Hindi Kavita
वारिस शाह
Waris Shah
 Hindi Kavita 

Heer Waris Shah in Hindi-Part-2

हीर वारिस शाह भाग-2

71. हीर दा रांझे नूं चूचक कोल लिजाणा

तेरे नाउं तों जान कुरबान कीती, माल जीउ तेरे उतों वार्या ई ।
पासा जान दा सीस दी लायी बाज़ी, तुसां जित्त्या ते असां हार्यां ई ।
रांझा जीउ दे विच्च यकीन करके, महर चूचके पास सिधार्या ई ।
अग्गे पैंचनी होइ के हीर चल्ली, कोल रांझे नूं जाय खल्हार्या ई ।

72. हीर आपने बाप नूं

हीर जाय के आखदी बाबला वे, तेरे नाउं तों घोल घुमाईआं मैं ।
जिस आपने राज दे हुकम अन्दर, विच्च सांदल-बार खिडाईआं मैं ।
लासां पट्ट दियां पाय के बाग़ काले, पींघां शौक दे नाल पींघाईआं मैं ।
मेरी जान बाबल जीवे धौल राजा, माही महीं दा ढूंड ल्याईआं मैं ।

(सांदल बार=रावी अते चनाब दर्यावां विचकारला इलाका,
लासां=रस्से, पट=रेशम, पींघाईआं=चड़्हाईआं,झूटियां, धौल=
जिस बलद ने आपने सिंगां ते धरती चुक्की मन्न्यां जांदा है;
पाठ भेद: माही महीं दा=वारिस शाह)

73. हीर दा बाप चूचक ते हीर

बाप हस के पुच्छदा कौन हुन्दा, इह मुंडड़ा कित सरकार दा है ।
हत्थ लायआं पिंडे ते दाग़ पैंद, इह महीं दे नहीं दरकार दा है ।
सुघड़ चतर ते अकल दा कोट नढ्ढा, मझ्झीं बहुत संभाल के चारदा है ।
माल आपना जान के सांभ ल्यावे, कोयी कंम ना करे वगार दा है ।
हक्के नाल प्यार दी हूंग दे के, सोटा सिंग ते मूल ना मारदा है ।
दिसे नूर अल्लाह दा मुखड़े ते, मनों रब ही रब चितारदा है ।

(दरकार=कंम दा,लोड़, कोट=किल्हा, हूंग=हूंगा मार के;
पाठ भेद: मनों रब ही रब=वारिस शाह नूं प्या)

74. हीर दे बाप दा पुच्छणा

केहड़े चौधरी दा पुत कौद ज़ातों, केहा अकल शऊर दा कोट है नी ।
कीकूं रिज़क ने आण उदास कीता, एहनूं केहड़े पीर दी ओट है नी ।
फ़ौजदार वांगूं कर कूच धाणा, मार जिवें नकारे ते चोट है नी ।
किन्हां जट्टां दा पोतरा कौन कोई, केहड़ी गल्ल दी एस नूं त्रोट है नी ।

(अकल शऊर=सूझ बूझ, रिज़क =रोटी, धणा=कीता, त्रोट=थुड़्ह;
पाठ भेद: केहड़ी गल्ल दी एस नूं त्रोट=वारिस शाह दा केहड़ा कोट)

75. हीर ने बाप नूं दस्सणा

पुत्तर तख़त हज़ारे दे चौधरी दा, रांझा ज़ात दा जट्ट असील है जी ।
उहदा बूपड़ा मुख ते नैन निम्हे, कोयी छैल जेही उहदी डील है जी ।
मत्था रांझे दा चमकदा नूर भर्या, सख़ी जीउ दा नहीं बख़ील है जी ।
गल्ल सोहनी पर्हे दे विच्च करदा, खोजी लायी ते न्यांउं वकील है जी ।

(असील=अच्छी नसल दा, बूपड़ा=बीबड़ा,भोला, बख़ील=कंजूस, लाई=
सालस,पंचायती)

76. चूचक

केहे डोगरां जट्टां दे न्याउं जाणे, पर्हे विच्च विलावड़े लाईआं दे ।
पाड़ झीड़ कर आंवदा कित्त देसों, लड़्या कास तों नाल इह भाईआं दे ।
किस गल्ल तों रुसके उठ आया, लड़्या कास तों नाल भरजाईआं दे ।
वारिस शाह दे दिल ते शौक आया वेखन मुख स्यालां दियां जाईआं दे ।

77. हीर

लायी होइ के मामले दस्स देंदा, मुनसफ हो वढ्ढे फाहे फेड़्यां दे ।
बाहों पकड़ के कंढे दे पार लावे, हथों कढ देंदा खोज झेड़्यां दे ।
वर्ही घत के कही दे पाड़ लाए, सत्थों कढ्ढ देंदा खोज झेड़्यां दे ।
धाड़ा धाड़वी तों मोड़ ल्यांवदा है, ठंड पांवदा विच्च बखेड़्यां दे ।
सभ रही रहुन्नी नूं सांभ ल्यावे, अक्खीं विच्च रखे वांग हेड़्यां दे ।
वारिस शाह जवान है भला रांझा, जित्थे नित्त पौंदे लख भेड़्यां दे ।

(मुनसफ=इनसाफ करन वाला, फेड़े=झगड़े, वर्ही=रस्सी, पाड़=टक्क,
धाड़ा=डाकूआं वल्लों कीती लुट्ट, रही रहुन्नी=इकल्ली रही, हेड़्यां=
शिकारियां, भेड़े=लड़ाई,झगड़े)

78. चूचक दी मनज़ूरी

तेर आखना असां मनज़ूर कीता, महीं दे संभाल के सारियां नी ।
ख़बरदार रहे मझीं विच्च खड़ा, बेले विच्च मुसीबतां भारियां नी ।
रला करे नाहीं नाल खंध्यां दे, एस कदे नाहीं मझीं चारियां नी ।
मतां खेड रुझ्झे खड़ियां जान मझ्झीं, होवन पिंड दे विच्च ख़ुआरियां नी ।

(खंध्यां= चौणा,वग्ग)

79. हीर ने मां नूं ख़बर दस्सणी

पास माउं दे नढड़ी गल्ल कीती, माही मझीं दा आण के छेड़्या मैं ।
नित्त पिंड दे विच्च विचार पौंदी, एह झगड़ा चाय निबेड़्या मैं ।
सुंञा नित्त रुले मंगू विच्च बेले, माही सुघड़ है आण सहेड़्या मैं ।
माएं करम जागे साडे मंगूआं दे, साऊ असल जटेटड़ा घेर्या मैं ।

80. रांझे नूं हीर दा उत्तर

मक्खन खंड परउंठे खाह मियां, महीं छेड़ दे रब दे आसरे ते ।
हस्सन गभ्भरू रांझ्या जाल मियां, गुज़र आवसी दुध दे कासड़े ते ।
हीर आखदी रब रज़्ज़ाक तेरा, मियां जाईं ना लोकां दे हासड़े ते ।
मझीं छेड़ दे झल्ल दे विच्च मियां, आप हो बहीं इक्क पासड़े ते ।

(कासड़े=भांडे, रज़्ज़ाक=रिज़क देन वाला)

81. पंजां पीरां नाल मुलाकात

बेले रब दा नाउं लै जाय वड़्या, होया धुप दे नाल ज़हीर मियां ।
उहदी नेक सायत रुजू आण होई, मिले राह जांदे पंज पीर मियां ।
बच्चा खाह चूरी चोइ मझ बूरी, जीऊ विच्च ना होइ दिलगीर मियां ।
कायी नढड़ी सोहनी करो बख़शिश, पूरे रब दे हो तुसीं पीर मियां ।
बख़शी हीर दरगाह थीं तुध ताईं, याद करीं सानूं पवे भीड़ मियां ।

(ज़हीर=दुखी, नेक सायत रुजू आण होई=शुभ घड़ी आ गई,
दिलगीर=ग़मनाक, भीड़=औखा वेला,तकलीफ़)

82. पीरां दी बखशिश

खुआजा ख़िज़र ते सक्कर गंज बोज़ घोड़ी, मुलतान दा ज़करिया पीर नूरी ।
होर सईअद्द जलाल बुख़ारिया सी, अते लाल शाहबाज़ बहशत हूरी ।
तुर्रा ख़िज़र रुमाल शक्कर गंज दित्ता, अते मुन्दरी लाल शहबाज़ नूरी ।
खंजर सईअद्द जलाल बुखख़ारीए ने, खूंडी ज़करीए पीर ने हिक्क बूरी ।
तैनूं भीड़ पवें करीं याद जट्टा, वारिस शाह ना जानना पलक दूरी ।

(पंज पीर=1. ख़वाजा खिज़र, 2. शकर गंज, 3.ज़करिया खान,
4. सई्ईअद जलाल बुखारी, 5.लाअल शाहबाज़, बोज़ घोड़ी=चिट्टी
घोड़ी, तुर्रा=शमला, पलक दूरी=अक्ख झपकन जिन्नी दूरी)

83. हीर दा भत्ता लै के बेले नूं जाणा

हीर चाय भत्ता खंड खीर मक्खन, मियां रांझे दे पास लै धांवदी है ।
तेरे वासते जूह मैं भाल थक्की, रो रो आपना हाल सुणांवदी है ।
कैदों ढूंडदा खोज नूं फिरे भौंदा, बास चूरी दी बेल्युं आंवदी है ।
वारिस शाह मियां वेखो टंग लंगी, शैतान दी कल्हा जगांवदी है ।

(भत्ता=शाह वेला, बास=महक, कल्हा=फसाद)

