Hindi Kavita
वारिस शाह
Waris Shah
 Hindi Kavita 

Heer Waris Shah in Hindi-Part-3

हीर वारिस शाह भाग-3

157. चूचक ने बेले विच्च हीर नूं रांझे नाल देखणा

महर वेख के दोहां इकल्ल्यां नूं, ग़ुस्सा खायके होया ई रत्त वन्ना ।
इह वेख निघार ख़ुदाय दा जी, बेले विच्च इकल्लियां फिरन रन्नां ।
अखीं नीवियां रक्ख के ठुमक चल्ली, हीर कच्छ विच्च मार के थाल छन्ना ।
चूचक आखदा रख तूं जम्हां ख़ातर, तेरे सोट्यां नाल मै लिंङ भन्नां ।

(खातर जम्हां रक्ख=तसल्ली रख,ठहर)

158. हीर दा बाप नूं उत्तर

महीं छड माही उठ जाए भुक्खा, उस दे खाने दी ख़बर ना किसे लीती ।
भत्ता फेर ना किसे ल्यावना ई एदूं पिछली बाबला होयी बीती ।
मसत हो बेहाल ते महर खला, जिवें किसे अबदाल ने भंग पीती ।
किते नढ्ढी दा चाय विवाह कीचै, इह महर ने ज्यु दे विच्च कीती ।

(अबदाल=दरवेशां दा इक्क फिरका जेहड़ा भंग पींदा है )

159. रांझे दे भरावां ते भाबियां दा चूचक ते हीर नाल चिट्ठी-पत्तर

जदों रांझना जाय के चाक लग्गा, महीं सांभियां चूचक स्याल दियां ।
लोकां तख़त हज़ारे विच्च जा केहा, कूंमां ओस अग्गे वड्डे माल दियां ।
भाईआं रांझे द्यां स्यालां नूं ख़त लिख्या, ज़ातां महरम ज़ात दे हाल दियां ।
मौजू चौधरी दा पुत्त चाक लायउ, इह कुदरतां जल्ल-जलाल दियां ।
साथों रुस आया तुसीं मोड़ घल्लो, इहनूं वाहरां रात दिंह भालदियां ।
जिनां भोएं तों रुस्स के उठ आया, क्यारीं बनी पईआं एस लाल दियां ।
साथों वाहियां बीजियां लए दाणे, अते मानियां पिछले साल दियां ।
साथों घड़ी ना विसरे वीर प्यारा, रो रो भाबियां एस दियां जालदियां ।
महीं चारद्यां वढ्योसु नक्क साडा, साथे खूहणियां एस दे माल दियां ।
मझ्झीं कटक नूं दे के खिसक जासी, साडा नहीं ज़िंमां फिरो भालदियां ।
इह सूरतां ठग जो वेखदे हो, वारिस शाह फ़कीर दे नाल दियां ।

(खूणियां=खूहणी,वड्डी गिणती, जल्ल-जलाल=सरब शकतीमान,रब्ब, जणा=
पुरश,रांझा, मानी=जिनस दा इक्क माप, साथे=साडे कोल)

160. रांझे दे भरावां दा चूचक नूं ख़त

तुसीं घल देहो तां अहसान होवे, नहीं चल मेला असीं आवने हां ।
गल पलड़ा पाए के वीर सभ्भे, असीं रुट्ठड़ा वीर मनावने हां ।
असां आयां नूं तुसीं जे ना मोड़ो, तदों पए पका पकावने हां ।
नाल भाईआं पिंड दे पैंच सारे, वारिस शाह नूं नाल ल्यावने हां ।

(मेला=इकट्ठे हो के)

161. चूचक दा उत्तर

चूचक स्याल ने लिख्या रांझ्यां नूं, नढ्ढी हीर दा चाक उह मुंडड़ा जे ।
सारा पिंड ड्रदा ओस चाक कोलों, सिर माहियां दे ओहदा कुंडड़ा जे ।
असां जट है जान के चाक लायआ, देईए तराह जे जाणीए गुंडड़ा जे ।
इह गभ्भरू घरों क्युं कढ्या जे, लंङा नहीं कंमचोर ना टुंडड़ा जे ।
सिर सोंहदियां बोदियां नढ्ढड़े, दे कन्नीं लाडले दे बने बुन्दड़ा जे ।
वारिस शाह ना किसे नूं जाणदा है, पास हीर दे रात दिंहु हुन्दड़ा जे ।

162. रांझे दियां भाबियां नूं हीर दा उत्तर

घर आईआं दौलतां कौन मोड़े, कोयी बन्न्ह पिंडों किसे टोर्या ई ।
असां ज्युंद्यां नहीं जवाब देणा, साडा रब्ब ने जोड़ना जोड़्या ई ।
ख़तां चिट्ठियां अते सुनेहआं ते, किसे लुट्या माल ना मोड़्या ई ।
जाए भाईआं भाबियां पास जम जम, किसे नाहीउं हटक्या होड़्या ई ।
वारिस शाह स्यालां दे बाग़ विच्चों, असां फुल्ल गुलाब दा तोड़्या ई ।

163. हीर नूं चिट्ठी दा उत्तर

भरजाईआं रांझे दियां तंग हो के, ख़त हीर स्याल नूं लिख्या ई ।
साथों छैल सो अद्ध वंडाए सुत्ती, लोक यारियां किधरों सिख्या ई ।
देवर चन्न साडा साथों रुस्स आया, बोल बोल के खरा त्रिख्या ई ।
साडा लाल मोड़ो सानूं ख़ैर घत्तो, जाणों कमलियां नूं पायी भिख्या ई ।
कुड़ीए सांभ नाहीं माल रांझ्यां दा, कर सारदा दीदड़ा त्रिख्या ई ।
झुट कीत्यां लाल ना हथ आवन, सोयी मिले जो तोड़ दा लिख्या ई ।
कोयी ढूंड वडेरड़ा कंम जोगा, अजे इह ना यारियां सिख्या ई ।
वारिस शाह लै चिट्ठियां दौड़्या ई कंम कासदां दा मियां सिख्या ई ।

(वंडाए सुत्ती=सुत्ती ने अद्ध लै ल्या, कासद=सुनेहा लिजान वाला)

164. हीर नूं चिट्ठी मिली

जदों ख़त दित्ता ल्या कासदां ने, नढ्ढी हीर ने तुरत पड़्हायआ ई ।
सारे मुआमले अते वंझाप सारे, गिला लिख्या वाच सुणायआ ई ।
घल्लो मोड़ के देवर असाडड़े नूं, मुंडा रुस्स हज़ार्युं आया ई ।
हीर सद्द के रांझने यार ताईं, सारा मुआमला खोल्ह सुणायआ ई ।

(वंझाप=जुदायी दा दुख)

165. भाबियां नूं रांझे ने आप उत्तर लिखाउणा

भाईआं भाबियां चा जवाब दित्ता, सानूं देस थीं चा त्राहउ ने ।
भोएं खोह के बाप दा ल्या विरसा, मैनूं आपने गलों चा लाहउ ने ।
मैनूं मार के बोलियां भाबियां ने, कोयी सच्च ना कौल निभाहउ ने ।
मैनूं देह जवाब ते कढ्ढ्यु ने, हल जोड़ क्यारड़ा वाहउ ने ।
रल रन्न ख़समां मैनूं ठिठ कीता, मेरा अरश दा किंगरा ढाहउ ने ।
नित बोलियां मारियां जा स्यालीं, मेरा कढना देस थीं चाहउ ने ।
असीं हीर स्याल दे चाक लग्गे, जट्टी महर दे नाल दिल फाहउ ने ।
हुन चिट्ठियां लिख के घल्लदियां ने, राखा खेतड़ी नूं जदों चाहउ ने ।
वारिस शाह समझा जटेटियां नूं, साडे नाल मत्था केहा डाहउ ने ।

(अरश दा किंगरा ढायआ=दिल तोड़ दित्ता, मत्था डाहुणा=
नाजायज़ लड़ायी करनी)

166. हीर ने उत्तर लिखणा

हीर पुछ के माहीड़े आपने तों, लिखवा जवाब चा टोर्या ई ।
तुसां लिख्या सो असां वाच्या ए सानूं वाचद्यां ई लग्गा झोर्या ई ।
असीं धीदों नूं चा महींवाल कीता, कदी तोड़ना ते नहीं तोड़्या ई ।
कदी पान ना वल थे फेर पहुंचे, शीशा चूर होया किस जोड़्या ई ।
गंगा गईआं ना हड्डियां मुड़दियां ने, वकत गए नूं फेर किस मोड़्या ई ।
हत्थों छुटड़े वाहरीं नहीं मिलदे, वारिस छड्डना ते नाहीं छोड़्या ई ।

(महींवाल=मझ्झां दे संभालन वाला चाकर, तोड़ना=जवाब दे देणा)

167. भरजाईआं दा उत्तर

जे तूं सोहनी होइके बणें सौकन, असीं इक्क थीं इक्क चड़्हन्दियां हां ।
रब जाणदा है सभे उमर सारी, असीं एस महबूब दियां बन्दियां हां ।
असीं एस दे मगर दीवानियां हां, भावें चंगियां ते भावें मन्दियां हां ।
योह असां दे नाल है चन्न बणदा, असीं खित्तियां नाल सोहन्दियां हां ।
उह मारदा गालियां देह सानूं, असीं फेर मुड़ चौखने हुन्दियां हां ।
जिस वेलड़े दा साथों रुस आया, असीं हंझरों रत्त दियां रुन्नियां हां ।
इहदे थां ग़ुलाम लउ होर साथों, ममनून अहसन दियां हुन्नियां हां ।
रांझे लाल बाझों असीं ख़ुआर होईआं, कूंजां डार थीं असीं विछुन्नियां हां ।
जोगी लोकां नूं मुन्न के करन चेले, असीं एस दे इशक ने मुन्नियां हां ।
वारिस शाह रांझे अग्गे हथ जोड़ीं, तेरे प्रेम दी अग्ग ने भुन्नियां हां ।

(चौखणे=इक्क मिक, हंझरों=हंझू, ममनून=अहसानमन्द, विछुन्नियां=
विछड़ियां)

168. हीर दा उत्तर

चूचक स्याल तों लिख के नाल चोरी, हीर स्याल ने कही बतीत है नी ।
साडी ख़ैर तुसाडड़ी ख़ैर चाहां, जेही ख़त दे लिखन दी रीत है नी ।
होर रांझे दी गल्ल जो लिख्या जे, एहा बात बुरी अनानीत है नी ।
रक्खां चाय मुसहफ़ कुरआन इस नूं, कसम खायके विच्च मसीत है नी ।
तुसीं मगर क्युं एस दे उठ पईआं, इहदी असां दे नाल प्रीत है नी ।
असीं त्रिंञणां विच्च जां बहनियां हां, सानूं गावना एस दा गीत है नी ।
दिंहें छेड़ मझ्झीं वड़े झल बेले, एस मुंडड़े दी एहा रीत है नी ।
रातीं आन अल्लाह नूं याद करदा, वारिस शाह नाल एहदी मीत है नी ।

(बतीत=कहाणी, अनानीत=मेरे वकार दा मुआमला, रक्खां चा मसहफ़
कुरआन=सिर ते कुरआन रख के कसम खावां, मसहफ़=कुरान दी छोटी
कापी जेहड़ी आम लोकीं गल पा के रक्खदे हन)

169. तथा

नी मैं घोल घत्ती इहदे मुखड़े तों, पाउ दुध चावल इहदा कूत है नी ।
इल्ल-लिलाह दियां जल्ल्यां पांवदा है, ज़िकर हय्य ते 'लायमूत' है नी ।
नहीं भाबियां थीं करतूत काई, सभ्भा लड़न नूं बनी मज़बूत है नी ।
जदों तुसां दे सी गालियां देंदियां साउ, इहतां औतनी दा कोयी ऊत है नी ।
मार्या तुसां दे मेहने गाल्हियां दा, इह तां सुक के होया ताबूत है नी ।
सौंप पीरां नूं झल्ल विच्च छेड़न महियां, इहदी मद्दते खिज़र ते लूत है नी ।
वारिस शाह फिरे उहदे मगर लग्गा, अज्ज तक ओह रेहा अणछूत है नी ।

(हय्य लायमूत=सदा अमर रहन वाला, इल्ल-लिलाह=रब्ब दा नां, कूत=
खुराक, ताबूत=लाश वाला सन्दूक,बकसा. मद्दते=मदद करदे हन, लूत=इक्क
प्रसिद्ध पैग़म्बर)

170. रांझे दियां भरजाईआं दा उत्तर

साडा माल सी सो तेरा हो ग्या, ज़रा वेखना बिरा ख़ुदाईआं दा ।
तूं ही चट्ट्या सी तूं ही पाल्या सी, ना इह भाबियां दा ते ना भाईआं दा ।
शाहूकार हो बैठी एं मार थैली, खोह बैठी है माल तूं साईआं दा ।
अग्ग लैन आई घर सांभ्युई, एह तेरा है, बाप ना माईआं दा ।
गुंडा हत्थ आया तुसां गुंडियां नूं ,अन्न्हीं चूही ते थोथियां धाईआं दा ।
वारिस शाह दी मार ई वग्गे हीरे, जेहा खोहउ ई वीर तूं भाईआं दा ।

(बिरा=फसल दी जिनस जेहड़ी टैकस दे तौर ते वसूल कीती जांदी सी,
बिरा खुदाईआं दा=ख़ुदायी टैकस, थोथियां=ख़ाली, धाईआं=धान)

171. हीर दा उत्तर

तुसीं एस दे ख़्याल ना पवो अड़ीउ ! नहीं खट्टी कुझ्झ एस वपार उतों ।
नी मैं ज्युंदी एस बिन रहां कीकूं, घोल घोल घत्ती रांझे यार उत्तों ।
झल्लां बेल्यां विच्च इह फिरे भौंदा, सिर वेचदा मैं गुनाहगार उत्तों ।
मेरे वासते कार कमांवदा है, मेरी जिन्द घोली इहदी कार उत्तों ।
तदों भाबियां साक ना बणदियां सन, जदों स्ट्ट्या पकड़ पहाड़ उत्तों ।
घरों भाईआं चा जवाब दित्ता, एन्हां भोएं दियां पत्तियां चार उत्तों ।
नाउमीद हो वतन नूं छड टुर्या, मोती तुरे ज्युं पट्ट दी तार उत्तों ।
बिना मेहनतां मसकले लक्ख फेरो, नहीं मोरचा जाए तलवार उत्तों ।
इह मेहना लहेगा कदे नाहीं, एस स्यालां दी सभ्भ सलवाड़ उत्तों ।
नढ्ढी आखसन झगड़दी नाल लोकां, एस सोहने भिन्नड़े यार उत्तों ।
वारिस शाह समझा तूं भाबियां नूं, हुन मुड़े ना लक्ख हज़ार उत्तों ।

(मिसकला=तलवार नूं पालिश करन वाला जां चमकाउन वाला
पत्थर, मोरचा=जंगाल, सलवाड़=जिवें सारे जट्टां लई 'जटवाड़'
केहा जांदा है उवें सारे 'स्यालां' लई सलवाड़ केहा ग्या है)

172. चूचक दी अपने भरावां नाल सलाह

चूचक सद्द भायी पर्हे ला बैठा, किते हीर नूं चा परनाईए जी ।
आखो रांझे नाल विवाह देसां, इक्के बन्नड़े चा मुकाईए जी ।
हत्थीं आपनी किते सामान कीचे, जान बुझ के लीक ना लाईए जी ।
भाईआं आख्या चूचका इह मसलत, असीं खोल के चा सुणाईए जी ।
वारिस शाह फ़कीर प्रेम शाही, हीर ओस थों पुछ मंगाईए जी ।

(मसलत= मसलहत,सलाह मशवरा)

173. भाईआं दा चूचक नूं उत्तर

रांझ्यां नाल ना कदी है साक कीता, नहीं दित्तियां असां कुड़माईआं वो ।
कित्थों रुलद्यां गोल्यां आयां नूं, देसो एह स्यालां दियां जाईआं वो ।
नाल खेड़्यां दे इह साक कीचे, दित्ती मसलत सभनां भाईआं वो ।
भल्यां साकां दे नाल चा साक कीचे, धुरों इह जे हुन्दियां आईआं वो ।
वारिस शाह अंग्यारियां भखद्यां भी, किसे विच्च बारूद छुपाईआं वो ।

(गोला=नौकर)

174. खेड़्यां ने कुड़मायी लई नायी भेजणा

खेड़्यां भेज्यां असां थे इक्क नाई, करन मिन्नतां चा अहसान कीचै ।
भले जट बूहे उत्ते आ बैठे, इह छोकरी उन्हां नूं दान कीचै ।
असां भाईआं इह सलाह दित्ती, केहा असां सो सभ परवान कीचै ।
अन्न धन दा कुझ्झ वसाह नाहीं, अते बाहां दा ना गुमान कीचै ।
जित्थे रब दे नाउं दा ज़िकर आया, लख बेटियां चा कुरबान कीचै ।
वारिस शाह मियां नाहीं करो आकड़, फ़रऊन जेहआं वल ध्यान कीचै ।

(फ़रऔन=मिसर दे पुराने बादशाह अपने आप नूं फ़रऔन कहाउंदे
सन । कुरआन विच्च जिस फ़राऔन दा जिकर है उहनूं सिख्या देण
अते उहदा मुकाबला करन लई हज़रत मूसा नूं भेज्या ग्या ।मूसा
फ़रऔन दी पतनी आसिया दी गोद विच्च, उहदे साहमने पलदा सी ।
भावें नजूमियां दे कहे ते फ़रऔन ने बनी इसराईल दे सारे पुत्तर
मार दित्ते सन ।जदों मूसा ने फ़रऔन नूं रब दा सुनेहा दित्ता तां उह
मूसा दा जानी दुशमन बण ग्या । जद हज़रत मूसा बनी इसराईल
नूं नाल लै के मिसर तों निकल्या तां नील नदी ने रब्ब दी कुदरत नाल
उहनूं पार जान लई रसता दित्ता अते मूसा राज़ी अते सलामत पार हो
ग्या । फ़रऔन अते उहदी फ़ौज मूसा दा पिच्छा करदी नील नदी विच्च
गरक हो गई । अज्ज वी काहरा शहर दे अजायब घर विच्च फ़रऔन दी
लाश रक्खी दस्सी जांदी है)

