Chandanwari Lala Dhani Ram Chatrik

चन्दनवाड़ी लाला धनी राम चात्रिक

पहला भाग (प्रारथना) 1. मंगला-चरन

गीत-(तरज़ अंगरेज़ी)

दीन दुनी दे मालिक ! तूं करदे बेड़ा पार,
बरकतां वसा के, बाग़ ते ल्या बहार,
पा दे ठंढ ठार । दीन दुनी…

तारे दे अन्दर रुशनायी तेरी,
सूरज दे अन्दर गरमायी तेरी,
सागर दे अन्दर डूंघायी तेरी,
आकाशां ते तेरा खिलार ।दीन दुनी…

हाथी ते कीड़ी विच इक्को सामान,
हर कतरा लहू विच अणगिनत जान,
हर जान दे अन्दर तेरा मकान,
की करीए तेरा शुमार ? दीन दुनी…

2. अरदास

करतार ! जगत-अधार पिता !
मैं नीच अधम इक बाल तिरा,
कर सकां कथन इकबाल किवें,
इस अलप अकल दे नाल तिरा ।

जद सुरत निगाह दौड़ांदी है,
चुंध्या के चुप रह जांदी है,
तक तण्या कुदरत जाल तिरा,
वैराट सरूप विशाल तिरा ।

इक बीजों बिरछ निकलदे नूं,
पुंगरदे, फुलदे, फलदे नूं,
रग रग विच खून उछलदे नूं,
तक पावे नज़र जमाल तिरा ।

ग्रह, तारे, बिजली, सूरज, चन्न,
नद, सागर, परबत, बन उपबन,
ब्रहमंड तिरे, भू-खंड तिरे,
आकाश तरा, पाताल तिरा ।

तूं आदि अंत बिन, अजर, अटल,
तूं अगम, अगोचर, अतुल, अचल,
अज, अमर, अरूप, अनाम, अकल,
अनवरत, अखंड जलाल तिरा ।

विधि, नारद, शेश व्यास जेहे,
अंगिरा आदि लिख हार गए,
कुझ हाल तिरा जद कहन लगे,
कर सके ना हल्ल सवाल तिरा ।

तूं झलकें हर आईने विच,
ज़र्रे ज़र्रे दे सीने विच,
सीने दे गुपत खज़ीने विच,
धन माल, अमोलक लाल तिरा ।

कलियां विच लुक लुक वसदा हैं,
फुल दे चेहरे पर हसदा हैं,
चड़्ह वा दे घोड़े नसदा हैं,
वाह रंगबरंग ख्याल तिरा ।

सबज़ दे नाद नेहानी विच,
पंछी दी लै मसतानी विच,
नदियां दे शोर रवानी विच,
है गूंज रेहा सुर ताल तिरा ।

स्रिशटी रच देवें मौज ल्या,
यर परलै करें इक निगाह फिरा,
रेता दरया, दरया रेता,
वाह नदर-नेहाल ! कमाल तिरा ।

हर मन्दर जैजैकार तिरा,
हर सूरत पर झलकार तिरा,
महकार तिरी, शिंगार तिरा,
परताप तिरा, इकबाल तिरा ।

3. बेनती

हे सुन्दरता ! हे जोती ! हे शांत बहर दे मोती !
हे लट पट करदे तारे ! हे बिज़ली दे लिशकारे !
हे गरमी प्रेम-अगन दी ! उच्यायी धरम गगन दी आ जा !
मेरे विच आ जा ! विसमाद नगर दे राजा !
लूं लूं विच वस जा मेरे, हिरदे विच ला दे डेरे !
कर बाहां अंक समा लै, सागर विच बून्द रला लै ।
मैं तूं होवां तूं मैं हो, मैं लहर बणां, तूं नैं हो,
ना कोयी भेद पछाणे, मैं तूं ना दो कर जाने ।
इक रंगे ते इक रसीए, आ घुल मिल के हुन वसीए ।
तूं हर घटिया, हर जाई, मैं तों भी दूर न कायी ;
पर बन्द जदों तक दीदे, मिटदे नहं सहंसे जी दे ।
उहला कर के इक पासे, मैं तूं विच फरक ना भासे ।
ऐसा मिल जाए टिकाणा, मिट जाए आउन जाना ।
कर हौला वांग हवाड़ां, अर मुहकम वांग पहाड़ां ;
हसमुखा अनन्द रसीला, निरमल, विशाल चमकीला ।
छुट जान तमाशे हासे, होवे इकांत सभ पासे ,
संगी ना होवन नेड़े, दुख सुख ना जिस थां छेड़े ।
होवे चौतरफ हनेरा, इक चानन चमके तेरा !
उस चानन विच्च समा के ; मिट जावां आप मिटा के ।

4. प्रारथना

(अबाईड विध मी)
अंग्रेज़ी प्रारथना दा अनुवाद
(राग कालंगड़ा)
(धारना चरखा कातो तो बेड़ा पार है)

रब्ब जी ! रहु मेरे नाल तूं, रब्ब जी :
वस कोल मेरे हर हाल तूं, रब्ब जी :

हुन संञ दा पहरा छा रेहा, ते हनेरा वध वध आ रेहा ।
दिल हुन्दा ए डावांडोल वे, रहु साईआं ! मेरे कोल वे ।
साथी ना कोल खलोन जां, दरदी सभ उहले होन जां ।
लुक जी परचावे जान जां, सुख सारे कंड वलान जां ।
बन बणियां दा भाईवाल तूं,
रब्ब जी ! रहु मेरे नाल तूं ।

निक्का जेहा देहाड़ा ज़िन्द दा, है पराहुना हुन घड़ी-बिन्द दा ।
जाए काहली काहली मुक्कदा, अंत नेड़े आवे ढुक्कदा ।
चोज जग्ग दे रंग वटा रहे, ठाठ बाठ लंघींदे जा रहे ।
चौफेर उदासी छायी ए सभ बणतर फिक्की पायी ए ।
इक रसिया जो हर हाल तूं,
रब्ब जी ! रहु मेरे नाल तूं ।

घड़ियां जो बीतन मेरियां, नित तांघन मेहरां तेरियां ।
तुध बाझों कौन बचा सके, मैनूं पाप दे राहों हटा सके ।
कोयी रहबर होर ना सुझदा, तूहों मान सहारा मुझ दा ।
भावें झक्खड़ होवे झुल्ल्या, भावें निंमल चानन खुल्ल्या ।
मेरा हरदम रक्ख ख्याल तूं,
रब्ब जी ! रहु मेरे नाल तूं ।

अक्खां मिटदियां जांदियां मेरियां,ते उडीकन रिशमां तेरियां ।
कोयी परेम-निशान दिखाल दे, विच कालक भेज जलाल दे ।
मैनूं अरश दे किंगरे चाड़्ह लै, बूहे बखशां दे खोल के वाड़ लै ।
पहु फुट पई सुरग दुआर दी, फोके जग दे वहमां नूं मारदी ।
जीउन मौत, दोहां विच ढाल तूं,
रब्ब जी ! रहु मेरे नाल तूं ।

5. दूजा भाग (धारमिक भाव) चानन जी !

चानन जी ! तुसीं लंघदे लंघदे की अक्खियां नूं कह गए ?
खिच्च खिच्चे, कर लंमियां बाहीं,(असीं)फड़दे फड़दे रह गए ।
भज भज मोए(तुसीं)हत्थ ना आए(असीं)घुट्ट कलेजा बह गए ।
हाड़े साडे खुंझ ज़बानों, अक्खियां थाणीं वह गए ।

असीं वधे, तुसीं उहले हो गए दे के पींघ हुलारा ।
नूरानी झलकारे दा, उह, भुलदा नहीं नज़ारा ।
शमसी रिशमां थीं चुंध्या के, अक्खां भीड़े बूहे,
बिजली-कून्द धसी रग रग विच थरक्या जुस्सा सारा ।

गूंज उठी, सिर झुमन लग्गा, अकल होयी दीवानीं,
प्रेम-सरूर जेहा इक आ के, सुरत चड़्ही असमानीं ।
सुपना सी, जां सापरतख सी ? इह भी थहु ना लग्गे,
अक्खां विच, हां, भाह गुलाबी, रह गई टिकी निशानी ।

6. प्रीतम जी !

(काफ़ी)

प्रीतम जी ! क्युं तरसांदे हो ?
प्रेम कसाए (असीं) भज भज आईए,
अग्गों लुक लुक जांदे हो ।

नैन लड़ा के, ज़िन्द अवा के,
सीने प्रेम मुआता ला के,
लिशक दिखा के, धुहां पा के,
हुन क्युं अक्ख चुरांदे हो ?

धस ग्या जिगर तीर अणियाला,
पुट खड़ना हुन नहीं सुखाला,
चुम्बक लोहे नूं दिखला के,
आपना आप बचांदे हो ?

पड़दे नूं हुन परे हटाओ,
भर गलवकड़ी ठंढक पाओ,
खुल्ह के नूरी झलक दिखाओ,
किस पासों शरमांदे हो ?

जे कोयी साथों होयी खुनामी,
जां कुझ प्रेम-लगन विच ख़ामी,
बखशां दे दरवाज़े थाणीं,
क्युं नहीं पार लंघादे हो ?

7. कोरा कादर

(इक जगयासू दी आतमा विच बैठ के)
हे मेरे उह ! कि जिद्हा अंत नहीं, आद नहीं,
हे मेरे उह ! कि जिद्हा नाम अजे याद नहीं,
हे मेरे उह ! कि जिद्हा घर किते आबाद नहीं,
कौन हैं ?की हैं ?ते किस थां हैं ?ज़रा दस्स तां सही,
साधी ऊ चुप्प केही ? खुल्ह के ज़रा हस तां सही ।

ढूंडदे तेरा टिकाणा, होए बरबाद कई,
तेरे दर लई कर गए फरयाद कई,
तेरे राहां ते खले फस गए आज़ाद कई,
रुड़्ह गए तारू कई, भुल गए उसताद कई,
फिक्र ने गोता लगा थाह न पायी तेरी,
उड्ड के पा न सकी अकल उच्चायी तेरी,

सीना एकांत दा भी वसदा ना किधरे पायआ,
तयाग दे नंग ते भी, डिट्ठा ना तेरा सायआ,
वसतियां विच भी नज़र जलवा ना तेरा आया,
ना बियाबानीं किते जापदा तम्बू लायआ,
दस्सां इह पैन, कि है, है, पर अजे दूर जेहे,
दूर जा जा के भी सुणदे ही गए दूर जेहे।

दूरियां कच्छदे जद कर न सके टोल किते,
वाज आई, कि उहो ! देख ज़रा कोल किते,
आपने अन्दरे मत, होवे अणभोल किते,
कीती पड़चोल किते, टोल किते, फोल किते,
खोजियां खूंजां सभे, आई कितों वा भी नहीं,
कैसा अंधेर प्या, हैं भी ते दिसदा भी नहीं ।

अड्ड के ऐडे अडम्बर नूं किधर जा बैठों ?
दे के झलकारा जेहा, पड़दे केहे पा बैठों ?
नैणां विच तांघ टिका, नैन किते ला बैठों ?
ज्युेंद्यां फेर कदी मिलने दी सहुं पा बैठों ?
कुंडी विच फाहणा, ते उप्पर न उठाणा, इह की ?
हसद्यां तोर के फिर मूंह ना दिखाना इह की ?

डाढा तड़फायआ जो निकले तेरे दीदार लई !
भुज्जे परवाने कई, चुंम गए दार कई !
कैस, फरेहाद, रंझेटे ते महींचार कई !
हो गए ढेर, मुहब्बत दे ख़रीदार कई !
आया कुझ हत्थ किसे दे, तां सुंगड़वा दित्ता !
जन्दरा नाल ही तूं जीभ उत्ते ला दित्ता !

जां मिजाजी नूं मज़ा आया, हकीकी होया,
सूफियां भी न सुणायआ, कि अग्हां की होया ?
ऐडियां घालां दा भी सिट्टा उहो ही होया,
आपे विच डांग चली, फुट्ट ने पायआ घेरा,
फ़लसफा हंभ ग्या, थ्युरियां घड़दा घड़दा,
बह ग्या थक के अमल, पौड़ियां चड़्हदा चड़्हदा ।

जुग्गां तों प्रशन तेरा ठेडे प्या खांदा है,
होन ते हल्ल पर अज तीक नहीं आंदा है,
हर कोयी घोड़े क्यासी रेहा दौड़ांदा है,
अंत पर लीला तेरी दा न ल्या जांदा है ।
तूं रेहों मोन, ते सरबग्ग न आया कोयी !
आस दी टुट्टी कमर आगू न पायआ कोयी !

ताड़ के भीड़ लगी, दरस दे चाहवानां दी,
तुर पई तोर, दिखावे दे हिरबानां दी,
लग गई गाड़्ही छणन, दरशनी पल्हवानां दी,
हो गई चांदी, खिज़र-वेसीए शैतानां दी,
लुट्ट्या ख़ूब ते अहमक भी बणायआ सभ ने ।
आपने मतलब दा, रंग चड़्हायआ सभ ने ।

देख इह लुट्ट पई, नेक रूहां आ गईआं,
कढ्ढ के भट्ठ विचों ठंढ कुझकु पा गईआं,
चार दिन चोज विखा, भरम जेहा ला गईआं,
कच्ची आवी सी अजे, भेद ना समझा गईआं,
चेल्यां चाटड़्यां नकशा ई पलटा दित्ता,
वक्खो वक्ख टपले बणा, रौला जेहा पा दित्ता ।

निन्द्या, झूठ, कपट, फेर जमायआ डेरा,
रासतीं भुल्ल गई, राह ना आया तेरा,
वीरां विच होन लगा, वितकरा तेरा मेरा
,
आपो विच डांग चली, फुट्ट ने पायआ घेरा,
हक्कां दे भेड़ छिड़े, अमन परे जा बैठा,
कंडां मलवांदा जगत घंडी भी भन्नवा बैठा !

तेरी अणहोंद ने, की की न विखायआ सानूं ?
वखत कोयी रह भी ग्या ? तूं जो न पायआ सानूं,
तूं तां बहुतेरा गलों लाहुना चाहआ सानूं,
ऐसे पर ढीठ बणे, सबर ना आया सानूं,
एहो कुझ मापे उलादां नूं द्या करदे नें ?
आपण्या नाल बेगाने ही रेहा करदे नें ?

साडे विच भैड़ सही, तूं ही चंगायी करदों !
चुक्क के पड़दा जरा, जलवा नमायी करदों !
डुंम डोहआं तों बचा, दिल दी सफायी करदों !
पाप दे रोगियां दा दारू दवायी करदों !
चाहुन्दों तूं तां कोयी हथ भी फड़न वाला सी ।
होर की कहीए तेरा आपना दिल काला सी ।

कोर्या ! दस तां सही, तोड़ विछोड़े कद तक ?
पीड़ना ख़ून अजे दे दे मरोड़े कद तक ?
धुर द्यां विछड़्यां वल, पाने ने मोड़े कद तक ?
किन्ना तड़फाना अजे, कसने नें तोड़े कद तक ?
ऐडा टगार भी की ? आ ! कोयी इनसाफ भी कर ।
बस्स हुन जान भी दे, भुल्ल गए माफ भी कर ।

वेखदा हैं, कि नहीं ! अग्ग केही बलदी है ।
टुकड़्यां वासते तलवार किवें चलदी है ।
मच्छी विकदी है किवें, सुर ना कोयी रलदी है ।
तेरी औलाद लहू पीणों भी ना टलदी है ।
भावें कौड़ी ही लगू ! तेरे ही सभ कारे नें ।
तेरी इक होंद खुणों, वखत पए सारे नें ।

तूं जे विच होवें खड़ा, अकल सिखाउन वाला,
जंम्यां कौन है फिर, लूतियां लाउन वाला !
तूंहें पर होइयों जे लुक लुक के सताउन वाला,
तेरी लायी नूं उठे कौन बुझाउन वाला आ !
अजे वकत हई, विगड़ी बना लै आ के,
खोटे खर्यां दी तूंहें लाज बचा लै आ के ।

पिच्छों आखेंगा प्या, कीती तुसां कार नहीं,
साफ़ आखांगे तदों, दस्सी किसे सार नहीं,
तूं हैं माबूद खरा, एस तों इनकार नहीं,
होईआं पर अज्ज तलक अक्खां भी दो-चार नहीं,
साहमने होए बिनां कर के विखांदे किस नूं ?
लक्खां कलबूत खड़े, दिल दी सुणांदे किस नूं ?

होका देंदे हां पए, गल नाल ला लै ! ला लै !
तेरे बन्दे हां खरे, कदमां च पा लै ! पा लै !
तेरी दहलीज़ ते सिर नीवां है, चा लै ! चा लै !
होर की आखीए ? जी खोल्ह के ता लै ! ता लै !
आया हुन ना ते क्यामत नूं जे आया किस कंम ?
सुक ग्या खेत जदों, मींह जे वर्हायआ किस कंम ?

माफ़ करना कि ज़रा खुल्लम-खुलियां कहियां,
तेरे अहसानां दियां चीसां ने निक्कल रहियां ,
डोबदों आप न जे : साडियां तूंहें वहियां ,
अक्क के निकलदियां गल्लां न एहो जहियां,
तेरे बिन कौन सुने ? लाड ते रोसे अड़्या !
तूंहें तूं जापना एं, पल्ला तेरा आ फड़्या !

तूं निरंकार हैं, पर रूप तां धर सकदा हैं,
साहमने होन तों फिर काहनूं प्या झकदा हैं ?
औझड़ीं भटकदी दुनियां नूं खड़ा तकदा हैं ?
जालियां ताणनों क्युं माली नूं ना डकदा हैं ?
चल्लेगी कार किवें, इस तरां कारख़ाने दी ?
झल्लीए झिड़क, तेरे बैठ्यां, बेगाने दी ।

साडी मरज़ी है कि तूं लुक के बहें होर न हुण,
हन्ने हन्ने दी अमीरी दा रहे ज़ोर न हुण,
साधां दा भेस धारी, लुटदे फिरन चोर न हुण,
मौलवी पंडतां दा पैंदा रहे शोर न हुण,
तेरे दरबार दा ना होवे कोयी ठेकेदार,
साहमने बैठ के तूं आप सुणें हाल पुकार ।

इक्क तूं हैं ते तेरा इक्को अखाड़ा होवे,
काले गोरे दा ना नित पैंदा पुआड़ा होवे,
हक्कां अधिकारां दी भी सूल न साड़ा होवे,
ज़ोर ते ज़र दा ना बे-अरथ उजाड़ा होवे,
इक्को झंडे दे तले सभ दा टिकाना होवे,
हो रेहा मिल मिल के, प्रेम दा गाना होवे,

तेरी गुलज़ार दे विच बुलबुलां दा घर होवे,
पिंजरे जाल ते सय्याद दा ना डर होवे,
पूरबी पछमी नूं खुल्हा तेरा दर होवे,
इक्को थां खा रेहा ज़रदार ते बेज़र होवे,
सुरग दी हिरस इसे दुनियां ते पूरी कर दे,
कोल वस चात्रिक दे, दूर ए दूरी कर दे ।

8. हाउका

जीवन-केंदर तों निखड़ के संसार विच अटकी
प्रान वायू दा
हाउका
(हीर दी आतमा विच बैठ के)

सईयो नी ! मैं की दुख दस्सां,
क्युं नित द्यां दुहाईआं,
पुरजा पुरजा होवे जिन्दड़ी,
नैणां झड़ियां लाईआं ।

निज मैं खेड़ीं आई हुन्दी,
निज छड तुरदी पेके,
सहुरे पै गए पेच कुवल्ले,
कीती कैद कसाईआं ।

जिस सज्जन मैनूं चरनीं ला के,
जीवन जोगी कीता,
उस जिन्दड़ी नूं, धोखा खा के,
बेले विच छड्ड आईआं ।

जे जाणां, उस तौर स्यालों,
झात नहीं मुड़ पाणी-
गल वढदी उस काज़ी दा, जिन-
गल विच फाहियां पाईआं !
सिक्क उठे, उड चड़्हां अगासीं !
पैर उद्हे जा चुंमां,
सड़ जावे इह चोला, चात्रिक,
(जिन) पाईआं ऐड जुदाईआं ।

9. तरला

प्रीतम दे मिलाप नाल नेहाल होई
रूह दा, टिके रहन दा
तरला
(हीर दी आतमा विच बैठ के)
1-सरधा

पाली पाली मत आखो अड़ीयो ! (नी ओ दीन दुनी दा वाली,
उस दे दम थीं उडदा फिरदा (नी ए खल्लड़ मेरा खाली ।
जिस पासे मैं झाती पावां, (मैनूं ) ओहो देइ दिखाली,
रूप जलाली झलकां मारे, फुल फुल, डाली डाली ।

2-मिलाप

सहक सहक के प्रीतम जुड़्या, (असां) अक्खां विच बहायआ,
एथों सद के दिल दी खूंजे, (असां) रतड़ा पलंघ विछायआ ।
झोली पा के तान्हे मेहणे, (असां) माही घरीं वसायआ,
बूहे भीड़ रचाईआं रासां, (असां) जो मंग्या सो पायआ ।

3-तदरूपता

भोले लोकी कहन सुदायन, (असां) मर मर जग्ग पराता,
चाले पाए (असां) साक कूड़ावे, (जद) मिल ग्या जीवन-दाता ।
प्रेम पलीते ते भुज्ज मोया (दिल) भंभट चुप्प-चुपाता,
सेज सुहावी ते चड़्ह सुत्ता छड्ड दुनियां दा नाता ।

10. दिल

मुरली मनोहर दी दरशन-तांघ विच्च, बूहे ते खलोती इक
गवालन आपना रुड़्हे जांदे दिल नाल गुपत गल्लां करदी है ।

रहु रहु, वे जिया झल्ल्या !
आखे भी लग जा, मल्ल्या !
अड़्या न कर, लड़्या न कर ।
कुड़्हआ न कर, सड़्या न कर ।
वे वैरिया !
की हो ग्या ?
रौला न पा !
डुबदा न जा !

टल जा अमोड़ा, पापिया !
रो रो के दीदे गाल ना !
वे नामुरादा ! ठहर जा !
पिट पिट के हो जिलहाल ना !
ओदों नहीं सी वरज्या आ बाज़ आ ! आ बाज़ आ !
नेहुं ना लगा !
फाहियां न पा !
पल्ला बचा !
नेड़े न जा !

वाटां नी एह दुख्यारियां,
मंजलां नी बड़ियां भारियां,
रो रो के हुन जी खाएं क्युं ?
घबराएं क्युं ? चिचलाएं क्युं ?
फस गए ते फिर की फटकना ?
जेरा वी कर, वे काहल्या !
औह वेख, सूरज ढल ग्या !
गरदा वी उड्डन लग प्या !
गऊआं दा चौना आ रेहा ।
सुन ते सही ।
वाज आ गई !
औह बंसरी !
वजदी पई ।

सदके गई ! ओहो ही है !
हां हां, ओहो ही देख लै !
रज रज के दीदे ठार लै !
कोयी पज्ज पा खलेहार लै !
वे मोहण्या !
ऐधर ते आ !
वच्छा मेरा,
फड़ लै ज़रा !
मैं धार कढ्ढन लग्गी आं !

11. राधां सन्देश

(कंस नूं मार के स्री कृष्ण जी मथरा दे राज प्रबंध विच्च जुट्ट जांदे हन, पिछों ब्रिज गोपियां
वल्लों सुनेहे ते सुनेहे आउंदे हन ।अंत कृष्ण जी ऊधो नूं भेजदे हन, कि साडी लाचारी जिता के,
गोपियां नूं गयान उपदेश कर आओ ।ऊधो दियां गल्लां तों खिझ के राधा उसनूं उत्तर देंदी है ।प्रेम
लगन विच्च झल्ली होयी होई, गल्ल उधो नाल करदी है ते कोयी गल्ल करन वेले कृष्ण जी नूं सनमुक्ख
कर लैंदी है ।)
(1)
ऊधो काहन दी गल्ल सुना सानूं, काहनूं चिनग चुआतियां लाईआं नीं ?
मसां मसां सन आठरन घाउ लग्गे, नवियां नशतरां आण चलाईआं नीं !
असीं कालजा घुट्ट के बह गए सां, मुड़ के सुत्तियां कलां जगाईआं नीं !
तेरे गयान दी पुड़ी नहीं काट करदी, एन्हां पीड़ां दियां होर दवाईआं नीं !
आप आउन दी नहीं जे नीत उस दी, काहनूं गोंगलू तों मिट्टी झाड़दा है ?
जेकर अग्ग नूं नहीं बुझाउन जोगा, पा पा तेल क्युं सड़्यां नूं साड़दा है ?
(2)
उस नूं आख, अक्खीं आ के देख जाए, सानूं कूंज दे वांग कुरलांद्यां नूं ।
वाटां वेंहद्यां औसियां पांद्यां नूं, तारे गिन गिन के रातां लंघांद्यां नूं ।
सांगां सहन्द्यां, जिन्द लुड़छांद्यां नूं, घुल घुल हिजर विच मुकद्यां जांद्यां नूं ।
फुट ग्यां नसीबां ते झूरद्यां नूं, घरों कढ्ढ बरकत पच्छोतांद्यां नूं ।
तूं तां मथरा दियां कुंजियां सांभ बैठों, ऐधर गोकल नूं वज्ज गए जन्दरे वे !
जा के, घरां वल मुड़न दी जाच भुल्ल गई, निकल ग्युं केहड़े वार चन्दरे वे !
(3)
गल्लां नाल की प्या परचाउंदा एं, उसदे प्यार नूं असां परता ल्या है ।
मारे कुबजां दी हिक्के इह गयान-गोली, बूहे वड़द्यां जिन्हें भरमा ल्या है ।
ऊधो ! कोरड़ू मोठ विच मोह पा के, असां आपना आप गुआ ल्या है ।
दुक्खां पी ल्या, ग़मां ने खा ल्या है, कुन्दन देही नूं रोग जेहा ला ल्या है ।
एन्हां तिलां विच तेल हुन जापदा नहीं, सारा हीज-प्याज मैं टोह ल्या है ।
हच्छा, सुक्ख ! जित्थे जाए घुग्ग वस्से, साडे दिलों भी किसे ने खोह ल्या है ।
(4)
आखीं : कच्च्या ! सच्च नूं लाज लाईयो ! सुखन पालणों भी, बस्स ! रह ग्यों वे ?
काले भौर दी बान ना गई तेरी, जित्थे फुल्ल डिट्ठा, ओथे बह ग्यों वे !
सानूं गयान दे खूहां विच देइं धक्के, आप मालन दे रोड़्ह विच वह ग्यों वे !
डंगर चारदा वड़ ग्यों शीश महलीं, घोट घोट गल्लां करन डह ग्यों वे !
हच्छा कंस दियां गद्दियां सांभियां नी, साडे नाल वी अंग कुझ पाल छडदों ।
कोयी महलां दियां लूहलां नहीं लाह खड़दा,दो दिन सानूं वी धौलर विखाल छडदों।
(5)
आखीं : प्रेम इह पिच्छां नहीं मुड़न जोगा, बेड़े सिदक दे ठिल्हदे रहणगे वे !
एन्हां न्हवां तों मास नहीं वक्ख होणा, जद तक्क चन्द सूरज वड़्हन लहणगे वे !
एस इशक दी छिड़ेगी वार माहिया ! जिथे चार बन्दे रल के बहणगे वे !
कड़ियां कुबजां दा किसे नहीं नाउं लैणा, 'राधा' आख पिच्छों कृष्ण कहणगे वे !
त्रै सौ स्ट्ठ जुड़ पएगी नार तैनूं, जम जम होन पए दूने इकबाल तेरे ।
परलो तीक पर मन्दरां विच, चात्रिक, एसे बन्दी ने वस्सना ए नाल तेरे ।

12. सीता-सन्देश

(असोक बाग विच बैठी सती सीता दे, स्री राम
चन्द्र जी दे वियोग विच कीरने)

(1)
सुआमी ! सल्ल जुदायी दे बुरी कीती,
लुड़छ लुड़छ के घेरनी खायी दी ए,
कर कर कीरने संध्या पायी दी ए,
लिल्लां लैंद्यां टिक्की चड़्हायी दी ए,
तेल उमर दे दीव्यों मुक्क चुक्का,
चरबी ढाल के जोत टिमकायी दी ए ।
तार दमां दी पतलीयों होयी पतली,
रोज बार्यों कढ्ढ कढ्ढ वधायी दी ए ।
जद तक सास तद तक आस कहन लोकी,
एस लटक विच जान लटकायी दी ए ।
साईआं सच्च आखां मरना गल्ल कुझ नहीं,
ऐपर डाढी मुसीबत जुदायी दी ए ।

(2)
भुलदी भटकदी जे कदी ऊंघ आवे,
पंचबटी विच बैठ्यां होयी दा ए,
कलियां गुन्द के सेहरा परोयी दा ए,
गल विच पाउन नूं भी उठ खलोयी दा ए,
एसे पलक विच पलकां उखेड़ सुट्टे,
नामुराद सुपना डाढा कोयी दा ए,
ओड़क ओहो विछोड़ा ते ओहे झोरे,
बह बह चन्दरे लेखां नूं रोयी दा ए ।
एसे वहन विच रुड़्हद्यां, वैन पा पा,
रात अक्खां दे विचदी लंघायी दी ए ।
मौत चीज़ की होयी इस सहम अग्गे,
साईआं डाढी मुसीबत जुदायी दी ए ।

(3)
लूम्बे अग्ग दे अन्दरों जदों उट्ठण,
सोमे अक्खियां दे चड़्ह के चो पैंदे ।
सड़दे हंझूआं दी जित्थे धार पैंदी,
छाले ज़िमीं दी हिक्क ते हो पैंदे ।
मेरे कीरने रुक्ख खलेहार देंदे,
फुल्लां नाल लूं कंडे खलो पैंदे ।
रात सुन्न होवे , परबत चो पैंदे,
नदियां वैन पाउन तारे रो पैंदे ।
रुड़्हदे जान पत्तर, गोते खान पत्थर,
उठदी चीक जद मेरी दुहायी दी ए ।
बेज़बान पंछी भी कुरलाट पा पा,
आखन डाढी मुसीबत जुदायी दी ए ।

(4)
ओहो चन्द है रात नूं चड़्हन वाला,
जिस दी लोय विच कट्ठ्यां बही दा सी,
ओसे तरां दी बाग़ बहार भी है,
जिस दी महक विच खिड़द्यां रही दा सी,
लगरां ओहो शिगूफ्यां नाल भरियां,
भज भज आप जिन्हां नाल खही दा सी ।
ओहो वा ठंढी ओहो त्रेल-तुपके,
मोती खिलरे जिन्हां नूं कही दा सी ।
तेरे बाझ हुन खान नूं पए सभ कुझ,
पा पा वासते कन्नी खिसकायी दी ए ।
भखदे कोल्यां वांग गुलज़ार लूहे,
ऐसी पुट्ठी तासीर जुदायी दी ए ।

(5)
इक्क पलक ऐधर किते आ जांदों,
जिन्द सहकदी ते झाती पा जांदों ।
नाले भुजदियां आंदरां ठार जांदों,
नाले आपना फ़रज़ भुगता जांदों ।
मेरी जुगां दी तांघ मुका जांदों,
नाले प्रीत नूं तोड़ निभा जांदों ।
जिन्हां हत्थां ने धनुश मरुंड्या सी,
रावन जिन्न नूं भी उह विखा जांदों ।
इह भी चात्रिक कीतियां पा लैंदा,
कीकर सती दी जिन्दड़ी सतायी दी ए ।
सारी दुनियां दे वखतां नूं पायो इकधिर,
फिर भी भारी मुसीबत जुदायी दी ए ।

13. शकुंतला दी चिट्ठी

राजा रवी वरमा दे बणाए चित्र
शकुंतला पत्र लेखन

नूं साहमने रख के लिखी गई

(नराज छन्द)
उजाड़ नूं वसाय के, बहार लान वाल्या !
बहार फेर आप ही उजाड़ जान वाल्या !
अतीतनी नदान नाल प्रीतां पान वाल्या !
अकाश चाड़्ह पौड़ीओं, हिठांह वगान वाल्या ! 1.

अञान वेख साधणी, असाध रोग ला ग्यों !
अज़ाद शेरनी नूं प्रेम-पिंजरे फसा ग्यों !
चराय चित्त चित्त फेर अक्खियां चुरा ग्यों !
सुहाग भाग लाय, वांग छुट्टड़ां बहा ग्यों ! 2.

कुमारि कंज दा करार लुट्ट्या पलुट्ट्या,
हंडाय रूप, पान वांग चूप, फोग सुट्ट्या,
रुड़्हाय प्रेम-धार विच्च, फेर ना पता ल्या,
कि जीउंदी रही बिमार, या मरी बिनां दवा ? 3.

रसाल नैन, रूप रंग, शीलता बहादुरी,
सुभाउ देख मिट्ठड़ा ज़बान खंड दी छुरी,
छली गई अबोल, देख लिम्ब पोच ज़ाहरी,
वसाय विच्च अक्खियां, घुमाय जिन्दड़ी छडी । 4.

परंतू हाय शोक ! फ़कीरनी लुटी गई,
लपेट विच्च आ गई, चलाक चित्त चोर दी,
अञान विद्द्या मसूम नूं ए की मलूम सी,
कि संखीए-डली, गलेफ खंड नाल, है धरी । 5.

पता न सी, कि ठीक आख छड्ड्या स्याण्यां,
कि लाईए न नेहुं नाल राहियां मुसाफ़रां,
यो भौर वांग फुल्ल टोलदे सदा नवां नवां,
टिकाउ नाल बैठ ना आराम लैन इक्क थां । 6.

यो घातकी ! अञान नाल घात की कमायआ ?
इहो तिरा प्यार सी ? जिद्ही पसार मायआ,
मैं डोल खिच्चदी नूं डोल डोल ने डलायआ,
शिकार वांग मार, सार लैन भी न आया । 7.

ज़रा कु हाल वेख जा प्यार दी बिमार दा,
गुलाब ते बहार रंग फेर्या वसार दा,
जिन्हीं दिनीं हज़ार चीज़ चाह नित्त नार दा,
मिरा शरीर हौक्यां विखे समां गुज़ारदा । 8.

केहा हनेर पै ग्या ! नसीब सौं गए मिरे,
बुलान दा ख्याल याद ही रेहा न है तिरे,
भुला ल्या ध्यान राज दे बखेड़्यां किते ?
कि हो ग्या अचेत भौर होर कौल फुल्ल ते ? 9.

ना याद आउंदी कोयी घड़ी नराज़ होन दी,
रिझाउंदी, हसाउंदी, कली तरां खिड़ी रही,
बुरी भली कही जि हो, सड़े ज़बान चन्दरी,
हरान हां कि फेर मैं तिरे मनों किवें लही ? 10.

बसंत ने निखार कढ्ढ्या, खिड़ी कली कली,
मुराद पाय, गोद है हरेक शाख दी हरी,
सुहागणां शिंगार ला, संधूर मांग है भरी,
परंतू मैं अभागनी उडीक विच्च हां खड़ी । 11.

जदों ध्यान छाप वल्ल जाय, घेर खानियां,
करां विलाप, कूंज वांग, वेख के निशानियां,
तिरा निशान सांभ सांभ जिन्द नूं बचानियां,
अमान आपनी संभाल, आण के गुमानियां । 12.

केहा कठोर जी बना ल्या, घरां नूं जाय के,
न होर जिन्द साड़, ताय ताय, आज़माय के,
मलूक जिन्दड़ी चली गई जि ताय खाय के,
बणायंगा कि लोथ दा, समां खुंझाय आइ के । 13.

न्याइ-शील राज्या ! मिरा न्यां कमा लईं,
'दुखंत' नाम दी खरैत, दुक्ख तों बचा लईं,
बना लईं सनाथ, पास आपने बुला लईं,
'शकुंतला' रुले उजाड़, उज्जड़ी वसा लईं । 14.

14. इक देवी दी याद

मासूम दरशक दे मूंहों । इक अंगरेज़ी कविता
दे आधार पर लिखी गई ।

(1)

निक्क्यां हुन्द्यां ; मैं इक वारी,
देखी सी उह कंज कुमारी ।
भोली भोली, प्यारी प्यारी,
दुनियां दे वल छल तों न्यारी !
पहु फुटदी है जिवें सवेले,
खिड़ी खिड़ी जापे हर वेले,
त्रेल बसंती वांग रसीली,
निरमल, ठंढी ते शरमीली,
फुल्ल बहारी, गुड्डियां खेनूं,
मिले होए सन साथी एनूं,
फिकर न फाके नेड़े ढुकदे,
खेडीं चाईं देहाड़े मुकदे ।
आपने आप गीत कोयी गा के,
खिड़ पैंदा सी जी मुसका के ।

(2)

फिर देखी मैं दूजी वारां,
उठदी उमर, सतारां ठारां ।
लंमी, उच्ची, छैल नरोई,
शादी लायक होयी होयी ।
कोमल, सुन्दर, सजी शिंगारी,
दिल विच भखे प्रेम-चंग्याड़ी ।
रूप जवानी ठाठां मारे,
छुलके, डुल्हके, वांगर पारे,
मिट्ठे बोल, अवाज़ रसीली ।
अक्खां दे विच भाह शरमीली ।
चन्दन बदनी जद खिड़ पैंदी,
कयी चकोरां नूं मोह लैंदी ।
पर नसीब सी इकसे जी दा ।
मान जिनूं सी एस कली दा ।

(3)

कयी साल होर जद बीते,
फिर मैं उस दे दरशन कीते ।
उस वेले सी रूप जलाली,
दानी, सुघड़, ठरंमे वाली ।
परेम-बाग़ दियां खुशियां माणे,
कंत-प्यारी, धरम पछाने ।
कलीयों कुदरत फुल्ल बणाई,
फुलों फ़िर फल भी लै आई ।
अंसां वाली, गोद अञाणा,
साकीं अंगीं आउना जाना ।
दिन साईं ने ऐसे फेरे,
भाग लगा सी चार चुफेरे ।
ऐसी सुहणी, प्यारी, मिट्ठी,
इस तों पहले नहं सी डिट्ठी ।
फेर अखीरी दरशन पायआ,
जद दरगाहों सद्दा आया ।
सिर ते छतर नूरानी झुल्ले,
सुरगां दे दरवाज़े खुल्हे ।
रब्ब उदे विच वस्स रेहा सी,
चेहरा खिड़ खिड़ हस्स रेहा सी ।
लोड़ां थोड़ां फिकर न फाके,
तंग करन कोयी एथे आ के ।
ना डर खौफ कोयी उस वेले,
मुक्क गए संसार-झमेले,
शांत सरूप अनन्दमयी सी,
तारे वांगर डलक रही सी ।
उस वेले सुन्दर सी जैसी,
कदे न देखी सी मैं ऐसी ।

15. ग्रहसथन दा धरम

(1)

कंत दी प्यारीए ! रूप शिंगारीए !
चन्द दे वांग परवार-परवारीए !
फुल्ल फल नाल भरपूरीए डालीए !
निक्क्यां निक्क्यां बच्च्यां वालीए !

