा जी ।

(महताब=चन्द, शहाब=अग्ग दी लाट,अग्ग छडदा तारा,नरगिसी=नरगिस
दे फुल वरगे, मिरग=हरन, कमान लाहौर=लहौर दी बनी होई कमान
मशहूर सी,कटक=फ़ौज, ख़ाल=तिल, खत ख़ा =नैन नकश, लैलातुलकदर=
रमज़ान महीने दी सताईवीं रात जिस दी परवान होई दुआ ते इबादत
इक्क हज़ार साल दी बन्दगी बराबर हुन्दी है, ज़्यारत=दरशन,दीदार,
सवाब=पुन्न)

57. तथा

होठ सुरख़ याकूत ज्युं लाल चमकन, ठोडी सेउ विलायती सार विच्चों ।
नक्क अलिफ़ हुसैनी दा पिपला सी, ज़ुलफ़ नाग़ ख़ज़ाने दी बार विच्चों ।
दन्द चम्बे दी लड़ी कि हंस मोती, दाने निकले हुसन अनार विच्चों ।
लिखी चीन कशमीर तसवीर जट्टी, कद सरू बहशत गुलज़ार विच्चों ।
गरदन कूंज दी उंगलियां रव्हां फलियां, हत्थ कूलड़े बरग चनार विच्चों ।
बाहां वेलने वेलियां गुन्न्ह मक्खन, छाती संग मर मर गंग धार विच्चों ।
छाती ठाठ दी उभरी पट खेनूं, स्यु बलख़ दे चुने अम्बार विच्चों ।
धुन्नी बहशित दे हौज़ दा मुशक कुब्बा, पेटू मख़मली ख़ास सरकार विच्चों ।
काफ़ूर शहनां सरीन बांके, साक हुसन सतून मीनार विच्चों ।
सुरख़ी होठां दी लोड़्ह दन्दासड़े दा, खोजे ख़तरी कतल बाज़ार विच्चों ।
शाह परी दी भैन पंज फूल राणी, गुझी रहे ना हीर हज़ार विच्चों ।
सई्ईआं नाल लटकदी मान मत्ती, जिवें हरनियां तुट्ठियां बार विच्चों ।
अपराध अवध दलत मिसरी, चमक निकली तेग़ दी धार विच्चों ।
फिरे छणकदी चाउ दे नाल जट्टी, चड़्हआ ग़ज़ब दा कटक कंधार विच्चों ।
लंक बाग़ दी परी कि इन्दराणी, हूर निकली चन्द परवार विच्चों ।
पुतली पेखने दी नकश रूम दा है, लद्धा परी ने चन्द उजाड़ विच्चों ।
एवें सरकदी आंवदी लोड़्ह लुट्टी, जिवें कूंज टुर निकली डार विच्चों ।
मत्थे आण लग्गन जेहड़े भौर आशक, निक्कल जान तलवार दी धार विच्चों ।
इशक बोलदा नढी दे थांउं थांईं, राग निकले ज़ील दी तार विच्चों ।
कज़लबाश असवार जल्लाद ख़ूनी, निक्कल ग्या ए उड़द बाज़ार विच्चों ।
वारिस शाह जां नैणां दा दाउ लग्गे, कोई बचे ना जूए दी हार विच्चों ।