84. कैदो रांझे कोल

हीर गई जां नदी वल लैन पाणी, कैदो आण के मुख विखावांदा है ।
असीं भुख ने बहुत हैरान कीते, आन सवाल ख़ुदाय दा पांवदा है ।
रांझे रुग भर के चूरी चाय दित्ती, लै के तुरत ही पिंड नूं धांवदा है ।
रांझा हीर नूं पुच्छदा इह लंङां, हीरे कौन फ़कीर किस थाउं दा है ।
वारिस शाह मियां जिवें पच्छ के ते, कोयी उप्परों लून चा लांवदा है ।

85. हीर

हीर आख्या रांझ्या बुरा कीतो, साडा कंम है नाल वैराईआं दे ।
साडे खोज नूं तक के करे चुगली, दिने रात है विच्च बुर्याईआं दे ।
मिले सिरां नूं इह विछोड़ देंदा, भंग घत्तदा विच्च कुड़माईआं दे ।
बाबाल अंमड़ी ते जाय ठिठ करसी, जा आखसी पास भरजाईआं दे ।

(वीरानी=पुरानी दुशमणी, वैर ठिठ करसी=मखौल करेगा)

86. तथा

हीर आख्या रांझ्या बुरा कीतो, तैं तां पुच्छना सी दुहरायके ते ।
मैं तां जाणदा नहीं सां इह सूहां, ख़ैर मंग्या सू मैथों आइके ते ।
खैर लैंदे ही पिछांह नूं परत भन्ना, उठ वग्या कंड वलायके ते ।
नेड़े जांदा हई जाय मिल नढ्ढीए नी, जाह पुच्छ लै गल्ल समझायके ते ।
वारिस शाह मियां उस थों गल्ल पुच्छीं, दो तिन्न अड्डियां हिक विच लायके ते ।

(सूंहा=सूह कढ्ढन वाला, कंड=पिट्ठ)

87. हीर दा कैदो नूं टक्करना

मिली राह विच्च दौड़ दे आ नढी, पहले नाल फ़रेब दे चट्ट्या सू ।
नेड़े आण के शीहनी वांग गज्जी ,अक्खीं रोह दा नीर पलट्ट्या सू ।
सिरों लाह टोपी गलों तोड़ सेल्ही, लक्कों चायके ज़िमीं ते स्ट्ट्या सू ।
पकड़ ज़मी ते मार्या नाल गुस्से, धोबी पटड़े ते खेस नूं छट्ट्या सू ।
वारिस शाह फरिशत्यां अरश उत्तों, शैतान नूं ज़िमीं ते स्ट्ट्या सू ।

(सेल्ही=लक्क दुआले बन्न्ही पेटी)

88. हीर ने कैदों नूं ड्राउणा

हीर ढाय के आख्या मियां चाचा, चूरी देह जे जीव्या लोड़ना हैं ।
नहीं मार के जिन्द गवा देसां, मैनूं किसे ना हटकना होड़ना हैं ।
बन्न्ह पैर ते हत्थ लटकाय देसां, लड़ लड़कियां नाल की जोड़ना हैं ।
चूरी देह खां नाल हया आपे, काहे असां दे नाल अजोड़ना हैं ।

(अजोड़ना=दुशमनी करनी)

89. कैदों दा पर्हआ विच्च फ़र्याद करना

अद्धी डुल्ल्ह पई अद्धी खोह लई, चुन मेल के पर्हे विच ल्यांवदा ई ।
केहा मन्नदे नहीं साउ मूल मेरा, चूरी पल्ल्युं खोल विखांवदा ई ।
नाहीं चूचके नूं कोयी मत देंदा, नढी मार के नहीं समझांवदा ई ।
चाक नाल इकल्लड़ी जाए बेले, अज्ज कल कोयी लीक लांवदा ई ।
वारिस शाह जदोकना चाक रक्ख्या, ओस वेलड़े नूं पछोतांवदा ई ।

(लीक लाउणी=कलंक दा टिक्का लाउणा)

90. चूचक

चूचक आख्या कूड़ियां करें गल्लां, हीर खेडदी नाल सहेलियां दे ।
पींघां पइके सई्ईआं दे नाल झूटे, त्रिंञन जोड़दी विच्च हवेलियां दे ।
इह चुग़ल जहान दा मगर लग्गा, फ़क्कर जाणदे हो नाल सेल्हियां दे ।
कदी नाल मदारियां भंग घोटे, कदी जाय नच्चे नाल चेलियां दे ।
नहीं चूहड़े दा पुत्त होए सईअद, घोड़े होन नाहीं पुत्त लेलियां दे ।
वारिस शाह फ़कीर भी नहीं हुन्दे, बेटे जट्टां ते मोचियां तेलियां दे ।

(कूड़ियां=झूठियां)

91. हीर दी मां कोल औरतां वल्लों चुग़ली

मां हीर दी थे लोक करन चुग़ली, महरी मलकीए धी ख़राब है नी ।
असीं मासियां फुफियां लज मोईआं, साडा अन्दरों जीउ कबाब है नी ।
शमसुद्दीन काज़ी नित करे मसले, शोख़ धी दा व्याह सवाब है नी ।
चाक नाल इकल्लियां जान धियां, होया माप्यां धुरों जवाब है नी ।
तेरी धी दा मग़ज़ है बेग़मां दा, वेखो चाक ज्युं फिरे नवाब है नी ।
वारिस शाह मूंह उंगलां लोक घत्तन, धी मलकी दी पुज्ज ख़राब है नी ।

(सवाब=पुन्न, पुज्ज=बहुत)

92. कैदो दी हीर दी मां कोल चुग़ली

कैदो आखदा धी व्याह मलकी, धरोही रब दी मन्न लै डायने नी ।
इक्के मार के वढ्ढ के करसु बेरे, मूंह सिर भन्न चोआं साड़ सायने नी ।
वेख धी दा लाड की दन्द कढ्ढें, बहुत झूरसें रन्ने कसायने नी ।
इक्के बन्न्ह के भोहरे चा घत्तो, लिम्ब वांग भड़ोले दे आयने नी ।

(धरोही=वासता, बेरे=टोटे, आयणा=भड़ोले दा मूंह)

93. मलकी दा ग़ुस्सा

ग़ुस्से नाल मलकी तप लाल होई, झब्ब दौड़ तूं मिट्ठीए नायने नी ।
सद ल्या तूं हीर नूं ढूंड के ते, तैनूं माउं सदेंदी है डायने नी ।
नी खड़दुम्बीए मूने पाड़्हीए नी, मुशटंडीए बार दीए वायने नी ।
वारिस शाह वांगूं किते डुब मोएं, घर आ स्यापे दीए नायने नी ।

(खड़दुम्बी=खड़ी पूंछ वाली, मून=काली हिरनी, पाड़्हा=हरन दी
नसल दा जानवर, वायण=नाची,नच्चन वाली)

94. हीर दा मां कोल आउणा

हीर आइ के आखदी हस्स के ते, अनी झात नी अम्बड़ीए मेरीए नी ।
तैनूं डूंघड़े खूह विच्च चाय बोड़ां, कुल्ल पट्टीउ बचड़ीए मेरीए नी ।
धी जवान जे किसे दी बुरी होवे, चुप कीतड़े चा नबेड़ीए नी ।
तैनूं वड्डा उदमाद आ जाग्या ए तेरे वासते मुनस सहेड़ीए नी ।
धी जवान जे निकले घरों बाहर, लग्गे वस्स तां खूह नघेरीए नी ।
वारिस ज्युंदे होन जे भैन भाई, चाक चोबरां नांह सहेड़ीए नी ।

(बोड़ां=डोबां, नबेड़ीए=मार देईए, उदमाद=काम खुमारी,
नघेरीए=सुट देईए, चोबर=हट्टा कट्टा)

95. मां ने हीर नूं ड्राउणा

तेरे वीर सुलतान नूं ख़बर होवे, करे फिकर उह तेरे मुकावने दा ।
चूचक बाप दे राज नूं लीक लाईआ, केहा फ़ायदा माप्यां तावने दा ।
नक वढ्ढ के कोड़मां गाल्यु ई होया फ़ायदा लाड लडावने दा ।
रातीं चाक नूं चाय जवाब देसां, नहीं शौक ए महीं चरवाने दा ।
आ मिट्ठीए लाह नी सभ गहणे, गुन की है गहण्यां पावने दा ।
वारिस शाह मियां छोहरी दा, जीउ होया ई लिंग कुटावने दा ।

(लिंग कुटावणे=कुट्ट खान दा)

96. हीर दा उत्तर

माए रब्ब ने चाक घर घल्ल्या सी, तेरे होन नसीब जे धुरों चंगे ।
इहो जहे जे आदमी हत्थ आवन, सारा मुलक ही रब थीं दुआ मंगे ।
जेहड़े रब कीते कंम होइ रहे, सानूं मांयों क्युं ग़ैब दे दएं पंगे ।
कुल्ल स्याण्यां मलक नूं मत्त दित्ती, तेग़ महरियां इशक ना करो नंगे ।
नहीं छेड़ीए रब्ब द्यां पूर्यां नूं, जिन्हां कप्पड़े ख़ाक दे विच्च रंगे ।
जिन्हां इशक दे मामले सिरीं चाए, वारिस शाह ना किसे थों रहन संगे ।

97. हीर दे मां प्यु दी सलाह

मलकी आख़दी चूचका बनी औखी, सानूं हीर द्यां मेहण्यां ख़ुआर कीता ।
ताहने देन शरीक ते लोक सारे, चौतरफ्युं खुआर संसार कीता ।
वेखो लज्ज स्यालां दी लाह सुट्टी, नढी हीर ने चाक नूं यार कीता ।
जां मैं मत्त दित्ती अग्गों लड़न लग्गी, लज्ज लाह के चशम नूं चार कीता ।
कढ्ढ चाक नूं खोह लै महीं सभ्भे, असां चाक थों जीउ बेज़ार कीता ।
इक्के धी नूं चाघड़े डोब करीए, जाणों रब ने चा गुन्हागार कीता ।
झब्ब व्याह कर धी नूं कढ्ढ देसों, सानूं ठिठ है एस मुरदार कीता ।
वारिस शाह नूं हीर फ़ुआर कीता, नहीं रब्ब सी साहब सरदार कीता ।

