Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Kafian Baba Bulleh Shah in Hindi

काफ़ियां बाबा बुल्ले शाह (51-100)

51. इश्क दी नवीयों नवीं बहार

जां मैं सबक इश्क दा पढ़आ, मसजद कोलों जीउड़ा डरिआ,
डेरे जा ठाकर दे वड़्या, जित्थे वज्जदे नाद हज़ार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

जां मैं रमज़ इश्क दी पाई, मैना तोता मार गवाई,
अन्दर बाहर होई सफ़ाई, जित वल्ल वेखां यारो यार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

हीर रांझे दे हो गए मेले, भुल्ली हीर ढूंडेदी बेले,
रांझा यार बुक्कल विच खेले, मैनूं सुध रही ना सार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

बेद कुरानां पढ़ पढ़ थक्के, सज्जदे करद्यां घस्स गए मत्थे,
ना रब्ब तीरथ ना रब्ब मक्के, जिस पाइआ तिस नूर अनवार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

फूक मुसल्ला भन्न सुट्ट लोटा, ना फड़ तसबी कासा सोटा,
आशक कहन्दे दे दे होका, तरक हलालों खाह मुरदार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

उमर गवाई विच मसीती, अन्दर भरिआ नाल पलीती,
कदे नमाज़ तौहीद ना कीती, हुन की करना एं शोर पुकार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

इश्क भुलाइआ सजदा तेरा, हुन क्यों ऐवें पावें झेड़ा,
बुल्ल्हा हुन्दा चुप्प बथेरा, इश्क करेंदा मारो मार ।
इश्क दी नवीयों नवीं बहार ।

52. इश्क हकीकी ने मुट्ठी कुड़े

इश्क हकीकी ने मुट्ठी कुड़े,
मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

माप्यां दे घर बाल इञाणी, पीत लगा लुट्टी कुड़े,
मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

मनतक मअने कन्नज़ कदूरी, मैं पढ़ पढ़ इलम वगुच्ची कुड़े,
मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

नमाज़ रोज़ा ओहनां की करना, जिन्हां प्रेम सुराही लुट्टी कुड़े,
मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

बुल्ल्हा शौह दी मजलस बह के, सभ करनी मेरी छुट्टी कुड़े ,
मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

53. इस नेहुं दी उलटी चाल

साबिर ने जद नेहुं लगाइआ, देख पिया ने की दिखलाइआ,
रग रग अन्दर किरम चलाइआ, ज़ोरावर दी गल्ल मुहाल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

ज़करिया ने जद पाइआ कहारा, जिस दम वज्या इश्क नग्गारा,
धरिआ सिर ते तिक्खा आरा, कीता अड्ड जवाल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

जदों यहीए ने पाई झाती, रमज़ इश्क दी लाई काती,
जलवा दित्ता आपना ज़ाती, तन खंजर कीता लाल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

आप इशारा अक्ख दा कीता, तां मधुवा मनसूर ने पीता,
सूली चढ़ के दरशन लीता, होया इश्क कमाल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

सुलेमान नूं इश्क जो आया, मुन्दरा हत्थों चा गवाइआ,
तख़त ना परियां दा फिर आया, भट्ठ झोके प्या बेहाल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

बुल्ल्हे शाह हुन चुप्प चंगेरी, ना कर एथे ऐड दलेरी,
गल्ल ना बणदी तेरी मेरी, छड्ड दे सारे वहम ख़्याल,
इस नेहुं दी उलटी चाल ।

54. जिचर ना इश्क मजाज़ी लागे

जिचर ना इश्क मजाज़ी लागे ।
सूई सीवे ना बिन धागे ।
इश्क मजाज़ी दाता है ।
जिस पिच्छे मसत हो जाता है ।

इश्क जिन्हां दी हड्डीं पैंदा,
सोई निरजीवत मर जांदा,
इश्क पिता ते माता है,
जिस पिच्छे मसत हो जाता है ।

आशक दा तन सुक्कदा जाए,
मैं खड़ी चन्द पिर के साए,
वेख मशूकां खिड़ खिड़ हासे,
इश्क बेताल पढ़ाता है ।

जिस ते इश्क इह आया है,
उह बेबस कर दिखलाइआ है,
नशा रोम रोम में आया है,
इस विच ना रत्ती उहला है,

हर तरफ दसेंदा मौला है,
बुल्ल्हा आशक वी हुन तरदा है,
जिस फिकर पिया दे घर दा है,
रब्ब मिलदा वेख उचरदा है ।

मन अन्दर होया झाता है ।
जिस पिच्छे मसत हो जाता है ।

55. जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई

आपे हैं तूं लहमका लहमी, आपे हैं तूं न्यारा,
गल्लां सुन तेरियां, मेरा अकल गिआ उड्ड सारा,
शरियत तों बेशरियत करके, भली खुभ्भन विच पाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

ज़र्रा इश्क तुसाडा दिसदा, परबत कोलों भारा,
इक घड़ी दे वेखन कारन, चुक्क लिआ जग्ग सारा,
कीती मेहनत मिलदी नाहीं, हुन की करे लुकाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

वा-वेला की करना, जिन्द जु साड़े सु साड़े,
सुक्खां दा इक पूला नाहीं, दुक्खां दे खलवाड़े,
होनी सी जु उस दिन होई, हुन की करीए भाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

सलाह ना मन्नदा वात (ना) पुच्छदा, आख वेखां की करदा,
कल्ल्ह मैं कमली ते (अज्ज) उह कमला, हुन क्यों मैथों डरदा,
उहले बह के रमज़ चलाई, दिल नूं चोट लगाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

सीने बान धन्दाला गल विच, इस हालत विच जालां,
चा चा सिर भोएं ते मारां, रो रो यार संभालां,
अग्गे वी सईआं ने नेहुं लगाइआ, के मैं ही प्रीत लगाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

जग्ग विच रोशन नां तुसाडा, आशक तों क्यों नस्सदे हो,
वस्सो रसो विच बुक्कल दे, आपना भेत ना दसदे हो,
विचोकड़े विचकारों फड़के, मैं कर उलटी लटकाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

अन्दर वालिआ बाहर आवीं, बाहों पकड़ खलोवां,
ज़ाहरा मैथों लुक्कन छिपन, बातन कोले होवां,
ऐसे बातन फटी जुलैखां, मैं बातन बिरलाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

आखणियां सी आख सुणाईआं, मचला सुणदा नाहीं,
हत्थ मरोड़ां फाटां तलियां, रोवां ढाहीं ढाहीं,
लैने थीं मुड़ देना आया, इह तेरी भलिआई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

इक इक लहर अजेही आवे, नहीं दस्सणियां सो दस्सां,
सच्च आखां तां सूली फाहा, झूठ कहां तां वस्सां,
ऐसी नाज़क बात क्यों आखां, कहन्द्यां होवे पराई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

वही वसीला पाकां दा, तुसीं आपे साडे होवो,
जागद्यां संग साडे जागो, सवां तां नाले सौंवो,
जिसने तैं संग प्रीत लगाई, केहड़े सुक्ख सुवाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

ऐसियां लीकां लाईआं मैनूं, होर कई घर गाले,
उपरवारों पावें झाती, वतें फिरे दुआले,
लुक्कन छिपन ते छल जावन, इह तेरी वड्याई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

तेरा मेरा न्याउं नबेड़े, रूमों काज़ी आवे,
खोल्ह किताबां करे तसल्ली, दोहां इक बतावे,
भरम्या काज़ी मेरे उत्ते, मैं काज़ी भरमाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

