Hindi Kavita
संत रविदास
Sant Ravidas
 Hindi Kavita 

Punjabi Poems On Guru/Sant Ravidas Ji in Hindi

पंजाबी कविताएं संत रविदास जी

1. सच्च दा गीत

धरती दी अक्ख जद रोयी सी
तूं सच्च दा दीवा बाल दित्ता
पायआ 'नेर पाखंडियां सी एथे
तूं तरक दा राह सी भाल दित्ता
तेरी बेगमपुरा ही मंज़िल सी
ताहीउं उसतत करे जहान सारा
तेरी बानी नूं जिस लड़ बन्न्हआं
'न्हेरे दा कट्ट जंजाल दित्ता

जग्ग विच्च आया जदों सच्च दा पुजारी
उदों झूठ नूं तां फिकर प्या
इक्को नूर, इक्को रूप सभ दी है तन्द सांझी
वक्खो वक्ख कीहने ऐ केहा
चानने दी लीक जदों जग्ग विच्च खिलरी तां
'नेरा उदों तिड़क ग्या
किरतां दे सच्चे-सुच्चे थड़्हे उत्ते बह के
आप अकलां नूं रिड़क ग्या
जग्ग विच्च आया जदों ..........

धरमां दा नां लैंदे कंम ने कसाईआं वाले
बुत्त, बन्द्यां दे विच्चों होर ने
पक्खपात, जातपात वाला जो ने रौला पाउंदे
कंम मन्दे उच्ची पाउंदे सोर ने
मास वाले लोथड़े हां इक्को लहू नाड़ां विच्च
वंडियां जो पाउंदे उहो चोर ने
जिन्द-जान जेहड़ी ऐ मनुक्खता दे लेखे लग्गे
उच्चे थड़्हे खड़्ह के केहा
जग्ग विच्च आया जदों ..........

कौन करे फैसला इह कौन छोटा, कौन वड्डा
स਼कलां दे पक्खों सभ इक ने
हर किसे मन विच्च प्यार दी चिनग लाउणी
फेर होने सभ इक्क मिक्क ने
कदे वी ना राग दूज-तीज वाला गाउन देणा
एदां ही तां पैंदे सारे फिक्क ने
जग्ग विच्च दे के सारे होका तूं बराबरी दा
सार्यां नूं बाहां च ल्या
जग्ग विच्च आया जदों ..........

अंधकार सम्यां च हौसले दा रूप सी तूं
पूरा अखवायआ विच्च जग्ग दे
सारियां सुगंधियां नूं हवा विच्च घोल दित्ता
बेगमपुरे वाले उच्चे सुर बज्जदे
बन्दे तों बन्दे नाल वितकरा ना होवे कोई
रहन इहो नाअरे सदा गज्जदे
छड्ड बुत्त पूजने तूं झूठे धरवास इहो
की ऐ धरवासां च प्या
जग्ग विच्च आया जदों ..........

(केहर शरीफ़)

2. भगत रविदास नूं

धुर की बाणीएं ! दिलां दीए राणीए नीं !
तेरे मूंह लगाम ना रहन देना ।
जिन्नी बानी है किरत दे फलसफ़े दी,
नाले उहनूं बेनाम ना रहन देना ।

इक्को बाप ते इक्को दे पुत्त सारे,
हे रविदास मैं फिर दुहरा रेहां हां ।
'बेगमपुरे' बारे तेरे गीत सारे,
इस रचना दे विच समा रेहा हां ।

इह नहीं दरबार देहुर्यां दा,
किरती-भगत दा जिथे सनमान नहीयों ।
किरती-कामे नूं नीच चंडाल दस्से,
गुरू ग्रंथ कोयी वेद- पुरान नहीयों ।

किरती ब्राहमन दी जुत्ती नूं गंढ के तूं,
पुन्न लै ल्या गंगा दे नहाउन वरगा ।
बे-दोशी हरजोटी छडाउन ख़ातर,
जेरा कर ल्या मरन मराउन वरगा ।

