Hindi Kavita
शाह मुहम्मद
Shah Muhammad
 Hindi Kavita 
 Hindi Kavita

शाह मुहम्मद

शाह मुहम्मद (१७८०-१८६२) को उन्नीसवीं सदी के पंजाब के राष्ट्रीय कवि के तौर पर याद किया जाता है।वह अपनी रचना 'जंगनामा-सिंघां ते फिरंगिआं' के लिए प्रसिद्ध हैं। उन्होंने अंग्रेज़ों और सिक्खों की पहली लड़ाई और जो घटनाएँ सिक्ख-राज के ख़ात्मे का कारण बनीं को आंखों देखे हाल की तरह बयान किया है।शाह मुहम्मद अमृतसर जिले के सरहदी गाँव वडाला वीरम के रहने वाले थे। जंगनामा १८४६ ईस्वी की रचना मानी जाती है।इतिहासकारों का ख़्याल है कि कवि के कई नज़दीकी रिश्तेदार महाराजा रणजीत सिंह की फ़ौज में थे। इसी कारण उन की रचना का बयान सच्चाई के बहुत नज़दीक है।कवि ने पंजाब की संस्कृति की जी भर कर तारीफ़ की है।

Jangnama Shah Muhammad

जंगनामा शाह मुहम्मद

1

अव्वल हमद जनाब अल्लाह दी नूं,
जेहड़ा कुदरती खेल बणांवदा ई ।
चौदां तबकां दा नकश निगार करके,
रंगा रंग दे भेख रचांवदा ई ।
सफां पिछलियां सभ समेट लैंदा,
अग्गे होर ही होर विछांवदा ई ।
शाह मुहंमदा ओस तों सदा डरीए,
बादशाहां थीं भीख मंगावदा ई ।

2

इह ते जियां नूं पकड़ के मोह लैंदी,
दुनियां वेसवा दा रक्खे भेस मियां ।
सदा नहीं जुआनी ते ऐश मापे,
सदा नहीं जे बाल वरेस मियां ।
सदा नहीं जे दौलतां फील घोड़े,
सदा नहीं जे राज्यां देश मियां ।
शाह मुहंमदा सदा नहीं रूप दुनियां,
सदा नहीं जे कालड़े केस मियां ।

3

इक रोज़ बडाले दे विच बैठे,
चली आण फिरंगी दी बात आही ।
सानूं आख्या हीरे ते होर यारां,
जिन्हां नाल साडी मुलाकात आही ।
राज़ी बहुत रहन्दे मुसलमान हिन्दू,
सिर दोहां दे उत्ते अफ़ात आही ।
शाह मुहंमदा विच पंजाब दे जी,
कोई नहीं सी दूसरी ज़ात आही ।

4

एहु जग्ग सरायं मुसाफिरां दी,
एथे ज़ोर वाले कई आइ गए ।
शिदाद, नमरूद, फिरऊन जेहे,
दाअवे बन्न्ह ख़ुदाय कहाय गए ।
अकबर शाह जेहे आए विच दिल्ली,
फेरी वांग वणजारिआं पाय गए ।
शाह मुहंमदा रहेगा रब्ब सच्चा,
वाजे कूड़ दे कई वजाय गए ।

5

महांबली रणजीत सिंघ होया पैदा,
नाल ज़ोर दे मुलख हिलाय गया ।
मुलतान, कशमीर, पिशौर, चम्बा,
जंमू, कांगड़ा कोट, निवाय गया ।
तिब्बत देश लद्दाख ते चीन तोड़ीं,
सिक्का आपने नाम चलाय गया ।
शाह मुहंमदा जान पचास बरसां,
हच्छा रज्ज के राज कमाय गया ।

6

जदों होए सरकार दे सास पूरे,
जम्हा होए नी सभ सरदार मियां ।
चेत सिंघ नूं मारिआ कौर साहिब,
शुरू होई दरबार तलवार मियां ।
खड़क सिंघ महाराज ने ढाह मारी,
मोया मुढ्ढ कदीम दा यार मियां ।
शाह मुहंमदा असां भी नाल मरना,
साडा इहो सी कौल-करार मियां ।

7

मेरे बैठ्यां इन्हां ने ख़ून कीता,
इह तां गरक जावे दरबार मियां ।
पिच्छे साडे वी कौर ना राज करसी,
असीं मरांगे एस नूं मार मियां ।
नाहक्क दा इन्हां ने ख़ून कीता,
इह तां मरनगे सभ सिरदार मियां ।
शाह मुहंमदा धुरों तलवार वग्गी,
सभे कतल होंदे वारो वार मियां ।

8

खड़क सिंघ महाराज होया बहुत मांदा,
बरस इक पिच्छे वस्स काल होया ।
आई मौत ना अटक्या इक घड़ी,
चेत सिंघ दे गम दे नाल मोया ।
कौर साहिब महाराजे दी गल्ल सुन के,
ज़रा गम दे नाल ना मूल रोया ।
शाह मुहंमदा कईआं दे बन्न्हने दा,
विच कौंसल दे कौर नूं फिकर होया ।

9

खड़क सिंघ महाराजे नूं चुक्क ल्या,
वेखो साड़ने नूं हुन लै चल्ले ।
धरम राय नूं जाय के खबर होई,
कौर मारने नूं ओन दूत घल्ले ।
मारो मार करदे दूत उट्ठ दौड़े,
जदों होए नी मौत दे आइ हल्ले ।
शाह मुहंमदा देख रज़ाय रब्ब दी,
ऊधम सिंघ ते कौर दे सास चल्ले ।

10

इक दूत ने आइ के फ़िकर कीता,
पलक विच दरवाज़े दे आया ई ।
जेहड़ा धुरों दरगाहों सी हुकम आया,
देखो ओस ने खूब बजायआ ई ।
अन्दर तरफ हवेली दे तुरे जांदे,
छज्जा ढाह दोहां उत्ते पायआ ई ।
शाह मुहंमदा ऊधम सिंघ थायं मोया,
कौर साहिब जो सहकदा आया ई ।

11

अट्ठ पहर लुकाय के रक्ख्यो ने,
दिन दूजे रानी चन्द कौर आई ।
खड़ग सिंघ दा मूल दरेग नाहीं,
कौर साहिब ताईं ओथे रोन आई ।
मृत होया ते करो ससकार इसदा,
रानी आखदी-'तुसां क्युं देर लाई ?'
शाह मुहंमदा रोंदी ए चन्द कौरां,
जेहदा मोया पुत्र सोहना शेर साई ।

