Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Kafian Baba Bulleh Shah in Hindi

काफ़ियां बाबा बुल्ले शाह

1. आ मिल यार सार लै मेरी

आ मिल यार सार लै मेरी, मेरी जान दुक्खां ने घेरी ।
अन्दर ख़ाब विछोड़ा होया, ख़बर ना पैंदी तेरी ।
सुंञे बन विच लुट्टी साईआं, सूर पलंग ने घेरी ।
इह तां ठग्ग जगत दे, जेहा लावन जाल चफेरी ।
करम शर्हा दे धरम बतावन, संगल पावन पैरीं ।
ज़ात मज़्हब इह इश्क ना पुच्छदा, इश्क शर्हा दा वैरी ।
नदियों पार मुल्क सजन दा लहवो-लआब ने घेरी ।
सतिगुर बेड़ी फड़ी खलोती तैं क्यों लाई आ देरी ।
प्रीतम पास ते टोलना किस नूं, भुल्ल गयों सिखर दुपहरी ।
बुल्ल्हा शाह शौह तैनूं मिलसी, दिल नूं देह दलेरी ।
आ मिल यार सार लै मेरी, मेरी जान दुक्खां ने घेरी ।

2. आओ फ़कीरो मेले चलिए

आयो फ़कीरो मेले चलिए, आरफ़ दा सुन वाजा रे ।
अनहद सबद सुनो बहु रंगी, तजीए भेख प्याजा रे ।
अनहद बाजा सरब मिलापी, निरवैरी सिरनाजा रे ।
मेले बाझों मेला औतर, रुढ़ ग्या मूल व्याजा रे ।
कठिन फ़कीरी रसता आशक, कायम करो मन बाजा रे ।
बन्दा रब्ब ब्रिहों इक मगर सुख, बुल्हा पड़ जहान बराजा रे ।

3. आओ सईयो रल दियो नी वधाई

आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।
मैं वर पाइआ रांझा माही ।

अज्ज तां रोज़ मुबारक चढ़आ, रांझा साडे वेहड़े वड़्या,
हत्थ खूंडी मोढे कम्बल धरिआ, चाकां वाली शकल बणाई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।

मुक्कट गऊआं दे विच रुल्लदा, जंगल जूहां दे विच रुल्लदा ।
है कोई अल्लाह दे वल्ल भुल्लदा, असल हकीकत ख़बर ना काई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।

बुल्ल्हे शाह इक सौदा कीता, पीता ज़हर प्याला पीता,
ना कुझ लाहा टोटा लीता, दर्द दुक्खां दी गठड़ी चाई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।
मैं वर पाइआ रांझा माही ।

4. आ सजन गल लग्ग असाडे

आ सजन गल लग्ग असाडे, केहा झेड़ा लाययो ई ?
सुत्त्यां बैठ्यां कुझ्झ ना डिट्ठा, जागदियां सहु पाययो ई ।
'कुम-ब-इज़नी' शमस बोले, उलटा कर लटकाययो ई ।
इश्कन इश्कन जग्ग विच होईआं, दे दिलास बिठाययो ई ।
मैं तैं काई नहीं जुदाई, फिर क्यों आप छुपाययो ई ।
मझ्झियां आईआं माही ना आया, फूक ब्रिहों रुलाययो ई ।
एस इश्क दे वेखे कारे, यूसफ़ खूह पवाययो ई ।
वांग ज़ुलैखां विच मिसर दे, घुंगट खोल्ह रुलाययो ई ।
रब्ब-इ-अरानी मूसा बोले, तद कोह-तूर जलाययो ई ।
लण-तरानी झिड़कां वाला, आपे हुकम सुणाययो ई ।
इश्क दिवाने कीता फ़ानी, दिल यतीम बनाययो ई ।
बुल्हा शौह घर वस्या आ के, शाह इनायत पाययो ई ।
आ सजन गल लग्ग असाडे, केहा झेड़ा लाययो ई ?

5. अब हम गुंम हूए, प्रेम नगर के शहर

अब हम गुंम हूए, प्रेम नगर के शहर ।
आपने आप नूं सोध रिहा हूं, ना सिर हाथ ना पैर ।
खुदी खोई अपना पद चीता, तब होई गल्ल ख़ैर ।
लत्थे पगड़े पहले घर थीं, कौन करे निरवैर ?
बुल्ल्हा शहु है दोहीं जहानीं, कोई ना दिसदा ग़ैर ।

6. अब क्यों साजन चिर लायो रे

अब क्यों साजन चिर लायो रे ?

ऐसी आई मन में काई,
दुख सुख सभ वंजाययो रे,
हार शिंगार को आग लगाउं,
घट उप्पर ढांड मचाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

सुन के ज्ञान की ऐसी बातां,
नाम निशान सभी अणघातां,
कोइल वांगूं कूकां रातां,
तैं अजे वी तरस ना आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

गल मिरगानी सीस खपरिया,
भीख मंगन नूं रो रो फिरिआ,
जोगन नाम भ्या लिट धरिआ,
अंग बिभूत रमाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

इश्क मुल्लां ने बांग दिवाई,
उट्ठ बहुड़न गल्ल वाजब आई,
कर कर सिजदे घर वल धाई,
मत्थे महराब टिकाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

प्रेम नगर दे उलटे चाले,
ख़ूनी नैन होए खुशहाले,
आपे आप फसे विच जाले,
फस फस आप कुहाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

दुक्ख बिरहों ना होन पुराणे,
जिस तन पीड़ां सो तन जाणे,
अन्दर झिड़कां बाहर ताअने,
नेहुं लग्यां दुक्ख पाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

मैना मालन रोंदी पकड़ी,
बिरहों पकड़ी करके तकड़ी,
इक मरना दूजी जग्ग दी फक्कड़ी,
हुन कौन बन्ना बण आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

बुल्ल्हा शौह संग प्रीत लगाई,
सोहनी बण तण सभ कोई आई,
वेख के शाह इनायत साईं,
जिय मेरा भर आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

7. अब लगन लगी किह करिए

अब लगन लगी किह करिए ?
ना जी सकीए ते ना मरीए ।

तुम सुनो हमारी बैना,
मोहे रात दिने नहीं चैना,
हुन पी बिन पलक ना सरीए ।
अब लगन लगी किह करीए ?

इह अगन बिरहों दी जारी,
कोई हमरी प्रीत निवारी,
बिन दरशन कैसे तरीए ?
अब लगन लगी किह करीए ?

बुल्ल्हे पई मुसीबत भारी,
कोई करो हमारी कारी,
इक अजेहे दुक्ख कैसे जरीए ?
अब लगन लगी किह करीए ?

8. ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता

ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता ।

ना हम हिन्दू ना तुर्क ज़रूरी, नाम इश्क दी है मनज़ूरी,
आशक ने वर जीता, ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

वेखो ठग्गां शोर मचाइआ, जंमना मरना चा बणाइआ ।
मूर्ख भुल्ले रौला पाइआ, जिस नूं आशक ज़ाहर कीता,
ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

बुल्ल्हा आशक दी बात न्यारी, प्रेम वालिआं बड़ी करारी,
मूर्ख दी मत्त ऐवें मारी, वाक सुख़न चुप्प कीता,
ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

9. ऐसा मन में आइयो रे

ऐसा मन में आइयो रे, दुक्ख सुक्ख सभ वंञाययो रे ।
हार शिंगार को आग लगाऊं, तन पर ढांड मचाययो रे ।

सुन के ज्ञान कियां ऐसी बातां, नाम-निशान तभी अलघातां,
कोइल वांङ मैं कूकां रातां, तैं अजे भी तरस ना आइउ रे ।

गल मिरगानी सीस खप्परियां, दरशन की भीख मंगन चढ़आ,
जोगन नाम बूहलत धरिआ, अंग बिभूत रमायउ रे ।

इश्क मुल्लां ने बांग सुणाई, इह गल्ल वाजब आई,
कर कर सिदक सिजदे वल धाई, मूंह महराब टिकाययो रे ।

प्रेम नगर वाले उलटे चाले, मैं मोई भर खुशियां नाले,
आन फसी आपे विच जाले, हस्स हस्स आप कुहाययो रे ।

बुल्ल्हा शौह संग प्रीत लगाई, जिय जामे दी दित्ती साई,
मुरशद शाह अनायत साईं, जिस दिल मेरा भरमाययो रे ।

10. अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ

अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ,
केही चेटक लाइआ ई ।

मैं तेरे विच जर्रा ना जुदाई,
साथों आप छुपाइआ ई ।

मझीं आईआं रांझा यार ना आया,
फूक बिरहों डोलाइआ ई
अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ ।

मैं नेड़े मैनूं दूर क्यों दिसना एं,
साथों आप छुपाइआ ई
अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ ।

विच मिसर दे वांग ज़ुलैख़ां,
घुंगट खोल्ह रुलाइआ ई
अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ ।

शौह बुल्ल्हे दे सिर पर बुरका,
तेरे इश्क नचाइआ ई
अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ,
केही चेटक लाइआ ई ।

11. अलफ़ अल्लाह नाल रत्ता दिल मेरा

अलफ़ अल्लाह नाल रत्ता दिल मेरा,
मैनूं 'बे' दी ख़बर ना काई ।

'बे' पढ़दियां मैनूं समझ ना आवे,
लज्जत अलफ़ दी आई ।

'ऐना ते गैना' नूं समझ ना जाणा,
गल्ल अलफ़ समझाई ।

बुल्ल्हआ कौल अलफ़ दे पूरे,
जिहड़े दिल दी करन सफाई ।

12. अम्मां बाबे दी भलिआई

अम्मां बाबे दी भलिआई, उह हुन कंम असाडे आई ।
अम्मां बाबा होर दो राहां दे, पुत्तर दी वड्याई ।
दाणे उत्तों गुत्त बिगुत्ती, घर घर पई लड़ाई ।
असां कज़ीए तदाहीं जाले, जदां कणक उन्हां टरघाई ।
खाए खैरातें फाटीए जुंमा, उल्टी दसतक लाई ।
बुल्ल्हा तोते मार बागां थीं कढ्ढे, उल्लू रहन उस जाई ।
अम्मां बाबे दी भलिआई, उह हुन कंम असाडे आई ।

13. अपने संग रलाईं प्यारे, अपने संग रलाईं

अपने संग रलाईं प्यारे, अपने संग रलाईं ।
पहलों नेहुं लगाइआ सी तैं आपे चाईं चाईं ।
मैं लाइआ ए कि तुद्ध लाइआ ए आपनी ओड़ निभाईं ।
राह पवां तां धाड़े बेले, जंगल लक्ख बलाईं ।
भौकन चीते ते चितमुचित्ते भौकन करन अदाईं ।
पार तेरे जगत तर चढ़आ कंढे लक्ख बलाईं ।
हौल दिले दा थर थर कम्बदा बेड़ा पार लंघाईं ।
कर लई बन्दगी रब्ब सच्चे दी पवन कबूल दुआईं ।
बुल्ल्हे शाह ते शाहां दा मुक्खड़ा घुंघट खोल्ह विखाईं ।
अपने संग रलाईं प्यारे, अपने संग रलाईं ।

14. बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ

बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

इश्क डेरा मेरे अन्दर कीता,
भर के ज़हर प्याला मैं पीता,
झबदे आवीं वे तबीबा नहीं ते मैं मर गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

छुप्प ग्या सूरज बाहर रह गई आ लाली,
होवां मैं सदके मुड़ जे दें विखाली ,
मैं भुल्ल गईआं तेरे नाल ना गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

तेरे इश्क दी सार वे मैं ना जाणां,
इह सिर आया ए मेरा हेठ वदाणां,
सट्ट पई इश्के दी तां कूकां दईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

एस इश्क दे कोलों सानूं हटक ना माए,
लाहू (लाहौर) जांदड़े बेड़े मोड़ कौन हटाए,
मेरी अकल भुल्ली नाल मुहाणिआँ दे गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

एस इश्क दी झंगी विच मोर बुलेंदा,
सानूं काबा ते किबला प्यारा यार दसेंदा,
सानूं घायल करके फिर ख़बर ना लईआ ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

बुल्ल्हा शाह इनायत दे बह बूहे,
जिस पहनाए सानूं सावे सूहे,
जां मैं मारी उडारी मिल पिआ वहीआ ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

15. बंसी काहन अचरज बजाई

बंसी वालिआ चाका रांझा, तेरा सुर है सभ नाल सांझा,
तेरियां मौजां साडा मांझा, साडी सुर तैं आप मिलाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

बंसी वालिआ काहन कहावें, सब दा नेक अनूप मनावें,
अक्खियां दे विच नज़र ना आवें, कैसी बिखड़ी खेल रचाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

बंसी सभ कोई सुने सुणावे, अरथ इस दा कोई विरला पावे,
जो कोई अनहद की सुर पावे, सो इस बंसी का शौदाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

सुणीआं बंसी दियां घंगोरां, कूकां तन मन वांङू मोरां,
डिठियां इस दियां तोड़ां जोड़ां, इक सुर दी सभ कला उठाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

इस बंसी दा लंमा लेखा, जिस ने ढूंडा तिस ने देखा,
शादी इस बंसी दी रेखा, एस वजूदों सिफत उठाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

इस बंसी दे पंज सत तारे, आप आपनी सुर भरदे सारे,
इक सुर सभ दे विच दम मारे, साडी इस ने होश भुलाई ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

बुल्ल्हा पुज्ज पए तकरार, बूहे आण खलोते यार,
रक्खीं कलमे नाल ब्योपार, तेरी हज़रत भरे गवाही ।
बंसी काहन अचरज बजाई ।

16. बस्स कर जी हुण बस्स कर जी

बस्स कर जी हुण बस्स कर जी,
इक बात असां नाल हस्स कर जी ।

तुसीं दिल मेरे विच वस्सदे हो, ऐवें साथों दूर क्यों नस्सदे हो,
नाले घत्त जादू दिल खस्सदे हो, हुण कित वल्ल जासो नस्स कर जी ।
बस्स कर जी हुण बस्स कर जी ।

