Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Misc Poetry Shiv Kumar Batalvi in Hindi

1. बाबा ते मरदाना

बाबा ते मरदाना
नित्त फिरदे देस बदेस
कदे तां विच बनारस काशी
करन गुनी संग भेट
कच्छ मुसल्ला हत्थ विच गीता
अजब फ़कीरी वेस
आ आ बैठन गोशट करदे
पीर, ब्राहमन, शेख
ना कोयी हिन्दू ना कोयी मुसलिम
करदा अजब आदेश
गंगा उलटा अरघ चड़्हावे
सिंजे आपने खेत
हउं विच आए हउं विच मोए
डरदे उस नूं वेख
रब्ब नूं ना उह अलाह आखे
ते ना राम महेश
कहवे अजूनी कहवे अमूरत
निरभाउ, आभेख
जंगल नदियां चीर के बेले
गांहदे थल दी रेत
इक दिन पहुंचे तुरदे तुरदे
काम-रूप दे देश
बाग़ीं बैठा चेत
वण-त्रिन सारा महकीं भर्या
लैह लैह करदे खेत
राज त्रिया इस नगरी विच
अरध नगन जेहे वेस
नूर शाह रानी दा नाउं
गज़ गज़ लंमे केस
मरदाने नूं भुक्ख आ लग्गी
वल महला वेख
झट्ट बाबे ने मरदाने नूं
कीता इह आदेश
जा मरदान्या भिख्या लै आ
भुक्ख जे तेरे पेट

2. भारत माता

जै भारत जै भारत माता
लहूआं दे संग लिखी गई है
अनख तेरी दी लंमी गाथा
जै भारत जै भारत माता ।

हलदी घाटी तेरी
तेरे सोम-नाथ दे मन्दर
तेरे दुक्ख दी बात सुणांदे
राजपुतानी खंडर
सतलुज दे कंढे तों मुड़्या
खा के मार सिकन्दर
जै भारत…।

जल्हआं वाले बाग तेरे दी
अज्ज वी अमर कहाणी
कामागाटा मारू तेरे
अग्ग लायी विच पाणी
चंडी बण के रण विच जूझी
तेरी झांसी रानी ।
जै भारत…।

भगत सिंघ जेहे पुत्तर तेरे
ऊधम सिंघ, सराभे
डुल्ल्हे ख़ून दा बदला उस ने
तोल ल्या विच छाबे
गोरी अनख नूं रंडी कर गए
तेरे ग़दरी बाबे ।
जै भारत…।

लाजपत जेहे बण गए तेरी
लाज पत्त दे राखे
शिवा अते परताप तेरे ने
लिखे शहीदी साके
फांसी दे फट्ट्यां 'ते बैठी
तवारीख पई आखे ।
जै भारत…।

3. अक्ख काशनी

नी इक मेरी अक्ख काशनी
दूजा रात दे उनींदए ने मार्या
नी शीशे च तरेड़ पै गई
वाल वाहुन्दी ने ध्यान जद मार्या

इक मेरा द्युर निक्कड़ा
भैड़ा घड़ी मुड़ी जान के बुलावे
खेतां 'चों झकानी मार के
लस्सी पीन दे बहाने आवे
नी उहदे कोलों संगदी ने
अजे तीक वी ना घुंड नूं उतार्या
नी इक मेरी अक्ख काशनी…।

दूजी मेरी सस्स चन्दरी
भैड़ी रोही दी किक्कर तों काली
गल्ले कत्थे वीर पुणदी
नित्त देवे मेरे माप्यां नूं गाली
नी रब्ब जाने तत्तड़ी दा
केहड़ा लाचियां दा बाग मैं उजाड़्या
नी इक मेरी अक्ख काशनी…।

तीजा मेरा कंत जिवें
रात चाननी च दुद्ध दा कटोरा
नी फिक्कड़े संधूरी रंग दा
उहदे नैणां दा शराबी डोरा
नी लामां उत्तों परते लई
नी मैं बूरियां मझ्झां दा दुद्ध काड़्हआ
नी इक मेरी अक्ख काशनी…।

4. बुढ्ढी किताब

मैं मेरे दोसत
तेरी किताब नूं पड़्ह के
कयी दिन हो गए ने
सौं नहीं सक्या ।

इह मेरे वासते तेरी किताब बुढ्ढी है
इहदे हरफ़ां दे हत्थ कम्बदे हन
इहदी हर सतर सठ्यायी होयी है
इह बल के बुझ गए
अरथां दी अग्ग है
इह मेरे वासते शमशानी सुआह है ।

मैं बुढ्ढे हौंकदे
इहदे हरफ़ जद वी पड़्हदा हां
ते झुरड़ाए होए
वाकां 'ते नज़र धरदा हां
तां घर विच वेख के
शमशानी सुआह तों ड्रदा हां
ते इहदे बुझ गए
अरथां दी अग्ग च जलदा हां
जदों मेरे घर च इह
बुढ्ढी किताब खंघदी है
हफ़ी ते हूंगदी
अरथां दा घुट्ट मंगदी है
तां मेरी नींद दे
मत्थे च रात कम्बदी है ।
मैनूं डर है
किते इह बुढ्ढी किताब
मेरे ही घर विच
किते मर ना जावे
ते मेरी दोसती 'ते हरफ़ आवे

सो मेरे दोसत
मैं बुढ्ढी किताब मोड़ रेहा हां
जे ज्युंदी मिल गई
तां ख़त लिख दईं
जे राह विच मर गई
तां ख़त दी कोयी लोड़ नहीं
ते तेरे शहर विच
कबरां दी कोयी थोड़ नहीं ।

मैं मेरे दोसत
तेरी किताब नूं पड़्ह के
कयी दिन हो गए ने
सौं नहीं सक्या ।

5. छत्तां

छत्तां यारो छत्तां
मैं कीकन सिर 'ते चक्कां
छत्तां उपर जाले लटकण
किंज अक्खां 'ते रक्खां
छत्तां मेरा रसता रोकण
किंज अम्बर नूं तक्कां
छत्तां घर विच 'न्हेरा कीता
किंज लोकां नूं दस्सां
छत्तां जे मेरे सिर 'ते डिग्गण
तां मैं रज्ज के हस्सां
छत्तां जे ना सिर 'ते होवण
मैं अम्बर विच नच्चां
दिल करदा ए छत्तां पीहवां
दिल करदा ए कत्तां
दिल करदा ए छत्तां छाणां
दिल करदा ए छट्टां
छत्तां, छत्तां, छत्तां
मैं जाले कीकन चट्टां ।

6. चीरे वाल्या

असीं कच्च्यां अनारां दियां टाहणियां
पईआं पईआं झूम वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
पईआं पईआं झूम वे रहियां चीरे वाल्या

असीं जंगली हिरन दियां अक्खियां
बेल्यां च बल वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
बेल्यां च बल वे रहियां चीरे वाल्या

असीं पत्तणां 'ते पईआं बेड़ियां
पईआं पईआं डुब्ब वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
पईआं पईआं डुब्ब वे रहियां चीरे वाल्या

असीं खंड मिशरी दियां डलियां
पईआं पईआं खुर वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
पईआं पईआं खुर वे रहियां चीरे वाल्या

असीं काले चन्दन दियां गेलियां
पईआं पईआं धुख वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
पईआं पईआं धुख वे रहियां चीरे वाल्या

असीं कच्च्यां घरां दियां कंधियां
पईआं पईआं भुर वे रहियां चीरे वाल्या
चीरे वाल्या दिलां द्या काल्या
पईआं पईआं भुर वे रहियां चीरे वाल्या

7. देश दा सिपाही

जंग विच लड़दा सिपाही मेरे देश दा
हक्क तान खड़दा सिपाही मेरे देश दा

इह तां है अमर हुन्दा
इह तां है शहीद हुन्दा
मर के ना मरदा सिपाही मेरे देश दा
तारा बण चड़्हदा सिपाही मेरे देश दा
जंग विच लड़दा…

वैरी जे कोयी वैर रक्खे
धरती ते पैर रक्खे
ऐसी चंडी चंडदा सिपाही मेरे देश दा
टोटे लक्ख करदा सिपाही मेरे देश दा
जंग विच लड़दा…

सूरमा है रण दा
ते राखा वी है अमन दा
वैरियां नूं दलदा सिपाही मेरे देश दा
जंग विच लड़दा…।

8. दो बच्चे

बच्चे रब्ब तों दो ही मंगे
कसम खुदा दी रह गए चंगे ।

वड्डा जद साडे घर आया
पलने पायआ, पट्ट हंढायआ
रज्ज रज्ज उहनूं लाड लडायआ
रज्ज के पड़्हआ जिन्ना चाहआ
बहुते ना असां लीते पंगे
कसम खुदा दी…।

जदों असाडी निक्की जाई
दस रुपईए लै गई दाई
पड़्ही-पड़्हायी फेर विअ्हाई
हस्स हस्स के असां डोले पाई
ना असां किधरे करज़े मंगे
कसम खुदा दी…।

