Hindi Kavita
अज्ञेय
Agyeya
 Hindi Kavita 

Nadi Ki Baank Par Chhaya Agyeya

नदी की बाँक पर छाया अज्ञेय

पेड़ों की कतार के पार
पत्ता एक झरा
कहने की बातें
भैंस की पीठ पर
उस के चेहरे पर इतिहास
उस के पैरों में बिवाइयाँ
मुलाक़ात
परती का गीत
सागर के किनारे
खुल तो गया द्वार
कहो राम, कबीर
नदी की बाँक पर छाया
डरौना
नृतत्व संग्रहालय में
परती तोड़ने वालों की गीत
मेरे देश की आँखें
बाँहों में लो
वसंत : राजस्थानी शैली
रात-भर
मैने जाना यही हवा
पीली पत्ती : चौथी स्थिति
मैं ने पूछा क्या कर रही हो
धूसर वसंत
हम जिये
पंडिज्जी
कल दिखी आग
भाषा-माध्यम
भाषा पहचान
आज ऐसा हुआ है
आये नचनिये
न सही, याद
खून
टप्पे
प्यार के तरीके
रात सावन की
सहारे
स्वर-शर
उमस
आज मैं ने
धुँधली चाँदनी
कदंब कालिंदी (पहला वाचन)
कदंब कालिंदी (दूसरा वाचन)
कुछ तो टूटे
वासंती
हाथ गहा
इतिहास-बोध
प्यार अकेले हो जाने
अलाव
भोर : लाली
वासुदेव प्याला
स्वरस विनाशी
कालोऽयं समागतः
जा!
मेघ एक भटका-सा
जरा व्याध-1
जरा व्याध-2
 
 
 Hindi Kavita