(चाघड़े=डूंघे पानी विच, बेज़ार=दुखी)

98. चूचक

चूचक आखदा मलकीए जंमदी नूं, गल घुटके काहे ना मार्यु ई ।
घुट्टी अक्क दी घोल ना दित्तिया ई उह अज्ज सवाब नितार्यु ई ।
मंझ डूंघड़े वहन ना बोड़्या ई वढ्ढ बोड़ के मूल ना मार्यु ई ।
वारिस शाह ख़ुदा दा ख़ौफ़ कीतो, कारूं वांग ना ज़िमीं निघार्यु ई ।

(ख़ौफ़=डर, कारूं=हज़रत मूसा दे वेले बनी इसराईल दा इक्क
बहुत ही मालदार कंजूस अते घुमंडी पुरश सी, फरऊन दे दरबार
विच्च इहदा बहुत रसूख सी ।इहदा नां वड्डे ख़ज़ान्यां नाल जोड़्या
जांदा है । केहा जांदा है कि इहदे खज़ान्यां दियां चाबियां चाली
ऊठां ते लद्दियां जांदियां सन । रब्ब दे राह विच्च इक्क दमड़ी वी
खरच नहीं करदा सी । अखीर रब्ब दे कहर नाल सने माल धन
धरती विच्च ही धस ग्या)

99. चूचक रांझे नूं

रातीं रांझे ने महीं जां आण ढोईआं, चूचक स्याल मत्थे वट्ट पायआ ई ।
भायी छड्ड महीं उठ जा घर नूं, तेरा तौर बुरा नज़र आया ई ।
स्याल कहे भायी साडे कंम नाहीं, जाए उधरे जिधरों आया ई ।
असां सान्ह ना रख्या नढ्ढियां दा, धियां चारनियां किस बतायआ ई ।
'इत्तकव्वा मवाज़ि अतुहम', वारिस शाह इह धुरों फ़ुरमायआ ई ।

(इत्तकव्वा मवाज़ि अतुहम=तुहमत वालियां थावां तों बचो)

100. चूचक ते रांझा

'वल्लो बसत अलहु रिज़क लइबादह', रज्ज खायके मसतियां चाईआं नी ।
'कुलू वशरबू' रब्ब ने हुकम दित्ता, नहीं मसतियां लिखियां आईआं नी ।
कित्थों पचन इहनां मुशटंड्यां नूं, नित्त खाणियां दुध मलाईआं नी ।
'वमा मिन दआबत्तनि फ़िल अरज़', इह आइतां धुरों फ़ुरमाईआं नी ।
वारिस शाह मियां रिज़क रब्ब देसी, इह लै सांभ मझ्झीं घर आईआं नी ।

(वल्लो बसत अलहु रिज़क=(कुरान मजीद विच्चों) रज्ज खान दियां मसतियां,
कुलू वशरबू… वमा मिन दआबत्तनि फ़िल अरज़=होर नहीं है, कोयी चार-पैरा
ज़मीन उत्ते)

101. रांझे ने चूचक दे घरों चले जाणा

रांझा स्ट्ट खूंडी उतों लाह भूरा, छड्ड चल्या सभ मंगवाड़ मियां ।
जेहा चोर नूं थड़े दा खड़क पहुंचे छड्ड टुरे है सन्न्ह दा पाड़ मियां ।
दिल चायआ देस ते मुलक उतों, उहदे भाय दा बोल्या हाड़ मियां ।
तेरियां खोलियां चोरां दे मिलन सभे, खड़े कट्टियां नूं कायी धाड़ मियां ।
मैनूं मझीं दी कुझ्झ परवाह नाहीं, नढ्ढी पई सी इत्त रेहाड़ मियां ।
तेरी धी नूं असीं की जाणने हां, तैनूं आउंदी नज़र पहाड़ मियां ।
तेरियां मझ्झां दे कारने रात अद्धी, फिरां भन्नदा कहर दे झाड़ मियां ।
मंगू मगर मेरे सभो आंवदा ई मझीं आपणियां महर जी ताड़ मियां ।
घुट बहें चरायी तूं माहियां दी, सही कीतो ई कोयी किराड़ मियां ।
महीं चारदे नूं हो गए माह बारां, अज्ज उठ्या अन्दरों साड़ मियां ।
वही खतरी दी रही खतरी ते, लेखा ग्या ई होइ पहाड़ मियां ।
तेरी धी रही तेरे घरे बैठी, झाड़ा मुफ़त दा ल्या ई झाड़ मियां ।
हट्ट भरे भकुन्ने नूं सांभ ल्या, कढ्ढ छड्ड्यो नंग किराड़ मियां ।
वारिस शाह अग्गों पूरी ना पईआ, पिच्छों आया सैं पड़तने पाड़ मियां ।

(मंगवाड़=पशूआं दा वाड़ा, थड़ा=पहरे ते बैठन वाली थां, हाड़ बोलणा=
तराह निकल जाणा, खोलियां=माल डंगर, रेहाड़=खहड़े, ताड़ लै=बन्द कर लै,
चरायी घुट बहें=चरायी ना देवें, झाड़ा=नफ़ा, पड़तने पाड़ के=रुकावटां चीर के)

102. गाईआं मझ्झां दा रांझे बिना ना चुगणा

मझीं चरन ना बाझ रंझेटड़े दे, माही होर सभे झख़ मार रहे ।
कायी घुस जाए कायी डुब जाए, कायी सन्ह रहे कायी पार रहे ।
स्याल पकड़ हथ्यार ते हो खुंमां, मगर लग के खोलियां चार रहे ।
वारिस शाह चूचक पछोतांवदा ई मंगू ना छिड़े, असीं हार रहे ।

(सन्न्ह=विचकार, खुंमां=सिद्धे खड़्हे हो के)

103. मां नूं हीर दा उत्तर

माए चाक तराहआ चाय बाबे, एस गल्ल उते बहुत खुशी हो नी ।
रब्ब ओस नूं रिज़क है देन हारा, कोयी ओस दे रब्ब ना तुसीं हो नी ।
महीं फिरन खराब विच्च बेल्यां दे, खोल दस्सो केही बुस बुसी हो नी ।
वारिस शाह औलाद ना माल रहसी, जेहदा हक्क खुत्था ओह नाखुशी हो नी ।

(तराहआ=डरा के भजा दित्ता, बाबे=अब्बा ने, बुस बुसी=अन्दर विस घोलणा)

104. मलकी चूचक नूं

मलकी गल्ल सुणांवदी चूचके नूं, लोक बहुत दिन्दे बद दुआ मियां ।
बारां बरस उस मझियां चारियां ने, नहीं कीती सू चूं चरा मियां ।
हक्क खोह के चा जवाब दित्ता, महीं छड के घरां नूं जा मियां ।
पैरीं लग के जा मना उस नूं, आह फ़क्कर दी बुरी पै जा मियां ।
वारिस शाह फ़कीर ने चुप कीती, उहदी चुप ही देग लुड़्हा मियां ।

(चूं चरा करनी=नांह नुक्कर करनी,बहाने घड़ने, देग लुड़्हा=रोड़ देवेगी)

105. चूचक

चूचक आख्या जाह मना उसनूं, व्याह तीक तां महीं चराय लईए ।
जदों हीर पा डोली टोर देईए, रुस पवे जवाब तां चाय देईए ।
साडी धीउ दा कुझ्झ ना लाह लैंदा, सभ टहल टकोर कराय लईए ।
वारिस शाह असीं जट हां सदा खोटे, जटका फन्द एथे हिक लाय लईए ।

(टहल टकोर=सेवा)

106. मलकी दा रांझे नूं लभ्भणा

मलकी जा वेहड़े विच्च पुच्छदी है, जेहड़ा जेहड़ा सी भाईआं सांव्यां दा ।
साडे माही दी ख़बर है किते अड़्यु, किधर मार्या ग्या पछताव्यां दा ।
ज़रा हीर कुड़ी उहनूं सद्ददी है, रंग धोवे पलंघ दे पाव्यां दा ।
रांझा बोल्या सत्थरों भन्न आकड़, इह जे प्या सरदार निथाव्यां दा ।
सिर पटे सफ़ा कर हो रहआ, जेहा बालका मुन्न्यां बाव्यां दा ।
वारिस शाह ज्युं चोर नूं मिले वाहर, उभे साह भरदा मारा हाव्यां दा ।

(सांवे भाई=बराबर दे भाई, सत्थर=धरती उत्ते घाह फूस दा बणायआ
बिसतरा, उभे साह भरदा=ठंडे साह लैंदा)

107. मलकी दा रांझे नूं तसल्ली देणा

मलकी आखदी लड़्युं जे नाल चूचक, कोयी सख़न ना जीऊ ते ल्यावना ई ।
केहा माप्यां पुतरां लड़न हुन्दा, तुसां खट्टना ते असां खावना ई ।
छिड़ माल दे नाल मैं घोल घत्ती, शामो शाम रातीं घरीं आवना ई ।
तूं ही चोइके दुध जमावना ई तूं ही हीर दा पलंघ विछावना ई ।
कुड़ी कल्ह दी तेरे तों रुस बैठी, तूं ही ओस नूं आइ मनावना ई ।
मंगू माल स्याल ते हीर तेरी, नाले घूरना ते नाले खावना ई ।
मंगू छेड़ के झल्ल विच्च मियां वारिस, असां तखत हज़ारे ना जावना ई ।

108. रांझे दा हीर नूं कहणा

रांझा आखदा हीर नूं माउं तेरी, सानूं फेर मुड़ रात दी चंमड़ी है ।
मियां मन्न लए ओस दे आखने नूं, तेरी हीर प्यारी दी अंमड़ी है ।
की जाणीए उट्ठ किस घड़ी बहसी, अजे व्याह दी वित्थ तां लंमड़ी है ।
वारिस शाह इस इशक दे वनज विच्चों, किसे पल्ले नहीं बद्धड़ी दंमड़ी है ।