देवे रब्ब हर घर नूं जोड़ी
की करनी बच्च्यां दी बोरी
सोहनी होए ते होए थोहड़ी
रेशम विच वल्हेटी लोरी
बहुते होन तां फिरदे नंगे
कसम खुदा दी रह गए चंगे ।

9. ढोल वजाओ

ढोल वजायो करो मुनादी
बरबादी पई करे आबादी ।

रक्कड़ बीजे बंजर वाहआ
मोड़ मोड़ ते डैम बणायआ
दूना चौना अन्न उगायआ
फिर वी उह पूरा ना आया
ढोल वजायो, करो मुनादी
बरबादी पई करे आबादी ।

परबत चीर बणाईआं नहरां
बिजली कढ्ढी रिड़कियां लहरां
फ़रक मिटायआ पिंडां शहरां
पर ना होईआं लहरां बहरां
ढोल वजायो, करो मुनादी
बरबादी पई करे आबादी ।

सुण्युं सुण्युं लोको लोको
कुझ तां समझो कुझ तां सोचो
मत्थ्यां दे विच किल्ल ना ठोको
वधदी आबादी नूं रोको
ढोल वजायो, करो मुनादी
बरबादी पई करे आबादी ।

10. धरती दे जाए

जाग पए धरती दे जाए
जाग पए
खेतां दे विच सुत्ते साए
जाग पए ।

विच स्याड़ां डुल्हआ मुड़्हका जाग प्या ।
पैरां दे विच रुल्या मुड़्हका जाग प्या ।
जाग पए लोहे जंगलाए
जाग पए ।
जाग पए धरती दे जाए
जाग पए ।

जाग पईआं सुत्तियां प्रभातां जाग पईआं ।
जाग पईआं मेहनत दियां बातां जाग पईआं ।
जाग पए चेहरे मुरझाए
जाग पए ।
जाग पए धरती दे जाए
जाग पए ।

जाग पए जेरे ते अणखां जाग पईआं
जागी हल्ल पंजाली कणकां जाग पईआं
जाग पए नव-रंग खिंडाए
जाग पए ।
जाग पए धरती दे जाए
जाग पए ।
खेतां दे विच सुत्ते साए
जाग पए ।

11. देश महान

साडा भारत देश महान
ना कोयी हिन्दू सिक्ख ईसाई
ना कोयी मुसलमान
साडा भारत देश महान

रंग नसल ते ज़ात धरम विच कोयी ना वक्ख वखरेवां
सभ दे तन नूं कप्पड़ा लभ्भे पेट नूं अन्न रजेवां
इक नूर ते सभ जग्ग उपज्या
इको जेहे इनसान
साडा भारत देश महान ।

गुजराती, मदरासी, उड़िया, पंजाबी, बंगाली
हर शहरी दे मूंह तों टपके देश-प्रेम दी लाली
कोयी डोगरा कोयी मरहट्टा
भावें कई चौहान
साडा भारत देश महान ।

भावें वक्खरे वक्खरे सूबे, वक्खो वक्खरी बोली
भारत मां दे पुत्तर सारे हमसाए हमजोली
हर कोयी इक दूजे उत्तों
घोल घुमावे जान
साडा भारत देश महान
ना कोयी हिन्दू सिक्ख ईसाई
ना कोयी मुसलमान
साडा भारत देश महान

12. दुद्ध दा कतल

मैनूं ते याद है अज्ज वी, ते तैनूं याद होवेगा
जदों दोहां ने रल के आपनी मां दा कतल कीता सी
योस दा लहू जिद्दां कावां कुत्त्यां ने पीता सी
आपना नां असीं सारे ही पिंड विच भंड लीता सी

मैनूं ते याद है अज्ज वी किवें घर नूं है अग्ग लग्गदी
ते तैनूं याद होवेगा…

जदों असीं रत्त वेहूने अरध-धड़ घर घर ल्याए सां
असीं मां दे कतल उपर बड़ा ही मुसकराए सां

असीं इस कतल लई दोहां ही मज़हबां दे पड़्हाए सां
ते दोवें ही कपुत्तर सां ते मज़हबी जून आए सां ।

मेरी दुद्ध दी उमर मां दे कतल संग कतल हो गई सी
ते ठंडे दुद्ध दी उह लाश तेरे घर ही सौं गई सी

ते जिस नूं याद करके अज्ज वी मैं चुप्प हो जांदां
तेरे हिस्से विच आए अरध धड़ विच रोज़ खो जांदां

मेरे हिस्से विच आया अरध-धड़ मैनूं मां दा नहीं लगदा
ते उस हिस्से विच मेरी अरध-लोरी नज़र नहीं आउंदी
मेरे हिस्से दी मेरी मां अधूरा गीत है गाउंदी
ते तेरे अरध-धड़ दे बाझ मेरा जिय नहीं लगदा
मेरा तां जनम तेरे अरध-धड़ दी कुक्ख 'चों होया सी
मेरे हिस्से च आया अरध-धड़ मेरे 'ते रोया सी
ते मैथों रोज़ पुच्छदा सी उहदा क्युं कतल होया सी ?
ते तैनूं याद करके कई दफ़ा तेरे 'ते रोया सी
ते तैथों वी उह पुच्छदा सी उहदा क्युं कतल होया सी ?
मां दा कतल तां होया सी, मां दा दिल तां मोया सी ।

मावां दे कदे वी दिल किसे तों कतल नहीं हुन्दे
पर तूं अज्ज फेर मां दे दिल उप्पर वार कीता है
ते सुक्कियां छातियां दा दुद्ध तक वी वंड लीता है ।

पर इह याद रक्ख मावां दा दुद्ध वंड्या नहीं जांदा
ते ना मावां दे दुद्ध दा दोसता कदे कतल हुन्दा है
इह ऐसा दुद्ध है जिस नूं कदे वी मौत नहीं आउंदी
भावें तवारीख कई वार है दुद्ध दा कतल वी चाहुन्दी…

13. जै जवान जै किसान

जै जवान ! जै किसान !!
दोहां दे सिर सदका उच्ची भारत मां दी शान
जै जवान ! जै किसान !!

जट्टा सुत्ती धरत जगावे हल्ल तेरी दा फाला
हाड़्ह दी गरमी सिर 'ते झल्ले सिर ते पोह दा पाला
मुड़्हका डोल्ह के हरे तूं करदा
बंजर ते वीरान ।
जै जवान ! जै किसान !!

तूं रखवाली करें देश दी, बण के पहरेदार
तूं लहूआं दी होली खेडें, बरफ़ां दे विचकार
संगीनां दी छां दे हेठां
खड़ा तूं सीना तान ।
जै जवान ! जै किसान !!

इक तां आपे भुक्खा रह के घर घर अन्न पुचावे
दूजा आपनी जान गवा के देश दी आन बचावे
इन्हां दोहां दी मेहनत दा
साडे सिर अहसान ।
जै जवान ! जै किसान !!

14. हाए नी

मैनूं हीरे हीरे आखे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा
मैनूं वांग शुदाईआं झाके
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा ।

सुबह सवेरे उठ नदीए जां जानी आं
मल मल दहीं दियां फुट्टियां नहानी आं
नी उहदे पानी च सुणीवन हासे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा
मैनूं हीरे हीरे आखे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा ।

सुबह सवेरे उट्ठ खूह ते जानी आं
सूहा सूहा घड़ा जद ढाके मैं लानी आं
नी उह लग्गा मेरी वक्खी संग जापे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा
मैनूं हीरे हीरे आखे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा ।

सुबह सवेरे जद बाग़ीं मैं जानी आं
चुन चुन मरूआ चम्बेले मैं ल्यानी आं
नी उहदे साहां दी सुगंध आउंदी जापे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा
मैनूं हीरे हीरे आखे
हाए नी मुंडा लम्बड़ां दा
नी मुंडा लम्बड़ां दा ।

15. गुमनाम दिन

फिर मेरे गुमनाम दिन आए
बहुत ही बदनाम दिन आए
साथ देना सी की भला लोकां
कंड अपने ही दे गए साए ।

हां मेरा हुन ख़ून तक उदासा सी
हां मेरा हुन मास तक उदासा सी
चुतरफ़ी सोगवार सोचां सन
जां यारां दा जलील हासा सी ।

सफ़र सी, रेत सी, ख़ामोशी सी
ज़लालत, सहम सी, नमोशी सी
ख़लाय सी, उफ़क सी ते सूरज सी
जां आपनी पैड़ दी
ज़ंजीर दे बिन कुझ वी ना सी
कि जिस नूं वेख्यां
मत्थे च पाला उग्गदा सी ।

ज़िन्दगी सी
कि ग़म दा बोझ लई
तपे होए उमर दे
मारूथलां 'चों लंघदी सी
ते मैथों घुट्ट छां दा मंगदी सी
पर मेरी नज़र विच
इक बोल दा वी बिरछ ना सी ।