तुसीं मोयां नूं मार ना मुक्कदे सी, खिद्दो वांङ खूंडी नित्त कुट्टदे सी,
गल्ल करदियां दा गल घुट्टदे सी, हुण तीर लगायो कस्स कर जी ।
बस्स कर जी हुण बस्स कर जी ।

तुसीं छपदे हो असां पकड़े हो, असां नाल ज़ुल्फ़ दे जकड़े हो,
तुसीं अजे छपन नूं तकड़े हो, हुण जाण ना मिलदा नस्स कर जी ।
बस्स कर जी हुण बस्स कर जी ।

बुल्ल्हा शौह मैं तेरी बरदी हां, तेरा मुक्ख वेखण नूं मरदी हां,
नित्त सौ सौ मिन्नतां करदी हां, हुण बैठ पिंजर विच धस्स कर जी ।
बस्स कर जी हुण बस्स कर जी ।

17. बेहद्द रमज़ां दसदा नीं, ढोलण माही

बेहद्द रमज़ां दसदा नीं, ढोलण माही ।
मीम दे उहले वस्सदा नीं, ढोलण माही ।

औलियां मनसूर कहावे, रमज़ अनलहक्क आप बतावे,
आपे आप नूं सूली चढ़ावे,ते कोल खलोके हस्सदा नीं, ढोलण माही ।

बेहद्द रमज़ां दसदा नीं, ढोलण माही ।
मीम दे उहले वस्सदा नीं, ढोलण माही ।

18. भैणां मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी

पिड़ी पिछे पछवाड़े रह गई, हत्थ विच रह गई जुट्टी,
अग्गे चरखा पिच्छे पीहड़ा, मेरे हत्थों तन्द तरुट्टी,
भैणां मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी ।

दाज जवाहर असां की करना, जिस प्रेम कटवाई मुट्ठी,
ओहो चोर मेरा पकड़ मंगायो, जिस मेरी जिन्द कुट्ठी,
भैणां मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी ।

भला होया मेरा चरखा टुट्टा, मेरी जिन्द अज़ाबों छुट्टी,
बुल्ल्हा शौह ने नाच नचाए, ओथे धुंम पई कड़-कुट्टी,
भैणां मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी ।

19. भावें जाण ना जाण वे वेहड़े आ वड़ मेरे

भावें जाण ना जाण वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।
मैं तेरे कुरबान वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।

तेरे जेहा मैनूं होर ना कोई ढूंडां जंगल बेला रोही,
ढूंडां तां सारा जहान वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।

लोकां दे भाणे चाक महीं दा रांझा तां लोकां विच कहींदा,
साडा तां दीन ईमान वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।

मापे छोड़ लग्गी लड़ तेरे शाह इनायत साईं मेरे,
लाईआं दी लज्ज पाल वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।
मैं तेरे कुरबान वे वेहड़े आ वड़ मेरे ।

20. भरवासा की आशनाई दा

भरवासा की आशनाई दा ।
डर लगदा बे-परवाही दा ।

इबराहीम चिखा विच पायो, सुलेमान नूं भट्ठ झुकायो,
यूनस मच्छी तों निगलायो, फड़ यूसफ मिसर विकाईदा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

ज़िकरिया सिर कलवत्तर चलायो, साबर दे तन कीड़े पायो,
सुन्नआं गल ज़न्नार पवायो,किते उलटा पोश लुहाई दा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

पैग़म्बर ते नूर उपायो, नाम इमाम हुसैन धरायो,
झुला जिबराईल झुलायो, फिर प्यासा गला कटाईदा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

जा ज़करिया रुक्ख छुपाइआ, छपणां उस दा बुरा मनाइआ,
आरा सिर ते चा वगाइआ, सणे रुक्ख चराईदा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

यहीहा उस दा यार कहाइआ, नाल ओसे दे नेहुं लगाइआ,
राह शर्हा दा उन्न बतलाइआ, सिर उस दा थाल कटाईदा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

बुल्ल्हा शौह हुण असीं संञाते हैं, हर सूरत नाल पछाते हैं,
किते आते हैं किते जाते हैं,हुण मैथों भुल्ल ना जाई दा ।
भरवासा की आशनाई दा ।

21. बुल्ला की जाणा मैं कौण

ना मैं मोमन विच मसीतां, ना मैं विच कुफ़र दीआं रीतां,
ना मैं पाकां विच पलीतां, ना मैं मूसा ना फरऔन ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

ना मैं अन्दर बेद किताबां, ना विच भंगां ना शराबां,
ना विच रिन्दां मसत खराबां, ना विच जागन ना विच सौण ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

ना विच शादी ना ग़मनाकी, ना मैं विच पलीती पाकी,
ना मैं आबी ना मैं ख़ाकी, ना मैं आतिश ना मैं पौण ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

ना मैं अरबी ना लाहौरी, ना मैं हिन्दी शहर नगौरी,
ना हिन्दू ना तुर्क पशौरी, ना मैं रहन्दा विच नदौण ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

ना मैं भेत मज़हब दा पाइआ, ना मैं आदम हवा जाइआ,
ना मैं आपना नाम धराइआ, ना विच बैठण ना विच भौण ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

अव्वल आखर आप नूं जाणां, ना कोई दूजा होर पछाणां,
मैथों होर ना कोई स्याणा, बुल्हा शाह खढ़ा है कौण ।
बुल्ल्हा की जाणा मैं कौण ।

22. बुल्ला की जाने ज़ात इश्क दी कौण

बुल्ल्हा की जाने ज़ात इश्क दी कौण ।
ना सूहां ना कंम बखेड़े वंञे जागन सौण ।

रांझे नूं मैं गालियां देवां, मन विच करां दुआईं ।
मैं ते रांझा इको कोई, लोकां नूं अज़माईं ।
जिस बेले विच बेली दिस्से, उस दीआं लवां बलाईं ।
बुल्ल्हा शौह नूं पासे छड्ड के, जंगल वल्ल ना जाईं ।

बुल्ल्हा की जाणा ज़ात इश्क दी कौण ।
ना सूहां ना कंम बखेड़े वंञे जागन सौण ।

23. बुल्ल्हे नूं समझावण आईआं, भैणां ते भरजाईआं

बुल्ल्हे नूं समझावण आईआं, भैणां ते भरजाईआं ।
मन्न लै बुल्लिआ साडा कहणा, छड्ड दे पल्ला राईआं ।
आल नबी औलाद नबी नूं, तूं की लीकां लाईआं ।
जेहड़ा सानूं सईअद सद्दे, दोज़ख मिलण सजाईआं ।
जो कोई सानूं राईं आखे, बहशतीं पींघां पाईआं ।
राईं साईं सभनी थाईं, रब्ब दीआं बेपरवाहियां ।
सोहणीयां परे हटाईआं ने ते, कोझीयां लै गल लाईआं ।
जे तूं लोड़ें बाग़ बहारां, चाकर हो जा राईआं ।
बुल्ल्हा शौह दी ज़ात की पुच्छना एं, शक्कर हो रजाईआं ।

24. चलो देखिए उस मसतानड़े नूं

चलो देखिए उस मसतानड़े नूं,
जिद्ही त्रिंञणां दे विच पई ए धुंम ।
उह ते मैं वहदत विच रंगदा ए,
नहीं पुच्छदा जात दे की हो तुम ।

