Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Peeran Da Paraga Shiv Kumar Batalvi in Hindi

पीड़ां दा परागा शिव कुमार बटालवी

मिरचां दे पत्तर

पुन्निआं दे चन्न नूं कोई मस्सिआ
कीकण अरघ चढ़ाए वे
क्यों कोई डाची सागर ख़ातर
मारूथल छड्ड जाए वे ।

करमां दी महिंदी दा सज्जणा
रंग किवें दस्स चढ़दा वे
जे किसमत मिरचां दे पत्तर
पीठ तली 'ते लाए वे ।

ग़म दा मोतिया उतर आया
सिदक मेरे दे नैणीं वे
प्रीत नगर दा औखा पैंडा
जिन्दड़ी किंज मुकाए वे ।

किक्करां दे फुल्लां दी अड़िआ
कौन करेंदा राखी वे
कद कोई माली मल्हिआं उत्तों
हरियल आण उडाए वे ।

पीड़ां दे धरकोने खा खा
हो गए गीत कसैले वे
विच नड़ोए बैठी जिन्दू
कीकण सोहले गाए वे ।

प्रीतां दे गल छुरी फिरेंदी
वेख के किंज कुरलावां वे
लै चांदी दे बिंग कसाईआं
मेरे गले फसाए वे ।

तड़प तड़प के मर गई अड़िआ
मेल तेरे दी हसरत वे
ऐसे इश्क दे ज़ुलमी राजे
बिरहों बाण चलाए वे ।

चुग चुग रोड़ गली तेरी दे
घुंगणियां वत्त चब्ब लए वे
'कट्ठे कर कर के मैं तील्हे
बुक्कल विच धुखाए वे ।

इक चूली वी पी ना सकी
प्यार दे नित्तरे पानी वे
विंहदिआं सार पए विच पूरे
जां मैं होंठ छुहाए वे ।

शरींह दे फुल्ल

दिल दे झल्ले मिरग नूं लग्गी है तेह ।
पर ने दिसदे हर तरफ़ वीरान थेह ।

की करां ? किथों बुझावां मैं प्यास,
हो गए बंजर जिहे दो नैन इह ।

थल होए दिल 'चों ग़मां दे काफ़ले,
रोज़ लंघदे ने उडा जांदे ने खेह ।

दुआर दिल दे खा गई हठ दी सिउंक,
खा गई चन्दन दी देह बिरहों दी लेह ।

रतन ख़ुशियां दे मणां मूंह पीह लए,
इक परागा रोड़ पर होए ना पीह ।

मन मोए दा गाहक ना मिलिआ कोई,
तन दी डोली दे मिले पर रोज़ वीह ।

चिर होया मेरे मुहाणे डुब्ब गए,
हुण सहारे ख़िज़र दे दी लोड़ कीह ?

जाणदे बुझदे यसू दे रहनुमा,
चाढ़ आए बे-गुनाह सूली मसीह ।

मेरिआं गीतां दी मैनां मर गई,
रह गिआ पांधी मुका पहला ही कोह ।

आख़री फुल्ल वी शरींह दा डिग्ग पिआ,
खा गिआ सरसबज़ जूहां सरद पोह ।

चन्न दी रोटी पकाई तारिआं,
बदलियां मर जाणीआं गईआं लै खोह ।

गोंदवीं आसां दी डोरी टुट्ट गई,
धान चिड़ियां ठूंग लए थोथे ने तोह ।

पै गईआं फुल्लां दे मूंह 'ते झुरड़ियां,
तितलियां दी हो गई धुन्दली निगाह ।

फूक घत्ते पर किसे अज्ज मोर दे,
हफ़ गए किसे भौर दे उड्ड-उड्ड के साह ।

वग रही है ओपरी जेही अज्ज हवा,
लौंग ऊशा दे, दी है कुझ होर भाह ।

फूक लैणे ने मैं ढारे आपणे,
भुल्ल जाणे ने मैं आपणे आप राह ।

दूर हो के बह दिल दीए हसरते,
छूह ना पीड़ां मारीए मैनूं ना छूह ।

खाण दे जिन्दू नूं कल्लर सोग दे,
महकीआं रोहीआं दे वल्ल इहनूं ना धूह ।

थक्क गई मूंह-ज़ोर जिन्द लाह लै लगाम,
नरड़ के बन्नह लै मेरी बेचैन रूह ।

पीण दे आडां नूं पाणी पीण दे,
भर नसारां वहण दे नैणां दे खूह ।

कंडिआली थोहर

मैं कंडिआली थोहर वे सज्जणा
उग्गी विच उजाड़ां ।
जां उडदी बदलोटी कोई
वर्ह गई विच पहाड़ां ।

जां उह दीवा जिहड़ा बलदा
पीरां दी देहरी 'ते,
जां कोई कोइल कंठ जिद्हे दीआं
सूतीआं जावण नाड़ां ।

जां चम्बे दी डाली कोई
जो बालन बण जाए,
जां मरूए दा फुल्ल बसंती
जो ठुंग जाण गुटारां ।

जां कोई बोट कि जिस दे हाले
नैण नहीं सन खुल्लहे,
मारिआ माली कस्स गुलेला
लै दाखां दीआं आड़ां ।

मैं कंडिआली थोहर वे सज्जणा
उग्गी किते कुराहे,
ना किसे माली सिंज्या मैनूं
ना कोई सिंजणा चाहे ।

याद तेरी दे उच्चे महलीं
मैं बैठी पई रोवां,
हर दरवाज़े लग्गा पहरा
आवां किहड़े राहे ?

मैं उह चन्दरी जिस दी डोली
लुट्ट लई आप कहारां,
बन्नहण दी थां बाबल जिस दे
आप कलीरे लाहे ।

कूली पट्ट उमर दी चादर
हो गई लीरां लीरां,
तिड़क गए वे ढोवां वाले
पलंघ वसल लई डाहे ।

मैं कंडिआली थोहर वे सज्जणा
उग्गी विच जो बेले,
ना कोई मेरी छावें बैठे
ना पत्त खावण लेले ।

मैं राजे दी बरदी अड़िआ
तूं राजे दा जायआ,
तूहीयों दस्स वे मोहरां साहवें
मुल्ल की खेवण धेले ?

सिखर दुपहरां जेठ दीआं नूं
साउन किवें मैं आखां,
चौहीं कूटीं भावें लग्गण
लक्ख तीआं दे मेले ।

तेरी मेरी प्रीत दा अड़िआ
उहीयो हाल सू होया,
ज्युं चकवी पहचाण ना सक्के
चन्न चढ़आ देहुं वेले ।

मैं कंडिआली थोहर वे सज्जणा
उग्गी विच जो बाग़ां,
मेरे मुढ्ढ बणाई वरमी
काले फ़नियर नागां ।

मैं मुरगाई मानसरां दी
जो फड़ लई किसे शिकरे,
जां कोई लाल्ही पर संधूरी
नोच लए जिद्हे कागां ।

जां सस्सी दी भैण वे दूजी
कंम जिद्हा बस रोणा,
लुट्ट खड़िआ जिद्हा पुनूं होतां
पर आईआं ना जागां ।

बाग़ां वालिआ तेरे बाग़ीं
हुण जी नहीयों लग्गदा,
खली-खलोती मैं वाड़ां विच
सौ सौ दुखड़े झागां ।

