Suchita Agarwal 'Suchisandeep'

शुचिता अग्रवाल 'शुचिसंदीप'

शुचिता अग्रवाल 'शुचिसंदीप' (विद्यावाचस्पति) का जन्म 26 नवम्बर 1969, को सुजानगढ़ (राजस्थान) में हुआ । अब यह असम प्रदेश के तिनसुकिया शहर में रहती हैं । इनकी हिंदी साहित्य की पारंपरिक छंदों में विशेष रुचि है और मात्रिक एवं वर्णिक लगभग सभी प्रचलित छंदों में काव्य सृजन में सतत संलग्न हैं । इनकी रचनाएँ देश की सम्मानित वेब पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होती रहती हैं। इनकी प्रकाशित पुस्तकें हैं ; 5 कविता संग्रह : "दर्पण", "साहित्य मेध", "मन की बात ", "काव्य शुचिता" तथा "काव्य मेध" ।

शुचिता अग्रवाल 'शुचिसंदीप' की कविताएँ

  • प्रदीप छंद (यादों के झोंके)
  • कामरूप छंद (माँ की रसोई)
  • कुकुभ छंद (शरत्चंद्र चट्टोपाध्याय)
  • माधव मालती छंद (नारी शौर्य गाथा)
  • दोही छंद (माँ का आशीष)
  • शैलसुता छंद (जीवन पथ)
  • तमाल छंद 'जागो हिन्दू'
  • कज्जल छंद “समय का हेर-फेर”
  • चित्रपदा छंद "गुरु वंदना"
  • चौपई (जयकरी) छंद, 'खेलो कूदो"
  • त्रिलोकी छंद (शिव आराधना)
  • नरहरि छंद (जय माँ दुर्गा)
  • दीप छन्द (राम-भजन)
  • पञ्चचामर छंद (हनुमान उपासना)
  • मालिक छंद (राधा रानी)
  • खरारी छंद (जलियाँवाला बाग)
  • हंसगति छंद (भारत)
  • दिंडी छंद (सुख सार)
  • पद्मावती छंद (दीपोत्सव)
  • पुनीत छंद (भाई मेरा मान)
  • दिंडी छंद (सुख सार)
  • शास्त्र छंद (सदाचार)
  • सुमेरु छंद (माँ)
  • लीला छंद (शराब लत)
  • लावणी छंद (जयदयालजी गोयन्दका)
  • सिंह विलोकित छन्द (नारी जिसने सदा दिया)
  • कलहंस छंद (तुलसी चरित)
  • बिहारी छंद (प्रेम भाव)
  • प्रदोष छंद (कविता ऐसे जन्मी है)
  • मधुर ध्वनि छंद (वर्षा)
  • चुलियाला छंद (मृदु वाणी)
  • तोमर छंद (सुशिक्षा)
  • विद्या छंद (मीत संवाद)
  • शंकर छंद (नश्वर काया)
  • लीलावती छंद (मारवाड़ की नार)
  • सुमंत छंद "बरसो मेघा"
  • मदनाग छंद, 'साइकिल'
  • शुद्ध गीता छंद- "गंगा घाट"
  • गीता छंद, "गीता पढ़ने के लाभ"
  • शुभगीता छंद 'जीवन संगिनी'
  • कमंद छंद (परिवार)
  • दिगपाल छंद (पिता)
  • रुचिरा छंद (भाभी)
  • शोकहर छंद (बेटी)
  • तंत्री छंद (दुल्हन)