Hindi Kavita
फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
Faiz Ahmed Faiz
 Hindi Kavita 

Punjabi Poetry of Faiz Ahmed Faiz in Hindi.

पंजाबी कविता फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

1. रब्बा सच्चिआ

रब्बा सच्चिआ तूं ते आख्या सी
जाह ओए बन्दिया जग दा शाह हैं तूं
साडियां नेहमतां तेरियां दौलतां ने
साडा नैब ते आलीजाह हैं तूं

एस लारे ते टोर कद पुच्छ्या ई
कीह एस निमाने ते बीतियां ने
कदी सार वी लई ओ रब्ब साईआं
तेरे शाह नाल जग की कीतियां ने

किते धौंस पुलिस सरकार दी ए
किते धांदली माल पटवार दी ए
ऐंवें हड्डां च कलपे जान मेरी
जिवें फाही च कूंज कुरलांवदी ए
चंगा शाह बणाया रब्ब साईआं
पौले खांदियां वार ना आंवदी ए
मैनूं शाही नहीं चाहीदी रब्ब मेरे
मैं ते इज़्ज़त दा टुक्कड़ मंगनां हां
मैनूं तांघ नहीं, महलां माड़ियां दी
मैं ते जीवीं दी नुक्कर मंगनां हां

मेरी मन्ने ते तेरियां मैं मन्नां
तेरी सौंह जे इक वी गल्ल मोड़ां
जे इह मंग नहीं पुजदी तैं रब्बा
फेर मैं जावां ते रब्ब कोई होर लोड़ां

2. इक तराना पंजाबी किसान दे लई

उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं
भुल्या, तूं जग दा अन्नदाता
तेरी बांदी धरती माता
तूं जग दा पालन हारा
ते मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं

जरनल, करनल, सूबेदार
डिपटी, डी सी, थानेदार
सारे तेरा दित्ता खावण
तूं जे ना बीजें, तूं जे ना गाहवें
भुक्खे, भाने सभ मर जावण
इह चाकर, तूं सरकार
मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं

विच कचहरी, चुंगी, थाणे
कीह अनभोल ते कीह स्याणे
कीह असराफ़ ते कीह निमाणे
सारे खज्जल ख़्वार
मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा

एका कर लो हो जो कट्ठे
भुल्ल जो रंघड़, चीमे, चट्ठे
सभ्भे दा इक परवार
मर्दा क्युं जानैं

जे चढ़ आवन फ़ौजां वाले
तूं वी छवियां लम्ब करा लै
तेरा हक तेरी तलवार
मर्दा क्युं जानैं

दे 'अल्ल्हा हू' दी मार
तूं मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा

3. लंमी रात सी दर्द फ़िराकवाली

लंमी रात सी दर्द फ़िराकवाली
तेरे कौल ते असां वसाह करके
कौड़ा घुट्ट कीती मिट्ठड़े यार मेरे
मिट्ठड़े यार मेरे जानी यार मेरे
तेरे कौल ते असां वसाह करके
झांजरां वांग, ज़ंजीरां झणकाईआं ने
कदी पैरीं बेड़ीआं चाईआं ने
कदी कन्नीं मुन्दरां पाईआं ने
तेरी तांघ विच पट्ट दा मास दे के
असां काग सद्दे, असां सींह घल्ले

रात मुकदी ए यार, आंवदा ए
असीं तक्कदे रहे हज़ार वल्ले
कोई आया ना बिना ख़ुनामियां दे
कोई पुज्जा ना सिवा उलाहम्यां दे

अज्ज लाह उलाहमे मिट्ठड़े यार मेरे
अज्ज आ वेहड़े विछड़े यार मेरे
फ़जर होवे ते आखीए बिसमिल्लाह
अज दौलतां साडे घर आईआं ने
जेहदे कौल ते असां वसाह कीता
उहने ओड़क तोड़ निभाईआं ने

4. गीत

किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां
काग उडावां शगन मनावां
वगदी वा दे तरले पावां
तेरी याद आवे ते रोवां
तेरा ज़िकर करां तां हस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

दर्द ना दस्सां घुलदी जावां
राज़ ना खोल्हां, मुकदी जावां
किस नूं दिल दे दाग़ दिखावां
किस दर अग्गे झोली डाहवां
वे मैं किस दा दामन खस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

शाम उडीकां, फ़जर उडीकां
आखें ते सारी उमर उडीकां
आंढ गवांढी दीवे बलदे
रब्बा साडा चानन घल्ल दे
जग वसदा ए मैं वी वस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

5. मेरी डोली शौह दरिया

(१९७४ दे हढ़-पीड़तां दे सहायता-कोश दे लई रची गई)

कल्ल्ह तांईं सानूं बाबला
तूं रक्ख्या हिक्क नाल ला
सतख़ैरां साडियां मंगियां
जद झुल्ली तत्ती वा
अज्ज कीकन वेहड़्यों टुरिया
किवें लाहे नी मेरे चा
मेरे गहने नील हत्थ पैर दे
मेरी डोली शौह दरिया
अज्ज लत्थे सारे चा
मेरी डोली शौह दरिया

नाल रुढ़दियां रुढ़ गईआं सद्धरां
नाल रोंदियां रुल गए नीर
नाल हूंझे हूंझ के लै गए
मेरे हत्थ दी लेख लकीर
मेरे चुन्नी बुक्क सवाह दी
मेरा चोला लीरो-लीर
मेरे लत्थे सारे चा
मेरी डोली शौह दरिया

सस्सी मर के जन्नत हो गई
मैं तुर के औतर हाल
सुन हाढ़े इस मसकीन दे
रब्बा पूरा कर सवाल
मेरी झोक वसे, मेरा वीर वसे
फेर तेरी रहमत नाल

कोई पूरा करे सवाल रब्बा
तेरी रहमत नाल
मेरे लत्थे सारे चा
मेरी डोली शौह दरिया

6. कता

अज्ज रात इक रात दी रात जी के
असां जुग हज़ारां जी लिता ए
अज्ज रात अंमृत दे जाम वांगूं
इन्हां हत्थां ने यार नूं पी लिता ए

7. इक गीत देश-छड्ड के जान वाल्यां लई

"वतने दियां ठंडियां छाईं ओ यार
टिक रहु थाईं ओ यार"
रोज़ी देवेगा सांईं ओ यार
टिक रहु थाईं ओ यार

हीर नूं छड्ड टुर ग्युं रंझेटे
खेड़्यां दे घर पै गए हासे
पिंड विच कढ्ढी टौहर शरीकां
यारां दे ढै पए मुंडासे
वीरां दियां टुट्ट गईआं बाहीं, ओ यार
टिक रहु थाईं ओ यार
रोज़ी देवेगा सांईं

काग उडावन मावां भैणां
तरले पावन लक्ख हज़ारां
ख़ैर मनावन संगी साथी
चरख़े ओहले रोवन मुट्यारां
हाड़ां करदियां सुंजियां राहीं ओ यार
टिक रहु थाईं ओ यार

वतने दियां ठंडियां छाईं
छड्ड ग़ैरां दे महल-चोमहले
अपने वेहड़े दी रीस ना काई
अपनी झोक दियां सत्ते ख़ैरां
बीबा तुसां ने कदर ना पाई
मोड़ मुहारां
ते आ घर-बारां
मुड़ आ के भुल्ल ना जाईं, ओ यार
टिक रहु थाईं ओ यार

 
 Hindi Kavita