Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Loona Shiv Kumar Batalvi in Hindi

लूणा शिव कुमार बटालवी

पहला अंक


धनवंती ते उहदे पहाड़ां दे नां

(चाननी रात दे अंतिम पहर,
नटी ते सूतरधार चम्बे शहर दे
नेड़े इक संघने वण विच बैठे
प्रेम कर रहे हन)

नटी

इह कवन सु देस सुहावड़ा
ते कवन सु इह दर्या
जो रात नमेघी चन्न दी
विच दूरों डल्हक रेहा
कई विंग-वलेवें मारदा
कोई अग्ग दा सप्प जेहा
जो कढ्ढ दुसांघी जीभ नूं
वादी विच शूक रेहा

सूतरधार

इह देस सु चम्बा सोहणीएं
इह रावी सु दर्या
जो ऐरावती कहांवदी
विच देव-लोक दे जा
इह धी है पांगी रिशी दी
इहदा चन्दरभाग भरा
चम्ब्याली रानी दे बली
इहनूं महंगे मुल्ल ल्या
ते तां ही धी तों बदल के
इहदा पुत्तर नाम प्या
चम्ब्याली ख़ातर जांवदा
इहनूं चम्बा देस केहा

नटी

है इतरां भिज्जी वग रही
ठंडी ते सीत हवा
एथे रात रानी दा जापदा
ज्युं साह है डुल्ल्ह ग्या

सूतरधार

हां नी जिन्दे मेरीए !
तूं बिलकुल ठीक केहा
है कुंग, कथूरी, अगर दा
ज्युं वगे प्या दर्या
इक मानसरोवर इतर दा
विच चन्न दा हंस जेहा
है चुप्प-चुपीता तैरदा
ते तारे चुगे प्या

नटी

पर मैनूं ईकन जापदै
ज्युं चानन दे दर्या
इह महक जिवें इक कुड़ी चिड़ी
जेहदा सज्जन दूर ग्या
अगन-वरेसे वटना मल मल
रही जो नगन नहा
पानी पा पा अग्ग बुझावे
अग्ग ना बुझन आ

सूतरधार

वाह !
इह तूं ख़ूब केहा
सच्च मुच्च तन दी अग्ग नूं
ना पानी सके बुझा
है संभव तन दी अग्ग थीं
खौल समुन्दर जा

नटी

छेड़ सुरंगी पौन दी
रही रुत्त बिरहड़े गा
ज्युं कामी सज्जन किसे दा
जद जाए विछोड़ा पा
इक डूंघी साउली शाम नूं
किते विच उजाड़ीं जा
ज्युं ढिड्डीं मुक्कियां मारदी
कोई बिरहन पए कुरला

सूतरधार

इह केहा सुहावा देस है
ते केही नशीली वाअ
इउं तरवर जापन झूमदे
ज्युं छींबा डंग ग्या
है थां थां केसू मौल्या
ते डुल्ल्हआ लहू जेहा
ज्युं काले रड़े पहाड़ दा
सीना पाट ग्या
इउं जापे भों दियां बुल्ल्हियां
विच भर्या नशा जेहा
इक सुआद सुआद हो जेहनां नूं
है अम्बर चुंम रेहा
कोई जीकन प्रेमी प्रेम तों
इक उमरा बाझ रेहा
उस अंभे होंठ तां चुंमणां
पर भुक्खा फेर रेहा

नटी

सुनो सवामी केहा सुहावा
पंछी बोल रेहा
ज्युं किसे प्रेमी आपणे
प्रेमी दा नाम ल्या
ज्युं बांस दी पाटी पोर चों
इक रुमका लंघ ग्या
ज्युं सेज सज्जन दी माणदी
दा हासा निकल ग्या
प्रथम प्रेम दे प्रथम मेल दे
प्रथम ही शबद जेहा
दरद परुच्चे किसे गीत दे
अंतिम बोल जेहा

सूतरधार

है सौले जेहे पहाड़ 'ते
चन्न ईकन सोभ रेहा
ज्युं कुलिक नाग कोई मन्नीं थीं
न्हेरे विच खेड रेहा
इह परबत लंम-सलंमड़ा
है ईकन फैल ग्या
ज्युं नागां दी मां सूरसा
दी होवे साल-गिर्हा
कई बाशक, उरग ते छींबड़े
कई अही, खड़प्पे आ
कई कल्लरी, उड्डणे, पदम ते
संगचूड़े धौन उठा
पए चानन दा दुद्ध पींवदे
ते रहे ने जशन मना
औह वेख नी जिन्दे ! घाटियां
विच बद्दल उड्ड रेहा
ज्युं सप्प किसे नूं डंग के
ग़ुस्से विच उलट ग्या
सुपन-लोक दे उड्डदे होए
दूध महल जहआ
जेहदी ममटी बैठा चन्न दा
कोई पंछी बोल रेहा
विच फुल्ल-पत्तियां दी सेज 'ते
इक नंगा अगन जेहा
इक बुत्त गुलाबी नार दा
कोई कामी वेख रेहा
ते भोगन पहले ओस दा
ज्युं सुपना टुट्ट ग्या

नटी

मैं वेख के उच्चियां टीसियां
हां रही तसवीर बणा
ज्युं वण-देवी अरनैणी
बद्दलां दी सेज विछा
वण-पुत्तर ताईं जीकणां
रही होवे दुद्ध चुंघा
दुद्ध भरियां सौलियां छातियां
ते कोसी नीझ लग्गा
ज्युं दुद्ध प्याउंदी बाल नूं
हर मां जावे नश्या

सूतरधार

इह रुक्ख जो अमलतास दे
पीली मारन भा
इउं जापन गगन कुठालीए
ज्युं सोना पिघल रेहा
जां धरत-कुड़ी दे कन्न दा
इक बुन्दा डिग्ग प्या
वाह नी धरत सुहावीए
तैनूं चड़्हआ रूप केहा

नटी

इउं जापे इस दे बाबले
इहदे दित्ते काज रचा
ते मत्ती मुशक अम्बीर हवा
इहदे दित्ते गौन बिठा
नदियां आईआं गौन नूं
परबत रेड़ा ला
चानणियां ज्युं तली 'ते
हन रहियां महन्दी ला
सिर 'ते चुन्नी अम्बरी
चन्न कलीरा पा

सूतरधार

पर हाए नी धरत सुहावीए
तूं लए कीह लेख लिखा
तेरा हर दिन ही मर जांवदा
लै किरनां दा फाह
तेरी हर रुत्त है छिण-भंगरी
जो जंमे सो मर जा
एथे छिन तों छिन ना फड़ीदा
ना साह कोलों ही साह
जो साह है बुत्तों टुट्टदा
उहदी कोट जनम ना थाह
ज्युं गगनीं उड्डदे पंछियां
दी पैड़ फड़ी ना जा
तेरा हर फुल्ल ही मर जांवदा
महकां दी जून हंढा
तेरा हर देहुं सूतक-रुत्त दी
पीड़ च लैंदा साह
तेरा हर साह पहलां जंमणों
लैंदा अउध हंढा

