Hindi Kavita
हज़रत सरमद काशानी
Hazrat Sarmad Kashani
 Hindi Kavita 

Hazrat Shaheed Sarmad Kashani

Sarmad The Sufi Poet is also known as Muhammad Sa'id or Sarmad Kashani. He was a Persian mystic, poet and saint who came to India during the 17th century. He was of Jewish or Armenian origin. He arrived during Mughal Period from a Persian-speaking Armenian merchant family. He renounced his religion and adopted Islam. He wrote beautiful religious poetry in the form of quatrains (Rubaiyat) in Persian. He had an excellent command of Persian. He was close to Dara Shikoh the eldest son of Shah Jehan. But the Emperor Aurangzeb beheaded him in 1661 for his so called anti Islamic poetry and views.

हज़रत शहीद सरमद काशानी

सूफ़ी कवि सरमद को मुहम्मद साइद या सरमद काशानी के नाम के साथ भी जाना जाता है। वह फ़ारसी के प्रसिद्ध सूफ़ी कवि और संत थे । वह सत्रहवीं सदी में अरमेनिया से भारत आए । वह शुरू में यहूदी थे परन्तु बाद में उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया । उन्होंने फ़ारसी में शानदार ३३४ रुबाईयाँ लिखीं । वह मुग़ल बादशाह शाह जहान के बड़े पुत्र दारा शिकोह के बहुत नज़दीक थे। परन्तु बादशाह औरंगजेब ने उनको, उनके सूफ़ी विचारों को इस्लाम विरोधी कहकर, १६६१ ईस्वी में शहीद करवा दिया।


Persian Poetry of Hazrat Shaheed Sarmad Kashani in Punjabi (Hindi Script)

Translated By Sardar Suba Singh

रुबाईयाँ
भाग पहला


फिरदा मैं गुनाहां दे नाल भरिआ,
लाइआ तेरियां रहमतां पार साईआं ।
मेरे सारिआं पापां दा मूल होया,
बख़शे जान दा तेरा इकरार साईआं ।
भावें मेरे गुनाह ने बहुत भारी,
तेरी मेहर पर अपर अपार साईआं ।
सभनीं थाईं अज़मा के वेख्या मैं,
बख़शणहार साईआं, बख़शणहार साईआं ।

विच्च जग्ग जहान दे कारखाने,
मसले बड़े सुलझा के वेख्या मैं ।
दुख दरद, ग़मगीनियां दूर करके,
सभनां ताईं हसा के वेख्या मैं ।
पर ना किसे तों मैनूं इनसाफ मिलिआ,
बड़ा घुम घुमा के वेख्या मैं ।
साईआं वेख्या, वेख्या सारिआं नूं,
लक्ख वार अज़मा के वेख्या मैं ।

रब्बा ! तजरबे दे रक्कड़ बेलिआं विच,
थां थां ते जा के वेख्या मैं ।
मिलिआ चंगिआं माड़िआं सारिआं नूं,
नज़रां मेल मिला के वेख्या मैं ।
तेरे बाझ पर किसे ना वात पुच्छी,
दिल दे दरद सुना के वेख्या मैं ।
साईआं ! वेख्या ! वेख्या! सारिआं नूं,
पूरी तर्हां परता के वेख्या मैं ।

पिच्छे परदिआं जलवे दा की फ़ायदा ?
घुंड लाह के दरस दिखा साईआं ।
तैनूं लभ्भदा लभ्भदा हार होया,
रेहा भालदा जा-बजा साईआं ।
घुट्ट घुट्ट कलेजे दे नाल लावां,
आ जा विच्च गलवक्कड़ी आ साईआं ।
मैनूं दस्स तां सही ओड़क कदों तीकर,
रक्खें आपना आप छुपा साईआं ।

ख़ुशियां माणदे रज्ज के लोक सारे,
दुनियां दीन दी पा के दात साईआं ।
मैनूं ख़ुशी पर बहुत कमाल होवे,
जेकर दोहां तों मिले निजात साईआं ।
प्यार आपनी ज़ात दा बख़श मैनूं,
मेरी मेट दे ज़ात-सिफ़ात साईआं ।
जलवागरां नूं लोड़ की परदिआं दी ?
ज़रा बाहर नूं मार खां झात साईआं ।

सारे जग्ग दे विच्च मशहूर होई,
नैणां वालिआ दिल-रुबाई तेरी ।
थां थां 'ते धुंम गई गल्ल सारे,
आखन बेमिसाल अशनाई तेरी ।
दूर नज़रां तों नज़रां दे विच्च वी है,
मन्न लई मैं यारा ख़ुदाई तेरी ।
तेरे इहनां ही नख़रिआं पट्ट्या ए,
मैनूं मार गई बेपरवाही तेरी ।

नेक बद ज़माने विच्च जो वी सी,
रीझां पूरियां ला के वेख्या मैं ।
खिड़े फुल्लां नूं तोड़ के सुंघ्या मैं,
कंडे हूंझ हुंझा के वेख्या मैं ।
हर शख़स घसवट्टी ते वांग सोने,
चंगी तर्हां घसा के वेख्या मैं ।
सभना लोकां दी नज़र औकात आ गई,
जदों इउं आज़मा के वेख्या मैं ।

मसत रुमकदी पौन सवेर दी चों,
दिल भालदा रेहा ख़ुशबो तेरी ।
खोज बाग़ विच्चों अक्खियां तरस गईआं,
फुल्ल-चेहरे ते दमकदी लो तेरी ।
इहनां दोहां चों कोई ना हत्थ आई,
ना ही लो तेरी, ना ख़ुशबो तेरी ।
तेरे कूचे विच्च पुज्ज्या दिल मेरा,
टोह टोह के ऐवें कनसो तेरी ।

मन मोह लैने पहली नाल झाती,
तेरे विच इह कला कमाल दी ए ।
विच्च यारियां अते मुहब्बतां दे,
सूरत कोई ना तैंडड़े नाल दी ए ।
ओह अक्ख जो रमज़ पछाणदी है,
तेरे चोजां नूं वेखदी भालदी ए ।
ओस अक्ख नूं ही साईआं ज़ात तेरी,
रंग सैंकड़े नित्त विखालदी ए ।
१०
हर थां ते हर मुकाम अन्दर,
मिलदी नहीं निशानी जफ़ा दी ओ ।
इसे तर्हां ही मिले ना हर थां ते,
मिठी वासना प्यार वफ़ा दी ओ ।
खसलित आपनी ते ख़लकत दे हाल बारे,
तैनूं ख़बर ना किसे वी जा दी ओ ।
दोवें गल्लां इह रब्ब दे वस्स यारा,
आखां सच्च मैं कसम ख़ुदा दी ओ ।
११
रब्बा मेहर कर मैंडड़े हाल उत्ते,
करम कर ते बख़श तकसीर मेरी ।
साईआं रोंदिआं धोंदिआं वेख तां सही,
किवें लंघदी रैन अधीर मेरी ।
लत्थ पत्थ गुनाहां दे विच होई,
अजब रंग दी है तसवीर मेरी ।
तेरे करम ते लुतफ़ दी नज़र दे नाल,
सौर जाएगी सांईआं तकदीर मेरी ।
१२
किसे बाग़ जां किसे उजाड़ अन्दर,
महफ़ल जोड़ बैठी किधरे चार यारी ।
गप्पां वन्न-सवन्नियां चल्ल पईआं,
नाल होए शराब दे दौर जारी ।
खिंडर गए पर ओड़क नूं यार सारे,
गल्लां मुक्कियां तां होई चुप्प तारी ।
कोई फ़लक बेपीर नूं की आखे,
कीती ओहने सी इह तबाहकारी ।
१३
दिला एस दे फ़िकर तों बाज़ आ जा,
कूड़ा इह जहान है बाज़ आ जा ।
पर्हां हूंझ दे ख़ाम ख़्यालियां नूं,
इह तां वहम गुमान है बाज़ आ जा ।
इहनां इशरतां विच जो ख़ुशी होवे,
हुन्दा उह नदान है बाज़ आ जा ।
दुनियां आप झूठी इहदा मोह झूठा,
झूठी एस दी शान है बाज़ आ जा ।
१४
झाती मार के वेख उजाड़ अन्दर,
तेरे सिर ते कूकदा काल आए ।
माड़ा हुन्दा अंजाम है इशरतां दा,
किसे कंम ना जोड़िआ माल आए ।
माल जोड़ी दा डोल्ह के लहू मुड़्हका,
इस तों अंत नूं बड़ा मलाल आए ।
नाल वख़तां दे धन ते माल आए,
कर के सदा पर ओह पामाल जाए ।
१५
कदे नखरिआं नाल उह सितम तोड़े,
कदे बड़ा ही निघ्घा प्यार करदा ।
हर घड़ी उह ख़ुदनुमाई ख़ातर,
सैआं रंगां दी पैदा बहार करदा ।
ज़रा नज़र दी गोद पसार वेखीं,
तैनूं किवें उह महकहार करदा ।
इक्क कदम वी ना होए जुदा तैथों,
इउं इशक दा फेर इज़हार करदा ।
१६
हर थां, हर घड़ी मैं मन अन्दर,
जदों कदों वी किधरे हिसाब लाइआ ।
गिणती मेरे गुनाहां दी घट्ट ना सी,
तेरा फ़ज़ल पर बेहिसाब पाइआ ।
भावें नाल गुनाहां दे मैं भरिआ,
कंम नेकी दा नहीं जनाब आया ।
सदका तेरियां ही साईआं रहमतां दा,
पापी हुन्दिआं नहीं अज़ाब आया ।
१७
मैं तां इक फ़कीर दरवेश होया,
मेरा वासता सिरफ़ है यार दे नाल ।
फाहे लाउना जनेऊआं ते तसबियां नूं,
कोई गरज़ ना एस वेहार दे नाल ।
ऊनी चोगे दे हेठ हज़ार फितने,
वेखे कोई जे ज़रा विचार दे नाल ।
लवां कदे ना आपने मोढ्यां ते,
मेरा कंम की इस मक्कार दे नाल ।
१८
भावें एस ज़माने दी सोच उलटी,
नेकी समझ्या जाए ग़रूर एथे ।
असल, सच्ची वड्याई तां आजज़ी है,
भावें लोक ने एस तों दूर एथे ।
आपा मारन दी वक्खरी शान हुन्दी,
आउंदा ओस दा इक्क सरूर एथे ।
पत्थर कुट्ट्यां रगड़िआं बने सुरमा,
बख़शे अक्खियां नूं जेहड़ा नूर एथे ।
१९
मैनूं वल्ल निवाणां दे रेहड़ ग्या,
सोहना ढोल प्यार दे ज़ोर कोई ।
मसती जाम प्याल के अक्खियां 'चों,
आपा खोह के दे ग्या लोर कोई ।
ओहनूं कोल बिठाल के लभ्भदा हां,
सुने होर कोई, समझे होर कोई ।
मैनूं वेख लओ नंगिआं कर ग्या जे,
बड़ा अजब अवल्लड़ा चोर कोई ।

भाग दूसरा

२०
हउमै अते हंकार तकब्बरी चों,
सुख, चैन, आराम नूं भालना की ?
हिम्मत हौसला जे ना होए पल्ले,
वडी पदवी इनाम नूं भालना की ?
महफ़ल इह जो दुनियां दे धन्दिआं दी,
इस तों नफ़े दे जाम नूं भालना की ?
आस लाहे दी छड्ड नुकसान जर लै,
एथों होर अंजाम नूं भालना की ?
२१
ऐश इशरतां विच ग़लतान हो के,
सारी उमर ही कोई गुज़ार देवे ।
बिना पुच्छ्यां गल्ल अजीब कोई ना,
मौला उस नूं पार उतार देवे ।
कंमां मन्दिआं नूं काहनूं वेखदा ए,
जेकर वेख वी लए विसार देवे ।
जीहदे कहर नालों ओहदी मेहर बहुती,
ओहदी नज़र ही पापी नूं तार देवे ।
२२
मेरे पापां ते तेरियां रहमतां दा,
साईआं किस तर्हां कोई हिसाब लाए ?
उठन बुलबुले जो सागर-पाणियां ते,
किवें उहनां दा कोई हिसाब लाए ?
सोच उह वी थाह ना लै सकदी,
जेहड़ी उडदी वांग उकाब जाए ?
तेरी मेहर जद बे-हसाब साईआं,
कौन ओसदा फेर हिसाब लाए ?
२३
लै के कौसर दे साकी तों लाल रंगी,
पी लै एस दा नहीं इलज़ाम आउंदा ।
जेहड़ी जान बेचैन अख़ीर उमरे,
उहनूं पींदिआं सार आराम आउंदा ।
फस्या तूं संसार दे बंधनां विच्च,
तैनूं चैन ना सुब्हा ते शाम आउंदा ।
मंग साईं दा फ़ज़ल ते करम यारा,
इहदे नाल ही सुक्ख मुदाम आउंदा ।
२४
तेरी हसती है निरी किताब वरगी,
तैनूं आपने आप दी सार नहीयों ।
तेरे विच वी अल्ला दे बोल रक्खे,
तूं समझ्या इह इसरार नहीयों ।
ज़ाहरा सच्च दी जोत जो मच्चदी है,
तूं वेखदा ओहदी लिशकार नहीयों ।
बोतल भरी शराब दी जिवें हुन्दी,
उह नशे दी जाणदी सार नहीयों ।
२५
'सरमद' कास नूं टक्करां मारना एं,
ख़लक विच्च मुहब्बत दा नां कित्थे ?
टुंडे रुक्ख ते सुक्कियां टाहणियां तों,
हरे पत्त्यां दी मिलदी छां कित्थे ?
तम्हां, लोभ दे विच खुआरियां ने,
सबर बिनां सतकार दी थां कित्थे ?
चाहें मान सनमान तां भज्ज ओथों,
लभ्भे, लोभ दा नाम निशां जित्थे !

