Hindi Kavita
नज़ीर अकबराबादी
Nazeer Akbarabadi
 Hindi Kavita 

Sufi-Rang Nazeer Akbarabadi

सूफ़ी-रंग नज़ीर अकबराबादी

बंजारानामा
आशिक़ों की भंग-1
आशिक़ों की भंग-2
आशिक़ों की सब्ज़ी
इश्क़ की मस्ती
है दुनिया जिस का नाम मियाँ-दार-उल-मकाफ़ात
दुनियाँ धोके की टट्टी है
कल जुग
दुनियाँ भी क्या तमाशा है
ख़ुदा की बातें ख़ुदा ही जाने
मौत की फ़िलासफ़ी
फ़कीरों की सदा-1
फ़कीरों की सदा-2-बटमार अजल का आ पहुँचा
मरातिब दुनियाँ महज़ बेसबात है
अजल का पयाम
तवक्कुल
ग़फ़लत का ख़्वाब
तंबीहुल गाफ़िलीन
ख़ुदा की दी हुई नेमतें
फ़ना (मौत)-1
फ़ना (मौत)-2
मौत का धड़का
मौत
दुनियां में
ख़ुशी से दान देने की प्रेरणा
दुनियाँ के तमाशे
तन का झोंपड़ा
बम शंकर बोलो हरी-हरि
दम का तमाशा
रोटियाँ
दुनियाँ के मरातिब क़ाबिले ऐतबार नहीं
वज़्द-व-हाल
पेट
आख़िर वही अल्लाह का एक नाम रहेगा
तवक्कुलो तर्को तजरीद
कुदरत का गुलदस्ता
तौहीद
पूरे हैं वही मर्द, जो हर हाल में ख़ुश हैं
दम ग़नीमत है
चपाती
पेट की फ़िलासफ़ी
दुआए तन्दुरूस्ती
शुक्र तन्दुरूस्ती
मज़म्मते अहले दुनियाँ
ख़ुशामद
आदमी नामा
पैसा-1
पैसा-2
कौड़ी
रूपए की फ़िलासफ़ी
ज़र
मुफ़्लिसी
इफ़्लास का नक्शा
आटे-दाल का भाव-1
आटे-दाल का भाव-2
भजन-1
भजन-2
भजन-3
 
 
 Hindi Kavita