109. रांझे दा मलकी दे आखे फेर मझियां चारना

रांझा हीर दी माउं दे लग आखे, छेड़ मझ्झियां झल्ल नूं आंवदा है ।
मंगू वाड़ दित्ता विच्च झांगड़े दे, आप नहायके रब्ब ध्यांवदा है ।
हीर सत्तूआं दा मगर घोल छन्ना, वेखो रिज़क रंझेटे दा आंवदा है ।
पंजां पीरां दी आमदन तुरत होई, हथ बन्न्ह सलाम करांवदा है ।
रांझा हीर दोवें होए आण हाज़र, अग्गों पीर हुन इह फरमांवदा है ।

(झांगड़े=जंगल,दरखतां दा झुंड,झिड़ी)

110. पीरां दा उत्तर

बच्चा दोहां ने रब नूं याद करना, नाहीं इशक नूं लीक लगावना ई ।
बच्चा खा चूरी चोए मझ बूरी, ज़रा ज्यु नूं नहीं वलावना ई ।
अट्ठे पहर ख़ुदाय दी याद अन्दर, तुसां ज़िकर ते ख़ैर कमावना ई ।
वारिस शाह पंजां पीरां हुकम कीता, बच्चा इशक तों नहीं डुलावना ई ।

(वलावणा=असल कंम तों ध्यान पासे करना)

111. काज़ी अते मां बाप वल्लों हीर नूं नसीहत

हीर वत्त के बेल्युं घरीं आई, मां बाप काज़ी सद्द ल्याउंदे ने ।
दोवे आप बैठे अते विच्च काज़ी, अते साहमने हीर बहाउंदे ने ।
बच्चा हीर तैनूं असीं मत्त दिन्दे, मिट्ठी नाल ज़बान समझाउंदे ने ।
चाक चोबरां नाल ना गल्ल कीजे, इह मेहनती केहड़े थाउं दे ने ।
त्रिंञन जोड़ के आपने घरीं बहीए, सुघड़ गाउं के जीउ परचाउंदे ने ।
लाल चरखड़ा डाह के छोप पाईए, केहे सुहने गीत झनाउं दे ने ।
नीवीं नजर ह्या दे नाल रहीए, तैनूं सभ स्याने फ़रमाउंदे ने ।
चूचक स्याल होरीं हीरे जाननी हैं, सरदार इह पंज गराउं दे ने ।
शरम माप्यां दी वल ध्यान करीए, बाला शान इह जट सदाउंदे ने ।
बाहर फिरन ना सुंहदा जट्टियां नूं, अज्ज कल्ह लागी घर आउंदे ने ।
एथे व्याह दे वड्डे सामान होए, खेड़े पए बना बणाउंदे ने ।
वारिस शाह मियां चन्द रोज़ अन्दर, खेड़े जोड़ के जंज लै आउंदे ने ।

(छोप=कत्तन लई पाए पूणियां दे जोटे, बाला शान=उच्ची शान)

112. हीर

हीर आखदी बाबला अमलियां तों, नहीं अमल हटायआ जाय मियां ।
जेहड़ियां वादियां आदि दियां जान नाहीं, रांझे चाक तों रहआ ना जाय मियां ।
शींह चितरे रहन ना मास बाझों, झुट नाल ओह रिज़क कमाय मियां ।
इह रज़ा तकदीर हो रही वारिद, कौन होवनी दे हटाय मियां ।
दाग़ अम्ब ते सार दा लहे नाहीं, दाग़ इशक दा भी ना जाय मियां ।
मैं मंग दरगाह थीं ल्या रांझा, चाक बखश्या आप ख़ुदाय मियां ।
होर सभ गल्लां मंज़ूर होईआं, रांझे चाक थीं रहआ ना जाय मियां ।
एस इशक दे रोग दी गल्ल एवें, सिर जाए ते इह ना जाय मियां ।
वारिस शाह मियां जिवें गंज सिर दा, बारां बरस बिनां नाहीं जाय मियां ।

(वादियां=आदतां, आदि=मुढ कदीम दियां, झुट्ट=पंजे दा तिक्खा हल्ला,
वारिद हो रही=वापर रही, सार=लोहा)

113. चूचक

इहदे वढ लुड़्हके खोह चूंड्यां थों, गल घुट के डूंघड़े बोड़ीए नी ।
सिर भन्न सू नाल मधाणियां दे, ढूईं नाल खड़लत्त दे तोड़ीए नी ।
इहदा दातरी नाल चा ढिड पाड़ो, सूआ अक्खियां दे विच्च पोड़ीए नी ।
वारिस चाक तों इह ना मुड़े मूले, असीं रहे बहुतेरड़ा होड़ीए नी ।

(लुड़्हके=कन्नां दे गहणे, चुंड्यां=सिर दे वाल, खड़लत्त=दरवाज़े
दी साख, पोड़ना=गड्डणा,खोभ देणे)

114. मलकी

सिर बेटियां दे चाय जुदा करदे, जदों ग़ुस्स्यां ते बाप आंवदे ने ।
सिर वढ के नईं विच्च रोड़्ह दिन्दे, मास काउं कुत्ते बिल्ले खांवदे ने ।
सस्सी जाम जलाली ने रोड़्ह दित्ती, कई डूम ढाडी पए गांवदे ने ।
औलाद जेहड़ी कहे ना लग्गे, मापे ओस नूं घुट लंघांवदे ने ।
जदों कहर ते आंवदे बाप ज़ालम, बन्न्ह बेटियां भोहरे पांवदे ने ।
वारिस शाह जे मारीए बदां ताईं, देने ख़ून ना तिनां दे आंवदे ने ।

(घुट=गल घुट के, लंघावना=मार देणा, पार बुला देणा, सस्सी
जाम जलाली=सिंध दे पुराने शहर भम्बोर दे बादशाह जाम जलाली
दी पुतरी सस्सी सी । उसदे जंमन ते नजूमियां ने दस्स्या कि उह
वड्डी हो के इशक करके बादशाह दी बदनामी करेगी । इस तों
बचन लई जाम जलाली ने सस्सी नूं जंमद्यां ही इक्क सन्दूक विच्च
पाके नदी विच्च रोड़्ह दित्ता । उस नूं इक्क बेऔलाद धोबी अत्ते ने
पाल ल्या ।इहो लड़की कीचम मकरान दे राजकुमार पुन्नूं दे
इशक विच्च उहनूं वाजां मारदी रेत विच्च भुज्ज के मर गई)

115. हीर

जिन्हां बेटियां मारियां रोज़ क्यामत, सिरीं तिन्हां दे वड्डा गुनाह माए ।
मिलन खाणियां तिन्हां नूं फाड़ करके, जीकूं मारियां जे तिवें खा माए ।
कहे माउं ते बाप दे असां मन्ने, गल पल्लूड़ा ते मूंह घाह माए ।
इक्क चाक दी गल्ल ना करो मूले, ओहदा हीर दे नाल निबाह माएं ।

(पल्लूड़ा=पल्ला)

116. हीर दा भरा सुलतान

सुलतान भायी आया हीर सन्दा, आखे माउं नूं धीउ नूं ताड़ अंमां ।
असां फेर जे बाहर इह कदे डिट्ठी, सुट्टां एस नूं जान थीं मार अंमां ।
तेरे आख्यां सतर जे बहे नाहीं, फेरां एस दी धौन तलवार अंमां ।
चाक वड़े नाहीं साडे विच्च वेहड़े, नहीं डक्करे करां सू चार अंमां ।
जे धी ना हुकम विच्च रक्ख्या ई सभ साड़ स्ट्टूं घर बार अंमां ।
वारिस शाह जेहड़ी धीउ बुरी होवे, देईए रोड़्ह समुन्दरों पार अंमां ।

(हीर सन्दा=हीर दा, सतर=परदा)

117. हीर आपने भरा नूं

अखीं लग्गियां मुड़न ना वीर मेरे, बीबा वार घत्ती बलहारियां वे ।
वहन पए दर्या ना कदी मुड़दे, वड्डे लाय रहे ज़ोर ज़ारियां वे ।
लहू निकलनो रहे ना मूल वीरा, जित्थे लग्गियां तेज़ कटारियां वे ।
लग्गे दसत इक्क वार ना बन्द कीजन, वैद लिखदे वैदगियां सारियां वे ।
सिर दित्त्यां बाझ ना इशक पुग्गे, एह नहीं सुखालियां यारियां वे ।
वारिस शाह मियां भायी वरजदे ने, देखो इशक बणाईआं ख़ुआरियां वे ।

118. हीर नूं काज़ी दी नसीहत

काज़ी आख्या ख़ौफ़ ख़ुदाय दा कर, मापे जिद्द चड़्हे चाय मारनीगे ।
तेरी क्याड़ीउं जीभ खिचा कढ्ढन, मारे शरम दे ख़ून गुज़ारनीगे ।
जिस वकत असां दित्ता चा फ़तवा, ओस वकत ही पार उतारनीगे ।
मां आखदी लोड़्ह खुदाय दा जे, तिक्खे शोख दीदे वेख पाड़नीगे ।
वारिस शाह कर तरक बुर्याईआं तों, नहीं अग्ग दे विच्च निघारनीगे ।

(क्याड़ी=जड़्हों, तरक कर=छड्ड दे, निघारना=सुट्टना)