175. चूचक ने पैंचा नूं सद्दणा

चूचक फेर के गंढ सद्दा घल्ले, आवन चौधरी सार्यां चक्करां दे ।
हत्थ दे रुपईआ पल्ले पा शक्कर, सवाल पांवदे छोहरां बक्करां दे ।
लागियां आख्या सन्न नूं सन्न मिल्या, तेरा साक होया नाल ठक्करां दे ।
धर्या ढोल जटेटियां देन वेलां, छन्ने ल्यांवदियां दाण्यां शक्करां दे ।
रांझे हीर सुण्या दिलगीर होए, दोवें देन गालीं नाल अक्करां दे ।

(गंढ फेरी=सुनेहा भेज्या, चक्करां=पिंडां,चक्कां, बक्करां=कवारियां,
लड़कियां, ठक्कर=ठाकर,, अक्करां=वैर,रोसा,नराज़गी)

176. खेड़्यां नूं वधाईआं

मिली जाय वधायी जां खेड़्यां, नूं लुड्डी मार के झुंमरां घत्तदे नी ।
छालां लान अपुट्ठियां खुशी होए, लाय मजलसां खेडदे वत्तदे नी ।
भले कुड़म मिले सानूं शरम वाले, रज्जे जट्ट वड्डे अहल पत्त दे नी ।
वारिस शाह दी शीरनी वंड्या ने, वड्डे देगचे दुद्ध ते भत्त दे नी ।

(झुंमर=झुम्बर,इक्क नाच, अहल पत=इज़्ज़त वाले)

177. हीर दा मां नाल कलेश

हीर माउं दे नाल आ लड़न लग्गी, तुसां साक कीता नाल ज़ोरियां दे ।
कदो मंग्या मुनस मैं आख तैनूं, वैर कढ्ढ्युयी किन्हां खोरियां दे ।
हुन करें वला क्युं असां कोलों, इह कंम ना हुन्दे नी चोरियां दे ।
जेहड़े होन बेअकल चा लांवदे नी, इट्ट माड़ियां दी विच्च मोरियां दे ।
चाय चुग़द नूं कूंज दा साक दित्तो, परी बधिया जे गल ढोरियां दे ।
वारिस शाह मियां गन्ना चक्ख सारा, मज़े वक्ख ने पोरियां पोरियां दे ।

(वला=परदा, माड़ी=महल, ढोर=पशू, चुग़द=उल्लू)

178. हीर ने रांझे नाल सलाह करनी

हीर आखदी रांझ्या कहर होया, एथों उठ के चल जे चल्लना ई ।
दोनों उठ के लंमड़े राह पईए, कोयी असां ने देस ना मल्लना ई ।
जदों झुग्गड़े वड़ी मैं खेड़्यां दे, किसे असां नूं मोड़ ना घल्लना ई ।
मां बाप ने जदों व्याह टोरी, कोयी असां दा वस्स ना चल्लना ई ।
असीं इशके दे आण मैदान रुधे, बुरा सूरमे नूं रणों हल्लना ई ।
वारिस शाह जे इशक फ़िराक छुट्टे, इह कटक फिर आख किस झल्लना ई ।

(रुद्धे=रुझ्झे,आ गए)

179. रांझे दा हीर नूं उत्तर

हीरे इशक ना मूल सवाद दिन्दा, नाल चोरियां अते उधाल्यां दे ।
किड़ां पौंदियां मुठे सां देस विच्चों, किसे सुने सन खूहणियां गाल्यां दे ।
ठग्गी नाल तूं मझीं चरा लईआं, एहो राह ने रन्नां दियां चाल्यां दे ।
वारिस शाह सराफ सभ जाणदे नी, ऐब खोट्यां भन्न्यां राल्यां दे ।

(किड़ां=खबरां,वैर, भन्न्यां=तोड़्यां, खोट्यां=नकली, राल्यां=रला
कीते होए)

180. हीर दे व्याह दी त्यारी

चूचक स्याल ने कौल वसार घत्ते, जदों हीर नूं पायआ माईआं ने ।
कुड़ियां झंग स्याल दियां धुंमला हो, सभे पास रंझेटे दे आईआं ने ।
उहदे व्याह दे सभ सामान होए, गंढीं फेरियां देस ते नाईआं ने ।
हुन तेरी रंझेट्या गल्ल कीकूं, तूं भी रात दिंहु महीं चराईआं ने ।
आ वे मूरखा पुच्छ तूं नढड़ी नूं, मेरे नाल तूं केहियां चाईआं ने ।
हीरे कहर कीतो रल नाल भाईआं, सभा गलो गल चा गवाईआं ने ।
जे तूं अंत मैनूं पिच्छा देवना सी, एडियां मेहनतां काहे कराईआं ने ।
एही हद्द हीरे तेरे नाल साडी, महल चाड़्ह के पौड़ियां चाईआं ने ।
तैनूं व्याह दे हार शिंगार बद्धे, अते खेड़्यां घरीं वधाईआं ने ।
खा कसम सौगन्द तूं घोल पीती, डोब सुट्यु्उ पूरियां पाईआं ने ।
बाहों पकड़ के टोर दे कढ देसों, ओवें तोड़ नैणां जिवें लाईआं ने ।
यार यार थीं जुदा कर दूर होवे, मेरे बाब तकदीर लिखाईआं ने ।
वारिस शाह नूं ठग्यु दग़ा दे के, जेहियां कीतियां सो असां पाईआं ने ।

(धुंमला=इकट्ठियां हो के)

181. रांझे दा उत्तर

रांझे आख्या मूंहों की बोलना एं, घुट वट्ट के दुखड़ा पीवना एं ।
मेरे सबर दी दाद जे रब्ब दित्ती, खेड़ीं हीर स्याल ना जीवना एं ।
सबर दिलां दे मार जहान पट्टन, उच्ची कासनूं असां बकीवना एं ।
तुसीं कमलियां इशक थीं नहीं वाकफ, नेहुं लावना निंम दा पीवणां एं ।
वारिस शाह जी चुप थीं दाद पाईए, उच्ची बोल्यां नहीं वहीवना एं ।

182. सहेलियां ने हीर कोल आउणा

रल हीर ते आईआं फेर सभ्भे, रांझे यार तेरे सानूं घल्ल्या ई ।
सोटा वंझली कम्बली सुट के ते, छड्ड देस परदेस नूं चल्ल्या ई ।
जे तूं अंत उहनूं पिच्छा देवना सी, उस दा कालजा कास नूं सल्ल्या ई ।
असां एतनी गल्ल मालूम कीती, तेरा निकल ईमान हुन चल्ल्या ई ।
बेसिदक होईंए सिदक हार्युई, तेरा सिदक ईमान हुन हल्ल्या ई ।
उहदा वेखके हाल अहवाल सारा, साडा रोंद्यां नीर ना ठल्ल्या ई ।
हाए हाए मुठी फिरें ठग्ग है नी, उहनूं सक्खना कास नूं घल्या ई ।
निरास वी रास लै इशक कोलों, सकलात दे बईआं नूं चल्ल्या ई ।
वारिस हक्क दे थों जदों हक्क खुत्था, अरश रब्ब दा तदों तरथल्ल्या ई ।

(सकलात=गुलनारी रंग दे, बईआं=बईए दा बहु-वचन,बिजड़े)

183. हीर दा उत्तर

हीर आख्या ओस नूं कुड़ी करके, बुक्कल विच्च लुका ल्याया जे ।
मेरी माउं ते बाप तों करो परदा, गल्ल किसे ना मूल सुणायआ जे ।
आहमों-साम्हना आइके करे झेड़ा, तुसीं मुनसफ होइ मुकायआ जे ।
जेहड़े होन सच्चे सोयी छुट जासन, डन्न झूठ्यां नूं तुसीं लायआ जे ।
मैं आख थक्की ओस कमलड़े नूं, लै के उठ चल वकत घुसायआ जे ।
मेरा आखना ओस ना कन्न कीता, हुन कास नूं डुसकना लायआ जे ।
वारिस शाह मियां इह वकत घुत्था, किसे पीर नूं हत्थ ना आया जे ।

(ना कन्न कीता=ना मन्न्या, घुत्था=बीत्या)

184. रांझे दा हीर कोल आउणा

रातीं विच्च रलायके माहीड़े नूं, कुड़ियां हीर दे पास लै आईआं नी ।
हीर आख्या जांदे नूं बिसमिल्ला, अज्ज दौलतां मैं घरीं पाईआं नी ।
लोकां आख्या हीर दा व्याह हुन्दा, असीं देखने आईआं माईआं नी ।
सूरज चड़्हेगा मग़रबो जिवें क्यामत, तौबा तरक कर कुल बुराईआं नी ।
जिन्हां मझ्झीं दा चाक सां सने नढ्ढी, सोयी खेड़्यां दे हत्थ आईआं नी ।
ओसे वकत जवाब है मालकां नूं, हिक धाड़वियां दे अग्गे लाईआं नी ।
इह सहेलियां साक ते सैन तेरे, सभे मासियां फुफियां ताईआं नी ।
तुसां वहुटियां बनन दी नीत बद्धी, लीकां हद्द ते पुज्ज के लाईआं नी ।
असां केही हुन आस है नढ्ढीए नी, जित्थे खेड़्यां ज़रां विखआईआं नी ।
वारिस शाह अल्लाह नूं सौंप हीरे, सानूं छड्ड के होर धिर लाईआं नी ।

(माहीड़े=रांझे नूं, मग़रब=पच्छम, ज़रां=ज़र दा बहु-वचन,दौलत)

185. खेड़्यां दा ब्राहमणां तों साहा कढाउणा

खेड़्यां साहा सुधायआ बाहमणां तों, भली तित्थ महूरत ते वार मियां ।
नावें सावणों रात सी वीरवारी, लिख घल्या इह निरवार मियां ।
पहर रात नूं आण निकाह लैणा, ढिल लावनी नहीं ज़िनहार मियां ।
ओथे खेड़्यां पुज सामान कीते, एथे स्याल भी होए त्यार मियां ।
रांझे दुआ कीती जंञ आंवदी नूं, पए ग़ैब दा कटक कि धाड़ मियां ।
वारिस शाह सरबालड़ा नाल होया, हत्थ तीर कानी तलवार मियां ।

(साहा सुधायआ=व्याह दी तारीख बारे बाहमणां तों पतरी
खुलवाई, ज़िनहार=बिलकुल)

186. शीरनी दी त्यारी

लग्गे नुगदियां तलन ते शकर पारे, ढेर ला दित्ते वड्डे घ्युरां दे ।
तले ख़ूब जलेब गुल बहशत बून्दी, लड्डू टिक्कियां भम्बरी म्युरां दे ।
मैदा खंड ते घ्यु पा रहे जफ्फी, भाबी लाडली नाल ज्युं द्युरां दे ।
कलाकन्द मखाण्यां सवाद मिट्ठे, पकवान गुन्न्हे नाल त्युरां दे ।
टिक्का वालियां नत्थ हमेल झांजर, बाज़ूबन्द माला नाल न्युरां दे ।

(मिठाईआं=नुगदे,शक्करपारे,जलेब,गुल बहशत,बून्दी,लड्डू,

टिक्कियां,भम्बरी,म्यूर,कलाकन्द,मखाणे, गहणे=टिक्का,वालियां,
नत्थ, हमेल, झांजर, बाज़ूबन्द,माला,न्युर)

187. तथा

मट्ठी होर खजूर पराकड़ी वी, भरे खौंचे नाल समोस्यां दे ।
अन्दरसे कचौरियां अते लुच्ची, वड़े खंड दे खिरनियां खोस्यां दे ।
पेड़े नाल ख़ताईआं होर गुपचुप्प, बेदान्यां नाल पलोस्यां दे ।
रांझा जोड़ के पर्हे फ़र्याद करदा, देखो खसदे साक बेदोस्यां दे ।
वारिस शाह नसीब ही पैन झोली, करम ढैन नाहीं नाल झोस्यां दे ।

(खसदे=खोह लैंदे, झोसे=हलूणे, ढैन नाहीं=डिगदे नहीं, बेदोसे=बेकसूर )

188. रोटी दित्ती

मंडे मास चावल दाल दहीं धग्गड़, इह माहियां पाहियां राहियां नूं ।
सभो चूहड़े चप्पड़े रज्ज थक्के, राखे जेहड़े सांभदे वाहियां नूं ।
कामे चाक चोबर सीरी धग्गड़ां नूं, दहीं रोटी दे नाल भलाहियां नूं ।
दाल शोरबा रसा ते मट्ठा मंडे, डूमा ढोलियां कंजरां नाईआं नूं ।

(धग्गड़=मोटी रोटी,रोट, पाहियां=दूजे पिंड दा मुज़ारा)

189. फ़र्याद रांझे दी

साक माड़्यां दे खोह लैन ढाडे, अणपुज्जदे उह ना बोलदे ने ।
नहीं चलदा वस लाचार हो के, मोए सप्प वांङू विस्स घोलदे ने ।
कदी आखदे मारीए आप मरीए, पए अन्दरों बाहरों डोलदे ने ।
गुन माड़्यां दे सभे रहन विच्चे, माड़े माड़्यां थे दुक्ख फोलदे ने ।
शानदार नूं करे ना कोयी झूठा, माड़ा कंगला झूठा कर टोरदे ने ।
वारिस शाह लुटायन्दे खड़े माड़े, मारे खौफ दे मूंहों ना बोलदे ने ।

(अणपुजदे=ग़रीब, विस घोलदे=खिझदे, ख़ौफ़=डर)

190. चौलां दियां किसमां

मुशकी चावलां दे भरे आण कोठे, सोइन पत्तीए झोनड़े छड़ीदे नी ।
बासमती मुसाफ़री बेग़मी सन, हरिचन्द ते ज़रदीए धरीदे नी ।
सट्ठी करचका सेउला घरत कंटल, अनोकीकला तीहरा सरी दे नी ।
बारीक सफ़ैद कशमीर काबल, ख़ुरश जेहड़े हूर ते परी दे नी ।
गुल्लियां सुच्चियां नाल खोहरियां दे, मोती चूर लम्बोहां जड़ीदे नी ।
वारिस शाह इह ज़ेवरां घड़न ख़ातर, पिंड पिंड सुन्यारड़े फड़ीदे नी ।

(गुल्लियां=सोना, स्ट्ठी=सट्ठा दिनां विच्च पक्कन वाला चौल)

191. गहण्यां दी सजावट

कंङन नाल ज़ंजीरियां पंज मणियां, हार नाल लौंगेर पुरायउ ने ।
तरगां नाल कपूरां दे जुट्ट सुच्चे, तोड़े पाउंटे गजरियां छायउ ने ।
पहुंची चौंकियां नाल हमेल माला, मुहर बिछूए नाल घड़ायउ ने ।
सोहणियां अल्लियां पान पाज़ेब पक्खे, घुंगर्यालड़े घुंगरू लायउ ने ।
जिवें नाल नौग्रेही ते चौंप कलियां, कान फूल ते सीस बणायउ ने ।
वारिस शाह गहना ठीक चाक आहा, सोयी खट्टड़े चा पवायउ ने ।

192. तथा

असकन्दरी नेवरां बीर-बलियां, पिप्पल पत्तरे झुमके सार्यां ने ।
हस कड़े छड़कंङना नाल बूलां, वद्धी डोल म्यांनड़ा धार्यां ने ।
चन्नणहार लूहलां टिक्का नाल बीड़ा, अते जुगनी चा सवार्या ने ।
बांकां चूड़ियां मुशक-बलाईआं भी, नाल मछलियां वालड़ो सार्यां ने ।
सोहनी आरसी नाल अंगूठियां दे, इतर-दान लटकन हर्यार्या ने ।
दाज घत्त के तौंक सन्दूक बद्धे, सुनो की की दाज रंगायआ ने ।
वारिस शाह मियां असल दाज रांझा, इक उह बदरंग करायआ ने ।

(म्यांनड़ा=शरीफ लोकां दी परदेदार पालकी)

193. कप्पड़्यां दियां भांतां

लाल पंखियां अते मताह लाचे, खन्न रेशमी खेस सलारियां ने ।
मांग चौंक पटांगलां चूड़ीए सन, बून्दां अते पंजदाणियां सारियां ने ।
चौंप छायलां ते नाल चार सूती, चन्दां मोरां दे बान्हणूं छारियां ने ।
सालू पत्तरे चादरां बाफते दियां, नाल भोछणां दे फुलकारियां ने ।
वारिस शाह चिकनी सिरोपाउ ख़ासे, पोशाकियां नाल दियां भारियां ने ।

(बाफ़ता=कसूर विच्च बुण्या कप्पड़ा, भोछणां=पुशाकां)

194. दाज दा सामान

लाल घग्गरे काढवें नाल मशरू, मुशकी पग्गां दे नाल तसीलड़े नी ।
दर्यायी दियां चोलियां नाल महते, कीमख़ाब ते चुन्नियां पीलड़े ने ।
बोक बन्द ते अम्बरी बादला सी, ज़री ख़ास चौतार रसीलड़े नी ।
चारख़ानीए डोरीए मलमलां सन, चौंप छायलां निपट सुखीलड़े नी ।
इलाह ते जालियां झिंमियां सन, शीर शक्कर गुलबदन रसीलड़े नी ।
वारिस शाह दो ओढणियां हीर रांझा, सुक्के तीलड़े ते बुरे हीलड़े नी ।

(मशरू=मशरूह,शर्हा अनुसार, बोक बन्द=कीमती कप्पड़े ढक्कन लई
गिलाफ, झंमी=ज़नाना दुशाला, निपट सुखेलड़ा=पूरा आराम, बुरे
हीलड़े=मन्दे हाल)

195. भांड्यां दी सजावट

सुरमेदानियां थालियां थाल छन्ने, लोह कड़छ दे नाल कड़ाहियां दे ।
कौल नाल सन बुगुने सन तबलबाज़ां, काब अते परात बरवाहियां दे ।
चमचे बेलूए वद्धने देगचे भी, नाल खौंचे तास बादशाहियां दे ।
पट उने पटेहड़ां दाज रत्ते, जिगर पाट गए वेख के राहियां दे ।
घुम्यारां ने मट्टां दे ढेर लाए, ढुक्के बहुत बालन नाल काहियां दे ।
देगां खिचदे घत ज़ंजीर रस्से, तोपां खिचदे कटक बादशाहियां दे ।
वारिस शाह मियां चाउ व्याह दा सी, सुंञे फिरन खंधे मंगू माहियां दे ।