जीद्हा शोर चुफेरे पैंदा ए,
उह कोल तेरे नित्त रहन्दा ए,
नाले 'नाहन अकरब' कहन्दा ए,
नाले आखे 'वफ़ी-अनफ़स-कुम' ।

छड्ड झूठ भरम दी बसती नूं,
कर इश्क दी कायम मसती नूं,
गए पहुंच सजन दी हसती नूं,
जिहड़े हो गए 'सुम-बुकम-उम' ।

ना तेरा ए ना मेरा ए,
जग्ग फ़ानी झगड़ा झेड़ा ए,
बिनां मुरशद रहबर किहड़ा ए,
पढ़-'फाज़-रूनी-अज़-कुर-कुम' ।

बुल्ल्हे शाह इह बात इशारे दी,
जिन्हा लग्ग गई तांघ नज़ारे दी,
दस्स पैंदी घर वणजारे दी,
है 'यदउल्ल्हा-फ़ौका अयदीकुम' ।

चलो देखिए उस मसतानड़े नूं,
जिद्ही त्रिंञणां दे विच पई ए धुंम ।

25. चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं

सच्च सुणदे लोक ना सहिंदे नी, सच्च आखिए तां गल पैंदे नी,
फिर सच्चे पास ना बहिंदे नी, सच्च मिट्ठा आशक प्यारे नूं ।
चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं ।

सच्च शर्हा करे बरबादी ए सच्च आशक दे घर शादी ए,
सच्च करदा नवीं आबादी ए जेही शर्हा तरीकत हारे नूं ।
चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं ।

चुप्प आशक तों ना हुन्दी ए, जिस आई सच्च सुगंधी ए,
जिस माला सुहाग दी गुन्दी ए छड्ड दुनियां कूड़ पसारे नूं ।
चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं ।

बुल्ल्हा शौह सच्च हुण बोले हैं, सच्च शर्हा तरीकत फोले हैं,
गल्ल चौथे पद दी खोल्हे हैं, जेही शर्हा तरीकत हारे नूं ।
चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं ।

26. ढोला आदमी बण आया

आपे आहू आपे चीता, आपे मारन धाइआ,
आपे साहब आपे बरदा, आपे मुल्ल विकाइआ,
ढोला आदमी बण आया ।

कदी हाथी ते असवार होया, कदी ठूठा डांग भुवाइआ,
कदी रावल जोगी भोगी हो के, सांगी सांग बणाइआ,
ढोला आदमी बण आया ।

बाज़ीगर क्या बाज़ी खेली, मैनूं पुतली वांग नचाइआ,
मैं उस पड़ताली नचना हां, जिस गत मित यार लखाइआ,
ढोला आदमी बण आया ।

हाबील काबील आदम दे जाए, आदम किस दा जाइआ,
बुल्ल्हा उन्हां तों भी अग्गे आहा, दादा गोद खिडाइआ,
ढोला आदमी बण आया ।

पाठ-भेद

मौला आदमी बण आया
माटी विचों हीरा लद्धा,
गोबर महं दुद्ध पाइआ ।रहाउ।

सभो ऊठ कतारीं बद्धे
धन्ने दा वग्ग चराइआ ।
साडी भाजी लेवे नाहीं
बिदर दे साग अघाइआ ।

कहूं हाथी असवार होया,
कहूं ठूठा भांग भुवाइआ ।
कहूं रावल जोगी भोगी
कहूं सवांगी सवांग रचाइआ ।

आपे आहू आपे चीता
आपे मारन धाइआ ।
आपे साहब आपे बरदा
आपे मुल्ल विकाइआ ।

बाज़ीगर क्या बाज़ी खेली
पुतली वांग नचाया ।
मैं उस पड़ताली नच्चना हां
जिस गत मत यार लखाया ।

हाबील काबील आदम दे जाए
ते आदम कैं दा जाइआ ?
बुल्ल्हा सभना थीं अगै आहा
जिन दादा गोदि दिखाइआ ।

27. दिल लोचे माही यार नूं

इक हस्स हस्स गल्ल करदीआं, इक रोंदीआं धोंदीआं मरदीआं,
कहो फुल्ली बसंत बहार नूं, दिल लोचे माही यार नूं ।

मैं न्हाती धोती रह गई, इक गंढ माही दिल बह गई,
भाह लाईए हार शिंगार नूं, दिल लोचे माही यार नूं ।

मैं कमली कीती दूतियां, दुक्ख घेर चुफेरों लीतियां,
घर आ माही दीदार नूं, दिल लोचे माही यार नूं ।

बुल्ल्हा शौह मेरे घर आया, मैं घुट्ट रांझण गल लाइआ,
दुक्ख गए समुन्दर पार नूं, दिल लोचे माही यार नूं ।

28. इह अचरज साधो कौण कहावे

इह अचरज साधो कौण कहावे ।
छिन छिन रूप कितों बण आवे ।

मक्का लंका सहदेव के भेत, दोऊ को एक बतावे ।
जब जोगी तुम वसल करोगे, बांग कहै भावें नाद वजावे ।
भगती भगत नतारो नाहीं, भगत सोई जेहड़ा मन भावे ।
हर परगट परगट ही देखो, क्या पंडत फिर बेद सुनावे ।
ध्यान धरो इह काफ़र नाहीं, क्या हिन्दू क्या तुर्क कहावे ।
जब देखूं तब ओही ओही, बुल्ल्हा शौह हर रंग समावे ।

इह अचरज साधो कौण कहावे ।
छिन छिन रूप कितों बण आवे ।

29. इह दुख जा कहूं किस आगे

इह दुख जा कहूं किस आगे,
रोम रोम घा प्रेम के लागे ।

इक मरना दूजा जग्ग दी हासी ।
करत फिरत नित्त मोही रे मोही ।

कौण करे मोहे से दिलजोई ।
शाम पिया मैं देती हूं धरोई ।

दुक्ख जग्ग के मोहे पूछन आए ।
जिन को पिया परदेस सिधाए ।

ना पिया जाए ना पिया आए ।
इह दुक्ख जा कहूं किस जाए ।

बुल्ल्हा शाह घर आ प्यारिआ ।
इक घड़ी को करन गुज़ारिआ ।
तन मन धन जिया तैं पर वारिआ ।

इह दुख जा कहूं किस आगे,
रोम रोम घा प्रेम के लागे ।

30. फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार

घुंघट खोल्ह मुक्ख वेख ना मेरा,
ऐब निमाणी दे कज्ज ओ यार ।
फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार ।

मैं अणजाणी तेरा नेहुं की जाणां,
लावण दा नहीं चज्ज ओ यार ।
फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार ।

हाजी लोक मक्के नूं जांदे,
साडा हैं तूं हज्ज ओ यार ।
फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार ।

डूंघी नदी ते तुलाह पुराणा,
मिलसां किहड़े पज्ज ओ यार ।
फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार ।

बुल्ल्हा शौह मैं ज़ाहर डिट्ठा,
लाह मूंह तों लज्ज ओ यार ।
फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार ।

