Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Main Te Main Shiv Kumar Batalvi in Hindi

मैं ते मैं शिव कुमार बटालवी


मैं ते मैं

पहाड़ां पैर सुत्ते इक गरां विच
जनण-हारी मेरी पई जागदी है
रुदन करदी नदी दे तीर बैठी
पती परदेस गए नूं सहकदी है
अपीड़े अत्थरू दी पीड़ पिच्छों
उदासे बूहआं वल्ल झाकदी है
अजनमी पेड़ दे संग महकदी है

अजनमी पेड़ दी इस महक छावें
उह बैठी रोज़ बिरहा कत्तदी है
विछोड़ा चाड़्ह छज्जीं छट्टदी है
उह मच्छी रोज़ पोचा चट्टदी है
कोई दुखदा गीत चक्की पीसदी है
कोई हउका रोज़ चुल्ल्हे बालदी है
नदी विच रोज़ तारे रोड़्हदी है
नदी 'चों रोज़ सूरज कढ्ढदी है
अजनमी पेड़ दा मूंह कज्जदी है

नदी दे नीर रुड़्हदे तार्यां विच
कोई इक दिन चीक आ के डुब्बदी है
कुआरा दरद किधरे ऊंघदा है
अजनमी पीड़ किधरे जनमदी है
अधूरा गीत ढोलक चुंमदा है
कोई मैळा शबद पलना झूलदा है
उदासी पोतड़े विच विलकदी है
नदी दे तीर मच्छी लुड़छदी है

जनमी पीड़ दी सौ पीड़ उहले
लज्जित बोल 'वा विच सुलगदे ने
बोड़्हां थीं तुहमत बैठदी है
मेरी जननी दी ममता जागदी है
दुक्ख दे बिरछ देह 'ते झूलदे ने
कोई कच्चा नहुं नहुन्दर मारदा है
अशबदी जीभ छाती चुंघदी है
नदी दा नीर मच्छी सुंघदी है

उदासे बूहआं दी विरल विचों
अंञाना गीत बाहर झाकदा है
अधूरा शबद वेहड़े खेडदा है
तोतली जीभ घर विच उग्गदी है
अबोधी पीड़ दन्दी कढ्ढदी है
नदी दा मोह मच्छी छड्डदी है

नदी विच रोज़ सूरज उग्गदा है
नदी विच रोज़ सूरज डुब्बदा है
अधूरा गीत मां नूं चुभदा है
अधूरा गीत सभ नूं चुभदा है
अधूरा गीत जग्ग नूं चुभदा है

मेरी मां जनम मेरे दी
अजे तक्क मैल नहीं न्हाती
मेरी कच्च-सूतकी देह विच
जिऔरी महक है बाकी
सितारे रोज़ चुंघदे ने
मेरी मां दी नगन छाती ।

मेरी मां तार्यां नूं,
जद कदे वी दुद्ध चुंघांदी है
तां उहदे दुद्ध दी
कोसी नदी विच बाड़ आउंदी है
उह आपने तुहमताए दुद्ध कोलों
त्रभक जांदी है
ते मैनूं तार्यां संग रोज़
नदीए रोड़्ह आउंदी है ।

मैं दुद्ध दी नदी विच रुड़्हदा
जदों वी बिलबलाउंदा हां
तां बाड़ी नदी दे
दो पत्थरां विच अटक जांदा हां
ते उन्हां पत्थरां विचकार
कोसी विरल है जेहड़ी
मैं ओसे विरल विच
छित्था, उदासा मुसकरांदा हां
ते लक्खां तार्यां संग रोज़
नदीए डुब्ब जांदा हां

जदों दुद्ध दी नदी
दिन चड़्हद्यां तक्क सुक्क जांदी है
ते गोरी धुप्प विच
जद रेत दा सुपना हंढांदी है
मेरी मां नूं मेरी , ते
तार्यां दी याद आउंदी है
उह मोए तार्यां नूं
गल च लै के विलक पैंदी है
ते मेरी लाश नूं उह रोज़
इक लोरी सुणांदी है
मेरी कच्च-सूतकी देह नूं
उह पाटे सुपने पांदी है ।

जदों उह तार्यां दे पोतड़े
धोंदी ते रोंदी है
स्युंक, चुप्प ते वीरान बूहे
आन ढोंदी है
ते उन्हां बूहआं उहले
उह मेरी मैल न्हाउंदी है
ते बूहआं तों
उह अम्ब-पत्त्यां दे सेहरे तोड़ देंदी है ।

जद ज्युंदा कोई तारा
दुद्ध लई हुन ज़िद्द करदा है
तां दुद्ध दी नदी 'ते
रातां नूं सूरज आण चड़्हदा है
ते काली धुप्प विच
गोरी नदी दा रूप सड़दा है
ते उहनूं तार्यां तों
इक अनिसचित ख़ौफ़ लगदा हे
उह ज़िद्दी तार्यां नूं
दुद्ध नहीं हुन डर चुंघांदी है
ते मेरे पोतड़े विच रोज़ हुण
इक सप्प सुलांदी है ।

मेरे हुन पोतड़े दा सप्प
मैनूं रोज़ लड़दा है
ते मेरी थां मेरी मां दे
थणां नूं ज़हर चड़्हदा है
ते उहनूं इंज लगदा है
कि तांबे-हार उहदे जिसम 'चों
कुझ्झ रोज़ मरदा है
ते उहदे हसन दा तांबा
दिनो दिन ज़ंग फड़दा है ।

ते उह हुन तार्यां नूं
जद वेहुले थण चुंघांदी है
थणां 'चों सुपन्यां दी धुप्प नूं
पुण-छान लैंदी है
उह ठंडी सुपन-हीनी नींद
मेरे मूंह छुहांदी है
ते काले दुद्ध दी
तकदीर उत्ते मुसकरांदी है ।

मैं उसे सुपन-हीने 'ते
सरापे दुद्ध नूं चुंघदा
उदासे घर दी जद
दहलीज़ टप्प के बाहर जांदा हां
मैं बोड़्हां हेठ बैठी निन्द्या
नित्त घर ल्याउंदा हां
त्रिंञन कत्तदियां वी
मशकरी विच मुसकराउंदा हां
ते खूहीं डुब्बदियां
मैं गागरां 'चों छलक जांदा हां ।

मेरे तन 'ते पई निन्द्या
मेरी मां रोज़ वेहन्दी है
ते मेरे सुहल जेहे तिन्न तों
उह निन्द्या झाड़ देंदी है
उह मेरी गल्ल्ह 'ते
इक बहुत गूड़्हा प्यार देंदी है
ते मेरे पोतड़े दे सप्प नूं
नित्त मार देंदी है ।

मेरी मां नूं ममोलण
रोज़ ही जद आ जगांदी है
मेरी मां पहर दे तड़के ही
बिरहा कत्त लैंदी है
उह मिट्ठे लोक-गीतां दी
सतर इक पहन बहन्दी है
ते मेरे घर दे वेहड़े विच
दोहनी बोल पैंदी है ।