119. रांझे दा पंजां पीरां नूं याद करना

पंजां पीरां नूं रांझने याद कीता, जदों हीर सुनेहड़ा घल्ल्या ई ।
मां बाप काज़ी सभ गिरद होए, गिला सभना दा असां झल्ल्या ई ।
आए पीर पंजे अग्गे हथ जोड़े, नीर रोंद्यां मूल नाल ठल्ल्हआ ई ।
बच्चा कौन मुसीबतां पेश आईआं, विच्चों ज्यु साडा थरथल्ल्या ई ।
मेरी हीर नूं वीर हैरान कीता, काज़ी माउं ते बाप पथल्ल्या ई ।
मदद करो खुदाय दे वासते जी, मेरा इशक ख़राब हो चल्ल्या ई ।
बहुत प्यार दिलासड़े नाल पीरां, मीएं रांझे दा जीउ तसल्ल्या ई ।
तेरी हीर दी मद्दते मियां रांझा, मख़दूम जहानियां घल्ल्या ई ।
दो सद्द सुना खां वंझली दे, साडा गावने ते जीउ चल्ल्या ई ।
वारिस शाह अग्गे जट गांवदा ई वेखो राग सुन के जीउ हल्ल्या ई ।

(पथल्ल्या=उलद्द दित्ता,तंग कीता, तसल्ल्या=तसल्ली दित्ती सद्द=बोल,
गीत, जीउ चल्ल्या=दिल चाहुन्दा, जीउ हल्ल्या=रूह कम्ब गई)

120. पीरां नूं रांझे दा राग गा के सुणाउणा

शौक नाल वजाय के वंझली नूं, पंजां पीरां अग्गे खड़्हा गांवदा ए ।
कदी ऊधो ते कान्ह दे बिशनपदे, कदे माझ पहाड़ी दी लांवदा ए ।
कदी ढोल ते मारवन छोह दिन्दा, कदी बूबना चाय सुणांवदा ए ।
मलकी नाल जलाली नूं ख़ूब गावे, विच्च झ्यूरी दी कली लांवदा ए ।
कदी सोहनी ते महींवाल वाले, नाल शौक दे सद्द सुणांवदा ए ।
कदी धुरपदां नाल कबित छोहे, कदी सोहले नाल रलांवदा ए ।
सारंग नाल तलंग शहानियां दे, राग सूही दा भोग चा पांवदा ए ।
सोरठ गुजरियां पूरबी ललित भैरों, दीपक राग दी ज़ील वजांवदा ए ।
टोडी मेघ मल्हार गौंड धनासरी, जैतसरी भी नाल रलांवदा ए ।
मालसरी ते परज बेहाग बोले, नाल मारवा विच्च वजावन्दा ए ।
केदारा बेहागड़ा ते राग मारू, नाले कान्हड़े दे सुर लांवदा ए ।
कल्यान दे नाल मालकौंस बोले, अते मंगलाचार सुणांवदा ए ।
भैरों नाल पलासियां भीम बोले, नट राग दी ज़ील वजांवदा ए ।
बरवा नाल पहाड़ झंझोटियां दे, होरी नाल आसाखड़ा गांवदा ए ।
बोले राग बसंत हिंडोल गोपी, मुन्दावनी दियां सुरां लांवदा ए ।
पलासी नाल तरान्यां रामकली, वारिस शाह नूं खड़ा सुणांवदा ए ।

(बिशन पदे=सिफ़त दे गीत, धुर पद=शुरू होन दा पैर, सुहला=
सोल्हां (16) अंग दा कबित, मालकौंस=इक्क राग दा नाम, मंगला
चार=बन्दनां दे शबद हिंडोल गोपी=झूले दा गीत, पलासियां भीम=
भीम पलासी,इक्क राग, कली=श्यार दा इक्क हिस्सा, होरी=होली,
मुन्दावनी=अंतला गीत, सारंग=दुपहर वेले गायआ जान वाला
कलासकी राग, राग सूही=रग दा इक्क भेद, सोरठ=सुराशटर देस
दी रागनी, गुजरी=गुजरात देश दी रागनी, पूरबी=इक्क रागनी
जेहड़ी दिन दे तीजे पहर गायी जांदी है, ललित=इक्क रागनी,
भैरव=इक्क राग जेहड़ा डर पैदा करदा है, दीपक राग=इक्क राग
जिस दे गायआं अग्ग लग्ग जांदी है,इस पिच्छों मल्हार गाउना ज़रूरी है,
मेघ=बरसात दे दिनां दा राग जो रात दे पिछले पहर गायआ जांदा है,
कहन्दे हन कि इह राग ब्रहमा दे सिर विच्चों निकल्या है, मल्हार=सावण
माह विच्च गायी जान वाली रागनी, धनासरी=इक्क रागनी, जैतसरी=राग,
मालसरी=इक्क रागनी, बसंत=इक्क राग, राम कली=इक्क रागनी, मलकी=
अकबर बादशाह दे ज़माने दा मशहूर किस्सा, कीमा मलकी सिंध अते पच्छमी
पंजाब विच्च बहुत प्रसिद्ध है, जलाली=(जलाली अते रोडा) मुलतान दे लागे
तलह पिंड दे लुहार दी बेटी, जेहड़ी बहुत सुन्दर अते अकल वाली सी ।
बलख दा इक्क नौजवान अली गौहर उहदी सुन्दरता नूं सपने विच्च देख के
उहदी भाल विच्च फ़कीर बण के निकल प्या ।इहने आपने सारे वाल
मुना दित्ते इस लई उहनूं रोडा कहन्दे हन ।जदों इह जलाली दे पिंड
पहुंचा तां उह खूह ते पानी भरदी सी ।फेर मुलाकातां वध गईआं ।जलाली
उते घर वाल्यां ने पाबन्दी ला दित्ती ।उह आप उहनूं मिलन चला ग्या ।
सज़ा दे तौर ते रोडे नूं नदी विच्च सुट्ट दित्ता ।ओथों उह बच के निकल आया ।
जदों जलाली दा व्याह होन लग्गा तां उह उहनूं भजा के लै ग्या ।पत्तन ते
दर्या पार करन लग्गा सी कि फड़्या ग्या।लुहारां ने उहदे टोटे करके नदी
विच्च रोड़्ह दित्ता अते जलाली इसे सदमे नाल मर गई)

121. पीरां दा रांझे ते ख़ुश होणा

राज़ी हो पंजां पीरां हुकम कीता, बच्चा मंग लै दुआ जो मंगनी है ।
अजी हीर जट्टी मैनूं बखश देवो, रंगन शौक दे विच्च जो रंगनी है ।
तैनूं लाए भबूत मलंग करीए, बच्चा ओह वी तेरी मलंगनी है ।
जेहे नाल रली तेही हो जाए, नंगां नाल लड़े सो भी नंगनी है ।
वारिस शाह ना लड़ीं ना छड्ड जाईं, घर माप्यां दे नाहीं टंगनी है ।

(अजी=अज्ज ही, टंगणी=व्याह बग़ैर माप्यां घर बिठायी रक्खणी)

122. पीरां ने रांझे नूं असीस देणी

रांझे पीरां नूं बहुत खुशहाल कीता, दुआ दित्तिया ने जाह हीर तेरी ।
तेरे सभ मकसूद हो रहे हासल, मद्दद हो गए पंजे पीर तेरी ।
जाह गूंज तूं विच्च मंगवाड़ बैठा, बख़श लई है सभ तकसीर तेरी ।
वारिस शाह मियां पीरां कामलां ने, कर छड्डी है नेक तदबीर तेरी ।

(ख़ुशहाल=खुश, मकसूद=मंग,मुराद, तकसीर=गलती)

123. हीर रांझे दी मिट्ठी नायन नाल सलाह

रांझे आख्या आ खां बैठ हीरे, कोयी ख़ूब तदबीर बणाईए जी ।
तेरे माउं ते बाप दिलगीर हुन्दे, किवें उन्हां तों बात छुपाईए जी ।
मिट्ठी नैन नूं सद के बात गिणीए, जे तूं कहें तेरे घर आईए जी ।
मैं स्यालां दे वेहड़े वड़ां नाहीं, साथे हीर नूं नित्त पहुंचाईए जी ।
दिने रात तेरे घर मेल साडा, साडे सिरीं अहसान चड़्हाईए जी ।
हीर पंज मुहरां हत्थ दित्तियां ने, जीवें मिठीए डौल बणाईए जी ।
कुड़ियां नाल ना खोल्हना भेद मूले, सभा जीउ दे विच्च लुकाईए जी ।
वारिस शाह छुपाईए ख़लक कोलों, भावे आपना ही गुड़ खाईए जी ।

(डौल=सकीम, मूले=बिलकुल)

124. नाईआं दे घर

फल्हे कोल जित्थे मंगू बैठदा सी, ओथे कोल हैसी घर नाईआं दा ।
मिट्ठी नायन घरां सन्दी खसमनी सी, नायी कंम करदे फिरन साईआं दा ।
घर नाईआं दे हुकम रांझने दा, जिवें साहुरे घरीं जवाईआं दा ।
चां भां मट्ठी फिरन वाल्यां दी, बारा खुल्हदा लेफ़ तलाईआं दा ।
मिट्ठी सेज विछाए के फुल्ल पूरे, उत्ते आंवदा कदम ख़ुदाईआं दा ।
दोवें हीर रांझा रातीं करन मौजां, खड़ियां खान मझ्झीं सिर साईआं दा ।
घड़ी रात रहन्दे घरीं हीर जाए, रांझा भात पुछदा फिर धाईआं दा ।
आपो आपनी कार विच्च जाय रुझ्झन, बूहा फेर ना वेखदे नाईआं दा ।

(खसमणी=मालकन, चां भां=रौला, बारा खुलदा=दबाउ घट हुन्दा, फुल्ल
पूरे=फुल्ल सजाए, भात=चौल)

