Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Kafian Baba Bulleh Shah in Hindi

काफ़ियां बाबा बुल्ले शाह (101-160)

101. मेरे क्युं चिर लाइआ माही

मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।
नी मैं उस तों घोल-घुमाई ।

दरद फ़िराक बथेरा करिआ, इह दुक्ख मैथों जाए ना जरिआ,
टमक असाडे सिर ते धरिआ, डोई बुग़चा लोह कड़ाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

जागद्यां मैं घर विच मुट्ठी, कदी नहीं सां बैठी उट्ठी,
जिस दी सां मैं ओसे कुट्ठी, हुन की कर ल्या बेपरवाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

बुल्ल्हा शहु तेरे तों वारी, मैं बलेहारी लक्ख लक्ख वारी,
तेरी सूरत बहुत प्यारी, मैं वे बिचारी घोल घुमाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

मेरे माही दे पंज पीर पनाही, ढूंडन उस नूं विच लोकाई,
मेरे माही ते फ़ज़ल इलाही, जिस ने गैबों तार हिलाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

कुन फ़ैकून आवाज़ा आया, तख़त हज़ार्युं रांझा धाइआ,
'चूचक' दा उस चाक सदाइआ, उह आहा साहब सफ़ाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

चल्ल रांझा मुलतान चलाहें, गौश बहावल पीर मनावें,
आपनी तुरत मुराद ल्यावें, मेरा जी रब्ब मौला चाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

जित्थे इश्क डेरा घत बहन्दा, ओथे सबर करार ना रहन्दा,
कोई छुटकन ऐवें कहन्दा, गल पई प्रेम दी फाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही आ जंञ खेड़िआं दी ढुकी, मैं हुन हीर निमानी मुक्की,
मेरी रत्त सरीरों सुक्की, वल वल मारे बिरहों खाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

खेड़ा फुल्ल घोड़े ते चढ़आ, फक्कर धूड़ गरद विच रल्या,
एडा मान क्युं कूड़ा करिआ, उस कीती बेपरवाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

चढ़ के पीर खेड़िआं दा आया, उस ने केहा शोर मचाइआ,
मैनूं माही नज़र ना आया, तांहीएं कीती हाल दुहाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

मैं माही दी माही मेरा, गोशत पोसत बेरा-बेरा,
दिन हशर दे करसां झेड़ा, जद देसी दाद इलाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

चूचक काज़ी सद बहाइआ, मैं मन रांझू माही भाइआ,
धक्को धक्क निकाह पढ़ाइआ, उस कीता फ़रज़ अदाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

तेल वटना कंधे मल्या, चोया चन्दन मत्थे रल्या,
माही मेरा बेले वड़िआ, मैं की करनी कंङन बाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

होर सभ्भो कुझ दस्सन करिआ, इह दुक्ख जाए ना मैथों जरिआ,
टमक रांझन दे सिर ते धरिआ, मोढे बुग़चा लोह कड़ाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

टमक सुट्ट टिल्ले वल जावे, बैठा उस दा नाम ध्यावे,
कन्न पड़वा के मुन्दरां पावे, गुड़ लै के दो सेर शाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

गुर गोरख नूं पीर मनावे, हीरे हीरे कर कुरलावे,
जिस दे कारन मूंड मुंडावे, उह मूंह पीला ज़रद मलाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

जोगी जोग सिधारन आया, सिर दाढ़ी मूंह मोन मुनाइआ,
इस ते भगवा भेस वटाइआ, काली सेहली गल विच पाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

जोगी शहर खेड़िआं दे आवे, जिस घर मतलब से घर पावे,
बूहे जा के नाद बजावे, आपे होया फ़ज़ल इलाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

बूहे पे खुड़ब्यां धङाणे, टुट्ट प्या खप्पर डुल्ल्ह पे दाणे,
इस दे वल छल कौन पछाणे, चीना रुल्ल गया विच पाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

चीना चुन चुन झोली पावे, बैठा हीरे तरफ़ तकावे,
जो कुझ लिख्या लेख सो पावे, रो रो लड़दे नैन सिपाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

इह गल्ल सहती ननद पछाती, दोहां दी वेदन इक्को जाती,
उह वी आही सी मदमाती, ओथे दोहवां सत्थर पाही ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

बुल्ल्हा सहती फन्द चलाइआ, हीर सलेटी नाग लड़ाइआ,
जोगी मंतर झाड़न आया, दुहां दी आस मुराद पुचाई ।
मेरे क्युं चिर लाइआ माही ।

102. मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए

कह बुल्ल्हा हुन प्रेम कहाणी, जिस तन लागे सो तन जाणे,
अन्दर झिड़कां बाहर ताअने, नेहुं ला इह सुक्ख पाइआ ए ।
मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए ।

नैणां कार रोवन दी पकड़ी, इक मरना दो जग्ग दी फकड़ी,
ब्रेहों जिन्द अवल्ली जकड़ी, नी मैं रो रो हाल वंजाइआ ए ।
मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए ।

मैं प्याला तहकीक लीता ए जो भर के मनसूर पीता ए,
दीदार मिअराज पिया लीता ए मैं खूह थीं वुज़ू सजाया ए ।
मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए ।

इश्क मुल्लां ने बांग दिवाई, शहु आवन दी गल्ल सुणाई,
कर नीयत सजदे वल्ल धाई, नी मैं मूंह महराब लगाया ए ।
मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए ।

बुल्ल्हा शहु घर लपट लगाईं, रसते में सभ बण तण जाईं,
मैं वेखां आ इनायत साईं, इस मैनूं शहु मिलाइआ ए ।
मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए ।

103. मेरे नौशहु दा कित मोल

मेरे नौशहु दा कित मोल ।
मेरे नौशहु दा कित मोल ।

अगले वल्ल दी खबर ना कोई रही किताबां फोल ।
सच्चियां नूं पए वज्जन पौले झूठियां करन कलोल ।

चंग चंगेरे परे परेरे असीं आईआं सी अनभोल ।
बुल्ल्हा शाह जे बोलांगा हुन कौन सुने मेरे बोल ।

मेरे नौशहु दा कित मोल ।
मेरे नौशहु दा कित मोल ।

104. मेरी बुक्कल दे विच्च चोर

मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।
नी मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

कीहनूं कूक सुणावां नी मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।
चोरी चोरी निकल गया जग विच्च पै गया शोर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

मुसलमान सिव्यां (सड़ने) तों ड्रदे हिन्दू ड्रदे गोर ।
दोवें एसे दे विच्च मरदे इहो दोहां दी खोर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

किते राम दास किते फ़तह मुहंमद इहो कदीमी शोर ।
मिट गया दोहां दा झगड़ा निकल प्या कुझ होर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

अरश मुनव्वर बांगां मिलियां सुणियां तख़त लाहौर ।
शाह इनायत कुंडियां पाईआं लुक छुप खिचदा डोर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

जिस ढूंडाइआ तिस ने पाइआ ना झुर झुर होया मोर ।
पीरे पीरां बग़दाद असाडा मुरशद तख़त लाहौर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

इहो तुसीं वी आखो सारे आप गुड्डी आप डोर ।
मैं दसनां तुसीं पकड़ ल्याउ बुल्ल्हे शाह दा चोर ।
मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।नी मेरी बुक्कल दे विच्च चोर ।

105. मिल लओ सहेलड़ीयो मेरी राज गहेलड़ीयो, मैं साहुरिआं घर जाणा

मिल लओ सहेलड़ीयो मेरी राज गहेलड़ीयो, मैं साहुरिआं घर जाना ।
तुसां भी होसी अल्ल्हा भाणा, मैं साहुरिआं घर जाना ।

अंमां बाबुल दाज जो दित्ता, इक चोली इक चुन्नी ।
दाज तिन्हां दे वेख के हुन मैं, हंझू भर भर रुन्नी ।
इक विछोड़ा सईआं दा, जिवें डारों कूंज विछुन्नी ।

रंग बरंगे सूल अपुट्ठे, जांदे चीर नैन जी नूं ।
ऐथों दे दुक्ख नाल लिजावां, अगले सौंपां कीहनूं ।

सस्स ननान रहन ना मिलदा, जाना वारो वारी ।
चंग चंगेरे पकड़ मंगाए, मैं कीहदी पनेहारी ।
जिस गुन पल्ले बोल सवल्ले, सोई शहु नूं प्यारी ।

मिल लओ सहेलड़ीयो मेरी राज गहेलड़ीयो, मैं साहुरिआं घर जाना ।
तुसां भी होसी अल्ल्हा भाणा, मैं साहुरिआं घर जाना ।

106. मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां

लग्गा नेहुं मेरा जिस सेती, सरहाने वेख पलंघ दे जीती,
आलम क्युं समझावे रीती, मैं डिट्ठे बाझ ना रहनी हां ।
मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां ।

तुसीं समझायो वीरो भोरी, रांझन वेंहदा मैथों चोरी,
जीहदे इश्क कीती मैं डोरी, मैं नाल आराम ना बहनी हां ।
मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां ।