जदों फिर बह ममोलण
रुक्ख 'ते उच्ची चिलकदी है
त्रेले तार्यां दी लोअ
बनेरे 'ते लिशकदी है
मेरी मां नूं इवें लगदै
जिवें उहदी रूह विलकदी है
ते दोहनी विच जिवें उह दुद्ध नहीं
रातां रिड़कदी है
ते चाटी 'चों उह सूरज कढ्ढ के
गगनीं छिड़कदी है ।

ते फिर जद पिंड दे मन्दर दा
बुढ्ढा संख वज्जदा है
उबासी लैंद्यां खूहां तों
उहनूं ख़ौफ़ लगदा है
उहदी गागर दा पाणी
पिंड दे मोड़ां तों ड्रदा है
ते आए दिन उहदी गागर 'चों
मैला बोल तरदा है ।

ते फिर जद मूंगिया
जूहां च सूरज आण खड़दा है
ते सोने दी खड़ांय पा के
गरां विच पैर धरदा है
मेरा सायआ पंघूड़ा छड्ड के
कंधां 'ते चड़्हदा है
ते इक दिन पैंतियां रुक्खां दी
छावें आण खड़दा है ।

मैं पहलों पहल जद उह
रुंड-मरुंडे रुक्ख तक्कदा हां
मैं खड़ सुक्क ते अपरछावें जेहे
जंगल 'ते हस्सदा हां
मैं आपनी बाल-पोथी 'चों
उन्हां दे चितर तक्कदा हां
ते गाची 'ते मैं लिख लिख के
उन्हां दे नाम रटदा हां
ते निरछावीं जेही छां दे
मैं मां नूं अरथ दस्सदा हां ।

ते फिर जद बुढ्ढ्यां बोड़्हां
ते सूरज आण बहन्दा है
ते इल्ल दे आल्हने विच बैठ के
जद पर फैलाउंदा है
तां बुढ्ढा बोड़्ह कदे हूंघदा
कदे खंघ लैंदा है
ते गोटां खेडदा चिलमां दा धूंआं
बहस पैंदा है
ते मेरे हान दा हासा
नदी 'ते गूंज जांदा है
दन्दासा बोल रल के
पिप्पलां 'ते पींघ पाउंदा है
मेरी मां दी उमर दा हुसन
सौ चुन्नियां रंगांदा है
भरे पिंड विच मेरा सायआ
उदों वी घर च रहन्दा है
ते मां दी रोज़ तपदी जीभ नूं
पारा चटांदा है ।

ते फिर जद बेल्यां 'चों
मंगूआं दे वग्ग मुड़दे ने
तां सूरज दे नदी दे पाणियां
विच अंग ठरदे ने
ते दो परदेस गए होए पैर
नित्त राहवां च घुलदे ने
ते दो ग़मग़ीन जेहे साए
नदी विच रोज़ रुड़्हदे ने
ते नित्त निर-लोय जेहे तारे
नदी 'ते आण जुड़दे ने ।

ते फिर ममटी 'ते हर इक रात
चुप्प चाप आण बहन्दी है
मेरी मां ओस चुप्प नूं
रोज़ चुल्ल्हे बाल लैंदी है
उह बत्ती वट्ट के
ते रोज़ देवे तेल पाउंदी है
ते काफ़ी रात गए तक्क
उस परी दी गल्ल सुणांदी है
जो उहदे वांग नीली झील विच
कल्ली ही रहन्दी है ।

मैनूं जद जल-परी दी सेज उत्ते
नींद आउंदी है
तां पहरेदार दी आवाज़
पिंड विच गूंज जांदी है
मेरी मां सेज मेरी 'ते
सितारे आ विछाउंदी है
ते मेरे सुपन्यां विच
रोज़ सूरज बीज आउंदी है
ते नित्त सुपने खिडांदी नूं
ना-सुपनी नींद आउंदी है ।

मेरे लई ओस दिन सूरज
बड़ा मनहूस चड़्हआ सी
मैं आपने साहमने जद आप
पहली वार मर्या सी
मैं उस दिन बहुत रोया सी
मैं उस दिन बहुत ड्र्या सी ।

मेरी लोरी कु जेडी उमर सी
जां बोल कु अग्गे
जदों कन्नां च सुलगे बोल
पहली वार निरलज्जे
मेरी मां दे गरभ विचों
मेरा बाबल नहीं लभ्भे
तां पहली वार मां दे नकश
मैनूं ओपरे लग्गे ।

मैं जद मर्या होया उस रोज़
आपने घर परतदा हां
मैं मां दे परबती अथनाए होए
नैणां च तक्कदा हां
ते उहदे गरभ विच उस दिन
हज़ारां वार लत्थदा हां ।

मैं मां दे गरभ विच लत्थ्या
जदों बाबल नूं लभ्भदा हां
अजब शरमिन्दगी दे बोझ हेठां
आन दबदा हां
ठरे बोलां दी इक सेहरन जेही
पिंडे 'चों लंघदी है
ते मैं हत्तक जेही महसूस करके
रोन लगदा हां
मैं बोड़्हां हेठ खिल्ली बण के उड्डे
बोल फड़दा हां
ते उहनां दे निलज्जे ते नगन जेहे
अरथ कढ्ढदा हां ।

मेरे उग्गदे होए धड़ 'ते
अजे मेरा सीस नहीं उग्ग्या
जो इन्हां नगन बोलां दे
बाकायदा अरथ कर सके
अगन-पैरी जेही तुहमत
जो पिंड विच रोज़ घुंमदी है
कि उह उस अगन-पैरी दी
सुलगदी पैड़ फड़ सके
ते मां दे गरभ 'चों
बाबल दे लिखे हरफ़ पड़्ह सके ।

मैं मां दे गरभ 'चों
इक पल लई जद बाहर आउंदा हां
परायआ सीस आपणे
धड़ 'ते लाके बैठ जांदा हां
मैं मां संग बोल बोलन तों वी हुण
घिरना जेही खांदा हां
ते लोहे दी डली नूं
नदी दे पत्थर चटाउंदा हां
अगन-पैरी नूं लभ्भन वासते
पर्हआं च जांदा हां ।

मैनूं उस दिन अगन-पैरी
भरे पिंड विच नहीं लभ्भदी
ते नां मेरे अ-बाबल दा
कोई खूह, बोहड़ नहीं दस्सदी
ते डब्ब विच हउंकदे लोहे दी
हर पल प्यास है वधदी
तेरी शरमिन्दगी मेरे 'ते ही
इक वार है करदी ।

मेरी शरमिन्दगी मेरा ख़ून पी
जद मुसकराउंदी है
मेरे मोए दी गल्ल उड्ड के
मेरे घर पहुंच जांदी है
ते मेरी मां मेरे धड़ 'ते
गुरां दे सीस लाउंदी है
उह घबराई होई सौ सौ
मसीहे घर बुलाउंदी है
ते जद मैनूं होश आउंदी है
मेरी मासूमियत नैणां 'चों वग के
डुल्ल्ह जांदी है
सदीवी दरद दी इक महक
तन विच हुल्ल जांदी है
ते मेरी लोरियां दी उमर
मैनूं भुल्ल जांदी है ।

