Hindi Kavita
मियां मुहम्मद बख़्श
Mian Muhammad Bakhsh
 Hindi Kavita 
 Hindi Kavita

Saif-ul-Malook Mian Muhammad Bakhsh in Hindi

सैफ़ुल-मलूक किस्सा काफ़ी विसथार वाला है ।
इस विच्चों चोणवें बन्द ही लिखे गए हन ।

1-3

रहमत दा मींह पा ख़ुदायआ, बाग़ सुक्का कर हर्या ।
बूटा आस उमैद मेरी दा, कर दे हर्या भर्या ।
मिट्ठा मेवा बख़्श अजेहा, कुदरत दी घत शीरीं ।
जो खावे रोग उस दा जावे, दूर होवे दिलगीरी ।
सदा बहार दई्ईं इस बाग़े, कदी खिज़ां ना आवे ।
होवन फ़ैज़ हज़ारां ताईं, हर भुक्खा फल खावे ।

20

अवल हमद सुना इलाही, जो मालक हर हर दा ।
उस दा नाम चितारन वाला, हर मैदान ना हरदा ।

29

आप मकानों ख़ाली, उस थीं, कोई मकान ना ख़ाली ।
हर वेले हर चीज़ मुहम्मद, रखदा नित्त सम्हाली ।

42

बादशाहां थीं भीख मंगावे, तख़त बहावे घाही ।
कुझ परवाह नहीं घर उसदे, दायम बेपरवाही ।

49

मां प्यु दी बे-फ़ुरमानी, जो बेटा नित करदा ।
फ़रजन्दी दा प्यार ना रहन्दा, आखन किवें ना मरदा ।

51

दोसत यार किसे दा हिक दिन, आदर-भा ना होवे ।
फेर उह मुख विखांदा नाहीं, यारी थीं हथ धोवे ।

54

वाह वा साहब बख़्शन हारा, तक्क तक्क एड गुनाहां ।
इज़्ज़त रिज़क ना खस्से साडा, देंदा फेर पनाहां ।

189

मैं अन्न्हा ते तिल्हकण-रसता, क्योंकर रहे सम्हाला ।
धक्के देवन वाले बहुते, तूं हथ पकड़न वाला ।

341-343

जिस जाई विच मतलब होवे, मरद पुचावन खल्यां ।
मिलन मुरादां मंगत्यां नूं, मरदां दे दर मल्यां ।
होंदी बन्द-ख़लास शिताबी, मरद पौन जद जामिन ।
धन्न नसीब उहदे जिस फड़्या, मरदां सन्दा दामिन ।
मरद मिले तां दरद ना छोड़े, औगुन वी गुन करदा ।
कामिल लोक मुहम्मद बख़्शा, लअल बणान पत्थर दा ।

407-8

दरद लग्गे तां हाए निकले, कोई ना रहन्दा जर के ।
दिलबर अपने दी गल कीजे, होरां नूं मूंह धर के ।
जिस विच गुझ्झी रमज़ ना होवे, दरदमन्दां दे हालों ।
बेहतर चुप मुहम्मद बख़्शा, सुख़न अजेहे नालों ।

413

दरद-मन्दां दे सुख़न मुहम्मद, देन गवाही हालों ।
जिस पल्ले फुल बद्धे होवन, आवे बू रुमालों ।

520

कतरा वंञ प्या दर्यावे, तां ओहो कौन कहावे ?
जिस ने आपना आप गवायआ, आप ओहो बण जावे ।

527

की कुझ बात इशक दी दस्सां, कदर ना मेरा भाई ।
इह दर्या अग्गी दा वगदा, जिस दा लांघ ना काई ।

530-40

जिन्हां इशक ख़रीद ना कीता, ऐवें आ विगुत्ते ।
इशके बाझ मुहम्मद बख़्शा, क्या आदम क्या कुत्ते ।
जिस दिल अन्दर इशक ना रच्या, कुत्ते उस थीं चंगे ।
ख़ावन्द दे दर राखी करदे, साबिर भुक्खे नंगे ।
इशकों बाझ ईमान कवेहा, कहन ईमान सलामत ।
मर के जीवन सिफ़त इशक दी, दम दम रोज़ क्यामत ।
पुल-सिरात इशक दा पैंडा, सो जाने जो करदा ।
आस-बहशत दलेरी देंदी, तरक विछोड़ा घर दा ।
लख जहाज़ उसे विच डोबे, केहड़ा पार उतरदा ।
इस नदी दियां मौजां तक्क के, दिल-दिलेरां ठरदा ।
आशिक बनन सुखाला नाहीं, वेखां नेहुं पतंग दा ।
ख़ुशियां नाल जले विच्च आतिश, मौतों मूल न संगदा ।
जे लख ज़ुहद इबादत करीए, बिन इशकों किस कारी ?
जां जां इशक ना साड़े तन नूं, तां तां निभे ना यारी ।
जिन्हां दरद इशक दा नाहीं, कद फल पान दीदारू ।
जे रब्ब रोग इशक दा लावे, लोड़ नहीं कोई दारू ।
चाहीए इशक सिपाही ऐसा, मैं नूं मार मुकावे ।
थाना कढि तबियत वाला, सिफ़तां सभ्भ बदलावे ।
पक्का पैर धरीं जे धरना, तिल्हक नहीं मत जावे ।
सु इस पासे बहे मुहम्मद, जो सिर-बाज़ी लावे ।

553

बे-परवाह दी मनज़िल नाहीं, जिस विच सूद सौदागर ।
बे-न्याज़ी दी चुक्ख अग्गे, दो जग्ग कक्ख बराबर ।

632-33

जे कोई ग़रक ना होया भाई वहदत दे दर्यावे ।
की होया जे आदम दिसदा, लैक ना मरद कहावे ।
नेकी बदी ना तकदे सोई, जो वहदत विच्च पहुते ।
नेकी बदी तदाहीं भाई, असीं तुसीं जद बहुते ।

866-68

पड़्हना इलम ज़रूर बन्दे नूं, कीता फ़रज इलाही ।
करदै इलम दिले नूं रोशन, ज्यों दरवेश इलाही ।
ज्यों सूरज विच नूर तिवें है, इलम रूहे विच जानी ।
नूरे बाहजों सूरज पत्थर, आदम जिनस हैवानी ।
इलमे कारन दुनियां उत्ते, आवन है इनसानां ।
समझे इलम वजूद आपने नूं, नहीं तां वांङ हैवाना ।

1022

आशिक दा जो दारू दस्से, बाहज मिलाप सजन दे ।
उह स्याना जान इंञाणा, रोग ना जाने मन दे ।

2187

जिस दिलि अन्दर इशक समाणा, उस नहीं फिर जाना ।
तोड़े (भावें) सोहने मिलन हज़ारां, (असां नहीं) नाहीं यार वटाना ।

2189

चन्नो रूप ज़्यादा दिंह ते, वेखि चकोर ना फिरदा ।
भांबड़ बलदे वेख पतंगा, दीवा छोड़ि ना मरदा ।

