Hindi Kavita
कर्मजीत सिंह गठवाला
Karamjit Singh Gathwala
 Hindi Kavita 

Poetry of Karamjit Singh Gathwala in Hindi

कर्मजीत सिंह गठवाला की कविताएं, गज़लें

1. गुरू नानक देव जी

कोई खिच्च सी तैनूं लईं फिरदी,
कदे जंगलां अते पहाड़ां दे विच्च ।
किसे धूह दा धूहआ जांवदा सी,
भज्ज भज्ज के वणां उजाड़ां दे विच्च ।

काहदे वासते सागर तूं गाहे,
काहदे वासते तपदे रेत लंघे ।
पोह माघ दी ठंढ ना तूं वेखी,
सिरों वेखे ना हाड़्ह ते जेठ लंघे ।

भीलां नाल दस्स तेरा सी की रिशता,
मिल्या कौडे नूं जीहदे वासते तूं ।
जिन्हां उत्तों सी लंघना बहुत मुशकिल,
सारे गाह मारे उह रासते तूं ।

जिसदी हउमै सी चड़्ही पहाड़ उत्ते,
उहनूं पानी ज्युं हेठां लाह ल्या ।
जेहड़ा औझड़े औझड़े जांवदा सी,
उहनूं मोड़ सिद्धे राहे पा ल्या ।

कुल्ही लालो दी सोहना महल दिस्सी,
धौलर भागो दे रड़े मैदान दिस्से ।
हिन्दू, मुसलिम, ना कोई जैन, बोधी,
तैनूं लोक सभ रब्बी इनसान दिस्से ।

लग्गे रोग कोई तां इलाज खातर,
रोगी वैद कोल चल्ल के आंवदे ने ।
नानक वैद वरगे होर वैद कित्थे ?
जेहड़े रोगियां कोल खुद जांवदे ने ।

2. नानक नानक दुनियां करदी

नानक नानक दुनियां करदी नानक दी पर कोई ना सुणदा
जिद्दां जीद्हा जिय प्या चाहे आपणा-आपणा ताणा बुणदा

बाबर दा जां ज़ुलम वेख्या नानक बाबरवानी आखी
रब्ब नूं उन्हां उलाहमा दित्ता गुरू ग्रंथ है जिसदा साखी
दिन दीहवीं अज्ज ज़ुलम हो रहे कौन ज़ुलम दे कंडे चुणदा

'मानस खाणे' करन निवाजां नाले वेखे संख पूरदे
हक्क सच्च दी गल्ल जे आखो अक्खां कढ्ढ कढ्ढ पए घूरदे
चापलूसां दी जै जै होवे गाहक दिस्से ना कोई गुन दा

'पत लत्थी' ते फेर की होया पिट्ठ झाड़ के दाअवत खांदे
पग्ग लाह के पर्हां सुट्ट दित्ती आपनी दाड़्ही आप मुनांदे
किसे दी भट्ठी, किसे दा झोका, बैठा जाबर दाने भुन्नदा

3. माली -गुरू अर्जुन देव जी

गुरू अर्जुन गुलदसता बणाउन लग्गे,
पहलां आपने बाग़ विच्च जांवदे ने ।
तर्हां-तर्हां दी खिड़ी गुलज़ार सारे,
फुल्ल ओसदे चुन के ल्यांवदे ने ।
सारे हिन्द विच्च उन्हां फिर नज़र मारी,
फुल्ल होर वी बड़े कमाल दिस्से ।
बाग़ां वल्ल जां गहु नाल तक्क्या तां,
बाग़ उन्हां नूं कई बेहाल दिस्से ।

घल्ले गुरां सुनेहे सभ पासे,
कहन्दे इक्क गुलदसता बणावना एं ।
फुल्ल जो वी सुहना ते रस-भिन्नां,
ओहनूं ओसदे विच्च सजावना एं ।
सारे देश विचों माली आण पुज्जे,
फुल्ल जिन्हां दे महकां खिंडा रहे सन ।
आपो आपने फुल्लां दी सभ माली,
गुरां साहमने सिफ़त सुना रहे सन ।

कई बाग़ां विचों सतिगुरू जी ने,
सिक्ख भेज के फुल्ल मंगवा लए ।
फेर प्यार, उमाह दे नाल सारे,
गुरां आपने पास रखवा लए ।
फुल्ल हर इक्क नीझ दे नाल विंहदे,
फिर रंग-सुगंध आकार वेखन ।
भाई गुरदास जी नूं फड़ा दिन्दे,
जिस फुल्ल दा उच्चा म्यार वेखन ।

कांट छांट दी जित्थे कोई लोड़ जापे,
सतिगुरू जी उह वी करी जांदे ।
जिस फुल्ल विच किते कोई कसर लग्गे,
उहनूं इक्क पासे चुक्क धरी जांदे ।
इस तर्हां सतिगुरां ने फुल्ल सारे,
निगाह आपनी विचों लंघा दित्ते ।
भाई गुरदास नूं कह फिर चुने होए,
करीने नाल सभ फुल्ल सजा दित्ते ।

जद पूरा गुलदसता त्यार होया,
सुहने वसतरां हेठ लुका ल्या ।
बाबा बुढ्ढा जी नूं बड़े अदब सेती,
फेर आपने कोल बुला ल्या ।
बड़े प्यार नाल चुक्क के गुलदसता,
फिर विच्च दरबार लिजांवदे ने ।
बाबा बुढ्ढा जी उपरों लाह वसतर,
दीदार संगतां ताईं करांवदे ने ।

संगत वेख गुलदसता निहाल होई,
ख़ुशबू फैल गई नज़रां मख़मूर होईआं ।
इंञ जाप्या जिस तर्हां मनां उत्तों,
सभ कालखां लग्गियां दूर होईआं ।

4. गुरू तेग़ बहादुर जी

तेग़ ज़ुलम दी होई जां होर तिक्खी,
सिर लटकी आ पंडित कशमीरियां दे।
दिल सोचदा ते गोते खान लगदा,
तारे घुंमदे वांग भम्बीरियां दे ।
रातीं नींद आवे सुपने विच्च दिस्सण,
दर्या वहन सभ लहू-ततीरियां दे ।
धरम छड्डना जापदा बहुत औखा,
पैंडे लग्गदे नेड़े अखीरियां दे ।

कट्ठे होए सभ्भे हुन की करीए,
हिन्दू-राज्यां वल्ल निगाह कीती ।
जिस जिस दा बुल्हां ते नां आवे,
जापे घोल के उसे ने शरम पीती ।
कोई सूरमा किधरे दिसदा ना,
गुड़्हती अनख दी जिसने होए लीती ।
पानी मर ग्या सभनां अक्खियां दा,
पई सभ दी दिस्से ज़ुबान सीती ।

दूर दूर तोड़ी सभनां नज़र मारी,
ज़ुलमी-रात-काली दिस्स आंवदी ए ।
कोई तारा वी किधरे दिसदा ना,
बदली ग़मां दी सभ लुकांवदी ए ।
कीहदे घरों जा रोशनी मंग लईए,
किधरे बत्ती ना टिम-टिमांवदी ए ।
बाबे नानक दी चमकदी जोत वल्ले,
आस उंगली फड़ लै जांवदी ए ।

आख़िर स्याण्यां सोच विचार करके,
कुझ बन्दे आनन्दपुर वल्ल घल्ले ।
किते बैठ ना उन्हां आराम कीता,
वाहोदाही उह पैंडा मुका चल्ले ।
पहुंच पुरी आनन्द ही दम ल्या,
मन डर आउंदा कर कर हल्ले ।
नौवें नानक दे विच दरबार आए,
करन बेनती खड़े उह अड्ड पल्ले ।

सुन बेनती गुरू गंभीर होए,
मन विच ख़्याल दुड़ांवदे ने ।
नत्थ ज़ुलम नूं किस तर्हां पाई जावे,
कई तर्हां दे हल्ल अजमांवदे ने ।
संगत सोचदी, गुरू की सोचदे ने,
आपो आपने क्यास लगांवदे ने ।
थोड़्हा समां लंघा चेहरा शांत दिस्से,
गुरू संगत नूं इउं फ़ुरमांवदे ने ।

"असां सोच विचार के वेख ल्या,
ज़ुलमी-नदी साहवें ठाठां मार रही ए ।
कोई आके इत्थे कुरबान होवे,
चेहरा लाल कर मूंहों ललकार रही ए ।
इहने सारा ही मुलक हड़प्प जाणा,
नित्त डैन ज्युं मूंह पसार रही ए ।
दिल्ली जा के असां ने सिर देणा,
सानूं दिस्से शहीदी पुकार रही ए ।"

5. १६੯੯ दी 'विसाखी' शाम नूं

रोज़ वांग जां नवां दिन चड़्हआ,
तित्थ बदली ते अक्खां खोल्हियां मैं ।
पंछी आपो आपने सुर कढ्ढण,
समझां उन्हां दियां प्यारियां बोलियां मैं ।
कोइल अम्ब दी टहनी ते कूक रही सी,
बुलबुल गावे गुलाब दे कोल बैठी ।
पिंड तक्के तां सभ थां दिस पई,
कोई सवानी वी चाटी दे कोल बैठी ।

सोन-रंगियां कणकां झूम रहियां,
वेख वेख जट्ट खीवा होई जावे ।
आउनी फ़सल ते एसदा की करना,
बैठा सद्धरां हार परोई जावे ।
बच्चे ख़ुश सन मेले जावना एं,
घर होर वी किन्नां सामान बणना ।
बस्स खान दियां डंझां लाहणियां ने,
कोई कंम नहीं अज्ज होर करना ।

जां पुरी अनन्द नूं वेख्या मैं,
कट्ठ लोकां दा अपर अपार दिस्से ।
बड़े गहु नाल तक्क्या सभ पासे,
मेले वाला ना इत्थे कोई आहर दिस्से ।
मैं वी सोच्या चलो मैं सुन आवां,
लोक की कुझ कह कहा रहे ने ।
कोई कंम दी गल्ल वी कर रहे ने,
जां ऐवें कावां रौली पा रहे ने ।

इक्क आखदा, 'धरम्यां दस्स तां सही,
गुरां किस कंम सानूं बुलायआ ए ?
मैनूं लग्गदा अज्ज तां एस थां 'ते,
सारा मुलक ही चल्लके आया ए ।'
धरमां बोल्या, 'मैनूं वी पता कुझ नहीं,
चलो विच्च दरबार दे चल्लदे हां ।
गुरू कहन जो असीं वी सुन लईए,
नेड़े तखत दे जग्हा कोई मल्लदे हां ।'

निकल तम्बूयों गुरू जी बाहर आए,
हत्थ तेग़ नंगी मत्थे तेज़ दगदा ।
गुरां वल्ल जद सभनां निगाह कीती,
वेखन चेहरे 'ते सूहा दर्या वगदा ।
फतेह कर सांझी केहा गुरू जी ने,
'सिक्खो ! ज़ुलम दी कांग चड़्ह आ रही ए ।
इह भूतरे पशू दे वांग होई,
बेदोशे-मज़लूम इह खा रही ए ।

जेकर एस नूं किसे ना नत्थ पाई,
इहने धरम दा रुक्ख मरुंड जाना ।
फल, फुल्ल, पत्ते इहने खा जाणे,
बाकी बच्या मुलक रह टुंड जाना ।
इह तलवार ही इहनूं बचा सकदी,
असां एसदे नाल विचार कीती ।
नक्क ज़ुलम दा एसने वढ्ढने लई,
पहलां आप है सिर दी मंग कीती ।

उट्ठो सूरमा कोई करो मंग पूरी,
नक्का ज़ुलम दे हड़्ह ते लावने लई ।
पहलां तली 'ते सिर तां रक्ख लईए,
फेर लड़ांगे धरम बचावने लई ।'
गुरां मंग कीती सारे चुप्प छाई,
भर्या पंडाल जापे भां-भां करदा ।
धरमी-रुक्ख सड़ रेहा दुपहर तिक्खी,
वेखो कौन है सिर दी छां करदा ।

घड़ी लंघी तां सिक्ख इक्क खड़ा होया,
उहनूं तम्बू विच्च गुरू लिजांवदे ने ।
लहू नुच्चड़दी हत्थ तलवार लै के,
उहनीं पैरीं फिर परतके आंवदे ने ।
गुरां दूसरे सिर दी मंग कीती,
कई खिसक के महलां नूं जान लग्गे ।
कई उत्थे ही नीवियां पाई बैठे,
विच्च हत्थां दे मूंह लुकान लग्गे ।

कई सोचदे प्यार्यां पुत्तरां तों,
क्युं सिक्खां नूं गुरू मुका रहे ने ।
तेग़ उन्हां नूं काली दी जीभ लग्गे,
गुरू जिसदी प्यास बुझा रहे ने ।
पंज वार इंज गुरां ने मंग कीती,
पंज सिक्ख कुरबानी लई खड़े होए ।
इहो जेहा कौतक मैं वी वेख्या ना,
भावें जग्ग विच्च कौतक बड़े होए ।

थोड़्हा समां लंघा गुरू पए नज़रीं,
पंजे सिक्ख पिच्छे टुरे आंवदे ने ।
उन्हां सभनां हथ्यार सजा रक्खे,
दसतारे वी सिरीं सुहांवदे ने ।
जल बाटे दे विच्च पवा सतिगुर,
उहनूं खंडे दे नाल हिलांवदे ने ।
नूरो-नूर चेहरा प्या चमक मारे,
मुक्खों आपने बानी अलांवदे ने ।

एने चिर नूं माता जी पहुंच गए,
पानी विच्च पतासे मिलांवदे ने ।
गुरां नज़र भर तक्क्या उहनां वल्ले,
चेहरे उत्ते मुसकान ल्यांवदे ने ।
अंमृत त्यार होया सतिगुरू जी ने,
पंजां सिक्खां नूं अंमृत छका दित्ता ।
भावें कोई किसे देश-भेख दा सी,
सभनूं खालसे सिंघ बना दित्ता ।

फेर पंजां नूं गुरू जी आप केहा,
'मैनूं खालसे विच्च रलायो सिंघो ।
भेद गुरू ते चेले दा मेट देईए,
तुसीं मैनूं वी अंमृत छकायो सिंघो ।'
सारा दिन ही अंमृत दी होई वरखा,
चड़्हियां लालियां सभनां चेहर्यां 'ते ।
गुरां सभनां ताईं समझ दित्ता,
ज़ुलम रुके ना अत्थरू केर्यां 'ते ।

चिड़ियां बाज़ां दा रूप धार ल्या,
गिद्दड़ शेर बण भबकां मारदे ने ।
मेरे मन नूं इह यकीन होया,
हुन ना सूरमे ज़ुलम तों हारदे ने ।
जदों आपने बारे सोच्या मैं,
मेरी छाती वी मान दे नाल तण गई ।
पहलां रुत्त दा इक त्युहार सां मैं,
हुन खालसे दा जनम-दिन बण गई ।

6. विसाखी याद आउंदी ए

विसाखी याद आउंदी ए विसाखी याद आउंदी ए ।

जदों कोई गल्ल करदा ए सिरलत्थे वीरां दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए छाती खुभ्भे तीरां दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए नंगियां शमशीरां दी,
अक्खां लाल हो जावन, दिलीं रोह ल्याउंदी ए ।
विसाखी याद आउंदी ए विसाखी याद आउंदी ए ।

जदों कोई गल्ल करदा ए तेग़ नचदी जवानी दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए गुरू लई कुरबानी दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए पुत्तरां दे दानी दी ।
सिर शरधा च झुकदा ए गुन ज़ुबान गाउंदी ए ।
विसाखी याद आउंदी ए विसाखी याद आउंदी ए ।

जदों कोई गल्ल करदा ए ज़ुलमां दे वेले दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए शहीदी दे मेले दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए सच्चे गुर-चेले दी ।
दिल फड़फड़ाउंदा ए रूहीं जान पाउंदी ए ।
विसाखी याद आउंदी ए विसाखी याद आउंदी ए ।

जदों कोई गल्ल करदा ए बाग़ चल्ली गोली दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए खेडी ख़ूनी होली दी,
जदों कोई गल्ल करदा ए किदां जिन्द घोली दी ।
सूरे कुरबान हुन्दे ने आज़ादी हीर आउंदी ए।
विसाखी याद आउंदी ए विसाखी याद आउंदी ए ।

7. विसाखी

विसाखी ! तेरी बुक्कल दे विच,
छुपियां होईआं कई गल्लां नी ।
किते गभ्भरू पाउंदे भंगड़े ने,
किते कुरबानी दियां छल्लां नी ।

खड़ा गोबिन्द सानूं दिसदा ए,
गल्ल जिसदी नूं कन्न सुन रहे ने ।
खिंडरे-पुंडरे होए पंथ विच्चों,
कुझ लाल अमोलक चुन रहे ने ।
जिन्हां रुड़्हदे जांदे धरम ताईं,
पा दित्तियां सन ठल्लां नी ।

याद आवे बाग़ जल्ल्हआंवाला,
जित्थे हड़्ह सन ख़ून वगा दित्ते ।
आज़ादी दे शोले होर सगों,
उस ख़ून दी लाली मघा दित्ते ।
ख़ून डुल्हआ जो परवान्यां दा,
उसने पाईआं तरथल्लां नी ।

अज्ज वज्जदे किधरे ढोल सुणन,
किसान पए भंगड़े पाउंदे ने ।
मुट्यारां दे गिद्धे लोकां दे,
सोहल दिलां ताईं हिलाउंदे ने ।
इस खुशी दी लोर मेरा जिय करदा,
अज्ज नीर वांग वह चल्लां नी ।

(१੯७०)

8. कली

साडी उमर बीतदी जांदी छेती मिलजा तूं ;
की पता है आउना जां नहीं फेर दुबारा ।

असीं तां जंम पए सी सज्जणां झंग स्यालां दे ;
तैथों अजे तक्क ना बण्यां वतन हजारा ।

रात सी काली बोली बिजली चमकी तक्की जां ;
लोकी आखन तेरे हासे दा लिशकारा ।

कल्ल्ह सी पंडत कोई राह दसदा रब्ब मिलने दा ।
रमज़ां इशक दीआं की जाने उह विचारा ।

खुल्हे वाल अक्खां तों आपे चुक्के जांदे ने ;
हुण्दा आस तेरी दा मैनूं जदों इशारा ।

घुंमणघेरियां आ के ग़म दीआं मैनूं घेरदीआं ;
तारा याद तेरी दा दस्से आ किनारा ।

तेरे शहर वल्लों जो राह एधर नूं आउंदे ने ;
तक्क के उन्हां वल्ले वक्त लंघांवां सारा ।

महियां रोज चरदीआं बन्नें बन्नें वेखां जां ;
साहवें आवे तक्क्या होया कोई नज़ारा ।

तेरे शहर दीआं गलियां किद्दां भुल्ल जावां मैं ;
पाणी डुल्हआ सी जित्थे अक्खां दा खारा ।

9. कली

तैनूं भुल्लणां हुण्दा भुल्ल जांदे कई जनमां दे,
तेरी खातर मुड़ मुड़ जिन्दगी एथे आवे ।

केहदे हत्थ सुनेहा भेजां तैनूं सज्जणां वे ;
ऐसा कासिद कोई मैनूं नज़र ना आवे ।

तैनूं अजे पता ना लगिआ साडे मरने दा ;
साडी आस कबर ते बैठ पई कुरलावे ।

मन नूं जित्त्या जांदा जित्त लैंदे कई युग्गां दे ;
गेड़े लक्ख चौरासी सोच असां दी खावे ।

तूं वी लै जा कुझ ख़ुशबोई जे लै जानी एं ;
औह तक्क दूर फुलेरा कोई टुरिआ आवे ।

जद वी पंछी उडदे जांदे तक्कीए सज्जणां वे ;
मल्लो मल्ली कोई सुनेहा मूंह ते आवे ।

ख़बरे यग्ग कदों कु तेरा पूरा होना एं,
साडी रत्त अहूतियां अन्दर मुकदी जावे ।

खिड़दे बंजरां दे विच्च फुल्ल ख़िजां दे वेले ने ;
जित्थे सिदकां वाली बदली मींह बरसावे ।