मैं आपने कतल 'ते
हुन बहुत रोंदा सां
सरापी चुप्प दे
हुन नाल भौंदा सां
ते मूंह ढक्क के
ग़मगीन चानणियां
विछा के रेत ख़्यालां 'च
घूक सौंदा सां ।

मैं चुप्प दे सफ़र विच इह वेख्या
कि चुप्प गाउंदी है
चुप्प रोंदी है, चुप्प कराउंदी है
ते चुप्प नूं बहुत सोहणी
ज़बान आउंदी है ।

मैं थल दे रेत तों
चुप्प दी सां हुन ज़बां सिखदा
गवाची चाननी नूं
रेत दे मैं ख़त्त लिखदां ।

16. ग़द्दार

उह शहर सी जां पिंड सी
इहदा ते मैनूं पता नहीं
पर इह कहानी इक किसे
मद्ध-वरग जेहे घर दी है
जिस दियां इट्टां दे विच
सदियां पुरानी घुटन सी
ते जिसदी थिन्दी चुल्ल्ह 'ते
मावां दा दुद्ध सी रिझदा
नूंहां धियां दे लाल चूड़े
दो कु दिन लई छणकदे
ते दो कु दिन लई चमकदे
ते फेर मैले जापदे

ते उस घर दे कुझ कु जिय
हुक्क्यां च फ़िकर फूकदे
जां नित्त नेमी वाचदे
पग्गां दी इज्जत वासते
उह रात सारी जागदे ।

एसे ही घर उहदे जेहन विच
इक फुल्ल सूहा उग्ग्या
ते उदों उस दी उमर वी
सूहे फुल्लां दी हान सी
ते तितलियां दे परां दी
उसनूं बड़ी पहचान सी
उदों उसदी बस सोच विच
फुल्लां दे रुक्ख सी उग्गदे
जां खंभां वाले नीले घोड़े
अम्बरां विच उड्डदे
ते फिर उहदे नैणां दे विच
इक दिन कुड़ी इक उग्ग पई
जो उहदे नैणां 'चों
इक सूरज दे वाकन चड़्ही सी
ते किसे ही होर दे
नैणां च जा के डुब्ब गई ।

हुन सदा उहदी सोच विच
दरदां दा बूटा उग्गदा
ते पत्ता पत्ता ओसदा
काली हवा विच उड्डदा
हुन उह आपने दुक्खां नूं
देवते कहन्दा सदा
ते लोकां नूं आखदा
दुक्खां दी पूजा करो ।

ते फेर उहदी कलम विच
गीतां दे बूटे उग्ग पए
जो शुहरतां दे मोढ्यां 'ते
बैठ घर घर पुज्ज गए
इक दिन उहदा कोयी गीत इक
राज-दरबारे ग्या
योस मुलक दे बादशाह ने
योस नूं वाह-वाह केहा
ते सार्यां गीतां दा मिल के
पंज मुहरां मुल्ल प्या ।

हुन बादशाह इह समझदा
इह गीत शाही गीत है
ते राज-घर दा मीत है
ते पंज मुहरां लैन पिच्छों
लहू इसदा सीत है ।

पर इक दिन उस राज-पत्थ 'ते
इक नाअरा वेख्या
ते सच्च उसदा सेक्या
उस मां नूं रोंदा वेख्या
ते बाप रोंदा वेख्या
ते बादशाह नूं ओस पिच्छों
गीत ना कोयी वेच्या
ते पिंड दियां सभ मैलियां
झुग्गियां नूं मत्था टेक्या

हुन उहदे मत्थे 'च
तलवारां दा जंगल उग्ग प्या
उह सीस तली 'ते रक्ख के
ते राज-घर वल्ल तुर प्या
हुन बादशाह ने आख्या
इह गीत नहीं ग़द्दार है
ते बादशाह दे पिट्ठूआं ने
आख्या बदकार है
ते ओसदे पिच्छों मैं सुण्या
बादशाह बिमार है
पर बादशाह दा यार हुण
लोकां दा कहन्दे यार है
इह मैनूं पता नहीं
इह कहानी किस दी है
पर ख़ूबसूरत बड़ी है
चाहे कहानी जिस दी है ।

17. फ़रक

जदों मेरे गीत कल्ल्ह तैथों
विदायगी मंग रहे सी
तदों यार
हत्थकड़ियां दा जंगल लंघ रहे सी
ते मेरे ज़ेहन दी तिड़की होयी दीवार उत्ते
अजब कुझ डब्ब-खड़ब्बे नगन साए
कम्ब रहे सी
दीवारी सप्प त्रेड़ां दे
चुफेरा डंग रहे सी
इह पल मेरे लई दोफाड़ पल सी
दो-चितियां नाल भर्या
दो-नदियां सीत जल सी
मैं तेरे नाल वी नहीं सां
ते तेरे नाल वी मैं सां
मैनूं एसे ही पल
पर कुझ ना कुझ सी फ़ैसला करना
की तेरे नाल है चलना ?
की तेरे नाल है मरना ?
जां उहनां नाल है मरना ?
कि जां तलवार है बणना ?
कि मैनूं गीत है बणना
सी उग्गे रुक्ख सलाखां दे
मेरी इक सोच दे पासे
ते दूजी तरफ़ सन
तेरे उदासे मोह भरे हासे
ते इक पासे खड़े साए सी
जेल्ह बूहआं दे
जिन्हां पिच्छे मेरे यारां दियां
निरदोश चीकां सन
जिन्हां दा दोश एना सी
कि सूरज भालदे क्युं ने
उह आपने गीत दी अग्ग नूं
चौराहीं बालदे क्युं ने
उह आपने दरद दा लोहा
कुठाली ढालदे क्युं ने
ते हत्थकड़ियां दे जंगल विच वी आ
ललकारदे क्युं ने ?
ते फिर मैं कुझ समें लई
इस तर्हां ख़ामोश सां बैठा
कि ना हुन गीत ही मैं सां
सगों दोहां पड़ावां ते खड़ा
इक भार ही मैं सां
इवें ख़ामोश बैठे नूं
मैनूं यारां तों संग आउंदी
कदी मेरा गीत गुंम जांदा
कदे तलवार गुंम जांदी
तूं आ के पुच्छदी मैनूं
कि तेरा गीत कित्थे है ?
ते मेरे यार आ के पुच्छदे
तलवार कित्थे है ?
ते मैं दोहां नूं इह कहन्दा
मेरी दीवार पिच्छे है

मैनूं दीवार वाली गल्ल कहन्दे
शरम जेही आउंदी
कि उस दीवार पिच्छे तां
सिरफ़ दीवार सी रहन्दी
ते मेरी रूह जुलाहे दी
नली वत्त भटकदी रहन्दी
कदे उह गीत वल्ल जांदी
कदे तलवार वल्ल जांदी

ना हुन यारां दा
हत्थकड़ियां दे जंगल 'चों वी ख़त आउंदा
ना तेरा ही पहाड़ी नदी वरगा
बोल सुन पांदा
ते मैं दीवार दे पिच्छे सां हुण
दीवार विच रहन्दा ।

मैं हुन यारां दियां नज़रां च शायद
मर ग्या सां
ते तेरी नज़र विच
मैं बेवफ़ायी कर ग्या सां

पर अज्ज इक देर पिच्छों
सूरजी मैनूं राह कोयी मिलिऐ
ते एसे राह 'ते मैनूं तुरद्यां
इह समझ आई है
कदे वी गीत ते तलवार विच
कोयी फ़रक नहीं हुन्दा
जे कोयी फ़रक हुन्दा है
तां बस हुन्दा सम्यां दा
कदे तां गीत सच्च कहन्दै
कदे तलवार सच्च कहन्दी
है गीतां 'चों ही
हत्थकड़ियां दे जंगल नूं सड़क जांदी
ते हुन इह वकत है
तलवार लै के मैं चला जावां
ते हत्थकड़ियां दे जंगल वाल्यां दी
बात सुन आवां ।

18. जाग शेरा !

