Hindi Kavita
हज़रत सुलतान बाहू
Hazrat Sultan Bahu
 Hindi Kavita 

Complete Punjabi Poetry Hazrat Sultan Bahu in Hindi

हज़रत सुलतान बाहू का पंजाबी कलाम

1. अलिफ़-अल्ला चम्बे दी बूटी

अलिफ़-अल्ला चम्बे दी बूटी,
मुरशद मन विच लाई हू ।
नफी असबात दा पानी मिल्या,
हर रगे हर जाई हू ।
अन्दर बूटी मुशक मचाया,
जां फुल्लन ते आई हू ।
जीवे मुरशद कामिल बाहू ,
जैं इह बूटी लाई हू ।

(मुरशद=पीर,गुरू, नफी=बदी,
असबात=नेकी, जैं=जिस ने)


2. अलिफ़-अल्ला चम्बे दी बूटी

अलिफ़-अल्ला चम्बे दी बूटी,
मुरशद मन विच लांदा हू ।
जिस गत उते सोहना राजी,
उहो गत सिखांदा हू ।
हर दम याद रक्खीं हर वेले,
सोहना उठदा बांहदा हू ।
आपे समझ समझेंदा बाहू,
ओह आप आपे बण जांदा हू ।

3. अलिफ़-अल्ला पढ़यों पढ़ हाफिज़ होइओं

अलिफ़-अल्ला पढ़ियों पढ़ हाफिज़ होइओं,
न गया हिजाबों परदा हू ।
पढ़ पढ़ आलिम फाज़िल होइओं,
अजे भी तालिब ज़र दा हू ।
लक्ख हज़ार किताबां पढ़ियां,
पर ज़ालिम नफ़स ना मरदा हू ।
बाझ फ़कीरां किसे ना मारिया,
बाहू एहो चोर अन्दर दा हू ।

(हाफिज़=ज़बानी याद करन वाला,
तालिब=चाहवान, ज़र=धन-दौलत)


4. अलिफ़-अहद दित्ती जां आण विखाली

अलिफ़-अहद दित्ती जां आण विखाली,
अज़ खुद होया फ़ानी हू ।
कुरब विसाल मकाम ना मंज़िल,
ओथे जिसम ना जानी हू ।
ना ओथे इशक मुहब्बत काई,
ना ओथे कौन-मकानी हू ।
ऐनो ऐन थीओसे बाहू,
सद वहदत सुबहानी हू ।

(अहद=इको रब्ब, विसाल=मिलाप,
कौन-मकानी =दुनियां ते उत्थे रहन
वाले, ऐनो ऐन=इक मिक होणा,
सुबहानी=रब्बी)


5. अलिफ़-अज़ल अबद नूं सही कीतोसु

अलिफ़-अज़ल अबद नूं सही कीतोसु,
वेख तमाशे गुज़रे हू ।
चौदां तबक दिले दे अन्दर,
आतश लाए हुजरे हू ।
जिन्हां हक्क ना हासल कीता,
ओह दोहीं जहानी उजड़े हू ।
आशक गरक होवे विच वहदत,
बाहू वेख तिन्हां दे मुजरे हू ।

6. अलिफ़-अन्दर हू ते बाहर हू

अलिफ़-अन्दर हू ते बाहर हू,
वत बाहर किथे लभैंदा हू ।
जिथे हू करे रुशनाई,
ओथों तोड़ हनेरा वैंदा हू ।
हू दा दाग मुहब्बत वाला,
दम दम नाल सड़ेंदा हू ।
दोवें जग्ग गुलाम उस बाहू,
जो हू सही करेंदा हू ।

(वैंदा=चल्या जाणा)


7. अलिफ़-अलसत सुण्या दिल मेरे

अलिफ़-अलसत सुण्या दिल मेरे,
जिन्द बला कूकेंदी हू ।
हुब वतन दी गालिब होई,
हिक्क पल सौन न देंदी हू ।
कहर पवे इह रहज़न दुनियां,
हक्क दा राह मरेंदी हू ।
आशिक मूल कबूल न बाहू,
ज़ारो ज़ार रोवेंदी हू ।

(अलसत=की मैं तुहाडा रब्ब नहीं,
बला=क्युं नहीं)


8. अलिफ़-अन्दर भी हू बाहर भी हू

अलिफ़-अन्दर भी हू बाहर भी हू,
बाहू कित्थां लभीवे हू ।
सै रिआज़तां कर कराहां,
ख़ून जिगर दा पीवे हू ।
लक्ख हज़ार किताबां पढ़ के,
दानिशमन्द सदीवे हू ।
नाम फ़कीर तहैं दा बाहू,
कबर जिन्हां दी जीवे हू ।

9. अलिफ़-अद्धी लाअनत दुनियां ताईं

अलिफ़-अद्धी लाअनत दुनियां ताईं,
सारी दुनियां दारां हू ।
जे राह साहब दे खरच ना कीती,
पैन गज़ब दियां मारां हू ।
पिउआं कोलों पुत्त कुहावे,
भठ दुनियां मक्कारां हू ।
जिन्हां छोड़ी दुनियां बाहू,
लैसन बाग़ बहारां हू ।

10. अलिफ़-इह दुनियां ज़न हैज़ पलीती

अलिफ़-इह दुनियां ज़न हैज़ पलीती,
हरगिज़ पाक न थीवे हू ।
जे फ़कर घर दुनियां होवे,
लाअनत तिस दे जीवे हू ।
हुब्ब दुनियावी रब्ब थीं मोड़े,
वेले फ़कर कचीवे हू ।
एह दुनियां नूं तिन्न तलाकां,
जे बाहू सच्च पुछीवे हू ।

(ज़न हैज़ पलीती=गन्दे लहू नाल लिबड़ी)


11. अलिफ़-इह दुनियां ज़न हैज़ पलीती

अलिफ़-इह दुनियां ज़न हैज़ पलीती,
केती मल मल धोंदे हू ।
दुनियां कारन आलिम फाज़िल,
गोशे बह बह रोंदे हू ।
दुनियां कारन खलकत सारी,
हिक पल सुख न सौंदे हू ।
जिन्हां छड्डी दुनियां बाहू,
उह कंधी चढ़ खलोंदे हू ।

(ज़न हैज़ पलीती=गन्दे लहू नाल लिबड़ी)


12. अलिफ़-ईमान सलामत हर कोई मंगे

अलिफ़-ईमान सलामत हर कोई मंगे,
इशक सलामत कोई हू ।
जिस मंज़ल नूं इशक पुचावे ,
ईमाने ख़बर न कोई हू ।
मंगन ईमान शरमावन इशकों,
दिल नूं गैरत होई हू ।
इशक सलामत रक्खीं बाहू,
दिआँ ईमान धरोई हू ।

13. अलिफ़-अन्दर विच नमाज़ असाडी

अलिफ़-अन्दर विच नमाज़ असाडी,
हिकसे जा नतीवे हू ।
नाल क्याम रकूय सजूदे,
कर तकरार पढ़ीवे हू ।
इह दिल हिज़र फ़राकों सड़दा,
इह दम मरे न जीवे हू ।
सच्चा राह मुहंमद वाला बाहू,
जैं विच रब्ब लभीवे हू ।

(नतीवे=नीयत नाल)


14. अलिफ़-इह तन मेरा चशमां होवे

अलिफ़-इह तन मेरा चशमां होवे,
मैं मुरशद वेख न रज्जां हू ।
लूं लूं दे मुढ लक्ख लक्ख चशमां,
हिक्क खोल्हां हिक्क कज्जां हू ।
इतना डिट्ठ्यां सबर न मैं दिल,
होर किते वल भज्जां हू ।
मुरशद दा दीदार जो बाहू,
मैनूं लक्ख करोड़ां हज्जां हू ।

(चशमां=अक्खां)


15. अलिफ़-अल्ला सही कीतोसु

अलिफ़-अल्ला सही कीतोसु,
जद चमक्या इशक अगूहां हू ।
रात देहां दे ताय तिखेरे,
नित करे अगोहां सूहां हू ।
अन्दर भाहीं अन्दर बालण,
अन्दर दे विच धूंआं हू ।
बाहू शाहरग थीं रब नेड़े लद्धा,
जदों इशक कीता सी सूंहां हू ।

(अगूहां=अग्गे लिजान वाला)


16. अलफ़-अक्खीं सुरख मूंह पर ज़रदी

अलफ़-अक्खीं सुरख मूंह पर ज़रदी,
हर वलों दिल आहीं हू ।
महां मुहाड़ ख़ुशबोई वाला,
पहुंता वंज किदाहीं हू ।
इशक मुशक ना छुपे रहन्दे,
ज़ाहर थीन उथाहीं हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
जिन्हां लामकानी जाहीं हू ।

(लामकानी=मकान बिना)


17. अलिफ़-अन्दर कलमां कलकल करदा

अलिफ़-अन्दर कलमां कलकल करदा,
इशक सिखाया कलमां हू ।
चौदां तबक कलमे दे अन्दर,
छड्ड किताबां इलमां हू ।
काने कप्प कप्प कलम बनावण,
लिख ना सकन कलमां हू ।
बाहू कलमा मैनूं पीर पढ़ाया,
ज़रा ना रहियां अलमां हू ।

(कलकल=कलमे दी आवाज़,
चौदां तबक=सत्त आकाश ते
सत्त पताल)


18. अलिफ़-इक दम सजन ते लख दम वैरी

अलिफ़-इक दम सजन ते लख दम वैरी,
इक दम दे मारे मरदे हू ।
इक दम पिछे जनम गवाया,
चोर बने घर घर दे हू ।
लाईआं दी उह कदर की जानण,
जेहड़े महरम नाहीं सिर दे हू ।
सो क्युं धक्के खावन बाहू,
जेहड़े तालिब सच्चे दर दे हू ।

19. अलिफ़-इह तन रब्ब सच्चे दा हुजरा

अलिफ़-इह तन रब्ब सच्चे दा हुजरा,
खिड़ियां बाग़ बहारां हू ।
विचे कूजे विचे मुसल्ले,
विचे सिजदे दिआँ हज़ारां हू ।
विचे काअबा विचे किबला,
विचे इल लिल्ला पुकारां हू ।
कामल मुरशद मिल्या बाहू,
ओह आपे लैसी सारां हू ।

20. अलफ़-इह तन रब्ब सच्चे दा हुजरा

अलफ़-इह तन रब्ब सच्चे दा हुजरा,
विच पा फ़कीरां झाती हू ।
ना कर मिनत खवाज़ा खिज़र दी,
तैं अन्दर आबहयाती हू ।
शौक दा दीवा बाल अंधेरे,
मतां लभे वसत खड़ाती हू ।
मरन थीं मर रहे अग्गे बाहू,
जिन्हां हक्क दी रमज़ पछाती हू ।

(खवाज़ा खिज़र=पानी दा फरिशता)


21. अलिफ़-औझड़ झल ते मारू बेले

अलिफ़-औझड़ झल ते मारू बेले,
जिथे जालन आई हू ।
जिस कंधी नूं ढाह हमेशा,
अज ढठी कल ढाई हू ।
नैं जिन्हां दी वहे सिर्हांदी,
उह सुख न सौंदे राही हू ।
रेत पानी जित्थे होन इकट्ठे बाहू,
उत्थे बन्नी न बझदी काई हू ।

22. अलिफ़-आप न तालिब हैन कहीं दे

अलिफ़-आप न तालिब हैन कहीं दे,
लोकां तालिब करदे हू ।
चावन खेपां करदे सेपां,
न रब्ब दे कहरों डरदे हू ।
इशक मजाज़ी तिलकन बाज़ी,
पैर अवल्ले धरदे हू ।
उह शरमिन्दे होसन बाहू,
अन्दर रोज़ हशर दे हू ।

(खेपां=पैसे जां समान चुकण
वाले, सेपां=सेपी करन वाले)


23. अलिफ़-ओहो नफस असाडा बेली

अलिफ़-ओहो नफस असाडा बेली,
जो नाल असाडे सिद्धा हू ।
जो कोई उस दी करे सवारी,
उस नाम अल्ला दा लद्धा हू ।
इह ज़ाहिद आबिद चा निवाए,
जिथे टुकड़ा वेखे थिंधा हू ।
राह फ़कर दा मुशकल बाहू,
घर मां ना सीरा रिद्धा हू ।

(ज़ाहिद=प्रहेज़गार, आबिद=
इबादत करन वाला, सीरा=
पतला हलवा)


24. ऐन-इलमे बाझों फकर कमावे

ऐन-इलमे बाझों फकर कमावे,
काफ़र मरे दीवाना हू ।
सै वर्हआं दी करे इबादत,
अल्ला थीं बेगाना हू ।
ग़फ़लत थीं न खुलसन पड़दे,
दिल जाहल बुतखाना हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां मिल्या यार यगाना हू ।