बुल्ल्हा शौह तूं केहा जेहा हुन, तूं केहा मैं कही,
तैनूं जो मैं ढूंडन लग्गी, मैं भी आप ना रही,
पाइआ ज़ाहर बातन तैनूं, बातन अन्दर रुशनाई ।
जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई ।

56. जिस तन लगिआ इश्क कमाल

जिस तन लगिआ इश्क कमाल ।
नाचे बेसुर ते बेताल ।

दरदमन्दां नूं कोई ना छेड़े, आपे आपना दुक्ख सहेड़े,
जंमना ज्यूना मूल हुगेड़े, आपना बूझे आप ख़्याल ।
जिस तन लगिआ इश्क कमाल ।

जिस ने वेस इश्क दा कीता, धुर दरबारों फ़तवा लीता,
जदों हज़ूरों प्याला पीता, कुझ्झ ना रेहा जवाब सवाल ।
जिस तन लगिआ इश्क कमाल ।

जिस दे अन्दर वस्या यार, उठ्या यारो यार पुकार,
ना उह चाहे राग ना तार, ऐवें बैठा खेडे हाल ।
जिस तन लगिआ इश्क कमाल ।

बुल्ल्हा शौह नगर सच्च पाइआ, झूठा रौला सभ मुकाइआ,
सच्च्यां कारन सच्च सुणाइआ, पाइआ उस दा पाक जमाल ।
जिस तन लगिआ इश्क कमाल ।

57. जो रंग रंगिआ गूढ़ा रंगिआ, मुरशद वाली लाली ओ यार

आहद विचों अहमद होया, विचों मीम निकाली ओ यार ।
दरमुआनी दी धूम मची है, नैणां तों घुंड उठाली ओ यार ।
जो रंग रंगिआ गूढ़ा रंगिआ, मुरशद वाली लाली ओ यार ।

सूराएयासीन मज़मल्ल वाला, बदला गरज संभाली ओ यार ।
ज़ुलफ स्याह दे विच यद बैज़ा, दे चमकार विखाली ओ यार ।
जो रंग रंगिआ गूढ़ा रंगिआ, मुरशद वाली लाली ओ यार ।

मूतू-कबला-अंता-मूतू होया, मोयां नूं मार जवाली ओ यार ।
बुल्ल्हा शौह मेरे घर आया, कर कर नाच वखाली ओ यार ।
जो रंग रंगिआ गूढ़ा रंगिआ, मुरशद वाली लाली ओ यार ।

58. कदी आ मिल बिरहों सताई नूं

इश्क लग्गे तां है है कूकें,
तूं की जाने पीड़ पराई नूं ।
कदी आ मिल बिरहों सताई नूं ।

जे कोई इश्क वेहाज्या लोड़े,
सिर देवे पहले साईं नूं ।
कदी आ मिल बिरहों सताई नूं ।

अमलां वालियां लंघ लंघ गईआं,
साडियां लज्जां माही नूं ।
कदी आ मिल बिरहों सताई नूं ।

ग़म दे वहन सितम दियां कांगां,
किसे कयर कप्पर विच पाई नूं ।
कदी आ मिल बिरहों सताई नूं ।

मां प्यु छड्ड सईआं मैं भुल्लियां,
बलेहारी राम दुहाई नूं ।
कदी आ मिल बिरहों सताई नूं ।

59. कदी आ मिल यार प्यारिआ

कदी आ मिल यार प्यारिआ ।
तेरियां वाटां तों सिर वारिआ ।

चढ़ बागीं कोइल कूकदी,
नित सोज़-इ-अलम दे फूकदी,
मैनूं ततड़ी को शाम विसारिआ ।
कदी आ मिल यार प्यारिआ ।

बुल्ल्हा शहु कदी घर आवसी,
मेरी बलदी भा बुझावसी,
उहदी वाटां तों सिर वारिआ ।

कदी आ मिल यार प्यारिआ ।
तेरियां वाटां तों सिर वारिआ ।

60. कदी आपनी आख बुलाओगे

मैं बेगुन क्या गुन किया है, तन पिया है मन पिया है,
उह पिया सु मोरा जिया है, पिया पिया से रल जाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

मैं फ़ानी आप को दूर करां, तैं बाकी आप हज़ूर करां,
जे अज़हार वांग मनसूर करां, खड़ सूली पकड़ चढ़ाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

मैं जागी सभ सोया है, खुल्ल्ही पलक ते उठ के रोया है,
जुज़ मसती काम ना होया है, कदी मसत अलस्सत बणाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

जदों अनहद बण दो नैन धरे, अग्गे सिर बिन धड़ के लाख पड़े,
उच्छल रंगन दे दरिआ चढ़े, मेरे लहू दी नदी वगाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

किसे आशक ना सुक्ख सोना ए असां रो रो के मुक्ख धोना ए,
इह जादू है कि टूना ए इस रोग दा भोग बणाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

कहो क्या सिर इश्क बिचारेगा, फिर क्या बीसी निरवारेगा,
जथ दार उप्पर सिर वारेगा, तब पिच्छों ढोल वजाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

मैं आपना मन कबाब किया, आंखों का अरक शराब किया,
रग तारां हड्ड कबाब किया, क्यामत क्या नाम बुलाओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

शकरंजी को क्या कीजीएगा, मन भाना सौदा लीजीएगा,
इह दीन दुनी किस दी जीएगा, मुझे आपना दरस बताओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

मैनूं आण नज़ारे ताइआ है, दो नैणां बरखा लाइआ है,
बन रोज़ इनायत आया है, ऐवें आपना आप जिताओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

बुल्ल्हा शहु नूं वेखन जाओगे, इन्हां अक्खियां नूं समझाओगे,
दीदार तदाहीं पाओगे, बण शाह इनायत घर आओगे ।
कदी आपनी आख बुलाओगे ।

61. कदी मोड़ मुहारां ढोलिआ

कदी मोड़ मुहारां ढोलिआ ।
तेरियां वाटां तों सिर घोलिआ ।

मैं न्हाती धोती रह गई, कोई गंढ सज्जन दिल बह गई,
कोई सुख़न अवल्ला बोलिआ, कदी मोड़ मुहारां ढोलिआ ।

बुल्ल्हा शहु कदी घर आवसी, मेरी बलदी भा बुझावसी,
जीहदे दुक्खां ने मूंह खोल्हआ, कदी मोड़ मुहारां ढोलिआ ।

62. कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल

तेल तिलां दे लड्डू ने, जलेबी पकड़ मंगाई,
डरदे नट्ठे कन्द शकर तों, मिसरी नाल लड़ाई,
कां लगड़ नूं मारन लग्गे, गोचें दी गल्ल्ह लाल ।
कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल ।

हो फरिआदी लक्खपतियां ने, लून ते दसतक लाई,
गुलगलिआं मनसूबा बद्धा, पापड़ चोट चलाई,
भेडां मार पलंग खपाए, गुरगां बुरा अहवाल ।
कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल ।

गुड़ दे लड्डू गुस्से हो के, पेड़्यां ते फरिआदी,
बरफ़ी नूं कहे दाल चने दी, तूं हैं मेरी बांदी,
चढ़ सहे शीहणियां ते नच्चन लग्गे, वड्डी पई धमाल ।
कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल ।

शकर खंड कहे मिसरी नूं, मेरी वेख सफ़ाई,
चिड़वे चने इह करन लग्गे, बदाने नाल लड़ाई,
चूहआं कन्न बिल्ली दे कुतरे, हो हो के खुशहाल ।
कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल ।