(बुगुणा=तंग मूंह वाला भांडा, काब=थाली, तास=कटोरे)

196. स्यालां दा मेल

डारां ख़ूबां दियां स्यालां दे मेल आईआं, हूर परी दे होश गवाउंदियां ने ।
लख जट्टियां मुशक लपेटियां ने, अत्तन पदमनी वांग सुहाउंदियां ने ।
बारां ज़ात ते सत्त सनात ढुक्की, रंग रंग दियां सूरतां आउंदियां ने ।
उत्ते भोछन सन पंज टूलीए दे, अते लुंगियां तेड़ झनाउुं दियां ने ।
लक्ख सिट्ठनी देन ते लैन गालीं, वाह वाह कीह सेहरा गांउदियां ने ।
परीज़ाद जटेटियां नैन ख़ूनीं नाल, हेक महीन दे गाउंदियां ने ।
नाल आरसी मुखड़ा वेख सुन्दर, खोल्ह आशकां नूं तरसाउंदियां ने ।
इक खोल्ह के चादरां कढ्ढ छाती, उपरवाड़्युं झातियां पाउंदियां ने ।
इक्क वांग बसातियां कढ्ढ लाटू, वीराराध दी नाफ़ विखाउंदियां ने ।
इक्क ताड़ियां मारदियां नच्चदियां ने, इक्क हस्सदियां घोड़ियां गाउंदियां ने ।
इक्क गाउं के कोइलां कांग होईआं, इक्क राह विच्च दोहरड़े लाउंदियां ने ।
इक आखदियां मोर ना मार मेरा, इक विच ममोलड़ा गाउंदियां ने ।
वारिस शाह ज्युं शेर गड़्ह पटन मक्के, लख संगतां ज़्यारतीं आउंदियां ने ।

(ख़ूबां=सुहण्यां, अत्तण=उह थां जित्थे सारियां कुड़ियां खेडन लई
इकट्ठियां हुन्दियां हन, सनात=नीच ज़ात, आरसी=शीशा, लाटू=छातियां
ते जोबन दा उभार, बसाती=मुन्यार, नाफ़=धुन्नी)

197. तथा

जिवें लोक नगाहे ते रतन हाजी, ढोल मारदे ते रंग लांवदे ने ।
भड़थू मार के फुमणियां घत्तदे ने, इक्क आंवदे ते इक्क जांवदे ने ।
जेहड़े सिदक दे नाल चल आंवदे ने, कदम चुंम मुराद सभ पांवदे ने ।
वारिस शाह दा चूरमा कुट के ते, दे फ़ातेहा वंड वंडांवदे ने ।

198. खेड़्यां दी जंञ दी चड़्हत

चड़्ह घोड़्यां खेड़्यां गंढ फेरी, चड़्हे गभरू डंक वजाय के जी ।
काठियां सुरख़ बनात दियां हत्थ नेज़े, दारू पी के धरग वजायके जी ।
घोड़ीं पाखरां सोने दियां साखतां ने, लूहलां होर हमेल छणकायके जी ।
केसर भिन्नड़े पग्गां दे पेच बद्धे, विच्च कलगियां जिगा लगायके जी ।
सेहरे फुल्लां दे तुर्र्यां नाल लटकन, टके दित्ते नी लख लुटायके जी ।
ढाडी भुगतीए कंजरियां नकलीए सन, अते डूम सरोद वजायके जी ।
कशमीरी ते दखनी नाल वाजे, भेरी तूतियां वज्जियां चायके जी ।
वारिस शाह दे मुख ते बन्न्ह मुकटा, सोइन सेहरे बन्न्ह बन्न्हायके जी ।

(पाखरां=लड़ायी विच्च घोड़े ते पाउन वाली लोहे दी पुशाक, साखत=
घोड़े दी पूछ ते पाउन वाला साज़, जिगा=पगड़ी उते लाउन वाला
गहणा, भगतीए=नच्चन वाले,रासधारीए, भेरी=बिगल वजाउन वाला)

199. आतिशबाज़ी

आतिश बाज़ियां छुटदियां फुल झड़ियां, फूही छुट्टे ते बाज़ हवा मियां ।
हाथी मोर ते चरखियां झाड़ छुट्टन, ताड़ ताड़ पटाक्यां पा मियां ।
सावन भादों कमचियां नाल चहके, टिंड चूहआं दी करे ता मियां ।
महताबियां टोटके चादरां सन, देवन चक्कियां वड्डे रसा मियां ।

(रसा=सुआद)

200. खेड़े जंञ लै के ढुक्के

मिले मेल स्यालणां जंज आंदी, लग्गियां सौन सुपत्त करावने नूं ।
घत्त सुरम सलाईआं देन गाल्हीं, अते खडुक्कने नाल खिडावने नूं ।
मौली नाल चा कछ्या गभरू नूं रोड़ी लग्गियां आन खोवावने नूं ।
भरी घड़ी-घड़ोली ते कुड़ी न्हाती, आईआं फेर निकाह पड़्हावने नूं ।
मौली नाल चा कच्छ्या गभ्भरू नूं, रोड़ी लग्गियां आण खवावने नूं ।
वारिस शाह व्याह दे गीत मिट्ठे, काज़ी आया मेल मिलावने नूं ।

(सौन सुपत=इस भांत दी सौगंध जेहदे विच्च व्याहन्दड़ वचन
दिन्दा है कि उह आपनी व्याही जान वाली साथन तों बगैर
होर हर इसतरी नूं आपनी मां, भैन जां पुत्तरी समझेगा,
खडुक्कणे=व्याह दी रसम जेहदे विच्च कुड़ियां आटे दियां
खेडां बना के लाड़े तों लाग लैंदियां हन, रोड़ी=गुड़, घड़ी-
घड़ोली=व्याह दी इक्क रसम जेहदे विच्च कुड़ियां लाड़े
लाड़ी नूं खूह विच्चों पानी दे डोल खिच्चन लई कहन्दियां
अते इक्क घड़ा भरन लई आखदियां हन)

201. तथा

भेटक मंगदियां सालियां चीच छल्ला, दुध दे अणयधड़ी चिड़ी दा वे ।
दुध दे गोहीरे दा चो जट्टा, नाले दच्छना खंड दी पुड़ी दा वे ।
लौंगां मंजड़ा नदी विच्च कोट करदे, घट घुट्ट छल्ला कुड़ी चिड़ी दा वे ।
बिनां बलदां दे खूह दे गेड़ सानूं, वेखां किक्करां उह वी गिड़ी दा वे ।
तम्बू तान दे खां सानू बाझ थंमां, पहुंचा दे खां सोइने दी चिड़ी दा वे ।
इक्क मुनस कसीरे दा खरी मंगे, हाथी पाय कुज्जे विच्च फड़ी दा वे ।
साडे पिंड दे चाक नूं दे अंमां, लेखा नाल तेरे इवें वरी दा वे ।
वारिस शाह जीजा खिड़्या वांग फुल्लां, जिवें फुल गुलाब खिड़ी दा वे ।

(भेटक=भेटा, गुहीरा=जंगल विच्च खुड्डां दे विच्च रहन वाला
ज़हरीला गिरगट, किक्करां=किवें, पहुंचा=पैर, कसीरे दा मुनस=
निकंमा आदमी, खरी=वधिया,शुद्ध, वरी=लाड़े वाले पासे वल्लों
लाड़ी लई ल्यांदे कप्पड़े अते गहने आदि)

202. सैदा

अनी सोहणीए छैल मलूक कुड़ीए, साथों एतना झेड़ ना झिड़ी दा नी ।
सईआं तिन्न सौ स्ट्ठ बलकीस राणी, इह लै चीच छल्ला इस दी पिड़ी दा नी ।
चड़्हआ सावन ते बाग़ बहार होई, दभ काह सरकड़ा खिड़ी दा नी ।
टंगीं पा ढंगा दोहनीं पूर कढ्ढी, इह लै दुध अणयधड़ी चिड़ी दा नी ।
दुध ल्या गोहीरे दा चो कुड़ीए, इह लै पी जे बाप ना लड़ी दा नी ।
सूहियां सावियां नाल बहार तेरी, मुशक आंवदा लौंगां दी धड़ी दा नी ।
खंड पुड़ी दी दच्छना द्यां तैनूं, तुक्का लावीए विचली धड़ी दा नी ।
चाल चलें मुरगाईआं ते तरें तारी, बोल्यां फुल गुलाब दा झड़ी दा नी ।
कोट नदी विच्च लै सने लौंग मंजा, तेरे सौन नूं कौन लौ वड़ी दा नी ।
इक्क गल्ल भुल्ली मेरे याद आई, रोट सुख्या पीर दा धड़ी दा नी ।
बाझ बलदां दे खूह भजा दित्ता, अड्डा खड़कदा काठ दी कड़ी दा नी ।
झब नहा लै बुक्क भर छैल कुड़ीए, चाउ खूह दा नाल लै खड़ी दा नी ।
होर कौन है नी जेहड़ी मुनस मंगे, असां मुनस लद्धा जोड़ जुड़ी दा नी ।
असां भाल के सारा जहान आंदा, जेहड़ा साड़्यां मूल ना सड़ीदा नी ।
इक्क चाक दी भैन ते तुसीं सभ्भे, चलो नाल मेरे जोड़ जुड़ी दा नी ।
वारिस शाह घेरा काहनूं घत्यु जे, जेहा चन्न परवार विच्च वड़ीदा नी ।

(झेड़=झगड़ा, पिड़ी=बांस दी छोटी जही पटारी, ढंगा पा के=जुट
पा के, खंड पुड़ी=सुहाग पटारी, कोट नदी विच्च=नदी दे विचाले सुक्की
थां, धड़ी=जेहदा भार इक्क धड़ी होवे, चन्न परवार=असमान विच्च चन्द
दुआले चानन दा इक्क चक्कर)

203. काज़ी नाल हीर दे सवाल जवाब

काज़ी सद्द्या पड़्हन नकाह नूं जी, नढ्ढी वेहर बैठी नहीं बोलदी है ।
मैं तां मंग रंझेटे दी हो चुक्की, माउं कुफ़र ते ग़ैब क्युं तोलदी है ।
नज़ाय वकत शैतान ज्युं दे पाणी, पई जान ग़रीब दी डोलदी है ।
असां मंग दरगाह थीं ल्या रांझा, सिदक सच्च ज़बान थीं बोलदी है ।
मक्खन नज़र रंझेटे दे असां कीता, सुंञी माउं क्युं छाह नूं रोलदी है ।
वारिस शाह मियां अन्न्हे मेउ वांगूं, पई मूत विच्च मच्छियां टोलदी है ।

(वेहर बैठणा=बाग़ी हो जाणा, नज़्हा=मरन कंढा, छाह=लस्सी,
मेउ=मच्छियां फड़न वाला)

204. काज़ी

काज़ी महकमे विच्च इरशाद कीता, मन्न शर्हा दा हुकम जे जीवना ई ।
बाअद मौत दे नाल ईमान हीरे, दाख़ल विच्च बहशत दे थीवना ई ।
नाल ज़ौक दे शौक दा नूर शरबत विच्च जन्नतुल-अदन दे पीवना ई ।
चादर नाल ह्या दे सतर कीजे, काह दरज़ हराम दी सीवना ई ।

(इरशाद कीता=हुकम दित्ता,केहा, जन्नतुल-अदन=बहशत,
हआ=शरम, सतर=परदा दरज़=छोटी जही कातर, काह=क्युं)

205. हीर

हीर आखदी जीवना भला सोई, जेहड़ा होवे भी नाल ईमान मियां ।
सभो जग्ग फ़ानी हिक्को रब बाकी, हुकम कीता है रब रहमान मियां ।
'कुले शैहइन ख़लकना ज़ोजईने', हुकम आया है विच्च कुरान मियां ।
मेरे इशक नूं जाणदे धौल बाशक, लौह कलम ते ज़िमीं आसमान मियां ।

(कुल्ले शैहइन ख़लकना ज़ोजईन=(कुरान मजीद विच्चों) असीं हर इक्क
चीज़ दे जोड़े बणाए हन, धउल=धरती हेठला बलद, बाशक=सप्प)

206. काज़ी

जोबन रूप दा कुझ्झ वसाह नाहीं, मान मत्तीए मुशक पलट्टीए नी ।
नबी हुकम नकाह फरमा दित्ता, 'फ़इनकेहू' मन लै जट्टीए नी ।
कदी दीन इसलाम दे राह टुरीए, जड़्ह कुफ़र दी जीउ तों पट्टीए नी ।
जेहड़े छड हलाल हराम तक्कन, विच्च हावीए दोज़खे स्ट्टीए नी ।
खेड़ा हक्क हलाल कबूल कर तूं, वारिस शाह बण बैठीएं वहुटीए नी ।

('रब्ब फ़इन केहू'=रब्ब ने फ़ुरमायआ है कि औरतां दा निकाह करो)

207. हीर

कलूबुल-मोमनीन अरश अल्लाह ताल्हा, काज़ी अरश खुदाय दा ढाह नाहीं ।
जित्थे रांझे दे इशक मुकाम कीता, ओथे खेड़्यां दी कोयी वाह नाहीं ।
एही चड़्ही गोलेर मैं इशक वाली, जित्थे होर कोयी चाड़्ह लाह नाहीं ।
जिस जीवने कान ईमान वेचां, एहा कौन जो अंत फ़नाह नाहीं ।
जेहा रंघड़ां विच्च ना पीर कोई, अते लुद्धड़ां विच्च बादशाह नाहीं ।
वारिस शाह मियां काज़ी शर्हा दे नूं, नाल अहल-तरीकतां राह नाहीं ।

(हाविया=दोज़ख भाव नरक दा सार्यां तों औखा हिस्सा, कलूबुलमोमनीन=
रब्ब, चाड़्ह लाह=उतरना चड़्हना, कान=कारन, अहले तरीकत=तरीकत
वाले, कमाल=ख़ूबी,पूरणता)

208. काज़ी

दुर्रे शर्हा दे मार उधेड़ देसां, करां उमर ख़िताब दा न्याउं हीरे ।
घत कक्खां दे विच्च मैं साड़ सुट्टां, कोयी वेखसी पिंड गिराउं हीरे ।
खेड़ा करें कबूल तां ख़ैर तेरी, छड्ड चाक रंझेटे दा नाउं हीरे ।
अक्खीं मीट के वकत लंघा मोईए, इह जहान है बद्दलां छाउं हीरे ।
वारिस शाह हुन आसरा रब दा है, जदों विट्टरे बाप ते माउं हीरे ।

(विट्टरे=नराज़ होए, उमर ख़िताब= मुसलमानां दे दूजे खलीफ़ा,
इन्हां ने 634 तों 644 ई तक्क खिलाफ़त कीती । इह इनसाफ़
लयी मशहूर हन)

209. हीर

रले दिलां नूं पकड़ विछोड़ देंदे, बुरी बान है तिन्हां हत्यार्यां नूं ।
नित शहर दे फ़िकर ग़लतान रहन्दे, एहो शामतां रब्ब द्यां मार्यां नूं ।
खावन वढ्ढियां नित ईमान वेचन, एहो मार है काज़ियां सार्यां नूं ।
रब दोज़खां नूं भरे पा बालन, केहा दोस है असां विचार्यां नूं ।
वारिस शाह मियां बनी बहुत औखी, नहीं जाणदे सां एहनां कार्यां नूं ।

(रले=आपो विच्च मिले, बाण=आदत, ग़ुलतान=फसे होए)

210. काज़ी

जेहड़े छड्ड के राह हलाल दे नूं, तक्कन नज़र हराम दी मारियनगे ।
कबर विच्च बहायके नाल गुरज़ां, ओथे पाप ते पुन्न नवारियनगे ।
रोज़ हशर दे दोज़खी पकड़ के ते, घत्त अग्ग दे विच्च नघारियनगे ।
कूच वकत ना किसे है साथ रलणा, ख़ाली दसत ते जेब भी झाड़ियनगे ।
वारिस शाह इह उमर दे लाल मुहरे, इक्क रोज़ नूं आकबत हारियनगे ।

(नवारियनगे=पड़ताल करनगे, आकबत=अंत,मरन पिच्छों)

211. हीर

'कालू-बला' दे दिंहु निकाह बद्धा, रूह नबी दी आप पड़्हायआ ई ।
कुतब होइ वकील विच्च आइ बैठा, हुकम रब्ब ने आप करायआ ई ।
जबराईल मेकाईल गवाह चारे, अज़राईल असराफ़ील आया ई ।
अगला तोड़ के होर निकाह पड़्हना, आख रब्ब ने कदों फ़ुरमायआ ई ।

(कालू बला=जिस दिन रब्ब नाल वचन कीता सी, कुतब=वकील,
जबराईल, मेकईल, अज़राईल अते असराफ़ील=फरिशत्यां दे नां)

212. तथा

जेहड़े इशक दी अग्ग दे ताउ तपे, तिन्न्हां दोज़खां नाल की वासता ई ।
जिन्हां इक्क दे नाउं ते सिदक बद्धा, ओन्हां फ़िकर अन्देसड़ा कास दा ई ।
आखिर सिदक यकीन ते कंम पौसी, मौत चरग़ इह पुतला मास दा ई ।
दोज़ख़ मोरियां मिलन बेसिदक झूठे, जिन्हां बान तक्कन आस पास दा ई ।

(ताउ=गरमी, अन्देसड़ा=अन्देशा,डर, चरग़=शिकारी परिन्दा )

213. काज़ी

लिख्या विच्च कुरान किताब दे है, गुनाहगार ख़ुदा दा चोर है नी ।
हुकम माउं ते बाप दा मन्न लैणा, इहो राह तरीकत दा ज़ोर है नी ।
जिन्हां ना मन्न्या पच्छोताय रोसन, पैर वेख के झूरदा मोर है नी ।
जो कुझ्झ माउं ते बाप ते असीं करीए, ओथे तुध दा कुझ्झ ना ज़ोर है नी ।