2598-2600

दुखीए दी गल दुखिया सुणदा, कीमत कदर पछाने ।
की दुखिया जो दुखीए अग्गे, दस्से नहीं वेहाने ।
ज्यों दुखीए नूं दुखिया मिल के, हंञू भरि भरि रोंदा ।
सुखीए ताईं पा के सुखिया, ऐसा ख़ुश ना होंदा ।
मातम वाले घर वंञि नारीं, जां मूंह पल्ले पावन ।
दुखिया तकन तां दुख अपणे, पुछे बाझ सुणावन ।

3022-26

सच्चे मरद सफ़ाई वाले, जो कुझ कहन ज़बानों ।
मौला पाक मन्नेदा इहो, पक्की ख़बर असमानों ।
कंम नहीं इह अम्बर करदा, सिर उस दे बदनाईं ।
सभ्भ कंम करदे मरद अलां (अल्ला) दे, हुकम करेंदा साईं ।
नील नदी फ़िरऔन ना खाधा, ना कारूं ज़मीनां ।
मूसा दी बद्दुआई कीता, ग़रक दोहां बे-दीनां ।
हंमत मरदां दी हर जाणी, करदी कंम हज़ारां ।
फुलां भौरां शमअ्य पतंगां, यार मिलाए यारां ।
हर मुशकिल दी कुंजी यारो, मरदां दे हथि आई ।
मरद दुआ करन जिस वेले, मुशकल रहे ना काई ।

3106-14

अज ज़माने यार कहावन, दअ्अवा करन प्यारां ।
अपनी ख़ैर मंगन ते मारन नाल दग़े दे यारां ।
यारी लावन जान बचावन, करन कमाल बे तरसी ।
हक मरे हिक हसदा उत्ते, ओह जाने जे मरसी ।
भैणां वेहड़ीं सीस गुन्दावन, सौवन वीर खड़ा के ।
वीर वीरे गल पुछदा नाहीं, मरन लगे नूं जा के ।
नारीं उतों करन ख़वारी, भंग घतन विच यारी ।
यार यारां दी रतूं न्हावन, मौज ज़माने मारी ।
जे हिक होवे अम्बारां वाला, साहब दौलत ज़र दा ।
दूजा कोल मरे जे भुक्खा, नहीं मुरव्वत करदा ।
सक्यां वीरां भैणां ताईं, हथीं काठ पवाए ।
ऐब गुनाह डिठे बिन अखीं, हथीं सोटे लाए ।
मां प्यु जाए वीर प्यारे, भैणां आप कुहाए ।
नारीं कंत अज़ाईं कीते, भाईआं वीर खपाए ।
जित्थे सप्प अठूआं होवे, या कोई आफ़त भारी ।
सजनां टोरन आप ना जावन, वाह अजोकी यारी ।
जे पक्की घर रोटी होवे, दुख दूजे नूं लग्गे ।
हर तुहमत बदनामी दे के, चुग़ली मारन वग्गे ।

3382

नाले जिस दी इज़्ज़त होवे, बादशाहां दे अगे ।
सभ्भ कोई उस दी ख़ातिर करदा, हर इक दे मूंह लगे ।

3391-92

सौ पुतर परदेसीं जावन, लै के देश निकाला ।
मां प्यु नूं इह मेहना नाहीं, ना वट्टा इह काला ।
जे हिक धी छुपावे किधरे, चोर कज़ाई वाला ।
भल्यां दी पत्त रहन्दी नाहीं, कहन्दा लोक उधाला ।

3902-4

नैन नैनां नूं भजि भजि मिलदे, दूरों करि करि धाई ।
नैन नैनां दे दोसत, नाले, नैनां नैन कसाई ।
नैन रंगीले आप वसीले, हीले करन बतेरे ।
आप वकील दलील पछाणन, आपे चोर लुटेरे ।
रमज़ां नाल करेंदे बातां, रखन जीभ चुपीती ।
नैन नैनां दे महरम यारो, खोलि दसन जो बीती ।

4327-33

औखे वेले कारे आवे, भल्यां दी अशनाई ।
अड़्या आखन दी लज्ज पालन, जो इनसान वफ़ाई ।
दुनियां ते जो कंम ना आया, औखे सौखे वेले ।
उस बे-फ़ैज़े संगी कोलों, बेहतर यार इकेले ।
सुखां ऐशां मौजां अन्दर, हर कोई यार कहांदा ।
संगी सो जो तंगी तक के, बने पंझाल ग़मां दा ।
कोल होवे तां ख़ैरां अन्दर, यार अशना कहावे ।
दूर मुहम प्यां दुख्यारे, चेता मनों भुलावे ।
उड़क नफ़ा होवेगा किथों, ऐसे संग दो-रंगों ।
सड़दा यार तक्के सड़ जावे, संग निसंग पतंगों ।
इक बेड़ी पर मौजां माणे, देखद्यां इक रुड़्हदा ।
उस रुड़्हदे नूं फड़्योसु नाहीं, वाह जिस दा सी पुड़्हदा ।
काहदा संग मुहब्बत केही, की ऐसी अशनाई ।
मोयां नूं तुद्ध याद ना कीता, ख़ुशीएं उमर लंघाई ।

4379

आमां बे-इख़लासां अन्दर, ख़ासां दी गल करनी ।
मिट्ठी खीर पक्का मुहम्मद, कुत्यां अग्गे धरनी ।

4491-4

सुणियां गलां ते की बावर, बाज्हों इलम-किताबों ।
जो आलिम दे मूंहों सुणीए, सोई खरी हिसाबों ।
या जो साईं वाले आखन, उह सच्च मन्न तमामी ।
पक्की जान कलाम उन्हां दी, ज़रा नहीं विच्च ख़ामी ।
भावें उलट पुलट फ़ुरमावन, विच्च क्यास ना आवे ।
गुझी रमज़ होसी सभ्भ सच्ची, कौन उन्हां बिन पावे ।
साईं वाले सदा सुखाले, रब्ब दे बाले दीवे ।
मसत अलसत शराब वसल दे, हर दम रहन्दे खीवे ।

4545-47

आदमियां दा कंम हमेशा, बे-वफ़ाई करदे ।
अवल लाय परीत प्यारे, अकसर बाज़ी हरदे ।
मह्हबूबां दरि न्युं लगावन, करि करि मकर बुलावन ।
जां दिलदार मिले गल लावे, झबदे ही रज्ज जावन ।
ठग्गी दगे फ़रेब बतेरे, करदे नाल सई्ईआं दे ।
जां दिल वस्स करन तां पावन, भस्स सिरि वस्स-पई्ईआं दे ।

4694

बास लई तां पास गई सी, पुर पुर कंडी सल्ली ।
बुलबुल नूं की हासिल होया, कर के शैर चमन दी ।

4698

चड़्ह चन्नां ते कर रुशनाई, काली रात हिजर दी ।
शमअ्य जमाल कमाल सजन दी, आ घरि बालि असाडे ।