बिरहों आ वड़िआ विच वेहड़े, ज़ोरो ज़ोर देवे तन घेरे,
दारू दरद ना बाझों तेरे, मैं सज्जणां बाझ मरेनी हां ।
मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां ।

बुल्ल्हे शाह घर रांझन आवे, मैं तत्ती नूं लै गल लावे,
नाल ख़ुशी दे रैन वेहावे, नाल ख़ुशी दे रहनी हां ।
मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां ।

107. मूंह आई बात ना रहन्दी ए

झूठ आखां ते कुझ बचदा ए सच्च आख्यां भांबड़ मचदा ए,
जी दोहां गल्लां तों जचदा ए जच जच के जेहवा कहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

जिस पाइआ भेत कलन्दर दा, राह खोज्या आपने अन्दर दा,
उह वासी है सुक्ख मन्दर दा, जिथे कोई ना चढ़दी लहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

इक लाज़म बात अदब दी ए सानूं बात मलूमी सभ दी ए,
हर हर विच सूरत रब्ब दी ए किते ज़ाहर किते छुपेंदी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

एथे दुनियां विच अन्हेरा ए इह तिलकन बाज़ी वेहड़ा ए,
वड़ अन्दर वेखो केहड़ा ए क्युं खफ़तन बाहर ढूंडेदी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

एथे लेखा पायों पसारा ए इहदा वखरा भेत न्यारा ए,
इह सूरत दा चमकारा ए जिवें चिनग दारू विच पैंदी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

किते नाज़ अदा दिखलाईदा, किते हो रसूल मिलाईदा,
किते आशक बण बण आईदा, किते जान जुदाई सहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

जदों ज़ाहर होए नूर हुरीं, जल गए पहाड़ कोह-तूर हुरीं,
तदों दार चढ़े मनसूर हुरीं, ओथे शेखी पेश ना वैंदी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

जे ज़ाहर करां इसरार ताईं, सभ भुल्ल जावन तकरार ताईं,
फिर मारन बुल्ल्हे यार ताईं, एथे मख़फ़ी गल्ल सोहेंदी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

असां पढ़आ इलम तहकीकी ए ओथे इको हरफ़ हकीकी ए,
होर झगड़ा सभ वधीकी ए ऐवें रौला पा पा बहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ए शाह अकल तूं आया कर, सानूं अदब अदाब सिखाइआ कर,
मैं झूठी नूं समझाइआ कर, जो मूरख माहनूं कहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

वाह वाह कुदरत बेपरवाही ए देवे कैदी दे सिर शाही ए,
ऐसा बेटा जाइआ माई ए सभ कलमा उस दा कहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

इस आज़िज़ दा की हीला ए रंग ज़रद ते मुक्खड़ा पीला ए,
जिथे आपे आप वसीला ए ओथे की अदालत कहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

बुल्ल्हा शहु असां थीं वक्ख नहीं, बिन शहु थीं दूजा कक्ख नहीं,
पर वेखन वाली अक्ख नहीं, ताहीं जान जुदाईआं सहन्दी ए ।
मूंह आई बात ना रहन्दी ए ।

108. मुल्लां मैनूं मारदा ई

मुल्लां मैनूं मारदा ई ।
मुल्लां मैनूं मारदा ई ।

मुल्लां मैनूं सबक पढ़ाइआ।
अलफों अग्गे कुझ ना आया ।
उह बे ई बे पुकारदा ई ।

मुल्लां मैनूं मारदा ई ।
मुल्लां मैनूं मारदा ई ।

109. मुरली बाज उठी अणघातां

मुरली बाज उठी अणघातां ।
सुन के भुल्ल गईआं सभ बातां ।

लग्ग गए अनहद बान न्यारे, झूठी दुनियां कूड़ पसारे,
साईं मुक्ख वेखन वणजारे, मैनूं भुल्ल गईआं सभ बातां ।

मुरली बाज उठी अणघातां ।

हुन मैं चैंचल मिरग फहाइआ, ओसे मैनूं बन्न्ह बहाइआ,
सिरफ दुगाना इश्क पढ़ाइआ, रह गईआं त्रै चार कातां ।
मुरली बाज उठी अणघातां ।

बूहे आण खलोता यार, बाबल पुज्ज प्या तकरार,
कलमे नाल जे रहे वेहार, नबी मुहंमद भरे सफातां ।
मुरली बाज उठी अणघातां ।

बुल्ल्हे शाह मैं हुन बरलाई, जद दी मुरली काहन बजाई,
बावरी हो तुसां वल्ल धाई, खोजियां कित वल दसत बारतां ।
मुरली बाज उठी अणघातां ।

110. ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां

इहनां सुक्यां फुल्लां विच बास नहीं,
परदेस गयां दी कोई आस नहीं,
जेहड़े साईं साजन साडे पास नहीं,
ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां ।

तूं की सुत्ता एं चादर तान के,
सिर मौत खलोती तेरे आण के,
कोई अमल ना कीता जान के,
ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां ।

की मैं खट्ट्या तेरी हो के,
दोवें नैन गवाय रो के,
तेरा नाम लईए मुक्ख धो के,
ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां ।

बुल्ल्हा शहु बदेसों आउंदा,
हत्थ कंगना ते बाहीं लटकाउंदा,
सिर सदका तेरे नाउं दा,
ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां ।

111. नी कुटीचल मेरा नां

मुल्लां मैनूं सबक पढ़ाइआ, अलफों अग्गे कुझ्झ ना आया,
उस दियां जुत्तियां खांदी सां, नी कुटीचल मेरा नां ।

किवें किवें दो अक्खियां लाईआं, रल के सईआं मारन आईआं,
नाले मारे बाबल मां, नी कुटीचल मेरा नां ।

साहवरे सानूं वड़न ना देंदे, नानक दादक घरों कढेंदे,
मेरा पेके नहीउं थां, नी कुटीचल मेरा नां ।

पढ़न सेती सभ मारन आहीं, बिनां पढ़आं हुन छड्डदा नाहीं,
नी मैं मुड़के कित वल्ल जां, नी कुटीचल मेरा नां ।

बुल्ल्हा शहु की लाई मैनूं, मत कुझ लग्गे उह ही तैनूं,
तद करेंगा तूं न्यां, नी कुटीचल मेरा नां ।

112. नी मैं हुन सुण्या इश्क शर्हा की नाता

नी मैं हुन सुण्या इश्क शर्हा की नाता ।

मुहब्बत दा इक प्याला पी, भुल्ल जावन सभ बातां,
घर घर साईं है उह साईं, हर हर नाल पछाता ।

अन्दर साडे मुरशद वस्सदा, नेहुं लग्गा तां जाता,
मंतक माअने कन्नज़ कदूरी, पढ़आ इलम गवाता ।

नमाज़ रोज़ा ओस की करना, जिस मध पीती मधमाता,
पढ़ पढ़ पंडित मुल्लां हारे, किसे ना भेद पछाता ।

ज़री बाफ़दी कदर की जाणे, छट्ट ओनां जत काता,
बुल्ल्हा शहु दी मजलस बह के, हो गया गूंगा बाता ।

नी मैं हुन सुण्या इश्क शर्हा की नाता ।

113. हाजी लोक मक्के नूं जांदे

हाजी लोक मक्के नूं जांदे,
मेरा रांझा माही मक्का,
नी मैं कमली हां ।

मैं ते मंग रांझे दी होईआं,
मेरा बाबल करदा धक्का,
नी मैं कमली हां ।

हाजी लोक मक्के वल्ल जांदे,
मेरे घर विच नौशोह मक्का,
नी मैं कमली हां ।

विचे हाजी विचे गाजी,
विचे चोर उचक्का,
नी मैं कमली हां ।

हाजी लोक मक्के वल्ल जांदे,
असां जाना तख़त हज़ारे,
नी मैं कमली हां ।

जित वल्ल यार उते वल्ल कअबा,
भावें फोल किताबां चारे,
नी मैं कमली हां ।

114. नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा

नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।
अवल्ल दा रोज़ अज़ल्ल दा ।

विच कड़ाही तल तल जावे, तल्यां नूं चा तलदा,
नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।

मोयां नूं इह वल वल मारे, वल्यां नूं चा वलदा,
नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।

क्या जाना कोई चिनग कक्खी ए नित्त सूल कलेजे सल्लदा,
नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।

तीर जिगर विच लग्गा इश्कों, नहीं हलाइआ हल्लदा,
नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।

बुल्ल्हा शहु दा नेहुं अनोखा, नहीं रलाइआ रलदा,
नी मैनूं लग्गड़ा इश्क अवल्ल दा ।
अवल्ल दा रोज़ अज़ल्ल दा ।

115. नी सईयो मैं गई गवाची

नी सईयो मैं गई गवाची,
खोल घुंघट मुक्ख नाची ।

जित वल्ल वेखां उत वल्ल ओही, कसम ओसे दी होर ना कोई,
फैहूना माअकुम फिर गई ध्रोही, जब गोर तेरी बाची ।
नी सईयो मैं गई गवाची ।

नाम निशान ना मेरा सईयो, जो आखां तुसीं चुप्प कर रहीओ,
इह गल्ल मूल किसे ना कहीयो, बुल्ल्हा ख़ूब हकीकत जाची ।

नी सईयो मैं गई गवाची,
खोल घुंघट मुक्ख नाची ।

116. नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार

नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार,
कैसी तौबा है इह यार ?