मैं उस दिन तों लै अज्ज तीकण
जदों घर पैर रक्खदा हां
मैं हर इक शाम नूं
मर्या होया ही घर परतदा हां
मैं आपनी मौत 'ते रोंदा वी हां
ते नाल हस्सदा हां
ते मैं अ-बाबला अज्ज वी
गरभ दी जून कट्टदा हां ।

हुने सूरज दी अंग्यारी
नदी विच आण बुझ्झी है
ते बाग़ां 'चों सुगंधियां दी
हुने इक डार उड्डी है
ते पिंड दे लहरदे खेतां 'च
पुन्न्या आण उग्गी है ।

हुने पुन्न्यां पई पत्तणां 'ते
वसतर-हीन न्हाउंदी है
हुने पुन्न्यां पई खेतां 'च
नंगे पैर तुरदी है
ते कच्चे ढार्यां तों पार दा
पई मोड़ मुड़दी है
ते महके होए शरीहां हेठ बैठी
महक चुणदी है ।

जदों वी इस तर्हां पुन्न्यां
मेरे पिंड पैर पाउंदी है
नदी 'ते पिंड दी तसवीर लग्गी
तिड़क जांदी है
मलाहां दी ठरी आवाज़
पत्तणां 'ते बड़्ड़ांदी है
खिड़ी होई रेत 'ते
बालां दी ढानी आण बहन्दी है
उह निक्के सुपन्यां लई
रेत दे घर घर बणाउंदी है
ते ठंडी अग्ग जेही लहरां 'ते
बलदी बुझ जांदी है ।

ते जद मैं वी
नदी दी अग्ग वेखन बाहर आउंदा हां
मैं आपनी इक गवांढण
बाल-पुन्न्यां नूं बुलाउंदा हां
ते महकी होई बरेती वांग ही
मैं महक जांदा हां ।

मेरी मासूम जेही पुन्न्यां
जदों कोई गल्ल करदी है
मेरे पिंडे दी लूईं विच
सप्पनी आण वड़दी है
ते इक महकी होई कम्बणी
मेरे पैरां नूं चड़्हदी है
ते अकड़ेवें जेहे दी पीड़
आ अंगां च खड़दी है ।

जदों मेरे आकड़े अंगां नूं
पुन्न्यां हत्थ लाउंदी है
मेरी लूईं च सुत्ती सप्पणी
तद जाग पैंदी है
ते जागी सप्पणी
तद रेत उते कुंज लाहुन्दी है
ते नंगी रेत दी
इक कुतकतारी निकल जांदी है ।

ते फिर असीं हस्सदी होई रेत दे
घर घर बणाउंदे हां
ते रेते दे घरां विच
बाल जेहे सुपने सुलाउंदे हां
ते निक्के घरां नूं
पत्थरां दे जन्दरे मार आउंदे हां ।

जदों दिन चड़्हद्यां तक्क
रेत दे घर ढट्ठ जांदे ने
मेरी पुन्न्यां दे नीले नैण
खिड़ खिड़ हस्स पैंदे ने
उह आपनी ते मेरी मासूमियत 'ते
मुसकराउंदे ने ।

ते फिर इक दिन मेरी पुन्न्यां
मैनूं इक गल्ल सुणाउंदी है
कि उहदी मां इह कहन्दी है :
'कि मेरी मां दे गोरे गरभ विच
इक डैन रहन्दी है
जो मेरे नाल खेडेगा
उहनूं उह भक्ख लैंदी है
मेरी पुन्न्यां जदों इह गल्ल सुना के
परत जांदी है
बरेते 'ते विछी होई चानणी
मैनूं चुभ्भ जांदी है
मेरे लई ओस दिन पुन्न्यां
नदी विच डुब्ब जांदी है
नदी दी रेत इक तूफ़ान बण के
उड्ड पैंदी है
ते ओहो रेत उड्ड उड्ड के
मेरे नैणां च पैंदी है
ते अज्ज तीकन मेरे नैणां 'च
तिक्खी रड़क पैंदी है ।

हर साल मेरे पिंड जद
रुत्तां स्याली आउंदियां
हर साल तित्तर-खंभियां
अम्बर च आ मंडलाउंदियां
खेतां दे पीले गीत विच
हरियां सुरां लहराउंदियां
ते परबती पौणां निपत्तरे
रुक्ख छोह छोह जांदियां
कुहरे दी बुक्कल मार के
धूंयां 'ते शामां बहन्दियां ।

धूयां ते शामां बैठ के
जद बात कोई पाउंदियां
तां रोज़ टाल्ही टप्प के
चंग्याड़ियां मुड़ आउंदियां
चुंभ्यां ते पत्तां चड़्हदियां
कोहां च महकां जांदियां
हीरां दा ज़िकर छोंहदियां
माहीए ते टप्पे गाउंदियां
ते हस्सदियां हसाउंदियां
घरां नूं परत जांदियां
सावा ते पीळा खांदियां
फुल्लां दे सुपने लैंदियां ।

ते फिर मेरे घर जदों
आले च किरनां बहन्दियां
किरनां जेहियां कुझ नढ्ढियां
चन्दन दे पीहड़े डाहुन्दियां
गिन गिन के छोपे पाउंदियां
ते चरख़ियां दी घूक 'ते
सज्जणां दा बिरहा गाउंदियां
कुझ्झ याद कत्तन आउंदियां
कुझ्झ दाज कत्तन आउंदियां
ते बहुत डूंघी रात तक्क
भोरे च रल के बहन्दियां ।

ते फेर ठरियां खित्तियां
दर 'ते जदों आ जांदियां
माहलां तदों भरड़ांदियां
हत्थियां नूं नींदां आउंदियां
दीवे नूं फूकर मारके
सज्जणां दे सुपने लैंदियां
कुझ्झ हंढियां मुशटंडियां
भोरे च भूतर जांदियां
किसे किरन दे महके होए
मुढ्ढे वलूंधर खांदियां ।

ते फेर जद लगरां-लवेरां
हस्स हसा सौं जांदियां
दो गल मूंहियां सप्पनियां
न्हेरे च उभ्भर आउंदियां
मेरे बाल तन नूं टोंहदियां
अग्ग दी कहानी पाउंदियां
मेरी जीभ दियां कन्नियां
कुझ्झ लूणियां हो जांदियां
ते जागदे तन 'ते मेरे
कुझ्झ लूहरियां उग्ग आउंदियां ।

ते फेर जद हरनालियां
हल्लां उबासियां लैंदियां
तां गोल मूंहियां सप्पनियां
लाही होइ कुंज पाउंदियां
नदीए नहावन जांदियां ।