4707

करन गदा सजन दे कूचे, बादशाही थीं चंगा ।
जे उह पावे आप मुहम्मद, ख़ैर रुमालि असाडे ।

4727

हे ख़ुश-वाउ फजर दी, आई ख़ाक उहदे दरबारों ।
इस सुरमे थीं लै मुहम्मद, अखीं दी रुशनाई ।

4741-44

सदा नहीं हथ महन्दी-रत्ते, सदा ना छणकन वंङां ।
सदा ना छोपे पाय मुहम्मद, रल मिलि भैणां संगां ।
हुसन महमानी नहीं घर-बारी, की इस दा करि मानां ।
रातीं लत्था आनि सथेई, फ़जरी कूच बुलाणां ।
संग दे साथी लद्दी जांदे, असां भी साथ लदाणां ।
हथि ना आवे फेर मुहम्मद, जां इह वकत वेहाणां ।
सदा नहीं मुरग़ाईआं बहणां, सदा नहीं सरि पानी ।
सदा ना सईआं सीस गुन्दावन, सदा ना सुरख़ी लानी ।

4747-48

कुझ विसाह ना साह आए दा, मान केहा फिर करना ।
जिस जुस्से नूं छंड छंडि रखें, ख़ाक अन्दर वंञि धरना ।
लोइ लोइ भर लै कुड़ीए, जे तुधि भांडा भरना ।
शाम पई बिन शाम मुहम्मद, घरि जांदी ने ड्रना ।

4751-57

दरदों आहीं मारि शाहज़ादे, पुर करि सांगां लाईआं ।
आह आशिक दी कोई ना झलदा, जिन्दूं जिन्हां जलाईआं ।
मारी आह ज़ुलैखां बीबी, दरदों बालि मवाता ।
भड़कि लगी अग्ग चाबक सड़्या, तां युसफ़ सच्च जाता ।
सस्सी नूं इक रोज़ पुनूं ने, तअना बोली लाई ।
सच्चे इशक तेरे दा बीबी, मैनूं पता ना काई ।
सस्सी चसक लगी इस गल्लों, अग्ग दी चर्र (चुर) भरवाई ।
नाल अफ़सोस उसास चलायआ, आतिश सरद कराई ।
माही दरदों वंझली वाहे, होंदा शौंक महीं नूं ।
मजनूं दा सुनि बोल दरिन्दे (परिन्दे), आवन चलि ज़िमीं नूं ।
राह खल्लां दे आह चलावे, जां रोडा दुख्यारा ।
जलदी मारन कारन करदा, धन्दा वेख लोहारा ।
इबराहीम चिक्खा पर कढ्ढियां, आहीं दरद अज़ारों ।
बाग़ बहार होईआं गुलज़ारां, आतिश शोख अंगारों ।

5002-3

ज़ालिम इशक बेतरस कसाई, रहम नहीं इस आवे ।
नाज़ुक बदनां मार रुलांदा, सहम नहीं इस आवे ।
नाज़ुक पैर रकाबों दुखदे, बादशाहां दे बेटे ।
जंगलि बारीं फिरन अवाहणे, मारे इशक अलसेटे ।

5034-35

बाग़ बहारां ते गुलज़ारां, बिन यारां किस कारी ?
यार मिले दुख जान हज़ारां, शुकर कहां लख वारी ।
उच्ची जाई नेंहुं लगायआ, बनी मुसीबत भारी ।
यारां बाज्ह मुहम्मद बख़्शा, कौन करे ग़मख़ारी ।

5061-62

आ सजना मूंह दस किदाईं, जान तेरे तों वारी ।
तूंहें जान ईमान दिले दा, तुद्ध बिन मैं किस कारी ।
हूरां ते गिलमान बहशती, चाहे ख़लकत सारी ।
तेरे बाज्ह मुहम्मद मैनूं, ना कोई चीज़ प्यारी ।

5067-68

दम दम जान लबां पर आवे, छोड़ि हवेली तन दी ।
खली उडीके मत हुन आवे, किधरों वा सजन दी ।
आवीं आवीं ना चिर लावीं, दसीं झात हुसन दी ।
आए भौर मुहम्मद बख़्शा, कर के आस चमन दी ।

5079-80

सदा ना रूप गुलाबां उते, सदा ना बाग़ बहारां ।
सदा ना भज भजि फेरे करसन, तोते भौर हज़ारां ।
चार देहाड़े हुसन जवानी, मान किया दिलदारां ।
सिकदे असीं मुहम्मद बख़्शा, क्युं परवाह ना यारां ।

5215

जिन्हां दे दिलि इशक समाणा, रोवन कंम उनाहां ।
विछड़े रोंदे मिलदे रोंदे, रोंदे टुरदे राहां ।

5239-40

आदम परियां किस बणाए ? इको सिरजण-हारा ।
हुसन इशक दो नाम रखायओसु, नूर इको मुंढ सारा ।
महबूबां दी सूरत उते, उसे दा चमकारा ।
आशिक दे दिल इशक मुहम्मद, उहो सिरH्(सिरर)-न्यारा ।

5274-77

नीचां दी अशनाई कोलों, किसे नहीं फल पायआ ।
किकर ते अंगूर चड़्हायआ, हर गुच्छा ज़ख़मायआ ।
वाउ झुले तां पतर पाटे, नाले सूले दाने ।
चोए रस ज़िमीं पर ढट्ठी, कित्त कन कुट्ठे लाने ।
काले भौर अशनाई करदे, मिलन फुलां दे ताईं ।
इक ढट्ठा फिर दूजे तरीजे, लैंदे फिरन हवाईं ।
यारी सच्च पतंगां वाली, शमअ्य बली आ चुक्के ।
फेर ना किधरे जावन जोगे, लाट अन्दर सड़ि मुक्के ।

5298

आसे पासे उमर गुज़ारी, झले ख़ार हज़ारां ।
माली बाग़ ना वेखन देंदा आईआं जदों बहारां ।

5336

लै ल्या जो लैना आहा, लिख्या विच्च नसीबां ।
बे-परवाहां नाल मुहम्मद, ज़ोर ना असां ग़रीबां ।

5351-53

सच्चा कूड़ा मालम होवे, कसमों दानिशमन्दां ।
मुसलमान यकीन ल्यावन, करन जदों सौगंधां ।
जे कोई कूड़ी कसम उठावे, सो ईमान खड़ांदा ।
कसम करा जो मन्ने नाहीं, दीन उहदा भी जांदा ।
आदमियां ते जिन्नां सभ्भ नूं दीन ईमान ख़ज़ाना ।
जो हारे सो ख़वार हमेशा, अन्दर दोहां ज़हानां ।

5479

आशिक मौतों ड्रदे नाहीं, पता उन्हां नूं लगा ।
मौत नहीं इकवार मोयां नूं, छल आफ़त दा लगा ।