12

शेर सिंघ नूं किसे जा खबर दित्ती,
जेहदा मोया भतीजा वीर यारो ।
योन तुरत वटाल्यों कूच कीता,
राहीं आंवदा घत्त वहीर यारो ।
जदों आण के होया लाहौर दाखल,
अक्खीं रोवे पलट्टदा नीर यारो ।
शाह मुहंमदा लोक दिलबरी देंदे,
चन्द कौर होई दिलगीर यारो ।

13

दित्ते संतरी चार खल्हार चोरीं,
शेर सिंघ अन्दर अज्ज आवना जे,
तुरत फूक देहो तुसीं कराबीनां,
पलक विच ही मार गवावना जे ।
शेर सिंघ नूं राजे ने खबर दित्ती,
अन्दर अज्ज हज़ूर ना आवना जे ।
शाह मुहंमदा अजे ना ज़ोर तेरा,
तैनूं असां ही अंत सदावना जे ।

14

चन्द कौर दी मन्दी जो नज़र देखी,
दगेबाज़ियां होर बथेरियां नी ।
योन तुरत लाहौर थीं कूच कीता,
बैठा जाय के विच मुकेरियां नी ।
पिच्छे राज बैठी रानी चन्द कौरां,
देंदे आइ मुसाहिब दलेरियां नी ।
शाह मुहंमदा कौर ना जंमना ए,
किल्हे कोट ते रईअतां तेरियां नी ।

15

राजे लशकरां विच सलाह कीती,
शेर सिंघ नूं किवें सदाईए जी ।
उह है पुत्र सरकार दा फते-जंगी,
गद्दी ओस नूं चाय बहाईए जी ।
सिंघां आख्या,'राजा जी ! हुकम तेरा,
जिस नूं कहें सो फतहि बुलाईए जी ।
शाह मुहंमदा गल्ल जो मूंहों कढ्ढें,
इसे वखत ही तुरत मंगाईए जी' ।

16

बाईआं दिनां दी राजे ने लई रुखसत,
तरफ जंमू दी होए नी कूच डेरे,
शेर सिंघ ताईं लिख घल्ली चिट्ठी,
मैं तां रफू कर छड्डे नी कंम तेरे ।
धौंसा मार के पहुंच लाहौर जलदी,
अगों आइ मिलसन तैनूं सभ डेरे ।
शाह मुहंमदा मिलणगे सभ अफसर,
जिस वेलड़े शहर दे जायं नेड़े ।

17

शेर सिंघ ने राजे दा ख़त पड़्ह के,
फ़ौजां तुरत लाहौर नूं घल्लियां नी ।
घोड़े हिणकदे ते मारू वज्जदे नी,
धूड़ां उड्ड के घटा हो चल्लियां नी ।
आवे बुद्धू दे पास नी लाए डेरे,
फ़ौजां लत्थियां आण इकल्लियां नी ।
शाह मुहंमदा आण जां रथ पहुंचे,
गल्लां शहर लाहौर विच चल्लियां नी ।

18

शेर सिंघ फिर बुद्धू दे आव्यों जी,
कर तुरम लाहौर वल्ल धायआ ई ।
फल्हे पड़तलां दे अग्गों पाड़ के जी,
शेर सिंघ नूं तुरत लंघायआ ई ।
योस बली शहज़ादे दा तेज भारी,
जिस किल्हे नूं मोरचा लायआ ई ।
शाह मुहंमदा हार के विचल्यां ने,
शेर सिंघ नूं तखत बिठायआ ई ।

19

शेर सिंघ गद्दी उत्ते आण बैठा,
रानी कैद करके किल्हे विच पाई ।
घर बैठ्यां रब्ब ने राज दित्ता,
उह तां मल्ल बैठा सारी पादशाही ।
बरस होया जद ओस नूं कैद होयां,
रानी दिल दे विखे जो जिच्च आही ।
शाह मुहंमदा मार के चन्द कौरां,
शेर सिंघ ने गलों बलाय लाही ।

20

शेर सिंघ नूं रब्ब ने राज दित्ता,
ल्या खोह लाहौर जो राणियां थीं ।
संधावालियां दे देशों पैर खिसके,
जा के पुच्छ लै राह पधाणियां थीं ।
मुड़ के फेर अजीत सिंघ लई बाज़ी,
पैदा होया सी असल सवाणियां थीं ।
शाह मुहंमदा जंम्या अली अकबर,
आंदा बाप नूं काल्यां पाणियां थीं ।

21

जिन्हां गोलियां ने मारी चन्द कौरां,
उन्हां ताईं हज़ूर चा सद्द्या ई ।
शेर सिंघ ने बुघ्घे नूं हुकम कीता,
ओन्हां किल्हयों बाहर चा कढ्ढ्या ई ।
राजे सिंघां दा गिला मिटावने नूं,
नक्क कन्न चा ओन्हां दा वढ्ढ्या ई ।
शाह मुहंमदा लाह के सभ जेवर,
काला मूंह कर के फेर छड्ड्या ई ।

22

बरस होया जां हाज़री लैन बदले,
डेरा शाह बिलावल लगांवदा ई ।
अजीत सिंघ गुझ्झी कराबीन लै के,
शेर सिंघ नूं आण दिखांवदा ई ।
सिद्धी जदों शहज़ादे ने नज़र कीती,
जलदी नाल चा कला दबांवदा ई ।
शाह मुहंमदा ज़िमीं ते प्या तड़फे,
तेग मार के सीस उडांवदा ई ।

23

लहना सिंघ जो बाग दी तरफ आया,
अग्गे कौर जो होम करांवदा ई ।
लहना सिंघ दी मन्दी जो नज़र देखी,
अग्गों वासता रब्ब दा पांवदा ई ।
"मैं तां करांगा बाबा जी टहल तेरी,'
हत्थ जोड़ के सीस निवांवदा ई ।
शाह मुहंमदा ओस ना इक मन्नी,
तेग मार के सीस उडांवदा ई ।

24

शेर सिंघ प्रताप सिंघ मार के जी,
संधावालीए शहर नूं उट्ठ धाए ।
राजा मिल्या तां कहआ अजीत सिंघ ने,
'शेर सिंघ नूं मार के असीं आए ।'
गल्लीं लाय के ते किले विच आंदा,
कैसे अकल दे उन्हां ने पेच पाए ।
'कित्थे मारी सी राजा जी ! चन्द कौरां ?'
शाह मुहंमदा पुच्छने उन्हां चाहे ।

25

गुरमुख सिंघ गयानी ने मत दित्ती,
'तुसां इह क्युं जींवदा छड्ड्या ई ।'
मगरों महर घसीटा भी बोल्या ई,
अग्गों सुखन सलाही ने कढ्ढ्या ई ।
इक अड़दली ने कराबीन मारी,
रस्सा आस-उमैद दा वढ्ढ्या ई ।
शाह मुहंमदा ज़िमीं ते प्या तड़फे,
दलीप सिंघ ताईं फेर सद्द्या ई ।