इक गीत हिजर दा

मोतीए रंगी चानणी दी भर पिचकारी ।
मारी नी किस मुक्ख मेरे 'ते मारी ।

किस लाई मेरे मत्थे चन्न दी दौणी,
किस रत्ती मेरी सूही गुट फुलकारी ।

रहण दिओ नी हंस दिले दा फाके,
जांदी नहीं मैथों महंगी चोग खिलारी ।

तोड़ो माल्ह तरक्कला चरखी फूको,
किस मेरी वैरन कौडां नाल शिंगारी ।

किस, कूल्हां दे आण घचोले पाणी,
किस ततड़ी ने आण मरुंडियां छावां ।

किस खूहे बह धोवां दाग़ दिले दे,
किस चौंकी बह मल मल वटना न्हावां ।

कीह गुन्दां हुण गुड्डियां दे सिर मोती,
कीकण उमर निआणी मोड़ लिआवां ।

किस संग खेडां अड़ीयो नी मैं कंजकां,
किस संग अड़ीयो राड़े बीजण जावां ।

उड्ड गईआं डारां सभ्भे बन्नह कतारां,
मैं कल्ली विच फस गई जे नी फाहीआं ।

लक्ख शुदैणां औंसियां पा पा मोईआं,
बात ना पुच्छी एस गिरां दिआं राहीआं ।

परत कदे ना आवे महरम घर नूं,
ऐवें उमरां विच उडीक विहाईआं ।

आखो सू, चन्न मस्स्या नूं नहीं चढ़दा,
मस्स्या वंडदी आई धुरों स्याहीआं ।

झब्ब कर अड़ीए तूं वी उड्ड जा चिड़ीए,
इहनीं महलीं हत्यारे ने वस्सदे ।

एस खेत विच कदे नहीं उगदी कंगणी,
एस खेत दे धान कदे नहीं पक्कदे ।

भुल्ल ना बोले कोइल इहनीं अम्बीं,
इहनीं बाग़ीं मोर कदे नहीं नच्चदे ।

अड़ीयो नी मैं घर बिरहों दे जाईआं,
रहणगे होंठ हशर तक हंझू चट्टदे ।

कीह रोवां मैं गल सज्जणा दे मिल के,
कीह हस्सां मैं अड़ीयो मार छड़प्पियां ।

कीह बैठां मैं छावें सन्दल रुक्ख दी,
कीह बण बण 'चों चुगदी फिरां मैं रत्तीआं ।

कीह टेरां मैं सूत ग़मां दे खद्दे,
कीह खोहलां मैं गंढां पेच पलच्चियां ।

कीह गावां मैं गीत हिजर दे गुंगे,
कीह छेड़ां मैं मूक दिले दीआं मट्टियां ।

तितलियां

मैं तितलियां फड़दी फिरां
मैं तितलियां फड़दी फिरां

ज़िन्दगी दी ख़ूबसूरत
पुशप-बसती महकदी 'चों
सोन रंगियां, नीलियां
चमकीलियां ते पीलियां
सोचदी जां सारियां तों
वन्न-सुवन्नी फड़ लवां

ते तोतले जहे खंभ उस दे
मेढीआं विच जड़ लवां
पर जदों मैं फड़न लग्गां
इस तर्हां दिल कम्ब जाए
जिस तर्हां कोई शाख़ महिंदी दी
विच हवा दे थर-थराए
दूर तितली उड्डदी जाए ।

फुल्ल गुनाह दे घुप्प काले
सुपन्यां विच खिड़ण लग्गण
महक खिंडे इतर-भिन्नी
धड़कणां विच पसर जाए

उडदी उडदी तितलियां दी
सोहल जही पटनार आए
फुल्ल गुनाह दे वेख टहके
मसत जही हो बैठ जाए
मैं अंञानी फुल्ल सारे
तोड़ झोली पा लवां
पर जदों मैं टुरन लग्गां
झोल मेरी पाट जाए
ते दूर तितली उड्ड जाए ।

मैं वलल्ली सोचदी जां
कीह फड़ांगी तितलियां
भर ग़मां दी सरद पोह विच
फुल्ल ख़ुशी दे सड़ गए
वेल सावी आस दी दे
पत्त नरोए झड़ गए

वेख नी उह शाह स्याहीआं
वादीआं विच ढिलक आईआं
चुगण गईआं दूर डारां
हसरतां दीआं परत आईआं

ज़िन्दगी दी शाम होई
कंवल दिल दे सौं गए
त्रेल कतरे आतमा दे
डुल्ह गए कुझ पी गईआं
नी सवाद ला ला तितलियां ।

जद कदे वी रात बीतू
सोचदी हां दिन चढ़ेगा
मुड़ भुलेखा कालखां दा
सूरजां नूं ना रव्हेगा
सांझ दा कोई कंवल दूधी
धरतीआं 'ते खिड़ पवेगा
आस है कि फेर अड़ीए
महकदी उस गुलफ़शां 'चों
तितलियां मैं फड़ सकांगी ।

चुप्प दे बाग़ीं

नैन नित्तरे क्यों अज्ज होए गहरे,
नीझां गईआं क्यों अज्ज घचोलियां वे ।

थेह हुसन दे सुन्न-मुसन्निआं तों,
किन्हें ठीकरां आण फरोलियां वे ।

किन्हें बाल दीवे देहरी इश्क दी 'ते,
अक्खां मुन्दियां छम छम डोहलियां वे ।

हार हुट्ट के क्यों अज्ज कालखां ने,
वल्ल चन्न दे भित्तियां खोहलियां वे ।

किन्हें आण गेड़े खूहे कालखां दे,
रोहियां विच क्यों रोन टटीर्हियां वे ।

सोन-तितलियां दे किन्हें खंभ तोड़े,
विन्न्ह लईआं किस सूल भम्बीरियां वे ।

किन्हें आण बीजे बी हौक्यां दे,
किन्हें लाईआं चा सोग पनीरियां वे ।

काहनूं जिन्दु नूं जच्चन ना शहनशाहियां,
मंगदी फिरे क्यों नित्त फ़कीरियां वे ।

कदों डिट्ठी है किसे ने होंद 'वा दी,
बिनां कंड्यां किक्करां बेरियां वे ।

दाखां पैन ना कदे वी निंमड़ी नूं,
दूधी होन ना कदे वी गेरियां वे ।

छल्लां उट्ठदियां सदा ने सागरां 'चों,
मारूथलां 'चों सदा हनेरियां वे ।

रीझां नाल मैं वसल दे सूत कत्ते,
तन्दां रहियां पर सदा कचेरियां वे ।

तत्ती मान की करांगी जग्ग अन्दर,
तेरे लार्यां दी मोई मारियां वे ।

चारे कन्नियां कोरियां उमर दियां,
रंगी इक ना लीर ललारियां वे ।

रही नच्चदी तेरे इशार्या 'ते,
जिवें पुतलियां हत्थ मदारियां वे ।

रहियां रुलदियां कालियां भौर ज़ुलफ़ां,
कदे गुन्द ना वेखियां बारियां वे ।

पानी ग़मां दी बौली 'चों रहे मिलदे,
रहियां खिड़ियां आसां दियां कम्मियां वे ।

ना ही तांघ मुक्की ना ही उमर मुक्की,
दोवें हो गईआं लंम-सलंमियां वे आ वे हाणियां हेक ला गीत गाईए,
वाटां जान सकोड़ियां लंमियां वे ।

रल मिल हस्सीए खिल्लियां घत्तीए वे,
बाहवां खोहलीए गलीं पलंमियां वे ।

हंझूआं दी छबील

याद तेरी दे तपदे राहीं,
मैं हंझूआं दी छबील लाई ।
मैं ज़िन्दगी दे धुआंखे होठां नूं
रोज़ ग़म दी गलो प्याई ।

मेरे गीतां दा हंस ज़ख़मी
मैं सोचदी हां कि मर जाएगा,
जे जुदाई वसल दे मोती-
अज्ज आप हत्थीं ना लै के आई ।