(यगाना=बेमिसाल)


25. ऐन-आशक होवें ते इशक कमावें

ऐन-आशक होवें ते इशक कमावें,
दिल रखें वांग पहाड़ां हू ।
लक्ख लक्ख ताअने झल्लें सिर ते,
ते लैवें बाग़ बहारां हू ।
मनसूर जेहे चा सूली दित्ते,
जेढ़े वाकफ कुल्ल असरारां हू ।
सजदों सिर ना चाए बाहू,
तोड़े काफ़र कहन हज़ारां हू ।

(असरार=भेद, तोड़े=भावें)


26. ऐन-आशक राज़ माही दे कोलों

ऐन-आशक राज़ माही दे कोलों,
कदी ना थींदे वांदे हू ।
नींद हराम तिन्हां ते जेहड़े,
ज़ाती इसम पकांदे हू ।
हिक पल मूल आराम ना आवे,
दिन रात फिरन कुरलांदे हू ।
जिन्हां अलिफ़ सही कर पढ़आ बाहू,
वाह नसीब तिन्हां दे हू ।

27. ऐन-आशक राज़ माही दे कोलों

ऐन-आशक राज़ माही दे कोलों,
फिरन हमेशा खीवे हू ।
जिन्हां जींदे जान माही नूं डित्ती,
दोहीं जहानी जीवे हू ।
शम्हां चराग जिन्हां दिल रौशन,
सो क्युं बालन दीवे हू ।
अकल फ़िकर दी पहुंच ना बाहू,
ओथे फानी फहम कचीवे हू ।

28. ऐन-आशक सोई हकीकी जेहड़े

ऐन-आशक सोई हकीकी जेहड़े,
कतल माशूक दे मन्ने हू ।
इशक न छोड़े मुक्ख न मोड़े,
तोड़े तलवारां खन्ने हू ।
जित वल वेखे राज़ माही दा,
जावे ओसे बन्ने हू ।
सच्चा इशक हुसैन दा बाहू,
सिर देवे राज़ न भन्ने हू ।

(खन्ने=खंडे)


29. ऐन-आशकां दिल मोम बराबर

ऐन-आशकां दिल मोम बराबर,
माशूकां दिल काहली हू ।
तुअमा देखे तुर तुर तक्के,
ज्यों बाज़ां दे चाली हू ।
बाज़ विचारा क्युं कर उड्डे,
पैरीं पइओसु दवाली हू ।
जैं दिल इशक न होवे बाहू,
गए जहानों ख़ाली हू ।

(तुअमा,तामा=मास दा टुकड़ा,
दवाली=दो वलां वाली रस्सी)


30. ऐन-इशक दी भाह हड्डां दा बालण

ऐन-इशक दी भाह हड्डां दा बालण,
आशक बह सकेंदे हू ।
घत्त के जान जिगर विच आरा,
वेख कबाब तलेंदे हू ।
सरगरदां फिरन हर वेले,
ख़ून जिगर दा पींदे हू ।
होए हज़ारां आशक बाहू,
इशक नसीब कहींदे हू ।

31. ऐन-इशक दी बाज़ी हर जा खेडी

ऐन-इशक दी बाज़ी हर जा खेडी,
शाह गदा सुलताना हू ।
आलिम फाज़िल आकिल दाना,
करदा चा हैराना हू ।
तम्बू ठोक बैठा विच दिल दे,
लायओसु खलवत-खाना हू ।
इशक फ़कीर मनेंदे बाहू,
माने कौन बेगाना हू ।

32. ऐन-इशक हकीकी पाया

ऐन-इशक हकीकी पाया,
मूंहों न कुझ अलावन हू ।
दम दम दे विच आखन मौला,
दिल नूं कैद लगावन हू ।
सरवरी कादरी हनफी अखफी,
सर्री ज़िकर कमावन हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जो हिक निग्हा विच आवन हू ।

33. ऐन-इशक मुहब्बत दरिया दे विच

ऐन-इशक मुहब्बत दरिया दे विच,
थी मरदाना तरीए हू ।
जिथे पौन ग़ज़ब दियां लहरां,
कदम उथाईं धरीए हू ।
औझड़ झंग बलाईं बेले,
वेख वेख ना डरीए हू ।
नाम फ़कीर तद थींदा बाहू,
जे विच तलब दे मरीए हू ।

34. ऐन-आशकां हिक वुज़ू जो कीता

ऐन-आशकां हिक वुज़ू जो कीता,
रोज़ क्यामत ताईं हू ।
विच नमाज़, रकूय सजूदे,
रहिन्दे संझ सबाहीं हू ।
एथे ओथे दोहीं जहानीं,
सभ फकर दियां जाईं हू ।
अरशां तों सै मंज़िल अग्गे बाहू,
वंज पिआ कंम तिनाहीं हू ।

35. ऐन-इशक माही दे लाईआं अग्गीं

ऐन-इशक माही दे लाईआं अग्गीं,
लग्गियां कौन बुझावे हू ।
मैं की जाना ज़ात इशक दी,
जो दर दर जा झुकावे हू ।
ना खुद सौवें ना सौवन देवे,
सुत्यां आण जगावे हू ।
मैं कुरबान तिन्हां दे बाहू,
जेहड़ा विछड़े यार मिलावे हू ।

36. ऐन-इशक दी गल्ल अवल्ली

ऐन-इशक दी गल्ल अवल्ली,
जेहड़ी शरा थीं दूर हटावे हू ।
काज़ी छोड़ कज़ाई जावण,
जिन्हां इशक तमाचा लावे हू ।
लोक अयाने मत्तीं देवण,
आशकां मत्त ना भावे हू ।
मुड़न मुहाल तिन्हां नूं बाहू,
जिन्हां साहिब आप बुलावे हू ।

37. ऐन-इशक शहु दे दिल खड़ाया

ऐन-इशक शहु दे दिल खड़ाया,
आप भी नाले खड़्या हू ।
खड़्या खड़्या वल्या नाहीं,
संग महबूबां रल्या हू ।
अकल फ़िकर दियां सभ भुल्ल गईआं,
इशके नाल जां मिल्या हू ।
मैं कुरबान तिन्हां थों बाहू,
जिन्हां इशक जवानी चढ़आ हू ।

38. ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता

ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता,
लत्था मल्ल मुहाड़ी हू ।
ना सौवें ना सौवन देवे,
जीवें बाल रेहाड़ी हू ।
पोह माघीं मंगे खरबूज़े,
मैं कित्थों लैसां वाड़ी हू ।
अकल फ़िकर दियां सभ भुल गईआं बाहू,
जद इशक वजाई ताड़ी हू ।

(मुहाड़ी=दरवाज़ा)


39. ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता

ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता,
कर कर आवे धाई हू ।
जित वल वेखां इशक दिसीवे,
खाली जा ना काई हू ।
मुरशिद कामिल ऐसा मिल्या,
जिस दिल दी ताकी लाही हू ।
मैं कुरबान मुरशद तों बाहू,
जिस दस्स्या भेत इलाही हू ।

40. ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता

ऐन-इशक असां नूं लिस्यां जाता,
बैठा मार पथल्ला हू ।
विच जिगर दे सन्न्ह लायसु,
कीतुसु कंम अवल्ला हू ।
जां अन्दर वड़ झाती पाईसु,
डिट्ठा यार इकल्ला हू ।
बाझों मुरशिद कामिल बाहू,
होंदी नहीं तसल्ला हू ।

41. ऐन-अकल फ़िकर दी जा ना काई

ऐन-अकल फ़िकर दी जा ना काई,
जिथे वहदत सिर सुबहानी हू ।
ना ओथे मुलां पंडत जोशी,
ना ओथे इलम कुरानी हू ।
जद अहमद अहद वखाली दित्ती,
तां कुल होवे फानी हू ।
इलम तमाम कीतो ने हासिल बाहू,
किताबां नप्प असमानी हू ।

42. ऐन-इशक चलाया वल असमानां

ऐन-इशक चलाया वल असमानां,
फ़रशों अरश दिखाया हू ।
रहु नी दुनियां ठग्ग ना सानूं,
साडा अग्गे जी घबराया हू ।
असीं मुसाफिर वतन दुराडा,
ऐवें कूड़ा लालच लाया हू ।
बाहू मर गए जो मरने थीं पहले,
तिन्हां रब्ब नूं पाया हू ।

43. ऐन-इशक जिन्हां दी हड्डीं रच्या

ऐन-इशक जिन्हां दी हड्डीं रच्या,
रहन उह चुप चुपाते हू ।
लूं लूं दे विच लक्ख ज़बानां,
करन उह गुंगी बातें हू ।
करदे वुज़ू इसम आज़म दा,
जेहड़े दरिया वहदत न्हाते हू ।
तद थीन कबूल नमाज़ां बाहू,
जद यारां यार पछाते हू ।

44. ऐन-आशिक नेक सलाहीं लगदे

ऐन-आशिक नेक सलाहीं लगदे,
क्युं उजाड़दे घर नूं हू ।
बाल मवाता बिरहुं वाला,
न लांदे जान जिगर नूं हू ।
जान जहां सभ भुल गइयो ने,
लुट्टी होश सबर नूं हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां ख़ून दित्ता दिलबर नूं हू ।

45. ऐन-इशक समुन्दर चढ़ ग्या फ़लकीं

ऐन-इशक समुन्दर चढ़ ग्या फ़लकीं,
कित वल जहाज़ घतीवे हू ।
अकल फ़िकर दे डोले नूं चा,
पहले पूर बोडीवे हू ।
कड़कन कप्पर पवन लहरीं,
जदां वहदत विच वड़ीवे हू ।
जिस मरने थीं खलकत डरदी बाहू,
आशक मर के जीवे हू ।

(फ़लकीं=असमान)


46. ऐन-इशक मुअज़्ज़न दित्तियां बांगां

ऐन-इशक मुअज़्ज़न दित्तियां बांगां,
कन्नीं बुलेल पईओसी हू ।
ख़ून जिगर दा कढ्ढ कराहां,
कर वुज़ू साफ़ कीतोसी हू ।
सुन तकबीर फन्हा फिल्ला दी,
मुड़न मुहाल थीओसी हू ।
पढ़ तकबीर थीओसी वासिल बाहू,
ताहीं शुकर कीतोसी हू ।

(मुअज़न=बांगां देन वाला,तकबीर=
वड्याई, फन्हा फिल्ला=रब्ब नाल
इक मिक होणा)


47. ऐन-आशक पढ़न नमाज़ परम दी

ऐन-आशक पढ़न नमाज़ परम दी,
जैं विच हरफ न कोई हू ।
जेहा केहा नीत न सक्के,
ओथे दरदमन्दां दिल ढोई हू ।
अखीं नीर ते ख़ून जिगर दा,
वुज़ू पाक कीतोई हू ।
जीभ ते होठ न हिलन बाहू,
खास नमाज़ी सोई हू ।

48. बे-बाहू बाग़ बहारां खिड़ियां

बे-बाहू बाग़ बहारां खिड़ियां,
नरगिस नाज़ शरम दा हू ।
दिल विच काअबा सही कीतोसु,
पाको पाक हरम दा हू ।
तालिब तलब तुआफ़ तमामी,
हुब हज़ूर हरम दा हू,
ग्या हजाब तमामी बाहू,
बखस्योसु राह करम दा हू ।

49. बे-बग़दाद शहर दी क्या निशानी

बे-बग़दाद शहर दी क्या निशानी,
उच्चियां लंमियां चीड़ां हू ।
तन मन मेरा पुरज़े पुरज़े,
ज्यों दरज़ी दियां लीरां हू ।
लीरां दी गल कफनी पा के,
रलसां संग फ़कीरां हू ।
शहर बग़दाद दे टुकड़े मंगसां बाहू,
करसां मीरां मीरां हू ।

50. बे-बे ते पढ़ के फाज़िल होए

बे-बे ते पढ़ के फाज़िल होए,
अलफ़ ना पढ़िआ किस्से हू ।
जैं पढ़िआ तैं शहु न लद्धा,
जां पढ़िआ कुझ तिस्से हू ।
चौदां तबक करन रुशनाई,
अन्न्हआं कुझ न दिस्से हू ।
बाझ विसाल अल्ला दे बाहू,
सभ कहानी किस्से हू ।

51. बे-बेअदबां न सार अदब दी

बे-बेअदबां न सार अदब दी,
नाल ग़ैरां दे सांझे हू ।
जेहड़े होन मिट्टी दे भांडे,
कदी न थीवन कांजे हू ।
जेहड़े मुढ कदीम दे खेड़े,
कदी न होंदे रांझे हू ।
जैं हज़ूर न मंग्या बाहू,
दोहीं जहानी वांझे हू ।

