Hindi Kavita
गोपालदास नीरज
Gopal Das Neeraj
 Hindi Kavita 

प्राण-गीत गोपालदास नीरज

क्या करेगा प्यार वह
गीत-तुम झूम झूम गाओ
कोई नहीं पराया
प्रेम-पथ हो न सूना
प्रेम को न दान दो
दुश्मन को अपना हदय जरा देकर देखो
दीप नहीं, दीप का
जलाओ दिए पर
मूर्ख पुजारी है वह जो कहता है
खोजने तुमको गया
जब न तुम ही मिले
तुम्हारे बिना आरती
कहते-कहते थके
यूँही यूँही
यह प्रवाह है
आदमी को प्यार दो
कौन तुम हो
मन आज़ाद नहीं है
सत्य का निर्माण करती
प्राण की धड़कन
 
 
 Hindi Kavita