वर्ह रहियां बदलोटियां 'ते
तां चात्रिक नूं गिला नहीं कोई,
इह उस दी आपनी है बदनसीबी
कि जीभ उहदी रही तेहाई ।

निंमड़ी दे कसैले फुल्लां
दे विच वी सज्जना वे शहद हुन्दै
कसम है तैनूं तूं मुड़ ना आखीं
वे भौर्यां नूं कदे शुदाई ।

याद तेरी दे तपदे राहीं,
ने हर कदम ते उजाड़ खोले ।
बेचैन होए जेहे उडदे फिरदे
ने जां उमीदां दे वावरोले ।

इहनां राहां तों गुज़र जांदी
है रोज़ पुनूं नूं रोंदी कोई,
कदे कदे जां गुज़र ने जांदे
वे खेड़े हीरां दे लै के डोले ।

जां इहनां राहां दे मील-पत्थरां
ते रोज़ बिरहों दे बाज़ बैठण,
जां मास खोरी कोई डार गिद्धां दी
हड्डो-रोड़े पई टटोले ।

इक समां सी मैं समझदी सां
वे प्रीत-अगनी दा कुंड तैनूं,
पर इक समां है तूं बुझ ग्या हैं
वे वांग धुख़दे ब्यारी कोले ।

याद तेरी दे तपदे राहीं
वे होर मैथों ना टुर्या जाए ।
कौन थोर्हां नूं समझ कलियां
वे जान बुझ के गले लगाए ।

सढ़ैंद लद्दी हवा समें दी
'च कौन ख़ुशियां दा इतर छिड़के,
कौन गिरझां थां हसरतां दे
वे धुंधले अरशीं हुमा उडाए ।

कौन इश्के दी ख़ूनी मिट्टी 'च
सुपन्यां दे वे बीज बीजे,
कौन दिल दी वीरान धरती
ते रुक्ख मंधारी दी कलम लाए ।

कौन ज़ख़मां 'चों पीक सिंमदी
ते धूड़े हत्थीं वे आप मिरचां,
कौन ज़ुलफ़ां दे महके लच्छ्यां
'च हूंझ राहवां दी खेह मिलाए ।

याद तेरी दे तपदे राहीं
मैं औसियां पा पा उमर है गाली
इक मेल तेरे दी मैली खिन्दड़ी
वे घोल कल्लर मैं नित्त हंगाली ।

नित्त उडीकां दी अग्ग पी पी के
दिल दा पित्ता मैं साड़ लीता,
मैं आप आपनी ख़ुशी दे चम्बे दी
छांग सुट्टी है डाली डाली ।

तेल हुन्दिआं वी मेरी महफ़ल दे
सारे दीवे क्यों बुझ गए ने,
पता नहीं माली तों हर लगर नूं
क्यों सुहना लग्गदा है अज्ज अयाली ?

ठहर मौते नी लै जा मैनूं-
निरास हो के क्यों मुड़ चल्ली एं,
खाली मोड़न नूं जी नहीं करदा
जदों दर 'ते आया कोई सवाली ।

मन मन्दर

बल बल नी मेरे मन-मन्दर दीए जोते ।
हस्स हस्स नी मेरे सोहल दिले दीए कलीए ।

तक तक नी औह नीम उनाबी धूड़ां,
आ उन्हां विच नूर नूर हो रलीए ।

रुणझुन रुणझुन टुणकन, साज़ समीरी,
ज्युं छलकन बीज शरींह दी सुक्की फलीए ।

फ़र फ़र वगन हवावां मल ख़ुशबोईआं,
आ इन्हां संग दूर किते टुर चल्लीए ।

औह वेख नी ! बदली लाल बिम्ब जेही उडदी
ज्युं दूहरा घुंड कोई कढ्ढ पंजाबन आई ।

तक दूर दुमेलीं धरत अरश नूं मिल गई,
ज्युं घुटनी राधा संग सांवले पाई ।

औह वेख नी काहियां कढ्ढ लए बुम्बल लैरे,
हाए वेख साउन दियां झड़ियां धरत नुहाई ।

हर धड़कन बण मरदंग है डगडग वज्जदी,
हर साह विच वज्जदी जापे नी शहनाई ।

अज्ज फेरे की कोई अड़ीए मन दे मणके
अज्ज प्रभत्ता दे मन दी है टेक गुआची ।

अज्ज धरती मेरी नच्च रही है तांडव,
अज्ज भार जेहा दिसदी है पाक हयाती ।

अज्ज हुसन दी अड़ीए कच्च-कचोई वीणी,
अज्ज इश्क दी अड़ीए पत्थर हो गई छाती ।

अज्ज रोटी है बस जग दा इशट-मुनारा,
अज्ज मनुक्खता तों महंगी मिले चपाती ।

मैं आपे आपनी डोब लैनी है बेड़ी,
मैनूं जचदे नहीं नी अड़ीए हुसन किनारे ।

मेरे रत्थ तां उड्ड सकदे सन तारा-गन विच,
पर की करने सन अड़ीए मैं इह तारे ।

कदे पूरब नहीं हो सकदे अड़ीए पच्छम,
नहीं हो सकदे नी रंग-पुर कदे हज़ारे ।

तक्क प्रीत च चकवी आपे हो गई बौरी,
किसे चन्न भुलेखे फक्कदी पई अंग्यारे ।

जीन जीन कोई आख़र कद तक लोड़े,
मौत मौत विच वट जावन जद साहां ।

डोल्हि डोल्हि मैं चट्टां कद तक हंझू,
खोर खोर के पीवां कद तक आहां ।

साथ वी देंदा कद तक मेरा साथी,
अत्त लंमियां हन इस ज़िन्दगी दियां राहां ।

इश्क दे वणजों कीह कुझ खट्ट्या जिन्दे ?
दो तत्तियां दो ठंढियां ठंढियां साहां ।

अम्बर लिस्से लिस्से

हाए नी ! अज्ज अम्बर लिस्से लिस्से ।
हाए नी ! अज्ज तारे हिस्से हिस्से ।

हाए नी ! अज्ज मोईआं मोईआं पौणां,
हाए नी ! जग्ग वस्सदा कबरां दिस्से ।

हाए नी ! अज्ज पत्थर होईआं जीभां,
हाए नी ! दिल भर्या पल पल फिस्से ।

हाए नी ! मेरी रीस ना कर्यो कोई,
हाए नी ! इश्के दे पानी विस्से ।

हाए नी ! इह डाढे पैंडे लंमे,
हाए नी ! निरियां सूलां गिट्टे गिट्टे ।

हाए नी ! एथे सभ कुझ लुट्ट्या जांदा,
हाए नी ! एथे मौत ना आउंदी हिस्से ।

हाए नी ! अज्ज प्रीत दे नगमे कौड़े,
हाए नी ! इह ज़हर ने मिट्ठे मिट्ठे ।

चांदी दियां गोलियां

शाम दी मैं फिक्की फिक्की
उड्डी उड्डी धुन्द विचों,
निंम्हे-निंम्हे टावें-टावें
तारे प्या वेखदां ।

दूर अज्ज पिंड तों-
मैं डंडियां 'ते खड़ा खड़ा,
मन्दरां दे कलस 'ते
मुनारे प्या वेखदां ।

हौली-हौली उड्ड-उड्ड
रुंड्यां जहे रुक्खां उत्ते,
बहन्दियां मैं डारां दे
नज़ारे प्या वेखदां ।

मैं वी अज्ज रांझे वांगूं
हीर खेड़ीं टोर के,
ते सुंञे सुंञे आपणे
हज़ारे प्या वेखदां ।