भाग तीसरा

२६
मना मेरिआ ज़ालमां की होया,
मरूं मरूं ना करी जा वासता ई ।
भरना चाहें जे झोलियां नाल बख़शिश,
शुकर रब्ब दा करी जा वासता ई ।
बिना सबर संतोख ना ख़ुशी हासल,
सबर करी जा करी जा वासता ई ।
तेरी आस अनुसार ना होए दुनियां,
बाहली आस ना करी जा वासता ई ।
२७
चोगे हेठ तूं फिरें लुकाई जंञू,
इहदे विच ख़राबियां भारियां ई ।
इहदे दामन दे विच हज़ार फितने,
धोखा दंभ ते होर मकारियां ई ।
इहनूं भुल्ल के रक्खीं ना मोढ्यां ते,
इहदी छोह विच बहुत खवारियां ई ।
बोझल पंड है निरी नदामतां दी,
इस च सैंकड़े दिल आज़ारियां ई ।
२८
चुक्की फिरदा सी निरा सरीर 'सरमद',
ओहदी होर दे हत्थ पर जान यारा ।
जेकर समझीए ओस नूं तीर वरगा,
फड़ी किसे ने हत्थ कमान यारा ।
चाहआ ओस ने सदा आज़ाद रहणा,
एसे वासते बण्या इनसान यारा ।
उलटी खेड, पर, रस्सा सी किसे दे हत्थ,
ते ओह गऊ सी बेज़ुबान यारा ।
२९
छलकन साग़र गुलाब दे फुल्ल वरगे,
महकां वंडदी होए गुलज़ार जित्थे ।
मौजी दिल दा आहलणा, घर मेरा,
फिरे झूमदी इयों बहार जित्थे ।
मैनूं कहें शराबी तां झूठ कोई ना,
मैनूं एस तों भला इनकार कित्थे ?
जे कर कहें पर पारसा, पाकदामन,
तेरे नाल दा झूठा बुरिआर कित्थे ?
३०
बन्दे हिरस हवा दे विच्च दुनियां,
निरे पैस्यां दे जेहड़े यार हुन्दे ।
इक्क दूजे दे नाल ओह रहन लड़दे,
साड़े ईरखा नाल बीमार हुन्दे ।
डरो, कदे ना सप्पां ते बिच्छूआं तों,
भावें इह ना किसे दे यार हुन्दे ।
डर के भज्जो पर ऐस्यां बन्दिआं तों,
जेहड़े ज़हर हुन्दे जेहड़े ख़ार हन्दे ।
३१
आ जा ज़ाहदा संगन दी गल्ल केहड़ी,
मज़ेदार है वेख! शराब पी लै ।
पर्हां लाह के सुट्ट दे पारसाई,
रिन्दां वांगरां बे-हसाब पी लै ।
इह हलाल है, शैय हराम तां नहीं,
इहनूं समझ के सगों सवाब पी लै ।
साईं बाझ ना होर कुछ नज़र आवे,
दूई मेटनी बे-हजाब पी लै ।
३२
माड़ी गल्ल है इशरतां विच पैणा,
पिच्छे पदवियां जान हलकान करना ।
वहमां भरमां दे फ़िकर चमोड़ लैणे,
माड़ा आपना आप नुकसान करना ।
सदा रूह कलबूत विच नहीं रहणी,
ख़ाली ओड़क नूं इह मकान करना ।
चार छिनां दी बुलबुला ज़िन्दगी लई,
काहनूं आपना आप हैरान करना ।
३३
जदों दिल प्यार दा होए भरिआ,
लहजा वक्ख ते हुन्दा ख़ताब वक्खरा ।
कोई तूर दी गल्ल सुणायो मैनूं,
मेरा हाल तां अज्ज जनाब वक्खरा ।
फिरदा रहां मैं वांग दीवान्यां दे,
मेरी नज़र विच हसती दा ख़ाब वक्खरा ।
फ़िकर वक्खरे, राह, ख्याल वक्खरे,
मेरा दुनियां तों बड़ा हिसाब वक्खरा ।
३४
सारे हिरस हवा दे पुत्त होए,
वगी दुनियां नूं रब्ब दी मार एथे ।
कोई दिल वाला जित्थे नज़र आवे,
ओह वी भालदा फिरे दीनार एथे ।
सरबत पैस्यां दा एथे पंज मासे,
तालब पीन दे कई हज़ार एथे ।
खोले उज्जड़े विच्च वी थां कोई ना,
भरे पए ने बड़े बीमार एथे ।
३५
एस गल्ल दे विच्च ना शक्क कोई,
शेअरो, शायरी शुगल जवानियां दा ।
फुल्ल, साकी, सुराही, नूं प्यार करना,
चसका रक्खना होर नदानियां दा ।
आए जदों बुढेपा तां छड्ड दईए,
खहड़ा दुनियां ते ऐश सामानियां दा ।
हर घड़ी अग्हां दा फ़िकर करीए,
पल्ला छड के यादां मसतानियां दा ।
३६
जो वी कोई शराब तों करे तोबा,
ओह तां पुज्जके मूरख नदान हुन्दा ।
भावें ओस नूं कोई इनसान आखे,
पर ओह असल दे विच्च हैवान हुन्दा ।
इहदे पीत्यां दरद विछोड़िआं दा,
पहले घुट्ट दे नाल जवान हुन्दा ।
भांबड़ मच्च पैंदे दिल विच्च होए दब्बे,
इहदे घुट्ट विच्च ओह सामान हुन्दा ।
३७
तम्हा हिरस हवा दा मारिआ जो,
हुन्दी ओस दी सदा ही बस्स जाए ।
पंछी उडदा मगर जो दाण्यां दे,
झपट मारदा जाल विच फस जाए ।
पल्ले माल दे नाल मलाल आउंदा,
वधे माल तां पै खरखस्स जाए ।
जीहदे कोल ना दुनियां विच दम्म बाहले,
उही नाल आराम दे वस्स जाए ।
३८
जेहड़ा हिरस हवा दे विच फस्या,
ओह दूर संतोख तों भज्जदा ई ।
बख़शे ओस नूं कोई जे बादशाही,
ना ही 'बस्स' आखे ना ही रज्जदा ई ।
रिशता ज़िन्दगी दा हुन्दा बहुत छोटा,
हुन्दा ऊं वी किसे ना हज्ज दा ई ।
असल विच उह जाल दे पिंजरे ई,
'आसां' नायों जिन्हां दा वज्जदा ई ।
३९
उपर बाग जहान, ते शौक दे नाल,
हर किसे ने लुबदकी झात पाई ।
मिद्धे फुल्लां ते तिक्ख्यां कंड्यां दी,
झोली आपनी ओहनां सुगात पाई ।
इह हसती तां सच्च दी है मूरत,
हस्से इह मनुक्ख दे दात आई ।
उस ते बड़ा अफ़सोस जो लंघ ग्या,
जिस नूं समझ पर ज़रा ना बात आई ।
४० गलबा हिरस ने जिन्हां ते होए पाइआ,
पल्ले ओहनां दे लक्ख आज़ार वेखे ।
शरबत सोने दा पी ना होन राज़ी,
दिल उहनां दे इउं बीमार वेखे ।
अक्खां भुक्खियां कदे ना रज्जियां ने,
कोई विच संसार विचार वेखे ।
लोभी एतरां दे मैं तां जग्ग अन्दर,
पैर पैर हज़ार हज़ार वेखे ।
४१
जिस थां यार-विछोड़े दा दरद वस्से,
ओस थां ते बड़ा आराम हुन्दा ।
जो कोई वी एस दा नहीं महरम,
ओह दुनियां विच्च सदा नाकाम हुन्दा ।
मुक्ख फेर ना प्यार, शराब वलों,
करदा आदमी इयों बदनाम हुन्दा ।
ओहनूं दौलत जमशैद दी हत्थ आए,
जीहदे हत्थां विच्च छलकदा जाम हुन्दा ।
४२
जेहड़ा एस ज़माने दे विच्च रहके,
हिम्मत आपनी बर करार रक्खे ।
ओहनूं चाहीदा ए इबरत करे हासल,
होर कोई वी ना सरोकार रक्खे ।
बैठ जाए नवेकला कुंज-गोशे,
लोकां नाल ना कोई वेहार रक्खे ।
भज्जे दूर उह बदियां ते नेकियां तों,
दिल दुनियां दा ना तलबगार रक्खे ।
४३
जेकर किसे दा हत्थ वटा सकें,
इहदे नाल दा होर कमाल केहड़ा ।
सौदा इह तां सदा ही लाहेवन्दा,
भला कीमती एस तों माल केहड़ा ?
पल्ले बन्न्ह लै इहनां नसीहतां नूं,
वेख चाख के सच्चा ख़्याल केहड़ा ।
दुनियां इक्क तूफ़ान है सागरां दा,
थमें इह तां करे मलाल केहड़ा ?
४४
मेरे अन्दर प्यार दी ओह जोती,
मन रंगदी जो डल्हकां मारदी ए ।
ओही मोती दा रूप समुन्दरां विच,
ओही पत्थर विच्च चिनग प्यारदी ए ।
भांवें मच्चदी जोत है सारिआं विच,
ख़लकत कुल पर इहनूं विसारदी ए ।
रंग हुन्दिआं प्रेम बेरंग जापे,
किन्नी गल्ल इह अजब इसरार दी ए ।
४५
दिन खुशियां ते ग़मां दे वेख्या ई,
किवें तेज़ उडारियां मार लंघे ।
खाई जांदा सी जिन्हां दा डर तैनूं,
उह वी फ़िकर हन्देसड़े यार लंघे ।
ऐवें चार कु साह ने कोल तेरे,
औख सौख नाल बाकी तां पार लंघे ।
इह साह संभाल के वरत मित्तरा,
तां जो ज़िन्दगी बावकार लंघे ।
४६
कीमत एसदी क्युंकि कक्ख वी नहीं,
मैं ना जग्ग जहान दी चाह करदा ।
मज़हब कैद है तेरे दीदार बाझों,
मैं ना ओसदी कोई परवाह करदा ।
मैनूं भुक्ख है तेरिआं दरशनां दी,
अरज़ इही मैं तेरी दरगाह करदा ।
तेरे नाम दा काफ़ी है इक्क अक्खर,
साईआं चानना मैंडड़ा राह करदा ।
४७
ओह सारी ख़ुदा दे हत्थ हुन्दी,
नेकी बदी जो मिले जहान अन्दर ।
सच्चा कौल इह परख्या जा सकदा,
लुक्या, ज़ाहरा हर सथान अन्दर ।
जेकर अजे वी शक्क है कोई तैनूं,
मासा तत्थ ना मेरे ब्यान अन्दर ।
फेर वेख निताना मैं किवें होया,
ज़ोर क्युं है एना शैतान अन्दर ।
४८
सरू कद्द जे आदमी होए कोई,
नहीं लाज़मी कि तेरा यार होवे ।
चांदी-बदन हुसीन जो करे ठग्गी,
उह वी कदे ना किसे दा यार होवे ।
सदा यार बना तूं ओस ताईं,
देवे तैनूं जो तैनूं दरकार होवे ।
यार बन्दे दा असल विच ओही हुन्दा,
बौहड़े औख वेले मददगार होवे ।
४९
जेकर किसे दा दिल दना होवे,
उहदे पहलू विच सदा ही यार होवे ।
वेखन वाली जे किसे दी अक्ख होवे,
हर पासे ही उहनूं दीदार होवे ।
कन्न सुने तां सुणेगा गल्ल ओही,
जिस विच हक्क दा ज़िकर इज़कार होवे ।
बोले जे ज़बान तां इयों बोले,
हर बोल विच कोई इसरार होवे ।
५०
निरा वस्सदा नहीं ओह मैख़ाने,
निरा मक्का वी नहीं मकान ओहदा ।
सारी धरत ही उस दी आपनी ए,
होया फैलिआ नीला असमान ओहदा ।
ओहदे नाम दे चरचे ने हर पासे,
आशक हो ग्या कुल्ल जहान ओहदा ।
आकल असल विच्च जाण्यां जाए ओही,
होया बावरा जेहड़ा इनसान ओहदा ।
५१
मेरे नाल है खुश दिलदार मेरा,
साईआं बड़ा ही शुकरगुज़ार हां मैं ।
हर दम करम तेरा, हर दम रहम तेरा,
तैथों सदा बलेहार ! बलेहार ! हां मैं ।
मैनूं प्यार विच नहीं नुकसान होया,
तेरी मेहर दे नाल सरशार हां मैं ।
ओस सौदे विच कीता जो दिल मेरे,
लाहा खट्ट्या मैं ! शाहूकार हां मैं ।
५२
उदर पूरती वासते आदमी नूं,
बहुत हुन्दी है इक्क जे नाल खाए ।
फिर वी मारिआ लोभ दा दिने रातीं,
रोंदा कलपदा आपनी जान खाए ।
पता नहीं क्युं उहदे वजूद अन्दर,
कोई बिफरिआ होया तूफ़ान आए ।
उहदी बुलबुले वांगरां ज़िन्दगानी,
तुर जांदी है जिवें महमान आए ।
५३
मेरे अत्थरे नफ़स नूं वेख तां सही,
इह असल विच्च रूप शैतान दा ई ।
भावें आपना आप लुकाई फिरदा,
पर इह ज़ाहरा ठग्ग जहान दा ई ।
भंडे होरां नूं आप शैतान हो के,
किन्ना चतुर इह कंम इनसान दा ई ।
सुणके नाल हैरानी दे ख़्याल तेरे,
जापे पुत्त शैतान नादान दा ई ।
५४
भेद जाम शराब दा बड़ा डूंघा,
जना खना तां एस नूं जाणदा नहीं ।
ओहने एस असरार नूं की कहणा,
मुरदा दिल तां ज़िन्दगी माणदा नहीं ।
ओए ग़ाफ़ला वड्डे परहेज़गारा,
तूं तां रब्ब दी ज़ात पछाणदा नहीं ।
नाल मूरखां एस दा वासता की ?
कोई ओहनां नूं एथे स्याणदा नहीं ।
५५
मैं तां पाक ख़ुदा दी ज़ात कोलों,
इक्क घड़ी वी दूर नहीं रह सकदा ।
एस इशक दा औखा ब्यान करना,
मैं नहीं कुछ ज़बान तों कह सकदा ।
मैं हां इक्क प्याली उह महांसागर,
एना फ़ासला किस तर्हां ढह सकदा ।
दिल मेरे विच साईं समाए किद्दां,
कदे प्याले विच सागर नहीं बह सकदा ।
५६
बचना चाहें जे दुख, बखेड़िआं तों,
कोई रंज ना तैंडड़े आए नेड़े ।
लांभे दुनियां तों बैठ जा कुंज गोशे,
पैर पाईं ना भुल्ल के एस वेहड़े ।
नहीं चैन संसार दे विच मिलदा,
बड़ियां घट्ट ख़ुशियां, बड़े घट्ट खेड़े ।
सुक्ख है तां है इकांत अन्दर,
विच्च दुनियां दे पिट्टने अते झेड़े ।
५७
तेरा जिसम इह अल्ला दी सौंह मैनूं,
इह रेत दी कंध है, ढह जाए ।
अग्ग पैंदिआं घाह दा ढेर जिद्दां,
फौरन सड़े, सुआह ही रह जाए ।
सिर ते सदा ही कूकदा काल रहन्दा,
चाहे जदों उह धौन ते बह जाए ।
बचदा नहीं शिकारी दे वार कोलों,
पंछी किन्ना वी लुके ते छह जाए ।
५८
चार दिनां दी ज़िन्दगी आदमी दी,
इहदे वासते झूरना झारना की ।
काहनूं बसतियां नाल प्यार पाईए,
मारूथलां विच पैर पसारना की ।
इहदे पल हनेरियां वांग जांदे,
पकड़ उहनां नूं किसे खलिआरना की ।
आसां झूठियां, लब ते लोभ माड़े,
इहनां किसे दा भला सवारना की ।
५९
जिन्हां नाल संसार दे मोह पाइआ,
उह सदा ही बेकरार रहन्दे ।
रहन विलकदे आख़री दमां तीकण,
मोहरां दमड़िआं दे तलबगार रहन्दे ।
कदे काल दा नहीं ख़्याल आउंदा,
फ़िकर इन्हां नूं होर हज़ार रहन्दे ।
ग़म पैसे दा जान घरोड़दा रहे,
चांदी सोने दे मरन तक यार रहन्दे ।
६०
डरीं दुनियां तों, दुनियां दे लोक माड़े,
एथे कंम ना कोई प्यार दा ई ।
फैज़ इहना तों किसे ना कदे पाइआ,
ख्याल इहनां दा कहर गुज़ारदा ई ।
भुली होई ना इहदी खिज़ां मैनूं,
होया वेख्या रंग बहार दा ई ।
तेरे लई नसीहतां लई बैठा,
खिड़िआ फुल्ल जो एस गुलज़ार दा ई ।
६१
एस खिड़ी गुलज़ार दे विच्च भावें,
टहकन फुल्ल सोहने तिक्खे खार सोहने ।
दिल मेरा पर बड़ा उदास रहन्दा,
खेड़े लग्गदे नहीं बाझों यार सोहने ।
रंग फुल्लां दे जिगर दे लहू वरगे,
वेख ! किन्ने ने बे-शुमार सोहने ।
बिनां दाग़ां दे रंग पर फब्बदे नहीं,
आखे ओहनां नूं कोई हज़ार सोहने ।
६२
कोई इहनां दा किवें हिसाब लाए,
सारी उमर गुनाहां दी कार कीती ।
मेरे वगे पछतावे दे अत्थरू इउं,
झड़ी सावन दी वी शरमसार कीती ।
खुंझ गई वसल दी घड़ी मैथों,
मैं तां ग़ाफ़ली आप सरकार कीती ।
जुगो जुग विछोड़े विच तड़फ्या हां,
कदे मेहर ना मेरे दिलदार कीती ।
६३
सोने चांदी नूं भालदा मन मूरख,
एसे लालसा विच ग़लतान रहन्दा ।
टिकदा नहीं नमाज़ दे वकत वी इह,
सोचां सोचदा वांग शैतान रहन्दा ।
कदे आह लैना कदे अहु लैणा,
इहो एस नूं वहम गुमान रहन्दा ।
करदा रता वी फ़िकर अंजाम दा ना,
किन्ना ग़ाफ़ली विच नदान रहन्दा ।
६४
ठीक ! मेरे गुनाहां दे टाकरे ते,
तेरी मेहर दा अंत ना आउंदा ए ।
फिर वी इहनां गुनाहां दे भार हेठां,
दिल मैंडड़ा बड़ा घबराउंदा ए ।
केहड़े खूह विच पाउणगे पाप मैनूं,
रहन्दा इही सवाल सताउंदा ए ।
फस्या आस निरास दे गेड़ अन्दर,
प्या नैणां चों नीर वहाउंदा ए ।
६५
मुक्ख फेर संसार तों परे होणा,
इहदे नाल दी होर ना कार चंगी ।
मेरी मन्न सलाह जे करें एदां,
फिर तां होर वी गल्ल सरकार चंगी ।
छड्ड पिट्टने बैठ एकांत अन्दर,
गल्ल एस तों होर ना यार चंगी ।
सदा एस तदबीर दे जग्ग अन्दर,
एही त्याग दी सोच विचार चंगी ।
६६
जेहड़ा आदमी रब्ब दा ध्यान धरदा,
सदा ओस दा हुन्दा है हाल चंगा ।
उहदा आदि चंगा, ओहदा अंत चंगा,
चंगा माज़ी ते ओसदा हाल चंगा ।
कई वार मैं खुल्ह के आख्या है,
नहीं चिपकना दुनियां दे नाल चंगा ।
हर चीज़ दी अत्त है बहुत माड़ी,
हर इक्क गल्ल अन्दर इअतदाल चंगा ।
६७
है दुनियां तों दिल उचाट मेरा,
जुड़िआ साईं दे चरनां विच वस्सदा ई ।
एस बाग़ दे खिड़े हर फुल्ल अन्दर,
ओही वांग ख़ुशबोई दे हस्सदा ई ।
मेरा दिल प्यार दे नाल भरिआ,
इहदा छलकना इही तां दस्सदा ई ।
होवे किसे दे अन्दर जो जौहर लुक्या,
ओही बाहर नूं उट्ठ के नस्सदा ई ।
६८
ज़र्रे, ज़र्रे दे विच्च ज़हूर ओहदा,
जलवा ओस दा कुल्ल ज़हान अन्दर ।
है ओही इनसान तों बाहर बैठा,
ओही बैठा है हर इनसान अन्दर ।
सच्च परदे विच्च झूठ नहीं हो जांदा,
रहन्दा नहीं अग्यान ग्यान अन्दर ।
ओहने आप नूं आपे ही साज्या है,
कुदरत ओहदी ना आवे ब्यान अन्दर ।
६९
मेरी 'होंद' है अज 'अणहोंद' होई,
मैनूं एसदा ऐपर ग्यान कोई ना ।
भावें पाथियां वांगरां धुखी जावां,
लभदा धूंएं दा किते निशान कोई ना ।
दिल, जान दिलदार तों वार दित्ते,
कोल रख्या दीन ईमान कोई ना ।
सौदा कर लिआ प्यार दा बिनां सोचे,
ज़रा तक्क्या नफ़ा नुकसान कोई ना ।
७०
बूहे रोज़ क्यामत दे आण ढुक्का,
इसराईल दा दसो खां सूर कित्थे ?
ओहदे पैरां विच्च बेड़ियां किन पाईआं?
होया अजे शैतान मज़बूर कित्थे ?