214. हीर

काज़ी माउं ते बाप इकरार कीता, हीर रांझे दे नाल व्याहुनी है ।
असां ओस दे नाल चा कौल कीता, लबे-गोर दे तीक निबाहुनी है ।
अंत रांझे नूं हीर परना देणी, कोयी रोज़ दी इह प्राहुनी है ।
वारिस शाह ना जाणदी मैं कमली, ख़ुरश शेर दी गधे नूं डाहुनी है ।

(लबे-गोर=मरन तक्क, ख़ुरश=खुराक)

215. काज़ी

कुरब विच्च दरगाह दा तिन्न्हां नूं है, जेहड़े हक्क दे नाल निकाहियनगे ।
माउं बाप दे हुकम दे विच्च चल्ले, बहुत ज़ौक दे नाल विवाहियनगे ।
जेहड़े शर्हा नूं छड्ड बेहुकम होए, विच्च हावीए जोज़ख़े लाहियनगे ।
जेहड़े हक्क दे नाल प्यार वंडन, अट्ठ बहशत भी उहनां नूं चाहियनगे ।
जेहड़े नाल तकब्बरी आकड़नगे, वांग ईद दे बक्करे ढाहियनगे ।
तन पाल के जिन्हां ख़ुद-रूयी कीती, अग्गे अग्ग दे आकबत डाहियनगे ।
वारिस शाह मियां जेहड़े बहुत स्याणे, काउं वांग पलक विच्च फाहियनगे ।

(कुरब=नेड़ता, तकब्बरी=गरूर,हंकार, ख़ुदरूई=गरूर,घुमंड)

216. हीर

जेहड़े इक्क दे नांउं ते महव होए, मनज़ूर खुदा दे राह दे ने ।
जिन्हां सिदक यकीन तहकीक कीता, मकबूल दरगाह अल्लाह दे ने ।
जिन्हां इक्क दा राह दरुसत कीता, तिन्न्हां फ़िकर अन्देसड़े काह दे ने ।
जिन्हां नाम महबूब दा विरद कीता, ओ साहब मरतबा जाह दे ने ।
जेहड़े रिशवतां खाय के हक्क रोड़्हन, ओह चोर उचक्कड़े राह दे ने ।
इह कुरान मजीद दे मायने ने, जेहड़े शियर मियां वारिस शाह दे ने ।

(तहकीक=भाल, विरद कीता=जप्या)

217. काज़ी दा स्यालां नूं उत्तर

काज़ी आख्या इह जे रोड़ पक्का, हीर झगड़्यां नाल ना हारदी है ।
ल्याउ पड़्हो नकाह मूंह बन्न्ह इसदा, किस्सा गोयी फ़साद गुज़ारदी है ।
छड्ड मसजिदां दायर्यां विच्च वड़दी, छड्ड बक्करियां सूरियां चारदी है ।
वारिस शाह मधानी है हीर जट्टी, इशक दहीं दा घ्यु नितारदी है ।

(किस्सा गो=कहाणियां घड़न वाली, दायर्यां विच्च वड़दी=चंगे कंम
छड के बुरे पासे लग्गी)

218. काज़ी वल्लों निकाह करके हीर नूं खेड़्यां नाल तोर देणा

काज़ी पड़्ह निकाह ते घत्त डोली, नाल खेड़्यां दे दित्ती टोर मियां ।
तेवर ब्युरां नाल जड़ाऊ गहणे, दम दौलतां निअमतां होर मियां ।
टमक महीं ते घोड़े उठ दित्ते, गहना पत्तरा ढग्गड़ा ढोर मियां ।
हीर खेड़्यां नाल ना टुरे मूले, प्या पिंड दे विच्च है शोर मियां ।
खेड़े घिन्न के हीर नूं रवां होए, ज्युं माल नूं लै वगे चोर मियां ।

(दम=दाम,पैसे, पत्तर=सोने दा पत्तरा, जदों लोड़ पवे तां इस दा
जो मरज़ी बणवा लवो, रवां होए=तुर पए)

219. रांझे बिनां गाईआं मझ्झां दा काबू ना आउणा

महीं टुरन ना बाझ रंझेटड़े दे, भूहे होइके पिंड भजायउ ने ।
पुट्ट झुग्गियां लोकां नूं ढुड्ड मारन, भांडे भन्न के शोर घतायउ ने ।
चौर चायके बूथियां उतांह करके, शूकाट ते धुंमला लायउ ने ।
लोकां आख्या रांझे दी करो मिन्नत, पैर चुंम के आण जगायउ ने ।
चशमा पैर दी ख़ाक दा ला मत्थे, वांग सेवकां सख़ी मनायउ ने ।
भड़थू मार्यु ने दवाले रांझने दे, लाल बेग दा थड़ा पुजायउ ने ।
पकवाल ते पिन्निया रक्ख अग्गे, भोलू राम नूं खुशी करायउ ने ।
मगर महीं दे छेड़ के नाल शफ़कत, सिर टमक चा चवायउ ने ।
वाहो दाही चले रातो रात खेड़े, दिंहु जायके पिंड चड़्हायउ ने ।
दे चूरी ते खिचड़ी दियां सत्त बुरकां, नढा देवरा गोद बहायउ ने ।
अग्गों लैन आईआं सईआं वहुटड़ी नूं, 'जे तूं आंदड़ी वे वीर्या' गायउ ने ।
सिरों लाह टमक भूरा खस्स लीता, आदम बहशत थीं कढ्ढ त्राहउ ने ।
वारिस शाह मियां वेख कुदरतां नी, भुखा जन्नतों रूह कढायउ ने ।

(चौर=पूछ, भोलू राम=भोले नाथ,बेगुनाह बच्चा, शफ़कत=मेहरबानी,
प्यार)

220. हीर ने रांझे नूं केहा

लै वे रांझ्या वाह मैं ला थक्की, साडे वस्स थीं गल्ल बेवस्स होयी ।
काज़ी माप्यां ज़ालमां बन्न्ह टोरी, साडी तैंदड़ी दोसती भस्स होयी ।
घर खेड़्यां दे नहीं वस्सना मैं साडी उन्हां दे नाल ख़रख़स्स होयी ।
जाह जीवांगी मिलांगी रब मेले, हाल साल तां दोसती बस्स होयी ।
लग्गा तीर जुदायी दा मियां वारिस, साडे विच कलेजड़े धस्स होयी ।

(भस्स=मिट्टी, ख़रख़स्स=लड़ायी झगड़ा, हाल साल=इस वेले)

221. रांझे दा उत्तर

जो कुझ्झ विच्च रज़ाय दे लिख छुट्टा, मूंहों बस्स ना आखीए भैड़ीए नी ।
सुंञा सक्खना चाक नूं रक्ख्योुई, मत्थे भौरीए चन्दरीए बहड़ीए नी ।
मंतर कील ना जाणीए डूमने दा, ऐवें सुत्तड़े नाग ना छेड़ीए नी ।
इक्क यार दे नां ते फ़िदा होईए, महुरा दे के इक्के नबेड़ीए नी ।
दग़ा देवना ई होवे जेहड़े नूं, पहले रोज़ ही चा खदेड़ीए नी ।
जे ना उतरीए यार दे नाल पूरे, एडे पिट्टने ना सहेड़ीए नी ।
वारिस शाह जे प्यास ना होवे अन्दर, शीशे शरबतां दे नाहीं छेड़ीए नी ।

(सुंञां सक्खणा=ख़ाली, मत्थे भौरी वाली=भैड़ी किसमत वाली, फ़िदा=
कुरबान, पूरा ना उतरना=वफा ना करनी;
पाठ भेद:
वारिस शाह जे प्यास ना होवे अन्दर, शीशे शरबतां दे नाहीं छेड़ीए नी=
वारिस तोड़ निभावनी दस्स सानूं, नहीं देइ जवाब चाय टोरीए नी)

222. हीर दा उत्तर

तैनूं हाल दी गल्ल मैं लिख घल्लां, तुरत होइ फ़कीर तैं आवना ई ।
किसे जोगी थे जायके बणीं चेला, सवाह लायके कन्न पड़ावना ई ।
सभ्भा ज़ात सिफ़ात बरबाद करके, अते ठीक तैं सीस मुनावना ई ।
तूं ही जींवदा दीदना दएं सानूं, असां वत्त ना ज्युंद्यां आवना ई ।

(दीदना=दीदार, वत्त=फिर)

223. रांझे ने स्यालां नूं गाल्हां कढ्ढणियां

रांझे आख्या स्याल गल गए सारे, अते हीर वी छड ईमान चल्ली ।
सिर हेठां कर ल्या फेर महर चूचक, जदों सत्थ विच्च आण के गल्ल हल्ली ।
धियां वेचदे कौल ज़बान हारन, महराब मत्थे उत्ते धौन चल्ली ।
यारो स्यालां दियां दाड़्हियां वेखदे हो, जेहा मुंड मंगवाड़ दी मसर पली ।
वारिस शाह मियां धी सोहनी नूं, गल विच्च चा पांवदे हैन टल्ली ।

(कौल ज़बान हारन=मुक्कर जावन, मुंड मंगवाड़ दी मसर पली=
जिवें पशूआं ने पले होए मसर खा के रड़े कर दित्ते होन)

224. तथा

यारो जट्ट दा कौल मनज़ूर नाहीं, ग़ोज़ शुतर है कौल गुसताईआं दा ।
पत्तां होन इक्की जिस जट ताईं, सोयी असल भरा है भाईआं दा ।
जदों बहन अरूड़ी ते अकल आवे, जिवें खोतड़ा होवे गुसाईआं दा ।
सिरों लाह के चित्तड़ां हेठ दिन्दे, मज़ा आवनै तदों सफ़ाईआं दा ।
जट्टी जट दे सांग 'ते होन राज़ी, फड़े मुग़ल ते वेस गीलाईआं दा ।
धियां देणियां करन मुसाफ़रां नूं वेचन, होर धरे माल जवाईआं दा ।
वारिस शाह ना मुहतबर जाणना जे, कौल जट्ट सुन्यार कसाईआं दा ।

(ग़ोज़ शुतर=उठ दा पद्द, गुसताई=गंवार,पेंडू, अरूड़ी=रूड़ी,ढेर,
गुसाईं=सन्यासी, गीलाई=गीलानी)

225. तथा

पैंचां पिंड दियां सच्च थीं तरक कीता, काज़ी रिशवतां मार के कोर कीते ।
पहलां होरनां नाल इकरार करके, तुअमा वेख दामाद फिर होर कीते ।
गल्ल करीए ईमान दी कढ्ढ छड्डन, पैंच पिंड दे ठग ते चोर कीते ।
अशराफ़ दी गल्ल मनज़ूर नाहीं, चोर चौधरी अते लंडोर कीते ।
काउं बाग़ दे विच्च कलोल करदे, कूड़ा फोलने दे उते मोर कीते ।
ज़ोरो ज़ोर व्याह लै गए खेड़े, असां रो बहुते रड़े शोर कीते ।
वारिस शाह जो अहल ईमान आहे, तिन्न्हां जा डेरे विच्च गोर कीते ।

(वेस=भेस, कोर=अन्न्हे, तुअमा=मास दा टुकड़ा जेहड़ा बाज़ दे मूंह
नूं सुआद लई लाउंदे हन, अशराफ=शरीफ दा बहु-वचन,भलामाणस,
लंडोर=लंडर,बदमाश, अहले ईमान=ईमान वाले लोक, गोर=कबर)

226. तथा

यारो ठग्ग स्याल तहकीक जाणो, धियां ठग्गणियां सभ सिखांवदे जे ।
पुत्तर ठग्ग सरदारां दे मिट्ठ्यां हो, उहनूं महीं दा चाक बणांवदे जे ।
कौल हार ज़बान दा साक खोहन, चा पैवन्द हन होर धिर लांवदे जे ।
दाड़्ही शेख़ दी छुरा कसाईआं दा, बैठ पर्हे विच्च पैंच सदांवदे जे ।
जट्ट चोर ते यार तिराह मारन, डंडी मोंहदे ते सन्न्हां लांवदे जे ।
वारिस शाह इह जट्ट ने ठग्ग सभ्भे, तरी ठग्ग ने जट्ट झन्हां दे जे ।

(तहकीक=सच्च, पैवन्द=जोड़,रिशता, तिराह=तिन्न राह, डंडी
मोहणा=राह विच्च राही लुट्टणे, तरी ठग=महां ठग्ग)

227. तथा

डोगर जट्ट ईमान नूं वेच खांदे, धियां मारदे ते पाड़ लांवदे जे ।
तरक कौल हदीस दे नित करदे, चोरी यारियां व्याज कमांवदे जे ।
जेहे आप थीवन तेहियां औरतां ने, बेटे बेटियां चोरियां लांवदे जे ।
जेहड़ा चोर ते राहज़न होवे कोई, उस दी वड्डी तारीफ़ सुणांवदे जे ।
जेहड़ा पड़्हे नमाज़ हलाल खावे, उहनूं मेहना मशकरी लांवदे जे ।
मूंहों आख कुड़माईआं खोह लैंदे, वेखो रब्ब ते मौत भुलांवदे जे ।
वारिस शाह मियां दो दो ख़सम देंदे, नाल बेटियां वैर कमांवदे जे ।

(तरक करदे=छड्ड दिन्दे, पाड़ लाउंदे=कंध पाड़ के चोरी करदे,
तेहियां=उसे तर्हां दियां)

228. हीर दे गाने दी रसम

जदों गानड़े दे दिन आण पुग्गे, लस्सी मुन्दरी खेडने आईआं ने ।
पयी धुम केहा गानड़े दी, फिरन खुशी दे नाल सवाईआं ने ।
सैदा लाल पीहड़े उते आ बैठा, कुड़ियां वहुटड़ी पास बहाईआं ने ।
पकड़ हीर दे हत्थ परात पाए, बाहां मुरद्यां वांग पलमाईआं ने ।
वारिस शाह मियां नैणां हीर द्यां, वांग बद्दलां झम्बरां लाईआं ने ।

(लस्सी मुन्दरी=व्याह दी इक्क रसम, झुम्बरां=छहबरां,झड़ियां)

229. हीर दे जान पिच्छों रांझा हैरान ते भाबियां दा ख़त

घर खेड़्यां दे जदों हीर आई, चुक गए तगादड़े अते झेड़े ।
विच्च स्यालां दे चुप चांग होई, अते ख़ुशी हो फिरदे ने सभ खेड़े ।
फ़ौजदार तग़ई्ईयर हो आण बैठा, कोयी ओस दे पास ना पाए फेरे ।
विच्च तख़त हज़ारे दे होन गल्लां, अते रांझे दियां भाबियां करन झेड़े ।
चिट्ठी लिख के हीर दी उज़रख़ाही, जिवें मोए नूं पुछीए हो नेड़े ।
होयी लिखी रज़ा दी रांझ्या वे, साडे अल्लड़े घा सन तूं उचेड़े ।
मुड़ के आ ना विगड़्या कंम तेरा, लटकन्दड़ा घरीं तूं पा फेरे ।
जेहड़े फुल्ल दा नित्त तूं रहें राखा, ओस फुल्ल नूं तोड़ लै गए खेड़े ।
जैंदे वासते फिरें तूं विच्च झल्लां, जित्थे बाघ बघेले ते शींह बेड़्हे ।
कोयी नहीं वसाह कंवारियां दा, ऐवें लोक निकंमड़े करन झेड़े ।
तूं तां मेहनतां सैं दिंहु रात करदा, वेख कुदरतां रब्ब दियां कौन फेरे ।
योस जूह विच्च फेर ना पीन पाणी, खुस जान जां खप्परां मूंहों हेड़े ।
कलस ज़री दा चाड़्हीए जा रोज़े, जिस वेलड़े आण के वड़ें वेहड़े ।
वारिस शाह इह नज़र सी असां मन्नी, ख़ुआजा ख़िज़र चिराग़ दे लए पेड़े ।

(चुक्क गए=मुक्क गए, तगादड़े=तकाज़े,झगड़े, तग़ई्ईअर=बदली,
उज़रख़ाही=मुआफी चाहुन दा भाव, रज़ा=किसमत, बेड़्हे=बघ्याड़,
खुस्स जाण=खोह लए जान, खप्पर=कासा, हेड़े=शिकारी, चिराग़=दीवा)

230. रांझे दा उत्तर

भाबी ख़िज़ां दी रुत्त जां आण पुन्नी, भौर आसरे ते पए जालदे नी ।
सेवन बुलबुलां बूट्यां सुक्क्यां नूं, फेर फुल्ल लग्गन नाल डालदे नी ।
असां जदों कदों उन्हां पास जाणा, जेहड़े महरम असाडड़े हाल दे नी ।
जिन्हां सूलियां 'ते लए जाय झूटे, मनसूर होरीं साडे नाल दे नी ।
वारिस शाह जो गए सो नहीं मुड़दे, लोक असां थों आवना भालदे नी ।

(ख़िज़ां=पत्तझड़, पुन्नी=पुज्जी, जालदे ने=गुज़ारा करदे हन)

231. तथा

मौजू चौधरी दा पुत्त चाक लग्गा, इह पेखने जल्ल-जलाल दे नी ।
एस इशक पिच्छे मरन लड़न सूरे, सफ़ां डोबदे खूहणियां गालदे नी ।
भाबी इशक थों नस्स के उह जांदे, पुत्तर होन जो किसे कंगाल दे नी ।
मारे बोलियां दे घरीं नहीं वड़दे, वारिस शाह होरीं फिरन भालदे नी ।

(पेखणे=नज़ारे, जल्ल-जलाल=महान अते जलाल वाला,रब्ब, कंगाल=
कमीना)

232. रांझा जग्ग दी रीत बारे

गए उमर ते वकत फिर नहीं मुड़दे, गए करम ते भाग ना आंवदे नी ।
गयी गल्ल ज़बान थीं तीर छुट्टा, गए रूह कलबूत ना आंवदे नी ।
गयी जान जहान थीं छड्ड जुस्सा, गए होर स्याने फ़रमांवदे नी ।
मुड़ एतने फेर जे आंवदे नी, रांझे यार होरीं मुड़ आंवदे नी ।
वारिस शाह मियां सानूं कौन सद्दे, भायी भाबियां हुनर चलांवदे नी ।

(कलबूत=सरीर, हुनर चलाउणा=चलाकी करना)