प्यार विच खीवीए ! प्रेम-मसतानीए !
ठंढीए ! मिट्ठीए ! धीरीए दानीए !
ग्रसथ विच ग्रसी धन्दाल विच धसीए !
फ़रज़ मरयाद दे जाल विच फस्सीए !
बन्न्हणीं बझ्झीए ! टहल विच रुझ्झीए !
मालके, पालके, ख़ालके गुझ्झीए !

न्हाय धो, तिलक ला, फुल्ल मंगवाय के,
धूप नईवेद विच थाल दे लाय के,
मन्दरीं रोज किस वासते जानीएं ?
भटकदी फिरनीएं, झातियां पानीएं !
दर बदर होइं किस चीज़ दे वासते ?
पूजदी पीर किस लाभ दी आस ते ?
तीरथीं जानीएं भुक्ख्यां मरनीएं,
नक्क नूं रगड़दी मिन्नतां करनीएं,
देवियां देवते इक न छड्डदी,
सेउंदी पूजदी दन्दियां अड्डदी ।
मड़्ही, मठ, गोर, सिल पत्थरां ध्याउंदी,
तुलसियां, पिपलां पास कुरलाउंदी ।

साधूआं पास जा मुट्ठियां भरनीएं,
वासते पानीएं, कीरने करनीएं ।
काश दे वासते कार इह चुकी आ !
तरल्यां नाल इह जीभ भी सुकी आ ।

राज है, भाग है, आल औलाद है,
आल दोआलड़े बाग़ आबाद है ।

उंगली बाल, इक हिक्क ते लाल है,
रात दिन वाह आनन्द दे नाल है ।

होर किस चीज़ दी राणीए ! भुख है ?
रड़क की होर ? किस गल्ल दा दुख है ?

मौत दा खौफ़ है ? नरक दा त्रास है ?
भोजलों मुकत हो जान दी आस है ?

भगति दे वासते चित्त है भरमदा ?
सिद्धड़ा राह नहीं लभदा धरम दा
आ ! ज़रा बैठ, कुझ गल्ल समझा द्यां,
औझड़ों कढ्ढ के डंडीए पा द्यां ।

बाहर कुझ भी नहीं रक्ख्या, भोलीए
आ ज़रा आपने अन्दरे टोलीए !

नार दा दवार ही दवारिका धाम है,
गंग, गोदावरी, प्राग ब्रिजगाम है ।

घरे घनशाम घटघट विखे वस्सदा,
प्रेम दी डोर ते नच्चदा हस्सदा ।

उज्जला रक्ख इस धरम-असथान नूं,
मन्दरां वांग चमकाय के शान नूं ।

साफ वायू रहे रुमकदी दुआर ते,
तन्दरुसती सदा आए परवार ते ।

ठुक्क सिर चीज़ हर इक्क धर लाय के,
छंड फटकाय के, मांज़ लिशकाय के ।

रीझ दे नाल कर तयार पकवान नूं,
रोचकी पाचकी होइ जो खान नूं ।

भोग लगवाय मासूम संतान नूं,
कंत भगवान नूं, मीत महमान नूं ।

(3)

कंत भगवंत परतक्ख अवतार है,
आप हर हाल विच लै रेहा सार है ।

आप दुख झल्ल आराम पहुंचाउंदा,
लद्द्या पत्थ्या रात घर आउंदा ।

पूरदा आस ना बोल परताउंदा,
हस्स परचाउंदा नाज़ करवाउंदा ।

योस दा दान घर रिझ्झदा पक्कदा,
देंद्यां देंद्यां मूल ना थक्कदा ।

आउंदे सार विच अक्ख बिठलाय लै,
हत्थ तलियां तले रक्ख परचाय लै ।

ठार दे चित्त, इशनान करवाय के,
त्रिपत कर देवता, भोग लगवाय के ।

नीव्यां चल्ल के, मिट्ठड़ा बोल के,
खंड घ्यो प्रेम ते टहल दा घोल के ।

उस दियां खट्टियां रक्ख संभाल के,
वरत बेशक्क, पर देख भाल के ।

सांभ के रक्ख कुझ दुख सुखां वासते,
लज्ज लीह, रीत अर ढंग दी आस ते ।

हत्थ भी छिणक, उपकार कर, दान दे,
देख तौफ़ीक पर योग जो शान दे ।

(4)

एस तों बाद इक धरम है नार दा,
कुदरती नेम अर हुकम करतार दा ।

आल औलाद नूं जंमना पालणा,
जुहद नूं जालणा, घाल नूं घालना ।

गरभ दा भार जो सौंप्या नार नूं,
रक्खने वासते कैम संसार नूं ।

अगल्यों बार्यों लंघ के आउणा,
जिन्द नूं मौत दे मूंह पाउना ।

तद किते जाय के शकल संतान दी,
वेखनी मिले इह दात भगवान दी ।

पोट्यां नाल अंगूरां नूं पालणा,
जान दे नाल ला बाल संभालना ।

आपनी जिन्द नूं खेह विच रोलना ।
गन्द नूं मिद्धणा, चैन सुख घोलना ।

फुल्ल दे वांग इस जिन्द नूं ठारना,
नींद नूं वारना, भुक्ख नूं मारना ।

जीभ नूं वांजना हौलीयों भारीओं,
तत्तीओं, थिंधीओं, ख़ट्टीयों खारीयों ।

गोडणा, सिंजणा, राखियां करनियां,
डाकटर वैद दियां चट्टियां भरनियां ।

सुक्खणां सुखद्यां रब्ब रछपाल जे,
चाड़्ह दे तोड़ इह माता दा माल जे ।

पालणा, पोसणा, पूंझना कज्जणा,
हस्सदे खेडदे वेख ना रज्जना ।

कंम विच चंम पर खयाल है लाल ते,
नच्चदी नीझ है बाल दे ताल ते ।

(5)

बाल इस बार्यों लंघ जद जाउंदा,
भार इक होर सिर नार दे आउंदा ।

नेक बद चज आचार समझाउणा,
तोत्यां वांग सभ गल्ल सिखलाउना ।

झूठ तों वरजणा, वल सच्च लाउणा,
बुरे ते भले दा फ़रक दिखलाउना ।

उट्ठणा, बैठणा, बोलणा, चल्लणा,
दस्स फिर विद्द्या वासते घल्लना ।

मत्त सिखलाय के फेर परन्हाउणा,
धरम अर करम दीए डंडीए पाउना ।

(6)

ऐडड़े फ़रज़ जद रब्ब ने पाए ने,
होर की आप तूं नाल चम्बड़ाए ने ।

उट्ठ मरदानगी नाल कर कार तूं,
आरती चाड़्ह इस बाग़ परवार नूं ।

राम रछपाल है, कृष्ण गोपाल है,
वैशनो शीलता, भगवती जवाल है,

जाग परभात इशनान करवाय ने,
उज्जले सोहने चीर पहनाय ने,

लापसी दुद्ध दा भोग लगवाय दे,
जो तेरे पास है, भेट भुगताय दे ।

रोन तां पयार दे नाल परचाय दे,
रहन तां वंड के खान समझाय दे ।

भागवत पाठ है लोरियां तेरियां,
पयार दी नीझ परदक्खणां फेरियां ।

खंड दे विच्च जद परचदा बाल है,
वेख क्या वज्जदा संख घड़्याल है ।

जीउंदे जागदे देउते छड्ड के,
सेउने सैल की दन्दियां अड्ड के ।

सौंप जो छड्डिया कार करतार ने,
बहुत है एतनी तुद्ध दे कारने ।

रब्ब किरपाल इनसाफ दा दवार है,
योस नूं आपनी स्रिशटि नाल पयार है ।

नरम दिल नाज़की बखश के नार नूं,
सुट्ट्या ओस ते प्रेम दे भार नूं ।

शीलता, मिट्ठता, टहल भल्याईआं,
ऐडियां भारियां चुंगियां लाईआं ।

फ़रज़ इह पालदी रीझ दे नाल तूं,
होहु बेशक्क संसार तों काल तूं ।

देवियां वांग सुख शानती पायंगी,
सिद्धड़ी लंघ दरवाज़्यों जायंगी ।

साध जो लभ्भदे धूणियां बाल के,
नार पा जाय उह बालके पालके ।

घोर तप नार दा जाय बेकार ना ।
होरथे चात्रिक झातियां मार ना ।

16. पिता वलों पुतर नूं सूचना

(मौलाना हाली दी उरदू नज़म दा उतारा)

माप्यां दा पुत्त सी इक लाडला,
जिन्द अंमां दी, सहारा बाप दा ।
परचदे सन जी, उसे इस बाल नाल,
चानना सी घर उसे इक लाल नाल ।
वाल विंगा जे कदे होवे उद्हा,
मच्छी वांगर तड़फदे माता पिता ।
रात दिन सदके उद्हे लैंदे रहन,
जान तक्क तों उस लई तय्यार सन ।
लाडां चावां दे पंघूड़े खेडदा,
दस वर्हे दी उमर नूं अप्पड़ प्या ।
विद्द्या पटड़ी ते चड़्हआ ना अजे,
चार अक्खर भी ओ पड़्हआ ना अजे ।
माप्यां दा ज़ोर भी कुझ घट्ट सी,
हुन्दा जांदा इंझ चौड़ चुपट्ट सी ।
पड़्हन तों सी इस तर्हां कण्याउंदा,
कां गुलेले तों जिवें घबराउंदा ।
पा के दिन उस ते जवानी जद चड़्ही,
रंग तद लै आई घाउल ओस दी ।
लाड दी करतूत सारी घुल गई,
माप्या दी टहल सेवा भुल गई ।
साहमने हर गल्ल विच बोलन लगा,
शरम नूं अक्खां विच डोलन लगा ।
मोड़ सेवा दे तां की सन मोड़ने,
लग प्या उलटा सगों तोड़ने ।
खल्लड़ी विच ख़ौफ रत्ती ना रेहा,
पल्ले ना बन्न्हे किसे दी सिक्ख्या ।
धन बिलोड़ा बाहर जाय उजाड़दा,
माप्यां नूं ताउ दे दे साड़दा ।
वड्ड्यां दी मत्त लैणों नस्सदा,
आखदे तां पंज पत्थर कस्सदा ।
भैड़्यां दे नाल गोशट हो गई,
जाके बैठा ना भली बैठक कदी ।
शहर विच 'लटोर' नां उसदा प्या ,
यर तमाशा घर टिकाना बण ग्या ।
मत्त दा डर जिस टिकाने समझदा,
योस राहों भुल्ल के ना लंघदा ।
सिक्ख्या तों सी सदा घबराउंदा,
छां भले लोकां दी हेठ ना आउंदा ।
गल्ल गल्ल ते घर लड़ायी पा बहे,
हर किसे दे नाल सिड्डा ला बहे ।
शानती ते धीरज ठर्हमा ना रहे,
तुच्छ जिन्नी गल्ल नूं ना जर सके ।
वाग मन दी सांभणों लाचार सी,
जीभ रोकन दा भी ना बलकार सी ।
उस दे कंडे सभ नूं पैंदे सांभणे,
डरद्यां पर हस ना सकन साहमणे,
असल विच उह कुक्ख भैड़ी दा न सी,
पट्ट्या होया सी बैठक चन्दरी ।
जद उद्हा इह हाल हद्दों टप्प्या,
नक्क विच दम माप्यां दा आ ग्या ।
बाप ने तद सद्द कोल बहायआ,
नाल मिट्ठत दे उहनूं समझायआ ।
लाल ! उह दिन याद हन, जां भुल गए,
जद इह जोबन ते जवानी कुछ न से ।
जद खबर तीक सी न आपने आप दी,
सी नहीं सिञ्ञान मां अर बाप दी ।
राखियां सन कर रहे माता पिता,
आप सौ इक मास दा तद लोथड़ा ।
नाम मातर नूं इह सारे अंग सन,
हल्लणों जुलणों परंतू तंग सन ।
गिड्ड अक्खां तों छुडा सकदे न से,
मूंह तों मक्खी तक्क उडा सकदे न से ।
अग्ग जल दा फरक नहं से जाणदे,
वेहु ते अंमृत नूं न मूल पछाणदे ।
रात अर दिन दा नहीं सी गयान कुछ,
धुप्प अर छां दी न सी पहचान कुछ ।
भुक्ख नाल बिचैन हो जांदे से, पर
अपनी बेचैनी दी ना पैंदी ख़बर ।
प्यास लगदी सी तां रो पैंदे सदा,
पर न पानी मंगना सी आउंदा ।
खा ल्या जो कुझ असां दित्ता खुआ,
पी ल्या जो कुझ असां दित्ता प्या ।
केयी वारी अग्ग नूं फड़ फड़ ल्या,
पानी दे विच कुद्दणों ना संग्या ।
इह लड़ाकी जीभ कित्थे सी तदों ?
गल्ल भी इक करन सी औखी जदों ?
सभ नूं रो रो के तूं देंदा सी जगा,
आपने पर रोन दा नाहं सी पता ।
दुक्ख दा दारू पिलांदे सां जदों,
रो के घर सिर पर उठांदा सैं तदों,
ठंढ विच लीड़े असां जद पाउणे,
तूं घड़ी विच खेह नाल रुलाउने ।
सूग मिट्टी चिक्कड़ों करदा न सी,
गन्दगी अर मैल तों ड्रदा न सी,
माउं ने सभ गन्द मन्द समेटणा,
गिले थाउं चुक्क, ओथे लेटना ।
उस समें मापे न हुन्दे जे कदे,
एस दुक्ख नूं, लाल जी ! तद समझदे ।
हाल दिल दा कहन दी ताकत न सी,
रोन बाझों आउंदा सी होर की ?
भुक्ख तरेह जिस वकत सीगी लग्गदी,
बुल्लियां ही टेर सकदे सी तुसीं ।
पर असीं सां अटकलों लख जाउंदे,
बुझ्झ दिल दी, आण सां परचाउंदे ।
पयास थीं आतुर जे पांदे सां असीं,
बिन कहे पानी प्यांदे सां असीं ।
भुक्ख करके जे व्याकुल पाउंदे,
दुद्ध तैनूं बार बार चुंघाउंदे ।
रूप सन मालूम सारे आप दे,
समझदे सां सभ इशारे आप दे ।
दुख तैनूं जे रती हुन्दा कदी,
खिच्च पैंदी आंदरां नूं आप ही ।
भुल्ल सानूं जांदियां सुत्ते सुधां,
दौड़दे फिरदे सां वांगर पागलां ।
केयी रातां जाग जाग गुज़ारियां,
रातां ओह जो जुग्गां नालों भारियां ।
होर तीवीं दा न परछावां छुहे,
मां दी छाती नाल रहन्दे चम्बड़े ।
दुद्ध जेकर ओपरा दित्ता कदे,
मूंह भूआ के दन्द अग्गों मीटदे ।
मां ने पर गल इस तर्हां सी लायआ,
दुक्ख सह के आप दा सुख चाहआ ।
इक्क ना इक्क दुक्ख रहन्दा नाल सी,
अज्ज खसरा कल्ल माता तुस्सदी ।
स्याण्यां दे पैर जा जा पकड़दे,
नक्क गोडा द्युत्यां दे रगड़दे ।
भज्जे फिरदे सां हकीमां दे सदा,
ढूंढदे फिरदे सदा दारू दवा ।
स्याण्यां जो मंग्या सो पायआ,
लौंद्यां रकमां दरेग ना आया ।
रोग नूं वध्या जदों सां देखदे,
फिकर दे विच साह साडे सुक्कदे ।
रात दिन प्यु गरक चिंता विच सी,
मां दी आंदर नूं भी पैंदी खिच्च सी ।
जी जरा जजमाल्या जे जाउंदा,
चैन ना सानूं भी पल भर अउंदा ।
सुक्खां सुखदे तेरियां अट्ठे पहर,
वट्ट मत्थे वेख बणदी जान पर ।
तेरी ख़ातर दुक्ख ते दुक्ख उठायआ,
दस बरस तक चैन पल ना पायआ ।
दुक्ख तेरी टहल दे विच पाए ओह,
दुशमणां नूं रब्ब ना दिखलाए ओह ।
आवेगी सेवा असाडी याद तां,
आपने घर होइगी औलाद जां ।
होश आई सूतकों जद निक्कले,
फिर फ़िकर होयी कि इह कुछ पड़्ह लवे ।
दो रखे उसताद इलम पड़्हान नूं,
इक्क पड़्हना इक्क हिसाब सिखान नूं ।
पंज इक्क नूं, इक्क नूं मिलदे से दस,
एह रहे नौकर बराबर दो बरस ।
अपने अपने कंम विच हुश्यार सन,
पर तेरे हत्थों होए लाचार सन ।
दोवें अपना ज़ोर सारा ला थके,
तैनूं पर अक्खर न इक्क पड़्हा सके ।
खेड तों भी वेहल नहं सी आउंदी,
लिखन पड़्हनों जान सी घबराउंदी ।
मुफत दी चट्टी असीं भरदे रहे,
दो वर्हे तक्क टहल भी करदे रहे ।
पर जदों तूं कक्ख भी न सिक्ख्या,
दे के कुछ दोहां नूं मत्था टेक्या ।
पल के जद आई जवानी सुक्ख नाल,
वयाह दे भारे दा आया तद ख्याल ।
हुन्दियां सन जात विच कुड़माईआं,
वयौहड़ियां भी देखियां दिखलाईआं ।
गहने कपड़े दा न बहुत रिवाज सी,
पैस्यां दे नाल हुन्दा काज सी ।
जे असीं भी घर बचाना चाहुन्दे,
छैण्यां दे नाल पुत्त व्याहुन्दे ।
पर असां जी आपने विच सोच्या,
इक्क पुत्तर फेर भी उह लाडला ।
लग्ग जावे भावें सारी जायदाद,
वज वजा के वेख लईए पर मुराद ।
ऐस वेले भी जे लत्थी रीझ ना,
होर केहड़े वयाह करने ने असां ।
फेर इह दिन हत्थ कित्थों आइगा,
जी दे विच अरमान इक रह जाएगा ।
धार के इह नीत व्याह रचायआ,
जो भी सर बण सक्या सो लायआ ।
याद जेकर ना होवे आपना व्याह,
शहर दे छोटे वडे हन सभ गवाह ।
जाणदे ने सभ शरीके दे भरा,
धन किवें सी पानी वांगूं रोड़्हआ ।
देन लग्गे कुझ ना सरफ़ा छड्ड्या,
जिस नूं दित्ता, खोल्ह के दिल दे ल्या ।
अगली अर पिछली पुरानी ते नई,
जन्दरे विच रास पूंजी पै गई ।
रोकड़ी जो भार सी बज़ार दा,
उह तां हौला हो ग्या भावें बड़ा ।
पर जो है जैदाद तद दी फस चुकी,
अज्ज तक सड़दा है जी उस दे लई ।
है बहुत उस दे छुडाउन दा ध्यान,
पर नहीं बणदा कोयी इसदा समान ।
घर दे विच जो है तंगी हो रही,
तेरी खातर ही मुसीबत है पई ।
ज़र ते जिन्दों वद्ध के ना कोयी चीज़,
आदमी नूं होइ दुनियां विच अज़ीज़ ।
जान भी देणों न मूंह नूं मोड़्या,
धन भी तैथों वारने कर छोड़्या ।
खान नूं हंढान नूं जो चाहआ,
सोयी हाज़र कर के भारा लाहआ ।
गड्डी घोड़े चड़्हन नूं तैनूं जुड़े,
दास टहलां करन नूं तैनूं जुड़े ।
हुन तेरा वेला सी भारा लाहन दा,
बुढ्ढे मां प्यु नूं आराम पुचाउन दा ।
खूब उस सेवा दा फल पहुंचाययो !
मान साडा खूब रक्ख दिखाययो !
फल इहो सी ओस घुल घुल मरन दा ?
मुल्ल इह सी ओस सेवा करन दा ?
अक्ख विच रत्ती नहीं प्यु दा लेहाज,
माउं नूं झिड़कन लगे आवे न लाज ।
घर दा दो दो दिन न बूहा तक्कदे,
आ गए तां पंज पत्थर चक्कदे ।
बाहर हर थां छिड़ पई चरचा तेरी,
आखीयो भैड़ी तां सुणीयो ई बुरी ।
टिचकरां करदे ने सानूं बिरध बाल,
सानूं भी बदनाम कीतो आप नाल ।
मूंह नहीं हुन्दा किसे दे रूबरू,
मिट्टी दे विच मिल गई है आबरू ।
हुन तां साडा चल्लना ही है भला,
पत गई तां होर की बाकी रेहा ।
मेरा तैनूं याद है सारा हवाल,
करज़ विच बद्धा है वाल वाल ।
हत्थ विच ज़र है न बांह विच ज़ोर है,
फ़िकर चिंता लक्क दित्ता तोड़ है ।
हुन तां है इह जिन्द साह वरोलदी,
मरन खातर थां पई है टोलदी ।
तेरे विच जे हौंसला हुन्दा कदी,
तद तिरे सिर ते इह बणदा फरज़ सी ।
सिर ते लैंदों चुक्क मेरी कार नूं,
मेरे कन्न्हे तों लहांदों भार नूं ।
जिस तर्हां कीती असां सेवा तेरी,
बांह फड़ लैंदों तूं साडी इस घड़ी ।
भार असां हुन तक्क उठायी रक्ख्या,
हुन तेरा वेला सी मोढा देन दा ।
सुख असीं भी देखदे संतान दे,
लोक करदे जस्स कुल दी शान दे ।
सुक्ख ! साडी तां गुज़र ही जायगी,
कंढे दर्या दे बरूटी है खड़ी ।
तूं तां है पर उमर एथे कट्टणी,
हुन अजे सुक्खी जवानी है चड़्ही ।
हुन भी अपनी होश संभल, समझ जा,
कूड़ी दुनियां दे भुलेवे पर न जा ।
खिंड गईआं बहुत हुन रुशनाईआं,
कद तलक आखर इह बे-परवाहियां ?
खान ख़ेडन दा ज़माना हो चुका,
नींद आलस दा बहाना हो चुका ।
काल दा चक्कर है हर दम घात विच,
बाज़ी आई चाहुन्दी है मात विच ।
घुस्स्या वेला कदी मुड़ना नहीं,
देख भायी ! फेर इह जुड़ना नहीं ।
जे रेहों हुन भी तूं ओसे तर्हां,
कर लवेगा ठीक आपे ही समां ।
तक्कले दे वांग सिद्धा कर लऊ,
ठेड्यां दे नाल अग्गे धर लऊ ।
फिर संभल्या कंम केहड़े आइगा ?
जद संभल्या ना संभल्या जायगा ।
उड्डने नूं जी करू आकाश वल,
रह न जाएगा परंतू बांह बल ।
बुद्धि होवेगी ते धन ना होया ।
कोयी भी पूरा जतन ना होइगा ।
जद समां इह रंगतां दिखलायगा,
याद 'हाली' दा केहा तद आइगा ।

17. सहुरे जांदी बीबी नूं प्रेम-सन्देश

बीबीए राणीए ! बालड़ी बच्चीए !
ग्रसथ दे रुक्ख दी डालीए कच्चीए !
खेड दी पयारीए ! लाड दी गिझ्झीए !
छोप्यां गुड्डियां, खेनूंआं रुझ्झीए !
प्रेम पंघूड़्यां विच तूं पल्ली एं,
अज्ज पर होर परवार विच चल्ली एं ।
पंध है साहमने नवें संसार दा,
खेल है शुरू तलवार दी धार दा ।
उट्ठ, हुश्यार हो ! कार संभाल लै,
फ़रज़ नूं समझ, मरयाद नूं पाल लै ।
एस मरयाद विच वड़द्यां सार तूं,
होइंगी मुशकलां नाल दो चार तूं ।
परेम पर इन्हां दा रूप पलटायगा,
ख़ार जो जापदा फुल्ल बण जायगा ।
परेम थीं पालीओं, परेम दी आस ते,
रब्ब ने घल्लीओं, परेम दे वासते ।
टहल दा महल इक सोहना पान नूं,
फुल्ल पुर त्रेल दा रूप हो जान नूं ।
प्रेम दा महकदा बाग़ इक लाय दे,
प्यार पसराय दे, ठंढ वरताय दे ।
प्रेम दे सिंधु विच मार लै तारियां ।
चीर जा औखियां घाटियां सारियां ।
रन जदों प्रेम दा जित्त्या जायगा,
साहमने सवरग दा दवार फिर आइगा ।
प्रेम दियां देवियां रूप शिंगारियां,
पूरसन तेरियां सद्धरां सारियां ।
नूर दा चानना ताज पहनाय के,
भाग सभ लाय के, बरकतां पाय के ।
सौंपसन वाग ग्रहसथ संसार दी,
आप-ठर जायंगी होरनां ठारदी ।

18. विदया दी थोड़

हिन्दुसतानियां ! जाग के मार झाती,
तेरे जीउन दा अज्ज कोयी हाल भी है ?
पल्ले आपने कोयी करतूत भी है ?
गळदी किसे महफल अन्दर दाल भी है ?
माला माल हो गए भाईवाल सारे,
तेरे नाल दा कोयी कंगाल भी है ?
खेडां विच कर लई बरबाद बाज़ी,
बाकी रह गई अजे कोयी चाल भी है ?
उट्ठ ! हंभला मार, बलबीर शेरा !
दुनियां वेख कीकन छालां मार रही ए,
पड़्ह पड़्ह विद्द्या, टोलके इट्ट चूना,
किसमत आपनी आपे उसार रही ए ।

तूं औलाद हैं उन्हां उपकारियां दी,
जिन्हां विद्द्या दे लंगर लाए होए सन ।
भंभट वांग दुनियां उड उड आ रही सी,
ऐसे इलम दे दीवे जगाए होए सन ।
तेरे बोहड़ दी वेख के छाउं ठंढी,
डोरे मिसर यूनान ने पाए होए सन ।
तेरे गयान-बगीचे दी महक लुट्टण,
भौरे सारे जहान दे आए होए सन ।
एस दीवे दी लो विच तुरन वाले,
अज्ज विच असमान दे चमक रहे ने,
ऐेपर, हाय ! किसमत ऐसा गेड़ खाधा,
तेरे आपने चीथड़े लमक रहे ने ।

गफलत मार्या ! सोच के वेख तां सही,
उह अज बोलदी तेरी सतार क्युं नहीं ?
तेरे सोने दी खान दी पुच्छ क्युं नहीं,
तेरा मंडियां विच इतबार क्युं नहीं ?
गांधी, बोस, टैगोर दे बैठ्यां भी,
तेरे बाग़ विच फिरदी बहार क्युं नहीं ?
तेरे आल्हने नूं वेख अग्ग लग्गी,
पानी डोल्हदा कोयी ग़मख़ार क्युं नहीं ?
मेरी जाच विच वैरन अविद्द्या ने,
इस फरयाद विच असर नहीं रहन दित्ता,
सत्त अट्ठ फी सदी दे डक्क्यां ने,
तेरी नदी नूं अग्हां नहीं वहन दित्ता ।

जिन्हां कौमां ते देशां ने अग्हां हो के,
जोत विद्द्या दी घर जगा लई है ।
ओन्हां कुंजी खज़ाने दी पा लई है,
किसमत आपनी उन्हां पलटा लई है ।
पैर उन्हां दे अज्ज इकबाल चुंमे,
घर विच सोने दी लंका बना लई है ।
रब्बी ताकतां मुट्ठ विच मीट लईआं,
सोभा खट्ट लई, शान चमका लई है ।
तूं पर हुन्द्यां सुन्द्यां माल घर विच,
चानन बाझ वेख ना सक्कदा हैं,
ऐसा घुस्स के तालों बेताल होइओं,
टुक्कर वासते बिट बिट तक्कदा हैं ।

सज्जन ! होश कर कुझ, सावधान हो जा,
सुत्ते रहन दा अज कल ज़माना नहीं ऊं ।
वेला छल ग्या फेर नहीं हत्थ औणा,
सुणना किसे ने तेरा बहाना नहीं ऊं ।
जद तक्क आपने तरकश विच तीर है नहीं,
तैथों फुंड्या जाना निशाना नहीं ऊं ।
मेहनत बाझ देहाड़ियां देयी जावे,
ऐसा कुदरतां दा कारखाना नहीं ऊं ।
तेरियां बाहां विच ज़ोर नहीं विद्द्या दा,
ओधर कलम ने कुदरत भरमायी होयी ए,
सभ्भे बरकतां उन्हां दा भरन पाणी,
जिन्हां विद्द्या देवी रिझायी होयी ए ।

आयो, वीर जी ! जोतरा ला सांझा,
एस तानी नूं पहले सुलझा लईए ।
गल्लां सारियां पिच्छों नजिट्ठ लांगे,
हाली पैरां दी बलदी बुझा लईए ।
इस अविद्द्या दी बेड़ी कट्ट लईए,
घुंमण-घेर तों बेड़ा बचा लईए ।
जेहड़ी देवी नूं देश ने पूजना है,
उस दे बहन लई मन्दर बना लईए ।
खान हीर्यां दी जिस दिन लभ्भ लीती,
उस दा मुल्ल भी झोली पुआ लवांगे ।
चात्रिक सोने दा भांडा त्यार कर के,
दुद्ध शेरनी दा फिर चुआ लवांगे ।

19. अनाथ (यतीम) दा नारा

आल्हने तों डिग्गे होए बोट नूं बचावे कौन ?
मूंह दियां गराहियां टुक्क टुक्क के खुआवे कौन ?
रोंदे नूं हसावे, भुंजे लेटदे नूं चावे कौन ?
झाड़ पूंझ, चुंम घुट्ट हिक्क नाल लावे कौन ?
मल मल नुहावे, कंघी वाहवे, तेल लावे कौन ?
सुहने सुहने कपड़े पिन्हावे ते खिडावे कौन ?
माप्यां बगैर मैं अनाथ दियां सद्धरां नूं,
पूरियां करीवे ते कलेजे ठंढ पावे कौन ?

आंदरां दी सांझ बिना सेक किनूं आउंदा है ?
प्यार जेही चीज़ भला देंदा है उधार कौन ?
अंमां दियां लोरियां ते बापू दियां जफ्फियां दी,
टुट्टे होए फुल्ल नूं दिखांदा है बहार कौन ?
सुक्खां सुक्ख पुंगरे लडिक्के नौनेहाल नाल,
पालदा प्यार कौन ? पुच्छदा है सार कौन ?
बांह फड़े 'चात्रिक' निमाने ते यतीम दी जे,
ऐसा दयावान दिस्से बाझ करतार कौन ?

20. बाल विधवा

(1)

इक दिन कुड़ी मुट्यार इक नज़र आई,
बैठी थड़े ते जान कलपा रही सी ।
झुलसे होए गुलाब दे फुल्ल वांगर,
मुरदेहान चेहरे उत्ते छा रही सी ।
नीवीं धौन, उदास, बेआस जैसी,
डूंघे वहन अन्दर गोते खा रही सी ।
गुझ्झे दरद नूं सबर कर पी रही सी,
अक्खां राह पर डुल्हदी जा रही सी ।
मैं खलो के पुच्छ्या, सुघड़ धीए !
काहनूं इस तरां हाउके भर रही एं ?
घुंडी खोल्ह दिल दी, मैं कुझ करां कारी,
आतम-घात गुझ्झा काहनूं कर रही एं ?

(2)

अग्गों कहन लग्गी, कुझ ना पुच्छ बाबा !
इह उह रोग है जिसदी दवा कोयी नहीं ।
इह नासूर अन्दर अन्दर प्या पके,
हुकम लाउन दा इस नूं हवा कोयी नहीं ।
इह उह जून है जिद्हे विच हिरस कोयी नहीं,
जिस विच रीझ कोयी नहीं, सद्धर चा कोयी नहीं ।
जेकर जीयो तां पुच्छदा वात कोयी नहीं,
जेकर मरो तां अग्गे अटका कोयी नहीं ।
अक्खां खुल्हद्यां ही मत्थे चो लग्गे,
सीना हो ग्या है दागो दाग मेरा ।
किसमत लड़ पई, सड़ गए लेख तत्ते,
उज्जड़ ग्या उमैदां दा बाग़ मेरा ।

(3)

अल्हड़ जान, अग्गे जंगल कंड्यां दा,
चंचल चन्दरे जी दा विसाह कोयी नहीं ।
दिस्से साहमने उमर पहाड़ जेडी,
सिर लुकान नूं सुझ्झदी जाह कोयी नहीं ।
ठंढी छां कोयी नहीं, सुख दा साह कोयी नहीं,
भर भर देन वाला सावल शाह कोयी नहीं ।
कुदरत नाल मुकाबला प्या ओधर,
एधर किसे नूं मेरी परवाह कोयी नहीं ।
सिर ते भूत जवानी दा प्या नच्चे,
भाईवाल इज़्ज़त दा मलाह कोयी नहीं ।
एधर वाह कोयी नहीं, ओधर चा कोयी नहीं,
सुणदा आह कोयी नहीं, दिसदा राह कोयी नहीं ।

(4)

मैनूं हुकम नहीं उज्जले कप्पड़े दा,
रज्ज खान दा नहीं, मल के न्हान दा नहीं ।
वाल वाहन दा नहीं, थिंधा लान दा नहीं,
फुल्ल पान दा नहीं, गाउन गान दा नहीं ।
सईआं नाल रल के किधरे जान दा नहीं,
जी परचान दा, हस्सन हसान दा नहीं ।
दिल दियां सद्धरां किधरे सुणान दा नहीं,
फट्टां अल्ल्यां नूं वा लुआन दा नहीं ।
रस्से रसम दे विच हरनी गई जूड़ी,
मां दी सुक्ख-लद्धी डंगर ढोर हो गई ।
दुनियां हस्सदी, वस्सदी रस्सदी ए,
इको महीएं जहान दी चोर हो गई ।

(5)

सुहने बाग ने, बागीं बहार भी है,
उस विच फुल्ल भी है, फुल्ल ते रंग भी है ।
ठंढी वा भी है, वा विच महक भी है,
महक विच गुझ्झा ज़हरी डंग भी है ।
वखतीं वेहड़्या भैड़ा शरीर वी है,
उस विच दिल ते दिल विच उमंग भी है ।
बुलबुल कैद है, कैद विच तंग भी है,
सीने अग्ग भी है, अक्खी संग भी है ।
खिड़की खोल्ह के हुकम नहीं उडने दा,
पिंजरे विच ना खुल्ह फरयाद दी है ।
तुर जां जग्ग तों गुंम दी गुंम रह के,
इह सलाह बे-तरस सय्याद दी है ।

(6)

तिक्खी धार ते तुरन नूं त्यार हां मैं,
ऐपर निभेगी इस तरां कार कीकर ?
जग्गों बाहरियां लीहां ते अड़े रह के,
बेड़ा हिन्दियां दा होसी पार कीकर ?
जेहड़ी धरत ते आवियां धुखन थां थां,
रंगन देवेगी ओथे बहार कीकर ?
जिस सुसायटी दे मन विच मेहर है नहीं,
रब्ब करेगा उस नूं प्यार कीकर ?
जेहड़ी अंमां दे बूहे ते चिखा बलदी,
बुरकी किस तर्हां संघों लंघा लएगी ?
जेहड़े वीर दी भैन मुट्यार विधवा,
भाबी सूहे सावे कीकर पा लएगी ?

(7)

तूं बिरादरी किसे नूं आख जा के,
पानी सिरों हुन लंघदा जा रेहा है ।
दुखियां वासते दरद हुन रेहा कोयी नहीं,
जग्ग सुखां लई वाड़ियां ला रेहा है ।
अन्न्हे बोल्यां बनन दे गए वेले,
देश गीत आज़ादी दे गा रेहा है ।
धियां भैणां नूं कोयी नहीं पूजदा हुण,
लोको ! घटदियां दा पहरा आ रेहा है ।
भट्ठ प्या सोना जेहड़ा कन्न पाड़े,
केहड़ी गल्ल बदले घुल घुल मरे कोयी ?
जेहड़े धरम विच पाप नूं मिले पाणी,
चोंदी छत्त हेठां उस नूं धरे कोयी ?

