Hindi Kavita
महादेवी वर्मा
Mahadevi Verma
 Hindi Kavita 

Pratham Aayam Mahadevi Verma

प्रथम आयाम महादेवी वर्मा

इन सपनों के पंख न काटो
क्रांति गीत
कहाँ गया वह श्यामल बादल
खारे क्यों रहे सिंधु
खुदी न गई
जाल परे अरुझे सुरझै नहिं
ठाकुर जी
दीन भारतवर्ष
देशगीत : अनुरागमयी वरदानमयी
देशगीत : मस्तक देकर आज खरीदेंगे हम ज्वाला
ध्वज गीत: विजयनी तेरी पताका
फूलिहौ
बया
बारहमासा
बोलिहै नाहीं
रचि के सहस्र रश्मि
 
 
 Hindi Kavita