ते फेर जद ठरियां सवेरां
पत्तणीं आ बहन्दियां
किरनां नूं न्हाउंदा वेख के
पत्तणां नूं दन्दलां पैंदियां
ते बाल-सोचां मेरियां
किरनां तों हुन शरमाउंदियां
कुझ्झ कम्बदियां कम्बांदियां
ते लोरियां दी उमर मेरी
सप्पनियां खा जांदियां
ज़हरां दियां कहाणियां
ने आण झुरमट पाउंदियां ।

मेरी हुन लोरियां दी उमर
मैनूं भुल्ल चुक्की है
मेरे जंगल 'ते मेरी चानणी
हुन डुल्ल्ह चुक्की है
ते मिट्ठी सन्दली महक समीरी
हुल्ल चुक्की है ।

मेरा जंगळ जेहदे विच
मैं कदे बिलकुल्ल इकल्ला सां
उहदे विच सत्त-रंगे पंखणूं
हुन आण वस्से ने
ते कोइलां, कुमरियां मोरां दे नग़मे
आन नच्चे ने
ते शीशे दी नदी
जो कंध 'ते ख़ामोश वगदी सी
मेरे जंगल दे सभ साए
उहदे विच आण लत्थे ने
उदास हुसन दे पाणी
रता कु आण रत्ते ने ।

मेरी हुन चानणी
ज्युं ज्युं मेरे जंगल 'ते पैंदी है
मैनूं जंगल च सूई सप्पणी
इक नज़र आउंदी है
ते मेरे महक पए सायआं दी गल्ल
खूहां 'ते बहन्दी है
त्रिंञणीं चब्बदियां तिल-चौलियां संग
मुसकराउंदी है
ते चीची दे हुलारे तन्द पैंदी
टुट्ट जांदी है ।

मैं पिंड दियां लंमियां गलियां विच
जद हुन पैर पांदा हां
जां आपने महक पए जंगल नूं लै के
बाहर जांदा हां
तां मैं रंझेटियां, गभरेटियां
तों शरम खांदा हां
ते आपने उग्ग पए जंगल नूं
उन्हां तों छुपांदा हां ।

जदों हुन पिंड दी कोई किरन
नदीए आण न्हाउंदी है
जां मेरी नज़र किधरे
अरध-नंगी अग्ग विंहदी है
मेरे जंगल दे पिंडे नूं
प्याज़ी पौन छोंहदी है
मेरे जंगल च सूई सप्पणी
चन्दन 'ते सौंदी है ।

ते जद जंगल 'ते नीली काशनी धुन्द
आन लहन्दी है
मेरे चन्दन 'ते सुत्ती सप्पणी
तद जाग पैंदी है
नदी विच न्हाउंदियां
किरनां दी मैनूं याद आउंदी है
मेरे जंगल 'ते बैठी डार
मुड़ मुड़ चहचहाउंदी है
ते नंगी नदी मेरी सेज उत्ते
आन बहन्दी है ।

ते फिर जंगल च जद मेरी नींद
नंगे पैर भाउंदी है
तां नंगी नदी मेरे सुपन्यां संग
आन सौंदी है
ते हुन जंगल दे पिछवाड़े
मेरी छां रोज़ रोंदी है ।

पहले-पहल मैनूं जदों
इक सप्पनी ने डंग्या
मैं जवानी दी अजे
दहलीज़ ही सां लंघ्या
हाले मेरे सुपन्यां विच
लोरियां दी महक सी
जदों मेरे सुपन्यां
शीशे दा पानी मंग्या ।

इह मेरी करवट जेहे
लैंदे दिनां दी बात सी
मत्थे च जद सी मस्स्या
पिंडे 'ते कुझ प्रभात सी
उह मेरी पहली ते मैली
सुपन-छोही रात सी
मेरे अन्दर फैल्या
इक लिजलिजा अहसास सी
ते लिजलिजे अहसास 'चों
सप्पनी दी आई बास सी
उह रात सारी नगन सी
ते बहुत ही उदास सी ।

मैं उस उदासी रात नूं
सौ बार बल्या बुझ्या
ते आपने जंगल च मैं
चन्दन दे वाकन उग्ग्या
मैं आपने सहरा 'च
पीली रेत बण बण उड्ड्या ।

ते फेर जद उस रात दा
सूरज गरां विच पुज्ज्या
मैं सप्पनियां दी भाल विच
चन्दन दे वण विच पुज्ज्या
पर भटकना दा सफ़र इह
कई रोज़ तक्क ना पुग्ग्या ।

ते फेर मेरे पिंड इक
सप्पनी पराहुनी आ गई
झूठी ज़री लाहौर दी
अक्खियां नूं अग्ग जेही ला गई
ते पौन मेरे वणां दी
हुन होर वी नश्या गई ।

जद वी दो-घोड़ा बोसकी
गलीए बाज़ारे लंघदी
पिंड दी जवानी खंघदी
ते प्यास मेरे हुसन दी
शीशे दा पानी मंगदी
ते फेर शीशे दी कहाणी
उस पड़ाय 'ते पुज्ज गई
कि सप्पनी दी कुंज
शीशे दी नदी विच डुब्ब गई ।

ते फेर इक दिन शाम
शीशे दी नदी नूं रंग गई
उह सप्पनी फुंकारदी आई
ते मैनूं डंग गई
लहर लहर डोलदी
सारी नदी ही कम्ब गई
ते तोत्यां दी डार
कच्चियां बेरियां तों लंघ गई ।

जदों इक सप्पनी दा डंग
मैनूं चुभ्भ जांदा है
मेरे धड़ 'ते मेरा इक सीस जेहा
उग्ग आउंदा है
ते उग्गदे सार ही
मायूसियां विच डुब्ब जांदा है ।

जदों मैं सीस-हीना सां
उदों सभ सीस सन मेरे
जदों हुन सीस-वाना हां
तां कोई वी सीस नहीं मेरा
नदी, रुक्ख, रेत ते चानण
कदे सभ मीत सन मेरे
ते हुन ख़ुद आपणा
अहसास तक वी मीत नहीं मेरा ।

ते हुन इक दिन मेरा अहसास
विस विच डोब के कानी
जदों सप्पनी दी लाही कुंज उप्पर
गीत लिखदा है
तां कुंज दा अबरकी टोटा
मैनूं मेरा मीत दिसदा है
मेरा पर सीस मेरा गीत पड़्ह के
पाड़ सुट्टदा है ।

मेरा अहसास वेहुले शबद
जद वी छोह के आउंदा है
मैनूं इक अरध-जण्यां बाल
आ के नित्त ड्रांदा है
मैं जो वी गीत लिखदा हां
उह आ के पाड़ जांदा है ।

ते हुन मैं ते मेरा जद सीस
रल के आण बहन्दे हां
असीं उस अरध-जूने बाल कोलों
ख़ौफ़ खांदे हां
असीं इक दूसरे कोलों
नित्त आपने मूंह छुपांदे हां
जे किधरे मेल हुन्दा है
ख़मोशे लंघ जांदे हां
ते दिल दे मोकले वेहड़े च कंधां
मार लैंदे हां
ते आपनी 'मैं' नूं
दो हिस्स्यां विच वंड लैंदे हां ।

