Hindi Kavita
कर्मजीत सिंह गठवाला
Karamjit Singh Gathwala
 Hindi Kavita 

Ghazlein of Karamjit Singh Gathwala in Hindi

कर्मजीत सिंह गठवाला की गज़लें

1. भावें करदे आपणें मूंह ते ऐडे वड्डे पर्दे लोक

भावें करदे आपणें मूंह ते ऐडे वड्डे पर्दे लोक ।
मैं जरा कु ही चुप्प वट्टी ऐना वी ना जरदे लोक ।

कल जेहड़े पिट्ठ दे के आए तत्ते रण दे विच्चों सी ;
असां ने कई लड़ाईआं जित्तिआं गल्लां ने इंज करदे लोक ।

अद्ध विचकारों जां मैं मुड़िआ ताहनें मैंनूं देण लग्गे ;
वक्त पैण ते पता इह लगिआ ठिल्हण तों ही डरदे लोक ।

राज़ दीआं कई गल्लां दस्सके अज्ज पछताउना पै गिआ ;
दस्सन लगिआं मैं सी समझिआ सभ्भे ने इह घरदे लोक ।

पोह माघ दीआं रातां अन्दर साथ इहना ने देणा की ;
साउण महीने मींहां अन्दर जो रहन्दे ने ठरदे लोक ।

दादी मां सी बात सुणाउंदी मायाधारी नागां दी ;
माया दे वहणां दे अन्दर सारे ही हुण हढ़दे लोक ।

पाणी पाणी करदे एथे कई मुसाफिर मर गए ने ;
मोइआं दे मूंहां दे अन्दर गंगाजल ने धरदे लोक ।

2. कई चिरां दी वग रही इह जो बरफ़ीली हवा

कई चिरां दी वग रही इह जो बरफ़ीली हवा ।
हुण तां सुणिऐं हो गई होर ज़हरीली हवा ।

जिन्नां भूतां नूं वस करन दे हर थां ही अड्डे बणे ;
कोई तां भाळो मांदरी जिसदी होए कीली हवा ।

हर शहर ते हर गिरां दी हर गळी ;
नंगी हो के घुंम रही सी जो शर्मीली हवा ।

साह लैण लई बाहर निकळो जख़्म खा अन्दर वड़ो ;
मैं दस्सो किद्दां ना मन्नां बाहर पथरीली हवा ।

हुण अग्ग लाण लई डरन दी ना इस कोळों लोड़ है ;
आपणे हत्थीं चुक्की फिर रही बलदी होई तीली हवा ।

3. तूं कहें तां इस शहर वी लोक वस्सदे होणगे

तूं कहें तां इस शहर वी लोक वस्सदे होणगे ।
मैंनूं जापे तूं नहीं वेखे होर दस्सदे होणगे ।

तिक्खे पत्थरां दे इह मन्दिर तूं की एथों भाळदा ;
तूं की जाणें रोज इत्थे किन्ने मत्थे घसदे होणगे ।

जित्थों दी जी चाहे लंघो कहन्दे खतरा कोई ना ;
इस सड़क ते मूंह हनेरे नाग डसदे होणगे ।

'तूं बड़ा चंगा एं ते बड़ा चंगा ए तेरा सुभाअ' ;
कहण वाले तेरे पिच्छों फेर हस्सदे होणगे ।

नां खुदा दे चोगा सुट्ट के आला दुआला वेखदे ;
इस तर्हां दे नाल इत्थे पंछी फसदे होणगे ।

जिन्ना चिर कोई जागदा कलियां जेहे चेहरे ने इह ;
जद जरा कु अक्ख लग्गे तीर कसदे होणगे ।

4. कुझ्झ गूंगे ते कुझ्झ बोळे तेरे गिरां दे लोक

कुझ्झ गूंगे ते कुझ्झ बोळे तेरे गिरां दे लोक ।
कक्खां तों वी ने हौळे तेरे गिरां दे लोक ।

कोहां दे दाईए बन्न्हण ना चल्लण दो कदम ;
तूं ही वेख किन्ने पोले तेरे गिरां दे लोक ।

ज़हर दे किसे सुकरात नूं फेर इह मातम करन ;
बणदे ने किन्नें भोळे तेरे गिरां दे लोक ।