233. तथा

अग्गे वाहीउं चा गवायउ ने, हुन इशक थीं चा गवांवदे ने ।
रांझे यार होरां एहा ठाठ छड्डी, किते जायके कन्न पड़ांवदे ने ।
इक्के आपनी जिन्द गवांवदे ने, इक्के हीर जट्टी बन्न्ह ल्यांवदे ने ।
वेखो जट्ट हुन फंध चलांवदे ने, बण चेलड़े घोन हो आंवदे ने ।

(बन्न्ह ल्याउणी=व्याह ल्याउनी)

234. हीर दे सौहर्यां दी सलाह

मसलत हीर द्यां सौहर्यां इह कीती, मुड़ हीर ना पेईअड़े घल्लनी जे ।
मत चाक मुड़ चम्बड़े विच्च स्यालां, इह गल्ल कुसाख दी चल्लनी जे ।
आख़र रन्न दी ज़ात बेवफ़ा हुन्दी, जाय पेईअड़े घरीं इह मल्लनी जे ।
वारिस शाह दे नाल ना मिलन दीजे, इह गल्ल ना किसे उथल्लनी जे ।

(पेईअड़े=पेकीं, कुसाख=बेभरोसगी, उथल्लणी=उलटाउणी, मल्लणी=
पहलवाननी)

235. इक्क वहुटी हत्थ हीर दा सुनेहा

इक्क वहुटड़ी साहवरे चल्ली स्यालीं, आई हीर थे लै सनेहआं नूं ।
तेरे पेईअड़े चली हां देह गल्लां, खोल्ह किस्स्यां जेहआं केहआं नूं ।
तेरे सहुर्यां तुध प्यार केहा, करो गरम सुनेहआं बेहआं नूं ।
तेरी गभ्भरू नाल है बनी केही, वहुटियां दसदिया ने असां जेहआं नूं ।
हीर आख्या ओस दी गल्ल ऐवें, वैर रेशमां नाल ज्युं लेहआं नूं ।
वारिस काख़ ते अलिफ़ ते लाम बोले, की आखना एहआं तेहआं नूं ।

(लेहा=ऊनी कप्पड़े नूं खान वाला किरम, कंड्याली बूटी जो कप्पड़े
नूं चम्बड़ जांदी है)

236. हीर दा सुनेहा

हत्थ बन्न्ह के गल विच्च पा पल्ला, कहीं देस नूं दुआ सलाम मेरा ।
घुट वैरियां दे वस्स पायउ ने, सईआं चाय विसार्या नाम मेरा ।
मझो वाह विच्च डोब्या माप्यां ने, ओहनां नाल नाहीं कोयी काम मेरा ।
हत्थ जोड़ के रांझे दे पैर पकड़ीं, इक्क एतना कहीं पैग़ाम मेरा ।
वारिस नाल बेवारिसां रहम कीजे, मेहरबान हो के आउ शाम मेरा ।

(हत्थ जोड़, गल विच्च पा पल्ला=पूरे अदब सतिकार नाल, घुट=गल
घुट के, शाम=कृष्ण, जिस दा रंग काला सी)

237. हीर नूं रांझे दी तलब

तरुट्टे कहर कलूर सिर तत्तड़ी दे, तेरे बिरहा फ़िराक दी कुठियां मैं ।
सुंञी तराट कलेजड़े विच्च धानी ,नहीं ज्युना मरन ते उट्ठियां मैं ।
चोर पौन रातीं घर सुत्त्यां दे, वेखो देहें बाज़ार विच्च मुट्ठियां मैं ।
जोगी होइके आ जे मिले मैनूं, किसे अम्बरों मेहर दीउं तरुट्ठियां मैं ।
नहीं छड घर बार उजाड़ वैसां, नहीं वस्सना ते नाहीं वुट्ठियां मैं ।
वारिस शाह परेम दियां छटियां ने, मार फट्टियां जुट्टियां कुट्ठियां मैं ।

(तरुटे=टुट पए, कहर कलूर=वड्डी मुसीबत, बिरहा फ़िराक=जुदाई,
उट्ठियां=त्यार, फट्टियां=ज़खमी कीतियां, जुट्टियां=कस्स के बन्न्ही होयी हां)

238. वहुटी दी पुच्छ गिच्छ

वहुटी आण के साहुरे वड़ी जिस दिन, पुच्छे चाक स्यालां दा केहड़ा नी ।
मंगू चारदा सी जेहड़ा चूचके दा, मुंडा तख़त हज़ारे दा जेहड़ा नी ।
जेहड़ा आशकां विच्च मशहूर रांझा, सिर ओस दे इशक दा सेहरा नी ।
किते दायरे इक्के मसीत हुन्दा, कोयी ओस दा किते है वेहड़ा नी ।
इशक पट्ट तरट्टियां गालियां ने, उज्जड़ गईआं दा वेहड़ा केहड़ा नी ।

(पट्टे तरट्टे=बरबाद कीते)

239. स्यालां दियां कुड़ियां

कुड़ियां आख्या छैल है मस्स भिन्ना, छड्ड बैठा है जग दे सभ झेड़े ।
सट्ट वंझली अहल फ़कीर होया, जिस रोज़ दे हीर लै गए खेड़े ।
विच्च बेल्यां कूकदा फिरे कमला, जित्थे बाघ बघेले ते शींह बेड़्हे ।
कोयी ओस दे नाल ना गल्ल करदा, बाझ मंतरों नाग नूं कौन छेड़े ।
कुड़ियां आख्या जाउ विलाउ उस नूं, किवें घेर के मांदरी करो नेड़े ।

(विलाउ=घर ल्याउ)

240. कुड़ियां उहनूं रांझे कोल लै गईआं

कुड़ियां जाय विलायआ रांझने नूं, फिरे दुख ते दरद दा लद्द्या ई ।
आ घिन सुनेहड़ा सज्जणां दा, तैनूं हीर स्याल ने सद्द्या ई ।
तेरे वासते माप्यां घरों कढ्ढी, असां साहुरा पेईअड़ा रद्द्या ई ।
तुध बाझ नहीं ज्युना होग मेरा, विच्च स्यालां दे ज्यु क्युं अड्या ई ।
झब्ब हो फ़कीर ते पहुंच मैंथे, ओथे झंडड़ा कास नूं गड्ड्या ई ।
वारिस शाह इस इशक दी नौकरी ने, दंमां बाझ ग़ुलाम कर छड्ड्या ई ।
आ घिन=लै जा, दंमां बाझ ग़ुलाम=बिन तनखाह दे नौकर)


241. रांझे ने हीर नूं चिट्ठी लिखवाई

मीएं रांझे ने मुल्लां नूं जा केहा, चिट्ठी लिखो जी सज्जणां प्यार्यां नूं ।
तुसां साहुरे जा आराम कीता, असीं ढोए हां सूल अंग्यार्यां नूं ।
अग्ग लग्ग के ज़िमीं असमान साड़े, चा लिक्खां जे दुखड़्यां सार्यां नूं ।
मैथों ठग के महीं चराय लईउं, रन्नां सच्च ने तोड़दियां तार्यां नूं ।
चाक होके वत्त फ़कीर होसां, केहा मार्यु असां विचार्यां नूं ।
गिला लिखो जे यार ने लिख्या ए सज्जन लिखदे जिवें प्यार्यां नूं ।
वारिस शाह ना रब्ब बिन टांग काई, किवें जित्तीए मामल्यां हार्यां नूं ।

(ढोए=लागे,नेड़े, टांग=सहारा,आसरा)

242. तथा

तैनूं चा सी वड्डा व्याह वाला, भला होया जे झब्ब वहीजीएं नी ।
ऐथों निकल गईएं बुरे देहां वांगूं, अंत साहुरे जा पतीजीएं नी ।
रंग रत्तीए वहुटीए खेड़्यां दीए, कैदो लंङे दी साक भतीजीएं नी ।
चुलीं पा पानी दुक्खां नाल पाली, करम सैदे दे माप्यां बीजीएं नी ।
कासद जायके हीर नूं ख़त दित्ता, इह लै चाक दा लिख्या लीजीएं नी ।

(देहां=दिनां, रंग रत्तीए=ग्रेहसथ दियां मौजां मानन वल संकेत है)

243. उत्तर हीर

तेरे वासते बहुत उदास हां मैं, रब्बा मेल तूं चिरीं विछुन्न्यां नूं ।
हत्थीं माप्यां दित्ती सां ज़ालमां नूं, लग्गा लून कलेज्यां भुन्न्यां नूं ।
मौत अते संजोग ना टले मूले, कौन मोड़दा साहआं पुन्न्यां नूं ।
जोगी होइके आ तूं सज्जणां वो, कौन जाणदा जोगियां मुन्न्यां नूं ।
किसे तत्तड़े वकत सी नेहुं लग्गा, वारिस बीज्या दाण्यां भुन्न्यां नूं ।

(चिरीं विछुन्ने=देर दे विछड़े, साहआं पुन्न्यां नूं=वकत पूरा होए नूं)

244. तथा

कायद आबखोर दे खिच्ची वांग किसमत, कोइल लंक दे बाग़ दी गई दिल्ली ।
मैना लई बंगालिओं चाक कमले, खेड़ा प्या अज़ग़ैब दी आण बिल्ली ।
चुसती आपनी पकड़ ना हार हिंमत, हीर नाहीउं इशक दे विच्च ढिल्ली ।
कोयी जायके पकड़ फ़कीर कामिल, फ़कर मारदे विच्च रज़ा किल्ली ।
वारिस शाह मसतानड़ा हो लल्ल्ही, सेल्ही गोदड़ी बन्न्ह हो शेख़ चिल्ली ।

(कायद=काफले दा सरदार,लीडर, आबखोरा=दाना पाणी,किसमत,
मारदे रज़ा विच्च किल्ली=रेख विच्च मेख मारदे, लल्ल्ही=गोदड़ी पहनण
वाला फ़कीर,कमला)

245. हीर दी चिट्ठी

दित्ती हीर लिखायके इह चिट्ठी, रांझे यार दे हत्थ लै जा देनी ।
किते बैठ निवेकला सद्द मुल्लां, सारी खोल्ह के बात सुना देनी ।
हत्थ बन्न्ह के मेर्यां सज्जणां नूं, रो रो सलाम दुआ देनी ।
मर चुक्कियां जान है नक्क उते, हिक्क वार जे दीदना आ देनी ।
खेड़े हत्थ ना लांवदे मंजड़ी नूं, हत्थ लायके गोर विच्च पा देनी ।
कख हो रहियां ग़मां नाल रांझा, एह चिनग लै जायके ला देनी ।
मेरा यार हैं तां मैथे पहुंच मियां, कन्न रांझे दे एतनी पा देनी ।
मेरी लईं निशानड़ी बांक छल्ला, रांझे यार दे हत्थ लिजा देनी ।
वारिस शाह मियां ओस कमलड़े नूं, ढंग ज़ुलफ़ ज़ंजीर दी पा देनी ।

(दीदना=देखणा,कख=तीला, चिणग=चंग्याड़ी,अग्ग)

246. तथा

अग्गे चूंडियां नाल हंढायआ ई ज़ुलफ़ कुंडलांदार हुन वेख मियां ।
घत कुंडली नाग स्याह पलमे, वेखे उह भला जिस लेख मियां ।
मले वटना लोड़्ह दन्दासड़े दा, नैन ख़ूनियां दे भरन भेख मियां ।
आ हुसन दी दीद कर वेख ज़ुलफ़ां, ख़ूनी नैणां दे भेख नूं देख मियां ।
वारिस शाह फ़कीर हो पहुंच मैंथे, फ़कर मारदे रेख विच्च मेख मियां ।

(चूंडियां=लंमे वाल, कुंडली=चक्कर,वल, लेख=किसमत)

247. हीर दी चिट्ठी कासद रांझे कोल ल्याया

कासद आण रंझेटे नूं खत दित्ता, नढी मोयी है नक्क ते जान आई ।
कोयी पा भुलावड़ा ठग्योई, सिर घत्त्यु चा मसान मियां ।
तेरे वासते रात नूं गिने तारे, किशती नूह दी विच्च तूफान मियां ।
इक्क घड़ी आराम ना आउंदा ई केहा ठोक्यु प्रेम दा बान मियां ।
तेरा नांउं लै के नढ्ढी ज्युंदी है, भावें जान ते भावें ना जान मियां ।
मूंहों रांझे दा नाम जां कढ्ढ बहन्दी, ओथे नित पौंदे घमसान मियां ।
रातीं घड़ी ना सेज ते मूल सौंदी, रहे लोग बहुतेरड़ा रान मियां ।
जोगी होइके नगर विच्च पा फेरा, मौजां नाल तूं नढ्ढड़ी मान मियां ।
वारिस शाह मियां सभो कंम हुन्दे, जदों रब्ब हुन्दा मेहरबान मियां ।

(नक्क ते जान=मरन कंढे, भुलावड़ा=भुलेखा, राण=कह रहे)

248. रांझे दी उत्तर लई फ़रमायश

चिट्ठी नाउं तेरे लिखी नढ्ढड़ी ने, विच्चे लिखे सू दरद फ़िराक सारे ।
रांझा तुरत पड़्हायके फरश होया, दिलों आह दे ठंडड़े साह मारे ।
मियां लिख तूं दरद फ़िराक मेरा, जेहड़ा अम्बरों सुटदा तोड़ तारे ।
घा लिख जो दिले दे दुखड़े दे, लिखन प्यार्यां नूं जिवें यार प्यारे ।

(फरश होया=धरती ते लेट ग्या)

249. रांझे दा उत्तर लिखणा

लिख्या इह जवाब रंझेटड़े ने, जदों जीऊ विच्च ओस दे शोर पए ।
ओसे रोज़ दे असीं फ़कीर होए, जिस रोज़ दे हुसन दे चोर होए ।
पहले दुआ सलाम प्यार्यां नूं, मझो वाह फ़िराक दे बोड़ होए ।
असां जान ते माल दरपेश कीता, अट्टी लग्गड़ी प्रीत नूं तोड़ गए ।
साडी ज़ात सिफ़ात बरबाद करके, लड़ खेड़्यां दे नाल जोड़ गए ।
आप हस्स के साहुरे मल्ल्योने, साडे नैणां दा नीर नखोड़ गए ।
आप हो महबूब जा सतर बैठे, साडे रूप दा रसा नचोड़ गए ।
वारिस शाह मियां मिलियां वाहरां थों, धड़वैल वेखो ज़ोरो ज़ोर गए ।

(दरपेश कीता=हाज़र कर दित्ता, अट्टी=पक्की, सूत दी अट्टी
वांगू इक्क दूजी विच्च फसायी होई, अट्टियां नूं आपो विच फसाउण
दा इक्क खास ढंग हुन्दा है अते उह सौख्यां जुदा नहीं हुन्दियां,
नखोड़ गए=खतम कर गए )

250. उत्तर रांझे वल्लों

साडी ख़ैर है चाहुन्दे ख़ैर तैंडी, फिर लिखो हकीकतां सारियां जी ।
पाक रब्ब ते पीर दी मेहर बाझों, कट्टे कौन मुसीबतां भारियां जी ।
मौजू चौधरी दे पुत चाक हो के, चूचक स्याल दियां खोलियां चारियां जी ।
दग़ा दे के आप चड़्ह जान डोली, चंचल-हारियां इह कवारियां जी ।
सप्प रस्सियां दे करन मार मंतर, तारे देंदियां ने हेठ खारियां जी ।
पेके जट्टां नूं मार फ़कीर करके, लैद साहुरे जाय घुमकारियां जी ।
आप नाल सुहाग दे जा रुप्पन, पिच्छे ला जावन पुचकारियां जी ।
सरदारां दे पुत्तर फ़कीर करके, आप मल्लदियां जां सरदारियां जी ।
वारिस शाह ना हारदियां असां कोलों, राजे भोज थीं इह ना हारियां जी ।

(चंचल-हारियां=चलाक, खारी=टोकरी, घुंमकारी=चरखे दी आवाज़,
रुप्पण=रुझ्झ जान, खारियां=टोकरे)

251. रांझा आपने दिल नाल

रांझे आख्या लुट्टीं दी हीर दौलत, जरम गालीए तां उहनूं जा लईए ।
उह रब्ब दे नूर दा ख़वान यग़मा शुहदे होइके रंग वटा लईए ।
इक्क होवना रहआ फ़कीर मैथों, रहआ एतना वस सो ला लईए ।
मक्खन पाल्या चीकना नरम पिंडा, ज़रा ख़ाक दे विच्च रमा लईए ।
किसे जोगी थीं सिक्खीए सेहर कोई, चेले होइके कन्न पड़वा लईए ।
अग्गे लोकां दे झुगड़े बाल सेके, ज़रा आपने नूं चिनग ला लईए ।
अग्गे झंग स्यालां दा सैर कीता, ज़रा खेड़्यां नूं झोक ला लईए ।
ओथे ख़ुदी गुमान मनज़ूर नाहीं, सिर वेचीए तां भेत पा लईए ।
वारिस शाह महबूब नूं तदों पाईए, जदों आपना आप गवा लईए ।

(जरम=जनम, ख़ान यग़मा=सदा बरत, सेहर=जादू, झोक=आरज़ी डेरा)

252. रांझे दा जोगी बनन दा इरादा

बुझी इशक दी अग्ग नूं वाउ लग्गी, समां आया है शौक जगावने दा ।
बालनाथ दे टिल्ले दा राह फड़्या, मता जाग्या कन्न पड़ावने दा ।
पटे पाल मलाईआं नाल रक्खे, वकत आया है रगड़ मुनावने दा ।
जरम करम त्याग के ठान बैठा, किसे जोगी दे हत्थ विकावने दा ।
बुन्दे सोइने दे लाह के चाय चड़्हआ, कन्न पाड़ के मुन्दरां पावने दा ।
किसे ऐसे गुरदेव दी टहल करीए, सेहर दस्स दे रन्न खिसकावने दा ।
वारिस शाह मियां इन्हा आशकां नूं, फ़िकर ज़रा ना जिन्द गवावने दा ।

(मता जाग्या=इरादा होया)