पिछले जनमीं पाणी जमुना तों ल्याउंदे सां ;
हुण ते जमुना मेरियां अक्खां विच्च समावे ।

बद्दल गरज गरज के हाकां केहनूं मार रहे ;
कीहदी ख़ातर बिजली चमकां इह दिखलावे ।

कुझ तां दस्सदा जे नहीं सी आउना मुड़के तूं ;
मेरी आस राहां ते बैठ झातियां पावे ।

तेरे चरन छुहन नूं जी ते मेरा करदा है ;
ऐडा केहड़ा दरदी जो सानूं पथरावे ।

असीं तां रोज रात नूं बूहे खुल्हे रखदे हां ;
किते उह भुल्ल भुलेखे आ के परत ना जावे ।

10. चिट्ठी पहलड़ी विच की लिखां तैनूं

चिट्ठी पहलड़ी विच की लिखां तैनूं,
देवां की मैं एस नूं नां चन्नां ।
सुंञे सुंञे सभ्भे शहर जापदे ने,
जापन उजड़दे सभ गिरां चन्नां ।
तेरे गीत सभ्भे तेरे कोल रहे,
किस तों लै उधार हुण गां चन्नां ।
जान वेले मैं फड़ी ना घुट्ट वीणी,
एसे भुल्ल ते हुण पछतां चन्नां ।

ऐवें उलझ जे गए हां बिनां गल्लों,
की सोचीए कुझ ना सुझ्झदा ए ।
जद जद वी दीवे नूं बालदे हां,
खारे पाणियां दे नाल बुझ्झदा ए ।

11. तूं ते आख्या सी छेती फेर आवां

तूं ते आख्या सी छेती फेर आवां,
अजे तक्क नहीं आया पैग़ाम तेरा ।
तैनूं नींद वेले आउंदी चैन होणी,
एथे ज़िकर छेड़े आ के शाम तेरा ।
सीता वांग कैदी मैं ते हो रहियां,
लोकी पुच्छदे, 'कित्थे है राम तेरा' ।
आ के दरश दा घुट्ट तां पा जा तूं,
खाली वेख लै प्या है जाम मेरा ।
आ के वेख शरीर दा हाल की है,
की है मेरे दिमाग़ दा हाल चन्नां ।
लहर लग्गी सी वांग किनारिआं दे,
भुल्ल मार बैठे उपर छाल चन्नां ।

12. चीर लहन लग्गे शाम पहुंच गिआ

चीर लहन लग्गे शाम पहुंच गिआ,
तूं ते आया वी नहीं करार करके ।
केहड़ा दिन आया केहड़ा लंघ गिआ,
इह पता नहींउं इंतज़ार करके ।
घेरा ग़मां दी फ़ौज आ घत्त्या ए,
पहरा देंवदी आस तलवार फड़के ।
हवा नाल जां बूहा खड़कार करदा,
मेरा दिल धड़के ख़ुशी ज़ाहर करके ।

आसां कदों दीआं मेरियां सुक्क गईआं,
पर सुक्की ना बिरहुं दी वेल मेरी ।
उडदे जा रहे हां वाय वरोल्यां ज्युं,
कोई होवेगी इह वी खेल तेरी ।

13. रुक्ख झूम पए याद दे आए बुल्ले

रुक्ख झूम पए याद दे आए बुल्ले,
खिड़े फुल्ल ते भौरां गुंजार पाई ।
नाल पत्त्यां चिमटके बैठ गए सन,
कतरे शबनमी आ फुहार पाई ।
दूरों 'वाज़ पई तेरे नां वाली,
असीं समझ गए मुड़ बहार आई ।
इक्क उड्ड पत्ती आई तेरे वल्लों,
चुक्क वेख्या हो तार तार आई ।

तेरे लई लिखके मैं तां रक्ख लई सी,
चिट्ठी उड्ड गई हवा दे नाल किधरे ।
तेरे लई संभाल के रक्ख लए सन,
उड्ड गए ने मेरे ख़्याल किधरे ।

14. चन्न झुक गिआ चाननी नाल झुक गई

चन्न झुक गिआ चाननी नाल झुक गई,
झुक गए ने असां दे नैन चन्नां ।
भावें पता आवाज़ ए बुलबुलां दी,
फिर वी तेरे भुलेखे ही पैन चन्नां ।
सानूं पता तेरे तक्क पहुंचना नहीं,
तां वी गीत अंगड़ाईआं लैन चन्नां ।
दिन लंघदे सभ्भे कटार बणके,
हर रात बणदी आ के डैन चन्नां ।

बिनां पते कोई हौली जेहे लंघ गिआ,
उह ते तूं सैं लोक हुण कहन चन्नां ।
आउन काफ़ले यादां दे रोज़ किधरों,
कोई पता ना कित्थे इह रहन चन्नां ।

15. पिंजरा खोल्ह तां देवां मैं रूह वाला

पिंजरा खोल्ह तां देवां मैं रूह वाला,
इह जाणदी नहीं तेरी थां कित्थे ?
ख़्यालां विच तां आवे आवाज़ आजा,
दिमाग़ पुच्छदा हुण मैं जां कित्थे ?
तेरे वासते सांभ के रक्खी होई ए,
बात आपणी जा के इह पां कित्थे ?
जेहनूं सुणदियां मन नूं शांत आवे,
लोक हैन लैंदे उह नां कित्थे ?
आ के दरद दा वेख तूफ़ान उठदा,
आ के वेख जा जिगर दा ख़ून हुण्दा ।
तूं कित्थे हैं, की है पता तेरा ?
काश ! इहो ही सानूं मालूम हुण्दा ?

16. तेरा खेत मेरा खेत

तेरा खेत मेरा खेत
तेरे ते मेरे खेत दी
वट्ट नाल वट्ट सांझी ।
तेरे खेत विच्च मक्की दी खेती
मेरा खेत ख़ाली ।
मक्की नूं लग्गियां छल्लियां
गज गज लंमियां ।
जिसम उन्हां दे ऐदां गुन्दे
वेखी जावो दिल नहीं रजदा ।
तेरे खेत कोई पशू वड़दा
ते मैं उस पशू नूं हुरकदा
ते पशू टल जांदा ।

फिर खेतों छल्लियां टुट्टियां
सत्थ विच्च इकट्ठ होया
स्याने स्याने बन्दे आखण,
कोई नहीं जे पक्कियां छल्लियां
तोड़ किसे ने लईआं
आपणे चब्बन लई
तां फिर की होया ?'
पर्हा विझड़ गिआ ।

अज्ज फिर इकट्ठ सी
पंचायत दा ।
किसे ने कंमियां दी
क्यारी विच्चों
कुझ दोधे तोड़ लए ।
स्याण्यां केहा,
'तां की होया
चाबू हो चल्लियां सन,
होर दो चहुं दिनां तक्क
इह वी मक्की पक्क जावेगी ।'

मैं कई वारी
बैठा बैठा सोचदां
इह किदां दे इकट्ठ ने,
छल्लियां टुट्टियां-
'कोई गल्ल नहीं चाबू सन ।'
दोधे टुट्टे-
'चाबू होन वाले सन ।'
इंज किन्नां कु चिर
होर हुण्दा रहेगा ?

17. टप्पे

1
बुलबुल फुल्लां कोल आउंदी ए,
उन्हां कोलों महक लए गीत उन्हां नूं सुणाउंदी ए ।
2
वाय पत्तरे झाड़ गई,
तेरी वे जुदाई चन्दरी ज्युंदे जिय साड़ गई ।
3
माली हौके भरदा ए,
फुल्लां नूं गड़े झाड़ गए रब्ब की की करदा ए ।
4
बाग़ चन्नन दा ला बैठे,
पता सानूं पिछों लग्ग्या साथी नाग बना बैठे ।
5
पंछी गीत सुणाउंदे ने,
बिरहुं विच्च सड़्यां नूं लग्गे कीरने पाउंदे ने ।
6
फुल्ल खिड़े गुलमोहरां नूं,
कहन्दे इहो रुत्त भांवदी सभ दिल दियां चोरां नूं ।
7
इहनां नैणां दे रंग वेखो,
सज्जन जदों दूर हुन्दे रोंदे बदलियां संग वेखो ।
8
पत्त पीले हो गए ने,
याद तेरी डंग मार्या बुल्ह नीले हो गए ने ।
9
वेखो कलियां खिलियां ने,
दिल बागो-बाग हो ग्या सूहां तेरियां मिलियां ने ।

18. तारे

निक्के निक्के प्यारे प्यारे ।
चमकन विच असमानी तारे ।
दिन वेले किधरे लुक जांदे ।
रातीं आ फिर टिमटिमांदे ।
जद ज़रा कु बद्दल होवन ।
उहनां पिच्छे मूंह लुकोवन ।
बद्दल जद पर्हां हो जावन ।
फिर लगदे झातियां पावन ।
जी करे इन्हां कोल जावां ।
इहनां नाल दोसती पावां ।
मंमी नूं मैं जा सुणाया ।
मंमी मैनूं इह समझाया ।
'दुद्ध पी के वड्डा हो जावीं ।
उन्हां नाल दोसती पावीं' ।

19. कोइल

अम्बां उत्ते बूर आ ग्या
कोइल नूं सरूर आ ग्या
सारा दिन कू कू पई करदी
सभनां दे मन ख़ुशियां भरदी
रंग इसदा भावें है काला
बोल इद्हा पर मिट्ठा बाहला
आपना आल्हना नहीं बणाउंदी
कां-आल्हने आंडे दे आउंदी
जद बच्चे हो जान उडार
मां संग जान उडारी मार
पर जद रुत्त सरदी आवे
लग्गे बाहर पंजाबों जावे

20. तोता

सावा हरा रंग है इसदा
बाहरों किन्ना सुन्दर दिसदा
बैठे जद आ अम्बां उत्ते
कच्चियां ही अम्बियां टुक्के
ढिड्ड विच उने फल नहीं पांदा
जिन्ने टुक टुक सुटदा जांदा
इहो इसदी गल्ल है माड़ी
जांदा सारी फसल उजाड़ी
कई लोकी घर इस नूं पालण
आपनी बोली इहनूं सिखालण
मिठू बण मन सभदा मोहे
चूरी खावे ते ख़ुश होवे
बच्च्यां नाल रिच-मिच जावे
गल्लां उन्हां ताईं सुणावे

21. बुलबुल

बुलबुल फुल्लां कोल आ के जां बहन्दी ए ।
मिट्ठियां गल्लां रोज़ उन्हां नूं कहन्दी ए ।
उह गाउंदी तां फुल्ल होर वी खिड़ जांदे।
महक वंडके अपनी जग नूं महकांदे ।
बुलबुल बहुता पक्क्या फल ही खांदी ए ।
तोते वांग ना टुक टुक ढेर लगांदी ए ।
जद वी गीत सुणावे मन मोह लैंदी ए ।
हर वेले ना रौला पाउंदी रहन्दी ए ।
कीट-पतंगे जो रोग लगाउंदे फुल्लां नूं ।
रस उन्हां दा पी पी मुरझाउंदे फुल्लां नूं ।
बुलबुल उन्हां नूं खा के बचावे फुल्लां नूं ।
टहके आप सदा टहकावे फुल्लां नूं ।

22. हकीम अल्ल्हा यार खां जोगी नूं

वाह ओए जोगिया ! आपने नां ताईं,
हर पास्यों ठीक ठहराया तूं ।
'अल्ल्हा यार' सी अल्ल्हा दा यार बण्यों,
भेद दूई-दवैत मिटाया तूं ।

तेरी रूह नूं कोई ना फ़रक लग्गा,
हज़रत साहब 'ते गुरू गोबिन्द दे विच्च ।
पूजन लग्ग्यां तूं ना फ़रक पाया,
'चमकौर' 'करबला' अते 'सरहन्द' दे विच्च ।

हज़रत अली दे हसन-हुसैन दा सी,
तेरी नज़र विच्च मरतबा बहुत उच्चा ।
अजीत-जुझार, ज़ोरावर-फ़तह दा वी,
तूं समझ्या ओनां ही नां सुच्चा ।

वड्डे पापियां दी कतार अन्दर,
खड़े कीते तूं ज़्याद यज़ीद दोवें ।
उन्हां नाल ही तूं मिला दित्ते,
सुच्चा नन्द ते सूबा वज़ीद दोवें ।

तेरी कलम ने उह तसवीर खिच्ची,
साहवें अक्खां दे जंग घमसान होवे ।
सुत्ते सिंघां नूं तक्क के गुरू सोचण,
जिवें पुत्तां तों पिता कुरबान होवे ।

हर इक्क शियर है पुर तासीर तेरा,
पत्थर दिल वी मोम बणाई जावे ।
दरद किन्ना वी भावें महसूस होवे,
मल्ल्हम शरधा दी ओस ते लाई जावे ।


काज़ी आख्या, "जोगिया कर तौबा,
कुफ़र छड्ड ईमान दी गल्ल कर तूं ।
तैनूं बहशतां विच वासा मिल जाणा,
'केरां मूंह मसीत दे वल्ल कर तूं ।

काहतों लिख लिख काले करें काग़ज़,
ऐवें काफ़रां दे सोहले गाई जांदा ।
बहशत उडीकदे पए ने मोमनां नूं,
क्युं तूं दोज़ख़ां वल्ल नूं जाई जांदा ।"

"काज़ी ! कुफ़र की ए अते ईमान की ए,
इहदा तूं कोई फ़रक नहीं कर सकदा ।
सागर वहदत दे टुभ्भियां मैं लावां,
तेरे जेहा अणजान नहीं तर सकदा ।

पल्ला सच्च दा फड़्या मैं सच्च लिख्या,
तेरे वरग्यां नूं कुफ़र लग्गदा ए ।
मेरे अन्दर गुरू दे नां वाला,
सागर वेख किन्नां सुहना वगदा ए ।

मैं जदों वी विच्च ध्यान तक्कां,
अंग संग ही जापन हमेश सतिगुर ।
अड्ड बाहां गलवक्कड़ी पान लई,
मैनूं उडीकदे पए दसमेश सतिगुर ।"

Stories in poetic form

1. हार दी जित्त

(इह रचना सुदर्शन दी हिन्दी कहाणी
'हार की जीत' ते आधारित है)

१.
मां बेटे नूं वेख के ख़ुशी होवे
फ़सल जट्ट दे दिल नूं मोह लैंदी ।
बाबा भारती घोड़े नूं वेखदे जां
दिल उहनां दे वी इंज खोह पैंदी ।

भजन बन्दगी तों जो वी समां बचदा
सारा घोड़े दे उत्ते ही ला देंदे ।
कदे खरखरा पिंडे ते फेरदे सी
हत्थीं आपणे दाना वी पा देंदे ।

घोड़ा सोहना सुडौल ते सी बांका
सारे विच इलाके मशहूर होया ।
बाबे ओस दा नां 'सुलतान' रक्ख्या
नाले ओस ते बहुत गरूर होया ।

जायदाद छड्डी शहर छड्ड दित्ता
पिंड छोटे जेहे मन्दिर विच आ बैठे ।
जादू ऐसा सुलतान ने धूड़ दित्ता
सभ कुझ ही छड्ड छडा बैठे ।

'जिवें बद्दल नूं वेख के मोर नच्चे
ओसे तर्हां ही चाल सुलतान दी ए ।
मैं एस तों बिना नहीं रह सकदा
मेरी रूह सारा कुझ जाणदी ए ।'

रोज़ शाम नूं घोड़े दे चढ़ उत्ते
बाबा भारती सैर नूं जांवदे ने ।
अट्ठ-दस मील दा चक्कर ला आउंदे
मन आपणे नूं चैन पांवदे ने ।

२.
डाकू ओस इलाके दे विच्च विचरे
खड़ग सिंघ सी ओस दा नां कहन्दे ।
ऐसा डर सी ओस दा छाया होया
नां सुणदियां कम्बदे लोक रहन्दे ।

खड़ग सिंघ सुलतान दी सुणीं शोभा
मन ओसदा वेखना चांहवदा ए ।
इक दिन जां सूरज सिर आया
कोल बाबा जी दे चल्ल आंवदा ए ।

बाबा भारती पुच्छदे खड़ग सिंघ नूं,
'तूं दस्स भाई केहड़े कंम आया ?'
अग्गों मोड़वां ओस जवाब दित्ता,
'नां तुहाडे सुलतान दा खिच्च ल्याया ।'

बाबा भारती ओस दी गल्ल सुणके
उहनूं घोड़े दे कोल लै जांवदे ने ।
नाले सिफ़त सुलतान दी करी जांदे
नाले ओस दी चाल विखांवदे ने ।

घोड़ा वेखके खड़ग सिंघ दंग रेहा
मन ओसदा लालच दे वस्स होवे ।
जिस चीज़ ते ओस दा मन आवे
उहदा दिल करदा उहदी उह होवे ।

उहदा मन सोचे घोड़ा बड़ा सुन्दर
बाबे एस दा की करावना एं ।
जांदा जांदा उह बाबे नूं आख गिआ,
'इह घोड़ा तां मैं लै जावना एं ।

३.
उस दिन तों बाबे दी नींद उड्डी
राखी करदियां दी सारी रात लंघे ।
खड़ग सिंघ दा डर सताई जांदा
भांवें बाहर तबेले दे कोई खंघे ।

एसे तर्हां महीने कई लंघ गए
खड़ग सिंघ उस पासे वल्ल ना आया ।
बाबा भारती वी सोचन लग्ग पए
जिवें किसे सुपने ऐंवे डर पाया ।

इक दिन शाम वेले बादशाह वांगूं
चढ़ घोड़े ते सैर नूं जांवदे ने ।
नूर मुक्ख दे उत्ते सी चमक रेहा
मन आपणे घोड़ा सलांहवदे ने ।

एने चिर नूं इक आवाज़ आई
रुक्ख हेठ कोई बैठा कराह रेहा सी ।
नेड़े गए तां बाबा की वेखदा ए
इक बिमार सी जो कुरला रेहा सी ।

रोगी आखदा, 'बाबा जी लागले पिंड
मैं जाणां एं जे तुसीं छड्ड आवों ।
भला करेगा रब्ब तुसां दा वी
जेकर एस गरीब ते तरस खावों ।'

बाबे सोच्या एस विच्च जांवदा की
उहनूं घोड़े दे उत्ते चढ़ा ल्या ।
आप फड़ लगाम लग्ग गए अग्गे
घोड़ा पिंड दे राह ते पा ल्या ।

झटका लग्गा लगाम वी छुट गई
घोड़ा भज्जा सवार उह तण बैठा ।
जेहनूं समझ बिमार बिठाया सी
खड़ग सिंघ आपूं उह बण बैठा ।

बाबे मूंहों निराशा दी चीक निकली
चुप्प होए ते फेर आवाज़ मारी ।
'ज़रा ठहर जा ते मेरी गल्ल सुणजा
इह बेनती है मेरी अंत वारी ।'

डाकू रुक गिआ बाबा कोल गिआ
जा के बाबे ने उच्ची आवाज़ केहा,
'घोड़ा होया तेरा मैं ना मंगां
मेरा एस ते कोई ना हक्क रेहा ।

इक्क गल्ल मेरी पर बन्न्ह पल्ले
इहनूं आपणे दिल हमेश रक्खीं ।
घोड़ा किदां है मेरे तों तूं खड़िआ
इह होर ना किसे नूं जा दस्सीं ।'

खड़ग सिंघ नूं कुझ ना समझ आई
बाबा आखना की चांहवदा ए ।
'इहदा डर की ए मैनूं तुसीं दस्सो ?'
नाल आज़ज़ी उह पुछांवदा ए ।

बाबे आख्या, 'गल्ल जे तूं दस्सी
दीन-दुखियां तों उट्ठ इतबार जाना ।
लोड़वन्द वी किसे दे दर जाऊ
उहनूं किसे ने फेर नहीं मूंह लाना ।'