21. सुखी जीउन दी कुंजी

सुख- नींदे जे सुत्ता चाहें,
वस्स ना पईं अमीरां दे ।
बन्दीजन दे हलूए नालों,
टुकड़े भले फ़कीरां दे ।
विच्च ग़ुलामी होयी खुनामी,
सुक्कन लहू सरीरां दे ।
सीने हत्थ, धौन नेहुड़ाई,
खड़े वांग तसवीरां दे ।
रंचक रंज राउ नूं आयां,
सिर कट्ट जान वज़ीरां दे ।
सद-परसन्न, डन्न तों चोखे,
छन्न झौंपड़े कीरां दे ।
खीरां नाल भरे किस कारे,
मुखड़े दिल दिलगीरां दे ।
कर गुज़रान सुतंतरता विच,
पहन गोदड़े लीरां दे ।

22. बेरुज़गारी

(ज़र बिनां इशक टैं टैं)

रहु वे इशका !बस्स करीं,हुन छड्ड दे मुन्नने चेले,
कन्नां नूं ना चंगा लग्गे, तेरा राग कुवेले ।
ना उह हीरां, ना उह रांझे, ना मंगू ना बारां,
सुतड़े शेर उलांघन वाले, ना उह सुंञे बेले ।
ना मक्खन ना मक्खन पाले, कुंढियां मुच्छां वाले,
सोहण्यां दे गल कुंडल पा पा नागन ज़ुलफ न पेले ।
ना चेहर्या ते लाली भखदी, ना नैणां विच डोरे,
पिल्ले पिंडे मूंह वसारी, बग्गे बग्गे डेले ।
ना ओह हरनां वांग छड़प्पे, ना उह खाध खुराकां,
ना आज़ादी, ना खुशहाली, ना जोबन अलबेले ।
रीझां कौन करे हुन तेरियां, दिल फ़िकरां ने घेरे,
ढिड्डों भुक्खे माहियां दे गल, पै गए होर झमेले ।
उज्जड़ जान पड़्हांदे मापे, अग्गों कार न लभ्भे,
जान पई हटकोरे खांदी, ऐश करन किस वेले ?
इशकों रूप वटा के जे रुज़गार कदे बण जावें,
होन मुरीद हज़ारां तेरे, बाबू नवें नवेले ।
"नो वैकैनसी" पौला वज्जे, जिस दफतर विच तक्के,
बूट गंढायी देंद्यां मुक्के कन्नीयों पैसे धेले ।
वहुटी आखे, बाबू जी ! आटा लै आओ बज़ारों,
खिझ के कहे, दफ़ा हो जा, क्युं खाधी ऊ जान चुड़ेले ।
बेरुज़गारी शेरां वरगे गभरू चाकू कीते,
इक इक टुकड़े ख़ातर "चात्रिक" सौ सौ पापड़ वेले ।

23. मां दा धी नूं कंठहार

(धारना-जे साडी बीबी मोटा पीहे……)

साईं जीवी ! हो वडभागन, सुखी वसें हो बुढ्ढ सुहागण,
दिन दिन भाग मत्थे दे जागन, माणें ठंढियां छाईं धी ।

गल्ल मेरी इक लै जा पल्ले, सुख सम्पद मिलसी इस गल्ले,
जीवन दे दिन होन सुखल्ले, इस नूं भुल्ल न जाईं धी ।

पेके घर जो उमर लंघाई,इस विच फिकर नहीं सी काई,
हुन तूं जाना जूह पराई, ओथे चज्ज विखाईं धी ।

सस्सू, सहुरा, नणद, जिठाणी, मां प्यु भैणां वांगर जाणी,
नीवीं अक्खीं, कोमल बाणी, मत्थे वट्ट न पाईं धी ।

छेती सुनणा, हौली कहणा, हस्सूं हस्सूं करदी रहणा,
संजम दे विच उट्ठना बहणा, सुघड़ां हार वखाईं धी ।

सहुरे हुन्दे तिलकणबाज़ी, हर गल्ले कह भला भला जी,
गली गुआंढन रक्खीं राजी, चित्त न कोयी दुखाईं धी ।

कदे न मारीं कूड़ियां ठीसां, अड़बां दियां न सिक्खीं रीसां,
राजी कर कर लईं असीसां, न्युं न्युं झट्ट लंघाईं धी ।

मिट्ठा कहणा, कौड़ा जरना, हर गल्ल दे विच जी जी करना,
ठंढी होइ क्रोध नूं हरना, पित्ता मार विखाईं धी ।

वेख किसे नूं करीं न साड़ा, इह लच्छन तीवीं नूं माड़ा,
साड़े दे थां पए उजाड़ा, मन्दा रोग न लाईं धी ।

बहुता बोलन झूठ बखीली, कदे न करीं न बनी हठीली,
नीवें नैन, ज़बान रसीली, मत्था सदा खिड़ाईं धी ।

तड़के जाग चिराकी सौणा, दिने सौन दा झस्स ना पौणा,
देह नूं आलस रोग न लाउणा, घर नूं सवरग बणाईं धी ।

पेक्यां दा धन धाम सलाह के, की लैना परताप सुना के,
जो सुख डिट्ठे सहुरे जा के, गीत उन्हां दे गाईं धी ।

जादू टूने मंतर झाड़े, झूठे हन एह सभ्भ पुआड़े,
तीवीं ताईं करने माड़े, झाती भुल्ल न पाईं धी ।

पांधे, रौल, जोतशी सारे, गल्लां कर कर तोड़न तारे,
जो परमेशर रक्खे मारे, उसदी आस तकाईं धी ।

सवामी है परमेशर तेरा, उस तों कोइ न देव वडेरा,
उस सेवा दा लाभ चंगेरा होर न किधरे जाईं धी ।

साईं तेरा सभ सुख रासी, उसदी रहना बण के दासी,
पावेंगी तद सुख अबिनाशी, उस दी टहल कमाईं धी ।

मालक दे हुकमां विच रहणा, इह तीवीं दा उत्तम गहणा,
गुस्से नूं कर धीरज सहणा, सुच्चा ज़ेवर पाईं धी ।

कोयी भुल्ल करे जे साईं, तद भी मत्थे वट्ट न पाईं,
समां टलाय, इकल्ले ताईं, मिट्ठी बण समझाईं धी ।

उजले लीड़े पहनीं चंगे, ऐपर गूड़्हे रंग न रंगे,
ढक्कन जुस्सा होन सुढंगे, हंढणहार हंढाईं धी ।

जे इह सिखया कंठ करेंगी, तुरत एहनां ते दुक्ख हरेंगी,
सुख सम्पट भंडार भरेंगी, रोज इन्हां नूं गाईं धी ।

24. इक धी दी चिट्ठी, माप्यां वल

(1)

हत्थ जोड़, सिर नयाय जुहार !

धरमी बाबल ! दरदन अंमां ! जीयो जागो जुग्ग हज़ार !
सुक्ख न मुक्कन, दुक्ख न ढुक्कन, होवे जस्स जहानीं चार !
वेल वधे परताप सवायआ, साईं देइ अखुट्ट भंडार !
गऊ निमानी धी इञाणी, दाने पानी दे अनुसार,
रब्ब ने घल्ली दुनियां दे विच,चुगने हेत तुहाडी बार ।
लूं लूं मेरा देइ असीसां जो जो कीते सन उपकार,
सिल फ़िक्की आमान बिगानी, सल्लां सूलां दा आगार ।
हस हस सिर ते कार उठाई, उस दाते दी दात चितार,
पाली, पोसी, गोद खिडाई, सारे कीते चायो मल्हार ।
बाल वरेसे राज करायआ,कीता पुत्तां वांग प्यार,
होइ स्यानी गोदी लै लै, वीर खिडा होवां बलेहार ।
सईआं नाल रलां ते जावां, सावें खेडन बाहर वार,
हस्सां, खेडां, गावां बोलां, रात लंघावां लाय भंडार ।
चंगा चोखा खावां खेडां, फिकर न कोयी कंम न कार ।

(2)

लगर लमेरी चार दिनां विच, होइ पई जद मैं हुश्यार,
मालक्याणी, घर दी रानी ; सभ कुझ दी कीती मुखतार ।
रक्खां, पावां, खरचां, खावां, सौंप दित्ता सारा घर बार,
अंमां रानी मत्थे उप्पर वट्ट न पायआ वेख विगाड़ ।
बाबल राजे दे परतापों कोइ न मैनूं हटकणहार ।
राज घरे विच कल्ली मालक, जो जी चाहे करां बहार,
जां खुशियां ते जां उस धरमी राजे दा दरबार ।
जां त्रिञन जां गुड्डियां खेनूं, जोड़ां करां पटोले त्यार ।
होर न कोयी लोइ जगत दी किस पासे वस्से संसार ।
बेफिकरी दा जीवन ऐसा कट्ट ल्या उस उमर मझार ।
भुल्ल न जासी जींदी जिन्दे अंमां बापू दा उपकार ।
याद रक्खागी ओस समें नूं जिस विच पाए सुक्ख अपार ।

(3)

बापू दे परताप लुभाई, भुल्ल गई मैं भुलणहार ।
जाता सुक्ख सदा दे संगी बाबल दा वस्से दरबार ।
की लोड़ां ते की हन गरजां ? सिक्खां कोयी कार वेहार ।
एस फिटेवें अग्गे कारन, सिक्ख न सकी अक्खर चार ।
सूईआं चोभ कसीदा दस्से, उसतानी नित मारे मार ।
नी कुड़ीए ! कुझ सिक्ख स्याणप, होयी हैं हुन तूं मुट्यार ।
पर बेकिसमत मूरख ने मैं, मूल न कीती कुझ विचार ।
समां टपायआ दाउ घुसाईं, दिन दिन हुन्दी गई खिडार ।
ओड़क नूं हुन गफ़लत दा फल भुगतन सन्दी आई वार ।
मापे वेखन गोते खावन, हुन बीबी होयी मुट्यार

चोरी चोरी मेरे पासों अन्दर बह के, करन विचार ।
ओड़क पक्क सलाह ठर्हायी नायी ब्राहमन करे त्यार ।
मैं भिच्छक दे मंगन कारन, वेखन कोयी उच्च दुआर ।

(4)

चार दिनां विच सभ कुझ होया लागू आए बाहर वार ।
सोहल्यां दी ढोलक वज्जी, सई्ईआं गायआ मंगलचार ।
चूली पाय, फड़ायआ रस्सा, अंमां बापू पर्हां खलार ।
लोकी हस्सन ते मैं रोवां, इह की होया है करतार ।
घर दी मालक्यानी ताईं धक्का मिल्या इस प्रकार ।
टुट्टा दखल अजेहा, आपे चुक्क न सकां कलीरे चार ।
जंमी पली स्यानी होयी घाह चुग्या जिस जूह मझार ।
अच्चणचेत बिदावा मिल्या, जिथों दी सां दावेदार ।
जिन्हां दी बण मालिक बैठी उह मिलसन हुन खट्ट खिलार ।
रो रो के सिर खाली कीता, तरला कीता लक्ख हज़ार ।
'नी अंमां ! जो हुकम करेंगी, बन्दी तेरी ताबेदार ।
बापू जी ! कुझ तरस करो, ना धक्का देवो बाहरवार ।
वीरां दा कर गोलपणा, मैं पिच्छ पियांगी चौल नितार' ।
जो आया मैं चम्बड़ चम्बड़, एहो कीती अरज़ गुज़ार ।
जगत-चाल कह लड़ छुडवांदे, कोयी न सुणदा हाल पुकार ।

(5)

तुरो तुरी एने नूं होई, चुक्कन आए चार कहार ।
अन्न दित्ता, धन दौलत दित्ती, कप्पड़ दे लाए अम्बार ।
घोड़े, जोड़े, गाईं, मझ्झीं, दित्ती दात अनंत अपार ।
गल पल्ला मूंह घाह बाबल दे, सईआं कीती बिनै उचार ।
जोड़े झाड़न हेत तुहाडे बीबी दित्ती खिदमतगार ।
जे बीबी कुझ मन्दा बोले, ढक्क ल्यो जे किरपा धार ।
ठुल्ला कत्ते मोटा पीहे, तां समझाययो नाल प्यार ।
थोड़ा देना बहुती मिन्नत बरदे असीं तुसीं सरकार

धियां वांग लडासां बीबी सहुरे कीता कौल करार ।
भायी बाही पकड़ खलोते, भैणां नैणां लायी तार ।
मैं रोवां ते मापे रोवन, रोवे सभ खला परवार ।
रोइ धोइ के विद्या कीता, डारों टुट्टी उडे हार ।
खुट्ट ग्या उह दाना पाणी, टुट्ट ग्या उह नेहुं प्यार ।
छुट्ट ग्या सईआं दा मेला, खुस्स ग्या बाबल दा दवार ।
देस बिगाने जूह पराई, डोला दित्ता आण उतार ।
नव्यां लोकां दे विच आई, होन लगा आदर सतकार ।
सहुरे दंमीं बुक्क भराए, सस्सू पीता पानी वार ।
पीड़्हा, पलंघ, निणानां गीटे, हस्सन खेडन नाल वेहार ।

(6)

खान हंढान दिनां दा मुक्का, कीती खुशी देहाड़े चार ।
पीड़्हा छड्ड फड़ी हुन सेवा, तिलकन बाज़ी दे विचकार ।
चज्ज न सिक्खी पड़्हे न अक्खर, डिट्ठी घर दी चार दिवार ।
चित्त न याद खाब विच हैसन, जो आ पए अचानक भार ।
किस तत्ती नूं चेता भी सी सहुरे होर नवां संसार ।
वरतन नाल बिगानड़्या दे पैणीं है उस उमर मझार ।
गिन गिन बोलन चल्लन होसी, खावन पीवन संजमदार ।
अक्खां बन्दीखाने पैसन, टोह टोह होइ सकेगी कार ।
अकलों बाझ सलाहे केहड़ा, नुकताचीनां दे दरबार ।
माप्यां दे हाड़े सभ भुल्ले, दातां नूं भी गए डकार ।
गल दा हार होए आ मेहणे, तान्यां टोकां दी भरमार ।
नणद, जिठानी घूरी वट्टन, सस्सू आखे चल मुरदार ।
मां कुचज्जी डोली पाई, झिड़कां खान बिगाने बार ।
अक्खर चार पड़्हाय न सक्की. नहं सिखायआ चज अचार ।
फिकर न फाका, नाल अवैलां फिर फिर हुन्दी रही ख़ुआर ।
याद न सी इह पेके मापे, चार दिनां दी अज्ज मौज बहार ?
ओड़क जाना साहुर्यां दे जित्थे वेखी जानी कार ।
किसे न गल्ल सुझायी सी इह ? अग्गे दा कर लै उपचार ।
जीवन दे मैदान वड़न तों पहले सिख मारन तलवार ।
पेका घर इह पाठशाला है सिक्खन नूं जग्ग दा वरतार ।
बाली उमरा फुरसत दे दिन जो कुझ ल्या सो सार ।
अग्गे गयां मामल्यां दा सिर ते पैना भारा भार ।
कच्ची पक्की जेही निक्कली, आवी विचों बाहर वार ।
जो होया सो हो ग्या एथे अग्गे खली उडीके कार ।
प्यो दी जूह खिडारां कुड़ियां, नाल न चल्लन तुरदी वार ।
कत्तन वालियां होन सुरखुरू वत्तन वालियां होन लचार ।
विगड़े कंम अकल जे देईए रोवे क्युं डसकारे मार ।
पेके उमरा खेड गवायी तेरे जेहियां खान पंजार ।

(7)

कीती चुप निमानी हो के, सिर नीवां कर गई सहार ।
जो आखन जी जी कर मन्नां, कर न सकां कोयी तकरार ।
जीकर निभे निभावां सिर ते, करां न किस थे गिलह गुज़ार ।
पर अंमां मैं अरज़ करां इक, जो तैं कीते चाउ मल्हार ।
कंम ना मेरे आए एथे, होर चीज़ इक सी दरकार ।
लाडां दे थां झिड़कां देंदी, धी नूं करदी मार सुआर ।
चज्ज अचार, बिगानी वरतन, विदया गुन दी हुन्दी सार ।
तां मैं बार बिगाने आ के, सुख विच लैंदी उमर गुज़ार ।
हुन भी जेहड़े धियां वाले, उहनां नूं कह द्यो पुकार ।
लाडां दा कुझ मुल्ल न पैंदा, वेखे जांदे चज्ज अचार ।
तां ते धियां इंज न तोरो, अग्गे जा के होन लाचार ।
मत्त द्यो, मत लाड करायो, विदया दे देवो भंडार ।
'चज्जां' दाज, गुणां दा गहणा, तेवर बेवर शुभ आचार ।
सहुरे जाय सुखी तद वस्सन, पल्ले होवन कौडां चार ।
शुभ गुन, विदया, शील स्याणप, इन बिन औखी चल्ले कार ।
होर कहां की अंमां जी मैं, एहो बिनती बारम्बार ।
ठंढी वाउ भखी जे चाहो, तां कर्यो विदया परचार ।
विदया बाझ बुरी गत होवे, अग्गे धियां होन खुआर ।
ना दरगाहे ढोयी मिलदी, ना सुख मिलदा इस संसार ।

25. त्रिशना दा पुतला

सायंस दी बरकत नाल, मनुक्ख ने कुदरती ताकतां उत्ते जो कबज़ा
प्रापत कर ल्या है, उस दा फल तां इह होना चाहीदा सी कि
दुनियां त्रिपत हो जांदी । पर हुन्दा असल इह है कि इनसानी
हरस दा मूंह दिनो दिन खुल्हदा जांदा है । इक दूजे नूं आपणी
खुदगरज़ी दे चक्कर विच वली जांदा है, इस बल दा अनुचित
वरताउ इथों तक पैर पसार रेहा है, कि अमन ते आज़ादी दोवें
खतरे विच जा पए हन ; कुदरती ताकतां पासों सुख लैन दी थां
दूज्यां नूं निरजीव बणाउन दा कंम ल्या जांदा है ।इस कविता
विच ताकत ते दौलत दे अयोग वरताउ दी झाकी दिखा के प्रासचित
दा रसता सुझायआ ग्या है ।

(1)

ढाली गई ख़लकत जदों कुठालीए आकार दी,
मन नूं जगा के जोत, लो लायी गई संसार दी ।
नरगस दे दीदे खोल्ह के, त्रिशना ने डोरा पायआ,
लाला दा सीना रंग सद्धर ने लहू गरमायआ ।
चड़्ह चड़्ह, उमंगां दी नदी विच, आ रेहा तूफ़ान सी,
इस रोड़्ह विच,तखत जेहे ते डोलदा इनसान सी ।
निक्की जेही सी जिन्द, पर उस विच तरंग अनेक सन,
भर भर उछलदे खून थीं, सीने दे सारे छेक सन ।
हरदम सी दिल दा जोश उठ उठ नाड़ नाड़ टपा रेहा,
लहरां दे वांग ख्याल सी,इक आ रेहा,इक जा रेहा।
चाह सी कि सभनां ताकतां नू मुट्ठ विच दबा लवां,

(2)

ताड़ी बदी दे भूत ने, हालत ए जद इनसान दी,
मारी ए कन्नीं फूक सभ खातर है तेरी जान दी ।
तेरे सुखां दे वासते रच्या ग्या संसार है,
इस ते हकूमत करन दा तैनूं ही हुन अधिकार है ।
शेरां नूं पा लै पिंजरे, हाथी दे सिर असवार हो,
फौजां बना के राज कर, बहु तख़त ते, हुश्यार हो !
अड़ जाय जो, कुंडा उद्हा, नेज़ा अड़ा के कढ्ढ दे,
होवे न नीवीं धौन जो तलवार धरके वढ्ढ दे ।
तलवार तोप बन्दूक तों जे कर कोयी बच जायगा,
एरोपलेन अकाश तों अंग्यार तद बरसायगा ।
कुदरत ने सभ्भे ताकतां तेरे अधीन बणाईआं,
बिजली दुड़ा के ज़ुलमियां कर्या करीं जी आईआं ।
झुक जायगा सिर रूप दा, इकबाल दी दहलीज़ ते,
हाज़र करेगी जान, मारेंगा निगाह जिस चीज़ ते ।
उठ ! शेर बण !मैदान विच तलवार वध के वाह लै,
सिक्का चला लै आपणा, कर ज़ुलम डंझां लाह लै ।
सभ नयामतां अर ताकतां हाज़र तेरे दरबार विच,
वा वल तेरी तक्के, ओ ऐसा कौन है संसार विच ।

(3)

इह फूक भर इनसान नूं बदियां दा भूत फुला ग्या ।
बेसमझ कच्चा जिन्न, झट हंकार दे विच आ ग्या ।
लग्गा करन जी आईआं, दिल विच हराम समायआ,
ख़ुदग़रज़ियां दा ज़हर रग रग ओस दी विच धायआ ।
थां थां हिरस दे जाल फैलाए गए संसार ते,
लै लै अमन दा नाम, नींह रक्खी गई तलवार ते ।
लक्खां हज़ारां सिर, तमाशे हेत, कटवाए गए,
अय्याशियां दे बाग़ लहूआं नाल सिंजवाए गए ।
बलवान ने कमज़ोर नूं धौणों पकड़ के जो ल्या,
सरमाएदारी सीरमा फड़ मेहनती दा चो ल्या ।
डूंघे हनेरे पाप दे विच बिजलियां सी ढा रेहा,
मिट्टी दा पुतला ख़ून दे दर्याउ विच सी न्हा रेहा ।
मिलदी सी ठंढक रूह नूं धक्के ते अतयाचार विच,
रस आउंदा सी राग दा तलवार दे टणकार विच ।
माली सी उठदियां कूम्बलां फड़ फड़ मरुंडी जा रेहा,
शैतान बण के ख़िज़र वट्टे बेड़ियां विच पा रेहा ।

(4)

डिट्ठा तमाशा नेकियां दे देवते जद आइ के,
सिर फड़ ल्या घबराय के,सोचन लगा ग़म खाय के।
वेखो ! अमन दे देवते नूं वग गई है मार की !
आया सी काहदे वासते, ते कर रेहा है कार की !
सुख शानती दा राज फैलाना जिद्हा ईमान है,
करतूत उसदी वेख के शैतान वी हैरान है ।
इह सभ्भता दा मुदई्यी खेखन है की की कर रेहा ।
आज़ादियां दा नाम लै लै बेड़ियां है घड़ रेहा !
है पायी जांदा पेट विच, लुट लुट हलाल हराम नूं,
बदनाम करदा है किवें 'इनसानियत' दे नाम नूं !
इस 'असरफुलमखलूक' वल तक्को, खुद दी शान है !
दुनियां तबाह कर देन विच गलतान जिस दी जान है !

(5)

झुर झुर के ओड़क बोल्या, उइ अकलमन्दा भार्या !
शैतान दे चड़्ह हत्थ तूं, इह की पखंड खिलार्या ?
कंडे जो बीजी जायं, कीकर फुल्ल एह बण जाणगे ?
कोले जो घोली जाएं कीकर सुरखरू करवाणगे ?
एह हत्थ लहूआं लिब्बड़े रहमत लई फैलायंगा ?
इह अक्ख खूनी साहमने करदा शरम ना खायंगा ?
मत्थे ते चन्दन-तिलक अर सीने ते गिठ गिठ शाहियां,
लै लै अमन दा नां, मचायी जायं घोर तबाहियां !
करतूत तेरी दे जदों तोपे उधेड़े जाणगे,
निय्यत तेरी तों ओपरे पोचे उचेड़े जाणगे ।
होवणगियां तद नंगियां एह सारियां अयारियां,
शीशे अमल दे साहमने हो झातियां जद मारियां ।
फुरने तेरे जो गोंद गुन्दन, लुक के सतवीं कोठड़ी,
उह फिलम बण बण के वल्हेटे जान नालो नाल ही ।
घसवट्टियां ते आ के, सभ परपंच चुगली खाणगे,
फुलियां जदों वहियां, ए सारे पाज उघ्घड़ जाणगे ।
अड्डे लगा इस नफस दे, छुरियां चलायी जायं जो,
झुग्गी उसारन वासते मन्दर ढहायी जायं जो,
चल्लन लग्गे इह माल धन, ना साथ मूल निभायगा,
नेकी बदी दा भार सिर ते लद्द्या रह जायगा ।
अक्खां तों जद पूंझी गई चरबी तेरे हंकार दी,
सभ पान पत लह जायगी तलवार दे बलकार दी ।
हो बाउला बघ्याड़ वांग शिकार हैं तूं टोलदा,
कां वांग, कुट्ठा कामना दा, गन्द थां थां फोलदा ।
त्रिशना अगन विच, हो रेहा भड़था, तेरा आचार है,
पशूआं तों वध के सिर तेरे ते काम भूत सवार है
आ ! होश कर ! ते समझ जा, छड दे ए सीना ज़ोरियां,
है वकत, धो लै मत्थ्यों, लुक लुक कमाईआं चोरियां ।
जद छल ग्या वेला तां रो रो अंत नूं पछतायंगा ।
शरमायंगा, चिचलायंगा, पर फल न कोयी पायंगा ।
मंगेंगा मुहलत होर जद, विगड़ी सुआरन वासते,
मिलने उधारे दम नहीं, विछ्या न रहु इस आस ते ।
वेला इहो है समझ जा, आ बाज़ इस करतूत तों,
छेती छुडा लै जान, चात्रिक ! इस बदी दे भूत तों ।

26. डालीयों झड़्या फुल्ल

(1)

इक फुल्ल, जिन विच्च बगीचे, जोबन-मत्ता रूप दिखा के,
कयी हज़ारां अक्खां दे विच घर कीता सी, ठंढक पा के ।
कयी मनां नूं लुट्ट ल्या सी, लपटां दा अम्बार लगा के,
शमा जिद्ही ते भंभट वांगर सदके हुन्दी खलकत आ के ।
पर हुन ओस बहार-दरब नूं, धुप्प बिदरदन लुट्ट ल्या सी,
किरनां रसते, सूरज सारा रूप जवानी चूप ग्या सी ।
उह महबूबी शान हुसन दी, बुरेहाली विच वट्ट गई सी,
कोमलता अर भाह गुलाबी लो दुपहर दी चट्ट गई सी ।
फुट्ट ग्या तूम्बा अर टुट्टी तार कुरंग फसाउन वाली,
सरद हो गई शमा, जगत नूं चानन ते भरमाउन वाली ।
असत ग्या उह चन्द, जिद्हे नीझ तों चकोर उठांदेना सन,
मात हो चुकी सी हुन बाज़ी, दरशक घुम्मर पांदे ना सन ।
कोमल पंखड़ियां झड़ झड़ के, खेरू खेरू हो गईआं सन,
वांग बिरंगी महन्दी, तख़तों डिग्ग, ज़िमी पर आ पईआं सन ।
पक्खी वांगर निक्खड़ के, हुन देही पुरजा पुरजा होई,
हसरत भरी निगाह थीं तक्के, पर अग्गों ना पुच्छे कोयी ।
ज़ालम माली ने, पच्छां पर होर लून इक पा दित्ता सी,
झाड़ू मार, बगीचे विच्चों, इक्क किनारे ला दित्ता सी ।
चूपे पान वांग, हुन पुशप निमाणा, कूड़ा हो के,
इक दरशक पर कढ्ढ रेहा सी, गुस्सा आपने जी दा रो के।

(2)

राहे राहे जावन वाले ! परे परे क्युं तिलकीं जावें ?
यो गमरुट्ठ, बिदरद मतलबी ! धौन भुआ क्युं अक्ख चुरावें ?
इह सी मेहर, मुहब्बत एहो ? एथों तक ही सी ग़मखारी ?
मतलब दी ही यारी सी ? अर हुसन परसती तेरी सारी ?
बस्स ? इहो सी पल्ले तेरे ? मुल्ल मेरी कुरबानी सन्दा,
रस नूं चूप, फोग तों सूगें सवारथ दा ही सी तूं बन्दा ?
हां ! उह प्रेम दिखांदा सी तूं इसे लई ? वड्या वड्या के,
खिच्च लएंगा पौड़ी हेठों मद-मसती दे सिखर चड़्हा के ।
ढली दुपहर हुसन दी उत्ते, झाती भी मुड़ नहं सी पानी ?
इशक हकीकी नहं सी जेकर क्युं सी कूड़ी प्रीत-जितानी ?
चलदे फिरदे हड्डीं सौखा हमदरदी दा राग सुणाणा,
तंगी तुरशी वेले वी तां लग्गी नूं ही तोड़ निभाना ।
शोक तेरी बेदरदी पर है, जिस शै तों तूं सुख सी पायआ,
उस पर गलत निगाह ही पा के कुझ हुन्दा अन्दोह जितायआ ।
प्रीत पुरानी चेते कर के, अंझू सन दो चार वहाणे,
मोए दे भी फुल्ल चुगा के, ला छडदे ने लोक टिकाने ।

(3)

पर सज्जन की वस्स तिरे है, दुनियां विच्च इहो वरतारा,
कदर पाए करतब्बां दी ही, झुकदे नूं ही मिले सहारा ।
जद तक चले खरा है तद तक, जद तक रस, तद तक रसीला,
जद तक लहू, तदों तक लाली, जद तक लाली तद तक लील्हा ।
जद तक जान, जहान तदों तक, जद तक सिर तद तीक सलामी,
जद तक तेल तदों तक चानण,जद तक हिंमत तद तक हामी ।
जद तक हुसन इशक है तद तक, जद तक धन, तद तीक भिखारी,
जद तक मेहर मुहब्बत तद तक जद तक दर तद तक है दारी ।
जद तक आपना आप गलायो तद तक झुलसणगे परवाने,
आपना आप मुहाए बाझों अपने भी बण जान बिगाने ।
ठंढक है, तद जमे रहोगे, तप जद तक है तेज रहेगा,
जद तक घसो तदों तक चमको, ज़र नूं ही जग यार कहेगा ।
मतलब बाझ पसीजे केहड़ा, बिरध बैल नूं पावेगा चारा,
दंमां दे दम वजन दमामे, कंम करावे चंम प्यारा ।
कुदरत दा भी नेम इहो है, जद तक जो जिस जोग रहेगा,
तद तक उस नूं मिले टिकाणा, उस तों बाद गिड़ाउ मिलेगा ।
केला कट्ट दित्ता जांदा है, फली जदों देणों रह जावे,
वल्लां पुट्ट वगांदे बाहर, जद ख़रबूज़ा हत्थ न आवे ।
छांग दिते जांदे हन कंडे, बेरी दा फल हो चुक्के,
बेले साड़ दिते जांदे हन, काने दा जद मौसम मुक्के ।
कौमां दे अदरश गिरन पर अधोगती विच जाना पैंदा,
राजे विच अयोगता आयां झट्ट उद्ही थां दूजा लैंदा ।
इसे तरां कमज़ोरी मेरी दरद दरदियां दा खोह लीता,
ख़ार बणायआ अक्खां सन्दा, तख़तों सुट्ट निमाना कीता ।

(4)

इक्क समां उह सी जद मेरी हरी अंगूरी निकल रही सी,
गोडी, रूड़ी, पानी आदिक टहलां दी लग रही झड़ी सी ।
ज़रा कु धौन जदों खलेहारी, माली मेरा बण्या भउरा,
झक्खड़, धुप्प, सिल्हाबों, सेकों राखी करन विखे सी बउरा ।
इक दिन कूम्बल निक्कलदी नूं रोज़ सवेरे रहन्दा गिणदा,
सद्धर भर्या चाईं चाईं पोट्यां नाल उचायी मिणदा ।
चिड़ी जनौर न पत्ती तोड़े, भेड बक्करी मूंह न पावे,
कोइ बिलोड़ी शाख न निकले; टिंघ किसे विच विंग न आवे।
बालक वांग नहावे पूंझे ; गिड्डां मैलां झाड़े धोवे,
पालन पोसन, राखी चोरी तों बे-फ़िकरा घड़ी ना होवे ।
मेरे सुक्खी सांदी मौलन हेत, सुक्खणां सुखी दियां सन,
लहू चूलियां सिंज सिंज के टहलां मेरियां हो रहियां सन ।

(5)

भड़क दड़क मेरी भी आहा ! सच्ची मुच्ची ऐसी ही सी,
'होनहार बिरवा के चिकने पात' शलाघा ठीक मिरी सी ।
हर इक शाख लुसलुसी मेरी हरी कचाह मुलायम प्यारी,
अती मलूक बान दी लूईं वांग जिद्हे ते सी कंड्यारी ।
कोमल कलियां मिरियां दी, हां ! उह कच्ची कच्ची लाली,
किसे हिमाला वासनि देवी दे सुकुमार कपोलां वाली ।
चिकनायी अर चमक वासते कुदरत मक्खन झास कजावे,
झूटन खातर पट्ट-पंघूड़ा दायी पौन हिलायी जावे ।
माली दी मेहनत दे घर विच शदियाने दी ढोलक खड़की,
मैनूं जनम देन हित जिस दिन सिप्पी वांगर डोडी तिड़की ।
सी मेरे परवान चड़्हन विच भावें वकत अजे बहुतेरा,
पर मेरे दरशन दे चाखू पाउन लगे हुन तों ही फेरा ।
छिले विच्च मत अपदा कोयी मेरे कोमल मन ते आवे,
पोतड़्यां विच ढक्की रखदे आसों पासों पत्तर सावे ।
पर मेरी निर-अंकुश शोखी गूड़्हे रकत नशे विच मत्ती ।
इस परदे दे जीवन ताईं नहीं पसिन्द ल्यायी रत्ती ।
मार चटाका ज़ोर नाल मैं नवें जगत नूं देखन रुझ्झा,
राहियां उत्ते पा पा डोरे, लगा खल्हारन गुझ्झा गुझ्झा ।
तरेल, समीरों ठंढक लै के, अर सूरज दी पा गरमाई,
ज़रा कु होर सूतकों निकल हालत अद्ध-खिड़ी दी आई ।
देख उठान फबन मेरी नूं, भौर लगे दवारे ते परसन ।
हर पासे तों सद्धर उट्ठे, हो जावन खुल के हुन दरशन ।

(6)

जीवन इह मासूमी दा सी, गरमी सरदी नहं सी डिट्ठी,
प्या न वाह उतार चड़्हाई, चक्खी नहं सी कौड़ी मिट्ठी ।
उपकारी हत्थां विच होया मौलन फैलन सी सभ मेरा,
उसे तर्हां उपकार वासते मन विच जाग्या चाउ वधेरा ।
सद्धर चाउ, दरशकां दे ने कुझ मन विच उतशाह वधायआ,
यर कुछ अपने हुसन गरब ने मेरे सीने नूं उभरायआ ।
उठी लालसा दुनियां नूं कुझ आपना आप विखाना चाहीए,
पुशप जून नूं सफल करन हित, परउपकार कमाना चाहीए ।
पता न सी, इस हालत विच ही बच-बचायो है आपना सारा,
ज़रा कु होर अगेरे होया रोड़्ह लिजाउग काल-जल-धारा ।
मूरखता, चंचलता अथवा गरब हुसन दा ; जो कुझ भी सी,
दानायी अर दूरन्देशी मेरी उस ने खोह खड़ी सी ।
संगा लाह, उभर हो बैठा ; जोबन अपना सभ निखड़ायआ,
पूरणमा दे चन्द वांग मैं रूप रास दा ढेर लगायआ ।
बूहे खोल सखावत दे मैं : वंडन लग्गा महक अर मसती,
ठंढक, हुसन, तरावट अपनी सभ दे हेत लगायी ससती ।
जो आवे ठंढ्यावे अक्खां नाल सुगंधी तन मन ठारे,
रोक अमीर गरीबां ताईं कोइ नहीं सी मेर दवारे ।
भौरे हो लटबौरे फिरदे रूप मेरे दा राग सुणांदे,
संझ सवेर दरशकां सन्दे टोले आ आ जी परचांदे ।
पा के ठंढ असीसां दे दे, रूप मेरे दी महमा करदे,
मानुख छोड़ जनौरां तीकर हुसन मेरे दे होए बरदे ।
महक मेरी ने उड्ड चुफेरे बन नूं उपबन कर दिखलायआ,
आले दुआले जस्स मेरे ने डाढा सोहना रंग जमायआ ।
नौबत खूब वजायी आपनी शोभा भी खट्टी बहुतेरी,
धांक बिठायी सुन्दरता दी इशक हुसन पर होया ढेरी ।

(7)

पर सज्जन! अफसोस! जगत विच नहीं सथिरता ते इकरंगी,
इक इक पल इक नवीं ल्यावे अपने नाल खुशहाली तंगी ।
छल्ल समुन्दर दी उगलच्छे, इक पल घुग्गा, इक पल मोती,
इक धिर मंगल ते शदियाने, इक धिर होवे मौत खलोती ।
इक हत्थ देइ हकूमत डंडा, ठूठा दूजे हत्थ फड़ावे,
तख़तां वाले पा वखतां विच, कुदरत आपना खेल विखावे ।
अरशों डेग खाक विच रोले, किणका चुक्क अकाश पुचावे,
सागर ज्युर बणावे रेता, थलां विखे दरयाउ वहावे ।
मिट्टी दा चा सोना करदी, हीरे तों कंकर बण जांदे,
आवागौन गेड़ नित्त रहन्दा, खाली भरे, भरे सखणांदे ।
हर शै विच अनथिरता ने ऐसा अपना आप वसायआ,
जो आवे सो जावन खातर, जो जावे सो समझो आया ।
दिन आ के दे सोइ रात दी, चानन दी सुध देइ हनेरा,
कुदरत दे चरखे दा चक्कर, हर इक शै नूं देंदा फेरा ।
कायम है इक ज़ात प्रभू दी, होर सभस ने आ के जाणा,
अपना अपना वेला आया टिके न रंक ना अटके राना ।
काल बली दी चोट ना तरसे, देख हुसन या कोमलतायी ,
चन्द्र-मुखी महबूबां दी भी इस भांबड़ विच उहो गराही ।

(8)

इसे दरेड़ काल दी अन्दर, खड़ पुग्गी हुन मेरी आ के,
उठ चली वणजारी जिन्दगी, कुझ घड़ियां दी खेड विखा के ।
खाली करो मुसाफरखाना, घड़ियाली ने ठोकर मारी,
बद्धे भार मुसाफर भौरे, अमलां दी सिर चायी खारी ।
कुदरत नूं हुन मेरा रहणा, इक्क नज़र ना चंगा लग्गे,
ओहो बणाए वैरी मेरे, जो सन प्रितपालक अग्गे ।
किसमत उलट भए जिस वेले, अपने भी हो जान पराए,
हत्थीं छावां करन वाले, लहू दे बण जान तेहाए ।
सूरज जिस ने किरनां पा पा, मेरा जग विच बूटा लायआ,
उहो बना के तीर नुकीले, रूप रंग सभ फिक्का पायआ ।
धरती, जिस ने अपने विचों, बीजों चुक्क वजूद बणायआ,
हुन चाहे कर कूड़ा मेरा, आपने अन्दर फेर खपायआ ।
चुक्क लिगयी सुगंधी मेरी, विच अकाश समीर उडा के,
नरगस निगाह प्रेमियां वाली, झप्प लिगयी सुहप्पन आ के ।
शहद, पराग उडायआ मक्खी, छड़ां चलाय शिराजा भन्ने,
बन्न्ह बहारी वाला टुट्टा, : होयी सारी बरकत बन्ने ।
इक इक खंभ किरन हुन लग्गा, डिगदे सार झुलस्या जावे,
इउं मालक नूं धक्के पै के चमन विचों मिल गए बिदावे ।
हुने हुने इक मिरग सुनहरी हरी अंगूरी चरदा चरदा,
हां, इक हंस चुगेंदा मोती, नदी किनारे तरदा तरदा,
खेडां दा मुशताक कबूतर, गुटकूं गुटकूं करदा करदा,
काल बली दी भेट हो ग्या, जीउन दा दम भरदा भरदा ।

(9)

खेड हो गई पूरी सज्जन ! सुख डिट्ठे, दुख भी सी पाणा,
कुदरत दे अणमोड़ हुकम नूं, किस ताकत ने सी पलटाना ?
बड़े बड़े बलकारां वाले, दुनियां विच अटक ना सक्के,
उट्ठद्यां इक पलक न लग्गी, बैठे बन्न्ह टिकाने पक्के ।
रावन जैसे बली ना रहे, कारूं जैसे पदारथ-धारी,
शाह सिकन्दर जेहे तिजस्सी, हरनाखश जैसे हंकारी ।
हातम जैसे सखी तुर गए, वैद धनंतर जेहे स्याणे,
बिक्रम जैसे आदल दानी, नादरशाह जेहे जरवाने ।
इस शाही परवाने अग्गे, रत्ती ना उकाबरी चल्ली,
धन,परवार अकल अर बल ने मौत किसे दी मूल न ठल्ही।
ओसे हुकम हज़ूरी अन्दर, मैं भी अपनी खेड संभाली,
यर इस दा अफसोस नहीं कुझ, होयी है होवन ही वाली।
जो होयी सो वाहवा होई, जो बीती सो चंगी बीती,
पर तूं तां कुझ हाल मेरे तों सिखया हुन्दी धारन कीती ।
मैं आया, तुर ग्या जग तों, छड्ड ग्या की की लै तुर्या,
नाम निशान रेहा ना बाकी, बिरछों पत्त पुराना भुर्या ।
की की मेरी तुच्छ जीवनी, आपने पिच्छे छड्ड चली है ?
एस अनसथिर दुनियां अन्दर, वसत वेहाझन वाली की है ?