मेरे हिस्से दी 'मैं' हरदम
मेरे हुन नाल रहन्दी है
ते दूजी अरध 'मैं'
घर दी घुटन विच बैठ रहन्दी है
उह मोईआं सप्पनियां दी रोज़
कूली कुंज लाहुन्दी है
ते मेरे गीत लई
नित्त कुंज दा काग़ज़ बणांदी है
ते मोईआं सप्पनियां दे गीत
सप्पां नूं सुणांदी है ।

मेरे हिस्से दी 'मैं' जेहड़ी
मेरे हुन नाल रहन्दी है
पड़ोवी, छिंझ जां किसे रास-मेले
रोज़ जांदी है
ते नारोवाल दी कंजरी
कामी पान खांदी है
रली होई जुंडली मेरे नां दियां
वेलां कराउंदी है
मेरे हिस्से दी 'मैं'
हुन नित्त शराबी हो के आउंदी है ।

मेरे हिस्से दी 'मैं'
हुन पिंड विच बदनाम हुन्दी है
ते मेरी सप्पनियां दे घर
सवेरों शाम हुन्दी है ।

मेरे अज्ज ज़ेहन दे मोड़ां 'ते
दिन भर ख़ाक उड्डी है
मैं सुण्या है किसे जंगल 'च
मेरी उमर उग्गी है ।

हुने पौणां दे हत्थ
जंगल 'चों जेहड़ी महक आई है
उहने इक डब्ब-खड़ब्बी
धुप्प-छां दी बात पाई है
कि जंगल विच उमर उग्गन दी
सदियां तों मनाही है
जो जंगल विच उमर उग्गे
सद्द हुन्दी पराई है ।

जंगल विच उमर उग्गन दा मतलब
उमर नहीं हुन्दा
उमर दा उग्गना जंगल 'च
इक अपराध हुन्दा है
शहर दी नज़र विच
जंगल च उग्गना पाप हुन्दा है ए मेरी पीड़ दी
काली हवा विच हूंगदे जंगल
मैं जंगल दी उमर
अज्ज शहर विच लै के किवें जावां
मैं आपनी उमर उग्गन दी
शहर संग बात किंज पावां ?

मैं जंगल दी उमर लै के
जदों वी शहर जावांगा
कतल हो के ही आवांगा
ते नरसिंग-घरां दी रूई 'च
आपना मूंह छुपावांगा
मैं मुड़ किसे शहर विच जाणों
बड़ा ही ख़ौफ़ खावांगा ।

शहर जाणों तां चंगा है
कि जंगल ख़ुदकुशी कर लए
जां मेरी उमर नूं जण के
शहर दे शोर नूं जर लए
ते हर इक रुक्ख जंगल दा
हरे कन्नां 'ते हत्थ धर लए ।

यो जंगळ दे पिता-पुरखो !
मेरा हत्थीं कतल कर दउ
ते सावा ख़ून इक रुक्ख दा
शहर दी तली 'ते धर दउ
शहर दे शोर दी थां
मैनूं जंगल विच दफ़न कर दउ ।

मैं जंगल वाल्यो !
जंगलां दी छां विच गुंम जावांगा
उमर भर तिक्खियां सूलां दी मैं
सेजां हंढावांगा
कतल होवन लई पर शहर विच
हरगिज़ ना जावांगा ।

मेरे पितरो, पिता-पुरखो
मेरे तन दे रचनहारे
मेहरबानो, बज़ुरगो, शुकरवानो
ते समझदारो
तुहाडी आउन वाली वंश दा
कातल मैं हाज़िर हां
तुहाडी आख़री पीड़्ही दा मैं
निरवंश हाज़िर हां
तुसीं जो वी सज़ा देवो
मैनूं मनज़ूर होवेगी ।

पिता-पुरखो, महां-पुरशो
यो चुप्प दे मौसमों
ते सरद होए ख़ून दे रुक्खो
उह मैं ही हां कि जिस ने
अज्ज तुहानूं कतल कीता है
उह मैं ही हां कि जिस ने
गरभ-जूनी जून मारी है
ते पुशतो-पुशत गिड़दे लहू दी
गरदिश खल्हारी है ।

सूरज बंसीउ, पतवंतीउ
मेरी कुल दीउ नारो
कलावतीउ, सुनक्खीउ
चुप्प परसतारो, वफ़ादारो
मैं अज्ज इक पुन्न कीता है
मैं अज्ज इक पाप कीता है
मैं इक सुपने नूं नंगी जून ज्युणों
रोक लीता है
पराए जिसम दे जंगळ 'च
आपना ख़ून कीता है
तुहाडे थणां दा दुद्ध
हर सदी लई होड़ लीता है ।

यो मेरी होंद दे
सादा ते सिरजणहार्यो लोको
मैं जेहड़े दौर विच ज्यूंदां
मैं जेहड़े दौर विच रहन्दां
उहदे विच किसे वी नारी दी कुक्ख
हुन बाल नहीं जंमदी
सगों इक सवाल जंमदी है
ते जनमे सवाल दी निरवंशता तों
आप कम्बदी है ।

यो मेरे सिरजको
तिन्न दे तराशणहार बुत्तकारो
तुहाडी वंश विच हुन बाल नहीं
इक सवाल जंमना सी
जेहदा उत्तर वी मोड़न तों
तुसां सभनां ने संगना सी
ते जद मेरी ओदरी धुप्प ने
मेरे जंगल 'चों लंघना सी
तां बुढ्ढी सभ्भिअता ने
शहर दे मोड़ां 'ते खंघना सी ।

तुहाडे अरध-जूने सवाल दा
कातल मैं हाज़िर हां
तुहाडी आख़री पीड़्ही दा मैं
निरवंश हाज़िर हां
मैं आपने आप दा कातल
मैं आपने पास हाज़िर हां
तुसीं जो वी सज़ा देवो
मैनूं मनज़ूर होवेगी ।

मेरा अज्ज दिल वी रोया है
ते नाले अक्ख रोई है
मेरे अज्ज शहर विच
इक अरध-जूनी मौत होई है ।

तुसीं उतसुक होवोगे
अरध-जूना किस तर्हां मरिऐ ?
जी उह मर्या नहीं
चिट्टे देहुं सगों कतल होया है
बड़ा अनरथ होया है
हमेशा वासते इक कुल दे थण दा
दुद्ध मोया है ।

जी उहदा कतल मेरे शहर दी
शह 'ते ही होया है
नहीं तां वंश दा कातल
कदों कोई बाप होया है ?

