Hindi Kavita
फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
Faiz Ahmed Faiz
 Hindi Kavita 

सरे-वादी-ए-सीना फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

1.हम सादा ही ऐसे थे की यूं ही पज़ीराई
2.किये आरजू से पैमां, जो मआल तक न पहुंचे
3.किस हरफ़ पे तूने गोशा-ए-लब ऐ जाने-जहां ग़म्माज किया
4.शरहे-बेदर्दी-ए-हालात न होने पाई
5.यूं सजा चांद कि झलका तिरे अन्दाज़ का रंग
6.इंतिसाब
7.लहू का सुराग़
8.यहां से शहर को देखो
9.ग़म न कर, ग़म न कर
10.ब्लैक आऊट
11.सिपाही का मरसिया
12.ऐ वतन, ऐ वतन
13.एक शहर आशोब का आग़ाज़
14.सोचने दो
15.सरे-वादी-ए-सीना
16.दुआ
17.दिलदार देखना
18.हार्ट अटैक (रुख़सत)
19.ख़ुरशीदे-महशर की लौ
20.जरसे-गुल की सदा
21.फ़रशे-नौमीदीए-दीदार
22.टूटी जहां-जहां पे कमन्द
23.हज़र करो मिरे तन से
24.तह-ब-तह दिल की कदूरत
25.तराना-१
 
 
 Hindi Kavita