(10)

दुनियां दे विच आपो विच्ची, इक दूए तों सुख मिलदा है,
मैं तेरी, तूं मेरी सेवा, नेम परम्पर चल रेहा है ।
इक्क करे दूजा ना जाणे, इस नूं नाशुकरी कहन्दे ने,
क्रितघनता अर नाशुकरी तों, भले पुरश बचके रहन्दे ने,
क्रितघनता दा पाप जगत विच, सभ पापां तों कहन्दे भारा,
कीते नूं ना जानन वाला, घोर पातकी, नीच निकारा ।
ऐसे लोकां पासों दुनियां बच के परे परे है रहन्दी,
किसे लाभ दी आस उन्हां तों मन विच धार न लागे बहन्दी ।
तां ते एस पाप तों बचना वाजब हर इक जीव लई है,
जो इस औगुन तों नहं बचदा, उसदा जीवन शोकमयी है ।
अपने तों जो माड़ा होवे, सुख उस पासों होवे पायआ,
उसनूं भी उपकार समझ के, मन तों चाहीए नहीं भुलायआ ।
उह जे कुदरत दे हुकमां विच दुख सुख दे विच जा फस्या है,
निरबल है, बेसाहसता है, कशट कलेश सहार रेहा है ।
तद साडा है फरज़ कि उस दे नाल ज़रा अन्दोह जताईए,
उस दे दुख नूं अपना लख के उस दा हौला भार कराईए ।
उस दी पीड़ भुलाउन ख़ातर, जो बण सक्के अग्गे धरीए,
उस दी नेकी दे बदले विच उस दे नाल भलायी करीए ।
सिखया लयो, कि होर किसे पर जो उख्यायी आण पई है,
मत अपने पर भी आ जावे, अर इस विच संसा ही की है ?
कुदरत दी उलटा-पुलटी विच सुख दे आसन दुख आ बहन्दे,
सुखीए दुखी, दुखी सुख्यारे, रात दिन हुन्दे ही रहन्दे ।
दरद दिले दी ख़ातर ईशवर, जामा दित्ता है इनसानी,
नेकी ते भल्यायी दी ही दुनियां ते रह जाय निशानी ।
याद किसे जे कर आवे, उस दे जी नूं ठंढक पावे,
जीवन सफल उसे दा, 'चात्रिक' मर के भी वाहवा अखवावे ।

27. हिंमत दी फतह

पंज कुदरती ताकतां इक दिन पर्हा जमाण,
हर इक आपो आपनी लग्गी सिफ़त सुणान ।

(1)

दौलत आखे : जग्ग दी मैं कार चलावां,
जिद्धर जावां, हुन्दियां ने हत्थीं छावां ।
दिस्सन सत्ते बरकतां, जद जाय खलोवां,
उल्लू बोलन लग्गदे जे मैं ना होवां ।
मायआ मेरी तखत्यां तों तख़त बणावे,
जादू मेरा आकियां दी धौन निवावे ।
ऐबी मूरख घातकी ते नीच निगल्ले,
ढक्क लवां सभ ऐब मैं टक्यां दे थल्ले ।

(2)

अकल कहे : तूं छड्ड नीं झूठी वड्याई,
तैनूं पैदा कर रही मेरी दानायी ।
काढां रहन्दी कढदी मैं संझ सवेरे,
ढेर लगावां लभ्भ के मिट्टी 'चों तेरे ।
खोते दे गल लाल दी मैं परख सिखावां,
मूरख खेह रुलाईयों सांभी दानावां ।
तेरा खोज न दिसदा जे मैं ना आंदी,
पल्ले पै के अहमकां, पई धक्के खांदी ।

(3)

विदया आखे : अकल नूं मैं सान चड़्हावां,
दब्बे खज़ाने दान्यां दे हत्थ फड़ावां ।
इक अड़ेसे कलम दी, तखते उलटावां,
धरम ; न्यां ते रब्ब नूं मैं ही समझावां ।
दौलत वाले आलमां दा भरदे पाणी,
मेरे हत्थ हकूमतां दी कला भुआनी ।
बे-इलमां नूं मंग्यां भी ख़ैर ना पैंदा,
कलमों लहू जहान दा नित सुक्का रहन्दा ।

(4)

होनी घूरी वट्ट के गुस्से विच बोली :
बड़ बड़ की है कर रही इह पागल टोली ?
बखशश मेरे लंगरों सभ से नूं जुड़दी,
कलम वगी तकदीर दी किस पासों मुड़दी ?
वगदे वहन सुका द्यां, जल थलीं वहावां,
तखतों सुट्ट, सज़ाद्यां तों भट्ठ झुकावां ।
मूंह दी मूंह विच घुट्ट लां, जद घिट्ट मरोड़ां,
वागां जान न ठल्ल्हियां, मैं जिद्धर मोड़ां ।

(5)

हंमत उठ के शेर ज्युं, मारे ललकारा :
मेरी ताकत साहमने कोयी टिकन न हारा ।
ढाले नित नसीब नूं मेरी कुठ्याली,
फुल्ल खिड़ावां किसमतां दी सुक्की डाली ।
किसमत किसमत आख के ढिलड़ चिचलांदे,
हंमत वाले परबतां नूं चीर लिजांदे ।
हड्ड ना हिल्लन आपने किसमत नूं रोंदे,
चुंघियां भरदे हिंमती, जा अग्हां खलोंदे ।
सुत्ते लेख बहादरां, कर जुहद जगाए,
रेखीं मेखां मार के दिन फेर विखाए ।
किसमत वल दलिदरी प्या बिट बिट वेखे,
नकदो नकद चुकां मैं, मेहनत दे लेखे ।
औकड़ केडी आ पए, मैं करां सुखाली,
फूकां मार उडा द्यां, किसमत-घट काली ।
गज़नी विचों ठिल्ल्हियां, हिंमत दियां कांगां,
किसमत खड़ी अड़ुम्ब के, महमूदी सांगां ।
गौरी चड़्हआ गज्ज के, जद घत्त वहीरां,
किसमत पाटी अग्ग्यों, हो लीरां लीरां ।
जै चन्द आप वंगार के लंका लुटवाई,
नक्क नकेल गुलामियां दी वट्ट पुआई ।
हंमत कीती आजड़ी दिल्ली विच आ के,
तख़त ताऊस उडायआ, कतलाम मचा के ।
फेर निकल इक सूरमे, तलवार चलाई,
हंमत काबल जा वड़ी पै गई दुहायी ।
हंमत अक्खां मीटियां ; जिस वेले आ के,
किसमत चड़्ही पंजाब दी गैरां दी ढाके ।
धौला बद्दल उट्ठ्या इक लहन्दी गुट्ठों,
लभ्भी खान यकूत दी, मिट्टी दी मुट्ठों ।
कोठी आण बपार दी हिंमत ने पाई,
किसमत हिन्दुसतान दी ओहनें पलटायी ।
हंमत जेहड़े कंम नूं लक्क बन्न्ह खलोवे,
सुक्का कंडा फुल्ल के गुलदसता होवे ।
निय्यत घड़े मुराद नूं ला हिंमत तौणी,
पानी वांगर वग तुरे, जो पवे अड़ौनी ।
पक्की निय्यत धार के जो चौना चक्के,
रब्ब भी चात्रिक ओस दा फल रोक न सक्के ।

28. बुलबुला

(1)

ख़ाजा खिजर दे बाग़ द्या सुहल फुल्ला !
फुल फुल बहन्द्या ! चुंगियां भरद्या उइ !
सिर ते टोप सतवन्नियां पहन के ते,
पारे वांग झिलमिल-झिलमिल करद्या उइ !
डिगदे झरन्यां नूं कुद कुद फड़द्या उइ !
लहरां नाल बिद बिद तारी तरद्या उइ !
घुम्मणघेर विच फेरियां लैंद्या उइ !
पल विच जंमद्या ते पल विच मरद्या उइ !
लिशक-पुशक, मलूकी ते नाज़ नख़रे,
विन्न्ही जांदी है बांकी अदा तेरी ।
खा खा वढ्ढियां वधे होए मट्ट वांगर,
बझ्झी होयी है सोहनी हवा तेरी ।

(2)

बह के सोच ; इह झूलना महल तेरा,
किसे ढोल दे पोल ते खड़ा तां नहीं ?
किसे इशक दे वहन विच रुड़्ही जांदी,
सोहनी नार दा तूं कच्चा घड़ा तां नहीं ?
गुम्बद गोल विच नूर जहान दी थां,
किसे गड़े दी लाश दा थड़ा तां नहीं ?
जेहड़ी छल्ल दे सिर चड़्ह चड़्ह नच्चदा हैं,
वाजां मारदा ओस नूं रड़ा तां नहीं ?
आफर ग्यों तूं पलक दी झलक पा के,
आपनी उमर दी समझदा सार भी हैं ?
जेहड़ी हवा दे घोड़े ते चड़्ही बैठों,
उस दी इक चपेड़ दी मार भी हैं ?

(3)

अग्गों बुलबुले ने इह जवाब दित्ता,
तूं घबरा ना, ऐडा अणजान नहीं मैं ;
सिर ते बन्न्ह खफ्फन घरों निकल्या सां,
लंमी उमर ते वेचदा जान नहीं मैं ;
आए हवा भक्खी, डेरा कूच कीता,
घड़ियां पलां तों बहुत महमान नहीं मैं ;
पक्के पैंतड़े बन्न्ह के बहन वाला,
हरसां विच गलतान इनसान नहीं मैं ।
मैं तां हस्स के नूर विच नूर बणना,
तूं इह होर थे रागनी गा जा के,
ऐशां विच्च जो रब्ब भुलायी बैठे,
मौत उन्हां नूं याद करवा जा के ।

(4)

बन्दे वांग मैं अड्डियां रगड़दा नहीं,
मरन लग्ग्यां लत्तां अड़ाउंदा नहीं ;
जोड़ जोड़ सिकन्दर दे वांग माया,
पिच्छों सक्खने हत्थ विखाउंदा नहीं ;
रावन वांग मैं काल नूं बन्न्हदा नहीं,
ते शद्दाद वरगे बाग़ लाउंदा नहीं ;
लालां चट्टदा नहीं, जिन्द रोलदा नहीं,
टब्बर वासते बीमे कराउंदा नहीं ।
इह इनसान ही है, लोयी लाह जिस ने,
अड्ड छड्ड्या ऐड अडम्बरां नूं,
सारी धरती ते कबज़ा जमा चुक्का,
जफ्फे मारदा है चड़्ह चड़्ह अम्बरां नूं ।

(5)

तूं इनसान हैं रब्ब दा साहबज़ादा,
जिन्ना चाहें पाखंड रचायी जा तूं ;
दुनियां छली जा, दली जा, मली जा तूं,
वलगन वली जा, मौजां उडायी जा तूं ;
वेखी जाएगी अग्हां दी अग्हां वेले,
हाली हिरस दे जाल फैलायी जा तूं ;
मार मार मारां ढेर लायी जा तूं ।
खफ्फन अंत वेले खबरे लभ्भना नहीं,
ऐपर जीउंद्यां जी दा धरवास ही सही,
'चात्रिक' नाल तां एस ने चल्लना नहीं,
नरकां वासते पाप दी रास ही सही ।

29. झरने नाल गल्लां

प्रशन-

झरन्या यारा ! किन्हां वहणां च रुड़्हआ जा रेहों ?
बे-मुरादे दिल तरां, गोते ते गोते खा रेहों ?
पत्थरां ते मार सिर, की कीरने तूं कर रेहों ?
एह तसीहे रात दिन किस दी लगन विच ज़र रेहों ?
गेड़ विच हरदम रहन दी की तूं इल्लत ला लई ?
राह विच गोडा निवाउन दी है सहुं क्युं खा लई ?
सच्च दस, किस सिक्क ने लूं लूं तेरा तड़फायआ ?
भाल किस दी करन, पत्थर पाड़दा तूं आया ?
दरद किस दी चीस है, दिल-चीरवें इस शोर विच ?
लोर है किस इशक दा, इस बे-मुहारी तोर विच ?

उतर-

लेख विच मेरे धुरों पल्ले पई इह तोर है,
तोर विच ही ज़िन्दगी दा मरम करदा शोर है ।
उमर दे घड़्याल दी सूयी तरां नित्त चल्लणा,
हौसला ना हारना अर चाल नूं ना ठल्ल्हना ।
वधद्यां जाना अगेरे, मुड़ न पिच्छे तक्कणा,
मुशकलां नूं मलद्यां पैरां तले, ना थक्कना ।
अक्ख दरया केरवीं मेरी बहारां ला रही,
"हां, वधे चल्लो" पुकारां चाल मेरी पा रही ।
मैं इसे "द्रिड़्ह चाल" तों पाईआं मुरादां सारियां,
सिक्ख्या मेरे चल्लन तों, हौसला संसारियां ।

30. सत्त सवाल

बाबू सूरज नरायन मेहर (दिल्ली) दी
उरदू कविता दे आधार ते लिखी गई

(1)

सुण्यां वड्ड वडेर्यां तेर्यां दी,
शोभा खिलरी सारे जहान दे विच ।
ख़ानदान सी उह उच्ची आन वाला,
चमके शान जिस दी आसमान दे विच ।
राठ सूरमे, रिज़क ते अनख वाले,
उघ्घे बड़े सन दया ते दान दे विच ।
ऐपर सज्जना ! करीं हंकार ना तूं,
केवल जंम उच्चे खानदान दे विच ।
कंघी मार के दस्स खां ! विच तेरे,
ओन्हां वड्ड्यां दी कोयी चाल भी है ?

(2)

मन्न ल्या खज़ान्यां तेर्यां ते,
चोखा भाग परमातमा लायआ है,
छनक मनक ने अज्ज इकबाल तेरा,
फ़रशों चुक अरशां ते पुचायआ है,
हस्स खेड के लंघदा समां सारा,
सुपने विच भी दुक्ख ना पायआ है,
ऐशां असरतां विच ग़लतान सज्जन !
चेता होर दा भी कदे आया है,
एस बोहल विचों, दस्सीं, बुक्क भर के,
पूरा किसे दा कीता सवाल भी है ?

(3)

मन्न ल्या, तूं रहन नूं बड़े सोहणे,
मन्दर कोठियां बंगले पा लए ने ।
संगमरमरी फ़रश, रंगील छत्तां,
फुल्लां बूट्यां नाल महका लए ने ।
ढूंड ढूंड सजाउटां आंदियां ने,
अन्दर झाड़ फानूस भी ला लए ने ।
अन्न्हां रोड़्हआ माल गुलकारियां ते,
कौच कुरसियां मेज़ सजवा लए ने ।
किसे मित्र पराहुने दस्स तां सही,
खाधा अन्न, बह के तेरे नाल भी है ?

(4)

मन्न ल्या, तूं बड़ा बलकार वाला,
कर कर कसरतां देह लिशका लई तूं,
चौड़ी हिक्क ते ज़ोर विच भरे डौले,
गरदन शेर दे वांग अकड़ा लई तूं,
संगल तोड़दा मोटरां रोक लैंदा,
गड्डी हिक्क उतों दी लंघा लई तूं,
इस बलकार ते सज्जना ! आकड़ीं ना,
ताकत नाल जे धांक बैठा लई तूं ।
दस्स, खिमा ते हौसला हई पल्ले ?
ताकत नाल इनसाफ दा ख़याल भी है ?

(5)

मन्न ल्या, भई शहद दे घुट्ट आउण,
जीभ जदों तेरी बोल बोलदी है,
उछल उछल के दिल बाहर वार आवे,
जद तकरीर तेरी खिड़के खोलदी है,
भंभट पैन डिग डिग तेरी शमां उते,
हो हो गरम जद अत्थरू डोल्हदी है,
जादूगरा ! कमाल कर दस्स्यो ई,
ऐपर खबर कुझ ढोल दे पोलदी है ?
रोगी दुखी दा दरद वंडान खातर,
आया जीउ विच तेरे उबाल भी है ?

(6)

मन्न ल्या, विदवान ते चतुर भारा,
खोजी इलम दा, अकल दा कोट हैं तूं,
छक्के बहस दे विच छुडवाउंदा हैं,
कवियां पंडतां दे फड़दा खोट हैं तूं,
ऐम. ए पास, इंगलैंड रीटरन भी हैं,
कौंसल वासते जित्तदा वोट हैं तूं,
ऐपर पड़्हे ते अमल जे नहीं कीता,
हाली आल्हने तों डिग्गा बोट हैं तूं ।
दस्स : धरम, आचरन ते नेकियां दी,
कीती पोथियां दे विच्चों भाल भी है ?

(7)

रूप रंग तेरे, कीती दंग दुनियां,
मन्न ल्या तेरी उच्ची शान भी है,
सच्चे विच ढल्या अंग अंग तेरा,
नाल आग्याकार संतान भी है,
रिज़क, फ़ज़ल, इज़्ज़त, मिलख, हुकम-हासल,
किसमत वल्ल, साईं मेहरबान भी है,
सभ कुझ हुन्द्यां वी 'चात्रिक' याद कर खां,
पाप करद्यां कम्बदी जान भी है ?
प्रेम, सभयता, दया, भलमाणसी दा,
मूंह ते झलकदा रब्बी जलाल भी है ?

31. निम्रता

जिया ! उतर हंकार दे किंगरे तों,
नदियां वेख, नीवान वल वहन्दियां नूं,
मान मत्तियां छुट्टड़ां बहन्दियां नूं,
टहलां वालियां महलां विच रहन्दियां नूं,
पत्तन छल्लां दे वट्ट नूं चूप जांदे,
औधर वेख, ढिग्गां खुर खुर ढहन्दियां नूं,
सुरमे वांग हो, देख लै, रंग लगदा,
तलियां गोरियां ते चड़्हियां महन्दियां नूं ।

न्युं न्युं बेर समझाउंदी सिम्बलां नूं,
तोड़ पहुंचदे ढाल नूं जान वाले,
नेकी, निम्रता न्युन निरमान सेवा,
चारे वेस ने साईं रिझान वाले ।

अक्खां नाल दहलीज़ दे सीप गईआं,
जेड़्हियां प्रेम दी निगह ने कुट्ठियां ने ।
जोबन रूप दे मान नूं मनस दित्ता,
धौन सुट्ट के फेर ना उट्ठियां ने ।
तकवा मेहर दा रक्ख के ठिल पईआं,
ठाठां वेख ना परतियां पुट्ठियां ने ।
बेले चीर, लिताड़ लए, शेर सुत्ते,
प्रेम-लोर विच माही दियां मुट्ठियां ने ।

आपा ग़ाल के बीज दा रुक्ख बणदा,
नीवें होइ, उच्ची पदवी पायी दी ए ।
पैरीं डिग्ग के वेल चड़्ह सिखर जाए,
करामात इह सारी नरमायी दी ए ।

नीवीं बाउली दी रहे हिक्क ठंढी,
भौन परसदे ओस दे दवार उत्ते,
नीवीं नींह सिर डाह खलोवन्दी ए,
महल माड़ियां लैंदी उसार उत्ते,
नींवें घाह नूं कोयी ना ढाह सक्के ;
बेशक होन हनेरी दे वार उत्ते,
नीवीं रहे निगाह कुलवंतियां दी,
टिक्का जस्स दा लैन संसार उत्ते ।

न्युं के राम ने राम कर राम लीता,
लहने पायी गुर्यायी कमायी कर के,
'चात्रिक' जिते नीवां उच्चा हार जावे,
जिस ने पाई, पायी निम्रतायी कर के ।

32. नाशमान जहान

देख फुल फुल के न बहु इस चार दिन दी शान ते,
दिन कदी रहन्दे नहीं इक्को जेहे इनसान ते ।

माल दौलत, हुकम हासिल, लाउ लशकर, रंग राग,
फिलम फिरदी वेख, क्युं चाड़्ही निगह असमान ते ?

कंस, रावन. हिरनकश्शप काल ने सभ कड़ लए,
धौन अकड़ायी जिन्हां तलवार दे अभिमान ते ।

कोश कारूं दा सिकन्दर दी तली तों किर ग्या,
रह ग्या शद्दाद दा रच्या बहशत जहान ते ।

नाशमानी चीज़ पर, कायम समझ, जो विछ ग्या,
हस्सदे हन सूझ वाले, उस दे अगयान ते ।

छुट्टना है अंत जिस, उस नाल 'चात्रिक' जोड़ की ?
भाल सुच्चे लाल, ना भुल कचकड़े दी खान ते ।

33. महन्दी दी पुकार

इह कविता लगभग 1908 विच, इक उरदू नज़म
दे सहारे पर लिखी गई सी । हुन बहुत सारी कांट
छांट करके छापी जांदी है ।

परभात अक्खां खोल्हियां, सिर नूर ने सरकायआ,
लुक्या हनेरा रात दा, चानन पसारी मायआ ।

मिल बैठ्यां दे घातकी, अरथात कुक्कड़ पातकी,
सुखदायनी परभात दी, दित्ती वधायी आ सुना ।

मिट्ठी ते मट्ठी पौन ने, दित्ते हिलोरे आण के,
सुत्ते जो लम्बी तान के, ओह टुम्ब के दित्ते जगा ।

अनन्द-दायक पौन दी, उह सद्द महकां भिन्नड़ी,
पहुंची दिमागे जिस घड़ी, मैं बिसतरे तों जाग्या ।

संसार नूरो नूर नूं, आनन्द विच भरपूर नूं,
जद वेख्या मैं जाग के, दिल ना रेहा फिर रोक्या ।

उठ बाग वल नूं तुर प्या, इक वीह विच दी लंघ्या,
उथे मैं कौतक होर ही, दिल चीरवां इक देख्या ।

इक महल हेठां सी पई, बेही बिरंगी महन्दड़ी,
जिस नूं किसे सुकुमारि ने, धतकार के सी सुट्ट्या ।

इह कीरने सी कर रही, रो रो के उह दुखां सड़ी,
है हाय ! रात रात ही, 'सी की ते की हुन हो ग्या ?'

महन्दी दी दरदां वालड़ी, जद वाज इह कन्नीं पई,
ठल्ही तबियत ना रही, पुच्छी हकीकत पास जा ।

बोली ओ अग्गों रोइ के, आह वेख ! पास खलोइ के,
सिखया दा ग़ाहक होइ के, सुन लै मेरी कुझ विथ्या ।

बागां दे अन्दर किस तर्हां, पाली सां प्यारे मालियां,
कर कर सिंजाईआं गोडियां, परवान चाड़्ही प्रीत ला ।

जोबन जवानी दी लहर, दा आया जद मैं ते कहर,
सक्या न दिल मेरा ठहर, इक होर गल चाहुन लगा ।

होवे कोयी नव-योबना ; शिंगार मैं उस दा बणां,
हर वकत पास उस दे रहां, माणां मैं मौजां ही सदा ।

इह सिक्क दिल विच सी बड़ी, आवे कोयी सुख दी घड़ी,
किसमत मेरी ऐसी लड़ी उह हर वकत वी आ ढुक्क्या ।

माली ने इक दिन तोड़ के, डालां तों हाय विछोड़ के,
घर आण भन्न मरोड़ के, धुप्पे टिका, लीता सुका ।

फिर देख ! ओस बितरस ने, इक होर कीता कहर ए,
कर कर के चूरा हड्डियां, सुरमें तर्हां लीता बना ।

इक दिन अखीरी इह होई, नव-जोबना इक सी कोई,
जिस दी चिरां तों सिक्क सी, उस पास इन दित्ता पुचा ।

मैं धन्नवाद मनायआ, हुन तां समां उह आया ;
जिस दे मिलन दी तांघ विच, सी दुक्ख ऐना झाग्या ।

उस पयारे कोमल हत्थ ला पहले बना के गुन्न्हआ,
फिर नाल डाढी प्रीत दे, हत्थीं ते पैरीं ला ल्या ।

उस दे प्यारे सोहण्यां, हत्थां दे उप्पर लेटणा,
ते नाल चरनां लिपटणा, मैनूं बड़ा चंगा लगा ।

मैं हो गई खीवी जेही, सद्धर चिरां दी पर गई,
मैं की कहां उस वकत दा, आनन्द सी जो आ रेहा ।

बस रात भर उस सुन्दरी, दे हत्थ चुंमदी ही रही,
करदी सफल सां ज़िन्दगी, चरनां ते उस दे सिर टिका ।

मैं सुख सदा दे जान के, सौं रही लंमी तान के,
पर इक झड़ोले आण के, सुत्ती पई नूं टुम्ब्या ।

नीं ! जाग ! बहुता सौं न जा, उठ वेख तौर जहान दा,
जद बोल इह कन्नीं प्या, मेरा कलेजा धड़क्या ।

अक्खां उघड़दे सार ही उट्ठी ओ पलंघों लाडली,
हा ! हा ! न कह मैं सक्कदी, जो हाल मेरा होया ।

निस भर अनन्द मनाय के, रस चूप, चूप गवाय के,
मेरा रंग वी बदलाय के, हुन नाल नहुं दे पच्छ्या ।

उह नहुं केहे सी मारदी, इक फेरदी तलवार सी,
नक्क चाड़्हदी दुरकारदी, कोठे तों थल्ले पटक्या ।

जोबन दा बेड़ा रोड़्ह के, कासे न जोगी छोड़ के,
पहले अकाशे चाड़्ह के, पौड़ी लई तल्यों हटा ।

किसमत मेरी !हां !चन्दरी, झागे इह दुख खातर जिद्ही,
पाली न प्रीती ओस भी, ऐह हाल है हुन हो रेहा ।

खबरे इह चसका चैन दा, की की है होर दिखाउंदा,
इस तों भी भैड़ा दुक्खड़ा, पैना है केहड़ा पेश आ ।

की सां ते की हुन हो रही, सोने तों मिट्टी बण गई,
है ! हाय ! इस संसार दा, उह मुढ्ढ ते इह अंत हा ।

महन्दी दा सुणके हाल इह, मैनूं भी आया ख्याल इह,
सारे जगत दे नाल है ; एसे तर्हां ही वरतदा ।

जेहड़े सुखां दे वासते, लोकीं ने घालां घालदे,
योह अंत जद हन मुक्कदे, इस तों भी हुन्दा है बुरा ।

तां ते अनसथिर चैन ते, बहना कदे ना भुल के,
इह चार दिन दी चानणी, लहरां विखा होवे विदा ।

इह नाशमान जहान है, बदली इथे हर आन है,
मन्दर दे थां शमशान है, शादी दे विच्च ग़मियां सदा ।

आकाश दे इह फेर है, चानन दे थां अंधेर है,
दिन रात,सुख दुख,जनम खै इह गेड़ नित दिन चल रेहा ।

निसचिंत हो के ना बहे, हुश्यार हर वेले रहे,
इतबार रत्ती ना करे इस ठग समें दे तौर दा ।

34. बलद दी कहानी

(लगभग 1905 विच लिखी गई सी)

पा के जामा बलद दा, दुख घने उठाए,
हौके भरद्यां लंघदी, कुझ पेश न जाए,
कोयी न वाहरू दिस्सदा, सुन दुख हटाए,
असीं बिदोसे डाढ्यां दे काबू आए ॥1॥

जंमे मावां लाडले, ना दुद्ध चुंघायआ,
फड़ किरसान, मसूम दे गल रस्सा पायआ,
मैनूं दुद्धों वांज के सभ आप चुआया,
चौथा हिस्सा इक थण ; हिस्से विच आया ॥2॥

रुल खुल भला जि पल पए, कुझ आसंङ आई,
सिंङ न पावे उगने दुक्खां घट छाई,
निज्ज जुआनी आउंदी ना जणदी माई,
खीरे दन्दीं जट्ट ने पंजाली पायी ॥3॥

वेखी रज्ज बहार ना, सिर कज़ीए आए,
उमरा सी कुझ मौज दी, उस बन्न्ह चलाए,
पत्थर वरगी धरत नूं हल डाह पुटाए,
उत्तों जंगी नप्प के विच जिमीं धसाए ॥4॥

दो दो पहर दबल्लदे इकसाहे हो के,
खाधा पीता निक्कले परसीना हो के,
गड्डी हेठ जि आ गए मर जाईए ढो के,
वेखे आण जे अम्बड़ी गल लगीए रो के ॥5॥

फेर ना रक्खे जीउ ते सभ दुक्ख भुलाए,
ऐली ऐली करद्यां सभ कंम चलाए,
इह साडा बलकार भी ना वेख सुखाए,
लंमे पायआ जूड़ के पा नत्थ नथाए ॥6॥

कूले अंग सरीर दे थक चूरा होए,
सोहने कन्न्हे, जूल्यां दे नाल सुजोए,
पा पा पुड़े पंजालियां कीते अधमोए,
कावां ठूंगे मार के पा दित्ते टोए ॥7॥

दाना पट्ठा खान दा सी ठुक्क न कोई,
जद जी चाहे जट्ट दा, उह रक्खे जोई,
बैठे सुत्ते वगद्यां इह अटकल होई,
करीए पए उगालड़ी धरवासा सोयी ॥8॥

धुप्प जेठ दी कड़कदी, दिन सिर ते आया,
पंछी फड़क न सके जद, फल्हआं ते लायआ,
रात स्याली कक्करी फड़ जूला पायआ,
सीते आए वगद्यां पर सिर न हिलायआ ॥9॥

वेख जिनूं रत्त सुक्कदी, उह चारा सुक्का,
खल्लड़ भर्या खाय के भो सुक्क-भरुक्का,
डंडल खा ढिड भर ल्या जद पट्ठा मुक्का,
ज़हर मारके खांवदे सभ तीला तुक्का ॥10॥

आपनी मिझ्झ पंघार के जो तेल बणायआ,
उस दा फोग, जु खल रहे सु हिस्से आया,
उह भी भागां नाल ही विच तूड़ी पायआ,
छेईं छिमाहीं मेल के इक सेर खुआया ॥11॥

गिन गिन दस्स न सक्कदा जो कज़ीए पैंदे,
उच्ची नीवीं ज़िमीं विच नित डिगदे ढहन्दे,
वगदे दिन ते रात ही, बह साह न लैंदे,
गरमी सीत न वेखीए, मींह झक्खड़ वहन्दे ॥12॥

ढिड्डों भुक्खे सकत बिन, फिर नांह न होवे,
खूह, खरासे, हल्ल, जां सुहागे जोवे,
भावें गड्डी लद्द के उह कूड़ा ढोवे,
घालां घाल सरीर इह, फिर पुग्ग खलोवे ॥13॥

आसङ जाय जवाब दे, हड्ड हुन्दे बुढ्ढे,
उमरा लंघे वखत विच, हुन खांदे ठुड्डे,
खाली होईआं वक्खियां विच पै गए खुड्डे,
धक्के दे वा डेगदी, ज्युं कागत गुड्डे ॥14॥

पाले कौन मखट्टूआं बिन मालक सच्चे,
हर कोयी लागू कंम दा बिन कंम न जच्चे,
ओड़क दुक्खी, मौत दा आ भांबड़ मच्चे,
पिच्छा अजे न छड्डदे एह लोकी कच्चे ॥15॥

पुट्ठा कर के टंगदे फिर खल्ल लुहांदे,
बोटी बोटी वंडदे कुझ खौफ न खांदे,
गिरझां कावां कुत्त्यां तों मास तुड़वांदे,
हड्ड निमाने पीहन नूं परदेस पुचांदे ॥16॥

हस्से वखरे हो गए कुझ खाय लुटायआ,
बाकी रह गई खल्ल सी, तम्बूर मड़्हायआ,
पैंदी अजे भी मार है,दुख दून सवायआ,
कुझ्झ सिवा के जुत्तियां विच खेह रुलायआ
आ मन ! एस कहाणीओं, कुझ लाभ उठाईए,
इस नूं आपने आप ते धर के परताईए,
खा खा माल हराम दा ना ढिड्ड वधाईए,
मालक सच्चे रब्ब दी कुझ कार कमाईए ॥18॥

डंगर वलों वेख के इह फुरना आवे,
अकल वेहूना पशू भी सिक्ख सिखावे,
सेवक धरम निभाउंदा ना आप गिणावे,
खा के सवामी-अन्न नूं नित टहल कमावे ॥19॥

वारे आपा ओस तों ना सुख दुख वेखे,
कक्ख कंडा लै खांवदा, ना खल गुड़ पेखे,
देवे कार अमुल्लड़ी फिर करे न लेखे,
पशूयों असीं भरांद हो पै रहे भुलेखे ॥20॥

सवामी सच्चे दरों नित दातां खांदे,
चंग सुचंगी भेजदा घर बैठे पांदे,
दुरलभ जून मनुक्ख दी विच सभ जूनां दे,
पा के फेर अकाल दा ना शुकर अलांदे ॥21॥

ढग्गे, कुत्ते, बिल्यों, गए मोए मारे,
उह भी नाल इशार्यां खा शुकर उचारे,
असीं निलज्जे खाय के दो मार डकारे,
फेर उन्हां तों चंगियां नूं हत्थ पसारे ॥22॥

फिट्ट इवेहा जीव्या खा ढिड्ड वधायआ,
याद न कीता देणहार, ना शुकर अलायआ,
ना कुझ खाधा वंड के, ना भला कमायआ,
पीड़ बिगानी सहन दा ना चेता आया
आ मन मूरख ! बैठ के कुझ गोशट करीए,
पशूआं वांग सुआरीए जिस दर दा चरीए,
उस दी दित्ती दात दे कर हिस्से धरीए,
खाईए देईए होरनां, सुख सासीं मरीए ॥24॥

35. मायआ धारी

दुनियां दे व्युपारी !
चाल्यों उखड़े मायआधारी !
बाग़ बहशत दा फुल हो के,
कंड्यां नाल लगावें यारी ।1।

देवत्यां दा चोला पा के ;
प्रेम-नगर-पांधी अखवा के ;
मायआ दे चक्कर विच आ के,
ला बैठों इह की बीमारी ? ।2।

शाति-समुन्दर दा मोती तूं,
किस दलदल विच लायआ जी तूं,
तुरन लगे की खेप भरी सी ?
खोल्ही आ के की मुन्यारी ? ।3।

तेरा सी इकांत टिकाणा,
नदी किनारे बह बह गाणा,
मायआ भाल सुंढ दी गंढी,
बन बैठों भारा पनसारी ।4।

महक, खिड़ाउ, सुहप्पन पा के ।
हरि-मन्दर चड़्हना सी जा के ।
धसदा जायं धन्दालां दे विच,
लौंदा लौंदा अरश उडारी ।5।

दुनियां दी इस हेरा फेरी,
अक्खीं घट्टा पायआ तेरी,
जौं लै लए तूं कणकों सावीं,
रोड़्ह छडी हुश्यारी सारी ।6।

होश करीं, उइ मद-मतवाले ।
घिरे झमेले आले दुआले,
सुट्ट दे परे फिकर दियां पंडां,
कर लै आपनी जान न्यारी ।7।

विगड़ी नूं, हई वकत बना लै,
बेर डुल्हे चुन झोली पा लै,
छल ग्या 'चात्रिक' जे कर वेला,
पछतावेंगा जांदी वारी ।8।

36. फुट दे कारे

(सन्न 1927 दी हिन्दू-मुसलिम अशांती नूं देख के लिखी गई)

(1)

हन्दू मुसलिमां नूं जेहड़ी वग्ग गई ए,
जाने रब्ब, की ज़ुलम है आउन वाला ।
खबरे आपनी निगाह असमान चड़्ह गई,
या कोयी होर बैठा, तुणके लाउन वाला ।
यारो ! मरन मिट्टी काहदी चड़्ह गई जे ?
तुहानूं कोयी नहीं रेहा समझाउन वाला ?
कोयी अग्ग नूं नहीं बुझाउन जोगा,
जेहड़ा उट्ठदा है तेल पाउन वाला ।
घर दी अग्ग साडी लंका फूक सुट्टी,
बे-सलूकी ने कक्ख ना छड्ड्या है ।
हैंस्यार्यां दूतियां एस वेहड़े,
केहा सेह दा तक्कला गड्ड्या है ?

(2)

एस वहन विच प्यां, कुझ पता भी जे,
बेड़े गरक की की साडे हो रहे नें ?
मूधा हो ग्या तखत व्युपारियां दा,
उतों हस्सदे अन्दरों रो रहे नें ।
चांदी सोने दे थालां विच खान वाले,
मारे भुक्ख दे टोकरी ढो रहे नें ।
किरत कार रुजगार ते गड़ा पै ग्या,
लोकीं ज़िन्दगी तों हत्थ धो रहे नें ।
धोखा रिज़क दा, तौखला जान दा भी,
खतरा पग्ग दा, तौखला अन्न दा भी ।
कक्ख चुने गए एधरों उंञ साडे,
ओधर खौफ है पुलस दे डन्न दा भी ।

(3)

जेकर चाहो, हिन्दू जीउंदे नांह दिस्सण,
सोच लयो, जे है जे मुकान जोगे ।
मुसलमान भी गड्ड के गाड बह गए,
एह भी रहे नहीं पिछांह नूं जान जोगे ।
जे उह सेर ने तां सवा सेर दूजे,
फूक नाल नहीं दोवें उडान जोगे ।
फेर बोटियां कास नूं तोड़दे हो,
दाने बड़े ने दोहां दे खान जोगे ।
अन्दर बैठ के आओ नजिट्ठ लईए,
बुक्कल आपनी नशर करवाईए ना ।
यारो नव्हां ते मास दा साक साडा,
सत्थां सद्द के लीकां लुआईए ना ।

(4)

भायी हिन्दूयो ! हिन्द दे तुसीं मालक,
कोट अकल दे दौलत दी खान ही सही ।
भायी मुगलां द्यो वारसो, मुसलमानो !
तुसीं पातशाही खानदान ही सही ।
हन्दू निघ्घरे होए बेजान ही सही,
तुसीं सूरमे ते पहलवान ही सही ।
हन्दू सखी ते मुसलम सुलतान ही सही,
उह राजपूत ही सही, उह पठान ही सही ।
ऐस वेले तां सभ्भे गुलाम ही हो,
किद्हियां पतलियां मोटियां बेड़ियां जे ?
हत्थ वस्स तां दुहां दे भस्स वी नहीं,
काहनूं मुफत दियां रिक्कतां छेड़ियां जे ?

