Hindi Kavita
रामधारी सिंह दिनकर
Ramdhari Singh Dinkar
 Hindi Kavita 

Saamdheni Ramdhari Singh Dinkar

सामधेनी रामधारी सिंह 'दिनकर'

अचेतन मृत्ति, अचेतन शिला
तिमिर में स्वर के बाले दीप, आज फिर आता है कोई
ओ अशेष! निःशेष बीन का एक तार था मैं ही
वह प्रदीप जो दीख रहा है झिलमिल, दूर नहीं है
बटोही, धीरे-धीरे गा
रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद
जा रही देवता से मिलने?
अन्तिम मनुष्य
हे मेरे स्वदेश!
अतीत के द्वार पर
कलिंग-विजय
प्रतिकूल
आग की भीख
दिल्ली और मास्को
सरहद के पार से
फलेगी डालों में तलवार
जवानी का झण्डा
जवानियाँ
जयप्रकाश
राही और बाँसुरी
साथी
 
 Hindi Kavita