नटी

सुनो तां मेरे राम जीउ
लेखां नूं दोश केहा
है चंगा जे ना फड़ीदा
एथे साह कोलों जे साह
कीह बुरा जे मंज़िल पहलड़े
ते पिच्छों लभ्भे राह
जां तीर लग्गन तों पहलड़े
जे छाती लग्गे घा
विच अद्धवाटे ही खड़न दा
आवे बड़ा मज़ा
कुझ पिछे मुड़न दी लालसा
कुझ अग्गे वधन दा चा
पर जो वी पूरन थीव्या
उहदा जीना जग्ग केहा ?
है शुकर समां ना धरत 'ते
इको थाउं खड़्हा

सूतरधार

इह तां मैं वी समझदा
पर हुन्दै दुक्ख बड़ा
जद कल्ले बह के सोचीए
इह फुल्ल जाने कुमला
इह वादी दे विच शूकदा
सुक्क जाना दर्या
इहने भलके रुख़ बदलणा
जो वगदी सीत हवा
हन रुत्तां पत्तर छंडणे
लै जाने पौन उड्डा
लै जाने रुक्ख वढाए के
तरखाणां मोछे पा
तरखाणां मोछे पाए के
लैने पलंघ बणा
पलंघे सेजां माणदे
मरने सेज विछा

नटी

मरना जीना करम है
इस दा खेद केहा
है परिवरतन ही आतमा
जेहनूं जांदा अमर केहा
इस दे बाझों सहज सी
बुस्स जांदी इह वाअ
बुस्स जांदे चन्न सूरजे
बुस्स जांदे दर्या
बुत्त नूं बुत्त गल मिलन दा
रहन्दा रता ना चाअ
बाग़ीं फुल्ल ना मौलदे
ढकीं सावे घा
इस अमर मनुक्ख दी भटकणा
विच डाढा तेज़ नशा
इस भटकन दा नां ज़िन्दगी
ते इस दा नाम कज़ा
इह भटकन दा ही रूप है
जो खेत रहे लहरा
इस भटकन दी ही कुक्ख 'चों
है धरती जनम ल्या

सूतरधार

उफ़ ! केही इह भटकणा
कुझ सुपने मोढा चा
जनम-दिवस दी नगन-घड़ी तों
थन नूं मूंह विच पा
हरनां सिंगीं बैठ के
देनी उमर वंजा

नटी

इह भटकन सदा मनुक्ख नूं
अग्गे रही चला
इस भटकन अग्गे देवते
वी जांदे सीस निवा

सूतरधार

है संख ने वज्जे मन्दरीं
ते खूहीं डोल प्या
हुन सत्थीं चिड़ियां चूकियां
ते जंगळ बोल प्या
है होया सरघी वेलड़ा
ते चन्न वी बुझ ग्या
है सूरज दा रथ हिक्कदा
सिर भी आए प्या
आयो मुड़ीए देव लोक नूं
गई सारी रात वेहा

नटी

की होया सज्जन मैंडड़े
जे गई है रात वेहा
की होया मेरे शाम जीउ
जे खूहीं डोल प्या
जी चाहुन्दै इसे धरत ते
मैं देवां उमर वंजा

सूतरधार

इह कौन ने टूने हारियां
जेहनां कीली कुल्ल फ़ज़ा
ज्युं गुम्बद विच आवाज़ दी
टुरदी रहे सदा
ज्युं मधू-मुक्खियां दा
मधू-वणां विच टोला उड्ड रेहा
ज्युं चीर के जंगळ बांस दे
लंघे तेज़ हवा
ज्युं थल 'चों लंघे काफ़ला
जद अद्धी रात वेहा
है सारी वादी गूंज पई
इह कौन ने रहियां गा ?

(गीत दी आवाज़ उभरदी है)

अद्धी रात देस चम्बे दे
चम्बा खिड़्या हो
चम्बा खिड़्या मालणे
उहदी महलीं गई ख़ुशबो
महलीं रानी जागदी
उहदे नैणीं नींद ना को
राजे ताईं आखदी
मैं चम्बा लैना सो
जो काले वण मौल्या
जेहदी हौके जही ख़ुशबो
धरमी राजा आखदा
बाहां विच परो
ना रो जिन्दे मेरीए
लग्ग लैन दे लोअ
चम्बे ख़ातर सोहणीए
जासां काले कोह
रानी चम्बे सहकदी
मरी विचारी हो
जेकर राजा दब्बदा
मैली जांदी हो
जेकर राजा साड़दा
काली जांदी हो
अद्धी रातीं देस चम्बे दे
चम्बा खिड़्या हो

सूतरधार

वेख नटे !
किंज वादी दे विच
सवर है गूंज रेहा
सरसवती दे सवर-मंडल नूं
ज्युं कोई छेड़ ग्या
कत्तक माह विच कूंजां दा
ज्युं कन्नीं बोल प्या
चेतर दे विच ज्युं कर बाग़ीं
वगे पुरे दी 'वा
साउन महीने ज्युं कोइलां दी
दूरों आए सदा
निक्की कनी दा कहन्दे छन्ने
मींह ज्युं वर्हे प्या
ज्युं परबत विच पारवती दा
बिछूआ छनक रेहा
जां ज्युं होवे गूंजदा
शिव दा नाद-महां

नटी

ज्युं सागर दी छाती 'ते
कोई रेहा मछेरा गा
जां बिरहन दे विच कालजे
शबद कोई धुखे प्या
जो उहदे झूठे प्रेमी उस दे
कन्नीं कदे केहा

सूतरधार

इह आनन्द केहा ?
किंज शबद दी महक फड़ां
मैथों महक फड़ी ना जा
ज्युं कोई भौरा गुन गुन करदा
कंवल सरोवर जा
महक दे कज्जन लिपटे होए
नीले सुपन जेहा
ज्युं किसे विधवा हौका भर्या
सुन्नी सेज विछा

नटी

इह तां हन चम्ब्यालणां
जो रहियां रल मिल गा
शहद-परुच्चे कंठ 'चों
लंमी हेक लग्गा
ज्युं मां कोई गावे बिरहड़ा
चरख़े तन्द वळा
जेहदा पुत्तर सत्त समुन्दरीं
ना मुड़्या लाम ग्या

सूतरधार

इह तां सभो राणीएं
हन रहियां इत्त वल्ल आ
हत्थ फुल्लां दियां डालियां
सिर 'ते गड़वे चा
आ गगनां नूं उड्डीए
जां छड्ड दईए राह
बणीए वासी धरत दे
जां लईए रूप वटा