5546

बस मेरा कुझ वस्स ना चलदा, की तुसाडा खोहना ।
लिस्से दा की ज़ोर मुहम्मद, नस जाना या रोना ।

5628-30

जे सौ नौकर चाकर होवे, ख़िदमत वाला अगे ।
हत्थीं ख़िदमत करीए आपूं, जां सजन हथि लग्गे ।
अपनी ख़िदमत बेशक कहीए, ख़िदमतगारां ताईं ।
ख़िदमतगार रहीए बण आपूं, पास प्यारे साईं ।
जायज़ होए दूए दी हत्थीं, जे ख़िदमत दिलबर दी ।
बादशाहां दे मूहरे सभ्भे, ख़लक निमाज़ां करदी ।

5833

आस मिलाप सजन दी मिलणे, ज़र्रा हिरास ना करदे ।
सप्पां शेरां दे मूंह अन्दर, पैर धिंङाने धरदे ।

5998-99

बुलबुल भौर उदासी होए, फुल गए जद बाग़ों ।
कद पतंग रहे फिर जिथों, बुझे लाट चिरागों ।
कोई दिन मौजां विच गुज़ारे, करि ख़ुशियां जिस जाई ।
उह जाईं हुन दिलबर बाहजों, खावन आवन भाई ।

6253

वैरी दुशमन मोए गए दा, साह विसाह ना करीए ।
सप्प मोए दा कंडा चुभ्भे, फिर भी दरदीं मरीए ।

6386-9

नूर, हय्या, हदायत वाला, बुरकअ्य गिरद जिन्हां दे ।
सो क्युं नारीं गिणीए भाई, मरद ईमान तिन्हां दे ।
की होया जो चेहरा साडा, हो ग्या मरदांवां ।
जिस दी नीयत मरदां वाली, सोईउ मरद सचावां ।
खेखन थीं कर ख़ौफ़ मुहम्मद, बाहर निकल इस गलीयों ।
बुर्यां थीं बुर्याई निकले, है भल्याई भल्यों ।
इन्हां गलां थीं है की लभदा, ऐब किसे दा करना ।
आपना आप संभाल मुहम्मद, जो करना सो भरना ।

6509-10

दुम्बा जां बघ्याड़ां खाधा, आजड़ियां की करना ?
कांगे नींह घरां दी पुटी, किस उते चित धरना ।
जां खेती दा कक्ख ना रेहा, ना सुका ना हर्या ।
किस कंम धुप पकावन वाली, किस कंम बदल वर्हआ ?

6770

जग दी शुहरत ते मूंह कालख, शाला पेश ना आवे ।
बे-ग़ैरत ना-मुरादां अन्दर, ना कोई नांवां लावे ।

6801-2

भावें उह बुरा करि आया, आ वड़्या घरि मेरे ।
वस लगदे कद देंदा कोई, चोर हुद्दाल लुटेरे ।
घरि आया मां जायआ जाणन, लाजवंत वडेरे ।
बांह पिछे सिर देन बहादर, लड़ के मरन अगेरे ।

6873-5

झोली पाय अंगार मुहम्मद, कोई छुपा ना सके ।
इशकां मुशकां ते दर्यावां, कौन छुपावे डके ।
कर के सबर बचायआ लोड़े, परी दवा ग़मां दी ।
जित वल वा पुरे दी जांदी, धुंमां घतदी जांदी ।
इशके अन्दर सबर ना रलदा, सूरज मैल ना लगदी ।
सुक्का रूं नहीं कर सकदा, परदा पोशी अग्ग दी ।

6932-4

शाबस रहमत उस बन्दे नूं, जिसि नीवां दर फड़्या ।
अड़्या खड़्या पर उस, जेहड़ा झड़्यां अगे झड़्या ।
की हासल उस कौमौ, जेहड़े ना हक कदर पछानन ।
आफ़रीन जिन्हां नूं कहीए, गालीं वांगर जानन ।
वैरी दी करि अदब तव्वाज़ुअ, अपना भौं गवाईए ।
दुशमन थीं ख़म खाईए नाहीं, नस्यां ज़ोर ना लाईए ।

8862

बाबे नानक बानी अन्दर, बात कही इक चंगी ।
वसि होया मुड़ जांदा नाहीं, रीत सजन दी चंगी ।

8865

आ ख़ुशबू सुनेहा दिता, खिड़े गुलाब बुलांदे ।
बुलुबल मसत चमन वल उडी, दरशन लैन गुलां दे ।

9027

शायर नाम धरावन लायक, कदर नहीं कुझ मेरा ।
उह खेतां दे साईं, मेरा खाल बन्ने पर फेरा ।

9052

ख़सख़स जितना कदर मेरा, उस नूं सभ्भ वड्याईआं ।
मैं गलियां दा रूड़ा कूड़ा, महल चड़्हायआ साईआं ।

9111-2

ना अशनाई नाल मलाहां, पले नहीं मज़दूरी ।
कौन लंघाए पार बन्दे नूं, जाना कंम ज़रूरी ।
अमलां वाले लंघ लंघ जांदे, कौन चड़्हावे मैनूं ।
पार चड़्हां जे रहमत तेरी, हत्थ फड़ावे मैनूं ।
.............................................................................
माली दा कंम पानी देणां, भर भर मशकां पावे ।
मालिक दा कंम फल फुल लाउणा, लावे जां ना लावे ।
……………………………

ढाह दे मन्दर ढाह दे मसजिद, ढाह दे जो कुझ ढहन्दा ।
इक बन्द्यां दा दिल ना ढाहीं, रब्ब दिलां विच्च रहन्दा ।

दूसरे कवियों के बारे में

शायर बहुत पंजाब ज़िमीं दे, होए दानिश वाले
काफ़ी बारां मांह जिन्हां दे, दोहड़े बैंत उजाले ।(८੯६२)

हक्कनां जोड़ किताबां लिखियां, किस्से होर रसाले
किधर गए उह संग मुहम्मद, कर के वेख सम्हाले

अव्वल शेख़ फ़रीद शकर गंज, आरिफ़ अहलि विलायत
हक हिक सुख़न ज़ुबान उहदी दा, रहबर राह हिदायत

फिर सुलतान बाहू हिक होया, ख़ासा मरद-हकानी
दोहड़े पाक ज़ुबान उहदी दे, रौशन दोहीं जहानीं

बुल्हे शाह दी काफ़ी सुन के, तरुटदा कुफ़र अन्दर दा
वहदत दे दर्यावे अन्दर, उह भी वत्या तरदा

फ़रद फ़कीर होया कोई ख़ासा, मरद सफ़ाई वाला
फ़िके अन्दर भी चुसत सुख़न है, इशक अन्दर ख़ुश चाला

बाबो बाब फ़कर दे अन्दर, वड़्या नाळ संभाले
बैंत तराज़ू तोल बणायओसु, मसले दस्योसु नाले

सल सलि लअ्अल परोती तसबीह, मरद ज़रीफ़ मद्दाही
बहल बहल सुख़न दी चड़्हआ, पी के मसत सुराही