४.
एनी आख के बाबे ने पिट्ठ मोड़ी
खड़ग सिंघ नूं सोचीं उह गल्ल पा गई ।
'बाबा देवता ते मैं खड़ा कित्थे ?'
इहो सोच उहदे दिल सल्ल पा गई ।

रात होई अद्धी सारे सुन्न छाई
घोड़ा खड़ग सिंघ मोड़ के ल्यांवदा ए ।
हौली हौली तबेले दे विच वड़िआ
घोड़ा बन्न्ह ओथों टुर जांवदा ए ।

हंझू आए अक्खीं मन होया हौला
हत्थ जोड़ के ते नमशकार करदा ।
बाबा ओस नूं रब्ब दा रूप दिस्से
लग्गे अक्खां तों पर्हां हो गिआ परदा ।

चौथे पहर बाबे इशनान कीता
सुते-सिद्ध तबेले वल्ल टुर प्या उह ।
जा के फाटक ते भुल्ल महसूस होई
पुट्ठे पैर उथों फेर मुड़ प्या उह ।

पैर चाप सुन हिनक सुलतान प्या
बाबा भज्ज के गल जा लगिआ ए ।
जिवें विछड़े पुत्त नूं प्यु मिल्या
इंज अक्खियां 'चों हढ़ वगिआ ए ।

बाबा घोड़े दी पिट्ठ ते हत्थ फेरे
नाले मूंहों इह गल्ल उह आखदा ए ।
'दीन-दुखियां तों कोई क्युं मूंह मोड़ू
नेकी पुट्ट्या मुढ्ढ जां पाप दा ए ।'

2. बाज़ दा गीत

(इह रचना मैक्सिम गोर्की दी कहाणी
'बाज़ दा गीत' दे गुरूबख़श सिंघ दे
कीते अनुवाद दा कावि-रूप है )

१.
उच्चे पहाड़ीं रींगदा इक सप्प सी भारी ।
जा के सिल्ही खड्ड विच उस कुंडली मारी ।
सागर वन्ने ओस ने फिर नज़र उभारी ।
सूरज विच्च असमान दे देवे चमकारी ।
गरम साह पहाड़ दी मारे उच्च उडारी ।
लहरां चटानीं वजदियां कर स्ट्ट करारी ।
हनेरी गुफा दी धुन्द 'चों इक झरना तिक्खा ।
सागर वल्ल नूं उमल्या रक्ख तीबर इच्छा ।
राह दे पत्थर उलटा के चीर परबत दित्ता ।
रोह भरी करदा गरज जा सागर विच डिग्गा ।

अचणचेत ढट्ठा इक बाज़ आ उस थां दे नेड़े।
सीने उसदे डूंघा ज़ख़म सी खंभ लहू लबेड़े ।
धरती उत्ते डिगदियां उस चीक सी मारी ।
खंभ फड़फड़ाए ओस ने पर ज़ख़म सी कारी ।
सप्प डर्या ते नट्ठ्या फिर उसने तक्क्या ।
इस पंछी दा जापदै ज्युं जीवन मुक्क्या ।
डरदा डरदा रींगदा उस कोल उह आया ।
ज़ख़मी तक्क उह शूकर्या ते तनज चलाया ।
"क्युं, मरन लग्गिऐं ?" उस ने पुछाया ।
"हां, मर रेहां !" बाज़ हउका भर आया ।
"पर मैं रज्ज के जीव्या ते ख़ुशी है मानी ।
नाल बहादरी उडदियां सभ खलाय है छानी ।
मैं गाहआ आकाश ए ते नेड़्यों तक्क्या ।
तूं की विचारी चीज़ एं जो उड ना सक्या ।"
"आकाश इक खलाय है मैं रींग नहीं सकदा ।
एथे बहुत आनन्द है सिल्ह अते निघ्घ दा ।"
आज़ाद पंछी नूं सप्प ने इउं जवाब सी दित्ता ।
मन आपने हस्स्या गल्ल नूं समझ बेतुका ।
सप्प फिर बैठा सोचदा, 'की फरक ए पैंदा,
जे कोई धरती रींगदा जां उडदा रहन्दा ।
अंत सभनां दा इक है धरती ते आना ।
मिट्टी विच समा के मिट्टी हो जाना ।'

बाज़ ने रोह विच आ के फिर गरदन चुक्की ।
डूंघी नज़र इक ओसने वल्ल खड्ड दे सुट्टी ।
चटान तरेड़ां विचों सिंम पानी रही सी ।
खड्ड वाली हवा मौत ते सढ़ांद भरी सी ।
बाज़ उदासी सिक्क नाल इक कूक सी मारी ।
'काश मैं वल्ल आकाश दे फिर भरां उडारी ।
दुशमन आपने ताईं मैं नाल ज़ख़मी सीने ।
रगड़ां ख़ून च डोब के सुट दियां ज़मीने ।
लड़ाई विच की मज़ा है बुज़दिल की जाने ।
मरनां है नवीं ज़िन्दगी मरदां दे भाने ।'
सप्प सोचे उच्चा उडन दा होना बड़ा नज़ारा ।
ताहीं आहां भर रेहा इह बाज़ विचारा ।
सप्प बाज़ नूं आखदा, 'तूं जे भरनी उडारी।
गुफा दे सिरे ते पहुंच जा ताकत ला सारी ।
दन्दी तों हेठां कुद्द पओ कर वड्डा जेरा ।
हो सकदै खंभ चुक्क लैन सभ भार जो तेरा ।
तैनूं विच्च खलाय दे ओह फेर उडावन ।
बुझ चुक्की तेरी आस नूं उह फेर जगावन ।'
बाज़ दा लूं लूं थिरक्या फिर रोह चढ़ाया ।
जिल्हन विच पंजे खोभदा दन्दी तक्क आया ।
दन्दी उतों उडन दी उस करी त्यारी ।
डूंघा भर के साह ओस फिर चुभ्भी मारी ।
पत्थर वांगूं डिग्ग्या ते खंभ खिलारे ।
नाल चटानां रगड़ के लत्थे उह सारे ।
इक लहर ने आके उस ताईं उठाया ।
ख़ून ओस दा धो के सभ साफ कराया ।
झग्ग दे विच लपेट के वल्ल सागर चल्ली ।
लहरां चीकां मारियां मच गई तरथल्ली ।

२.
किन्ना चिर सप्प बैठा रेहा खड्ड कुंडल मारी ।
बाज़ बारे उह सोचदा जेहनूं खलाय प्यारी ।
फिर वल उस असमान दे इक नज़र सी मारी ।
जित्थे ने सुपने ख़ुशी दे रहन्दे लाउंदे तारी ।
सप्प सोचे, 'बाज़ वरगे की भालदे विच खलाय दे ?
ना ही जिसदा कोई तल है ना किनारा दिस्से ।
उड्डन दी तांघ विच ही क्युं रूह कलपाउंदे ?
की उत्थे उन्हां नूं दिसदा की ख़ुशी ने पाउंदे ?
इक छोटी भर उडान मैं जान इह सकदा ।
जे कोई ख़ुशी होवेगी उहनूं मान मैं सकदा ।
सप्प ने ज़ोर पूरा ला के कुंडल इक मारी ।
पत्थर उत्तों उछल्या भरन लई उडारी ।
उस ने आपने मन विच्चों इह गल्ल विसारी ।
जो रींगन लई जंमदे ना लान उडारी ।
सप्प उतांह भुड़क के आ चटान ते डिग्ग्या ।
मरनो जद उह बच ग्या फिर उच्चा हस्स्या ।

'बस्स एनी ही गल्ल है, इस विच ख़ुशी की ?
उतांह चढ़ के उड्डना फिर डिग्गना धरती ।
धरती नूं नहीं जाणदे ते दुखी ने रहन्दे ।
भालन खलाय विच ज़िन्दगी ते धुप्पां सहन्दे ।
उपर चानन बहुत है जीवन नहीं टिकदा ।
तां फेर मान काहदे लई हंकार ए किसदा ।
पागल इच्छावां धरत ते ना पूरियां होवन ।
हार ते परदा पाउन लई इह उड खलोवन ।
धरती नूं जो नहीं प्यारदे उन्हां उडदे रहना ।
ताहीउं पैंदा इहनां नूं सभ दुखड़ा सहना ।
इन्हां दी फोकी वंगार विच मैं नहीं आउना ।
धरती ते मैं जंम्या एथे वकत लंघाउना ।'

तेज़ रौशनी सी पै रही सागर दए चमकारे ।
लहरां ज़ोरो ज़ोरी वजदियां आ आ किनारे ।
उसे गरज विच सी गूंजदा उह बाज़ तराना।
जेहदी धुन आकाश डराउंदी कम्बन चट्टानां ।
लहरां सी गीत गा रहियां दस्स बाज़ दलेरी ।
'तूं भावें हैं मर ग्या पर कुरबानी तेरी,
आज़ादी लई मरजीवड़े ने पैदा करने ।
सदा दूज्यां लई जो तारे बण चढ़ने ।'

3. गिरगिट

(इह रचना अनतोन चैख़ोव दी कहाणी
'गिरगिट' दे करनजीत सिंघ दे
कीते अनुवाद दा कावि-रूप है )

थानेदार ओचूमीलोव दे नवां-नकोर, वड्डा कोट सी पाया ।
हत्थ विच उस इक बंडल फड़्या, विच मंडी दे आया ।
उसदे पिछे लाल सिरा सिपाही, सी इक टुरदा आउंदा ।
रस भरियां दी टोकरी चुक्कीं, तेज़ी नाल कदम उठाउंदा ।
सुन्नसान मंडी विच सारे ना दिसे, किधरे कोई परछावां ।
शराबख़ाने, दुकानां गाहकां लई सी, अड्ड खलोते बाहवां ।
रब्ब दी रची इस दुनियां नूं उह, वेखन नाल उदासी ।
मंगता तक्क वी नहीं सी ओथे, ओस जगाह दा वासी ।

थानेदार दे कन्नां विच फिर, इक आवाज़ सी आई ।
"तूं कुतीड़ कट्टेंगा मैनूं, इहनूं जान ना देना भाई ।
कट्टन दी हुन एस जा ते, नहीं किसे आग्या कोई ।
फड़ीं रक्खो इहनूं तुसीं मुंड्यो, जिद्दां मुजरम कोई ।"
कुत्ते दी चऊं-चऊं सुणके, थानेदार ने उधर तक्क्या ।
तिन्न लत्तां ते कुत्ता आवे, इक वेहड़े 'चों नट्ठ्या ।
उसदे पिच्छे बन्दा भज्ज्या बाहर नूं इक आया ।
ठेडा खा के डिग्ग्या पर कुत्ता लत्तों काबू आया ।
"इस नूं जान ना देईं," आवाज़ किसे फिर मारी ।
उनींदे लोकीं बाहर झाकन, भीड़ जुड़ गई भारी ।
सिपाही आखे, "इउं लग्गदै झगड़ा कोई होया ।"
थानेदार भीड़ वल्ल मुड़्या, ते कोले आ खलोया ।
खुल्ल्हे बटन वासकट पाई इक बन्दा उसने तक्क्या ।
उंगली विचों ख़ून सी वहन्दा हत्थ उस उपर चक्क्या ।
उंगल उस दी जित्त दा झंडा लोकां ताईं सी लगदी ।
गाल्हां दिन्दे उसदे मूंहों शराब दी बो पई सी वगदी ।
थानेदार ने झट्ट पछाण्या उह खरीऊकिन सुन्यारा ।
भीड़ विचाले लत्तां पसारी प्या सी मुजरम बेचारा ।
सरीर उसदा ठंढ ते डर नाल कम्ब रेहा सी पूरा ।
तिक्खे नक्क ते चिट्टे रंग वाला उह 'बोरज़ोई' कतूरा ।

मोढे मारके राह बणाउंदा थानेदार अग्गे आया ।
"इह सारा कुझ की हो रेहै, कौन सी जो चिल्लाया ?
तूं एथे दस्स की कर रेहैं, की तुसीं झगड़ा पाया ?
तूं उंगल उत्ते क्युं चुक्की ?" उहने आ पुछाया ।
सुन्यारा मुट्ठी विच खंघ्या, फिर गल्ल उस कीती ।
"मैं सां लेले वांगूं आउंदा बिलकुल चुप-चुपीती ।
मितरी मितरिच नाल लक्कड़ दा कंम सी मेरा कोई ।
पता नहीं क्युं इस कुतीड़ ने मेरे चक्क वढ्योई ।
मैं कंम करन वाला हां बन्दा उंगल बिना नहीं सरना ।
मेरा कंम बड़ा तकनीकी हुन मैं इह किदां करना ।
मैनूं तुसीं इवजाना दिवायो कानून्न दा वी इह कहना ।
कुत्ते एदां वढ्ढन लग्ग पए औखा होजू जग्ग विच रहना ।"
खंघूरा मारके रुअब नाल फिर थानेदार इह पुछदा ।
"हूं.. अच्छा, कीहदा इह कुत्ता ? पता दियो मैनूं उसदा ।
मैं गल्ल एथे नहीं छड्डणी, लोकां नूं इह दिखाउना ।
समां आ गिऐ अजेहे लोकां नूं पैना सबक सिखाउना ।
जो नियमां नूं तोड़न उन्हां नूं जुरमाना करना भारा ।
उस बदमाश नूं मैं सिखाउना कुत्ता जीहदा अवारा ।
येलदीरिन, तूं पता लगा कुत्ता है इह किसदा ?
लिख ब्यान, फिर कुत्ते वाला वढ्ढना पैना फसता ।
हो सकदै कुत्ता हलकाया होवे मरना इसदा चंगा ।
इह कुत्ता कीहदा मैं पुछदा, कोई दस्सो उह बन्दा ?"

"जरनैल ज़ीगालोव दा कुत्ता," आवाज़ किसे दी आई ।
"येलदीरिन, मेरा कोट लुहाईं, किन्नी गरमी भाई ।
मैनूं हुन इंज है लग्गदा बरसात आई कि आई ।"
फिर सुन्यारे वल्ल मुड़्या, कहे, "समझ नहीं आई ।
इस कुत्ते ने तैनूं किदां वढ्ढ्या तेरी ऐनी उचाई ।
इह बेचारा निक्का जेहा कुत्ता तूं उठ जेड प्या ई ।
तूं किल्ल नाल छिलवाई उंगली फिर सकीम बणाई ।
सट्ट जो इह लग्ग ही गई ए करीए इहतों कमाई ।
मैं जाणदां तेरे वरग्यां नूं, सारी बदमाशां दी ढानी ।"
सिपाही बोल्या, "शरारतां करन दी आदत इहदी पुरानी ।
बलदी सिगरट मज़ाक नाल इस ने नक्क कुत्ते दे उते लाई ।
उसने ताहीउं चक्क वढ्ढ खाधा इसनूं, हुन पावे हाल दुहाई ।"
सिपाही दी इस हरकत उे्ेते सुन्यारे ने खाधा गुस्सा ।
"झूठ ना मारी जा ओए काण्यां, तूं मैनूं कद डिट्ठा ।
जनाब हैन स्याणे-ब्याणे, झूठ ना चलदा इन्हां कोले ।
कौन झूठा इह सभ कुझ समझन, कौन रब्बी सच्च बोले ।
मेरे उत्ते मुकदमा चल्लायो, जे मैं कोई झूठ अलावां ।
मेरा भाई वी विच पुलस दे, तैनूं इह समझावां ।"

सिपाही गंभीर होइके आखे, "इह नहीं उन्हां दा कुत्ता ।
जरनैल साहब दे कुत्ते सभ शिकारी मैनूं पता ए पक्का ।"
"मैनूं आप इह लगदा उहनां दे कुत्ते सभ नसली ने ।
सारे महंगे मुल्ल दे ने ते सारे दे सारे असली ने ।
इस कुतीड़ वल्ल तां वेखो खुरक-मार्या ते बदसूरत ।
जरनैल साहब नूं इह रक्खन दी केहड़ी पई ज़रूरत ।
जे कोई ऐसा कुत्ता मासको जां पीटरसबरग विच्च दिस्से ।
पतै उस नाल की होवेगा हर कोई पवेगा उहदे पिच्छे ।
कानून्न तों बेपरवाह हो के सारे उहनूं मार छड्डणगे ।
पिच्छों जो हुन्दै हो जावे पहलां फसता उसदा वढ्ढणगे ।
खरीऊकिन तैनूं इस वढ्ढिऐ इह गल्ल भुल्ल ना जाना ।
समां आ गिऐ इहदे मालिक नूं पैना सबक सिखाना ।"

फिर ख़्याल आपना उच्च आवाज़े दस्स्या ओस सिपाही,
"शायद इह कुत्ता सच्चीं मुच्चीं किते होवे ना उन्हां दा ही ।
वेखन नाल ही कोई कुत्ते दा कदे मालक दस्स सक्या ए ।
कुझ दिन होए उहनां दे वेहड़े मैं ऐसा कुत्ता तक्क्या ए ।"
भीड़ विचों वी आवाज़ इह आई, " इह उन्हां दा कुत्ता ।"
इह गल्ल सुणके थाणेदार वी मुड़के, हो ग्या दो-चित्ता ।
"येलदीरिन, मेरे कोट पुआईं, बुल्ला हवा दा आया ।
इह बुल्ला वेख किन्नी ठंढक है आपने नाल ल्याया ।
इह कुत्ता आपने नाल लै के तूं जरनैल साहब दे जावीं ।
इस नूं मैं ही लभ्भ के भिजवायऐ उहनां नूं दस्स आवीं ।
इस कुत्ते नूं ऐवें गली विच्च छड्डना है नहीं मूलों चंगा ।
मतां इह कीमती कुत्ता विगड़के बण ही ना जावे गन्दा ।
हर मूरख आपनी बलदी सिगरट इस दे नक्क च वाड़े ।
कुत्ता बड़ी नाज़ुक चीज़ है हुन्दी मत सिगरट इसनूं साड़े ।
..आपना हत्थ हेठां क्युं नहीं करदा उल्लू दे पट्ठे सुन तूं ।
आपनी गन्दी उंगल लोकां नूं दिखाउना बन्द करदे हुन तूं ।"

"औह वेखो, रसोईआ साहब दा परोखोर है आया ।
बज़ुरगा पछान इह कुत्ता तुसां ते नहीं गुआया ।"
"कोई होर गल्ल करो, तुसां इह केहो जेही गल्ल पुच्छी ।
इहो जेही कुतीड़ सारी ज़िन्दगी असां कदे नहीं रक्खी ।"
थाणेदार विचों ही बोल्या, "होर पुच्छन दी लोड़ ना कोई ।
इस कुत्ते नूं मारो हुन गोली, गल्ल समझो ख़तम इह होई ।"
परोखोर अग्गों फिर दस्स्या, "गल्ल अजे ख़तम नहीं होई ।
जरनैल साहब दे भाई नूं बहुत पसन्द ने कुत्ते 'बोरज़ोई' ।"
इह सुन थानेदार दे चेहरे उत्ते मुसक्राहट भर आई।
"सच्चीं आए होए ने, कदों दे जरनैल साहब दे भाई ।
ज़रा सोचो उह आए होए ने ते मैनूं ख़बर नहीं काई ।
की उह ठहरनगे जां नहीं ? तूं मैनूं दस्स मेरे भाई ।"
परोखोर ने 'हां' कही ते थाणेदार ने गल्ल जारी रक्खी,
"इह कुत्ता उहनां दा मैनूं किसे नहीं गल्ल दस्सी !
इस नूं चुक्क लै, किन्ना सुन्दर इह निक्कू जेहा कतूरा ।
जिसदी उंगल नूं इस चक्क मारिऐ, उह है बेशऊरा ।"
परोखोर कुत्ते नूं पुचकार्या कुत्ता उसदे पिच्छे तुर्या ।
भीड़ खड़ोती सभ हस्सन लग्गी सुन्यारा बह झुर्या ।
"मैं अजे तैनूं फेर वेखांगा," थानेदार ने दित्ता डराबा ।
वड्डा कोट आपना लपेट के मंडी विचों उह टुर ग्या ।