31. गल्ल रौले लोकां पाई ए

गल्ल रौले लोकां पाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

सच्च आख मना क्यों डरना एं, इस सच्च पिच्छे तूं तुरना एं,
सच्च सदा आबादी करना एं, सच्च वसत अचंभा आई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

बाहमण आण जजमान डराए, पित्तर पीड़ दस्स भरम दुड़ाए,
आपे दस्स के जतन कराए, पूजा शुरू कराई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

पुत्तर तुसां दे उपर पीड़ा, गुड़ चावल मनायो लीड़ा,
जंजू पायो लाहो बीड़ा, चुल्ली तुरत पवाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

पीड़ नहीं ऐवें निकलण लग्गी, रोक रुपईआ भांडे ढग्गी,
होवे लाखी दुरस्सत ना बग्गी, बुल्ल्हा इह बात बणाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

पिरथम चंडी मात बणाई, जिस नूं पूजे सरब लोकाई,
पाछी वढ्ढ के जंज चढ़ाई, डोली ठुम ठुम आई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

भुल्ल ख़ुदा नूं जाण ख़ुदाई, बुत्तां अग्गे सीस निवाई,
जिहड़े घड़ के आप बणाई, शरम रता ना आई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

वेखो तुलसी मात बणाई, सालगरामी संग परनाई,
हस्स हस्स डोली चा चढ़ाई, साला सहुरा बणे जवाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

धीआं भैणां सभ व्याहवण, परदे आपने आप कजावण,
बुल्ल्हा शाह की आखण आवण, ना मात किसे व्याही ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

शाह रग थीं रब्ब दिसदा नेड़े, लोकां पाए लंमे झेड़े,
वां के झगड़े कौण नबेड़े, भज्ज भज्ज उमर गवाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

बिरछ बाग़ विच नहीं जुदाई, बन्दा रब्ब तीवीं बण आई,
पिछले सोते ते खिड़ आई, दुबिधा आण मिटाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

बुल्ल्हा आपे भुल्ल भुलाइआ ए आपे चिल्लिआं विच दबाइआ ए,
आपे होका दे सुणाइआ ए मुझ में भेत ना काई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

गरम सरद हो जिस नूं पाला, हरकत कीता चेहरा काला,
तिस नूं आखण जी सुखाला, इस दी करो दवाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

अक्खियां पक्कियां आखण आईआं, अलसी समझ के आउनी माईआ,
आपे भुल्ल गईआं हुण साईआं, हुण तीरथ पास सुधाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

पोसत आखे मिले अफीम, बन्दा भाले कादर करीम,
ना कोई दिस्से ज्ञान हकीम, अकल तुसाडी जाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

जो कोई दिसदा एहो प्यारा, बुल्ल्हा आपे वेखणहारा,
आपे बेद कुरान पुकारा, जो सुफने वसत भुलाई ए ।
गल्ल रौले लोकां पाई ए ।

32. घड़िआली दियो निकाल नी

घड़िआली दियो निकाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

घड़ी घड़ी घड़िआल बजावे, रैण वसल दी पिआ घटावे,
मेरे मन दी बात जो पावे, हत्थों चा सुट्टो घड़िआल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

अनहद वाजा वज्जे सुहाणा, मुतरिब सुघड़ा तान तराना,
निमाज़ रोज़ा भुल्ल ग्या दुगाणा, मध प्याला देण कलाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

मुख वेखण दा अजब नज़ारा, दुक्ख दिले दा उट्ठ ग्या सारा,
रैण वड्डी क्या करे पसारा, दिल अग्गे पारो दीवाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

मैनूं आपनी ख़बर ना काई, क्या जाणां मैं कित व्याही,
इह गल्ल क्यों कर छुपे छपाई, हुण होया फ़ज़ल कमाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

टूणे टामण करे बथेरे, मिहरे आए वड्डे वडेरे,
हुण घर आया जानी मेरे, रहां लक्ख वर्हे इहदे नाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

बुल्हा शहु दी सेज़ प्यारी, नी मैं तारनहारे तारी,
किवें किवें हुण आई वारी, हुण विछड़न होया मुहाल नी ।
अज्ज पी घर आया लाल नी ।

33. घर में गंगा आई संतो, घर में गंगा आई

घर में गंगा आई संतो, घर में गंगा आई ।
आपे मुरली आप घनईआ, आपे जादूराई ।
आप गोबरिया आप गडरिया, आपे देत दिखाई ।
अनहद दवार का आया गवरिया, कंङण दसत चढ़ाई ।
मूंड मुंडा मोहे परीती कोरेन कन्नां मैं पाई ।
अम्मृत फल खा ल्यो रे गुसाईं, थोड़ी करो बफाई ।
घर में गंगा आई संतो, घर में गंगा आई ।

34. घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे

ज़ुल्फ़ कुंडल ने घेरा पाइआ, बिसियर हो के डंग चलाइआ,
वेख असां वल्ल तरस ना आया, कर के खूनी अक्खियां वे ।
घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे ।

दो नैणां दा तीर चलाइआ, मैं आज़िज़ दे सीने लाइआ,
घायल कर के मुक्ख छुपाइआ, चोरियां इह किन दस्सियां वे ।
घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे ।

ब्रिहों कटारी तूं कस्स के मारी, तद मैं होई बेदिल भारी,
मुड़ ना लई तैं सार हमारी, पतियां तेरियां कच्चियां वे ।
घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे ।

नेहुं लगा के मन हर लीता, फेर ना आपणा दरशन दीता,
ज़हर प्याला मैं इह पीता, सां अकलों मैं कच्चियां वे ।
घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे ।

35. घुंघट ओहले ना लुक्क सोहणिआँ

घुंघट ओहले ना लुक्क सोहणिआँ,
मैं मुशताक दीदार दी हां ।

जानी बाझ दीवानी होई, टोकां करदे लोक सभोई,
जे कर यार करे दिलजोई, मैं तां फरिआद पुकारदी हां ।
मैं मुशताक दीदार दी हां ।

मुफ़त विकांदी जांदी बांदी, मिल माहिया जिन्द ऐंवें जांदी,
इकदम हिजर नहीं मैं सहिंदी, मैं बुलबुल इस गुलज़ार दी हां ।
मैं मुशताक दीदार दी हां ।

36. गुर जो चाहे सो करदा ए

मेरे घर विच चोरी होई, सुत्ती रही ना जाग्या कोई,
मैं गुर फड़ सोझी होई, जो माल ग्या सो तरदा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

पहले मख़फी आप खज़ाना सी, ओथे हैरत हैरतख़ाना सी,
फिर वहदत दे विच आना सी, कुल जुज़ दा मुजमल परदा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

कुनफईकून आवाज़ां देंदा, वहदत विचों कसरत लैंदा,
पहन लिबास बन्दा बण बहिंदा, कर बन्दगी मसजद वड़दा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

रोज़ मीसाक अलस्सत सुणावे, कालूबला अज़हद ना चाहवे,
विच कुझ आपना आप छुपावे, उह गिन गिन वसतां धरदा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

गुर अल्लाह आप कहेंदा ए गुर अली नबी हो बहिंदा ए,
घर हर दे दिल विच रहिंदा ए उह खाली भांडे भरदा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