125. हीर अते सहेलियां दियां रांझे नाल खेडां

दिंहु होवे दुपहर तां आवे रांझा, अते ओधरों हीर वी आंवदी है ।
इह महीं ल्या बहांवदा ए ओह नाल सहेलियां ल्यांवदी है ।
उह वंझली नाल सरोद करदा, इह नाल सहेलियां गांवदी है ।
कायी ज़ुलफ नचोड़दी रांझने दी, कायी आण गले नाल लांवदी है ।
कायी चम्बड़े लक नूं मशकबोरी, कायी मुख नूं मुख छुहांवदी है ।
कायी 'मीरी आं' आख के भज्ज जांदी, मगर पवे तां टुभ्भियां लांवदी है ।
कायी आखदी माहिया माहिया वे, तेरी मझ कटी कट्टा जांवदी है ।
कायी मामे द्यां ख़रबूज़्यां नूं, कौड़े बकबके चा बणांवदी है ।
कायी आखदी झात है रांझ्या वे, मार बाहुली पार नूं धांवदी है ।
कुत्ते तारियां तरन चवाय करके, इक्क छाल घड़ंम दी लांवदी है ।
मुरदे-तारियां तरन चौफाल पै के, कोयी नौल निस्सल रुड़्ही आंवदी है ।
इक्क शरत बद्धी टुभी मार जाए, ते पताल दी मिट्टी ल्यांवदी है ।
इक्क बनन चतरांग मुग़ाबियां वी, सुरख़ाब ते कूंज बण आंवदी है ।
इक्क ढींग मुरगायी ते बने बगला, इक्क किलकिला हो विखांवदी है ।
इक्क वांग ककोहआं संघ टड्डे, इक्क ऊद दे वांग बुलांवदी है ।
औगत बोलदी इक्क टटीहरी हो, इक्क संग जलकावनी आंवदी है ।
इक्क लुधर होइके कुड़कुड़ावे, इक्क होइ संसार शूकांवदी है ।
इक्क दे पसलेटियां होइ बुल्हन, मशक वांगरां ओह फूकांवदी है ।
हीर तरे चौतरफ ही रांझने दे, मोर मछली बण बण आंवदी है ।
आप बने मछली नाल चावड़ां दे, मीएं रांझे नूं कुरल बणांवदी है ।
एस तख़त हज़ारे दे डम्बड़े नूं, रंग रंग दियां जालियां पांवदी है ।
वारिस शाह जट्टी नाज़ न्याज़ करके, नित यार दा जीउ परचांवदी है ।

(सरोद करदा=गाउंदा, मशक बोरी=जिद्दां माशकी ने लक्क नाल पाणी
वाली मशक बोरी वांग बन्न्ही होवे, 'मीरी आं'=मित्ती हां, मामे दे ख़रबूज़े=
नदी विच्च खेडी जान वाली इक्क खेड, बाहली=बांह,कमीज़ दी बांह, चवा=
चाउ, नौल निस्सल=पानी उत्ते सिद्धा तरना कि सारा सरीर दिसे, डम्बड़े=
दंभी,फ़रेबी, बुल्हण=इक्क वड्डी मच्छी, कुरल=कनकुरल, जालियां पाउंदी=
जाल लाउंदी)

126. कैदों दा मलकी कोल लूतियां लाउणा

कैदो आखदा मलकीए भैड़ीए नी, तेरी धीउ वड्डा चच्चर चायआ ई ।
जाय नईं ते चाक दे नाल घुलदी, एस मुलक दा रच्छ गवायआ ई ।
मां बाप काज़ी सभे हार थक्के एस इक्क ना ज्यु ते लायआ ई ।
मूंह घुट रहे वाल पुट रहे, लिंग कुट रहे मैनूं तायआ ई ।
हक्क हुट्ट रहे झाटा पुट रहे, अंत हुट्ट रहे ग़ैब चायआ ई ।
लिटां पुट रहे ते निखुट्ट रहे, लत्तीं जुट रहे ते लटकायआ ई ।
मत्तीं दे रहे पीर सेंव रहे, पैरीं पै रहे लोड़्हा आया ई ।
वारिस शाह मियां सुत्ते मामले नूं, लंङे रिच्छ ने मोड़ जगायआ ई ।

(मुलक दा रच्छ=देश दियां कदरां कीमतां, तायआ=दिल साड़
दित्ता, लंङा रिच्छ=कैदो)

127. मलकी दा काम्यां नूं हुकम

मलकी आखदी सद्द तूं हीर ताई, झब हो तूं औलिया नाईआ वे ।
अलफू मोचिया मौजमा वागिया वे, धद्दी माछिया भज तूं भाईआ वे ।
खेडन गई मूंह सोझले घरों निकली, निंम्ही शाम होयी नहीं आईआ वे ।
वारिस शाह माही हीर नहीं आए, महड़ मंगूआं दी घरीं आईआ वे ।

(सोझले=साझरे, मंगूआं दी महड़=बाहर चुगन गए पशूआं विच्चों कुझ
पहलां घर मुड़े पशू)

128. हीर नूं सद्दन लई बन्दे दौड़े

झंगड़ डूम ते फत्तू कलाल दौड़े, बेला चूहड़ा ते झंडी चाक मियां ।
जा हीर अग्गे धुंम घत्तिया ने, बच्चा केही उडायी आ ख़ाक मियां ।
तेरी मांउं तेरे उते बहुत ग़ुस्से, जानों मारसी चूचक बाप मियां ।
रांझा जाह तेरे सिर आण बणियां, नाले आखदे मारीए चाक मियां ।
स्याल घेर घेरन पवन मगर तेरे, गिणें आप नूं बहुत चलाक मियां ।
तोता अम्ब दी डाल ते करे मौजां, ते गुलेलड़ा पौस पटाक मियां ।
अज्ज स्यालां ने चुल्ल्हीं ना अग्ग घत्ती, सारा कोड़मा बहुत ग़मनाक मियां ।
वारिस शाह यतीम दे मारने नूं, सभा जुड़ी झनाउं दी ढाक मियां ।

(धुंम घतिया=रौला पायआ)

129. हीर दा मां कोल आउणा

हीर मां नूं आण सलाम कीता, माउं आखदी आ नी नहरीए नी ।
यरोलीए गोलीए बेहआए, घुंढ वीणीए ते गुल पहरीए नी ।
उधलाक टूम्बे अते कड़मीए नी, छलछिद्दरीए ते छाईं जहरीए नी ।
गोला दिंगीए उज़बके मालज़ादे, ग़ुस्से मारीए ज़हर दीए ज़हरीए नी ।
तूं अकायके साड़ के लोड़्ह दित्ता, लिंग घड़ूंगी नाल मुतहरीए नी ।
आ आखनी हां टल जा हीरे, महर रांझे दे नाल दीए महरीए नी ।
सान्हां नाल रहें देहुं रात खहन्दी, आ टलीं नी कट्टीए वहड़ीए नी ।
अज्ज रात तैनूं मझो वाह डोबां, तेरी सायत आंवदी कहरीए नी ।
वारिस शाह तैनूं कप्पड़ धड़ी होसी, वेखीं नील डाडां उट्ठे लहरीए नी ।

(यरोली=यार रक्खन वाली, घुंड वीणी=विखावे दा घुंड कढ्ढन वाली,
फ़रेबन, गुल पहरी=फुल्लां नाल सजावट करन वाली, उधलाक=उद्धल
जाणी, टूम्बे=टूम, कड़मीए=बद नसीबे, छल छिद्दरीए=उपरों भोली पर
अन्दरों छलां नाल भरी, छाई=मिट्टी दा भाव कच्चा, जहर=जहरीए,
पानी दा घड़ा, शादी तों पहलां इक्क रिवाज़ सी कि कुड़ियां थल्ले उपर
दो तिन्न घड़े पानी दे भर के सिर ते रक्खदियां सन अते उन्हां दे सिखर
इक्क शरबत दा प्याला भरके रक्ख दित्ता जांदा सी । जो कोयी मरद
इह घड़े लहाउन विच्च मदद करे तां उह आदमी उस मुट्यार नाल
व्याह करावेगा, गोला दिंगी=भैड़े चलन वाली इसतरी, उज़बक=
उज़बेकसतान दी,धाड़वी, मालज़ादी=कंजरी जां वेसवा, मुतहरा=डंडा,
कपड़ धड़ी=कपड़्यां नूं कुट कुट धोणा, नील डाडां=डंडे दियां पईआं लासां)

130. हीर

अंमां चाक बेले असीं पींघ पींघां, कैसे ग़ैब दे तूतीएे बोलनी हैं ।
गन्दा बहुत मलूक मूंह झूठड़े दा, ऐडा झूठ पहाड़ क्युं तोलनी हैं ।
शुला नाल गुलाब त्यार कीता, विच्च प्याज़ क्यूं झूठ दा घोलनी हैं ।
गदां किसे दी नहीं चुरा आंदी, दानी होइके ग़ैब क्युं बोलनी हैं ।
अणसुण्यां नूं चा सुणायआ ई मोए नाग़ वांगूं विस घोलनी हैं ।
वारिस शाह गुनाह की असां कीता, एडे ग़ैब तूफान क्युं तोलनी हैं ।

(ग़ैब दे तूतीए=जेहड़े बोल किसे ने सुने ना होन, शुला=शराब, प्याज़
घोलणा=कंम ख़राब करना, गदां=गधी, ग़ैब तोलने=निरा झूठ बोलणा)

131. मलकी

सड़े लेख साडे कज्ज पए तैनूं, वड्डी सोहनी धीउ नूं लीक लग्गी ।
नित करें तौबा निक करें यारी, नित करें पाखंड ते वड्डी ठग्गी ।
असीं मन्हा कर रहे हां मुड़ी नाहीं, तैनूं किसे फ़कीर दी केही वग्गी ।
वारिस शाह इह दुध ते खंड खांदी, मारी फिटक दी गई जे हो बग्गी ।

(कज=ऐब,नुकस, कही वग्गी=मूंहों आखी बद-दुआ लग्ग गई,
फिटक=ख़ून दे घट होन कारन रंग पीला होन दी बीमारी)

