Hindi Kavita
अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'
Ayodhya Singh Upadhyay ‘Hariaudh'
 Hindi Kavita 

Prempushpophar Ayodhya Singh Upadhyay ‘Hariaudh'

प्रेमपुष्पोपहार अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

प्रेमपुष्पोपहार
यह भारत भूमि हमारी
जय जय जय भारत माता
महती महा पुनीता मधुरा मनोहरा है
प्रभु-प्रताप
लोकसत्ता
मनोव्यथा
कामना
विद्या
वेद हैं
प्रेमधारा
धर्मवीर
कर्मवीर
जीवनमुक्त
देव-बुध्दि
कुलीनता
आरम्भ-शूरता
मन
पौरुष
साहित्य
चित्तौड़ की एक शरद रजनी
रुक्मिणी-सन्देश
सती सीता
सुतवती सीता
वीरवर सौमित्र
उर्मिला
सच्चा प्रेम
संयुक्ता
शिशु-स्नेह
वामन और बलि
कमल
पर्णकुटी
रवि सहचरी
एक चिरपथिक
दिल के फफोले
दीन की आह
दुखिया के आँसू
सबल और निबल
आँख का आँसू
मतलब की दुनिया
दिल टटोलो
एक तिनका
एक मसा
एक बूँद
रात का जागना
काँटा और फूल
लोहित बसना
उषाकाल
राग रंजित गगन
भारत गगन
उषा
वरबनिता
आर्य बाला
कुल कामिनी
आर्य महिला
तरु और लता
 
 
 Hindi Kavita