बुल्ल्हा शौह नूं घर विच पाइआ, जिस सांगी सांग बणाइआ,
लोकां कोलों भेत छुपाइआ, उह दरस परम दा पढ़दा ए ।
गुर जो चाहे सो करदा ए ।

37. हाजी लोक मक्के नूं जांदे

हाजी लोक मक्के नूं जांदे,
मेरा रांझा माही मक्का,
नी मैं कमली हां ।

मैं ते मंग रांझे दी होईआं,
मेरा बाबल करदा धक्का,
नी मैं कमली हां ।

हाजी लोक मक्के वल्ल जांदे,
मेरे घर विच नौशोह मक्का,
नी मैं कमली हां ।

विचे हाजी विचे गाजी,
विचे चोर उचक्का,
नी मैं कमली हां ।

हाजी लोक मक्के वल्ल जांदे,
असां जाणा तख़त हज़ारे,
नी मैं कमली हां ।

जित वल्ल यार उते वल्ल कअबा,
भावें फोल किताबां चारे,
नी मैं कमली हां ।

38. हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे

हुण दिन-चढ़आ कद होवे, मैनूं प्यारा मूंह दिखलावे,
तकले नूं वल पै पै जांदे, कौण लुहार लिआवे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

तक्कल्युं वल कढ्ढ लुहारा, तन्द चलेंदा नाहीं,
घड़ी घड़ी इह झोला खांदा, छल्ली कित बिध लाहवे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

पलीता नहीं जे बीड़ी बन्नहां, बायड़ हत्थ ना आवे,
चमड़्यां नूं चोपड़ नाहीं, माहल पई बतलावे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

त्रिंजन कत्तन सद्दण सईआं, बिरहों ढोल बजावे,
तीली नहीं जो पूणियां वट्टां, वच्छा गोहड़े खावे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

माही छिड़ गया नाल महीं दे, हुण कत्तन किस नूं भावे,
जित्त वल्ल यार उते वल्ल अक्खियां, मेरा दिल बेले वल्ल धावे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

अरज़ एहो मैनूं आण मिले हुण, कौण वसीला जावे,
सै मणां दा कत्त लया बुल्ल्हा, शहु मैनूं गल लावे,
हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी, हुण मैथों कत्त्या ना जावे ।

39. हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा

गल अलफी सिर-पा-बरहना, भलके रूप वटावेंगा,
इस लालच नफ़सानी कोलों, ओड़क मून मनावेंगा,
घाट ज़िकात मंगणगे प्यादे, कहु की अमल विखावेंगा,
आण बनी सिर पर भारी, अगों की बतलावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

हक्क पराइआ जातो नाहीं, खा कर भार उठावेंगा,
फेर ना आ कर बदला देसें लाखी खेत लुटावेंगा,
दाअ ला के विच जग दे जूए, जित्ते दम हरावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

जैसी करनी वैसी भरनी, प्रेम नगर दा वरतारा ए,
एथे दोज़ख कट्ट तूं दिलबर, अगे खुल्ल्ह बहारा ए,
केसर बीज जो केसर जंमे, लस्हन बीज की खावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

करो कमाई मेरे भाई, इहो वकत कमावण दा,
पौ-सतारां पैंदे ने हुण, दाय ना बाज़ी हारन दा,
उजड़ी खेड छपणगियां नरदां, झाड़ू कान उठावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

खावें मास चबावें बीड़े, अंग पुशाक लगाइआ ई,
टेढी पगड़ी अक्कड़ चलें, जुत्ती पैर अड़ाइआ ई,
पलदा हैं तूं जम दा बकरा, आपना आप कुहावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

पल दा वासा वस्सन एथे, रहन नूं अगे डेरा ए,
लै लै तुहफे घर नूं घल्लीं, इहो वेला तेरा ए,
ओथे हत्थ ना लगदा कुझ वी, एथों ही लै जावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

पढ़ सबक मुहब्बत ओसे दा तूं, बेमूजब क्यों डुबना एं,
पढ़ पढ़ किस्से मगज़ खपावें, क्यों खुभण विच खुभना एं,
हरफ़ इश्क दा इक्को नुक़्ता, काहे को ऊठ लदावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

भुक्ख मरेंदीआं नाम अल्लाह दा, इहो बात चंगेरी ए,
दोवें थोक पत्थर थीं भारे, औखी जेही इह फेरी ए,
आण बणी जद सिर पर भारी, अग्गों की बतलावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

अम्मां बाबा बेटी बेटा, पुच्छ वेखां क्यों रोंदे नी,
रन्नां कंजकां भैणां भाई, वारस आण खलोंदे नी,
इह जो लुट्टदे तूं नहीं लुट्टदा, मर के आप लुटावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

इक इकलिआं जाणा ई तैं, नाल ना कोई जावेगा,
खवेश-कबीला रोंदा पिटदा, राहों ही मुड़ आवेगा,
शहरों बाहर जंगल विच वासे, ओथे डेरा पावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

करां नसीहत वड्डी जे कोई, सुण कर दिल 'ते लावेंगा,
मोए तां रोज़-हशर नूं उट्ठण, आशक ना मर जावेंगा,
जे तूं मरें मरन तों अग्गे, मरने दा मुल्ल पावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

जां राह शर्हा दा पकड़ेंगा, तां ओट मुहंमदी होवेगा,
कहिंदी है पर करदी नाहीं, इहो ख़लकत रोवेंगा,
हुण सुत्त्यां तैनूं कौण जगाए, जागदिआं पछतावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

जे तूं साडे आखे लग्गें, तैनूं तख़त बहावांगे,
जिस नूं सारा आलम ढूंडे, तैनूं आण मिलावांगे,
ज़ुहदी हो के ज़ुहद कमावें, लै पिया गल लावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

ऐवें उमर गवाईआ औगत, अकबत चा रुढ़ाइआ ई,
लालच कर कर दुनियां उत्ते, मुक्ख सफैदी आया ई,
अजे वी सुन जे तायब होवें, तां आशना सदावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

बुल्ल्हा शौह दे चलणा एं तां चल, केहा चिर लाइआ ई,
जिको धक्के की करने, जां वतनों दफ़तर आया ई,
वाचन्दिआं खत अकल गईओ ई रो रो हाल वंजावेंगा,
हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा ।

40. हिन्दू ना नहीं मुसलमान

हिन्दू ना नहीं मुसलमान ।
बहीए त्रिंजन तज अभिमान ।

सुन्नी ना नहीं हम शिया ।
सुल्हा कुल्ल का मारग लिया ।

भुक्खे ना नहीं हम रज्जे ।
नंगे ना नहीं हम कज्जे ।

रोंदे ना नहीं हम हस्सदे ।
उजड़े ना नहीं हम वस्सदे ।

पापी ना सुधरमी ना ।
पाप पुन्न की राह ना जाणा ।

बुल्ल्हा शहु जो हरि चित लागे ।
हिन्दू तुर्क दूजन त्यागे ।

41. होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह

नाम नबी की रतन चढ़ी बून्द पड़ी अल्लाह अल्लाह,
रंग रंगीली ओही खिलावे, जो सिक्खी होवे फनाफी-अल्लाह,
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