सांवें दे के लवें सवाई, वाध्यां दी तूं बाज़ी लाई,
मुसलमानी इह किथों पाई, इह तुहाडा किरदार ।
नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार ।

जिथे ना जाना ओथे जाएं, माल पराइआ मूंह धर खाएं,
कूड़ किताबां सिर ते चाएं, फिर तेरा इतबार ।
नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार ।

ज़ालम ज़ुलमों नाहीं ड्रदे, आपनी अमलीं आपे मरदे,
मूंहों तौबा दिलों ना करदे, एथे ओथे होन खुआर ।
नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार ।

सौ दिन जीवें इक दिन मरसें,उस दिन ख़ौफ ख़ुदा दा करसें,
इस तौबा थीं तौबा करसें, उह तौबा किस कार ।
नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार ।

बुल्ल्हा शहु दी सुनो हकायत, हादी फड़िआ होई हदायत,
मेरा साईं शाह अनायत, उहो लंघावे पार ।
नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार,
कैसी तौबा है इह यार ?

117. पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार

पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार ।
इक भर आईआं इक भर चल्लियां, इक खलियां बांह पसार ।

हार हमेलां पाईआं गल विच्च, बाहीं छणके चूड़ा,
कन्नीं बुक्क बुक्क मछरियाले, सभ अडम्बर कूड़ा,
अग्गे शहु ने झात ना पाई, ऐवें गया शिंगार,
पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार ।

हत्थीं महन्दी पैरीं महन्दी, सिर ते धड़ी गुन्दाई,
तेल फुलेल पानां दा बीड़ा, दन्दीं मिस्सी लाई,
कोई जू सद पईयो ने डाढी, विस्सरिआ घर बार,
पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार ।

बुल्ल्हा शहु दे पंध पवें जे, तां तूं राह पछाणे,
पउ-सतारां पास्युं मंगदा, दाय प्या त्रै-काणे,
गुंगी डोरी कमली होई, जान दी बाज़ी हार,
पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार ।

118. परदा किस तों राखीदा

परदा किस तों राखीदा ।
क्युं ओहले बह बह झाकी दा ।

पहलों आपे साजन साजे दा, हुन दस्सना एं सबक नमाजे दा,
हुन आया आप नज़ारे नूं, विच लैला बण बण झाकी दा ।
परदा किस तों राखीदा ।

शाह शम्मस दी खल्ल लुहाययो, मनसूर नूं सूली दवायओ,
ज़करीए सिर कलवत्तर धराययो, की लेखा रहआ बाकी दा ।
परदा किस तों राखीदा ।

कुन्न केहा फअकून कहाइआ, बे-चूनी दा चून बणाइआ,
खातर तेरी जगत बणाइआ, सिर पर छतर लौलाकी दा ।
परदा किस तों राखीदा ।

हुन साडे वल धाइआ ए ना रहन्दा छुपा छुपाइआ ए,
किते बुल्ल्हा नाम धराइआ ए विच ओहला रक्ख्या ख़ाकी दा ।

परदा किस तों राखीदा ।
क्युं ओहले बह बह झाकी दा ।

119. पड़तालिओ हुन आशक केहड़े

नेहुं लग्गा मत गई गवाती, नाहुनो-अकरब ज़ात पछाती,
साईं भी शाह रग तों नेड़े, पड़तालिओ हुन आशक केहड़े ।

हीरे हो मुड़ रांझा होई, इह गल्ल विरला जाने कोई,
चुक्क पए सभ झगड़े झेड़े, पड़तालिओ हुन आशक केहड़े ।

लै बारातां रातीं जागन, नूर नबी दे बरसन लागण,
उहो वेख असाडे झेड़े, पड़तालिओ हुन आशक केहड़े ।

अनुलहक्क आप कहाइआ लोकां, मनसूर ना देंदा आपे होका,
मुल्लां बण बण आवन नेड़े, पड़तालिओ हुन आशक केहड़े ।

बुल्ल्हा शाह शरियत काज़ी है, हकीकत पर भी राज़ी है,
साईं घर घर न्याउं नबेड़े, पड़तालिओ हुन आशक केहड़े ।

120. पत्तियां लिखूंगी मैं शाम नूं, पिया मैनूं नज़र ना आवे

पत्तियां लिखूंगी मैं शाम नूं, पिया मैनूं नज़र ना आवे ।
आंगन बना ड्राउणा, कित बिध रैन वेहावे ।

कागज़ करूं लिख दामने, नैन आंसू लाऊं ।
बिरहों जारी हौं जारी, दिल फूक जलाऊं ।

पांधे पंडत जगत के, पुच्छ रहियां सारे ।
बेद पोथी क्या दोस है, उलटे भाग हमारे ।
नींद गई किते देस नूं, उह भी वैरन हमारे ।

रो रो जीयो लाउंदियां, गम करनी आं दूना ।
नैणों नीर ना चले, किसे क्या कीता टूना ।

पीड़ पराई जर रही, दुक्ख रुंम-रुंम जागे ।
बेदरदी बाहीं टोह के, मुड़ पाछे भागे ।

भाईआ वे जोतशिया, इक बात सच्ची वी कहीयो ।
जो मैं हीनी करम दी, तुसीं चुप्प के हो रहीयो ।

इक हनेरी कोठड़ी, दूजा दीवा ना बाती ।
बांहों फड़ के लै चले, कोई संग ना साथी ।

भज्ज सक्कां ना भज्जां जां, सच्च इश्क फकीरी ।
दुलड़ी तिलड़ी चौलड़ी, गल प्रेम ज़ंजीरी ।

पापी दोनों गुंम हूए, सिर लागी जानी ।
गए अनायत कादरी, मैं फिर कठन कहानी ।

इक फिकरां दी गोदड़ी, लग्गे प्रेम दे धागे ।
सुक्खिया होवे पै सवें, कोई दुक्खिया जागे ।

दसत फुल्लां दी टोकरी, कोई ल्यो बपारी ।
दर दर होका दे रहियां, सब चलणहारी ।

प्रेम नगर चल चल्लीए, जिथे कंत हमारा ।
बुल्ल्हा शहु तों मंगनी हां, जो दे नज़ारा ।

पत्तियां लिखूंगी मैं शाम नूं, पिया मैनूं नज़र ना आवे ।
आंगन बना ड्राउणा, कित बिध रैन वेहावे ।

121. प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाणा

प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाना ।
तूं कदी ते हो स्याना ।

करके चावड़ चार देहाड़े, थीसें अंत निमाना ।
ज़ुलम करें ते लोक सतावें, छड्ड दे ज़ुलम सताना ।
प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाना ।

जिस जिस दा वी मान करें तूं, सो वी साथ ना जाना ।
शहर-खामोशां वेख हमेशां, जिस विच जग्ग समाना ।
प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाना ।

भर भर पूर लंघावे डाढा, मलकुल-मौत मुहाना ।
ऐथे हैन तनते सभ, मैं अवगुणहार निमाना ।
प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाना ।

बुल्ल्हा दुशमन नाल बरे विच, है दुशमन बल ढाना ।
महबूब-रब्बानी करे रसाई, ख़ौफ जाए मलकाना ।
प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाना ।
तूं कदी ते हो स्याना ।

122. प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा

जांदा जा ना आवीं फेर, ओथे बेपरवाही ढेर,
ओथे डहल खलोंदे शेर, तूं वी फद्ध्या जावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

खूह विच यूसफ पाइओ ने, फड़ विच बज़ार विकाइओ ने,
इक्क अट्टी मुल्ल पवाइओ ने, तूं कौडी मुल्ल पवावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

नेहुं ला वेख ज़ुलैखां लए, ओथे आशक तड़फन पए,
मजनूं करदा है है है, तूं ओथों की ल्यावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

उथे इकना पोसत लुहाईदे, इक आरिआं नाल चिराईदे,
इक्क सूली पकड़ चढ़ाईदे, उथे तूं वी सीस कटावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

घर कलालां दा तेरे पासे, ओथे आवन मसत प्यासे,
भर भर पीवन प्याले कासे, तूं वी जिय ललचावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

दिलबर हुन ग्युं कित लोउं, भलके की जाणां की हो,
मसतां दे ना कोल खलो, तूं वी मसत सदावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

बुल्ल्हआ ग़ैर शर्हा ना हो, सुक्ख दी नींदर भर के सो,
मूंहों अनुलहक्क बगो, चढ़ सूली ढोले गावेंगा ।
प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा ।

123. प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर

हुन मैं ते राजी रहनां,
प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर ।

मैं घर खिला शगूफा होर,
वेखियां बाग़ बहारां होर,
हुन मैनूं कुझ ना कहणा,
प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर ।

हुन मैं मोई नी मेरीए मां,
पूनी मेरी लै गया कां,
डो डो करदी मगरे जां,
पूनी दे दईं साईं दे नां,
प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर ।