हक कोई जान मुहम्मद होया, रसुले सुख़न सुणांदा
दोहड़ा उस दा मोयां दिलां नूं, जान मुहम्मद पांदा ।(८੯७०)

कोई कोई दोहड़ा आख सुणायआ, होर किसे मसताने
उस दा बी हर तीर मुहम्मद, लगदा विच निशाने

शाह चिराग़ होए इक सय्यद, दीवा दीन दुनी दा
धनी मुलक मकान उन्हां दा, शहर चौहान सुणींदा

हर हर सुख़न उन्हां दा सोहणा, मोती बहर सफ़ाईओं
ज्युं दिलबर दा चेहरा रौशन, जोबन दात ख़ुदाईओं

सेवक ख़ास उन्हां दा होया, दुनी चन्द रज़ादा
बाज़ी जिति सुख़न दी उस भी, कहे कबित्त ज़्यादा

छड़ी छिड़ी गल्ल आखी लेकिन, जो आखी सो हच्छी
पीलू सुथरा पहले होए, बहुत ज़िमीं जद कच्छी

ख़ाली ख़ललों कहे ख़लीली, ख़ूब सुख़न ख़ुद थोड़े
दरदमन्दां नूं फ़ैज़ पहुंचावन, फ़ैज़ बख़्श दे दोहड़े

सुख़न शरीफ़ शरफ़ दे रज़्ज़े, कत्थे शाह शरफ़ दे
पंध प्यां नूं राह दिखाउन, राहबर उस तरफ़ दे

हक तरनोट गिरावें अन्दर, शख़स होया अबदुल्ला
दोहड़े बैंत कहे उसि चंगे, नहीं किताबीं खुल्ल्हा

मियां हिक इमाम बख़्श सी, रहन्दा विच बिनाहे
शिअ्यर उहदा भी वांङ सबूने, मैळ दिलां तों लाहे

वारिस शाह सुख़न दा वारिस, निन्दे कौन उन्हां नूं
हरफ़ उहदे ते उंगल धरनी, नाहीं कदर असां नूं ।(८੯८०)

जेहड़ी ओसि चोपड़ पई आखी, जे समझे कोई सारी
हक हिक सुख़न अन्दर ख़ुशबोईं, वांङ फुलां दी खारी

शाह मुराद जन्ने दे कत्थे, सुख़न मुरादां वाले
महबूबां दे छन्द बणावन, वाह मसतां दे चाले

मुकबल दी गल्ल सिद्धी सादी है मकबूल प्यारी
लफ़ज़ महीम ते माअने बहुते याद रक्खन दे कारी

मदह मुबारिक अन्दर पहलां, बैत केहा उस जैसा
हिको बात लक्खां थीं हच्छी, धन्न मुसन्नफ़ ऐसा

मीर अली कोई नाळ सिदक दे, मदह मुबारिक कहन्दा
हिक हिक नुकते दा मुल्ल भाई, लक्ख लक्ख लअ्अल ना लहन्दा

अशरफ़ शख़स नौशाही होया, अशरफ़ियां शिअ्यर उसदे
वासिल दे सुनि बैंत मुहब्बती, बक्करे वांगर कुसदे

हैदर दे सुनि बैंत मरींदा, ख़ैबर नफ़स शैतानी
बैंत सिद्धे दीदार बख़्शदे, सख़त कमानों कानी

वाह दोहड़े महमूद सजन दे, ख़ून ग़मां द्यों रत्ते
मीरन दे कोई बैंत अजायब, दरद हवाड़्हों तत्ते

कोई कोई बैंत पुराना किधरे, सुण्यां शाह फ़ज़ल दा
पर उह भी कोई दुखीं भर्या, बोले जलदा बलदा

होर ग़ुलाम होया उस आखे, ग़म दे बैंत सस्सी दे
वाहवा हीर हुसैन सुणाई, ख़ूब जवाब दस्सी दे ।(८੯੯०)

मुसतफ़ा होया सलकोटी, जां चायआ उसि दरदे
जंग इमाम अली अलहक दा, ख़ूब केहा उस मरदे

हामिद जिस इमाम साहब दा, वड्डा जंग बणायआ
हक हिक सुख़न उहदे दा हरगिज़, मुल्ल ना जांदा पायआ

होर होया कोई पीर मुहम्मद, उस भी जंग बणाए
मोती साफ़ ज़मुरद सुच्चे, लड़ियां बन्न्ह टिकाए

दूजा पीर मुहम्मद वुठा, मौज़ा नूनां वाली
चट्ठे दी इस वार बणाई, मुहरीं भर्योसु थाली

मियां मुअ्अज़म दीन होरां नूं, अज़मत मिली हज़ूरों
गौहर सुख़न परोते उस ने, हज़रत जीउ दे नूरों

जिस 'अनवाय शरीफ़' बणाई, होर होया कोई अब्बदी
कीतोसु ख़ूब ब्यान फ़िक्का दा, सभनां रहमत रब्ब दी

रांझा बरख़ुरदार सुणींदा, बुलबुल बाग़ सुख़न दी
शियर उहदा ज्युं वायो फ़जर दी, आने बास चमन दी

हाफ़िज़ बरख़ुरदार मुसन्निफ़, गोर जेहनां दी चिट्टी
हर हर बैंत उहदा भी मिट्ठा, ज्युं मिसरी दी खिट्टी

अबद हकीम ज़ुलैख़ा जिस ने, हिन्दी विच बणाई
उह भी दरदों ख़ाली नाहीं, फ़ारसीयों उलटाई

हक्क सदीक कहावे लाली, मरद भला कोई होया
मेहतर यूसुफ़ दा उसि सेहरा, चुन चुन फुल्ल परोया ।(੯०००)

आइत अते हदीस परोती, विच विच वांग गुलाबां
सभनां नूं उह साहब बख़्शे, नाले असां ख़राबां

हाशिम शाह दी हशमत बरकत, गिणतर विच ना आवे
दुरि-यतीम जवाहर लड़ियां, ज़ाहर कढ्ढ लुटावे

उह भी मुलक सुख़न दे अन्दर, राजा सी सरकरदा
जिस किसे दी चड़्हे मुहमे, सोईयो सी सर करदा

मुख़तसर कलाम उन्हां दी, दरदों भिज्जी बोटी
दरद होया तां सभ कुझ्झ होया, क्या लंमी क्या छोटी

हक्क शीरीं फ़रेहादे वाली, गल्ल वट्टाय सुणायओसु
आम ख़लक थीं सुनी सुणाई, चा तसनीफ़ बणाईओसु

हज़रत ख़ुसरो शेख़ निज़ामी, दस्सदे होर किताबीं
हाशिम ने कुझ्झ होर सुणाए, नाहीं रवा हिसाबीं

या उह होर होया कोई हाशिम, हाशिम शाह ना होया
या उस शीरीं ख़ुसरो वाला, मालम राज़ ना होया