जी हां, उहदी उमर हाले
मसां बस्स दो महीने सी
पर उहने गरभ विच
मेरी उमर दे साल जी लए सी ।

जी हां, उहदे जनाज़े नाल
कुझ्झ औज़ार शामिल सन
जां दो बीमार शामिल सन
ते कुझ गुंमनाम नरसां दे
जां गोरे हत्थ शामिल सन ।

जी उहदी मौत दा कारन
इह मेरे शहर वाले हन
ते उहदे मां-प्यु
जंगळ दे कहन्दे, रहन वाले सन ।

जी हां, उहदी मौत दा
मैं उमर भर मातम मनावांगा
ते आपने आप दा हुन कतल
लोकां तों छुपावांगा
मैं पैरीं बन्न्ह के गरदिश
थलां नूं निकल जावांगा ।

मैं पैरीं बन्न्ह के गरदिश
थलां नूं निकल तुर्या हां ।

मेरे पैरां नूं मंज़िल दा
कोई वी राह नहीं आउंदा
ख़लाय तों मैं ख़लाय तक्क
दरद दी बस रेत हां चाहुन्दा
ते हुन वी ज़ेहन 'चों
जंगली उमर दा ख़ौफ़ नहीं जांदा ।

इह जंगली उमर
मेरी हिक्क विच रातां नूं रोंदी है
मेरी नींदर च मेरे नाळ
जंगली चीख़ सौंदी है
थलां दी रेत, मेरे नाल
नंगे पैर भौंदी है
मेरे पिंडे 'ते इक कम्बनी दी झाड़ी
उग्ग खलोंदी है ।

मैं इस झाड़ी दी छावें
जद कदे वी आ खलोंदा हां
मैं अज्ज दी थण-वेहूणी
नार दी पीड़्ही 'ते रोंदा हां
ते मैं इक वंश दा
निरवंश होया गरभ छोंहदा हां ।

मेरी पिट्ठ 'ते खड़ी
इक पैड़ 'ते इह कौन हस्सदा है ?
इह किस दा अरध-जूना बाल
मेरी पैड़ तक्कदा है
ते सारे शहर दे साहवें
इह मैनूं बाप दस्सदा है ।

मेरे थल दी ख़मोशी विच वी
इह शोर कैसा है
शहर तों दूर आ के वी
इह नंगा बोल कैसा है
ते थल दा सफ़र वी मेरे लई
क्युं शहर जैसा है ?

इक दिन रेत नूं
थल विच हवा मिलन आई
ते मेरे वासते उह शहर तों
इक ख़बर लै आई
कि जिस बदबख़त जंगल विच
कदे मेरी उमर उग्गी सी
ते जिस गुंमनाम जंगल विच
कदे मेरा कतल होया सी
उहदी कल्ल्ह भर-दुपहरे
शहर दे विच मौत हो गई है ।

मैनूं इक पळ लई
इह ख़बर सुन के इस तर्हां लग्ग्या
मैं जीकन थल च उड्डदी रेत थल्ले
दब्ब ग्या होवां
ते पूरा कज्ज ग्या होवां
ते चुप्प दे सफ़र विच वी
शोर दे गल लग्ग ग्या होवां ।

ते फिर जंगल दे नंगे बिरछ
अक्खां साहमने आए
ते लक्खां लरज़ गए साए
ज़ेहन विच मोर जहे कूके
ते दिल विच सप्प लहराए
ते थल विच भटकदे साए
मैनूं ही खान नूं आए ।

ते फिर मैं वेख्या
जंगल दी हर इक टाहन सुज्ज रही है
ते काले शहद दे खग्गे 'ते
मेरी उमर उग्ग रही है ।

मैं आपनी उमर उग्गदी तक्क के
निन्दर च बुरड़ायआ
मैं जंगल वाल्यो
जंगळ च पैदा होन नहीं आया
मैं मासूमियत कारन ही सां
जंगल च उग्ग आया
पर मूंह विच रेत सी
इक बोल वी मेरा बाहर ना आया ।

मैं फिर तक्क्या कि मेरे शहर दे
कुझ्झ तंग दिले लोकीं
कुझ्झ नंगे, अलफ़ नंगे पोसटर
कंधां 'ते ला रहे ने
पोशीदा अंग वाह रहे ने
ते मेरे कतल दा उह जुरम
मेरे 'ते ही पा रहे ने ।

ते फिर इक शोर चुप्प नूं चीरदा
कन्नां च आ वड़्या
कि जंगल दी चिख़ा दे नाल
क्युं थल वी नहीं सड़दा
जो जंगल दा सी अपराधी
क्युं उहदे नाल नहीं मर्या ?

ते फिर थल विच मेरे साहवें
मेरा इक हंझू उग्ग आया
ते मेरी चुप्प ने मुड़ शहर दे
घर पैर ना पायआ
हमेशा थल च ही वस्स्या
कदे मुड़ शहर ना आया ।

फिर मेरे गुंमनाम दिन आए
बहुत ही बदनाम दिन आए
साथ देना सी की भला लोकां
कंड आपने ही
दे गए साए ।

हां, मेरा हुन ख़ून तक उदासा सी
हां, मेरा हुन मास तक उदासा सी
चुतरफ़ीं सोगवार सोचां सन
जां यारां दा ज़लील हासा सी ।

सफ़र सी, रेत सी, ख़ामोशी सी
ज़लालत, सहम सी, नमोशी सी
ख़लाय सी, उफ़क सी ते सूरज सी
जां आपनी पैड़ दी
ज़ंज़ीर दे बिन कुझ वी ना सी
कि जिस नूं वेख्यां
मत्थे च पाला उग्गदा सी ।

ज़िन्दगी सी
कि ग़म दा बोझ लई
तपे होए उमर दे
मारूथलां 'चों लंघादी सी
ते मैथों घुट्ट छां दा मंगदी सी
पर मेरी नज़र विच
इक बोलदा वी बिरछ ना सी ।

मैं आपने कतल 'ते
हुन बहुत रोंदा सां
सरापी चुप्प दे
हुन नाल भौंदा सां
ते मूंह 'ते ढक्क के
ग़मग़ीन चानणियां
विछा के रेत ख़्यालां 'च
घूक सौंदा सां ।

मैं चुप्प दे सफ़र विच इह वेख्या
कि चुप्प गाउंदी है
चुप्प रोंदी है, मुसकराउंदी है
ते चुप्प नूं बहुत सोहणी
ज़बान आउंदी है ।

मैं थल दी रेत तों
चुप्प दी सां हुन ज़बां सिक्खदा
गवाची चाननी नूं
रेत दे मैं ख़त लिखदा ।

मैं चुप्प दी मौन बोली
सिक्ख रेहा हां
मैं चुप्प दा गीत
हर सप्पनी दी अक्ख विच लिख रेहा हां ।

मेरी छाती दे विच हर रोज़
खंडर उग्ग रेहा है
ते मेरे सीस विच
मक्कड़ी दा जाला उड्ड रेहा है
मैं चुप्प दी मौन बोली
सिक्ख रेहा हां ।

नीले गगन 'ते खंभां दे हरफ़
छपदे ने
गगन तों धरत 'ते
पानी दे हरफ़ वस्सदे ने
मैं चुप्प दी मौन बोली
सिक्ख रेहा हां ।