नटी

हां हां प्रभ जी ठीक केहा
आयो लईए रूप वटा
ते करीए चार गलोड़ियां
नाल इन्हां दे जा
(सूतरधार ते नटी रूप वटा लैंदे हन ।
चम्ब्यालणां उच्ची उच्ची गाउंदियां प्रवेश
करदियां हन ।नटी उन्हां चों इक नाल
गल्लां करदी है ।)

नटी

चम्बे दीए चम्बेलीए
तेरी जीवे महक सदा
इह जोबन दा हड़्ह ठिल्हआ
किस पत्तन नूं जा
हंस, हमेलां, बुग्हतियां
गल्ल विच कंठे पा
छापां, छल्ले, आरसियां
गोरे हत्थ अड़ा
चीची विच कलीचड़ी
पैरीं सगले पा
कोह कोह वाल गुन्दाए के
फुल्ल ते चौंक सजा
कन्नीं झुमके झूलदे
लौंग तीलियां पा
सिर सोभन फुलकारियां
अतलस, पट्ट हंढा
कित्त वल्ल चल्लियां कूंजड़ियां
हार शिंगार लग्गा
इह बौंदल गईआं डाचियां
कित्त वल्ल रहियां धा ?

चम्ब्यालण

सुन भैने परदेसणे
असीं आईआं नदीए जा
इक योधे दे नाउं 'ते
लक्ख दीवे प्रवाह
अज्ज जनम देहाड़ा ओस दा
अज्ज दिले थीं चाअ
असीं राजे वरमन वीर दे
रहियां शगन मना
सिर 'ते गड़वे नीर दे
ताज़े फुल्ल तुड़ा
असीं महलीं रानी कुंत दे
चल्लियां रूप सजा
जिथे राजा न्हावसी
वटने लक्ख लग्गा
इतर, फुलेलां, केवड़े
गंगा-जली रला
इस तों पिच्छों होवसी
डाढा यग्ग महा
सारे चम्बे देश 'चों
काले मुरग मंगा
इक सौ इक्की भेड थीं
कीता जाऊ जिब्हा
राजा कोट स्याल दा
आया पैंडे गाह
जो साडे महाराज दा
बण्या धरम भरा
जो सलवान कहांवदा
करसी रसम अदा
वढ्ढू भेडां सारियां
लोहा साने ला
वगू सूहा शूकदा
लहूआं दा दर्या
चम्बे दी इस धरत 'ते
देसी रंग चड़्हा
मत्थे टिक्के लाउन दी
होसी रसम अदा
नौबत, कैलां, डफ्फलां
देसन शोर मचा
आसन भंड, मरासीए
भट्ट सुरंगी चा
होसन धामां भारियां
देगां चुल्हे चड़्हा
अंत विच मुट्यार इक
चुणसी राजा आ
सारे चम्बे देस 'चों
जिस दा हुसन अथाह
उह सोहनी मुट्यार फिर
गोरे हत्थ उट्ठा
करसी राजे वासते,
देवी कोल दुआ
देवी वरमन वीर ते
रहमत इह फ़रमा
सारे चम्बे देस दी
इस नूं उमर लग्गा
फिर राजा उस कुड़ी दा
धरमी बाप बुला
इक खूहा, दो बौलियां
देसी नाम लुआ
आया चम्बे शहर थीं
कुल मुलखई्ईआ धा
आयो राहीउ लै चल्लीए
जे देखन दा चा

नटी

ना नी भैणां मेरीए
असां जाना दूर बड़ा
अजे पैंडा वांग सराल दे
किना होर प्या
( चम्ब्यालणां हस्सदियां हस्सदियां चलियां जांदियां हन ।)

सूतरधार

हुने सी वगदी पौन दे
सन्दली सन्दली साह
हुने सी महकां खेडदियां
गल चानन दे धा
हुने सी रिशमां सुत्तियां
सरवर सेज विछा
हुने तां धरत सवरग सी
हुने तां नरक भया
वैतरनी विच बदल ग्या
शूक रेहा दर्या
इह की हन चम्ब्यालणां
गईआं गल्ल सुणा
कद लहूआं नूं डोल्ह के
मरदे पाप भला ?

नटी

इह मानव दे कोझ दा
कोझा इक पड़ाअ
जान पराई कोहे कद
वधदी उमर भला
प्रान पराए खोहे कद
मिलदा रब्ब भला ?

सूतरधार

किर्या केही अवल्लड़ी
कुझ्झ वी समझ ना आ
जो वी धरती जंमदी
आपे जांदी खा
ज्युं मक्कड़े संग मक्कड़ी
पहले भोग रचा
गरभवती मुड़ होए के
जांदी उस नूं खा

नटी

धरती दी गल्ल सोच के
मन ना कर बुरा
इह जणनी है पाप दी
इह पापां दी जाह
पाप तां इस दा करम है
इस दा पाप सुभाअ
जे इह पाप कमाए ना
तां अज्जे मर जा
आयो मुड़ीए परलोक नूं
महकां दे पर ला
हुन तां धुप्पां उग्गियां
ग्या सूरज सिर 'ते आ
घुल जाईए विच महक दे
घुल जाईए विच वाअ
( सूतरधार ते नटी अलोप हो जांदे हन ।)

दूजा अंक


परम, पारवती ते पुशपा दे नां

(राजे वरमन दे जनम दिवस दा उतसव
समापत होन उपरंत उस तों अगले दिन
राजा सलवान ते राजा वरमन आपो विच
बैठे गल्लां कर रहे हन ।)

सलवान

कल्ल्ह दा देहुं वी
कैसा देहुं सी
कैसी सी
उस दी ख़ुशबोई
आपणियां आप गुलाईआं चुंमदी
भर जोबन विच
नार ज्युं कोई ।
पर अज्ज दा देहुं
कैसा देहुं है
कैसी है इस दी ख़ुशबोई
रात उनींदा भोगन पिच्छों
जिवें वेसवा
सुत्ती कोई

वरमन

हां मित्र !
कुझ देहुं हुन्दे ने
मत्थे जिन्हां ना सूरज कोई
जून नधुप्पी
हुन्द्यां वी पर
कदे जिन्हां दी धुप्प ना मोई
उंज तां
हर देहुं महक-वेहूणा
कोई कोई पर
देवे ख़ुशबोई
जेहड़े देहुं दा तन महकीला
सोईयो साडी उमरा होई
हे राजन, हे योधे, सूरे
पर ऐसी कीह
बात है होई ?
कल्ल्ह दे देहुं तों
अज्ज दे देहुं तक
सै जनमां दी दूरी होई

सलवान

हे मेरे मित्तर
मीत प्यारे
हे चम्ब्याल देस दे राजे
सुत्ता सूरज
कौन जगावे ?
जे कोई कल्ल्ह दा सूरज मोड़े
उह मेरे सभ सूरज खावे
ज्युं ज्युं कोई
सूरज बणदा
कच्ची अग्ग दी उमर हंढावे
किंज बोलां
की बात करां मैं ?
जीभ मेरी नूं लज्ज्या आवे
जे लज्ज्या नूं
अन्दर रक्खदां
अन्दर मेरा धुख धुख जावे
जे लज्ज्या नूं
बाहर रखदां
मेरा सूरज मरदा जावे
मैथों धुप्प
फड़ी ना जावे