जिस ने रब्ब दा मसकन तबाह करना,
ओह रह ग्या ए भला दूर कित्थे ?
ओह हाथी तां आ ग्या नज़र साहवें,
अबाबील है भला हज़ूर कित्थे ?
७१
फेर इशक ने कन्न विच्च फूक मारी,
मेरा दिल हुसीनां ते मरन लग्गा ।
चाह माह-जबीनां दी फेर होई,
हौके ग़म उदासी विच्च भरन लग्गा ।
बुढड़ी देह पर दिल जवान मेरा,
- गल्लां उच्चियां नीवियां करन लग्गा ।
वेखो झम्ब्या दिल जो पतझड़ां ने,
ओही पैर बहारां विच्च धरन लग्गा ।
७२
बीत गई जो ज़िन्दगी बीत गई,
करना बीती नूं याद फ़ज़ूल हुन्दा ।
बाझों रंज दे एस वपार विचों,
कोई नफ़ा ना होर वसूल हुन्दा ।
प्यारी जिन्द सकारथे लाए जेहड़ा,
उही विच दरगाह कबूल हुन्दा ।
नहीं साह तों वद्ध म्याद इहदी,
समझे तत्त ना जो, नामाकूल हुन्दा ।
७३
सारे शहर, पहाड़ियां अते जंगल,
रक्कड़ रोड़ां वीरानियां कुछ वी ना ।
बदियां नेकियां सभ्भे फ़ज़ूल गल्लां,
अकलां अते नादानियां कुछ वी ना ।
ख़ुदी छड्ड ख़ुदा दे कोल हो जा,
इह झाकां बेगानियां कुछ वी ना ।
मोह दुनियां दा, दीन दा फ़िकर करना,
इह तां गल्लां बउरानियां कुछ वी ना ।
७४
लाल फुल्ल उपर ख़ेड़ा आ जाए,
वेखे जदों वी तिरा पुरनूर चेहरा ।
दिल दे अन्दर उदासियां पाउन चीसां,
उतों जापदा भावे मसरूर चेहरा ।
पहलां तूं ही सभनां तों पैर पाइआ,
पिच्छे रह ग्या ई यूसफ़ हूर चेहरा ।
पीला फुल्ल क्युंकि बागे आए पहलां,
पिच्छों आउंदा है सुरख़ मशहूर चेहरा ।
७५
ओहदे कोल जे कोई 'वफ़ा' 'सरमद',
तेरे कोल ओह आपने आप आऊ ।
जेकर समझ्या ओस ने ठीक आउणा,
रक्ख दिल तूं, आपने आप आऊ ।
फिरें कासनूं ओसदे मगर भज्जा,
आउना होया तां आपने आप आऊ ।
चल्ल बैठ आराम दे नाल "सरमद",
होया रब्ब, तां आपने आप आऊ ।
७६
गुज़र गए जवानी दे दिन सारे,
मैनूं किते वी नहीं शैतान मिलिआ ।
मेरे दामन ते इक्क गुनाह दा वी,
कोई दाग़ ना कोई निशान मिलिआ ।
ओधर दिन बुढापे दे जदों आए,
मैनूं आपना आप जवान मिलिआ ।
लग्ग गई बीमारी तां ओपरी जेही,
ना ही दारू ते ना ही लुकमान मिलिआ ।
७७
'सरमद' मन्दिआं कंमां ते क्युं झूरें,
काहनूं फ़िकर गुनाहां दा मारदा ई ।
जदों रब्ब रहीम ने फ़ज़ल करना,
कंम बख़श देना बख़शणहार दा ई ।
वेख कड़कदी लिशकदी कवें बिजली,
नाले मींह वस्से मोहलेधार दा ई ।
किन्ना तुच्छ है तक्क लै कहर ओहदा,
किन्ना वडड़ा करम करतार दा ई ।
७८
मेरे दिल दीवाने दी भली पुच्छी,
होया शाकर ना इह तकदीर दा ई ।
फिरदा हिरस हवा दे मगर नस्सा,
पुत्त इह तकसीर तदबीर दा ई ।
गुज़र गए जवानी दे दिन सोहणे,
यारा आ ग्या वकत अख़ीर दा ई ।
वधी हिरस ते होर जवान होई,
रेहा कक्ख ना भावें सरीर दा ई ।
७९
यार-लोक ने किन्ने चलाक अज्ज कल्ल्ह,
दोहां पास्यां वल्ल ध्यान रक्खदे ।
इक्क पासे तां कुफ़र दी भरन हामी,
दूजे बग़ल दे विच कुरान रक्खदे ।
बैठे रहन शतरंज दे जिवें मोहरे,
शातर बहुत पछान पछान रक्खदे ।
इक दूसरे ते वार करन ख़ातर,
खिच्ची साज़िसी सदा कमान रक्खदे ।
८०
इक्क पुत्तर कसाई दा मैं सुण्या,
मेरे नाल वी बड़ा ख़फ़ा होवे ।
चाहुन्दा मैं पर दिलों हां दिल ओहदा,
शीशे वरगा सफ़ा सफ़ा होवे ।
ओहदे पैरां ते सीस टिका दिआं मैं,
जेकर ओस तों हत्थ मिला होवे ।
चंगी गल्ल है दिसे ना मूंह ओहदा,
जेकर पिट्ठ भवा जुदा होवे ।
८१
चलो चली दा इह जहान सारा,
जो वी एस हकीकत नूं जाणदा ए ।
किवें पत्त झड़ दे विच्च बहार बदले,
एस अमल नूं वेख पछाणदा ए ।
ओह ना रीझदा फुल्लां दे रंग उत्ते,
ना ही नशा शराब दा माणदा ए ।
ओह तां वेखके सगों अणडिट्ठ करदा,
सभ कुछ जाणदा वी कुछ ना जाणदा ए ।
८२
मेरे हर गुनाह ते वेख्या है,
करम साईं ने होर हज़ार कीता ।
इउं बदले गुनाहां दे बख़शिशां नाल,
मैनूं बड़ा ओहने शरमसार कीता ।
रहबर बने अख़ीर गुनाह मेरे,
राहां सारिआं तों वाकिफ़कार कीता ।
मैनूं दस्स्या फ़ज़ल ते करम केहड़े,
नाले ग़लतियां तों ख़बरदार कीता ।
८३
हत्थीं बद्धीं ग़ुलामां दे वांग होवे,
सारा जग्ग ही ताब्यादार तेरा ।
सूरज, चन्द दा गेड़ पुलाड़ अन्दर,
चले इउं ज्युं आग्याकार तेरा ।
तेरे 'कैसर', 'फ़गफ़ूर' वी नफ़र होवण,
हर चीज़ ते होवे अधिकार तेरा ।
पल्ले झाड़ के फेर वी जाएं ख़ाली,
एहो हशर होना अख़रकार तेरा ।
८४
जो वी अक्ख खोल्हे तेरे फ़ैज़ अन्दर,
पै जीहदे ते मेहर दी नज़र जाए ।
कहर ग़ज़ब दी नहीं परवाह करदा,
ओहदी आतमा हो निडर जाए ।
तेरे घरों दुरकारिआ जो जाए,
रह ओस लई कोई ना घर जाए ।
जिस दा तूं पर हो ग्या आप साईआं,
ओहदे वासते खुल्ह हर दर जाए ।
८५
जेकर ओस दे फ़ैज़ नूं लभ्भदा एं ?
ओहदी मेहर है जेकरां चाह तेरी ।
भला दोहां जहानां दे विच्च होवे,
जै जै कार होवे वाह वाह तेरी ।
ओहदी सिक्क दे विच्च शुदाई हो जा,
इही रास तेरी, एही राह तेरी ।
मेहर मंग ओहदी अग्गा सौर जाए,
करे आप दातार परवाह तेरी ।
८६
जो वी एस संसार तों मुक्ख मोड़े,
चैन ओसदी आतमा पाउंदी ए ।
दौलत दब्बे होए कुल्ल ख़ज़ान्यां दी,
सारी ओहदिआं हत्थां विच आउंदी ए ।
बड़ा कीमती अते दुरलभ्भ हीरा,
जेहदी कदर ना दुनियां पाउंदी ए ।
जीवन सागर दी छल्ल फिर उही हीरा,
ओहदी तली ते आप टिकाउंदी ए ।
८७
दुखी भटकदा दिल जे मिले छिन भर,
समझ कुछ नहीं होया नुकसान तेरा ।
सगों ऐश आराम सभ मिले तैनूं,
धन दौलतां कुल जहान तेरा ।
जे दिल नगीने ते मुहर रब्बी,
आप ला ग्या रब्ब रहमान तेरा ।
तेरी कुल्ल संसार ते हुकमरानी,
झूले जग्ग ते फेर निशान तेरा ।
८८
तेरा ग़ाफ़ली वरगा ना होर वैरी,
कारन ग़ाफ़ली दिक्कतां भारियां नी ।
इहदे नालों रुसवाई जो करे वधके,
फिरन भालदे उह मनसबदारियां नी ।
वकत आख़री यारा चेतन्न हो जा,
एस मंज़ले बहुत दुशवारियां नी ।
पुग्गी उमरे वी ग़ाफ़ली रहे जेकर,
पल्ले रहन्दियां सिरफ़ खुवारियां नी ।
८९
ज़ख़मी दिल जे तैनूं ख़ुदा दित्ता,
तैनूं चाहीदा नहीं ग़मगीन होना ।
फ़ज़ल, करम, सख़ावतां करे जेकर,
तैनूं सोभदा होर मसकीन होना ।
दौलत 'सरमदी' मिले तां शुकर करीए,
वड्डा मरतबा ख़ाक नशीन होना ।
दात होर देवे, होर वद्ध देवे,
इहो चाहीदा सदा यकीन होना ।
९०
गिला यार दा 'सरमदा' नहीं कीता,
जेकर नहीं कीता, बड़ा ठीक कीता ।
मन्दा बोल विगाड़ जे नहीं कीता,
बड़ा ठीक कीता, बड़ा ठीक कीता ।
चाहीए तैनूं ज़माने दा शुकर करना,
ओहने जो वी कीता, सो ठीक कीता ।
जेहड़ा चाहीदा नहीं सी कंम होणा,
समें होन नहीं दित्ता, तां ठीक कीता ।
९१
ज़रा वेख तां सारे अज़ीज़ मेरे,
किवें ख़ाक दे विच समा गए ।
घिर गए फ़नाह दी विच वादी,
ओड़क काल झराट विच आ गए ।
जेहड़े हिरस हवा दे होए मारे,
अरशां तक उड्डारियां ला गए ।
आख़र उह वी धरती ते आण ढट्ठे,
जबड़े कबरां दे ओहनां नूं खा गए ।
९२
जेहड़ा रज्ज शराब दे जाम पीवे,
ओह वी आपना वकत गुज़ार जाए ।
भुन्न भुन्न के जेहड़ा कबाब खांदा,
ओह वी आपना वकत गुज़ार जाए ।
भीख मंगदा फिरे जो विच्च गलियां,
ओह वी आपना वकत गुज़ार जाए ।
पानी ठूठे दे गिल्लियां बुरकियां कर,
खांदा 'सरमद' वी वकत गुज़ार जाए ।
९३
पकड़ कदर दी तक्कड़ी आप हत्थीं,
तोले आप ख़ुदा ने भार भारी ।
सूरज रक्ख्या रब्ब ने इक छाबे,
तेरे चेहरे दी दूजे विच जिनस प्यारी ।
भारा निकलिआ तैंडड़ा परी चेहरा,
प्या रेहा ज़मीन ते रब्ब वारी ।
छाबा दूसरा उड्ड्या बहुत हौला,
सूरज सने असमान विच्च लाई तारी ।
९४
ग़म इशक दा 'सरमदा' नहीं मिलदा,
कदे हिरस हवा दे मारिआं नूं ।
मिलदा सदा परवाने नूं सोज़ दिल दा,
मिलदा कदों इह मक्खां विचारिआं नूं ।
इक्क उमर गुज़ार के कोई वेखे,
सोहने यार दे सोहने नज़ारिआं नूं ।
किसे विरले नूं 'सरमद' नसीब होवे,
दौलत मिलदी ना कदे इह सारिआं नूं ।
९५
जित्थे जाएं तूं इहो दुआ साडी,
रहन मेहर मुहब्बतां नाल तेरे ।
सुक्ख, शांती सदा नसीब होवण,
बन के रहन हर थां अंग पाल तेरे ।
रहीं घल्लदा सुक्ख सुनेहड़िआं नूं,
याद असां वी शामले-हाल तेरे ।
सानूं कदे वी दिलों विसारना नहीं,
जाह ! फ़ज़ल ख़ुदा दा नाल तेरे ।
९६
सारे सुक्ख जहान दे होन हासल,
दिल जे प्यार दे नशे विच्च चूर होवे ।
फ़िकर घेरदे ओसे ही आदमी नूं,
पा के दौलतां जेहड़ा मग़रूर होवे ।
जान-दिल नूं दिलबर दे रक्ख पैरीं,
आपा तैंडड़ा ओहदा मशकूर होवे ।
दौलत दायमी जाएगी नाल तेरे,
काहनूं मन तेरा इस तों दूर होवे ।
९७
मगर दुनियां दे कासनूं भज्जदा एं,
वैरी इह तां तैंडड़ी जान दी ओ ।
नाज़क दिल ते भार जद प्या इहदा,
नप्पी जाएगी चिनग ईमान दी ओ ।
एस गल्ल नूं परखना चाहें जेकर,
ख़बरदार इह रमज़ इरफ़ान दी ओ ।
लै के तक्कड़ी होश दी जोखना ईं,
ओड़क जोखनी जिनस जहान दी ओ ।
९८
पीते जाम शराब दे ज़ाहदां ने,
मौसम तक्क्या जदों बहार दा ई ।
आई खिज़ां उबासियां लैन बैठे,
नहीं पीती नूं चित्त विसारदा ई ।
पी लै 'सरमदा' रज्ज के जाम पी लै,
फ़लक कदे ना घट्ट गुज़ारदा ई,
वेख ! किस तर्हां वांग शिकारियां दे,
बैठा घात लाई, तैनूं मारदा ई ।
९९
मैनूं बड़ा अफसोस है सोच मेरी,
ओहदे वल्ल उडारियां मार थक्की ।
रही घुंमदी रक्कड़ां जंगलां विच्च,
ओहनूं लभ्भदी लभ्भदी हार थक्की ।
परेशान ते बड़ा हैरान सां मैं,
मेरी सोच क्यों अद्ध विचकार थक्की ।
जाला मक्कड़ी दा किवें रब्ब उण्यां ?
इहो सोचदी इह वार वार थक्की ।
१००
दरद ग़म ज़माने दा खाए जेहड़ा,
ओही असल दे विच्च है शाद हुन्दा ।
ओहदी दोहां जहानां विच्च नेक नामी,
नाले चित्त परसन्न आज़ाद हुन्दा ।
ज़र्रे, ज़र्रे विच्च वेखी मैं ज़ात ओहदी,
हर शै ते ओहदा परशाद हुन्दा ।
जिस शीशे चों रब्ब दी आए परतों,
रब्बी तोहफ़ा नहीं ओह बरबाद हुन्दा ।
१०१
एस दुनियां दे सारे ही लोक मैं तां,
दुक्खां ग़मां दे नाल बीमार वेखे ।
गिणती बहुत ही बड़ी दीवान्यां दी,
थोड़्हे, इहनां दे विच्च हुश्यार वेखे ।
दोंह दिनां दी ज़िन्दगी, ग़ज़ब दी गल्ल !
किन्ने नफ़स दे ताब्यादार वेखे ।
बद्धे हिरस हवा दे बंधनां विच्च,
लोक बड़े मजबूर लाचार वेखे ।
१०२
दुनियां विच अज़मा के वेख्या ए,
कोई कदे ना अमन अमान पाए ।
मोह एस दा इक्क वपार ऐसा,
जो वी करे सो सदा नुकसान पाए ।
अज्ज तेरा इह पकड़दी जिवें दामन,
मगर होर सन इवें इनसान लाए ।
अज्ज हुन्दा, ते पहलां वी हुन्दा आया,
इसे तर्हां ही करदा जहान जाए ।
१०३
की होया जे सैंकड़े यार मेरे,
वैरी हो गए तोड़ के गए यारी ।
कायम दोसती इक्क ही रही पक्की,
दित्ता दिल नूं जीहने धरवास भारी ।
मैं छड्ड वडाणियां, सभ आसां,
इको जोत सरूप दी आस धारी ।
ओहदा हो ग्या मैं, मेरा हो ग्या उह,
इउं दूर होई दिलों दूई सारी ।
१०४
अकसर लोकां नूं मैं तां वेख्या है,
पीड़ां हसरतां दिलीं लुकाई फिरदे ।
दाग़ सैंकड़े साड़े ते ईरखा दे,
विच्च सीन्यां दे डूंघे लाई फिरदे ।
दोंह दिनां दी आरज़ी ज़िन्दगी लई,
किन्ने हिरस ते नाज़ उठाई फिरदे ।
पीड़ां ग़मां नूं ऐवें चमोड़ के ते,
पए बे-दिलां वांग घबराई फिरदे ।
१०५
इहनां मूरखां नूं कोई की आखे,
इह तां अल्ला दी ज़ात पछाणदे नहीं ।
सोने चांदी दे वासते रहन लड़दे,
कीने पालदे मित्तर स्याणदे नहीं ।
करीं कदे इतबार ना दोसती दा,
लोक दुनियां दे दोसती जाणदे नहीं ।
इह तां छोटी जेही आरज़ी ज़िन्दगी लई,
पाउंदे वैर ने, दोसती माणदे नहीं ।
१०६
एस दुनियां दे लोक बदख़ाह मेरे,
आखां होर की रब्ब दे मारिआं नूं ।
सच्चे यार तां दुनियां विच बहुत थोड़्हे,
यार आख ना सकीए सारिआं नूं ।
बन्दे हिरस दे ताब्यादार जेहड़े,
भोगन ऐश दे सदा नज़ारिआं नूं ।
सहना दुक्ख पर दुनियां दे विच पैंदा,
सदा बन्दिआं अल्ला दे प्यारिआं नूं ।
१०७
लभदी दोसती दुनियां दे विच कित्थे ?
मिलदे रोटियां दे सारे यार एथे ।
सचीं ! असीं तां कोई वी वेख्या नहीं,
दिलों किसे नूं करे प्यार एथे ।
दर दर भटकदे कुत्त्यां वांग फिरदे,
ख़ातर बुरकियां पूछां खिलार एथे ।
इको रोटी प्रेरना दोसती दी,
वेखे जो वी खान दे यार एथे ।
१०८
लंमी उमर दी आस तां मुक्कदी नहीं,
एस गल्ल नूं कदे वी सोच्या ना ।
रंग लिआउन अग्हां की अमल मेरे,
मूरख मन ने कदे वी सोच्या ना ।
डूंघी नींद विच उमर गुज़ार दित्ती,
करनी होश है कदे वी सोच्या ना ।
की करांगे जदों सवेर होई,
कंम पैणगे कदे वी सोच्या ना ।
१०९
जदों कदों वी दिल हिसाब लाउंदा,
अमलां कीत्यां ते शरमसार हुन्दा ।
फ़िकर दुक्खड़े एस नूं घेर लैंदे,
बड़ा डोलदा ते अवाज़ार हुन्दा ।
इक छिन वी कीते गुनाहां उपर,
इसतों कदे ध्यान नहीं मार हुन्दा ।
जिन्हीं कंमीं शरमिन्दगी पए पल्ले,
नहीं ओहनां तों कर इनकार हुन्दा ।
११०
वेख लए जे लैला दी शकल कोई,
दिल नूं मजनूं दे वांग प्यार आए ।
ओस हाल फिर थलां दे वांग मैनूं,
नज़र आपना घर ते बार आए ।
बुढ्ढी उमर विच ज़ाहद जवान होया,
ओहदे चेहरे ते होर निख़ार आए ।
इयों जाप्या जिवें ख़िज़ां अन्दर,
महकां वंडदी किधरे बहार आए ।
१११
जिस अल्ला ने मेहर दी नज़र करके,
तैनूं यारा सुलतानियां दित्तियां ने ।
पल्ले मेरे मुसीबतां पा ओहने,
मैनूं दरद निशानियां दित्तियां ने ।
ऐब करदिआं नूं कज्जन बख़श दित्ते,
होर तन-आसानियां दित्तियां ने ।
ऐबों सक्खने सानूं हमातड़ां नूं,
ओहने सिरफ़ उरिआनियां दित्तियां ने ।
(उरिआनियां=नंगापन )
११२
तेरे बाझ रंगीलिआ सज्जना ओए,
किसे होर ना यार दी चाह कोई ।
मैनूं हिरस ना किसे गुलज़ार दी ए,
ना ही महकी बहार दी चाह कोई ।
मेरे वहमां ख़्यालां दा तूं मरकज़,
नहीं किसे प्रकार दी चाह कोई ।
तेरा चेहरा ते प्यार दरकार मैनूं,
किसे होर ना कार दी चाह कोई ।
११३
कोई हज्ज ना प्यार दे नशे बाझों,
नशा प्यार दा बड़ा कमाल हुन्दा ।
नशा पीड़ां चों जेहड़ा कशीद होया,
ओहदे पीत्यां हासल विसाल हुन्दा ।
सिर दा दरद है दुनियां दा मैख़ाना,
इस विच दुख वी बे-मिसाल हुन्दा ।
इह थां ख़ुमार तों नहीं ख़ाली,
एथे बड़ा ही रंज मलाल हुन्दा ।
११४
इह दुनियां दे लोक ने बड़े तंगदिल,
हर कोई दूजे दे मूंह नूं आउंदा ए ।
आपा धापी दे इस मैदान अन्दर,
हर इक आपनी डफ्फ वजाउंदा ए ।
तोड़ ताड़के प्यार-कानून्न सारे,
जिवें चलदी कोई चलाउंदा ए ।
कोई गल्ल वी सुल्हा दी नहीं करदा,
जग्ग वेहरिआ जंग मचाउंदा ए ।