(याकूत=इक्क कीमती पत्थर,लाअल, सार=किसे चीज़ दा अरक,
अलिफ़ हुसैनी=हज़रत अली दी उह तलवार जेहड़ी उन्हां नूं हज़रत
मुहंमद साहब पासों मिली सी, जिस नाल उह जंग-ए-नहावन्द विच्च
लड़े सन, पिपला=तलवार दा अगला नोकीला सिरा, खज़ाने दी बार=
झंग दे उत्तर पच्छम दा वड्डा जंगल जिस विच्च नाग़ शूकदे फिरदे हन,
बरग=पत्ते, गंग धार=गंगा नदी, खेनूं=रेशम दी गेंद, अम्बार=ढेर,
हौज़=पानी वाला तला, मुशक कुब्बा=कसतूरी दा बण्या होया गुम्बद,
पेडू=पेट, शहीनां=चिट्टे रंग दी तरन वाली मसक, सरीन=चित्तड़, साक=
लत्त दी पिन्नी, पंज फूल राणी=राजा रूप चन्दर दी लोक कथा दी बहुत
सुन्दर नायका जेहदे रूप अते सुहप्पन नाल हन्हेरे विच्च चानन हो जांदा
सी ।इहदा भार केवल पंजां फुल्लां बराबर सी, तुट्ठियां=खुश होईआ,
अवध दलत मिसरी=मिसर दी बनी होई तलवार जेहड़ी सूर नूं वी
कट्ट के टुकड़े टुकड़े कर देवे, इन्दराणी=इन्दर दी राणी, पेखणा=पुतली
दा तमाशा, लद्धा=लभ्भा, त्रंगली=त्रंग, ज़ील दी तार=अंतड़ी दी बनी होई
तार जेहदे विच्चों बहुत दरद भर्या संगीत निकलदा है । केहा जांदा है
कि धात दी तार नालों इस तार दी आवाज़ वधेरे दरदनाक हुन्दी है,
कज़लबाश=लाल टोपी वाला अफ़गानी सिपाही जिस दे सिर उते बारां नुक्करी
लाल टोपी हुन्दी सी, उड़द बज़ार= छाउनी दा बाज़ार;
पाठ भेद: अवध दलत मिसरी=ते ऊंध वलट्ट मिसरी)

58. हीर दी मलाहां ते सखती ते उन्हां दा उत्तर

पकड़ लए झबेल ते बन्न्ह मुशकां, मार छमकां लहू लुहान कीते ।
आन पलंघ ते कौन सवाल्या जे, मेरे वैर ते तुसां सामान कीते ।
कुड़ीए मार ना असां बेदोस्यां, नूं कोई असां ना इह महमान कीते ।
चैंचर-हारीए रब तों ड्रीं मोईए, अग्गे किसे ना एड तूफ़ान कीते ।
एस इशक दे नशे ने नढ्ढीए नी, वारिस शाह होरीं परेशान कीते ।

(पाठ भेद: आण पलंघ ते कौण=मेरे पलंघ ते आण)

59. हीर

जवानी कमली राज एे चूचके दा, ऐवें किसे दी की परवाह मैनूं ।
मैं तां धरूह के पलंघ तों चाय सुट्टां, आयां किधरों इह बादशाह मैनूं ।
नाढू शाह दा पुत्त कि शेर हाथी, पास ढुक्क्यां लएगा ढाह मैनूं ।
नाहीं पलंघ ते एस नूं टिकन देणा, लाय रहेगा लख जे वाह मैनूं ।
इह बोदला पीर बग़दाद गुग्गा, मेले आइ बैठा वारिस शाह मैनूं ।

(जौनी=बाहरले देशां दी हमलावर औरत, बोदला=हलके होए कुत्ते
दे वढ्ढे दा इलाज करन वाला,साहीवाल दे इलाके विच्च बोदले फ़कीर
दी बहुत मानता सी, पीर बग़दाद=सय्यद अबदुल कादर जिलानी
जेहदी बाबत मशहूर है कि उन्हां ने बारां सालां दा डुब्या बेड़ा पार
उतार दित्ता सी;
पाठ भेद: जवानी=जौनी)

60. हीर रांझे नूं जगाउंदी है

उठीं सुत्त्या सेज असाडड़ी तों, लंमा सुस्सरी वांङ की प्या हैं वे ।
रातीं किते उनींदरा कट्ट्योई, ऐडी नींद वाला लुड़्ह ग्या हैं वे ।
सुंञी वेख नखसमड़ी सेज मेरी, कोई आहलकी आण ढह प्या हैं वे ।
कोई ताप कि भूत कि जिन्न लग्गा, इक्के डायन किसे भख ल्या हैं वे ।
वारिस शाह तूं ज्युंदा घूक सुतों, इक्के मौत आई मर ग्या हैं वे ।

(लुड़्ह जणा=डुब जाणा, आहलक=सुसती, भख ल्या=खा ल्या)