पौन दे फ़राटे-
मेरे कोलों रोंदे लंघ रहे ने,
जापदे ने जिवें अज्ज
दे रहे ने अलाहुणियां ।

पिप्पली दा रुक्ख
जिद्हे थल्ले दोवें बैठदे सां,
उहदियां अयाली किसे
छांग लईआं टाहणियां ।

गोल्हिां खान घुग्गियां
जो दो नित्त आउंदियां सी,
उह वी अज्ज सारा दिन
आईआं नहीं नमाणियां ।

धरती दी हिक्क 'ते
रमाई मेरे दुक्खां धूणी,
अग्ग असमानीं लाई
हाउक्यां ने हाणियां ।

इहदा उक्का दुक्ख नहीं
कि अज्ज तूं परायआ होइओं,
दुक्ख है कि तैनूं मैनूं
कौडियां ने प्यारियां ।

दुक्ख है शिकारी किसे
महलां उहले लुक के ते
चांदी दियां गोलियां
निशाने बन्न्ह मारियां ।

दुक्ख नहीं कि तेरे नाल
खेड नंगी खेड्या ना,
दुक्ख है कि नींहां काहनूं
रेत 'ते उसारियां ।

दुक्ख नहीं कि राहियां पैरीं
लक्खां सूलां पुड़ गईआं,
दुक्ख है कि राहवां ही
नखुट्टियां विचारियां ।

मन्न्या, प्यार भावें
रूहां दा ही मेल हुन्दै,
देर पा के स्युंक
लग्ग जांदी है सरीरां नूं ।

लंघदै जवानियां दा-
हाढ़ बड़ी छेती छेती
साउन एं जंगाल देंदा
नैणां दिआं तीरां नूं ।

पर नहीं वे हुन्दे सिप्प
मोतियां दे रक्कड़ां 'च
इको जहे नहीं पत्त पैंदे
बोहड़ां ते करीरां नूं ।

स्यून नूं तां लक्ख वारी
सीतियां वी जांदियां ने,
नां पर लीरां रहन्दै
स्युं के वी लीरां नूं ।

ठीक है कि चन्न तारे
भावें अज्ज बन्दे दे ने,
बन्दा पर हाले तीक
होया नहीं वे बन्दे दा ।

सस्सी दा भम्बोर-
लुट्ट-पुट्ट के वी हाले तीक
होतां साथ छड्ड्या,
नहीं डाचियां दे धन्दे दा ।

हद्दां बन्ने बन्न्ह के वी
गोर्यां ते कालिआं ने,
हत्थों रस्सा छड्ड्या नहीं
मज़्हबां दे फन्दे दा ।

लूने पानी अक्खां दे दा
हाले कोई नहीं मुल्ल पैंदा,
मुल्ल भावें प्या पैंदै
पानी गन्दे मन्दे दा ।

रब्ब जाने किन्ना अजे
होर मेरा पैंडा रहन्दा,
कदों जा के मुक्कने ने
कोह मेरे साहवां दे ।

किन्ना चिर हाले होर
सोहणियां ने डुब्बना एं
किन्ना चिर लत्थणे
तूफ़ान नहीं झनांवां दे ।

किन्ना चिर पीलकां ने
खोळ्यां च उग्गना एं,
किन्ना चिर राहियां दिल
ठग्गने ने राहवां दे ।

किन्ना चिर डोलियां
ते रक्खां च जनाज़े जाणे,
किन्ना चिर सौदे होणे
धियां भैणां मावां दे ।

पंछी हो जावां

जी चाहे पंछी हो जावां
उड्डदा जावां, गाउंदा जावां
अण-छुह सिखरां नूं छुह पावां
इस दुनियां दियां राहवां भुल्ल के
फेर कदी वापस ना आवां
जी चाहे पंछी हो जावां ।

जा इशनान करां विच ज़म ज़म
ला डीकां पियां डान दा पाणी
मान-सरोवर दे बह कंढे
टुट्टा जेहा इक गीत मैं गावां ।
जी चाहे पंछी हो जावां ।

जा बैठां विच खिड़ियां रोहियां
फक्कां पौणां इतर संजोईआं
हम्म टीसियां मोईआं मोईआं
युगां युगां तों कक्कर होईआं
घुट्ट कलेजे मैं गरमावां
जी चाहे पंछी हो जावां ।

होए आल्हिना विच शतूतां
जां विच जंड करीर सरूटां
आउन पुरे दे सीत फराटे
लचकारे इउं लैन डालियां
ज्युं कोई डोली खेडे जुड़ियां
वाल खिलारी लै लै झूटां ।
इक दिन ऐसा झक्खड़ झुल्ले
उड्ड पुड्ड जावन सभ्भे तीले,
बे-घर बे-दर हो जावां ।
सारी उमर पियां रस ग़म दा
एस नशे विच जिन्द हंढावां
जी चाहे पंछी हो जावां ।

बद-असीस

यारड़िआ ! रब्ब करके मैनूं
पैन बिरहों दे कीड़े वे ।
नैणां दे दो सन्दली बूहे
जान सदा लई भीड़े वे ।

यादां दा इक छंभ मटीला
सदा लई सुक्क जाए वे ।
खिड़ियां रूप मेरे दियां कम्मियां
आ कोई ढोर लतीड़े वे ।

बन्न्ह ततीरी चोवन दीदे
जद तेरा चेता आवे वे ।
ऐसा सरद भरां इक हउका
टुट्ट जावन मेरे बीड़े वे ।

इउं करके मैं घिर जां अड़िआ
विच कसीसां चीसां वे ।
ज्युं गिरझां दा टोला कोई
मोया करंग धरीड़े वे ।

लाल बिम्ब होठां दी जोड़ी
घोल वसारां पीवे वे ।
बब्बरियां बण रुलन कुराहीं
मन मन्दर दे दीवे वे ।

आसां दी पिप्पली रब्ब करके
तोड़ जढ़ों सुक्क जाए वे ।
डार शौक दे टोटरूआं दी
गोल्हिां बाझ मरीवे वे ।

मेरे दिल दी हर इक हसरत
बनवासीं टुर जाए वे,
नित्त कोई नाग ग़मां दा
मेरी हिक्क 'ते कुंज लहीवे वे ।

बझ्झे चौल उमर दी गंढीं
साहवां दे डुल्ल्हि जावन वे ।
चाढ़ ग़मां दे छज्जीं किसमत
रो रो रोज़ छटीवे वे ।

ऐसी पीड़ रचे मेरे हड्डीं
हो जां झल्ल-वलल्ली वे,
ताय कक्करां 'चों भालन दी
मैनूं पै जाए चाट अवल्ली वे ।

भासन रात दी हिक्क ते तारे
सिंमदे सिंमदे छाले वे,
दिसे बदली दी टुकड़ी
ज्युं ज़ख़मों पीक उथल्ली वे ।

सज्जना तेरी भाल च अड़िआ
इउं कर उमर वंञावां वे,
ज्युं कोई विच पहाड़ां किधरे
वगे कूल इकल्ली वे ।

मंगां गल विच पा के बगली
दर दर मौत दी भिक्ख्या वे ।
अड्डियां रगड़ मरां पर मैनूं
मिले ना मौत सवल्ली वे ।

घोली शगनां दी मेरी महन्दी
जां दूधी हो जाए वे ।
हर संगरांद मेरे घर कोई
पीड़ पराहुनी आए वे ।

लप्प कु हंझू मुट्ठ कु पीड़ां
होवे प्यार दी पूंजी वे ।
ज्युं ज्युं करां उमर 'चों मनफ़ी
त्युं त्युं वधदी जाए वे ।

