Hindi Kavita
मनोहर लाल 'रत्नम'
Manohar Lal Ratnam
 Hindi Kavita 

मनोहर लाल 'रत्नम' सहदेव

मनोहर लाल 'रत्नम’ (14 मई 1948-) का जन्म मेरठ में हुआ । आपकी प्रकाशित कृतियाँ हैं: 'जलती नारी' (कविता संग्रह), 'जय घोष' (काव्य संग्रह), 'गीतों का पानी' (काव्य संग्रह), 'कुछ मैं भी कह दूँ', 'बिरादरी की नाक', 'ईमेल-फ़ीमेल', 'अनेकता में एकता', 'ज़िन्दा रावन बहुत पड़े हैं' । आपको जो सम्मान मिले हैं उनमें 'शोभना अवार्ड', 'सतीशराज पुष्करना अवार्ड', 'साहित्य श्री', 'साहित्यभूषण', 'पद्याकार', 'काव्य श्री' शामिल हैं ।


    मनोहर लाल 'रत्नम' सहदेव हिन्दी कविता

कवि कभी रोया नहीं करता
काग़ज़ के रावण मत फूँको
जब वसंत आकर मुसकाया
रत्नम गीता सार
सीपों से मोती पाने को
रिश्तों पर दीवारें
गंगाजल
कील पुरानी है
राष्ट्रगान मुझको भी आता है
खतरा है
चोरी का गंगाजल
चलो तिरंगे को लहरा लें
देश किन्नरों को दे दो
अनकहे गीत
महाकाली कालिके
 
 
 Hindi Kavita