ढूंड रवायत सच्ची कूड़ी, करना सी इह कारा
ख़ैर इस दरद ब्यान करन दा, आहा मतलब सारा

मुतक दम्मीनां दे फ़ुरमाए, भंग ना पवे प्यारे
सुनी सुणाई उस भी आखी, की सिरि दोश बेचारे

बैत तराज़ू तोल बणायओसु, सादे लज़्ज़त वाले
कलियां चुन चुन हार परोतो सु, नरगिस ते गुल लाले ।(੯०१०)

फेर वलायत शियर सुख़न दी, अहमद यार संभाली
धौंसा मार तख़त पर बैठा, मलि पंजाब हवाली

तेग़ ज़ुबान चलाईओसु तरिखी, विच पंजाब ज़मीने
सिक्का मुलक सुख़न दे उते, जड़ईओसु नाळ आईने

ऐसी ग़ालिब बण के चली, ज़रब उहदी विच धरती
बहुत सराफ़ां ने छणकाई, वट्टा ला ना परती

भर भर बुक्क सुट्टे उस मोती, मुलकां अन्दर वंडे
सोहने साफ़ घनेरे कतरे, बद्दळ वांगूं छंडे

बाज़ तबियत उस दी वाला, गगनों हो हो लत्था
जिस उह बाज़ वगायआ मुड़ मुड़, धन्न तूहें उह हत्था

हर किस्से दी बहुटी उस ने, ज़ेवर लाय शिंगारी
सन्नअत ते तसनीफ़ों गहणे, ज़ीनत कर कर सारी

कादर बख़्श कलम दा घोड़ा, इस मैदान हिलायआ
छोटे जुमले छाल ना दिस्से, चाल सफ़ा-ए-चलायआ

साद मुरादे बैंत वलेकन, युमन बरकत वाले
मिट्ठा हलवा कीतोसु इस विच, पांदा कौन मसाले

जां 'मिअराज मुबारिक' कहओसु, नदी सुख़न दी तर्या
पाक होया हर ऐब ख़ताईओं, नूरों मूंह हत्थ भर्या

गुज्जर अन्दर छोहरां वाली, मरद होया कोई अग्गे
उस भी नाम मुहम्मद आहा, लग्गा इसि उसरगे ।(੯०२०)

थोड़े जैसे बैंत बणायओसु, सुत्ते दरद जगांदे
सांग ग़ज़ब दी वांङ मुहम्मद, सल्ल कलेजा जांदे

मेरे उस दे बैंत ना रलदे, जेकर समझो भाई
इन्हां अन्दर सन्नअत डूंघी, उन्हां विच सफ़ाई

नाले होर निशानी मेरी, मालम हुन्दी ज़ाहर
वज़न हिसाब नज़म दे विचों, नाम ना होसी बाहर

मिसरे अन्दर जुड़्या होसी, ज्युं थेवा विच छापे
जे कोई डूंघी नज़रों, वेखे बैंतों बैंत सिञापे

किसे कबाब किसे मठ्याईआं, किसे पुला पकाए
किसे अचार मुरब्बे उमदे, कुलीए किसे टिकाए

मिस्सा लूना जो कुझ्झ जुड़्या, टुकड़ा असां गदाई
हालों हुज्जत कोई ना कीती, खायो बरा-ए-ख़ुदाई

शायर नाम धरावन लायक, कदर नहीं कुझ मेरा
उह खेतां दे साईं मेरा, खाल बन्ने पर फेरा

गुज़री विथ्या फूकीं छंडी, पुनि मिनि टोपा धाड़ी
यार भरावां दी कर ख़ातिर, मैं भी खिचड़ी चाड़्ही

जो दित्ता सो दित्ता मैनूं, हिकसे देवन वाले
भावें रुक्खा भावें थिन्दा, भावें चरब निवाले

जुग जुग जीवे देवन वाला जिस इह करम कमाए
अन्दर मेरे बाग़ सुख़न दे, धन्न माली जिस लाए ।(੯०३०)

कलर शोर ज़मीन निकारी, आही वांग ख़राबां
इक बहेकड़ पाळ ना सकदी, लायक कद गुलाबां

मिल्या माली बण्या वाली, रहमत पानी लाईओसु
कल्लर विच मुहम्मद बखशा, बाग़ बहार बणायओसु

बूटा बच्चा बाग़ उन्हां दा, रहे हमेशा हर्या
सुक्का ढींगर मेरा जिस ने फुलीं पत्तीं भर्या ।(੯०३२)



ग़ज़लें



दिलबर दे विछोड़े अन्दर, अजे रेहा मैं ज़िन्दा
एस गनाहों आख़िर तोड़ी, सदा रहां शरमिन्दा

इक वारी दीदार ना डिट्ठा, लए प्यार ना मूंहों
तोड़े तलब उसे दी अन्दर, हो चुक्का बे-जिन्दा

घर तेरे कई नौकर चाकर, दर तेरे सै कुत्ते
नफ़रां दा मैं गोला सज्जणा! कुत्त्यां दा फिर बन्दा

दरद फ़िराक तेरे दी लज़्ज़त, जिस दिन दी मैं चक्खी
ख़ुशियां करदी वेख लोकाई, मन विच आवे ख़न्दा

ज़ेवर ज़ेब पुशाकी तोड़े, नाहीं बादशाहाने
गोदड़ियां सिरोपा असानूं, इहो लिबास पसिन्दा

चाह मेरी पई चाह मुहम्मद, गल मेरी गल्ल गईआ
मन लए मैं बोल सज्जन दे, जे लक्ख आखे मन्दा



की कुझ्झ गल्ल सज्जन दिल बैठी, चित्त मेरे थीं चायआ
की गुसताख़ी नज़री आई, तख़तों सुट्ट रुलायआ

हद्दों बहुत जुदाई गुज़री, यार ना मुक्ख विखायआ
रब्बा मेरा यार मिलन दा, वकत नहीं क्युं आया

अग्गे उस दे मरन शहादत, जे दिस्से इक वारी
नहीं तां गलियां विच मरांगा, चाय इहो दिल चायआ

की होंदा जे दिलबर मेरा, हस्स के मुक्ख विखांदा
दरदी बण के पुच्छदा इक दिन, की कुझ्झ हाल वेहायआ ?