वरमन

सुन सज्जन !
सुन मित्तर योधे
हर मत्थे विच सूरज होवे
हर धुप्प
गरभवती है धुर तों
उस दी कुक्ख विच सायआ रोवे
उस दी धुप्प
कदे ना मरदी
जेहदा कोई परछावां होवे
जे तेरी
धुप्प दा परछावां
जीभ तेरी 'ते आन खलोवे
तां संभव है
तेरी धुप्प वी
तैथों बे-मुक्ख कदी ना होवे
धुप्प तां
मरदी है उस वेले
जद कोई छां विच आण खलोवे
जां नैणां विच
नींदर होवे

सलवान

हां सज्जन !
मैनूं नींद आ गई
हां सज्जन !
मैं सौना चाहुन्दां
दिन-दीवीं, भर सिख़र दुपहरे
सूरज किते बुझाना चाहुन्दां
हर देहुं
मेरी नींद दा पिंडा
अगन-सरपनी ने डंग्या है
हर देहुं मेरा
पर अंग छोह पा
होई गरभवती दे वाकण
लज्ज्या संग भिज्जआ लंघ्या है
हर देहुं मेरा
समें दी सुक्की सूली उपर
सूतक-रुत्त तों ही टंग्या है
हां हां सज्जण
मैं कहन्दां
मैं जगराते दा थल लंघ्या है
थक्क टुट्ट के अज्ज जीभ मेरी ने
नींदर दा
इक घुट्ट मंग्या है
हां सज्जन !
मैनूं नींद आ गई
हां सज्जन !
मैं सौना चाहुन्दां

हां हां मैं हुण
सौना चाहुन्दा
आपने परछावें दी छावें
मेरे परछावें दे भावें
पत्तर टावें टावें
मेरे
परछावें दी छावें
कोई पंछी ना गावे
मेर परछावें नूं भावें
तूं वी अंग ना लावें
पर मैं
फिर वी सौना चाहुन्दां
आपनी धुप्प दी छावें
हां सज्जण
सभ आपनी धुप्प नूं
धुप्प्युं छावें करदे
आपनी धुप्प दा
आपने हत्थीं
चीर-हरन हन करदे
देहुं दे गज़
उमर दा कप्पड़ा
मिन मिन सारे मरदे
सभ्भे छां दे जाल विछा के
निन्दराए पल फड़दे
निन्दराए हां सारे जंमदे
निन्दराए हां मरदे

वरमन

ठीक असीं हां
सभ निन्दराए
सभ उनींदी
जूने आए
अगन-बिरछ लुंजे, बे-पत्तरे
सभनां आपनी नींदर ख़ातर
देहियां दी
वलगन विच लाए
ते उस थल्ले
पट्ट विछाए
फिर वी सानूं नींद ना आए
साडी छां नूं
साडी धुप्प ही
कई वारी ना अंग छुहाए
पर मित्तर
हे मेरे सज्जण
जीभ तेरी कोई बात तां पाए
बोल कलहणे
नींदर वाले
क्युं तेरे होंठां 'ते आए ?

सलवान

कीह पावां
मैं बात प्यारे ?
जेहनां खूहां दे पानी खारे
कदे ना पनघट
बनन विचारे

वरमन

आख़िर ऐसा
दुक्ख वी कीह है ?
दुक्ख तां पंछी उड्डन हारे
अज्ज इस ढारे
कल्ल्ह उस ढारे

सलवान

सुन सज्जण
तां बात सुणांदां
दुक्खां वाली
अग्ग जलांदां
अग्ग नूं आपनी जीभ छुहांदा
बीत गए नूं
'वाज मार के
मोए सूरज मोड़ ल्याउंदा
आपनी धुप्प दा
नगर विखाउंदा
मैं जो धुप्प वेहाजी
रंग-वेहूनी सी
अग्ग 'चौधल' दे चुल्ल्हे
सेकों ऊनी सी
पूरन दी मां इच्छरां
रूप-वेहूनी सी
अग्ग दी सप्पणी
पर मेरे घर सूनी सी

अग्ग दी सप्पणी
जद वेहड़े विच आण वड़ी
लक्ख बचायआ आपा
पर उह रोज़ लड़ी
नशा जहआ नित्त आया
पर ना विस्स चड़्ही
नार मेरे अंतर दी
इस तों नहीं मरी
अण-चाहआं वी
डंगां दी पर पीड़ जरी
मैथों सुपने दी सप्पणी
ना गई फड़ी

मेरे सुपने दी सप्पणी
ज़हरीली सी
उग्गदे देहुं दे
रंगां वांग रंगीली सी
मध दी भरी
कटोरी वांग नशीली सी
निरी सी अग्ग दी लाट
बड़ी चमकीली सी

मैं चाहआ
सुपने दी सप्पनी मार द्यां
मैं चाहआ
कि उस दा रूप विसार दियां
सोचां वाली
अड्डी हेठ लिताड़ द्यां
अग्ग दी सप्पनी ख़ातर
सुपना साड़ द्यां

पर सुपने दी
सप्पनी मैथों नहीं मरी
ज्युं ज्युं मारे मंतर
त्युं त्युं होर लड़ी
एसे दुक्ख संग लड़दे
मेरी धुप्प ढली

कई वारी मैं चाहआ
रिशता तोड़ द्यां
अग्ग दी सप्पणी
बाबल दे घर मोड़ द्यां
ते आपे नूं
सुंञां दे संग जोड़ द्यां

पर हर सप्पनी दा बाबल
निरदोशा है
हर धी दा रंग
हर बाबल लई कोसा है
हर धी
हर बाबल दी
पग्ग दा टोटा है
एस देस दी हर धी दा
मसतक खोटा है

एहो गल्लां करदी
उमरा टुरी गई
गीटे वाकन हठ दी नदीए
रुड़्ही गई
हर इक चाय दी
नुक्कर आख़िर भुरी गई
जित्त वल्ल मुड़ गए पाणी
उत्त वल्ल मुड़ी गई

सुपने दी सप्पनी दा
सुपना टुट्ट ग्या
मैथों मेरा
बलदा सूरज खुस्स ग्या
फुळ्ळ मेरे बाग़ां दा
सूहा बुस्स ग्या
मैं आपने ही
परछावें संग रुस्स ग्या