बुल्ल्हा शहु हुन क्या बतावे, जो दिसे सो लड़दा,
लत्त बलत्ती, गुत्त बगुत्ती, कोई नहीं हत्थ फड़दा,
वेखो केही क्यामत आई, आया खर दज्जाल ।
कपूरी रेवड़ी क्यों कर लड़े पतासे नाल ।

63. कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े

नित मत्तीं देंदी मां धिया, क्यों फिरनी एं ऐवें आ धिया,
नी शरम हया ना गवा धिया, तूं कदी तां समझ नदान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

चरख़ा मुफत तेरे हत्थ आया, पल्ल्युं नहींउं खोल्ह गवाइआ,
नहीउं कदर मेहनत दा पाइआ, जद होया कंम आसान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

चरख़ा बण्या ख़ातर तेरी, खेडन दी कर हिरस थुरेड़ी,
होना नहीउं होर वडेरी, मत कर कोई अगिआन कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

चरख़ा तेरा रंग रंगीला, रीस करेंदा सभ कबीला,
चलदे चारे कर लै हीला, हो घर दे विच आवादान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

इस चरख़े दी कीमत भारी, तूं की जाने कदर गवारी,
उच्ची नज़र फिरें हंकारी, विच आपने शान गुमान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

मैं कूकां कर खलियां बाहीं, ना हो ग़ाफ़ल समझ कदाईं,
ऐसा चरख़ा घड़ना नाहीं. फेर किसे तरखान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

इह चरख़ा तूं क्यों गवाया, क्यों तूं खेह दे विच रुलाया,
जद दा हत्थ तेरे विच आया, तूं कदे ना डाहआ आण कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

नित्त मतीं द्यां वलल्ली नूं, इस भोली कमली झल्ली नूं,
जद पवेगा वख़त इकल्ली नूं, तद हाए हाए करसी जान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

मुढों दी तूं रिज़क वेहूणी, गोहड़्युं ना तूं कत्ती पूणी,
हुन क्यों फिरनी एं निंमोझूणी, किस दा करें गुमान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

ना तक्कला रास करावें तूं, ना बायड़ माल्ह पवावें तूं,
क्यों घड़ी मुड़ी चरख़ा चावें तूं, तूं करनी एं आपना ज़्यान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

डिंगा तक्कला रास करा लै, नाल शताबी बायड़ पवा लै,
ज्युं कर वगे तिवें वगा लै, मत कर कोई अगिआन कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

अज्ज घर विच नवीं कपाह कुड़े, तूं झब झब वेलना डाह कुड़े,
रूं वेल पिंजावन जाह कुड़े, मुड़ कल्ल्ह ना तेरा जान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

जद रूं पंजा लिआवेंगी, सईआं विच पूणियां पावेंगी,
मुड़ आप ही पई भावेंगी, विच सारे जग्ग जहान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

तेरे नाल दियां सभ सईआं ने, कत्त पूणियां सभना लईआं ने,
तैनूं बैठी नूं पिछों पईआं ने, क्यों बैठी एं हुन हैरान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

दीवा आपने पास जगावीं, कत्त कत्त सूत भड़ोली पावीं,
अक्खीं विचों रात लंघावीं, औखी करके जान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

राज पेका दिन चार कुड़े, ना खेडो खेड गुज़ार कुड़े,
ना हो वेहली कर कार कुड़े, घर बार ना कर वीरान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

तूं सुत्यां रैन गुज़ार नहीं, मुड़ आउना दूजी वार नहीं,
फिर बहना एस भंडार नहीं, विच इको जेडे हान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

तूं सदा ना पेके रहना एं, ना पास अम्बड़ी दे बहना एं,
भा अंत विछोड़ा सहना एं, वस्स पएंगी सस्स ननान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

कत्त लै नी कुझ कता लै नी, हुन तानी तन्द उना लै नी,
तूं आपना दाज रंगा लै नी, तूं तद होवें परधान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

जद घर बेगाने जावेंगी, मुड़ वत्त ना ओथों आवेंगी,
ओथे जा के पछोतावेंगी, कुझ अगदों कर सम्यान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

अज्ज ऐडा तेरा कंम कुड़े, क्यों होई एं बे-ग़म कुड़े ,
कीकर लैना उस दंम कुड़े, जद घर आए महमान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

जद सभ सईआं टुर जाणगियां, फिर ओथे मूल ना आउणगियां,
आ चरख़े मूल ना डाहुणगियां, तेरा त्रिंञन प्या वीरान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

कर मान ना हुसन जवानी दा, परदेस ना रहन सैलानी दा,
कोई दुनियां झूठी फ़ानी दा, ना रहसी नाम निशान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

इक औखा वेला आवेगा, सभ साक सैन भज्ज जावेगा,
कर मदत पार लंघावेगा, उह बुल्ल्हे दा सुलतान कुड़े ।
कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े ।

64. कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े

कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।
छल्ली लाह भड़ोले घत्त कुड़े ।

जे पूनी पूनी कत्तेंगी, तां नंगी मूल ना वत्तेंगी,
सै वर्हआं दे जे कत्तेंगी, तां काग मारेगा झट कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

विच गफ़लत जे तैं दिन जाले, कत्त के कुझ ना ल्यु संभाले.
बाझों गुन शहु आपने नाले, तेरी क्यों कर होसी गत्त कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

मां प्यो तेरे गंढीं पाईआं, अजे ना तैनूं सुरतां आईआं,
दिन थोड़े ते चाय मकाईआं, ना आसें पेके वत्त कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

जे दाज वेहूनी जावेंगी, तां किसे भली ना भावेंगी,
ओथे शहु नूं किवें रीझावेंगी, कुझ लै फ़करां दी मत्त कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

तेरे नाल दियां दाज रंगाए नी, ओहनां सूहे सालू पाए नी,
तूं पैर उलटे क्यों चाए नी, जा ओथे लग्गी तत्त कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

बुल्ल्हा शहु घर आपने आवे, चूड़ा बीड़ा सभ सुहावे,
गुन होसी तां गले लगावे, नहीं रोसें नैणीं रत्त कुड़े ।
कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े ।

65. कौन आया पहन लिबास कुड़े

कौन आया पहन लिबास कुड़े ।
तुसीं पुच्छो नाल इख़लास कुड़े ।

हत्थ खूंडी कम्बल काला, अक्खियां विच वसे उजाला,
चाक नहीं कोई है मतवाला, पुच्छो बिठा के पास कुड़े ।
कौन आया पहन लिबास कुड़े ।

चाकर चाक ना इस नूं आखो, इह ना खाली गुझ्झड़ी घातों,
विछड़्या होया पहली रातों, आया करन तलाश कुड़े ।
कौन आया पहन लिबास कुड़े ।

ना इह चाकर चाक कही दा, ना इस ज़र्रा शौक महीं दा,
ना मुशताक है दुद्ध दहीं दा, ना उस भुक्ख प्यास कुड़े ।
कौन आया पहन लिबास कुड़े ।

बुल्ल्हा शहु लुक बैठा ओहले, दस्से भेत ना मुक्ख से बोले,
बाबल वर खेड़्यां तों टोले, वर मांहढा महंडे पास कुड़े ।
कौन आया पहन लिबास कुड़े ।

66. केहे लारे देना एं सानूं दो घड़ियां मिल जाईं

केहे लारे देना एं सानूं दो घड़ियां मिल जाईं ।

नेड़े वस्सें थां ना दस्सें
ढूंडां कित वल्ल जाहीं,
आपे झाती पाई अहमद
वेखां तां मुड़ नाहीं ।

