Kisan Majdoor Sangharsh 2020
किसान मजदूर संघर्ष 2020

किसान मजदूर संघर्ष 2020 से सम्बंधित कविताएँ हम 'हलधर फिर हुंकार उठे' कृति में प्रकाशित कर रहे हैं । जो भी कवि महोदय हमें इस विषय पर अपनी रचनाएँ भेजना चाहें उनका सहृदय स्वागत है ।

हलधर फिर हुंकार उठे

Haldhar Phir Hunkar Uthe

  • हम लौट जाएँगे-नरेंद्र कुमार (जलंधर)

  • टीवी चैनलों पर-नरेंद्र कुमार (जलंधर)

  • पहली बार-गुरभजन गिल

  • कोरा जवाब-गुरभजन गिल

  • अब आगे की बात करो-गुरभजन गिल

  • ये आग अब हो गयी बड़ी-भूपिन्दर सिंघ 'बशर'

  • सरहद पे नित मरते वीर-भूपिन्दर सिंघ 'बशर'

  • हमारे नुमाइंदे बन हमारी ही गर्दनों पर-भूपिन्दर सिंघ 'बशर'

  • जुल्म की हुई इन्तेहा-गुरप्रीत कौर

  • बड़ा विचलित है देश का चौकीदार-जोगिंदर आजाद

  • दिल जैसा तेरा नाम री दिल्ली-अरतिंदर संधू

  • मेरे गांव का किसान-सुभाष भास्कर (चंडीगढ़)

  • हल-मनोज छाबड़ा

  • किसान (1)-प्रियंका भारद्वाज

  • किसान (2)-प्रियंका भारद्वाज

  • मेरे पिता-प्रियंका भारद्वाज

  • शाही फ़कीर-मदन वीरा

  • ज़मीन से उठती आवाज़-बल्ली सिंह चीमा

  • लूट गेहूँ, बाजरे औ' धान की-प्रेम साहिल देहरादून

  • हलधर दोहे-डॉ. जसबीर चावला

  • भीष्म हलधर की निष्ठा-डॉ. जसबीर चावला

  • एक असभ्य सवाल-हूबनाथ

  • जलियांवाला बाग बना दो-डॉ. जसबीर चावला

  • खूनी रजाई, नेताजी!-डॉ. जसबीर चावला

  • हमारे पास खेत हैं-दीप इन्दर

  • यह एक कील मुबारक हो !-बोधिसत्व (मुंबई)

  • समर्पण-डॉ. जसबीर चावला

  • कोई को दुःख नहीं-डॉ. जसबीर चावला

  • मैं कौन हूं-नरेन्द्र कुमार

  • बौखला गया है चौकीदार-जोगिंदर आजाद

  • निर्मम हाकिम-जोगिंदर आजाद

  • हलधर मेल-डॉ. जसबीर चावला

  • उम्मीद की उपज-गोलेन्द्र पटेल

  • गाँव से शहर के गोदाम में गेहूँ?-गोलेन्द्र पटेल

  • ईर्ष्या की खेती-गोलेन्द्र पटेल

  • उर्वी की ऊर्जा-गोलेन्द्र पटेल

  • किसान है क्रोध-गोलेन्द्र पटेल

  • जवानी का जंग-गोलेन्द्र पटेल

  • बारिश के मौसम में ओस नहीं आँसू गिरता है-गोलेन्द्र पटेल

  • ऊख-गोलेन्द्र पटेल

  • जोंक-गोलेन्द्र पटेल

  • सावधान-गोलेन्द्र पटेल

  • किसान की गुलेल-गोलेन्द्र पटेल

  • हमारा अन्नदाता-दीपक शर्मा

  • होरियों ! सावधान हो जाओ-दीपक शर्मा

  • नई-पुरानी जमीन का रिकॉर्ड बतानेवाले-वसंत सकरगाए

  • दौड़ो, ट्रैक्टर दौड़ो !-वसंत सकरगाए

  • रोड़ा हटाने के बाद किसान जोत रहा है खेत-वसंत सकरगाए

  • दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर विष्णु नागर-वसंत सकरगाए

  • कल-परसों-वसंत सकरगाए

  • सिंघु बॉर्डर से लाइव-वसंत सकरगाए

  • जिस किसान की फसल-कवि स्वप्निल श्रीवास्तव

  • मेरे पिता किसान थे-कवि स्वप्निल श्रीवास्तव

  • किसान-श्रीप्रकाश शुक्ल

  • हम अन्नदाता कहेंगे तुम्हें-प्रोफेसर चंद्रेश्वर

  • किसान-रेनू

  • किसान-प्रोफेसर शशिकला त्रिपाठी

  • सरकारी बसंत-सीमांकन यादव

  • मिट्टी का स्वाद-सुरेन्द्र प्रजापति

  • क्या तुम सही कर रहे हो?-अरविन्द कालमा

  • हलधर-परचम-डॉ. जसबीर चावला

  • हलधरों का अमृत-महोत्सव-डॉ. जसबीर चावला

  • आकर राजधानी के तट पर-डॉ. जसबीर चावला

  • तू खेती आंसुओं की कर--राम नारायण मीणा 'हलधर'

  • अश्रुज्वाला-डा-एनुगु नरसिंहा रेड्डी