तेरा वस्सदा रहे पंजाब
यो शेरा जाग
यो जट्टा जाग ।

अग्ग लाउन कोयी तेरे गिध्यां नूं आ ग्या
सप्पां दियां पींघां तेरे पिप्पलां 'ते पा ग्या
त्रिंञणां च कत्तदी दा रूप कोयी खा ग्या
तेरे वेहड़े विच फिरदे ने नाग
यो शेरा जाग
यो जट्टा जाग ।

खोह के ना लै जान फेर किते होणियां
मावां दियां लोरियां ते नूंहां दियां दौणियां
भैणां दियां चुन्नियां ते वीरां दियां घोड़ियां
किते लुट्ट ना उह जान सुहाग
यो शेरा जाग
यो जट्टा जाग ।

सौंह तैनूं लग्गे तेरे जल्हआं दे बाग़ दी
सौंह तैनूं ऊधमां सराभ्यां दे ख़ाब दी
रखनी ए शान बीबा तूंहीयों ही पंजाब दी
तेरे खिड़दे रहन गुलाब
यो शेरा जाग
यो जट्टा जाग ।

19. करतारपुर विच

घुंम चारे चक्क जहान दे
जद घर आया करतार
करतारपुरे दी नगरी
जिद्हे गल रावी दा हार
जिद्हे झम झम पानी लिशकदे
जिद्ही चांदी-वन्नी धार
लाह बाना जोग फ़कीर दा
मुड़ मल्ल्या आ संसार
कदे मंजी बह अवतारिया
करे दस नहुंआं दी कार
उहदी जीभ जपुजी बैठ्या
ते अक्खीं नाम-ख़ुमार
सुन सोहबा रब्ब दे जीव दी
आ जुड़्या कुल्ल संसार
तद कुल्ल जग्ग चानन हो ग्या
ते मिटे कूड़ अंध्यार
चौंह कूटी शबद इह गूंज्या
उह रब्ब है इक ओंकार ।

20. कणकां दी ख़ुशबो

कणकां दी ख़ुशबो
वे माहिया कणकां दी ख़ुशबो
धरती ने लीती अंगड़ाई
अम्बर पहुंची सोअ
वे माहिया…।

झूमन मेरी गुत्त तों लंमे अज्ज खेतां विच सिट्टे
दाने सुच्चे मोती, मेरे दन्दां नालों चिट्टे
बोहलां विचों भाय पई मारे
मेरे मुक्ख दी लोअ
वे माहिया…।

अज्ज धरती दे बाहीं लटकन सूरज चन्द कलीरे
विच सुगातां तारे भेजे इहदे अम्बर वीरे
इह धरती अज्ज न्हाती धोती
वाल वधाए हो
वे माहिया…।

इह खेती असां मर मर पाली सह के हाड़ स्याला
इस खट्टी 'चों लै दईं मैनूं लौंग बुरजियां वाला
मेहनत साडी फेर पराए
लै ना जावन खोह
वे माहिया कणकां दी ख़ुशबो
धरती ने लीती अंगड़ाई
अम्बर पहुंची सोअ
वे माहिया…।

21. कोह कोह लंमे वाल

मेरे कोह कोह लंमे वाल
वे मेरे हाणियां
जिवें मस्स्या विच स्याल
वे मेरे हाणियां

साह लवां सुज्ज जाए कलेजा ठंडी पौन दा
जांगली कबूतरां नूं साड़ा मेरी धौन दा
वे मैं मारां वीह हत्थ छाल
टप्प जां पिंड तेरे दा खाल
वे मेरे हाणियां
मेरे कोह कोह लंमे वाल…।

नरमे दे फुल्ल जेहा लौंग मेरे नक्क दा
इक गिट्ठ मर के वे मेचा मेरे लक्क दा
मेरी वेख शराबी चाल
इह कणकां झूमन मेरे नाल
वे मेरे हाणियां
मेरे कोह कोह लंमे वाल…।

रंग मेरा फुल्ल जिवें रत्तियां दी वल्ल 'ते
फुल्ल ना वे मारीं किते नील पै जाऊ गल्ल्ह 'ते
मेरा उड्डदा वेख गुलाल
बाग़ीं भौरे पान धुमाल
वे मेरे हाणियां
मेरे कोह कोह लंमे वाल…।

22. कुत्ते

कुत्त्यो रल के भौंको
तां कि मैनूं नींद ना आवे
रात है काली चोर ने फिरदे
कोयी घर नूं सन्न्ह ना लावे ।

उंज तां मेरे घर विच कुझ नहीं
कुझ हउके कुझ हावे
कुत्त्यां दा मशकूर बड़ा हां
रातों डर ना आवे ।

कोयी कोयी पर संगली संग बझ्झा
ऐवें भौंकी जावे
चोरां नूं उह मोड़े काहदा
सगों उलटे चोर बुलावे ।

कुत्त्यो पर इह याद जे रक्खणा
कोयी ना सप्प नूं खावे
जेहड़ा कुत्ता सप्प नूं खावे
सोईयो ही हलकावे ।

ते हर इक हलक्या कुत्ता
पिंड विच ही मर जावे
जेकर पिंडों बाहर जावे
सिर 'ते डांगां खावे ।

उंज जद वी कोयी कुत्ता रोवे
मैं समझां रब्ब गावे
उंज जद वी कोयी कुत्ता रोवे
मैं समझां रब्ब गावे ।

23. खोटा रुपईआ

कल्ल्ह जदों उहनूं मिल के मैं
घर आ रेहा सी
तां मेरी जेब विच चन्न दा ही
इह खोटा रुपईआ रह ग्या सी
ते मैं उहदे शहर विच
सड़कां 'ते थक्क के
बह ग्या सी
नाले ज़ोर दी मैनूं भुक्ख सी लग्गी
ते मैं ड्र्या होया
प्या सोचदा सां
कि मैं हुन की करांगा ?
ते केहड़ी रेल जां बस्स
किंज ते कीकन फड़ांगा ?
ते आपने शहर दे लोकां नूं जा के
की कहांगा ?
उह सोचणगे अजब मूरख सी
की दानिशवरां 'चों सी ?
कि जिस नूं एस गल्ल दा वी
ज़रा अहसास नहीं होया
कि जद वी इस मुलक विच
यार दा मूंह वेखन जाईदै
तां पैसे लै के जाईदै ।
पर उहनां नूं पता की सी
कि पैसे लै के तुर्या सां
पर आपने यार दे बूहे तों
मैं सक्खना क्युं मुड़्या सां ?

मैं सत के उह रुपईआ
योस दिन दर्या च जद सुट्ट्या
ते आपना सीस आपने गोड्यां 'ते
रक्ख के थक्क्या
कयी चिर चन्न दा
खोटा रुपईआ तैरदा तक्क्या ।

24. कंधां

कंधां कंधां कंधां
एधर कंधां ओधर कंधां
किंज कंधां 'चों लंघां
मेरे मत्थे दे विच वज्जण
मेरे घर दियां कंधां
मेरे घर नूं पईआं खावण
मेरे घर दियां कंधां
मैनूं 'मूरख' जग्ग इह आखू
जे कंधां नूं भंडां
मैनूं सभ्भे कंधां लग्गण
मैं की कंधां तों मंगां
मेरे मत्थे दे विच कंधां
कंधां दे विच कंधां
दिल करदा ए सूली चाड़्हां
इह सभ्भे ही कंधां
मेरे ढिड्ड विच कंधां कंधां
केहनूं केहनूं वंडां
मैनूं जग ने कंधां दितियां
मैं की जग नूं वंडां ?

25. पुरानी अक्ख

पुरानी अक्ख मेरे मत्थे 'चों कढ्ढ के
सुट्ट द्यु किधरे
इह अन्न्ही हो चुक्की है
मैनूं इस अक्ख संग
हुन आपना आपा वी नहीं दिसदा
तुहानूं किंझ वेखांगा
बदलदे मौसमां दी अग्ग सावी
किंझ सेकांगा ?

इह अक्ख कैसी है जिस विच
पुट्ठे चमगिद्दड़ां दा वासा है
ते पुशतो-पुशत तों जंमी होई
बुढ्ढी निराशा है
ना इस विच दरद है राई
ते ना चानन ही मासा है

इह अक्ख मेरे आदि पित्तरां नूं
समुन्दर 'चों जदो लभ्भी
उहनां सूरां दे वाड़े विच
त्रक्की बोय च आ दब्बी
ते मेरे जनम छिन वेले
मेरे मत्थे च आ गड्डी
ते फिर सूरां दे वाड़े विच
कयी दिन ढोलकी वज्जी ।

ते फिर सूरां दे वाड़े विच
मैं इक दिन कहन्द्यां सुण्या-
"इह अक्ख लै के कदे वी इस घर चों
बाहर जाईं ना
जे बाहर जाएं तां पुत्तरा
कदे इहनूं गवाईं ना
इह अक्ख जद्दी अमानत
इह गल्ल बिलकुल भुलाईं ना
ते कुल नूं दाग़ लाईं ना ।"

"इस अक्ख संग खूह च तारे वेख लईं
सूरज पर ना वेखीं
इस अक्ख दे गाहक लक्खां मिलणगे
पर अक्ख ना वेचीं
बदलदे मौसमां दी अग्ग सावी
कदे ना सेकीं ।"

इह अक्ख लै के जदों वी मै किते
परदेस नूं जांदा
मेरे कन्नां 'चों पित्तरां दा
केहा हर बोल कुरलांदा
'ते मैं मत्थे 'चों अक्ख कढ्ढ के
सदा बोझे च पा लैंदा ।
मै कोयी सूरज तां की
सूरज दिया किरनां वी ना तक्कदा
हमेशा खूह च रहन्दे तार्यां दे
नाल ही हस्सदा
ते बल के बुझ गई अक्ख संग
कयी राहियां नूं राह दस्सदा ।

पर अज्ज इस अक्ख नूं
मत्थे च ला जद आप नूं लभ्भ्या
मैनूं मेरा आप ना लभ्भ्या
मैनूं मेरी अक्ख पुरानी होन दा
धक्का जेहा लग्ग्या
ते हर इक्क मोड़ 'ते मेरे पैर नूं
ठेडा जेहा वज्ज्या ।

