Hindi Kavita
शहीद भगत सिंह
Shaheed Bhagat Singh
 Hindi Kavita 
 Hindi Kavita

शहीद भगत सिंह


Shaheed Bhagat Singh

शहीद भगत सिंह से सम्बंधित कविताएं

डरे न कुछ भी जहां की चला चली से हम
अगर भगत सिंह और दत्त मर गए
बम चख़ है अपनी शाहे रईअत पनाह से
ज़िंदा-बाश ऐ इंक़लाब ऐ शोला-ए-फ़ानूस-ए-हिन्द
हिन्दोसतान
तेईस मार्च को
मरते मरते
भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के बलिदान