मैं सूरज सां
पर काळख दी जून हंढाई
अग्ग दी सप्पनी नूं पर दुक्ख दी
महक ना आई
मैं वी वेदन दी उस अग्गे
बात ना पाई
सौं रही मेरी चन्दन-देह संग
देह चिपकाई
मैं जागां
उस नींदर आई
रुक्ख निपत्तरे
नींदर दे नूं फुल्ल आ लग्गा
नींदर वाला रुक्खड़ा मैनूं
हर्या लग्गा
अग्ग दी सप्पनी दी कुक्खों
मैनूं सूरज लभ्भा
निरलोआ, मेरा जीवन मैनूं
जवाला लग्गा
पर उह सूरज
मेरे मत्थे कदे ना लग्गा
अठार्हां वर्हे लई उहदी लौ नूं
जन्दरा वजा
मेरा पुत्तर पूरन
मैनूं कदे ना लभ्भा

मैं मुड़ छां दी
जून हंढांदा सोचन लग्गा
नहुंआं दे संग
ग़म दियां कबरां खोदन लग्गा
करमां दी काळख नूं
मर मर भोगन लग्गा
सोचन लग्गा
कि धरती 'ते जून हंढाणी
अग्ग दी नदीउं
ज्युं बुक्कां थीं पीना पाणी
कुझ पीणा
कुझ किर जाणा
रस विरलां ताणी
अत्रिपती ते लज्ज्या दे
काले कमरे विच
इक दूजे दे अंग वलस के
अगनी खाणी
ज्युं सूरां दी
फिरदी ढाणी

वरमन

हां मित्तर !
तूं सच्च कहन्दा हैं
अग्ग बिन अग्ग दी
उमर हंढाणी
ज्युं जीवे मच्छी बिन पाणी
हर बालन नूं
अग्ग बनन लई
पैंदी ही है अगनी खाणी
उंज तां हर अग्ग
अग्ग हुन्दी है
चुल्ल्हे बले जां मड़्ही-मस्साणीं
पर जो अग्ग ना
लांबू बणदी
उह अग्ग हुन्दी दरद-रंझाणी
जे इच्छरां दी
कच्ची अग्ग सी
तां सी फूकां नाल मघाणी
जां उस ते पा दिन्दा पाणी
हड्डां ताईं घुन हुन्दी है
दो चित्ती दी
जून हंढाणी

उंज तां मित्तर
मीत प्यारे
हर कोई कच्ची अग्ग नूं खावे
बलदी अग्ग नूं वी हर कोई
कच्ची कह के
उमर लंघावे
हर बलदी अग्ग
चुंमन पिच्छों
कच्ची अग्ग दा रूप वटावे
सुपने दी
सप्पनी वी इक दिन
अग्ग दी सप्पणी
ही बण जावे

सलवान

सुपने ते
अग्ग दी सप्पनी विच
मेरे मित्तर अंतर हुन्दै
अग्ग दी सप्पनी सदा पाळतू
इस दा हत्थ विच
मंतर हुन्दै
जे सुपने दी सप्पनी डंगे
उस दा अंत
भिअंकर हुन्दै
अग्ग दी सप्पनी जे है शुअला
तां उह इक बसंतर हुन्दै
अगन-सरपनी
ज्यूंदा सच्च है
चेतन-देह दा कंकर हुन्दै
सुपन-सरपनी
झूठ, निररथक
सुपने दा इक जंतर हुन्दै

वरमन

सज्जन ! दोसत !
बहादर बन्दे
सुपने तों कोई सच्च कीह मंगे
साडी उमरा तां लंघ जावे
पर सुपने दी
अउध ना लंघे
इह साडे धुर अन्दर किधरे
पुट्ठे चमगिदड़ां वत्त टंगे
काले रुक्ख, किसमतां वाले
ते फल खांदे रंग-बरंगे
कोई कोई सुपना करमां सेती
कदे कदे सच्च बण के लंघे
किसे किसे चेहरे 'चों सानूं
सुपन-सरपनी
आ के डंगे
इस दा डंग्या कुझ ना मंगे
मंगे तां
उहदी छोह नूं मंगे
दिन-दीवीं जां सौना मंगे
पर ना छोह
ना सौना मिलदा
उमर असाडी धुख धुख लंघे
साडी देह ही, साडे साह तों
इक दिन नीवीं पा के लंघे
साडा सूरज
साथों संगे

सलवान

हां मित्तर !
तूं सच्च कहन्दा हैं
हुन तां सूरज
ढल चल्ल्या सी
धुप्प दा बालन बल चल्या सी
सुपन-सरपनी वाला सुपना
हुन मिट्टी विच
रल चल्ल्या सी
पर कल्ल्ह सुपना अक्खीं तक्क के
मैनूं मुड़ के
छल चल्या है
मेरी महक-विछुन्नी रूह 'ते
मुड़ कोई चेतर
मल चल्ल्या है

वरमन

मैं वड-भागा
इस मिट्टी 'चों
जे तैनूं तेरा सुपना लभ्भे
केहड़ी रूपवती है ऐसी
मैनूं वी कुझ
पता तां लग्गे ?

सलवान

हां मित्तर ! उह किरन जेही जो
सुत्त-उनींदे नैणां वाली
कोह कोह लंमे वालां वाली
नीम-उदासे अंगां वाली
दुद्धीं धोते रंगां वाली
लंम-सलंमी चन्दन-गेली
भारे जेहे नितंभां वाली
मोती-वन्ने दन्दां वाली
लूणां !
जेहड़ी कल्ल्ह उतसव विच
चुनी सी युवती संगां वाली
सुपन-सरपनी डंगां वाली

वरमन

लूणां ……!
बारू शूदर वी धी ?
सोहणी, चंचल कोमल अंगी
पर पिछले जनमां दा फल है
जिवें अपच्छरां, पर भिट्ट-अंगी
मधरा दे विच ज्युं जल-गंगी
सुन्दर नार किसे राजे दी
संभव ना
होवे अरधंगी

सलवान

जे लूणां
शूदर दी धी है
निरदोशी दा दोश वी कीह है ?

वरमन

दोश !
दोश तां उस दे करमां दा है
यां फिर पिछले जनमां दा है

सलवान

नहीं नहीं !
कुझ्झ दोश ना उस दा
दोश तां साडे भरमां दा है
जां फिर साडे धरमां दा है
धरम
जो सानूं इह कहन्दे ने
मन्दरां दे विच संख वजावो
वट्ट्यां दे विच शरधा रक्खो
पत्थरां अग्गे धूफ़ धुखावो
पर जे मानव मरदा होवे
मरदे मूंह विच बून्द ना पावो
इक दूजे दे
लहूआं दे विच
आपने आपने हत्थ डुबावो
आउंदे मानव जोगा रलके
खेतीं रज्ज के कोझ उगावो
तवारीख़ दी छाती उत्ते
रंगां वाले नाग लड़ावो
सम्यां दे शमशानघाट 'ते
आपनी आपनी मड़्ही बणावो
केहड़ा धरम
ते केहड़ा रंग है
संगमरमर दे खुतबे लावो
धरम, तां मेरे मित्तर उह है
जो ना लहू दा रंग पछाणे
जो सभनां नूं इक कर जाणे
मानव दी पीड़ा नूं समझे
मानव दी पीड़ा नूं जाणे