132. हीर

अंमां बस कर गाल्हियां दे नाहीं, गाल्ही दित्तियां वड्डड़ा पाप आवे ।
न्युं रब दी पट्टनी खरी औखी, धियां मार्यां वड्डा सराप आवे ।
लै जाए मैं भई्ईआं पिटड़ी नूं, कोयी ग़ैब दा सूल जां ताप आवे ।
वारिस शाह ना मुड़ां रंझेटड़े तों, भावें बाप दे बाप दा बाप आवे ।

(भई्ईआं-पिट्टी=भई्ईआं पिट्टियां,इक्क गाल)

133. कैदों दा स्यालां नूं कहणा

कैदो आइके आखदा सौहर्यो वो, मैथों कौन चंगा मत्त देसिया वोइ ।
महीं मोहियां ते नाले स्याल मुठे, अज्ज कल विगाड़ करेसिया वोइ ।
इह नित दा प्यार ना जाए ख़ाली, पिंज गड्ड दा पास ना वैसिया वोइ ।
सत्थों मार स्यालां ने गल्ल टाली, पर्हा छड्ड झेड़ा बहु भेसिया वोइ ।
रग इक्क वधीक है लंङ्यां दी, किरतघन फ़रफ़ेज़ मलघेसिया वोइ ।

(ख़ाली पिंज गड=बिना पिंज तों गड्डा, फ़रफ़ेज़=फ़रेब, बहुभेसिया=
बहुरूपिया, मलघेसिया=गन्दा)

134. तथा

कोयी रोज़ नूं मुलक मशहूर होसी, चोरी यारी है ऐब कवारियां नूं ।
जिन्हां बान है नच्चने कुदने दी, रक्खे कौन रन्नां हर्यारियां नूं ।
एस पाय भुलावड़ा ठग लीते, कंम पहुंचसी बहुत ख़ुआरियां नूं ।
जदों चाक उधाल लै जाग नढ्ढी, तदों झूरसों बाज़ियां हारियां नूं ।
वारिस शाह मियां जिन्हां लाईआं नी, सेयी जाणदे दारियां यारियां नूं ।

(भुलावड़ा=भुलेखा, दारियां=दारी दा बहु-वचन,ख़ातरदारी)

135. हीर नूं सहेलियां ने कैदों बाबत दस्सणा

किस्सा हीर नूं तुरत सहेलियां ने, जा कन्न दे विच्च सुणायआ ई ।
तैनूं मेहना चाक दा दे कैदों, विच्च पर्हे दे शोर मचायआ ई ।
वांग ढोल हराम शैतान दे ने, डग्गा विच्च बाज़ार दे लायआ ई ।
इह गल्ल जे जायसी अज्ज ख़ाली, तूं हीर क्युं नाउं सदायआ ई ।
कर छड्ड तूं एस दे नाल एही, सुने देस जो कीतड़ा पायआ ई ।
वारिस शाह अपराधियां रहन चड़्हियां, लंङे रिच्छ ने मामला चायआ ई ।

136. हीर दा सहेलियां नूं उत्तर

हीर आख्या वाड़ के फल्हे अन्दर, गल पा रस्सा मूंह घुट घत्तो ।
लै के कुतके ते कुढ्ढन माछियां दे, धड़ा धड़ ही मार के कुट घत्तो ।
टंगों पकड़ के लक्क विच्च पा जफ्फी, किसे टोभड़े दे विच्च सुट घत्तो ।
मार एस नूं लायके अग्ग झुग्गी, साड़ बाल के चीज़ सभ लुट घत्तो ।
वारिस शाह मियां दाड़्ही भम्बड़ी दा, जे को वाल दिसे सभो पुट घत्तो ।

(कुतके=घोटने, कुढण=चुभे जां भट्ठ विच्चों सुआह कढ्ढन वाला सन्द,
टोभड़े=टोभे)

137. हीर दी सहेलियां नाल कैदो नूं चंडन दी सलाह

सईआं नाल रल के हीर मता कीता, खिंड-पुंड के गलियां मल्लियां ने ।
कैदों आण वड़्या जदों फल्हे अन्दर, ख़बरां तुरत ही हीर थे घल्लियां ने ।
हत्थीं पकड़ कांबां वांग शाह परियां, ग़ुस्सा खायके सारियां चल्लियां ने ।
कैदों घेर ज्युं गधा घम्यार पकड़े, लाह सेल्हियां पकड़ पथल्लियां ने ।
घाड़ घड़न ठठ्यार ज्युं पौन धमकां, धाईं छट्टदियां जिवें मुहल्लियां ने ।

(कांबां=छमकां)

138. तथा

गल पायके सेल्हियां लाह टोपी, पाड़ जुल्लियां संघ नूं घुट्ट्यु ने ।
भन्न कौर ते कुतके छड़न लत्तीं, रोड़्ह विच्च खुड़ल्ल दे सुट्ट्यु ने ।
झंझोड़ सिर तोड़ के घत मूधा, लांगड़ पाड़ के धड़ा धड़ कुट्ट्यु ने ।
वारिस शाह दाड़्ही पुट पाड़ लांगड़, एह अखट्टड़ा ही चा खुट्ट्यो ने ।

(लांगड़=लंगोटी,तहमत, अखट्टड़ा=करड़ा)

139. तथा

हिक मार लत्तां दूयी ला छमकां, त्रीयी नाल चटाक्यां मारदी है ।
कोयी इट्ट वट्टा जुत्ती ढीम पत्थर, कोयी पकड़ के धौन भोइं मारदी है ।
कोयी पुट दाड़्ही दुब्बर विच्च देंदी, कोयी डंडका विच्च गुज़ारदी है ।
चोर मारीदा वेखीए चलो यारो, वारिस शाह एह ज़बत सरकार दी है ।

(त्रीई=तीजी, दुब्बर विच्च=गुदा विच्च, डंडका=डंडा)

140. कैदों कुड़ियां नाल उलझ्या

पाड़ चुन्नियां सुत्थणां कुड़तियां नूं, चक्क वढ्ढ के चीकदा चोर वांगूं ।
वत्ते फिरन परवार ज्युं चन्न दवाले, गिरद पायलां पाउंदियां मोर वांगूं ।
शाहूकार दा माल ज्युं विच्च कोटां, दवाले चौंकियां फिरन लाहौर वांगूं ।
वारिस शाह अंग्यारियां भखदियां नी, उहदी प्रीत है चन्न चकोर वांगूं ।

(चक्क=दन्दी, कोट=किला )

141. कैदों दी झुग्गी साड़नी

उहनूं फाट के कुट चकचूर कीता, स्यालीं लायके पासना धाईआं नी ।
हत्थीं बाल मवातड़े काह काने, वड्डे भांबड़े बाल लै आईआं नी ।
झुघ्घी साड़ के भांडड़े भन्न सारे, कुक्कड़ कुत्त्यां चाय भजाईआं नी ।
फौज़ां शाह दियां वारसा मार मथरा, मुड़ फेर लाहौर नूं आईआं नी ।

(चकचूर=चूर चूर, काह=घाह, मवातड़ा=लाटां, मार मथरा=
फतह करके)

142. कैदों दी पंचां अग्गे फ़र्याद

कैदो लित्थड़े पत्थड़े ख़ून वहन्दे, कूके बाहुड़ी ते फ़र्याद मियां ।
मैनूं मार के हीर ने चूर कीता, पैंचो पिंड द्यु, द्यु खां दाद मियां ।
कफ़न पाड़ बादशाह थे जा कूकां, मैं तां पुट सुटां बन्याद मियां ।
मैं तां बोलणों मार्या सच्च पिच्छे, शीरीं मार्या जिवें फ़रहाद मियां ।
चलो झगड़ीए बैठ के पास काज़ी, एह गल्ल ना जाए बरबाद मियां ।
वारिस अहमकां नूं बिना फाट खाधे, नहीं आंवदा इशक दा सवाद मियां ।

(कूके=चीकां मारे, दाद द्यु=इनसाफ़ करो, बिना फाट=बग़ैर कुट खाण
ते, सवाद=सुआद, मज़ा)

143. चूचक दा कैदों नूं उत्तर

चूचक आख्या लंङ्या जा साथों, तैनूं वल्ल है झगड़्यां झेड़्यां दा ।
सरदार हैं चोर उचक्क्यां दा, सूहां बैठा हैं साहआं फेड़्यां दा ।
तैनूं वैर है नाल अंञाण्यां दे, ते वल्ल है दब्ब दरेड़्यां दा ।
आप छेड़ के पिच्छों दी फिरन रोंदे, इहो चज्ज जे माहणूआं भैड़्यां दा ।
वारिस शाह अबलीस दी शकल कैदो, एहो मूल है सभ बखेड़्यां दा ।

(वल=ढंग,तरीका, सूहां=सूह लैन वाला,सूहिया, साहा=व्याह शादी,
दब दरेड़े=झगड़े,दबाउ, मूल=जड़्ह, अबलीस=शैतान)

144. कैदों ने आपनी हालत दस्सणा

मैनूं मार के उधलां मुंज कीता, झुग्गी ला मुआतड़े साड़िया ने ।
दौर भन्न के कुतके साड़ मेरे, पैवन्द जुल्लियां फोल के पाड़िया ने ।
कुक्कड़ कुत्तियां भंग अफीम लुट्टी, मेरी बावनी चा उजाड़िया ने ।
धड़वैल धाड़े मार लुट्टन, मेरा देस लुट्या एन्हां लाड़ियां ने ।

(उधलां=उधल जाणियां, पैवन्द=जोड़, पैवन्द जुल्लियां=उह जुल्ली
जां गोदड़ी जेहड़ी वक्ख वक्ख भांत दे सुहने टोटे जोड़ के सीती होवे,
बावनी=बवंजां पिंडां दी जगीर)