बुल्ल्हा साईं दे नाल प्यार,
मेहर इनायत करे हज़ार,
इहो कौल ते इहो करार,
दिलबर दे विच रहणा,
प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर ।

124. पिया पिया करते हमीं पिया हुए, अब पिया किस नूं कहीए

पिया पिया करते हमीं पिया हुए, अब पिया किस नूं कहीए ।

हजर वसल हम दोनों छोड़े, अब किस के हो रहीए ।
पिया पिया करते हमीं पिया हुए ।

मजनूं लाल दीवाने वांङू, अब लैला हो रहीए ।
पिया पिया करते हमीं पिया हुए ।

बुल्ल्हा शहु घर मेरे आए, अब क्युं ताअने सहीए ।
पिया पिया करते हमीं पिया हुए ।

125. रातीं जागें करें इबादत

रातीं जागें करें इबादत,
रातीं जागन कुत्ते ।
तैथों उते ।

भौंकणों बन्द मूल ना हुन्दे,
जा रूड़ी ते सुत्ते ।
तैथों उते ।

ख़सम आपने दा दर ना छड्डदे,
भावें वज्जन जुत्ते ।
तैथों उते ।

बुल्ल्हे शाह कोई रख़त वेहाज लै,
नहीं ते बाज़ी लै गए कुत्ते ।
तैथों उते ।

126. रहु रहु उए इश्का मारिआ ई

रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।
कहु किस नूं पार उतारिआ ई ।

आदम कणकों मन्हा कराइआ, आपे मगर शैतान दुड़ाइआ,
कढ्ढ बहशतों ज़मीन रुलाइआ, केड पसार पसारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

ईसा नूं बिन बाप जंमाइआ, नूहे पर तूफान मंगाइआ,
नाल प्यु दे पुत्तर लड़ाइआ, डोब उहनां नूं मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

मूसे नूं कोह-तूर चढ़ाययो, असमाईल नूं ज़िबाह करायओ,
यूनस मच्छी तों निगलाययो, की उहनां नूं रुत्तबे चाढ़आ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

ख़वाब ज़ुलैखां नूं दिखलाययो, यूसफ़ खूह दे विच पवायओ,
भाईआं नूं इलज़ाम दिवाययो, तां मरातब चाढ़आ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

भट्ठ सुलेमान नूं झुकाइओ, इबराहीम चिखा विच पाइओ,
साबर दे तन कीड़े पाययो, हुसन ज़हर दे मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

मनसूर नूं चा सूली दित्ता, राहब दा कढवाइओ पित्ता,
ज़करिया सिर कलवत्तर कीता, फेर उहनां कंम की सारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

शाह सरमद दा गला कटाययो, शमस ने जां सुखन अलायओ,
कुमबइजनी आप कहाययो, सिर पैरों खल्ल उतारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

एस इश्क दे बड़े अडम्बर, इश्क ना छप्पदा बाहर अन्दर,
इश्क कीता शाह शरफ़ कलन्दर, बार्हां वर्हे दरिआ विच ठारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

इश्क लेला दे धुंमां पाईआं, तां मजनूं ने अक्खियां लाईआं,
उहनूं धारां इश्क चुंघाईआं, खूहे बरस गुज़ारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

इश्क होरीं हीर वल्ल धाए, तांहीएं रांझे कन्न पड़वाए,
साहबां नूं जदों व्याहुन आए, सिर मिरज़े दा वारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

सस्सी थलां दे विच रुलाई, सोहनी कच्चे घड़े रुढ़ाई,
रोडे पिच्छे गल्ल गवाई, टुकड़े कर कर मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

फ़ौज़ां कतल कराईआं भाईआं, मशकां चूहआं तों कटवाईआं,
डिट्ठी कुदरत तेरी साईआं, सिर तैथों बलेहारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

कैरों पांडो करन लड़ाईआं, अठारां खूहणियां तदों खपाईआं,
मारन भाई सक्यां भाईआं, की ओथे न्यां नितारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

नमरूद ने वी खुदा सदाइआ, उस ने रब्ब नूं तीर चलाइआ,
मच्छर तों नमरूद मरवाइआ, कारूं ज़मीं निघारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

फिरऔन ने जदों ख़ुदा कहाइआ, नील नदी दे विच आया,
ओसे नाल अशटंड जगाइआ, खुदीयों कर तद मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

लंका चढ़ के नाद बजाययो, लंका राम कोलों लुटवायओ,
हरनाकश कित्ता बहशत बनाययो, उह विच दरवाज़े मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

सीता दैहसर लई बेचारी, तद हनूवंत ने लंका साड़ी,
रावन दी सभ ढाह अटारी, ओड़क रावन मारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

गोपियां नाल की चज्ज कमाइआ, मक्खन कान्ह तों लुटवाइआ,
राजे कंस नूं पकड़ मंगाइआ, बोदीउं पकड़ पछाड़िआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

आपे चा इमाम बणाइआ, उस दे नाल यज़ीद लड़ाइआ,
चौधीं तबकीं शोर मचाइआ, सिर नेज़े 'ते चाढ़आ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

मुग़लां ज़हर प्याले पीते, भूरियां वाले राजे कीते,
सभ असरफ़ फिरन चुप्प कीते, भला उहनां नूं झाड़िआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

बुल्ल्हा शाह फकीर विचारा, कर कर चल्या कूच नगारा,
रौशन जग्ग विच नाम हमारा, नूहों सरज उतारिआ ई ।
रहु रहु उए इश्का मारिआ ई ।

127. रैन गई लटके (लुड़के) सभ तारे

रैन गई लटके (लुड़के) सभ तारे,
अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

आवागौन सराईं डेरे, साथ त्यार मुसाफर तेरे,
तैं ना सुण्यु कूच नगारे, अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

कर लै अज्ज करनी दा बेरा, बहुड़ ना होसी आवन तेरा,
साथी चलो चल्ल पुकारे, अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

क्या सरधन क्या निरधन पौड़े, आपने आपने देश को दौड़े,
लद्धा नाम लै ल्यो सभारे, अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

मोती चूनी पारस पासे, पास समुन्दर मरो प्यासे,
खोल्ह अक्खीं उट्ठ बहु भिकारे, अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

बुल्ल्हआ शौह दी पैरीं पड़ीए, ग़फ़लत छोड़ कुझ हीला करीए,
मिरग जतन बिन खेत उजाड़े, अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

रैन गई लटके (लुड़के) सभ तारे,
अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे ।

128. रांझा जोगीड़ा बण आया

रांझा जोगीड़ा बण आया ।
वाह सांगी सांग रचाइआ ।

एस जोगी दे नैन कटोरे, बाज़ां वांङू लैंदे डोरे,
मुक्ख डिठ्यां दुक्ख जावन झोरे, इन्हां अक्खियां लाल वंजाइआ ।
रांझा जोगीड़ा बण आया ।

एस जोगी दी की निशानी, कन्न विच मुन्दरां गल विच गानी,
सूरत इस दी यूसफ़ सानी, एस अलफ़ों आहद बणाइआ ।
रांझा जोगीड़ा बण आया ।

रांझा जोगी ते मैं जोगयानी, इस दी खातर भरसां पाणी,
एवें पिछली उमर वेहाणी, एस हुन मैनूं भरमाइआ ।
रांझा जोगीड़ा बण आया ।

बुल्ल्हा शहु दी इह गत बणाई, प्रीत पुरानी शोर मचाई,
इह गल्ल कीकूं छुपे छुपाई, नी तख़त हज़ार्युं धाइआ ।
रांझा जोगीड़ा बण आया ।
वाह सांगी सांग रचाइआ ।

129. रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई

रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई ।
सद्दो नी मैनूं धीदो रांझा, हीर ना आखो कोई ।

रांझा मैं विच्च मैं रांझे विच्च, होर ख़्याल ना कोई ।
मैं नहीं उह आप है, आपनी आप करे दिलजोई ।
रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई ।

हत्थ खूंडी मेरे अग्गे मंगू, मोढे भूरा लोई ।
बुल्ल्हा हीर सलेटी वेखो, कित्थे जा खलोई ।
रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई ।
सद्दो नी मैनूं धीदो रांझा, हीर ना आखो कोई ।

130. रोज़े हज्ज निमाज़ नी माए

रोज़े हज्ज निमाज़ नी माए,
मैनूं पिया ने आण भुलाए ।

जां पिया दियां ख़बरां आईआं, मंतक नहव सभ्भे भुल्ल गईआं,
उस अनहद तार वजाए, रोज़े हज्ज निमाज़ नी माए ।

जां पिया मेरे घर आया, भुल्ल गया मैनूं शर्हा वकाइआ,
हर मुज़हर विच ऊहा दिसदा, अन्दर बाहर जलवा जिसदा,
लोकां खबर ना काए, रोज़े हज्ज निमाज़ नी माए ।

131. सभ इको रंग कपाहीं दा

तानी ताना पेटा नलियां, पीठ नड़ा ते छब्बां छल्लियां,
आपो आपने नाम जितावन, वक्खो वक्खी जाही दा ।
सभ इको रंग कपाहीं दा ।