61. हीर दा मेहरवान होणा

कूके मार ही मार ते पकड़ छमकां, परी आदमी ते कहरवान होई ।
रांझे उठ के आख्या 'वाह सज्जण', हीर हस्स के ते मेहरबान होई ।
कच्छे वंझली कन्नां दे विच्च वाले, ज़ुलफ़ मुखड़े ते परेशान होई ।
भिन्ने वाल चूने मत्थे चन्द रांझा, नैणीं कज्जले दी घमसान होई ।
सूरत यूसफ़ दी वेख तैमूस बेटी, सने मालके बहुत हैरान होई ।
नैन मसत कलेजड़े विच्च धाणे, जिवें तिक्खड़ी नोक सनान होई ।
आइ बग़ल विच्च बैठ के करे गल्लां, जिवें विच्च किरबान कमान होई ।
भला होया मैं तैनूं ना मार बैठी, काई नहीं सी गल्ल बेशान होई ।
रूप जट्ट दा वेख के जाग लधी, हीर घोल घत्ती कुरबान होई ।
वारिस शाह ना थाउं दम मारने, दी चार चशम दी जदों घमसान होई ।

(तैमूस बेटी=ज़ुलैख़ा, मालके=यूसफ नूं खूह विच्चों कढ्ढन वाले गुलामां
दे नाम बशरा अते मामल सन जिन्हां दा मालक ज़ुअर-बिन-मिसर
सी, धाणे=धसे होए, किरबान=कमान रक्खन वाला कमानदान, जाग लद्धी=
जाग उट्ठी)

62. रांझा

रांझा आखदा इह जहान सुफ़ना, मर जावना ईं मतवालीए नी ।
तुसां जेहआं प्यार्यां इह लाज़म, आए गए मुसाफरां पालीए नी ।
एडा हुसन दा ना गुमान कीजे, इह लै पलंघ हई सने नेहालीए नी ।
असां रब्ब दा आसरा रक्ख्या ए उट्ठ जवानां ईं नैणां वालीए नी ।
वारिस शाह दे मगर ना पईं मोईए, एस भैड़े दी गल्ल नूं टालीए नी ।

(मतवाली=मसत, लाज़म=ज़रूरी, हई=है,आह प्या है, नेहाली=लेफ़)

63. हीर

इह हीर ते पलंघ सभ थाउं तेरा, घोल घत्तियां ज्यूड़ा वार्या ई ।
नाहीं गाल्ह कढ्ढी हत्थ जोड़नी हां, हथ लाय नाहीं तैनूं मार्या ई ।
असीं मिन्नतां करां ते पैर पकड़ां, तैथों घोल्या कोड़ममां सार्यां ई ।
असां हस के आण सलाम कीता, आख कास नूं मकर पसार्या ई ।
सुंञे पर्हे सन त्रिंञणीं चैन नाहीं, अल्ल्हा वाल्या तूं सानूं तार्या ई ।
वारिस शाह शरीक है कौन उस दा, जिस दा रब्ब ने कंम सवार्या ई ।

(कोड़मा=सारा परवार,ख़ानदान शरीक=साथी,उहदे जेहा)

64. रांझा

मान-मत्तीए रूप गुमान भरीए, अठखेलीए रंग रंगीलीए नी ।
आशक भौर फ़कीर ते नाग काले, बाझ मंतरों मूल ना कीलीए नी ।
एह जोबना ठग बाज़ार दा ई टूणे-हारीए छैल छबीलीए नी ।
तेरे पलंघ दा रंग ना रूप घट्या, ना कर शुहद्यां नाल बख़ीलीए नी ।
वारिस शाह बिन कारदों ज़िब्हा करीए, बोल नाल ज़बान रसीलीए नी ।

(शुहद्यां=कमज़ोरां, बख़ीली=कंजूसी,नामेहरबानी, बिन कारदों=
छुरी जां कटारी दे बग़ैर)

65. रांझे तो हीर ने हाल पुच्छणा

घोल घोल घत्ती तैंडी वाट उत्तों, बेली दस्स खां किधरों आवना एं ।
किस मान-मत्ती घरों कढ्युं तूं, जिस वासते फेरियां पावना एं ।
कौन छड आइउं पिच्छे मेहर वाली, जिस दे वासते पच्छोतावना एं ।
कौन ज़ात ते वतन की साईआं दा, अते जद्द दा कौन सदावनां एं ।
तेरे वारने चौखने जानियां मैं, मंङू बाबले दा चार ल्यावना एं ।
मंङू बाबले दा ते तूं चाक मेरा, इह वी फंध लग्गे जे तूं लावना एं ।
वारिस शाह चहीक जे नवीं चूपें, सभे भुल जाणीं जेहड़ियां गावनां एं ।