4. ख़ुश शहज़ादा

(इह रचना औसकर वायलड दी अंग्रेजी कहाणी
'द हैपी प्रिंस' ते आधारित है)

1.
सारे शहर दे उपरों इक बुत्त सी दिसदा ।
ख़ुश शहज़ादा नां सी, सी बुत्त उह जिसदा ।
मढ़आ सोने नाल सी शहज़ादा सोहना ।
नीलम अक्खीं सोंहदे जापे मनमोहना ।
उस हत्थ इक तलवार सी जो बड़ी प्यारी ।
मुट्ठे जड़्या लाल सी दिख जिसदी न्यारी ।
लोकीं उसनूं वेखके कई गल्लां करदे ।
कोई कहे फ़ज़ूल इह कई आहां भरदे ।
मां आखदी बच्चे नूं ख़ुश एदां रहना ।
कोई कहन्दा बुत्त ने है इउं ही रहना ।
बच्चे कहन, 'फ़रिशत्यां ज्युं चेहरा इसदा ।'
हसाब मासटर पुछदा, 'की सबूत है इसदा ?
तुसीं की जाणों फ़रिशते ने कित्थे रहन्दे ?'
बच्चे कहन, 'विच सुपन्यां साडे कोल बहन्दे ।'

2.
इक रात नूं अबाबील इक आया उत्थे।
साथी मिसर नूं चले गए उह रहआ पिच्छे ।
बंसरी दे बूटे नाल सी प्यार उह करदा ।
उसनूं हासल करन लई लक्ख तरले करदा ।
सारियां गरमियां लंघियां उहनूं एदां करदे ।
साथी कहन्दे मूरख ने जो बंसरियां ते मरदे ।
इस कोल कोई धन नहीं पर सम्बंधी ने किन्ने ।
इह कह उडारी मार गए अबाबील सी जिन्ने ।
पिच्छों उसने सोच्या इहदी हवा नाल वी यारी ।
इह ना इत्थों जा सके मार लंमी उडारी ।
फिर अबाबील ने पुच्छ्या, 'चल्ल एथों चल्लीए ।'
उसने सिर हिलाया जद हवा चल्ली ए ।
उसने उहनूं 'बेवफ़ा' आखके कर लई त्यारी ।
पिरामिडां वल्ल जान लई उस भरी उडारी ।

3.
सारा दिन उह उड्ड्या रातीं शहर च आया ।
उस जग्हा रात कट्टन दा उस मन बणाया ।
उह बुत वल्ल वेख के हेठां उतर आया ।
उस दे पैरां विच सौन लई उस डेरा लाया ।
सौन लई फिर ओसने सिर खंभां विच दित्ता ।
ऐन उसे वेले पानी दा इक डिग्ग्या तुपका ।
उसने उपर तक्क्या तारे खिड़ खिड़ हस्सण।
आकाश विच ना किते वी कोई बद्दल दिस्सन ।
ऐने नूं तुपका होर आ उस उते डिग्गा ।
खंभ खोल्ह के आपने उह उड्डन सी लग्गा ।
तीजा तुपका डिग्ग्या उस उपर तक्क्या ।
ऐसा नज़ारा उस वेख्या ते उड ना सक्या ।
हंझूआं नाल बुत्त दियां सी अक्खियां भरियां ।
उन्हां विचों ही निकलके बून्दां सन वर्हियां ।
चाननी रात विच शहज़ादा सी लगदा सोहना ।
अबाबील नूं तरस आ ग्या तक्क उस दा रोना ।
"दस्स तूं मैनूं कौन एं ?" उस उहनूं पुच्छ्या ।
"ख़ुश-शहज़ादा नां मेरा," सी बुत्त ने दस्स्या ।
"तूं दस्स क्युं रो रेहा मैनूं भ्युं दित्ता ?"
शहज़ादे ने शुरू कीता फिर आपना किस्सा ।
"जदों मैं ज्युंदा जागदा इनसान सां भाई ।
हंझूआं दी कद पहुंच सी तद मेरी जाई ।
दुक्ख कदे मेरे महल दे ना आउंदा नेड़े ।
दोसतां नाल मैं बाग़ विच लाउंदा सां गेड़े ।
शाम वेले मैं नाच दा सां मोहरी हुन्दा ।
'ख़ुश-शहज़ादा' आखदा मैनूं हर बन्दा ।
महल दे बाहर की है ना पता सी काई ।
एस तर्हां ख़ुश रहन्दियां मैं उमर लंघाई ।
मरन तों बाद उन्हां ने आह बुत्त बणाया ।
सिक्के दा दिल उन्हां ने मेरे विच पाया ।
हुन शहर दी सारी गन्दगी ते दुक्ख मैं तक्कां ।
हंझू भरियां रहन्दियां ताहीं मेरियां अक्खां ।

4.
औह दूर छोटी गली विच मकान है दिसदा ।
उह दरजन बड़ी गरीबड़ी है घर उह जिसदा ।
उह मरियल जेही जापदी अक्खां विच खुभियां ।
लाल खुरदरे हत्थां विच सूईआं ने चुभियां ।
साटिन दे इक गाऊन ते कढाई पई करदी ।
अगले दिन पावना नाच ते रानी दी बरदी ।
इक खूंजे विच्च प्या है उहदा बाल न्याना ।
बुखार ने उस बच्चे नूं कर रक्ख्या है निंमोझाना ।
"मां, मैं संतरे लैने ने" उह आखीं ही जावे ।
मां दे कोल फुट्टी कौडी नहीं उह किथों ल्यावे ।
हे अबाबील ! देख तूं मेरे पैर पए बन्न्हे ।
तैनूं अरज़ मैं इक करां जे मेरी मन्ने ।
तलवारों लाल उतार लै ते मार उडारी ।
इह उस मां नूं दे आ जो है दुख्यारी ।"
अबाबील फिर आखदा, मैं मिसर जाणां ।
जिथे साथी मैनूं उडीकदे मेरा उही टिकाना ।
उह उडदे उपर नील दे कंवलां नाल बोलन ।
शाम पए घर आउन लई पर अपने तोलन ।
उन्हां दा घर राजे दी कबर है जो बड़ी शिंगारी ।
राजे दी चमड़ी ओस विच पई झुरड़ी सारी ।"
शहज़ादा आखे अबाबील नूं, "रुक अज्ज दी रातीं ।
वेख लड़का किन्ना प्यासा है ते मां किन्नी उदासी ।"
"मैनूं लड़के पसन्द ना," अबाबील पुकारे ।
"इक दिन तिन्न मुंड्यां मैनूं पत्थर मारे ।
मैं इस लई बच ग्या असीं हां फुरतीले ।
मैं नहीं रुकना एस थां हुन किसे वी हीले ।"
इह गल्ल सुन शहज़ादे 'ते उदासी छाई ।
इहो उदासी अबाबील दिल तरस ल्याई ।
"भावें किन्नी ठंढ है रात पर एथे लंघानी ।
तेरी दित्ती होई चीज़ मैं अग्गे दे आनी ।
अबाबील तलवार तों फिर लाल नूं लाहआ ।
फड़ के चुंझ विच ओसनूं ओथों उह धाया ।
गिरजा, महल, दर्या दे उपरों उह उड्या ।
मंडी उत्तों लंघके ग़रीब मां दे घर पुज्ज्या ।
मां सुत्ती पई सी बच्चा तड़पदा सी तप्या ।
मेज़ दे उत्ते अबाबील ने जा लाल सी रक्ख्या ।
मंजे उत्ते पर खोल्ह के उस पक्खा सी कर्या ।
बच्चा कहन्दा, "लगदै मैं ठीक हो रेहा ।
ठंढक है कुझ जापदी तपदा घट्ट है मत्था ।"
इह कह पासा मार मिट्ठी नींद उह सुत्ता ।
अबाबील वापस आ के फिर आ सुणाया ।
"मेरा सरीर ठंढ विच वी जापे गरमाया ।"
शहज़ादा कहन्दा, "तूं जो नेक कंम है कीता ।"
सोचां सोचदा ही उह सौं ग्या हो चुप्प-चुपीता ।

5.
सुबह उठके अबाबील दर्या ते आया ।
पानी विच किन्नी देर सी उह ख़ूब नहाया ।
इक प्रोफ़ैसर ने पुल उत्तों इह डिट्ठा नज़ारा ।
"सरदियां विच्च अबाबील !" हैरान उह भारा ।"
विच्च अख़बारां ओस ने इक्क पत्तर लिख्या ।
पर शबद कोई ओसदे सी समझ ना सक्या ।
रातीं मैं मिसर जावणां उस दिल विच धारी ।
उह घुंम्यां सारे शहर 'ते मार लंमी उडारी ।
'कित्थों आया अजनबी' सभ चूकन चिड़ियां ।
इह सुन चेहरे ओसदे सी ख़ुशियां खिड़ियां ।
चन्न असमानीं चढ़ ग्या उह वापस आया ।
"है कोई कंम मिसर विच तूं चाहें कराया ।"
शहज़ादे सुन ओसदी उहनूं गल्ल इह आखी ।
"अज्ज दी रात होर रुक जा मेरा कंम ए बाकी ।"
"मेरे साथियां कल्ल्ह नूं इक झरने वल्ल जाना ।
जित्थे दर्याई-घोड़े ने ते फ़रिशते ने आना ।
सारी रात उत्थे उह बैठ के तारे प्या तकेंदा ।
सुबह दे तारे नाल ख़ुशी दी फिर कूक मरेंदा ।
दुपहरीं उस थां ने पीले शेर कई आउंदे ।
उच्ची उच्ची उह गरजदे ते प्यास बुझाउंदे ।"
"औह दूर इक निक्की कोठड़ी विच्च गभ्भरू दिसदा ।
झुक्या होया उह डैसक ते जापे कुझ लिखदा ।
आले दुआले उस आपने काग़ज़ ने खिंडाए।
जामनी फुल्ल गलास विच पए उका मुरझाए ।
भूरे तिक्खे उसदे वाल ने बुल्ह अनारां वरगे।
वड्डियां अक्खां ने उसदियां विच सुपने तरदे ।
उसने नाटक लिखना जो लिख्या ना जावे ।
ठंढ ते भुक्ख ओसनूं पई वढ्ढ वढ्ढ खावे ।"
"रात तेरे कोल रुक के तेरा कंम मैं करना ।
इक लाल तूं मैनूं होर दे जो अग्गे मैं खड़ना ।"
"मेरे कोल नीलम अक्खां दे इक तूं इह लै जा ।
छेती नाल उडारी मार उस गभ्भरू नूं दे आ ।"
इह सुन अबाबील दा सी गल भर आया ।
"मैं नहीं इह कर सकदा जो तूं फ़ुरमाया ।"
शहज़ादा उसनूं आखदा, "इह हुकम है मेरा,
दोसत हो के हुकम मन्नणां इह फ़रज़ ए तेरा ।"
नीलम लै के अबाबील फिर ओथों धाया ।
मुरझाए फुल्लां कोल ओसनूं उस जा टिकाया ।
गभ्भरू ने आपने हत्थां विच सी सिर नूं दित्ता ।
इस लई अबाबील ओसने ना आउंदे डिट्ठा ।
गभ्भरू ख़ुश होया जद उहने नीलम तक्क्या ।
सोच्या किसे कदरदान ने होना इह रक्ख्या ।

6.
अगले दिन बन्दरगाह ते सारा दिन लंघाया ।
वापस मुड़्या चन्न जद दिस्या चढ़ आया ।
"प्यारे शहज़ादे अलविदा," कह पर उस खोल्हे ।
"इक रात होर बस्स ठहर जा तूं मेरे कोले ।"
"एथे ठंढ है वध रही फेर बरफ़ वी आउनी ।
पर मिसर दी धुप्प है तन नूं गरमाउनी ।
मग्गरमच्छ चिकड़ विच ने पए लेटां लाउंदे ।
मेरे साथी मन्दिर विच ने आल्हने बणाउंदे ।
अगली बसंत मुड़ फेर मैं तेरे कोल आऊं ।
तेरे लई सोहना लाल ते नीलम लै आऊं ।
लाल दा रंग गुलाब तों वी लाल है होना ।
नीलम नीले सागर ज्युं होना मनमोहना ।"
"वेख चौराहे विच्च खड़ी कुड़ी माचिसां वाली ।
माचिसां उहदियां डिगियां विच गन्दी नाली ।
खाली हत्थ घर जान ते प्युं तों उह डरदी ।
नंगा सिर, नंगे पैर ने उत्तों आ रही सरदी ।
नीलम उस नूं दे आ उह मारों बच जावे ।
वाधू पैसे नाल लोड़ींदियां चीज़ां लै आवे ।"
"रुक जावांगा तेरे कोल पर अक्ख किदां कढ्ढां ।
आपनी चुंझ नाल मैं तैनूं अन्न्हां कर छड्डां !"
शहज़ादे दे हुकम अग्गे उस सिर निवाया ।
नीलम उहने कुड़ी दी जा तली टिकाया ।
कुड़ी ख़ुश हो भज्ज गई उह वापस आया ।
सदा लई उथे रुकन दा उस मन बणाया ।
"तूं हुन अन्न्हा हो ग्या मैं एथे ही रहना ।
तेरा दुख आपां दोहां ने हुन रलके सहना ।"
"तूं हुन एथों चला जा गल्ल मन्न इह मेरी ।"
उहदे पैरां विच उह सौं ग्या लाई ना देरी ।

7.
मोढे उत्ते शहज़ादे दे बैठ के अगला दिन सारा ।
आपणियां कहाणियां दा खोल्हआ उसने पिटारा ।
कदे उह अजनबी देशां विच उहनूं लै जांदा ।
नील दे कंढे बैठे बूजे पंछियां दी सैर करांदा ।
सफिन्नकस बारे उस दस्स्या जो बहुत पुरानी ।
कदे उह उहनूं विखालदा सौदागरां दी ढानी ।
कदे कहन्दा पहाड़ी राजा इक चन्न ते रहन्दा ।
हरे सप्प बारे उस दस्स्या जो खांदा ही रहन्दा ।
ताड़ दे रुक्ख विच सौंदा रहे पर जद उह जागे ।
वीह पादरी शहद देन लई रहन उसदे लागे ।
फिर उस बौन्यां बारे दस्स्या जो पत्त्यां ते तरदे ।
पर तितलियां नाल हमेश जो लड़ाईआं ने करदे ।

8.
शहज़ादा फिर बोल्या, ओ अबाबील प्यारे !"
तेरे किस्से बड़े कमाल ने तूं सुणाए जो सारे ।
पर सभ तों कमाल तां दुक्ख है जो लोकी सहन्दे ।
भेद इहदे दी थाह नहीं इह सारे कहन्दे ।
तूं शहर उडारी मार वेख दुक्ख दरद ए किन्ना ।
फिर उह मैनूं आ दस्सीं वेखें दुक्ख तूं जिन्ना ।"
अबाबील शहर दे उपरों जां उडके आया ।
शहज़ादे नूं आ के दस्सी जो ख़बर ल्याया ।
"अमीर महलां विच ने ऐशां नाल रहन्दे ।
ग़रीब उन्हां दे दर उत्ते आसां ला बहन्दे ।
मैं उह गलियां वेखियां जिथे दिने हनेरे ।
भुक्खे बच्च्यां दे उत्थे तक्के ने मैं चिट्टे चेहरे ।
इक पुल हेठ मैं तक्क्या दो बच्चे सिमटे ।
इक दूए दियां बाहां विच्च सी पए लिपटे ।
बाहर सी मींह पै रेहा ते ठंढ सी भारी ।
इक नूं दूजा आखदा 'भुक्ख किड्डी बीमारी' ।
एने नूं चौकीदार इक किधरों ही आया ।
दोहां बच्च्यां नूं डरा के उस ने भजाया ।"
"इह सोना मेरे किस कंम मैनूं जिस मढ़आ ।
लोकां नूं देन लई एस नूं तूं लाह लै अड़्या ।"
अबाबील ने हौली हौली सारा सोना लाहआ ।
शहज़ादे नूं एस कंम ने बदशकल बणाया ।
बच्च्यां दे चेहरे खिड़ गए उह लुड्डियां पावन ।
गलियां विच उह निकल के हासे छलकावन ।

9.
एने नूं बरफ़ आ गई कोरा वी लग्गा चमकन ।
छज्ज्यां ते बरख़ लटकदी ज्युं खंजर लमकन ।
फर दे कपड़े पहन के सभ बाहर वल आए ।
लाल रंगियां टोपियां पा के बच्चे खेडन आए ।
बिचारा अबाबील ठंढ नाल सी सुंगड़दा जांदा ।
पेट भरन नूं बेकरी अग्युं भोरे चुग चुग खांदा ।
अंत नूं ठंढ ते भुक्ख ने ऐना ज़ोर आ पाया ।
अबाबील ने समझ ल्या हुन अंत है आया ।
शहज़ादे दे मोढे बैठन लई पूरी ताकत लाई ।
फिर उसदे कन्न विच ओसने इह गल्ल सुणाई ।
"हुन तैनूं मैं कह अलविदा अग्गे वल्ल जावां ।
पर अंत वेले तेरा हत्थ मैं चुंमना वी चाहवां ।"
"तूं आपने देश जा रेहैं मैं बलेहारे जावां ।
मूंह मत्था जो मरजी चुंम लै तैनूं क्युं हटावां ।"
"मैं मिसर नहीं जा रेहा मैं जम कोल जावां ।
मौत ते नींद सभ समझदे वांग सके भरावां ।"
चुंमन लैंदियां सार ही अबाबील सी मोया ।
उसे वेले शहज़ादे दा दिल वी दो टोटे होया ।

10.
अगली सुबह मेयर ते कौंसलर चौराहे विच आए ।
बुत्त वल्ल मेयर वेख्या ते फिर आख सुणाए,
"किन्ना गन्दा बुत्त लग्गदा," उहने गल्ल चलाई ।
कौंसलरां वी उहदी गल्ल विच ही गल्ल रलाई ।
"इह बिलकुल भिखारी जापदा बिन नीलम लालों ।"
"इह ओदूं वी भैड़ा लग्ग रेहा है साडे ख़्यालों ।"
"आह वेखो इहदे पैरां 'ते इक पंछी ए मर्या ।
इत्थे अग्गों पंछी ना मरन कुझ चाहीए कर्या ।"
प्रोफैसर ने वी इहो केहा उन्हां बुत्त गिराया ।
भट्ठी विच्च उहनां पा उसनूं सारा पिघलाया ।
सभनां कीता फैसला बणायो बुत्त ही इसदा ।
इस गल्लों झगड़ा प्या होए बुत्त उह किसदा ?
ओवरसियर ने अजब गल्ल इह भट्ठी विच्च तक्की ।
टुट्या दिल ओवें ही प्या विच तपदी भट्ठी ।
भट्ठीयों दिल नूं कढ्ढ के काम्यां ने चुक्क्या ।
अबाबील जित्थे प्या सी ओथे जा के सुट्ट्या ।

11.
रब्ब इक फ़रिशते नूं आख्या, "छेती शहर नूं जाओ,
दो चीजां उथों दियां कीमती मेरे कोल ल्यायो ?"
फ़रिशता लै ग्या दिल टुट्टा ते पंछी मोया ।
उह दोवें चीजां देख के रब्ब बहु ख़ुश होया ।
"पंछी सुरगी बाग़ विच रहू सदा लई गाउंदा ।
दिल शहज़ादे दा रहेगा हुन मैनूं ध्याउंदा ।"

5. सवारथी दिउ

इह रचना औसकर वायलड दी अंग्रेजी कहाणी
'द सैलफिश जायंट' ते आधारित है)