26

पहलां राजे दे ख़ून दा लाय टिक्का,
पिच्छों दित्तियां सत्त प्रदक्खणां ई ।
'तेरे वासते होए नी सभ कारे,
अग्गे साहब सच्चे तैनूं रक्खना ई ।
सानूं घड़ी दी कुझ उमैद नाहीं,
अज्ज रात प्रसाद किन चक्खना ई ।
तेरी वल जो करेगा नज़र मैली,
शाह मुहंमदा करांगे सक्खना ई ।'

27

हीरा सिंघ नूं राजे दी ख़बर होई,
सूबेदारां नूं सद्द के तुरत चड़्हआ ।
धौंसा मार के पहुता लाहौर जलदी,
गुस्से नाल सी शहर दे विच वड़्या ।
राजपूत उह डोगरा खूब चंगा,
संधावालियां दे नाल खूब लड़्या ।
शाह मुहंमदा अजीत सिंघ मुया लद्धा,
लहना सिंघ जो जींवदा आइ फड़्या ।

28

दोहां सिंघां तों बहुत सूरमत्त होई,
खंडा विच दरबार वजाय गए ।
ध्यान सिंघ ना किसे नूं वधन देंदा,
सारे मुलक दी कलह मिटाय गए ।
राजा करदा सी मुलक दी बादशाही,
पिच्छे रहन्द्यां नूं वखत पाय गए ।
शाह मुहंमदा मार के मुए दोवें,
चंगे सूरमे हत्थ दिखाय गए ।

29

दुल्ले भट्टी नूं गांवदा जग सारा,
जैमल फत्ते दियां वारां सारियां नी ।
मीर दाद चौहान दे सतर अन्दर,
मोईआं राणियां खाय कटारियां नी ।
संधावालियां जेही ना किसे कीती,
तेगां विच दरबार दे मारियां नी ।
शाह मुहंमदा मुए नी बीर बणके,
जानां कीतियां नहीं प्यारियां नी ।

30

पिच्छों आण के सभनां नूं फ़िकर होया,
सोचीं पए नी सभ सिरदार मियां ।
अग्गे राज आया हत्थ बुरछ्यां दे,
पई खड़कदी नित्त तलवार मियां ।
गद्दी वाल्यां नूं नहीं बहन देंदे,
होर कौन किस दे पाणीहार मियां ।
शाह मुहंमदा होई हुन मौत ससती,
ख़ाली नहीं जाना कोई वार मियां ।

31

लहना सिंघ सिरदार मजीठिया सी,
वड्डा अकल दा कोट कमाल मियां ।
महांबली सिरदार सी पंथ विचों,
डिट्ठी बनी कुचलनी चाल मियां ।
दिल आपने बैठ विचार करदा,
एथे कईआं दे होणगे काल मियां ।
शाह मुहंमदा तुर गया तीरथां नूं,
सारा छड्ड के दंग दवाल मियां ।

32

दलीप सिंघ गद्दी उत्ते रहे बैठा,
हीरा सिंघ जो राज कमांवदा ई ।
जल्ल्हा ओस दा खास वज़ीर है सी,
ख़ातर विच ना किसे ल्यांवदा ई ।
अन्दर बाहर सरकार नूं प्या घूरे,
कहे कुझ ते कुझ कमांवदा ई ।
शाह मुहंमदा पंथ नूं दुक्ख देंदा,
हीरा सिंघ दा नास करांवदा ई ।

33

सिंघां लिख्या ख़त सुचेत सिंघ नूं,
बुरा करनहारा जल्ल्हा ठीकदा ई ।
'जलदी पहुंच वज़ीर बना लईए,
तैनूं खालसा पया उडीकदा ई ।
अकसर राज प्यारे नी राज्यां नूं,
हीरा सिंघ तां पुत्र शरीक दा ई ।
शाह मुहंमदा जल्ल्हे दा नक्क वढ्ढो,
भज्ज जाएगा मारिआ लीक दा ई ।

34

जिस वेलड़े राजे ने ख़त पड़्हआ,
जामे विच ना मूल समांवदा ई ।
वग्गा तग्ग लाहौर नूं असां जाणा,
डेरे काठियां चाय पवांवदा ई ।
मंजी काकड़ी फौज़ उतार सारी,
बाई आदमी नाल लै आवदा ई।
शाह मुहंमदा आ लाहौर पहुंचा,
मियांमीर डेरा आण लांवदा ई ।

35

हीरा सिंघ नूं राजे दी ख़बर होई,
सभे पड़तलां तुरत लपेटियां नी ।
सिंघां आख्या, 'राजा जी ! जायो मुड़ के,
फ़ौज़ां रहन्दियां नहीं समेटियां नी ।'
'सिंघो! जीउंदे जान मुहाल जंमू,
ताअने देन राजपूतां दियां बेटियां नी ।
'शाह मुहंमदा आया वज़ीरी लै के,'
आखन सभ पहाड़ डुमेटियां नी ।

36

तोपां जोड़ के पड़तलां नाल लै के,
चाचे सके उत्ते हीरा सिंघ चड़्हदा ।
जदों फौज ने घत्त्या आण घेरा,
खंडा सार दा खिच्च के हत्थ फड़दा,
भमि सिंघ ते केसरी सिंघ साहवें,
लै के दोहां नूं कटक दे विच वड़दा ।
शाह मुहंमदा टिक्के दी लाज रक्खी,
मत्थे साम्हने होइ के खूब लड़दा ।

37

सिंघ जल्ल्हे दे हत्थ तों तंग आए,
दिलां विच कचीचियां खावदे नी ।
अग्गे सत्त ते अट्ठ सी तलब सारी,
बारां ज़ोर दे नाल करांवदे नी ।
कई आखदे दे इनाम सगवां,
लै बुतकियां गले चा पांवदे नी ।
शाह मुहंमदा जल्ल्हे दे मारने नूं,
पंच कौंसली चाय बणांवदे नी ।

38

होया हुकम जो बहुत महावतां नूं,
हौदे सुइने दे चाय कसांवदे नी ।
तरफ़ जंमू दी देइ मरोड़ चल्ले,
सानूं आइ के सिंघ मनांवदे नी ।
घेरे अज़ल दे अकल ना ज़रा आई,
बुरा आपना आप करांवदे नी ।
शाह मुहंमदा सिंघ लै मिले तोपां,
अग्गों गोल्यां नाल उडांवदे नी ।