मेरे मित्तरो ! इस दोश नूं
मेरे 'ते ही छड्डो
तुसीं होछे बणोगे
जे मेरे पित्तरां दे मूंह लग्गे
तुसीं कुत्त्यां दी पिट्ठ 'ते बैठ के
जलूस ना कढ्ढो
ते लोकां साहमने मैनूं
तुसीं अन्न्हा तां ना सद्दो
सगों मैनूं तुसीं सूरां दे वाड़े
तीक तां छड्डो
मै शायद गुंम ग्या हां दोसतो
मेरा घर कितों लभ्भो ।

मै इह अक्ख अज्ज ही
सूरां नूं जा के मोड़ आवांगा
ते आपने सीस विच
बलदी, सुलगदी अक्ख उगावांगा
जो राह सूरज नूं जांदा है
तुहाडे नाल जावांगा
बदलदे मौसमां दी अग्ग
तुहाडे नाल सेकांगा
बदलदे मौसमां दी अग्ग
तुहाडे नाल खावांगा ।

26. रुक्ख

कुझ रुक्ख मैनूं पुत्त लगदे ने
कुझ रुक्ख लगदे मावां
कुझ रुक्ख नूंहां धियां लग्गदे
कुझ रुक्ख वांग भरावां
कुझ रुक्ख मेरे बाबे वाकण
पत्तर टावां टावां
कुझ रुक्ख मेरी दादी वरगे
चूरी पावन कावां
कुझ रुक्ख यारां वरगे लगदे
चुंमां ते गल लावां
इक मेरी महबूबा वाकण
मिट्ठा अते दुखावां
कुझ रुक्ख मेरा दिल करदा ए
मोढे चुक्क खिडावां
कुझ रुक्ख मेरा दिल करदा ए
चुंमां ते मर जावां
कुझ रुक्ख जद वी रल के झूमण
तेज़ वगन जद वावां
सावी बोली सभ रुक्खां दी
दिल करदा लिख जावां
मेरा वी इह दिल करदा ए
रुक्ख दी जूने आवां
जे तुसां मेरा गीत है सुणना
मैं रुक्खां विच गावां
रुक्ख तां मेरी मां वरगे ने
ज्युं रुक्खां दियां छावां ।

27. शरमशार

इक उदासी शाम वरगी
कुड़ी मेरी यार है
ख़ूबसूरत बड़ी है
पर ज़ेहन दी बिमार है
रोज़ मैथों पुच्छदी है
सूरज द्यां बीजां दा भाअ
ते रोज़ मैथों पुच्छदी है
इह बीज किथों मिलणगे ?
मैं वी इक सूरज उगाउणा
लोचदी हां देर तों
क्युं जो मेरा कुक्ख संग
सदियां तों इह इकरार है
सूरज नूं ना जंमन लई
कच्चे जिसम 'ते भार है
ते उस दिन पिछों मेरी हुण
धुप्प शरमशार है ।

28. सप्प

कुंडली मार के
बैठा होया सप्प याद करदा है
ते सप्प सपनी तों ड्रदा है
उह अकसर सोचदा है,
ज़हर फुल्लां नूं चड़्हदा है कि
जां कंड्यां नूं चड़्हदा है
सप्प विच ज़हर हुन्दा है
पर कोयी होर मरदा है,
जे सप्प कील्या जावे
तां उह दुद्ध तों वी ड्रदा है
सप्प कविता दा हानी है
पर उह लोकां नूं लड़दा है
सप्प मोया होया वी जी पैंदा
जदों उह अग्ग च सड़दा है
सप्प 'न्हेरे तों वी नहीं ड्रदा,
पर उह दीवे तों ड्रदा है
सप्प वाहणां च नस्सदा है
ना पर कंधां 'ते चड़्हदा है
पर कुंडली मार के बैठा होया सप्प
गीत पड़्हदा है ।

29. लच्छी कुड़ी

काली दातरी चन्नन दा दसता
ते लच्छी कुड़ी वाढियां करे
उहदे नैणां विच लप्प लप्प कज्जला
ते कन्नां विच कोकले हरे ।

मुक्ख ते पसीना उहदे खावे इंज मेल नी
जिवें हुन्दी कंमियां 'ते कत्ते दी त्रेल नी
उहदी हत्थ जेडी लंमी धौन वेख के
पैलां पाउणों मोर वी ड्रे
काली दातरी…।

रंग दी प्यारी ते शराबी उहदी टोर नी
बाग़ां विचों लंघदी नूं लड़ जांदे भौर नी
उहदे वालां विच मस्स्या नूं वेख के
किन्ने चन्न डुब्ब के मरे
काली दातरी…।

गोरे हत्थीं दातरी नूं पायआ ए हनेर नी
वढ्ढ वढ्ढ लायी जावे कणकां दे ढेर नी
उहनूं धुप्प विच भखदी नूं वेख के
बद्दलां दे नैन ने भरे
काली दातरी चन्नन दा दसता
ते लच्छी कुड़ी वाढियां करे…।

30. सूबेदारनी

लड़ लग्ग के नी फ़ौजी दे सहेलीउ
बन गई मैं सूबेदारनी
सलूट रंगरूट मारदे
जदों छौणियां 'चों लंघां उहदे नाल नी ।
बन गई मैं सूबेदारनी ।

बैरकां च धुंम पै गई
सूबेदारनी ने जट्टी कितों आंदी
सप्पनी दी टोर टुरदी
पैरीं काले सलीपर पांदी
परेट वांग धमक पवे
जदों पुट्टदी पंजेबां वाले पैर नी !
बन गई मैं सूबेदारनी ।

हाए नी मैं किंज नी दस्सां
उहदी दिक्ख नी सूरजां वाली
गश पवे मोराकीन नूं
तक्क वरदी फीतियां वाली
हक्क उत्ते वेख तमगे
मेरा कम्ब जाए मोहरां वाला हार नी ।
बन गई मैं सूबेदारनी ।

नी रब्ब कोलों ख़ैर मंगदी
नित्त उहदियां मैं सुक्खां नी मनावां
मेरे जहियां सत्त जनियां
उहदे रूप तों मैं घोल घुमावां
नी मेरी उहनूं उमर लग्गे
राखा देश दा उह पहरेदार नी ।
बन गई मैं सूबेदारनी ।

31. शहीदां दी मौत

मौत शहीदां दी जो लोकी मरदे ने
उह अम्बर ते तारा बण के चड़दे ने
जान जेहड़ी वी
देश दे लेखे लग्गदी है
उह गगनां विच
सूरज बण के दघदी है
उह असमानी बद्दल बण के सरदे ने ।
मौत शहीदां दी जो लोकी मरदे ने ।

धरती उप्पर जिन्ने वी ने
फुल्ल खिड़दे
उह ने सारे ख़ाब
शहीदां दे दिल दे
फुल्ल उहनां दे लहूआं नूं ही लग्गदे ने
मौत शहीदां दी जो लोकी मरदे ने ।

कोयी वी वड्डा सूरा नहीं
शहीदां तों
कोयी वी वड्डा वली नहीं
शहीदां तों
शाह, गुनी विदवान उहनां दे बरदे ने ।
मौत शहीदां दी जो लोकी मरदे ने ।

32. ट्रैकटर 'ते

जट्ट मुच्छ नूं मरोड़े मारे
चड़्ह के ट्रैकटर ते
बल्ले बल्ले बई चड़्ह के ट्रैकटर 'ते
शावा शावा बई चड़्ह के ट्रैकटर 'ते ।

बल्ले बल्ले बई रक्कड़ीं स्याड़ कढ्ढदा
गोरी वाल जिवें कोयी वाहवे
नाल नाल बीज केरदा
जिवें विधवा कोयी मांग सजावे
मैनूं तां बई इंझ लग्गदा
जिवें मिट्टी विच्च बीजदा ए तारे
चड़्ह के ट्रैकटर 'ते...।

बल्ले बल्ले बई आडां विच्च पानी वगदे
रन ढट्ठियां जिवें तलवारां
झूंमन इंझ फ़सलां
जिवें गिद्धे विच्च नच्चदियां नारां
नाल बैठी जट्टी हस्सदी
जिवें माणदी होए पींघ दे हुलारे
चड़्ह के ट्रैकटर ते...।

बल्ले बल्ले बई सायंस दा है युग्ग आ ग्या
हुन रहणियां किते वी ना थोड़ां
हरे हो शादाब झूंमणा
रड़े, रक्कड़ां, बेल्या रोड़ां
मित्त्रां दी गड़वी जेहे
मिट्ठे होणगे संमुदर खारे
चड़्ह के ट्रैकटर ते…।

33. थोड़े बच्चे

थोड़े बच्चे सौखी जान
आप सुखी सौखी संतान ।

इक्क दो दा मूंह भर सकदा है शक्कर घी दे नाल
बहुत होन तां भांडे खड़कन ना आटा ना दाल
ना रज्ज खावन, ना रज्ज पीवन, ना ही रज्ज हंढाण
थोड़े बच्चे सौखी जान
आप सुखी सौखी संतान !