अमनां दे समें सूरमें जद भख पए मैदान ;
बन जांदे वाअ वरोले तेरे गिरां दे लोक ।

इह दाअवतां दे साथी जां मत्थे वहे पसीना ;
लग्गदे ना फिर इह कोळे तेरे गिरां दे लोक ।

5. किन्नी कु ज़िन्दगी बाकी किन्नी कु आस रक्खां

किन्नी कु ज़िन्दगी बाकी किन्नी कु आस रक्खां ।
तेरे दर ते करदे सिजदे मेरे जेहे ने लक्खां ।

सुकरात पीता होणैं केरां ही ज़हर प्याला ;
नित्त ज़हर बेबसी दा अणचाहिआं मैं चक्खां ।

जे पोटे घस गए ने की दोश है इन्हां दा ;
बहुत औसीआं ने पाईआं मेरे निमाणे हत्थां ।

इक्क दो दिन लई जे हुंदा मैं तक्कणिआं सी राहवां ;
हुण बन्द हो हो जावण आपणे ही आप अक्खां ।

कई मिलणिआं सी होईआं ना अंत सी जिन्हां दा ;
किन्निआं दी याद सांभी तेरे गिरां दे सत्थां ।

इउं न्हेरियां सी आईआं बूटे ही पुट्ट गए ने ;
तूं ही दस्स किंझ सी बचणा मेरे आल्हणे दे कक्खां ।

6. मेरे दिल नूं घेरिआ इक्क सहम है

मेरे दिल नूं घेरिआ इक्क सहम है ।
तूं हुण मिलणां नहीं एसनूं इह वहम है ।

कल्ल्ह सी जित्थे गोलियां चल्लियां ते बहुत मुरदे रुले ;
उस शहर दे विच्च बज़ारां अज्ज गहमा-गहम है ।

इक्क जग्हा तों तोड़के तूं दूजे पासे गंढ लवें ;
मेरे लई तां इहो मसला बहुत ज्यादा अहम है ।

इस गळी चों लंघणां तां मूंह नूं बन्द करके तुरो ;
कल्ल्ह वाला अज्ज तक्क वी इत्थे महा महम है ।

रोज़ भावें गाळां खावो नाले मारां वी सहो ;
इस जग्हा ते किसे ने ना कदे करना रहम है ।

7. किन्ने चंगे मोड़ ते लै आया मैनूं नसीब

किन्ने चंगे मोड़ ते लै आया मैनूं नसीब ।
जिद्धर फेरां नज़र मैं चारे पासे ने रकीब ।

उसनूं भला की लोड़ सी रब्ब दा पुत्तर बनन दी ;
ईसा नूं जद सी पता इस बदले मिलनी सलीब ।

जिस जिस कोल ज़िकर कीता मैं आपणी मरज़ दा ;
हर इक्क मूंहों निकल्या मैं ही हां चंगा तबीब ।

उभ्भड़वाहे जाग के मैं चारे बन्नें वेख्या ;
किद्धर नूं उह टुर गिआ जेहड़ा सी ऐना करीब ।

कल्ल्ह जेहने कसम खाधी तेरे नाल निभान दी ;
परसों तक्क सी दोसता युग्गां दा मेरा हबीब ।

8. इह सफ़र लंमेरा ज़िन्दगी दा तेरे बिन कट्ट्या नहीं जांदा

इह सफ़र लंमेरा ज़िन्दगी दा तेरे बिन कट्ट्या नहीं जांदा ।
की ग़म लग्गे ने दिल मेरे किसे होर नूं दस्स्या नहीं जांदा ।

बूटा प्यार दा लाया मैं हत्थीं सुक्क गिआ बिन पाणी तों ;
सुक्के बूटे नाल प्यार बड़ा तांहीं उह पट्ट्या नहीं जांदा ।

मेरी सोच उड्डी पंछी बणके तेरे महलां ते जा बैठी ;
तूं दरश ना देवें जद तोड़ीं इस कोलों उड्ड्या नहीं जांदा ।

तेरे ख़ाबां ते पहरे लग्गे तैथों कोई बग़ावत ना होई ;
अक्खीं विंहदियां साथों सज्जना वे इह महुरा चट्ट्या नहीं जांदा ।