(5)

जड़्हीं तेल क्युं आपनी दे रहे हो ?
कुझ नहीं सौरना घर दी लड़ायी दे विच ।
खेड खाय के अंत नूं वस्सना जे,
दोहां एसे खुदा दी खुदायी दे विच ।
भरा भरावां दियां संघियां घुट्टदे हो,
पत्थर पै गए साडी दनायी दे विच ।
डुल्ल्हे बेरां दा अजे की विगड़्या है ?
बड़ा मज़ा है दिल दी सफायी दे विच ।
सोटा मार्यां पानी नहीं दो होणे,
इह हमसाए तां मां प्यु दे जाए होए ने ।
ओड़क असां ते तुसां ही कंम औणा,
सारे हेजले यार परताए होए ने ।

(6)

मिट्टी पा द्यो पिछलियां बीतियां ते,
अज्ज विछड़े वीर मिला द्यो खां !
गंगा-जमना ते दजले-फरात विच्चों,
सांझी एके दी नहर वहा द्यो खां !
विच्चों संख द्यों बांग दी वाज निकले,
मन्दर मसजिद दियां कंधां रला द्यो खां !
पंडत मुल्लां नूं जंञू नाल जुट्ट कर के,
भारत माता दी पूजा सिखा द्यो खां !
जो अखबार ने लूतियां लौन वाले,
फड़ के उन्हां दियां संघियां घुट्ट सुट्टो ।
पा के जफ्फियां 'चात्रिक' सलूक कर द्यो,
बूटा फुट्ट दा जड़्हां तों पुट्ट सुट्टो ।

37. होश दा छांटा

(अछूत उधार दी बाबत)
धारना:-'मैं तुह आख्या माही कि मारू देस ना जाईं'
ताल-14 मात्रा अंत ढगन 13 मात्रा अंत डगन कुल 27 मात्रा

उच्ची ज़ात दा हंकार कर कर आकड़न वाले !
उत्तों तूम्बड़ी दे वांग, विचों ज़हर दे पयाले ।
आ जा होश कर मग़रूर ! पुट्ठे छोड़ दे चाले ।
डुब्बों बाहमना तूं आप, ते जजमान भी गाले ।1।

काहनूं नव्हां नालों मास नूं निखड़ान लग्गा हैं ?
आपनी मौत दे समान बणान लग्गा हैं ?
घड़ के निशतरां दा हार, गल विच पान लग्गा हैं ?।2।

कह कह 'नीच' जेहड़े वीर तूं दुरकार देंदा हैं ।
जेकर शरन तेरी औन, धक्के मार देंदा हैं ।
झुक्या सिर उन्हां दा वेख, डांग उलार देंदा हैं ।
बाहवां अड्ड के जद आण दूर खल्हार देंदा हैं ।3।

उह तां सांझड़ा हन खून, पूंजी रास नीं तेरे,
लालां हीर्यां दी खान ते अलमास नीं तेरे,
तूं हैं फुल्ल ते उह बास, जीवन सास नीं तेरे,
खेती आपनी दी वाड़, मुखती दास नीं तेरे ।4।

सोना आप नूं जे थाप, लोहा उन्हां नूं मन्नें,
बन के छैणियां ते तीर, तैनूं लाणगे बन्ने,
वेखी जीउंदे ने हाल, चौड़ां तेरियां वन्ने,
आऊ होश जद उस नीच खोपड़ ऊच दे भन्ने ।5।

बाहवां भन्न के हे मूड़्ह ! धड़ फिर की बणावीगा,
आपने खून नूं ना डोल्ह, मूरख ! कंम आवीगा,
वीरां नाल तिणका तोड़, झुग्गा चौड़ जावीगा ?
खंभ खुहाय के नादान ! चोगा कौन पावीगा ?।6।

हे गुमराह ! आतमघात दी इह चाल है तेरी,
जिस नूं समझ्या तूं नीच, उह तां ढाल है तेरी,
आकड़, मान, शोभा, शान उस दे नाल है तेरी,
उस दे ज़ोर ते होर थाउं गलदी दाल है तेरी ।7।

तेरी वेख के करतूत, जे कर खार खा बैठा,
लांभे ढांडड़ी जा बाल, कोयी रंग ला बैठा,
एहो फुल्ल बण के खार जे तलवार चा बैठा,
उज्जड़ जायगा इह बाग, माली मूंह भुआ बैठा ।8।

ना कर जनम दा हंकार, शूदर जंमदे सारे,
बेड़ा करम लाउन पार, उस करतार दे दवारे,
बाहमन, खत्तरी जां वैस कोयी झाती ना मारे ।
अमलां देवना है साथ, ओड़क तुरदीए वारे ।9।

अड़ियां ना करीं अड़्या ! दवायी होश दी खा लै,
डिग्गे वीर नूं सिर चुंम, हिक्के घुट्ट के ला लै,
गल विच पा, वधूगी आब, मोती खिल्लरे चा लै,
रतनां दी अमुल्ली खान, बटूए सांभ के पा लै ।10।

ताकत दी नदी असगाह, बेमुल्ली रुड़्हाईं ना,
आपने लक्क दी तलवार, गैरां नूं फड़ाईं ना,
आपने बच्च्यां दी धौन, दुशमन तों कटाईं ना,
दन्दीं खोल्हनी पै जाय, ऐसी गंढ पाईं ना ।11।

चालों घुत्थ्या ! कर होश, चरबी अक्ख तों लाहीं,
अग्गे मौत दी है गार, केहड़े पै ग्यों राहीं ?
जेकर छल ग्या वेला, ए मुड़ हत्थ आउना नाहीं,
'चात्रिक' पायंगा फिर वैन, कर कर लम्बियां बाहीं ।12।

38. एके दी बरकत

(हिन्दू-सिक्ख-आरय-इतफाक प्रथाय)
सिक्ख सनातन आरीए, इक बिरछ दे डाल ।
तारे इक्को अक्ख दे, हीरे पन्ने लाल ।

(1)

उच्ची शान वाले, हिन्दुसतान वाले,
ला के जग्ग नूं जाग जगान वाले ।
वेदक फलसफे दी गीता वाच के ते,
धरम करम दा करम समझान वाले ।
राम कृष्ण दा चाड़्ह के चन्द सूरज,
भारत वरश दा अरश चमकान वाले ।
अकल, इलम, बहादरी, मालदारी,
नेकी, परेम दा बाग महकान वाले ।
मत्तां सारे जहान नूं देन वाले,
चीना आपना अज्ज खिलार बैठे ।
दे के नेउता जग्ग नूं एकता दा,
कंध आपने विच उसार बैठे ।

(2)

काहनूं हीर्यो ! पाटदे तिड़कदे हो ?
एके जेही रसैन तां कोयी भी नहीं ।
इक्क मुट्ठ हो के जेकर उभ्भरे ना,
मिलनी किसे दरगाह विच ढोयी भी नहीं ।
चौंके चाड़्हना तुसां संसार नूं की,
शुधी आपने दिलां दी होयी भी नहीं ।
हक्क नाल की लाओगे होरनां नूं,
माला परेम दी अजे परोयी भी नहीं ।
चानन जग्ग नूं देन तां निकले हो,
दीवा बूहे ते ज़रा जगा ल्यो जे ।
पहलां आपने वट्ट तां करो सिद्धे,
विच्छड़ ग्यां दे वैन भी पा ल्यो जे ।

(3)

इक्को देश ते इक्को उदेश साडा,
इक्को वेस इक्को रूप रंग साडा ।
इक्को फलसफा, इक तहज़ीब साडी,
मंजी वांग उण्या अंग अंग साडा ।
धियां बेटियां दे साक सैन सांझे,
मिल्यां बाझ ना लंघदा डंग साडा ।
साडी कुक्ख सांझी, साडी मड़्ही सांझी,
वयाह ढंग सांझा, पड़दा लंग साडा ।
इक्को रुक्ख दे टाहन हो तुसीं तिन्ने,
लक्ख वक्खरा वक्खरा नां होवे,
रल के बैठ्यां आप भी सुखी वस्सो,
नाले हक्क-हमसाए नूं छां होवे ।

(4)

मूंहों कौड़ियां फिक्कियां कढ्ढ के ते,
काहनूं नव्हां तों मास नखेड़दे हो ?
दब्बे होए मुरदार उखेड़ काहनूं,
हत्थ लहू दे नाल लबेड़दे हो ?
रायी लभ्भ पहाड़ बना सुट्टो,
क्युं नकारियां रिक्कतां छेड़दे हो ?
इह जमात हुन्दी करामात भारी,
तोपे प्रेम दे काहनूं उधेड़दे हो ?
आयो इक्क झंडे हेठ जम्हा हो के,
बूटा फुट्ट दा जड़्हां तों पट्ट लईए,
सांझा 'चात्रिक' ज़ोर लगाय के ते,
हिन्दुसतान दियां बेड़ियां कट्ट लईए ।

39. नवां शिवाला

(सर इकबाल दी उरदू कविता दा अनुवाद)

सच कह द्यां हे पंडत ! जे तूं बुरा न जाणें,
मन्दर तेरे दे ठाकुर हुन हो गए पुराने ।

वीरां दे नाल लड़ना, तैनूं इन्हां सिखायआ,
मूंह प्रेम तों फिरायआ, इस तेरे देवता ने ।

मैं अंत तंग आ के, मन्दर मसीत छड्डे,
मुल्लां दे वाज़ भुल्ले, विसरे तेरे फ़साने ।

कुझ फ़िकर फ़ुट्ट दा कर, माली हैं बाग़ दा तूं,
बूटे उजाड़ दिते इस वेहु भरी हवा ने ।

पत्थर दी मूरतां विच तूं रब्ब समझ्या है,
मैनूं वतन दी मिट्टी विच हापदा ख़ुदा है

आ मिल के ईरखा दी, जड़ मूल नूं उठाईए,
विछड़े भरा मिला के, दूयी दिलों हटाईए ।

सुंञी पई होयी है, जुग्गां तों दिल दी बसती,
आ इक नवां शिवाला इस देश विच बणाईए ।

दुनियां दे तीरथां तों उच्चा होवे इह तीरथ,
आकाश दी उचायी पर कलश नूं पुचाईए ।

फिर इक अती अनुपम सोने दी मूरती हो,
इस हर-दुआर मन विच, जिस नूं ल्या बिठाईए ।

सुन्दर हो उस दी सूरत, मोहनि हो उस दी मूरत,
उस देवता दे पासों मन दी मुराद पाईए ।

गल विच होवे जनेऊ, अोर हत्थ वच हो तसबी,
निरगुन दे मन्दरां विच, सरगुन नूं भी ध्याईए ।

दिल चीर के कराईए, दरशन सभस नूं उसदा,
हर आतमा दे अन्दर जवाला जेही जगाईए ।

अक्खां दी गंगधारा विचों वहा के पाणी,
इस देवता दे धो धो के चरन ठंढ पाईए ।

मसतक उहदे ते 'भारत' दा नां अंक देईए,
भुल्ले होए तराने दुनियां नूं फिर सुणाईए ।

परभात उठ के गाईए मंतर ओ मिट्ठे मिट्ठे,
सारे पुजारियां नूं मद परेम दी प्याईए ।

मन्दर दे विच होवे भगतां नूं जद बुलाणा,
आवाज़ बांग दी नूं फिर संख दे वजाईए ।

निरगुन जो है ओह जवाला कहन्दे ने प्रीत जिस नूं,
धरमां दे इह बखेड़े, उस अगन विच जलाईए ।

है रीत परेमियां दी, तन मन निशार करना,
रोणा, पुकार करना, उन्हां नूं प्यार करना ।

40. पंजाब

(1)

बणतर

पंजाब ! करां की सिफ़त तेरी, शानां दे सभ सामान तेरे,
जल-पौन तेरा, हरिऔल तेरी, दरया, परबत, मैदान तेरे ।

भारत दे सिर ते छत्र तेरा, तेरे सिर छत्तर हिमाला दा,
मोढे ते चादर बरफ़ां दी, सीने विच सेक जवाला दा ।

खब्बे हत्थ बरछी जमना दी, सज्जे हत्थ खड़ग अटक दा है,
पिछवाड़े बन्द चिटानां दा कोयी वैरी तोड़ ना सकदा है ।

अरशी बरकत रूं वांग उत्तर, चांदी ढेर लगांदी है,
चांदी ढल ढल के विछदी है ते सोना बणदी जांदी है ।

(2)

बरकतां

सिर सायबान है अम्बां दा, मसलन्द मखमली घावां दी,
चप्पे चप्पे ते फैल रही, दौलत तेर्यां दरयावां दी ।

घर तेरे गऊआं महियां ने, दुध घ्यु दी लहर लगायी है,
बाहर बलदां दियां जोगां ने, खलकत दी अग्ग बुझायी है ।

रौनक तेरी दियां रिशमां ने, ज़र्रा ज़र्रा चमकायआ है,
यूरप अमरीका भुल्ल ग्या, जिन तेरा दरशन पायआ है ।

शिमला, डलहौजी, मरी तिरे, कशमीर तिरा, गुलमरग तिरा,
दिली तेरी, लाहौर तिरा, अंमृतसर सोहे सवरग तिरा ।

(3)

सखावत

किस दिल विच तूं आबाद नहीं, किस रण विच नहीं निशान तिरा ?
किस मूंह विच तिरा अन्न नहीं, किस सिर ते नहीं अहसान तिरा ?

किस किस दी राल ना टपकी है, शौकत ते रहमत तेरी ते ?
लक्खां मखीर पए पलदे ने, तेर्यां फुल्लां दी ढेरी ते ।

तूं तखत ताऊस करोड़ां दा, सिर दा सदका मणसा दित्ता ।
'कोह-नूर' तली ते धरके तूं, दिल आपना चीर विखा दित्ता ।

हर मुशकल वेले तेरे ते उठदी है निगाह ज़माने दी,
सिर झूम रेहा है मसती दा, पी पी तेरे मैखाने दी ।

(4)

इतेहासक शान

तेरी तहज़ीब कदीमी है, इकबाल तिरा लासानी है ।
'तकसिला' तिरे इतेहासां दी इक धुन्दली जेही निशानी है ।

कुदरत पंघूड़ा घड़्या सी तैनूं, रिशियां अवतारां दा ।
सूफ़ियां, शहीदां, भगतां दा, बलबीरां, सतियां नारां दा ।

सच्याईयों सदका लैन लई, जद बोल्या मारू नाद कोई,
तद नकल प्या तबरेज़ कोई, पूरन कोई, प्रहलाद कोयी ।

लव-कुश दे तीर रहे वर्हदे, महाभारत दे घमसान रहे,
गुरू अरजन तेग बहादुर जहे तेरे तों देंदे जान रहे ।

बाबा नानक, बाबा फ़रीद, अपनी छाती ते पाले तूं ,
दुनियां नूं चानन देन लई, कई रोशन दीवे बाले तूं ।

(5)

साहस (जिगरा)

सिदकां विच तेरी इशक-लहर की की तारी तरदी न रही ?
रांझा कन्न पड़वांदा न रेहा, सोहनी डुब डुब मरदी ना रही ?

झक्खड़ बेअंत तेरे सिर ते आ आ के मिट मिट जांदे रहे,
फ़रज़न्द तिरे चड़्ह चड़्ह चरखीं आकाश तेरा चमकांदे रहे ।

जागे कई देश जगान लई, सुत्ते सौं गए सुलतान कई,
सिर तली धरी खंडा वांहदे, हीरे हो गए कुरबान कई ।

तूं सैद भी हैं, सय्याद भी हैं, शीरीं भी हैं, फ़रेहाद भी हैं,
ढल जान लई तूं मोम भी हैं पर लोड़ प्यां फौलाद भी हैं ।

तूं आज़ादी दा आगू हैं, तूं कुरबानी दा बानी हैं ।
हर औकड़ प्यां, भरावां दी, तूंहें करदा अग़वानी हैं ।

(6)

सुभाउ

तूं अन्दरों बाहरों निघ्घा हैं ना गरमी है ना पाला है,
ना बाहर कोयी दिखलावा है, ना अन्दर काला काला है ।

जोबन विच झलक जलाली है, नैणां विच मटक निराली है,
हक्कां विच हिंमत आली है, चेहरे ते गिट्ठ गिट्ठ लाली है ।

क्या चूड़े बीड़े फ़बदे ने, जोबन-मत्तियां मुट्यारां दे,
जद पान मधानी चाटी विच, तद शोर उट्ठन घुमकारां दे ।

कोयी तुम्बदी है कोयी कतदी है, कोयी पींहदी है कोयी छड़दी है,
कोयी सीउंदी कोयी परोंदी है, कोयी वेलां बूटे कढदी है ।

पिपलां दी छावें पींघां नूं कुद कुद मसती चड़्हदी है,
टुम्बदा है जोश जवानी नूं, इक छडदी है इक फड़दी है ।

जद रात चाननी खिड़दी है, कोयी राग इलाही छिड़दा है,
गिद्धे नूं लोहड़ा आंदा है, जोबन ते बिरहा भिड़दा है ।

वंझली वहना विच रुड़्हदी है, जद तूम्बा सिर धुण्यांदा है,
मिरज़ा प्या कूकां छडदा है, ते वारस हीर सुणांदा है ।

खूहां ते टिच टिच हुन्दी है, खेतां विच हल पए धसदे ने,
भत्ते छाह वेले ढुकदे ने, हाली तक्क तक्क के हसदे ने ।

तेरी माख्यों मिट्ठी बोली दी, जी करद्यां सिफ़त न रजदा है,
उरदू हिन्दी द्यां साज़ां विच, सुर-ताल तेरा ही वजदा है ।

(7)

सद्धर

वस्से रस्से, घर बार तिरा, जीवे जागे परवार तिरा,
मसजिद, मन्दर, दरबार तिरा, मियां, लाला, सरदार तिरा ।

दुनियां सारी भी सोहनी है, पर तेरा रंग न्यारा है,
तेरी मिट्टी दा कुल्ला भी, शाही महलां तों प्यारा है ।

तेरे ज़र्रे ज़र्रे अन्दर, अपणत्त जेही कोयी वसदी है,
तेरी गोदी विच बहन्द्यां ही, दुनियां दी चिंता नसदी है ।

दरग़ाही सद्दे आ गए ने, सामान त्यार सफ़र दा है,
पर तेरे बूहयों हिल्लन नूं, 'चात्रिक' दा जी नहीं करदा है ।

41. अंमृतसर, सिफतीं दा घर

धरतीए धरमग्ग अंमृतसर दीए !
पुन्न-पुशपां नाल लह लह करदीए !

प्रेम-रस दी टहकदी फुलवाड़ीए !
सच्च दी दरगाह अरशीं चाड़्हीए !

हड्ड-बीती आपनी कुझ दस्स खां,
चमक्या अकाश तेरा किस तर्हां ?

किस गुणों करतार तखत बहाईयों ?
सुरग दुनियां ते किवें लै आईयों ?

नूर केहड़े शान चमकायी तिरी ?
है किद्हे तप दी ए रुशनायी तिरी ?

गुपत है गंभीरता किस राज़ विच,
गूंजदी है सुर किद्ही इस साज़ विच ?

किस अकाशों उत्तरी मिट्टी तिरी ?
चमक जिस दे ज़र्रे ज़र्रे विच भरी ।

आदि-कवि शायद बना इतेहास राम,
कर छडी पावन तेरी देही तमाम ।

जूहां तिरियां जानकी महकाईआं ?
लव कुशू खबरे बहारां लाईआं ।

वाचदे मुनिवर रहे वेदक रिचां,
जग्ग होमां दी सुगंधी नाल जां ।

खिड़ उठी तेरी बगीची प्यार दी,
खिल्लरी शोभा तिरी महकार दी ।

हो ग्या पानी तिरा अंमृत समान,
काउं गोता मार के हो बण हंस जान ।

छप्पड़ी दुखभंजनी हई तिरी,
कुशटियां दी देह कुन्दन हो गई ।

पै ग्या जलवा तिरे ते नूर दा,
नीम होया मरतबा कोह तूर दा ।

जाच के प्रभुता तिरी गुरू रामदास,
अक्ख दे विच बखशआि तैनूं निवास ।

मुन्दरी पंजाब दी कुदरत घड़ी,
तूं नगीने वत गई उस ते जड़ी ।

कार इह अरजन गुरू सिर धर लई,
भाल अंमृत कुंड दी फिर कर लई ।

लभ्भ्या संतोख दा भांडा किते,
अरश तों बैकुंठ लै आंदा किते ।

तेरे सर विच होया हरिमन्दर त्यार,
अनहदी झुनकार दी खड़की सितार ।

खिंडियां चौतरफ रिशमां तेरियां,
तीरथां दे तेज लईआं फेरियां ।

भौन परसे आ तिरे दरबार ते,
हो गई मशहूर तूं संसार ते ।

फेर गोशा मल्ल्या जा रामसर,
अनुभवी अरशों उतर्या नाम-सर ।

भजन भगती दा तराना छेड़्या,
परेम सेवा दा बगीचा खेड़्या ।

शातिरस छटकार, गलियां रंगियां,
सच्च तों कुरबानियां फिर मंगियां ।

झल्ल के आपने ते अतयाचार नूं,
'परेम-खेल' सिखा गए संसार नूं ।

सिंजियां पावन लहू जद कयारियां,
मीरियां दी तेग चमकां मारियां ।

योग ने जद राज नाल मिलायी शान,
फड़ लए तूं हत्थ विच दोवें निशान ।

तखत छेवें गुरू रच के अकाल,
सिमरना ते खड़ग बद्धे नाल नाल ।

कर ग्या बाबा अटल्ल मीनार नूं,
बालपन विच परख के बलकार नूं ।

तूं बनी बीरां शहीदां दा थड़ा,
सच्च दे परवान्यां विच जिन्द पा ।

बन्द बन्द कटवान वाले आ गए,
चड़्ह के चरखीं चरख नूं चुंध्या गए ।

भड़था होए केयी सिदकी, अग्ग ते,
केयी सूलां राह अरशीं जा टिके ।

सच्च ते केयी चड़्हाव चड़्ह गए,
सीस तलियां ते टिकायी लड़ गए ।

जल तेरे ने मौत दा मूंह मोड़्या,
बन्दशां दे मोरचे नूं तोड़्या ।

रात नूं आ आ के कोयी न्हा ग्या,
धौन मस्से दी कोयी झटका ग्या ।

सच्च दे शैदाईआं दियां टोलियां,
खेडियां आ आ के लहू विच होलियां ।

दो दो वारी ताल तेरा पुर चुका,
फेर दूनी शान लै लै बण ग्या ।

प्रेम दे हड़्ह रोड़्ह मिट्टी लै गए,
ज़ुलम नूं भुगतान करने पै गए ।

भगति दे इतेहास दा तूं वरक हैं,
पर लहू दे दफतरां विच ग़रक हैं ।

प्रेम जानां खेडियां उपकार ते,
पर दुधारी सच्च दी तलवार ते ।

इस गए गुज़रे ज़माने विच भी,
शान तेरी हर जगह उच्ची रही ।

चमकदा सीने तेरे दा दाग है,
जल रेहा जल्यान वाला बाग है ।

रत्त डुल्ही जित्थे रंगा रंग दी,
खिल गई होली नेहत्थे जंग दी ।

गड्डां सिर तेरे तों केयी लंघियां,
लेख लिख लिख कानियां भी हंभियां ।

होर की मालूम हो के रहणियां,
लिखणियां इतेहास दे विच पैणियां ।

बहुत बीती रह गई थोड़ी जेही,
सुखसुखीं बीत जाय जे इह जिन्दगी ।

गोद तेरी विच समायी जे मिले,
ज़र्रा तेरी खाक दे विच जा रले ।

दम मिले देना जे तेरे दुआर ते,
जी के की लैना है फिर संसार ते ?

ज़ौक गलियां मल्लियां दिल्ली दियां,
मैं न डिट्ठा होर कुझ तेरे बिनां ।

अक्खां विचदी छाण्यां हिन्दोसतान,
शान पर तेरी न दिस्सी होर थान ।

चित्त नूं कुझ कुझ जची सी बम्बई,
पर हवा तेरी न ओथे भी मिली ।

डिट्ठी कंगाली किसे थां बरसदी,
जां कोयी नगरी अमीरां दी निरी ।

तूं अमीरां ते गरीबां दे लई,
गोद फैलायी होयी इको जही ।

तेरियां जूहां ते वीहां प्यारियां,
तेरे सिर तों बसतियां सभ वारियां ।

मोढ्यां दे नाल मोढे खह रहे,
हड़्ह तजारत दे तिरे विच वह रहे ।

नैं वगे ऐशवरज़ दौलत माल दी,
वनज दी मंडी न तेरे नाल दी ।

हर दसाउर दे सुदागर आ रहे,
भाग तिरियां शुहरतां नूं ला रहे ।

कसब ते कारीगरी तेरी कमाल,
हाथी दन्दां अर कलीनां आदि नाल ।

पुन्न दा परवाह चल्ले रात दिन,
कीरतन अट्ठे पहर हुन्दे रहन ।

पौन ते पानी तिरे हन बे नजीर,
रूप तेरे मात पायी काशमीर ।

खान पहनन मेल वरतन सोहणे,
बोल मिट्ठे, नरम दिल, मनमोहने !

चारे पासीं तेरे बागां दी बहार,
फुल्ल जित्थे खिड़ रहे ने दो सौ हज़ार ।

कालजां दा नक्क हिन्दुसतान दा ।

चुप चुपाता ते खड़ा गोबिन्द गड़्ह,
वग चुके जिथे कदी लहूआं दे हड़्ह ।

दुरग्याना भी उसे दे पास है,
लिख रेहा अपना नवां इतेहास है ।

लै रेहा नकशा तेरे दरबार दा,
पर नहीं जुरका किसे सरकार दा ।

मठ शहीदां दे अनेकां हन खड़े,
पत्तरे इतेहास दे उलटा रहे ।

ज़र्रा ज़र्रा तेरा नूरो नूर है,
नाम तेरा जग्ग ते मशहूर है ।

खूब वध फुल्ल, शाद रहु, आबाद रहु,
याद रक्ख 'चात्रिक' ! नूं हरदम याद रहु ।

42. स्रिशटी दा अरंभ

(1)

आराम विच सन सुत्तियां, कुदरत दियां ग़ुलकारियां,
खामोशियां दे सतर विच, सन बन्द सुरतां सारियां ।

कढ्ढे नहीं सन खंभ, हाली ज़िन्दगी दी वेल ने,
मख़मल दे फ़रशां पर मोती सन खिलारे तरेल ने ।

रंगां ते महकां दा जगत, कुक्खों नहीं सी आया,
आकाश ने न्हा धो के नूरी तिलक नहं सी लायआ ।
मैदान, परबत, घाटियां, झरने, तराईआं वादियां,
मिअ्हमार कुदरत दे, न रचियां सन अजे आबादियां ।

दिल दे उबालां ने, लहू अन्दर न आंदा जोश सी,
सागर उमंगां दा, तरंगां तों बिनां, बेहोश सी ।

तरबां नूं लरज़ां देन तों, असमरथ हाली साज़ सी,
पत्तीं वल्हेटी गंधि वांगर, चुप अजे आवाज़ सी ।

महफ़ल भखाउन नूं, शमां विच, अग्ग हाल जगी न सी,
लगरां नूं पींघ झुटान खातर मन्द पौन वगी न सी ।

सीना रती दा विन्न्हने नूं, तीर तिक्खे मैन दे,
कुदरत ने, साने चाड़्ह, ना तय्यार कीते सन अजे ।

ठाठां नहीं सन मारियां, जीवन नदी दी धार ने,
पासा नहीं सी, सुन्न नींदों, परत्या संसार ने ।

नख-सिख नहीं सी, फुल्ल दे मूंह ते, चितेरे अंग्या,
महन्दी दा सीना, गोरियां तलियां नहीं सी रंग्या ।

हर्याउलां ने मौल नहं सी सैल नूं सिंगार्या,
ना राग मिट्ठा पंछियां, टाहनी ते बैठ उचार्या ।

उनमाद ने सुर मेल, तम्बूरा नहीं सी छोहआ,
कर कर अदावां रूप ने, ना प्रेम नूं सी कोहआ !

(2)

फुरना जेहा इक यकबयक, बिजली दे वांगर कून्द्या,
थर्राट, हरकत, रगड़ गरमी, शबद इस तों प्रगट्या ।

टुट्टा तलिसम चुप्प दा, मूंह खुल ग्या रफ़तार दा,
डक्का जेहा हट्ट ग्या, जीवन नदी दी धार दा ।

धुनि ने सुरीला राग छोह के, सुरत नूं विकसायआ,
कुदरत-कली नूं, झून के, सीतल समीर जगायआ ।

चेतन्नता ने, जन्दरा खामोशियां दा लाहआ,
बातन ने, ज़ाहर हो के, जीवन-जोत नूं टिमकायआ ।

सुरजीत कीता बीज नूं, शकती दियां गरमाईआं,
मन दे उबालां सुरत कर के लीतियां अंगड़ाईआं ।

खुल्ली समाधी रूह दी, तरबां ने छोहआ नाच जां,
धड़कन लगा दिल कामनां दा, खून फड़ियां हरकतां ।

कुदरत कली दे वांग, निकली पड़द्यों चटकार के,
सूखम ने हो असथूल, डिट्ठे रंग झाती मार के ।

धर के दिशां दा नाम, गेड़ चलायआ आकाश ने,
उठ पूरबों पच्छम विछायआ बिसतरा परकाश ने ।

मोती खिलारे सेज ते, महबूब खातर रात ने,
इउं काल चक्कर दी टिकायी नींह कायानात ने ।

ठंढक पुचा के तरेल ने, उलटाए वरके फुल्ल दे,
परभात डिट्ठे जाग के महकां दे दफतर खुल्हदे ।

छिड़्या सुरीला राग, बिरछां ते बहारां आईआं,
संसार अक्खां खुल्हियां, तरबां सतार हिलाईआं ।

आई चटाका मार के, हसती दे अन्दर नेसती,
इउं स्रिशटी साजी जा के, 'चात्रिक' कार जग दी तुर पई ।

43. हिमाला

कुदरत दे हत्थां दी चिणी, चिटानां दी दीवार हिमाला,
सुहजां दा बाज़ार, खुदायी रहमत दा भंडार, हिमाला ।

इन्दर राजे दे लशकर दा, कोट किंगरेदार हिमाला,
भारत दे अणमुक्क ख़ज़ान्यां दी कुंजी-बरदार हिमाला ।

बाबे आदम दे वेले दा जटा जूट कोयी संत उदासी,
बूटियां धातां दी भर बगली, बैठा आसन ला सन्यासी ।

भानमती दा थैला सांभी, खेल करे उसताद मदारी,
वैद धनंतर दा कम्पौंडर, खोल्ही बैठा हट्ट पसारी ।

अरशों आया ताज चानणा, परबत राज सजायी बैठा,
कृष्ण साउला राधां गोरी नूं गलवकड़ी पायी बैठा ।

सुघड़ पथेरा सिलां बणावे, जोड़ जमा के हीरे-कणियां,
किरनां नूं भरमावे जौहरी, दस दस चन्दरकांता मणियां ।

सैल गलेफ़ बणांदा है, हलवायी असमानी मठ्याई,
सुरगों लत्था काला द्यु सफैद परी नूं मोढे चायी ।

लायी बैठा रब्बी रंगां-महकां दा बाज़ार फुलेरा,
हरी हरी मसलन्द विछा के, कुदरत रानी पायआ डेरा ।

टिम्बर दे सौदागर ने, ला चिट्टे तम्बू छौनी पाई,
फल मेवे दे पिट्ठू भर भर, रसां रसां ने लाम लगायी ।

आबशारां दा राग रसीला, चशम्यां दा दिल प्या उछाले,
पत्थर दिल हो हो पानी पाणी, प्या वहावे नदियां नाले ।

वाह हिमाला ! वाह हिमाला ! वाहवा तेरे उच्च मुनारे,
वाह लिशकां !वाह दातां तिरियां !वाह तेरे अणडिट्ठ नज़ारे ।

सबज़े नूं सुरजीत करें तूं, सुन्दरता नूं सच्चे ढालें,
ठंडक दा परवाह चलावें, दुनियां नूं घर जा जा पालें ।

रंग तेरे गुलज़ारां विच ते राग तेरा आबशारां अन्दर,
मिट्ठत तेरी मेव्यां विच ते मेहर वहन्दियां धारां अन्दर ।

पैर पतालीं गड्डे, गल्लां करे आकाशां नाल अटारी,
काबल ब्रहमा नाल यराने, नाल समुन्दरां कुड़माचारी ।

उतरी धरुव दे जादू वांग, तलिसम तेरा वी कदे ना टुट्टा,
ना तेरे दरया ठल्हे ते ना तेरा भंडार निखुट्टा ।

पाल रेहा हैं, खलकत नूं, तूं आपना लहू पसीना कर के,
लूं लूं अपना वंड रेहा हैं, छाती उत्ते पत्थर धर के ।

उठदे ने जद काले बदल, बोहल तेरे तों पंडां चा के,
चांदी सोना जान खिलारी, झड़ियां ला के रेड़्ह वहा के ।

भारत दे चप्पे चप्पे ते तेरी बरकत ल्या उतारा,
सिद्धे पुट्ठे हत्थीं दे दे, कट्टे दुक्ख दलिद्दर सारा ।

जुग्गां तों अहसान तिरा इह साडे सिर ते हुन्दा आया,
पर तेरा अणटोट ख़ज़ाना होइ दिनो दिन दून सवायआ ।

कामधेन ते कलपबरिच्छ दी सुनी सुणायी इक कहाणी,
तूं परतक्ख दोहां नूं कीता, वंड वलाह के दाना पानी ।

सदा जवान रहें तूं शाला, वस्से तेरी उच्च अटारी,
साईं तेरे लंगर 'चात्रिक' परलो तीकर रक्खे जारी ।

44. झरना (आबशार)

उच्यो्यों टिल्ल्यों बरफ़ां ढलियां, छड तुर्या घर बार ओ यार !
सिरतलवाईआं हो के नट्ठियां, करदियां मारो मार ओ यार !

सिदक उडाईआं उड के आंईआं, आ बणियां अबशार ओ यार !
वाह अबशारा ! बांक्या यारा ! सुन्दर रूप अपार ओ यार !

रंग बलौरी, चमक ज़मुरदी, नीलम दा झलकार ओ यार !
रग रग दे विच शमशी रशमां, खेड़ी नूर बहार ओ यार !

मासूमां दे हिरदे वांगर निरमल तेरी धार ओ यार !
सीतल छुह, अणडिट्ठा दरशन, तन मन देवे ठार ओ यार !

इशक-लहर विच रुड़्हआ जावें जिन्दड़ी करन निसार ओ यार !
चाल समें दी वांगर इक रस वजदी तेरी तार ओ यार !

झर झर झरन तेरी दियां झोकां, पंछी लैन खल्हार ओ यार !
गज्जें गुड़्हकें बद्दल वांगर छेड़ें देस मल्हार ओ यार !

निगाह न टिकदी चाल तेरी ते, देवें सुरत विसार ओ यार !
प्रेम-उबाला झग्गो झग्गी, होवे डिगद्यां सार ओ यार !

पटक पटक के ज़ुहद कमावें, ढूंडें मुकत-दुआर ओ यार !
पयारे दा बलकार वधांदा, हो जावें बलेहार ओ यार !

होवें शांत बगल विच बह के, प्रीतम दे दरबार ओ यार !
ऐसा मिलें कि फेर न विछड़ें, हो जावें इकसार ओ यार !

45. फुहारा

पानी दा इक बूटा डिट्ठा (जेहड़ा) मोतियां झाड़ झड़ैंदा ।
चन्दों सुहणा, बरफ़ों चिट्टा, हर दम खिड़्या रहन्दा ।
लै सतवन्नियां रिशमां शमशी, हीर्यां नूं झलकैंदा ।
उठ उठ चड़्हदा, चड़्ह चड़्ह लहन्दा, सिर तलवायआ पैंदा ।
सिक्क वसल दी ठाठां मारे, प्रेम उछाले लैंदा ।
सबर वेहूने असक वांगर टिक के पलक न बहन्दा ।
जोबन हुसन हुलारे खांदा, ठल्हआ मूल न वैंदा ।
चुंगियां मारे सिदक न हारे, डिग डिग चोटां सहन्दा ।
इशके कुट्ठ्यां नैणां वांगर, छम छम छम छम वहन्दा ।
माही नाल मिलन दी खातर पुरज़े हो हो लहन्दा ।
कदमां दे विच आ के विछदा (पर) मूंहों कुझ नहीं कहन्दा ।
माही नाल माही बण बहन्दा (जदों) आण दुआरे ढहन्दा ।

46. गुलाब दा फुल

खिड़्या फुल्ल गुलाब द्या ! तूं कित वल खिड़ खिड़ हस्सें ?
पींघे चड़्हआ लएं हुलारे, दिल राहियां दा खस्सें ।

मूंह ते लाली (तेरे) चित खुशाली, (अते) लटक महबूबां वाली,
अक्खियां नाल अवाज़े कस कस अक्खियां दे विच धस्सें ।

हातम वांग लुटावें लपटां वंड वंड हुसन न रज्जें,
सोहण्या दा चा बणें विछौणा, (भावें) खुद कंड्या विच वस्सें ।

ठंढक पावें, महक खिंडावें, महलां विच जद जावें,
हसदा हसदा टहल कमावें, चन्दन वांगर घस्सें ।

पर अड़्या इक अजब अड़ौणी, गंढ न साथों खुले,
वलां छलां विच उमर गुज़ारें, भेत न दिल दा दस्सें ।

इशक अगन विच झुलसे होए, क्युं नहीं तैथों ठरदे ?
भुल्ल भुलेखे तैंधर लंघन (तद) फ़नियर वांगर डस्सें ।

सारी दुनियां (तेरी) सोभा करदी, आशक दूरों ड्रदे,
किसमत मार्यां ते तूं भी तीर कमानां कस्सें ?

आखन लगा, पुच्छ न सजना (मेरा) जंगल दे विच वासा,
सूली उत्ते टंग्या होयां (मैनूं) की औना सी हासा ।

सिक्कां सिकद्यां दीदे खुल्हदे, अग्गों की कुझ दिस्से,
अक्ख फरकन जीउना जापे, पानी विच पतासा !

संझ सवेरे (कोई) मत्थे लग्गे (तद) बिट बिट तक्कन लग्गां,
धुड़कू एहो, (मत) वंज्या जावां, वसलों बाझ प्यासा ।

सोहण्यां नूं मैं सोहना लग्गां, (मैनूं) सोहने लग्गन चंगे,
उड उड चम्बड़ां कोयी लै गल लावे मैं दिल नूं द्यां दिलासा ।

उग्या, जंम्या, खिड़्या, मुड़्या, दुनियां दा की डिट्ठा ?
उजड़ जावे (मत) खेप हुसन दी, दम दा की भरवासा ?