इक्क दो होन तां भर्या लगदा हस्सदा हस्सदा वेहड़ा
बहुते होन ता चीक-चेहाड़ा नित्त दा झगड़ा झेड़ा
भट्ठ पवे उह सोना जेहड़ा पवे कन्नां नूं खाण
थोड़े बच्चे सौखी जान
आप सुखी सौखी संतान ।

इक्क दो होन तां ईकन जीकन फुल्लां दी मुसकाण
बहुते होन तां ईकन जीकन कंड्यां लद्दी टाहण
केहड़ा माली चाहे उस दे फुल्ल कंढे बण जान
थोड़े बच्चे सौखी जान
आप सुखी सौखी संतान ।

34. सद्दा

चड़्ह आ चड़्ह आ चड़्ह आ
धरती 'ते धरती धर आ
अज्ज सारा अम्बर तेरा
तैनूं रोकन वाला केहड़ा

छड्ड दहलीजां
छड्ड पौड़ियां
छड्ड पर्हां इह वेहड़ा
तेरे दिल विच्च चिर तों 'न्हेरा
इह चन्न शुदाईआ तेरा
इह सूरज वी है तेरा
चड़्ह आ चड़्ह आ चड़्ह आ
तैनूं पुच्छन वाला केहड़ा ?

सूरज दा नां तेरा नां है
चन्न दा नां वी तेरा
दसे दिशावां तेरा नां है
अम्बर दा नां तेरा
तूं धुप्पां नूं धुप्पां कह दे
तेरे नाल सवेरा
फ़िकर रता ना कर तूं इहदा
गाहलां कढ्ढदै न्हेरा
चड़्ह आ चड़्ह आ चड़्ह आ
ते पा अम्बर विच्च फेरा

धरती छड्डनी मुशकिल नाहीं
रक्ख थोहड़ा कु जेरा।
अम्बर मल्लना मुशकिल नाहीं
जे नां लै दएं मेरा
चड़्ह आ चड़्ह आ चड़्ह आ।
तूं लै के नां अज्ज मेरा

इह चन्न शुदाईआ तेरा।
इह सूरज वी है तेरा।
चड़्ह आ चड़्ह आ चड़्ह आ।
धरती ते धरती 'धर आ लुच्ची धरती

अम्बर दा जद कम्बल लै के
धरती कल्ल्ह दी सुत्ती
मैनूं धरती लुच्ची जापी
मैनूं जापी कुत्ती ।

सदा ही राज-घरां संग सुत्ती
राज-घरां संग उट्ठी
झुग्गियां दे संग जद वी बोली
बोली सदा ही रुक्खी।

इह गल्ल वक्खरी है कि उन्हां
अक्खियां उपर चुक्की
उह इहनूं 'मां' कहन्दे हन
भावें इह कपुत्ती ।

उन्हां इहनूं लाड लडायआ
पर इह रुस्सी-रुस्सी
कयी वारी इहदी इज़्ज़त रल के
सौ सिकन्दरां लुटी ।

इहने राज-घरां 'चों आ के
फिर वी बात ना पुच्छी ।

अज्ज तों मैं इहनूं लुच्ची कहन्दा
अज्ज तों मैं इहनूं कुत्ती
कल्ल तक जेहड़ी मां वाकन मैं
अक्खियां 'ते सी चुक्की ।

36. मेरी झांजर तेरा नां लैंदी

मेरी झांजर तेरा नां लैंदी
करे छंम,छंम,छंम
ते मैं समझां इह चन्न कहन्दी
मेरी झांजर तेरा नां लैंदी ।

गिद्ध्या च होवां जां मै झूम झूम नच्चदी
नां तेरा मेरिया सहेलियां नूं दस्सदी
निक्का निक्का रोवे नाले मिट्ठा मिट्ठा हस्सदी
जे मैं झिड़कां चन्दरी रुस्स बहन्दी
मेरी झांजर तेरा नां लैंदी ।

माही कोलों संगदी संगांदी जां मै लंघदी
टुट्ट पैनी सूली उत्ते जान मेरी टंगदी
भिज्ज जां पसीने नाल ते मैं जावां कम्बदी
जिवे अंग उत्ते माड़ी माड़ी भूर पैंदी
मेरी झांजर तेरा नां लैंदी ।

जदों कदे जंग तों है चिट्ठी तेरी आंवदी
रातां नूं इह लुक लुक रोंवदी ते गांवदी
पड़ पड़ ख़त तेरा सीने नाल लांवदी
नित्त सुपने च माही दे इह कोल रहन्दी
मेरी झांजर तेरा नां लैंदी ।

37. सच्चा वणजारा

जदों सच्च वेहाज वणजारा
ख़ाली हत्थ घरे नूं आया
उहनूं बाबल तां देंदा ई झिड़कां
कित्थे पैसा तां रोहड़ गवायआ
की उहनूं लुट्ट्या काले चोरां
जां कोयी ठग्ग बनारसी धायआ
हस्सन बैठ त्रिंजनी तन्दां
गल्लां करे बोहड़ां दा सायआ
मन्दा बोले कराड़ बैठा हट्टी
हस्से खूआं 'ते डोल ज़ंग्याया
उहनूं अम्बड़ी तां देंदी आ मत्तां
नाले घुट्ट कलेजड़े लायआ
कहन्दी पुत्त ना आंवदे ई हत्थीं
पैसा पुत्तां तों घोल घुमायआ
कल्ली होए ना वणां विच टाहली
कल्ला होए ना किसे दा जायआ
पुतीं गंढ पवे संसारीं
पुत्तां बाझों तां देश परायआ,
खूंजीं बैठ सुलक्खनी रोंदी
झोली बाबल ने वर केहा पायआ
जिद्ही रब्ब सच्चे संग यारी
उहनूं पोहे की रूप सवायआ
तद बेबे नानकी बोली
काहनूं फिरे जी बाबल घबरायआ
कदे रब्ब वी बैठदा ए हट्टी
कदों रब्ब ने वनज कमायआ
हट्टी बहन कराड़ियां दे जाए
मेरा वीर तां रब्ब दा जायआ
मेरे नाल टोरो मेरा वीरा
इंज नाल रहवां जिवें सायआ
चल्ले नाल सुलतानपुर लोधी
जित्थे मुलख वनज नूं धायआ ।
उथे लोधी दे दरबारे
सौ कंम जे रब्ब ने चाहआ ।

38. सच्चा साध

तद भागो दे घर बाहमणां दी
आ लत्थी इक जंञ
कयी साधू, गुनी महातमा
कन्न पाटे नांगे नंग
कयी जटा जटूरी धारीए
इकनां दी होयी झंड
इकनां सिर जुड़ियां लिंभियां
इकनां दे सिर विच गंज
इकनां दियां गज़ गज़ बोदियां
ते गल सूतर दी तन्द
इक मल के आए भबूतियां
ज्युं नील कंठ दा रंग
होए ख़ाली मट्ठ जहान दे
आए डेरे छड्ड मलंग
इक आए अक्क धतूरा पींवदे
इकनां ने पीती भंग
खा खीरां इंज डकारदे
ज्युं घोगड़ कां दा संघ
पर सच्चा साध ना परत्या
उस कोधरा खाधा मंग ।

39. सागर ते कणियां

जा के ते इह जुआनी
मुड़ के कदी ना आउंदी ।
सागर च बून्द रल के
मुड़ शकल ना वखाउंदी ।

इक दो घड़ी दी मिलणी
किसे अज़ल तों लंमें,
हर आह फ़लसफ़े दा
कोयी गीत गुणगुणाउंदी ।

ज़िन्दगी दे मेल हरदम
आसां ते रहन नच्चदे,
आवे निगाह तों छोहली
पयी मौत मुसकराउंदी ।

साहां दी रास लुट्ट लई
महरम दे लार्यां ने,
गंगा वी चात्रिक दी
नहीं प्यास है बुझाउंदी ।

रब्ब नां इशक दा सुणिऐं
कहन्दे ने इशक रब्ब है,
क्युं जग्ग इशक दा वैरी
है सोच वैन पाउंदी ।

40. ला दे ज़ोर

ला दे ज़ोर हई्ईआ ।
थोड़ा होर हई्ईआ ।
मंज़िल तैनूं वाजां मारे
कर लै तिक्खी तोर ।
ला दे ज़ोर, हई्ईआ ।

ला महन्दी पैरां नूं तेरे
घर प्रभातां आईआं
मत्थे उत्तों पूंझ पसीना
वे मेहनत द्या साईआं
इक दिन मोती बण जावणगे
पैरां विचले रोड़ ।
ला दे ज़ोर, हई्ईआ ।

वेख चुतरफ़ी तेरे ने अज्ज
मुड़्हके नूं फुल्ल लग्गे
सागर,परबत सिजदे करदे
तेर्यां कदमां अग्गे
तेरे पैर ब्याईआं पाटे
देन किसमतां मोड़ ।
ला दे ज़ोर, हई्ईआ ।