बरसात नाल वी जुड़ियां ने तेरियां मेरियां कुझ्झ गल्लां ;
बिजली चमके भांवें कहरां दी इहतों पासा वट्ट्या नहीं जांदा ।

तूं कोल जदों वी हुण्दा सैं हासा रहन्दा सी बुल्हां ते ;
तूं दूर ग्युं किसे होर नूं तक्क हुण ऐंवें हस्स्या नहीं जांदा ।

9. कोई पुच्छ वी लए की दस्सां मैं कीहने गल घुट्ट्या साहवां दा

कोई पुच्छ वी लए की दस्सां मैं कीहने गल घुट्ट्या साहवां दा ।
तेरी नज़र पई पत्थर होए की इलाज करां हुण चाअवां दा ।

तेरे शहर दीआं गलियां 'चों चुप्पचाप किदां लंघ जांवां मैं ;
तेरे बूहे साहवें जां आंवां उच्चा सुर होए दुआंवां दा ।

तेरे बाग़ दे चन्नन रुक्खां नूं सप्पां ने वलेंवें पा लए ने ;
उस बाग़ दीआं सड़कां उत्ते तांहीं राज हो गिआ घाहवां दा ।

सरदी दे दिनां विच्च सेकन लई रुक्खां दा बणाया बालन तूं ;
हुण सूरज दी धुप्प सिर चमकी क्युं ख़्याल करें तूं छांवां दा ।

हर कदम ही मकतल वल्ल उट्ठदा दिल ना मन्ने गल्ल मेरी नूं
ए काश! कोई मैनूं दस्स दिन्दा किंझ मुड़दा मूंह दरिआंवां दा ।

जेहदी हर गली दे मोड़ ते अधजली किसे दी लाश पई ;
'की इह ओही शहर है' ? जित्थे चरचा सी वफ़ावां दा ।

10. याद करना भुल्लना तेरे शहर दा रिवाज़ सी

याद करना भुल्लना तेरे शहर दा रिवाज़ सी ।
इत्थे आउणों पहलां कदों मेरा इह मिजाज सी ।

खंभ मेरे कट्ट लै गए शिकारी तेरे देश दे ;
तेरे भाने बस्स मेरी ऐनी कु ही परवाज़ सी ।

बुत्तखाने बुत्त ना रेहा मैं पूजा किसदी कर लवां ;
उह वी बन्द ने हो गए वज्ज रहे जो साज सी ।

हुण वी घड़ी दो घड़ी लई याद तैनूं कर लवां ;
दिन कदे सन इस तर्हां वी हर घड़ी तूं याद सी ।

देश तेरे दे लोकीं क्युं ने उसनूं पूजदे ;
गैरां दी ठोकर दे उत्ते जिस राजे दा ताज सी ।

11. चन्न दीआं रिशमां तेरे बाझों हैन बिजलियां हो गईआं

चन्न दीआं रिशमां तेरे बाझों हैन बिजलियां हो गईआं ।
तेरे राह वल्ल विंहदे विंहदे अक्खां झल्लियां हो गईआं ।

याद तेरी नूं याद सी कीता मन कुझ्झ हौला हो जावे ;
मन ने हौला की होना सी पलकां गिल्लियां हो गईआं ।

नज़र सरापी मेरी मैनूं कल्ल्ह पता ए चल्ल गिआ ;
कोइलां सी कलोल करदीआं कल्लियां कल्लियां हो गईआं ।

गीत मेरे ने जिद्द इह कीती राग तेरा मन मोंहदे ने ;
जेहड़े साज़ नूं वी हत्थ लाया तारां ढिल्लियां हो गईआं ।

सुपने विच्च रातीं तूं आया, आया वी इक्क पल दे लई ;
तूं आपे ही सोच ल्या इस नाल तसल्लियां हो गईआं ।

घरों तुरे सां तेरे दर वल्ल इको रसता जांदा ए ;
बाहर निकले अक्खां साहवें किन्नियां गलियां हो गईआं ।

12. सुपन्यां दे जलन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे

सुपन्यां दे जलन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।
खिड़दे फुल्ल झड़न ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

लोकीं मैथों पुच्छदे ने 'तूं क्युं उदास हैं'?
मैं किंझ समझा दियां मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