चौंजी पैंजी खद्दर धूतर, मलमल ख़ासा इक्का सूतर,
पूनी विचों बाहर आवे, भगवा भेस गोसाईं दा ।
सभ इको रंग कपाहीं दा ।

कुड़ियां हत्थीं छापां छल्ले, आपो आपे नाम सवल्ले,
सभ्भा हिक्का चांदी आखो, कंङन चूड़ा बाहीं दा ।
सभ इको रंग कपाहीं दा ।

भेडां बक्करियां चारन वाला, उठ मझ्झियां दा करे संभाला,
रूड़ी उते गद्दो चारे, उह भी वागी गांईं दा ।
सभ इको रंग कपाहीं दा ।

बुल्ल्हा शहु दी ज़ात की पुछनैं, शाकर हो रज़ाई दा,
जे तूं लोड़ें बाग़ बहारां, चाकर रहु अराईं दा ।
सभ इको रंग कपाहीं दा ।

132. सदा मैं साहवरिआं घर जाणा

सदा मैं साहवरिआं घर जाणा,
नी मिल लओ सहेलड़ीयो ।

तुसां वी होसी अल्ल्हा भाणा, नी मिल लओ सहेलड़ीयो ।
रंग बरंगी सूल उपट्ठे, चम्बड़ जावन मैनूं ।
दुक्ख अगले मैं नाल लै जावां, पिछले सौंपां केहनूं ।
इक विछोड़ा सईआं दा, ज्युं डारों कूंज विछुन्नी ।
माप्यां मैनूं इह कुझ दित्ता, इक चोली इक चुन्नी ।
दाज इन्हां दा वेख के हुन मैं, हंझू भर भर रुन्नी ।
सस्स ननाणां देवन ताहने, मुशकल भारी पुन्नी ।
बुल्ल्हा शौह सत्तार सुणींदा, इक वेला टल जावे ।
अदल करे तां जाह ना काई, फ़ज़लों बखरा पावे ।

सदा मैं साहवरिआं घर जाणा,
नी मिल लओ सहेलड़ीयो ।

133. साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ वे प्यारिआ

साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ वे प्यारिआ,
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

आपे लाईआं कुंडियां तैं, ते आपे खिच्चदा हैं डोर ।
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

अरश कुरसी ते बांगां मिलियां, मक्के पै गया शोर ।
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

डोली पा के लै चल्ले खेड़े, ना कुझ उज़र ना ज़ोर ।
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

जे माए तैनूं खेड़े प्यारे, डोली पा देवीं होर ।
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

बुल्ल्हा शौह असां मरना नाहीं, वे मर गया कोई होर ।
साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ ।

134. साईं छुप तमाशे नूं आया

साईं छुप तमाशे नूं आया,
तुसीं रल मिल नाम ध्यायो ।

लटक सजन दी नाहीं छपदी, सारी ख़लकत सिक्कदी तप्पदी,
तुसीं दूर ना ढूंडन जायो, तुसीं रल मिल नाम ध्यायो ।

रल मिल सईयो अतन पायो, इक बन्ने विच जा समाओ,
नाले गीत सज्जन दा गायो, तुसीं रल मिल नाम ध्यायो ।

बुल्ल्हा बात अनोखी एहा, नच्चन लग्गी तां घुंघट केहा,
तुसीं परदा अक्खीं थीं लाहो, तुसीं रल मिल नाम ध्यायो ।

135. सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा

दुक्खां सुक्खां कीता एका, ना कोई सहुरा ना कोई पेका,
दरद वेहूनी पई दर तेरे, तूं हैं दरद रंजानी दा ।
सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा ।

कढ्ढ कलेजा करनी आं बेरे, इह भी लायक नाहीं तेरे,
होर तौफीक नहीं विच मेरे, पीउ कटोरा पानी दा ।
सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा ।

हुन क्युं रोंदे नैन निरासे, आपे ओड़क फाही फासे,
हुन तां छुट्टन औखा होया, चारा नहीं निमानी दा ।
सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा ।

बुल्ल्हा शहु प्या हुन गज्जे, इश्क दमामे सिर 'ते वज्जे,
चार देहाड़े गोइल वासा, ओड़क कूड़ बखानी दा ।
सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा ।

136. सानूं आ मिल यार प्यारिआ

दूर दूर असाथों ग्युं, अजला (अरशां) ते आ के बह रहउं,
की कसर कसूर विसारिआ, सानूं आ मिल यार प्यारिआ ।

मेरा इक अनोखा यार है, मेरा ओसे नाल प्यार है,
किवें समझें वड परवाइआ, सानूं आ मिल यार प्यारिआ ।

जदों आपनी आपनी पै गई, धी मां नूं लुट्ट के लै गई,
मूंह बाहरवीं सदी पसारिआ, सानूं आ मिल यार प्यारिआ ।

दर खुल्ल्हा हशर अज़ाब दा, बुरा हाल होया पंजाब दा,
डर हावीए दोज़ख मारिआ, सानूं आ मिल यार प्यारिआ ।

बुल्ल्हा शहु मेरे घर आवसी, मेरी बलदी भा बुझावसी,
इनायत दमदम नाल चितारिआ, सानूं आ मिल यार प्यारिआ ।

137. सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई

सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।
हरि हर दे विच्च समाइओ ई ।

अनाअहद दा गीत सुणाइओ,
अना अहमद हूं फिर फरमाइओ,
अनाअरब बे ऐन बताइओ,
फिर नाम रसूल धराइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

फसुमावजउल अल्ल्हाहू नूर तेरा,
हर हर के बीच ज़हूर तेरा,
है अलइनसान मज़कूर तेरा,
एथे आपना सिर्र लोकाइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

तूं आइउं ते मैं ना आई,
गंज मख़फ़ी दी तैं मुरली बजाई,
आख अलस्सत गवाही चाही,
ओथे कालाबूला सुणाययो ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

परगट हो कर नूर सदाइओ,
अहमद तों मौजूद कराइओ,
नाबूदों कर बूद दिखलाइओ,
फ़नफ़ख़तोफ़ी ही सुणाइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

नाहनअकरब लिख दित्तोई,
हूवामअकुम सबक दित्तोई,
वफ़ियनफ़ुसकुम हुकम कीतोई,
फिर केहा घुंघट पाइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

भर के वहदत जाम पिलाइओ,
मनसूर नूं मसत कराइओ,
उस तों अनुलहक्क आप कहाइओ,
फिर सूली पकड़ चढ़ाइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

घुंघट खोल्ह जमाल विखाइआ,
शैख जुनैद कमाल सदाइआ,
लैशाफ़ीजन्नेती हाल बणाइआ,
अशरफ इनसान बणाइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।

वलकदकरमना याद कराइओ,
ला इल्लाहा दा परदा लाइओ,
इल्लअल्ल्हाहू कहो झाती पाइओ,
फिर बुल्ल्हा (भुल्ला) नाम धराइओ ई ।
सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई ।
हरि हर दे विच्च समाइओ ई ।

138. से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए

से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।
लालां दा उह वनज करेंदे, होका आख सुणाए ।

लाल ने गहने सोने साथी, माए नाल लै जावां,
सुण्या होका मैं दिल गुज़री, मैं भी लाल ल्यावां,
इक ना इक कन्नां विच पा के, लोकां नूं दिखलावां,
लोक जानन इह लालां वाले, लईआं मैं भरमाए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।

ओड़क जा खलोती उहनां ते, मैं मनों सधराईआं,
भाई वे लालां वालिओ मैंं वी लाल लेवन नूं आईआं,
उहनां भरे सन्दूक विखाले, मैनूं रीझां आईआं,
वेखे लाल सुहाने सारे, इक तों इक सवाए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।

भाई वे लालां वाल्या वीरा इन्हां दा मुल्ल दसाईं,
जे तूं आई हैं लाल खरीदन, धड़ तों सीस लहाईं,
डम्ह कदी सूई दा ना सहआ, सिर किथों दिता जाई,
लाज़म हो के मुड़ घर आई, पुच्छन गवांढी आए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।

तूं जो गई सैं लाल ख़रीदन, उच्ची अड्डी चाई नी,
केहड़ा मुहरा ओथों रन्ने, तूं लै के घर आई नी,
लाल सी भारे मैं सां हलकी, खाली कन्नी साई नी,
भारा लाल अनमुल्ला ओथों, मैथों चुक्या ना जाए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।

कच्ची कच्च वेहाजन जाणां, लाल वेहाजन चल्ली,
पल्ले खरच ना साख ना काई, हत्थों हारन चल्ली,
मैं मोटी मुसटंडी दिस्सां, लाल नूं चारन चल्ली,
जिस शाह ने मुल्ल लै के देणा, सो शाह मूंह ना लाए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।