तूं कल्ल्ह दी धरती दा वारिस
तूं कल्ल्ह दा शहज़ादा
परबत नूं पानी कर देवे
तेरा ठोस इरादा
तेरे लई लै ताज सूरजी
आ रही कल्ल्ह दी भोर ।
ला दे ज़ोर, हई्ईआ ।
थोड़ा होर, हई्ईआ ।

41. लाल तिकोन

दए सुनेहा लाल तिकोन ।
बच्चे तिन्न तों वद्ध ना होन ।

अव्वल होवन तां इक जां दो
जीकन दो अक्खां दी लोअ
खावन खंड, खीर ते घ्यु
बहुते होन तां भुक्खे रोन ।
दए सुनेहा…।

सीमत रह सकदी संतान
हुन तां साथी है विग्यान
हुन नहीं हुकमरान भगवान
हुन तां हो सकदी है चोन ।
दए सुनेहा…।

हंस उडींदे कल्ले कारे
शेरां दे ना हुन्दे वाड़े
लालां नालों पत्थर भारे
फिर क्युं मापे पत्थर ढोन ।
दए सुनेहा लाल तिकोन ।
बच्चे तिन्न तों वद्ध ना होन ।

42. लफ़ज़

मैं कल्ल्ह लफ़ज़ चुणदा सी
इक लफ़ज़ बोहड़ 'ते बैठा सी
ते इक पिप्पल 'ते
इक मेरी गली विच
ते इक घड़े विच प्या सी
इक हरे रंग दा लफ़ज़ खेतां विच प्या सी
इक काले रंग दा लफ़ज़ मास खा रेहा सी
इक नीले रंग दा लफ़ज़
सूरज दा दाना मूंह विच लई उड्ड रेहा सी
मैनूं दुनियां दी हर इक चीज़ लफ़ज़ लगदी है
अक्खां दे लफ़ज़
हत्थां दे लफ़ज़
पर बुल्ल्हां दे लफ़ज़ समझ नहीं आउंदे
मैनूं सिरफ़ लफ़ज़ पड़्हने आउंदे ने
मैनूं सिरफ़ लफ़ज़ पड़्हने आउंदे ने ।

43. मौत दे राह

इह नफ़रत दे पैंडे, इह रोसे, उलांभे
इह मग़रूर यारी, इह ज़िल्लत दे कांबे
इह बे-पाक राहवां, इह असमत दे झांभे
मैं वर्हआं तों सूली दे दुख मर रेहा हां ।

उह किथे ने किथे ओ बन्दे ख़ुदा दे ?
उह किथे ने हुसनां दे परदे हया दे ?
उह किथे ने नग़मे वतन दी फ़िज़ा दे ?
मैं वर्हआं तों रोंदे हुसन वर रेहा हां ।

उह किथे है 'हाशम' ते किथे है 'वारिस' ?
उह किथे है मुहब्बतां दा निघ्घा जेहा रस ?
उह किथे है हिजरां दी सुत्ती होयी ढारस ?
मैं रातां विच सूरज दी लो कर रेहा हां ।

पंजेबां दी छण छण ना चरखी दी घूकर
ना महन्दी दी लाली, झनावां दी शूकर
ना सिक्कां, ना चावां, ना तांघां दी हूकर
मैं वर्हआं तों मौतां दे साह भर रेहा हां ।

ना वंझली, ना बेले, ना पाली, अय्याली
ना अम्बां दे बूटे, ना कोइल, ना माली
ना सोयां दे फुल्लां ते टहके हिराली
मैं वर्हआं तों वीरानियां हर रेहा हां ।

ना वारी सदकड़े, ना लोरी ना भैणां
ना मावां दे दुद्धां च शेरां दा रहणा
ना वीरां दे जज़बे, ना प्रीतां दी मैणां
मैं वर्हआं तों कहरां दे विच मर रेहा हां ।

यो यारो, ओ यारो ! उह वारस नूं लभ्भो
यो कबरां विच सुत्ते होए बे-ख़ौफ़ रब्बो
यो गलियां च भौंदा उह दीवाना लभ्भो
मैं वर्हआं तों सुक्की झनां तर रेहा हां ।

यो आयो, ओ आयो, वतन नूं संभालो,
उह कुरलाट सहकी प्रीतां नूं पालो,
उह दरदां नूं छन्नां ज़हर दा प्यालो,
मैं हुसनां दे हुसनां च रस झर रेहा हां ।

44. नवीं सवेर

जागी नवीं सवेर, बेलीयो !
जागी नवीं सवेर
किरनां उग्गियां नूर पसर्या, होया दूर हनेर
जागी नवीं सवेर ।

साडे घर दीवाली आई, बीत ग्या बनवास
साडा ख़ून ते साडी मेहनत आ गए सानूं रास
कामे दे सिर सेहरा बझ्झा
सोचीं प्या कुबेर, बेलीओ
जागी नवीं सवेर ।

नवीं वंझली नवें तराने, छिड़ गए ने नव-राग
सदियां झल्ली असां गुलामी, हुन मिल्या सवराज ।
अज्ज साडी इस सोन-चिड़ी दे
फुट्ट पए ने पर फेर, बेलीओ
जागी नवीं सवेर ।

न्हेरे दे संग घुलदे हो गए लक्खां चन्न शहीद
लहूआं दे संग न्हा के आई, चन्नां वाली ईद
जुगां जुगां तक अमर रहणगे
उह भारत दे शेर, बेलीओ
जागी नवीं सवेर ।

किरनां उग्गियां नूर पसर्या, होया दूर हनेर ।
बेलीयो, जागी नवीं सवेर ।

45. फांसी

मेरे पिंड दे किसे रुक्ख नूं
मैं सुणिऐ जेल्ह हो गई है
उहदे कई दोश हन :
उहदे पत्त साव्यां दी थां
हमेशा लाल उगदे सन
बिनां 'वा दे वी उड्डदे सन

उह पिंड तों बाहर नहीं
पिंड दे सगों उह खूह च उग्ग्या सी
ते जद वी झूमदा तां उह सदा छावां हिलांदा सी
ते धुप्पां नूं ड्रांदा सी
ते राहियां नूं तुरे जांदे उह
धुप्पां तों बचांदा सी
ते पानी भरदियां कुड़ियां नूं
धी कह के बुलांदा सी

ते इह वी सुनन विच आइऐ
कि उसदे पैर वी कई सन
ते उह रातां नूं तुरदा सी
ते पिंड दे सार्यां रुक्खां नूं मिल के
रोज़ मुड़दा सी
ते अद्ध-रैनी हवा दी गल्ल करके
रोज़ झुरदा सी
भला यारो अजब गल्ल है
मैं सारी उमर सभ रुक्खां दियां
शाखां तां तक्कियां सन
की रुक्खां दे वी मेरे दोसतो
किते पैर हुन्दे ने ?

ते अज्ज अख़बार विच पड़्हऐ
कि उह हथ्यार-बन्द रुक्ख सी
उहदे पल्ले बन्दूकां, बम्ब ते लक्खां संगीनां सी

मैं रुक्खां कोल सदा रहन्दियां
छावां तां सुणियां सन
पर बम्बां दी अजब गल्ल है ?

ते इह झूठी ख़बर पड़्ह के
मैनूं इतबार नहीं आउंदा
कि उसने पिंड दे
इक होर रुक्ख नूं मार दित्ता है
जेहड़ा पिंड दे शाहवां दे घर
वेहड़े च उग्ग्या सी
जिस तों रोज़ कोयी काग
चुगली करन उड्ड्या सी

ते अज्ज किसे यार ने दस्सिऐ
जो मेरे पिंड तों आइऐ
कि मेरे उस पिंड दे रुक्ख नूं
फांसी वी हो रही है
ते उहदा प्यु किक्करां वरगा
ते मां बेरी जेही हो रही है ।

46. राशन कर दे

रब्बा जग्ग 'ते राशन कर दे
इक पुत्तर इक धी
बच जाऊ साडा जगत जलन्दा
तेरा जांदा की ।

जे तूं जग्ग ते भेजी तुर्या
इंज हेड़ां दियां हेड़ां
इक इक घर विच हो जावणगे
बच्चे तेरां तेरां
चब्ब जाणगे धरती तेरी
जासन सागर पी ।
रब्बा जग्ग 'ते…।

अग्गे ही तेरी मेहर बड़ी है
थां थां जुड़ियां भीड़ां
पंचवटी दे बाहर मार दे
लछमन वांग लकीरां
भावें तेरी जोत कोयी बाले
पा के देसी घी ।
रब्बा जग्ग 'ते…।

रब्बा जे तूं राशन कर दएं
हो जाए मौज बहार
आए साल ना हर घर होए
माडल नवां त्यार
रोज़ रोज़ ना होए किसे दा
कच्चा कच्चा जी ।
रब्बा जग्ग 'ते राशन कर दे
इक पुत्तर इक धी ।