राह तकेंद्यां अक्खीं पक्कियां, कन्न पैग़ाम सुणींदे
तूं फ़ारग़ ते मैं अफ़सोसीं, हर दिन रैन लंघायआ

रात देहां तुध पुच्छ्या नाहीं, दरदमन्दां दा हीला
कीकर रात देहाड़ गुज़ारी, इशक जेहनां दुक्ख लायआ

जे कोई सोहनी होर ज़िमीं ते, नाहीं हुब्ब किसे दी
किबला जान मेरी दा तूं हैं, तुध वल्ल सीस निवायआ

ना मैं लायक वसल तेरे दे, नहीं फ़िराक झल्लींदा
ना इस राहों मड़ां पिछाहां, ना तुध पास बुलायआ

दुक्ख कज़ीए मेरे सुन के, हर इक दा दिल सड़दा
तुध ना लग्गा सेक मुहम्मद, मैं तनि इशक जलायआ



इशक मुहब्बत तेरे अन्दर, मैं मशहूर जहानीं
रातीं जागां ते सिर साड़ां, वांग चिराग़ नूरानी

नींदर पलक ना लावन दिन्दे, नैन जदोके लाए
आतिश भरियां हंझू बरसन, रौशन शम्हा निशानी

बिन रौशन दीदार तेरे थीं, जग्ग हनेरा मैनूं
नाळ कमाल मुहब्बत तेरी, हो चुक्योसु नुकसानी

काळी रात हिजर दी अन्दर, ना कोई सुख सुनेहा
ना कासिद ना काग़ज़ रुक्का, ना कोई गल्ल ज़बानी

बेकरारी ते ग़मख़ुआरी, सल फ़िराक तेरे दा
रहम करीं मूंह दिस प्यारे, ज़ायय चली जवानी

दिल पर भार पहाड़ ग़मां दे, सीने दाग़ हिजर दा
बेवफ़ाई तेरी तरीजी, करदी मैनूं फ़ानी

जांदी चली बहार ख़ुशी, दी विरम रहेगा भौरां
सदा ना रहसी रंग गुलाबी, सदा ना चाल दीवानी

हरस हवा तेरी दी आतिश, तन मन फूक जलायआ
भर मशकां दो नैन बहशती, डोहल रहे नित्त पाणी

काळी रात जवानी वाली, लौ होवन पर आई
मुक्ख दस्सें तां मिसल चिराग़ां, जान करां कुरबानी

होए मोम पहाड़ सबर दे, हत्थ ग़मां जद पायआ
अग्ग पानी विच गलदा जीउड़ा, शम्हा जिवें मसतानी

जे हुन करें ग़रीब-निवाज़ी, ऐब नहीं कुझ्झ तैनूं
मैं वल्ल आवें मुक्ख दिखावें, सेज सुहावें जानी

सादिक-सुब्हा मानिन्द मेरा भी, रह ग्या दम बाकी
दे दीदार मुहम्मद तां फिर, देईए जान असानी



हे माशूका ! मैं मर चुक्का, अग्गों देर ना लावीं
आया सख़त नज़अ्य दा वेळा, मेहर दिले विच पावीं

बहुत जरे दुक्ख रही ना ताकत, अग्गों होर जरन दी
आसे आसे उमर गुज़ारी, आस मेरी दर ल्यावीं

आप रहें ख़ुशहाल हमेशा, ना तुध दुक्ख ना झोरा
सानूं भी बेदरद पछाणी, इस थीं चित्त ना चावीं

कदम तेरे फड़ सौ जिन्द वारां, फिर भी उज़र मन्नेसां
ख़िदमत तेरी मैं थीं सज्जणा! होई ना मासा सावीं

तलख़ जवाब तेरे ने मिट्ठे, ना होसां दिल खट्टा
शोर इशक दे फिक्की कीती, ग़ैरों जिन्द निथावीं

मन विच वस्सें ते दिल खस्सें, क्युं मूंह दस्सें नाहीं
दरद रंञाना मैं निमाणा, ना हुन होर सतावीं

भली मेरे संग कीती सज्जणा! जमदड़्यां दुक्ख लाए
होया अंत फ़िराक मुहम्मद, कदे ते पुच्छन आवीं



बुरे नछत्तर जरम ल्या सी, मैं दुख्यारा जंमदा
दरद विछोड़ा ते सुख थोड़ा, चोड़ा तेरे दम दा

ना दिल वस्स ना दिलबर मिलदा, हाय रब्बा की करसां
किस संग फोलां बेदन दिल दी, कौन भंजाल इस ग़म दा

पहले दिन दी सुझदी आही, जदों प्रीत लगाई
शीरीं जान मिसल फ़रेहादे, सदका होग पिरम दा

शाह परी दा नेहुं लगायआ, ख़ाकी बन्दा हो के
कद मेरे संग उलफ़त करसी, की मैं उसदे कंम दा

वतनों छोड़ होइओसु परदेसी, पाड़न पाड़ि अवल्ले
दुक्ख सहे सुख पायआ नाहीं, सड़्या मैं करम दा

जिसदी यारी ते जिन्द वारी, ना करदी दिलदारी
किस अग्गे फ़र्यादी जाईए, करे न्यां सितम दा

नगरी मेरी हुकम सज्जन दा, हाकिम आप अन्याईं
बेदोसे नूं सूळी दे के, हस्सदा वेख पिलमदा

हाए अफ़सोस ना दोस किसे ते, केहे करम कर आया
आख मुहम्मद कौन मिटावे, लिख्या लोह-कलम दा



अव्वल शुकर ख़ुदा दा करीए, दिलबर मुक्ख विखायआ
मिट्ठे मूंह तेरे थीं सज्जणा! कूत मेरी जिन्द पायआ

कर के पंध सफ़र दा आया, धूड़ पई मत्त होई
चाकर होइ वहेंदा चशमा, चाहीए मूंह धुआया

पेच-ब-पेच कमन्द ज़ुलफ़ दे, जे गलि डालें एवें
हर इक गरदन-कश मुलक दा, होसी कैद करायआ

डेरे तेरे दे चौफेरे, की कंम चौकीदारां ?
आह मेरी दे बलन अलम्बे, रक्खन चानन लायआ

तोड़े सूरज वांगर मैनूं, अन्दर जा ना लभ्भे
दर दीवार तेरे दी पैरीं, ढहसां ज्युं कर सायआ

शुकर हज़ार ख़ुदावन्द ताईं, फिरी बहार चमन दी
हासल होई मुराद मुहम्मद, दिलबर कोळि बहायआ



रोज़ अज़ल दे ज़ुलफ़ पिया दी बन्न्ह ल्या दिल मेरा
आख़िर तीक ना छुट्टन देसन सख़त ज़ंज़ीर सज्जन दे

तोड़े लक्ख पहाड़ ग़मां दे सिर मेरे पर तरुटण
सिर जासी पर भार ना सुटसां वांङू कोह शिकन दे

रोगी जीऊड़ा दारू लोड़े शरबत हिक दीदारों
देन तबीबां दे हत्थ बाहां रोग जिन्हां नूं तन दे

हरस सज्जन दी जान मेरी विच ऐसा डेरा लायआ
जिन्द जासी पर हिरस ना जासी पक्के कौल सुख़न दे

खिड़े गुलाब शिगूफ़े उग्गे होए सबज़ बग़ीचे
आई वाउ फ़जर दी लै के ख़त पैग़ाम वतन दे

बास लई तां पास गई सी पुर पुर कंडी सल्ली
बुलबुल नूं की हासिल होया कर के सैर चमन दे

उड उड थक्के पए ना छक्के बात ना पुच्छी यारां
वेख चकोरां की फल पायआ बण के आशिक चन्न दे