जे कुझ मैथों सरदा पुजदा, काहली काहली वंडां,
रैन बसेरा कर के ओड़क, मल्लना अगला पासा ।

आशक दा दिल सड़्या भुज्ज्या, (मैनूं) सेक दुरेड्यों आवे,
जिस गल दी मेरे दिल विच सद्धर, (ओथे) मुसकान आवे मासा,

कोमल जिन्दड़ी (मेरी) उमर छुटेरी, ओधर बलदियां आहीं,
इशक भबूका (मैथों) होवे, 'चात्रिक कूड़ी आसा ।

47. बसंत

कक्करां ने लुट्ट पुट्ट नंग कर छड्डे रुक्ख,
हो गए नेहाल अज्ज पुंगर के डालियां ।
डालियां कचाह वांग कूलियां नूं जिन्द पई,
आल्हने दे बोटां वांग खंभियां उछालियां ।
बाग़ां विच बूट्यां ने डोडियां उभारियां ते,
मिट्ठी मिट्ठी पौन आ के सुत्तियां उठालियां ।
खिड़ खिड़ हसदियां वस्स्या जहान वेख,
गुट्टे उत्ते केसर, गुलाब उते लालियां ।
फुल्लां भरे गमल्यां नूं जोड़्या कतार बन्न्ह,
हरी हरी घाह दी विछायी उत्ते मालियां ।
बुलबुल फुल्ल फुल्ल, फुल्लां दे सदक्के लए,
भौरे लटबौर्यां नूं आईआं ख़ुशहालियां ।
पंछियां ने गाव्या हिंडोल ते बसंत राग,
चिरां पिछों रब्ब ने मुरादां ने विखालियां ।
केसरी दुपट्टे नूं बसंत कौर पहन जदों,
डोरे दार नैणां विचों सुट्टियां गुलालियां ।

48. गंगा

नरायन दियां प्रेम-तरंगां जद उछाल विच आईआं,
सूरज ने ओह उडण-खटोले चाड़्ह आकाश पुजाईआं ।

देवत्यां दे दिल विच वस के, इह लहरां ठर गईआं,
उपकार दियां सधरां बण बण सुरगों निकल पईआं ।

परेम-बगीचे जंमियां पलियां, दिल दियां कोमल कलियां,
नेकी दी महकार खिलारन, मात लोक वल चलियां ।

तरेल-कनी दे वांग मलूकां, सीतल नूरी परियां,
पहन सफैद पुशाकां तुरियां, बण बण शक्कर-तरियां ।

सट्टां दी परवाह ना कीती, डिग्गन तों ना ड्रियां,
रब्बी रहमत वांग उतर, जी खोल्ह खोल्ह, के वर्हियां ।

जटां खिलारी, शंकर रूप हिमाला अग्गे आया,
अरशों आई बरकत नूं उस घुट घुट अपणायआ ।

इह मासूम, निरमला, गोरी, गई जटां ते ठग्गी,
मुड़्हको, मुड़्हका होन लगी, जद जोगी दे गल लग्गी ।

सिंजर गई पती दे सीने, नस नस विच समाई,
लै लै उस दे दिली सुनेहे, बाहर गुफ़ा तों आई ।

ठंढी ठरी, पाक नूरानी इस गंगा दी धारा,
फ़ज़लां दा दरया ठेल्हन नूं लीता हेठ उतारा ।

झर झर झिरी, सैल ते पटकी, बुड़्हकी, ढट्ठी, नस्सी,
रोकां, अटकां नाल झगड़दी, गज्जी, गुड़्हकी, वस्सी ।

सहमी, रुकी, फेर उठ दौड़ी, खा खा झाट कलावे,
सखी सहेली जेहड़ी दिस्से, नाल घसीटी जावे ।

चन्दे नाल रचांदी रासां, तारे गोद खिडांदी,
किरनां दे मूंह पानी भरदी वा नूं ठंढक पांदी ।

सैलानन सैलां दे सिर ते सेहरे जाय चड़्हाई,
आल दुआले जाय विछाई, हरी हरी दर्यायी ।

चट्टी जाय चिटानां ताईं, मार मार के धक्के,
कंढी खड़े किनार्यां दे वल, त्युड़ियां पा पा तक्के ।

भागीरथ दे पितर उधारे, रिशियां दे दिल ठारे,
औखियां घाटियां चीर पाड़, मैदानीं लए उतारे ।

होन लगे पहु पंध मोकले, पधराईआं विच आ के,
कांग चड़्ही उपकारां दी, त्रिशनां नूं तकद्यां पा के ।

सज्जे खब्बे झोलियां भर भर, दौलत डोल्ही जावे,
ज्युं ज्युं सखी लुटावे, त्युं त्युं साईं बरकत पावे ।

नाज़क शाख़ तुरी परबत तों, इह उपकारन बोरी,
झड़दी झाड़ गई रसते विच, हुन्दी गई वडेरी ।

नारायन दे दिल दे अन्दर शंकर सीस चड़्हाई,
सुरगां दी सुरसुरी जगत विच शोभा खट्टन आई ।

जेहड़ी राहीं लंघदी जावे, दुनियां जाय वसाई,
महमा करे लुकायी 'चात्रिक' जै जै गंगा मायी ।

49. अटक दरया

अटका वे ! तूं अटक पटकदा, लटकीं मटकीं वहना एं ।
खड़ खड़ कल कल, सां सां, रीं रीं, खबरे की की कहना एं ।

नागन वांग वलेवें खा खा, वांग ज़ुलफ़ दे कुंडल पा पा,
वहें कलम तकदीरी वांगर, वरज्या मूल ना रहना एं ।

उछलें, बुड़्हकें, हम्बले मारें, त्युड़ियां वटें, झग्ग खिलारें,
आशक दे दिल वांग बिसबरा ! चउ कर के न बहना एं ।

नचदा टपदा, चुंगियां भरदा ऐली ऐली करदा करदा,
घुम्मर पांदा, शोर मचांदा, पंध लमेरे पैना एं ।

ढकियां, परबत, जंगल, वाड़ी, जो कुझ वेखें, जायं लताड़ीं,
फतह दमामे वजदे जांदे मूंह जित वल धर लैना एं ।

कूल्हां झरने आल दुआले, जाएं घसीटी नदियां नाले,
पत्थर वट्टा रोड़्हीं जावें, नाल चिटानां खहना एं ।

किधरे डिगना एं सिरतलवायआ, किधरे थाली विच टिकायआ,
आकड़ चौड़ा हो बहें किधरे बिल्ली वांगर छहना एं ।

किधरे हाथी हाथ न लैंदे, किधरे गाहन बरेते पैंदे,
मन दियां मौजां वांग अमोड़ा ! हरदम चड़्हदा लहना एं ।

पद्धर विच जद पैर पसारें ढिगां चूरी वांग डकारें,
ढाहं उसारें डोबे तारें, कहियां फड़ फड़ डहना एं ।

आकड़ ज़ोर दिखायं बुतेरा, ओड़क कक्ख न रहन्दा तेरा,
कतरे वांग समुन्दर दे विच सिर परने जद ढहना एं ।

50. फुहारा

(अम्रीकन कवी जेमज़ रसल लावैल दी कविता दा अनुवाद)

(1)
ठंढ्या ! मिट्ठ्या ! उच्च्या सार्या !
पयार्या पयार्या, मीत फव्वार्या !
कुदरत हत्थ द्या सिंज्या पाल्या !
जल द्या बूट्या ! मोतियां वाल्या !

(2)
धुप्प दी झलक दे नाल खिड़ जायं तूं,
खुल सतवन्नियां नूर फैलायं तूं ।
लिशकदा पुसकदा चुंगियां लाउंदा,
सवेर तों लग्ग तूं संझ लै आउंदा ।

(3)
चन्द दी लोइ झलकार जद मारदी,
बरफ़ तों चिट्टियां छबां लिशकारदी ।
परेम बुल्ला जदों वाउ दा वग्गदा,
फुल्ल दे वांग तूं झूलने लग्गदा ।

(4)
टिमकदे तार्यां नाल तूं हस्सदा,
झग्ग भर उत्हां नूं टप्पदा नस्सदा ।
रात है चुप्प पर मगन तूं तोर विच,
दिने भी मसत तूं आपने लोर विच ।

(5)
नित्त ही हल्लना चल्लना जाणदा,
हसद्यां खिड़द्यां मौज नूं माणदा ।
वल्ल असमान दे चड़्हन नूं तक्कदा,
चड़्हद्यां कदे ना थक्कदा अक्कदा ।

(6)
पलदा हर किसे रुत्त दे नाल तूं,
सोहण्यों सोहना रहें हर हाल तूं ।
सिरों लै पैरां तक्क चाल ही चाल है,
चल्लदी बड़े संतोख दे नाल है ।

(7)
इक्क सुभाउ तुध विच भरपूर है,
ठल्ल्हना जिद्हा समरत्थ तों दूर है ।
वट्टदा भी रहें अक्ख दे फोर विच,
फ़रक ना आइ पर तोर दे लोर विच ।

(8)
इच्छ्या धार तूं हांभ ना तोड़दा,
सिदक ना हारदा सबक ना छोड़दा ।
गरमियां सरदियां वेख सिर आईआं,
हुस्सड़ें ना कदे, इहो वड्याईआं ।

(9)
शान शिंगार्या ! इहो फ़वार्या !
दिल मेरा काश ! हो जाय खां पयार्या !
खिड़खिड़ा, बदलवां, डोल तों बाहरा,
वांग तेरे सदा उत्हां नूं जा रेहा ।

51. रात

(1)

लैला ! तूं बेशक काली हैं, पर बड़े नसीबां वाली हैं ।
दुनियां दी मारा मारी तों, इक पासे रब्ब बहाली हैं ।
थक्के टुट्टे दी खाहड़ू हैं, सेवा दे विच मतवाली हैं ।
कुदरत ने पुत्तली अक्खां दी, तूं काले सच्चे ढाली हैं ।

(2)

जद तेरा सायआ पैंदा है, अम्बर शतरंज विछांदा है ।
गरमी दा राज पलटदा है, सूरज थक्क के सौं जांदा है ।
आराम बगीची खिड़दी है, ठंढक दा पहरा आंदा है ।
मेहनत नूं छुट्टी मिलदी है, बिसतर मज़दूर जमांदा है ।

(3)

तूं गोद जदों फैलांदी हैं, दुनियां दी चिंता नसदी है ।
किरती दी धूख निकलदी है, नींदर जद तलियां झसदी है ।
अरसां ते महफ़ल भखदी है, बाग़ां दी खलकत हसदी है ।
महकार उडारी भरदा है, पर तरेल छमा-छम वसदी है ।

(4)

जद राज तेरा छा जांदा है, दरबार सरूर लगांदा है ।
चुप-चां दी नगरी वसदी है, कंमी नूं चन्द हसांदा है ।
आलाप नदी दा छिड़दा है, परबत सुन ढल ढल आंदा है ।
तारे मोती बरसांदे हन, अर खेत संभाली जांदा है ।

(5)

दिन भर जद लहू पसीना कर, हाली चूरा हो जांदा है,
तेरी गोदी विच बहन्दा ही सुरगां दे झूटे खांदा है ।
इक राजा सेज सजांदा है, इक मंगता टाट विछांदा है,
सुपना इक तेरी मायआ दा, दोहां दा फरक मिटांदा है ।

(6)

पांधी थक के बह जावे जां, तूं आपने पास टिकांदी हैं ।
पशूआं नूं लायं उगाली ते, पंछी थपकार सुआंदी हैं ।
हरनां नूं गोदे पा लैंदी, शेरां नूं जदों जगांदी हैं ।
सुख नींद सुआ के वसती नूं, जंगल विच रास रचांदी हैं ।

(7)

इक पासे परेम तड़फदा है, इकधिर हसरत कुरलांदी है,
बेदरदन नदी विछोड़े दी, विचकार पई तरसांदी है ;
तेरे दरवाज़े खुल्हदे ने, रहमत पासा पलटांदी है,
सद्धर दी नाल मुरादां दे, झोली भर दित्ती जांदी है ।

(8)

किसमत दे दरशन मेले ने, परेमी नूं काहली पावीं ना,
कुक्कड़ नूं आख अराम करे, बांगी नूं हाल जगावीं ना,
सुख-सेज नसीबां नाल जुड़ी, दिन चाड़्ह विछोड़े पावीं ना,
प्रीतम दी नींद उटकदी है, घड़्याल अजे खड़कावीं ना ।

52. चिनार दा रुक्ख

कशमीर विच इह रुक्ख आम मिलदा है । शाही रुक्ख (रायल ट्री)
होन करके र्यासत बिनां, कोयी इस नूं वढ्ढ टुक्क नहीं सकदा ।

सुरगी रुक्ख, बज़ुरग चिनारा ! रूप जलाली पायआ,
कूले कूले पत्तर तेरे, ठंढी संघनी छायआ ।
कद्द उचेरा, मुढ्ढ मुटेरा ; लंमा चौड़ा घेरा,
पिप्पल तेरा पानी भरदा, बोहड़ नूं शरमायआ ।
सै वरेहां तों ज़ुहद कमावें खड़ा खड़ा इकटंगा,
धुप्प सहारें आपने उत्ते, होरां नूं कर सायआ ।
केयी पूर लंघाए हेठों ; डिट्ठे केयी ज़माने,
परउपकार तेरे ने, बाबा ! मेरा मन भरमायआ ।
चल्लें जे पंजाब वन्ने, दुनियां नवीं विखावां,
मैदानां विच खलकत ताईं धुप्पां बहुत सतायआ ।
नंगा बोट बणासन एथे ; बरफां, विच स्याले,
ठंढ सधारन साडी दे विच हुसन ना होसी जायआ ।
सुंञ मदानां अन्दर पूरा पुन्न फले नां तेरा,
रौनक दे विच चल्ल, इकल्लों जे कर जी घबरायआ ।

उत्तर

चल्लन नूं सौ वारी चलनां, बीब्या बरखुरदारा !
पर पंजाबे अन्दर मेरा होना नहीं गुज़ारा ।
इन्हां उचाईआं दे विच तैनूं बरकत मेरी जापे,
रता कु हेठ उतर्यां इसने करना तुरत किनारा ।
नाल देख किस तर्हां मेरा जंम्यां सायआ सिक्का,
'शाही रुक्ख' कहावां एथे, हो के नीच निकारा ।
टाहनी भन्न सके न कोयी बिन सरकारों मेरी,
इस रखवाली खातर कोयी तेरे पास न चारा ।

53. निशात बाग

(स्री नगर, कशमीर)

बल्ले बल्ले बाग निशाता ! मैं शोभा तेरी केहड़े मूंहों उचारां,
खिच्च ल्या मन कुंडी फसा, तेरे सीने ते पेलदियां गुलज़ारां ।
नीझ नूं बन्न्ह बहाल ल्या, फुट्ट पैने फुहार्यां ते आबशारां,
इन्दरपुरी कितों लभ्भ पए, तद आपनी सहुं तेरे उतों दी वारां ।

लुट्ट ल्या जिगरा दिल दा, रस-रत्ती हवा दियां छेड़ां अदावां,
पानी दी ढाल-उछाल दे राग ने, तखत्यां दे उतरावां चड़्हावां,
धुप्प दियां झलकां सतरंगियां,ठंढियां छावां, हरे हरे घावां,
टाहनी दी झोक, शिगूफे दी शोखी ने, फुल्ल दे हासे, कली दे हयावां ।

मखमल दी मसलन्द ते डोल्हआ, रंग बिरंगा सुगंधित दाणा,
चुग्गद्यां जिनूं रज्जे ना थक्के, निगाह-कबूतर निघ्घर जाणा,
फुल्लां तों उट्ठ फुहार्यां ते, ते फुहारे तों दौड़ के फुलां ते आना ।
तक्कद्यां पत्थरा गईआं अक्खियां, मुक्के ना एस दा तन्दणताना ।

बैठे ने धूणियां पा तेरे बूहे ते देसां दे गभ्भरू ते मुट्यारां,
हस्सदे खेडदे गांदे वजांदे, मनांदे ने ऐस निशात बहारां,
पै गईआं संझां, ना लत्थियां डंझां, भुला छड्डे झुग्गे, विसरियां कारां,
फुल्लां तों फुल्ल नखेड़ लए, हाय ! हाझियां पापियां पा पा पुकारां ।

ऐशां लई मुगलाणियां राणियां सच्चे जदों तेरी सूरत ढाली ;
कौन गिणावे, सजाउट तेरी ते किन्ने खज़ाने होए सन खाली ।
कामल कारीगरां दे दिमाग ने तेरे ते सारी सफायी दिखाली ;
बीत गईआं किन्नियां सदियां, पर जोबन तेरा है वाधे ते हाली ।

कौल फुल्लीं भरपूर जलीं डल साहमने तेरे ल्या के विछायआ,
सीस तेरे नूं टिका के पहाड़ ते पैरां नूं झील दे नाल मिलायआ,
तेरे फुहारे उछालन नूं फरेहाद कोई, कट्ट कूल ल्याया,
जुग्गीं जीवे तेरा जोबन 'चात्रिक' फुल्लें फलें नित दून सवायआ ।

54. गुलमरग (कशमीर)

देवत्यां ने गद्दी ते जद राजा इन्द्र बहायआ,
उस दे जोग अखाड़े दा भी जी विच चाउ समायआ ।

विशकरमा ने लभ्भा भारत दा कशमीर नगीना,
तारा उस दियां अक्खां दा गुलमरग पसिन्दे आया ।

सीना फोल बरफ दा सीतल धरती साफ कराई,
उच्ची नीवीं थां ढक्कन नूं मखमल हरी विछायी ।

सुहज, सुणप्प ; शिंगार जगत दे, कट्ठे कीते सारे,
फुल्लां दी महकार त्रौंक के, इन्दर सभा सजायी ।

सिर तलवाए परबत दे, दो पासीं ढाल बना के,
रोम रोम विच रंगन पाई, हरी पनीरी ला के ।

बरफी टिल्ला घोल घोल के नहर अकाशी आंदी,
वुल्लर ताल भरायआ लागे, कमलां नाल सजा के ।

असमानी सागर दे मोती, थां थां गए खिलारे,
वायू ने फड़ ल्या तम्बूरा, रुक्खां साज सवारे ।

हूरां परियां नाच करन नूं पहन पुशाकां आईआं,
इन्दर राज बिबाने चड़्हआ, खोल्ह खज़ाने वारे ।

वाह गुलमरगा ! रब्बी तखता ! तूंहें तेरा सानी,
ठंढक महक सजाउट तेरी, फाहे ब्रहम-ग्यानी ।

रोग, सोग, चिंता, चंचलता, तेरा दरशन झाड़े,
अठ पहरां दे मेल तेरे दी, पल्ले अजे निशानी ।

55. सुफैदे दा रुक्ख (कशमीर विच)

इह मैदानां दे सुफैदे (यूकलिपटिस) नालों वखरी किसम दा है ।
अंगरेज़ी नाम लम्बारडी पापलर है, थोड़े चिर विच ही कशमीर
विच आम हो ग्या है ।

लंम्या उच्च्या ! छैल सुफैद्या !(तूं) कित्त वलैतों आया ?
कशमीरे दी जन्नत अन्दर, कद तों डेरा लायआ ?
कन्न खड़िक्के पत्तर तेरे, नीझ तेरी असमानीं,
तच्छ्या मुच्छ्या, गोरा चिट्टा, रूप इलाही पायआ ।
गभ्भरू दा कद्द बनन तों तूं क्युं रेहों पसित्ता ?
सरू अते शमशाद दुहां नूं, कवियां अरश चड़्हायआ ।
उह रुक्खे तूं हर्या भर्या, उह खर्हवे तूं कूला,
भुल्ल्यां नूं तूं ओदों क्युं ना आपना आप जचायआ ?

उत्तर-

पार समुन्दरीं दूर दुराडा, वसदा सां प्रसतानीं,
गोर्यां चिट्ट्यां कदर पछाती चाड़्ह दिता असमानीं ।
कशमीर विच आ के परियां, मैनूं ना जद पायआ,
चुक्क ल्यांदी एस अखाड़े, अपनी देश निशानी ।
सौ वर्हआं तों उप्पर होया, आयां एस बहशते,
पर कवियां दी कलम ना पकड़ी मेरे वल्ल रवानी ।
हर गल्ल मेरी सरूए नालों वेखन नूं दह चन्दां,
गोर्यां तों उपराउन शायद काले हिन्दुसतानी ।

56. बसंत रुत्त

(1)

हार शिंगार सुआर बहार,
उभार के जोबन, रूप निखार के,
रंग बिरंगा दुपट्टा पसार के,
नैणां दे विच सरूर खिलार के,
जादू चलाउंदी सैनतां मार,
फसाउंदी राही वंगार वंगार के,
पींघ उलार, सुगंध पसार के,
मोए जिवाउंदी, जीउंदे मार के,

(2)

कीते शुदाई, वगायी हवा,
इस कामनहारी ने सुट्ट के डोरे,
फुलां तों डिगदे भौरे विखाल के,
कान्ह नूं गोपियां दित्ते नेहोरे :-
मिट्टी भी रंगी गई पर तेरे,
नदीदे दे दीदे ने कोरे दे कोरे,
लोड़्ह प्या इस गोकल नूं,
एथे ऊठ न कुद्दन, कुद्दन बोरे ।

(3)

डालियां ते फुल्ल झूम रहे,
वेख ! कीकर खा झकोले हवा दे,
आ खां जरा बिन्दराबन दे वल,
चन्द दी चाननी रास रचा दे,
मिट्ठी मिट्ठी कोयी रागनी छेड़ के,
बंसरी दी इक तान सुना दे,
सारा जहान तां वस्स प्या,
हुन साडे भी उज्जड़े लेख वसा दे ।

(4)

फुल्लां दी पिटारी, पीले भोछणीं शिंगारी ;
इह छलेडे जेही नारी केहड़ी चंचल कुमारी है ?
पायलां की पावे ; कलां सुत्तियां जगावे पई ;
चित्त होया चित्त, चड़्ही अक्खां नूं खुमारी है ।
रुक्ख बूटे, फुल पत्त, घाह तिन, पशू पंछी ;
मोही स्रिशटि सारी ; बाल ब्रिध, नर नारी है ।
धक्का मार आख्या सुगंध भिन्नी पौन अग्गों ;
'हट्ट जायो लोको ; ए बसंत दी सवारी है' ।

57. वरखा रुत्त

(पहला हिस्सा मौलाना हाली दी कविता
'बरसात' दे आधार ते लिख्या)

(1)
वरखा रुत्त आई पयारी पयारी,
तपत गरमी दी हरन हारी ।

ठंढ लयायी ते शाति लयाई,
सवछता ते इकांत लयायी ।

हक्क धरती दी सड़ रही सी,
लो बड़ी सिर चड़्ह रही सी ।

वरखा ने इसनूं ठार दित्ता,
भूत उस दा उतार दित्ता ।

राज सबज़ी दा छा ग्या है,
रूप हर शै ते आ ग्या है ।

कोहां जिद्धर नूं नीझ जावे,
दिसदे हन झुंड सावे सावे ।

हर जगह कया हरी हरी है,
मौली प्रिथवी ज़री ज़री है ।

वगदे सन जित्थे वा वरोले,
पै रहे हन ओथे हंडोले ।

रंगां विच आए बेल बूटे,
फुल्लां नूं दे रहे ने झुटे ।

टहकियां होईआं टाहणियां ने,
उड़दियां ज्युं सुआणियां ने ।

चेहरे कलियां ने हन खिड़ाए,
खिसकदा घुंड मूंह तों जाए ।

बासना चड़्ह हवा दे घोड़े,
राहियां ते पा रही है डोरे ।

भौरे फिरदे ने बौरे होए,
डिगदे ने डौर भौरे होए ।

जफ्फे पा पा के प्रीतमां नूं,
ठंढ पांदे ने छातियां नूं ।

सीना बुलबुल दा फुल रेहा है,
बे वसा हासा डुल्ह रेहा है ।

पयारे दी उभरदी जवानी,
देख करदी है छेड़खानी ।

छाती नूं ला के गुदगुदावे,
परेम दी चोट भी चलावे ।

पुच्छो ना अज समीर दी गल,
मिट्ठी, मिट्ठी स-गंध ; सीतल ।

पुशप-रस नाल भिन्नी होई,
पूरे जोबन नूं पुन्नी होयी ।

परुपकारी दा जस बनी है,
या समाधी दा रस बनी है ।

बागां दी सम्पदा उठा के,
वंडे विच परेमियां दे जा के ।

पक्खा जैसा चलाउंदी है,
दीन दुनियां डुलाउंदी है ।

मोए मन भी ख़लोयी जांदे,
बाग नूं तयार होयी जांदे ।

वरखा रुत दी बहार देखण,
बूट्यां दा निखार देखन ।

मौजां फुल्लां ते बुलबुलां दी,
अम्ब पर कूक कोइलां दी ।

मोरां दे नाच दा नज़ारा,
वरखा दा द्रिश पयारा पयारा ।

गगन पर फौजां दी चड़्हाई,
मेघ-मंडल दी आओ जायी ।

काली काली घटा दा घुरना,
गज्जणा, गड़्हकना ते तुरना ।

(2)
वेखो ! औह परबतां दुआले,
घिर गए मेघ काले काले ।

बागां विच कूक छिड़ पई है,
मोरां दी जान खिड़ पई है ।

आहा ! कया मौज हो रही है,
कट्ठी कया फौज हो रही है ।

वन्नोवन्नी दे हन रसाले,
कोयी गोरे ते कोयी काले ।

धावा होना है कोयी जाने,
बीड़े हन केयी तोपखाने ।

धौंसे पर चोट लग रही है,
तोप बन्दूक दग रही है ।

सारे दल बद्दलां दा छायआ,
धुप्पां पर पै रेहा है सायआ ।

रुक ग्या आउणों उजाला,
तम्बू इक तण ग्या है काला ।
बिजली रोह आई किलकदी है,
बरछी कया इसदी चिलकदी है ।

बून्दा बांदी आहा ! हा ! आई,
छिड़ पई ज़ोर दी लड़ायी ।
तीर वर्हदे ने इस तर्हां दे,
छन गए सीने गरमियां दे ।

औड़ दे सिर फिर्या पाणी,
घट्टे दी हो गई है घानी ।

मींह दा ऐसा लगा दरेड़ा,
रुड़्ह ग्या गरमी दा बेड़ा ।

(3)
देखो हुन सीन आया होरी,
घट गई घट दी सीना ज़ोरी ।

चिट्टी झंडी हिला हिला के,
किरनां दा गईआं राह बना के ।

फौजां हुन कूच बोल दित्ता,
नाका सूरज दा खोल्ह दित्ता ।

खिड़ ग्या आसमान सारा,
धुप्प ग्या है जहान सारा ।

उच्चे थां खूब तर गए ने,
नीवें जल नाल भर गए ने ।

नदियां नूं हड़्ह रुड़्हा रेहा है,
लोड़्हा कांगां नूं आ रेहा है ।

ब्रिछां ने खूब न्हा ल्या है,
सावा बाना वटा ल्या है ।

खेतियां वाले तर गए ने,
औड़ दे मापे मर गए ने ।

पशूआं नूं खुल्ह ग्या भंडारा,
हो ग्या आम घाह चारा ।

दुद्धां दहियां बहारां लाईआं,
सोकड़ां ने झलारां लाईआं ।

सावें साउन दे दूने होए,
भर गए भोखड़े दे टोए ।

(4)
रंगां विच आ गई लुकाई,
पेट विच पा रही कमायी ।

अम्बां दी आ गई है शामत,
बन गए जामनू न्यामत ।

पूड़े पर जीभ वह रही है,
खीरां दी डंझ लह रही है ।

कोयी मौजां उडा रेहा है,
राग रंग कोयी गा रेहा है ।

बंसरी फ़ड़ लई किसे ने,
जोड़ी है धर लई किसे ने ।

कोयी मलहार गेड़दा है,
देस नूं कोयी छेड़दा है ।

सईआं रल मिलके आ रहियां ने,
बागां नूं भाग ला रहियां ने ।

चल्लो अड़ीयो नीं पींघां पाईए !
हूटे लईए ते गाउन गाईए !

पींघां दे छिड़ पए हुलारे,
बिरह दे भख उठे अंगारे ।

याद पयारे दी आ पई है,
बिरहनी बिलबिला पई है ।

परेम ने खा लए उछाले,
अक्खां दे बण गए पनाले ।

बालमा ! वारने तेहारे,
दे जा साउन दे दिन उधारे ।

सद्दो नी मेरा चीरे वाला,
सीने विच सुलगदी जुआला ।

कालजे मेरे लम्बू ला के,
लुक रेहा माही कित्थे जा के ।

नीझ रसते दे विच परोती,
सुक गई बूहे ते खड़ोती ।

शाम घट शाम बिन न भावे,
वरखा बलदी ते तेल पावे ।

चोज दुनियां मना रही है,
शाति चौफेरे छा रही है ।

पर मेरी जान जल रही है ,
शमा महफल दी गल रही है
आ के इक नील नाल तारो,
बिरह दे कशट नूं निवारो ।

वांग 'चात्रिक' तड़प रही हां,
पयासी इक सवांत बून्द दी हां ।

58. साउन

(माझे दे इक पिंड विच)

साउन मांह, झड़ियां गरमी झाड़ सुट्टी,
धरती पुंगरी, टहकियां डालियां ने,
राह रोक लए छप्पड़ां टोभ्यां ने,
नदियां नाल्यां जूहां हंघालियां ने,
धाईं उस्सरे, निस्सरी चर्ही मक्की,
ते कपाहीं ना जान संभालियां ने,
जंमू रसे, अनार विच आई शीरी,
चड़्हियां सबज़ियां नूं गिठ गिठ लालियां ने,
तिड़्हां तिड़कियां, पट्ठ्यां लहर लाई,
डंगर छड्ड दित्ते खुल्ल्हे पालियां ने,
वट्टां बद्धियां, जोतरे खोल्ह दित्ते,
छावें मंजियां डाहियां हालियां ने ।

पेकीं बैठियां ताईं देहार आए,
ते शिंगार लाए सहुरीं आईआं ने,
वंगां चूड़ियां पहनियां कुआरियां ने,
रंग चुन्नियां महन्दियां लाईआं ने,
खीरां रिझ्झियां, पूड़्यां डंझ लाही,
कुड़ियां वहुटियां ने पींघां पाईआं ने ;
गिद्धे वज्जदे, किलकिली मच्चदी ए,
घटां कालियां वेख (के) छाईआं ने ।
सौंची खेडदे गभ्भरू पिड़ां अन्दर,
छिंझां पाउंदे ते छालां लाउंदे ने,
लोकीं खुशी अन्दर खीवे होए 'चात्रिक',
साउन माह दे सोहले गाउंदे ने ।

59. कवी दा रब्ब

परेम दे कुट्ठे कवी ! दीदार दे भुक्खे कवी !
जान तेरी ; पारे वांगर, तलमलावे किस लई ?
महक वांगर खिंडी होयी मूरत की है भालदी ?
केर मोती अंझूआं दे, झोली तेरी भर गई ।
ढूंढदा हैं रब्ब नूं ? कलपे होए आकार विच ?
भोल्या आ भला,कुदरत दी खिड़ी गुलज़ार विच ।

छंभ-शीशा देख, फड़ लै आरसी जां त्रेल दी,
तक्क, कुदरत रब्ब दी, खेलां किवें है खेलदी ?
परबतां पर नच्चदी, पधराईआं विच पेलदी,
सागरां नूं रिड़कदी अर झरन्यां नूं ठेलदी,
मोतियां दे बुक्क सुट्ट, शिंगारदी है रात नूं,
थाल कुन्दन दा परोसे, उट्ठदी परभात नूं ।

खिच्च जिसदी रूप पर,तड़फन सिखायआ प्यार नूं,
लै जिद्ही थरकाउंदी है, ज़िन्दगी दी तार नूं ;
सेक जिस दा गरम रक्खे खून दी रफतार नूं,
रस जिद्हा भटकदा रेहा है फुल्ल दी महकार नूं ।
रूप जिस दा शाम दे मत्थे ते झलकां मारदा,
चड़्हत जिस दी देख के जी खिड़ पए संसार दा ।

जोत जागदी है जिद्ही, हर चानने मीनार ते,
जिस दियां गुलकारियां दा रंग रूप बहार ते,
मौज जिस दी पेलदी, जीवन नदी दी धार ते,
सुर जिद्ही थर्राउंदी है, परेम-रस दी तार ते,
नीझ जिस दी नाल होया, नूर नूरो नूर है,
उह कवी दा रब्ब है, जो हर जग्हा भरपूर है ।

मन्दिरां अर मसजिदां विच कैद हो बहन्दा नहीं,
पोथियां अर वट्ट्यां विच, जूड़्या रहन्दा नहीं,
वाज्यां तों त्रिभकदा अर बांग तों खहन्दा नहीं,
'तुरक नीच-मलेछ' 'हन्दू दोज़खी' कहन्दा नहीं,
शकतियां दा बन्न्ह करदा सभ किसे नूं प्यार है,
उट्ठ मत्था टेक 'चात्रिक' ! इह तेरा करतार है ।

60. सतजुग

(1)
यो सादगी दे जीवन ! आराम दे ज़माने !
मासूमियां दे चशमे ! आनन्द दे ख़ज़ाने !
यो प्रीत दे फुहारे ! सच्याईआं दे सोमे !
किस रोड़्ह विच वहाए तूं आपने फ़साने ?
किस भीड़ विच गुआचा, उह सादगी दा गहना ?
किस शहर विच उजाड़े, ओह वस्सदे विराने ?
किस पत-झड़ी ने झाड़ी, बरकत तेरे चमन दी ?
योह कुदरती बहारां, ओह परेम दे तराने ?
कया मौज सी जदों तूं मैनूं खिडा रेहा सी,
इक रौल्यां न्यारी, दुनियां वसा रेहा सी ।

(2)
उह जंगलां दा वासा, ओह कुदरती नज़ारे ।
साईं नूं याद करना, बह बह नदी किनारे ।
सिद्धी जेही तबियत, सादा जेहा पर्हावा ।
फल फुल्ल दियां खुराकां, छन्नां दे विच गुज़ारे ।
ना लोभ, ना लटाके, ना चोरियां ना डाके ।
ना पेट दे पुआड़े, ना पाप दे पसारे ।
खुल्हे अनन्द लैणा, बेफिकर हो के सौणा,
कुदरत नूं सौंप छड्डे सन इंतज़ाम सारे ।
गा गा के राग रब्बी, खिड़्यां हमेश रहना ;
ना बांग तों झगड़ना, ना वाज्यां तों खहना ।

(3)
उह डील डौल बांकी ते चेहर्यां ते लाली,
बेफिकरियां दी मसती, बिन पैस्यों खुस्हाली ।
ना आमदन दे धाड़े, ना खरच दे उजाड़े,
ना लोभ, ना लड़ायी ; ना सांझ ना भ्याली ।
या हस्सना या गाणा, या रब्ब नूं ध्याना ;
ना नौकरी, ना वाही ; ना वनज ना दलाली ।
ना मालकी दा दावा, ना चाकरी दा हावा,
ना साहब नूं सलामां, ना अफसरां नूं डाली ।
ना सरदियां ने पोहना ; ना गरमियां सताना ।
ना पीड़ परब होणी, ना डाकटर दे जाना ।

(4)
उस सादगी तों सदके, शिंगार दी पटारी,
उस झौंपड़ी तों वारी, इह अकल दी अटारी ।
आराम ते खुशी दी, जड़ मेख जिन उखेड़ी,
फ़िकरां ते हौक्या दी, चम्बड़ गई बिमारी ।
लोड़ां ते लालचां दी, गल पै गई पंजाली,
सूली ते जान टंगी, हर दम रहे विचारी ।
पापड़ अनेक वेले, वल छल कई खिलारे,
होयी न फेर मट्ठी, इह हिरस हैंस्यारी ।
दुनियां दे वहन पै के, मैं दीन भी गुआया,
पर रुड़्ह ग्या ब्यासा, कंढा ना हत्थ आया
आ जा, ते आ के मैनूं, इस कैद तों हटा जा ।
इस भट्ठ विच भुजदी जिन्दड़ी नूं चैन पा जा ।
लोड़ां दे परबतां नूं लांभे ज़रा हटा के,
संतोश दा खज़ाना, उह आपना लभा जा
आ वेख टुकड़्यां ते तलवार खड़कदी नूं,
इह भोखड़ा हटा जा ; तन्दूर नूं बुझा जा ।
इतफाक दा शिवाला, ते परेम दे पुजारी,
रल मिल के गान वाला, उह गीत भी सिखा जा ।
इस अकल ते दनाई, उलटी नदी वहाई,
इह लोहड़ आ ग्या है, तहज़ीब काद्ही आई ।

61. तारा

(सर इकबाल दे ख्याल दा अनुवाद)

नूरानी तारे ! तूं हरदम, क्युं डुबकूं डुबकूं करदा हैं ?
घबरावें चन्दरमा तों ? या लो तड़के दी तों ड्रदा हैं ?
की रूप ढलन दा खतरा है ? चिंता या चमक चुरीवन दी ?
या सद्धर जी तड़फांदी है, दुनियां अन्दर थिर जीवन दी ?
पायी है चमक अमुल्ली तूं, अरशां दी मौज हंडांदा हैं ?
फिर क्युं दिल प्या डुल्हांदा, ते थरथर कर रात लंघांदा हैं ?

उत्तर-

राही ! हैरान न हो, दुनियां विच इहो दुरंगी जारी है,
जो बात इकस नूं माड़ी है, उह दूजे नूं सुखकारी है ।
इक पासे अक्ख लगे, दुनियां दूजे पासे वस पैंदी है ।
इक मन्दर ढाह के मौत, दूए जीवन दी नींह धर लैंदी है ।
डोडी दा जीवन मुकदा है; तद जोबन फुल्ल खिड़ांदा है,
सूरज दी अक्ख उघड़दी है, तारा मंडल सौं जांदा है ।
तूं जिस टिकाउ नूं लभदा हैं,
मुशकिल है इस कारख़ाने विच,
इक सदा-फिरंतू कालचक्र ही,
थिर है एस ज़माने विच ।

62. अक्खियां

अक्खीयो ! तक्कना सिफत तुसाडी,
कौन कहे तुसीं तक्को ना ।
जगत तमाशा जम जम तक्को,
तक्कदियां तक्कदियां थक्को ना ।
रब्बी नूर झलकदा ए फुट फुट,
फुल फुल डाली डाली ते,
हुसन सुहप्पन ओस माही दा,
रज रज वेखो झक्को ना ।
पर, इस तक विच, चेता रखना !
मैलियां मूल न होइयो जे,
जीवन-दाते दे अंमृत नूं,
ज़हर बना के फक्को ना ।

63. सतार दी तरब

नाज़क तरब सतार दीए; तूं की फर्याद मचावें ?
सुहल किसे दी वीनी वांगर, थर थर कम्बी जावें ।
थरक तेरी विच सुआद इलाही सुत्ती कला जगावें,
अरशे चाड़्ह सुरत दी गुड्डी तुणके नाल नचावें ।
गूंज तेरी दियां लुकवियां रमज़ां धुही जान कलेजा,
की पा के तूं गुंगे वांग़रे, गुण-गुण-गुण-गुन गावें ?