तूं आप बीजी जो उह किसे ने वढ्ढ लई ;
तेरे इह जरन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

मेरी ते उहदी प्रीत किदां मैंनूं खुश करे ;
लक्खां सिवे बलन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

तेरे दोसत ने जां पिच्छों तैनूं छुरा मारिआ ;
तेरे इंझ मरन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

जे बणाउना ही एं तूं लोहे दा कुझ्झ बना ;
रेते दे खरन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

इक्क हनेरी आण ते तूं घाह ज्युं विछ ग्युं ;
उत्ते पैर धरन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

तेरे कन्नीं बन्न्हआं सी उह राह विच्च खुल्ह गिआ ;
तेरे हौके भरन ते मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

गल्लां किस तरां करें, गल्लां इस तरां तूं कर ;
जिन्हां दे करन ते ना मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

जिगर चीर के विखा कितों चानना ल्या ;
तेरे इंझ मरन ते ना मेरे गीतां दा सिर दुखे ।

13. रिशत्यां दा खून हुण्दा मैं जदों वी वेखदां

रिशत्यां दा खून हुण्दा मैं जदों वी वेखदां ।
हंझूआं दी अग्ग 'ते फिर हत्थ आपणे सेकदां ।

वड्ड्यां दी गल्ल उप्पर खड़ना है औखा बड़ा ;
सभ नूं उह दस्सदा फिरे, 'मैं सुबह मत्था टेकदां' ।

कद्द उसदा होर भावें नींवा हुण्दा जा रेहा ;
रोज आखे, 'एस नूं मैं तारिआं संग मेचदां' ।

जंम्यां इनसान उह इनसान पर बण्यां नहीं ;
ताहीउं सभ तों पुच्छदा, 'दस्सो मैं केहड़े भेखदां' ?

'घड़ी घड़ी क्युं रंग बदलें'?पुच्छन ते उस दस्स्या ;
'सोच मेरी आपणी मैं जिदां मरज़ी वेचदां' ।

14. दिल वह तुरिआ दिल वह तुरिआ

दिल वह तुरिआ दिल वह तुरिआ,
किदां मैं रोकां राह इसदी ।
सदीआं तों लोकीं नाप रहे,
किसे ना पाई थाह इसदी ।

किते अग्ग दे भांबड़ बल उट्ठण,
किते बरफ़ बरफ़ ही जंम जांदी ;
ना कोई स्याना दस्स सक्या,
किदां असर करेंदी आह इसदी ।

जो कतरा कतरा हो सकदा,
उसनूं सूली दा डर काहदा ;
जो ज़हर प्याला पी सकदा,
उह करदा फिर परवाह किसदी ।

इक्क सुपना किधरे टुट्ट्या सी,
तुसीं उस 'ते मिट्टी पा रोंदे ;
इहदे हेठ वी लक्खां सुपने ने,
जो मिद्धी होई घाह दिसदी ।

तेरे साहवें जो वी हुण्दा ए,
तूं उस तों अक्खां मीट लईआं ;
पर ख़ुद तों बचन लई सज्जणां,
ना किधरे कोई पनाह दिसदी ।