52. बे-बज़ुरगी नूं वहन लुड़ाईए

बे-बज़ुरगी नूं वहन लुड़ाईए,
करीए रज्ज मुकाला हू ।
ला इल्ला गल गहना मढ़आ,
मज़्हब केह लगदा साला हू ।
इल्ल अल्ला घर मेरे आया,
आन लुहाया पाला हू,
असां पिआला खिज़रों पीता बाहू,
आब-हयाती वाला हू ।

53. बे-बिसमिल्ला इसम अल्ला दा

बे-बिसमिल्ला इसम अल्ला दा,
इह भी गैहना भारा हू ।
नाल सफायत सरवर आलम,
छुटसी आलम सारा हू ।
हद्दों बेहद्द दरूद नबी नूं,
जिसदा ऐड पसारा हू ।
मैं कुरबान तिन्हां थीं बाहू,
जिन्हां मिल्या नबी सहारा हू ।

54. बे-बन्न्ह चलाया तरफ ज़मीं दे

बे-बन्न्ह चलाया तरफ ज़मीं दे,
अरशों फ़रश टिकाया हू ।
घर थीं मिल्या देश निकाला,
लिख्या झोली पाया हू ।
रहु नी दुनियां न कर झेड़ा,
साडा दिल घबराया हू ।
असीं परदेसी वतन दुराडा बाहू,
दम-दम अलम सवाया हू ।

55. बे-बाझ हज़ूरी नहीं मंज़ूरी

बे-बाझ हज़ूरी नहीं मंज़ूरी,
तोड़े पढ़न बांग सलातां हू ।
रोज़े नफल नमाज़ गुज़ारन,
जागन सारियां रातां हू ।
बाझों कलब हज़ूर न होवे,
कढन सै ज़कातां हू ।
बाहू बाझ फना रब्ब हासल नाहीं,
न तासीर जमातां हू ।

56. बे-बहुती मैं औगुणहारी

बे-बहुती मैं औगुणहारी,
लाज पई गल उसदे हू ।
पढ़ पढ़ इलम करन तकब्बर,
शैतान जेहे उथे मुसदे हू ।
लक्खां नूं भौ दोज़ख़ वाला,
हक्क बहशतों रुसदे हू ।
आशिकां दे गल छुरी हमेशा बाहू,
अग्गे महबूबां कुसदे हू ।

57. बे-बग़दाद शरीफ़े वंज कराहां

बे-बग़दाद शरीफ़े वंज कराहां,
सौदा नेहुं कीतोसे हू ।
रती अकल दी कराहां,
भार ग़मां दा घिदोसे हू ।
भार भरेरा मंज़ल चोखेरी,
ओड़क वंज पहुंत्योसे हू ।
ज़ात सिफ़ात सही कीतोसे बाहू,
तां जमाल लधोसे हू ।

58. हे-हक्क हिक्क पीड़ तों आलम कूके

हे-हक्क हिक्क पीड़ तों आलम कूके,
लक्ख आशिक पीड़ सहेड़ी हू ।
ढहन रुढ़न जित्थे ख़तरा होवे,
कौन चढ़े उस बेड़ी हू ।
आशक चढ़दे नाल ख़ुशी दे,
तार कप्पर विच भेड़ी हू ।
इशक तुलेंदा नाल रत्ती दे बाहू,
आशिक लज़त नखेड़ी हू ।

59. चे-चढ़ चन्नां ते कर रुशनाई

चे-चढ़ चन्नां ते कर रुशनाई,
ज़िकर करेंदे तारे हू ।
गलियां दे विच फिरन निमाणे,
लालां दे वणजारे हू ।
शाला मुसाफ़र कोई न थीवे,
कक्ख जिन्हां तों भारे हू ।
ताड़ी मार उडा न बाहू,
असीं आपे उडणहारे हू ।

60. चे-चढ़ चन्नां ते कर रुशनाई

चे-चढ़ चन्नां ते कर रुशनाई,
तारे ज़िकर करेंदे तेरा हू ।
तेरे जहे चन्न कई सै चढ़दे,
सानूं सजणां बाझ हनेरा हू ।
जित्थे चन्न असाडा चढ़दा,
उथे कदर नहीं कुझ तेरा हू ।
जिस दे कारन जनम गुआया बाहू,
यार मिले इक वेरा हू ।

61. चे-चार मुसल्ले पंज इमाम

चे-चार मुसल्ले पंज इमाम,
किनूं सिजदा करे हू ।
चार महल्ल ते पंज बहारी,
किन्नू हासल भरे हू ।
दोवें जहान ग़ुलाम तिन्हां दे,
जेहड़े रब्ब सही करे हू ।
चार पीरां चौदां खनवादी बाहू,
किस वल देवां सरे हू ।

62. दाल-दरदमन्दां दा ख़ून जो पींदा

दाल-दरदमन्दां दा ख़ून जो पींदा,
बिरहों बाज़ मरेला हू ।
छाती दे विच कीतोसु डेरा,
शेर बैठा मल्ल बेला हू ।
हाथी मसत संधूरे वांगूं,
करदा पेला पेला हू ।
पेले दा विशवास ना बाहू,
पेले बाझ ना मेला हू ।

63. दाल-दिल दरिया समुन्दरों डूंघे

दाल-दिल दरिया समुन्दरों डूंघे,
कौन दिलां दियां जाने हू ।
विचे बेड़े विचे झेड़े,
विचे वंझ मुहाने हू ।
चौदां तबक दिले दे अन्दर,
तम्बू वांगूं ताने हू ।
दिल दा महरम होवे बाहू,
सोई रब्ब पछाने हू ।

64. दाल-दिले विच दिल जो आखें

दाल-दिले विच दिल जो आखें,
सो दिल दूर दलीलों हू ।
दिल दा दूर अगोहां कीचे,
कसरत करनों कलीलों हू ।
कलब कमाल जमालों जिसमों,
जौहर जाह जलीलों हू ।
किबला कलब मुनव्वर बाहू,
ख़लवत ख़ास ख़लीलों हू ।

65. दाल-दीन ते दुनियां सकियां भैणां

दाल-दीन ते दुनियां सकियां भैणां,
अकल नहीं समझैंदा हू ।
दोवें इकस निकाह विच आवण,
शर्हा नहीं फरमैंदा हू ।
जिवें अग्ग ते पानी थां इको विच,
वासा नहीं करेंदा हू ।
दोहीं जहानी मुट्ठे बाहू,
जिन्हां दावा मैं दा हू ।

66. दाल-दुनियां ज़न घर मुनाफिक

दाल-दुनियां ज़न घर मुनाफिक,
या घर काफ़िर दे सोहन्दी हू ।
नकश निगार करे बहुतेरे,
ज़न ख़ूबां सभ मोहन्दी हू ।
बिजली वांग करे लिशकारे,
सिर दे उतों छुहन्दी हू ।
ईसा दी सिल वांगूं बाहू,
राह वैंदिआँ नूं कोहन्दी हू ।

67. दाल-दिल दरिया समुन्दरों डूंघा

दाल-दिल दरिया समुन्दरों डूंघा,
गोता मार गवासी हू ।
जैं दरिया वंज नोश न कीता,
रहसी जान पिआसी हू ।
हरदम नाल अल्ला दे रखण,
ज़िकर फ़िकर की आसी हू ।
उस मुरशिद थीं ज़न बेहतर बाहू,
जो फंध फरेब लबासी हू ।

68. दाल-दिल काले कनों मूंह काला चंगा

दाल-दिल काले कनों मूंह काला चंगा,
जे कोई इसनूं जाने हू ।
मूंह काला दिल अच्छा होवे,
तां दिल यार पछाने हू ।
इह दिल यार दे पिच्छे होवे,
मतां यार सिंजाने हू ।
सै आलम छोड़ मसीतां नट्ठे बाहू,
जद लग्गे दिल टिकाने हू ।

69. दाल-दिल ते दफतर वहदत वाला

दाल-दिल ते दफतर वहदत वाला,
दायम करें मुताल्या हू ।
सारी उमरा पढ़दिआँ गुज़री,
झल्लां दे विच जाल्या हू ।
इको इसम अल्ला दा रक्खीं,
एहो सबक कमाल्या हू ।
दोवें जहान ग़ुलाम तिन्हां दे बाहू,
जैं दिल अल्ला संभाल्या हू ।

70. दाल-दरदमन्दां दे धूंएं धुखदे

दाल-दरदमन्दां दे धूंएं धुखदे,
डरदा कोई ना सेके हू ।
इन्हां धूंयां दे ताय तिखेरे,
महरम होवे तां सेके हू ।
छिक्क शमशीर खड़ा है सिर ते,
तरस पवस तां थेके हू ।
सरपर सहुरे वंञणां बाहू,
सदा ना रहना पेके हू ।

71. दाल-दरदमन्दां दियां आहीं कोलों

दाल-दरदमन्दां दियां आहीं कोलों,
पत्थर पहाड़ दे झड़दे हू ।
दरदमन्दां दियां आहीं कोलों,
भज्ज नाग ज़िमीं विच वड़दे हू ।
दरदमन्दां दियां आहीं कोलों,
असमानों तारे झड़दे हू ।
दरदमन्दां दियां आहीं कोलों बाहू,
आशिक मूल ना डरदे हू ।

72. दाल-दुनियां ढूंडन वाले कुत्ते

दाल-दुनियां ढूंडन वाले कुत्ते,
दर दर फिरन हैरानी हू ।
हड्डी उत्ते होड़ तिन्हां दी,
लड़दिआँ उमर वेहानी हू ।
अकल दे कोताह समझ ना जानण,
पीवन लोड़न पानी हू ।
बाझों ज़िकर रब्बाने बाहू,
कूड़ी राम कहानी हू ।

73. दाल-दिल दरिया ख़वाजा दियां लहरां

दाल-दिल दरिया ख़वाजा दियां लहरां,
घुंमन घेर हज़ारां हू ।
वहन दलीलां विच फ़िकर दे,
बेहद्द बेशुमारां हू ।
हक्क परदेसी दूजा नेहुं लग्गा,
त्रीया बेसमझी दियां हारां हू ।
हस्सन खेडन भुल्या बाहू,
इशक चुंघाईआं धारां हू ।

74. दाल-दरद अन्दर दा अन्दर साड़े

दाल-दरद अन्दर दा अन्दर साड़े,
बाहर करां तां घायल हू ।
हाल असाडा किवें उह जानण,
जो दुनियां ते मायल हू ।
बहर समुन्दर इशके वाला,
हरदम वहन्दा हायल हू ।
पहुंच हज़ूर असां ना बाहू,
नाम तेरे दे सायल हू ।

75. दाल-दुद्ध दहीं ते हर कोई रिड़के

दाल-दुद्ध दहीं ते हर कोई रिड़के,
आशक भाह रिड़केंदे हू ।
तन चटोरा मन मंधाणी,
आहीं नाल हिलेंदे हू ।
दुख दा नेतरा कढ्ढे लिशकारे,
हंझू पानी पवेंदे हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
हड्डों मक्खन कढेंदे हू ।

76. दाल-दलीलां छोड़ वज़ूदों

दाल-दलीलां छोड़ वज़ूदों,
हो हुश्यार फ़कीरा हू ।
बन्न्ह तवक्कल पंछी उडदे,
पल्ले खरच ना ज़ीरा हू ।
रोज़ी रोज़ उड खान हमेशा,
करदे नहीं ज़खीरा हू ।
मौला रिज़क पुचावे बाहू,
जो पत्थर विच कीड़ा हू ।

77. दाल-दिल बाज़ार ते मूंह दरवाज़ा

दाल-दिल बाज़ार ते मूंह दरवाज़ा,
सीना शहर डसेंदा हू ।
रूह सौदागर, नफस है राहज़न,
हक्क दा राह मरेंदा हू ।
जां तोड़ीं इह नफस ना मारें,
तां इह वकत खड़ेंदा हू ।
करदा ज़ाया वेला बाहू,
जां जां ताक मरेंदा हू ।

78. फे-फजरी वेले वकत सवेले

फे-फजरी वेले वकत सवेले,
आन करन मज़दूरी हू ।
कावां इल्ल्हां हिकसे गल्लां,
तरीजी रली चंडूरी हू ।
मारन चुंझां करन मुशक्कत,
पुट पुट कढ्ढन अंगूरी हू ।
उमर पुटेंदिआँ गुज़री बाहू,
कदी ना पईआ पूरी हू ।

79. फे-फ़िकर कुनो कर ज़िकर हमेशा

फे-फ़िकर कुनो कर ज़िकर हमेशा,
लफज़ तिक्खा तलवारों हू ।
ज़ाकिर सो जो ज़िकर कमावण,
पलक ना फारग यारों हू ।
इशक दा पुट्ट्या कोई ना छुट्या,
पुट्ट्या मुढ्ढ पहाड़ों हू ।
हक्क दा कलमा आशिक पढ़दे बाहू,
रखीं फकर दी मारों हू ।