छुट्टी दी जद घंटी वज्जदी बच्चे भज्जे आउंदे ।
दिउ दे बाग़ च सारे रलके पूरी धुंम मचाउंदे ।
बहुत ही वड्डा बाग़ सी उह नाले सी मनमोहना ।
ऐना सुन्दर धरती उत्ते कोई बाग़ नहीं होना ।
सुन्दर घाह विछी होई सी फुल्ल खिड़े सन सारे ।
घाह विच्चों फुल्ल ऐदां झाकन जिदां होन सितारे ।
बारां बूटे आड़ूआं दे सन जदों बसंत सी आउंदी ।
सोहने फुल्ल गुलाबी सी उह उहनां उत्ते खिड़ाउंदी ।
पतझड़ आके फल पकाउंदी फल वी ऐने मिट्ठे ।
इहो जेहे फल कदी किसे ने होन ना किधरे डिट्ठे ।
पंछी रुक्खां उत्ते बहके मसती विच सन गाउंदे ।
बच्चे सुन के गीत उन्हां दे अपनी खेड भुलाउंदे ।
"असीं एथे किन्ने ख़ुश हां" इक दूजे नूं कहन्दे ।
सारा दिन उसे बाग़ विच खेडदे हसदे रहन्दे ।

वापस दिउ आया उत्थों जित्थे उह ग्या सी ।
कौरनिश ओगर दोसत कोले जा के उह रेहा सी ।
ऐनी छोटी गल्लबात सी सत्तीं सालीं मुक्की सारी ।
ताहीं उहने घर मुड़न दी कीती काहली भारी ।
किले विच आके वेखे उहने जद बाग़ विच बच्चे ।
भारी आवाज़ च पुच्छन लग्गा,"की करदे हो इत्थे ?"
दिउ दी उच्ची 'वाज़ सुणदियां बच्चे डरदे मारे भज्जे ।
"मेरा आपना बाग़ है मेरा अपना इह जाणदे सभ्भे ।
मैथों बिनां एस बाग़ विच्च खेड कोई नहीं सकदा ।"
बाग़ दुआले कोट मार उस रोक्या सभ दा रसता ।
दरवाज़े दे उत्ते उसने इह नोटिस लिख लाया,
'एथों लंघन वाले उत्ते जावेगा केस चलाया ।'

किन्ना सवारथी दिउ सी उह इह जान लउ सारे ।
बच्च्यां लई ना जग्हा सी कोई खेडन कित्थे बिचारे ।
सड़क दे उत्ते खेडन जद वी ठेडे खा खा डिग्गन ।
उड धूड़ चेहर्यां उत्ते पैंदी रोड़े पैरीं वज्जन ।
छुट्टी होन ते कोट दुआले, बच्चे सी घुंमदे रहन्दे ।
"असीं उत्थे किन्ने ख़ुश सां," इक दूजे नूं कहन्दे ।

बसंत आ गई चारे पासीं फुल्लां महक खिंडाई ।
रुक्खां उत्ते बह पंछी गावन पूरी रौनक लाई ।
सिरफ़ दिउ दे बाग़ विच्च सी सरदी डेरे लाए ।
बच्चा ना कोई उत्थे दिस्से क्युं कोई पंछी गाए ।
सोहने जेहे निक्के फुल्ल ने घाह विच्चों सिर चुक्क्या ।
बच्च्यां दी थां नोटिस-बोरड वेख के धरती लुक्या ।
दो जने बस्स ख़ुश सन पूरे इक बरफ़ ते दूजा कक्कर ।
"बसंत तां आउना भुल्ल गई ए बैठ मारदे जक्कड़ ।
"आपां एथे सारा साल रहांगे एही अपनी मरजी ।"
बरफ़ ने पुआई सारे घाह नूं पूरी चिट्टी वरदी ।
कक्कर ने सभ रुक्खां ताईं, चांदी रंग कराया ।
फेर उन्हां ने उत्तर वाला, ठंढा पौन बुलाया ।
फरां विच उह लिपट्या होया ज़ोर ज़ोर दी गज्जे ।
हर चीज़ सी टुट्ट भज्ज जांदी जिस विच जा उह वज्जे ।
धूंएंदानियां सारियां उसने ऐधर ओधर खिंडाईआं ।
"इह तां बड़ी कमाल जग्हा है" नाले पाए दुहाईआं ।
"आपां हुन एथे क्युं ना गड़्यां ताईं बुलाईए ?"
"तुसीं बुलायों असीं ना आईए, क्युं ना दस्सो आईए ।"
गड़े आ गए सद्दा सुणके खौरू सी बहुता पाउंदे ।
हर रोज़ ही तिन्न घंटे उह किले दी छत्त हिलाउंदे ।
बाग़ अन्दर उह दौड़ां लाउंदे जिदां अत्थरे मुंडे ।
रुक्ख बाग़ दे बहुते उन्हां टाहणियां सने मरुंडे ।
सलेटी जहे घसमैले रंग दे उसने कपड़े पाए ।
साह लवे तां एदां लग्गे ज्युं कोई बरफ़ छुहाए ।
खिड़की विच्चों बाहर वेखदा दिउ इह सोचीं जावे,
'समझ ना लग्गे बसंत ऐतकी ऐनी देरी क्युं लावे ।
मैनूं पर उमीद है पूरी इह मौसम वी बदलेगा ।
बाग़ मेरे दा बूटा बूटा पहलां ज्युं महकेगा ।'
बसंत रुत्त मुड़के ना आई नाही आई गरमी ।
मौसम ने कोई आपने वल्लों ना विखाई नरमी ।
पतझड़ आई सारे बाग़ीं फल सुनहरी दित्ते ।
दिउ दे बाग़ गई पर फिर मुड़ आई पिच्छे ।
"किन्ना सुआरथी दिउ है ! क्युं एथे फल लावां ।
बाग़ आपने पैन ना दिन्दा बच्च्यां दा परछावां ।"
दिउ दे बाग़ हमेशा सरदी ठंढी हवा ते कक्कर ।
बरफ़ गड़े रलके सभ नच्चन, पाया बाग़े सत्थर ।
इक दिन सवेरे दिउ जागदा ही सुसता रेहा सी ।
बाहरों मिट्ठा संगीत आ के उसदे कन्न प्या सी ।
उसदे कन्नीं उस संगीत ने ऐनी मिसरी घोली ।
शाही साजिन्दियां दी जापी उसनूं जांदी टोली ।
छोटा जेहा लिनिट पंछी हेकां प्या लगावे ।
बाहर बैठा खिड़की दे आपनी सुर च गावे ।
कोई संगीत सुण्यां दिउ नूं कई साल सी लंघे ।
ताहीउं पंछी दे बोल ओसनूं लग्गे सन ऐने चंगे ।
गड़्यां ने नच्चना छड्ड्या हवा दहाड़ वी भुल्ल गई ।
बाहरों मिट्ठी सुगंधी आ के कमरे दे विच घुल गई ।
दिउ सोचदा आख़िर नूं है रुत्त बहार दी आई ।
मैं वी बाहर जा के पावां उसते झाती काई ।
बाहर आ तक्क्या उसने बहुत कमाल नज़ारा ।
पंछियां फुल्लां नाल टहके बाग़ ओसदा सारा ।
कंध विच किते मोरी होई बच्चे अन्दर वड़ गए ।
हस्सन गावन मारन छालां रुक्खां उपर चढ़ गए ।
बच्चे ख़ुश ते रुक्ख वी ख़ुश हो लग्गे ख़ुशी मनावन ।
शाखां फुल्लां नाल लद्दियां बच्च्यां उत्ते हिलावन ।
पंछी पए उडारियां लावन गीत ख़ुशी दे गावन ।
फुल्ल घाह दे विच्चों झाकन लग्गे महक लुटावन ।
सारे बाग़ नज़ारा सुन्दर इक खूंजे सरदी भारी।
निक्का इक बच्चा खड़ा उस खूंजे रोवे ज़ारो ज़ारी ।
छोटा सी उह बच्चा बहुता उपर चढ़आ ना जावे ।
रोंदा रोंदा उह रुक्ख दुआले चक्कर लाईं जावे ।
रुक्ख दे उपर हवा दहाड़े बरफ़ ते कक्कर ढक्या ।
हौली हौली आखे, "प्यारे बच्चे उत्ते चढ़ आ ।"
जिन्नां हो सक्या उहने टाहणियां हेठ निवाईआं ।
बच्चे दियां छोटियां बाहवां उन्हां तक्क ना आईआं ।

इह नज़ारा वेख दिउ दा दिल पसीज ग्या सी ।
"किन्नां मैं सवारथी हां !" उसने मूंहों केहा सी ।
"हुन मैं इह जान ग्यां बसंत क्युं ना आई ।
बिनां बच्च्यां एथे उहनूं ख़ुशी ना दिस्सी काई ।
हुन मैं जा के छोटा बच्चा उपर रुक्ख बिठावां ।
उसतों बाद बाग़ दुआल्युं सारी कंध गिरावां ।
मेरा बाग़ मैदान बणेगा बच्चे रल खेडन जित्थे ।"
दिउ नूं सी अफ़सोस बहुत आपने कीते उत्ते ।
उतर पौड़ियां हौली हौली दरवाज़ा फिर खोल्हआ ।
बाहर बाग़ विच आया पर ना मूंहों बोल्या ।
बच्च्यां वेख्या डरदे मारे इधर उधर भज्जे ।
उही प्राहुने पहलां वाले बाग़ अन्दर आ गज्जे ।
छोटा बच्चा रेहा खलोता उस ना दिउ नूं तक्क्या ।
हंझू भरियां अक्खां सन ताहीं उह वेख ना सक्या ।
सहजे सहजे चोरी चोरी दिउ उस पिच्छे आया ।
प्यार नाल चुक्क बच्चे नूं रुक्ख दे उत्ते बिठाया ।
रुक्ख ते पंछी चहकन लग्गे फुल्ल बहार लै आई ।
बच्चे ने बाहां फैलाईआं दिउ नूं गलवकड़ी पाई ।
मूंह मत्था उसदा चुंम के बहुत प्यार सी कीता ।
दिउ नूं जापे जिदां उसने अंमृत दा घुट्ट पीता ।
दिउ नूं बदल्या वेख के बच्चे, वापस भज्जे आए ।
बसंत भला क्युं पिछे रहन्दी नाले उहनूं ल्याए ।
दिउ आखदा, "बच्च्यो, हुन बाग़ तुसां दा सारा।
लै के उसने वड्डा कुहाड़ा कोट गिराया भारा ।
बारां वजे मंडी वल्ल जांदे लोकी बाग़ नूं तक्कन ।
दिउ नाल बच्चे पए खेडन ना अक्कन ना थक्कन ।
ऐना सुन्दर बाग़ उन्हां नूं किधरे नज़र ना आवे ।
ज्युं ज्युं बाग़ नूं वेखन होर तांघ वध जावे ।
शाम पई जद सारे बच्चे मिलन दिउ नूं आए ।
दिउ पुच्छदा, "छोटा साथी, कित्थे हो छड्ड आए ?"
बच्चे कहन्दे, "पता नहीं उह पहलों चला ग्या ए ।"
"कल्ल्ह ज़रूर उह खेडन आवे उसनूं दस्स दिया जे ।"
बच्च्यां दस्स्या, "कित्थे रहन्दा सानूं पता ना काई ।"
इह सुणदियां दिउ दे मन विच बहुत उदासी छाई ।
छुट्टी हुन्दियां सार ही बच्चे बाग़ वल्ल भज्जे आवन ।
आप वी खेडन नाले दिउ नूं आपने नाल खिडावन ।
पर छोटा बच्चा फेर दुबारा कदे बाग़ ना आया ।
दिउ नूं जापे जिदां उसने आपना कुझ गुआया ।
सारे बच्च्यां उत्ते दिउ नूं प्यार बड़ा सी आउंदा ।
मुड़के छोटा बच्चा आवे दिल उस दा पर चाहुन्दा ।

समां बीत्या दिउ सी कमज़ोर ते बुढ्ढा होया ।
बच्चे खेडन पर उस तों कोल ना जाए खलोया ।
आपने बैठन नूं उसने आराम कुरसी बणवाई ।
कदे बाग़ कदे उह बच्चे तक्के पूरी नीझ लगाई ।
"बाग़ विच्च ने फुल्ल बड़े ही सुन्दर ते मनमोहने ।
पर बच्च्यां जेहे दुनियां अन्दर कोई फुल्ल ना होने ।"
सरदी दी रुत्त वी हुन उसनूं बुरी नहीं सी लगदी ।
रुत्तां दी इह अदला बदली है कुदरत दी मरजी ।
सरदियां विच बसंत रुत्त जा घर अपने सौं जावे ।
थक्के फुल्ल आराम पए करदे जिदां मन नूं भावे ।
सरदी दी इक सुबह नूं दिउ कप्पड़े पाईं जावे ।
बाहर वल्ल जो उसने तक्क्या सच्च ना उसनूं आवे ।
खूंजे वाला रुक्ख सी पूरा चिट्टे फुल्लां नाल भर्या ।
शाखां सभ सुनहरी दिस्सन फल चांदी रंग कर्या ।
छोटा बच्चा रुक्ख हेठ खलोता जो सी सभ तों प्यारा ।
ख़ुशी नाल दिउ भज्जा जावे भावें सरीर सी भारा ।
छेती नाल घाह तों लंघदा कोल बच्चे दे आया ।
विंहदियां ही बच्चा उसने चेहरा लाल बणाया ।
किल्लां दे निशान पए सन उसदियां तलियां उत्ते ।
दो हत्थां 'ते दो पैरां 'ते निशान सी उसने तक्के ।
"कीहने तैनूं ज़ख़मी कीता ऐडा हौसला किसदा ?
वड्डी तलवार लिजा के मैं वढ्ढां जा सिर उसदा ।"
"इह ज़ख़म प्यार दे ने," बच्चे उहनूं सुणाया ।
इह सुणदियां अजब जेहा डर मन ओसदे छाया ।
"कौन एं तूं ?" फिर उसने, बच्चे कोलों पुच्छ्या ।
इह कहन्दियां सार दिउ उसदे अग्गे झुक्या ।
बच्चे मूंह मुसकान आ गई जद उस दिउ नूं डिट्ठा ।
"इक वारी तूं बाग़ आपना खेडन लई सी दित्ता ।
हुन मैं तैनूं सवरग लिजाना जो बाग़ है मेरा ।
अज्ज तों बाद सदा लई ओथे होना तेरा वसेरा ।"
अगले दिन बच्च्यां वेख्या दिउ प्या सी मोया ।
चिट्टे फुल्लां दी चादर नाल सारा ढक्या होया ।

6. ईदगाह

(इह रचना मुनशी प्रेम चन्द दी कहाणी
'ईदगाह' ते आधारित है)

तीह दिन रमज़ान दे लंघे तां ईद किते आई ।
नाल आपने सोहनी ते मनमोहनी सुबह ल्याई ।
खेतां विच्च है रौनक पूरी रुक्खां ते हर्याली ।
आकाश ते वेखो सारे पासे बड़ी अजब है लाली ।
सूरज ने वी रूप बणाया ठंढा अते प्यारा ।
उह वी ईद मुबारक आखे जग्ग सुणेंदा सारा ।
पिंड च किन्नी हफड़ा-दफड़ी ईद ने है मचाई ।
त्यारी ईदगाह जान दी करदी फिरे लोकाई ।
बटन किसे दे कुड़ते है नहीं सूई धागा भाले ।
किसे दे जुत्ते सख़त होए, तेली वल पाए चाले ।
सन्न्ही-पानी बलदां दा वी छेती छेती मुकाना ।
दुपहर तक्क ईदगाह तों औखा वापस आना ।
तिन्न कोह दा पैदल रसता होरां नूं वी मिलना ।
बिनां ईद-मुबारक आख्यां किदां ओथों हिल्लना ।

बच्च्यां दा हाल तां वेखो चाय नहीं जांदा चक्क्या ।
किसे ने अद्धा रोजा रक्ख्या किसे ना उह वी रक्ख्या ।
ईद जान दी ख़ुशी जो हुन्दी इन्हां दे हिस्से आई ।
वड्डे रोजा रक्खन जां ना रक्खन इन्हां की प्या ई ।
रोज ईद दा नां रटदे सी मसां ईद है आई ।
लोकी ईदगाह जान दी ना काहल करेंदे काई ?
इन्हां नूं परवाह ना कोई दुद्ध शक्कर कित्थों आना ।
हक्क इन्हां दा दिन ईद दे सेवियां रज्ज रज्ज खाना ।
इन्हां नूं की अब्बू मियां क्युं कायमअली दे जांदे ।
कुबेर ख़ज़ाना गिन इह अपना फिर जेबां विच्च पांदे ।
मोहसिन कोल ने पन्दरां पैसे महमूद कोल ने बारां ।
इन्हां पैस्यां दियां सोचन चीजां आउन हज़ारां ।

हामिद सभ तों वद्ध ख़ुश है जो माड़ू जेहा बच्चा ।
सूरत बहुत ग़रीब जेही ते लग्गे उमरों कच्चा ।
पिछले साल प्यु ओसदा, खड़्या हैज़े दी बीमारी ।
उसदे ग़म विच घुलदे मां वी होई अल्ला प्यारी ।
बुढ्ढी दादी अमीना दी गोदी हामिद सौं ख़ुश रहन्दा ।
मां-प्यु दे ना होन दा ग़म ना कुझ वी कहन्दा ।
अब्बा पैसे कमान गए ने अंमी गई ए अल्ला कोले ।
थैलियां भर ल्याउणगे पैसे चीजां भर भर झोले ।
पैरीं जे कर जुत्ते नहीं हन टोपी सिर 'ते पुरानी ।
की ग़म उस लई हर शै अंमीं अब्बू ने लै आनी ।
अब्बाजान ने बहुते पैसे जद उस नूं ल्या दित्ते ।
मोहसिन, नूरे, संमी कोले ऐने पैसे होने ने कित्थे ।

अमीना विचारी कोठड़ी अन्दर कल्ली बैठी रोवे ।
ग़रीबां दे घर हाए अल्ला ! कदे ईद ना होवे ।
हामिद आ दादी नूं आखे, "अंमां डर है काहदा ?
सभ तों पहलां मुड़के आवां मेरा पक्का वाअदा ।"
किदां बच्चा मेले भेजे अमीना दा दिल खुसदा ।
'होरां दे वड्डे नाल जाणगे कौन होना एं इसदा ?
तिन्न कोह दा रसता लंमा ते हामिद पैरों नंगा ।
भीड़-भाड़ वी बहुती होनी ना भेजां तां चंगा ।
पैसे मेरे पल्ले हुन्दे तां नाल इहदे मैं जांदी ।
लोड़ दियां सारियां चीजां मुड़दी मैं ल्यांदी ।
चीजां इकट्ठियां करदियां कई घंटे लग जाने ।
मंग पिन्न के गुज़ारा करना पैणां अल्ला भाने ।
फहीमन दे कपड़े स्युं के मिले सी अट्ठ आने ।
छे आने गवालन लै गई बाकी रहे दो आने ।
तिन्न पैसे हामिद नूं दित्ते पंज पैसे मेरे कोले ।
सेवियां लैन लागणां आउना बन्न्ह बन्न्ह के टोले ।
किस किस नूं देईं जावे किस तों जी चुरावे ।
जिस नूं जापे थोढ़ा मिल्या ओही मूंह सुजावे ।
साल बाद दिन ईद दा मसीं मसीं है आउंदा ।
अल्ला बच्चा सलामत रक्खे उही वकत लंघाउंदा ।'

पिंडों टोली मेले चल्ली बच्चे जांदे ख़ुश ख़ुश भज्जे ।
किसे रुक्ख हेठ खढ़ साह लैंदे निकल के कुझ अग्गे ।
हामिद दे पैरां नूं पर लग्गे बच्चे जांदे उडदे ।
सोचीं जावन वड्डे लोकीं क्युं ना छेती तुरदे ।
शहर दे नेड़े आए जद बाग़ लग्गे उन्हां तक्के ।
चारे पासे उन्हां बाग़ां दे कोट बने सन पक्के ।
अम्ब-लीचियां नाल पए सी रुक्ख सारे ही लद्दे ।
कदी कोई बच्चा मार के रोड़ा अम्बां उत्ते भज्जे ।
माली अन्दरों गालां दिन्दा जा के दूर खलोवन ।
'माली नूं उल्लू बणाया' सोच सोच ख़ुश होवन ।