गलियां दे विच फिरें दीवानी, नी कुड़ीए मुट्यारे,
लाल चुगेंदी नाज़क होई, इह गल्ल कौन नितारे,
जा मैं मुल्ल ओन्हां नूं पुच्छ्या, मुल्ल करन उह भारे,
डम्ह सूई दा कदे ना खाधा, उह आखन सिर वारे,
जेहड़ियां गईआं लाल वेहाजन, उहनां सीस लुहाए ।
से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए ।
लालां दा उह वनज करेंदे, होका आख सुणाए ।

139. सुनो तुम इश्क की बाज़ी, मलायक है कहां राज़ी

सुनो तुम इश्क की बाज़ी, मलायक है कहां राज़ी,
यहां बिरहों पर है गाज़ी, वेखां फिर कौन हारेगा ।

साजन की भाल हुन होई, मैं लहू नैन भर रोई,
नच्चे हम लाह कर लोई, हैरत के पत्थर मारेगा ।

महूरत पूछ कर जाऊं, साजन को देखने पाऊं,
उसे मैं ले गले लाऊं, नहीं फिर खुद गुज़ारेगा ।

इश्क की तेग़ से मूई, नहीं वोह ज़ात की दूई,
और पिया पिया कर मूई, मोयां विच रूह चितारेगा ।

साजन की भाल सर दिया, लहू मध अपना पिया,
कफ़न बाहों से सी लिया, लहद में पा उतारेगा ।

बुल्ल्हा शहु इश्क है तेरा, उसी ने जी लिया मेरा,
मेरे घर बार कर फेरा, वेखां सिर कौन वारेगा ।

140. तैं कित पर पाउं पसारा ए

तैं कित पर पाउं पसारा ए ।
कोई दम का अथां गुज़ारा ए ।

इक पलक झलक दा मेला ए कुझ कर लै इहो वेला ए,
इक घड़ी ग़नीमत देहाड़ा ए तैं कित पर पाउं पसारा ए ।

इक रात सरां दा रहना ए एथे आ कर फुल्ल ना बहना ए,
कल्ल्ह सभ दा कूच नकारा ए तैं कित पर पाउं पसारा ए ।

तूं ओस मकानों आया एं, एथे आदम बण समाइआ एं,
हुन छड्ड मजलस कोई कारा ए तैं कित पर पाउं पसारा ए ।

बुल्ल्हा शहु इह भरम तुम्हारा ए सिर चुक्क्या परबत भारा ए,
उस मंज़ल राह ना खाहड़ा ए तैं कित पर पाउं पसारा ए ।

141. तांघ माही दी जलियां

तांघ माही दी जलियां,
नित्त काग उडावां खलियां ।

कउडी दमड़े पल्ले ना काई, पार वंञन नूं मैं सधराई,
नाल मलाहां दे नहीं आशनाई, झेड़ा करां वलल्लियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

नै चन्दल दे शोर किनारे, घुंमन घेर विच ठाठां मारे,
डुब्ब डुब्ब मोए भारे, जे शोर करां तां झल्लियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

नै चन्दल दे डूंघे पाहे, तारू गोते खांदे आहे,
माही मुंडे पार सिधाए, मैं केवल रहियां कल्लियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

नै चन्दल दियां तारू फाटां, खली उडीकां माही दियां वाटां,
इश्क माही दे लाईआं चाटां, जे कूकां तां मैं गलियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

पार झनायों जंगल बेले, ओथे खूनी शेर बघेले,
झब्ब रब्ब मैनूं माही मेले, मैं एस फिकर विच गलियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

अद्धी रात लटकदे तारे, इक लटके इक लटकणहारे,
मैं उट्ठ आई नदी किनारे, हुन पार लंघन नूं खलियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

मैं मनतारू सार की जाणां, वंझ चप्पा ना तुल्हा पुराणा,
घुंमन घेर ना टांग टिकाणा, रो रो फाटां तलियां ।
तांघ माही दी जलियां ।

बुल्ल्हा शहु घर मेरे आवे, हार शिंगार मेरे मन भावे,
मूंह मुकट मत्थे तिलक लगावे, जे वेखे तां मैं भलियां ।
तांघ माही दी जलियां,
नित्त काग उडावां खलियां ।

142. बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ

बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

इश्क डेरा मेरे अन्दर कीता,
भर के ज़हर प्याला मैं पीता,
झबदे आवीं वे तबीबा नहीं ते मैं मर गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

छुप्प गया सूरज बाहर रह गई आ लाली,
होवां मैं सदके मुड़ जे दें विखाली ,
मैं भुल्ल गईआं तेरे नाल ना गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

तेरे इश्क दी सार वे मैं ना जाणां,
इह सिर आया ए मेरा हेठ वदाणां,
सट्ट पई इश्के दी तां कूकां दईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

एस इश्क दे कोलों सानूं हटक ना माए,
लाहू (लाहौर) जांदड़े बेड़े मोड़ कौन हटाए,
मेरी अकल भुल्ली नाल मुहाण्यां दे गईआं ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

एस इश्क दी झंगी विच मोर बुलेंदा,
सानूं काबा ते किबला प्यारा यार दसेंदा,
सानूं घायल करके फिर खबर ना लईआ ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

बुल्ल्हा शाह इनायत दे बह बूहे,
जिस पहनाए सानूं सावे सूहे,
जां मैं मारी उडारी मिल प्या वहिया ।
तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ ।

143. टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी

इस टूने नूं पढ़ फूकांगी, सूरज अगन जलावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

अक्खियां काजल काले बादल, भवां से आग लगावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

और बसात नहीं कुझ मेरी, जोबन धड़ी गुन्दावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

सत्त समुन्दर दिल दे अन्दर, दिल से लहर उठावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

बिजली हो कर चमक ड्रावां, मैं बादल घिर घिर जावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

इश्क अंगीठी हरमल तारे, सूरज अगन चढ़ावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

ना मैं व्याही ना मैं कवारी, बेटा गोद खिडावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

बुल्ल्हा लामकान दी पटड़ी उते, बहके नाद वजावांगी ।
टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी ।

144. तूं किधरों आया किधर जाणा, आपना दस्स टिकाणा

तूं किधरों आया किधर जाणा, आपना दस्स टिकाना ।
जिस ठाने दा तूं मान करें, तेरे नाल ना जासी ठाना ।

ज़ुलम करें ते लोक सतावें, कसब फड़्यु लुट्ट खाना ।
महबूब सुबहानी करे आसानी, खौफ जाए मलकाना ।

शहर खमोशां दे चल वस्सीए, जित्थे मुलक समाना ।
भर भर पूर लंघावे डाढा , मलक-उल-मौत मुहाना ।

करे चावड़ चार देहाड़े, ओड़क तूं उट्ठ जाना ।
इन्हां सभनां थीं ए बुल्ल्हा, औगुणहार पुराना ।

तूं किधरों आया किधर जाणा, आपना दस्स टिकाना ।
जिस ठाने दा तूं मान करें, तेरे नाल ना जासी ठाना ।

145. तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं

खोले दे परछावें वांङू, घुम रेहा मन माहीं ।
तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं ।

जां बोलां तूं नाले बोलें चुप्प करां मन माहीं ।
तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं ।

जां सौंवां तां नाले सौवें जां टुरां तां राहीं ।
तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं ।

बुल्ल्हा शहु घर आया साडे जिन्दड़ी घोल घुमाईं ।
तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं ।

146. टुक्क बूझ कौन छुप आया ए

टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।
किसे भेखी भेख वटाइआ ए ।

जिस ना दरद की बात कही, उस प्रेम नगर ना झात पई,
उह डुब्ब मोई सभ घात गई, उह क्युं चन्दरी ने जाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

मानन्द पलास बणाइओ ई मेरी सूरत चा लिखाइओ ई,
मुक्ख काला कर दिखलाइओ ई क्या स्याही रंग लगाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

इक रब्ब दा नां ख़ज़ाना ए संग चोरां यारां दाना ए,
उस रहमत दा खसमाना ए संग ख़ौफ रकीब बणाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

दूई दूर करो कोई शोर नहीं, इह तुरक हिन्दू कोई होर नहीं,
सभ साध कहो कोई चोर नहीं, हर घट विच आप समाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

ऐवें किस्से काहनूं घड़ना एं, ते गुलसतां, बोसतां पढ़ना एं,
ऐवें बेमूज़ब क्युं लड़ना एं, किस उलटा वेद पढ़ाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

शरियत साडी दाई ए तरीकत साडी माई ए,
अग्गों हक्क हकीकत आई ए अते मारफतों कुझ पाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

है विरली बात बतावन दी, तुसीं समझो दिल ते लावन दी,
कोई गत्त दस्सो इस बावन दी, इह काहनूं भेत बणाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

इह पढ़ना इलम ज़रूर होया, पर दसना ना मंज़ूर होया,
जिस दस्या सो मनसूर होया, इस सूली पकड़ चढ़ाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

मैनूं किसब ना फिकर तमीज़ कीता, दुख तन आरफ बाज़ीद कीता,
कर ज़ुहद किताब मजीद कीता, किसे बे-मेहनत नहीं पाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