80. गैन-गौस कुतब ने उरे उरेरे

गैन-गौस कुतब ने उरे उरेरे,
आशिक जान अगेरे हू ।
जेहड़ी मंज़िल आशिक पहुंचण,
गौस ना पावन फेरे हू ।
आशिक विच विसाल दे रहन्दे,
लामकानी डेरे हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां ज़ातो ज़ात बसेरे हू ।

81. गाफ-गुझे साए साहब वाले

गाफ-गुझे साए साहब वाले,
कुझ खबर नहीं असल दी हू ।
गन्दम दाना बहुता चुग्या,
गल पई डोर अज़ल दी हू ।
फाही दे विच मैं पई तड़फां,
बुलबुल बाग़ मिसल दी हू ।
ग़ैर दिले थीं सुट्ट के बाहू,
रक्ख उमीद फज़ल दी हू ।

82. गाफ-गूढ़ ज़ुलमात अंधेर गुबारां

गाफ-गूढ़ ज़ुलमात अंधेर गुबारां,
अग्गे राह ने खौफ खतर दे हू ।
लक्ख आबहयात मुनव्वर चशमे,
साए ज़ुलफ अम्बर दे हू ।
मुख महबूब दा ख़ाना काअबा,
आशक सजदा करदे हू ।
दो ज़ुलफां विच नैन मुसल्ले,
चार मज़्हब जित्थ मिलदे हू ।
मिसल सकन्दर ढूंडन आशक,
इक पलक आराम ना करदे हू ।
खिज़र नसीब जिन्हां दे बाहू,
उह जा घुट्ट ओथे भरदे हू ।

83. गाफ-गोदड़ियां विच लाल जिन्हां दी

गाफ-गोदड़ियां विच लाल जिन्हां दी,
रातीं जागन अद्धियां हू ।
सिक्क माही दी टिकन ना देंदी,
लोक अन्न्हे देंदे बदियां हू ।
अन्दर मेरा हक्क तपाया,
खल्यां रातीं कढ्ढियां हू ।
तन थीं मास जुदा होया बाहू,
सोख झुलारे हड्डियां हू ।

84. गाफ-ग्या ईमान इशके दे पारों

गाफ-ग्या ईमान इशके दे पारों,
हो के काफर रहीए हू ।
घत्त ज़ुनार कुफ़र दा गल विच,
बुतख़ाने विच बहीए हू ।
जिस जा जानी नज़र न आवे,
सजदा मूल न दईए हू ।
जानी नज़र न आवे बाहू,
कलमा मूल न कहीए हू ।

85. गाफ-घड़ी घड़ी विच हाज़र करदा

गाफ-घड़ी घड़ी विच हाज़र करदा,
पल पल दे विच देरी हू ।
दिल विच खौफ रज़ा रब्बे दा बाहू,
रब्ब करे ना टेरी हू ।
खौफ रज़ा विच दिल दे करीए,
रब्ब विच मेरी हू ।
जिन्हां खौफ रब्बे दा बाहू,
उन्हां वनज बधे नी सेरी हू ।

86. हे-हाफिज़ पढ़ पढ़ करन तकब्बर

हे-हाफिज़ पढ़ पढ़ करन तकब्बर,
मुल्लां करन वड्याई हू ।
सावन माह दे बद्दलां वांगूं,
फिरन किताबां चाई हू ।
जिथे वेखन चंगा चोखा,
पढ़न कलाम सवाई हू ।
दोहीं जहानीं मुट्ठे बाहू,
जिन्हां खाधी वेच कमाई हू ।

87. हे-हू दा जामा पहन कराहां

हे-हू दा जामा पहन कराहां,
इसम कमावन ज़ाती हू ।
कुफ़र इसलाम मुकाम न मंज़िल,
न ओथे मौत हयाती हू ।
न ओथे मशरिक न ओथे मग़रिब,
न ओथे दिन ते राती हू ।
शाह रग थीं नज़दीक लधोसु,
पा अन्दरूनी झाती हू ।
उह असां विच असीं उन्हां विच,
दूर रही कुरबाती हू ।

88. हे-हादी सानूं सबक पढ़ाया

हे-हादी सानूं सबक पढ़ाया,
बिन पढ़आ पिआ पढ़ीवे हू ।
सिर कन्नां विच वस रहयो सी,
बिन सुण्या पिआ सुणीवे हू ।
नैन नैणां वल तुर तुर तकण,
बिन डिठ्यां पिआ दिसीवे हू ।
रोवन झकन गाली देवन नाल ढोल बाहू,
कूड़ी तर्हां वटीवे हू ।

89. हे-हरदम शरम दी तन्द तरोड़े

हे-हरदम शरम दी तन्द तरोड़े,
जां इह छोड कबल्ले हू ।
किचरक बालां अकल दा दीवा,
बिरहों हन्हेरी झुले हू ।
उजड़ ग्यां दे भेत न्यारे,
लाल जवाहर रुल्ले हू ।
बाहू धोत्यां दाग न लहन्दे,
जित्थे रंग मजीठी डुल्हे हू ।

90. हे-हस्सन दे के रोवन ल्योई

हे-हस्सन दे के रोवन ल्योई,
दित्ता किस दिलासा हू ।
उमर बन्दे दे इवें वेहाणी,
ज्युं पानी विच पतासा हू ।
सौड़ी सामी सुट्ट घत्तीसु,
पलट न सकें पासा हू ।
साहब लेखा मंगसी बाहू,
रत्ती घट्ट न मासा हू ।

91. हे-होर दवा न दिल दी कारी

हे-होर दवा न दिल दी कारी,
कलमा दिल दी कारी हू ।
कलमा दूर ज़ंगार करेंदा,
कलमे मैल उतारी हू ।
कलमा हीरे लाल जवाहर,
कलमा हट्ट पसारी हू ।
एथे ओथे दोहीं जहानीं बाहू,
कलमा दौलत सारी हू ।

92. हे-हक्क जागन हिक्क जाग न जानण

हे-हक्क जागन हिक्क जाग न जानण,
हक्क जागदिआँ ही सुत्ते हू ।
हक्क सुत्यां जा विसाल होए,
हक्क जागदिआँ ही मुट्ठे हू ।
की होया जे घुगू जागे,
जो लैंदा साह अपुट्ठे हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां खूह प्रेम दे जुत्ते हू ।

(विसाल=मिलणा, घुगू=उल्लू)


93. हे-हू सौदागरी सौदा एहो

हे-हू सौदागरी सौदा एहो
दुनियां चार देहाड़ी हू ।
जां जां दिल विच मौजां माणे,
मौत मरेंदी तारी हू ।
कर कुझ मेहनत हासल होवे,
जूं जूं हत्थ पसारी हू ।
रल चोरां ने पुर चढ़ाया,
रब्ब सही सलामत जारी हू ।
चल बाज़ार कुझ करीए बाहू,
दुशमन हत्थ कटारी हू ।

94. जीम-जो दिल मंगे होवे नाहीं

जीम-जो दिल मंगे होवे नाहीं,
होवन रेहा परेरे हू ।
दोसत न देवे दिल दा दारू,
इशक न वागां फेरे हू ।
इस मैदान मुहब्बत वाले,
मिलदे ताय तिखेरे हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां रख्या कदम अगेरे हू ।

95. जीम-जे तूं चाहें वहदत रब्ब दी

जीम-जे तूं चाहें वहदत रब्ब दी,
मल मुरशिद दियां तलियां हू ।
मुरशिद लुतफ़ों करे नज़ारा,
गुल थीवन सभ कलियां हू ।
उन्हां कलियां विच हिक लाला होसी,
गुल नाज़ुक कुल फलियां हू ।
दोहीं जहानी मुट्ठे बाहू,
जिन्हां संग कीता दो वलियां हू ।

96. जीम-जिन्हां अलिफ़ मुताल्या कीता

जीम-जिन्हां अलिफ़ मुताल्या कीता,
बे दा बाब न पढ़दा हू ।
छोड़ सिफ़ाती जिस लध्योसु ज़ाती,
आमी नाल न रलदा हू ।
नफ़स अम्मारा कुतड़ा जाणे,
नाज़ न्याज़ न धरदा हू ।
क्या परवाह तिन्हां नूं बाहू,
जिन्हां घाड़ू लद्धा घरदा हू ।

(बाब=दूजा पाठ, अम्मारा=बुरा,
घाड़ू=घड़न वाला,गुरू)


97. जीम-जिस दिल इशक खरीद न कीता

जीम-जिस दिल इशक खरीद न कीता,
सो दिल बख़त नबख़ती हू ।
उसताद अज़ल दे सबक पढ़ाया,
हत्थ दित्तुस दिल तख़ती हू ।
बरसर आया दंम न मारीं,
जां सिर आवे सख़ती हू ।
पढ़ तौहीद हो वासिल बाहू,
सबक पढ़ीवे वकती हू ।

98. जीम-जैं दिल इशक खरीद न कीता

जीम-जैं दिल इशक खरीद न कीता,
सो दिल दरद न जाने हू ।
खुनसे खुसरे हर कोई आखे,
कौन कहे मरदाने हू ।
गलियां विच फिरन हर वेले,
जिवें जंगल ढोर दीवाने हू ।
मरद नमरद ताहीं खुलसन बाहू,
जद आशक बन्न्हसन गाने हू ।

99. जीम-जित्थे रत्ती इशक विकावे

जीम-जित्थे रत्ती इशक विकावे,
ओथे मुल ईमान देवीवे हू ।
कुतब किताबां विरद वज़ीफ़े,
इह भी उतर कचीवे हू ।
बाझों मुरशद कुझ न हासिल,
तोड़े रातीं जाग पढ़ीवे हू ।
मरीए मरन थीं अग्गे बाहू,
तां रब्ब हासिल थीवे हू ।

(तोड़े=भावें)


100. जीम-जंगल दे विच शेर मरेला

जीम-जंगल दे विच शेर मरेला,
बाज़ पवे विच घर दे हू ।
इशक जेहा असराफ न कोई,
कज न छोड़े ज़र दे हू ।
आशिकां नींदर भुक्ख न कोई,
आशिक मूल न मरदे हू ।
आशिक ज्युंदे तदां बाहू,
जद रब्ब अग्गे सिर धरदे हू ।

(कज=घाट, ज़र=सोना)


101. जीम-जिन्हां इशक हकीकी पाया

जीम-जिन्हां इशक हकीकी पाया,
मूंहों न कुझ अलावन हू ।
ज़िकर फ़िकर विच रहन हमेशा,
दम नूं कैद लगावन हू ।
नफसी कलबी रूही सिर्री,
अख़फी ख़फ़ी कमावन हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जेहड़े हिकस निगाह जगावन हू ।

102. जीम-ज्युंदे की जानन सार मोयां दी

जीम-ज्युंदे की जानन सार मोयां दी,
सो जाने जो मरदा हू ।
कबरां दे विच अन्न न पाणी,
खरच लोड़ींदा घर दा हू ।
इक विछोड़ा मां प्यु भाईआं,
ब्या अज़ाब कबर दा हू ।
वाह नसीब उहन्दा बाहू,
जेहड़ा विच हयाती मरदा हू ।

(ब्या=दूजा, अज़ाब=दुक्ख)


103. जीम-जैं दिल इशक खरीद न कीता

जीम-जैं दिल इशक खरीद न कीता,
सो दिल दरद ना फुट्टी हू ।
उस दिल थीं संग पत्थर चंगे,
जो दिल ग़फलत अट्टी हू ।
जैं दिल इशक हज़ूर ना मंग्या,
सो दरगाहों सुट्टी हू ।
मिल्या दोसत ना बाहू जिन्हां,
चौड़ ना कीती तरट्टी हू ।

104. जीम-जो पाकी बिन पाक माही दे

जीम-जो पाकी बिन पाक माही दे,
सो पाकी जान पलीती हू ।
हक्क बुतख़ाने वासिल होए,
हक्क खाली रहे मसीती हू ।
इशक दी बाज़ी लाई जिन्हां,
सिर देंदिआँ ढिल ना कीती हू ।
हरगिज़ दोसत ना मिलदा बाहू,
जिन्हां तरट्टी चौड़ ना कीती हू ।

105. जीम-जैं डेंह दा मैं दर तैंडे ते

जीम-जैं डेंह दा मैं दर तैंडे ते,
सिजदा सही वंज कीता हू ।
उस डेंह दा सिर फ़िदा उथाईं,
मैं ब्या दरबार ना लीता हू ।
सिर देवन सिर आखन नाहीं,
शौक पिआला पीता हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां इशक सलामत कीता हू ।

