Hindi Kavita
अज्ञेय
Agyeya
 Hindi Kavita 

Sagar-Mudra Agyeya

सागर-मुद्रा अज्ञेय

नशे में सपना
जो औचक कहा गया
देना पाना
कन्हाई ने प्यार किया
फूल की स्मरण प्रतिभा
छिलके
काल की गदा
देखा है कभी
मरण के द्वार पर
सपने में
सपने में-जागते में
दोनों सच हैं
भले आए
छातियों के बीच
अभागे, गा!
क्यों
पाठभेद
देर तक हवा में
धार पर संतार दो
घर छोड़े
मैं ने ही पुकारा था
याद
गाड़ी चल पड़ी
बालू घड़ी
अलस
मों मार्त्र
मन दुम्मट-सा
कैसा है यह जमाना
कौन-सी लाचारी
सागर मुद्रा-1
सागर मुद्रा-2
सागर मुद्रा-3
सागर मुद्रा-4
सागर मुद्रा-5
सागर मुद्रा-6
सागर मुद्रा-7
सागर मुद्रा-8
सागर मुद्रा-9
सागर मुद्रा-10
सागर मुद्रा-11
सागर मुद्रा-12
सागर मुद्रा-13
सागर मुद्रा-14
एक दिन यह राह
मुझे आज हँसना चाहिए
रह गए
जन्म-शती
कविता की बात
नदी का बहना
देलोस से एक नाव
कहाँ
देखता-अगर देखता
जो तू सागर से बनी थी
मिरिना की ताँतिन
समाधि-लेख
नरक की समस्या
जीवन-यात्रा
कस्तालिया का झरना
अरियोन
प्रतिद्वन्दी कवि से
विषय : प्यार
अलस्योनी
शहतूत
दो जोड़ी आँखें
डगर पर
सोया नींद में, जागा सपने में
जीवन-मर्म
फूल हर बार आते हैं
बड़े शहर का एक साक्षात्कार
नदी का पुल - 1
नदी का पुल - 2
काल स्थिति - 1
काल स्थिति - 2
गजर
कातिक की रात
काँपती है
लक्षण
ग्रीष्म की रात
कोहरे में भूज
 
 
 Hindi Kavita