आख ग्युं मुड़ आइउं नहीं
सीने दे विच भड़कन भाहीं,
इकसे घर विच वसदियां रसदियां
कित वल्ल कूक सुणाईं ।

पांधी जा, मेरा देह सुनेहा
दिल दे उहले लुकदा केहा,
नाम अल्लाह दे ना हो वैरी
मुक्ख वेखन नूं ना तरसाईं ।

बुल्ल्हा शहु की लाइआ मैनूं
रात अद्धी है तेरी महमा,
औझड़ बेले सभ कोई डरदा
सो ढूंडां मैं चाईं चाईं ।
केहे लारे देना एं सानूं दो घड़ियां मिल जाईं ।

67.ख़ाकी ख़ाक स्युं रल जाणा

ख़ाकी ख़ाक सूं (स्युं) रल जाणा
कुछ नहीं ज़ोर धिङाना ।

गए सो गए फेर नहीं आए, मेरे जानी मीत प्यारे,
मेरे बाझों रहन्दे नाहीं, हुन क्यों असां विसारे,
ख़ाकी ख़ाक सूं (स्युं) रल जाना ।

चित प्यार ना जाए साथों, उभ्भे साह ना रहन्दे,
असीं मोयां दे परले पार, ज्यूंद्यां दे विच बहन्दे,
ख़ाकी ख़ाक सूं (स्युं) रल जाना ।

ओथे मगर प्यादे लग्गे, तां असीं एथे आए,
एथे सानूं रहन ना मिलदा, अग्गे कित वल धाए,
ख़ाकी ख़ाक सूं (स्युं) रल जाना ।

बुल्ल्हा एथे रहन ना मिलदा, रोंदे पिटदे चल्ले,
इको नाम ओसे दा ख़रची, पैसा होर ना पल्ले,
ख़ाकी ख़ाक सूं (स्युं) रल जाणा
ना कर ज़ोर धिङाना ।

68. खेड लै विच वेहड़े घुंमी घुंम

खेड लै विच वेहड़े घुंमी घुंम ।

एस वेहड़े विच आला सोंहदा, आले दे विच ताकी
ताकी दे विच सेज विछावां, नाल पिया संग राती
एस वेहड़े दे नौं दरवाज़े, दसवां गुपत रखाती
योस गली दी मैं सार ना जानां, जहां आवे पिया जाती ।

एस वेहड़े विच आला सोंहदा, आले दे विच ताकी
आपने पिया नूं याद करेसां, चरख़े दे हर फेरे
एस वेहड़े विच मकना हाथी, संगल नाल कहेड़े
बुल्ल्हे शाह फ़कीर साईं दा, जागद्यां कूं छेड़े ।
खेड लै विच वेहड़े घुंमी घुंम ।

69. की बेदरदां संग यारी

की बेदरदां संग यारी,
रोवन अक्खियां ज़ारो ज़ारी ।

सानूं गए बेदरदी चड्ड के, हिजरे सांग सीने विच गड्ड के,
जिसमों जिन्द नूं लै गए कढ्ढ के, इह गल्ल कर गए हैंस्यारी ।
की बेदरदां संग यारी,

बेदरदां दा की भरवासा, खौफ़ नहीं दिल अन्दर मासा,
चिड़ियां मौत गवारां हासा, मगरों हस्स हस्स ताड़ी मारी ।
की बेदरदां संग यारी,

आवन कह गए फेर ना आए, आवन दे सभ कौल भुलाए,
मैं भुल्ली भुल्ल नैन लगाए, केहे मिले सानूं ठग्ग बपारी ।
की बेदरदां संग यारी,

बुल्ल्हे शाह इक सौदा कीता, पीता (कीता) ज़हर प्याला पीता,
ना कुझ नफ़ा ना टोटा लीता, दरद दुक्खां दी गठड़ी भारी ।
की बेदरदां संग यारी,
रोवन अक्खियां ज़ारो ज़ारी ।

70. कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो

कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।
तुसीं हर रंग दे विच वस्सदे हो ।

कुनफईकून तैं आप कहाआ, तैं बाझों होर केहड़ा आया,
इश्कों सभ ज़हूर बणाइआ, आशक हो के वस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

पुच्छो आदम किस ने आंदा ए किथों आया कित्थे जांदा ए,
ओथे किस दा तैनूं लांहजा ए ओथे खा दाना उठ नस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

आपे सुने ते आप सुणावें, आपे गावें आप बजावें,
हक्कों कौल सरोद सुणावें, किते जाहल हो के नस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

तेरी वहदत तूएं पुचावें, अनलहक्क दी तार मिलावें,
सूली ते मनसूर चढ़ावें, ओथे कोल खलो के हस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

जिवें सिकन्दर तरफ नौशाबां, हो रसूल लै आया किताबां,
यूसफ़ हो के अन्दर खुआबां, ज़ुलैखां दा दिल खस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

किते रूमी हो किते ज़ंगी हो, किते टोपी पोश फ़रंगी हो,
किते मै-ख़ाने विच भंगी हो, किते मेहर महरी बण वसदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।

बुल्ल्हा शहु इनायत आरफ़ है, उह दिल मेरे दा वारस है,
मैं लोहा ते उह पारस है, तुसीं ओसे दे संग खस्सदे हो ।
कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो ।
तुसीं हर रंग दे विच वस्सदे हो ।

71. की जाणां मैं कोई

की जाणां मैं कोई,
वे अड़्या,
की जाणां मैं कोई ।

जो कोई अन्दर बोले चाले ज़ात असाडी होई,
जिस दे नाल मैं नेहुं लगाइआ उहो जेही होई ।
की जाणां मैं कोई ।

चिट्टी चादर लाह सुट्ट कुड़ीए पहन फकीरां दी लोई,
चिट्टी चादर नूं दाग़ लग्गेगा लोई नूं दाग़ ना कोई ।
की जाणां मैं कोई ।

अलफ़ पछाता बे पछाती ते तलावत होई,
सीन पछाता शीन पछाता सादक साबर होई ।
की जाणां मैं कोई ।

कू कू करदी कुमरी आही गल विच तौक प्युई,
बस ना करदी कू कू कोलों कू कू अन्दर मोई ।
की जाणां मैं कोई ।

जो कुझ करसी अल्ल्हा भाना क्या कुझ करसी कोई,
जो कुझ लेख मत्थे दा लिख्या मैं उस ते शाकर होई ।
की जाणां मैं कोई ।

आशक बकरी माशूक कसाई मैं मैं करदी कोही,
ज्युं ज्युं मैं मैं बहुता करदी त्युं त्युं मोई मोई ।
की जाणां मैं कोई ।

बुल्ल्हा शहु इनायत कर के शौक शराब दितोई,
भला होया असीं दूरों छुट्टे नेड़े आन लद्धोई ।
की जाणां मैं कोई,
वे अड़्या,
की जाणां मैं कोई ।

72. की करदा बेपरवाही जे

की करदा बेपरवाही जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

कुन्न केहा फ़ईकून कहाइआ, बातन ज़ाहर दे वल आया,
बेचूनी दा चून बणाइआ, बिखड़ी खेड मचाई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

सिर मख़फ़ी दा जिस दंम बोला, घुंघट अपने मूंह से खोला,
हुन क्यों करदा साथों ओहला, सभ विच हकीकत आई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

करमन्ना बनी आदम केहा, कोई ना कीता तेरे जेहा,
शान बज़ुरगी दे संग इहा, डफड़ी खूब वजाई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