253. रांझे दा होका

होका फिरे दिन्दा पिंडां विच्च, सारे आउ किसे फ़कीर जे होवना जे ।
मंग खावना कंम ना काज करना, ना को चारना ते ना ही चोवना जे ।
ज़रा कन्न पड़ायके सवाह मलणी, गुरू सारे ही जग्ग दा होवना जे ।
ना देहाड़ ना कसब रुज़गार करना, नाढू शाह फिर मुफ़त दा होवना जे ।
नहीं देनी वधायी फिर जंमदे दी, किसे मोए नूं मूल ना रोवना जे ।
मंग खावना अते मसीत सौणा, ना कुझ्झ बोवना ते ना कुझ्झ लोवना जे ।
नाले मंगना ते नाले घूरना ई देणदार ना किसे दा होवना जे ।
ख़शी आपनी उट्ठना मियां वारिस, अते आपनी नींद ही सोवना जे ।

(देहाड़=देहाड़ी करनी,मज़दूरी करनी, कसब=कंम, बोवणा=बीजणा,
लोवणा=वढना)

254. टिल्ले जाके जोगी नाल रांझे दी गल्ल बात

टिल्ले जायके जोगी दे हत्थ जोड़े, सानूं आपना करो फ़कीर साईं ।
तेरे दरस दीदार दे देखने नूं, आयां देस परदेस मैं चीर साईं ।
सिदक धार के नाल यकीन आया, असीं चेलड़े ते तुसीं पीर साईं ।
बादशाह सच्चा रब्ब आलमां दा, फ़कर ओस दे हैन वज़ीर साईं ।
बिनां मुरशदां राह ना हत्थ आवे, दुध बाझ ना होवे है खीर साईं ।
याद हक्क दी सबर तसलीम नेहचा, तुसां जग दे नाल की सीर साईं ।
फ़कर कुल जहान दा आसरा है, ताबेह फ़कर दी पीर ते मीर साईं ।
मेरा माउं ना बाप ना साक कोई, चाचा तायआ ना भैन ना वीर साईं ।
दुनियां विच्च हां बहुत उदास होया, पैरों साड्युं लाह ज़ंजीर साईं ।
तैनूं छड्ड के जां मैं होर किस थे, नज़र आंवदा ज़ाहरा पीर साईं ।

(नेहचा=यकीन, सीर=सांझेदारी, सांझ, थे=कित्थे,केहड़ी थां)

255. नाथ

नाथ देख के बहुत मलूक चंचल, अहल तब्हा ते सुहना छैल मुंडा ।
कोयी हुसन दी खान हुशनाक सुन्दर, अते लाडला माउं ते बाप सन्दा ।
किसे दुख तों रुस के उठ आया, इक्के किसे दे नाल पै ग्या धन्दा ।
नाथ आखदा दस्स खां सच्च मैंथे, तूं हैं केहड़े दुख फ़कीर हुन्दा ।

(अहल तबाअ=रूह वाला, हुशनाक=शुकीन, धन्दा=झगड़ा)

256. तथा

इह जग मकाम फ़नाह दा है, सभ्भा रेत दी कंध इह जीवना है ।
छाउं बद्दलां दी उमर बन्द्यां दी, अज़राईल ने पाड़ना सीवना है ।
अज्ज कल जहान दा सहज मेला, किसे नित्त ना हुकम ते थीवना है ।
वारिस शाह मियां अंत ख़ाक होणा, लख आबे-हआत जे पीवना है ।

257. तथा

हत्थ कंङना पहुंचियां फब रहियां, कन्नी छणकदे सुहने बुन्दड़े ने ।
मंझ पट दियां लुंगियां खेस उत्ते, सिर भिन्ने फुलेल दे जुंडड़े ने ।
सिर कुच्चके बारियांदार छल्ले, कज्जल भिन्नड़े नैन नचन्दड़े ने ।
खान पीन पहरन सिरों माप्यां दे, तुसां जहे फ़कीर क्युं हुन्दड़े ने ।

(कुच्चके=छोटे कुंडलदार वाल, नचन्दड़े=नचदे)

258. तथा

ख़ाब रात दा जग्ग दियां सभ गल्लां, धन माल नूं मूल ना झूरीए जी ।
पंज भूत विकार ते उदर पापी, नाल सबर संतोख दे पूरीए जी ।
उशन सीत दुख सुख समान जापे, जेहे शाल मशरू तहे भूरीए जी ।
भू आतमा वस रस कस त्यागे, ऐवें गुरू नूं काह वडूरीए जी ।

(पंज भूत=1. अग्ग, 2. पाणी, 3. मिट्टी, 4. हवा, 5. अकाश,
इन्न्हां विच्च ख़राबी नाल विकार जां ख़राबी पै जांदी है, उदर=पेट,
उशन=गरमी, सीत=ठंड,सरदी, समान=बराबर, मशरू=रेशम,
मुसलमान सर्हा विच रेशम पहनना मन्हा है पर उस विच्च कुझ्झ
सूती धागे पा लए जांदे हन ।एथे रेशम, गरम भूरा अते शाल नूं
बराबर जां इक्क समान जानन वल्ल इशारा है, वस, रस, कस=
दुख सुख, वडूरीए=बदनाम करना)

259. तथा

भोग भोगना दुध ते दहीं पीवें, पिंडा पाल के रात देहुं धोवना हैं ।
खरी कठन है फ़कर दी वाट झागन, मूंहों आख के काह विगोवना हैं ।
वाहें वंझली तरीमतां नित घूरें, गाईं महीं विलायके चोवना हंै ।
सच्च आख जट्टा कही बनी तैनूं, सवाद छड्ड के खेह क्युं होवना हैं ।

(भोग भोगणा=सुआद मानणे, वाट=राह, झागणा=तुरना, विगोवना=
नास करना)

260. रांझा

जोगी छड्ड जहान फ़कीर होए, एस जग्ग विच्च बहुत ख़वारियां ने ।
लैन देन ते दग़ा अन्यां करना, लुट घसुट ते चोरियां यारियां ने ।
उह पुरख निरबान पद जा पहुंचे, जिन्हां पंजे ही इन्दरियां मारियां ने ।
जोग देहो ते करो नेहाल मैनूं, केहियां जीऊ ते घुंडियां चाड़्हियां ने ।
एस जट ग़रीब नूं तार ओवें, जिवें अगलियां संगतां तारियां ने ।
वारिस शाह मियां रब शरम रक्खे, जग्ग विच्च मसीबतां भारियां ने ।

(निरबाण=निरवान, मुकती, जीऊ ते घुंढियां चाड़्हियां=नाराज़गी)

261. नाथ

महां देव थों जोग दा पंथ बण्यां, खरी कठन है जोग मुहंम मियां ।
कौड़ा बकबका सवाद है जोग सन्दा, जेही घोल के पीवनी निंम मियां ।
'जहां सुन समाध की मंडली है,' अते झूटना है रिंम झिंम मियां ।
तहां भसम लगायके भसम होणा, पेश जाए नाहीं गरब डिंम्ह मियां ।

(गरब=ग़रूर, डिंम्ह=फ़रेब,पखंड)

262. रांझा

तुसीं जोग दा पंथ बताउ सानूं, शौक जाग्या हरफ़ नगीन्यां दे ।
एस जोग दे पंथ विच्च आ वड़्यां, छुपन ऐब सवाब कमीन्यां दे ।
हरस अग्ग ते सबर दा पवे पाणी, जोग ठंड घत्ते विच्च सीन्यां दे ।
हक फ़कर ही रब दे रहन साबत, होर थिड़कदे अहल खज़ीन्यां दे ।
तेरे दवार ते आण मुहताज होए, असीं नौकर हां बाझ महीन्यां दे ।
तेरा होइ फ़कीर मैं नगर मंगां, छड्डां वायदे एन्हां रोज़ीन्यां दे ।

(सवाब=पुन्न, हिरस=लालच,तम्हां, अहल खज़ीना=खज़ाने दे मालक,
रोज़ीना=इक्क दिन दी मज़दूरी)

263. नाथ

एस जोग दे वायदे बहुत औखे, नाद अनहत ते सुन्न वजावना वो ।
जोगी जंगम गोदड़ी जटा धारी, मुंडी निरमला भेख वटावना वो ।
ताड़ी लायके नाथ दा ध्यान धरना, दसवें दवार है सास चड़्हावना वो ।
जंमे आए दा हरख़ ते सोग छड्डे, नहीं मोयां ग्यां पछोतावना वो ।
नाउं फ़कर दा बहुत आसान लैणा, खरा कठन है जोग कमावना वो ।
धो धायके जटां नूं धूप देणा, सदा अंग बिभूत रमावना वो ।
उद्यान वासी जती सती जोगी, झात इसतरी ते नाहीं पावना वो ।
लख ख़ूबसूरत परी हूर होवे, ज़रा जीऊ नाहीं भरमावना वो ।
कन्द मूल ते पोसत अफीम बिज्या, नशा खायके मसत हो जावना वो ।
जग ख़ाब ख्याल है सुपन मातर, हो कमल्यां होश भुलावना वो ।
घत्त मुन्दरां जंगलां विच्च रहणा, बीन किंग ते संख वजावना वो ।
जगन नाथ गोदावरी गंग जमना, सदा तीरथां ते जा न्हावना वो ।
मेले सिद्धां दे खेलणां देस पच्छम, नवां नाथां दा दरशन पावना वो ।
काम करोध ते लोभ हंकार मारन, जोगी ख़ाक दर ख़ाक हो जावना वो ।
रन्नां घूरदा गांवदा फिरें वहशी, तैनूं औख़ड़ा जोग कमावना वो ।
वारिस जोग है कंम निरास्यां दा ,तुसां जट्टां की जोग थों पावना वो ।

(अनहत नाद=बिना फूक मारे वज्जन वाला नरसिंगा, जंगम=घंटी
वजाउन वाले, मुंडी=घोन मोन, निरमला=साधां दा इक्क पंथ, हरख=
ख़ुशी, उद्यान वासी=शहर तों दूर जंगल विच्च डेरा लाउन वाले,
रमावणा=लाउणा, कन्द मूल=जड़्हां आदि, बिज्या=भंग,सुक्खा,
निरासे=बेआसे,नाउमीद)

264. रांझा

तुसां बख़शना जोग तां करो किरपा, दान करद्यां ढिल नाल लोड़ीए जी ।
जेहड़ा आस करके डिग्गे आण दवारे, जीऊ ओस दा चा ना तोड़ीए जी ।
सिदक बन्न्ह के जेहड़ा चरन लग्गे, पार लाईए विच्च ना बोड़ीए जी ।
वारिस शाह मियां जैंदा कोयी नाहीं, मेहर ओस थों ना विछोड़ीए जी ।

(जैंदा=जिसदा, दवारे आ डिग्गे=दर ते आ के बेनती करे)

265. नाथ

घोड़ा सबर दा ज़िकर दी वाग दे के, नफ़स मारना कंम भुजंग्यां दा ।
छड्ड ज़रां ते हुकम फ़कीर होवन, इह कंम है माहणूंआं चंग्यां दा ।
इशक करन ते तेग़ दी धार कप्पन, नहीं कंम इह भुख्यां नंग्यां दा ।
जेहड़े मरन सो फ़कर थीं हो वाकिफ़, नहीं कंम इह मरन थीं संग्यां दा ।
एथे थां नाहीं अड़बंग्यां दा, फ़कर कंम है सिरां थों लंघ्यां दा ।
शौक मेहर ते सिदक यकीन बाझों, केहा फ़ायदा टुकड़्यां मंग्यां दा ।
वारिस शाह जो इशक दे रंग रत्ते, कुन्दी आप है रंग द्यां रंग्यां दा ।

(नफ़स=हउमै,भैड़ा मन, भुजंगी=सप्प,काला नाग़, माहणूंआं=मरदां, तेग़=
तलवार, अड़बंगे=अड़ब, कुन्दी=कपड़्यां दे वट्ट कढ्ढन वाला जंतर)

266. तथा

जोग करे सो मरन थीं होइ असथिर, जोग सिक्खीए सिखना आया ई ।
नेहचा धार के गुरू दी सेव करीए, इह ही जोगियां दा फ़रमायआ ई ।
नाल सिदक यकीन दे बन्न्ह तकवा, धन्ने पत्थरों रब्ब नूं पायआ ई ।
संसे जीऊ मलीन दे नशट कीते, तुरत गुरू ने रब्ब विखायआ ई ।
बच्चा सुन्न जो विच्च कलबूत ख़ाकी, सच्चे रब्ब ने थाउं बणायआ ई ।
वारिस शाह मियां 'हमां ओसत' जापे, सरब-मयी भगवान नूं पायआ ई ।

(असथिर=पक्के पैरीं, तकवा=परहेज़गारी, संसे=फ़िकर,शक,
मलीन=गन्दा, नशट=खतम, हमां ओसत=उह (रब्ब) सभ कुझ्झ है)

267. तथा

माला मणक्यां विच्च ज्युं इक्क धागा, तिवें सरब के बीच समाय रहआ ।
सभ्भा जीवां दे विच्च है जान वांगू, नशा भंग अफीम विच्च आइ रहआ ।
जिवें पत्तरीं महन्दीउं रंग रच्या, तिवें जान जहान विच्च आइ रहआ ।
जिवें रकत सरीर विच्च सास अन्दर, तिवें जोत में जोत समाय रहआ ।
रांझा बन्न्ह के खरच है मगर लग्गा, जोगी आपना ज़ोर सभ लाय रहआ ।
तेरे दवार जोगा हो रहआ हां मैं, जट्ट जोगी नूं ग्यान समझाय रहआ ।
वारिस शाह मियां जेहनूं इशक लग्गा, दीन दुनी दे कंम थीं जाय रहआ ।

(सरब=सार्यां, पत्तरीं=पत्त्यां विच्च, रकत=लहू, खरच बन्न्ह के=पक्के
इरादे नाल)

268. रांझे ते नाथ दा मेहरबान होना अते चेल्यां दे ताअने

जोगी हो लाचार जां मेहर कीती, तदों चेल्यां बोलियां मारियां नी ।
जीभां सान चड़्हायके गिरद होए, जिवें तिक्खियां तेज़ कटारियां नी ।
देख सुहना रूप जटेटड़े दा, जोग देन दियां करन त्यारियां नी ।
ठरक मुंड्यां दे लग्गे जोगियां नूं, मत्तां जिन्हां दियां रब्ब ने मारियां नी ।
जोग देन ना मूल निमाण्यां नूं, जिन्हां कीतियां मेहनतां भारियां नी ।
वारिस शाह खुशामद ए सुहण्यां दी, गल्लां हक्क दियां ना निरवारियां नी ।

(सान चड़्हाके=तिक्खी करके, निरवार=फ़रक,वख वख करना, खुशामद=
चापलूसी)

269. नाथ दा चेल्यां नूं उत्तर

ग़ीबत करन बेगानड़ी तायत औगुन, सत्ते आदमी इह गुन्हागार हुन्दे ।
चोर किरतघन चुग़ल ते झूठ-बोले, लूती लावना सत्तवां यार हुन्दे ।
असां जोग नूं गल नहीं बन्न्ह बहणा, तुसीं कास नूं एड बेज़ार हुन्दे ।
वारिस जिन्हां उमीद ना तांग काई, बेड़े तिन्हां दे आकबत पार हुन्दे ।

(ग़ीबत=चुग़ली,निन्दा, तायत=ताबेदारी,किरतघण=किसे दे कीते
नूं भुल जान वाला, असां जोग नूं गल नहीं बन्न्ह रक्खणा=मैं जोग तुहानूं
ही दे देना ह आपने कोल नहीं रखी रक्खणा)

270. चेल्यां ने ग़ुस्सा करना

रल चेल्यां कावशां कीतियां ने, बाल नाथ नूं पकड़ पथल्ल्यु ने ।
छड्ड दवार उखाड़ भंडार चल्ले, जा रन्द ते वाट सभ मल्यु ने ।
सेल्हियां टोपियां मुन्दरां सुट बैठे, मोड़ गोदड़ी नाथ थे घल्यु ने ।
वारिस रब बख़ील ना होए मेरा, चारे राह नसीब दे मल्यु ने ।

(कावशां=दुशमणी, दवार उखाड़ भंडार चले=डेरा छड्ड के तुर
चल्ले, रन्द=खेतां विच्चों सिद्धा राह, बख़ील=ईरखालू,कंजूस)

271. रांझा

सुंञा लोक बख़ील है बाब मैंडे, मेरा रब्ब बख़ील ना लोड़ीए जी ।
कीजे ग़ौर ते कंम बना दिज्जे, मिले दिलां नूं ना विछोड़ीए जी ।
इह हुकम ते हुसन ना नित्त रहन्दे, नाल आजज़ां करो ना ज़ोरीए जी ।
कोयी कंम ग़रीब दा करे ज़ायआ, सगों ओस नूं हटकीए होड़ीए जी ।
बेड़ा लद्द्या होवे मुसाफ़रां दा, पार लाईए विच्च ना बोड़ीए जी ।
ज़िमीं नाल ना मारीए फेर आपे, हत्थीं जिन्हां नूं चाड़्हीए घोड़ीए जी ।
भला करद्यां ढिल ना मूल करीए, किस्सा तूल दराज़ ना टोरीए जी ।
वारिस शाह यतीम दी ग़ौर करीए, हत्थ आजज़ां दे नाल जोड़ीए जी ।

(सुंञा लोक=सारे लोक, बाब मैंडे=मेरे वासते, तूल दराज़=लम्बा चौड़ा,
हत्थ जोड़ीए=मदद करीए)

272. नाथ

धुरों हुन्दड़े कावशां वैर आए, बुरियां चुग़लियां ध्रोह बख़ीलियां वो ।
मैनूं तरस आया देख ज़ुहद तेरा, गल्लां मिट्ठियां बहुत रसीलियां वो ।
पानी दुध विच्चों कढ लैन चातर, जदों छिल्ल के पाउंदे तीलियां वो ।
गुरू दबक्या मुन्दरां झब्ब ल्याउ, छड्ड देहो गल्लां अणखीलियां वो ।
नहीं ड्रन हुन मरन थीं भौर आशक, जिन्हां सूलियां सिरां ते सीलियां वो ।
वारिस शाह फिर नाथ ने हुकम कीता, कढ अक्खियां नीलियां पीलियां वो ।

(कावश=दुशमणी,वैर, ज़ुहद=परहेज़गारी)