वड्डियां इमारतां आउन लग्गियां फेर नज़र दे अन्दर ।
अदालत, कालज बाद दिस्या वड्डा इक कलब्ब-घर ।
कालज विच्च लड़के पढ़दे ने नाले पढ़दे मुच्छां वाले ।
ऐने ऐने वड्डे हो गए तां वी, पढ़ाई ना मुक्की हाले ।
मदरसे हामिद दे तिन्न लड़के वड्डे पढ़न ने आउंदे ।
हर रोज़ उन्हां मार है पैंदी कंम तों जिय चुराउंदे ।
इह वी उदां दे ही होने ने बच्चे सोचीं जावन ।
कलब्ब-घर नूं तक्क के अग्गे लग्गे गल्लां चलावन ।
इत्थे रोज़ ही जादू हुन्दा खोपड़ियां भज्जन जित्थे ।
अन्दर जा कोई वेख ना सके की हुन्दा है इत्थे ?
साहब दाढ़ियां मुच्छां वाले मेमां खेडन आवन ।
साडी अंमां गिरनी खावे जे लग्गे बैट घुंमावन ।
महमूद आखे, "मेरी अंमीं दे हत्थ लग्ग पैन कम्बन ।"
मोहसिन बोल्या, "क्युं लग्ग्या ऐवें गप्पां छंडण,"
मणां-मूंहीं आटा पींहदियां सौ घड़े भरदियां पानी ।
मेम नूं घड़ा पए जे भरना याद आ जावे नानी ।"
महमूद केहा, "आपणियां अंमियां ना इउं नच्चण-टप्पन ।"
मोहसिन कहन्दा, " मैं अक्खीं वेख्या किते तेज उह नस्सन ।
इक दिन साडी गां खुल्ह के चौधरी दे खेत जा वड़ गई ।
नसदियां मां नूं कुझ ना होया पर मेरी साह चढ़ गई ।

हलवाईआं दियां दुकानां अग्गे ख़ूब सी सजियां होईआं ।
मणां-मूंही मठ्याईआं दिसन सभ ते लग्गियां होईआं ।
"अब्बा कहन्दे रात पैंदियां जिन्नात कई एथे आवन ।
सारियां बचियां मठ्याईआं रुपए दे के लै जावन ।"
हामिद नूं यकीन ना आवे, "रुपए किथों ल्यावन ?"
मोहसिन दस्स्या, "जिथों मरजी उह पैसे लै आवन ।
लोहे दे दरवाज़े वी उन्हां नूं ज़रा रोक नहीं सकदे ।
किन्ने ही जवाहर ते हीरे आपने कोल उह रखदे ।
टोकरियां भर उस नूं देवन जिस उत्ते ख़ुश होवन ।
पंजां मिंटां विच उह इत्थों कलकत्ते जा खड़ोवन ।
हामिद पुच्छे, "फिर जिन्नात तां बहुत ही वड्डे हुन्दे ?"
मोहसिन दसदा, "सिर उन्हां दे आसमान नूं छुंहदे ।
पर जे मरजी होवे उसदी तां गड़वी विच समावे ।"
"है कोई किसे नूं मंतर आउंदा जिन्न वस्स हो जावे ?"
"इह तां मैं नहीं जाणदा ना मैनूं किसे दस्स्या ।
चौधरी साहब ने कई जिन्नां नूं है काबू कर रक्ख्या ।
किस दे घर है चोरी होई ते किसने चोरी कीती ।
चौधरी साहब नूं जिन्न दसदे जो होवे जग्ग बीती ।
जुमराती दा वच्छा गुंम्यां तिन्न दिन पता ना चल्या ।
पुच्छ्यां चौधरी ने दस्स्या तां गऊशाला तों मिल्या ।"
समझ ग्या हामिद किथों चौधरी कोल धन आवे ।
ते लोकां कोलों इज्जत ऐनी क्युं चौधरी पावे ।

अग्गे पुलीस लाईन आई सिपाही कवायद करदे ।
रातीं जाग जाग पहरा दिन्दे चोरी होन तों डरदे ।
मोहसिन कहन्दा, "पहरा दिन्दे ! इह चोरी करवाउंदे ।
चोर ते डाकू सारे पहलां इहनां कोल हन आउंदे ।
चोरां नूं कह चोरी कर लउ देन जागदे रहो दा होका ।
सभ इहनां नूं पैसे दिन्दे पाउन इह रौला फोका ।
मेरा मामू आप सिपाही वीह रुपए उह पावे ।
हर महीने घर आपने रुपए पंजाह भिजवावे ।
ऐने रुपए कित्थों आउंदे मैं पुच्छ्या इक वारी ।
आखे इह सभ अल्लाह दिन्दा उस दी रहमत भारी ।
जे असीं चाहीए लक्खां बणाईए डर बदनामी खावे ।
नाले डरीए किते नौकरी हत्थों ना चली जावे ।"
हामिद पुछदा, "सच्चीं मुच्चीं, जे चोरी इह करवावन ।
तूं ही दस्स फिर इह लोकी फड़े क्युं ना जावन ?"
हामिद दे इस भोलेपन ते मोहसिन अग्गों आखे,
"कौन फड़े दस्स इन्हां ताईं फड़न वाले इह आपे ।
हराम दा माल हराम च जांदा, अल्ला सजा दिवाई ।
अग्ग लग्गी मामू घर इक दिन पूंजी राख बणाई ।
कई दिन तां उन्हां ने वी इक रुक्ख दे हेठ लंघाए ।
सौ रुप्या फिर करज़ा लै के भांडा टींडा ल्याए ।"

ईदगाह जान वाले टोले होर किन्ने ही नज़रीं आए ।
इक तों इक भड़कीले कप्पड़े सभ लोकां ने पाए ।
सारे जापन इतर नहाते कोई टांगे उत्ते आउंदा ।
मोटर सवार शान नाल दूरों हारन प्या वजाउंदा ।
निक्की जेही इह पेंडू टोली ग़रीबी दी परवाह ना कोई ।
सबर संतोख इन्हां दे दी पर थाह पा ना सक्या कोई ।
हारन दी आवाज़ ना सुणदे वेखीं जावन चीज़ां वल्ले ।
औह वेखो हामिद विचारा ! आ चल्या सी मोटर थल्ले ।

अचानक ईदगाह दिस पई रुक्खां दी छां सारे।
हेठां पक्के फ़रश उत्ते वी विछाए जाजम सजे संवारे ।
दूर दूर इक दूजे पिच्छे लोकीं, बन्न्हीं खड़े कतारां ।
गिणती दा कोई अंत ना आवे होनी कई हज़ारां ।
नवां आउन वाला हर इक बन्दा पिच्छे जा खलोवे ।
एस जग्हा ते धन ते पद दी पुच्छ ना कोई होवे ।
इसलाम विच ने सभ बराबर ऊच-नीच ना कोई ।
वुजू करके पिंडों आई टोली वी पिच्छे जा खलोई ।
लक्खां सिर सिजदे विच झुकदे इदां नज़री आवण।
जिदां लक्खां बिजली दे दीवे जगन अते बुझ जावण।
दूर तक्क इह फैल्या होया तक्के जेहड़ा नज़ारा ।
मान ते शरधा दिल विच भरदे अनन्द आंवदा भारा ।
इउं लग्गे ज्युं भाईचारे दा धागा इह प्यारा ।
सभनां दा इक लड़ी परो के हार बणावे न्यारा ।

नमाज़ ख़तम होई सारे लोकी इक दूजे गल मिलदे ।
दुकानां वल्ल फिर धावा कीता बिनां किसे वी ढिल दे ।
इक पैसा दे हिंडोले उत्ते मौज नाल चढ़ जाउ ।
वल्ल आकाश दे मार उडारी हेठां नूं फिर आउ ।
चरख़ी वेखो जित्थे उट्ठ घोड़े संगल बन्न्ह लमकाए ।
हामिद दे साथियां दे इक्क पैसा पच्ची गेड़े लाए ।
दूर खड़ा इक पासे वल्ल उह प्या दलील दुड़ावे ।
आपने ख़जाने दा तीजा हिस्सा क्युं फ़ज़ूल लुटावे ।

अग्गे गए खिडौण्यां दियां आईआं कई दुकानां ।
सभ खिडौने इंज जापन जिवें खोल्हन हुने ज़ुबानां ।
महमूद ने सिपाही खरीदिया खाकी वरदी वाला ।
मोढे ते बन्दूक रक्खी जिस लगे कोई मतवाला ।
मोहसिन ने ल्या माशकी पिच्छे मशक फड़ी सी ।
जापे जिदां गीत कोई गावे चेहरे ख़ुशी चढ़ी सी ।
नूरे नूं खिडौण्यां विच्चों वकील पसन्द ए आया ।
चिट्टी अचकन दे नाल जिसने काला चोगा पाया।
जेब विच उस घड़ी रक्खी जिसदी जंजीर सुनहरी ।
हत्थ कानून्न दा पोथा फड़्या आया जा कचहरी ।
हामिद सोचे, "खिडौने मिट्टी दे हत्थों डिग टुट्ट जावन ।
पानी लग्गे रंग घुल जावे फिर केहड़े कंम आवन ।"
मोहसिन कहन्दा, "माशकी ल्याऊ पानी संझ-सबाही ।"
महमूद कहे, "रोज़ दएगा पहरा मेरा वीर सिपाही ।"
नूरे आखे, "मेरा वकील लड़ेगा मुकद्दमे वडे वडेरे ।"
संमी कहन्दा, "धोबन हरदिन धोवेगी कप्पड़े मेरे ।"
हामिद कहन्दा, "खिडौण्यां दा की टुट्ट मिट्टी हो जावन ।"
उन्हां नूं पर इक वार छुहन लई उस दे हत्थ ललचावन ।
जदों वी कोई खिडाउना छुहन लई आपना हत्थ वधांदा ।
हर इक बच्चा खिडौना आपना उस तों पर्हां हटांदा ।

खिडौण्यां तों बाद दुकानां जो भरियां मठ्याईआं ।
बच्च्यां अपने खान लई सी अड्डो-अड्ड पुआईआं ।
हामिद कोले बस्स तिन्न पैसे कुझ ना लै के खावे ।
जद होरां नूं खांदियां वेखे उहदा मन ललचावे ।
मोहसिन कहन्दा, "लै र्युड़ी मेरे कोलों भाई ।"
हामिद ने जां हत्थ वधाया उस अपने मूंह पाई ।
सारे बच्चे हस्सन लग्गे मोहसिन र्युड़ी फेर विखावे।
हामिद अग्गों विखा के पैसे आपना सिर हिलावे ।
जदों उसनूं होर तंग कीता हामिद अग्गों सुणाई ।
मठ्याई दी दस्सी उसने किताबीं लिखी बुराई ।
महमूद कहन्दा, "अपने पैसे इह उदों खरचेगा ।
जदों अपने कोले खरचन नूं बाकी ना कुझ बचेगा ।
फिर इह लै के मठ्याई आप इकल्ल्यां खाऊ ।
खाऊ आप पर सानूं वी इह दूरों दूरों विखाऊ ।"

अग्गे गए तां इक दुकान ते सामान लोहे दा रक्ख्या ।
साथी उसदे अग्गे लंघ गए पर हामिद उत्थे रुक्या ।
चिमटे वेख दुकान दे उत्ते उसनूं ख़्याल इह आवे ।
क्युं ना दादी मां दी खातर इक चिमटा लै जावे ।
हत्थ ओसदे जल जल जांदे जद तव्यों रोटी लाहवे ।
उस कोल ना वेहल ना पैसे खुद चिमटा लै जावे ।
खिडौण्यां दा की फायदा टुट्ट भज्ज इहनां जाना ।
जदों इह थोढ़े होए पुराने किसे हत्थ नहीं लाना ।
हामिद दे साथी लंघ अग्गे शरबत पीन सबीलों ।
उह रुक उत्थे तर्हां तर्हां दियां सोचां घड़े दलीलों ।
मेरे साथी किन्ने लालची ! मैनूं दित्ती ना मठ्याई ।
फोड़े-फुणसियां सभदे होवन जबान चटोरी हो जाई ।
चोरी करनगे मार खाणगे विच किताबां लिख्या ।
इह झूठ नहीं होवन लग्गी जो देन इह सिक्ख्या ।
अंमां ने जद चिमटा डिट्ठा उस भज्जी भज्जी आउना ।
"मेरा बच्चा चिमटा ल्याया," कह मैनूं गल लाउना ।
वड्ड्यां दियां दुआवां सिद्धियां अल्ला कोले जावन ।
खिडौने वेख दुआ की मिलनी भावें मन लुभावन ।
अब्बा अंमीं ने जद कदे वी पैसे लै के आउना ।
टोकरियां भर खिडौने लै मैं दोसतां नूं दे आउना ।
नाले दस्सना दोसती हुन्दी सारे वंड के खाईए ।
र्युड़ी विखा दोसतां नूं ना कदे झिटकाईए ।
चिमटा वेख हसणगे सारे की परवाह इस गल्ल दी ।
लै चिमटा उहनां दे कोले जाईए जलदी जलदी ।
दुकानदार ने मुल्ल दस्स्या, "छे पैसे चिमटे दा ।
जे ज़रूर लिजाना ईं तां पंज पैसे दा लै जा ।"
हामिद दा दिल बैठ ग्या पर उस करी दलेरी,
"तिन्न पैसे दा मैनूं दे दे जे मरजी ए तेरी ।"
घुड़की दे डर कोलों हामिद तुर्या हो दो चित्ता ।
दुकानदार ने चिमटा उसनूं तिन्न पैसे दा दित्ता ।
बन्दूक ज्युं धर मोढे चिमटा साथियां कोले आया ।

मोहसिन पुच्छे, ओ पागला ! चिमटा क्युं ल्याया ।"
हामिद मार्या धरती ते चिमटा नाले अग्गों सुणावे,
"माशकी हेठां सुट्ट वेख खां चूर-चूर हो जावे ।"
महमूद कहे, "चिमटा तेरा की है कोई खिडाउना ?"
हामिद आखे, "इहदियां सिफ़तां तैनूं मैं सुणाउना ।
मोढे रक्ख बन्दूक बण जावे हत्थ चिमटा बने फ़कीरां ।
मजीरे दा कंम इह देवे हथ्यार बने बलबीरां ।
तुहाडे सारे खिडाउने चाहे पल विच मार गिरावे ।
कौन बहादुर चिमटे दा वाल विंगा कर जावे ?"
संमी आखे, "मेरी खंजरी लै लै चिमटा दे दे मैनूं ।"
हामिद कहे, "खंजरी बदले किदां इह देवां तैनूं ।
खंजरी तेरी की विचारी चमड़े दी चढ़ी झिली ।
ढब ढब बन्द हो जावे इसदी रता जे हो जाए गिल्ली ।
खंजरी दा ढिड्ड पाड़े चिमटा जे इसदा मन होवे ।
अग्ग पानी तूफ़ान दे विच्च वी डट्या इह खलोवे ।"
सभ दा मन चिमटे ने मोहआ दूर मेले तों आए ।
पैसे वी मुक्के धुप्प वी तिखेरी केहड़ा वापस जाए ।
हामिद बड़ा चलाक निकल्या पैसे रक्खे बचा के ।
साडे ते हुन रोअब झाड़दा चिमटा इक ल्या के ।
दो दल बच्च्यां दे होए संमी होया हामिद बन्ने ।
मोहसिन, नूरे, महमूद दा दिल हार किवें पर मन्ने ।
वकील, माशकी ते सिपाही मिट्टी दे बने खिडौने ।
लोहे दे चिमटे अग्गे बण गए सभ दे सभ उह बौने ।
मोहसिन सोच सोच के कहन्दा, "इह पानी किदां भरेगा ।"
हामिद कहे, "चिमटे दा झिड़क्या माशकी सभ करेगा ।"
महमूद कहे, "जे फड़े गए तां वकील ने ही छुडाउना ।"
हामिद थोढ़ा झिप के पुच्छे, "फड़न कीहने है आउना ?"
आकड़ के नूरे कहन लग्गा, "इह सिपाही बन्दूक लै आवे ।"
हामिद कहे, "ल्या फिर इन्हां दी हुने कुशती हो जावे ।
रुसतमे-हन्द चिमटा फड़नगे सिपाही इह बिचारे !
सूरत वेख इन्हां घबराउना भज्ज जाना डरदे मारे ।"
मोहसिन कहे, "तेरे चिमटे दा मूंह अग्ग विच तपेगा ।"
हामिद कहे, "इह कुड़ी नहीं जो डरदा जा छुपेगा ।
अग्ग विच केवल ओहो कुद सकन जो हुन्दे बहादर सूरे ।
माशकी, वकील, सिपाही भज्जन इक दूजे तों मूहरे ।"
महमूद कहे, "वकील कुरसी बैठे चिमटा रहे रसोई ।
पए रहन तों बिना एस तों कंम ना होवे कोई ।"
हामिद नूं कोई गल्ल ना सुझ्झी कहन लग्गा घबराया,
"वेख्यो मेरे चिमटे ने जां वकील नूं हेठ गिराया ।
उस दा कानून्न इसने उसदे ढिड्ड विच पा देना ।"
तिन्नों सूरमे सोचन लग्गे असां नहीं कुझ कहना ।
हामिद बिलकुल सच्च आखदा खिडौण्यां टुट्ट जाना ।
इसदा चिमटा ओवें रहना इह ना होए पुराना ।
कहन्दे, "चिमटा तूं विखा दे खिडौने असीं विखाईए ।
ऐवें लड़न दा की फायदा झगड़ा हुन निपटाईए ।"
चिमटा हामिद दूज्यां नूं दित्ता आप लै लए खिडौने ।
किन्ने ख़ूबसूरत सभ खिडौने इक तों इक मनमोहने ।
कहन लग्गा, "चिमटा बिचारा की लग्गे इन्हां कोले ।
इह सारे इउं जापन जिदां हुन बोले कि बोले ।"
मोहसिन कहे, "खिडौने वेख के देणियां किस दुआवां ।"
महमूद कहे, "दुआवां दी छड्डो बस मारों बच जावां ।"

ग्यारां वजे पिंड पुज्जी टोली सारे हल्ला होया ।
मोहसिन दी भैन भज्जी आई उस माशकी खोहआ ।
खोह खिंझ विच माशकी डिग्या उसदे टोटे होए ।
मार कुटाई भैन भाई होए नाले फुट्ट फुट्ट रोए ।
रौला सुन के अंमां अन्दरों भज्जी भज्जी आई।
दोहां दे दो दो थप्पड़ धरके अन्दर खिच ल्याई ।

नूरे मियां वकील लई दो किल्ले कंध गडाए।
पटड़े उत्ते कालीन दी थां कागज़ उहने विछाए ।
वकील उत्ते बिठा के उसनूं पक्खा झल्लन लग्गा ।
पता नहीं तेज हवा वज्जी जां पक्खा उसदे वज्जा ।
भुंजे डिगदियां सार उह सिद्धे सवरग सिधाए ।
हड्डियां सारियां कर इकट्ठियां कूड़े ते सुट्ट आए ।

महमूद सिपाही आपने नूं पहरे दा चारज दित्ता ।
सिपाही हो के पैदल चल्ले इह किदां दा कित्ता !
टोकरी लै के उस विच पुराने कपड़े कुझ विछाए ।
इंज उहने पालकी बणाके सिपाही जी बिठाए ।
सिर उत्ते पालकी चुक्क के बार दा चक्कर लावन ।
'जागदे लहो' दा होका उसदे छोटे भाई लगावन ।
ठोकर खा के डिग्गे मियां सिपाही दी लत्त तोड़ी ।
गूलर दा दुद्ध ला के उसदे फिर उह आपे जोड़ी ।
जदों लत्त ना ठीक जुड़ी दूजी तोड़ बराबर कीती ।
जित्थे धरदे बण सन्न्यासी बैठा रहे चुप्प-चुपीती ।
झालरदार साफा खुरच के गंजा कर बिठाउंदे ।
कदे कदे सिपाही जी दा वट्टा वी बणाउंदे ।

हामिद मियां जद घर आए दादी भज्जी आवे ।
प्यार नाल प्यारा पोता गोदी विच उठावे ।
चिमटा वेख के फिर बोली, "इह है कित्थों आया ?"
हामिद कहन्दा, "तिन्न पैसे दा मैं हां मुल्ल ल्याया ।"
छाती पिट अमीना पुच्छे, "इह काहतों चुक्क ल्याया?"
"तवे नाल तेरे हत्थ जलदे सी," हामिद अग्गों सुणाया ।
सारा गुस्सा प्यार च बदल्या अमीना सोचीं जावे ।
केहड़ा बच्चा बुढ्ढी दादी लई ऐना त्याग दिखावे ।
बच्चे होणगे कुझ कुझ खांदे किन्ना इस जबत दिखाया ।
दादी दी याद दिल रक्खी ताहीं चिमटा लै आया ।
बच्च्यां वांगूं रोईं जावे नाले दुआवां देईं जावे ।
इस विचला भेद जो गुझ्झा हामिद समझ की पावे !