असीं तां सज्जन !
सभ शूदर हां
भिट्ट-अंगे ते सुहज-वेहूणे
वक्ख वक्ख लहूआं दे रंग लै के
धरमां वेहड़े करीए टूणे
करम-विछुन्ने जनम-वेहूणे
उत्तों मिट्ठे विचों लूणे

कल्ल्ह जो मित्तर
देहुं मर्या सी
की उह मुड़ के अज्ज मर सकदै
जां जो कल्ल्ह नूं मरना हाले
किसे वी हीले अज्ज मर सकदै ?
अज्ज दा देहुं तां
सज्जन मेरे
अज्ज चड़्ह सकदै, अज्ज मर सकदै
बीते जनमां दे करमां दा
दोश किसे सिर
किंज चड़्ह सकदै
जो मर्या
सो मर चुक्का है
जो ज्यूंदा सो मर जावेगा
जां जो जंमना वी है हाले
उह वी सूरज ठर जावेगा
भूत, भविक्ख दा नाग ना संभव
अज्ज दी धुप्प नूं
लड़ जावेगा

वरमन

मन्नदां, धुप्प नूं नाग ना लड़सी
अज्ज दा देहुं ना
उस तों मर सी
पर करमां दे नागां अग्गे
कोई मांदरी
कीकन खड़सी ?

करम तां ऐसे नाग ज़हरीले
जो सम्यां तों जान ना कीले
इह जनमां तक्क पिच्छा करदे
किसे वी हीले, किसे वसीले
असीं जां कुक्खां दी
जून हंढादे
इह तां ओथे वी आ जांदे
असीं जनमीएं
इह जंम पैंदे
इह साडे मत्थे विच रहन्दे
नित्त साडी किसमत नूं डंगदे
विस्स घोलदे
मौज मनांदे

सलवान

इह तूं नहीं
तेरा भरम बोलदै
तेरा सीमत धरम बोलदै

वरमन

जे इह मेरा
भरम बोलदै
जां कोई सीमत धरम बोलदै
तां मैं कहन्दां
तेरे अन्दर
काम-समुन्दर प्या खौलदै
सुपने दी सप्पनी दा काला
तेरे अन्दर
ज़हर बोलदै

सलवान

नहीं नहीं
इह काम नहीं है
मेरे अन्दर तां मेरे सज्जण
कोई ऐसा शैतान नहीं है
मेरे अन्दर तां मेरे मित्तर
सदा बग़ावत है इक धुखदी
क्युं धरम दे नां 'ते दुनिया
इक दूजे दे मूंह 'ते थुक्कदी
क्युं मानव नूं नफ़रत करदी
जंमी मानव दे ही कुक्ख दी
भरमां वाले व्यूह-चक्कर तों
क्युं कर इसदी जान ना छुट्टदी
बाकी सुपन-सरपनी बारे
मैं मेरे मित्तर
तरला पांदा
मैं तां वर्हआं तों मेरे सज्जण
धुप्प छावां दी जून हंढांदा
जे मेरी झोली धुप्प ना पाई
आपना सूरज
आप बुझांदा

वरमन

मेरे सज्जण
इह की कहन्दैं ?
भिट्ट- अंगी लई नीवां पाउंदैं
तूं उस नूं अरधंगी ना चुण
मिल सकदै बाकी जो चाहुन्दैं
भिट्ट-अंगी दा सुच्चा पिंडा
आ जांदा है
जे तूं कहन्दैं

सलवान

नहीं, नहीं
मैं इह नहीं चाहुन्दा
ना ऐसा मैं पाप कमायऐ
ना ऐसा मैं पाप कमांदा
मैं तां सुपन-सरपनी दा बस
जनम जनम लई
साथ हां मंगदा
जनम जनम लई
साथ हां चाहुन्दा

( राजे वरमन दी बीवी कुंत कमरे 'च
परवेश करदी है ते वरमन
नूं ख़िताब करदी है ।)

कुंत

नमसकार, होए सवामी मेरा
बारां उहले खड़ी खड़ी मैं
सुन चुक्की
विख्यान बथेरा
मेरे सवामी
नीर जे गन्दा
गंगा ताईं आ मिल जावे
उह सारा गंगा कहलावे
पूजण-हारा ही हो जावे
क्युं संभव ना
जेकर लूणां
वीर मेरे दे लड़ लग्ग जावे
क्युं कर मुड़
शूदर कहलावे ?

वरमन

चात्रिक सुआंत बून्द ही पीवे
उह तां गंगा कदे ना जावे
लक्ख पवित्तर होवन पाणी
उह ना उस नूं जीभ छुहावे
बेशक्क काग ने काले हुन्दे
पर कोई
कोइल ना कहलावे

कुंत

बे-शक्क
कोइलां, काग ने काले
पर कोइलां दे बच्चे पाले
संभव है
वीरे घर लूणा
मुड़ के बुझ्झ्या
सूरज बाले

वरमन

मैं चाहुन्दां
सूरज बल जावे
पर ख़ौरे क्युं
लज्ज्या आवे
ऊधे-परीए
की आखणगे ?
इच्छरां ताईं जंमन वाले
डरदां कोई हरफ़ ना आवे ।

सलवान

हरफ़ तुसां 'ते
तद आवेगा
जद सलवान वी
मर जावेगा

वरमन

इह इच्छरां संग
वी अन्यां है
उह तेरे
वेहड़े दी छां है
ते तेरे पुत्तर दी मां है
नारी जद इक
मां बण जावे
नारी नहीं
बे-जीभी गां है

कुंत

नारी, नर दा
उह गहना है
नर दे गल्ल विच
तां रहना है
जे नर नूं
उस मोह लैना है
पर जे
नर नूं मोह नहीं सकदी
तां उह नारी
हो नहीं सकदी
अगन-सरपनी
हो सकदी है
सुपन-सरपनी
हो नहीं सकदी
इहदे नालों
अगन-सरपनी
चंगा है
जेकर मर जावे
मुड़ नारी दी
जून ना आवे

वरमन

कुंते !
पर हर अगन-सरपनी
सुपन-सरपनी
वी है हुन्दी
जे इक अक्ख लई
निरा कोझ है
दूजी दे लई
सुहज है हुन्दी
रत्ती दी नींदर 'चों टुट्टा
हर नारी
सुपना है हुन्दी
पर जे तुसीं
बड़े इच्छुक हो
केहो मंतरी ताईं जा के
बारू दे घर
जा कह आवे
कि उह धी दा
काज रचावे
ते मेरे
मित्तर लड़ लावे
जो मंगे
सो बख़शिश आवे

( सारे उट्ठ के चले जांदे हन )

तीजा अंक


सीता ते गीता दे नां

(लूणा ते सलवान दा व्याह हो ग्या है ।
लूणा आपणियां दो सहेलियां ईरा ते
मथरी नाल आपने घर दे इक कमरे 'च
बैठी व्युंदड़ वसतर पाई, सौहरे-घर टुर
जान तों पहलां गल्लां कर रही सी ।)

लूणा

मैं अग्ग टुरी परदेस,
नी सईउ ,
अग्ग टुरी परदेस,
इक छाती मेरी हाड़्ह तपन्दा
दूजी तपदा जेठ
नी मैं अग्ग टुरी
परदेस

अग्ग दी उमरे,
हर अग्ग टुरदी
जा बहन्दी परदेस
हर अग्ग दे, बाबल दे चुल्ल्हे
सदा ना उस दा सेक
हर अग्ग दे,
बाबल दी जाई
टुर जाए दूर हमेश
इह कीह अग्ग दे लेख,
नी सईउ
इह कीह अग्ग दे लेख ?