अलसतों तों बलबिकम प्रीतम बोले, सभ सखियां ने घुंघट खोल्हे,
कालू बला ही यूं कर बोले, लाइलाह इलइला,
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

नाहन अकरब की बंसी बजाई, मन अरफ नफसहु की कूक सुणाई,
फसुमावज्जु उल्हा की धूम मचाई, विच दरबार रसूले अल्लाह,
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

हाथ जोड़ कर पायों पड़ूंगी, आज़िज़ हो कर बेनती करूंगी,
झगड़ा कर भर झोली लूंगी, नूर मुहंमद सल्लउलाह ।
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

फ़ज़करूनी की होरी बनाऊं, फ़ज़करूनी पिया को रिझाऊं,
ऐसो पिया के मैं बल बल जाऊं, कैसा पिया सुबहान अल्लाह ।
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

सिबग़तउलाहै की भर पिचकारी, अलाह उस मद्द पी मूंह पर मारी,
नूर नबी दा हक्क से जारी, नूर मुहंमद-सल्ला इल्ला,
बुल्ल्हा शाह दी धूम मची है, लाय-ला-इल इलाह ।
होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह ।

42. हुण किस थीं आप छुपाईदा

किते मुल्लां हो बुलेंदे हो, किते सुन्नत फ़रज़ दसेंदे हो,
किते राम दुहाई देंदे हो, किते मत्थे तिलक लगाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

मैं मेरी है कि तेरी है, इह अंत भसम दी ढेरी है,
इह ढेरी पिया ने घेरी है, ढेरी नूं नाच नचाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

किते बेसिर चौड़ां पाओगे, किते जोड़ इनसान हंढाओगे,
किते आदम हवा बण आओगे, कदी मैथों वी भुल्ल जाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

बाहर ज़ाहर डेरा पायो, आपे ढों ढों ढोल बजायो,
जग ते आपना आप जितायो, फिर अबदुल्ल दे घर धाईदा।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

जो भाल तुसाडी करदा है, मोयां तों अग्गे मरदा है,
उह मोयां वी तैथों डरदा है, मत मोयां नूं मार कुहाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

बिन्दराबन में गऊआं चरावे, लंका चढ़ के नाद वजावे,
मक्के दा बण हाजी आवे, वाह वाह रंग वटाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

मनसूर तुसां ते आया ए तुसां सूली पकड़ चढ़ाइआ ए,
मेरा भाई बाबल जाइआ ए दियो खून बहा मेरे भाई दा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

तुसीं सभनीं भेसीं थींदे हो, आपे मद आपे पींदे हो,
मैनूं हर जा तुसीं दसींदे हो, आपे आप को आप चुकाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

हुण पास तुसाडे वस्सांगी, ना बेदिल हो के नस्सांगी,
सभ भेत तुसाडे दस्सांगी, क्यों मैनूं अंग ना लाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

वाह जिस पर करम अवेहा है, तहकीक उह वी तैं जेहा है,
सच्च सही रवायत एहा है, तेरी नज़र मेहर तर जाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

विच भांबड़ बाग़ लवाईदा, जेहड़ा विचों आप वखाईदा,
जां अलफों अहद बणाईदा, तां बातन क्या बतलाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

बेली अल्लाह वाली मालक हो, तुसीं आपे आपने सालक हो,
आपे ख़लकत आप ख़ालक हो, आपे अमर मअरूफ़ कराईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

किधरे चोर हो किधरे काज़ी हो, किते मम्बर ते बह वाअज़ी हो,
किते तेग़ बहादर ग़ाज़ी हो, आपे आपणा कटक चढ़ाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

आपे यूसफ़ कैद करायो, यूनस मच्छली तों निगलायो,
साबर कीड़े घत्त बहायो, फेर उहनां तख़त चढ़ाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

बुल्ल्हा शौह हुण सही सिंञाते हो, हर सूरत नाल पछाते हो,
किते आते हो किते जाते हो, हुण मैथों भुल्ल ना जाईदा ।
हुण किस थीं आप छुपाईदा ।

43. हुण मैं लखिआ सोहणा यार

हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।
जिस दे हुसन दा गरम बज़ार ।

जद अहद इक इकल्ला सी, ना ज़ाहर कोई तजल्ला सी,
ना रब्ब रसूल ना अल्लाह सी, ना जबार ते ना कहार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

बेचून वा बेचगूना सी, बेशबीह बेनमूना सी,
ना कोई रंग ना नमूना सी, हुण गूनां-गुन हज़ार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

प्यारा पहन पोशाकां आया, आदम आपना नाम धराइआ,
अहद ते बण अहमद आया, नबियां दा सरदार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

कुन केहा फाजीकून कहाइआ, बेचूनी से चूनी बणाइआ,
अहद दे विच मीम रलाइआ, तां कीता ऐड पसार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

तजूं मसीत तजूं बुत्तखाना, बरती रहां ना रोज़ा जाणा,
भुल्ल गया वुज़ू नमाज़ दुगाणा, तैं पर जान करां बलिहार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

पीर पैग़म्बर इसदे बरदे, इस मलायक सजदे करदे,
सर कदमां दे उत्ते धरदे, सभ तों वड्डी उह सरकार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

जो कोई उस नूं लखिआ चाहे, बाझ वसीले लखिआ ना जाए,
शाह अनायत भेत बताए, तां खुल्ल्हे सभ इसरार ।
हुण मैं लखिआ सोहणा यार ।

44. हुण मैनूं कौण पछाणे, हुण मैं हो गई नी कुझ होर

हादी मैनूं सबक पढ़ाइआ, ओथे ग़ैर ना आया जाइआ,
मतलक ज़ात जमाल विखाइआ, वहदत पाइआ शोर ।
हुण मैनूं कौण पछाणे, हुण मैं हो गई नी कुझ होर ।

अव्वल हो के लामकानी, ज़ाहर बातन दिसदा जानी,
रिहा ना मेरा नाम निशानी, मिट गया झगड़ा शोर ।
हुण मैनूं कौण पछाणे, हुण मैं हो गई नी कुझ होर ।

प्यारा आप जमाल विखाले, मसत कलन्दर होण मतवाले,
हंसां दे हुण वेख लै चाले, बुल्ल्हा कागां दी हुण गई टोर ।
हुण मैनूं कौण पछाणे, हुण मैं हो गई नी कुझ होर ।

45. इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए

इक अलफ़ों दो तिन्न चार होए, फिर लक्ख करोड़ हज़ार होए,
फिर उथों बाझों शमार होए, इक अलफ़ दा नुक़्ता न्यारा ए,
इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए ।

क्यों पढ़ना एं गड्ड किताबां दी, सिर चाना एं पंड अज़ाबां दी,
हुण होइउं शकल जल्लादां दी, अग्गे पैंडा मुशकल भारा ए,
इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए ।

बण हाफ़ज हिफ़ज कुरान करें, पढ़ पढ़ के साफ़ ज़बान करें,
फिर न्यामत विच ध्यान करें, मन फिरदा ज्युं हलकारा ए,
इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए ।