११५
सदा उस नूं यार बणाईं यारा,
जेहड़ा करे वफ़ा ना मुक्ख मोड़े ।
कदे छड्ड ना अद्ध विचकार जाए,
जान बुझ्झ के तेरा ना दिल तोड़े ।
तेरे नाल गलवक्कड़ी पाए हरदम,
किधरे ग़ैर दे नाल ना दिल जोड़े ।
इक्क पैर वी तैथों ना वक्ख होवे,
कदे ना विछोड़े दे खूह बोड़े ।
११६
एस कौम दे बड़े अजीब लोकीं,
नाल दौलतां यारियां लाउंदे ई ।
गाफ़ल इह ख़ुदा तों रहन हर दम,
आपस विच्च वी वैर कमाउंदे ई ।
खावे आपना आप नसीब बन्दा,
नुकते एस ते कदे ना आउंदे ई ।
मेहर रब्ब दी वेख के किसे उत्ते,
साड़े नाल इह मन तपाउंदे ई ।
११७
फुल्ल-रंग शराब दे जाम पीवे,
ओह असल दे विच्च हुश्यार होवे ।
ओहदे दरद हन्देसड़े दूर हुन्दे,
ओही मसतियां नाल सरशार होवे ।
रज्ज पी शराब दे जाम यारा,
फन्दक फ़लक दा प्या त्यार होवे ।
ओहने जाल विकराल विच्च खिच्च लैणा,
कोई आर होवे भावें पार होवे ।
११८
तेरे इशक विच्च जो वी रंग होया,
ओहदे चेहरे दा उड्डदा रंग जाए ।
डरन चित्तरे वी तेरा नाम सुणके,
कम्ब वेंहदिआं सार नेहंग जाए ।
पत्थर दिली तेरी एहो लोचदी ए,
सख़त जान ही कोई मलंग आए ।
क्युंकि सच्च ही मिसल मशहूर सारे,
पत्थर पत्थर नूं तोड़ निशंग जाए ।
११९
मकतल इशक दे इह दसतूर चलदा,
कदे माड़िआं नूं कोई मारदा नहीं ।
निरियां हड्डियां बुड़बुड़ाउंदियां नूं,
कोई मौत दे घाट उतारदा नहीं ।
तेरे वांग सादक आशक होए जेहड़ा,
मौत वेख के हौसला हारदा नहीं ।
डरना कास नूं ? कदे वी मुरदिआं ते,
करदा कोई वी वार तलवार दा नहीं ।
१२०
ओह वी दिन अख़ीर नूं आ जाणा,
मैनूं हेठ ज़मीन दे पए साउना ।
रब्बा मेहर कर, बख़श गुनाह मेरे,
ओड़क तूं ही गुनाहीं नूं मुक्ख लाउना ।
इसे तर्हां जे गोर दी अग्ग साईआं,
साडा धरती दे हेठ है तन ताउना ।
उपर धरती दे आप ही दस्स साईआं,
अल्ला वालिआं कित्थे आराम पाउना ।
१२१
मेरे नफ़स तूं ज़ालमां ! दस तां सही,
आई आपनी आ के करेंगा की ?
ख़लक ख़ालक दे नालों विछोड़ मैनूं,
दे के फेर जुदाई तूं करेंगा की ?
सदा तैनूं लड़ाई दी पई रहन्दी,
सड़के एस जनून्न विच करेंगा की ?
ग़लती नाल सुल्हा दी सोच किधरे,
लड़ के नाल मलंग दे करेंगा की ?
१२२
इहदा रहे ना नाम निशान बाकी,
दौलत जापदी जेहड़ी संसार दी ओ ।
इह नज़र दे धोखे तों वद्ध कुछ ना,
सुफने वांग उडारियां मारदी ओ ।
काहनूं वहम गुमान ते ख़ुश होवें,
दुनियां इह महमान दिन चार दी ओ ।
दुक्खां दरदां दी खान वजूद इहदा,
जाईं समझ तूं गल्ल इसरार दी ओ ।
१२३
जिस किसे ने रब्ब दा दिल अन्दर,
रीझां नाल संभालिआ प्यार होवे ।
उतों भावें दीवान्यां वांग जापे,
होश विच पर ताब्यादार होवे ।
नशा इशक दे जाम दा वक्खरा ए,
विरला एस नूं पीए सरशार होवे ।
मदरा प्रेम दी, अक्ख नहीं वेख सकदी,
पैंदी ओस दी दिलां विच धार होवे ।
१२४
मनसब इशक दा बख़श ख़ुदा मैनूं,
विच दुनियां दे सरफ़राज़ कीता ।
मेरी सभ मशन्दगी दूर होई,
सारी ख़लक तों बेन्याज़ कीता ।
मैनूं साड़िआ शम्हा दे वांग ओहने,
चारा इस तर्हां सी चारासाज़ जीता ।
सड़दे सड़दे हकीकतां खुल्ह गईआं,
साईं मैंडड़े ने महरम राज़ कीता ।
१२५
भावें जाणदा सभ गुनाह मेरे,
चशम पोशी ओह जाणके करी जाए ।
हरदम कोल बिठाल के आप मैनूं,
झोली बखशिशां नाल ओह भरी जाए ।
सोचां सोचदा आपने हाल बारे,
दिल डुब्ब जाए, कदे तरी जाए ।
एसे गेड़ विच्च ओस नूं वेख्या मैं,
बखशिश मेरे ते होर वी करी जाए ।
१२६
महमा ओस इनसान दी रब्ब वरगी,
जीहने हक्क हकीकत दा भेद पाइआ ।
खिल्लर ग्या पुलाड़ दे विच सारे,
ओह तां नीले असमान ते जा छाइआ ।
मुल्लां आख्या पा के डंड एदां,
'अहमद उपर असमान दे वल्ल धाइआ ।'
"सरमद" बोलिआ गज्ज के एतरां नहीं,
'कोल अहमद दे' उत्तर असमान आया ।
१२७
'सरमद' तैनूं शराब दे जाम दे के,
चाह-मसतियां विच्च उतारिआ ई ।
कदे चुक्क्या तैनूं असमान उपर,
कदे हेठां पटका के मारिआ ई ।
तेरी चाह सी रब्ब दी करां पूजा,
कदे हुन वी इयों विचारिआ ई ?
बुत्त पुजा दे राह ते पाउन दे लई,
तैनूं नाल शराब दे चारिआ ई ।
१२८
छड ख़ुदी ख़ुदा दे कोल हो जा,
ओह वी आएगा पास अडोल तेरे ।
चंगे अमलां दा बणेंगा तूं मोहरी,
सारे होणगे कंम अनभोल तेरे ।
तेरी दोहां जहानां ते अमलदारी,
गूंजन हुकम दे वांगरां बोल तेरे ।
तैथों मेहर, सुरक्ख्या लैन ख़ातर,
ढुक्के सारा जहान फिर कोल तेरे ।
१२९
गल्ल सज्जणों सुणों ध्यान धरके,
ज़रा आपा सुआरना, भुल्लना नहीं ।
मिले जदों तक्क जाम ते जाम पीओ,
इस नूं ज़रा नितारना, भुल्लना नहीं ।
एस जाम तों दौलत जमशैद पाई,
इह गल्ल विचारना, भुल्लना नहीं ।
पल्ले एस नसीहत नूं बन्न्ह लैणा,
नहीं इहनूं विसारना, भुल्लना नहीं ।
१३०
केहो जेहे इह लोक जहान दे ने,
बिना रब्ब दी सोच विचार रहन्दे ।
सुब्हा, शाम ते तिक्खड़ दुपहर वेले,
सोने चांदी दा करदे वेहार रहन्दे ।
रहन्दे भांड्यां वांगरां ठहकदे इह,
जिधरे किधरे वी दो जां चार रहन्दे ।
सभनां वांग हवा दे गुज़र जाणा,
फिर वी भिड़न दे लई त्यार रहन्दे ।
१३१
रब्बा मेरिआ मेरे ते मेहर रक्खीं,
किसे तक ना मेरी रसाई होवे ।
ना मैं आस वफ़ा दी कदे रक्खां,
ना ही किसे दे नाल अशनाई होवे ।
फस्या मैं चुरासी दे गेड़ अन्दर,
बस इस तर्हां घुंम घुमाई होवे ।
तेरे फ़ज़ल ते तेरियां रहमतां बिन,
मुमकिन मेरी ना साईआं रेहाई होवे ।
१३२
हर कोई ख़ुदा तों मंगदा है,
कोई माल मंगे कोई दीन मंगे ।
कोई मंगे ख़ुदा तों परी चेहरा,
कोई चांदनी बदन हुसीन मंगे ।
मेरा दिल तां कुछ वी मंगदा नहीं,
ना ही 'सुआद' मंगे, ना ही 'सीन' मंगे ।
होर मंगना दुक्खां सिर दुक्ख समझे,
मंगे इह तां वसल-तसकीन मंगे ।
१३३
ओह केहड़ा है एस जहान अन्दर,
जेहड़ा ज़ोहद रिआ नूं जाणदा नहीं ?
धोखे असां दे, असां दी नीत माड़ी,
तूं की समझ्या, रब्ब पछाणदा नहीं ?
काहनूं ज़ाहद शराब तों मोड़दा एं,
इहनां गल्लां नूं मैं स्याणदा नहीं ?
दस्स ओसनूं आपनी पारसाई,
जेहड़ा तेरी औकात नूं जाणदा नहीं ?
१३४
छड्ड 'सरमदा, गिले गुज़ारिशां नूं,
मेरी गल्ल ते ज़रा विचार कर लै ।
दो जेहड़ियां तैनूं मैं दस्सदा हां,
कोई इक्क तूं उहनां 'चों कार कर लै ।
जां तां मन्न रज़ा महबूब दी नूं,
तन-भेट तूं ओहदे दरबार कर लै ।
जां फिर आ ख़ुदा दे राह उत्ते,
उट्ठ ! आपनी जान निसार कर लै ।
१३५
मिले ओस नूं असल विच्च ज़िन्दगानी,
पहलां हसती जो आपनी मारदा ई ।
इह ओस नूं मरतबा नहीं मिलदा,
जेहड़ा राह विच हौसला हारदा ई ।
शम्हां वांगरां सड़े ना बले जेहड़ा,
वाकिफ़ ज़रा ना उह इसरार दा ई ।
ओहदे भाग विच्च घोर अंध्यार समझो,
बातन विच्च ना नूर करतार दा ई ।
१३६
शक्क ज़रा ना एस दे विच्च 'सरमद',
बड़ी इशक ने मेरी रुसवाई कीती ।
पागल, मसत, शराबियां वांग कीता,
बाहली जग्ग ते जग्ग-हसाई कीती ।
विच्च राह महबूब दे ख़ाक वांगर,
मेरे नंगे सरीर समाई कीती ।
ओह वी बाकी तलवार ना रहन दित्ती,
इक्को वार दे नाल सफ़ाई कीती ।
१३७
सोने, चांदी दी हिरस हवा उप्पर,
काबू जो वी आदमी पा जाए ।
कोई शक्क ना फेर महबूब सोहणा,
ओहदे पहलू विच्च मलकड़े आ जाए ।
जेकर हत्थ नसीब दा होए धागा,
आदम रब्ब नूं पौड़ियां ला जाए ।
कीना ओस दे नाल ना कदे करीए,
जिस ते मेहरबां हो ख़ुदा जाए ।
१३८
पाप पुन्न जे किसे दे अक्ख तेरी,
ऐवें किधरे सबब्ब दे नाल वेखे ।
उस नूं चाहीदा पाप ते पुन्न तेरे,
ओस तक्कनी दे नाल नाल वेखे ।
सच्चा वद्ध ना एस तों पुन्न कोई,
पुन्न होर वी भावें कमाल वेखे ।
अन्दर आपने झातियां मार मियां,
नज़र तैंडड़ी वी तेरा हाल वेखे ।
१३९
सिर दे भार मैं यार दी गली जावां,
इउं आशकी रसम निभाई जावां ।
रेहा सिर ना, लत्थ गए पैर मेरे,
रब्बा फेर वी दाईआ पुगाई जावां ।
होश अकल टिकाने ते है मेरी,
काहनूं जुतियां शीश ते चाई जावां ।
पागल नहीं, कि लाह दसतार सिर तों,
कोई वक्खरा सांग बणाई जावां ।
१४०
सागर ज़िन्दगी ते पई मचलदी है,
बझ्झी बुलबुले वांग हवा तेरी ।
हर उभरदी छल्ल तों ख़ौफ़ खा के,
हुन्दी रहन्दी है होश ख़ता तेरी ।
शीशा रक्ख हथेली ते वेख तां सही,
किवें घड़ी ए शकल ख़ुदा तेरी ।
नाले पुच्छ लै आपने अकस कोलों,
कदों आएगी भला कज़ा तेरी ।
१४१
झाड़ छड्ड तूं वहम गुमान सारे,
फ़िकर दुनियां दे टप्प के पार हो जा ।
जेहड़ी बाग़ां, सहरावां 'चों लंघ जाए,
तूं वी पौन उह तेज़ रफ़तार हो जा ।
सोहने फुल्ल, शराब विच पए दाणा,
जावीं रीझ ना तूं ख़बरदार हो जा ।
जा, लंघ जा मौलियां सधरां 'चों,
हो जा बड़ा चेतन्न हुश्यार हो जा ।
१४२
मेरे मित्तरा गहु दे नाल वेखीं,
मेरा फ़लसफ़ा, फ़िकर, ग्यान मेरा ।
विच्च मेहर, वफ़ा, मुहब्बतां दे,
सानी कोई ना एस जहान मेरा ।
मालक मैं हां कुल्ल सचाईआं दा,
रहन्दा सदा ही रूप जवान मेरा ।
मैनूं वांग किताब दे फोल वेखीं,
हर सफ़े विच पड़्ह ब्यान मेरा ।
१४३
रात दिन ते शाम सवेर हरदम,
पापां कीत्यां ते शरमसार हां मैं ।
एस हाल दा होर ना कोई महरम,
एस राज़ सन्दा राज़दार हां मैं ।
लत्थ-पत्थ गुनाहां दे नाल दामन,
करदा बख़शिशां दा इंतज़ार हां मैं ।
तेरी मेहर ते मेरे गुनाह साईआं,
इहनां दोहां दा ही वाकिफ़कार हां मैं ।
१४४
शेखी खोर, मग़रूर, परहेज़गारा,
कूड़ी छड्डदे आपनी पारसाई ।
इह चातरी, समझ लै गल्ल एनी,
बिनां रंज दे होर ना शै काई ।
तैनूं आखदे लोक दरवेश भावें,
समझन नहीं पाखंड दा भेस राई ।
चिट्टा, कालखां वाले नूं आखदे ने,
उलटी उहनां ने जापदी समझ पाई ।
१४५
पापां मेरिआं, रहमतां तेरियां दा,
नहीं रह ग्या हद्द हिसाब कोई ।
कोई शै जे बे हिसाब होवे,
करे ओस दा किवें हिसाब कोई ।
करां गिणतियां सैकड़े साल भावें,
फिर वी मिले ना मैनूं हिसाब कोई ।
तेरा फ़ज़ल ते मेरे गुनाह साईआं,
नहीं दोहां दा अंत हिसाब कोई ।
१४६
जेकर मोह संसार दा छड्ड देवें,
तेरा रब्ब फिर तैंडड़े पास होवे ।
लाड़ी सुक्ख आराम दी करे सेवा,
तेरा दिल ना कदे उदास होवे ।
तेरी तली ते न्यामतां टिकन लक्खां,
नज़र मौला दी तेरे ते ख़ास होवे ।
बंधन माइआ दे जदों तक टुट्टदे नहीं,
तेरी कदे ना बन्द-ख़लास होवे ।
१४७
मेरे मना तूं मन्न रज़ा रब्बी,
अल्ला पाक नूं आपना यार कर लै ।
रंज दुक्खड़े रक्ख दे इक्क पासे,
हलका आपनी जान दा भार कर लै ।
उमरा हिरस हवा दी है गठड़ी,
एस सच्च ते ज़रा विचार कर लै ।
काहनूं ग़ाफ़िली विच गुज़ारदा एं,
नाल यार दे प्यार वपार कर लै ।
१४८
धरके ध्यान महबूब दा दिल अन्दर,
सदा चित्त आनन्द मसरूर कर लै ।
दौलत इह तां कदे निखुट्टदी नहीं,
भर लै झोलियां घर भरपूर कर लै ।
एस गल्ल तों कदे वी रंज कोई ना,
तूं वी आपने रंज नूं दूर कर लै ।
सौदा इह मुनाफ़े ही बख़शदा है,
इह सौदा तूं यार ज़रूर कर लै ।
१४९
घुंमन घेर गुनाहां दे फसी बेड़ी,
फ़ज़ल मेरे ते मेरे करतार करदे ।
डुब्ब जाए ना डोलदी इह बेड़ी,
चप्पू मेहर दा ला के पार करदे ।
भावें मेरिआं पापां दा अंत कोई ना,
करम ओहनां तों वद्ध दातार करदे ।
पैणां तैनूं हिसाबां विच्च शोभदा नहीं,
करदे रहमतां अपर अपार करदे ।
१५०
मैनूं जापदा इह है नामुमकिन,
तेरे पहलू विच यार नहीं हो सकदा ।
दिलों कढ्ढ दे ख़ाम ख़्यालियां नूं ,
अजे तैनूं दीदार नहीं हो सकदा ।
ख़्याल ग़ैर दा वी तेरे दिल अन्दर,
कदे आए तां प्यार नहीं हो सकदा ।
तेरे विच ते यार विच कंध आई,
बगलगीर दिलदार नहीं हो सकदा ।
१५१
ग़म इशक दा खाए तां दिल मुरदा,
सदा जीऊंदिआं विच्च ज़रूर होवे ।
तूं वी एतरां ज़िन्दगी पा अबदी,
इह इशक दा सदा दसतूर होवे ।
लुतफ़ ओहदिआं चुंमणां, जफ़्फ़ियां दा,
लैना तैनूं वी जेकर मनज़ूर होवे ।
इक सवास ना ओस तों वक्ख होवे,
तेरा यार दे दिल हज़ूर होवे ।
१५२
जावां किद्धर ते करां मैं की रब्बा,
नहीं पापां दा रेहा शुमार कोई ।
ख़सता हाल दी बेड़ी नूं कढ्ढ साईआं,
फाथी इह तां विच मंझधार होई ।
ग़रक हो ग्या दिल खजालतां विच,
मेरे नाल दा ना शरमसार कोई ।
तेरा फ़ज़ल ही लाएगा पत्तणां ते,
होर लाए ना बेड़ियां पार कोई ।
१५३
संगत ओहनां दी जदों तक्क छड्डदे नहीं,
चन्दर-मुखियां दे नाल जो प्यार करदे ।
लुतफ़ उहनां नूं कोई ना होए हासल,
भावें किन्ना ओह बोसो-किनार करदे ।
चन्दर बदन इह दिलां दे बड़े खोटे,
सोने चांदी दा सिरफ़ वपार करदे ।
तेरे वरगे तां ओहनां ते शोभदे नहीं,
दिल, जान ते माल निसार करदे ।
१५४
फ़ज़ल यार दा अते गुनाह मेरे,
कौन इहनां दा करना शुमार जाने ।
इह भेद हिसाब कुझ्झ एतरां दा,
इहनूं मैं जाना जां फिर यार जाने ।
होई आशक गुनाह दे हुसन उत्ते,
अक्ख ओस दे फ़ज़ल दी, यार जाने ।
तैनूं आपने पापां तों डर काहदा,
तेरे पाप जानन, बख़शणहार जाने ।
१५५
चेहरा साकी दा होए गुलाब वरगा,
मिल जाए तां अक्खियां ठारना ईं ।
ओहदे पैरां ते सीस झुका देणा,
बहुत ओस दा शुकर गुज़ारना ईं ।
पी के मै हलीमी ते आजज़ी दी,
ऐसे नशे नूं नहीं उतारना ईं ।
ख़बरदार ! तूं बचीं गनूदगी तों,
तैनूं एस खुमार ने मारना ईं ।
१५६
जेहड़ी शै दा मुल्ल ना इक्क कौडी,
जेहड़ी चीज़ दे विच ने ऐब भारी ।
ओह है ख़लक दे झंजटां विच पैणा,
उस तों बचीं वारी, उस तों बचीं वारी ।
ख़लकत नाल ना कदे वी मोह पाईए,
सहने पैणगे एस तों रंज कारी ।
तैनूं दस्स्या मैं, होर की आखां,
हौला भार ते साथ दी सर-दारी ।
१५७
मैं शबद ते ओह है अरथ मेरा,
मैं, ओह, ने भला अलग्ग कित्थे ?
नज़र, अक्ख तों जापदी वक्ख भावें,
इक्क मिक्क ने होन अलग्ग कित्थे ?
जदों लाज़म मलज़ूम ने इह सैआं,
कोई इहनां नूं करे अलग्ग कित्थे ?
फुल्ल, बासना कहन नूं दो चीज़ां,
पर इह हुन्दियां भला अलग्ग कित्थे ?
१५८
निसदिन भुल्लदी नहीं इह गल्ल मैनूं,
बख़शणहार तूं हैं, औगुणहार मैं हां ।
आपने पापां ते रहमतां तेरियां दा,
अरबा जाणदा हां, वाकिफ़कार मैं हां ।
मैथों की होया ? मेहरां तेरियां की ?
दोहां पास्यां दा राज़दार मैं हां ।
सुब्हा शाम मैं इही हिसाब लावां,
इहनां वसतूआं दा तोलणहार मैं हां ।
१५९
मिले तैनूं जे मरतबा जग्ग अन्दर,
चित्त चाहीए ना बाहला मसरूर करना ।
सानूं कोई परवाह ना दौलतां दी,
आउंदा मान ते नहीं ग़रूर करना ।