हर घर दी,
कंजक दी आवे
जद वी अगन-वरेस
हर बाबल दी नींद गवाचे
बलदा वेहड़ा वेख

हर बाबल
वर ढूंडन जावे
हर अगनी दे मेच
हर अग्ग ही, छड्ड जावे सईउ
हर बाबल दा देस
ला तलियां 'ते
बलदी महन्दी
पा के अग्ग दा वेस
नीं मैं अग्ग टुरी परदेस

पर सईउ,
मैं कैसी अग्ग हां
कैसे मेरे लेख ?
इक तां मुक्ख दा, सूरज बलदा
दूजे थल पैरां दे हेठ
तीजे बैठी,
मच्चदी देह दे
अगन-बिरछ दे हेठ
फिर वी सईउ
बुझदा जांदा
इस अगनी दा सेक
जो बाबल, वर ढूंड ल्याया
सो ना आया मेच
नीं मैं अग्ग टुरी,
परदेस

ईरा

सईए !
अग्ग दी जीभ ना हुन्दी
बोल ना बोल कबोल
अग्ग दा करम नहीं, कि बोले
आपनी जीभों बोल
अग्ग तां सदा,
अबोली जंमदी
मरदी सदा अबोल
जो अग्ग बोले, थीए कलंकी
जग्ग ना ढुक्कदा कोल
चुल्ल्ह पराई
हड्ड बालणे
देनी उमरा रोल
भित्तां पिच्छे बह बह रोणा
लैने अत्थरू डोहल
एस देस दी,
हर अग्ग रोगण
वेखो नबज़ां फोल
लहू थुक्के ते अड्डियां रगड़े
फिर वी रहे अबोल
एहो हर इक अग्ग दी पूंजी
आदि-जुगादों कोल
सईए अग्ग दी जीभ ना हुन्दी
बोल ना बोल कबोल

लूणा

सईउ नीं,
अग्ग क्युं ना बोले ?
जीभ दा जन्दरां क्युं ना खोहले ?
साने जीभ लवा हर अगनी
मैं चाहुन्दी हां,
उच्ची बोले कड़क-दामनी साहीं घोले
ऐसी कड़के, ऐसी कड़के
सत्ते असमानां दे कन्न पाटण
ऐ-रावन दी,
धरती डोले
गूंजन सभ्भे दिशा दिशावां
हर चुल्ल्हे दी,
अग्गनी खौले
साड़, फूक दे बूहे बन्ने
होए ज़ुलम दे वरके फोले
क्युं कोई साडे अगन सेक नूं
इक मुट्ठ कंङनी बदले
तोले ?

ईरा

सुन नी अड़ीए,
भैणां लूणा
किस तेरी बुद्ध नूं कीता टूणा
अग्ग दा पिंडा,
सदा है लूणा
अग्ग दा हंझू,
सदा अलूणा
हर अग्ग दी अक्ख
हर इक सदीए
एहो अण-बिद्ध मोती सूणा
आपना जंम्यां आपे पीणा
पर इस अग्ग ने
कदे ना कूणा

लूणा

इह मेरा,
विशवास है ईरे
इक दिन, अग्ग अवश्श कूवेगी
हर अग्ग दी अक्ख,
हंझू दी थां
बलदी बाग़ी रत्त सूवेगी
जो आदम,
अग्ग खाने कीड़े
दा अभिमान
अवश्श लूहवेगी

ईरा

नहीं, नहीं,
इह संभव नाहीं
अग्ग दे लेखीं सदा ने आहीं
अग्ग दियां,
आदम-जाए दे बिण
सदा नजिन्दियां निरबल, बाहीं
पुशतो-पुशती
अग्ग सरापी इह मारां उस धुर दरगाहीं
उह आदम नूं
जनम देवेगी
दुशमन पालू आपनी बाहीं
अग्ग दा धरम,
सदा है बलणा
कदे बग़ावत करदी नाहीं,
चाहे,
पूजा लई कोई बाले
जां कोई बाले,
विच कुराहीं
अग्ग नूं,
अग्ग दी मां दा वर है
सतवीं कोठी चरखी डाहीं
दुक्ख दी पूणी,
ओथे कत्तीं
जित्थे किरण,
ना जाए कदाहीं

लूणा

सुन सखीए,
नी भैणां ईरे
भरम दा पिंडा किंज कोई चीरे ?
रुक्ख होवण,
तां चीरे आरी
भरम केहड़ी फरनाही चीरे
भरमां वाले,
काले कच्च नूं
चीर ना सक्कण,
सुच्चे हीरे
भरम, तां साडे धरमां जाए
जिन्हां ने साडे,
कूले पैरीं
शरमां वाले संगल पाए
जो ना साथों जान तुड़ाए
मरयादा दे,
किल्लीं बझ्झी
ढोरां वाकन रूह कुरलाए
पर ना किल्ले जान पुटाए
ते इह निसफल,
जतन असाडा
साडी ही किसमत कहलाए
हारे-हुट्टे असीं विचारे
आपनी आपणी,
सूली चुक्की
फिरदे आवागौन बणाए
सुरग, नरक दे
ढोंग रचाए
ढिल्ला मूंह कर, कह छड्डदे हां
हर कोई आपणी
किसमत खाए

ईरा

पर लूणा !
कुझ किसमत वी है
भावें समें दे कच्चे राह 'ते
उमर दे इक पिंजे जहे रथ दी
कुझ घड़ियां लई,
उक्करी लीह है
आख़िर इस विच्च
भरम वी कीह है ?