आपे बेपरवाहियां करदे, आपने आप से आपे डरदे,
रेहा समां विच हर हर घर दे, भुल्ली फिरे लोकाई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

चेटक ला दीवाना होया, लैला बण के मजनूं मोया,
आपे रोया आपे धोया, कही कीती आशनाई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

आपे हैं तूं साजन सईआं, अकल दलीलां सभ उठ गईआं,
बुल्ल्हा शाह ने खुशियां लईआं, हुन करदा क्यों जुदाई जे ।
की करदा बेपरवाही जे ।

73. की करदा नी की करदा नी

की करदा नी की करदा नी,
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

इकसे घर विच वस्सद्या रस्सद्यां, नहीं हुन्दा विच परदा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

विच मसीत निमाज़ गुज़ारे, बुत्तख़ाने जा वड़दा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

आप इक्को कई लक्ख घरां दे, मालक सभ घर घर दा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

जित वल्ल वेखां उत्त वल्ल ओहो, हर दी संगत करदा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

मूसा ते फरऔन बना के, दो हो के क्यों लड़दा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

हाज़र नाज़र उहो हर थां, चूचक किस नूं खड़दा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

ऐसी नाज़ुक बात क्यों कहन्दा, ना कह सकदा ना जरदा ।
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

बुल्ल्हा शहु दा इश्क बघेला, रत्त पींदा गोशत चरदा ।
की करदा नी की करदा नी,
कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा ।

74. क्यों इश्क असां ते आया ए

क्यों इश्क असां ते आया ए ।
तूं आया है मैं पाइआ ए ।

इबराहीम चा चिख़ा सुटायउ, ज़करीए सिर कलवत्तर धरायउ,
यूसफ़ हट्टो हट्ट विकायउ, कहु सानूं की लिआया ए ।
क्यों इश्क असां ते आया ए ।

शेख सुनआनों ख़ूक चरायउ, शमस दी खल्ल उलट लुहायउ,
सूली ते मनसूर चढ़ायउ, कर हत्थ हुन मैं वल धाइआ ए ।
क्यों इश्क असां ते आया ए ।

जिस घर विच तेरा फेर होया, सो जल बल कोइला ढेर होया,
जद राख़ उड्डी तद सेर होया, कहु किस गल्ल दा सधराइआ ए ।
क्यों इश्क असां ते आया ए ।

बुल्ल्हा शहु दे कारन करीए, तन भट्ठी मन अहरन करीए,
प्रेम हथौड़ा मारन करीए, दिल लोहा अग्ग पंघराइआ ए ।
क्यों इश्क असां ते आया ए ।
तूं आया है मैं पाइआ ए ।

75. क्यों लड़ना हैं क्यों लड़ना हैं ग़ैर गुनाही

क्यों लड़ना हैं क्यों लड़ना हैं ग़ैर गुनाही ।
लातत्तहर्रक खुद लिख्यो ई किस नूं देना एं फाही ।
शर्हा ते अहल कुरान भी आहे, असीं अग्गे सद्दे आई ।
अलसतुबरब्बुकम वारद होया, कालूबला धुंम पाई ।
कुनफईकून अवाज़ा होया, तदां असां भी कोलों आही ।
लज़्ज़त मार दीवानी कीती नहीं जाती असली आही ।
क्यों लड़ना हैं क्यों लड़ना हैं ग़ैर गुनाही ।

76. क्यों ओहले बह बह झाकी दा

क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।
इह परदा किस तों राखी दा ।

कारन पीत मीत बण आया, मीम दा घुंघट मुक्ख पर पाइआ,
अहद ते अहमद नाम धराइआ, सिर छतर झुल्ले लौलाकी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

तुसीं आपे आप ही सारे हो, क्यों कहन्दे असीं न्यारे हो,
आए आपने आप नज़्ज़ारे हो, विच बरजक्ख रख्या खाकी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

तुध बाझों दूसरा केहड़ा है, क्यों पाइआ उलटा झेड़ा है,
इह डिठा बड़ा अंधेरा है, हुन आप नूं आपे आखी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

किते रूमी हो किते शामी हो, किते साहब किते गुलामी हो,
तुसीं आपने आप तमामी हो, कहो खोटा खरा सौ लाखी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

जिस तन विच इश्क दा जोश होया, उह बेख़ुद हो बेहोश होया,
उह क्यों कर रहे खामोश होया, जिस प्याला पीता साकी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

तुसीं आप असां नूं धाए जी, कद रहन्दे छुपे छुपाए जी,
तुसीं शाह 'इनायत' बण आए जी, हुन ला ला नैन झमाकी दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

बल्ल्हा शाह तन भा दी भट्ठी कर, अग्ग बाल हड्डां तन माटी कर,
इह शौक मुहबत बाटी कर, इह मधूवा इस बिध चाखी (झाकी) दा ।
क्यों ओहले बह बह झाकी दा ।

77. लणतरानी दस्स के जानी हुन क्यों मुक्ख छुपाइआ ई

मैं ढोलन विच फ़रक ना कोई एनुमा फ़ुरमाइआ ई ।
आयो सजन गल लग्ग सौवां मैं हुन घुंघट पाइआ ई ।
लणतरानी दस्स के जानी हुन क्यों मुक्ख छुपाइआ ई ?

तन साबर दे कीड़े पाए जो चढ़आ सो पाइआ ई ।
मनसूर कोलों कुझ ज़ाहर होया सूली पकड़ चढ़ाइआ ई ।
लणतरानी दस्स के जानी हुन क्यों मुक्ख छुपाइआ ई ?

दस्सो नुकता ज़ात इलाही सज्जदा किस कराइआ ई ।
बुल्ल्हा शहु दा हुकम ना मन्न्या शैतान ख़वार कराइआ ई ।
लणतरानी दस्स के जानी हुन क्यों मुक्ख छुपाइआ ई ?

78. माटी कुदम करेंदी यार

माटी जोड़ा माटी घोड़ा, माटी दा असवार,
माटी माटी नूं दौड़ाए, माटी दा खड़कार,
माटी कुदम करेंदी यार ।

माटी माटी नूं मारन लग्गी, माटी दे हथ्यार,
जिस माटी पर बहुती माटी, तिस माटी हंकार,
माटी कुदम करेंदी यार ।

माटी बाग़ बगीचा माटी, माटी दी गुलज़ार,
माटी माटी नूं वेखन आई, माटी दी ए बहार ।
माटी कुदम करेंदी यार ।

हस्स खेड मुड़ माटी होई, माटी पायों पसार,
बुल्हा इह बुझारत बुझ्झें, लाह सिरों भोएं मार(भार),
माटी कुदम करेंदी यार ।

79. माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर

लोकां दे भाने चाक चकेटा, साडा रब्ब ग़फ़ूर ।
माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर ।

मिलन दी ख़ातर चशमां, बहन्दियां सी नित झूर ।
माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर ।

उट्ठ गई हिजर जुदाई जिगरों, ज़ाहर दिसदा नूर ।
माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर ।

बुल्ल्हा रमज़ समझ दी पाईआ, ना नेड़े ना दूर ।
माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर ।

80. मैं बे-कैद मैं बे-कैद

मैं बे-कैद मैं बे-कैद ।
ना रोगी ना वैद ।

ना मैं मोमन ना मैं काफर,
ना सईयेद ना सैद ।

चौदीं तबकीं सीर असाडा,
किते ना हुन्दा कैद ।

ख़राबात मैं जाल असाडी,
ना शोभा ना ऐब ।

बुल्ल्हा शहु दी ज़ात की पुछनैं,
ना पैदा ना पैद ।

81. मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दे दरबारों

पैरों नंगी सिरों झंडोली सुनेहा आया पारों,
तड़बराट कुझ बणदा नाहीं की लैसां संसारों,
मैं पकड़ां छजनी (छजली) हिरस उडावां छट्टा मालगुज़ारों,
मैं चूहरेटड़ी आ सच्चे साहब दे दरबारों ।