106. जीम-जिन्हां शौह अलिफ़ थीं पाया

जीम-जिन्हां शौह अलिफ़ थीं पाया,
फोल कुरान ना पढ़दे हू ।
उह मारन दम मुहब्बत वाला,
दूर होए ने परदे हू ।
दोज़ख बहशत ग़ुलाम तिन्हां दे,
चा कीतो ने बरदे हू ।
मैं कुरबान तिन्हां दे बाहू,
जेहड़े वहदत दे विच वड़दे हू ।

(दोज़ख=नरक, बहशत=सुरग,
बरदे=नौकर)


107. जीम-जब लग खुदी करें खुद नफ़सों

जीम-जब लग खुदी करें खुद नफ़सों,
तब लग रब्ब ना पावें हूं ।
शरत फन्हा नूं जाणें नाहीं,
नाम फ़कीर रखावें हूं ।
मोए बाझ ना सोहन्दी अलफी,
ऐवें गल विच पावें हू ।
नाम फ़कीर तदां सोहन्दा बाहू,
जे ज्युंदिआँ मर जावें हू ।

108. जीम-जो दम गाफ़िल सो दम काफ़िर

जीम-जो दम गाफ़िल सो दम काफ़िर,
मुरशिद इह पढ़ाया हू ।
सुण्यां सुखन गईआं खुल्ह अक्खीं,
चित मौला वल लाया हू ।
कीती जान हवाले रब्ब दे,
ऐसा इशक कमाया हू ।
मरन थीं अग्गे मर गए बाहू,
तां मतलब नूं पाया हू ।

109. जीम-जीवन्दिआँ मर रहना होवे

जीम-जीवन्दिआँ मर रहना होवे,
तां वेस फ़कीरां बहीए हू ।
जे कोई सुट्टे गुदड़ कूड़ा,
वांग अरूड़ी सहीए हू ।
जे कोई देवे गाल्हां मेहणे,
उस नूं जी जी कहीए हू ।
गिला उल्हामां भंडी खवारी,
यार दे पारों सहीए हू ।
कादर दे हत्थ डोर असाडी बाहू,
ज्युं रक्खे त्युं रहीए हू ।

110. जीम-जेकर दीन इलम विच होंदा

जीम-जेकर दीन इलम विच होंदा,
सिर नेज़े क्युं चढ़दे हू ।
अठारां हज़ार जो आलम आहा,
अग्गे हुसैन दे मरदे हू ।
जे मुलाहजा सरवर करदे,
खैमे तम्बू क्युं सड़दे हू ।
जेकर मन्नदे बैत रसूली,
पानी क्युं बन्द करदे हू ।
सादक दीन तिन्हां दा बाहू,
जो सिर कुरबानी करदे हू ।

111. जीम-जद दा मुरशद कासा दित्ता

जीम-जद दा मुरशद कासा दित्ता,
तद दी बेपरवाही हू ।
की होया जे रातीं जागे,
मुरशद जाग ना लाई हू ।
रातीं जागें करें इबादत,
देंह निन्द्या करें पराई हू ।
कूड़ा तखत दुनियां दा बाहू,
फ़क्कर सच्ची पातशाही हू ।

112. जीम-जे रब्ब न्हात्यां धोत्यां मिलदा

जीम-जे रब्ब न्हात्यां धोत्यां मिलदा,
मिलदा डड्डूआं मच्छियां हू ।
जे रब्ब मिलदा मोन मुनायां,
मिलदा भेडां सस्सियां हू ।
जे रब्ब रातीं जाग्यां मिलदा,
मिलदा काल-कड़च्छियां हू ।
जे रब्ब जतियां सतियां मिलदा,
मिलदा डांडां खस्सियां हू ।
रब्ब उन्हां नूं मिलदा बाहू,
नीतां जिन्हां अच्छियां हू ।

113. जीम-जाल जलेंदिआँ जंगल भौंदिआँ

जीम-जाल जलेंदिआँ जंगल भौंदिआँ,
हक्का गल्ल ना पक्की हू ।
चिल्ले चल्लीए हज्ज गुज़ारियां,
दिल दी दौड़ ना डक्की हू ।
तरीहे रोज़े पंज नमाज़ां,
इह भी पढ़ पढ़ थक्की हू ।
सभे मुरादां हासल बाहू,
जां नज़र मेहर दी तक्की हू ।

114. जीम-जां जां ज़ात ना थीवे बाहू

जीम-जां जां ज़ात ना थीवे बाहू,
तां कमज़ात सदीवे हू ।
ज़ाती नाल सिफाती नाहीं,
तां तां हक्क लभीवे हू ।
अन्दर भी हू बाहर भी हू,
बाहू कित्थ लभीवे हू ।
जैं अन्दर हुब्ब दुनियां बाहू,
उह मूल फ़कीर ना थीवे हू ।

115. जीम-जिस दिल इसम अल्ला दा चमके

जीम-जिस दिल इसम अल्ला दा चमके,
इशक भी करदा हल्ले हू ।
भाह कसतूरी छुपदी नाहीं,
दे रक्खीए सै पल्ले हू ।
उंगली पिछे देंह ना छुपदा,
दरिया ना रहन्दे ठल्ले हू ।
असीं उस विच उह असां विच बाहू,
यारां यार सवल्ले हू ।

116. काफ-कलब हिल्या तां क्या होया

काफ-कलब हिल्या तां क्या होया,
क्या होया ज़िकर ज़बानी हू ।
रूही कलबी मख़फी सिर्री,
सभ्भे राह हैरानी हू ।
शाह रग तों नज़दीक जो रहन्दा,
यार ना मिल्या जानी हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
जेहड़े वसदे लामकानी हू ।

117. काफ-कर मुहब्बत कुझ हासल होवे

काफ-कर मुहब्बत कुझ हासल होवे,
उमर इह चार देहाड़े हू ।
थी सौदागर कर लै सौदा,
जां जां हट्ट ना ताड़े हू ।
जे जाने दिल ज़ौक मनेसी,
मौत मरेंदी धाड़े हू ।
चोरां साधां पूर भराया बाहू,
रब्ब यार सलामत चाढ़े हू ।

118. काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे

काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे,
जद कल कलमे वंज खोली हू ।
कलमा आशिक ओथे पढ़दे,
जित्थे नूर नबी दी होली हू ।
चौदां तब्बक कलमे दे अन्दर,
की जाने ख़लकत भोली हू ।
कलमा पीर पढ़ाया बाहू,
जिन्द जान ओसे तों घोली हू ।

(कल=समझ, कल=जिन्दा)


119. काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे

काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे,
जद कलमे दिल फड़्या हू ।
बेदरदां नूं खबर ना कोई,
दरदमन्दां गल मढ़आ हू ।
कुफर इसलाम दा पता लग्गा,
जद भन्न जिगर विच वड़्या हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां कलमा सही कर पढ़आ हू ।

120. काफ-कुन फयकून जदों फुरमायासु

काफ-कुन फयकून जदों फुरमायासु,
असां भी कोले हासे हू ।
हक्के ज़ात सिफात रब्बे दी,
हक्के जग ढूंड्यासे हू ।
हक्के लामकान असाडा,
हक्के आण बुत्तां विच फासे हू ।
नफस पलीत पलीती बाहू,
असल पलीत तां नासे हू ।

(कुन फयकून=अल्ल्हा ने केहा
'हो जा' ते स्रिशटी हो गई)


121. काफ-क्या होया बुत्त दूर ग्या

काफ-क्या होया बुत्त दूर ग्या,
दिल हरगिज़ दूर ना थीवे हू ।
सैआं कोहां ते वसदा मुरशद,
मैनूं विच हज़ूर दिसीवे हू ।
जैंदे अन्दर इशक दी रत्ती,
उह बिन शराबों खीवे हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
कबर जिन्हां दी जीवे हू ।

122. काफ-कर इबादत पछोतासें

काफ-कर इबादत पछोतासें,
तैंडी जाया गई जवानी हू ।
आरफ दी गल्ल आरफ जाने,
क्या जाने नफ़सानी हू ।
रातीं रत्ती नींद ना आवे,
देहां फिरां हैरानी हू ।
वाह नसीब तिन्हां दे बाहू,
जिन्हां मिल्या पीर जीलानी हू ।

123. काफ-कूक दिला मत्त रब्ब सुने चा

काफ-कूक दिला मत्त रब्ब सुने चा,
दरदमन्दां दियां आहीं हू ।
सीना मेरा दरदीं भरिया,
अन्दर भड़कन भाहीं हू ।
तेलां बाझ ना बलन मसालां,
दरदां बाझ ना आहीं हू ।
आतश नाल यराना ला के बाहू,
फिर ओह सड़न कि नाहीं हू ।

124. काफ-कामल मुरशद ऐसा होवे

काफ-कामल मुरशद ऐसा होवे,
जेहड़ा धोबी वांगूं छट्टे हू ।
नाल निगाह दे पाक करे,
सज्जी साबन ना घत्ते हू ।
मैल्यां नूं कर देवे चिट्टा,
ज़रा मैल ना रक्खे हू ।
ऐसा मुरशद होवे बाहू,
लूं लूं दे विच वस्से हू ।

125. काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे

काफ-कलमे दी कल तदां प्योसे,
जद मुरशद कलमा दस्या हू ।
सारी उमर विच कुफ़र दे जाली,
बिन मुरशद दे वस्या हू ।
शाह अली शेर बहादर वांगण,
वढ्ढ कुफ़र नूं सुट्या हू ।
दिल साफी तां होवे बाहू,
जां कलमां लूं लूं रस्या हू ।

126. काफ-कलमे नाल मैं न्हाती धोती

काफ-कलमे नाल मैं न्हाती धोती,
कलमे नाल व्याही हू ।
कलमे मेरा पढ़आ जनाज़ा,
कलमे गोर सुहाई हू ।
कलमे नाल बहशती जाणा,
कलमा करे सफाई हू ।
मुड़न मुहाल तिन्हां नूं बाहू,
जिन्हां साहब आप बुलाई हू ।

127. काफ-कलमे लक्ख करोड़ां तारे

काफ-कलमे लक्ख करोड़ां तारे,
वली कीते सै राहीं हू ।
कलमे नाल बुझाए दोज़ख,
जित्थे अग्ग बले अज़गाहीं हू ।
कलमे नाल बहशती जाणा,
जित्थे न्यामत संझ सबाहीं हू ।
कलमे जेही कोई न्यामत ना बाहू,
अन्दर दोहीं सराईं हू ।

(अज़गाहीं=बेअंत)


128. काफ-कुल काबिल कवीशर कहन्दे

काफ-कुल काबिल कवीशर कहन्दे,
कारन दरद बहर दे हू ।
शश ज़मीं ते शश फ़लक ते,
शश पानी ते तरदे हू ।
छ्यां हरफ़ां विच सुखन अठारां,
दो दो मानी धरदे हू ।
बाहू हक्क पछानन नाहीं,
पहले हरफ़ सतर दे हू ।

129. ख़े-ख़ाम की जानन सार फ़कर दी

ख़े-ख़ाम की जानन सार फ़कर दी,
महरम नाहीं दिल दे हू ।
आब मिट्टी थीं पैदा होए,
ख़ामी भांडे गिल्ल दे हू ।
कदर की जानन लाल जवाहरां,
जो सौदागर बिल दे हू ।
उह खढ़न ईमान सलामत बाहू,
जेहड़े भज्ज फ़कीरां मिलदे हू ।

(ख़ाम-कच्चा, महरम=भेती,
गिल्ल=मिट्टी, बिल=शीशा)


130. लाम-लायूहताज जिन्हां नूं होया

लाम-लायूहताज जिन्हां नूं होया,
फ़िकर तिन्हां नूं सारा हू ।
नज़र जिन्हां दी कीमीया होवे,
उह क्युं मारन पारा हू ।
दोसत जिन्हां दा हाज़िर होवे,
दुशमन लैन ना वारा हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां मिल्या नबी सहारा हू ।

(लायूहताज=बेमुहताजी,सबर,
वारा=मौका)


131. लाम-लिखन सिख्यों लिख ना जाता

लाम-लिखन सिख्यों लिख ना जाता,
कागज़ कीतोई ज़ाया हू ।
कत कलम नूं मार ना जाणें,
कातिब नाम धराया हू ।
सभ असलाह तेरी होसी खोटी,
जां कातिब हत्थ आया हू ।
सही सलाह तिन्हां दी बाहू,
जिन्हां अलिफ़ ते मीम पकाया हू ।

(कातिब=ख़ुसखत लिखन वाला)