कहन लग्गी : इस थरकन विच इह रमज़ पई थर्रावे,
जीवन जोत जगे जद सीने, हरकत दे विच आवे ।
हरकत नाल हुलारे खांदी, हर शै दी ज़िन्दगानी,
जीवन चाल, चाल है जीवन, इस बिन लोथ सदावे ।
मैं जीवां हरकत विच आ के; राग छिड़े रूहानी,
तार मेरी जद मालक उपरों, ठूंगे नाल हिलावे ।

64. उडीक दा रस

सिक्कां सद्धरां दा जद तीकर, दिल विच रेहा वसेरा,
चोबां, चीसां, आहां, उडीकां, पायी रख्या डेरा ।

मिली मुराद ते लाटां बुझियां, सुंञा हो ग्या ख़ेड़ा,
समझ पई उस दूरी विच सी, वसलों सुआद वधेरा ।

प्रीतम दा आना पर आ के परत परत तड़फाणा,
फेर मिलन दी चोब चुआती, लटक जेही ला जाना ।

आणा; लुक जाणा, आ जाणा, रखनी झांग बणाई,
दिल विच तड़फ जिवाली रख़्ख़े, एहो तन्दन ताना ।

65. कवी

जेहड़े कौमां नूं पार उरार करदे,
ओन्हां बेड़्यां दा नाखुदा हैं तूं,
मुलकी प्यार दे बाग जो हरे करदे,
उह बहार-भिन्नी ठंढी वा हैं तूं,
मुरदा रूहां नूं चुक्क बहाल देवे,
उह मसीहे दी कारी दवा हैं तूं,
जिस दी कलम दी हुझ्झ पलटाए तख़ते,
किसमत घड़न वाली उह कज़ा हैं तूं ।

जिन्हां थलां विच लहू दी डांझ डिट्ठी,
नहरां जोश दियां तूंहें लै आउंदा सएं,
जित्थे उसरे महल अज़ादियां दे,
इट्टां तूंहें घड़ घड़ ओथे लाउंदा सएं ।

ख़लकत ख्याल दी अक्ख दे फोर अन्दर,
तूंहें देख्या रच के दिखाउन वाला,
खंभां बाझ असमान ते पहुंच के ते,
रिशमां सुट्ट के धरत चमकाउन वाला,
टुभ्भी मार के सोच दे सागरां विच,
मोती सुखन दे चुन चुन ल्याउन वाला,
रंग रंग दे कुदरती बाग़ विच्चों,
कलियां गुन्दके सेहरे बनाउन वाला ।

शूकर नदी दी, राग पंखेरूआं दा,
शोखी फुल्ल दी, सिदक परवान्यां दा,
तेरी कलम अमानती खोल्ह देंदी,
गुझ्झा जन्दरा रब्बी ख़ज़ान्यां दा ।

किधरे राज दरबारां दा थंम्ह जापे,
महफल विच भी बझ्झी हवा तेरी,
इकधिर प्रेम दे नैणां विच डुसकना एं,
इकधिर हुसन विच झलके अदा तेरी,
किधरे सबक पड़्हाउना एं दान्यां नूं,
वहशत भरी भी निकले सदा तेरी,
ऐधर जाम सुराही ते डुल्हना एं,
औधर सूफियां नाल भी रा तेरी ।

जेहड़ी तरब नूं किसे थरका डिट्ठा,
गूंज उस तों निकली जनाब दी सी,
जेहड़े फुल्लां ने बाग़ आबाद कीते,
रंगन उन्हां ते एसे गुलाब दी सी ।

जेहड़े इशक दे थलां विच भुज्ज मोए,
अग्गां उन्हां दे सिर ते वर्हाईआं तूं,
जिन्हां परेम दे हड़्हीं सरबंस रोड़्हे,
शानां उन्हां दियां अरशीं चड़्हाईआं तूं,
रुस्सी रही खुशहाली हमेश तैथों,
नंगे धड़ीं पर तेगां चलाईआं तूं ।
हो के फुल्ल तूं कंड्यां नाल कट्टी,
पीड़ां सभ दियां आप नूं लाईआं तूं ।

ज़रा जाग खां अज्ज भी दूल्या ओइ !
इक्क फूक कलाम दी मार दे खां ।
देश रुल ग्या घर दे सलूक बाझों ;
इस नूं आपने पैरीं खल्हार दे खां ।

66. बाल वरेस ते जीउण-पंध

उह बाल वरेस, आहा ! हा, कैसा सुख-जीउड़ा जी सी,
शादी गमीयों इक पासे, आपनी दुनियां वसदी सी,
सज्जन वैरी दियां परखां तों अक्ख अजे कोरी सी,
कंगाली अते अमीरी विच फरक ना कोयी भी सी,
भोले भाले मुक्खड़े ने, पायी सी डल्हक इलाही,
सारी दुनियां सी रय्यत ते आपां दी सी शाही ।

शाही भी उह जो नच्चे, सिर चड़्ह के शहनशहां दे,
मेरे कदमां दे थल्ले सन नैन विछाए जांदे,
पियारी पियारी सूरत दा कबज़ा सी विच दिलां दे,
फरमान मूंहों जो निकलन, इक पल न अटकणां पांदे,
तलवार न फ़ौज ख़ज़ाना पर न्युं न्युं होन सलामां,
इक प्रेम-पकड़ विच बद्धे सभ रहन्दे वांग ग़ुलामां !

करदे सन हत्थीं छावां, अणमुल्ले नौकर मेरे,
मैं खिड़ के ज़रा दिखावां, सद्धर सी खड़ी चुफेरे,
अधखिड़े कमल तों पड़दा, कोयी वा झल्ल उलेरे,
बदली तों चन्द निकल के, कर देवे दूर हनेरे,
पर मन आपना सी मौजी, परवाह न रती रखदे सां,
जी आवे तां रो पैंदे, जी आवे तां हसदे सां ।

मैं सुन्दरता दा सोमा, और परेम-बहर दा मोती,
कोमल सां वांग शिगूफे, तारे दी डल्हके जोती,
पारे वांगर सां चंचल, खेड़ू ज्युं कली परोती,
मेरे दरवाज़े आ के, रहन्दी सी खलक खलोती,
मेरा ही सांग बना के, संसार काम ने मोहआ,
नैणां दे तीर चला के, मासूम रती नूं कोहआ ।

उह आला भोला हासा, चुटकी भर लए दिलां दी,
नैणां दा जादू पा के, पुतली बण्यां नैणां दी,
मैं दुनियां नूं परचावां, दुनियां मैनूं परचांदी,
मेरी शोखी गुसताख़ी, हस हस के सहारी जांदी,
होरां दे लई पशू सन, मेरी इनसान सवारी,
मेरे चरनां नूं चुमन लई, तरसे ज़िमीं विचारी ।

जी भैड़ा होए रती जां, नींदर उचाट हो जावे,
सुक जाए लहू माता दा ना चैन पिता नूं आवे,
कोयी दारू दरमल ढूंडे, कोयी लोरी दे परचावे,
भुख नींद हराम करावां, जद तक जी मेरा चाहवे,
मकदूर किद्हा सी घर विच, मैं जागां ते सौं जांदा,
मैं जद तक द्यां न छुट्टी, कोयी ड्रदा अक्ख न लांदा ।

उह नेहकलंक जीवन सी, सन पाप दुराड्यों नसदे,
इस मार धाड़ जग दी तों इक्कलवांजे सां वसदे,
आ आ के एस दुआरे, तयागी सन तलियां झसदे,
एसे वरेस नूं सारे, 'मासूम उमर' सन दसदे,
ना जंमे दियां वधाईआं, मोयां दा ना सी स्यापा,
ना ऐशां रुड़्ही जवानी, ना मुरदा जून बुढापा ।

जिगरा सी ऐडा वड्डा, सां मसत हमेशां रहन्दे,
ना गल्ल किसे दी सुणदे, ना आपने दिल दी कहन्दे,
सरदी गरमी दुख सुख नूं, चुप चाप सदा सां सहन्दे,
निन्दा चुगली तों हट के, सां दूर दुराडे बहन्दे,
हंकार ना पासे साड़े, ना काम क्रोध कलपावे,
ऐसा सुभाउ सी खेड़ू, जो आवे हसदा जावे ।

बन्नन ना कोयी पायआ, सभ तरफों सी आज़ादी,
ना लालच दी बीमारी, ना सड़न कुड़्हन दी वादी,
ना गए नाल सी चिंता, ना आए दी सी शादी,
इकसार मेरे भाने सन, सुन्नसान अते आबादी,
मेटी सी अक्ख जगत तों, और अन्दर सी रुशनाई,
बिन गियान ध्यान तों मुकती आपां ने ही सी पायी ।

हे बाल-वरेस प्यारी ! दो दिन दी मौज विखा के,
तुर गईयों ऐडी छेती तूं भरम जेहा क्युं ला के,
रोणां आ जावे तैनूं, अज वेखें जेकर आ के,
उह फुल्ल गुलाबी चेहरा, कीकुर होया कुमला के,
जद दी तूं विछुड़्ड़ गईओं, मैं दुक्खों दुक्ख उठावां,
आ बैठ कलेजा फोलां, वखतां दे वैन सुणावां
आ गई कुमार अवसथा, उह भी सी कुझ कुझ चंगी,
ना फिकरां दे सन हौके, ना खान पीन दी तंगी,
खेडां दी रहनी मसती, हानी सन अंगी संगी,
बस नसदे भजदे आए, आए ते रोटी मंगी,
खा-पी ते लंमी ताणी, जागे ते खा के नट्ठे,
पैसे कुझ बोझे पाए ते होए गली विच कट्ठे ।

लाटू, गुड्डी, मठ्याई, जो जी कीता लै आए,
सद्धर ना बाकी छड्डी, जी भर भर चैन उडाए,
मां बाप बड़े सन दरदी, हस हस के लाड कराए,
एह मौज बहारां दे भी, दिन हो गए अंत पराए,
सूतक तों न अजे निकले, गल पै गए नवें पुआड़े,
सभ मज़े किरकिरे होए, जद गए सकूले ताड़े ।

पड़्हने विच जी ना लगे बन्न्ह बन्न्ह उसताद बहावे,
कमज़ोर दुद्ध दी दन्दीं, लोहे दे चने चबावे,
घुरी वट वट के ताड़े, सोटी फड़ जान सुकावे,
उह दिन परमेशर कर के, दुशमन ते भी न आवे,
लट पट पैंछी नूं रटद्यां साह हरदम रहन्दा पीता,
इह ज़हर प्याला ओड़क, मर भर के मिट्ठा कीता ।

लिखा पूंझ सकन जद लग्गे, तद निकल अखाड़े आए,
दीवा फड़ दुनियां छाणी, रुज़गार किते मिल जाए,
पर हाय किसमते, एधर भी चंगे चन्द चड़्हाए,
'नो वेकैनसी' दे पौले हर बूहे ते लटकाए,
खा खा के धक्के धोड़े, जी कोले होया सड़ के,
अफसोस इहो ही आवे, की ल्या मना तूं पड़्ह के ।

हुन्नर कोयी हुन्दा पल्ले, कोयी म्हनत कितों मिल जांदी,
पर बिना जमा तफरीकों, कोयी गल नहीं सी आंदी,
प्यो सोटां सुट सुट सड़े, मां भ्युं भ्युं गुझियां लांदी,
आपनी भी वेहले बैठ्यां, सी जान पई घबरांदी,
ओड़क इक अफस्र कहके, इक जाब जेहा दिलवायआ,
तद जा के एस अज़ाबों, कुझ साह सुखाला आया ।

इस लै दे विच ऐने नूं, आई सुख नाल जवानी,
जोबन ने अक्ख उघेड़ी ते अकल होयी दीवानी,
रीझां दे अड्डे चड़्ह के, लड़ ला लई धी बिगानी,
चीं-चीं चां-चां दियां वाजां दी होन लगी हैरानी,
बस अग्गों कुझ ना पुछो रब्ब दे ते बन्दा झल्ले,
वखतां दा परबत उत्ते, ते मैं गरीब सां थल्ले ।

सिर ते आ पईआं पंडां, टब्बरदारी दे भारे,
तीवीं ने गिच्ची नप्पी, बालां ने हत्थ पसारे,
लज्जां लीहां दियां जोकां, दुसतंमे भाईचारे,
बस डिगरी परचे लै लै कुरकी नूं आ गए सारे,
जो लभ्भा गए संभाली, चौ पास्यों पै गई लोटी,
घिर गई इह जिन्द निमाणी, वंडी गई बोटी बोटी ।

रो धो इह औखी घाटी, ओड़क नूं तोड़ चड़्हाई,
ऐने नूं सिर तों मां प्यो ने आपनी जान छुडाई,
भैणां ने लेखे मंगे, ते चूसन लग्गे भाई,
पंचैत लगामों फड़ के, चौधर दी छट्ट चुकाई,
मेली गेली, शरधालू सभ होए दुआले आ के,
खीसे कर लीते खाली, सिर प्यो दी पग्ग बन्हा के ।

कोयी चन्दा आ के मंगे, कोयी दान लई उकसावे,
कोयी फ़रज़ देश दा दस्से, कोयी कौमी गीत सुणावे,
कोयी मरन परन ते सद्दे, कोयी जलसे विच बुलावे,
कोयी मुलाकात दा शौंकी, दिन सारा चुल्हे पावे,
गुस्सा तां चड़्हे बथेरा, पर चुप्प शरम दे मारे,
मैं ढीठां वांगर हस हस, इह सारे जज़ीए तारे ।

हुन चड़्हदा आया बुढापा, लचकार कमर विच आई,
वालां ने वेस वटायआ, दन्दां भी हिलजुल लाई,
पर लोड़ां दे विच घिर्या, निभदी नहीं दाउ-घुसाई,
दे दे शरीर नूं थंम्हीं, जांदा हां झट्ट लंघाई,
पर बकरे दी मां कद तक है ओड़क खैर मनाणा,
दुनियांदारी ने खबरे की की है होर विखाना ।

हुन जी तां एहो चाहे, की लैना हड्ड रुला के,
भर्या मेला छड्ड तुरीए, दुनियां ते चूली पा के,
पर जदों अञाने बहन्दे ने, आल दुआले आ के,
मन बेईमान हो जाए, ममता दियां खिच्चां खा के,
इस लटक जेही विच अड़्या, किधरे न चित खलोवे,
फिर आखी दा है : वाहवा, जो हुन्दी सो होवे ।

इस ज्युण-पंध विच पै के, सारे सुआद अज़माए,
सुख दुख दे झक्खड़ झोले उत्तों दी बड़े लंघाए,
जोबन दे लहरे लुट्टे, चौधर दे चैन उडाए,
पर राज तेरे दे बुल्ले, मुड़ के नहीं नज़रे आए,
इक बाल-वरेस जगत ते, है चीज़ सलाहुन वाली,
बाकी जीवन दी चात्रिक, इक घड़ी न दुक्खों खाली ।

67. तारा

(इक अंगरेज़ी कविता दा सुतंत्र अनुवाद)
नूर दे चसम्यों न्हात्या तार्या ! कैसा हैं तूं पियारा पियारा,
सुट सुट पींघां रिशमां वालियां, दुनियां नूं दें परेम-हुलारा ।
फुल्ल तों चुकदी शहद नूं मक्खी, वेख के तैनूं घर नूं आवे,
थक्क के चूर होए मज़दूर दा तूंहें करांदा हैं छुटकारा ।

शांती दा जो राज ल्यावे, उह है तेरी सुन्दर जोती,
अम्बर तों बरसा के ठंढक, तूंहें खिलारे थां थां मोती !
तड़प तेरी थीं असमानां दा, इंज निखरदा चेहरा मुहरा,
हार शिंगारी राधका जीकर, हुन्दी ए शाम दे कोल खलोती ।

सज्या फब्या रंग रंगीला, जद तूं आपना रूप निखारें,
ज़िमीं दियां गुलज़ारां विचों, उठदियां महकां ताईं खिलारें !
दूर दुराडे जंगलीं बुकदे, निकलन घुर्यों शेर बघेले,
ख़ुशियां दे शदियाने छिड़दे, जद तूं हस के झाती मारें ।

वेहला हो के तुरदा हाली, राग ख़ुशी दे गांदा गांदा,
डंगर वच्छा छालां मारे, खुरली दे वल जांदा जांदा ।
खान पीन दे आहरीं लग्गे, झुग्गियां वाले बाल के चुल्ल्हे ;
हलजुल बाझ जिन्हां दा धूंआं, चड़्हे उतांह वल खांदा खांदा ।

तारा हैं तूं आशक दा दिल नाल मशूक मिलाउन वाला,
विच्छड़्यां दियां सोचां दा तूं, चेता खोहां पाउन वाला ।
मिठियां मिठियां सौहां सुगंधां, नाल सिदक दे पाईआं होईआं,
कंमीं धन्दीं रुझ्झ्यां ताईं, तूं हैं याद कराउन वाला ।

68. नैन

(शंकर छन्द)
जद प्रेम अरशों उतर्या, संसार झाका लैण,
ज्युं बनन मोती तरेल दे, इह बण ग्या दो नैन ।

एह नैन डाढे सुहल सुन्दर, प्रेम दा अवतार,
चंचल ममोले, रसरसे बेधड़क, खुदमुखतार !

कुझ रत्तड़े, कुझ तिक्खड़े जल नाल कुझ भरपूर,
पी पी प्याले नूर दे, होए नशे विच चूर ।

उच्चे झरोखे बैठ के, लग्गे वर्हाउन तीर,
राह जांद्यां ते सुट डोरे, जान सीनां चीर ।

पर लड़ गई तकदीर उलटी, हुसन दे परताप,
हथ्यार कस्से रह गए, घिर गए शिकारी आप ।

चड़्ह रंग हुसनां वालड़े, महबूब दे मूंह ज़ोर,
सिंजर गए चुप कीत्यां, लांभे हटा के कोर ।

फट्टे गए, तड़फन लगे, पै गई हाल पुकार,
लुट्टे गए अणभोल लोको ! रंगले बाज़ार ।

दिल रोड़्ह साडा लै गई, इह बेमुहारी कांग,
अरशी उडारी भुल गई, हो कैद चात्रिक वांग ।

69. कवी-रचना

(1)
फुल्ल दी महक, शहद दी मिट्ठत, मक्खन दी नरमायी ।
पार्यों तड़प तरेल तों ठंढक बरफों निरमलतायी ।
तार्यों डल्हक बिजलीयों चानन, सूरज तों गरमायी ।
चन्द्रमा दा रस निचोड़ के, सभ शै खरल करायी ।
इस मावे दा पुतला घड़ के नूर पुशाक पिन्हायी ।
इस दा नाम कवी रख ब्रहमा, जान परेम दी पायी ।

(2)
सुन्दर, सुघड़ प्रेम दा पुतला, निगह ना जाय टिकायी ।
ऐसा अदभुत जीव बना के, भुल ग्या चतुरायी ।
नीझ धरी परवाने दी, अर सुरत हरन दी लायी ।
भौरे दी सुंघन दी शकती, मच्छी चाख लगायी ।
दिल दित्ता पर कलीयों कोमल ; चमक बिअंत वसायी ।
जो दित्ता सो हद्दों वध के, होइ न जिद्ही समायी ।

(3)
इस तों बाद विधाता उट्ठी, रहन्दी गिल्ल सुकायी ।
मत्थे लेख लिखन लग्गी ने, पुट्ठी कलम वगायी ।
सद्धर, सिक्क, सेक, नाकामी, अर फर्याद दुहायी ।
दरदां, चीसां, चुभकां साड़े, सुलगन सल्ल जुदायी ।
दुक्ख पराए सहेड़न वाली, तीखन चेतनतायी ।
इह सभ रास गरीब कवी दे, हिस्से चात्रिक आई ।

70. गरीब किरसान

(छन्द-दोहरा। धारना-मिरज़ा साहबां)

(1)
कक्करी रात स्याल दी, वरती सुंञ मसाण,
खलकत सुत्ती अन्दरीं, निघियां बुक्कलां तान ।1।
पिछले पहर तरेल दे, मोती जंमदे जाण,
बुक्कलों मूंह जे कढ्ढीए, पाला पैंदा खान ।2।
इस वेले जां जागदे, तारे विच असमान
जां कोयी करदा भगत जन ख़ूहे ते इशनान ।3।
जां इक किसमत दा बली, जाग रेहा किरसाण,
पाणीं लौंद्यां पैर हत्थ, (जिदे) नीले हुन्दे जान ।4।

(2)
सिखर दुपहरे जेठ दी, वर्हन पए अंग्यार,
लोआं वाउ-वरोल्यां, राही लए खल्हार ।5।
लोह तपे ज्युं प्रिथवी, भक्ख लवन असमान,
पशूआं जीभां सुट्टियां, पंछी भुज्जदे जान ।6।
लुकी लुकायी अन्दरीं, निकले बाहर न साह,
पर पिड़ विच किरसान इक, फ़ल्हा रेहा है वाह ।7।
सिर पैरां तक्क निचुड़्ड़े, मुड़्हका वाहोदाह,
पर शाबाशे दूल्या (तैनूं) रता नहीं परवाह ।8।

(3)
मायों लडिक्का जंम्यों, रख्योसु नाउं गुलाब,
(पर)किसमत दे के वाड़ विच(तेरी)कीती जून खराब ।9।
दुनियां खाय मलाईआं,तेरे हिस्से(आई) छाह,
मोटा ठुल्हा पहन लै, मिस्सी तिस्सी खाह ।10।
हल्ल सुहागे गोडियां,(तेरे)सिर ते रहन सवार,
पल्ले तेरे पै गई, पशूआं वाली कार ।11।
रातीं आ पएं टुट्ट के, चाड़्हे नींद खुमार,
कुक्कड़ बांगे फेर तूं, ओसे तर्हां त्यार ।12।

(4)
तन टंग्या विच जान दे, जान टंगी असमान,
मुट्ठ विच तेरी कालजा, बद्दलां विच ध्यान ।13।
रक्ख लए रब्ब जि सोक्युं,(तद) झक्खड़ों सुक्कदा साह,
गड़्यों, अहणों, कुंगीओं, पैंदा नहीं विसाह ।14।
सुख सुख लक्ख सरीणियां, पक्कन चार कसीर,
तद भी सुन सुन कहबतां,(तैनूं)औंदी नहीं खल्हीर ।15।
'पक्की खेती वेख के गरब करे किरसाण,
वायों झक्खड़ झोल्यों घर आवे तां जान' ।16।

(5)
पक्की वढ्ढी बन्न्ह लई आण धरी खलवार,
तद भी धड़के कालजा(कोई)दुशमन करे न वार ।17।
बत्तीयों दन्दों जीभ नूं, जे रब्ब लए बचाय,
चाईं चाईं गाह के, धड़ देवें तद लाय ।18।
अजे वसाय न चुक्क्यों, लागू बैठे आइ,
लागी, चोगी, सेपियां, झुरमट दित्ता पाय ।19।
रहन्दा बोहल हुंझा ल्या, आ के लहणेदार,
तेरे पल्ले रह गई, तूड़ी पंडां चार ।20।

(6)
चारे कन्नियां चूपदा, घर आया किरसाण,
गोड्यां विच सिर तुन के, गोतीं लग्गा जान ।21।
हाय ओ रब्बा डाढ्या ! की बणियां मैं नाल ?
मर ग्या करदा मेहनतां, ओड़क भैड़ा हाल ।22।
ना मैं दित्ता मामला, ना कोयी लीता ढोर,
बी भत्ता भी है नहीं, लोड़ां केयी होर ।23।
अन्न वर्हा भर खान नूं, टाकी टल्ला नाल,
करज़ा भी कुझ रह ग्या, सिर ते खड़ा स्याल ।24।

(7)
जट्टी घुरके जट्ट नूं(है है)प्या किधर दा लोड़्ह ?
खट्टी सारे समें दी, किथे आइयों रोड़्ह ।25।
(मैं)माघों कूकन लग्गी आं, 'कुड़ी होयी मुट्यार',
साडी कोठी सक्खनी लोकीं करन बहार ।26।
वारी सदके वाहीओं, सानूं नहं दरकार,
पच्छी ला इस भोइं नूं,(जो)रहन्दी मरले चार ।27।
भरती हो जा फोज विच, जां कुझ कर रुज़गार,
(जा)निघर नहं तां शहर नूं,(ओथे)लोड़्हे दी है कार ।28।

(8)
जट्टा ! वेखीं उक्कदों सिक्ख सिख़ायआ नार,
छड बहन्दों मते सहम के, उत्तम खेती कार ।29।
इक दाना जे फल पए, दाना बने हज़ार,
डक्के मार न रोड़्ह नूं, सोमा उस दा मार ।30।
दुनियां वस्से रंग विच, तूं क्युं रेहों कंगाल,
बरकत किद्धर उड्डदी, इस दी कर पड़ताल ।31।
अमरीका विच जट्ट ही, हो रहे माला माल,
सुन लै ! तेरे ढिड्ड 'चों क्युं ना निकले काल ।32।

(9)
इक 'इलम' दी ऊण है, मुंडे पड़्हने पाय,
दूजा झस्स शराब दा, इस तों जान छुडाय ।33।
तीजा ऐब कुपत्त दा, खह खह मरो भराय,
फेर मुकद्दमे लड़द्यां, झुग्गा उजड़ जाय ।34।
पंजवां चसका करज़ दा, वाहन छडें तूं खाय,
पंजे भैड़ियां वादियां, बरकत खड़न उडाय ।35।
जे पंजां दे पंज्यों, पा जावें छुटकार,
फेर जे पूरी ना पए(तद)
चात्रिक' ज़िंमेवार ।36।

71. राग

राग ! तूं किस मोहनी दे रूप दा झलकार हैं ?
किस बहशती हूर दी पाज़ेब दा छणकार हैं ?
खिच्च्या केहड़े रसां दा रूह तेरा नाद है ?
परेम दे किस बहर विच दुनियां तेरी आबाद है ?
तेरी लै विच झूमदी किस सोम-रस दी तार है ?
बन ग्या तेरा तरन्नम रूह दा आधार है ।
न्हा के तेरे केसरों महकां नसीम निचोड़दी ।
है न्यामत होर भी दुनियां तेरे जोड़ दी ?
हीर्या ! किस सान चड़्ह चीरी कलेजा जायं तूं ?
दिल दियां खामोश तरबां क्युं प्या तड़फायं तूं ?
तेरे बिरहे फूक के कोइल नूं कीता काल्यां ।
तेरा दर खड़कायआ अलमसत अल्ला वाल्यां ।
माल दौलत ढेर होए तेरी इक आवाज़ ते,
हुसन सदके हो ग्या तेरे नशीले नाज़ ते,
सिर हकूमत ने झुकायआ आ तेरे दरबार विच,
तूं परोता खलक सारी नूं गले दे हार विच ।
तीर कस्सन बैठ किस दे नैन विच सिखदा रेहों ?
कित्थे बह के लेख उच्चे आपने लिखदा रेहों ?
तेरे मोती दी डल्हक किस सिप्प विच पलदी रही ?
तेग किस महबूब दे हत्थों तेरी चल्लदी रही ?
बंसी वाला की हवा तेरे दम ते करदा रेहा ?
बीना नारद छेड़ तेरे कन्न की भरदा रेहा ?
किस परी ने तैनूं इन्दर दे अखाड़े वाड़्या ?
केहड़े बैजू बावरे अरशां ते तैनूं चाड़्हआ ?
हीर तेरे बाग़ विच की किलकली सी पाउंदी ?
वंझली रांझन दी तेरा गीत की सी गाउंदी ?
की कलाम फूक के छड्डें हवा विच तीर तूं ?
फ़ाहें पंछी, मिरग मोहें, बन्न्हे वहन्दे नीर तूं ?
बल उठे भांबड़, जदों दीपक तेरे दी लो लगी,
वस पए बद्दल, जदों मलहार कीता तूं कदी ।
उच्छले खूहां दे दिल जद तेरा भैरव बोल्या,
खिड़ प्या आकाश जद तूं आस दा दर खोल्हआ ।
तारे तड़फे, शाम ने कल्यान जद कीती तिरी :
तरेल पै गई जोग ते, जद रात कुझ बीती तिरी ।
हाय ! तेरे साज़ विच की सोज़ है चिचला रेहा ?
कांग तेरी नाल क्युं जिगरा है रुड़्हआ जा रेहा ?
किस विजोगन दा कलेजा चीरदा तूं आइयों ?
सप्प उड्डदे कीलने किस मांदरी सिखलाययों ?
लुट्टियां सत्ते सुरां कित्थों ए लोटी पाणियां ?
धू के कित्थों आंदियां नूहां ए जी नूं खाणियां ?
खिच्चियां किस बार्यों उसताद तारां तेरियां ?
नच्च्या ताऊस गज़ ने लीतियां जद फ़ेरियां ।
धुन अनाहद सुणद्यां सूफी ने ताड़ी पी लई,
परेम दी दुनियां नवीं आबाद सिर विच हो गई,
तेरे वरगा होर कुझ दिसदा नहीं संसार ते,
नच्चदा है दिल खुदायी दा, तिरी ही तार ते ।
फिकर, गम, दुख दरद सभ भुल्ल जान तेरे आयां,
अक्खियां विछ जान तक्क के तेरी नूरी कायआं ।
तूं हज़ूरी दात हैं, कुदरत दा तूं शिंगार हैं ।
रूह दा आधार हैं, हर मौसमी गुलज़ार हैं ।
आ गले लग जा मेरे ; मैं तेरा आशिक ज़ार हां ।
नाम नूं 'चात्रिक' हां, पर मूंह खोल्हणों लाचार हां ।

72. कबरसतान

(1)
इस दगड़ दगड़ दी दुनियां तों, इक्कलवांजे इक वासी है ।
खामोशी जिस दी बोली है, ते रौनक जिद्ही उदासी है ।
ना दीवा कोयी बलदा है, ना भंभट पर झुलसांदा है ।
ना फुल्ल हुलारे खांदा है, ना भौरा घूकर पांदा है ।

(2)
वासी इस चुप दी नगरी दे, सदियां तों कट्ठे रहन्दे ने ।
पर सांझी होयी ज़बान नहीं, ना दिल दी वेदन कहन्दे ने ।
अरमान धरे हन छाती ते, ते पैर पसार बिराजे ने ।
जद दे इह धौलर मल्ले ने, ना खोहले मुड़ दरवाज़े ने ।

(3)
कोयी नशा इलाही पी बैठे, उतरी नहीं जिद्ही खुमारी है ।
सागर ना सिद्धा कीता है, साकी वल झात ना मारी है ।
शतरंजां विछियां पईआं ने, उठके ना खेड मुकायी है ।
फुलां दी सेज सजायी ते, बैठन दी घड़ी न आई है ।

(4)
बहराम-पुरे दे महलां दा, कोयी कोमल राज-दुलारा है ।
जमशैद नगर दे अरशां तों, टुट्टा होया कोयी तारा है ।
कोयी ऐश बाग दी सुहल कली, फुल्ल दीवे नूं कुरलांदी है ।
कोयी प्रीतम दियां उडीकां विच, किरनां तों नैन बचांदी है ।

(5)
हे अमनाबादी लोको वे ! अक्ख पट्टो पासा मोड़ो वे ।
इह लंमा रोसा काहदा है ! हुन मुहरां मूंह तों तोड़ो वे ।
तारे हो किद्हियां अक्खां दे ? हो लाल तुसीं किस मायी दे ?
वाली हो किन्हां वलैतां दे ? मालिक किस हूरां जायी दे ?

(6)
कीकर दे सुहल-सरीरे सो ? की अतर फुलेलां मलदे सौ ?
शिंगार केहो जेहे लांदे सो ? किस हंस चाल थीं चलदे सौ ?
किस रण विच तेगां वाहियां सन की मान मरतबा पायआ सी ?
किन्नी कु धरती मल्ली सी ? किन्नी कु जोड़ी मायआ सी ?

(7)
सुलतान खान सी कौन कौन ? ते कौन उद्हा दरबारी सी ?
हाथी ते केहड़ा चड़्हदा सी ? दर दर दा कौन भिखारी सी ?
फुल्लां ते केहड़ा सौंदा सी ? ते कौन खाक विच रुलदा सी ?
मज़दूरी केहड़ा करदा सी ? ते छत्र किद्हे सिर झुलदा सी ?

(8)
इस उडदी खेह विच पता नहीं, प्रमानू किस किस सिरदे नें ?
राजा ते रंक इकट्ठे हो, आकास भटकदे फिरदे नें ।
गल ग्या वरक इतेहासां दा, जो खोज खुरा को दसदा सी ।
इस मिट्टी वाला छत्रपती, उस मन्दर दे विच वसदा सी ।

(9)
खुसरो दा खोपर खुर खुर के, कबरां दा कल्लर होया है ।
कुमेहार चक्क ते चाड़्हन नूं, पानी पा पा के गोया है ।
ललकार मार के वरज सके, गल गई उह जीभ लड़ाकी है ।
धू के तलवार हटा देवे, उह डौला भी ना बाकी है ।

(10)
जी चाहेगा तां दीवा घड़, कबरां विच फेर पुचावेगा ।
जां ठूठी रच, महबूबां दी बुल्ल्हीं इक वार छुहावेगा ।
बेकदरे दे वस पै के पर, फ़रयाद ना कोयी मचांदा है ।
कुदरत दे हेरां फेरां नूं, चुप कीता वेखी जांदा है ।
आ दिल!एथे ही रह पईए, की करन पिछांह हुन जाना है ।
उह चार दिनां दी खप खप है, ओड़क दा इहो टिकाना है ।
योह हिरसां दे हटकोरे ने, इस सुरगे कोयी अज़ार नहीं ।
इस नशे चड़्हायी अरशां ते मुड़ हेठ उतरदी तार नहीं ।

73. सुरगी जीउड़े

(1)
परबत दे पैरां हेठ पई, इक निक्की जही पधरायी है ।
इक पासे वट्टे रिड़्हदे ने, इक पासे कुझ सबज़ायी है ।
इस उग्गड़ दुगड़ी धरती ते, इक छन्न मीहां दी मारी है ।
छप्पर जिस दा है डोल रेहा, तिड़की होयी चार दिवारी है ।

(2)
इसदा वासी इक किरती है, कंगाली जिसदी मायआ है ।
मज़दूरी जिद्हा सहारा है, संतोख जिद्हा सरमायआ है ।
जो चक्की फेर मुशक्कत दी, आपने हड्ड पीह पीह खांदा है ।
परभाते निकल जांदा है, ते संझ प्यां घर आंदा है ।

(3)
दो टुट्टे खुस्से मंजे ने, कुझ लीड़े अद्धोराने ने ।
दो ठूठे इक कुनाली है, दो खाली मट्ट पुराने ने ।
खिड़की लागे इक चुल्हा है, चुल्हे विच ढींगर बलदे ने ।
इक कालकलिट्टी तौड़ी विच, पालक दे पत्त उबलदे ने ।

(4)
इक त्रीमत गोदे बाल लई, चादर नूं गांढे लांदी है ।
जद बाल उतांह नूं तक्कदा है, इह हस्सके निगाह रलांदी है ।
उह बुल्ह ज़रा फुरकांदा है, इह खीवी हो हो जांदी है ।
सुट सुट के तरेल प्यारां दी, चम्बे दी कली खिलांदी है ।

(5)
हत्थां विच सूयी धागा है, सीने विच सिदक खज़ाना है ।
कंगाल मजूर सुआमी दे, चेते विच मन मसताना है ।
कुटिया दिसदी है राज-महल, इस शम्हा-परेम-पंघरायी नूं ।
'जसमा' रस रंगी 'टीकम' दे, ठुकरांदी है ठकुरायी नूं ।

(6)
दिन थल्ले तुर्या जांदा है, शामां दी आओ आई है ।
सूरज ने तीर मुका सारे, लहन्दे वल धौन भुआई है ।
अरशां ते ज़री किनारी दे; इउं थान खिलारी जांदा है ।
थक्का टुट्टा मज़दूर जिवें, उंघलांदा टाट विछांदा है ।

(7)
दो नंग भड़ंगे मुंडे ने, मिटी विच न्हा न्हा रज्जदे ने ।
टिब्बी तों झौला पैंद्यां ही, हरनां दे वांगर भज्जदे ने ।
साह म्युंदा नहीं कलेजे विच, अंमां नूं आ के दस्सदे ने ।
'औह बापू तुर्या औंदा है', इह कहके ओधर नस्सदे ने ।

(8)
इक पासे मायआ तरुट्ठदी है, इक पासे त्रिशना तुरदी है ।
अक्खां नूं जोत दुपास्यों मिल, कोयी गुझ्झियां गल्लां करदी है ।
चुम्बक लोहे तों काहला हो, भुइं ते ना पैर टिकांदा है ।
लोहा लत्तां सुंगड़ांदा है, अर बाहां खिलारी जांदा है ।

(9)
इक जान हिक्क ठंढ्यांदी है, इक मगरों जफ्फी पांदी है ।
दो पुड़ां विचाले दुनियां दी, सारी चिंता पिस जांदी है ।
उड ग्या थकेवां दिन भर दा; झुग्गी तक्क आंदे आंदे ही ।
खिड़ प्या मोतिया शामां नूं, इक परेम हुलारा खांदे ही ।

(10)
गुडकन चरोकनी लगदी है, ज्युं चन्द तिकालीं चड़्हदा है ।
उह बुचकी इनूं फड़ांदा है, ते आप अंञाना फड़दा है ।
उह चुंम चुंम खीवा हुन्दा है, इह गंढां खोल्ही जांदी है ।
उल्लर उल्लर के वेखद्यां, बालां नूं परे हटांदी है ।

(11)
इक पल्ले आटा कोटा है, इक कन्नी मिट्ठे छोले ने ।
कुझ टोटे दाग़ी नाखां दे, मुंड्यां ने हस्स हस्स फोले ने ।
मां छोले पावे तलियां ते, इह फक्के मारी जांदे ने ।
नादर दे तखत ताऊसों भी, इह वध के त्रिपती पांदे ने ।

(12)
जो मिस्सा तिस्सा जुड़्या है, उह रिन्न्ह पका के खांदे ने ।
साईं दा शुकर मनांदे ने, ते सौन लई घबरांदे ने ।
ना साड़े हन, ना कीना है, इह खुशियां दी अबादी है ।
जां परेम-बाग़ दियां महकां ने, जां हासा ते अजादी है ।

(13)
उह मलका है इस मन्दर दी, इह शाह सिकन्दर घर दा है ।
उह इस तों जान घुंमांदी है, इह उद्हे मराने मरदा है ।
उह वांग मोरनी खिड़दी है, इह मोर वजद विच आंदा है ।
इउं घर इस परेमी जोड़े दा, इक सुरग जेहा बण जांदा है ।

(14)
माया-धारी जिस शांतमयी जीवन हित घुल्लदा रहन्दा है ।
उह इस कक्खां दी कुल्ली विच, मज़दूर पास आ बहन्दा है ।
शाही महलां दियां सेजां ते, जो नींदर तोड़े कस्सदी है ।
उह एस बहशते आ आ के,चात्रिक दियां तलियां झसदी है ।

(नोट)
'जसमा' नाम दी इक पती परायना परम सुन्दरी आपणे
सुआमी 'टीकम' नाल राज सरोवर दी खुदायी विच टोकरी
ढोया करदी सी ।पाटन (गुजरात) दे राजे सिद्ध राज वल्लों
पटरानी बनान दे लालच नाल भी जसमा दा मन ना डोल्या ।
ओड़क इस दी हमैत विच इक घोर संगराम होया ते बहुत
सारे 'ओड़' (टीकम दे जात भाई) मारे गए ।जसमा ने भी सैंकड़े
सैनकां नूं मार के अंत कटारी नाल आपनी जान ग़ुआ दित्ती पर
अधरमी ठाकुर (राजे) दी दुराशा नूं अखीर दम तक ठुकरायी रख्या ।

74. दुनियां दे पुआड़े

की पुआड़े पा लए ? दुनियां ते चात्रिक ! आण के,
कंड्यां विच फस गई ज़िन्दगी, बगीचा जान के ।

बालपन दे चार दिन, लंघे सुखाले सन ज़रा,
छट्ट ऐसी आ पई, फिर याद आए नाणके ।

पेट दा झुलका, सुक्खां दी भाल, जग ते जोड़ तोड़,
पै गए अनगिनत बन्न्हन, इक तम्बू तान के ।

जान फिकरां, हड्ड टब्बर, दोसतां ने बोटियां,
तोड़ खाधा सार्यां, कूला शिकार पछान के ।

दूज्यां दे वासते, कीता पसीना खून नूं,
आपने पल्ले पई ना खाक, मिट्टी छान के ।

सद्धरां दे टाहन ते दिल टंग्या ही रह ग्या,
वेखना मिल्या ना इक दिन भी खुशी दा मान के ।

लाह गलों जंजाल ते कर बन्द दुनियां दी गज़ल,
काफिया मत्त तंग कर दे, मौत तेरा आण के ।

75. जोगन दा गीत

(1)
परबत
परबत ने अरशों उतरी रूं दा, निरमल चोला पायआ है,
सीने विच बलदियां लाटां नूं इस चोले हेठ दबायआ है ।
जी दे उबाल पर बेमुहार, फुट्ट फुट्ट के बाहर आंदे ने,
सबज़ी, रस, रंग, खिड़ाउ महक, थां थां ते विछदे जांदे ने ।
कुझ लुकवें साड़ कलेजे दे, छाले बण बण के फिसदे ने,
तुरदे ने पत्थर पाड़ पाड़, रिस रिस के वहन्दे दिसदे ने ।