हन्दू तुरक ना हुन्दे ऐसे दो जरमे तरै जरमे,
हराम हलाल पछाता नाहीं असीं दोहां ते नहीं भरमे,
गुरू पीर दी परख असांनूं सभनां तों सिर वारों,
मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दे दरबारों ।

घुंडी मुंडी दा बुहल बहाइआ बखरा लिआ दीदारों,
घुंड मुक्ख पिया तों लाहआ शरम रहीं दरबारों,
बुल्ल्हा शहु दे हो के रहीए छुट्ट गए कार बगारों,
मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दे दरबारों ।

82. मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों

मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों ।
ध्यान की छज्जली गिआन का कूड़ा काम क्रोध नित्त झाड़ूं,
मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों ।

काज़ी जाने हाकम जाने फारग-ख़ती बेगारों,
दिने रात मैं एहो मंगदी दूर ना कर दरबारों,
मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों ।

तुद्ध बाझों मेरा होर ना कोई कैं वल्ल करूं पुकारों,
बुल्ल्हा शहु इनायत करके बखरा मिले दीदारों,
मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों ।

83. मैं गल्ल ओथे दी करदा हां

मैं गल्ल ओथे दी करदा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

नाल रूहां दे लारा लाइआ, तुसीं चलो मैं नाले आया,
एथे परदा चा बणाइआ, मैं भरम भुलाइआ फिरदा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

नाल हाकम दे खेल असाडी, जे मैं मीरी तां मैं फाडी,
धरी धराई पूंजी तुहाडी, मैं अगला लेखा भरदा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

दे पूंजी मूरख झुंजलाइआ, मगर चोरां दे पैड़ा लाइआ,
चोरां दी मैं पैड़ लिआया, हर शब धाड़े धड़दा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

ना नाल मेरे उह रस्सदा ए ना मिन्नत कीती सज्जदा ए,
जां मुड़ बैठां तां भज्जदा ए मुड़ मिन्नतज़ारी करदा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

की सुक्ख पाइआ मैं आण इथे, ना मंज़ल ना डेरे जित्थे,
घंटा कूच सुणावां कित्थे, नित्त ऊठ कचावे कड़दा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

बुल्ल्हे शाह बेअंत डूंघाई, दो जग बीच ना लग्गदी काई,
उरार पार द ख़बर ना काई, मैं बे सिर पैरीं तरदा हां ।
मैं गल्ल ओथे दी करदा हां ।
पर गल्ल करदा वी डरदा हां ।

84. मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी

एस कुसुम्बे दे कंडे भलेरे अड़ अड़ चुन्नड़ी पाड़ी ।
एस कुसुम्बे दा हाकम करड़ा ज़ालम ए पटवारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

एस कुसुम्बे दे चार मुकद्दम मुआमला मंगदे भारी ।
होरनां चुगिआ फूहआ-फूहआ मैं भर लई पटारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

चुग्ग चुग्ग के मैं ढेरी कीता लत्थे आण बपारी ।
औखी घाटी मुशकल पैंडा सिर पर गट्ठड़ी भारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

अमलां वालियां सभ लंघ गईआं रह गई औगुणहारी ।
सारी उमरा खेड गवाई ओड़क बाज़ी हारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

अलस्सत केहा जद अक्खियां लाईआं हुन क्यों यार विसारी ।
इक्को घर विच वसदियां रसदियां हुन क्यों रही नयारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

मैं कमीनी कुचज्जी कोहजी बेगुन कौन विचारी ।
बुल्ल्हा शौह दे लायक नाहीं शाह इनायत तारी ।
मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी ।

85. मैं क्यों कर जावां काअबे नूं

मैं क्यों कर जावां काअबे नूं,
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

लोकीं सज्जदा काअबे नूं करदे साडा सज्जदा यार प्यारे नूं ।
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

अउगन वेख ना भुल्ल मियां रांझा याद करीं एस कारे नूं ।
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

मैं मनतारू तरन ना जाणां शरम पई तुद्ध तारे नूं ।
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

तेरा सानी कोई नहीं मिलिआ ढूंड लिआ जग्ग सारे नूं ।
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

बुल्ल्हा शहु दी प्रीत अनोखी तारे अउगणहारे नूं ।
मैं क्यों कर जावां काअबे नूं,
दिल लोचे तख़त हज़ारे नूं ।

86. मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां

मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां ।
मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां ।

कोई मुनसफ्फ हो निरवारे तां मैं दस्सनां हां,
मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां ।

आलम-फाज़ल मेरे भाई पा पढ़िआं मेरी अकल गवाई,
दे इश्क दे हुलारे मैं दस्सनां हां,
मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां ।

87. मैं पाइआ ए मैं पाइआ ए

मैं पाइआ ए मैं पाइआ ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

कहूं तरक किताबां पढ़ते हो, कहूं भगत हिन्दू जप करते हो,
कहूं गोरकंडी विच पड़ते हो, हर घर घर लाड लडाइआ ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

किते वैरी हो किते बेली हो, किते आप गुरू किते चेली हो,
किते मजनू हो किते लेली हो, हर घट घट बीच समाइआ ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

कहूं गाफ़ल कहूं नमाज़ी हो, कहूं मिम्बर ते बह काज़ी हो,
कहूं तेग़ बहादुर ग़ाज़ी हो, कहूं आपना पंथ बणाइआ ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

कहूं मसजद दा वरतारा ए कहूं बण्या ठाकुरदुआरा ए,
कहूं बैरागी जट धारा ए कहूं शैखन बण बण आया ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

बुल्ल्हा शहु दा मैं मुहताज होया, महाराज मिले मेरा काज होया,
मुझे पिया का दरस मिअराज होया, लग्गा इश्क तां इह गुन गाइआ ए ।
मैं पाइआ ए मैं पाइआ ए ।
तैं आप सरूप वटाइआ ए ।

88. मैं पुच्छां शहु दियां वाटां नी

मैं पुच्छां शहु दियां वाटां नी ।
कोई करे असां नाल बातां नी ।

भुल्ले रहे नाम ना जप्या, ग़फलत अन्दर यार है छप्या,
उह सिध पुरखा तेरे अन्दर वस्या, लगियां नफ़स दियां चाटां नी ।
कोई करे असां नाल बातां नी ।

जप लै ना हो भोली भाली, मत तूं साएं मुक्ख मुकाली,
उलटी प्रेम नगर दी चाली, भड़कन इश्क दियां लाटां नी ।
कोई करे असां नाल बातां नी ।

भोली ना हो, हो स्याणी, इश्क नूर दा भर लै पाणी,
इस दुनियां दी छोड़ कहाणी, इह यार मिलन दियां घातां नी ।
कोई करे असां नाल बातां नी ।

बुल्ल्हा रब्ब बण बैठों आपे, तद दुनियां दे पए स्यापे,
दूती वेहड़ा, दुशमन मापे, सभ कड़क पईआं आफातां नी ।
मैं पुच्छां शहु दियां वाटां नी ।
कोई करे असां नाल बातां नी ।