बुल्ल्हा बी बोहड़ दा बोया ई उह बिरछ वड्डा जा होया ई,
जद बिरछ उह फ़ानी होया ई फिर रह गया बी अकारा ए,
इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए ।

46. इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए

इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए ।
इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए ।

ऐन ग़ैन दी हिक्का सूरत, इक्क नुक़्ते शोर मचाइआ ए,
इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए ।

सस्सी दा दिल लुट्टण कारण, होत पुनूं बण आया ए,
इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए ।

बुल्ल्हा शहु दी ज़ात ना काई, मैं शौह इनायत पाइआ ए,
इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए ।

47. इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए

फड़ नुक़्ता छोड़ हिसाबां नूं, कर दूर कुफ़र दीआं बाबां नूं,
लाह दोज़ख गोर अज़ाबां नूं, कर साफ दिले दीआं ख़ाबां नूं,
गल्ल एसे घर विच ढुक्कदी ए इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए ।

ऐवें मत्था ज़मीं घसाईदा, लंमा पा महराब दिखाई दा,
पढ़ कलमा लोक हसाई दा, दिल अन्दर समझ ना लिआई दा,
कदी बात सच्ची वी लुक्कदी ए ? इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए ।

कई हाजी बण बण आए जी, गल नीले जामे पाए जी,
हज्ज वेच टके लै खाए जी, भला इह गल्ल कीहनूं भाए जी,
कदी बात सच्ची भी लुक्कदी ए ? इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए ।

इक जंगल बहरीं जांदे नी, इक दाणा रोज़ लै खांदे नी,
बे समझ वजूद थकांदे नी, घर होवणा हो के मांदे नी,
ऐवें चिल्लिआं विच जिन्द मुक्कदी ए इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए ।

फड़ मुरशद आबद खुदाई हो, विच्च मसती बेपरवाही हो,
बेखाहश बेनवाई हो, विच्च दिल दे खूब सफाई हो,
बुल्ल्हा बात सच्ची कदों रुकदी ए इक नुक्ते विच गल्ल मुक्कदी ए ।

48. इक रांझा मैनूं लोड़ीदा

कुन-फअकूनों अग्गे दीआं लगियां,
नेहुं ना लगड़ा चोरी दा,
इक रांझा मैनूं लोड़ीदा ।

आप छिड़ जांदा नाल मझ्झीं दे,
सानूं क्यों बेलियों मोड़ीदा,
इक रांझा मैनूं लोड़ीदा ।

रांझे जेहा मैनूं होर ना कोई,
मिन्नतां कर कर मोड़ीदा,
इक रांझा मैनूं लोड़ीदा ।

मान वालियां दे नैन सलोने,
सूहा दुपट्टा गोरी दा,
इक रांझा मैनूं लोड़ीदा ।

अहद अहमद विच फरक ना बुल्लिआ,
इक रत्ती भेत मरोड़ी दा,
इक रांझा मैनूं लोड़ीदा ।

49. इलमों बस्स करीं ओ यार

इलम ना आवे विच शुमार, इको अलफ़ तेरे दरकार,
जांदी उमर नहीं इतबार, इलमों बस्स करीं ओ यार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ इलम लगावें ढेर, कुरान किताबां चार चुफेर,
गिरदे चानण विच अन्हेर, बाझों राहबर ख़बर ना सार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ शेख मसायख़ होया, भर भर पेट नींदर भर सोया,
जांदी वारी नैण भर रोया, डुब्बा विच उरार ना पार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ शेख मसायम कहावें, उलटे मसले घरों बणावें,
बे-अकलां नूं लुट लुट खावें, उलटे सिद्धे करें करार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ मुल्लां होइ काज़ी, अल्लाह इलमा बाहझों राज़ी,
होए हिरस दिनो दिन ताज़ी, नफ़ा नियत विच गुज़ार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ नफ़ल नमाज़ गुज़ारें, उच्चियां बांगां चांघां मारें,
मंतर ते चढ़ वाअज़ पुकारें, कीता तैनूं हिरस खुआर ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ मसले रोज़ सुणावें, खाणा शक्क सुबहे दा खावें,
दस्सें होर ते होर कमावें, अन्दर खोट बाहर सच्यार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

पढ़ पढ़ इलम नजूम विचारे, गिणदा रासां बुरज सतारे,
पढ़े अज़ीमतां मंतर झाड़े, अब जद गिने तअवीज़ शुमार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

इलमों पए कज़ीए होर, अक्खीं वाले अन्न्हे कोर,
फड़े साध ते छड्डे चोर, दोहीं जहानीं होया खुआर ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

इलमों पए हज़ारां फसते, राही अटक रहे विच रसते,
मारिआ हिजर होए दिल खसते, पिआ विछोड़े दा सिर भार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

इलमों मियां जी कहावें, तम्बा चुक्क चुक्क मंडी जावें,
धेला लै के छुरी चलावें, नाल कसाईआं बहुत प्यार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

बहुता इलम अज़राईल ने पढ़आ, झुग्गा तां ओसे दा सड़्या,
गल विच तौक लाहनत दा पड़्या, आख़िर गया उह बाज़ी हार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

जद मैं सबक इश्क दा पढ़आ, दरिआ वेख वहदत दा वड़्या,
घुंमणा घेरां दे विच अड़्या, शाह इनायत लाइआ पार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

बुल्ल्हा ना राफज़ी ना है सुन्नी, आलम फ़ाज़ल ना आलम जुन्नी,
इको पढ़आ इलम लदुन्नी, वाहद अलफ़ मीम दरकार ।
इलमों बस्स करीं ओ यार ।

50. इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने

दिल दी वेदन कोई ना जाणे, अन्दर देस बगाने,
जिस नूं चाट अमर दी होवे, सोई अमर पछाणे,
एस इश्क दी औखी घाटी, जो चढ़आ सो जाणे ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

आतश इश्क फ़राक तेरे दी, पल विच साड़ विखाईआं,
एस इश्क दे साड़े कोलों, जग विच दिआं दुहाईआं,
जिस तन लग्गे सो तन जाणे, दूजा कोई ना जाणे ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

इश्क कसाई ने जेही कीती, रह गई ख़बर ना काई,
इश्क चवाती लाई छाती, फेर ना झाती पाई,
माप्यां कोलों छुप छुप रोवां, कर कर लक्ख बहाने ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

हिजर तेरे ने झल्ली करके, कमली नाम धराइआ,
सुमुन बुकमुन व उमयुन हो के, आपणा वकत लंघाइआ,
कर हुण नज़र करम दी साईआं, न कर ज़ोर धङाने ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

हस्स बुलावां तेरा जानी, याद करां हर वेले,
पल पल दे विच दर्द जुदाई, तेरा शाम सवेले,
रो रो याद करां दिन रातीं, पिछले वकत वेहाने ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

इश्क तेरा दरकार असां नूं, हर वेले हर हीले,
पाक रसूल मुहंमद साहब, मेरे खास वसीले,
बुल्ल्हे शाह जो मिले प्यारा, लक्ख करां शुकराने ।
इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने ।

Next......(51-100)
 
 
 Hindi Kavita