ज़िन्दगी दी रोही विच सज्जणां.
वधदियां जान उजाड़ां वे ।
ज्युं भखड़े दा इक फुल्ल पक्क के
सूलां चार बणाए वे ।

ज्यूंदे जी असीं कदे ना मिलीए
बाअद मोयां पर सज्जना वे ।
प्यार असाडे दी कत्थ सुच्चड़ी
आलम कुल्ल सुणाए वे ।

ग़मां दी रात

ग़मां दी रात लंमी ए
जां मेरे गीत लंमे ने ।
ना भैड़ी रात मुक्कदी ए,
ना मेरे गीत मुक्कदे ने ।

इह सर किन्ने कु डूंघे ने
किसे ने हाथ ना पाई,
ना बरसातां च चढ़दे ने
ते ना औड़ां च सुक्कदे ने ।

मेरे हड्ड ही अवल्ले ने
जो अग्ग लायआं नहीं सड़दे
ना सड़दे हउक्यां दे नाल
हावां नाल धुखदे ने ।

इह फट्ट हन इश्क दे यारो
इहनां दी की दवा होवे
इह हत्थ लायआं वी दुखदे ने
मल्हिम लायआं वी दुखदे ने ।

जे गोरी रात है चन्न दी
तां काली रात है किस दी ?
ना लुकदे तार्यां विच चन्न
ना तारे चन्न च लुकदे ने ।

नूरां

रोज़ उह उस कबर 'ते आया करे ।
बाल के दीवा मुड़ जायआ करे ।

नूरां उस दा नां पर दिल दी स्याह,
स्याह ही बुरका रेशमी पायआ करे ।

आखदे ने विच जवानी गिरझ उह,
नित्त नवां दिल मार के खायआ करे ।

कट्टदी इक रात उह जिस आल्हिणे,
उमर भर पंछी उह कुरलायआ करे ।

भूरे भूरे केस ते मुखड़े दा तिल,
सारी बसती वेख ललचायआ करे ।

बदल जांदा रुख हवावां दा तदों,
हेक लंमी ला के जद गायआ करे ।

सड़ के रह जायआ करे दन्दासड़ा,
नाल होठां दे जदों लायआ करे ।

धुखन लग्ग जायआ करन कलियां दे दिल,
शरबती जद नैन मटकायआ करे ।

आखदे ने नौजवां इक मनचला,
प्यार पा के दे ग्या उस नूं दग़ा ।

जोक बण के पी ग्या उस दा लहू,
चूप लीता मरमरी अंगां 'चों ता ।

ज़ख़मी करके सुट्ट ग्या नैणां दी नींद,
डोल्हि के किते टुर ग्या घोली हिना ।

चारदी सी रोज़ जिस नूं दिल दा मास,
शिकरा बण के उड्ड ग्या सी उह हुमा ।

याद आ जांदी जदों उस दी नुहार,
आदरां विच रड़कदा उहदे सरकड़ा ।

सोचदी कि बे-वफ़ा है आदमी,
बे-वफ़ाई ही तां है उस दा शिवा ।

बन के रहना सी जे आदम दा ग़ुलाम,
जनम क्यों लीता सी तां माई हव्वा ।

ठीक है हर चीज़ जद है बे-वफ़ा,
उस दा हक्क सी उह वी हो जाए बे-वफ़ा ।

दे के होका वेचदी ससते उह साह,
फज़र दा तारा है अज्ज तीकन गवाह ।

जिसम उहदा बरफ़ नालों वी सफ़ैद,
लेख उहदे रात नालों वी स्याह ।

नित्त नवां पत्तन ते नवियां बेड़ियां,
नित्त नवें उहदे बादबां उहदे मलाह ।

रात हर लभ्भदी नवां तारा कोई,
हर सुब्हा लभ्भदी नवीं मंज़िल दी राह ।

पींदी मोमी सीन्यां दी नित्त त्रेल,
चट्टदी होठां तों उह हवसां दी सवाह ।

बन ना सकी कुरबला सीने दी पीड़,
हो ना सकी फेर वी बंजर निगाह ।

हौक्यां दी उहदे घर आई बरात,
हंझूआं संग हो ग्या उस दा निकाह ।

बह इकल्ली कत्तदी हिजरां दे सूत,
गांहदी रहन्दी रात दिन यादां दे गाह ।

सद्दिअा उस नामवर इक चित्रकार,
यारड़े दी ओस नूं दस्सी नुहार ।

चित्र दो इक आपना इक यार दा,
ख़ून आपने नाल करवाए त्यार ।

कबर पुट्ट के चित्र दफ़नाए गए,
नाल दफ़नाए गए हंझूआं दे हार ।

कबर नेड़े खूह वी खुदवायआ ग्या,
चांदी दी अज्ज तीक है उस दी निसार ।

आखदे ने अज्ज वी कोह-काफ़ तों,
न्हाउन आवे रोज़ इक परियां दी डार ।

बालदी उस कबर ते उह नित्त दिया,
रोंदी रहन्दी रात दिन ज़ुलफ़ां खिलार ।

ओसे राह जो वी राही लंघदा,
झल्लियां वत्त पुच्छदी उस नूं खल्हिार ।

डिट्ठा जे किते मेरा बोदिआं वालड़ा,
नीले नैणां वालड़ा किते उहदा यार ?

आखदे ने साल कई हुन्दे चले ।
ओदां ही अज्ज तीक उह दीवा बले ।

जद कदे वी तेज़ वगदी है हवा,
विच हवावां महक जेही इक आ रले ।

हचकियां दी अज्ज वी आवे आवाज़,
कबर नेड़े जो कोई आशक खले ।

हर अमावस दी हनेरी रात नूं,
आ के ओथे बैठदे ने दिल-जले ।

लै के उस दीवे 'चों बून्द इक तेल दी,
यार दे होठां 'ते हर कोई मले ।

रोंदे ला के ढासना उस कबर नाल,
हजर दी लूणीं जिन्हां दे हड्ड गले ।

दूर उस वादी च औह टिब्ब्यां तों पार,
नाल मेरे जे कोई अज्ज वी चले ।

लुड़छे पई अज्ज तीक वी नूरां दी रूह,
ओदां ही अज्ज तीक उह दीवा बले ।

हंझूआं दा भाड़ा

तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा,
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

भट्ठी वालीए चम्बे दीए डालीए
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

हो ग्या कुवेला मैनूं
ढल गईआं छावां नी
बेलिआं 'चों मुड़ गईआं
मझ्झियां ते गावां नी
पायआ चिड़ियां ने चीक-चेहाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।
तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

छेती छेती करीं
मैं ते जाना बड़ी दूर नी
जिथे मेरे हाणियां दा
टुर ग्या पूर नी
योस पिंड दा सुणींदै राह माड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।
तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

मेरी वारी पत्त्यां दी
पंड सिल्ल्हिी हो गई
मिट्टी दी कड़ाही तेरी
काहनूं पिल्ली हो गई
तेरे सेक नूं कीह वज्ज्या दुगाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।
तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

लप्प कु ए चुंग मेरी
मैनूं पहलां टोर नी
कच्चे कच्चे रक्ख ना नी
रोढ़ थोढ़े होर नी
करां मिन्नतां मुका दे नी पुआड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।
तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

सौं गईआं हवावां रो रो
कर विरलाप नी
तार्यां नूं चढ़ ग्या
मट्ठा मट्ठा ताप नी
जंञ साहवां दी दा रुस्स ग्या लाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।
तैनूं दिआं हंझूआं दा भाड़ा
नी पीड़ां दा परागा भुन्न दे
भट्ठी वालीए ।