89. मैनूं छड्ड गए आप लद्द गए मैं विच की तकसीर

मैनूं छड्ड गए आप लद्द गए मैं विच की तकसीर ।
रातीं नींद ना दिन सुक्ख सुत्ती अक्खीं पलट्या नीर ।

छवियां (तोपां) ते तलवारां कोलों इश्क दे तिक्खे तीर ।
इश्के जेड ना ज़ालम कोई इह ज़हमत बेपीर ।

इक पल सायत आराम ना आवे बुरी ब्रेहों दी पीड़ ।
बुल्ल्हा शहु जे करे अनायत दुक्ख होवन तग़ईर ।

मैनूं छड्ड गए आप लद्द गए मैं विच की तकसीर ।

90. मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़

मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़ ।
मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़ ।
आ मियां रांझा दे दे नज़ारा मुआफ़ करीं तकसीर ।
मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़ ।

तख़त हज़ार्युं रांझा टुरिआ हीर निमानी दा पीर ।
मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़ ।

होरनां दे नौशहु आवे जावे की बुल्ल्हे विच तकसीर ।
मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़ ।

91. मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा

मैं जो तैनूं आख्या कोई घल्ल सुनेहड़ा ।
चशमां सेज विछाईआं दिल कीता डेरा ।
लटक चलेंदा आंवदा शाह इनायत मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

उह अजेहा कौन है जा आखे जेहड़ा ।
मैं विच की तकसीर है मैं बरदा तेरा ।
तैं बाझों मेरा कौन है दिल ढा ना मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

दसत कंगन बाहीं चूड़ियां गल नौरंग चोला ।
माही मैनूं कर गिआ कोई रावल रौला ।
जल थल आहीं मारदियां दिल पत्थर मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

क्या तेरी मांग संधूर भरी सोहे रतड़ा चोला ।
पई वांग समीं मैं कूकदी कर ढोला ढोला ।
अणगिणवें सूलां पा लिआ सूलां दा खेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

मैं जाता दुक्ख घर आपने दुक्ख पै घर कईआं ।
जेहा सिर सिर भांबड़ भड़क्या सभ टप्पदियां गईआं ।
हुन आण पई सिर आपने सभ चुक्क गिआ झेड़ा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

जेहड़ियां साहवरे मत्तियां सोई पेके होवन ।
शहु जिन्हां दे कायल ए चढ़ सेजे सोवन ।
जिस घर कौंत ना बोलिआ सोई खाली वेढ़ा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

मैं ढूंड शहर भालिआ घल्लां कासद केहड़ा ।
हुन चढ़ियां डोली प्रेम दी दिल धड़के मेरा ।
दिलदार मुहंमद आरबी हत्थ पकड़ीं मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

पहली पउड़ी उतरी पुल-सराते डेरा ।
हाजी मक्के जाहुन मैं मुक्ख वेखां तेरा ।
आ इनायत कादरी दिल चाहे मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

पहली रात है साल दी दिल खौफ़े मेरा ।
डूंघी गोर कढेंद्या होया लहदों डेरा ।
पहला बन्द खोल्हद्यां मूंह काअबे मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

मिली है बांग रसूल दी फुल्ल खिड़्या मेरा ।
सदा होया मैं हाज़री हां हाज़र तेरा ।
हर पल तेरी हाज़री इहो सजदा मेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

बुल्ल्हा भड़कन शहु लई सीने विच भाहीं ।
औखा पैंडा प्रेम दा सो घटदा नाहीं ।
पै धक्के दिल विच झेड़ दे सिर धाईं बेरा ।
मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा ।

92. मैनूं इश्क हुलारे देंदा

मैनूं इश्क हुलारे देंदा ।
मूंह चढ़आ यार बुलेंदा ।

की पुच्छदा हैं की ज़ात सफ़्फ़ात मेरी, उहो आदम वाली ज़ात मेरी,
नहुन-अकरब दे विच घात मेरी, विच रब्ब दा सिर झुलेंदा ।
मैनूं इश्क हुलारे देंदा ।

किते शिया ते किते सुन्नी ए किते जटाधारी किते मुन्नी ए,
मेरी सभ से फ़ारग कुन्नी ए जो कहां सो यार मनेंदा ।
मैनूं इश्क हुलारे देंदा ।

बुल्ल्हा दूरों चल के आया जी, उहदी सूरत ने भरमाइआ जी,
ओसे पाक जमाल विखाइआ जी, उह हिक्क दम ना भुलेंदा ।
मैनूं इश्क हुलारे देंदा ।
मूंह चढ़आ यार बुलेंदा ।

93. मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं

मैनूं की होया क्यों मैनूं कमली कहन्दी हैं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

मैं विच वेखां तां मैं नहीं हुन्दी मैं विच दिसना एं मैं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

सिर तों पैर तीकर वी तूं हैं अन्दर बाहर हैं तूं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

छुट्ट पई उरारों पारों ना बेड़ी ना नैं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

मनसूर प्यारे केहा अनलहक्क कहो कहाइआ कैं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

बुल्ल्हा शहु ओसे दा आशक आपना आप वंजाइआ तैं ।
मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं ।

94. मैनूं सुक्ख दा सुनेहड़ा तूं झब लिआवीं वे

मैनूं सुक्ख दा सुनेहड़ा तूं झब लिआवीं वे,
पांधिया हो ।

मैं कुबड़ी मैं डुबड़ी होईआं,
मेरे सभ दुक्खड़े बतलावीं वे ।
पांधिया हो ।

खुल्हियां लिटां गल दसत परांदा,
इह गल्ल आखीं ना शरमावीं वे ।
पांधिया हो ।

इक्क लक्ख देंदी मैं दो लक्ख देसां,
मैनूं प्यारा आण मिलावीं वे ।
पांधिया हो ।

यारां लिख किताबत भेजी,
किते गोशे बह समझावीं वे ।
पांधिया हो ।

बुल्ल्हा शहु दियां मुड़न मुहारां,
लिख पत्तियां तूं झब पावीं वे ।
मैनूं सुक्ख दा सुनेहड़ा तूं झब लिआवीं वे,
पांधिया हो ।

95. मैं विच मैं ना रह गई राई

मैं विच मैं ना रह गई राई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

जद वसल वसाल बणाएगा, तद गुंगे दा गुड़ खाएगा,
सिर पैर ना आपना पाएगा, मैं इह होर ना किसे बणाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

होए नैन नैणां दे बरदे, दरशन सै कोहां तों करदे,
पल्ल पल्ल दौड़न मारे डरदे, तैं कोई लालच घत भरमाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

हुन असां वहदत विच घर पाइआ, वासा हैरत दे संग आया,
जीवन जंमन मरन वंजाइआ, आपनी सुद्ध बुद्ध रही ना काई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

मैं जाता सी इश्क सुखाला, चहुं नदियां दा वहन उजाला,
कदी ते अग्ग भड़के कदी पाला, नित्त बिरहों अग्ग लगाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

डेहों डेहों इश्क नक्कारे वज्जदे, आशक वेख उते वल्ल भज्जदे,
तड़ तड़ तिड़क गए लड़ लज्जदे, लग्ग गिआ नेहुं तां शरम सिधाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

प्यारे बस्स कर बहुती होई, तेरा इश्क मेरी दिलजोई,
तैं बिन मेरा सक्का ना कोई, अंमां बाबल भैन ना भाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

कदी जा असमानी बहन्दे हो, कदी इस जग्ग दा दुक्ख सहन्दे हो,
कदी पीरेमुग़ां बण बहन्दे हो, मैं तां इकसे नाच नचाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