इस दुक्ख से किचरक भागेंगा, रहें सुत्ता कद तूं जागेंगा,
फेर उठदा रोवन लागेंगा, किसे ग़फ़लत मार सुलाइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

ग़ैन ऐन दी सूरत इक ठहरा, इक नुकते दा है फरक पड़ा,
जो नुकता दिल थीं दूर करा, फिर ग़ैन वा ऐन जिताइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।

जेहड़ा मन विच लग्गा दूआ रे, इह कौन कहे मैं मूआ रे,
तन सभ इनायत हूआ रे, फिर बुल्ल्हा नाम धराइआ ए ।
टुक्क बूझ कौन छुप आया ए ।
किसे भेखी भेख वटाइआ ए ।

147. तुसीं आओ मिल मेरी प्यारी

तुसीं आओ मिल मेरी प्यारी ।
मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

सभ्भे रल के टोरन आईआं, आईआं फुफ्फियां चाचियां ताईआं,
सभ्भे रोंदियां ज़ारो ज़ारी, मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

सभ्भे आखन इह गल्ल जाणी, रव्हीं तूं हर दम हो निमाणी,
ताहीं लग्गेगीं ओथे प्यारी, मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

सभ्भे टोर घरां नूं मुड़ियां, मैं हो इक इकल्लड़ी टुरियां,
होईआं डारों मैं कूंज न्यारी, मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

बुल्ल्हा शहु मेरे घर आवे, मैं कुचज्जी नूं लै गल लावे,
इको शौह दी ए बात प्यारी, मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

तुसीं आओ मिल मेरी प्यारी ।
मेरे टुरने दी होई त्यारी ।

148. तुसीं करो असाडी कारी

तुसीं करो असाडी कारी ।
केही हो गई वेदन भारी ।

उह घर मेरे विच आया, उस आ मैनूं भरमाइआ,
पुच्छो जादू है कि साइआ, उस तों लवो हकीकत सारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

ओहो दिल मेरे विच वस्सदा, बैठा नाल असाडे हस्सदा,
पुच्छां बातां ते उट्ठ नस्सदा, लै बाज़ां वांङ उडारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

मैं शहु दरिआवां पईआं, ठाठां लहरां दे मूंह गईआं,
फड़ के घुंमन घेर भवईआं, उपर बरखा रैन अंध्यारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

सईआं ऐड छनिच्छर चाए, तारे खारिआं हेठ छुपाए,
मुंज दियां रस्सियां नाग बणाए, इहनां सेहरां तों बलेहारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

इह जो मुरली कान्ह वजाई, दिल मेरे नूं चोट लगाई,
आह दे नाअरे करदी आही, मैं रोवां ज़ारो ज़ारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

इश्क दीवाने लीकां लाईआं, डाढियां घणियां सत्थां पाईआं,
हां मैं बक्करी कोल कसाईआं, रहन्दा सहम हमेशा भारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

इश्क रोहेला नाहीं छप्पदा, अन्दर धरिआ बन्न्हीं नच्चदा,
मैनूं द्यु सुनेहुड़ा सच्च दा, मेरी करो कोई ग़मखारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

मैं की मेहर मुहब्बत जाणां, सईआं करदियां ज़ोर धिङाणा,
गलगल मेवा की हदवाणा, की कोई वैद पसारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

नौ शौह जिस दा बांस बरेली, टुट्टी डालों रही इकेली,
कूके बेली बेली बेली, उहदी करे कोई दिलदारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

बुल्ल्हा शौह दे जे मैं जावां, आपना सिर धड़ फेर ना पावां,
ओथे जावां फेर ना आवां, एथे ऐवें उमर गुज़ारी ।
तुसीं करो असाडी कारी ।

149. उलटे होर ज़माने आए

उलटे होर ज़माने आए ।
कां लगड़ नूं मारन लग्गे चिड़ियां जुर्रे खाए,
उलटे होर ज़माने आए ।

इराकियां नूं पई चाबक पउंदी गद्धो खोद पवाए,
उलटे होर ज़माने आए ।

बुल्ल्हा हुकम हज़ूरों आया तिस नूं कौन हटाए,
उलटे होर ज़माने आए ।

150. उलटी गंग बहाइओ रे साधो, तब हर दरसन पाए

उलटी गंग बहाइओ रे साधो, तब हर दरसन पाए ।
प्रेम दी पूनी हाथ में लीजो, गुझ्झ मरोड़ी पड़ने ना दीजो ।
गयान का तक्कला ध्यान का चरखा, उलटा फेर भुवाए ।
उलटे पाउं पर कुंभकरन जाए, तब लंका का भेद उपाए ।
दैहंसर लुट्ट्या हुन लछमन बाकी, तब अनहद नाद बजाए ।
इह गत गुर की पैरों पावें, गुर का सेवक तभी सदाए ।
अंमृत मंडल मूं तब ऐसी दे, कि हरी हरि हो जाए ।
उलटी गंग बहाइओ रे साधो, तब हर दरसन पाए ।

151. उट्ठ गए गवांढों यार

उट्ठ गए गवांढों यार,
रब्बा हुन की करीए ?

उट्ठ गए हुन बहन्दे नाहीं,होया साथ त्यार,
रब्बा हुन की करीए ?

दाढ कलेजे बल बल उठदी, भड़के बिरहों नार,
रब्बा हुन की करीए ?

बुल्ल्हा शहु प्यारे बाझों रहे उरार ना पार,
रब्बा हुन की करीए ?

152. उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं

उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।
इह सौन तेरे दरकार नहीं ।

इक रोज़ जहानों जाना ए जा कबरे विच समाना ए,
तेरा गोशत कीड़िआं खाना ए कर चेता मरग विसार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

तेरा साहा नेड़े आया ए कुझ्झ चोली दाज रंगाइआ ए,
क्युं आपना आप वंजाइआ ए ऐ ग़ाफ़ल तैनूं सार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

तूं सुत्त्यां उमर वंजाई ए तूं चरखे तन्द ना पाई ए,
की करसें दाज त्यार नहीं, उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

तूं जिस दिन जोबन मत्ती सैं, तूं नाल सईआं दे रत्ती सैं,
हो गाफल गल्लीं वत्ती सैं, इह भोरा तैनूं सार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

तूं मुढ्ढों बहुत कुचज्जी सैं, निरलज्ज्यां दी निरलज्जी सैं,
तूं खा खा खाने रज्जी सैं, हुन ताईं तेरा बार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

अज्ज कल्ल्ह तेरा मुक्कलावा ए क्युं सुत्ती कर कर दाअवा ए ?
अनडिठ्यां नाल मिलावा ए इह भलके गरम बज़ार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

तूं एस जहानों जाएंगी, फिर कदम ना एथे पाएंगी,
इह जोबन रूप वंजाएंगी, तैं रहना विच संसार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

मंज़ल तेरी दूर दुराडी, तूं पौणां विच जंगल वादी,
औखा पहुंचन पैर प्यादी, दिसदी तूं असवार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

इक इकल्ली तनहा चलसें, जंगल बरबर्र दे विच रुलसें,
लै लै तोशा इथों घलसें, उथे लैन उधार नहीं ।
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

उह खाली ए सुंञ हवेली, तूं विच रहसें इक्क इकेली,
ओथे होसी होर ना बेली, साथ किसे दा बार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

जेहड़े सन देसां दे राजे, नाल जिन्हां दे वज्जदे वाजे,
गए रो रो बेतखते ताजे, कोई दुनियां दा इतबार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

कित्थे है सुलतान सिकन्दर, मौत ना छड्डे पीर पैगम्बर,
सभ्भे छड्ड गए अडम्बर, कोई एथे पायदार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

किथे यूसफ माह-कन्यानी, लई ज़ूलैखां फेर जवानी,
कीती मौत ने ओड़क फ़ानी, फेर उह हार शिंगार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

कित्थे तख़त सुलेमां वाला, विच हवा उड्डदा सी बाला,
उह भी कादर आप संभाला, कोई ज़िन्दगी दा इतबार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

कित्थे मीर मलक सुलतानां, सभ्भे छड्ड छड्ड गए टिकाणा,
कोई मार ना बैठे ठाणा, लशकर दा जिन्हां शुमार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

फुल्लां फुल्ल चम्बेली लाला, सोसन सिम्बल सरू निराला,
बादि-खिज़ां कीता बुर हाला, नरगस नित खुमार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

जो कुझ करसें, सो कुझ पासें, नहीं ते ओड़क पिछोतासें,
सुंञी कूंज वांङ कुरलासें, खंभां बाझ उडार नहीं ।
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

डेरा करसें उहनीं जाईं, जिथे सेर पलंग बलाई,
खाली रहसन महल सराईं, फिर तूं विरसेदार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

असीं आज़ज़ विच कोट इलम दे, ओसे आंदे विच कलम दे,
बिन कलमे दे नाहीं कंम दे, बाझों कलमे पार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

बुल्ल्हा शौह बिन कोई नाहीं, एथों ओथे दोहीं सराईं,
संभल संभल के कदम टिकाईं, फेर आवन दूजी वार नहीं,
उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं ।