273. चेल्यां ने नाथ दा हुकम मन्न लैणा

चेल्यां गुरू दा हुकम परवान कीता, जाय सुरग दियां मिट्टियां मेलियां ने ।
सभ्भा तिन्न सौ स्ट्ठ जां भवें तीरथ, वाच गुरां दे मंतरां कीलियां ने ।
नवें नाथ बवंजड़ा बीर आए, चौंसठ जोगनां नाल रसीलियां ने ।
छे जती ते दसे अवतार आए, विच्च आबे ह्यात दे झीलियां ने ।

(मेलियां=इकट्ठियां कीतियां, वाच के=पड़्ह के, नवें=नौं, बवंजड़ा=
बवंजा, चौंसठ जोगनी=दुरगा देवी दियां चौंहट सहेलियां, दस अवतार=
विशनूं दे दस अवतार इह हन:-1. राम, 2. कृष्ण, 3. बुध, 4. नर
सिंघ, 5.वामन, 6. मच्छ, 7. कच्छप, 8. बर्हा, 9. परस राम 10. कलकी)

274. चेल्यां ने रांझे लई त्यार कीतियां मुन्दरां ल्यांदियां

दिन चार बणाय सुकाय मुन्दरां, बाल नाथ दी नज़र गुज़ार्या ने ।
ग़ुस्से नाल विगाड़ के गल्ल सारी, ड्रदे गुरू थीं चा सवार्या ने ।
ज़ोरावरां दी गल्ल है बहुत मुशकल, जान बुझ के बदी विसार्या ने ।
गुरू केहा सो एन्हां परवान कीता, नरदां पुट्ठियां ते बाज़ी हार्या ने ।
घुट वट के करोध नूं छमा कीता, कायी मोड़ के गल्ल ना सार्या ने ।
ल्याइ उसतरा गुरू दे हत्थ दित्ता, जोगी करन दी नीत चा धार्या ने ।
वारिस शाह हुन हुकम दी पई फेटी, लख वैरियां धक के मार्या ने ।

(नज़र गुज़ार्या=बाल नाथ नूं पेश कीतियां, छमा कीता=मुआफ कीता,
नरदां=कौडियां, बाज़ी=शतरंज, फेटी=धक्का, ऊठ अते घोड़े दे पेट दा रोग
जेहदे नाल उह मर जांदे हन, छिल के तीले=पिछले ज़माने विच्च दुद्ध विच्च
रलाए पानी नूं देखन लई, काने नूं छिल के जो गुद्दा अन्दरों निकले उहदियां
लम्बियां लम्बियां नलकियां दुद्ध विच्च लटका दिन्दे अते दुद्ध विच्चों पानी गुद्दे
विच्च चड़्ह जांदा)

275. बाल नाथ ने रांझे नूं जोग देणा

बाल नाथ ने साम्हने सद्द धीदो, जोग देन नूं पास बहाल्या सू ।
रोड भोड होया सवाह मली मूंह ते, सभ्भो कोड़मे दा नाउं गाल्या सू ।
कन्न पाड़के झाड़ के लोभ बोदे, इक्क पलक विच्च मुन्न विखाल्या सू ।
जिवें पुत्तरां ते करे मेहर जणनी, जापे दुध पवा के पाल्या सू ।
छार अंग रमाय सिर मुन्न अक्खीं, पा मुन्दरां चा नवाल्या सू ।
ख़बरां कुल जहान विच्च खिंड गईआं, रांझा जोगीड़ा सार विखाल्या सू ।
वारिस शाह मियां सुन्यार वांगूं, जट फेर मुड़ भन्न के गाल्या सू ।

(कन्न पाड़ण=कन्न पाड़न नाल कामुक रीझां जांदियां लगदियां हन,
जनणी=मां, छार=सुआह, नवाल्या सू=बखशश कीती, सार वखाल्या=
आपनी शरन विच्च लै ल्या)

276. रांझे नूं जोगी ने नसीहत देणी

दित्ती दीख्या रब दी या दस्सी, गूर जोग दे भेत नूं पाईए जी ।
नहा धोइ प्रभात विभूत मलीए, चाय किसवत अंग वटाईए जी ।
सिंगी फाहुड़ी खप्परी हत्थ लै के, पहले रब्ब दा नाउं ध्याईए जी ।
नगर अलख जगायके जा वड़ीए, पाप जान जे नाद वजाईए जी ।
सुखी दवार वसे जोगी भीख मांगे, दईए दुआ असीस सुणाईए जी ।
इसी भांत सों नगर दी भीख लै के, मसत लटकदे दवार को आईए जी ।
वड्डी माउं है जान के करो निसचा, छोटी भैन मिसाल कराईए जी ।
वारिस शाह यकीन दी कुल्हा पहदी, सभो सत्त है सत्त ठहराईए जी ।

(प्रभात=सवेरे, किसवत=कप्पड़े,पोशाक, कुल्हा=कुल्ला, टोपी)

277. रांझा नाथ अग्गे विटर ग्या

रांझा आखदा मगर ना पवो मेरे, कदी कहर दे वाक हटाईए जी ।
गुरू मत तेरी सानूं नहीं पुंहदी, गल घुट्ट के चाय लंघाईए जी ।
पहले चेल्यां नूं चा हीज़ करीए, पिच्छों जोग दी रीत बताईए जी ।
इक्क वार जो दस्सना दस्स छड्डो, घड़ी घड़ी ना गुरू अकाईए जी ।
करतूत जे एहा सी सभ तेरी, मुंडे ठग के लीक नाल लाईए जी ।
वारिस शाह शागिरद ते चेलड़े नूं, कोयी भली ही मत सिखाईए जी ।

(हीज़=खस्सी,हीजड़ा)

278. नाथ

कहे नाथ रंझेट्या समझ भाई, सिर चायउयी जोग भरोटड़ी नूं ।
अलख नाद वजायके करो निसचा, मेल ल्यावना टुकड़े रोटड़ी नूं ।
असीं मुख आलूद ना जूठ करीए, चार ल्यावीए आपनी खोतड़ी नूं ।
वडी माउं बराबर जाणनी है, अते भैन बराबरां छोटड़ी नूं ।
जती सती निमाण्यां हो रहीए, साबत रक्खीए एस लंगोटड़ी नूं ।
वारिस शाह मियां लै के छुरी काई, वढ्ढ दूर करीं एस बोटड़ी नूं ।

(भरोटड़ी=गट्ठड़ी, मेल ल्याउणा=मंग ल्याउणा, आलूद=गन्दा,
जती=लिंग भुख ते काबू रक्खन वला फ़कीर, सती=लंगोटे दा सत
कायम रक्खन वाला)

279. रांझा

साबत होए लंगोटड़ी सुणीं नाथा, काहे झुग्गड़ा चाय उजाड़दा मैं ।
जीभ इशक थों रहे जे चुप मेरी, काहे ऐडड़े पाड़ने पाड़दा मैं ।
जीऊ मार के रहन जे होए मेरा, ऐडे मुआमले कासनूं धारदा मैं ।
एस जीऊ नूं नढड़ी मोह लीता, नित्त फ़कर दा नाउं चितारदा मैं ।
जे तां मसत उजाड़ विच्च जा बहन्दा, महीं स्यालां दियां कासनूं चारदा मैं ।
सिर रोड़ कराय क्युं कन्न पाटन, जे तां किबर हंकार नूं मारदा मैं ।
जे मैं जाणदा हस्सणों मन्हां करना, तेरे टिल्ले 'ते धार ना मारदा मैं ।
जे मैं जाणदा कन्न तूं पाड़ मारो, इह मुन्दरां मूल ना साड़दा मैं ।
इके कन्न सवार दे फेर मेरे, इक्के घतूं ढलैत सरकार दा मैं ।
होर वायदा फ़िकर ना कोयी मैंथे, वारिस रखदा हां ग़म यार दा मैं ।

(ढलैत=सिपाही,चौकीदार)

280. नाथ

खाय रिज़क हलाल ते सच्च बोलीं, छड्ड दे तूं यारियां चोरियां वो ।
उह छड्ड तकसीर मुआफ़ तेरी, जेहड़ियां पिछलियां सफ़ां नखोरियां वो ।
उह छड्ड चाले गुआरपुने वाले, चुन्नी पाड़ के घत्यु मोरियां वो ।
पिच्छा छड्ड जट्टा ल्या सांभ खसमा, जेहड़ियां पाड़ीउं खंड दियां बोरियां वो ।
जोइ राहकां जोतरे ला दित्ते, जेहड़ियां अरलियां भन्नियां धोरियां वो ।
धो धाय के मालकां वरत लईआं, जेहड़ियां चाटियां कीत्युं खोरियां वो ।
रले विच्च तैं रेड़्हआ कंम चोरीं, कोयी खरचियां नाहीउं बोरियां वो ।
छड्ड सभ बुर्याईआं ख़ाक हो जा, ना कर नाल जगत दे ज़ोरियां वो ।
तेरी आजज़ी अजज़ मनज़ूर कीते, तां मैं मुन्दरां कन्न विच्च सोरियां वो ।
वारिस शाह ना आदतां जांदियां ने, भांवें कट्टीए पोरियां पोरियां वो ।

(सफ़ां नघोरियां=माड़े कंम, राहक=वाहक,हल वाहुन वाला किरसान,
खोरियां=खुरलियां, बोरियां=रकमां, सोरियां=अरदास करके पाईआं)

281. रांझा

नाथा ज्यूंद्यां मरन है खरा औखा, साथों इह ना वायदे होवने नी ।
असीं जट हां नाड़ियां करन वाले, असां कचकड़े नहीं परोवने नी ।
ऐवें कन्न पड़ायके ख़ुआर होए, साथों नहीं हुन्दे एडे रोवने नी ।
साथों खप्परी नाद ना जान सांभे, असां ढग्गे ही अंत नूं जोवने नी ।
रन्नां नाल जो वरजदे चेल्यां नूं, उह गुरू ना बन्न्ह के चोवने नी ।
हस्स खेडना तुसां चा मन्हा कीता, असां धूंएं दे गोहे कहे ढोवने नी ।
वारिस शाह की जाणीए अंत आख़र, खट्टे चोवने कि मिट्ठे चोवने नी ।

(खरा=बहुत, नाड़ियां=हरनालियां, कचकड़े=कच दे मणके, वरजदे=
रोकदे, खट्टे=कौड़े, मिट्ठे=असील)

282. नाथ

छड्ड यारियां चोरियां दग़ा जट्टा बहुत औखिया इह फ़कीरियां नी ।
जोग जालना सार दा निगलना है, इस जोग विच्च बहुत ज़हीरियां नी ।
जोगी नाल नसीहतां हो जांदे, जिवें उठ दे नक्क नकीरियां नी ।
तूम्बा सिमरना खप्परी नाद सिंङी, चिमटा भंग नलीएर ज़ंजीरियां नी ।
छड तरीमतां दी झाक होइ जोगी, फ़कर नाल जहान की सीरियां नी ।
वारिस शाह इह जट फ़कीर होया, नहीं हुन्दियां गधे थों पीरियां नी ।

(सार=लोहा, ज़हीरी=औख्याई, नकीरी=नकेल, नलीएर=नारियल,
सिमरना=माला, झाक=आस)

283. रांझा

सानूं जोग दी रीझ तदोकनी सी, जदों हीर स्याल महबूब कीते ।
छड देस शरीक कबीलड़े नूं, असां शरम दा तरक हजूब कीते ।
रल हीर दे नाल सी उमर जाली, असां मज़े जवानी दे ख़ूब कीते ।
हीर छत्त्यां नाल मैं मस्स भिन्ना, असां दोहां ने नशे मरग़ूब कीते ।
होया रिज़क उदास ते गल हिल्ली, माप्यां व्याह दे चा असलूब कीते ।
देहां कंड दित्ती भवीं बुरी सायत, नाल खेड़्यां दे मनसूब कीते ।
प्या वकत तां जोग विच्च आण फाथे, इह वायदे आण मतलूब कीते ।
इह इशक ना टले पैगम्बरां थों, थोथे इशक थीं हड्ड अयूब कीते ।
इशक नाल फरज़न्द अज़ीज़ यूसफ़, नाअरे दरद दे बहुत याकूब कीते ।
एस ज़ुलफ ज़ंजीर महबूब दी ने, वारिस शाह जेहे मजज़ूब कीते ।

(हजूब=परदे, असलूब=तरीके,वतीरा, नशे मरग़ूब कीते=मौजां
माणियां, मनसूब कीते=मंगनी कर दित्ती, फाथे=फस गए, मतलूब=
चाह,मंग, फरज़न्द=पुत्तर, मजज़ूब=रब दे ध्यान विच्च डुब्बा चुप
चाप फ़कीर)

284. बाल नाथ ने दरगाह अन्दर अरज़ कीती

नाथ मीट अक्खां दरगाह अन्दर, नाले अरज़ करदा नाले संगदा जी ।
दरगाह लाउबाली है हक्क वाली, ओथे आदमी बोलदा हंगदा जी ।
ज़िमीं अते असमान दा वारिसी तूं, तेरा वड्डा पसार है रंग दा जी ।
रांझा जट्ट फ़कीर हो आण बैठा, लाह आसरा नाम ते नंग दा जी ।
सभ छड्डियां बुर्याईआं बन्न्ह तकवा, नाह आसरा साक ते अंग दा जी ।
मार हीर दे नैणां ने ख़ुआर कीता, लग्गा जिगर विच्च तीर खदंग दा जी ।
एस इशक ने मार हैरान कीता, सड़ ग्या ज्युं अंग पतंग दा जी ।
कन्न पाड़ मुनायके सीस दाड़्ही, पीए बह प्यालड़ा भंग दा जी ।
जोगी हो के देस त्याग आया, रिज़क रोही ज्युं कूंज कुलंग दा जी ।
तुसीं रब्ब ग़रीब निवाज़ साहब, सवाल सुणना एस मलंग दा जी ।
कीकूं हुकम है खोल के कहो असली, रांझा हो जोगी हीर मंगदा जी ।
पंजां पीरां दरगाह विच्च अरज़ कीती, द्यु फ़कर नूं चरम पलंग दा जी ।
होया हुकम दरगाह थीं हीर बखशी, बेड़ा ला दित्ता असां ढंग दा जी ।
वारिस शाह हुन जिन्हां नूं रब बखशे, तिन्हां नाल की महकमा जंग दा जी ।

(लाउबाली=बेपरवाह, नंग=शरम ह्या, पतंग=पतंगा,परवाना, कुलंग=
लमढींग, चरम=खल्ल, पलंग=चीता, ढंग=पैखड़ जो रुक रुक के चल्लन लई
मजबूर करदा है)

285. नाथ

नाथ खोल अक्खीं केहा रांझने नूं, बच्चा जाह तेरा कंम होया ई ।
फल आण लग्गा ओस बूटड़े नूं, जेहड़ा विच्च दरगाह दे बोया ई ।
हीर बखश दित्ती सच्चे रब तैनूं, मोती लाल दे नाल परोया ई ।
चड़्ह दौड़ के जित्त लै खेड़्यां नूं, बच्चा सउन तैनूं भला होया ई ।
कमर कस्स उदासियां बन्न्ह लईआं, जोगी तुरत त्यार वी होया ई ।
खुशी दे के करो विदा मैनूं, हत्थ बन्न्ह के आण खलोया ई ।
वारिस शाह जां नाथ ने विदा कीता, टिल्युं उत्तरदा पत्तरा होया ई ।

(सउण=शगन)

286. रांझा टिल्ले तो तुर प्या

जोगी नाथ थों ख़ुशी लै विदा होया, छुटा बाज़ ज्युं तेज़ तरार्यां नूं ।
पलक झलक विच्च कंम हो ग्या उसदा, लग्गी अग्ग जोगील्यां सार्यां नूं ।
मुड़ के धीदो ने इक्क जवाब दित्ता, ओहनां चेल्यां हैंस्यार्यां नूं ।
भले करम जे होन तां जोग पाईए, जोग मिले ना करमां दे मार्यां नूं ।
असीं जट्ट अणजान सां फस गए, करम कीता सू असां विचार्यां नूं ।
वारिस शाह जां अल्लाह करम करदा, हुकम हुन्दा है नेक सितार्यां नूं ।

(जोगीला=नकली जोगी, हैंस्यारे=हत्यारे, करम=बखशिश)

287. तथा

जदों करम अल्लाह दा करे मद्दद, बेड़ा पार हो जाए निमाण्यां दा ।
लहना करज़ नाहीं बूहे जाय बहीए, केहा तान है असां निताण्यां दा ।
मेरे करम सवल्लड़े आण पहुंचे, खेत जंम्यां भुन्न्यां दाण्यां दा ।
वारिस शाह मियां वड्डा वैद आया, सरदार है सभ स्याण्यां दा ।

288. लोकां दियां गल्लां

जेहड़े पिंड च आवे ते लोक पुच्छन, इह जोगीड़ा बालड़ा छोटड़ा नी ।
कन्नीं मुन्दरां एस नूं ना फब्बन, इहदे तेड़ ना बने लंगोटड़ा नी ।
सत्त जरम के हमीं हैं नाथ पूरे, कदी वाहआ नाहीं जोतरा नी ।
दुख भंजन नाथ है नाम मेरा, मैं धनवंतरी वैद दा पोतरा नी ।
जे को असां दे नाल दम मारदा है, एस जग तों जाएगा औतरा नी ।
हीरा नाथ है वड्डा गुरू देव लीता, चले ओस का पूजने चौतरा नी ।
वारिस शाह जो कोयी लए खुशी साडी, दुद्ध पुतरां दे नाल सौंतरा नी ।

(धनवंतरी=वड्डा वैद,हन्दू वैदगी दा पितामा, जरम=जनम, औतरा=
औंतरा,बेऔलाद, सौंतरा=औंतरे दा उलट,औलादवाला)

289. रांझे ने चाले पा दित्ते

धाय टिल्युं रन्द लै खेड़्यां दा, चल्ल्या मींह ज्युं आंवदा वुठ उत्ते ।
काअबा रक्ख मत्थे रब याद करके, चड़्हआ खेड़्यां दी सज्जी गुट्ठ उत्ते ।
नशे नाल झुलारदा मसत जोगी, जिवें सुन्दरी झूलदी उट्ठ उत्ते ।
चिप्पी खपरी फाहुड़ी डंडा कूंडा, भंग पोसत बद्धे चा पिठ उत्ते ।
एवें सरकदा आंवदा खेड़्यां नूं, जिवें फ़ौज सरकार दी लुट्ट उत्ते ।
बैराग सन्यास ज्युं लड़न चल्ले, रक्ख हत्थ तलवार दी मुट्ठ उत्ते ।
वारिस शाह सुलतान ज्युं दौड़ कीती, चड़्ह आया ई मथरा दी लुट्ट उत्ते ।