(2)
नदी
इह पानी अल्ले ज़ख़मां दा, सीने नूं खोरी जांदा है,
रोकां अटकां नूं चीर पाड़, घबरांदा राह बणांदा है ।
ना दूरी तों दिल छडदा है, ना स्ट्ट पेट तों ड्रदा है,
जिस पासे सिंङ समांदे ने, बस सिर खोभन दी करदा है ।
ज्युं हिरदा किसे विजोगन दा, वहना विच रुड़्हदा जांदा है,
त्युं डिग डिग, उठ उठ, दौड़ दौड़, छालां ते छालां लांदा है ।

(3)
चानणी
इकतार, समें दी चाल वांग, परवाह नदी दा जारी है,
सूरज भी थक्क के जा सुत्ता, पर इस नूं चाल प्यारी है ।
शीशे दे डल ते फिर फिर के, कया नाच झिलमिला करदी है ।
लैला ने लीड़े लाह लाह के, चानन विच तारी लायी है ।
झलकारा पा पा फैल रही, रुशनायी ही रुशनायी है ।

(4)
जोगन
गंगा दे निरमल नीर धुप्पे, बरफ़ानी पक्खे झुलदे ने ।
चुपचां विच लै इक छिड़दी है, पत्थर ते जल जद घुलदे ने ।
मसती मसतानी हो हो के, इस सुर तों सदके जांदी है ।
इक बन-देवी दे सीने विच, सुत्ती होयी कला जगांदी है ।
दीवानी दा दिल धड़क धड़क, इक सिल ते आण बहांदा है ।
वीणां दियां तरबां छेड़ छेड़, सुर लहरां नांल मिलांदा है ।

(5)
राग
हरदे विच धुखदी प्रेम-अगन, वा लग लग होर सुलगदी है ।
इक बिरहों जाली कोइल वांग, इह जोगन कूकन लगदी है ।
दरदां विच भिन्नी प्रेम-कूक, रग रग विच तड़प वसांदी है ।
पत्थर पानी हो जांदे ने जोगन पत्थर हो जांदी है ।
जोगन जल ते तरबां रल के, इक अदभुत समां बणांदे ने,
प्रीतम नूं पास बहा के ते, दरदां दा गीत सुणांदे ने ।

(6)
गीत
चिंता, फ़िकरो ! हट जायो परे !
राह छड्ड द्यो दिल दिवाने दा ।
छेड़ो ना मसत मलंगन नूं,
दर खोलो ख़लवत-खाने दा ।1।
प्रीतम घर साडे आया है,
नैणां विच असां वसायआ है,
जंगल विच मंगल लायआ है,
की मतलब किसे बेगाने दा
आ मोहन ! रास रचाईए वे !
कोयी राग रसीला गाईए वे !
इह समां नसीबां जुड़्या है,
नहीं वेला उज़र बहाने दा ।3।
अखियां विच चानन तेरा है,
दिल विच भी तेरा डेरा है,
संगां सभ चुल्ल्हे पाईआं ने,
डर रेहा ना मेहने ताने दा ।4।
चड़्ह के एकांत चुबारे विच,
जी टिक ग्या नवें नज़ारे विच,
हुन बाहर निकलना मुशकिल है,
चात्रिक दे मन मसताने दा ।5।

76. मेले विच जट्ट

(1)
तूड़ी तन्द सांभ, हाड़ी वेच वट्ट के,
लम्बड़ां ते शाहां दा हिसाब कट्ट के ।
मीहां दी उडीक ते स्याड़ कढ्ढ के,
माल ढांडा सांभने नूं कामां छड्ड के ।
पग्ग झग्गा चादर नवें सिवाय के,
संमां वाली डांग उते तेल लाय के ।
कच्छे मार वंझली अनन्द छा ग्या,
मारदा दमामे, जट्ट मेले आ ग्या ।

(2)
हाणियां दी ढानी विच लाड़ा सज्जदा,
बघ्घ बघ्घ बघ्घ बोल शेर गज्जदा ।
हीरे नूं अरक नाल हुज़्ज़ां मारदा,
सैनतां दे नाल रामू नूं वंगारदा ।
चंगी जेही सद्द ला दे बल्ले बेलिया !
तूम्बा जरा खोल खां जुआना तेलिया !
सरू वांग झूल वंझली सुना ग्या,
मारदा दमामे, जट्ट मेले आ ग्या ।

(3)
तूम्बे नाल भातो भांत बोल बोलियां,
हाड़ विच जट्टां ने मनाईआं होलियां ।
छिंझ दी त्यारी होई, ढोल वज्जदे,
कस्स के लंगोटे आए शेर गज्जदे ।
लिशकदे ने पिंडे गुन्न्हे होए तेल दे,
मारदे ने छालां दूले डंड पेलदे ।
किस्सू नूं सुरैना पहले हत्थ ढा ग्या,
मारदा दमामे, जट्ट मेले आ ग्या ।

(4)
वारी हुन आ गई जे पीन खान दी,
रेउड़ियां जलेबियां दे आहू लाहन दी ।
हट्टियां दे वल्ल आ पए ने टुट्ट के,
हूंझ लईआं थालियां जुआनां जुट्ट के ।
खुल्ह गईआं बोतलां गलास फिर्या,
तेलियां ते डूमां दा कलेजा घिर्या ।
बुक्कां ते कमीणां नूं मज़ा चखा ग्या ।
मारदा दमामे, जट्ट मेले आ ग्या ।

77. जीउन पंध दी छेकड़ली मंज़ल

(इक बुढ्ढे दियां अख़ीरी घड़ियां)

(1)
जीवन दियां मंज़लां मार मार चूरा होया इक राही है,
कुझ घड़ियां टिक, साह लैन लई, ओड़क दी मंजी डाही है ।
उड गए हन रंग बहारां दे, पतझड़ ने पीला पायआ है,
हस हिस के रीझां चावां ने, तन भुगड़ी वांग सुकायआ है ।
लंघ गई है कांग जवानी दी, तप तेज पै ग्या माड़ा है,
बल बुझी चिखा दे सीने विच, कोयी धड़क रेहा चंग्याड़ा है ।
उत्तर गई मसती जोबन दी, पिंजर प्या बिट बिट तक्कदा है,
जिन्दड़ी पई टुट्टदी खुस्सदी है, पर मूंहों बोल न सकदा है ।

(2)
दम रुकदा है ; जी काहला है, साह खुशक, गलेडू भरदे ने,
दिल घिरदा है, सिर चकरांदा है, ते डेले हाड़े करदे ने ।
हैरान निगह है, देख देख के, कुदरत अक्ख चुरांदी नूं,
मर मर के जोड़ी दौलत मायआ, लड़ों खिसकदी जांदी नूं ।
अगले बेहाथ समुन्दर नूं, तक्क तक्क के गोतीं जांदा है,
मोढे दी गंढ कुवल्ली नूं, चुक्कन तों जी कण्यांदा है ।
काला, कुरूप, निरदयी काल, खखवाड़ां खोल ड्रांदा है,
तरेली ते तरेली छुटदी है, तन ठंढा हुन्दा जांदा है ।

(3)
तीवीं पई पक्खा झलदी है, अंमां जायी सिर झस्सदी है,
धी मूंह विच चमचे पांदी है, नूंह गिरदे भजदी नस्सदी है,
पुत्तर मूंह पूंझी जांदा है, मित्तर पए धीर बन्हांदे ने ।
आसे पासे परवारी सभ, परचांदे दरद वंडादे ने ।
सेवा विच कोयी ऊण नहीं, खरचां विच कोयी सुकोड़ नहीं ।
हमदरदां दी कोयी घाट नहीं, मायआ दी कोयी थोड़ नहीं ।
इह सभ कुझ हुन्दे सुन्दे भी, मूंह सुक्कदा जी घबरांदा है,
दुनियां तों रुड़्हदे जांदे नूं, कोयी तिणका नज़र न आंदा है ।

(4)
दौलत कोयी खोहन न खोंहदी है, दारू कोयी काट न करदा है ।
पुत्त्रां दी पेश ना जांदी है, तीवीं तों कुझ न सरदा है ।
बेली हन सभ बल बरकत दे, बणियां दा कोयी भ्याल नहीं,
कोयी यार वंडांदा भार नहीं, कोयी साथी तुरदा नाल नहीं,
इक पासे धन परवार खड़ा, दम दम दा दाम चुकांदा है,
इक पासे घुप्प हनेरे दा, पैंडा प्या जान सुकांदा है ।
जी तड़फ रेहा है जीउन नूं पर काल काहलियां पांदा है ।
इह सहम नाल, जुस्से दा लहू, पसीना होयी जांदा हे ।

(5)
जीवन विच कीते पुन्न पाप, सभ अक्खां साहवें आए ने,
जमदूतां डेले पाड़ पाड़, नेज़े ते गुरज विखाए ने ।
जी डर डर लुकदा छपदा है मूंह वट्टदा अक्ख चुरांदा है,
दरदी कहन्दे हन ,आख :'राम'इह होर दुहाईआं पांदा है ।
रूं वांग सरीर पिंजींदा है अर जिन्द निकलदी वड़दी है,
पिंजरे तों उडदे पंछी नूं, ममता दी फाही फड़दी है ।
इस भरे बाग़ परवार नाल, मोह टुटना कोयी आसान नहीं,
रुक्खां तों झड़्या माल नहीं, मंग के आंदी संतान नहीं ।

(6)
बे तरस काल दे पहुंचे ने, ओड़क इह घोल मुका दिता ।
मायआ दे संगल तोड़ ताड़, दुनियां दा साथ छुडा दिता ।
मुक गए बखेड़े जीवन दे, चुप चां विच धूनी पा लीती,
धन दौलत दे दीवाने ने, वखतां तों जान छुडा लीती ।
इस शांत चमन विच बैठे नूं, कोयी फ़िकर नहीं आज़ार नहीं,
चिंता दियां धुप्पां लोआं थीं, कुमलांदी इह गुलज़ार नहीं ।
दुनियां दे झगड़े झांजे तों, इह मौत छुडा लै जांदी है,
फिर इस तों डर डर के, 'चात्रिक' क्युं तेरी जान घबरांदी है ।

78. नीति बचन

(1)

भायी भायी दे विच जुदायी देखी,
तीवीं भरते दे विच लड़ायी देखी,
चार दिन जिन्दगी दी खातर चात्रिक,
मरदी खह खह के सभ लुकायी देखी ।

(2)

दया ना पाली तां उह अमीरी काहदी ?
मन न मोया तां उह फकीरी काहदी ?
शाही गरीबी तां मिले घर घर चात्रिक,
अमीर अर फकीर विच है पीरी काहदी ?

(3)

खोता रूड़ी तों पेट आपना भर लैंदा है,
कुत्ता बैठन नूं जगह साफ तां कर लैंदा है ।
जग्ग नूं अतसवारथी दा की सुख चात्रिक,
आदमी उह है जो दूजे दी खबर लैंदा है ।

(4)

तीरथ ब्रत कीते सभे, पूजे देवी देव,
चात्रिक सभी अकारथे, जि मापे सके न सेव ।

79. रुबाईआं

(1) परेम रस

तूं प्यारा, तूं सुहल, सजीला, तूं सीतल तूं मिट्ठा,
सुन्दर, सुबक, सरूरी सूखम, तेरे जेहा न डिट्ठा ।
रंगत, महक, खिड़ाउ, तेरे दा, चरचा चार चुफेरे,
राग, तराने तरबां वाचन, चसक तेरी दा चिट्ठा ।

(2) रूप

रब्बी रिशम ! रसाल ! रंगीले ! राजे प्रेम-नगर दे !
जित्ते जगत बिनां तलवारों शाबा जादूगर दे !
कटक दिलां दे कोही जांदे, तीर तेरे अणियाले,
दौलत, इलम, हकूमत, ताकत, तेरा पानी भरदे ।

(3) दया

रब्बी सिफत, रहम दे चशमे ! वाह तेरी वड्याई,
जग्ग होम, इशनान, धयान ने, ओड़क तैथों पायी ।
खोटे, खरे खरूदी खल नूं, बखशश दे दर खोल्हें,
करम धरम सभ थोथे धाईं, दया न जिस मन आई ।

(4) संतोश

ठंढा ; सीरा, धरमी, धीरा ; तूं हैं गहर गंभीरा !
सबर शुकर विच मसत बिराजें, दंमां बाझ अमीरा !
जिस दिल दे विच दौलत तेरी, उस नूं पीड़ न पोहे,
सड़न कुड़्हन तों इक्कलवांजे वस्सें शांत सरीरा !

(5) सचाई

गुन मनुक्ख दे खहन लगे, कर कर अपनी वड्याई,
कोयी निन्दे कोयी सलाहे, थहु सिर गल्ल न आई ।
समझायआ इक दाने कोलों, बीबे लोक न लड़दे,
थाउं थाईं सारे चंगे, सभ तों खरी सचायी ।

(6) खिमा

दया बड़ा तप है, पर ओड़क माड़े पर ही आवे,
जालिम मूज़ी पर पसीज के खिमा अग्हां वध जावे ।
करे सो भरे सचायी चाहे, खिमा न इह भी मंगे,
खिमा 'सचाई' 'दया' दुहां तों उच्चा तयाग सिखावे ।

(7) निंम्रता

टिब्बे ने टोए नूं पुच्छ्या, तूं की करम कमाए ?
झांबा वज्जे मेरे सिर ते, पानी तुध वल जाए ।
उत्तर मिल्या नीवें होयां, रहीए बड़े सुखाले,
रुक्ख हनेरी डेगी जाए, घाह अनन्द मनाए ।

(8) शांती

ग्रसथी पुच्छे साध नूं, तूं सीतल मैं क्युं सड़दा ?
योस केहा मैं जिस नूं छड्डां, तूं हैं उस नूं फड़दा ।
रब्बी दातां लै लै तैनूं, सबर शुकर ना फुरदा,
मैं खन्नी खा खीवा होवां, दाते नाल न लड़दा ।

(9) कनायत (संतोश)

दोजक दे दरया विच, जिया ! भौं भौं गोते खावें,
कीड़े वांगर भांबड़ दे वल भज भज जान गुआवें ।
मेवेदार दरखत 'कनायत' लह लह करे किनारे,
फिकरां दियां छल्लां तों बचके, बह जा इसदी छावें ।

(10) धरम

मुड़ मुड़ डंग चलावे ठूहां, साधू फेर बचावे,
किसे केहा, तूं पागल हैं ? इह बाज़ कदे न आवे ।
उत्तर दित्ता 'अपना अपना धरम सभस नूं पयारा,
उस दा धरम दुखाना है अर मेरा दया सिखावे' ।

(11) दान

झुरदा सी इक चुंच ग्यानी, मन्दर कोल दुचित्ता ?
पड़े पाठ कुझ ठंढ न पाई, की करीए हुन कित्ता ?
कोल खड़े किरसान केहा-'इह कहबत याद न तैनूं ?
खाधे नालों पैधा चंगा, पैधे नालों दित्ता, ।

(12) सहोदरता

नीवें नाल निगाह न मेलें, हैंकड़ दे हंकारे ।
कोइल, काउं, फुल्ल ते कंडे, इको अक्ख दे तारे ।
गल लावें जे गल ना घुट्टे, उपजे सुआद इलाही ।
खट्टे मिठे प्युंदां लग लग होन संगतरे सारे ।

(13) सलूक (एका)

इक्क दूए दी हेठी कर कर, दो अहमक जद हस्से,
मैं पुच्छ्या 'की लभ्भा लड़के ?' अग्गों कोयी न दस्से ।
दिल ने केहा देश दे दुशमन, मूरख ने इह दोवें,
जिस घर विच सलूक न वस्से, ओथों बरकत नस्से ।

(14) मिठा बोल

जी कुड़्हआ ते मत्था सड़्या, जीभों छुरियां मारे,
कौन कुड़्हे दे कोल खलो के, कौड़े बोल सहारे ?
सड़ू कड़ू मठ्यायी वंडे, हत्थ न कोयी वधाए,
मिठ बोले दे तुंमे भासन, सभ नूं गरी छुहारे ।

(15) आदर

आयो, बैठो, पानी पीयो, पक्खा लै लै पयारे ।
सोभा मान दिवांदे एह, अणमुल्ले आदर चारे ।
गिट्ठ निवें नूं हत्थ निवें,इह सौदा दून दूणा'
मूरख है जो एस वनज तों फिर भी हिंमत हारे ।

(16) विदया धन

इक दिन डिट्ठा रो रो कहन्दा, अन पड़्हआ इक लाला ;
खरचां मेरा खूह मुकायआ, निकल ग्या दीवाला ।
किसे केहा, तूं विदया दा धन क्युं ना कट्ठा कीता ?
ज्युं ज्युं इसनूं देंदों, त्युं त्युं हुन्दों दौलत वाला ।

(17) इनसाफ

बाहमन शेर छुडायआ कैदों, उस ने चाहआ खाणा,
मुड़ के ओसे तरां बन्हायआ, गिद्दड़ प्या स्याना ।
दूजे नाल बुरायी करके, आस न चंगी रक्खीं,
लोहे नूं घुन खाधा जेकर, लै गई इल्ल अञाना ।

(18) पुरशारथ

किसमत नूं ना कोस, कि उह है हिंमत दी अरधंगी,
पुरशारथ दा हड़्ह जद आवे, रोड़ खड़े सभ तंगी ।
हंमत दा पारस लोहे नूं, सोना तुरत बणावे,
मंगल शनी बहन घर नौवें, भैड़ीयों होवे चंगी ।

(19) द्रिड़्हता

कच्छू तुरदा हौली हौली, सहया लगावे छालां,
कच्छू जापे अग्गे अग्गे, पईआं जदों तिकालां ।
सहया हिरान गल्ल की होयी ? कच्छू ने समझायआ,
बह बहके सोचन नालों, चंगियां मठियां मुहकम चालां ।

(20) सच्चा प्यार

सुख वेले तां अगे पिछे, फिरदी दुनियां सारी,
की होया जे नारी ने भी चुक्की ताबेदारी ?
सच्चा परेम तदों परताईए, भीड़ बने जद कोयी ;
बनबासी दा साथ निभायआ, सीता राज दुलारी ।

(21) नेकी

सुक्के, सड़े, न कट्टी जावे, उपकारां दी बेरी,
पट्ठे पा पा चोयी जायो, खोल्ही सदा लवेरी ।
नेकी एधर चित्त खिड़ावे, ओधर आंदर ठारे,
दुहीं जहानीं महक खिलारे, इह फुल्लां दी ढेरी ।

(22) उदारता

थर थर करे जहाज़ सिंधू विच, मच्छी मौजां माने ।
माली नित्त निशाने फुंडे, मक्खी खाए मखाने ।
माड़े नाल मुरव्वत पाले उहो उदार कहावे ।
ज़खमी नाल ना उलझे सूरा, दाता जात न जाने ।

(23) सहारा

धनश ताईं तलवार पुछेंदी, तूं की करम कमाए ?
मैनूं सूरा लक्क बन्न्हे, तैनूं मोढीं चाए ।
योन केहा, तूं रहें आकड़ी, मेरे विच सहारा ।
मान उसे मिलदा है, जो लिफ के झट्ट लंघाए ।

(24) भली संगत

नेक निगाहां हेठ मान नहं दो घड़ियां दा रहना ।
होए नसीब स-संग सदा जे, उसदा फिर की कहना ।
चन्दन-बन विच किक्कर पर भी महक चन्दनी आवे,
मानुक्ख जून शिंगार पहन के सत संगत दा गहणां ।

(25) गंभीरता

ऊना भांडा छुलके डुल्ल्हे, भर्या कदे ना डोले ।
दुख सुख नूं गंभीर पचावे, होछा थां थां फोले ।
औख प्यां ना डुब्बे दाना सुख विच पाट ना जावे ।
थोथा दाना छलकन लग्गे पीडा मूंहों ना बोले ।

(26) अहंसा

जे तूं सुघड़ ते जीउ किसे नूं, दुक्ख ना मूल पुचाईं ।
हर इक जी विच जीवन हो के, बैठा इको साईं ।
जो शै नहीं सुखांदी तैनूं, होर नूं क्युं, डाहें ?
तरस बितरसां उत्ते खांदा मूल न रब्ब न्याईं ।

(27) शांतमई

आतम-तयाग, खुदायी बरकत, होवे जिस दे पल्ले,
पेश न ताकत ते दौलत दी, उस दे अग्गे चल्ले ।
शांतमयी दी ढाल निवाए बड़े बड़े हंकारी,
दुनियां दे दिल उत्ते कबज़ा कीता गांधी कल्ले ।

(28) वफादारी

सुक्ख विच लाईआं, औखे वेले जो न तोड़ निबाहे,
ऐसा सुच्चा अंगी-संगी, धुप्पे देईए फ़ाहे ।
वफादार कुत्ते दी कीमत, उस मनुक्ख तों चंगी,
जिस तों जदों पेहायी मंगो, अग्गों पत्थर डाहे ।

(29) चुप

तोता, मैना, बुलबुल, चिणग, चकोर सुरख इतरांदे ।
आपनी आपनी बोली ताईं वध वध के वड्यांदे ।
दाने नूं सुन हासा आया, भोले भेद न समझे,
चुप रहन्दे तां पिंजर्यां विच कैद न कीते जांदे ।

(30) सुरमत

रन विच जा के पिट्ठ न देवे, सूरा सो अखवावे,
दुख विच साथ निबाहुन वाला, उस तों बीर कहावे ।
दान सूरमा, दया सूरमा, धरम बीर, सभ चंगे,
सभ तों बड़ा बहादुर उह, जो सह के चोट विखावे ।

(31) अणख

केहा शेर ने कुत्ते नूं तूं रत्ती अनख न खावें ।
ज्युं ज्युं तैनूं दुर दुर होवे त्युं त्युं पूछ हिलावें,
मेरा तेरा फरक इहो, मैं आप मार के खावां,
बुद्ध भ्रिशटी तेरी, खा खा टुक्कर हत्थ उचावें ।

(32) बुरे नाल नेकी

चन्दन उत्ते मार कुहाड़ा, चायआ लक्कड़हारे,
लत्थ जंगाल लिशक्या लोहा नाले महक खिलारे ।
चन्दन दी उदारता उत्ते, फुरी कवी नूं शंका,
केहो सु : नेकी कीत्यां बद भी, शरम कुशरमों हारे ।

(33) नेक नाल बुराई

मैं डिट्ठा अंग़ूर बेल नूं माली छांगी जांदा,
पुछ्या : इह की नेकी दा तूं बदला हैं भुगतांदा ?
कहन लग्गा : तूं दाते दा इह लच्छन नहीं पछाता ?
ज्युं ज्युं इसनूं छांगे त्युं त्युं बरकत रब्ब वधांदा ।

(34) खोटी संगत

भल्या ! भुल के लंघ न हेठों, खोटे दे परछावें,
राहे, जांदा संग-दोश विच मत कोयी लीक लुआवें ।
कज्जल दी कोठी विच वड़्यां, कालक बिन की लभ्भे,
ठेके बैठा शरबत पींदा, केहा शराबी जावें ।

(35) अनअधिकारी

मिली सुगात अतर मूरख नूं, जुत्ती विच पुआया,
अन्न्हे अग्गे दीदे गाले, उस नूं हासा आया ।
बेसमझां नूं राग सुणायआ, ज्युं खोते गल हीरा ।
बेकदरां दे पल्ले पै के, आपना कुरब गवायआ ।

(35) अनअधिकारी

मिली सुगात अतर मूरख नूं, जुत्ती विच पुआया,
अन्न्हे अग्गे दीदे गाले, उस नूं हासा आया ।
बेसमझां नूं राग सुणायआ, ज्युं खोते गल हीरा ।
बेकदरां दे पल्ले पै के, आपना कुरब गवायआ ।

(36) अत्त (मरयादा विरुध)

मरयादा तों बाहर निकल्यां, अंमृत वेहु बण जावे,
ढले ते कायर, वधे कुपत्ता, सांभ सूम सदावे ।
हस्से ढीठ, सखी लखलुट्टू चुप करे शरमिन्दा,
अत्त किसे दी भली ना लग्गे, गुन नूं दोश बणावे ।

(37) रोटी

भुक्खा पंडत न्हा धो बैठा, छंड फटक के चोटी,
उत्तों गीता घोटी जावे, अन्दरों टुट्टे बोटी ।
जी तांघे ते अक्ख उडीके, आंदर मूंह पसारे,
करम धरम सभ पिच्छों सुझ्झन, पहलां सुझ्झे रोटी ।

(38) करम फल

जो बीजे सो वढ्ढे जग विच करमां दी इह खेती,
कोयी फसल चिराका पक्के, कोयी फ़लदा छेती ।
कलजुग कर जुग, करदा जाए हत्थो हत्थ निबेड़ा,
जो चाहें सो रंग रचा लै, आपने करमां सेती ।

(39) चिंता रोग

चिंता दे चक्कर विच आ के, फिरदी गुझ्झी आरी ।
घोल घोल के जिन्द मुकावे, चिंता दी बीमारी ।
सूरे हूंझन हिंमत करके, उख्यायी दे कंडे,
चिंता दे विच डुब्बन नालों ला हिंमत दी तारी ।

(40) शराब

किक्कर दी चुड़ेल चड़्ह सिर ते, बन्द्यों जिन बणावे,
इज़्ज़त, अकल, सेहत ते दौलत चारे बन्ने लावे ।
ऐसा अन्न्हा जफ्फा मारे, मड़्हियां तीक न छड्डे,
फिर भी शुकर करो जे मुड़के पिछल्यां कोल न आवे ।

(41) सूम

पाप पुन्न दी कट्ठी कीती, मर मर सूम कमायी ।
भले अरथ कोयी मंग न बैठे, ड्रदा फिरे लुकायी ।
ना खावे, न हत्थों देवे, वेख वेख के जीवे,
तुरदी वारी पंज रतनी भी अग्हां न गई लंघायी ।

(42) किरतघण

किरतघना ! तूं खा खा दातां, मूंह किस करके सीता ?
दुहीं जहानीं दुर दुर हुन्दी, जाने न जो कीता ।
कुत्ता रिन्न्ह नशे विच चूहड़ी, तैथों पई लुकावे,
तेरे बाझों की थुड़्या है ? मर जा परे पलीता ।

(43) कामी

काम नशे विच गुत्ता फिरदा, कुत्ता ज्युं हलकायआ,
अन्न्हां होया परख ना सक्के, आपना अते परायआ ।
फिटकां पल्ले पैन जदों, बेशरम झाड़ सिर हस्से,
पलक सवाद हित, दुनिया, दीन, निलज्जे चुल्हे पायआ ।

(44) क्रोधी

चब्बे होठ, उगाले आने, फुकारे थर्रावे,
मूंहों झग्ग, ज़बान थिड़कदी, चील वांग चिल्लावे ।
वेख पकौड़े वांग चिरड़डा, क्रोधी प्या कड़ाही,
वाहर पई, हलकायआ लोको, नेड़े कोयी न जावे ।

(45) हंकारी

निगाह अकाश, धौन अकड़ाई, छाती फिरे उभारी ।
'मेरे जेहा होर भी कोई' ? कहन लग्गा हंकारी ।
वाज मिली : रावन, हरनाछस, फ़िराऊन खुसरो दा,
ख़ोज ना लभ्भे मिट्टी विचों, तूं की चीज निकारी ?

(46) शराबी

बच्चे विलकन, नारी नंगी, आपना खीसा खाली,
झस्स शराबी पूरा करदा, दे के छन्ना थाली ।
दिल धड़के, हत्थ पैर कम्बदे, चेहरे ते फिटकारां,
सज्जन मित्तर मूंह न लाउन, जो मूंह लाय प्याली ।

(47) कुलघाती

लंघन लग्गा ओपरा कुत्ता, घेर खलोते कुत्ते,
कां मोया तां झुरमट पायआ, कावां उस दे उत्ते,
कट्ठे होए दोवें ऐपर मतलब वक्खो वक्खी,
एधर पिंडों कढ्ढन नूं, ते ओधर परेम विगुते ।

(48) होछा

होछे लभ्भ दहीं दी फुट्टी लस्सी वांग वधाई,
जी जी कोल सुनेहा आया, होछे छाप घड़ायी ।
मिट्ठा, कौड़ा, खट्टा, खारा, जिस नूं पचे न कोई,
किस भांडे दा ढक्कन होई, होछे दी अशनायी ।

(49) दोखी

ज़ालम सुत्ता वेख दुपहरे, आखन लग्गा सादी,
'चंगा है इह एसे हाले, मोया भला फसादी' ।
जागद्यां नित गोंदां गुन्दे, लावां कोयी मुआता,
ना खेडे ना खेडन देवे, दोखी दी इह वादी ।

(50) लाऊ बुझाऊ

चुगल चुआती चुक्की फिरदा, घर नूं ला ला तावे ।
ऐधर जा चोर नूं लग जा, घर दे उधर जगावे ।
मैं पुच्छ्या : इस छेड़ छाड़ विच तैनूं की कुझ लभ्भे ?
केहो सु : झस्स पै ग्या भैड़ा, मज़ा लड़ा के आवे ।

(51) जबान दा रस

मालन कोल मुसाफर बैठा : मन्दा बोल सतांदा,
गुद्धा आटा पा तलियां ते, केहो सु 'हो जा वांदा' ।
हस्स हस्स पुच्छन लोक : जुआना ! इह की चोंदा जावे ?
आखन लग्गा : रस जबान दा, चुक्क तन्दूरों आंदा ।

80. सावें(गीत बेहाग)

टेक-मैं नहीं ऊं खेडने सावें, मैं....
अंमड़ीए ! जी काहनूं खावें ? मैं....

चंगी भली देखें, पिया घर नाहीं,
उठन कलेज्यों बल बल आहीं,
होर चुआतियां की लावें ?
मैं नहीं ऊं खेडने सावें ।
तत्यां नूं क्युं पई तावें ? मैं नहीं ऊं ....

बिरहों दी बिजली, धड़कां पाईआं,
छम छम नैणां झड़ियां लाईआं,
कालियां घटां की विखावें ?
मैं नहीं ऊं खेडने सावें,
अंमड़ीए क्युं पई खपावें ? मैं नहीं ऊं....

आख सईआं नूं पींघां पाउण,
पा पा किकली रल मिल गाउण,
पिपलां दी ठंढी ठंढी छावें ।
मैं नहीं ऊं खेडने सावें ।
सुत्तियां कलां की जगावें ? मैं नहीं ऊं....

मौली महन्दी, बिन्दियां ततोले,
नरदां दी थाईं रख रख कोले,
'चात्रिक' नूं परचावें ?
मैं नहीं ऊं खेडने सावें ?
कसम करा लै साथों भावें, मैं नहीं ऊं....

81. दिल

(गज़ल)
आ दिला ! होश करीं ! नेहुं न लगाईं, वेखीं !
इशक दे पेच बुरे, जी न फ़साईं, वेखीं !

तूं हैं अनजान जेहा, लोक बड़े वल छलीए,
खोटे बाज़ार किते भरम न जाईं, वेखीं !

फुल्लां दे खार बुरे, खारां ते नोकां बुरियां,
शोख्यां नाल प्या नैन न लाईं, वेखीं !

एन्हां गलियां च गले, मुड़ न मुड़े घर वल नूं,
राहे राह जांदा किते फ़ाह न पुआईं, वेखीं !

लै के दिल आख छडन : जायो जी हुन मौज करो,
धोखे बाज़ां दे बूहे पैर न पाईं, वेखीं !

रुड़्ह गए तारू बड़े, वहन कुवल्ले पै के,
शुकदी इशक नदी, पैर बचावीं, वेखीं !

तड़पदे रहन दी की ला लई बीमारी तूं ?
हौंसले नाल रहीं, जी न डुलाईं, वेखीं !

तैनूं वादी है बुरी, वेख के विछ जावन दी,
'चात्रिक' वांग किते धोखा न खाईं, वेखीं !

82. माही दे मेहने

(तरज़ होली)
सानूं माही दे मेहने ना मार ।
नी माए ! रब्ब कोलों डर नी ! माही दे मेहने ना मार ।

धुर दरगाहों मैं पल्ले पुआया, सोहण्यां दा सूबेदार,
माही मेरा मुरशद, माही मेरा मौला, माही तों जिन्दड़ी निसार ।
नी माए ! रब्ब कोलों डर नी ! माही दे मेहने ना मार ।

पाक परीतां नूं भंडनीएं पापने ! अक्खियां तों पट्टियां उतार ।
यारियां दी सार कुआरियां की जानन, ए आशकी हीर्यां दा हार ।
नी माए ! रब्ब कोलों डर नी ! माही दे मेहने ना मार ।

माही नाल फ़ाहियां मैं वट वट पाईआं, अल्ला नूं ज़ामन खुल्हार ।
जेहड़े रंग रंगियां, मैं उसे च चंगियां ; ए उतरे ना 'चात्रिक' खुमार ।
नी माए ! रब्ब कोलों डर नी ! माही दे मेहने ना मार ।

83. बहार दा गीत

सईयो सल्ल बिरहों दा सीना भुन्न भुन्न खावे,
सानूं सज्जणां दे बाझों ए बहार की भावे ?

आई रुत्त बसंती, पुंगर डालियां रहियां,
सावे पत्तरां दे चों, कलियां झाकन पईआं ।
कुदरत फुल्ल फुल्ल बहन्दी, पीली पोशश लावे,
सानूं सज्जणां दे बाझों ए बहार की भावे ?

नी बसंती बहारे ! पहनी पचरीए नारे !
तैनूं कौन हंडावे बाझों प्रीतम प्यारे ।
आखीं होन उडीकां, फेरा घर वल पावे,
सानूं सज्जणां दे बाझों ए बहार की भावे ?

महकां मतीए नी वाए !काहनूं लूहनीएं पासे ?
साडी जिन्दड़ी नूं बणियां, तैनूं सुझदे ने हासे ।
कल्ले लग्ग लग्ग कंधीं, रो रो हो गए फावे,
सानूं सज्जणां दे बाझों ए बहार की भावे ?

भौरे बंसरी छेड़ी, बुलबुल होयी मसतानी,
रब्बा किस तकसीरों, साडा रुस्स ग्या जानी ।
छेती 'चात्रिक' आवे, साडी लग्गी नूं बुझावे,
सानूं सज्जणां दे बाझों ए बहार की भावे ?

84. परेम पेचे

गीत
(भैरवी 3 ताल)
इशके दे पेच कुवल्ले ! दुहायी लोको ! इशके दे…
जान तमाचे ना झल्ले ।दुहायी लोको ! इशके दे…

दिल मेरा तड़फे, अक्ख शरमावे,
मां झिड़के, नेहुं पट्टियां पड़्हावे,
छोट नहीं किसे गल्ले ।दुहायी लोको…

जग्ग रक्खना नाले प्रीत निभाणी,
हाए वे जिया ! तेरी रह नहीं ऊ आणी,
गंढ गंढ साक दुवल्ले । दुहायी लोको…

वेखीं वे इशका ! दिल ना दुखावीं,
संभल संभल के चरके लावीं,
फट्ट नीं कलेजे दे अल्ले ! दुहायी लोको…

माही वे मुराण्यां ! तरस कमा लै,
फ़ज़लां दे बेड़े चाड़्ह लंघा लै,
पैसा नहीं ऊ मेरे पल्ले । दुहायी लोको…

इशके दे झेड़े धुर दे सहेड़े,
चात्रिक बाझों कौन नबेड़े,
वस्स ना वकीलां दे चल्ले ! दुहायी लोको…

85. प्यारे दी भाल

(सुर-कालंगड़ा, धारना-चरखा कातो तो बेड़ा पार है)
जिया ! छड्ड दे ऐश बहार नूं,
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

लहू पी ल्या टब्बरदारियां,
जान खा लई झूठियां यारियां ।
सुट्ट खूह विच कार वेहार नूं,
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

एस खप्प-खपोड़्यों नस्सीए,
किते इक्कल-वांजे वस्सीए ।
बह के छेड़ीए परेम-सतार नूं ।
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

एन्हां पंड्यां, मुल्लां, भाईआं,
लुट्टन वासते बौरां लाईआं ।
मंगो फुल्ल तां चोभन खार नूं,
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

किधरे कैस दा चेटक लावीए,
धीदो जट्ट दा जोग कमावीए ।
करीए पुच्छ फ़रेहाद लुहार नूं,
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

पास जागदी-जोत दे पुज्जीए,
फेर भम्बट वांगर भुज्जीए ।
मिलीए घुट घुट के दिलदार नूं,
चल्ल, भालीए महरम यार नूं ।

86. मन समझावा

(गज़ल)
दिला ! कुझ होश कर, माही ! दुहाईआं ना मचायआ कर,
ना सड़ सड़ जान लूहआ कर, न रो रो जी खपायआ कर ।

सदाईआ ! समझ जा हुन भी, ए चेटक चन्दरे छड दे,
दिलां नूं खोह खड़न वाले बिदरदां वल न जायआ कर ।

बड़े बेतरस पत्थर दिल बड़े डाढे बड़े खोटे,
इन्हां दे पास जा जा के, न झिड़कां रोज़ खायआ कर ।

जिन्हां दियां अक्खियां विच दीद कुदरत ने नहीं पाई,
उन्हीं दे साहमने बह बह न कढ कढ दिल विखायआ कर ।

इन्हां पीड़ां नूं झल्लन दा तेरे विच है नहीं जुरका,
शम्हां दे नाल भंभट वालियां शरतां न लायआ कर ।

लहू पी पी के पलियां नागणां है छेड़ ना बैठीं,
कटारां सान चड़्हियां तों कलेजे नूं बचायआ कर ।

इन्हां दागां भरे चन्दां दे विच ठंढक नहीं वसदी,
इलाही नूर वाली जोत, घर बह के जगायआ कर ।

तूं जिस बुत्त दा पुजारी हैं, उसे दे गीत गा चात्रिक,
निकंमे वैन पा पा के, न दुनियां नूं सुणायआ कर ।

87. पंजाबी माता दी दुहायी

धारना-मत पूछ मेरा अहवाल (भैरवी)

जागो वे मेर्यो शेरो वे ! क्युं देर लगायी वे ?
मैं लुट्ट लई दिन दीवीं वे, कोयी सुनो दुहायी वे ।

मेरा दो करोड़ कबीला,
कोयी झबदे कर्यो हीला,
मैं घर दी मालक्यानी हुन्दी जां परायी वे ! जागो..

कक्खां तों हौली होई,
मैनूं किते न मिलदी ढोई,
मतरेईआं नूं कर अग्गे अंमां घरों कढायी वे ! जागो..

बाबे नानक दी वड्याई,
बुल्हे ने मैथों पाई,
अवतारां पीरां फकीरां दी मैं तखत बहायी वे ! जागो..

सभ सईआं अगे गईआं,
मनज़ूर हज़ूरे पईआं,
मैं भरे सरों तुर चल्ली, 'चात्रिक' वांग तेहायी वे ! जागो..

 
 Hindi Kavita