132. लाम-लाम लाह-हो ग़ैरी धन्दे

लाम-लाम लाह-हो ग़ैरी धन्दे,
हक्क पल मूल ना रहन्दे हू ।
इशक ने पुटे रुक्ख जढ़ां थीं,
हक्क दम हौल ना सहन्दे हू ।
जेहड़े पत्थर वांग पहाड़ां,
लून वांग गल वहन्दे हू ।
जे इशक सुखाला हुन्दा बाहू,
सभ आशिक बण बहन्दे हू ।

(हौल=डर)


133. लाम-लोक कबर दा करसन चारा

लाम-लोक कबर दा करसन चारा,
लहद बणावन डेरा हू ।
चुटकी भर मिट्टी दी पासण,
करसन ढेर उचेरा हू ।
दे दरूद घरां नूं वंजण,
कूकन शेरा शेरा हू ।
विच दरगाह न अमलां बाझों,
बाहू होग नबेड़ा हू ।

(चारा=त्यारी, लहद=कबर,
दरूद=मौत वेले दा कलमा)


134. लाम-लोहा होवें पिआ कटीवें

लाम-लोहा होवें पिआ कटीवें,
तां तलवार सदीवें हू ।
कंघी वांगूं पिआ चरीवें,
ज़ुलफ महबूब भरीवें हू ।
महन्दी वांगूं पिआ घुटीवें,
तली महबूब रंगीवें हू ।
वांग कपाह पिआ पिंजीवें,
तां दसतार सदीवें हू ।
आशिक सादिक होवें बाहू,
तां रस प्रेम दा पीवें हू ।

135. मीम-माल जान सभ खरच कराहां

मीम-माल जान सभ खरच कराहां,
करीए खरीद फ़कीरी हू ।
फ़कर कनो रब्ब हासल होवे,
क्युं कीचे दिलगीरी हू ।
दुनियां कारन दीन वंजावण,
कूड़ी शेखी पीरी हू ।
तरक दुनियां थीं कीती बाहू,
शाह मीरां दी मीरी हू ।

(मीरी=बादशाही)


136. मीम-मूतू वाली मौत ना मिलसी

मीम-मूतू वाली मौत ना मिलसी,
जैं विच इशक हयाती हू ।
मौत विसाल थीओसे हिक्को,
जदां इसम पढ़ीवे ज़ाती हू ।
ऐन दे विच ऐन थीओसे,
दूर होई कुरबाती हू ।
हू ज़िकर हमेश सड़ेंदा बाहू,
देहां सुख ना राती हू ।

(मूतू=मौतों पहलां मरना)


137. मीम-मुरशिद वांग सुन्यारे होवे

मीम-मुरशिद वांग सुन्यारे होवे,
घत्त कुठाली गाले हू ।
जां कुठालीयों बाहर कढ्ढे,
बुन्दे घड़े जां वाले हू ।
कन्नीं ख़ूबां तदों सुहावन,
जदां कुट्ठे आ उजाले हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
जेढ़ा दमदम दोसत संभाले हू ।

138. मीम-मुरशद मक्का, तालिब हाजी

मीम-मुरशद मक्का, तालिब हाजी,
काअबा इशक बणाया हू ।
विच हज़ूर सदा हर वेले,
करीए हज्ज सवाया हू ।
हक्क दम मैथों जुदा ना होवे,
दिल मिलने ते आया हू ।
मुरशद ऐन हयाती बाहू,
लूं लूं विच समाया हू ।

139. मीम-मुरशद उह सहेड़ीए

मीम-मुरशद उह सहेड़ीए,
जेहड़ा दो जग्ग खुशी विखावे हू ।
पहले ग़म टुकड़े दा मेटे,
वत्त रब्ब दा राह सुझावे हू ।
कल्लर वाली कंधी नूं चा,
चांदी खास बणावे हू ।
जैं मुरशद एथे कुझ ना कीता बाहू,
कूड़े लारे लावे हू ।

140. मीम-मुरशद बाझों फ़कर कमावे

मीम-मुरशद बाझों फ़कर कमावे,
विच कुफ़र दे बुड्डे हू ।
शेख मशायख हो बहन्दे हुजरे,
गौस कुतब बण वड्डे हू ।
रात अंधारी मुशकल पैंडा,
सै सै आवन ठुड्डे हू ।
तसबीहां नप्प बहन मसीतीं बाहू,
जिवें मूश बहे वड़ खुड्डे हू ।

(मूश=चूहा)


141. मीम-मैं कोझी मेरा दिलबर सोहणा

मीम-मैं कोझी मेरा दिलबर सोहणा,
क्युं कर उस नूं भावां हू ।
वेहड़े साडे वड़दा नाहीं,
लक्ख वसीले पावां हू ।
ना सोहनी ना दौलत पल्ले,
क्युं कर यार मनावां हू ।
इह दुख हमेशा रहसी बाहू,
रोंदड़ी ही मर जावां हू ।

142. मीम-मुरशद मैनूं हज्ज मक्के दा

मीम-मुरशद मैनूं हज्ज मक्के दा,
रहमत दा दरवाज़ा हू ।
करां तवाफ दुआले बिले,
हज्ज होवे नित ताज़ा हू ।
कुन फयकून जदों दा सुण्या,
डिट्ठा अल्ला दा दरवाज़ा हू ।
मुरशिद सदा हयाती वाला बाहू,
ओहो खिज़र खुवाज़ा हू ।

143. मीम-मुरशद मेरा शहबाज़ इलाही

मीम-मुरशद मेरा शहबाज़ इलाही,
रल्या संग हबीबां हू ।
तकदीर इलाही छिक्कियां डोरां,
मिलसी नाल नसीबां हू ।
कोहड़्यां दे दुख दूर करेंदा,
करे शफा गरीबां हू ।
हर मरज़ दा दारू तूं हैं बाहू,
क्युं घत्तना एं वस्स तबीबां हू ।

144. मीम-मुरशद वस्से सै कोहां ते

मीम-मुरशद वस्से सै कोहां ते,
मैनूं दिस्से नेड़े हू ।
की होया बुत्त ओहले होया,
उह वस्से विच मेरे हू ।
अलिफ़ दी ज़ात सही जिस कीती,
उह रक्खे कदम अगेरे हू ।
नहनु-अकरब लभ्योसु बाहू,
झगड़े कुल निबेड़े हू ।

145. मीम-मज़्हबां दे दरवाज़े उचे

मीम-मज़्हबां दे दरवाज़े उचे,
राह रब्बाना मेरी हू ।
पंडित ते मुलवाण्यां कोलों,
छुप छुप लंघीए चोरी हू ।
अड्डियां मारन करन बखेड़े,
दरदमन्दां दे खोरी हू ।
बाहू चल उथाईं वस्सीए,
जित्थे दाअवा ना किसे होरी हू ।

146. मीम-मुरशद हादी सबक पढ़ाया

मीम-मुरशद हादी सबक पढ़ाया,
पढ़यों बिनां पढ़ीवे हू ।
उंगलियां कन्नां विच दित्तियां,
सुण्यों बिनां सुणीवे हू ।
नैन नैणां वल तुर तुर तकदे,
डिठ्युं बिनां डसीवे हू ।
हर ख़ाने विच जानी बाहू,
कून सिर उह रखीवे हू ।

147. मीम-मैं शाहबाज़ करां परवाज़ां

मीम-मैं शाहबाज़ करां परवाज़ां,
विच अफलाक करम दे हू ।
ज़बां तां मेरी कुन्न बराबर,
मोड़ां कंम कलम दे हू ।
अफलातून अरसतू वरगे,
मैं अग्गे किस कंम दे हू ।
हातिम वरगे लक्ख करोड़ां,
दर बाहू दे मंगदे हू ।

148. नून-नाल कुसंगी संग ना करीए

नून-नाल कुसंगी संग ना करीए,
कुल नूं लाज ना लाईए हू ।
तुंमे मूल तरबूज़ ना हुन्दे,
तोड़ मक्के लै जाईए हू ।
कां दे बच्चे हंस ना थींदे,
पए मोती चोग चुगाईए हू ।
कौड़े खूह ना मिट्ठे हुन्दे बाहू,
सै मणां खंड पाईए हू ।

149. नून-ना मैं आलम ना मैं फाज़ल

नून-ना मैं आलम ना मैं फाज़ल,
ना मैं मुफती काज़ी हू ।
ना मेरा दिल दोज़ख मंगे,
ना शौक बहशती राज़ी हू ।
ना मैं त्रीहे रोज़े रक्खे,
ना मैं पाक नमाज़ी हू ।
बाझ वसाल अल्ला दे बाहू,
दुनियां कूड़ी बाज़ी हू ।

150. नून- ना उह हिन्दू ना उह मोमन

नून- ना उह हिन्दू ना उह मोमन,
ना सिजदा देन मसीती हू ।
दम दम दे विच मौला वेखण,
जिन्हां कज़ा ना कीती हू ।
आहे दाने बने दीवाने,
जिन्हां ज़ात सही वंज कीती हू ।
मैं कुरबान तिन्हां तों बाहू,
जिन्हां इशक बाज़ी चुन लीती हू ।

151. नून-नित्त असाडे खल्ले खांदी

नून-नित्त असाडे खल्ले खांदी,
एहा दुनियां ज़िशती हू ।
जैं दे कारन बह बह रोवण,
शेख मशायख चिशती हू ।
जैंदे दिल विच हुब्ब दुन्यावी,
ग़रक तिन्हां दी किशती हू ।
तरक दुनियां थीं कर तूं बाहू,
खासा राह बहशती हू ।

152. नून-ना कोई मुरशद ना कोई तालिब

नून-ना कोई मुरशद ना कोई तालिब,
सभ दिलासे मुट्ठे हू ।
राह फ़कर दा परे परेरे,
हरस दुनियां दी कुट्ठे हू ।
शौक इलाही ग़ालिब होया,
जिन्द मरन तों उट्ठे हू ।
जैं तन भाह बिरहों दी बाहू,
मरन त्रेहाए भुक्खे हू ।

153. नून-ना रब्ब अरश मुअल्ला उते

नून-ना रब्ब अरश मुअल्ला उते,
ना रब्ब ख़ाने काअबे हू ।
ना रब्ब इलम किताबी लभ्भा,
ना रब्ब विच महराबे हू ।
गंगा तीरथ मूल ना मिल्या,
पैंडे बेहसाबे हू ।
जद दा मुरशद फड़्या बाहू,
छुट्टे सभ अजाबे हू ।

154. नून-नफल नमाज़ां कंम ज़नानां

नून-नफल नमाज़ां कंम ज़नानां,
रोज़े सरफा रोटी हू ।
मक्के दे वल सोई जांदे,
घरों जिन्हां तरोटी हू ।
उचियां बांगां सोई देवण,
नीत जिन्हां दी खोटी हू ।
की परवाह तिन्हां नूं बाहू,
जिन्हां घर विच लद्धी बूटी हू ।

155. नून-ना मैं जोगी ना मैं जंगम

नून-ना मैं जोगी ना मैं जंगम,
ना मैं चिला कमाया हू ।
ना मैं भज्ज मसीतीं वड़्या,
ना तसबा खड़काया हू ।
जो दम गाफिल सो दम काफ़िर,
मुरशद इह फुरमाया हू ।
मुरशद सोहनी कीती बाहू,
पल विच जा पहुंचाया हू ।

156. नून-नहीं फ़कीरी जल्लियां मारन

नून-नहीं फ़कीरी जल्लियां मारन,
सुत्यां लोक जगावन हू ।
नहीं फ़कीरी वहन्दियां नदियां,
सुक्यां परा लंघावन हू ।
नहीं फ़कीरी विच हवा दे,
मसल्ला पा ठहरावन हू ।
नाम फ़कीरी तिन्हां दा बाहू,
दिल विच दोसत टिकावन हू ।

157. नून-ना मैं सुन्नी ना मैं शिया

नून-ना मैं सुन्नी ना मैं शिया,
दोहां तों दिल सड़्या हू ।
मुक गए सभ खुशकी पैंडे,
जद दरिया रहमत वड़्या हू ।
कई मनतारे तर तर हारे,
कोई किनारे चढ़आ हू ।
सही सलामत पार गए बाहू,
जिन मुरशद दा लड़ फड़्या हू ।

158. नून-ना मैं सेर ना पाय छटाकी

नून-ना मैं सेर ना पाय छटाकी,
न पूरी सरसाही हू न मैं तोला ना मैं मासा,
गल्ल रत्तियां ते आई हू ।
रत्ती होवां रत्तियां तुल्लां,
उह वी पूरी नाहीं हू ।
तोल पूरा वंज होसी बाहू,
होसी फ़जल इलाही हू ।

159. नून-नेड़े वस्से दूर दिसीवे

नून-नेड़े वस्से दूर दिसीवे,
वेहड़े नाहीं वड़दे हू ।
अन्दरों ढूंडन वल्ल ना आया,
बाहर ढूंडन चढ़दे हू ।
दूर ग्यां कुझ हासिल नाहीं,
शौह लभ्भे विच घर दे हू ।
दिल कर शीशे वांगूं बाहू,
दूर थीवन कुल्ल परदे हू ।