साडा आसरा साकी ते जाम होए,
यार होर ना असां मनज़ूर करना ।
किधरे नहीं ग़मखार शराब वरगा,
इहदा जाम ना लबां तों दूर करना ।
१६०
जिवें मोहर दा सदा निशान करदा,
प्या नां दे मगर तूं भज्जदा एं ।
ओधर घोरड़ू वज्जदा प्या तेरा,
करदा ऐश तूं अजे ना रज्जदा एं ।
तोसा उमर दा बन्न्ह लै विच पल्ले,
जेकर अजे वी आदमी चज्जदा एं ।
उट्ठ ! पकने दा तेरा वकत आया,
कच्चा रह के तूं ना सज्जदा एं ।
१६१
इहनां हिरस हवा दे बेट्यां ने,
देना कर ज़रूर नाकाम तैनूं ।
लाने एस ने खुन्दकां छेड़ के ते,
करन देना नहीं कदे आराम तैनूं ।
पत्थर वांग वी सैंकड़े साल भावें,
लोभ प्या रगड़े सुब्हा शाम तैनूं ।
फिर वी नाम दे तालबा याद रखीं,
रहना पएगा ओड़क बदनाम तैनूं ।
१६२
तैनूं ख़ुद-पसन्दी ने मारिआ ई,
तूं ना एस तों कदे नजात पाई ।
लाहेवन्द जमाल दी भुल्ल के वी,
कदे तूं ना मित्तरा झात पाई ।
"फ़ते, दोहां जहानां ते मैं पावां",
तेरे मन अन्दर जेकर बात आई ।
हो जा इक्क दा दूई दा छड्ड खहड़ा,
इहदे बाझ इह किन सुगात पाई ।
१६३
इक्क फ़ज़ल ख़ुदा दा मंगदा हां,
मेरी होर ना जग्ग ते कार कोई,
मैनूं डर गुनाहां दा मारदा नहीं,
मेरा नहीं हन्देसड़ा यार कोई ।
मेरे ऐब ते आपनी मेहर ताईं,
निशचे जाणदा होऊ दिलदार कोई ।
इहनां दोहां ही गल्लां दे नाल मेरा,
नहीं मुढ्ढ तों ही सरोकार कोई ।
१६४
लालच हिरस हवा दे वस्स हो के,
हुलिया जीवन दा क्युं विगाड़दा एं ।
क्युं मैनूं ते आपने आप नूं वी,
विच्च अग्ग डराउनी दे साड़दा एं ।
धौले आए जुआनी दी उमर गुज़री,
क्युं ना ग़ाफ़िला अक्ख उघाड़दा एं ?
फूकां मार के बुझियां अंग्यारियां नूं,
काहनूं दामन फ़कीर दा साड़दा एं ।
१६५
दिसदा जग्ग जहान तां है फ़ानी,
ख़ुशियां मना की वेख मनावणां ईं ।
होवे शाह जां कोई फ़कीर होवे,
सभनां उठ संसार तों जावणां ईं ।
इह छोटी जही ज़िन्दगी मिली तैनूं,
इह ना ग़ाफ़ली विच गुआवणां ईं ।
सूरत यार दी रखनी मन अन्दर,
इक्क पल ना उहनूं भुलावणां ईं ।
१६६
'मेरी मरज़ी दे ताब्या होए दुनियां',
एस हवस ने ही तैनूं मारिआ सी ।
ना ही अगले जहान दा फ़िकर कीता,
उक्का रब्ब नूं मनों विसारिआ सी ।
एस हाल दो-पासड़ी मार पै गई,
इह खुस्या ते ओह हारिआ सी ।
मिलिआ कुछ ना बाझ नमोशियां दे,
दामन हिरस ने बहुत पसारिआ सी ।
१६७
ओए ज़ाहदा ! अल्ला दी सहुं मैनूं,
तूं तां अकल ते होश तों दूर होया ।
तज के तूं पाखंड परहेज़गारी,
पी के नहीं शराब मख़मूर होया ।
वेख जाम इह नाल हकीकतां दे,
नक्को नक्क है किवें भरपूर होया ।
बातन, ज़ाहर ने छलकदे एस अन्दर,
शीशा दूई दा है चकना-चूर होया ।
१६८
मना हिरस हवा दे लग्ग आखे,
काहनूं आपना आप सताउना एं ?
भला कास नूं आपने मोढ्यां ते,
एना चिंता दा भार उठाउना एं ?
इह उमर तां थोड़्ही जही है तेरी,
लोभ लालसा क्युं वधाउना एं ?
दोंह दिनां लई पिट्टने छेड़ ऐवें,
क्युं जीऊ नूं रोग लगाउना एं ?
१६९
सांभ ज़ाहदा आपनी पारसाई,
सानूं होर उपदेश ना झाड़ना ईं ।
हेठां असां ने इशक दी अग्ग बाली,
उप्पर रख्या दिले दा काहड़ना ईं ।
जाग ! जाग ते अक्खियां खोल्ह ज़ाहद,
दिल दे भरम नूं जड़्हों उखाड़ना ईं ।
किन्ना भखदा है इशक दा मैख़ाना,
इहदी अग्ग ने दूई नूं साड़ना ईं ।
१७०
मेरे मित्तरा एस मैख़ाने दे विच्च,
तेरे पहलू विच्च चाहीदा यार होवे ।
साकी जीहने पिलाउनी जाम भर भर,
ओह वी चाहीदा परी रुख़सार होवे ।
हारी सारी दी इह तकदीर कित्थे ?
एस जाम दे नाल सरशार होवे ।
एस जाम विच्च कुल जहान छलके,
दौलत इह तां सदा बहार होवे ।
१७१
पी लै यार दे प्यार दे जाम हर दम,
तेरा उक ना जाए ध्यान वेखीं ।
दोंह दिनां दी आरज़ी ज़िन्दगी लई,
वेच दईं ना दीन ईमान वेखीं ।
जेहड़ी अग्ग तूं लाई है ख़ाहशां दी,
तेरी साड़ के रहे ना जान वेखीं ।
एस अग्ग नूं जेकरां नप्प्या ना,
मच पएगी वांग तूफ़ान वेखीं ।
१७२
काहनूं चोगिआं नाल सनेह तैनूं,
चोग़े ओहड़ना कंम खवारियां दा ।
फोकी समझ लै इह परहेज़गारी,
दूजा नाउं है इह मक्कारियां दा ।
रिशता यार दे प्यार दा करीं पुख़ता,
धागा घुट्ट के पकड़ दिलदारियां दा ।
मकर तसबियां, हैन जनेऊ धोखा,
इक्क दंभ इह ने ज़ाहरदारियां दा ।
१७३
दुनियां साथ अधवाटे ही छड्ड जाए,
आख़र तक्क ना किसे दी यार होवे ।
तुर के रब्ब दे राह ते देख तां सही,
ओही अंत तेरा मददगार होवे ।
जेकर ओस टिकाने ते पुज्जना ई,
जिथे वस्सदा तेरा दिलदार होवे ।
तैनूं मेरिआ मित्तरा दस्सदा हां,
तुर के रब्ब दे राह दीदार होवे ।
१७४
मनो कामना जे इह है तेरी,
नाल ठोकरां जान ना तंग होवे ।
ख़ुदी छड्ड ते ख़ुदी दा छड्ड रसता,
पूरी कामना तेरी निसंग होवे ।
ओहदे अग्गे ना कदे हथ्यार सुट्टीं,
तेरे दिल दी जेहड़ी उमंग होवे ।
सगों चाहीदा नफ़स मकार दे नाल,
पैर पैर ते तैंडड़ी जंग होवे ।
१७५
असल विच्च ख़्याल तदबीर दा जो,
तेरे पैरां नूं बझ्झ्या भार होवे ।
सदा ख़्याल दे जंगलां विच्च लुक्या,
कोई चित्तरा बड़ा ख़ूंखार होवे ।
ज़ोर नाल तकदीर तदबीर दा की,
भावें किन्नी ओह तेज़ तरार होवे ।
इसे कारन तदबीर तकदीर दे विच्च,
वेखीं कदे ना जंग पैकार होवे ।
१७६
दिल दी इउं दीवानगी दस्सदी ए,
मेरी सभनां तों अकल कमाल दी ए ।
इशक विच्च दुशवारियां आउंदियां नूं,
समझ सके की सकत ख़्याल दी ए ।
कुज्जे विच्च समुन्दर नूं कौन ताड़े,
इह गल्ल तां इक्क मिसाल दी ए ।
लोकीं आखदे आखन नूं लक्ख वारी,
गल्ल इह नामुमकिन दे नाल दी ए ।
१७७
मेरी चाह, गुलाब दे फुल्ल वरगा,
बुझे दिल ते नवां निखार होवे ।
गावे बुलबुल दे वांगर रूह मेरी,
उठदी उस 'चों मधुर झुनकार होवे ।
मेरी चाह है मौसम ख़िज़ां दे विच,
मेरे लई बहार बहार होवे ।
प्या जाम ते जाम लुटाई जावां,
बैठा बग़ल विच परी रुख़सार होवे ।
१७८
आसां लंमियां गाफ़िला दिल अन्दर,
काहनूं बन्न्हदा अते संभालदा एं ?
छड्ड इहनां नूं अकल जे हई पल्ले,
फिर तूं सुख फराग़तां नाल दा एं ?
तेरे उमर दे बाग़ दी की हसती ?
झूठे वहम की दिल विच्च पालदा एं ।
ख़्याली कली दी चटक ख़ुशबो नालों,
इहदी वध म्याद की भालदा एं ।
१७९
जीहनूं समझें तूं दौलत जहान दी ए,
उह तां रंज मलाल बिन कुछ वी ना ।
ज़रा सोच विचार के वेख तां सही,
निरे वहम ख़्याल बिन कुछ वी ना ।
जेहड़े कारज दा होए आरंभ माड़ा,
पल्ले पाए वबाल बिन कुछ वी ना ।
मुड़्हका डोल्ह के दौलतां जोड़ियां जो,
उह तां माता दे माल बिन कुछ वी ना ।
१८०
जेहड़े शख़स नूं रब्ब ने आप बख़शी,
डूंघी सोच ते अकल कमाल होवे ।
ओहदी सोच अणहोणियां ना सोचे,
पैके औझड़े नहीं पामाल होवे ।
इक्क थां नवेकला मैख़ाने,
बैठा बड़े ध्यान दे नाल होवे ।
ओह वेखदा शम्हां तां इक बलदी,
रौशन ओस तों लक्ख ख़्याल होवे ।
१८१
किन्नी चंगी है इह उमंग मेरी,
हर तरफ़ ही खिड़ी गुलज़ार होवे ।
क्युं ना फेर बहार दी मौज माणां,
जदों पहलू विच मैंडड़ा यार होवे ।
जदों कदों वी मिले महबूब मेरा,
ओसे वेले बहार, बहार होवे ।
मौसम भावें ख़िज़ां दा लक्ख होवे,
मेरा दिल पर पुर बहार होवे ।
१८२
पतझड़ विच्च तोबा नूं तोड़ना वी,
समझ लैना कि है हज़ार मुशकिल ।
साकी, जाम दे नाल इकरार निभणा,
हुन्दा ओह वी मैंडड़े यार मुशकिल ।
पतझड़ां विच्च जेकर 'बहार' आवे,
पाना उस दा वी पारावार मुशकिल ।
तोबा तोड़नी फेर है बड़ी औखी,
तोड़ चाहड़ना बड़ा इकरार मुशकिल ।
१८३
सिट्टा ज़रा गुनाहां दा सोच्या ना,
उमर ग़ाफ़िली विच गुज़ार दित्ती ।
पल्ले पीड़ां मुसीबतां पै गईआं,
दुक्खां ज़िन्दगी नूं बड़ी हार दित्ती ।
इक्को मैं हिकायतां रेहा करदा,
होर सारी ही सोच विसार दित्ती ।
इहो पुच्छदा रेहा मैं लक्ख वारी,
काहदे वासते जिन्द करतार दित्ती ।
१८४
आसां कूड़ियां, झूठ्यां ख़दश्यां नाल,
मेरी जान सी बड़ी निढाल होई ।
पूंजी कीमती उमर दी नाल ग़फ़लत,
मैनूं बड़ा अफ़सोस ! पामाल होई ।
फ़िकर मैं अंजाम दा ना कीता,
चिंता इह ना रती रवाल होई ।
जेकर सोच वी फुरी तां फुरी ऐसी,
निग्गर सोचनी जिस तों मुहाल होई ।
१८५
टक्कर आपने नफ़स मकार दे नाल,
मेरी चलदी है सदा जंग वांगर ।
मेरे नफ़स दे खारे समुन्दर विच,
विचरां मैं तां इक्क नेहंग वांगर ।
मेरे साहमने हिरस हवा लालच,
बिलकुल जापदे लूम्बड़ बदरंग वांगर ।
रहन्दां मैं हां भै दे जंगलां विच,
ख़ूनख़ार मक्कार पलंग वांगर ।
१८६
ओहदे फ़ज़ल दी समझ है पई मैनूं,
ओहदे कीते इहसान वी जाणदा हां ।
लगातार मैं इहनां नूं घोख्या है,
सारा नफ़ा नुकसान वी जाणदा हां ।
एस अमर दे विच तां शक्क कोई नहीं,
एस अमर दी शान वी जाणदा हां ।
ओहदी मेहर गुनाहां दी है आशक,
ओहदा इह निशान वी जाणदा हां ।
१८७
डरदा रेहां मैं कदों तक एस गल्लों,
रंग लिआउणगे की ऐमाल मेरे ।
एहो सोच के रहां मैं हत्थ मलदा,
केहड़ी गुज़रेगी अग्हां नूं नाल मेरे ।
एस गल्ल तों मेरा यकीन कामिल,
होन पापी ते फ़ज़ल कमाल तेरे ।
मुसतकबिल दा फेर की डर मैनूं,
सुखी गुज़रे जद माज़ी ते हाल मेरे ।
१८८
अन्दर ओहदे ख़्याल दे गोल घेरे,
ओहदे इशक दा मैं पाबन्द होया ।
बड़ा मौला दा शुकर गुज़ार हां मैं,
ओहदी याद विच सदा ख़ुरशन्द होया ।
जदों ओसदी मेहर दा दर खुल्हआ,
दर हिरस हवा दा बन्द होया ।
भार लाह के आपने मोढ्यां तों,
मेरा दिल आनन्द आनन्द होया ।
१८९
दर जादू दा खोल्ह के भेद भरिआ,
'सरमद' इक ऐसी करामात वेखी ।
खिड़की खोल्ह के किसे ज्युं शाम वेले,
चानन वंडदी सोन परभात वेखी ।
सारा मैं उनींदरा दूर कीता,
अदभुत इस तर्हां दी जदों बात वेखी ।
खुल्ही अक्ख तां जाप्या इह मैनूं,
होवे सुपने विच जिवें बरात वेखी ।
१९०
सबर शुकर दे बख़श दे गंज मैनूं,
मेहर मेरे ते मेरे करतार करदे ।
उमर गुज़र गई दुख ते रंज अन्दर,
बिखड़े हिरस हवा दे वार जरदे ।
दुनियां नाल वटांदरा दीन दा जो,
अल्ला वाले ना ओह वपार करदे ।
इहदा नफ़ा, ते की नुकसान इहदा,
उमर लंघ गई इहो विचार करदे ।
१९१
हसती मेरी ता, गल्ल नूं बुझ्या मैं,
बिनां हिरस हवा दे कुछ वी ना ।
पानी बुलबुले तों इहदी घट्ट पाइआं,
बिनां सुक्के होए घाह दे कुछ वी ना ।
ज़ालम, भैड़ा, अवल्लड़ा नफ़स मेरा,
बिना रौले अफवाह दे कुछ वी ना ।
लहरां मारदे हसती दे सागरां विच्च,
बिना सहकदे साह दे कुछ वी ना ।
१९२
ओह शोख ना साडे वल्ल नज़र करदा,
चारागरो फिर दस्सना की करीए ?
दिल दा हउका ना ज़रा वी असर करदा,
चारागरो फिर दस्सना की करीए ?
भावें दिल असाडड़े घर करदा,
एस रंज नूं दस्सना की करीए ?
नहीं पुच्छ्यां दिले दी ख़बर करदा,
चारागरो फिर दस्सना की करीए ?
१९३
किसे कंम ना आउंदियां जो शैआं,
होन बिलकुल बेकार, हां असीं ओहीयो ।
सुक्के ढींगरां वांग ने रुक्ख जेहड़े,
कदे नहीं फलदार, हां असीं ओहीयो ।
जिन्हां तक्कड़ी पकड़ संजीदगी दी,
तोल लिआ किरदार, हां असीं ओहीयो ।
किणके ख़ाक दे तुछ नाचीज़ हुन्दे,
नहीं किसे शुमार, हां असीं ओहीयो ।
१९४
जोड़ां हत्थ क्युं किसे सुलतान अग्गे,
जदों आप वी इक सुलतान हां मैं ।
मिन्नत करां कमीने दियां टुक्करां लई ?
घटिया एदां दा नहीं इनसान हां मैं ।
मेरा आपना नफ़स तां है कुत्ता,
एस कुत्ते दा ही निग्हाबान हां मैं ।
इक कुत्ते लई ग़ैर दे करां तरले ?
नहीं इउं गवाउंदा शान हां मैं ।
१९५
आशक जंगल दे बाग़ दा कहें मैनूं,
सच्ची गल्ल है एस विच्च झूठ कोई ना ।
मसत जाम शराब ते कहें मैनूं,
सच्ची गल्ल है एस विच्च झूठ कोई ना ।
तालब दोहां जहानां दा कहें मैनूं,
सच्ची गल्ल है एस विच्च झूठ कोई ना ।
फिरदा दोहां नूं लभ्भदा कहें जेकर,
सच्ची गल्ल है एस विच्च झूठ कोई ना ।
१९६
मैनूं वांग दीवान्यां कर ग्या,
हुसन इक रंगीलड़े यार दा ई ।
कैदी हो ग्या अत्थरा दिल मेरा,
किसे होर दे नकश निगार दा ई ।
ओधर हिरस हवा दे बन्दिआं नूं,
मोह मारदा प्या संसार दा ई ।
एधर पीड़ीदा होरथे मन मेरा,
किधरे वक्ख ही टक्करां मार दा ई ।
१९७
परल परल वगदे मेरे अत्थरू इउं,
जिवें वह रेहा कोई दरिआ हां मैं ।
होया इशक उजाड़ां दे नाल मैनूं,
इयों जापदा जिवें सहरा हां मैं ।
दिल यारां दी महफ़ल 'चों उट्ठ तुरिआ,
मैनूं अल्ला दी सहुं जुदा हां मैं ।
मेरी की तनहाई दा पुच्छना जे,
यार उहदा जां आप अनका हां मैं ।
१९८
पानी सत्हा ते उभरना बुलबुले दा,
किस्सा समझ लै मुढ्ढ कदीम दा ई ।
धोखा नज़र नूं दए 'हरीश चन्दरी',
कौतक ओह वी मुढ्ढ कदीम दा ई ।
जेहड़ा हुन मुरंमतां मंगदा ए,
बण्या मैकदा मुढ्ढ कदीम दा ई ।
एस ख़ाना ख़राब नूं की कहणा,
खसता हाल इह मुढ्ढ कदीम दा ई ।
१९९
पैर पैर ते जकड़दी जाए हरदम,
किसे फाही दे वांग तकसीर मेरी ।
तंग पै के दिलां दियां खाहशां तों,
होई बड़ी है तब्हा दिलगीर मेरी ।
चाहुन्दा मैं हां औंतरी फाही दे विच्च,
होई रहे ना जान असीर मेरी ।
पर ना देवेगी साथ तकदीर जित्थे,
ओथे करेगी की तदबीर मेरी ?
२००
आशक ज़ार होया ज़ुलफ़ां कालियां दा,
रही होश ना दिल दिलगीर दे विच्च ।
किसे तड़ी तदबीर वी ना कीती,
लिख्या इहो सी मेरी तकदीर दे विच्च ।
फस्या ज़ुलफ़ दे कुंडलां विच्च एदां,
कैदी हो ग्या मैं अख़ीर दे विच्च ।
मैनूं मारिआ मैंडड़ी बेसमझी,
पैर पा लिआ आपे ज़ंजीर दे विच्च ।
२०१
किसे वकत ना दुनियां ते चैन पाइआ,
ना ही ऐश दा कदे सामान कीता ।
दुक्खां, दरदां नपीड़िआ उमर सारी,
धक्के धौड़िआं ने परेशान कीता ।
दौलत दुनियां दी दुक्खां दी खान हुन्दी,
इहने हर तर्हां सदा नुकसान कीता ।
इहदी थुड़ माड़ी, बाहली दुक्ख देवे,
सुखी एस ना कोई इनसान कीता ।
२०२
गल्ल कोई लुका के रक्खदा नहीं,
ऐबां कीत्यां ते शरमसार हां मैं ।
करदा चिरां तों मैं अफ़सोस आया,
लगातार होया अवाज़ार हां मैं ।
करने चाहीदे नहीं सी कंम जेहड़े,
कीते ओही क्युंकि अउगणहार हां मैं ।
वेखीं सिरफ़ तूं आपना फ़ज़ल रब्बा,
वेखीं मैनूं ना बदकिरदार हां मैं ।
२०३
दिल दी हिरस ने बड़े अफ़सोस दी गल्ल,
मैनूं मान सनमान तों दूर कीता ।
मैं ना होड़िआ नफ़स नूं सरकशी तों,
उलटा ओस नूं होर मग़रूर कीता ।
वेखो दुनियां नूं मैंडड़ी मत्त मारी,
बुढी उमर विच आण मनज़ूर कीता ।
क्युं भार वधा लिआ मोढ्यां ते,