39

हीरा सिंघ ते जल्ल्हे नूं मार के जी,
जवाहर सिंघ वज़ीर बणाययो ने ।
तरफ़ जंमू पहाड़ दी हो चल्ले,
राहीं शोर ख़रूद मचाययो ने ।
ओतों राजा गुलाब सिंघ बन्न्ह आंदा,
कैंठे फेर लै के गलीं पाययो ने ।
शाह मुहंमदा असां हुन कड़े लैणे,
जवाहर सिंघ नूं आख सुणाययो ने ।

40

केहा बुरछ्यां आण हनेर पायआ,
जेड़्हा बहे गद्दी उह नूं मार लैंदे ।
कैंठे कड़े इनाम रुपए बारां,
कदे पंज ते सत्त ना चार लैंदे ।
कई तुरे नी किल्हे दी लुट्ट उत्ते,
कई शहर दे लुट्ट बज़ार लैंदे ।
शाह मुहंमदा चड़्हे मझैल भाईए,
पैसा तलब दा नाल पैज़ार लैंदे ।

41

पिच्छे इक सरकार दे खेड चल्ली,
पई नित्त हुन्दी मारो मार मियां ।
सिंघां मार सरदारां दा नाश कीता,
सभो कतल होए वारो वार मियां ।
सिर ते फौज़ दे रेहा ना कोई कुंडा,
होया शुतर ज्युं बाझ मुहार मियां ।
शाह मुहंमदा फिरन सरदार लुकदे,
भूत मंडली होई त्यार मियां ।

42

जवाहर सिंघ दे उत्ते नी चड़्हे सारे,
मत्था ख़ूनियां वांग चा वट्ट्यो ने ।
डरदा भाणजे नूं लै के मिलन आया,
अग्गों नाल संगीनां दे फट्ट्यो ने ।
सीखां नाल उड़ुम्ब के फ़ील उत्ते,
कढ्ढ हौद्यों ज़िमीं ते स्ट्ट्यो ने ।
शाह मुहंमदा वासते पांवदे दा,
सिर नाल तलवार दे कट्ट्यो ने ।

43

रानी कैद कनात दे विच कीती,
'किस नूं रोइ के पई डरावनी हैं ?
तेरा कौन हमायती सुनन वाला,
जेहनू पाय के वैन सुणावनी हैं ।
केहड़े पातशाह दा पुत्त मोया साथों,
जेहड़े डूंघड़े वैन तूं पावनी हैं ?
शाह मुहंमदा देह इनाम सगों,
साडे ज़ोर ते राज कमावनी हैं ।'

44

पई झूरदी ए रानी जिन्द कौरां,
किथों कढ्ढां मैं कलगियां नित तोड़े ।
मेरे साहमने कोहआ ने वीर मेरा,
जैंदी ताब्या लक्ख हज़ार घोड़े ।
कित्थों कढ्ढां मैं देश फिरंगियां दा,
कोई होवे जो इन्हां दा गरब तोड़े ।
शाह मुहंमदा ओस तों जान वारां,
जवाहर सिंघ दा वैर जो कोई मोड़े ।

45

मैनूं आण चुफेर्यों घूरदे नी,
लैंदे मुफ़त इनाम रुपए बारां ।
जट्टी होवां ते करां पंजाब रंडी,
सारे मुलक दे विच चा छिड़न वारां ।
छड्डां नहीं लाहौर विच वड़न जोगे,
सने वड्ड्यां अफ़सरां जमादारां ।
पए रुलणगे विच परदेस मुरदे,
शाह मुहंमदा मारनी एस मारां ।

46

जिन्हां कोह के मारिआ वीर मेरा,
मैं तां खोहांगी उन्हां दियां जुंडियां नी ।
धाकां पैन वलायतीं देस सारे,
पावां बक्करे वांग चा वंडियां नी ।
चूड़े लहणगे बहुत सुहागणां दे,
नत्थ चौंक ते वालियां डंडियां नी ।
शाह मुहंमदा पैणगे वैन डूंगे,
जदों होन पंजाबणां रंडियां नी ।

47

अरज़ी लिखी फिरंगी नूं कुंज गोशे,
पहलां आपनी सुख अनन्द वारी ।
'तेरे वल्ल मैं फोज़ां नूं तोरनी हां,
खट्टे करीं तूं इन्हां दे दन्द वारी ।
पहलां आपना ज़ोर तूं सभ्भ लावीं,
पिच्छों करांगी ख़रच मैं बन्द वारी ।
शाह मुहंमदा फेर ना आउन मुड़ के,
मैनूं एतनी बात पसन्द वारी ।

48

पहले पार दा मुलक तूं मल्ल साडा,
आपे खाय गुस्सा तैंथीं आवनीगे ।
सोई लड़नगे हैन बे-ख़बर जेहड़े,
मत्था कदी सरदार ना डाहवनीगे ।
एसे वासते फौज़ मैं पाड़ छड्डी,
कई भांज अचाणकी पावनीगे ।
शाह मुहंमदा लाट जी ! कटक तेरे,
मेरे गलों तगादड़े लाहवनीगे ।'

49

नन्दन कम्पनी साहब किताब डिट्ठी,
इन्हां लाटां विचों कौन लड़ेगा जी ।
टुंडे लाट ने चुक्या आण बीड़ा,
'हमीं जाय के सीख सों अड़ेगा जी ।
घंटे तीन में जाय लाहौर मारां,
एस बात में फ़रक ना पड़ेगा जी ।
शाह मुहंमदा फगणों तेर्हवीं नूं,
साहब जाय लाहौर विच वड़ेगा जी ।

50

वज्जी तुरम तम्बूर करनाय शुतरी,
तम्बू बैरकां लाल निशान मियां ।
कोतल पालकी बघ्घियां तोपखाने,
दूरबीन जंगी सायबान मियां ।
चड़्हआ नन्दनों लाट उठाय बीड़ा,
डेरा पांवदा विच मैदान मियां ।
शाह मुहंमदा गोरिआं छेड़ छेड़ी,
मुलक पार दा मल्ल्या आन मियां ।

51

फरांसीसां नूं अन्दरों हुकम होया,
'तुसीं जाहो खां तरफ़ कशमीर नूं जी ।'
ओन्हां रब्ब दा वासता पायआ सी,
'माई ! फड़ीं ना किसे तकसीर नूं जी ।
पारों मुलक फ़िरंगियां मल्ल ल्या,
असीं मारांगे ओस बेपीर नूं जी ।
शाह मुहंमदा आए नी होर पर्यों,
असीं डक्कना ओस वहीर नूं जी ।'