(कायमअली=पिंड दा शाहूकार जो बहुत व्याज़ ते
पैसे दिन्दा सी, लागी जां लागण=उह लोक जो पिंडां विच
दूज्यां दा कंम करदे हन, लोक उन्हां नूं दिन-देहार जां
फ़सल आउन ते कुझ ना कुझ गुज़ारे लई दे दिन्दे हन)

7. आखरी पत्ता

(इह रचना ओ हैनरी दी कहाणी
'द लासट लीफ' ते आधारित है)

वाशिंगटन सकवेयर दे वस्से जेहड़ी बसती लहन्दे ।
ग्रीनविच विलेज नां उहदा सभ लोकी ने कहन्दे ।
भुल्ल-भुलई्ईआं ने लगदियां सभ ओथों दियां गलियां ।
कुझ विंग वलेवें खांदियां फिर उह एदां मिलियां ।
इको गली इक दो वारी तां आपा है कट्ट जांदी ।
ओपरा कोई वड़े जिस थां तों मुड़ ओथे लै आंदी ।
बिल्ल काग़ज़, कैनवस, रंगां दे लैन कोई जे आवे ।
खाली हत्थीं उह परत जाए घर ना उसनूं थ्यावे ।
कलाकारां लई बण ग्या इह थां बड़ा सुखावां ।
किराया एथे रहन दा बहुता नहीं दुखावां ।
पुराणियां डच इमारतां इत्थे ने मन मोंहदियां ।
छज्जे अते अटारियां हैन जिन्हां 'ते सोंहदियां ।

तिन्न-मंज़िला इट्टां दी बनी इक इमारत इत्थे ।
जौंज़ी अते सू ने आपना स्टूडीयो बणाया जित्थे ।
इक आई सी मेन तों दूजी कैलीफोरनिया निवासी ।
इक रैसतोरां खाना खांदियां दोसती हो गई खासी ।
खाण-पहनन दियां आदतां दोवां दियां सी इक्के ।
कला दे नज़रीए विच्च वी बहुता फ़रक ना दिस्से ।

मई दी इह गल्ल है पर जदों नवम्बर आया ।
ठंढा अदिक्ख अजनबी आपने नाल ल्याया ।
डाकटर नमूनियां आखदे जो उत्थे सी रहन्दे ।
ठंढे हत्थ इस मनहूस दे जिस जिस उत्ते पैंदे ।
कांबा उहनूं छिड़ जांवदा जुस्स्यों ताकत जावे।
बुखार ऐना चढ़ जांवदा उट्ठ्या मूल ना जावे ।
पूरब वाले पासे एसने पूरा कहर मचाया ।
विंगे-टेढे राह जित्थे उत्थे हौली हौली आया ।
नमूनियां बुढ्ढा वीर जे हुन्दा सही लड़ाई लड़दा ।
क्युं निमानी बालड़ी ताईं उह आके फिर चढ़दा ।
पच्छमी ठंढी हवा पहलों सी जिसदा लहू घटाया।
लाल-मुट्ठां, छोटे साह वाला खूसट किधरों आया ।
जौंज़ी नूं इस आके दब्ब्या उस तों हिल्या ना जावे ।
बिसतर लेटी खिड़की विच्चों बाहर नूं झाकी पावे ।
इटां वाली साहमने घर दी कंध सी बिलकुल खाली ।
उस वल्ल नीझ ला के उह रक्खे जिदां कोई सवाली ।
सुबह सवेरे कंम च रुझ्या डाकटर उत्थे आया ।
बिखरे चिट्टे वाल सी जिसदे सू नूं उस बुलाया ।
थरमामीटर आपना तक्के नाले उह आख सुणावे,
"दसां विच्चों इक हिसा ही बचन दा नज़रीं आवे ।
उह वी तां जे आपने दिल 'चों डर मौत दा कढ्ढे ।
कबरां अते मोयां बारे सोचना बिलकुल छड्डे ।
केहड़ी चीज़ जो इसनूं अन्दरो अन्दरी खाईं जावे?"
" नेपलज दी खाड़ी दा इह चितर बणाना चाहवे।"
"चित्रकारी वी कोई गल्ल है जिस बारे कोई सोचे ।
की कोई है अजेहा बन्दा जिस नूं दिलों इह लोचे ।"
"नहीं, डाकटर कोई नहीं बन्दा जो इसदे दिल आवे ।"
"तां फिर बस्स कमज़ोरी इसनूं मौत वल्ल लईं जावे ।
जिन्नी वाह मैं ला सकदा हां आपनी वल्लों मैं लावां ।
रोगी गिने जे मजल दे बन्दे तां मैं क्यास लगावां ।
दवाईआं दी कुल ताकत दा अद्धा हिस्सा घटावां ।
फ़ैशन दी गल्ल रोगी करे तां दुगना उहनूं करावां ।"

डाकटर ग्या सू ऐना रोई रुमाल वी गिल्ला होया ।
डरायंग बोरड लै कमरे आई मूल ना जावे खलोया ।
सू हौली हौली सीटियां वजावे नाले कुझ गाईं जावे ।
जौंज़ी नूं वेख चुप-चाप सुत्त्यां सीटियां बन्द करावे ।
किसे रसाले लई सू ने तसवीर कीती शुरू वाहनी ।
जिदां नवां लेखक कोई लिखदा रसाले लई कहानी ।
घोड़सवार चरवाहे दी उस सोहनी तसवीर बणाई ।
उहनूं लग्ग्या जौंज़ी हौली हौली जावे गल्ल दुहराई ।
सू आपना कंम विचे छड्ड के बिसतर वल्ल नूं आई ।
जौंज़ी जागदी बिसतर बैठी बाहर निगाह टिकाई ।
बाहर वेखे ते मूंह विच्चों पुट्ठी गिणती गिणदी जावे ।
बारां ग्यारां दस नौ गिणदी अट्ठ सत्त तक्क आवे ।
सू फ़िकरमन्द बहु होई झाती खिड़की वल्ल पावे ।
बाहर वल्ल जौंज़ी की वेखे उसनूं समझ ना आवे ।
बाहर सुन्नमसुन्ना वेहड़ा खाली कंध इट्टां वाली ।
रुंड-मरुंडी वेल आइवी दी उस 'ते पए विखाली ।
जढ़ां सुक्कियां जरजर होई अद्ध तक्क चढ़ी होई ।
ठंढी ख़िज़ां ने पत्ते सूते बस्स हुने मोई कि मोई ।
"बाहर वल्ल की तूं वेखें ?" सू जौज़ीं नूं पुच्छे ।
"छे रह गए सारे झड़ गए," जौंज़ी हौली दस्से ।
"तिन्न दिन पहलां सौ सन गिणदी तां सिर दुखदा ।
पर हुन सौखा है गिणना लै इक होर औह डिगदा ।
बस्स होर हुन पंज बचे ने," जौंज़ी इह दस्सीं जावे ।
पंज होर की बचे ने ?" इह सू जाणना चाहवे ।
"आइवी दे गिणां मैं पत्ते, तैनूं नहीं डाकटर दस्स्या ?
अखीरले पत्ते नाल मैं मरना इह मेरे मन वस्या ।"
सू अग्गों कुझ खिझ के बोली, "इह गल्ल पागलां वाली ।
तेरी ते झड़ रहे पत्त्यां दी दस्स केहड़ी भाईवाली ?
डाकटर ने एहो दस्स्या दस 'चों इक मौका बचन दा ।
नवीं इमारत जे बनी होवे एहो उस कोलों लंघन दा ।
उसदा ऐना ही खतरा करीए नियू यारक कार सवारी ।
तूं कुझ खा पी लै मैं कर लां कुझ ना कुझ चित्रकारी ।
जिसनूं मैं आडीटर नूं दे के थोढ़े बहुते पैसे लै आवां ।
जिन्हां दा समान खान पीन दा अते दवाईआं ल्यावां ।"
जौंज़ी ने अक्खां बाहर टिकाईआं सू नूं आखे एहा,
"मेरे लई कुझ लै के आण दा तैनूं फ़िकर है केहा ?
हुन पत्ते कुल चार रह गए इन्हां वी डिग्ग जाना ।
उसे वेले मैं वी दुनियां 'चों करना कूच ठिकाना ।"
सू उस उत्ते झुकी ते आखे, "सुन तूं मेरी प्यारी,
अक्खां मीट के रक्ख आपणियां ना वेख वल्ल बारी ।
चितर बणाके देने कल्ल्ह तक्क ताहीं तैनूं इह कहन्दी ।
चानन दी है लोड़ एस लई नहीं परदे बन्द कर दिन्दी ।"
"किन्ना चंगा होवे दूजे कमरे तूं जा के चितर बणावें ।"
सू आखदी, "मैं इह चाहां तूं पत्त्यों निगाह हटावें ।"
जौंज़ी कहन्दी, "मैनूं दस्सीं, कंम तेरा जदों मुक्या ।"
पूनी वरगी बग्गी होई जापे ज्युं बुत्त टुट्ट्या ।
"मैं चाहुन्दी मैं आखरी पत्ता डिगदा ढहन्दा तक्कां ।
उडीक ने मैनूं बहुत सताया सोचां सोचदी थक्कां ।
थक्क्या पत्ता डिग्गे ज्युं हौली मैं वी एहो चाहवां ।
मैं वी एदां थक्की थकाई दुनियां नूं छड्ड जावां ।"
सू कहन्दी, "तूं ज़रा कु सौं जा मैं हेठां जा आवां ।
बहरमन नूं अपने माडल लई हुने बुला ल्यावां ।
इक मिंट तों वध नहीं लाना हुने आई कि आई ।
तूं आपनी थां तों हिलन दी कोशिश करीं ना काई ।"

बुढ्ढा बहरमन चित्रकार सी जो स्ट्ठ सालां तों टप्प्या ।
चाली साल तों इस पेशे विच पर कुझ वी ना खट्ट्या ।
इह गल्ल सभनां नूं कहन्दा मैं इक शाहकार बणाना ।
मैं किन्ना वड्डा कलाकार हां फिर लोकां ने मन्न जाना ।
अखबारां विच कुझ कंम करके आपना पेट उह भरदा ।
हुन उह जौंज़ी ते सू वासते माडल दा कंम ही करदा ।
बहुती जिन्न जदों पी लैदा आपने शाहकार बारे दस्सदा ।
जे कोई कमज़ोरी कदे विखावे उस उत्ते खुल्ह के हस्सदा ।
दोवां कुड़ियां दी उह समझे मैं करदा हां रखवाली ।
इस अणजान जग्हा उन्हां दा कौन एं वारिस वाली ।
जूनीपर बेरियां दी तिक्खी बो उसदे कमरे भरी सी ।
इक खूंजे विच ईज़ल उत्ते खाली कैनवस धरी सी ।
बहरमन ने आपने शाहकार दी लीक ना वाही कोई ।
पंझी साल दी उसे जग्हा ते बस्स एदां ही टिक्की होई ।
सू ने जौंज़ी दी सारी गल्ल बहरमन नूं दस्सी जा के ।
उसने आपनी खिझ सू ते कढ्ढी उसनूं गल्लां सुना के ।
"की इस दुनियां विच इहो जेहा पागल वी कोई ?
तुहाडे लई हुन माडल बनन दी मैनूं लोड़ ना कोई ।
तूं उसदे दिमाग़ विच इह ख़्याल क्युं आउन देवें ।
इहो जेहियां फालतू सोचां क्युं ना उसतों पर्हां करेवें ।"
सू कहन्दी, "जौंज़ी नूं बुखार ने कीता है बहुत निताना ।
अजीब सोचां ने ताहीं उसदे मन शुरू कीता है आना ।
जे तूं माडल नहीं बणना चाहुन्दा इह मरजी ए तेरी ।
तूं बुढा इक वड्डा मूरख एं इह बनी सोच ए मेरी ।"
बहरमन आखे सू नूं, "तूं वी जनानियां वांग हैं होई ।
तेरे लई माडल ना बनन दी नहीं मेरी मरजी कोई ।
तूं चल्ल मैं हुने आया पर इक गल्ल सुणदी जाईं ।
जौंज़ी विचारी दे रहन लई इह थां चंगी नाहीं ।
जदों मैं शाहकार बणाया फिर पैसे बहुत कमाने ।
उसे वेले इस भैड़ी थां तों आपां सभनां चाले पाने ।"

जौंज़ी नूं सुत्ती वेख के सू ने हेठां परदे सभ गिराए ।
बहरमन ते सू दोवें फिर नाल दे कमरे विच आए ।
दोवें जने दिलों डरे होए बाहर वेल नूं वेखीं जावन ।
इक दूजे वल्ल निग्हा करन पर मूंहों ना कुझ सुणावन ।
बाहर मींह तेज पै रेहा उसदी तेजी वधदी जावे ।
बरफ़ वी नालो नाल डिग रही जो ठंढ नूं होर वधावे ।
खान मज़दूरां वांगूं बहरमन कमीज़ सी नीली पाई ।
बैठन लई चटान दी थां उस केतली पुट्ठी कराई ।
अगली सवेर घंटा कु सौं के सू नूं जाग जां आई ।
उदास अक्खां नाल जौंज़ी ने परदे ते नज़र टिकाई ।
"परदे पर्हां हटा, मैं तक्कणा" सू नूं हुकम सुणावे ।
सू विचारी कम्बदे हत्थीं परदियां नूं पर्हे हटावे ।
वेखो चमतकार इक होया पत्ता वेल ते डट्या ।
तेज़ हनेरी ते मींह उसदा कुझ विगाड़ ना सक्या ।
गूढ़्हा हरा रंग ओसदा पर किनारे कुझ कुझ सुक्के ।
वीह फुट्ट सी ज़मीन तों उच्चा लग्ग्या वेल दे उत्ते ।

जौंज़ी कहन्दी, "मैं सोच्या सी रात नूं इह डिग्ग जाना ।
तेज हनेरी विच इस पत्ते विचारे आपा किदां बचाना ।
अज्ज ज़रूर इह डिग्ग जावेगा हनेरी नहीं झल्ली जानी ।
इस पत्ते नाल रूह मेरी वी इस जग्ग तों टुर जानी ।
सू दा चेहरा मुरझाया कहे जौंज़ी नूं, "कर जेरा ।
जे तूं आपना नहीं सोचना कुझ तां सोच तूं मेरा ।"
जौंज़ी कोई जवाब ना दित्ता सोचे उसदी रूह कल्ली ।
सारे रिशते तोड़ जगत दे आपने राह टुर चल्ली ।
सारा दिन लंघ्या शाम वेले उन्हां बाहर डिट्ठा ।
सूर्यां वांगूं कायम खड़ा सी आपनी थावें पत्ता ।
रात होई तां उत्तर वल्लों तेज तूफ़ान फिर आया ।
कल्ला नहीं नाल आपने मींह ज़ोर दा ल्याया ।
छत्तां ते कंधां ते मींह दी वाछड़ ज़ोर ज़ोर दी वज्जे ।
इउं लग्गे इहने सभ घर ही तोड़ सुट्टने ने अज्जे ।
सवेरे थोढ़ा चानन होया जौंज़ी हुकम चढ़ाया ।
सू विचारी ने परदे नूं खिड़की तों पर्हां हटाया ।
जौंज़ी ने जां पत्ता डिट्ठा तां उस ते निगाह टिकाई ।
सू सी खाना पई बणाउंदी उस नूं आवाज़ लगाई ।
"मैं इक बहुत बुरी कुड़ी हां जिसने तंग कीता तैनूं ।
पत्ते ने आपनी थां रहके इक सबक सिखया मैनूं ।
आपे मौत मंगनी पाप है वड्डा मैनूं समझ इह आई ।
बीबी रानी बण मेरे लई छोटा शीशा लै के आईं ।
सिर्हाण्यां दा फिर दे आसरा मैनूं चुक्क बिठाईं ।
फेर आपने हत्थीं मैनूं दुद्ध प्याईं खाना खुआईं ।
तैनूं कंम करदी नूं मैं बिसतर बैठ वेखना चाहवां ।
ठीक हो के 'नेपलज दी खाड़ी' वाला चितर बणावां ।"

दुपहर बाद डाकटर आया सू जां उसनूं पुच्छ्या ।
"पंजाह फी सदी बचन दा मौका" कहके उस हत्थ घुट्ट्या ।
"हुन मैं हेठां जा के इक होर मरीज है वेखन जाना ।
नमूनीए ने बहरमन नूं कर छड्ड्या ए जी भ्याना ।
बुढ्ढे अते माड़ू कलाकार ते हमला तेज है होया ।
नमूनीए ने इकदम उहनूं कर दित्ता अधमोया ।
कोई उमीद नहीं दिसदी उसनूं हसपताल लै जाना ।
तां जु कुझ सौखा हो जावे उसनूं रहन्दा समां लंघाना ।"
अगले दिन डाकटर आया सू पुच्छन लई खलोई ।
डाकटर कहन्दा, "जौंज़ी ताईं हुन ना ख़तरा कोई ।
तुसीं जित्त गए गल्ल ख़ुशी दी मौत हार गई इसदी ।
देखभाल करो दियु चंगा खाना इसनूं लोड़ है जिसदी ।"
दुपहर बाद सू जौंज़ी कोल आई जफ्फी घुट्ट के पाई ।
सकारफ़ उह इक उनी जांदी सी उसनूं गल्ल सुणाई,
"नमूनीए ने बहरमन नूं दो दिन विच मार गिराया ।
चौकीदार दस्से सवेरे सवेरे जां उस कोल उह आया ।
दरद नाल सी तड़फीं जांदा उसने उहनूं उठाया ।
रातीं बाहर की करदा सी उह इह समझ ना पाया ।
जुत्तियां कपड़े सभ कुझ उहदा पानी नाल सी भिज्ज्या ।
बलदी लालटैन कोल पई सी समान प्या सी डिग्ग्या ।
पौड़ी इक पई सी उत्थे कुझ बरश्श वी खिंडे पए सन ।
रंगां वाली पलेट दे विच हरा पीला रंग मिले सन ।
जौंज़ी ज़रा बाहर वल्ल वेखीं आपां ध्यान नहीं दित्ता ।
हवा चल्ले तां वी नहीं हिलदा वेल ते लग्ग्या पत्ता ।
बहरमन दा शाहकार इह जेहड़ा उस रात बणाया ।
आखरी पत्ता भावें डिग्ग्या पर तैनूं इहने बचाया ।"

8. काबुलीवाला

(इह रचना राबिन्दर नाथ टैगोर दी कहाणी
'काबुलीवाला' ते आधारित है)