153. वेखो नी कर गया माही

वेखो नी कर गया माही ।
लै दे के दिल हो गया राही ।

अंमां झिड़के बाबल मारे, ताअने देंदे वीर प्यारे,
मैं जेही बुरी बुरिआर वे लोका, मैनूं देवो ओते वल त्राही ।
वेखो नी कर गया माही आ बूहे ते नाद वजाइआ, अकल फ़िकर सभ चा गवाया,
अल्ल्हा दी सहुं अल्ल्हा जाणे, हस्सद्यां गल विच पै गई फाही ।
वेखो नी कर गया माही ।

रहु इश्का की करें अखाड़े, शाह मनसूर सूली 'ते चाढ़े,
आन बनी जद नाल असाडे, बुल्ल्हे मूंह तों लोई लाही ।
वेखो नी कर गया माही ।
लै दे के दिल हो गया राही ।

154. वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया

मैं सोई होई मुट्ठी आं, मैं वांग ज़ुलैखां कुट्ठी आं,
चा इश्क ने मैं फट्टी आं, मेरा बन्द बन्द हिल्ल गया ।
वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया ।

मैं स्याणियां सभ बुलाईआं, मैं औसियां सभ पवाईआं,
जवाब दित्ता नजूमियां, मेरी नैणीं नीर उच्छल गया ।
वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया ।

नेड़े क्युं नहीं आईदा, सानूं दूरों नहीं दिखलाईदा,
नज़्ज़ारे तों ड्राईदा, कोह तूर पहाड़ जल गया ।
वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया ।

पिया ने नैन बान ला के, बिरहों सूं चहचेहा के,
फरहाद तों कोह कटा के, शीरीं सों रल गया ।
वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया ।

बुल्ल्हा आप तों लभाईदा, शहु इनायत है पाईदा,
नेड़े ही पछोताईदा, बुल्ल्हा अज्ज शहु मिल गया ।
वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया ।

155. वेखो नी शहु इनायत साईं

वेखो नी शहु इनायत साईं ।
मैं नाल करदा किवें अदाईं ।

कदी आवे कदी आवे नाहीं, त्युं त्युं मैनूं भड़कन भाहीं,
नाम अल्ल्हा पैग़ाम सुणाईं, मुक्ख वेखन नूं ना तरसाईं ।
वेखो नी शहु इनायत साईं ।

बुल्ल्हा शहु केही आई मैनूं, रात हनेरी उट्ठ टुरदी नै नूं,
जिस औझड़ तों सभ कोई ड्रदा, सो मैं ढूंडां चाईं चाईं ।
वेखो नी शहु इनायत साईं ।
मैं नाल करदा किवें अदाईं ।

156. वाह सोहण्यां तेरी चाल अजायब लटकां नाल चलेंदे ओ

आपे ज़ाहर आपे बातन आपे लुक्क लुक्क बहन्दे ओ ।
आपे मुल्लां आपे काज़ी आपे इलम पढ़ेंदे ओ ।
वाह सोहण्यां तेरी चाल अजायब लटकां नाल चलेंदे ओ ।

घत्त ज़न्नार कुफ़र दा गल विच बुत्त-ख़ाने वड़ बहन्दे ओ ।
लोलाक लमा अफलाक विचारे आपे धुंम मचेंदे ओ ।
वाह सोहण्यां तेरी चाल अजायब लटकां नाल चलेंदे ओ ।

ज़ात तों है अज़राफ रंझेटा लाईआं दी लाज रखेंदे ओ ।
बुल्ल्हा शहु अनायत मैनूं पल पल दरशन देंदे ओ ।
वाह सोहण्यां तेरी चाल अजायब लटकां नाल चलेंदे ओ ।

157. वाह वाह छिंझ पई दरबार

वाह वाह छिंझ पई दरबार ।
ख़लक तमाशे आई यार ।

असां अज्ज की कीता ते कल्ल्ह की करना भट्ठ असाडा आया,
ऐसी वाह क्यारी बीजी चिड़ियां खेत वंजाइआ,
जेहड़े मगर प्यादे लग्गे उट्ठ चल्ले पहुते तार ।
वाह वाह छिंझ पई दरबार ।

इक्क उल्हामा सईआं दा है दूजा है संसार,
नंग नमूज़ (नामूस) एथों दे एथे, लाह पगड़ी भोइं मार,
नाम साईं दे कंडे लवाए खिल पई गुलज़ार ।
वाह वाह छिंझ पई दरबार ।

नढ्ढा गिरदा बुढ्ढा गिरदा आपो आपनी वारी,
की बीवी की बांदी लौंडी की धोबन भठ्यारी,
अमलां सेती होन नबेड़े नबी लंघावे पार ।
वाह वाह छिंझ पई दरबार ।

बुल्ल्हा शहु नूं वेखन जावे आपना बहाना करदा,
गूनो गूनी भांडे घड़ के ठीकरियां कर धरदा,
इह तमाशा वेख के चल्ल अगला वेख बज़ार ।
वाह वाह छिंझ पई दरबार ।
ख़लक तमाशे आई यार ।

158. वाह वाह रमज़ सजन दी होर

वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।
आशक बिनां ना समझे कोर ।

कोठे ते चढ़ देवां होका, इश्क वेहाज्यु कोई ना लोका,
इस दा मूल ना खाना धोखा, जंगल बसती मिले ना ठोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

आशक दोहीं जहानीं मुट्ठे, नाज़ मशूकां दे उह कुट्ठे,
इश्क दा फट्ट्या कोई ना छुट्टे, कीतो सू बांदा फट्ट फलोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

दे दीदार होया जद राही, अचणचेत पई गल फाही,
डाढी कीती लापरवाही, मैनूं मिल गया ठग्ग लाहौर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

शीरीं है बिरहों दा खाणा, कोह चोटी फरहाद निमाणा,
यूसफ़ मिसर बज़ार विकाणा, उस नूं नाहीं वेखन कोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

लैला मजनूं दोवें बरदे, सोहनी डुब्बी विच बहर दे,
हीर वंझाए सभ्भे घर दे, इस दी खिच्ची माही डोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

आशक फिरदे चुप्प चुपाते, जैसे मसत सदा मध माते,
दाम ज़ुलफ दे अन्दर फाथे, ओथे चल्ले वस्स ना ज़ोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

जे उह आण मिले दिलजानी, उस तों जान करां कुरबानी,
सूरत दे विच यूसफ़ सानी, आलम दे विच जिस दा शोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

बुल्ल्हा शहु कोई ना वेखे, जो वेखे सो किसे ना लेखे,
उस दा रंग रूप ना रेखे, उह ई होवे हो के चोर ।
वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।
आशक बिनां ना समझे कोर । वाह वाह रमज़ सजन दी होर ।

159. वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए

हुन मैं मोई नी मेरीए मां, मेरी पूनी लै गया कां,
पिच्छे डों डों करदी जां, जिस मेरा वतन छुडाया ए ।
वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए ।

कांवां पूनी दईं पिया दे नां, तेरियां मिन्नतां करदी हां,
ज़रबां तेरियां जरनी हां, जिस मैनूं दूर कराइआ ए ।
वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए ।

हुन मैनूं भला ना लग्गदा शोर, मैं घर खिड़िआ शुगूफ़ा होर,
बे ना ते ना से ना होर, इक्को अलफ़ पढ़ाइआ ए ।
वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए ।

हुन मैनूं मजनूं आखो ना, दिन दिन लैला हुन्दा जां,
डेरा यार बणाए तां, इह तन बंगला बणाइआ ए ।
वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए ।

बुल्ल्हा इनायत करे हज़ार, इहो कौल इहो तकरार,
वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए ।

160. वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ

जान करां कुरबान भेत ना दस्सना एं,
ढूंडां तकीए दुआर तैनूं उट्ठ नस्सना एं,
रल मिल सईआं पुच्छन गईआं,
होया वकत भंडार दा वे अड़िआ ।
वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ ।

इश्क अल्लाह दी ज़ात लोकां दा मेहणा,
केहनूं करां पुकार किसे नहीं रहणा,
ओसे दी गल्ल उहो जाणे,
कौन कोई मारदा वे अड़िआ ।
वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ ।

अज्ज अजोकड़ी रात मेरे घर वस्स खां वे अड़िआ,
दिल दियां घुंढियां खोल्ह असां नाल हस्स खां वे अड़िआ ,
जद कीते कौल करार की इतबार,
सोहने यार दा वे अड़िआ ।
वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ ।

इक करदियां ख़ुदी हंकार उहनां नूं तारनैं वे अड़िआ,
इक रहन्दियां नित्त ख़ुआर सड़ियां नूं साड़नैं वे अड़िआ,
मैंडे सोहने यार दा की इतबार तेरे प्यार दा वे अड़िआ ।
वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ ।

चिक्कड़ भरियां नाल झूंमर घत्तना एं वे अड़िआ,
मैं लाइआ हार शिंगार उट्ठ नस्सना एं वे अड़िआ,
बुल्ल्हा शहु घर आया प्यारा,
होया वकत दीदार दा वे अड़िआ ।
वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ ।

Previous......(51-100)
 
 
 Hindi Kavita