47. रातां कालियां

झुरमट बोले, झुरमट बोले
शारा…रारा…रा
रातां कालियां कल्ली नूं डर आवे
हाए ओए रातां कालियां
चुन्नी लैणी, चुन्नी लैनी चीन-मीन दी
जेहड़ी सौ दी सवा गज़ आवे
हाए ओए रातां कालियां ।

झुरमट बोले, झुरमट बोले
बोले काले बाग़ीं
जीकन डार कूंजां दी बैठी
रुदन करेंदी ढाबीं
वीर तेरे बिन नींद ना आवे
जागीं नणदे जागीं
रातां कालियां कल्ली नूं डर आवे
हाए ओए रातां कालियां ।

झुरमट बोले, झुरमट बोले
बोले नी विच राहवां
सोने चुंझ मड़्हावां तेरी
उड्डीं वे काल्या कावां
माही मेरा जे मुड़े लाम तों
कुट्ट कुट्ट चूरियां पावां
रातां कालियां कल्ली नूं डर आवे
हाए ओए रातां कालियां ।

झुरमट बोले, झुरमट बोले
बोले नी विच रोहियां
कंत जिन्हां दे लामीं टुर गए
उह ज्यूंदे जी मोईआं
मेरे वाकन विच ज़माने
उह होईआं ना होईआं
रातां कालियां कल्ली नूं डर आवे
हाए ओए रातां कालियां ।

48. सत्त बच्चे

साडे वेहड़े हो गए भीड़े
नीवें छत्त हो गए
पंज पुत्त ते दो धियां
बच्चे सत्त हो गए ।

हुन खान दा ते पाउन दा वी हज्ज कोयी ना
सुक्के टुक्करां दे नाल हुन्दा रज्ज कोयी ना
मूंह बच्च्यां दे धोंदे
असीं बस्स हो गए
पंज पुत्त…।

ना कोयी पड़्हआ पड़्हायआ, इक हट्टी ते बहायआ
इक दरज़ी दे पायआ, इक भूआ दे पुचायआ
असीं जींदे जी ही
गलियां दे कक्ख हो गए
पंज पुत्त…।

होईआं कुड़ियां जवान, हत्थ कोठ्यां नूं पाण
इको कल्ली-कारी जान, नित्त जांदी ए कमाण
उहो वेला जदों किते
पीले हत्थ हो गए
पंज पुत्त…।

गल्ल बुढ्ढ्यां दी मन्नी, रोड़ी बुक्कलां च भन्नी
धाड़ बच्च्यां दी जंमी, गल्ल अट्ठवीं ना मन्नी
मेरे उदों तों नराज़
सहुरा सस्स हो गए
पंज पुत्त…।

49. तिरंगा

झंड्या तिरंग्या निराली तेरी शान एं
सारे देश वासियां नूं तेरे उत्ते मान एं

इक इक तार तेरी
जापे मूंहों बोलदी
मुल्ल है आज़ादी सदा
लहूआं नाल तोलदी
उच्चा साडा अम्बरां 'ते झूलदा निशान एं
झंड्या तिरंग्या निराली तेरी शान एं

सावा रंग तेरा दस्से
खेतियां दे रंग नूं
पहन बाना केसरी
शहीद जान जंग नूं
चिट्टा रंग तेरा साडा शांती दा विधान एं
झंड्या तिरंग्या निराली तेरी शान एं

तिन्ने रंग 'कट्ठे हो के
एकता नूं दस्सदे
तेरी छायआ हेठ
सारे भायी भायी वस्सदे
चक्कर अशोक दा विकास दा निशान एं
झंड्या तिरंग्या निराली तेरी शान एं
सारे देश वासियां नूं
तेरे उत्ते मान एं ।

50. सांझी खेती

आ वीरा वंड लईए भार
सांझी खेती सांझी कार
सांझी जित्त ते सांझी हार ।

सांझे होवन सुपने साडे, सांझे होवन खेत
सांझे जंमन मरन असाडे, सांझे होवन भेत
चांदी-वन्ना पानी पी के सोना उगले खेत
तेरी हल्ल पंजाली नूं रही
बंजर धरत पुकार आ वीरा वंड लईए भार ।

सांझां दे विच बरकत वस्से, सांझां दे विच खेड़ा
सांझां विच प्रमेशर वस्सदा सांझा सभ दा वेहड़ा
बून्द बून्द बण सागर बणदा लकड़ी लकड़ी बेड़ा
गोते खावे जिन्द इकल्ली
सांझ उतारे पार आ वीरा वंड लईए भार ।

सभे सांझीवाल सदायन, होवे साडा नाअरा
मेर तेर दे फ़रकां वाला, मिट जाए पाड़ा सारा
ना कोयी दूयी तकब्बर रह जाए, ना नफ़रत ना साड़ा
सच्ची स्याने मत्त देंदे
सांझां नाल बहार आ वीरा वंड लईए भार ।

51. सवेर आई

नवीं नी सवेर आई हा हा हा
नवीं नी सवेर आई हो हो हो

कोयी वी ना रहना हुन बेरुज़गार
अनपड़्हता नूं कोयी मिलनी ना ठार्ह
रत्त साडे सूरम्यां दा
चड़्हदे दे पत्तणां ते
लाली नी खलेर आई हा हा हा
नवीं नी सवेर आई हो हो हो ।

जाम तों वी वद्ध इह संभालना है नूर
डंडियां ने लभ्भ पईआं मंज़लां ने दूर
याद नी प्यारी उन्हां
डुब्बे होए सूरजां दी
बन के उशेर आई हा हा हा
नवीं नी सवेर आई हो हो हो

लोटूआं ते ज़ालमां दा जुग्ग रेहा बीत
महलां विच जागदे ने पैलियां दे गीत
हत्थां दी है एकता इह
धाड़वी ते डाकूआं लई
बन के हनेर आई हा हा हा
नवीं नी सवेर आई हो हो हो

52. वज्जे ढोल

ढोल वज्जे ढोल
दूर पत्तणां दे कोल
आईआं ने बहारां अज्ज साडी गुलज़ार विच
पत्ता पत्ता बोल रेहा
अमनां दे बोल
ढोल वज्जे ढोल
दूर पत्तणां दे कोल ।

जाग्या जवान जाग्या किसान
उच्चे अम्बरां तों उच्चा आपना निशान ।
इक रण विच वाढी वैरियां दी करदा ए
इक पैलियां च लावे
दाण्यां दे बोल्ह ।
ढोल वज्जे ढोल
दूर पत्तणां दे कोल ।

झूम रहे खेत जाग प्या देश
सोना चांदी बण जाऊ हुन साडी रेत ।
बून्द बून्द बण जेहड़ा डुल्हेगा पसीना अज्ज
कल्ल्ह इहो तुलना एं
मोतियां दे तोल ।
ढोल वज्जे ढोल
दूर पत्तणां दे कोल ।

53. शेर माही

माही मेरा शेर जापदा
जद कर के परेट घर आवे
कदे नी गरेजी बोलदा
कदे जंग दियां क्हाणियां सुणावे ।

रातीं मेरे कोल बह ग्या
गल्ल करदी नूं आवे डाढी संग नी
उट्ठदी बांह फड़ के
मार खिच्चा मेरी तोड़ दित्ती वंग नी
मैनूं कहन्दा गा नी बल्लीए
आप बुल्ल्हां नाल ढोलकी वजावे
माही मेरा शेर जापदा…।

वेख वेख उहनूं हस्सदा
गल्ल्हां सूहियां होन मेरियां संधूरियां
कदे नहीउं मन्दा बोलदा
कदे मत्थे उत्ते पाउंदा नहीउं घूरियां
अज्ज कहन्दा मेले चल्लीए
हाले कल्ल्ह तां आई आं मुकलावे ।
माही मेरा शेर जापदा…।

जदों किते कदे वी
मैं उहदे नाल रुस्सियां
दवे नी ड्रावा
आखे मुक्क गईआं छुट्टियां
फड़ के ट्रंकी नूं
पा के वरदी त्यार हो जावे
माही मेरा शेर जापदा
जद कर के परेट घर आवे ।

54. वे माहिया

लंघ ग्या वे माहिया
सावन लंघ ग्या
सारी धरत ललारी
सावी रंग ग्या ।

हान मेरे दियां कुड़ियां चिड़ियां,
बाग़ीं पींघां पाईआं
मैं तत्तड़ी पई याद तेरी संग
खेडां पून सलाईआं
आउन तेरे दा लारा
सूली टंग ग्या
लंघ ग्या वे माहिया…।

वेख घटां विच उडदे बगले
नैणां छहबर लाई
आप तां तुर ग्युं लामां उत्ते
जिन्द मेरी कुमलाई
काला बिशियर नाग
हजर दा डंग ग्या
लंघ ग्या वे माहिया…।

कंत होरां दे परते घर नूं
तूं क्यों देरां लाईआं
तेरे बाझों पिप्पल सुक्क गए
त्रिंञनी ग़मियां छाईआं
वर्हदा बद्दल साथों
अत्थरू मंग ग्या
लंघ ग्या वे माहिया…।

 
 
 Hindi Kavita