160. पे-पढ़ पढ़ इलम मलूक रिझावन

पे-पढ़ पढ़ इलम मलूक रिझावन,
क्या होया इस पढ़आं हू ।
हरगिज़ मक्खन मूल ना आवे,
फिट्टे दुद्ध दे कढ़आं हू ।
आख चंडूरा हत्थ की आया,
एस अंगूरी फड़्यां हू ।
दिल खसता राज़ी रक्खीं बाहू,
लईं इबादत वर्हआं हू ।

161. पे-पाक पलीत ना हुन्दे हरगिज़

पे-पाक पलीत ना हुन्दे हरगिज़,
जो रहन्दे विच पलीती हू ।
वहदत दे दरिया उछल्ले,
हक्क दिल सही ना कीती हू ।
हक्क बुतखाने वासल होए,
हक्क पढ़ पढ़ रहे मसीती हू ।
फाज़ल छोड फज़ीलत बैठे बाहू,
इशक बाज़ी जिन नीती हू ।

162. पे-पीर मिल्यां जे पीड़ ना जावे

पे-पीर मिल्यां जे पीड़ ना जावे,
उस नूं पीर की धरना हू ।
मुरशद मिल्यां अरशाद ना मन नूं,
उह मुरशद की करना हू ।
जिस हादी थीं हदायत नाहीं,
उह हादी की फड़ना हू ।
सिर दित्त्यां हक्क राज़ी होवे बाहू,
मौतों मूल ना डरना हू ।

163. पे-पढ़ पढ़ आलम करन तकब्बर

पे-पढ़ पढ़ आलम करन तकब्बर,
मुलां करन वड्याई हू ।
गलियां दे विच फिरन निमाणे,
बग़ल किताबां चाई हू ।
जित्थे वेखन चंगा चोखा,
पढ़न कलाम सवाई हू ।
दोहीं जहानी मुट्ठे बाहू,
जिन्हां खाधी वेच कमाई हू ।

164. पे-पढ़ पढ़ इलम मशायख सदावण

पे-पढ़ पढ़ इलम मशायख सदावण,
करन इबादत दोहरी हू ।
अन्दर झुगी पई लुटीवे,
तन मन खबर ना मोरी हू ।
मौला वाली सदा सुखाली,
दिल तों लाह तकोरी हू ।
रब्ब तिन्हां नूं हासल बाहू,
जिन्हां जग ना कीती चोरी हू ।

165. पे-पढ़ पढ़ इलम हज़ार किताबां

पे-पढ़ पढ़ इलम हज़ार किताबां,
आलम होए भारे हू ।
हरफ इक इशक दा पढ़ ना जानण,
भुले फिरन विचारे हू ।
इक निगाह जे आशक वेखे,
लक्ख हज़ारां तारे हू ।
लक्ख निगाह जे आलम वेखे,
कहीं ना किधरे चाढ़े हू,
इशक शर्हा विच मंजल भारी,
सैआं कोहां दे पाड़े हू ।
जिन्हां इशक खरीद ना कीता बाहू,
दोहीं जहानी मारे हू ।

166. पे-पंज महल पंजां विच चानण

पे-पंज महल पंजां विच चानण,
दीवा कित वल धरीए हू ।
पंजे महर पंजे पटवारी,
हासल कितवल भरीए हू ।
पंज इमाम ते पंजे किबले,
सजदा कितवल करीए हू ।
जे साहब सिर मंगे बाहू,
हरगिज़ ढिल्ल ना करीए हू ।

167. पे-पढ़आ इलम ते वधी मग़रूरी

पे-पढ़आ इलम ते वधी मग़रूरी,
अकल भी ग्या तलोहां हू ।
भुल्ला राह हदायत वाला,
नफ़ा ना कीता दोहां हू ।
सिर दित्त्यां जे सिर हत्थ आवे,
सौदा हार ना तोहां हू ।
वड़ीं बाज़ार मुहब्बत बाहू,
रहबर लै के सूहां हू ।

168. पे-पाटा दामन होया पुराणा

पे-पाटा दामन होया पुराणा,
किचरक सीवे दरज़ी हू ।
हाल दा महरम कोई ना मिल्या,
जो मिल्या सो गरज़ी हू ।
बाझ मुरब्बी किसे ना लद्धी,
गुझ्झी रमज़ अन्दर दी हू ।
ओसे राह वल जाईए बाहू,
जिस थीं ख़लकत डरदी हू ।

169. रे-राह फ़कर दा परे परेरे

रे-राह फ़कर दा परे परेरे,
ओड़क कोई ना दिस्से हू ।
ना उथे पढ़न पढ़ावन कोई,
ना उथे मसले किस्से हू ।
इह दुनियां है बुत्त-प्रसती,
मत कोई इस ते विस्से हू ।
मौत फ़कीरी जैं सिर बाहू,
माअलम थीवे तिस्से हू ।

170. रे-रातीं खाब ना उन्हां

रे-रातीं खाब ना उन्हां,
जेहड़े अल्ला वाले हू ।
बाग़ां वाले बूटे वांगूं,
तालिब नित्त संभाले हू ।
नाल नज़ारे रहमत वाले,
खढ़ा हज़ूरों पाले हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
जो खढ़ा हेठां यार वखाले हू ।

171. रे-रातीं रत्ती नींद ना आवे

रे-रातीं रत्ती नींद ना आवे,
देहां रहे हैरानी हू ।
आरिफ़ दी गल्ल आरिफ़ जाणे,
क्या जाने नफ़सानी हू ।
कर इबादत पछोतासें,
ज़ाया गई जवानी हू ।
हक्क हज़ूर तिन्हां नूं बाहू,
जिन्हां मिल्या पीर जिलानी हू ।

172. रे-रोज़े नफल नमाज़ां तकवा

रे-रोज़े नफल नमाज़ां तकवा,
सभ्भे कंम हैरानी हू ।
एनी गल्लीं रब्ब हासिल नाहीं,
खुद खवानी खुद दानी हू ।
कदीम हमेश जलेंदा मिल्यो,
मिल्योसु यार ना जानी हू ।
विरद वजीफे थीं छुट्ट रहसी,
बाहू होसी जद फानी हू ।

173. रे-रहमत उस घर विच वस्से

रे-रहमत उस घर विच वस्से,
जिथे बलदे दीवे हू ।
इशक हवाई चढ़ गई फ़लकीं,
किथे जहाज़ घतीवे हू ।
अकल फ़िकर दी बेड़ी नूं चा,
पहले पूर बुडीवे हू ।
हर जा जानी दिस्से बाहू,
जित वल नज़र कचीवे हू ।

174. रे-रातीं नैन रत्त हंझू रोवण

रे-रातीं नैन रत्त हंझू रोवण,
देहां ग़मज़ा ग़म दा हू ।
पढ़ तौहीद वड़्या तन अन्दर,
सुख आराम ना दम दा हू ।
सिर सूली ते चा टंग्यो ने,
एहो राज़ परम दा हू ।
सिद्धा हो कोहीवे बाहू,
कतरा रहे ना ग़म दा हू ।

175. रे-रात हनेरी काली दे विच

रे-रात हनेरी काली दे विच,
इशक चराग जलांदा हू ।
जैंदी सिक्क कनो दिल नीवें,
नहीं आवाज़ सुणांदा हू ।
औझड़ झल्ल ते मारू बेले,
दम दम खौफ शीहां दा हू ।
जल थल जंगल झगेंदे बाहू,
कामिल नेहुं जिन्हां दा हू ।

176. रे-राह फ़कर दा तद लधोसी

रे-राह फ़कर दा तद लधोसी,
जद हत्थ फड़्योसु कासा हू ।
तरक दुनियां तों तदां थीवसें,
जद फ़कर मिल्योसु खासा हू ।
दरिया वहदत दा नोश कीतोसु,
अजां भी जी पिआसा हू ।
राह फ़कीरी रत्त रोवन बाहू,
लोकां भाने हासा हू ।

177. से-साबत सिदक ते कदम अगाहां

से-साबत सिदक ते कदम अगाहां,
तांही रब्ब लभीवे हू ।
लूं लूं दे विच ज़िकर अल्ला दा,
हरदम पिआ पढ़ीवे हू ।
जाहर बातन ऐन यानी,
हू हू पिआ दिसीवे हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
कबर जिन्हां दी जीवे हू ।

178. से-साबत इशक तिन्हां ने लद्धा

से-साबत इशक तिन्हां ने लद्धा,
जिन्हां तरट्टी चौड़ चा कीती हू ।
ना ओह सूफ़ी ना ओह भंगी,
ना सजदा करन मसीतीं हू ।
खालस नील पुराने उते,
नहीं चढ़दा रंग मजीठी हू ।
काज़ी आण शरह वल बाहू,
कदे इशक नमाज़ ना कीती हू ।

179. सीन-सोज़ कनों तन सड़्या सारा

सीन-सोज़ कनों तन सड़्या सारा,
दुखां डेरे लाए हू ।
कोइल वांग कूकेंदी वत्तां,
मौला मींह वसाए हू ।
बोल पपीहआ सावन आया,
वंजे ना दिन अजाएं हू ।
साबत सिदक ते कदम अगाहां बाहू,
इह गल्ल यार मिलाए हू ।

180. सीन-सै रोज़े सै नफल नमाज़ां

सीन-सै रोज़े सै नफल नमाज़ां,
सै सिजदे कर थक्के हू ।
सै वारी मक्के हज्ज गुज़ारां,
दिल दी दौड़ ना मुक्के हू ।
चिल्हे चलीए जंगल भौणा,
गल्ल ना इस थीं पक्के हू ।
सभ्भ मतलब हासल हुन्दे बाहू,
जद पीर नज़र इक तक्के हू ।

181. सीन-सबक सफ़ाई सोई पढ़दे

सीन-सबक सफ़ाई सोई पढ़दे,
जो वत हीने ज़ाती हू ।
इलमों इलम उन्हां नूं होया,
असली ते असबाती हू ।
नाल मुहब्बत नफस कुठो ने,
कढ्ढ कज़ा दी काती हू ।
बहरा खास उन्हां नूं बाहू,
जिन्हां लद्धा आब-हयाती हू ।

182. सीन-सभ तारीफां कोई बशर करदे

सीन-सभ तारीफां कोई बशर करदे,
कारन दरद बहर दे हू ।
शश फ़लक ते शश ज़मीनां,
शश पानी ते तरदे हू ।
छ्यां हरफ़ां दे सुखन अठारां,
उथे रो रो माअने धरदे हू ।
पर बाहू हक्क पछाण्यो नाहीं,
पहले हरफ़ सतर दे हू ।

183. सीन-सुन फरियाद पीरां द्या पीरा

सीन-सुन फरियाद पीरां द्या पीरा,
मैं आख सुणावां कैनूं हू ।
तेरे जेहा मैनूं होर ना कोई,
मैं जेहियां लक्ख तैनूं हू ।
फोल ना कागज़ बदियां वाले,
दर तों धक्क ना मैनूं हू ।
मैं विच ऐड गुनाह ना हुन्दे बाहू,
तूं बखशैंदों कैनूं हू ।

184. सीन-सुन फरियाद पीरां द्या पीरा

सीन-सुन फरियाद पीरां द्या पीरा,
अरज़ सुणीं कन्न धरके हू ।
बेड़ा अड़्या विच कपरां दे,
जित्थे मच्छ ना बहन्दे डरके हू ।
शाह जिलानी महबूब सुब्हानी,
खबर ल्यो झट्ट करके हू ।
पीर जिन्हां दा मीरां बाहू,
सोई कंधी लगदे तरके हू ।

185. सीन-सै हज़ार तिन्हां तों सदके

सीन-सै हज़ार तिन्हां तों सदके,
जो ना बोलन फिक्का हू ।
लक्ख हज़ार तिन्हां तों सदके,
जो गल्ल करदे हिक्का हू ।
लक्ख करोड़ तिन्हां तों सदके,
नफस रखेंदे झिक्का हू ।
नील पदम तिन्हां तों सदके बाहू,
सौन सदावन सिक्का हू ।

186. सीन-सीने विच मुकाम है कैंदा

सीन-सीने विच मुकाम है कैंदा,
मुरशिद गल्ल समझाई हू ।
एहो साह जो आवे जावे,
होर नहीं शै काई हू ।
इसनूं इसम अल आज़म आखण,
एहो सिर इलाही हू ।
एहो मौत हयाती बाहू,
एहो भेत इलाही हू ।