52

माई आख्या, 'सभ्भे चड़्ह जान फौजां,
बूहे शहर दे रहन ना सक्खने जी ।
मुसलमानियां पड़तलां रहन एथे,
घोड़-चड़्हे नाहीं पास रक्खने जी ।
कंठे कलगियां वालड़े होन अग्गे,
मोहरे होर गरीब ना धक्कने जी ।
शाह मुहंमदा जिन्हां दी तलब तेरां,
मज़े तिन्हां लड़ाई दे चक्खने जी ।'

53

सारे पंथ नूं सद्द के कहन लग्गी,
मैथों गए ख़ज़ाने निखुट्ट वारी ।
जमना तीक जो प्या है मुलख सुंञा,
खावो देस फ़िरंगी दा लुट्ट वारी ।
मारो शहर फ़िरोज़पुर, लुध्याणा,
सुटो छावनी ओस दी पुट सारी ।
शाह मुहंमदा लओ इनाम मैथों,
कैंठे कड़े मैं देवांगी सुट वारी ।'

54

सिंघां आख्या, 'लड़ांगे होए टोटे,
सानूं ख़बर भेजीं दिने रात माई !
तेरी नौकरी विच ना फरक करीए,
भावें खूह घत्तीं भावें खात माई ।'
सिंघां भोल्यां मूल ना सही कीता,
गुझ्झा करन लग्गी साडा घात माई ।
शाह मुहंमदा अजे ना जाण्यो ने,
ख़ाली पई है चोपड़ी परात माई ।

55

दित्ती माई ने जदों दिलबरी भारी,
सिंघ बैठे नी होइ सुचेत मियां ।
सच्चे साहब दे हत्थ नी सभ गल्लां,
किसे हार दिन्दा किसे जेत मियां ।
इक लक्ख बेटा सवा लक्ख पोता,
रावन मारिआ घर दे भेत मियां,
शाह मुहंमदा जाणदा जग्ग सारा,
कई सूरमे आउणगे खेत मियां ।

56

सिंघां सारिआं बैठ गुरमता कीता,
'चल्लो हुने फ़िरंगी नूं मारीए जी ।
इक वार जे साहमने होए साडे,
इक घड़ी विच पार उतारीए जी ।
बीर सिंघ जेहे असां नहीं छड्डे,
असीं कास तों ओस तों हारीए जी ।
शाह मुहंमदा मार के लुध्याणा,
फौजां दिल्ली दे विच उतारीए जी ।

57

ज़बत करांगे माल फिरंगियां दा,
लुट ल्यावांगे दौलतां बोरियां नी ।
फेर वड़ांगे उन्हां दे सतर-ख़ाने,
बन्न्ह ल्यावांगे सारियां गोरियां नी ।
काबल विच पठान ज्युं अली अकबर,
मार वढ्ढ के कीतियां पोरियां नी ।
शाह मुहंमदा लवांगे फेर कैंठे,
तिल्लेदार जो रेशमी डोरियां नी ।'

58

धौंसा वज्या कूच दा हुकम होया,
चड़्हे सूरमे सिंघ दलेर मियां ।
चड़्हे पुतर सरदारां दे छैल बांके,
जैसे बेल्यों निकलदे शेर मियां ।
चड़्हे सभ मझैल दुआबीए जी,
जिन्हां किले निवाए ने ढेर मियां ।
शाह मुहंमदा तुरे जम्बूर खाने,
होया हुकम ना लांवदे देर मियां ।

59

शाम सिंघ सरदार ने कूच कीता,
जल्हे वालीए बनत बणांवदे नी ।
आए होर पहाड़ दे सभ राजे,
जेहड़े तेग दे धनी कहांवदे नी ।
चड़्हे सभ सरदार मजीठीए जी,
संधावालीए काठियां पांवदे नी ।
शाह मुहंमदा चड़्ही अकाल रजमट,
खंडे सार दे सिकल करांवदे नी ।

60

मज़हर अली ते माखे खां कूच कीता,
तोपां शहर थीं बाहर निकालियां नी ।
बेड़ा चड़्हआ सुलतान महमूद वाला,
तोपां होर इमाम शाह वालियां नी ।
इलाही बखश पटोलीए मांज के जी,
धूप देइ के तखत बहालियां नी ।
शाह मुहंमदा ऐसियां सिकल होईआं,
बिजली वांगरां देन दिखालियां नी ।

61

सुन के ख़बर फिरंगी दी चड़्हे सारे,
फौजां बेमुहारियां होइ तुरियां ।
फेर वार कु वार ना किसे डिट्ठा,
इक दूसरे दे अग्गे (पिच्छे) लग्ग तुरियां ।
अग्गे तोपां दे धनी वी हैन गोरे,
वंगां पहन खलोतियां नहीं कुड़ियां ।
शाह मुहंमदा वरज ना जांद्यां नूं,
फौजां होइ मुहताणियां कदों मुड़ियां ।

62

चड़्हे शहर लाहौर थीं मार धौंसा,
सभ्भे गभ्भरू नाल हंकार तुरदे ।
उरे दोहां दरिआवां ते नहीं अटके,
पत्तन लंघे नी जाय फिरोज़पुर दे ।
अग्गे छेड़्या नहीं फिरंगियां ने,
दुहां धिरां दे रुलणगे बहुत मुरदे ।
शाह मुहंमदा भज्जना रणों भारी,
जुट्टे सूरमे आख तूं कदों मुड़दे ।

63

लग्गी धमक सारे हिन्दुसतान अन्दर,
दिल्ली आगरे हांसी हिसार मियां ।
बीकानेर गुलनेर भटनेर जै पुर,
पईआं भाजड़ां जमना तों पार मियां ।
चड़्ही सभ पंजाब दी बादशाही,
नहीं दलां दा अंत शुमार मियां ।
शाह मुहंमदा किसे ना अटकना ईं,
सिंघ लैणगे दिल्ली नूं मार मियां ।

64

अरज़ी लिखी फ़िरंगियां ख़ालसे नूं,
'तुसीं कास नूं जंग मचांवदे हो ।
महाराजे दे नाल सी नेम साडा,
तुसीं सुत्तियां कलां जगांवदे हो ।
कई लक्ख रुपए लै जायो साथों,
देईए होर जो तुसीं फुरमांवदे हो ।
शाह मुहंमदा असां ना मूल लड़ना,
तुसीं एतना ज़ोर क्युं लांवदे हो ।'

65

सिंघां लिख्या ख़त फ़िरंगियां नूं,
'तैनूं मारांगे असीं वंगार के जी ।
सानूं नहीं रुपईआं दी लोड़ काई,
भावें देह तूं ढेर उसार के जी ।
उहो पंथ तेरे उत्ते आण चड़्हआ,
जेहड़ा आया सी जंमू नूं मार के जी ।
शाह मुहंमदा साम्हने डाह तोपां,
सूरे कढ्ढ मैदान नितार के जी ।'