क्युं आपने आप नूं चूर कीता ।
२०४
मैं हिरस हवा दे बीज बीजे,
पनपी हिरस ते ख़ूब जवान होई ।
फुल्ल दामन भरे खजालतां दे,
दुखी नाल बदनामियां जान होई ।
इह अग्ग जो बली है कामना दी,
भांबड़ बनी ना अजे बलवान होई ।
जे ना एस नूं तूं ख़ामोश कीता,
किसे वेले तूं लईं तूफ़ान होई ।
२०५
मैं वांग जवानां गुनाह करदा,
भावें पुज्ज गई उमर अखीर होई ।
सारी उमर ना नेकी दी कार कीती,
मेरे ऐबां दी गल्ल तशहीर होई ।
तेरे फ़ज़ल तों आस निजात दी ए,
तेरी मेहर दी नज़र अकसीर होई ।
सांईआं बख़श लै, नदर नेहाल करदे,
भावें मैथों है लक्ख तकसीर होई ।
२०६
मेरे उपर ख़ुदा दे फ़ज़ल कारन,
लंघे झट्ट आराम दे नाल मेरा ।
रोटी जवां दी नाल संतोख मैनूं,
नाले दिल वी बड़ा दिअाल मेरा ।
रेहा मैनूं ना दुनियां दा ख़ौफ़ कोई,
ना ही दीन दा फ़िकर मलाल मेरा ।
किसे मैकदे दी नुक्कर विच बहके,
सुखी हो जांदा वाल वाल मेरा ।
२०७
खिड़े दुनियां दे बाग़ विच्च फुल्ल जेहड़े,
भर भर झोलियां उहनां नूं तोड़िआ सी ।
अरथ बख़सिस, गुनाह दे की हुन्दे,
एस भेद नूं समझना लोड़िआ सी ।
मेरी अकल तां बड़ी हैरान रह गई,
जदों नज़र नूं जलवे नाल जोड़िआ सी ।
ओह तां शीशे दी निकली प्रती छाइआ,
पई समझ तां तत्त निचोड़िआ सी ।
२०८
होया तजरबा बड़ा है ज़िन्दगी दा,
दुख दरद ज़माने दा वेख्या मैं ।
इक थां ना सगों हज़ार थाईं,
रंग तेरे फ़साने दा वेख्या मैं ।
जेहड़ा चानना वेख्या ओस पिच्छे,
कोई हत्थ बगाने दा वेख्या मैं ।
शम्हां बलदी ते सड़न परवान्यां दा,
मनज़र ख़ूब यराने दा वेख्या मैं ।
२०९
मेरे यार ने मेरे ते मेहर कीती,
मैं ओस दा शुकर हज़ार कीता ।
ओहदे फ़ज़ल ते आपने हाल उप्पर,
बहुत गौर कीता, वार वार कीता ।
जेहड़े इशक दे रुक्ख नूं बीज्या सी,
अल्ला ओस नूं सी समरदार कीता ।
फुल्ल मिलिआ जो प्रेम दे बाग़ विच्चों,
ओहदी बासना मैनूं समशार कीता ।
२१०
रिन्दां नाल दा एस जहान अन्दर,
कोई ख़ुश ते ख़ुश कलाम नाहीं ।
सोहना साकी है बग़ल दे विच्च बैठा,
ऊना ज़रा वी मै दा जाम नाहीं ।
काहनूं ज़ाहदा कहें हराम इस नूं,
सानूं जाम बिन मिले आराम नाहीं ।
पीनी असां तां जाम ते जाम भरके,
साडे लई हलाल, हराम नाहीं ।
२११
तेरे फ़ज़ल ते करम नूं वेख पाइआ,
जदों आपना पाप वी फोलिआ मैं ।
बन के तक्कड़ी रक्ख्या छाब्यां विच,
बड़ी नाल संजीदगी तोलिआ मैं ।
हुन्दा फ़ज़ल ते की गुनाह हुन्दा,
एस भेद नूं ढूंड ढंडोलिआ मैं ।
मेरे पाप ही मैंडड़े पेश आए,
बड़ा नाल नमोशी दे तोलिआ मैं ।
२१२
ख़ालक छड्ड के, बड़ा अफ़सोस मैनूं,
मैं ख़लकत प्रसतियां कीतियां सी ।
बैठ ग्या मैं ढेरियां ढाह के ते,
छोड़ बहुत ही पसतियां लीतियां सी ।
जदों आया ख़ुमार तां संभलिआ मैं,
पर न जाणदा जेहड़ियां बीतियां सी ।
सीगे दिन जवानी दे की करदा,
ऐवें कुछ खरमसतियां कीतियां सी ।
२१३
जदों वेखदा आपनी नातवानी,
दिल मेरा तां बड़ा हैरान होवे ।
सितम तोड़दे दुनियां दे लोक एना,
रो रो के इह हलकान होवे ।
कदे दुनियां दे मगर इह लग्ग तुरदा,
कदे दीन दे मगर रवान होवे ।
भज्ज-नस्स दुवल्ली विच्च इउं फस्या,
मेरा दिल डाढा परेशान होवे ।
२१४
जीहदे विच्च ना हिरस हवा मारे,
इहो जहे जहान दी चाह मेरी ।
जीहदे विच्च ना जान नूं होए ख़तरा,
इहो जहे मकान दी चाह मेरी ।
दुनियां अते ओस दे लोकां दे नाल,
नहीं जान पछान दी चाह मेरी ।
मेरी जान सलामत ते रहे सौखी,
नित्त इस अमान दी चाह मेरी ।
२१५
बहुत आपने मन्दिआं कारिआं ते,
रात दिन मैं रहन्दा पछताउंदा हां ।
मैनूं दुक्ख हुन्दा नाले शरम आउंदी,
झाती आपने ते जदों पाउंदा हां ।
कित्थे मारनगे मैनूं ऐमाल मेरे,
सोचां नित्त मैं इही दुड़ाउंदा हां ।
लग्गदा पापां दे फल तों डर मैनूं,
इसे सोच तों सदा घबराउंदा हां ।
२१६
मेरे दिल मुसीबतां बहुत सहियां,
दुखी बहुत ही विच्च संसार होया ।
सुब्हा शाम अफ़सोस विच्च रेहा डुब्बा,
हद्दों वध के इह बेज़ार होया ।
चाण-चक्क पर यार दा ख़्याल जिस दम,
मेरे दिल दे पार दुसार होया ।
झट्ट ओहदे तों लह ग्या बोझ भारी,
हौला फुल्ल वरगा सुबकसार होया ।
२१७
मेरे दिल दिअा महरमा कसम तेरी,
तेरे प्यार दे नाल सरशार हां मैं ।
तेरे फ़ज़ल ते करम दी ओट मैनूं,
ऐबां कीत्यां ते शरमसार हां मैं ।
केहड़े केहड़े गुनाह ने मैं कीते,
गिणती इही करदा लगातार हां मैं ।
रब्बा ! बख़श लै दात्या मेहर करदे,
गुनाहगार हां मैं अवगुणहार हां मैं ।
२१८
ग़मियां शादियां, सारियां वस्स तेरे,
कई वार अज़मा के वेख्या है ।
तेरे बाझों ना दुक्ख दा कोई दारू,
इह वी सदा परता के वेख्या है ।
इक्क तूं ही गंज हैं रहमतां दा,
होर दरां ते जा के वेख्या है ।
दाता, वेख्या वेख्या सारिआं नूं,
लक्ख वार अज़मा के वेख्या है ।
२१९
बड़े रज्ज शराब दे जाम पीते,
दिल खोल्ह के बाग़ां दी सैर कर लई ।
मन आईआं मुरादां वी मिल गईआं,
झोली फुल्लां दे नाल बखैर भर लई ।
चंगी गल्ल है मौसम बहार दे विच्च,
किसे शौक नाल बाग़ दी सैर कर लई ।
पतझड़ विच्च फुल्लां दा शौक लग्गा,
नीत किवें मैं समझ बगैर कर लई ।
२२०
टुकड़ा जिगर दा इक्क है कोल मेरे,
अजे दिल दे विच्च है तान बाकी ।
बाकी ग्या असबाब है ज़िन्दगी दा,
इक्क रही इकल्लड़ी जान बाकी ।
कल्ल्ह इक्क दरवेश ने खरी आखी,
बड़ी राज-संतोख दे शान बाकी ।
मिलिआ तख़त जां ताज ना ओह जाणे,
स्याह बखती दा बड़ा सामान बाकी ।
२२१
हर वकत ही एस जहान अन्दर,
अक्खां गिल्लियां कीतियां रोया हां मैं ।
सदा खारे समुन्दर खजालतां दे,
ग़रक वांग शरमिन्दिआं होया हां मैं ।
मेरी चाह इह सी कि इक्क पल वी ना,
तैथों रहां ग़ाफ़िल, ग़ाफ़िल होया हां मैं ।
मैनूं डोब्या एसे शरमिन्दगी ने,
तां ही नाल नमोशी दे मोया हां मैं ।
२२२
मैं दोहां जहानां दी सुन्दरता ते,
नाल दिल दी अक्ख दे झात पाई ।
जदों तोलिआ रक्ख के तक्कड़ी ते,
समझ नेकी ते बदी दी बात आई ।
जिस नाल स्यानफ़ ते सिर बोझल,
ओह दिल दे लई आफ़ात आई ।
जेहड़ा सिर स्यानफ़ तों होए हलका,
समझो दिल दे लई सुगात आई ।
२२३
दोंह दिनां दी ज़िन्दगी विच्च दुनियां,
तैनूं मिली जे मैंडड़े यार होवे ।
मिलदा फ़लक दी सोहनी सुराही विच्चों,
जामे-जम वी पुर बहार होवे ।
वेखीं कदे कबूल ना करीं उहनूं,
तेरे लई ओह दिल अज़ार होवे ।
ओहदा ज़हर मुकाएगा जान तेरी,
ओहदे विच्च कोई ऐसा खुमार होवे ।
२२४
भावें एस दे विच ना शक्क राई,
मैं पाप सन लक्ख हज़ार कीते ।
पर ना ओस दे फ़ज़ल दा मेच बन्ना,
करम ओस ने बेशुमार कीते ।
एसे मेहर ने साईआं तूं सच्च जाणीं,
पापी मेरे वरगे शरमसार कीते ।
पूरी उतरे तोल ते गल्ल मेरी,
बेड़े तूंहीयों गुनाहियां दे पार कीते ।
२२५
जारी रहणगे कद तक्क गुनाह मेरे,
बहुड़ीं ! फाथ्या विच्च अंधकार हां मैं ।
मेरे वेख गुनाहां नूं करें रहमत,
इही सोच के ते शरमसार हां मैं ।
करां की मैं कोई ना वाह मेरी,
गुन कोई नाहीं अउगणहार हां मैं ।
जीहदा दामन गुनाहां दे नाल काला,
वड्डा सारिआं तों गुनाहगार हां मैं ।
२२६
गोशे बैठ के आपनी कलपना दे,
सी सारे संसार नूं वेख्या मैं ।
इह भटकदी आतमा शांत होई,
अक्खीं अपर अपार नूं वेख्या मैं ।
इह कीमती सबक ग्रहन कीता,
जदों आईने फ़नकार नूं वेख्या मैं ।
सुक्ख दुक्ख नूं जाणीए सदा समसर,
खुल्हदे एस इसरार नूं वेख्या मैं ।
२२७
दिल नूं कदे ना दुनियां ते रंज लाईं,
तैनूं दस्स्या मैं, तैनूं दस्स्या मैं ।
थलां, परबतां नाल ना मोह पाईं,
तैनूं दस्स्या मैं, तैनूं दस्स्या मैं ।
मिरग-छली बिन दुनियां ना शै काई,
तैनूं दस्स्या मैं, तैनूं दस्स्या मैं ।
जां इह बुलबुला सागर दी छल्ल आई,
तैनूं दस्स्या मैं, तैनूं दस्स्या मैं ।
२२८
तेरे विच्च जे हौंसला, समझदारी,
तैनूं गल्ल निखार के दस्सदा हां ।
कदे लोकां दा ना इहसान झल्लीं,
तैनूं तत्त नितार के दस्सदा हां ।
मूरत खिच्चनी मक्कड़ी दे जाल उते,
तैनूं ज़रा सुआर के दस्सदा हां ।
बिना फोकियां टक्करां इह कुछ ना,
तैनूं सोच विचार के दस्सदा हां ।
२२९
दिल फस ग्या प्यार दे ग़म अन्दर,
काहदा, यार दे नाल प्यार पाइआ ।
बिनां सोच्यां आपने मोढ्यां ते,
लक्खां मणां दा एस ने भार पाइआ ।
करें कास नूं वाअज़ परहेज़गारा,
मैनूं तेरा ना कदे इतबार आया ।
मेरा दिल तां होरथे लग्ग्या है,
हस्से एस दे होर रुज़गार आया ।
२३०
नहीं वासता किसे दे नाल मेरा,
शेयर वक्खरा मेरा ख़्याल आपना ।
विच्च ग़ज़ल दे करां मैं रीस ओहदी,
हुन्दा 'हाफ़ज़' दा पर कमाल आपना ।
पीर उमर ख़्याम रुबाईआं दा,
ओहदे साहवें मुरीदां दा हाल आपना ।
जेकर बख़शे उह जाम-शराब मैनूं,
फिर ना वासता उसदे नाल आपना ।
२३१
पानी उप्पर निशान दे वांग मिट्या,
जो कुछ वी बोलिआ, दस्सदा हां ।
फोके मान गुमान दे वांग मिट्या,
जो कुछ वी बोलिआ, दस्सदा हां ।
बुढ्ढी उमर, ज़बान ख़ामोश होई,
जांदा कुछ ना बोलिआ, दस्सदा हां ।
जद सी उमर जवान पुर जोश मेरी,
बहुत लिख्या ते बोलिआ, दस्सदा हां ।
२३२
बोलां झूठ ना अल्ला दी सहुं मैनूं,
मैं कदे ना ज़ोहद रिआई करदा ।
भिछ्या रब्ब दे दरां तों मंगदा हां,
किधरे होरथे नहीं गदाई करदा ।
मेरी सच्च दे मुलक ते बादशाही,
मैं ना कदे दुहाई, दुहाई करदा ।
डेरे मेरे मैख़ाने दे विच रहन्दे,
ओहदी ज़रा ना सहन जुदाई करदा ।
२३३
जेहड़ा अरथ दे अज़म दा बादशाह ए,
मैनूं ओसदी मेहर ने तार दित्ता ।
बड़ा ओस दा फ़ज़ल ते करम होया,
कीता बहुत इहसान दीदार दित्ता ।
एस सुफ़ने ने बख़श्या मान मैनूं,
नाले दातां दा लक्ख भंडार दित्ता ।
मेरी नज़र विच्च जौवां दे तुल्ल दुनियां,
किन्ना मरतबा है बख़शणहार दित्ता ।
२३४
जीहदी दोसती कदे ना थिड़कदी है,
रहन्दा सदा तों जो ग़मखार मेरा ।
जो जाणदा आपना फ़ज़ल केवल,
नहीं वेखदा कदे किरदार मेरा ।
तार देन नदामतां शैत मैनूं,
बेड़ा एस पज्जों होवे पार मेरा ।
मैं कीत्यां पापां नूं झूरदा हां,
चित्त बहुत रहन्दा शरमसार मेरा ।
२३५
उट्ठ ! ख़ुशी दे नाल गुज़ार घड़ियां,
सभनां लद्द जहान तों जावना ई ।
जिधर गए 'ज़मशैद' ते 'कै-खुसरो',
ओधर वल्ल उडारियां लावना ई ।
गल्लां जो मैं आखियां बन्न्ह पल्ले,
एथे सदा ना पैर टिकावना ई ।
दुनियां पल विच्च होर तों होर होवे,
मूल एस दा जावणा, आवना ई ।
२३६
दिल अक्क्या होए जे प्यार वल्लों,
किधरे हो नवेकले बह जाईए ।
दुक्खां, फ़िकरां तों फेर छुडा दामन,
रसते चैन, आराम दे पै जाईए ।
परेशान हो फिरदा है वावरोला,
उहदे वांग ना घुंमदे रह जाईए ।
करके सबर सबूरियां बैठ रहीए,
खूह-भटकणां विच ना लह जाईए ।
२३७
आ जा रब्ब दे वासते कोल मेरे,
मेरे दिल दिलगीर नूं शाद करदे ।
मेरे नाल इकरार सी जो कीते,
पूरे करके तूं पूरी मुराद करदे ।
हत्थों कदे इनसाफ़ नूं छड्डीए ना,
मेरी याद नूं फेर आबाद करदे ।
साईआं तोड़ के सारिआं संगलां नूं,
मैनूं पंछियां वांग आज़ाद करदे ।
२३८
मिलदा किधरे नहीं सुक्ख आराम मासा,
सारी दुनियां नूं वी कोई टटोल वेखे ।
सुक्ख किधरे ना मिले पताल अन्दर,
भावें ओथे वी कोई फोल वेखे ।
जदों हिरस हवा दे नाल बोझल,
सिर एथे दे मारदे झोल वेखे ।
मिले उथे वी नहीं हवा चंगी,
कोई भित्त पताल दे खोल्ह वेखे ।
२३९
रंगा रंग दी इक तसवीर दुनियां,
इक जाए ते रंग हज़ार आए ।
कदे इक समान इह नहीं रहन्दी,
पतझड़ जाए ते मगर बहार आए ।
नहीं दिल नूं कदे रंजूर करीए,
भावें लक्ख चड़्हाय उतार आए ।
चारा आपने दरद दा आप करीए,
भावें दुक्ख क्युं ना बार बार आए ।
२४०
चाहें चित्त जे तेरा प्रसन्न होवे,
छाइआ पए ना कदे ग़मग़ीनियां दी ।
जाईं हो नवेकला ख़लक कोलों,
कोई रीस ना गोशा-नशीनियां दी ।
इस विच दोहां जहानां दा सुक्ख मिलदा,
इस तों पए आदत हक्क-बीनियां दी ।
मेरे सुख़न सुन, सुख़न शनास वांगूं,
काहदी लोड़ तैनूं नुकताचीनियां दी ।
२४१
मेरे दिल विच जदों दा प्यार तेरा,
घर आपना समझ के बह ग्या ।
सिर तों पैरां तक बस्स ख़्याल तेरा,
मेरे लूं, लूं विच है लह ग्या ।
गल्लां तेरियां करां मैं दिल दे नाल,
होर ज़िकर अज़कार नहीं रह ग्या ।
किसे तर्हां ना ओहदा ब्यान मुमकिन,
प्यार तैंडड़ा दिल नूं कह ग्या ।
२४२
दर खुल्ह गए तेरियां रहमतां दे,
मेरे लई इह दिन बहार दे ई ।
रंगां नाल है रत्त्या दिल मेरा,
खिड़ ग्या इह वांग गुलज़ार दे ई ।
तेरा इक्क वी फ़ज़ल ना जाए गिण्या,
लेखे होन लक्खीं बख़शणहार दे ई ।
तिल्ल तिल्ल भावें जीभा शुकर करदी,
पर इह वस्स ना शुकर गुज़ार दे ई ।
२४३
हसती, वहम ते बुलबुला, ज़िन्दगानी,
ज़रा अक्खियां खोल्ह के वेख तां सही ।
धोखा नज़र दा बिफरिआ इह सागर,
ज़रा अक्खियां खोल्ह के वेख तां सही ।
नज़र रब्ब दा नूर जमाल आए,
दीदा बातनी खोल्ह के वेख तां सही ।
दुनियां शीशा ते ओस दी प्रती-छाइआ,
ज़रा अक्खियां खोल्ह के वेख तां सही ।
२४४
मेरी उमर बुड़्हापे दी होई हाणी,
मेरी हिरस पर होर जवान होई ।
आया मेरे गुनाहां ते सगों खेड़ा,
भावें होर शै सभ वीरान होई ।
मैनूं ओहनां दे बच्च्यां वांग कीता,
शायद इह वी महबूबा दी शान होई ।
कदे पाप ते कदे परहेज़गारी,
कार इही अज्ज मेरा ईमान होई ।
२४५
जेकर चाहें नगीने दे वांग रौशन,
होवे विच्च संसार दे नाम तेरा ।
किधरे बैठ इकांत दे विच्च जा के,
होवे लोकां तों दूर मकाम तेरा ।
गरमी दीन दी, दुनियां दी सरद मेहरी,
इहनां दोहां विच्च नाम बदनाम तेरा ।
एस जंगल विच्च असां ने वेख्या है,
वक्खरा इस तों ना होए अंजाम तेरा ।
२४६
इक पासे तां दुनियां दा ग़म मारे,
फ़िकर दूजे ते दीन दा मारदा ई ।
मेरी नज़र विच दोवें ने बहुत माड़े,
भोरा काज ना कोई सवारदा ई ।
भावें जान है लबां ते आई होई,
दिल शोहरत लई टक्करां मारदा ई ।
एस हाल वी भलिआं चों हर कोई,
हीरा कह के मैनूं पुकारदा ई ।
२४७
फुल्ल सैंकड़े खिड़े ज्युं बाग़ अन्दर,
इयों टहक्या, महक्या दिल मेरा ।
जदों प्यार महबूब दे घर वांगर,
मेरे दिल अन्दर लाइआ आण डेरा ।
एस दौर विच कदी तां ज़ाहर होईए,
कदे बैठीए असीं लुका चेहरा ।
सुन के सुख़न तां लोक पछान जांदे,
नहीं तां रहन्दे ने असां तों बे-बहरा ।
२४८
ओहदा ख़्याल बिठा के दिल अन्दर,