145. स्यालां दा उत्तर

झूठियां सच्चियां चुगलियां मेल के ते, घरों घरीं तूं लूतियां लावना हैं ।
प्यु पुत्तरां तों यार यार कोलों, मावां धियां नूं पाड़ विखावना हैं ।
तैनूं बान है बुरा कमावने दी, ऐवें टक्करां प्या लड़ावना हैं ।
पर्हां जाह जट्टा पिच्छा छड साडा, ऐवें कास नूं प्या अकावना हैं ।

(लूतियां लाउणां=चुग़लियां करके फसाद करवाउना)

146. कैदो

धरोही रब दी न्याउं कमाउ पैंचो, भरे देस च फाट्या कुट्ट्या हां ।
मुरशद बखश्या सी ठूठा भन्न्या ने, धुरों जड़्हां थीं ला मैं पुट्ट्या हां ।
मैं मार्यां देखदे मुलक सारे, धरूह करंग मोए वांगूं सुट्ट्या हां ।
हड्ड गोडड़े भन्न के चूर कीते, अड़ीदार गद्दों वांग कुट्ट्या हां ।
वारिस शाह मियां वड्डा ग़ज़ब होया, रो रो के बहुत नखुट्ट्या हां ।

(धरोही=दुहाई, करंग=मुरदा सरीर,पिंजर, अड़ीदार गदों=
अड़बैल जां अड़ियल गधी)

147. स्यालां ने कुड़ियां तों पुच्छणा

कुड़ियां सद के पैंचां ने पुच्छ कीती, लंङा कास नूं ढाह के मार्या जे ।
ऐवें बाझ तकसीर गुनाह लुट्या, इक्के कोयी गुनाह नितार्या जे ।
हाल हाल करे पर्हे विच्च बैठा, एडा कहर ते ख़ून गुज़ार्या जे ।
कहो कौन तकसीर फ़कीर अन्दर, फड़े चोर वांगूं घुट मार्या जे ।
झुग्गी साड़ के मार के भन्न भांडे, एस फ़कर नूं मार उतार्या जे ।
वारिस शाह मियां पुच्छे लड़कियां नूं, अग्ग ला फ़कीर क्युं साड़्या जे ।

(इक्के=जां, मार उतार्या=कुट कुट के मरन वाला कर दित्ता)

148. कुड़ियां दा उत्तर

मूंह उंगलां घत्त के कहन सभ्भे, कारे करन थीं इह ना संगदा ए ।
साडियां मंमियां टोंहदा तोड़ गल्ल्हां, पिच्छे होइके सुत्थणां सुंघदा ए ।
सानूं कट्टियां करे ते आप पिच्छों, सान्ह होइके टप्पदा रिंगदा ए ।
नाले बन्न्ह के जोग नूं जो दिन्दा, गुत्तां बन्न्ह के खिच्चदा तंगदा ए ।
तेड़ों लाह कहायी वत्ते फिरे भौंदा, भौं भौं मूतदा ते नाल त्रिंगदा ए ।
वारिस शाह उजाड़ विच्च जायके ते, फलगणां असाडियां सुंघदा ए ।

(कारे=भैड़े कंम, कहाई=लंगोटी, ठुंगदा=ठूंगे मारदा, फलगणां=
बसंत दी रुत्ते कुड़ियां दे पाए हार)

149. स्यालां दा कुड़ियां नूं उत्तर

उह आखदा मार गवा दित्ता, हड्ड गोडड़े भन्न के चूर कीते ।
झुग्गी साड़ भांडे भन्न खोह दाड़्ही, लाह भाग पट्टे पुट दूर कीते ।
टंगों पकड़ घसीट के विच्च खाई, तुसां मार के ख़लक रजूर कीते ।
वारिस शाह गुनाह थों पकड़ काफ़र, हड्ड पैर मलायकां चूर कीते ।

(भाग=भंग, मलायकां=फरिशत्यां,मलक दा बहु वचन)

150. कुड़ियां दा उत्तर

वार घत्त्या कौन बला कुत्ता, धिरकार के पर्हां ना मारदे हो ।
असां भई्ईड़े पिट्टियां हथ लायआ, तुसीं एतनी गल्ल ना सारदे हो ।
फ़रफ़जियां मकर्यां ठकर्यां नूं, मूंह लायके चा विगाड़दे हो ।
मुट्ठी मुट्ठी हां एड अपराध पौंदे, धियां सद्द के पर्हे विच्च मारदे हो ।
इह लुच्च मुशटंडड़ा असीं कुड़ियां, इहे सच्च ते झूठ नितारदे हो ।
पुरश होइके नढ्ढियां नाल घुलदा, तुसां गल्ल की चा निखारदे हो ।
वारिस शाह मियां मरद सदा झूठे, रन्ना सच्चियां सच्च की तारदे हो ।

(अपराध पौंदे=अपराध करदे)

151. कैदों दा फ़र्याद करना

कैदंो बाहुड़ी ते फ़र्याद कूके, धियां वाल्यु करो न्याउं मियां ।
मेरा हट्ट पसारी दा लुट्या ने, कोल वेखदा पिंड गिराउं मियां ।
मेरी भंग अफीम ते पोसत लुड़्हआ, होर न्यामतां दे केहा नाउं मियां ।
मेरी तुसां दे नाल ना सांझ काई, पिन्न टुकड़े पिंड दे खाउं मियां ।
तोते बाग़ उजाड़दे मेव्यां दे, अते फाह ल्यांवदे काउं मियां ।
वारिस शाह मियां वड्डे माल लुट्टे, केहड़े केहड़े दा लवां नाउं मियां ।

152. स्यालां ने कैदों नूं तसल्ली देणी

पैंचां कैदो नूं आख्या सबर कर तूं, तैनूं मार्या ने झक्ख मार्या ने ।
हाए हाए फ़कीर ते कहर होया, कोयी वड्डा ही ख़ून गुजार्या ने ।
बहुत दे दिलासड़ा पूंझ अक्खीं, कैदो लंङे नूं ठग्ग के ठार्या ने ।
कैदो आख्या धियां दे वल हो के, वेखो दीन ईमान निघार्या ने ।
वारिस अंध राजा ते बेदाद नगरी, झूठा वेख जो भांबड़ा मार्या ने ।

(भांबड़ा=भंवरा)

153. चूचक ते कैदों

चूचक आख्या अक्खीं विखाल मैनूं, मुंडी लाह सुट्टां मुंडे मुंडियां दी ।
इक्के द्यां तराह मैं तुरत माही, साडे देस ना थांउ है गुंड्यां दी ।
सरवाहियां छिक्क के अलख लाहां, असीं सथ ना पर्हे हां टुंड्यां दी ।
कैदो आख्या वेख फड़ावना हां, भला माउं केहड़ी इहनां लुंड्यां दी ।
अक्खीं वेख के फेर जे करो टाला, तदों जाणसां पर्हे दो बुंड्यां दी ।
एस हीर दी पड़छ दी भंग लैसां, सेल्ही वटसां चाक दे जुंड्यां दी ।
वारिस शाह मियां एथे खेड पौंदी, वेखो बुढ्ढ्यां दी अते मुंड्यां दी ।

(मुंडी=गरदन, मुंडियां=कुड़ियां, सरवाहियां=तलवारां, पड़छ=
खल्ल दा टुकड़ा)

154. कैदों ने बेले विच्च लुक के बहणा

वड्डी होयी उशेर तां जा छहआ, पोह माघ कुत्ता विच्च कुन्नूआं दे ।
होया शाह वेला तदों विच्च बेले, फेरे आण पए सस्सी पुन्नूआं दे ।
पोना बन्न्ह के रांझे ने हत्थ मल्या, ढेर आ लग्गे रत्ते चुन्नूआं दे ।
बेला लालो ही लाल पुकारदा सी, कैदो पै रहआ वांग हो घुनूंआं दे ।

(उशेर=सवेर, चुन्नूआं=फुलकारियां, घुनूंआं=घोगल-कन्ना)

155. सईआं दे जान पिच्छों हीर ते रांझे दा इकट्ठे पै जाणा

जदों लाल खजूर्युं खेड सई्ईआं, सभे घरो घरी उठ चल्लियां नी ।
रांझा हीर न्यारड़े हो सुत्ते, कंधां नदी दियां महीं ने मल्लियां नी ।
पए वेख के दोहां इकट्ठ्यां नूं, टंगां लंङे दियां तेज़ हो चल्लियां नी ।
पर्हे विच्च कैदो आण पग्ग मारी, चलो वेख लउ गल्लां अवल्लियां नी ।

(कंधां=कंढे, लाल खजूरी=इक्क थां दा नांउ, पग्ग मारी=दाअवे
नाल गल्ल कीती)

156. चूचक घोड़े चड़्ह के बेले नूं

पर्हे विच्च बेग़ैरती कुल्ल होई, चोभ विच्च कलेजड़े चसकदी ए ।
बेशरम है टप्प के सिरे चड़्हदा, भले आदमी दी जान धसकदी ए ।
चूचक घोड़े ते तुरत असवार होया, हत्थ सांग ज्युं बिजली लिशकदी ए ।
सुम्ब घोड़े दे काड़ ही काड़ वज्जन, सुणद्यां हीर रांझे तों खिसकदी ए ।
उठ रांझना वे बाबल आंवदा ई नाले गल्ल करदी नाले रिशकदी ए ।
मैनूं छड्ड सहेलियां नस्स गईआं, मकर नाल हौली हौली बुसकदी ए ।
वारिस शाह ज्युं मोरचे बैठ बिल्ली, साह घुट जांदी नाहीं कुसकदी ए ।

(टप्प के=पुज्ज के, रिशकदी=हौली हौली खिसकदी, धसकदी=थल्ले नूं जांदी
बुसकदी=हटकोरे लैंदी)

हीर वारिस शाह (भाग-3)
हीर वारिस शाह (भाग-1)
 
 
 Hindi Kavita