है रात किन्नी कु देर हाले

मुंडेर दिल दी ते नां तेरे दे,
मैं रत्त चो चो ने दीप बाले ।

मैं डर रही हां कि तेज़ बुल्ला,
कोई ज़िन्दगी दा ना आ हिसाले ।

जां पौ-फुटाला मनुक्खता दा,
ना होन तीकर लोय साथ पाले ।

जां नील रले दो नैन सिल्ल्हिे,
वे जान किधरे सू ना जंगाले ।

वे दूर दिसदी है भोर हाले ।
वे दूर दिसदी है भोर हाले ।

समें दे थेह 'ते वेख अड़िआ,
कोई बिल्ल-बतौरी पई बोलदी है ।

वे अमर जुगनूं कोई आतमा दा,
चिरां तों दुनियां पई टोलदी है ।

बेताल शूकर वे राकटां दी,
सुन सुन के धरती पई झोलदी है ।

वे आख अल्लढ़ मनुक्ख हाले वी,
घुग्गियां दी थां बाज़ पाले ।

वे घोर काली है रात हाले ।
वे घोर काली है रात हाले ।

वे बाझ तेरे ने फोग सहरा,
वे बिन सकूं दे है फोग मसती ।

वे दिल मुसव्वर दे बिन अजंता,
है पब्बां दी बे-हस्स बसती ।

वे चात्रिक लई तां पाक गंगा,
वे पाणियां दी है ख़ाक हसती ।

वे चन्न दी थां चकोरियां तों,
हाए जान सागर किवें हंगाले ।

वे दिल दिलां तों ने दूर हाले ।
वे दिल दिलां तों ने दूर हाले ।

वे हो वी सकदै कि पौन मिट्ठी,
जो वग रही है तूफ़ान होवे ।

जां हो वी सकदै कि मेरे घर
कल्ल्हि ढुकनी मेरी मकान होवे ।

जां हो वी सकदै कि कल्ल्हि तीकण,
ना होन डलां ना डान होवे ।

जां गोर अन्दर होन किधरे
ना मुरदिआं लई वे साह संभाले ।

है दूर नज़रां तों अंत हाले ।
है दूर नज़रां तों अंत हाले ।

मैं सोचदी हां कि विस्स काली,
हनेर्यां दी नूं कौन पीवे ।

वे नंग-मुनंगी जेही धरत भुक्खी,
वे होर किन्नी कु देर जीवे ।

युग्ग वेहाए ने बालदी नूं
हाए रत्त चो चो के रोज़ दीवे ।

पर ना ही बीती इह रात काली
है ना ही बहुड़ी उशेर हाले ।

है रात किन्नी कु देर हाले ।
है रात किन्नी कु देर हाले ।

डाची सहकदी

जे डाची सहकदी सस्सी नूं
पुनूं थीं मिला देंदी ।
तां तत्ती मान सस्सी दा
उह मिट्टी विच रुला देंदी ।

भली होई कि सारा साउन ही
बरसात ना होई,
पता की आल्हिने दे टोटरू
बिजली जला देंदी ।

मैं अकसर वेखिऐ-
कि तेल हुन्दिआं सुन्दिआं दीवे,
हवा कई वार दिल दी
मौज ख़ातर है बुझा देंदी ।

भुलेखा है कि ज़िन्दगी
पल दो पल लई घूक सौं जांदी,
जे पंछी ग़म दा दिल दी
संघनी जूह 'चों उडा देंदी ।

हककीत इश्क दी
जे महज हुन्दी खेड जिसमां दी,
तां दुनियां अज्ज तीकण
नां तेरा मेरा भुला देंदी ।

मैं बिन सूलां दे राह 'ते
की टुरां मैनूं शरम आउंदी है,
मैं अक्खीं वेखिऐ
कि हर कली ओड़क दग़ा देंदी ।

वसल दा सवाद तां
इक पल दो पल दी मौज तों वद्ध नहीं,
जुदाई हशर तीकण
आदमी नूं है नशा देंदी ।

हयाती नूं

चुग लए जेहड़े मैं चुगने सन
मानसरां 'चों मोती ।
हुन तां मानसरां विच मेरा
दो दिन होर बसेरा ।

घोर स्याहियां नाल पै गईआं
हुन अड़ीयो कुझ सांझां
ताहींयों चानणियां रातां विच
जी नहीं लग्गदा मेरा ।

उमर अयालन छांग लै गई
हुसनां दे पत्ते सावे,
हुन तां बालन बालन दिसदा
अड़ीयो चार चुफ़ेरा ।

फूको नी हुन लीर पटोले
गुड्डियां दे सिर साड़ो,
मार दुहत्थड़ां पिट्टो नी
हुन मेरे मर गए हानी ।

झट्ट करो नी खा लओ टुक्कर
हत्थ विच है जो फड़िआ
औह वेखो नी ! चील्हि समें दी
उड्ड पई आदम-खानी ।

डरो ना लंघ जान दिअो अड़ीओ
कांगां नूं कंढ्यां तों
डीक लैणगियां भुब्बल होईआं
रेतां आपे पानी ।

रीझां दी जे संझ हो गई
तां की होया जिन्दे
होर लंमेरे हो जांदे ने
संझ पई परछावें ।

कलवल होवो ना नी एदां
वेख लगदियां लोआं
उह बूटा घट्ट ही पलदा है
जो उग्गदा है छावें ।

जाच मैनूं आ गई

जाच मैनूं आ गई ग़म खान दी ।
हौली हौली रो के जी परचान दी ।

चंगा होया तूं परायआ हो ग्युं,
मुक्क गई चिंता तैनूं अपनान दी ।

मर ते जां पर डर है दम्मां वाल्यो,
धरत वी विकदी है मुल्ल शमशान दी ।

ना दिअो मैनूं साह उधारे दोसतो,
लै के मुड़ हिंमत नहीं परतान दी ।

ना करो 'शिव' दी उदासी दा इलाज,
रोन दी मरज़ी है अज्ज बेईमान दी ।

प्रीत लहर

बाल यार दीप बाल
सागरां दे दिल हंगाल
ज़िन्दगी दे पैंड्यां दा
मेट कहर ते हनेर
हर जिगर च सांभ
हसरतां दे ख़ून दी उशेर
हर उमंग ज़िन्दगी दी
करबला दे वांग लाल
बाल यार दीप बाल !

रोम रोम ज़िन्दगी दा
दोज़ख़ां दी है अगन
जगत-नेतरां 'चों
चो रही है पीड़ ते थकन
सोहल बुल्ल्हिियां ते
मौन हौक्यां दे लक्ख कफ़न
नफ़रतां च चूर
हुसनां दे नच्च रहे बदन
रो रही है रूह मेरी दी
झूम झूम के हवा
वीरान आतमा दे
खंडरां 'चों चीकदी हवा
बे-नूर ज़िन्दगी 'चों
सिंमदा है सोग दा गुलाल
बाल यार दीप बाल !

पोट्यां 'चों नफ़रतां दी
सूल जेही है पुड़ गई
मनुक्खता दी वाट
रेत रेत हो के खुर गई
गुनाह ते हिरस हवस ने
जो मारियां उडारियां
बेअंत पाप दी झनां 'च
सोहणियां संघारियां
अनेक सस्सियां
समाज रेत्यां ने साड़ियां
आ ज़रा कु छेड़
ज़िन्दगी दे बे-सुरे जेहे ताल
अलाप मौत दा ख़्याल !

कुटल धोख्यां दी नैं
नज़र नज़र च शूकदी
हज़ार मन्दरां च जोत
ख़ून पई है चूसदी
आ नसीब नूं उठाल
आतमा नूं लोय विखाल
इश्क नूं वी कर हलाल
बाल यार दीप बाल !