तेरी रम्बी ने भरमा दे भेद पाड़े,
तेरी सूयी ने लोकां दे फट्ट सीते ।
तेरे टांकड़े ने लायआ अजब टांका,
अड्डे राठां दे चौड़-चुपट्ट कीते ।

किरती इक्क जमात है जात नहीओं,
जाती भेद है हेज जन्नूनियां दा ।
कुन्ना विच घुचल्ल के साफ़ कीता,
काला चित्त तूं मज्हबी कानून्नियां दा ।

तेरे गीतां 'चों सम्यां ने सेध लै के,
समां सोचना किरत अज़ादियां दा ।
कदे होएगा हिन्द दी हिक्क उत्ते,
बेगमपुरा इक्क पिंड आबादियां दा ।

(संत राम उदासी)

3. भगत रविदास नूं शरधांजली

चोजां वाल्या गुरू रविदास जीओ,
तैनूं शरधा दे फुल्ल चड़्हाउन लग्गां ।
तेरी याद विच बैठके दो घड़ियां,
इक्क दो प्यार दे हंझू वहाउन लग्गां ।

तेरी सोहनी तसवीर 'ते नीझ ला के,
दरशन रज्ज के पाउन नूं जिय करदा ।
तेरी दरे-दहलीज़ 'ते रगड़ मत्था,
मुड़के किसमत बणाउन नूं जिय करदा ।

तेरी रम्बी ने ज़ुलम दी खल्ल लाही,
तेरी सूयी ने दुक्खां दे फट्ट सीते ।
तेरे टांकने ने लायआ अजब टांका,
साकत मोम दे वांगरा लट्ट कीते ।

जेहड़ी गंगा दे दरशन नूं जान लोकीं,
तेरे कोलों उह कौडियां मंगदी सी ।
जिथे लोक मसां मर मर के अप्पड़दे ने,
तेरे पत्थर दे हेठां दी लंघदी सी ।

मैनूं जापदा ए तेरी जोत सदका,
अछूत जातियां दी जोत जगदी ए ।
तेरी जोत 'चों निकलके लाट तत्ती,
सिधी ज़ुलम दे सीने नूं लग्गदी ए ।

मैनूं जापदा ए ज़ुलम दी अग्ग अन्दर,
अंमृत सी तां तेरी तासीर दा सी ।
झगड़ा नहीं सी छूत-अछूत वाला,
सारा झगड़ा गरीब अमीर दा सी ।

मेरे दात्या तेरे ही देस अन्दर,
तेरे बन्द्यां दा कौडी मुल्ल नहीयों ।
पैसे वालड़े दे हत्थीं रब्ब विक्या,
जीवन बन्दे दा पैसे दे तुल्ल नहीयों ।

सीना जोरी ते चोर बलैकियां दा,
लोहा चल्लदा एस जहान अन्दर ।
दसां नहुंआं दी किरत दे काम्यां दा,
कौडी मुल्ल नहीं हिन्दुसतान अन्दर ।

एथे धरमां ते मज़बां ने पाए पाड़े,
इहनां बन्दे नूं बन्दे तों वंड्या ए ।
जे तूं नीचां ते ऊचां दा मेल कीता,
इहनां धरमां ने एस नूं खंड्या ए ।

तैनूं तरस मज़दूर मज़लूम दा सी,
नाल नीव्यां तेरियां यारियां सी ।
गोहड़े रूं दे डुब्बदे पंडतां दे,
तेरी पथरी वी लाउंदी तारियां सी ।

अज्ज फेर तूं आपनी रूह घल्लदे,
नशा पैसे दी ताकत दा मुक्क जावे ।
ऊच नीच दा रेड़का मुक्क जावे,
पानी दुक्खां ते ज़ुलमां दा सुक्क जावे ।

(संत राम उदासी)

 
 Hindi Kavita