(वुठ उत्ते=वर्हन लई चड़्हदा है,, झुलारदा=झूलदा, लुठ उते=किसे थां नूं
अग्ग लाउन लई हमला करना)

290. जोगी बण के रांझा रंग पुर आया

रांझा भेस वटायके जोगियां दा उठ हीर दे शहर नूं धांवदा ए ।
भुखा शेर ज्युुं दौड़दा मार उते, चोर विठ उते जिवें आंवदा ए ।
चा नाल जोगी ओथों सरक टुर्या, जिवें मींह अंधेर दा आंवदा ए ।
देस खेड़्यां दे रांझा आ वड़्या, वारिस शाह याल बुलांवदा ए ।

(मार=शिकार, विठ=रात नूं देखी भाली थां, याली=आजड़ी)

291. आजड़ी अते रांझे दे सवाल जवाब

जदों रंगपुर दी जूह जा वड़्या, भेडां चारे याली विच्च बार दे जी ।
नेड़े आइके जोगी नूं वेखदा है, जिवें नैन वेखन नैन यार दे जी ।
झस्स चोर ते चुग़ल दी जीभ वांगूं, गुझ्झे रहन ना दीदड़े यार दे जी ।
चोर यार ते ठग ना रहन गुझ्झे, कित्थे छपदे आदमी कार दे जी ।
तुसीं केहड़े देस दे फ़कर साईं, सुख़न दस्सखां खोल्ह निरवारदे जी ।
हमीं लंक बाशी चेले अगसत मुनि दे, हमीं पंछी समुन्दरों पार दे जी ।
बारां बरस बैठे बारां बरस फिरदे, मिलन वाल्यां दी कुल तारदे जी ।
वारिस शाह मियां चारे चक भौंदे, हमीं कुदरतां कूं दीद मारदे जी ।

(गुझ्झे=लुके होए, सुख़न=गल्ल बात, निरवार=खोल्ह के, चार चक्क=सारी
दुनियां, दीद मार दे=नज़ारे करदे)

292. आजड़ी

तूं तां चाक स्यालां दा नाउं धीदो, छड्ड खचर पौ कुल हंजार दे जी ।
मझीं चूचके दिया जदों चारदा सैं, नढ्ढी माणदा सैं विच्च बार जी ।
तेरा मेहना हीर स्याल ताईं, आम ख़बर सी विच संसार दे जी ।
नस्स जा एथों मार सुट्टणीगे, खेड़े अत्त चड़्हे भरे भारदे जी ।
देस खेड़्यां दे ज़रा खबर होवे, जान तखत हज़ारे नूं मार दे जी ।
भज्ज जा मतां खेड़े लाध करनी, प्यादे बन्न्ह लै जान सरकार दे जी ।
मार चूर कर सुट्टने हड्ड गोडे, मलक गोर अज़ाब कहार दे जी ।
वारिस शाह ज्युं गोर विच्च हड्ड कड़कन, गुरज़ां नाल आसी गुन्हागार दे जी ।

(खचर पौ=मक्कारी,चलाकियां, लाध करनी=जे ख़बर कर दित्ती, प्यादे=
सिपाही, अज़ाब=दुख तकलीफ, भार=अट्ठ हज़ार तोले दे वज़न दा वट्टा,
कहार=कहर, आसी=गुनाहगार)

293. आजड़ी नाल रांझे दी गल्ल बात

इज्जड़ चारना कंम पैग़बरां दा, केहा अमल शैतान दा तोल्यु ई ।
भेडां चार के तुहमतां जोड़णां एं, केहा ग़ज़ब फ़कीर ते बोल्यु ई ।
असीं फ़कर अल्लाह दे नाग काले, असां नाल की कोइला घोल्यु ई ।
वाही छड्ड के खोलियां चारियां नी, होइउं जोगीड़ा जीऊ जां डोल्यु ई ।
सच्च मन्न के पिछांह मुड़ जाह जट्टा, केहा कूड़ दा घोलना घोल्यु ई ।
वारिस शाह इह उमर नित्त करें ज़ायआ, शक्कर विच्च प्याज़ क्युं घोल्यु ई ।

(तुहमतां=ऊजां कोला घोलणा=दोश लाउणा, शक्कर विच्च प्याज़ घोलणा=
चंगे कंम जां चंगी वसत नूं विगाड़णा)

294. आजड़ी

अवे सुनी चाका सवाह ला मूंह ते, जोगी होइके नज़र भुआ बैठों ।
हीर स्याल दा यार मशहूर रांझा, मौजां मान के कन्न पड़वा बैठों ।
खेड़े व्याह ल्याए मूंह मार तेरे, सारी उमर दी लीक लवा बैठों ।
तेरे बैठ्यां व्याह लै गए खेड़े, दाड़्ही पर्हे दे विच्च मुना बैठों ।
मंग छड्डीए ना जे जान होवे, वन्नी दित्तियां छड ह्या बैठों ।
जदों डिठोयी दाउ ना लग्गे कोई, बूहे नाथ दे अंत नूं जा बैठों ।
इक्क अमल ना कीतोयी ग़ाफ़ला वो, ऐवें कीमियां उमर गुआ बैठों ।
सिर वढ्ढ कर सन तेरे चा बेरे, जिस वेलड़े खेड़ीं तूं जा बैठों ।
वारिस शाह तर्याक दी थां नाहीं, हत्थीं आपने ज़हर तूं खा बैठों ।

(लीक लवा बैठां=बदनामी करा लई, वन्नी=वहुटी,बहू, डिट्ठोई=
देख्या, कीमिया=अकसीर,एथे अरथ है कीमती, बेरे=टोटे,
तर्याक=तोड़,ज़हर नूं दूर करन दी दवा, थां=थाह,पता)

295. रांझा

सत जरम के हमीं फ़कीर जोगी, नहीं नाल जहान दे सीर मियां ।
असां सेल्हियां खपरां नाल वरतन, भीख खायके होणां वहीर मियां ।
भला जान जट्टा कहें चाक सानूं, असीं फ़कर हां ज़ाहरा पीर मियां ।
नाउं मेहरियां दे ल्यां ड्रन आवे, रांझा कौन ते केहड़ी हीर मियां ।
जती सती हठी तपी नाथ पूरे, सत जनम के गहर गंभीर मियां ।
जट चाक बणाउन नाहीं जोगियां नूं, एही जीऊ आवे स्टूं चीर मियां ।
थरा थर कम्बे ग़ुस्से नाल जोगी, अक्खीं रोह पलट्या नीर मियां ।
हत्थ जोड़ याल ने पैर पकड़े, जोगी बखश लै इह तकसीर मियां ।
तुसीं पार समुन्दरों रहन वाले, भुल ग्या चेला बखश पीर मियां ।
वारिस शाह दा अरज़ जनाब अन्दर, सुन होइ नाहीं दिलगीर मियां ।

(सीर=वाह, गहर गंभीर=संजीदा,डूंघा, रोह=ग़ुस्सा)

296. आजड़ी

भत्ते बेल्यां विच्च लै जाए जट्टी, पींघां पींघदी नाल प्यारियां दे ।
इह प्रेम प्यालड़ा झोक्युई, नैन मसत सन विच्च ख़ुमारियां दे ।
वाहें वंझली ते फिरे मगर लग्गी, हांझ घिन के नाल कुआरियां दे ।
जदों व्याह होया तदों वेहर बैठी, डोली चाड़्हआ ने नाल ख़ुआरियां दे ।
धारां खांगड़ां दियां झोकां हाणियां दियां, मज़े खूबां दे घोल कुआरियां दे ।
मसां नींगरां दियां लाड नढ्ढियां दे, इशक कुआरियां दे मज़े यारियां दे ।
जट्टी व्याह दित्ती रहउं नीधरा तूं, सुंञे सखने तौक पटारियां दे ।
खेडन वालियां साहुरे बन्न्ह खड़ियां, रुलन छमकां हेठ बुख़ारियां दे ।
बुढ्ढा होइके चोर मसीत वड़दा, रल फिरदा है नाल मदारियां दे ।
गुंडी रन्न बुढ्ढी हो बने हाजन, फेरे मोरछर गिरद प्यारियां दे ।
पर्हां जा जट्टा मार सुट्टणीगे, नहीं छुपदे यार कवारियां दे ।
कारीगरी मौकूफ़ कर मियां वारिस, तैथे वल हैं पावन छारियां दे ।

(खुमारी=मसती, हांझ घिन के=पूरे दिल नाल, खांगड़=मझ, गां,
झोकां=डेरे, पिंड, ख़ूबां=सुहणियां, निधरा=किसे धिर जां पासे दा ना,
तौंक=टमक, बुखारी=दाने पाउन वाली कोठी, खड़ियां=लै गए, हाजण=
हज करन वाली,भगतणी, मोर छर=मोर छड़,मोर दे खंभां दा पक्खा,
मौकूफ कर=छड्ड,ख़तम कर)

297. रांझे मन्न्यां कि आजड़ी ठीक ए

तुसीं अकल दे कोट याल हुन्दे, लुकमान हकीम दसतूर है जी ।
बाज़ भौर बगला लोहा लौंग कालू, शाहीं शीहनी नाल कसतूर है जी ।
लोहा पशम पिसता डब्बा मौत सूरत, कालू अज़राईल मनज़ूर है जी ।
पंजे बाज़ जेहे लक वांग चीते, पहुंचा वग्ग्या मिरग सभ दूर है जी ।
चक्क शींह वांगूं गज्ज मींह वांगूं, जिस नूं दन्द मारन हड्ड चूर है जी ।
किसे पास ना खोलना भेत भाई, जो कुझ्झ आख्यु सभ मनज़ूर है जी ।
आ प्या परदेस विच्च कंम मेरा, लईए हीर इक्के सिर दूर है जी ।
वारिस शाह हुन बनी है बहुत औखी, अग्गे सुझ्झदा कहर कलूर है जी ।

(कोट=गड़्ह, लुकमान=इक्क प्रसिद्ध हकीम जिस दा ज़िकर बाईबल अते
कुरान विच्च वी आया है, पर उस बारे होर कुझ्झ पता थौह नहीं मिलदा,
सारे मन्नदे हन कि उह बहुत स्याना अते मंतकी सी, दसतूर=मिसाल,नमूना,
बाज़,भौर,कसतूर,लोहा,डब्बा=सारे कुत्त्यां दे नां हन, मरग=मौत, चक्क मारना=
दन्दी जां बुरकी वढ्ढणी, कहर कलूर=मौत वरगी वड्डी मुसीबत)

298. रांझा

भेत दस्सना मरद दा कंम नाहीं, मरद सोयी जो वेख दंम घुट जाए ।
गल्ल जीऊ दे विच्च ही रहे खुफ़िया, काउं वांग पैख़ाल ना सुट्ट जाए ।
भेत किसे दा दस्सना भला नाहीं, भांवें पुच्छ के लोक निखुट्ट जाए ।
वारिस शाह ना भेत-सन्दूक खोल्हन, भावें जान दा जन्दरा टुट्ट जाए ।

(पैख़ाल=बिट्ठ, निखुट्ट=ख़तम)

299. आजड़ी

मार आशकां दी लज्ज लाहियाई, यारी लायके घिन्न लै जावनी सी ।
अंत खेड़्यां हीर लै जावनी सी, यारी ओस दे नाल क्युं लावनी सी ।
एडी धुंम क्युं मूरखा पावनी सी, नहीं यारी ही मूल ना लावनी सी ।
उस दे नाल ना कौल करार करदों, नहीं यारी ही समझके लावनी सी ।
कटक तख़त हज़ारे दा ल्या के ते, हाज़र कद सभ जंञ बणावनी सी ।
तेरी फ़तेह सी मूरखा दोहीं दाहीं, एह वार ना मूल गवावनी सी ।
इके हीर नूं मार के डोब देंदे, इके हीर ही मार मुकावनी सी ।
इके हीर वी कढ्ढ लै जावनी सी, इके खूह दे विच पावनी सी ।
नाल सेहर्यां हीर व्याहवनी सी, हीर अग्गे शहीदी पावनी सी ।
बणें ग़ाज़ी जे मरें शहीद होवें, एह ख़लक तेरे हत्थ आवनी सी ।
तेरे मूंह ते जट्ट हंढांवदा ए ज़हर खाय के ही मर जावनी सी ।
इक्के यारी तैं मूल ना लावनी सी, चिड़ी बाज़ दे मूंहों छडावनी सी ।
लै गए व्याह के जीऊंदा मर जाएं, एह लीक तूं काहे लावनी सी ।
मर जावणां सी दर यार दे ते, इह सूरत क्युं गधे चड़्हावनी सी ।
वारिस शाह जे मंग लै गए खेड़े, दाड़्ही परे दे विच्च मुनावनी सी ।

(सूरत गधे चड़्हावणी=बुरी शकल बनाउनी)

300. रांझा

अक्खीं वेख के मरद हन चुप्प करदे, भांवें चोर ई झुग्गड़ा लुट जाए ।
देना नहीं जे भेत विच्च खेड़्यां दे, गल्ल ख़ुआर होवे कि खिंड फुट जाए ।
तोदा खेड़्यां दे बूहे अड्ड्या ए मतां चांग निशानड़ा चुट जाए ।
हाथी चोर गुलेर थीं छुट जांदे, एहा कौन जो इशक थीं छुट जाए ।

(झुग्गड़ा=घर,झुग्गा, खिंड फुट=खिंड पुंड, तोदा=चांदमारी लई
बणायआ मिट्टी दा कच्चा थड़ा, चांग=लोकां दी भीड़, मतां निशानड़ा
छुट जाए=एदां ना होवे कि निशाना टिकाने ते ना लग्गे, हाथी चोर गुलेर
छुट जांदे=कवी दा इशारा एथे इक्क सुन्यारे दी कहानी वल्ल है ।
इक्क राजे ने दस मण सोने दा हाथी बणाउन लई इक्क सुन्यारा आपणे
महल विच इस कंम ते ला दित्ता अते उस दी पूरी निगरानी रक्खी ।
सुन्यारे ने इक्क पित्तल दा दस मण दा हाथी आपने घर बना के नाल
वगदी नदी विच्च लुका दित्ता ।जदों महल विच्च हाथी त्यार हो ग्या तां
उह हाथी नूं राजे दे बन्द्यां दी मदद नाल वगदे पानी विच्च रगड़ के साफ़
करन दे बहाने नदी विच लै ग्या । उह सोने दा हाथी पित्तल दे हाथी
नाल बदल के मोड़ ल्याया ।कुझ्झ समें पिच्छों उहदी बेईमानी दा पता
लग्गन ते उहनूं मौत दी सज़ा दा हुकम होया ।मरन तों पहलां उहने
आपनी आखरी मंग विच्च दस मीटर रेशम दी पगड़ी मंग के लई ।उहदे
विच्च इक्क किल अते हथौड़ी लुका लई राजे ने रवायत अनुसर उस नूं
बिनां किसे राशन पानी गुलेर भाव इक्क उचे मुनारे उते चड़्हा दित्ता तां
कि उह ओथे ही भुक्खा त्याहआ मर जावे ।सुन्यार रात नूं लोकां दे
जान पिच्छों हथौड़ी नाल किल्ल गड्ड के उप्परों रेशम दी पगड़ी नाल उत्तर
के दौड़ ग्या ।राजे ने ऐलान कीता कि जे उह स्याना सुन्यार आ
जावे तां उहनूं उह आपना वज़ीर बना देवेगा ।सुन्यार ने आ के राजे
नूं आपनी कहानी दस्सी अते राजे ने आपना वचन पूरा कीता)

301. आजड़ी

असां रांझ्या हस्स के गल्ल कीती, जा ला लै दाउ जे लग्गदा ई ।
लाट रहे ना जीऊ दे विच्च लुकी, इह इशक अलम्बड़ा अग्ग दा ई ।
जा वेख माअशूक दे नैन ख़ूनी, तैनूं नित उलांहबड़ा जग दा ई ।
समां यार दा ते घस्सा बाज़ वाला, झुट चोर दा ते दाउ ठग दा ई ।
लै के नढ्ढड़ी नूं छिनक जा चाका, सैदा साक ना साडड़ा लगदा ई ।
वारिस कन्न पाटे महीं चार मुड़्युं, अजे मुक्का ना मेहना जग्ग दा ई ।

(अलम्बड़ा=लांबू, छिनक जा=दौड़ जा)

302. तथा

सुन मूरखा फेर जे दाउ लग्गे, नाल सहती दे झगड़ा पावना ई ।
सहती वड्डी झगड़ैल मरीकनी है, ओहदे नाल मत्था जा लावना ई ।
होसी झगड़्युं मुशकल आसान तेरी, नाले घूरना ते नाले खावना ई ।
चौदां तबक दे मकर उह जाणदी ए ज़रा ओस दे मकर नूं पावना ई ।
कदम पकड़सी जोगिया आइ तेरे, ज़रा सहती दा जीऊ ठहरावना ई ।
वारिस शाह है वड्डी उशटंड सहती, कोयी कशफ़ दा ज़ोर विखावना ई ।

(कशफ़=करामात)

303. रांझा

मरद बाझ महरी पानी बाझ धरती, आशक डिठड़े बाझ ना रज्जदे ने ।
लख सिरीं अवल्ल सवल्ल आवन, यार यारां थों मूल ना भज्जदे ने ।
भीड़ां बणदियां अंग वटाय देंदे, परदे आशकां दे मरद कज्जदे ने ।
दा चोर ते यार दा इक्क सायत, नहीं वस्सदे मींह जो गज्जदे ने ।

(महरी=ज़नानी, सिरीं=सिर ते, अवल्ल सवल्ल=औख सौख, अंग
वटाय देंदे=सूरतां बदल दिन्दे, कज्जदे=ढकदे, इक्क सायत=बहुत
थोड़्हा समां)

हीर वारिस शाह (भाग-4)
हीर वारिस शाह (भाग-2)
 
 
 Hindi Kavita