थेह दी ठीकरी
पहे 'ते गीत गाउंदी है
उदासी थोहर
इक तकीए दे कोल रहन्दी है
मैं चुप्प दी मौन बोली
सिक्ख रेहा हां ।

कबरिसतान विच
तिक्खी दुपहर आउंदी है
करीरां हेठ कुझ्झ पल बैठ
परत जांदी है
मैं चुप्प दी मौन बोली
सिक्ख रेहा हां ।

इह चुप्प दी मौन बोली
सप्पनियां दी बोली है
मैं पहली वार जेहड़ी
इस जहां च बोली है ।

चुप्प दी 'वाज सुनो !
चुप्प दी 'वाज, सिरफ़ आशिक दी
रत्त सुणदी है
जां खंडरां दी छत्त सुणदी है
जां सप्पनी दी अक्ख सुणदी है
चुप्प दी 'वाज सुनो ।

हुने जो सावे रुक्खां दे विच
'वा बोली है
हुने जो पंछी ने अम्बरां तों
छां डोल्ही है
इह मेरी चुप्प ही बोली है
चुप्प दी 'वाज सुनो ।

चुप्प नूं सप्पनी दी अक्ख वाकण
प्यार करो
चुप्प नूं खंडरां वाकण
रल के याद करो
चुप्प दा कबरां वाकन ही
सतिकार करो ।

थल विच आपनी छां संग
रल के सफ़र करो
अन्न्हे खूह 'चों
अद्धी रातीं डोल भरो
वगदी 'वा विच
बुढ्ढे बोड़्हां हेठ बहो
परबत उप्पर उग्गे
सावे हरफ़ पड़्हो ।

मेरी चुप्प संग
सौ जनमां तों यारी है
मैं सप्पनी दी अक्ख विच
उमर गुज़ारी है
चुप्प दी 'वाज जिसम भोगन तों
प्यारी है ।

चुप्प दी 'वाज सुनो !
चुप्प दी 'वाज सुनो !!
चुप्प दी 'वाज सुनो !!!

मैं बोली सप्पनियां दी
बोल रेहां
मैं नंगा चेहर्यां 'च
दौड़ रेहां ।

किसे वी चेहरे 'च
शबद नहीं बाकी
किसे वी चेहरे 'च
गीत नहीं बाकी
सिरफ़ जिसमां 'च
अंग बाकी ने
सिरफ़ अंगां 'च
अग्ग बलदी है
अशबदा मास
बस्स सुलगदा है
जो पल भर सुलग के
ते बुझदा है ।

मैं नंगा चेहर्यां 'च
दौड़ रेहां
मैं बोली सप्पनी दी
बोल रेहां
इह बोली शबद दी
सरापी है
इह मेरी चुप्प दी ही
बाकी है ।

किसे औरत दे चेहरे 'चों
मैनूं हुन गीत नहीं लभ्भदा
किसे औरत दा चेहरा वी
मैनूं हुन मीत नहीं लगदा ।

मैनूं हुन तक सिरफ़
औरत दे कुझ कु अंग लभ्भे ने
कदे औरत नहीं लभ्भी
मैं बस्स कुझ्झ सुलगदे अंगां 'च
आपनी भटकना दब्बी
जां रातीं ओढ के मूंह 'ते
जिसम दी अग्ग है कज्जी
मैनूं कुझ्झ अंग तां लभ्भे ने
पर औरत नही लभ्भी ।

मैनूं औरत ने हर मौसम 'च
जंगल विच कतल कीता
सराप्या दुद्ध मैं पीता
ते मूंह 'ते पोतड़ा लीता
मैं औरत कदे नहीं माणी
मैं वरजित भोग है कीता ।

जदों वी मैं कदे
औरत च आपना गीत लभ्भ्या है
मैनूं औरत ने इक बाफ़र जेहे
अंग हेठ दब्ब्या है
जिसम दा सफ़र मुक्कदे ही
मेरा उस साथ छड्ड्या है
मैनूं औरत नहीं
औरत दा बाफ़र मास लभ्भ्या है ।

मैं हुन औरत दे चेहरे 'चों
कदे कोई गीत नहीं लभ्भदा
मैं दुनियां विच किसे औरत नूं
हुन औरत नहीं सद्ददा ।

मैं हुन थलां विच भटकदां
आपनी ही छां नूं तरसदां
आपने ख़लाय विच लटकदां ।

मत्थे च बस हुन रेत है
ना रेत 'ते कोई पैड़ है
ना पैड़ जोगा सफ़र है ।

ना सफ़र जोगा साथ है
ना साथ जोगा हरफ़ है
ना हरफ़ जोगा गीत है ।

ना गीत जोगी धुप्प है
ना धुप्प जोगा रुक्ख है
ना रुक्ख जोगी छाउं है ।

इक सुंञ वरगा शोर है
जां शोर वरगी चुप्प है
इह ख़ुदकुशी दी रुत्त है ।

हर रुत्त ख़ुदकुशी दी
पूरी बहार 'ते है
हर हादसे दा फुल्ल ही
आया निखार 'ते है
इक चुप्प चहचहाउंदी
दिल दी चनार 'ते है
हुन दरद अजनबी बण
आया दुआर 'ते है ।

अजनबी इक दरद दे
हुन साथ विच भौंदा हां मैं
नंगियां रातां नूं मूंह 'ते
योढ के सौंदा हां मैं
ते आपने गल लग्ग के
हुन आप ही रोंदा हां मैं ।

हुन किसे चेहरे 'चों मैनूं
गीत कोई लभ्भदा नहीं
वीरान्यां, मैख़ान्यां
दोहां च जिय लग्गदा नहीं
ते मौत दा अहसास हुण
दिल नूं कदे छड्डदा नहीं ।

हुन चुप्प एनी है
कि चुप्प दी 'वाज सुन सकदा हां मैं
ते दरद एना है
कि ख़ुद तों आप ही ड्रदा हां मैं
बदचलन रातां दा हुण
सड़कां 'ते भाय करदा हां मैं ।

ते सिफ़लसी शामां दी ठंढी
अग्ग विच बलदा हां मैं
हुन रोज़ ही ज्यूंदा हां मैं
ते रोज़ ही मरदा हां मैं
हुन पिट्ठ 'ते जंगल उठा के
शहर विच चल्लदा हां मैं
मैं पिट्ठ 'ते चुक्क के जंगल
शहर विच चल्ल रेहा हां ।

शहर दे मोड़ 'ते बाज़ार
मैनूं वेखदे ने
सरद मौसम च वी लोकीं
पए छावां वेचदे ने
मेरे जंगल नूं अग्ग ला के
ते हत्थ पए सेकदे ने ।

शहर दा ऐनासीनी शोर
जंगळ तों वी भद्दा है
इह औरत दे थणां विचकार
कुत्ता किसने बद्धा है
अते इस शहर दे विच वस रेहा
हर मरद अद्धा है
शहर विच उग्ग्या जंगल
मेरे जंगल तों वड्डा है ।

वज्जदी सारंगी नूं दोसतो !
सिफ़लस किवें होइऐ ?
निरोधी-भोग पिच्छों वी
शहर नूं गरभ किंज होइऐ ?
मेरा जंगल शहर विच उग्ग रहे
जंगल 'ते क्युं रोइऐ ?