66

पैंचां लिख्या सारियां पड़तलां नूं,
साडी अज्ज है वड्डी चड़्हंत मियां ।
बीर सिंघ नूं मारिआ डाह तोपां,
नहीं छड्ड्या साध ते संत मियां ।
मारे असीं चुफेरे दे किल्हे भारे,
असीं मारिआ कुल्लू भटंत मियां ।
शाह मुहंमदा गल्ल तां सोई होणी,
जेहड़ी करेगा ख़ालसा पंथ मियां ।

67

दूरबीन अंगरेज़ ने हत्थ लै के,
कीता फौज दा सभ शुमार मियां ।
जिन्हीं थावीं सी जम्हां बारूद ख़ाने,
कीते सभ मालूम हज़ार मियां ।
दारू वंड्या जंगियां सूरिआं नूं,
दो दो बोतलां कैफ़ ख़ुमार मियां ।
शाह मुहंमदा पी शराब गोरे,
होए जंग नूं तुरत त्यार मियां ।

68

इक पिंड दा नाम जो मुदकी सी,
ओथे भरी सी पानी दी खड्ड मियां ।
घोड़-चड़्हे अकालीए नवें सारे,
झंडे दित्ते नी जाय के गड्ड मियां ।
तोपां चल्लियां कटक फ़िरंगियां दा,
गोले तोड़दे मास ते हड्ड मियां ।
शाह मुहंमदा पिछांह नूं उट्ठ नस्से,
तोपां सभ आए ओथे छड्ड मियां ।

69

डेरे आण के बैठ सलाह करदे,
ऐतवार असीं खंडा फड़ांगे जी ।
तेजा सिंघ दी वड्डी उडीक सानूं,
उह दे आए बगैर ना लड़ांगे जी ।
सरफा जान दा नहीं जे मूल करना,
जदों विच मैदान दे अड़ांगे जी ।
शाह मुहंमदा इक दूं इक हो के,
डेरे चल्ल फ़िरंगी दे वड़ांगे जी ।

70

तेजा सिंघ जो लशकरीं आण वड़्या,
हुद्देदार सभे उत्थे आंवदे नी ।
करो हुकम ते तेग उठाईए जी ,
पए सिंघ कचीचियां खांवदे नी ।
कूंजां नज़र आईआं बाज़ां भुक्ख्यां नूं,
चोटां कैसियां देख चलांवदे नी ।
शाह मुहंमदा ओस थीं हुकम लै के,
हल्ला करन दी व्युंत बणांवदे नी ।

71

फेरू शहर दे हेठ जां खेत रुद्धे,
तोपां चलियां नी वांगूं तोड़्यां दे ।
सिंघ सूरमे आण मैदान लत्थे,
गंज लाह सुट्टे ओन्हां गोरिआं दे ।
टुंडे लाट ने अंत नूं खाय गुस्सा,
फेर दित्ते नी लक्ख ढंडोरिआं दे ।
शाह मुहंमदा रंड बिठाय नन्दन,
सिंघ जान लैंदे नाल ज़ोरिआं दे ।

72

हुकम लाट कीता लशकर आपने नूं,
'तुसां लाज अंगरेज़ दी रक्खनी जी ।
सिंघां मार के कटक मुकाय दित्ते,
हन्दुसतानी ते पूरबी दक्खनी जी ।
नन्दन टापूआं विच कुरलाट होया,
कुरसी चार हज़ार है सक्खनी जी ।
शाह मुहंमदा करनी पंजाब खाली,
रत्त सिंघ सिपाही दी चक्खनी जी ।'

73

होया हुकम अंगरेज़ दा तुरत जलदी,
तोपां मारियां नीर दे आइ पल्ले ।
फूक सुट्टियां सारियां मेख़जीनां,
सिंघ उड्ड के पत्तरा होइ चल्ले ।
छौलदारियां, तम्बूआं छड्ड दौड़े,
कोई चीज़ ना लई ए बन्न्ह पल्ले ।
ओड़क ल्या मैदान फ़िरंगियां ने,
शाह मुहंमदा रणों ना मूल हल्ले ।

74

ओधर आप फ़िरंगी नूं भांज आई,
दौड़े जान गोरे दित्ती कंड मियां ।
चल्ले तोपख़ाने सारे बेड़्यां दे,
मगरों होई बन्दूकां दी फंड मियां ।
किन्हे जाय के लाट नूं खबर दित्ती,
'नन्दन होइ बैठी तेरी रंड मियां ।
शाह मुहंमदा देख मैदान जा के,
रुलदी गोरिआं दी ओथे झंड मियां ।'

75

पहाड़ा सिंघ सी यार फ़िरंगियां दा,
सिंघां नाल सी ओस दी गैरसाली ।
पिच्छों भज्ज के लाट नूं जाय मिल्या,
गल्ल जाय दस्सी सारी भेत वाली ।
'उथों हो गया हरन है खालसा जी,
चौदां हत्थां दी मार के जान छाली ।
शाह मुहंमदा सांभ लै सिलेखाने,
छड्ड गए नी सिंघ मैदान खाली ।'

76

मुड़ के फेर फ़िरंगियां ज़ोर पायआ,
लाटांदार गोले ओथे आण छुट्टे ।
उडी राल ते चादरां कड़कियां नी,
कैरों पांडवां दे जैसे बान छुट्टे ।
जदों डिट्ठे नी हत्थ फ़िरंगियां दे,
उथे कईआं दे आण प्रान छुट्टे ।
शाह मुहंमदा इक सौ तेई तोपां,
तोशेखाने फ़िरंगियां आण लुट्टे ।

77

जदों प्या हरास ते करन गल्लां,
मुंडे घोड़-चड़्हे, नवें छोकरे जी ।
अद्धी रात नूं उट्ठ के खिसक तुरीए,
कित्थों पए गोरे सानूं ओपरे जी ।
वाही करदे ते रोटियां खूब खांदे,
असीं जिन्हां दे पुतर ते पोतरे जी ।
शाह मुहंमदा खूहां ते मिलख वाले,
असीं दब्ब के लावांगे जोतरे जी ।

78

जेहड़े जींवदे रहे सो पए सोचीं,
होए भुक्ख दे नाल ज़हीर मियां ।
बुरे जिन्न हो के सानूं पए गोरे,
असीं जाणदे सां कोई कीर मियां ।
असां शहद दे वासते हत्थ पायआ,
अग्गों डूमना छिड़े मखीर मियां ।
शाह मुहंमदा राह ना कोई लभ्भे,
जिथे चलीए घत्त वहीर मियां ।

