Hindi Kavita
दुष्यंत कुमार
Dushyant Kumar
 Hindi Kavita 

सूर्य का स्वागत दुष्यन्त कुमार

मापदण्ड बदलो
कुंठा
एक स्थिति
परांगमुखी प्रिया से
अनुरक्ति
कैद परिंदे का बयान
धर्म
ओ मेरी जिंदगी
मैं और मेरा दुख
शब्दों की पुकार
दिग्विजय का अश्व
मुक्तक
दिन निकलने से पहले
परिणति
वासना का ज्वार
एक पत्र का अंश
गीत तेरा
जभी तो
मोम का घोड़ा
यह क्यों
मंत्र हूँ
स्वप्न और परिस्थितियाँ
अभिव्यक्ति का प्रश्न
दीवार
आत्म-वर्जना
दो पोज़
एक मनस्थिति का चित्र
पुनर्स्मरण
सूर्यास्त: एक इम्प्रेशन
सत्य
क्षमा
कागज़ की डोंगियाँ
पर जाने क्यों
इनसे मिलिए
माया
संधिस्थल
प्रेरणा के नाम
सूचना
समय
आँधी और आग
अनुभव-दान
उबाल
सत्य बतलाना
तीन दोस्त
उसे क्या कहूँ
सत्यान्वेषी
नई पढ़ी का गीत
सूर्य का स्वागत

Surya Ka Swagat Dushyant Kumar

Maapdand Badlo
Kuntha
Ek Sathiti
Prangmukhi Priya Se
Anurakti
Kaid Parinde Ka Bayan
Dharma
O Meri Jindagi
Main Aur Mera Dukh
Shabdon Ki Pukar
Digvijaya Ka Ashav
Muktak
Din Nikalne Se Pehle
Prinati
Vasna Ka Jwar
Ek Patar Ka Ansh
Geet Tera
Jabhi To
Mom Ka Ghora
Yeh Kyon
Mantar Hoon
Swapan Aur Prisathitiyan
Abhivayakti Ka Prashan
Deewar
Aatam-Varjana
Do Pose
Ek Mansathiti Ka Chitar
Punsmaran
Suryaast Ek Impression
Satya
Kshama
Kagaz Ki Dongiyan
Par Jaane Kyon
Inse Miliye
Maya
Sandhisathal
Prerna Ke Naam
Suchna
Samay
Aandhi Aur Aag
Anubhav-Daan
Ubaal
Satya Batlana
Teen Dost
Use Kaya Kahun
Satyanveshi
Nai Peerhi Ka Geet
Surya Ka Swagat
 
 
 Hindi Kavita