15. कोई मेरे नाल केहो जेही कर गिआ

कोई मेरे नाल केहो जेही कर गिआ ।
झलक विखा के आपणी नींदर हर गिआ ।

केहड़े दिल दे खूंजे सांभां याद तेरी ;
दिल सारे दा सारा सोचीं भर गिआ ।

उसदे पिच्छे जान तली 'ते कौन धरे ;
थोढ़ी देर दे बाद कहे जो सर गिआ ।

शायद कितों सी कच्ची नींह विशवास दी ;
चार कणियां दे पैन ते जो खर गिआ ।

सुपने विच्च मैं तक्क्या तैनूं आउंदियां ;
सुबह तेरे दर गए तूं होर दे घर गिआ ।

16. वर्हआं दे वर्हे लंघदे कोई याद की करे

वर्हआं दे वर्हे लंघदे कोई याद की करे ।
मन्दिरां दे बूहे घस गए फरिआद की करे ।

अद्धी तों वद्ध लंघ गई बाकी नहीं अद्धी रही,
किसे दे कहे कोई इहनूं बरबाद की करे ।

किसे संभाल ना करी जद लोड़ सी संभाल दी,
कोई खंडरां ते महल नूं आबाद की करे ।

तड़फदी रही जिन्नां चिर साह विच्च साह रेहा,
मोई बुलबुल नूं हुण कोई आज़ाद की करे ।

ढह गई इमारत ढह गई लोकां च रौला प्या,
उत्ते सी रेता लगिआ बुन्याद की करे ।

17. कुझ झिजकदा कुझ संगदा, मेरे गिरां दा हर बन्दा

कुझ झिजकदा कुझ संगदा, मेरे गिरां दा हर बन्दा ।
अक्खां अक्खां 'चों कुझ मंगदा, मेरे गिरां दा हर बन्दा ।

चिट्ठी लिखी किसे ने नहीं, ना कदे लिखनी वी है ;
पता पुच्छे फिर क्युं झंग दा, तेरे गिरां दा हर बन्दा ।

धुप्पे आ के धुप्प ही बणे, छावें आ के छां होवे ;
दस्स बण्यां केहड़े रंग दा, तेरे गिरां दा हर बन्दा ।

इस जग्हा सारे दे सारे लोकी वपारी होणगे ;
हाल पुच्छे तांहीउं जंग दा, तेरे गिरां दा हर बन्दा ।

इस दी मंज़िल होनी एं, ख़ाबां दा कोई शहर ;
जिस राहों हर रोज़ लंघदा, मेरे गिरां दा हर बन्दा ।

18. बन्दे नूं बदलदे ने हालात इस तर्हां

बन्दे नूं बदलदे ने हालात इस तर्हां ।
उमर बदलदी ए जजबात जिस तर्हां ।

दस सिर किस ने दे के मूंहों ना आखी सी ;
कोई हुण दए तां जाणां सौगात इस तर्हां ।

तेरा साथ जद सी हुण्दा विच्च वा दे सां उडदे ;
हुण किदां कर विखाईए करामात इस तर्हां ।

कदे उह वी सी ज़माना पाउणों पहलां सां बुझदे ;
तेरा ठिकाना किसे पुच्छ्या बुझ्झां बात किस तर्हां ।

दिन वेले हरेक पुच्छे 'की हाल चाल तेरा ?'
कदी किसे ना पुच्छ्या लंघी रात किस तर्हां ।

19. भुल्ल जावां इस कहानी नूं दस्सदे दस्सदे

भुल्ल जावां इस कहानी नूं दस्सदे दस्सदे ।
फड़ां फिर मैं ख़्यालां नूं नस्सदे नस्सदे ।

मेरे सबर नूं तुसीं ना हुण ऐना खिच्चो ;
टुट्ट ही ना जावे किते इह कस्सदे कस्सदे ।

भाईचारे दे ख़्याल सभ पुराने ने ;
सारे फट गए ने इह वी घस्सदे घस्सदे ।

केहा तूफ़ान तूं घल्ल्या चमन मेरे वल्ल ;
बहुते रुक्ख उखड़ गए ने वस्सदे रस्सदे ।

अज्ज धरती उहनां दा भार सह ना सकी ;
जेहड़े कल्ल्ह मिले सी मैनूं हस्सदे हस्सदे ।

हुण तां पिटारी पावो इन्हां नागां नूं ;
थक्क गए होने ने इह वी डस्सदे डस्सदे ।

20. कई वारी तां सभ कुझ चंगा लगदा है

कई वारी तां सभ कुझ चंगा लगदा है ।
रुक्ख दी टाहनी बैठा पंछी फबदा है ।

उह घरां विच्च रोशनदान नहीं रखदे,
कहन्दे चिड़ियां चीकन तों डर लगदा है ।

मैं कहन्दा हां जीवन मिल्या जीन लई,
उह कहन्दे ने सारा कुझ ही रब्बदा है ।

रुक्ख तों पुच्छ्या साह छड्डें तूं किसदा उह,
उसने आख्या मेरे वल्लों सभदा है ।

हवा वगन ते रुक्ख जो गल्लां करदे ने,
दिल मेरा उन्हां नाल हंघूरा भरदा है ।

21. कीत्यां बिन इकरार ग्युं तैनूं बुलावां किस तर्हां

कीत्यां बिन इकरार ग्युं तैनूं बुलावां किस तर्हां ?
मेरे दिल दा तेरे तक्क सुनेहा पुचावां किस तर्हां ?