79

घरों गए फ़िरंगी दे मारने नूं,
बेड़े तोपां दे सभ खुहाय आए ।
छेड़ आफ़तां नूं मगर लाययो ने,
सगों आपना आप गवाय आए ।
सुखी वसदा शहर लाहौर सारा,
सगों कुंजियां हत्थ फड़ाय आए ।
शाह मुहंमदा कहन्दे ने लोक सिंघ जी,
'तुसीं चंगियां पूरियां पाय आए ।'

80

घरीं जाय के फेर आराम कीता,
किसे रात किसे दोइ रात मियां ।
पिच्छों फेर सरदारां ने सद्द भेजे,
जे कोई सिंघ सिपाही दी ज़ात मियां ।
'कित्थे लुकोगे जाय के खालसा जी,
दस्सो खोल्ह के असल दी बात मियां ।'
शाह मुहंमदा फेर इकट्ठ होया,
लग्गी चाननी होर कनात मियां ।

81

कंढे पार दे जम्हां जु होइ डेरे,
नौकर इवें दे घरीं ना मिलन जाने ।
डेरे आण के बहु विरलाप होया,
होईआं बुतकियां बन्द ते विकन दाने ।
छहियां कढ्ढ के मोरचीं जाय बैठे,
डेरीं आण के फेर प्रसाद खाने ।
शाह मुहंमदा सभे मालूम कीती,
कीकूं होई सी दस्स खां लुध्याने ।

82

सरदार रणजोध सिंघ फौज लै के ,
मद्दद लाडूए वाले दी चल्ल्या जे ।
उह दे सभ कबीले सी कैद होए,
कोई लाट फ़िरंगी ने घल्ल्या जे ।
इन्हां जाय खोहियां बन्दां सारियां नी,
उह दा ज़ोर ना किसे ने झल्ल्या जे ।
शाह मुहंमदा छावनी फूक दित्ती,
विचों जीउ फ़िरंगी दा हल्ल्या जे ।

83

चार पड़तलां लै मेवा सिंघ आया,
सिंघ आपने हत्थ हथ्यार लैंदे ।
इन्हां बहुत फ़िरंगी दी फौज मारी,
लुट्टां भारियां बाझ शुमार लैंदे ।
तोपां, शुतर, हाथी, उठ, रथ, गड्डे,
डेरे आपने सिंघ उतार लैंदे ।
शाह मुहंमदा सिंघ जे ज़ोर करदे,
भावें लुध्याना तदों मार लैंदे ।

84

मुहकम दीन, सरदार नूं लिखी अरज़ी,
'तुसां रसद लुट्टे चंगे शान दे जी ।
देहु भेज उरार सभ कारखाने,
असीं रक्खागे नाल रमान दे जी ।
तैनूं अज्ज हज़ूर थीं फ़तेह आई,
ख़बरां उड्डियां विच जहान दे जी ।
शाह मुहंमदा वैरी नूं जान हाज़र,
सदा रक्खीए विच ध्यान दे जी ।'

85

सट्ठ कोहां दा पंध सी लुध्याणा,
रातो रात कीती टुंडे दौड़ मियां ।
उह भी लुट्ट्या लाट ने आण डेरा,
तोपां सभ खोहियां कीती रौड़ मियां ।
झल्ली अबूतबेले दियां पड़तलां ने,
अद्धी घड़ी लड़ाई दी सौड़ मियां ।
शाह मुहंमदा सिंघ लुटाय डेरा,
कर आए नी त्रट्टियां चौड़ मियां ।

86

पहले हल्ल्यों सिंघ जो निकल नट्ठे,
पए औझड़ीं औझड़ीं जांवदे नी ।
लीड़े गए सारे रही इक कुड़ती,
बाहां हिक्क दे नाल लगांवदे नी ।
अगों लोक लड़ाई दी गल्ल पुछण,
जीभ होठां ते फेर दिखांवदे नी ।
शाह मुहंमदा आइ के घरद्यां तों,
नवें कपड़े होर सिवांवदे नी ।

87

कहन्दे, जीउंद्यां फेर ना कदी जाणा,
मूंह लग्गना नहीं चंडाल दे जी ।
किते जाय के चार दिन कट्ट आईए,
ढूंडन आउणगे साडे भी नाल दे जी ।
तुसां आखना 'मर गया लुध्याणे,
असीं फिरदे हां ढूंडदे भालदे जी ।'
शाह मुहंमदा रहे हथ्यार ओथे,
लीड़े नहीं आए साडे नाल दे जी ।

88

पिछों बैठ सरदारां गुरमता कीता,
कोई अकल दा करो इलाज यारो ।
फेड़(छेड़) बुरछ्यां दी साडे पेश आई,
पग्ग दाड़्हियां दी रक्खो लाज यारो ।
मुट्ठ मीटी सी एस पंजाब दी जी,
इन्हां खोल्ह दिता सारा पाज यारो ।
शाह मुहंमदा मार के मरो एथे,
कदे राज ना होइ मुहताज यारो ।'

89

तीजी वार ललकार के पए गोरे,
वेले फ़ज़र दे होया तम्बूर मियां ।
कस्स लईआं ने सिंघां ने तुरत कमरां,
कायम जंग नूं होइ ज़रूर मियां ।
पहलां बाव्यों आण के ज़ोर दिता,
प्या दलां दे विच फतूर मियां ।
शाह मुहंमदा दौड़ के जान किथे,
इथों शहर लाहौर है दूर मियां ।

90

आईआं पड़तलां बीड़ के तोपखाने,
अग्गों सिंघां ने पासड़े तोड़ सुट्टे ।
माखे खां ते मेवा सिंघ होए सिद्धे,
हल्ले तिन्न फ़िरंगी दे मोड़ सुट्टे ।
शाम सिंघ सरदार अटारी वाले,
मार शसत्रीं जोड़ विछोड़ सुट्टे ।
शाह मुहंमदा सिंघां ने गोरिआं दे,
वांङ निम्बूआं लहू निचोड़ सुट्टे ।

91

पए बाव्यों आण के फेर गोरे,
फरांसीस ते जित्थे सी चार-यारी ।
कुंडल घत्त्या वांग कमान गोशे,
बनी आण सरदारां नूं बिपत भारी,
तेजा सिंघ सरदार पुल वढ्ढ दिता,
घरीं नस्स ना जाय इह फौज सारी,
शाह मुहंमदा मरन शहीद हो के,
अते जान ना करनगे मूल प्यारी ।