तेरे हिजरे विच मेरा हुजरा ए दुक्ख डाढा मैं पर गुज़रा ए,
कदे हो मायल मेरा मुजरा ए मैं तैथों घोल घुमाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

तुध कारन मैं ऐसा होया, तूं दरवाज़े बन्द कर सोया,
दर दसवें ते आण खलोया, कदे मन्न मेरी आशनाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

बुल्ल्हा शहु मैं तेरे वारे हां, मुक्ख वेखन दे वणजारे हां,
कुझ असीं वी तैनूं प्यारे हां, कि मैं ऐवें घोल घुमाई ।
जब की पिया संग पीत लगाई ।

96. मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के

मैं वैसां ना रहसां होड़े, कौन कोई मैं जांदी नूं मोड़े,
मैनूं मुड़ना होया मुहाल, सिर ते मेहना चा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

जोगी नहीं इह दिल दा मीता, भुल्ल गई मैं प्यार क्यों कीता,
मैनूं रही ना कुझ संभाल, उस दे दरशन पा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

एस जोगी मैनूं कहियां लाईआं, हैन कलेजे कुंडियां पाईआं,
इश्क दा पाइआ जाल, मिट्ठी बात सुना के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

मैं जोगी नूं ख़ूब पछाता, लोकां मैनूं कमली जाता,
लुट्टी झंग स्याल, कन्नीं मुन्दरां पा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

जे जोगी घर आवे मेरे, मुक्क जावन सभ झगड़े झेड़े,
ला सीने दे नाल, लक्ख लक्ख शगन मना के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

माए नी इक्क जोगी आया, दर साडे उस धूंआं पाइआ,
मंगदा हीर स्याल, बैठा भेस वटा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

तअने ना दे फुफ्फी ताई, एथे जोगी नूं किसमत लिआई,
हुन होया फ़ज़ल कमाल, आया है जोग सिधा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

माही नहीं कोई नूर इलाही, अनहद दी जिस मुरली वाही,
मुठीयो सू हीर स्याल, डाढे कामन पा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

लक्खां गए हज़ारां आए, उस दे भेत किसे ना पाए,
गल्लां तां मूसे नाल, पर कोह तूर चढ़ा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

अबदहू रसूल कहाइआ, विच मिअराज बुर्राक मंगाइआ,
जिबराईल पकड़ लै आया, हरां मंगल गा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

एस जोगी दे सुनो अखाड़े, हसन हुसैन नबी दे प्यारे,
मार्यो सू विच जद्दाल, पानी बिन तरसा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

एस जोगी दी सुनो कहाणी, सोहनी डुब्बी डूंघे पाणी,
फिर रलिआ महींवाल, सारा रख़त लुटा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

डांवां डोली लै चल्ले खेड़े, मुढ्ढ कदीमीं दुशमन जेहड़े,
रांझा तां होया नाल, सिर 'ते टमक धरा सजा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

जोगी नहीं कोई दूजा साइआ, भर भर प्याला ज़ौक पिलाइआ,
मैं पी पी होई नेहाल, अंग भबूत रमा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

जोगी नाल करेंदे झेड़े, केहे पा बैठे काज़ी झेड़े (भैड़े),
विच कैदों पाई मुकाल, कूड़ा बरा लगा के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

बुल्ल्हा मैं जोगी नाल व्याही, लोकां कमलिआं ख़बर ना काई,
मैं जोगी दा माल, पंजे पीर मना के,
मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के ।

97. मन अटकियो शाम सुन्दर सों

कहूं वेखूं बाहमन कहूं सेखा,
आप आप करन सभ लेखा,
क्या क्या खोलिआ हुनर सों ।
मन अटकियो शाम सुन्दर सों ।

सूझ पड़ी तब राम दुहाई,
हम तुम एक ना दूजा काई,
इस प्रेम नगर के घर सों ।
मन अटकियो शाम सुन्दर सों ।

पंडित कौन कित लिख सुणाए,
ना कहीं आए ना कहीं जाए,
जैसे गुर का कंगन कर सों ।
मन अटकियो शाम सुन्दर सों ।

बुल्ल्हा शहु दी पैरीं पड़ीए,
सीस काट कर आगे धरीए,
हुन मैं हर देखा हर हर सों ।
मन अटकियो शाम सुन्दर सों ।

98. माए ! ना मुड़दा इश्क दीवाना, शहु नाल परीतां ला के

माए ! ना मुड़दा इश्क दीवाना, शहु नाल परीतां ला के ।
इश्क शर्हा दी लग्ग गई बाज़ी, खेडां मैं दायो लगा के ।

मारन बोली ते बोली ना बोलां, सुणां ना कन्न ला के ।
वेहड़े विच शैतान नचेंदा, उस नूं रक्ख समझा के ।

तोड़ शर्हा नूं जित्त लई बाज़ी, फिरदी नक्क वढा के ।
मैं वे अंजानी खेड विगुच्चियां, खेडां मैं आके बाके ।

इह खेडां हुन लगदियां झेडां, घर पिया दे आ के ।
सईआं नाल मैं पावां गिद्धा, दिलबर लुक्क लुक्क झाके ।

पुच्छो नी इह क्यों शरमांदा, जांदा ना भेत बता के ।
काफर काफर आखन तैनूं, सारे लोक सुना के ।

मोमन काफर मैनूं दोवें ना दिसदे, वहदत दे विच जा के ।
चोली चुन्नी ते फुक्या झग्गा, धूनी शिरक जला के ।

वारिआ कुफर वड्डा मैं दिल थीं, तली ते सीस टिका के ।
मैं वडभागी मारिआ खाविन्द, हत्थीं ज़हर पिला के ।

वसल करां मैं नाल सज्जन दे, शरम हया गवा के ।
विच चमन मैं पलंघ विछाइआ, यार सुत्ती गल ला के ।

सिर देही नाल मिल गई सिर देही, बुल्ल्हा शहु नूं पा के ।
माए ! ना मुड़दा इश्क दीवाना, शहु नाल परीतां ला के ।

99. मेरा रांझा हुन कोई होर

मेरा रांझा हुन कोई होर ।

तखत मुनव्वर बांगां मिलियां,
तां सुणियां तखत लाहौर ।

इश्क मारे ऐवें फिरदे,
जिवें जंगल विच ढोर ।

रांझा तखत हज़ारे दा साईं,
हुन ओथों होया चोर ।

बुल्ल्हा शाह असीं मरना नाहीं,
कबर पाय कोई होर ।

मेरा रांझा हुन कोई होर ।

100. मेरे घर आया पिया हमारा

वाह वाह वाहदत कीना शोर, अनहद बांसरी दी घंगोर,
असां हुन पाइआ तखत लाहौर, मेरे घर आया पिया हमारा ।

जल गए मेरे खोट निखोट, लग गई प्रेम सच्चे दी चोट,
हुन सानूं ओस खसम दी ओट, मेरे घर आया पिया हमारा ।

हुन क्या कन्नें साल वसाल, लग गिआ मसत प्याला हाथ,
हुन मेरी भुल्ल गई ज़ात सफ्फात, मेरे घर आया पिया हमारा ।

हुन क्या कीने बीस पचास, प्रीतम पाई असां वल झात,
हुन सानूं सभ जग्ग दिसदा लाल, मेरे घर आया पिया हमारा ।

हुन सानूं आस दी फ़ाश, बुल्ल्हा शहु आया हमरे पास,
साईं पुचाई साडी आस, मेरे घर आया पिया हमारा ।

Next......(101-160)
Previous......(1-50)
 
 
 Hindi Kavita