वाअदा तेरे नाल नहीं, तूं कदे वी आएंगा ;
तैनूं बिन दस्स्यां मैं तेरा हो ते जावां किस तर्हां ?

सभ सामान त्यार कर बैठे ने मेरे नाल दे ;
ना कोई तीली आस दी दीवा जगावां किस तर्हां ?

नीले गगनां हेठ पंछी मारन पए उडारियां ;
उहनां दी ना बोली जाना गल्ल समझावां किस तर्हां ?

तेरी शकल सूरत केहो जेही सारे मैनूं पुच्छदे ;
ख़्यालां दा दिल चीर के उहनूं दिखावां किस तर्हां ?

तेरा जोगी वाला बाना तैनूं ही है सोभदा ;
बिनां कहे तों तेरे इह बाना रंगावां किस तर्हां ?

कंढे इस दरिआ दे मैं लै आयां आपे सोच नूं ;
तूं ना मिल्युं तां एस नूं, धक्का दे जावां किस तर्हां ?

बीज प्यार दा फुट्ट के पत्तियां ने विच्चों निकलियां ;
प्यास इन्हां दी ख़ून दिल दा मैं बुझावां किस तर्हां ?

मैं लिख रक्खे सन तेरी खातर, गीत जेहड़े मिलन दे ;
तेरे हुण्दियां होर नूं दस्स जा सुणावां किस तर्हां ?

22. आस मेरी दे झरने सज्जणां रंग बदलदे रहन्दे ने

आस मेरी दे झरने सज्जणां रंग बदलदे रहन्दे ने ।
याद तेरी दीआं किरनां दे तीर जां दिल विच लहन्दे ने ।

अणबोले बोलां दे वी कोई अरथ तां हुण्दे होने ने,
'कल्ले बैठ्यां हंझू मेरे ताहीउं छमछम वहन्दे ने ।

मिल बैठें जे इक्क वारी सूरत दिलीं वसा लईए,
दस्स दईए लोकां दे ताईं जो इह पुछदे रहन्दे ने ।

सारे कहन्दे आपां इक्को फेर इह दूरी काहदे लई,
नाग विछोड़े वाले मैनूं काहतों डंगदे रहन्दे ने ।

ख़्यालां दी मैं डोरी फड़के कई पुलाड़ गाह आया,
आपणे कन्नीं मैं सुन आयां तारे की कुझ कहन्दे ने ।

23. सिरलत्थां दी सत्थ अग्गे

सिरलत्थां दी सत्थ अग्गे, लंघणां तां लंघीं सोच के ।
सारे राह कंडे ही कंडे, पैर रक्खीं बोच के ।

दिल 'चों निकली जीभ अटकी, गल्ल तेरे अन्दरे,
किन्नां चिर तूं होर रक्खनी मल्लोजोरी रोक के ।

'किन्ने पिंडे छाले होए', वार वार क्युं पुच्छदा ?
ज़ख़मां उत्ते लून छिड़कें आपे भट्ठी झोक के ।

24. मेरे ख़्याल जिस जलाए उस सितम दा की करां

मेरे ख़्याल जिस जलाए उस सितम दा की करां
बिन दरद जाण्यां ला दित्ती इस मर्हम दा की करां

हंझूआं नाल ज़ख़म धोते कीते जो ग़म तेरे,
तैनूं हसदियां वेख होए इस ज़ख़म दा की करां

रुत्त बहारां दी सदा रहनी एं दिल फ़रेब,
जेहदी नाल ख़िजां यारी उस चमन दा की करां

नाल ख़ून दे ने भरियां मेरे दिल दीआं रगां,
मैनूं संग-दिल जो मिल्या उस सनम दा की करां

हंझूआं ने परोई माला कर रहे तेरी उडीक,
आवेंगा कदे ना कदे इस वहम दा की करां

मैनूं गल्लां सभ्भे याद ने ते हर 'नहीं' तेरी,
तेरे शहर वल्ल नूं जांदै इस कदम दा की करां