होर सारियां गल्लां नूं भुल्ल जायो ।
पुजो एनियां फेर बुलन्दियां ते,
बस हो असमान दे तुल्ल जायो ।
सुख़न इह जे ज़ाहदां फ़क्करां दा,
मतां एस नूं कदे वी भुल्ल जायो ।
मारो, दोहां जहानां नूं लत्त मारो,
सारे ग़म हन्देसड़े भुल्ल जायो ।
२४९
गल सदा मसीतां ते मन्दरां दी,
हर थां ते 'सरमदा' ना करीए ।
ओह थां है राहां तों भुल्लिआं दी,
वादी संसे दी कदे ना पैर धरीए ।
सबक लईए शैतान तों बन्दगी दा,
होर किसे दी हाज़री ना भरीए ।
इक्को इशट नूं टेकीए सदा मत्था,
सज्जदे ग़ैरां दे दरां ते ना करीए ।
२५०
मंज़ल चाहीदी तेरी है मैख़ाना,
महकां वंडदे मौसम बहार दे विच्च ।
मत्थे जा के बरूहां ते भन्नदा फिर,
वांगर पागलां तूं इशक यार दे विच्च ।
चुक्कीं फिरें पशमीने दा जो चोगा,
की रक्ख्या ए एस भार दे विच्च ।
इहनूं लाहके सुट्ट दे मोढ्यां तों,
हौले भार फिर तुर बाज़ार दे विच्च ।
२५१
बूहे ढोह न मेरे ते रहमतां दे,
काहनूं मेहर तों प्या विछोड़दा एं ।
जीहदे उपर तूं बख़शिशां रेहा करदा,
हुन क्यों ओस नूं दरां तों मोड़दा एं ।
होर भार तां मैथों नहीं चुक्क होणा,
होर भार पा के गरदन तोड़दा एं ।
बुढ्ढी उमरे 'गुनाहां' तों मेरी तोबा,
दस्सीं होर तूं मैथों की लोड़दा एं ?
२५२
जेकर किसे नूं इह ख़्याल आया,
कर लां नौकरी राज दरबार दे विच ।
उहनूं चाहीदा इस तर्हां समझ लैणा,
सदा रहे ना कोई संसार दे विच ।
मत्थे झुरड़ियां शाहां दे वेखियां मैं,
ज्युंदे होन ज्युं किसे आज़ार दे विच ।
इक्क झुरड़ी दे मुल्ल दी नहीं दुनियां,
मुल्ल पाईए जे हक्क बाज़ार दे विच ।
२५३
चित्त चाहुन्दा है जेकर इह तेरा,
कोई दुनियां विच्च नाम निशान होवे ।
किसे जग्हा नगीने दे वांग जुड़ जा,
तांहीयों मान फिर विच्च जहान होवे ।
इक थां ते पैर दे नकश वांगर,
तेरा बैठना इक समान होवे ।
जदों उडदी रेत है रसत्यां दी,
ओहदे नाल ही कंकर रवान होवे ।
२५४
लक्ख टक्करां मारियां जग्ग अन्दर,
मैनूं किधरे ना कोई दिलदार मिलिआ ।
किधरे कोई हमदरद ना वेख्या मैं,
ना ही दुनियां विच्च कोई ग़मखार मिलिआ ।
महकां मेहर, ना वंडदा फुल्ल मिलिआ,
सगों उस दी थां ते ख़ार मिलिआ ।
इक वार बहार नूं वेख्या मैं,
मौका फेर ना दूसी वार मिलिआ ।
२५५
मौला मेहर कर टुट्ट्या दिल मेरा,
नाल ख़ुशियां दे इहनूं भरपूर करदे ।
रक्कड़ रूह ते बंजर सरीर मेरा,
खिड़े फुल्लां दे नाल मसरूर करदे ।
लाड़ी ख़ुशियां दी मेरियां विच्च बाहवां,
आए, सद्धरां इह मनज़ूर करदे ।
करदे मिरबानी, साईआं मेहरबानी,
दरद, रंज, मुसीबतां दूर करदे ।
२५६
सरू वरग्या लंम्यां सुहल फुल्ला,
चांदी बदन तेरा डल्हकां मारदा ई ।
आ जा रज्ज के बाग़ दी सैर कर लै,
महकां वंडदा मौसम बहार दा ई ।
डोडी वांग जो घरे ही बन्द रहन्दा,
ओह कक्ख ना कंम ते कार दा ई ।
आ जा सुम्बल, चमेली मुरझाउन लग्गे,
वेख झड़ ग्या फुल्ल कचनार दा ई ।
२५७
मेरे दिल दे विच जद घर वांगर,
आन निट्ठ के बह ग्या प्यार तेरा ।
रंग रंग दे सैंकड़े फुल्ल महके,
दिल खिड़ ग्या वांग गुलज़ार मेरा ।
ख़्याल वक्खरे, वक्खरा राह मेरा,
बड़ा वक्खरा फ़िकर-इज़हार मेरा ।
जेकर सक्खना होए उह माअन्यां तों,
सोहना बोल वी होए लाचार मेरा ।
२५८
काहदे वासते वड्ड्यां मनसबां दी,
मना मेरिआ तड़फणा, चाह करना ।
इह तां आपनी कीमती उमर हुन्दा,
हत्थीं आपनी आप तबाह करना ।
ठप्पे-मोहर दे वांगरां नां दे लई,
उलटा आप नूं खाह मखाह करना ।
नाले पीड़ नपीड़दी जान रहन्दी,
नाले हुन्दा है रूह-स्याह करना ।
२५९
काहदे वासते लंमियां लाएं आसां,
आसां लंमियां नूं भला की करना ?
इह सद्धरां जान वी कोंहदियां ने,
इहनां सद्धरां नूं भला की करना ?
धागे उमर दे नूं वट्ट पई जांदी,
इहनां वट्टां नूं खोल्हणा, की करना ?
पाइआं थोड़्ही ते तान नहीं विच्च तेरे,
दाईए बन्न्ह के भला तूं की करना ।
२६०
आ मित्तरा ! एस ज़माने दे विच्च,
जिन्नी हुन्दी ए नेकी दी कार कर लै ।
चार साहां दी ज़िन्दगी मिली तैनूं,
तंग कर ना किसे नूं, प्यार कर लै ।
इहदे नाल दी होर ना कोई नेकी,
ख़ुश कोई दरवेश-दिलदार कर लै ।
दुक्खां, दरदां दा मारिआ कोई होवे,
हौला ओस दे ग़मां दा भार कर लै ।
२६१
धरके ध्यान महबूब दा दिने रातीं,
मना आपने आप नूं शाद कर लै ।
इउं फ़िकर, हन्देसड़े दूर कर लै,
रंज ग़म तों जान आज़ाद कर लै ।
सदा यार जो रहे ने नाल तेरे,
ओहनां यारां दी कोई इमदाद कर लै ।
सरे होर ना तां ख़ुशी ग़मी वेले,
मेरे मित्तरा ! ओहनां नूं याद कर लै ।
२६२
तेरी मेहर दा इक दरिआ वगदा,
जीहदा नहीं कंढा, आर पार कोई ना ।
दिल तकदा ओहनूं हैरान होया,
जीभा सकदी शुकर गुज़ार कोई ना ।
इह ठीक है बहुत गुनाह मेरे,
तेरे फ़ज़ल दा वी पारावार कोई ना ।
तकदा मैं गुनाहां दे सागरां विच,
मेरे नाल दा वी गुनाहगार कोई ना ।
२६३
कदे पीर मैख़ाने दा बण बहन्दा,
कदे पारसा ख़ुश किरदार हुन्दा ।
हाल एस जहान दा वेख्या मैं,
रहन्दा बदलदा नहीं इकसार हुन्दा ।
किधरे नंगियां टाहणियां पत्त्यां बिन,
किधरे लहलहाउंदा सबज़ाज़ार हुन्दा ।
ना ही वेले सिर कदी ख़िज़ां आवे,
बिनां वकत ही मौसम बहार हुन्दा ।
२६४
तेरे फ़ज़ल ते करम बगैर साईआं,
होवे किस तर्हां मुशकिल आसान मेरी ।
रंज, ग़म तों मिले असूदगी ना,
सौखी कदे ना होइगी जान मेरी ।
हरी भरी कर साईआं मुराद मेरी,
गह लई है शरन अमान तेरी ।
मैनूं मिलन इयों गंज न्यामतां दे,
किरपा होएगी रब्ब महान तेरी ।
२६५
तेरी रहेगी सदा ही कला चड़्हदी,
तूं साईं दे नाल प्यार कर लै ।
इहदे नाल दा होर ना सुक्ख कोई,
इह हक्क दी गल्ल इतबार कर लै ।
जेकर दीन जां दुनियां दी तलब तैनूं,
भावें उस लई यतन हज़ार कर लै ।
बिना रब्ब दे प्यार ना होए हासल,
इस लई रब्ब दे नाल प्यार कर लै ।
२६६
जेकर चाहें तूं मिले ना रंज तैनूं,
लाउना पए ना राहत लई तान तैनूं ।
तैनूं पएगा लोकां तों दूर रहणा,
लांभे रक्खना पऊ जहान तैनूं ।
लोक दुनियां दे असल विच सप्प, चूहे,
इह चाहीदा होना ग्यान तैनूं ।
बचीं इन्हां दे नेड़ तों बचीं हरदम,
जेकर लोड़ींदी आपनी जान तैनूं ।
२६७
बच के रहना ईं ईरखा वालिआं तों,
इहनां यारां तों मुक्ख तूं मोड़ना ईं ।
अक्खां खोल्ह के वेख इह हैन पत्थर,
दिल दे शीशे नूं इन्हां ने तोड़ना ईं ।
एस लाने दी सोहबत तों दूर रहणा,
जिय इन्हां वल्ल जाए तां होड़ना ईं ।
डर के इन्हां तों रहन विच्च भला तेरा,
छापा इह ना कदे चम्बोड़ना ईं ।
२६८
कदों तीक तूं भला असमान हेठां,
फिरदा कच्छदा रहें ज़मीन मियां ।
सोने चांदी दी भाल विच्च हो पाग़ल,
भज्जा चार सू फिरें ग़मगीन मियां ।
जा के बैठ तनहाई विच इक पासे,
वांग फ़करां गोशा नशीन मियां ।
इह दुनियां तां पानी ते लीक वरगी,
जां फिर इह है धोखा हुसीन मियां ।
२६९
दुनियां नाल प्यार दा तोड़ रिशता,
ज़रा त्याग, इकांत दा यार हो जा ।
भारे भार नूं लाह दे मोढ्यां तों,
सुबकसार हो जा हौले भार हो जा ।
अक्ख मीटी उघाड़ के हो मोमन,
झाती अन्दर नूं मारन लई त्यार हो जा ।
उट्ठ ! आपने आप तों बेख़बरा,
छड्ड ग़ाफ़िली नूं ख़बरदार हो जा ।
२७०
रहन्दा उलझ्या दुनियां दे ग़मां अन्दर,
नहीं ओहनां नूं दिल विसारदा ई ।
एस बारे नहीं कदे सुचेत हुन्दा,
विच्च गाफ़िली वकत गुज़ारदा ई ।
जदों बी नदामत दा केरिआ नहीं,
ऐवें कासनूं टक्करां मारदा ई ।
झूठ मूठ पछतावे दा की करना,
इह ना पैंतड़ा कक्ख सवारदा ई ।
२७१
मुड़्हके नाल गुनाहां दे भिज्या ए,
लूं लूं मेरा, वाल वाल मेरा ।
तूं पुंज हैं सारियां नेकियां दा,
रिशता सारियां बदियां दे नाल मेरा ।
किन्ना चिर गुनाह मैं करीं जाऊं,
रहू कदों तक्क फ़ज़ल कमाल तेरा ।
वेख आपने पापां ते मेहर तेरी,
हुन्दा वांग शरमिन्दिआं हाल मेरा ।
२७२
छड्ड ख़ुदी, तकब्बरी, ग़ाफ़िली नूं,
लांभे फ़ितन्यां तों मैंडे यार हो जा ।
हर वेले दा माड़ा है ख़ार बणना,
उठ महकदी, खिड़ी गुलज़ार हो जा ।
भैड़े आपने नफ़स नूं समझ वैरी,
छड्ड नेसती अते हुश्यार हो जा ।
समझ आपने आप नूं तूं वैरी,
तैनूं आख्या मैं, ख़बरदार हो जा ।
२७३
समझां नाल ना ओसदी समझ आउंदी,
समझ नाल ना मुशकिल आसान होवे ।
ओह अक्खियां नाल वी नहीं दिसदा,
मार टक्करां दिल हलकान होवे ।
पाउणा, लभ्भणा, वेखना बहुत औखा,
किसे विरले नूं ओहदा ग्यान होवे ।
उस लई पागलां वांगरां दिल होया,
अक्ख आपने थां हैरान होवे ।
२७४
माल, दौलतां, वेख खज़ान्यां नूं,
नहीं चाहीदा कदे मगरूर होना ।
इह शैय ना घट्ट शराब नालों,
पी के भुल्ल ना कदे मख़मूर होना ।
इह दौलतां आउणियां जाणियां ने,
बण्यां इहनां दा नेड़े ते दूर होना ।
दौलत आए तां कदे ना ख़ुशी होईए,
जाए चली तां नहीं रंजूर होना ।
२७५
खसता दिली ते रंज दा की कारन,
तैनूं पुच्छदा हां, साईआं दस्स तां सही ।
कदों तक्क सहारांगा दुक्खड़े मैं,
तैनूं पुच्छदा हां, साईआं दस्स तां सही ।
इह ठीक है बदियां हां मैं करदा,
तूं करम ना करेंगा ? दस्स तां सही ।
केहड़ा बख़शेगा तैंडड़े बाझ साईआं,
केहड़े दर जावां, ज़रा दस्स तां सही ।
२७६
शीशे वरगे असमान तों की कहीए,
बहुत पत्थरां दा प्या मींह वर्हदा ।
उत्तों बड़ा इह अमन पसन्द जापे,
पर इह अन्दरों वैर दी नींह धरदा ।
इस तों बचन दा होर ना कोई चारा,
इक्को सागर शराब दा ढाल-परदा ।
इस विच्च वी नंगां दी घाट कोई ना,
केहड़ी गल्ल पर मरदा है नहीं करदा ।
२७७
छड्ड आपने वहम ख़्याल फोके,
फिकरां झूठ्यां तों कदे डोलीए ना ।
कोई नेक होवे, कोई बद होवे,
मन्दा किसे नूं कदे वी बोलीए ना ।
साकी जाम नूं यार बना लईए,
होर किसे कोल दुक्खड़े फोलीए ना ।
यार होन तां दो जां तिन्न काफी,
चौथे यार नूं भुल्लके टोलीए ना ।
२७८
तूं आपने आप दा बण वैरी,
जेकर आपे दे नाल प्यार तेरा ।
बच सारियां मन्दियां ख़ाहशां तों,
होए जग्ग तों चित्त फरार तेरा ।
तेरे अत्थरे नफ़स नूं की आखां ?
असलों इही है दिल-आज़ार तेरा ।
एस कंडे नूं पुट्ट के सुट्ट लांभे,
दिल होए फिर वांग गुलज़ार तेरा ।
२७९
हर घड़ी शरमिन्दगी देन मैनूं,
बाहर गिणतीयों रब्बा ! गुनाह मेरे ।
मेरा दिल नमोशी ने कुठ्या है,
सदा लटकदी बुल्हां ते आह मेरे ।
वगीं वाए मुराद ते वसल दीए,
हुन ना आस दे किंगरे ढाह मेरे ।
बेड़ी पार कर आण मंझधार विच्चों,
लग्गे पाप ई करन तबाह मेरे ।
२८०
मिलदा रंज ते पीड़ा बिन होर कुछ ना,
मोह सरासर कूड़ संसार दा ई ।
एस मोह नूं छड्ड के ख़ुशी हो जा,
नहीं तां इह डुबो के मारदा ई ।
दिल आपना रब्ब नूं सौंप के वेख,
रहन्दा डर ना किसे परकार दा ई ।
वहम भरम, हन्देसड़े दूर हुन्दे,
सिर ते मेहर दा हत्थ करतार दा ई ।
२८१
अजे तक्क ना बदियां ते नेकियां तों,
होया आपना आप आगाह मेरा ।
तेरे फ़ज़ल ते करम दे आसरे ते,
खाता अमलां दा होया स्याह मेरा ।
सभे तान, नितान ने वस्स तेरे,
तेरी कुदरत दे हत्थ है राह मेरा ।
'अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई',
एस कौल दा अल्ला गवाह मेरा ।
२८२
बिना तेरियां रहमतां बख़शिशां दे,
रब्बा कोई ना पुशत-पनाह मेरा ।
बहुत मैं लाचार, मजबूर, आजिज़,
होया पुज्ज के हाल तबाह मेरा ।
मैथों हो ना सकदी पारसाई,
नहीं ज़िकर दे काबल गुनाह मेरा ।
"अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,"
एस कौल दा अल्ला गवाह मेरा ।
२८३
इक्को नाल झराट अड़ुम्ब लै गई,
दिल, शोख दी शोख निगाह मेरा ।
काली अक्ख ओह रात दे वांग कर गई,
चिटा लिशकदा दिन स्याह मेरा ।
मिलिआ आण बुड़्हापा शबाब दे नाल,
सफल हो ग्या आखरी राह मेरा ।
"अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,"
एस कौल दा अल्ला गवाह मेरा ।
२८४
मेरी ज़िन्दगी फ़लक तबाह कीती,
मेरे पल्ले च पाईआं ख़वारियां ने ।
हर शाह, फ़कीर तों मदद मंगी,
शायद इसे लई इह लाचारियां ने ।
मैं वेख्या परख्या सारिआं नूं,
हर दर ते टक्करां मारियां ने ।
"अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,"
हत्थ अल्ला दे सभ सरदारियां ने ।
२८५
नहीं ओस तों असां पनाह मंगी,
धरी टेक ना कोई तकदीर उत्ते ।
गए हो तबाह बरबाद साईआं,
कीता मान जद असां तदबीर उत्ते ।
ताकत आपनी ते फोका आकड़ीं ना,
इह कंम ना आए अख़ीर उत्ते ।
अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,
रोशन सच्च इह रोशन ज़मीर उत्ते ।
२८६
मैनूं आपने ऐबां ने मारिआ है,
कीता होर ना किसे तबाह मैनूं ।
बाझों फ़ज़ल ख़ुदा दे होर कोई ,
नहीं देवेगा कदे पनाह मैनूं ।
मैं माड़ा ते तकड़ा शैतान बाहला,
कोई शक्क ना लएगा ढाह मैनूं ।
अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,
ओही देवेगा सुक्ख दा साह मैनूं ।
२८७
भावें करां मैं नेकी परहेज़गारी,
भावें रज्ज के मैं गुनाहगार होवां ।
बख़श दएंगा पूरन यकीन मैनूं,
तेरा जेकरां ताब्यादार होवां ।
बदियां नेकियां मालका हत्थ तेरे,
तेरी मेहर दा अलम बरदार होवां ।
अल्ला बाझ ना सरब समरत्थ कोई,
ओहदे करम दा ही तलबगार होवां ।
२८८
तैनूं मकर दे विच की मज़ा आउंदा,
मैनूं दस्स तां सही परहेज़गारा ।
फिरें सौ पशमीने दे पाई चोगे,
काहदे वासते करें पाखंड भारा ।
धागा तसबी दा पाइआ बारीक वालों,
सुण्या लग्गदा है तैनूं इह बड़ा प्यारा ।
रस्सा फांसी दा आपनी धौन दे लई,
हत्थीं आप तूं वट्ट्या है यारा ।
२८९
केहड़े फायदे वासते दस्स तां सही,
प्या हिरस दे बीज खिलारदा एं ?
एस गल्ल फजूल तों की हासल,
जीहदे वासते टक्करां मारदा एं ?
लाहेवन्दा ना दुनियां दा कदे सौदा,
इह सच्च क्यों मनंो विसारदा एं ?
इह दुनिया दी बाज़ी नुकसान वाली,
तूं जित्तदा नहीं एं, हारदा एं ?
२९०
फस के हिरस हवा दे जाल अन्दर,
बहुत पुज्ज के तूं ख़वार होवें ।
बैठा आपनी ख़ुदी दे पिंजरे विच,
वांगर कैदियां दे अशकबार होवें ।
रहु सरू दे वांग आज़ाद सिद्धा,
जदों हसती दे गुलशन विचकार होवें ।
सुम्बल जां चमेली दा फुल्ल होवें,
भावें घाह दी तिड़ जां खार होवें ।
२९१
तेरी धुंम जहान ते पै जाए,
सिक्का तेरा असमानां ते चल्ल जाए ।
फिर वी ख़ाक दे वांगरां रहीं आजिज़,
ओड़क आदमी ख़ाक विच रल जाए ।