187. शीन-शहर ते रहमत वस्से

शीन-शहर ते रहमत वस्से,
जित्थे बाहू दिन जाले हू ।
बागबान दे बूटे वांगूं,
तालिब नित संभाले हू ।
नाल नज़ारे रहमत वाले,
खड़ा हज़ूरों पाले हू ।
नाम फ़कीर तिसे दा बाहू,
जेढ़ा घर विच यार विखाले हू ।

188. सुआद-सिफत सनाईं मूल ना पढ़दे

सुआद-सिफत सनाईं मूल ना पढ़दे,
जेढ़े पहुते ज़ाती हू ।
इलमों अमल उन्हां विच होवे,
असली ते असबाती हू ।
नाल मुहब्बत नफस कुठो ने,
घिन रज़ा दी काती हू ।
चौदां तबकां दिल विच बाहू,
पा अन्दर दी झाती हू ।

189. सुआद-सूरत नफस अंमारे दी

सुआद-सूरत नफस अंमारे दी,
कोई कुत्ता गुल्लर काला हू ।
कूके नूके लहू पीवे,
मंगे चरब निवाला हू ।
खब्बे पास्यों अन्दर बैठा,
दिल दे नाल संभाला हू ।
इह बद बख़त है भुक्खा बाहू,
अल्ला करसी टाला हू ।

190. ते-तरक दुनियां दी ताईं होसी

ते-तरक दुनियां दी ताईं होसी,
जद फ़कर मिलेसी खासा हू ।
तारक दुनियां ताईं होही,
जद हत्थ पकड़ेसी कासा हू ।
दरिया वहदत नोश कीतोसे,
अजां भी जी पिआसा हू ।
राह फ़कर रत्त हंझू रोवन बाहू,
लोकां भाने हासा हू ।

191. ते-तुल्हा बन्न्ह तवक्कल वाला

ते-तुल्हा बन्न्ह तवक्कल वाला,
थी मरदाना तरीए हू ।
जिस दुख थीं सुख हासल होवे,
उस दुख थीं ना डरीए हू ।
'इन म 'अल' उसर यसरा' आया,
चित्त ओसे वल्ल धरीए हू ।
बेपरवाह दरगाह उह बाहू,
रो रो हासिल भरीए हू ।

(तवक्कल=यकीन, 'इन म 'अल'
उसर यसरा'(कुरान दी आइत)=
दुक्ख उठान विच ही सुख ते आराम
शामिल हन)


192. ते-तोड़े तंग पुराने होवण

ते-तोड़े तंग पुराने होवण,
गुझे रहन ना ताज़ी हू ।
मार नकारा दिल विच वड़्या,
खेड ग्या इक बाज़ी हू ।
मार दिलां नूं जोल दितो ने,
जद तक्के नैन न्याज़ी हू ।
उन्हां नाल की थिया बाहू,
जिन्हां यार ना रक्ख्या राज़ी हू ।

(तोड़े=भावें, ताज़ी=घोड़े)


193. ते-तन मैं यार दा शहर बणाया

ते-तन मैं यार दा शहर बणाया,
दिल विच खास महल्ला हू ।
आन अलिफ़ दिल वसों कीती,
मेरी होई ख़ूब तसल्ला हू ।
सभ कुझ मैनूं पिआ सुणीवे,
जो बोले सो अल्ला हू ।
दरदमन्दां इह रमज़ पछाती बाहू,
बेदरदां सिर खल्ला हू ।

(खल्ला=जुत्ती)


194. ते-तसबीह दा तूं कसबी होइओं

ते-तसबीह दा तूं कसबी होइओं,
मारें दंम वलियां हू ।
दिल दा मणका इक ना फेरें,
गल पाए पंज वीहां हू ।
देन ग्यां गल घोटू आवे,
लैन ग्यां झुट शीहां हू ।
पत्थर चित्त जिन्हां दे बाहू,
ओथे ज़ाया वसना मींहां हू ।

195. ते-तूं तां जाग ना जाग फ़कीरा

ते-तूं तां जाग ना जाग फ़कीरा,
अंत नूं लोड़ जगाया हू,
अखीं मीट्यां ना दिल जागे,
जागे मतलब पाया हू ।
इह नुकता जद पुखता कीता,
ज़ाहर आख सुणाया हू ।
मैं तां भुल्ली वैंदी बाहू,
मुरशिद राह विखाया हू ।

196. ते-तदों फ़कीर शिताबी बणदा

ते-तदों फ़कीर शिताबी बणदा,
जद जान इशक विच हारे हू ।
आशिक शीशा ते नफस मुरब्बी,
जान जानां तों वारे हू ।
ख़ुद-नफ़सी छड्ड हसती झेड़े,
लाह सिरों सभ भारे हू ।
मोयां बाझ नहीं हासल बाहू,
सै सै सांग उतारे हू ।

197. ते-तसबीह फेरी दिल ना फिरिया

ते-तसबीह फेरी दिल ना फिरिया,
की लैना इस फड़ के हू ।
पढ़आ इलम अदब ना सिख्या,
की लैना इस पढ़ के हू ।
चिल्ला कट्ट्या कुझ ना खट्ट्या,
की ल्या चिल्ले वड़ के हू ।
जाग बिनां दुद्ध जंमदे ना बाहू,
लाल होवन कढ़ कढ़ के हू ।

198. तोए-तालिब गौस अल आज़म वाले

तोए-तालिब गौस अल आज़म वाले,
कदे ना होवन मांदे हू ।
जैंदे अन्दर इशक दी रत्ती,
रहन सदा कुरलांदे हू ।
जैनूं शौक मिलन दा होवे,
लै ख़ुशियां नित आंदे हू ।
दोवें जग्ग नसीब उन्हां बाहू,
जेहड़े ज़िकर कमांदे हू ।

199. तोए-तालिब बण के तालिब होएं

तोए-तालिब बण के तालिब होएं,
ओसे नूं पिआ गांवें हू ।
लड़ सच्चे हादी दा फड़ के,
ओहो तूं हो जावें हू,
कलमे दा तूं ज़िकर कमावें,
कलमे नाल नहावें हू ।
अल्ला तैनूं पाक करेसी बाहू,
जे ज़ाती इसम कमावें तूं ।

200. वाउ-वहदत दे दरिया उछल्ले

वाउ-वहदत दे दरिया उछल्ले,
जल थल जंगल रीने हू ।
इशक दी ज़ात मनेंदी नाहीं,
सांगां झल पतीने हू ।
अंग बभूत मलेंदे डिट्ठे,
सै जुआन लखीने हू ।
मैं कुरबान तिन्हां थों बाहू,
जेहड़े होंदी हिंमत हीने हू ।

201. वाउ-वहदत दे दरिया उछल्ले

वाउ-वहदत दे दरिया उछल्ले,
हिक दिल सही ना कीती हू ।
हिक्क बुत्तखाने वासल थीए,
हिक्क पढ़ पढ़ रहे मसीती हू ।
फाज़ल छड्ड फज़ीलत बैठे,
इशक बाज़ी जिन लीती हू ।
हरगिज़ रब्ब ना मिलदा बाहू,
जिन्हां तरट्टी चौड़ ना कीती हू ।

(वहदत=अद्वैत, केवल एक ही ईश्वर को मानना,
हिक्क=कुछ लोग, वासल=रहना, फाज़ल=विद्वान,
फज़ीलत=श्रेष्ठता,बढ़ाई, तरट्टी चौड़ करना=नुक्सान उठाना)


202. वाउ-वहदत दा दरिया इलाही

वाउ-वहदत दा दरिया इलाही,
आशिक लैंदे तारी हू ।
मारन टुभियां कढ्ढन मोती,
आपो आपनी वारी हू ।
दुर यतीम लए लिशकारे,
ज्युं चन्न लाट मारी हू ।
सो क्युं नहीं हासल भरदे बाहू,
जेहड़े नौकर ने सरकारी हू ।

203. वाउ-वह वह नदियां तारू होईआं

वाउ-वह वह नदियां तारू होईआं,
बम्बल छोड़े काहां हू ।
यार असाडा रंग महल्लीं,
दर ते खड़े सिकाहां हू ।
ना कोई आवे, ना कोई जावे,
कैं हत्थ लिख मुंजाहां हू ।
जे खबर जानी दी आवे बाहू,
कलीयों फुल्ल थीवाहां हू ।

(बम्बल=सिटे, मुंजाहां=सुनेहा)


204. वाउ-वंजन सिर ते फरज़ है मैनूं

वाउ-वंजन सिर ते फरज़ है मैनूं,
कौल कालू बला करके हू ।
लोक जाने मुतफक्कर होईआं,
विच वहदत दे वड़के हू ।
शौह दियां मारां शौह वंज लहसां,
इशक तुल्ला सिर धरके हू ।
जींवदिआँ शौह किसे ना पाया बाहू,
जैं लद्धा तैं मरके हू ।

205. ये-यार यगाना मिलसी तां

ये-यार यगाना मिलसी तां,
जे सिर दी बाज़ी लाएं हू ।
इशक अल्ला विच हो मसताना,
हू हू सदा अलाएं हू ।
नाल तसव्वर इसम अल्ला दे,
दम नूं कैद लगाएं हू ।
ज़ाती नाल जे ज़ाती रल्या,
तद बाहू नाम सदाएं हू ।

(यगाना=बेमिसाल)


206. ज़ाल-ज़ाती नाल ना ज़ाती रल्या

ज़ाल-ज़ाती नाल ना ज़ाती रल्या,
सो कमज़ात सदीवे हू ।
नफस कुत्ते नूं बन्न्ह कराहां,
कीमा कीमा कचीवे हू ।
ज़ात सिफातों मेहना आवे,
ज़ाती शौक ना पीवे हू ।
नाम फ़कीर तिन्हां दा बाहू,
कबर जिन्हां दी जीवे हू ।

207. ज़ाल-ज़िकर फ़िकर सभ उरे उरेरे

ज़ाल-ज़िकर फ़िकर सभ उरे उरेरे,
जां जान फिदा ना फानी हू ।
फ़िदा फानी तिन्हां नूं हासिल,
जो वसन लामकानी हू ।
फ़िदा फानी हन ओही जिन्हां,
चक्खी इशक दी कानी हू ।
बाहू ज़िकर सड़ेंदा हरदम,
यार ना मिल्या जानी हू ।

208. ज़ाल-ज़िकर कनों कर फ़िकर हमेशा

ज़ाल-ज़िकर कनों कर फ़िकर हमेशा,
इह लफज़ तिखा तलवारों हू ।
कढ्ढन आहीं जान जलावण,
फ़िकर करन असरारों हू ।
फिकर दा फट्या कोई ना जीवे,
पुट्टे मुढ्ढ पहाड़ों हू ।
हक्क दा कलमा आखीं बाहू,
रब्ब रक्खे फिकर दी मारों हू ।

209. ज़े-ज़ाहद ज़ुहद कमांदे थक्के

ज़े-ज़ाहद ज़ुहद कमांदे थक्के,
रोज़े नफल नमाज़ां हू ।
आशिक ग़रक होए विच वहदत,
नाल मुहब्बत राज़ां हू ।
मक्खी कैद शहद विच होई,
की उडसी नाल शाहबाज़ां हू ।
जिन्हां मजलस नाल नबी दे बाहू,
उह साहब नाज़ नवाज़ां हू ।

210. ज़े-ज़बानी कलमा हर कोई पढ़दा

ज़े-ज़बानी कलमा हर कोई पढ़दा,
दिल दा पढ़दा कोई हू ।
जिन्हां कलमा दिल दा पढ़आ,
तिन्हां नूं मिलदी ढोई हू ।
दिल दा कलमा अशिक पढ़दे,
की जानन यार गलोई हू ।
मैनूं कलमा पीर पढ़ाया बाहू,
सदा सोहागन होई हू ।

211. ज़ोए-ज़ाहर वेखां जानी ताईं

ज़ोए-ज़ाहर वेखां जानी ताईं,
नाले अन्दर सीने हू ।
बिरहुं मारी नित्त फिरां मैं,
हस्सन लोक नाबीने हू ।
मैं दिल विचों है शहु पाया,
जावन लोक मदीने हू ।
कहे फ़कीर मीरां दा बाहू,
अन्दर दिलां ख़जीने हू ।

(नाबीने=अन्न्हे)


212. ज़ुआद-ज़रूरी नफ़स कुत्ते नूं

ज़ुआद-ज़रूरी नफ़स कुत्ते नूं,
कीमा कीमा कचीवे हू ।
नाल मुहब्बत ज़िकर अल्ला दा,
दम दम पिआ पढ़ीवे हू ।
ज़िकर कनों हक्क हासल हुन्दा,
ज़ातो ज़ात दिसीवे हू ।
दोवें जहान गुलाम उन्हां दे बाहू,
जिन्हां ज़ात लभीवे हू ।

 
 Hindi Kavita