इस सूरज दी आतिश कोलों पानी विच कुमलाणा
नीलोफ़र दा इशक अजे भी बेपरवाह ना मन्नदे

जे कोई चाहे वांग मुहम्मद सरगरदान ना होवे
सुहण्यां दी अशनाईयों छुप के बैठे नाळ अमन दे



बहुती उमर गुज़ारी ऐवें यार ना नज़रीं पैंदे
थोड़े रोज़ जवानी जोबन दायम साथी कैं दे

ठंडी वाय सफ़ाई वाली ख़ुशबूदार वफ़ाईउं
अजे ना आई दिलबर वल्लों जिस पर असीं विकेंदे

उह दिलबर जो हिक कक्ख उतों गोला लए ना मैनूं
दोएे जहान देवे कोई सानूं उसदा वाळ ना देंदे

गाल मवाली चंगा मन्दा जो चाहे सो बोले
तुरश जवाब मिट्ठे मूंह विचों लज़्ज़त असीं चखेंदे

अपना आप संभालां नाहीं मनों विसार सज्जन नूं
अपना हाल ना तक्कदे मुड़ के जो इस तरफ़ तकेंदे

जे लक्ख गालीं तअ्अने देवे नाळे मूंह फिटकारे
उस थीं चंगा की असानूं उस संग बात करेंदे

कीती कसम बतेरी वारी दिल दे रोग ना दससां
जां लबां पर रही ना ताकत तां हुन ज़ाहर पैंदे

मुक्ख पिया दा आब-हय्याती असीं मोए तरेहाए
जळ बिन मछली वांग मुहम्मद किचरक रहे तपेंदे



जे महबूब प्यारा हिक दिन वस्से नाळ असाडे
जाणां अज्ज हुमा पंखेरू फाथा जाळ असाडे

मिसल हबाब सिरों सुट्ट टोपी जळ ख़ुशियां दे डोबां
पए पछांवां उस दा जे विच जाम-ज़ुलाल असाडे

चड़्ह चन्नां ते कर रुशनाई काळी रात हिजर दी
शम्हा जमाल कमाल सज्जन दी आ घर बाल असाडे

दिलबर दे दर जा ना सकदे हूरां मलक असमानी
कद मजाल सलाम करन दी मिसल कंगाल असाडे

सोहनी सूरत वेख लबां तों वारी जान प्यारी
मत्त हिक घुट लभ्भे इस जामों इह ख़्याल असाडे

कहन्दा फेर ख़्याल ज़ुलफ़ दा जान ना जान प्यारे
ऐसे कई शिकार फसांदे फाहियां वाळ असाडे

ना उमीद सज्जन दे दर थीं ना होसां ना मुड़सां
कदे ते रहम पवेगा उस नूं वेख वबाल असाडे

ख़ाक उहदे दर वाली वाला जिस दम मैं दम मारां
मिट्ठी वाउ जन्नत दी फिरदी मग़ज़ दवाल असाडे

हे वाउ इस इशक मेरे दी रमज़ पिया कन्न पाईं
आखीं हत्थीं मार, तुसांनूं ख़ून हलाल असाडे

जे उह इह गल्ल मन्ने नाहीं साफ़ जवाब सुणावे
आखे शाला होन ना ऐसे नफ़र बेहाल असाडे

कह अग्गों है शाह हुसन दे बादशाहां दर मंगते
मुढ्ढ कदीमों कहन्दे आए भाईवाल असाडे

करन गदा सज्जन दे कूचे बादशाही थीं चंगा
जे उह पावे आप मुहम्मद ख़ैर रुमाल असाडे

१०

मौते नाळों बुरी जुदाई मैनूं यार सुहाई
लुतफ़ ख़ुदाई लैसी बदला होर ना मेरा काई

डेरा यार मेरे दा उच्चा आलीशान जहानों
कर फ़र्याद उचेरी सारी हे जिन्द दरद दुखाई

बाझों अक्खर इशके वाले होर ना सबक पड़्हायओसु
रब्ब उसताद मेरे नूं देवे नेकी ते वड्याई

सोहनी सूरत वेखन कोलों मन्हा ना कर्यो भाई
जंमद्यां इह आदत मैनूं पावन वाले पाई

हे ख़ुश वाउ सज्जन दी जावीं अन्दर बाग़ सज्जन दे
सरू आज़ाद मेरे नूं आखीं कर के सीस निवाई

बाझ दीदार तेरे थीं सज्जणा! ख़ुशी ना दिस्से ख़ाबे
मुक्ख विखावीं ना चिर लावीं आवीं बराए ख़ुदाई

हे वाउ जा आख सज्जन नूं हे बक्क बाग़-इरम दे
क्युं कर सरगरदानी मैनूं विच उजाड़ां पाई

आप सई्ईआं विच रळ के खेडें माणें मौज नसीबां
कदे ते पुच्छ ग़रीबां ताईं जो होए सहराई

शकर वेचन वाला बण्या शाला जुग जुग जीवे
क्युं नहीं पुच्छदा सुलह ना करदा तोते भुक्ख सिक्काई

मान हुसन दा ठाके तैनूं हे फुल्ल शाख़ गुलाबी
पुच्छ नहीं गल्ल बुलबुल कोलों जो तुध-कनि सुदाई

नाळ सई्ईआं दे रळ के जिस दम मद्ध ख़ुशी दा पीवें
कर खां याद मैनूं भी जिस ने सिकद्यां उमर लंघाई

ख़बर नहीं की रंग इन्हां दा किस सबब्बों नसदे
गूहड़े नैन स्याह जिन्हां दे करदे ना अशनाई

हुसन जमाल कमाल तेरे विच होर तमामी सिफ़तां
हिको ऐब वफ़ा मुहब्बत नहीं अन्दर ज़ेबाई

हे वाउ जद बाग़-इरम विच जासें पास प्यारे
हत्थ बन्न्ह अरज़ गुज़ारीं ओथे हो के मेरी जाई

मैं नित्त दरद तेरे दी आतिश सीने अन्दर जालां
तल्यां विच कड़ाह ग़मां दे ज्युं मच्छी जल जाई

जे जग्ग दुशमन मारन वाला तूं हिक सज्जन होवें
मौतों ज़रा ना ड्रसां करसां दम दम शुकर अलाई

जां जां आशिक पुज्जे नाहीं महबूबां दे दर ते
कद ख़लासी करदा उस दी ज़ालिम दरद जुदाई

जलवा रूप तेरे दा लुट्टदा मुत्तकी शाह गदावां
ऐसी सूरत सोहनी ताईं मत कोई नज़र ना लाई

तोड़े दूर पिया परदेसी याद नहीं तुध कीता
मैं मद्ध पीवां सोर तुसानूं हिक दम नहीं ख़ताई

हे ख़ुश वाउ फ़जर दी आणीं ख़ाक उहदे दरबारों
इस सुरमे थीं लै मुहम्मद अक्खीं दी रुशनाई

 
 
 
 
 Hindi Kavita