92

जंग हिन्द पंजाब दा होन लग्गा,
दोवें पातशाही फौजां भारियां नी ।
अज्ज होवे सरकार तां मुल्ल पावे,
जेहड़ियां खालसे ने तेगां मारियां नी ।
घोड़े आदमी गोल्यां नाल उड्डण,
हाथी ढहन्दे सने अम्बारियां नी ।
शाह मुहंमदा इक सरकार बाझों,
फौजां जित्त के अंत नूं हारियां नी ।

93

कई सूरमे मार के मोए उथे,
जिन्हां हत्थ कीते तेगां नंगियां दे ।
रहन्दे घेर के विच दरिआइ डोबे,
छर्ररे मार के ते तोपां चंगियां दे ।
कहन्दे नौकरी कास नूं असां कीती,
आखे लग्ग के साथियां संगियां दे ।
शाह मुहंमदा रब्ब ना फेर ल्यावे,
जंग विच जो नाल फ़िरंगियां दे ।

94

कई मावां दे पुत्तर नी मोए ओथे,
सीने लग्गियां तेज कटारियां नी ।
जिन्हां भैणां नूं वीर ना मिले मुड़ के,
पईआं रोंदियां फिरन विचारियां नी ।
जंगीं जिन्हां दे सिरां दे मोए वाली,
खुल्हे वाल ते करन बेज़ारियां नी ।
शाह मुहंमदा बहुत सरदार मारे,
पईआं राज दे विच खुआरियां नी ।

95

लिख्या तुरत पैग़ाम रानी जिन्द कौरां,
'कोई तुसां ने देर नहीं लावनी जी ।
रहन्दी फौज दा करो इलाज कोई,
काबू तुसां बगैर ना आवनी जी ।
मेरी जान दे अब हो तुसीं राखे,
पायो विच लाहौर दे छावनी जी ।
शाह मुहंमदा अज्ज मैं ल्या बदला,
अग्गे होर की रब्ब नूं भावनी जी ।'

96

पुल बद्धा फ़िरंगियां ख़बर सुन के,
लांघे पए नी विच पलकारिआं दे ।
आए शहर लाहौर नूं मार धौंसा,
वज्जदे वाज्यां नाल नगारिआं दे,
सांभ लए सरकार दे सिल्हे-खाने,
वाली बने जे राज-दुआरिआं दे ।
शाह मुहंमदा फेड़ सी विरल्यां दी,
सोई पेश आई सिंघां सारिआं दे ।

97

राजा गया गुलाब सिंघ आप चड़्ह के,
बाहों पकड़ लाहौर लै जांवदा ई ।
'साहब लोक जी ! असां पर दया करनी',
उह तां आपना कंम बणांवदा ई ।
दिते कढ्ढ मलवई दुआबीए जी,
विचों सिंघां दी फौज खिसकांवदा ई ।
शाह मुहंमदा सभ पहाड़ लै के,
कूच जंमू नूं तुरत करांवदा ई ।

98

बने माई दे आण अंगरेज़ राखे,
पाई छावनी विच लाहौर दे जी ।
रोक मालवा पार दा मुलक सारा,
ठाना घत्त्या विच फिलौर दे जी ।
ल्या शहर हुश्यार पुर तलक सारा,
जेहड़े टके आवन नन्दा चौर दे जी ।
शाह मुहंमदा कांगड़ा मार बैठा,
सभे कंम गए उसदे सौरदे जी ।

99

रहन्दा मुलक फ़िरंगी दे प्या पेटे,
कीता हुकम जु गोरिआं सारिआं ने !
माई फौज नूं चाय जवाब दिता,
दिती नौकरी छड्ड विचारिआं ने ।
पिछों सांभ ल्या मुलक कारदारां,
बख़तावरां नेक सतारिआं ने ।
शाह मुहंमदा लोक वैरान होए,
तोड़ सुट्या मुलक उजाड़्यां ने ।

100

कीता अकल दा पेच सी जिन्द कौरां,
मत्था दोहां बादशाहियां दा जोड़्या ई ।
गुझ्झी रमज़ करके रही आप सच्ची,
बदला तुरत भिराउ दा मोड़्या ई ।
नाले फौज नूं तुरत जवाब दिता,
उस कुफर मुदई दा तोड़्या ई ।
शाह मुहंमदा करे जहान गल्लां,
लशकर विच दरिआइ दे बोड़्या ई ।

101

पिच्छों बैठ के सिंघां नूं अकल आई,
केही चड़्ही है कहर दी सान माई ।
किन्हां खुंधरां विच फसाय के जी,
साडे लाह सुटे तूं तां घान माई ।
हथ धो के पई हैं मगर साडे,
अजे घरीं ना देंदी हैं जान माई ।
शाह मुहंमदा रहे हथ्यार उथे,
नाल कुड़तियां लए पछान माई ।

102

हुन्दे आए नी रन्नां दे धुरों कारे,
रावन लंका दे विच मरवाय दिता ।
कैरों पांडवां नाल की भला कीता,
ठारां खूहणियां कटक मुकाय दिता ।
राजे भोज दे उते असवार होईआं,
मार अड्डियां होश भुलाय दिता ।
शाह मुहंमदा एस रानी जिन्द कौरां,
सारे देश दा फरश उठाय दिता ।

103

रब्ब चाहेगा तां करेगा मेहरबानी,
होया सिंघां दा कंम अरासता ई ।
वड्डी सांझ है हिन्दूआं मुसलमानां,
उह दे नाल ना किसे दा वासता ई ।
उहदे नाल ना बैठ के गल्ल करनी,
खुदी आपनी विच महासता ई ।
शाह मुहंमदा दौलतां जम्हां करदा,
शाहूकार दा जिवें गुमाशता ई ।

104

जेहड़ी होई सो लई है वेख अक्खीं,
अगे होर की बनत बणावनी जी ।
इक घड़ी दी कुझ उमैद नाहीं,
किसे लई हाड़ी किसे सावनी जी ।
निके पोच हुन बैठ के करन गल्लां,
डिठी, असां फ़िरंगी दी छावनी जी ।
शाह मुहंमदा नहीं मालूम सानूं,
अगे होर की खेड रचावनी जी ।

105

संमत उन्नी सै दूसरा वरतदा सी,
जदों होया फ़िरंगी दा जंग मियां ।
है सी ख़ून दी इह ज़मीन प्यासी,
होई सुरख शराब दे रंग मियां ।
धरती उड के धूड़ दे बने बद्दल,
जैसे चड़्हे आकाश पतंग मियां ।
शाह मुहंमदा सिरां दी लाय बाज़ी,
नहीं मोड़दे सूरमे अंग मियां ।

(समाप्त)