Hindi Kavita
दुष्यंत कुमार
Dushyant Kumar
 Hindi Kavita 

साये में धूप दुष्यंत कुमार

कहाँ तो तय था चिराग़ाँ हर एक घर के लिए
कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं
ये सारा जिस्म झुक कर बोझ से दुहरा हुआ होगा
इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है
देख, दहलीज़ से काई नहीं जाने वाली
खँडहर बचे हुए हैं, इमारत नहीं रही
परिन्दे अब भी पर तोले हुए हैं
अपाहिज व्यथा को वहन कर रहा हूँ
भूख है तो सब्र कर रोटी नहीं तो क्या हुआ
फिर धीरे-धीरे यहां का मौसम बदलने लगा है
कहीं पे धूप की चादर बिछा के बैठ गए
घंटियों की आवाज़ कानों तक पहुंचती है
नज़र-नवाज़ नज़ारा बदल न जाए कहीं
तूने ये हरसिंगार हिलाकर बुरा किया
मत कहो, आकाश में कुहरा घना है
चांदनी छत पे चल रही होगी
ये रौशनी है हक़ीक़त में एक छल, लोगो
हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए
आज सड़कों पर लिखे हैं सैंकड़ों नारे न देख
मरना लगा रहेगा यहाँ जी तो लीजिए
पुराने पड़ गये डर, फेंक दो तुम भी
इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और
मेरे गीत तुम्हारे पास सहारा पाने आएँगे
आज वीरान अपना घर देखा
वो निगाहें सलीब हैं
बाएँ से उड़के दाईं दिशा को गरुड़ गया
अफ़वाह है या सच है ये कोई नही बोला
अगर ख़ुदा न करे सच ये ख़्वाब हो जाए
ज़िंदगानी का कोई मक़सद नहीं है
ये सच है कि पाँवों ने बहुत कष्ट उठाए
बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं
जाने किस-किसका ख़्याल आया है
ये ज़ुबाँ हमसे सी नहीं जाती
तुमको निहारता हूँ सुबह से ऋतम्बरा
रोज़ जब रात को बारह का गजर होता है
हालाते जिस्म, सूरते-जाँ और भी ख़राब
ये जो शहतीर है पलकों पे उठा लो यारो
धूप ये अठखेलियाँ हर रोज़ करती है
पक गई हैं आदतें बातों से सर होंगी नहीं
एक कबूतर चिठ्ठी ले कर पहली-पहली बार उड़ा
ये धुएँ का एक घेरा कि मैं जिसमें रह रहा हूँ
तुमने इस तालाब में रोहू पकड़ने के लिए
लफ़्ज़ एहसास-से छाने लगे, ये तो हद है
ये शफ़क़ शाम हो रही है अब
एक गुड़िया की कई कठपुतलियों में जान है
बहुत सँभाल के रक्खी तो पाएमाल हुई
वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है
किसी को क्या पता था इस अदा पर मर मिटेंगे हम
होने लगी है जिस्म में जुंबिश तो देखिये
मैं जिसे ओढ़ता-बिछाता हूँ
अब किसी को भी नज़र आती नहीं कोई दरार
तुम्हारे पाँव के नीचे कोई ज़मीन नहीं

Saaye Mein Dhoop Dushyant Kumar

Aaj Sarkon Par Likhe Hain Sainkron Naare Na Dekh
Aaj Veeran Apna Ghar Dekha
Ab Kisi Ko Bhi Nazar Aati Nahin Koi Daraar
Afvah Hai Ya Sach Hai Yeh Koi Nahin Bola
Agar Khuda Na Kare Sach Ye Khwab Ho Jaye
Apahij Vyatha Ko Vahan Kar Raha Hoon
Baarh Ki Sambhavnaen Saamne Hain
Bahut Sambhal Ke Rakhi To Payemaal Hui
Bayen Se Ur ke Dayin Disha ko Garur Gaya
Bhookh Hai To Sabar Kar Roti Nahin To Kya Hua
Chandni Chhat Pe Chal Rahi Hogi
Dekh Dahleej Se Kaai Nahin Jane Wali
Dhoop Ye Athkheliyan Har Roz Karti Hai
Ek Guriya Ki Kai Kathputliyon Mein Jaan Hai
Ek Kabootar Chitthi Lekar Pahli Pahli Baar Ura
Ghantiyon Ki Goonj Kaano Tak Pahunchti Hai
Halaate Jism Soorte Jan Aur Bhi Kharab
Ho Gayi Hai Peer Parvat-Si Pighalni Chahiye
Hone Lagi Hai Jism Mein Jumbish To Dekhiye
Is Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati To Hai
Is Raaste Ke Naam Likho Ek Shaam Aur
Jaane Kis Kis Ka Khayal Aaya Hai
Kahan To Tay Tha Chiragan Harek Ghar Ke Liye
Kahin Pe Dhoop Ki Chadar Bichhake Baith Gaye
Kaise Manzar Saamne Aane Lage Hain
Khandhar Bache Hue Hain Imaarat Nahin Rahi
Kisi Ko Kya Pata Tha Is Ada Par Mar Mitenge Ham
Lafaj Ehsaas Se Chhane Lage Ye To Had Hai
Main Jise Orhta Bichhata Hoon
Marna Laga Rahega Yahan Ji To Lijiye
Mat Kaho Aakash Mein Kohra Ghana Hai
Mere Geet Tumhare Paas Sahara Pane Aayenge
Nazar Nawaz Nazara Badal Na Jaye Kahin
Pak Gai Hain Aadten Baaton Se Sar Hongi Nahin
Parinde Ab Bhi Par Tole Hue Hain
Phir Dheere-Dheere Yahan Ka Mausam Badalne Laga Hai
Purane Par Gaye Dar Phenk Do Tum Bhi
Roz Jab Raat Ko Barah Ka Gajar Hota Hai
Toone Yeh Harsingar Hilakar Bura Kiya
Tumhare Paon Ke Neeche Koi Zamin Nahin
Tumko Niharta Hun Subah Se Ritambra
Tumne Is Talab Mein Rohu Pakarne Ke Liye
Wo Aadmi Nahin Hai Mukkamal Bayan Hai
Wo Nigahen Salib Hain
Yeh Dhuen Ka Ek Ghera Ki Main Jis Mein Rah Raha Hoon
Yeh Jo Shahteer Hai Palkon Pe Utha Lo Yaaro
Yeh Roshni Hai Haqeeqat Mein Ek Chhal Logo
Yeh Saara Jism Jhukkar Bojh Se Duhra Hua Hoga
Yeh Sach Hai Panvon Ne Bahut Kashat Uthae
Yeh Shafaq Shaam Ho Rahi Hai Ab
Yeh Juban Hamse Si Nahin Jaati
Zindgani Ka Koi Maqsad Nahin Hai
 
 
 Hindi Kavita