पोशीदा मरज़ वाकण
शहर चेहरे क्युं छुपांदा है
इह आपने जंगली चेहरे
घरीं क्युं टंग आउंदा है
एथे हर घर ही
अलमारी च जंगल क्युं उग्गांदा है
इह ख़ुद नूं शहर ते मैनूं भला
जंगल क्युं कहन्दा है ?

मैं पिट्ठ 'ते चुक्क के जंगल
शहर विच ठर रेहा हां
मैं अद्धा थण च मर्या सां
ते अद्धा मर रेहा हां ।

मैं अद्धा थण च जद मर्या सां
तां मेरी मां वियोगन सी
मैं अद्धा शहर विच जद मर रेहां
जंगल वियोगी है
मैं धुप्प विच वर्ह रही
बदली दे वाकन उमर भोगी है
ते कुक्ख तों कबर तक्क
मेरे सफ़र दी हर पैड़ सोगी है ।

मैं थण दे चुप्प खंडरातां 'च
जिस दिन जनम लीता सी
ते काला दुद्ध पीता सी
मैं उस दिन समझ लीता सी
मेरे वरगे मसीहे वासते
किल्ल बहुत ससते ने
सलीबां तों बिना वी मरन दे
कई होर रसते ने ।

सरापे दुद्ध नूं जद वी
किसे ने जनम दित्ता है
उहनूं उस मार दित्ता है
नमोशी चुप्प दी सूली 'ते
उहनूं चाड़्ह दित्ता है
ते उहदी 'मैं' नूं
दो हिस्स्यां विच पाड़ दित्ता है ।

सरापे दुद्ध वाले सभ मसीहे
थन च मरदे ने
ते कुक्ख तों कबर तक्क दा सफ़र
मेरे वांग करदे ने ।

मैं मर चुक्क्यां
मैं ठर चुक्क्यां
मैं आपने दरद दी सूली 'ते
चिर होया कि चड़्ह चुक्क्यां
मैं आपने साथ संग आपे
बथेरा साथ कर चुक्क्यां
मैं आपने आप तों आपे
अनेक वार डर चुक्क्यां
मैं आपने आप नूं आपणे
नमोशे मूंह विखा चुक्क्यां
मैं आपने आप तों आपणे
कलंकित मूंह छुपा चुक्क्यां
मैं इकलापा, ज़लालत चुप्प
हस्से दी हंढा चुक्क्यां
मैं मर चुक्क्यां
मैं जा चुक्क्यां ।

मैं सच्च दस्सदां
मैं सच्च कहन्दां
प्या नज़रीं जो अज्ज आउंदा
इह मैं नहीं होर है कोई
जो तुर्या साथ विच जांदा
इह मेरी बीत चुक्की कल्ल्ह दा
है करंग चुंड्याया
मैं इस तों बहुत ड्रदा हां
मैं इस तों बहुत भैय खांदा ।

मेरा संकट सदा इह सी
मेरा संकट सदा इह है
उमर जद हान सी मेरे
मैं उस दे हान दा नहीं सां
मैं उस दे हान दा जद होया
उह मेरे हान दी ना रही
सो मैनूं कल्ल्ह दी उमरा
हमेशा अज्ज हंढानी पई
ते मेरी अज्ज दी उमरा
मेरे लई रोज़ विरथा गई
ना-जींदी जून मैं भोगी
सदा इक लाश ज्यूंदी लई
जो मैनूं ही उठानी पई
जो मैनूं ही जलानी पई ।

जे मेरी अज्ज दी उमरा
जे किधरे अज्ज मिल वी पई
जे पल दो पल लई किधरे
उह मेरे कोळ बह वी गई
ना उह पहचान वी सकी
ना मैथों ही पछानी गई ।

सी एने ग़म हयाती दे
रुझेवें ज़िन्दगानी दे
सी विरसे विच मिली भटकण
ते करज़े मेहरबानी दे
सी एने बोझ रूह आपनी 'ते
आपनी ही ग़ुलामी दे
कि एनी वेल्ह ना लभ्भी
कि मैं पहचान ही सकदा
कि मैं उहनूं मान ही सकदा
कि जंगळ तों उचेरा
होर रिशता जान कोई सकदा ।

जदों मैनूं अज्ज दी उमरा
जदों मैनूं अज्ज मिलदी है
मैं उस दा जिसम सुंघ लैंदा
मैं उस दा मास खा लैंदा
मैं बेही उमर भोगन दा
वसीला ख़ुद बना लैंदा
मैं दो पल भोग के उमरा
किसे सेजा 'ते मर जांदा
ते आपना नाम भुल्ल जांदा
ते उस दा नाम भुल्ल जांदा
ते भोगे पलां नूं
मैं सप्पनियां दा गीत कह लैंदा ।

की मेरी लोथ 'चों
अज्ज वी तुहानूं महक आउंदी है
की मेरी लोथ 'चों
अज्ज वी तुहानूं बोय नहीं आउंदी
कोई ऐसी बोय कि जेहड़ी
रात दे मोड़ां 'ते विकदी है
नंगे बाज़ारां च बहन्दी है
कोई ऐसी बोअ
जो मोई चुप्प नूं सप्पनी नूं डंग आउंदी है
कोई ऐसी बोय कि जेहड़ी
इक सरापे थण 'चों आउंदी है
मैं सभ कोलों बोय ख़रीदी है
ते सभ नूं महक दित्ती है
ते मैं हैरान हां
मेरी उमर ज्यूंदी किस ने भोगी है ?
मैं जद वेखी है आपने कोळ
आपनी लाश वेखी है ।

मैं बस कुझ औरतां दी
कुक्ख विच नाअरे ही मारे ने
ते कुझ्झ अंगां नूं भोगन वासते
कीते मुज़ाहरे ने
सरापे थणां ने
कुझ रोह भरे इशतेहार पाड़े ने
मैं ज़ेहनी जलावतनी दे
इउं आपने दिन गुज़ारे ने ।

मैं जो बच्या हां , मैं नहीं
मेरियां हारां दा पिंजर है
जां आपने आप तों लए
बदल्यां दी राख दी चुटकी
इह मेरी कल्ल्ह है, इह अज्ज नहीं
जो अज्ज है बाकी
जां आतम-घात मेरे दे
विलम्बत गीत दी बाकी ।

मैं सच्च दस्सदां
मैं सच्च कहन्दां
प्या नज़रीं जो अज्ज आउंदां
जो तुर्या साथ विच जांदा
इह मैं नहीं होर है कोई !
इह मैं नहीं होर है कोई !!
इह मैं नहीं होर है कोई !!!

 
 
 Hindi Kavita