ना तूं जीन समें आइउं, ना तूं मरन समें आइउं,
सिवा बालने नूं आइउं इस रहम दा की करां

25. दिन वेले जो लड़दा सी दूज्यां लई दर्यावां नाल

दिन वेले जो लड़दा सी दूज्यां लई दर्यावां नाल ।
शाम पैंदियां लड़न लग्ग प्या आपने सके भरावां नाल ।

घर विच्च रोगी वी कोई होवे सारे सहम है छा जांदा,
मरी ज़मीर ते कोई नहीं डिट्ठा मातम करदा आहवां नाल ।

सारी दुनियां सोहनी करनी आपने घर दा गन्द हूंझो,
होका दित्त्यां कुझ नहीं बणना ना कुझ बने सभावां नाल ।

सिदक दिली नाल पैर पुट ते यार नूं दिल वसाई रक्ख,
हंमत नूं खंभ लग जांदे ने मंगियां दिली दुआवां नाल ।

सोहना जे तूं बणना चाहें सोहना कुझ विखा कर के,
मन विच बहुती थां नहीं मिलदी ऐवें मसत अदावां नाल ।

26. आपनी राह ते तुरदे, किन्ने ही कंडे हूंझे

आपनी राह ते तुरदे, किन्ने ही कंडे हूंझे ।
अक्खीं जो अत्थरू आए, बाहां दे नाल पूंझे ।

अजे दूर सी लड़ाई, ज़रा तेज़ वा वग्गी;
जा दूर किते डिग्गे, साथी अक्क वाली रूं दे ।

जित्थे जी चाहे खेडो, सारा ही घर है खाली;
मैं सुपने बुन रेहा हां, बैठा हां इक्क खूंजे ।
ऐ काश बण ही जाए, मेरे सुपन्यां दी दुनियां;
हर इक दा विच फ़िज़ा दे, उच्चा हो हासा गूंजे ।

यादां दी रौशनी विच, अज्ज फेर भालदा हां;
मेरे त्रेल वरगे मोती, डिग्गे सी जेहड़े भूंजे ।

27. वेखो कीहदे हत्थ विच्च आईआं शाहियां ने

वेखो कीहदे हत्थ विच्च आईआं शाहियां ने ।
लोकां दे मूंह फिर गईआं हुन स्याहियां ने ।

कोई शाही लै अग्गे, शुकर हज़ारां करदा सी,
शाह बणदियां उहने, बेनतियां ठुकराईआं ने ।

धौन हत्थ विच्च उसदे आपे दे के पिच्छों पुच्छदे हो,
छुरियां गरदन 'ते कीहने, आण चलाईआं ने ?

कलम दा मूंह वी खुंढा कर गईआं कुझ गरज़ां ने,
इनकलाब भुल्ला के, फेर अरज़ियां पाईआं ने ।

जे कोई उचा बोले, बैठन उहदे सिर्हाने आ,
हाण-लाभ दियां गल्लां, सभनां ने समझाईआं ने ।

28. दोसती दे दूर घर ने आख्या सी रहन दे

दोसती दे दूर घर ने आख्या सी रहन दे ।
ज़िन्दगी जो दे रही ए आपे सानूं सहन दे ।

विच हनेरे नाल गल्लां उसरे जेहड़े महल ने;
चानन दी छिट्ट पैन ते ढहन्दे ने जेकर ढहन दे ।

दिल दे विच्चों 'वाज़ उट्ठ के बुल्ल्हां तक्क है आ गई;
हुन तूं मैनूं रोक ना सारी दी सारी कहन दे ।

अक्खियां ते हत्थ धरके कद भला रुकदे ने इह;
मल्लोमल्ली वह रहे ने हंझू जेहड़े वहन दे ।

29. तेरे नाल इकट्ठियां तुरियां रुक रुक तैनूं भालदियां

तेरे नाल इकट्ठियां तुरियां रुक रुक तैनूं भालदियां ।
हुन्दियां सी तरीफ़ां बड़ियां सुहण्यां तेरी चाल दियां ।

पहला तीर ही सिद्धा आया तैनूं ज़ख़मी कर ग्या उह,
किधर गईआं ने पक्याईआं तेरी ढाल कमाल दियां ।