फ़िकर कदे जहान दा करीदा नहीं,
इह आपने आप ही टल जाए ।
ज़रा सांभ के आपना रक्ख दामन,
चिक्कड़ एस नूं हिरस ना मल जाए ।
२९२
मेरे मत्थे ते लिखे गुनाह मेरे,
पड़्हना तूं तां इन्हां नूं जाणदा एं ।
फिर वी चुप चुपीतड़ा नाल परदे,
परदा मेहर दा मेरे ते ताणदा एं ।
तेरी नज़र तों कोई ना गल्ल गुझ्झी,
जानी जान तूं दिलां दियां जाणदा एं ।
मैं पापी हां जां कि पारसा हां,
मैनूं तूं तां ख़ूब पछाणदा एं ।
२९३
जेहड़ा बख़शदा हसती दे सुख सारे,
ओस जाम दी जेकर है भाल तैनूं ।
फिरें झूमदा मसतियां विच जा तूं,
ख़ुशियां कर छड्ड्या मालामाल तैनूं ।
छड्ड दीन ते यार दा पकड़ पल्ला,
दस्सां रमज़ मैं बड़ी कमाल तैनूं ।
इहनूं छड्डीं ना आख़री दमां तीकर,
इही करूगा सदा नेहाल तैनूं ।
२९४
भज्जा फिरेंगा सारे जहान पिच्छे,
कदों तक्क तूं ख़ुशियां दी भाल करदा ।
कदों तक्क पहाड़ां ते जंगलां विच्च,
फिर फिर मन्दा उजाड़ां विच्च हाल करदा ।
दामन सबर संतोख दा बहुत चौड़ा,
कोई रीस ना ओस दे नाल करदा ।
ता ज़िन्दगी खिसकन ना दईं हत्थों,
इह पल्ला जो सदा नेहाल करदा ।
२९५
साईआं इक इकल्लड़ा मैं ही नहीं,
जीहदा दिल है ताब्यादार तेरा ।
हाज़र नाज़र हैं तूं तां हर वेले,
हर थां ते होया पसार तेरा ।
मेरी सोच दी पकड़ विच ना आए,
साईआं ख़्याल वी अपर अपार तेरा ।
जेहड़ी चीज़ दी समझ ना पए मैनूं,
निराकार जो है अकार तेरा ।
२९६
मेरे प्यारिआ मित्तरा दस्स तां सही,
क्युं एतरां होया नादान तूं हैं ।
कितना चिर जहान विच वास तेरा,
एस गल्ल तों क्युं अणजान तूं हैं ।
कूड़ी ज़िन्दगी एस दी शान कूड़ी,
एस कूड़ उप्पर आकड़खान तूं हैं ।
बहुता चिर ना एस थां बैठ रहणा,
दोंह दिनां दा यार महमान तूं हैं ।
२९७
मेरे दिल दे दीदिआं विच हरदम,
हुन्दा गुज़रना मेरे दिलदार तेरा ।
कोई शैय ना असर तों होए खाली,
हर घड़ी ते हर पल दीदार तेरा ।
ख़सता हाल जो जलवा जमाल वेखे,
हो जांदा है जां-निसार तेरा ।
उहनूं आपनी कोई ना ख़बर रहन्दी,
दास होए ओह पागलां हार तेरा ।
२९८
तैनूं की ओए ख़ाना ख़राब होया,
काहनूं आपना रब्ब पछाणदा नहीं ।
ओए नज़र दे धोख्या हद्द हो गई,
तूं वी अल्ला दी ज़ात स्याणदा नहीं ।
इह ज़िन्दगी पानी ते लीक वांगूं,
ख़बर आउन दी नहीं, पता जान दा नहीं ।
ओए जोश दे भरे होए बुलबुले तूं,
वांगर होरनां रब्ब नूं जाणदा नहीं ।
२९९
मैं पापां अपराधां दे नाल भरिआ,
फिर वी मेरे ते फ़ज़ल इहसान तेरा ।
दसतरख़ान जो भरिआ न्यामतां दा,
उस ते रेहा मैं सदा महमान तेरा ।
भावें मेरिआं पापां दा अंत कोई ना,
उस तों वद्ध पर फ़ज़ल महान तेरा ।
एस करके ही आपणियां करनियां ते,
दिल बहुत रहन्दा पशेमान मेरा ।
३००
मन्न लिआ मैं एस विच्च शक्क कोई ना,
वांग नरगस दे तूं ज़रदार यारा ।
ज़रा होश कर अक्खियां खोल्हके ते,
झाती आपने अन्दरीं मार यारा ।
माल, धन ते मनसब दी पई रहन्दी,
तैनूं होर ना सुझदी कार यारा ।
रक्खीं याद कि पतझड़ ज़रूर आउणी,
सदा रहनी ना एथे बहार यारा ।
३०१
ग़ाफ़िल इन्हां तों कदे ना हो बहणा,
बड़े भैड़े इह लोक संसार दे ई ।
ख़ुश होईं ना बैठ इस जुंडली विच,
इह लोक विसाह के मारदे ई ।
सुहबत इन्हां दी छड्ड के हो तित्तर,
इह बदियां दा झल्ल खिलारदे ई ।
वेख लईं फ़रेब दे पिंजरे विच,
तैनूं किवें सय्याद लंगारदे ई ।
३०२
बुढी उमर नतानी विच सोभदा नहीं,
विच गुलशन दे मौज बहार करना ।
फुल्ल-अत्थरू केर के अक्खियां 'चों,
दामन चाहीदा ना दाग़दार करना ।
एस बाग़ अन्दर फुल्ल डोडी दे वांग,
तैनूं पै रेहा इंतज़ार करना ।
खिड़ना ओसे ही परी रुख़सार नूं वेख,
जीहदी महक ने चमन सरशार करना ।
३०३
मना कदों तक नस्स्या फिरेंगा तूं,
जंगल बेलिआं अते कोहसार दे विच ।
सिर ते हिरस हवा दी पंड चुक्की,
कदों तक्क तूं रहें आज़ार दे विच ।
इह ज़िन्दगी तेरियां ख़ाहशां दे,
होनी कदे वी ना इख़त्यार दे विच ।
अजे वेला ई संभल जा शरम कर लै,
तां जो सुरखरू होवें दरबार दे विच ।
३०४
मैनूं मित्तरा बड़ा अफ़सोस इस ते,
तूं आपना हाल वी जाणदा नहीं ।
तूं आपना आप बदखाह होइओं,
भला आपना तूं पछाणदा नहीं ।
हुन्दा बुरा ख़ुमार वी ग़ाफ़िली दा,
होया कदे वी होश दे हाणदा नहीं ।
तड़कसार जो नूर दा जाम मिलदा,
तूं तां उहदा सुआद वी माणदा नहीं ।
३०५
माल दौलतां दी ख़ाहश शैय माड़ी,
पैदा एस तों ज़हमतां हुन्दियां ई ।
दामन यार दा घुट्ट के पकड़ लईए,
बड़ियां ओहदियां रहमतां हुन्दियां ई ।
करनी ग़ाफ़िली इक्क अज़ाब हुन्दा,
इस तों बहुत नदामतां हुन्दियां ई ।
इहनां रमज़ां दी समझ जे आ जाए,
बहुत बहुत फ़राग़तां हुन्दियां ई ।
३०६
बड़ा होया लाचार मैं या रब्बा !
आउंदा कोई वी कंम ना कार मेनूं ।
ग़फ़लत अते गुनाहां दी लालसा ने,
कर छड्ड्या साईआं बदकार मैनूं ।
जदों कंम दे लई नखिद्ध होया,
फेर कंम दी पई सी सार मैनूं ।
किसे कंम जो किसे दे आ सकदी,
सुझ्झी ओह ना कोई वी कार मैनूं ।
३०७
शहरां नगरां गरावां विच घुंम्यां तूं,
तेरी दोसती रही सहरा दे नाल ।
पले बन्न्ह के सद्धरां ख़ाहशां नूं,
हर थां गाहआ तूं हिरस हवा दे नाल ।
तुरिआ उमर दा काफ़िला पहुंच ग्या,
नेड़े मंज़ल दे वकत ढुका दे नाल ।
सफ़र मुक्क्या ई हुन तूं सोच बहके,
किथे घुंम्यों केहड़ी हवा दे नाल ।
३०८
दिला मेरिआ अगले जहान कोलों,
क्युं ऐवें फ़ज़ूल ही डरी जाएं ?
इक्क घड़ी लई ज़रा तूं सोच तां सही,
केहड़ी शैय नूं वेख के मरी जाएं ?
राहे मौत दे बड़ा आराम मिलदा,
हाए हाए क्युं शोहदिअा करी जाएं ?
घर मौत दा इसे जहान अन्दर,
ओहनूं ओपरी समझ क्युं डरी जाएं ?
३०९
लोक एस जहान दे बहुत माड़े,
चंगी गल्ल है इन्हां तों डर यारा ।
इहनीं जंगलीं चितरे घुंमदे ने,
बेले इह बघ्याड़ां दे घर यारा ।
शीशा दिल तेरा पत्थर दिल लोकीं,
चूर ओस नूं देन ना कर यारा ।
रक्खीं रक्ख संभाल के इह शीशा,
किधरे इहनूं नवेकला धर यारा ।
३१०
नहीं कीते गुनाहां दा डर तैनूं,
रुख़ जापदा बड़ा बेबाक तेरा ।
विच हिरस हवा दे रक्कड़ां दे,
नाल खीसे दे गलमा वी चाक तेरा ।
चौंह साहां दी तैंडड़ी ज़िन्दगानी,
हशर होवना एं इबरतनाक तेरा ।
चेते रक्ख कि ख़ाक तों उपज्या एं,
जिसम होवेगा अंत नूं ख़ाक तेरा ।
३११
जे दिल है इक्क दरिआ तेरा,
उहदे विच तूं तारियां लाउणियां ईं ।
डूंघे दुनियां दे सत्त समुन्दरां विच,
वांगर टोभ्यां बाघियां पाउणियां ईं ।
केहड़ी चीज़ ना हसती दे सागरां विच,
तेरे हत्थ उह सारियां आउणियां ईं ।
लंगर हो, जां रूप तूफ़ान दा धार,
जो कुछ वी तेरियां भाउणियां ईं ।
३१२
दिला मेरिआ, रब्ब दी सहुं तैनूं,
तूं रब्ब नूं मनों विसारिआ ए ।
सुब्हा शाम तूं सोने दी भाल करदैं,
नेहफल कीमती वकत गुज़ारिआ ए ।
मृग-त्रिशना ते बुलबुले वांग हो के,
दिल फेर वी मेरा हंकारिआ ए ।
गुज़र जाए हवा दा जिवें झौंका,
फोका इहने पसार पसारिआ ए ।
३१३
पीवें शामीं शराब तूं ग़ाफ़िली दी,
तैनूं ओहदियां चड़्हदियां मसतियां ने ।
तेरी अकल नूं जन्दरे वज्ज जांदे,
हर पहलू तों आउंदियां पसतियां ने ।
प्याला अरश दा ईरखा नाल भरिआ,
पाईआं होर वी विच्च खरमसतियां ने ।
वेख, समझ लै ओहदी तासीर माड़ी,
गरक हुन्दियां पीत्यां हसतियां ने ।
३१४
चाहें तलख़ियां पेश ना आउन तैनूं,
सरल तेरा हर कंम ते कार होवे ।
हर पक्ख तों ज़िन्दगी सुखी होवे,
दिल ते ना नमोशी दा भार होवे ।
जीना सिक्ख संतोख दे नाल मित्तरा,
तेरा आसरा सबर करार होवे ।
बझ्झा आदमी हिरस दे नाल जेहड़ा,
नित्त नित्त उह खज्जल खवार होवे ।
३१५
लक्ख मूंह छुपा के रहु बैठा,
नज़रां वालिआं नूं नज़रीं आउना एं ।
गुझ्झा भेद वी तैथों इह नहीं गुझ्झा,
एस गल्ल नूं क्युं छुपाउना एं ।
जिवें शम्हां, फ़ानूस विच होए जगदी,
बैठा अन्दरों झातियां पाउना एं ।
साईआं ! सैआं लिबासां दे परदिआं 'चों,
नंगा आपना आप विखाउना एं ।
३१६
ग़मां कुट्ठड़े मेरे जहान अन्दर,
तेरे बाझों ना साईआं ग़मख़ार मेरा ।
जेहड़ा मैंडड़े हाल दा है महरम,
इक्क तूं ही इकल्लड़ा यार मेरा ।
मैं देख्या परख्या सारिआं नूं,
मिलिआ कोई ना ग़मगुसार मेरा ।
तूं ही ओट हैं इक्क न्योट्यां दी,
यार इक्क तूंहीयों वफ़ादार मेरा ।
३१७
सोने चांदी दी भाल विच दिने रातीं,
फिरदा क्युं तूं टक्करां मारदा एं ।
इस तों बिना नमोशी दे की हासल,
काहनूं ग़ाफ़िला पैर पसारदा एं ।
चार साहां दी तैंडड़ी ज़िन्दगानी,
तूं तां एथे महमान दिन चार दा एं ।
वांग बुलबुले तूं फ़नाह होणा,
फेर शेखियां की बघारदा एं ।
३१८
तूं हसती दे लहरदे सागरां विच्च,
कक्ख कान ते ख़ार तों वद्ध कुछ ना ।
तरदे बुलबुले वांगरां फुट्ट जाए,
साह चार लाचार तों वद्ध कुछ ना ।
जाल ग़ाफ़िली दा तार तार कर दे,
इह इक औज़ार तों वद्ध कुछ ना ।
होया हिरस हवा विच क्यों फस्या,
इह झूठे प्यार तों वद्ध कुछ ना ।
३१९
चार दिनां दी तेरी है ज़िन्दगानी,
दुक्ख दुनियां दे कास नूं पाउंदा एं ।
बिनां लोड़ ते सोच्यां समझ्यां ही,
भारी बोझ इह क्युं उठाउंदा एं ।
अज्ज हिरस नूं छड्ड के जे वेखें,
बद्धा जिस विच जान खपाउंदा एं ।
तेरे चित्त नूं करे ना तंग चिंता,
जीहदे डर तों जिय कलपाउंदा एं ।
३२०
ज़रा दस्स तां सही ओ बे-अकला,
मुक्ख रब्ब तों होया क्यों मोड़िआ ई ।
सोने, चांदी अते माल दौलतां नाल,
रिशता पाग़लां वांगरां जोड़िआ ई ।
घाटा वाधा ख़ुदा दे हत्थ हुन्दा,
कदे इह वी समझना लोड़िआ ई ।
बख़शिश ओसदी वेख के होरनां ते,
साड़े विच क्युं दिल नूं बोड़िआ ई ।
३२१
प्यारे मित्तरा, रब्ब दी सौंह मैनूं,
इक बहुत ही वड्डा नादान हैं तूं ।
चार साहां दा रेड़का ज़िन्दगानी,
दोंह दिनां दा एथे महमान हैं तूं ।
जाएं पुज्ज वी किधरे बुलन्दियां ते,
सूरज चमकदा विच असमान हैं तूं ।
फिर वी, विच शुमार जो नहीं आउंदा,
किणका ख़ाक दा इक बेजान हैं तूं ।
३२२
चित्त चाहुन्दा तेरा जे बादशाही,
करनी पए ना तैनूं गदाई किधरे ।
तैनूं चाहीदा है किते भुल्ल के वी,
कर बैठना ना पारसाई किधरे ।
जाम आख़री तिप तक पी के वेख,
होवे दिल दी जे सफ़ाई किधरे ।
मैख़ान्युं तूं यारा याद रक्खीं,
इक्क पल ना लईं जुदाई किधरे ।
३२३
मैनूं बड़ा अफ़सोस है ग़ाफ़िली विच,
तूं भुलिआ एं तेरी की हसती ।
झूठे फोके हंकार दी पी मदरा,
चड़्ही रहन्दी है तैनूं सदा मसती ।
भावें भांबड़ां वांग तूं मच्च उच्चा,
तेरी फेर वी कक्ख ना समझ हसती ।
इह सरकशी कदे ना रास आए,
हुन्दा ओड़क नूं इहदा अंजाम पसती ।
३२४
किधरे सरू, चम्बेली दा फुल्ल किधरे,
किधरे खिड़िआ तूं फुल्ल गुलाब दा एं ।
भौंदा फिरें पहाड़ां उजाड़ां दे विच्च,
साथी चमन विच्च कदे सुरख़ाब दा एं ।
किधरे दीवे दा लिशकदा नूर हैं तूं,
किसे पासे तूं इतर शबाब दा एं ।
किधरे चमन अन्दर किधरे महफलां विच्च,
फिरदा छलकदा जाम शराब दा एं ।
३२५
इह ठीक है कदे तूं मुक्ख मोड़ें,
कदे हुन्दा एं दिल आज़ार तूंहीयों ।
फिर वी तूंहीयों ही इक्क ग़मखार मेरा,
इक्क यार मेरा वफ़ादार तूंहीयों ।
घुंम, फिर अजमा के वेख्या मैं,
रब्बा पापियां दा बख़शणहार तूंहीयों ।
जित्थे तक्क्या कोई लाचार बन्दा,
बन के बहुड़िआ एं मददगार तूंहीयों ।
३२६
दीन छड्ड्या 'सरमदा' हद्द हो गई,
किवें आपना आप रुसवा कीता ।
कित्थे रीझ्यों कालियां अक्खियां ते,
काफ़िर उत्ते ईमान फ़िदा कीता ।
नाल आजिज़ी अते अधीनगी दे,
भेंट सारा ही माल मताय कीता ।
ओस, बुत्त-प्रसत नूं टेक मत्थे,
तूं तां काफ़िर नूं चुक्क ख़ुदा कीता ।
३२७
सिर तों पैरां तीकर हिरस चम्बड़ी ए,
तैनूं बड़ा अफ़सोस है, की होया ?
झाती मार के मित्तरा वेख तां सही,
तूं की तों आण के की होया ?
फन्दा ग़ाफ़िली दा तार तार कर दे,
किधरे फस वी ग्युं तां की होया ।
कीता होया है हिरस ने कैद तैनूं,
तैनूं पता नहीं लग्ग्या की होया ?
३२८
दिला मेरिआ हिरस हवा दे नाल,
फिरदा बहुत हैं तूं ग़मग़ीन होया ।
क्युं ना सबर सबूरी दा पकड़ दामन,
फिकर मेट के पुर तसकीन होया ।
हो के नंग जहान दा फिरें भौंदा,
शरम नाल तूं ज़ेरि-ज़मीन होया ।
धब्बा दामन ते जो बदनामियां दा,
तेरे लई इह बोझ संगीन होया ।
३२९
मेरे दिला तूं एस जहान अन्दर,
फिरी जांदा एं जिवें गुमराह होया ।
इयों जापदा हिरस हवा दे नाल,
तेरा चिरां दा किधरे व्याह होया ।
चाहुन्दा वेखना हां इहनां फाहियां 'चों,
तैनूं छेती तों छेती रेहा होया ।
इस वेले तूं ग़म दी मूरती एं,
पीड़ां नाल परोता हर साह होया ।
३३०
इक निमख वी ना खहड़ा छड्ड्या ए,
लोभ, लालसा, हिरस हवा तेरा ।
कीते ऐबां दे फ़िकर हन्देसड़े ने,
सौखा होन ना दित्ता है साह तेरा ।
सिरफ़ आपनी मूरख संभाल करदा,
ओसे तर्हां है हाल तबाह तेरा ।
बणना आदमी सी कुत्ता बण ग्युं तूं,
केहड़ा भला हुन करे विसाह तेरा ।
३३१
सुत्ता ग़ाफ़िली विच्च तूं घूक होया,
लई आपने आप दी ख़बर नहीयों ।
याद रक्ख कि बिना नमोशियां दे,
देवे ग़ाफ़िली कोई वी समर नहीयों ।
यार पुज्ज गए होर तां मंज़लां ते,
तूं अजे आरंभ्या सफ़र नहीयों ।
तेरी ज़िन्दगी पानी ते लीक वरगी,
तेरी पई पर एस ते नज़र नहीयों ।
३३२
प्या हिरस दा इक्क दरिआ वगदा,
फस्या तूं ओहदे घुंमणघेर दे विच्च ।
रात ग़ाफ़िली दी तूं हैं घूक सुत्ता,
बड़ी देर है अजे सवेर दे विच्च ।
गुज़र गई जवानी है ग़ाफ़िली विच्च,
फस्या हुन बुड़्हापे दे फेर दे विच्च ।
अजे वकत है, रब्ब तों मेहर मंगें,
पैना चाहीदा नहीं मेर तेर दे विच्च ।
३३३
वाए वगदीए सुब्हा सवेर वेले,
"मिरज़ा बख़शी" नूं दईं पैग़ाम मेरा ।
आखीं "अरशां ते झूलदा चल्लदा रहे,
झंडा, सिक्का ते दबदबा, नाम तेरा ।
नाल तारिआं झोलियां भर सकदा,
दिरम मंगे फिर क्यों ग़ुलाम तेरा ।
साईआं बख़श मैनूं मेरा तूं "सूरज",
दम्मां बाझ हां मैं ख़ुद्दाम तेरा ।"
३३४
"सरमद" विच्च जहान दे होया रोशन,
हर सू गंज्या ए नेक नाम तेरा ।
मुक्ख मोड़के कुफ़र दे मज़्हब वल्लों,
झुक्या दिल है वल्ल इसलाम तेरा ।
केहड़ी वेखी रसूल विच्च ऊणताई ?
होया क्यों ईमान बदनाम तेरा ?
करन लग्ग प्यों लछमन दी किवें पूजा,
मुरशद हो ग्या किस तर्हां राम तेरा ।

 
 Hindi Kavita