आपनी साल गिर्हा 'ते

बिरहन जिन्द मेरी नी सईओ
कोह इक होर मुकायआ नी ।
पक्का मील मौत दा नज़रीं
अजे वी पर ना आया नी ।

वर्हआं नाल उमर दा पाशा
खेडदिआं मेरी देही ने,
होर समें हत्थ साहवां दा
इक सन्दली नरद हरायआ नी ।

आतम-हत्त्या दे रथ उत्ते
जी करदै चढ़ जावां नी,
कायरता दे दम्मां दा
पर किथों दिआं किरायआ नी ।

अज्ज कबरां दी कल्लरी मिट्टी
ला मेरे मत्थे माए नीं
इस मिट्टड़ी 'चों मिट्ठड़ी मिट्ठड़ी
अज्ज ख़ुशबोई आए नी ।

ला ला लून खुआए दिल दे
डक्करे कर कर पीड़ां नूं
पर इक पीड़ वसल दी तां वी
भुक्खी मरदी जाए नी ।

सिदक दे कूले पिंडे 'ते
अज्ज पै गईआं इउं लाशां नी
ज्युं तेरे बग्गे वालीं कोई
काला नज़रीं आए नी ।

नी मेरे पिंड दीयो कुड़ीयो चिड़ीओ
आयो मैनूं दिअो दिलासा नी
पी चल्लिआ मैनूं घुट्ट-घुट्ट करके
ग़म दा मिरग प्यासा नी ।

हंझूआं दी अग्ग सेक सेक के
सड़ चल्लियां जे पलकां नी,
पर पीड़ां दे पोह दा अड़ीओ
घट्या सीत ना मासा नी ।

ताप त्रईए फ़िकरां दे नी
मार मुकाई जिन्दड़ी नी,
लूस ग्या हर हसरत मेरी
लग्ग्या हिजर चुमासा नी ।

पीड़ां पा पा पूर लिआ
मैं दिल दा खूह खारा नी ।
पर बदबखत ना सुक्क्या अत्थरा
इह करमां दा मारा नी ।

अद्धी रातीं उट्ठ उट्ठ रोवां
कर कर चेते मोयां नूं
मार दुहत्थड़ां पिट्टां जद मैं
टुट्ट जाए कोई तारा नी ।

दिल दे वेहड़े फूहड़ी पावां
यादां आउन मकाने नी,
रोज़ ग़मां दे सत्थर सौं सौं
जोड़ीं बह ग्या पारा नी ।

सईयो रुक्ख हयाती दे नूं
कीह पावां मैं पानी नी ।
स्युंक इश्क दी फोकी कर गई
इहदी हर इक टाहनी नी ।

यादां दा कर लोगड़ कोसा
की मैं करां टकोरां नी ।
पई बिरहों दी सोज कलेजे
मोयां बाझ ना जानी नी ।

डोल्हि इतर मेरी ज़ुलफ़ीं मैनूं
लै चल्ले कबरां वल्ले नी,
खौरे भूत भुताने ही बण
चम्बड़ जावन हानी नी ।

हंझूआं दे गाह

तेरी याद दी रसौंद दे कटोरे भर भर
बदो बदी हां मैं दिले नूं प्यालदी पई ।

पित्त-पापड़ी मैं पीड़ां दी लुंग तोड़ तोड़
कढ्ढ लिलियां हां जिन्दू नूं खुआलदी पई ।

जड़ी हंझूआं दे मोती चन्ना पक्खी झोल झोल
दे दे लोरियां मैं दीदे हां सुआलदी पई ।

लै लै चाननी मैं झस्सां काली रातड़ी दे केस
मल मक्खनी मैं जीझां हां नुहालदी पई ।

दोहनी दिले दी 'चों कौड़ा दुद्ध अक्क दा कढ़ांघा
अक्खां मीच के मैं हाणियां वे सारा पी लिआ ।

वे मैं तोड़के धतूरड़े दा फुल्ल खा लिआ
वे मैं जीभ उत्ते पोहलीए दा पत्त सी लिआ ।

वे मैं ग़मां दे दुखींदे नैणीं कूंज है छुहाई
मैथों मस्स्या ने कालखां दा मुल्ल बी लिआ ।

मेरे वेहड़े विच उग्गू कदे सूरज दा रुक्ख
एसे आस दे सहारे अज्ज तीक जी लिआ ।

तेरे प्यार दे न्याज़-बो दी मिट्ठड़ी सुगंध
मेरी हिक्कड़ी च अजे वी है जागदी पई ।

भावें घुग्गी माड़ी जिन्दड़ी दे टुट्ट गए ने पर
पर अजे वी उडारियां नूं झागदी पई ।

मैं उह चन्दरी हां जिद्ही पहलां सैंत हो गई
पिच्छों नक्क विच नत्थ ना सुहाग दी पई ।

मेरे लेखां दे शतूतीं भावें लग्ग्या मखीर
मैनूं सदा मट्टी चूपनी है आग दी पई ।

जिन्हां खित्तियां च बीजे सी मैं तार्यां दे बी
उन्हां खित्तियां च भक्खड़ा भुघाट उग्ग्या ।

जही लड़ी मेरे कालजे तों ब्रेहों दी धमूड़ी
मेरे जेर्यां दा अरश ते पताल सुज्ज्या ।

बैठी कढ्ढ रही सां आस दा बल्हिम्बरी रुमाल
तेज़ ग़मां दी हवा दे नाल दूर उड्ड्या ।

मैनूं दुक्ख है कि डुब्बी मेरी रक्कड़ां दी बेड़ी
इह नहीं दुक्ख मेरा पूर क्यों ना पार पुज्ज्या ।

मैनूं जदों मेरे दुक्खां दा ख़्याल आ ग्या
गीतां मेर्यां अंञाण्यां नूं गश पै गई ।

मेरे हास्यां दे मुक्ख 'ते त्रेली आ गई
मेरी सोच मेनूं तार्यां तों पार लै गई ।

मेरी चुप्प दे सरोवरां च जीभ डुब्ब मोई
गाह गाह हंझूआं दे गाह मेरी अक्ख चै गई ।

इक तेरी दूजे तेरी सारी धरती दी पीड़
तेरी थुड़ मेरे नां अज्ज कर बै गई ।

तेरे मेल दी असानूं चन्ना जही औड़ लग्गी
मेरे साहां दियां मुंजरां 'चों दुद्ध सुक्क्या ।

मेरे वालां दियां थब्बियां च रात सौं गई
मेरे नैणां दियां बौलियां 'चों नीर मुक्क्या ।

मैथों पुच्छी जदों किसे मेरे प्यार दी कहाणी
ग्या फुल्लीं बैठे भौर्यां दा बुल्ल्हि टुक्क्या ।

तेरे प्यार दी निशानी छल्ला इवें अज्ज लग्गे
जिवें चीची उत्ते ग़मां दा पहाड़ चुक्क्या ।

रब्ब इक वारी तेरा मेरा मेल जो कराए
सहुं तेरी सारे थलां दी भड़ास सीक लां ।

मेरे साहवें खढ़ी मौत नूं मैं गोली मारदां
बुझी लेखां दी लकीर चन्न आप लीक लां ।

हत्थीं लिल्लां उत्ते माख्यों दी चाशनी चढ़ावां,
वे मैं कच्चियां नमोलियां 'चों ज़हर डीक लां ।

इको छाल मार टप्प जां समुन्दरां तों पार
डुब्ब मरां जे मैं पाणियां नूं पैर तीक लां ।