(वाट=राह, मंङू=चौणा,गावां मझ्झां, चाक=चाकर, चहीक=इक्क गुलाबी
रंग दी काही, दर्यावां दे कंढे ते हुन्दी है अते माल डंगर इस नूं बड़
शौक नाल खांदा है, मुढ्ढे कमाद दे गन्ने दी पोरी नूं वी चहीक आखदे हन)

66. रांझा

तुसां जहे माशूक जे थीन राज़ी, मंगू नैणां दी धार विच्च चारीए नी ।
नैणां तेर्यां दे असीं चाक होए, जिवें जीउ मन्ने तिवें सारीए नी ।
कित्थों गल्ल कीचै नित नाल तुसां, कोई बैठ विचार विचारीए नी ।
गल्ल घत जंजाल कंगाल मारें, जाय त्रिंञणीं वड़ें कुआरीए नी ।

(जंजाल=मुसीबत, कंगाल=ग़रीब)

67. हीर

हत्थ बद्धड़ी रहां गुलाम तेरी, सने त्रिंञणां नाल सहेलियां दे ।
होसन नित बहारां ते रंग घणे,विच्च बेलड़े दे नाल बेलियां दे ।
सानूं रब्ब ने चाक मिलाय दित्ता, भुल्ल गए प्यार अरबेलियां दे ।
दिने बेल्यां दे विच्च करीं मौजां, रातीं खेडसां विच्च हवेलियां दे ।

(बेली=दोसत,यार, अरबेली=अलबेली)

68. रांझा

नाल नढ्ढियां घिन्न के चरखड़े नूं, तुसां बैठना विच्च भंडार हीरे ।
असीं रुलांगे आण के विच्च वेहड़े, साडी कोई ना लएगा सार हीरे ।
टिक्की देइ के वेहड़्युं कढ छड्डें, सानूं ठग के मूल ना मार हीरे ।
साडे नाल जे तोड़ निबाहुनी एं, सच्चा देह खां कौल करार हीरे ।

(भंडार=त्रिंञण,छोपे पाउन दी थां, सार=ख़बर)

69. हीर

मैनूं बाबले दी सौंह रांझना वे, मरे माउं जे तुध थीं मुख मोड़ां ।
तेरे बाझ तुआम हराम मैनूं, तुध बाझ ना नैन ना अंग जोड़ां ।
ख़ुआजा खिज़र ते बैठ के कसम खाधी, थीवां सूर जे प्रीत दी रीत तोड़ां ।
कुहड़ी हो के नैन परान जावन, तेरे बाझ जे कौंत मैं होर लोड़ां ।

(ख़ुआजा खिज़र=खुदा दा इक्क नबी जेहड़ा हज़रत मूसा दे समें
होया, इह पाणियां दा पीर मन्न्या जांदा है ते मलाह इहदे
नां दा दीवा बालदे हन अते न्याज़ां वंडदे हन । ख़िज़र भुल्ल्यां
नूं राह दस्सन वाला पीर है, लोड़ां=लभ्भां;
पाठ भेद: तेरे बाझ=वारिस शाह)

70. रांझे दा हीर नूं इशक विच्च पक्का करना

चेता मुआमले पैन ते छड्ड जाएं, इशक जालना खरा दुहेलड़ा ई ।
सच आखना ई हुने आख मैनूं, एहो सच ते झूठ दा वेलड़ा ई ।
ताब इशक दी झल्लनी खरी औखी, इशक गुरू ते जग सभ चेलड़ा ई ।
एथों छड्ड ईमान जे नस्स जासें, अंत रोज़ क्यामते मेलड़ा ई ।

(जालणा=सहणा, दुहेलड़ा=औखा,मुशकिल, ताब=गरमी,तकलीफ)

हीर वारिस शाह (भाग-2)
 
 
 Hindi Kavita