शरमदियां ते डरदियां उसतों सारी उमर गंवा लई ए,
विच्च ख़्यालां गल्लां करदैं उस दे नाल विसाल दियां ।

मींह वी आउना चिकड़ होना इह नियम ने कुदरत दे,
तिलकदियां पर उही जिन्दां जो ना पैर संभालदियां ।

सुट सुट गए वकतां 'ते हंझू की खट्टना की खाना तूं,
भिज्या फिरदैं सारा मींह विच गल्लां करदैं काल दियां ।

ग़ज़लां लिख लिख हुब्बीं जावें आपूं पढ़ पढ़ ख़ुश होवें,
की कंम इह लिखियां पढ़ियां जो ना लहू उबालदियां ।

30. लाली तक्क किसे दे चेहरे क्युं पई तेरी जिन्द कुढ़े

लाली तक्क किसे दे चेहरे क्युं पई तेरी जिन्द कुढ़े ।
मूंह तेरा तां खुल्हना की सी जापन मैनूं दन्द जुड़े ।

पार लंघे जो वाह वाह खट्टन सारे चुक्कदे हत्थां ते,
उह किसे नूं याद ना आवन जो ने तिक्खे वहन रुढ़े ।

तूं सोचें इह नाल ने मेरे उच्ची नाअरे लाउंदे ने,
इह होरां दे नाल वी जावन बैठे तेरे नाल जुड़े ।

मंज़िल उहने विखाई नेड़े सारे उट्ठ के भज्ज तुरे,
राह तक्क जांदे जांदे वेख्या पिच्छे किन्ने लोक मुड़े ।

वसल होया मूंह शांती डिट्ठी 'अश अश' करदे लोको,
हेठां वल्ल वी निगाह मार लउ किन्ने कंडे पैर पुड़े ।

31. बड़े चिरां दे बाद उहदे हत्थ आई चंगी बाज़ी ए

बड़े चिरां दे बाद उहदे हत्थ आई चंगी बाज़ी ए ।
साडे उत्ते तुहमत लावे उसदी ज़र्रा-निवाज़ी ए ।

नफ़रत पाल मनां विच अपने बन्न्हे हत्थ ग़ुलाम बणे,
इशक ओस दा याद करो जिस इह कुदरत साजी ए ।

जिसने उहनूं यार बणाके ग़ैरां कोले वेच दित्ता,
तूं कहें उह बड़ा वपारी मैं कहां उह पाजी ए ।

आपनी ग़ैरत आपने हत्थीं जिस ने वी नीलाम करी,
लक्ख लड़ाईआं जित्ते भावें बणना कदे ना ग़ाज़ी ए ।

आले-दुआले नाल ओस दा इट्ट-खड़क्का रहन्दा ए,
पंज नमाज़ां रोज़ उह पड़्हदा जापे पूरा नमाज़ी ए ।

मसत-मलंग जदों दा होया, चेहरा दगदग करदा ए,
क्युं हुन धौंस किसे दी झल्ले, की उसनूं मुहताजी ए ।

32. सूहे फुल्ल गुलाब नूं तक्क्यां, क्युं तेरे मूंह जरद फिरी

सूहे फुल्ल गुलाब नूं तक्क्यां, क्युं तेरे मूंह जरद फिरी ?
हिम्मत दा फल किसे जे खाधा, क्युं तेरे दिल करद फिरी ?

किते उमीद दा बद्दल वर्हआ, बैठा दस्स क्युं झूरें तूं ?
ना कोई तेरा कोठा चोया, ना है किधरे कंध गिरी ।

उह तैनूं सी बहुत प्यारा जिसदी गुड्डी असमान चड़्ही,
तेरी गुड्डी नूं क्युं एदां लग्गदै, जिदां उह विच्च गरद घिरी ।

जिसदी हर इक गल्ल 'ते करदा तूं रब्ब जिन्नां भरोसा सी,
क्युं उस लई मन दी गुट्ठ आ बैठा सप्प शक्क दा कढ्ढ सिरी ।

साथी अग्गे तोरन लग्ग्यां किन्नां कुझ तूं आख्या सी,
हुन तां तेरी पक्की गल्ल वी लगदी सभनां नूं है गप्प निरी ।

 
 
 Hindi Kavita