यार दी मढ़ी 'ते

रोज़ पलकां मुन्द के मेरे हाणियां,
झल्लियां तेरी याद नूं मैं चौरियां ।

पै गईआं मेरी नीझ दे हत्थ चंडियां,
बन गईआं हंझूआं दे पैरीं भौरियां ।

रोज़ दिल दियां धड़कणां मैं पीठियां,
लै ग़मां दियां शिंगरफ़ी लक्ख दौरियां ।

कूचदी मर गई हिजर दियां अड्डियां,
पर ना गईआं इह ब्याईआं ख़ौहरियां ।

नां लिआं तेरा वे मोए मित्तरा,
दिल मेरा कुझ इस तर्हां अज्ज मौलदै ।

जिस तर्हां परभात वेले चानणी,
वेख के गुल्ल्हिर दा फुल्ल अक्ख खोल्हिदै ।

जिस तर्हां खंडरां 'चों लंघदी है हवा,
जिस तर्हां गुम्बद च कोई बोलदै ।

जिस तर्हां कि साउन दी पहली घटा,
वेख के बगला परां नूं तोलदै ।

इस कदर है ख़ूबसूरत ग़म तेरा,
जिस तर्हां कि कंवल-पत्त्यां 'ते त्रेल ।

न्हाउन ज्युं वगदी नदी विच गोरियां,
मरमर देहियां नूं मल सन्दल दा तेल ।

पूरे चन्न दी चाननी थल दा सफ़र,
डाचियां दे गल जिवें छणके हमेल ।

बदलियां नूं अग्ग लग्ग जाए जिवें,
हो जाए पीला जेहा सारा दुमेल ।

अज्ज मैं तेरी मढ़ी 'ते हाणियां,
पूरा कोतर-सौ सी दीवा बालिआ ।

पर वेख लै हुन तीक बस इको बले,
बाकियां नूं है हवावां खा लिआ ।

योस दी वी लाट कम्बदी है पई,
डरदिआं मैं है मढ़ी तों चा लिआ ।

वेळ लै इह वी विचारा बुझ ग्या,
दोश कीह किसमत दा करमां वालिआ ।

उमर दी गोजी नूं खपरा समें दा,
ग़म नहीं जे खा रेहै मेरे हाणिया ।

ग़म नहीं सने बादबां ते बेड़ियां,
रुढ़दा पत्तन जा रेहै मेरे हाणिया ।

ग़म नहीं जेकर उमीदां दा मखीर,
बणदा तुम्मा जा रेहै मेरे हाणिया ।

ठीक है कल्लर है तेरे बाझ दिल,
पर मैं पीड़ां दे क्यों पालां शेश नाग ।

किस लई फ़िकरां दा फक्कां संखिया,
किस लई नैणां नूं लां हंझूआं दी जाग ।

किस लई मैं केस काले पंड कु,
खोहल के दस्सदी फिरां रुलिआ सुहाग ।

सुहण्या ! मैनूं सल्ल है तेरे मेल दा,
पर नहीं तेरी मौत दा सीने च दाग़ ।

है गिला मैनूं तां बस इहो ही है,
मर ग्यां दी याद क्यों मरदी नहीं ।

आस पंज-फूली दा ज़हरी बूटड़ा,
सोच दी हिरनी कोई चरदी नहीं ।

क्यों कोई तितली लै फुल्लां दी कटार,
मालियां दे दिल ज़ब्हा करदी नहीं ।

क्यों हिजर दे आजड़ी दी बंसरी,
गीत ख़ुशियां दा कोई झरदी नहीं ।

महक

असां चुंम लए अज्ज फेर किसे दे बोदे ।
असां रात गुज़ारी बैठ सज्जन दी गोदे ।

अज्ज साह 'चों आवे महक गुलाबाज़ी दी,
अज्ज कौन प्या पुट्ठ-कंडा ग़म दा खोदे ।

असां पीता नी उहदे हंझूआं दा चरनामत,
असां बिन्दे नी उहदे पैर निवा के गोडे ।

आए निकल नी अड़ीयो किल्ल समें दे मुक्ख 'ते,
असां नैन उहदे जद नैणां दे विच डोबे ।

खुल्हिआ नी उहदी दीद दा रोज़ा खुल्हिआ,
पढ़ियां नी असां दिल दियां आइतां पढ़ियां ।

करे नाल नज़ाकत बातड़ियां जद माही,
हो जान पुरे दियां सीत हवावां खड़ियां ।

ओहदे मुक्ख दी लए परदक्खना चन्न सरघी दा,
उहदे नैणां दे विच रातड़ियां डुब्ब मरियां ।

उहदे वालां दे विच खेडे पोह दी मस्स्या,
उहदे बुल्हिीं सूहियां चीच-वहुटियां खरियां ।

मौली नी साडे दिल दी वेदन मौली,
पीती नी असां पीड़ चुली भर पीती ।

पै गई नी मेरे डोल कलेजे पै गई,
असां तोड़ कली सतबरगे दी अज्ज लीती ।

सुन्न-मसुन्नी संघनी दिल दी झंगी,
कूक कूक अज्ज मोरां बौरी कीती ।

होई नी मेरी नीझ शराबन होई,
गई नी साडी जीभ हशर लई सीती ।

जुड़ियां नी यादां दे पत्तणीं छिंझां,
पईआं नी मेरे दिल दे थेह 'ते रासां ।

लायआ नी मैं दिल दे वेहड़े मरूआ,
गुन्न्ही नी मैं भर भर महक परातां ।

मेरे साहीं कूल वगे नी अज्ज नश्यां दी,
प्या मारे नी दर्या मदिरा दा ठाठां ।

होया नी मेरे दिल विच चानन होया,
मैथों मंगन आईआं ख़ैर नी अज्ज परभातां ।

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।
मेरे सोहण्यां मेरे लाड़िआ ।
अड़िआ वे तेरी याद ने
कढ्ढ के कलेजा खा लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ,
औह मार लहन्दे वल्ल निगाह ।
अज्ज हो ग्या सूरज ज़ब्हा ।
एकम दा चन्न फिक्का जेहा,
अज्ज बदलियां ने खा लिआ ।
असां दीदिआं दे वेहरड़े,
हंझूआं दा पोचा ला लिआ ।
तेरे शहर जांदी सड़क दा,
इक रोड़ चुग के खा लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।
आईआं वे सिर 'ते वहंगियां
रातां अजे ने रहन्दियां ।
किरनां अजे ने महंगियां
फिक्कियां अजे ने महन्दियां ।
असां दिल दे उज्जड़े खेत विच
मूसल ग़मां दा ला लिआ ।
मिट्ठा वे तेरा बिरहड़ा
गीतां ने कुच्छड़ चा लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ,
सज्जना वे दिल दिअा कालिआ,
असां रोग दिल नूं ला लिआ,
तेरे ज़हर-मौहरे रंग दा-
बांह 'ते है नां खुदवा लिआ ।
उस बांह दुआले मोतीए दा,
हार है अज्ज पा लिआ ।
कबरां नूं टक्करां मार के-
मत्थे 'ते रोड़ा पा लिआ ।
असां हिजर दी संगरांद नूं-
अत्थरू कोई लूना खा लिआ ।
कोई गीत तेरा गा लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।

थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ
मेरे हाणिया मेरे प्यार्या,
पीड़ां दी पथकन जोड़ के
ग्हीरा असां बणवा लिआ,
हड्डां दा बालन बाल के
उमरां दा आवा ता लिआ ।
कच्चा प्याला इश्क दा-
अज्ज शिंगरफ़ी रंगवा लिआ ।
विच ज़हर चुप्प दा पा लिआ ।
जिन्दू ने बुल्ल्हिीं ला लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।
अड़िआ वे तेरी याद ने
कढ्ढ के कलेजा खा लिआ ।
थब्बा कु ज़ुलफ़ां वालिआ ।

 
 
 Hindi Kavita