मेरी पंज सालां दी बच्ची मिन्नी है जिसदा नां ।
बिनां बोले नहीं रह सकदी थोढ़ा जिन्नां समां ।
इक दिन सवेरे भज्जी भज्जी मेरे कोले आई ।
उसने आउंदेसार ही आपनी गल्ल सुणाई ।
"रामदयाल दरबान, 'काक' नूं 'कऊआ' बुलावे ।
बाबू जी, एदां नहीं लगदा उसनूं कुझ ना आवे ।
भोला इक दिन मैनूं दस्से मींह किदां है पैंदा ।
हाथी आपनी सुंड दे अन्दर पानी है भर लैंदा ।
उस पानी नूं ज़ोर मारके वल्ल आकाश पुचावे ।
उहो पानी साडे कोले मींह बणके फिर आवे ।
बाबू जी, भोला झूठ मारदा" कहके उथों भज्जी ।
जिदां पहलां खेड रही सी फेर खेड जा लग्गी ।

मेरे कमरे विच मिन्नी इक दिन खेड रही सी ।
अचणचेत खिड़कीयों बाहर उसदी नज़र पई सी ।
खिड़की छड्ड के कोल मेरे जलदी जलदी आई ।
"काबुलीवाला, काबुलीवाला" पाईं जावे दुहाई ।
मोढे ते झोला लटकाया जिस विच सुक्के मेवे ।
हत्थ विच अंगूरां दी पिटारी दूरों विखाई देवे।
लंमा कद्द पर हौली चाले सड़के तुर्या आवे ।
मिन्नी डिट्ठा घर वल्ल मुड़्या अन्दर भज्जी जावे ।
मिन्नी नूं सी इह डर लग्गा फड़ ना झोली पावे ।
उसनूं फड़के नाल आपने किते दूर लै ना जावे ।
मिन्नी सोचे उसदी झोली जे कोई फोल के तक्के ।
उस विचों होर मिल जाणगे किन्ने ही छोटे बच्चे ।
काबुलीवाले मुसकराके फिर सलाम आ कीता ।
मैं वी उसतों मिंनी लई कुझ समान लै लीता ।
थोढ़ा चिर चुप्प रहके उसने उपर निगाह उठाई,
"बाबू जी बेटी गई कित्थे ?" मैनूं उस पुच्छ्या ई ।
मिन्नी दा डर घट्ट करन लई मैं उसनूं बुलाया ।
काबुलीवाले बदाम ते किशमिश मिन्नी वल्ल वधाया ।
डरके मेरे गोड्यां नूं चिम्बड़ी मिन्नी उच्ची रोई ।
जान पछान दोवां दी एदां पहली वारी होई ।
कुझ दिन लंघे किसे कंम नूं मैं बाहर जां आया ।
की वेखां, मिन्नी ने कोले काबुलीवाला बिठाया ।
उह हस्से मिन्नी गल्लां सुणावे बिलकुल ना डरी सी ।
बदाम ते किशमिश नाल उसदी झोली भरी सी ।
काबुलीवाले नूं अट्ठ आने दे मैं बाहर नूं आया ।
"अग्गों इसनूं कुझ ना देईं" नाले पक्क कराया ।
कुझ देर होर गल्लां करके काबुली उट्ठ खलोया ।
अठ्यानी मिन्नी दी झोली पा के उत्थों तुरदा होया ।
मैं घर मुड़्या मां मिन्नी नूं झिड़कां दे रही सी ।
अठ्यानी उस क्युं लई उस तों पुच्छ रही सी ।

काबुलीवाला रहमत हर रोज़ साडे घर आउंदा ।
बादाम, किशमिश मिन्नी लई झोली पा ल्याउंदा ।
मिन्नी दे दिल हौली हौली उसने पक्की जगाह बणाई ।
दोवें गल्लां करदे रहन्दे समें दा ख़्याल ना काई ।
मिन्नी पुच्छदी, "काबुलीवाले तेरी झोली विच की है ?"
रहमत दसदा, " मेरी झोली रक्ख्या इक हाथी है ।"
फिर उह पुच्छदा, "मिन्नी बेटी तूं कद सहुरे जावेंगी ?
"सहुरीं जा के साडे ताईं आपने दिलों भुलावेंगी ।
मिन्नी नूं जवाब ना आउंदा उलटा उसतों उह पुच्छे ।
उसने कदों है सहुरे जाना आपे पहलां उह दस्से ।
रहमत मुक्का तान के कहन्दा इह सहुरे नूं मारां ।
मिन्नी इह गल्ल सुन हस्सदी मूंह ते खिड़न बहारां ।

सरदी ख़तम हुन्दियां रहमत आपने देश नूं जांदा ।
जाणों पहलां उधार आपनी सारी सी उगरांहदा ।
घर-घर जांदा गेड़े लांदा पर जद समां तकांदा ।
तां वी इक वार मिन्नी नूं रोज़ आ के मिल जांदा ।
इक दिन सवेरे अन्दर बैठा कंम मैं कर रेहा सी ।
उसे वेले सड़क वल्लों अचानक रौला कन्नीं प्या सी ।
मैं बाहर डिट्ठा दो सिपाही रहमत नूं बन्न्ही जावन ।
रहमत दे कमीज़ दाग़ लहू दे दूरों नज़रीं आवन ।
लहू भिज्ज्या छुरा सी फड़्या हत्थ विच इक सिपाही ।
मैं वी उहनां वल्ल ग्या पुच्छन लई की होया सी ।
कुझ सिपाही ते कुझ रहमत सुण्या इह गल्ल कहन्दा ।
चादर उहने वेची किसे नूं जो साडे गवांढ ही रहन्दा ।
कुझ रुपए बाकी रहन्दे सी पर उस जवाब सुणाया ।
दोहां विच तकरार वधी जां रहमत छुरा चलाया ।
"काबुलीवाले, काबुलीवाले," कहन्दी मिन्नी भज्जी आई ।
मिन्नी तक रहमत दे मूंह ते इक वारी तां ख़ुशी छाई ।
मिन्नी आउंदेसार ही पुच्छ्या, "कदों तूं सहुरे जाना ?"
रहमत हस्सके कहन लग्गा, "हुन मेरा उहो टिकाना ।"
रहमत सोचे इस जवाब तों मिन्नी ख़ुश ना होई काई ।
फिर उस मुक्का तान के उपर आपनी बांह उठाई ।
"सहुरे नूं मैं ज़रूर मारदा पर मेरे हत्थ वेख लै बन्न्हे ।"
मिन्नी नूं कुझ समझ ना आवे इह गल्ल मन्ने जां ना मन्ने ।

इस गुनाह लई रहमत नूं सज़ा लम्बी गई सुणाई।
हौली हौली समें ने याद ओस दी साडे मनों मिटाई ।
अट्ठ साल लंघ गए सन मिन्नी दा व्याह हो रेहा सी ।
मैं बैठा हिसाब सां लिखदा तां रहमत नज़र प्या सी ।
उसने आ सलाम बुलाई फिर इक पासे आ खड़ोया ।
मैं उस नूं पछान ना सक्या उह एदां सी होया ।
कोल ना उसदे कोई झोली चेहरा जापे कुमलाया ।
मैं पुच्छ्या,"दस्स बई रहमत कदों कु दा तूं आया ?"
"कल्ल्ह शाम मैं जेल्हों छुट्या," उसने जवाब सुणाया ।
"तूं किसे दिन फेर आ जाईं अज्ज घर काज रचाया ।"
उह उदास हो जान लग्ग्या दरवाज़े कोल जा रुक्या ।
"इक वार बच्ची नूं विखा दियु," कहके थोढ़ा झुक्या ।
उहनूं शायद यकीन सी मन विच मिन्नी अजे वी बच्ची ।
"काबुलीवाले, काबुलीवाले," कहन्दी आऊ आपे नट्ठी ।
एने चिर दियां कट्ठियां कीतियां गल्लां उहनूं सुणाऊ ।
पहलां वाली रौनक आपे ही उसदे मूंह ते आ जाऊ ।
उसनूं चुप्प खड़ा वेख के मैं फिर आख सुणाया,
"अज्ज घर बहुत कंम है उसतों नहीं जाना आया ।"
उसदे चेहरे उदासी आई उसने सलाम बुलाई ।
रहमत घरों बाहर निकल्या तां मेरे मन आई ।
उसनूं मैं आवाज़ लगावां मैं अजे इह सोच रेहा सी ।
रहमत आप वापस मुड़ आया उसने आ केहा सी,
"इह थोढ़ा जेहा मेवा रक्ख लउ बच्ची नूं दे देना ।
उसदा काबुलीवाला दे गिऐ इह ओसनूं कहना ।"
मैं ओहनूं पैसे देना चाहवां पर उस कुझ ना ल्या ।
जद मैं बहुता ज़ोर दित्ता तां उसने मैनूं इह केहा,
"बाबू साहब तुहाडी मेहरबानी गल्ल दस्सां मैं सच्ची ।
मिन्नी जिड्डी मेरे घर वी इक छोटी जेही बच्ची ।
जदों ओसदी याद है आउंदी मैं तुहाडे घर आवां ।
आपनी बच्ची समझ के ओहनूं कुझ मेवा मैं दे जावां ।
मैं इत्थे सौदा वेचन नहीं आउंदा बच्ची खिच्च ल्यावे ।
मिन्नी दे चेहरे 'चों मैनूं आपनी बच्ची ही दिस आवे ।
उसने कुड़ते दी जेब विचों इक काग़ज़ फिर कढ्ढ्या ।
धूड़ समें दी उस काग़ज़ नूं मैला सी कर छड्ड्या ।
हौली हौली खोल्ह उस दियां तैहां मेज़ ते उस विछाया ।
उस उत्ते छोटे जेहे हत्थ दा पंजा लग्गा नज़रीं आया ।
हत्थ दे उत्ते थोढ़ी कालख ला के छाप इह गई बणाई ।
आपनी बेटी दी इह निशानी उह रक्खे दिल नाल लाई ।
जद वी रहमत शहर कलकत्ते सौदा वेचन लई आवे ।
इह काग़ज़ उह जेब च पा के आपने नाल ल्यावे ।
इह वेख मेरियां अक्खां विच पानी सी भर आया ।
सभ कुझ भुल मैं ओसे वेले मिन्नी नूं उत्थे बुलाया ।
व्याह वाले कपड़े गहने पाईं मिन्नी बाहर आई ।
साडे कोल आ उह खलोती पर लग्गे बहुत शरमाई ।
उहनूं वेख के रहमत पहलां दिलों बहुत घबराया ।
"लाडो अज्ज सहुरे घर जाना ?" उसने हस्स सुणाया ।
मिन्नी नूं हुन सस्स दा मतलब सारा समझ प्या सी ।
रहमत दी गल्ल सुन उहदा मूंह लालो लाल होया सी ।
मिन्नी गई रहमत ने फिर इक डूंघा साह ल्या सी ।
ज़मीन ते बह के उस सोच्या सभ कुझ साफ़ होया सी ।
उसदी बच्ची वी ऐडी ही होवेगी उस नूं सोच सताया ।
ऐनां लम्बा समां उसने उसदे पिछों किदां होना लंघाया ।
रहमत यादां दे विच गुंम्यां मैं कुझ रुपए हत्थ लित्ते ।
"रहमत, बेटी कोल देश टुर जा," इह कह उहनूं दित्ते ।

Punjabi Geet

1. शीशे दे शहर दे वासी क्युं खेडें पत्थरां नाल

शीशे दे शहर दे वासी क्युं खेडें पत्थरां नाल ।
युग्गां दे पुजारी दस्स क्युं रुसदैं हुण मन्दरां नाल ।

इह तरेल जेहनूं कहनैं तूं मोती कोई अक्खां दा ।
जेहनूं समझ अवारा सुट्टदा इह दिल कोई लक्खां दा ।
कली आस वाली ना तोड़ीं पाली ए सद्धरां नाल ।

इह सानूं पता ए सारा ना साडी कोई हसती ।
ना गगन दिलासा देवे ना दरद वंडावे धरती ।
बेहाल मैं क्युं ना होवां ला के बेकदरां नाल ।

लिव तेरी संग सी जोड़ी तूं वी ए एदां करना ।
डुब्बणां ते कट्ठ्यां डुब्बणां तरना ते कट्ठ्यां तरना ।
की साडे नाल ए बीती तक्क आपणियां नज़रां नाल ।

लक्ख चोर भलाईआं दे लै याद तैनूं मैं रहना ।
जे मौत बाअद किसे पुच्छ्या तूं मेरा इह मैं कहना ।
इह वाअदा ए मैं लिख्या नैणां दे अक्खरां नाल ।

2. दिला मेरिआ सुणावें कीहनूं हाल

दिला मेरिआ सुणावें कीहनूं हाल ?
सभनां दे कन्न बन्द ने ।
आपे होई जावें हाल तों बेहाल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

इह जु महफ़िलां दे बन्दे तक्कें रंगा रंगदे ।
दिल तोड़नों किसे दा भैड़े नहींउं संगदे ।
शमां नित्त नवीं रक्खदे कोई बाल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

अक्खां इन्हां दीआं मोतिया बिन्द हो गिआ ।
तेरे जेहा इत्थे लक्खां आ के जिन्द खो गिआ ।
काहनूं हंझूआं दे भरनैं तूं ताल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

तेरे कप्पड़े लीरां 'ते हालत फ़कीरां ;
सभनां पा के लकीरां, डेगियां ज़मीरां ;
जित्थों वगदा प्या ए खून लाल ।
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

मार महफ़िलां नूं लत्त, हैन भले चंगे सत्थ ;
तेरा खिच्च रहे रत्त, इह पछान लै तूं हत्थ ;
नहीं तां बचना हो जाना एं मुहाल ।
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

3. रहीं गीत सुणाउंदा तूं

रहीं गीत सुणाउंदा तूं, रहीं गीत सुणाउंदा तूं ।
दुक्ख दरद ज़माने दे, रहीं गा के घटाउंदा तूं ।

इह दुनियां बहु-रंगी पर एथे वी तंगी ।
कुझ्झ आप सहेड़ी ए कुझ मिली बिनां मंगी ।
दोहां तों बचन लई रहीं ज़ोर लगाउंदा तूं।

सुक्खां दे दिन बहुते तूं आप घटा लए ने ।
दुक्खां दे दिन थोढ़े तूं आप वधा लए ने ।
जित्थों मिले ख़ुशी कोई रहीं छाती लाउंदा तूं ।

दुक्ख दरद किसे दा जे थोढ़ा तूं घटा जावें ।
तूं आपे वेख लईं किन्नां सुक्ख पा जावें ।
उस सुक्ख दे वाधे लई रहीं ढंग बणाउंदा तूं ।

इह पंछी गाउंदे ने इह हवा वी गाउंदी ए ।
इह बद्दल गाउंदे ने इह नदी वी गाउंदी ए ।
इहनां दे गीतां संग रहीं गीत रलाउंदा तूं ।

जेहड़े आपणे छड्ड गए ने सी गरजां दे साथी ।
सभ सुक्ख दे साथी सी ना सी मरजां दे साथी ।
जो राह विच्च मिल गए ने रहीं हिक्क नाल लाउंदा तूं ।

इह निक्के बच्चे जो हासे पए वंडदे ने ।
बुल्ल्हां ते ख़ुशी ल्या दुक्खां नूं छंडदे ने ।
इन्हां दे हासे लई रहीं ख़ुशी खिंडाउंदा तूं ।

किसे कंडे जे दित्ते कलियां वी दित्तियां ने ।
जे हारां ने मिल्लियां जित्तां वी जित्तियां ने ।
इन्हां कलियां जित्तां लई रहीं शुकर मनाउंदा तूं ।

इह जो कुझ तेरा ए तेरा ते कुझ वी नहीं ।
उस दाते ने दित्ता इह याद तूं रखदा रहीं ।
इस याद नूं रक्खन लई रहीं दिल च वसाउंदा तूं ।

4. आजा वे सज्जणां याद तेरी हंझू ल्या दित्ते

आजा वे सज्जणां याद तेरी हंझू ल्या दित्ते
लम्बी चुप्प-नींद मैं सौं गिआ सुफ़ने जगा दित्ते

मैं हस्सदा हस्सदा रो प्या तेरी याद आई जां
मैं मारूथल दा वासी सां उहने कर दित्ती आ छां
चिट्टे दुद्ध दिन दे अन्दर वी तारे टिमका दित्ते
आजा वे सज्जणां याद तेरी हंझू ल्या दित्ते
लम्बी चुप्प-नींद मैं सौं गिआ सुफ़ने जगा दित्ते

कलियां ने खिड़ना खिड़ पईआं पत्तियां हस्स पईआं
उहनां दे हासे विच्चों ही दो बून्दां वस्स पईआं
उह त्रेल उन्हां दे नैणां दी हत्थ वी जला दित्ते
आजा वे सज्जणां याद तेरी हंझू ल्या दित्ते
लम्बी चुप्प-नींद मैं सौं गिआ सुफ़ने जगा दित्ते

क्युं ने दूर मैथों जा रहे मेरे ख़्याल वी
इह तां तूं दस्स जा आके कीती साडे नाल की
क्युं ग़म दे बुझे होए दीवे आ फेर जगा दित्ते
आजा वे सज्जणां याद तेरी हंझू ल्या दित्ते
लम्बी चुप्प-नींद मैं सौं गिआ सुफ़ने जगा दित्ते

5. लैला दे घर दे गिरदे आशकां पाया घेरा

लैला दे घर दे गिरदे आशकां पाया घेरा
घर उहनूं कोई की आखे बण्यां उह आशिक डेरा

मां पई लैला नूं पुछदी, 'किन्ने ने आशिक तेरे
जिधर मैं मूंह नूं फेरां मजनूं ने घर विच्च मेरे
मैनूं तूं आप दस्स दे केहड़ा ए मजनूं तेरा'
लैला दे घर दे गिरदे आशकां पाया घेरा
घर उहनूं कोई की आखे बण्यां उह आशिक डेरा

सोचां विच्च लेला पै गई सुझदी ना गल्ल कोई
खहड़ा छुडाउने वाला लभदा ना वल्ल कोई
कन्न विच्च गल्ल मां नूं कहन्दी वेख के चार चुफेरा
लैला दे घर दे गिरदे आशकां पाया घेरा
घर उहनूं कोई की आखे बण्यां उह आशिक डेरा

'लैला है ख़ून मंगदी' मां आ के सुणाउंदी ऐ
झूठी सभ आशिक टोली चाले पई पाउंदी ऐ
मजनूं हो अग्गे कहन्दा, 'ख़ून है हाज़र मेरा'
लैला दे घर दे गिरदे आशकां पाया घेरा
घर उहनूं कोई की आखे बण्यां उह आशिक डेरा

6. आ गईआं कणियां

आ गईआं कणियां, सहीयो आ गईआं कणियां ।
इन्दर हत्थों काहली दे विच खिंड गईआं मणियां ।

जट्ट विंहदा सी बद्दलां वल्ले,
जिद्दां सोचन जोगी झल्ले,
कदी बोले कदी अड्डे पल्ले,
नैणीं सागर हंझूआं मल्ले ।
तांघीं फुल्ल खिड़ा गईआं कणियां ।

लू करदी ए मारो-मारां,
पपीहा लोचे पैन फुहारां,
जेठ-हाड़ विच आण बहारां,
तियां याद करन मुट्यारां,
तपदी अगन बुझा गईआं कणियां ।

बच्चे किधरे गुड्डियां फूकण,
तत्ती वाय दे झोके शूकण,
पशू-पंछी वी पए कूकण,
वाअ-वरोले किधरे घूकण,
सभनां ताईं सुला गईआं कणियां ।

मल्लोमल्ली पसीना चोवे,
पिंडा पानी बाझों धोवे,
कोई दस्सो कंम की होवे,
रुक्खां दा वी साह बन्द होवे,
सभ विच ज़िन्दगी पा गईआं कणियां ।

वीर वहुटियां निकल आईआं,
कुड़ियां ने वी पींघां पाईआं,
मोरां ने वी हेकां लाईआं,
सभ पासे ख़ुशियां ने छाईआं,
सुक्के चमन खिड़ा गईआं कणियां ।

 
 
 Hindi Kavita