लूणा

जे कोई,
किसमत वरगी शैय है
तां उह करम-धुनी दी लै है
करम कमावण,
दी ही जै है

मथरी

पर लूणा !
कुझ समझ ना आया
क्युं तेरे,
दिल 'ते आ बैठा
दुक्ख दा महा-कुलच्छना सायआ ?
तूं तां राम-रतन वर पायआ
भिट्ट-अंगीए,
तैनूं भों तों चुक्क के
उस तां उच्चे तख़त बहायआ
रड़ी रावीए,
बोल ना मन्दा
जिस तैनूं,
गंगा-जली बणायआ
अम्ब वढा कोई
कद थोहरां नूं वाड़ां करदा ?
थोहरां दा फुल्ल,
कदे किसे ना मन्दर चड़्हदा
कद कोई सूरज,
दीवे दी परकरमा करदा ?
मोहरे ख़ातर,
कद कोई अड़ीए,
शाह नूं हरदा
निरधन दे तां छौरे तों
रब्ब वी है ड्रदा
तूं वड्डभागी,
तेरा तां,
इक शाह है बरदा

लूणा

मैनूं भिट्ट-अंगी नूं
भिट्ट- अंगा वर देवो
मोड़ लवो इह फुल्ल
तली सूलां धर देवो
खेह लउ महल-चुबारे
ते झिक्का घर देवो
जिस कंधी दी इट्ट मैं,
ओथे ही जड़ देवो
मैनूं भिट्ट-अंगी नूं
भिट्ट-अंगा वर देवो

बे-शक चम्बा, चम्बा,
पर कुमलायआ मन्दा
महक -नखुट्टे चम्बे तों
वण-गेंदा चंगा
बिनां हाण,
जिसमां दा पाणी
बने ना गंगा
अध-अंगे तों चंगा नी
मैनूं भिट्ट-अंगा
मैनूं भिट्ट-अंगी नूं ,
भिट्ट-अंगा वर देवो
अध-अंगे दी, रानी तों ,
मैं भली चमारी
बुझ्झे हवन कुंड तों
चुल्ल्हे भरी अंगारी
चन्न चौथ दे कोलों
चंगी रात-अंधारी
हान नूं कहन्दे हाण
अग्ग नूं अग्ग प्यारी
मैनूं भिट्ट-अंगी नूं
भिट्ट- अंगा वर देवो
नी मैं अग्ग निरी
ते अग्ग तली धर देवो

मथरी

पर सईए
तूं इह ना उक्की गल्ल विचारी
बेही भली कथूरी
ताज़ा हिंग है माड़ी

लूणा

हंग सदा बलवान
कथूरी पल विच मारे
पलां छिणां विच उस दी
सारी महक उजाड़े
हंग नूं कोई कथूरी
कीकन बोली मारे
मथरी मैं सईए
बोली ना मारी
मैं तेरी सह अंगन हां
अग्ग दी पीड़
पछानन हारी

मथरी

मैं सईए
बोली ना मारी
मैं तेरी सह अंगन हां
अग्ग दी पीड़
पछानन हारी

लूणा

सईए नी
सुन मेरीए सईए
अग्ग दी पीड़
पछाने केहड़ा ?
अग्ग दे दुक्ख नूं जाने केहड़ा ?
सईए जद वी
अग्ग जंमदी है
अग्ग दी अम्बड़ी रो पैंदी है
हर अम्बड़ी दी
कुक्ख विच सईए
पुत्तर दी ख़ुशबो रहन्दी है
अग्ग जंमे
तां दुद्ध सुक्क जांदा
विच कलेजे खोह पैंदी है
बाबल दी
पग्ग दा रंग खुरदा
कन्नीं मन्दी सोय पैंदी है
जनम-देहाड़े
बूहउं कढ्ढन दी
बस चिंता हो जांदी है
अग्ग दी पीड़ पछाने केहड़ा ?
अग्ग नूं पीड़
सदा रहन्दी है
कोई ना ऐसी नार धरत 'ते
जो कि पीड़-विछुन्नी होवे
सीखे वांग कबाबां ला के
जो ना मरदां
भुन्नी होवे
किसे देस विच नार ना ऐसी
जो ना हक्क तों
रुन्नी होवे
कोई ना नार
जो एस जहाने
वांग कबर ना सुन्नी होवे
जे कोई है
तां मैं कहन्दी हां
अज्ज उह मेरे साहवें आवे
सने संधूरी मांग मेरी दे
मेरी उमरा
वी लै जावे

मथरी

जीकन दीवा
दीव्युं बलदा
सईए !
उमरों उमरा बलदी
हर नारी ही रचन-हार है
रचन-हार नूं
मौत ना छलदी
रचन-हार जो वी रचदा है
उस 'चों आपणी
उमर संञाणे
दिवस, साल ते सदियां वाले
उह तां पुट्ठे गेड़ ना जाणे
आपनी रचना दे पिंडे 'चों
आपने साह दी महक पछाणे
रचन-हार
मरना ना जाणे

लूणा

सईउ !
नारी कीह रचदी है
अगन-वरेस जदों मचदी है
वांग फलां दे
आ रसदी है
झूठी डार मुहब्बत वाली
उस दा पिंडा
आ पच्छदी है
चाहआं, अण-चाहआं धरती 'ते
हड्ड मास दा
बुत्त रचदी है
मजबूरी तां रचना नाहीं
नारी इस 'ते
ख़ुद हस्सदी है

ईरा

धरती 'ते
जो कुझ सोहना है
उस दे पिच्छे नार अवश्श है
जो कुझ किसे
महान है रच्या
उस विच नारी दा ही हत्थ है
नारी आपे नारायन है
हर मत्थे दी तीजी अक्ख है
नारी
धरती दी कविता है
कुल्ल भविक्ख नारी दे वस्स है
पर जो
सोहने तों सोहना है
उह है बस नारी दी चोरी
इस चोरी बिन
सभ कुझ कोझा
कल्लरीं तेल-पली ज्युं रोहड़ी
हर अगनी नूं
अग्ग दा ताला
कोई आदरश-सुपना लांदा है
पर आदरश-सुपन ना लभ्भदा
ते ताले नूं
जंग खांदा है
अग्ग दा ताला
आख़िर सईए
इक दिन आपे टुट्ट जांदा है
ते आदरश-हीन कोई सुपना
अगनी चोरी कर लैंदा है
आपने चौंके
दब लैंदा है

लूणा

नी सईउ, नी कूंजड़ीउ
मैनूं ऐसा ताला मारो
ना खुल्ल्हे ना भज्जे भावें
लक्ख हथौड़ा मारो
दन्द-खंड दा भन्नों चूड़ा
कौड कलीरे साड़ो
हुकम करो मेरे बाबले
जा राजे अरज़ गुज़ारो
लै चल्लो कोट-स्याल नूं
इक अग्ग दी लाश कुहारो

(लूणा उच्ची-उच्ची रोन लग्ग
जांदी है, ईरा उस नूं चुप्प
कराउन दी कोशिश करदी है ।)

ईरा

ना रो नी
चम्बे दीए जाईए
गुड़ होवे तां वंड वी लईए
पर दुक्खां नूं
किंज वंडाईए
असीं तां सभ्भे भट्ठ झोकन नूं
अड़ीए, अग्ग दी जून हंढाईए
ना रो नी
चम्बे दीए जाईए

मथरी

नी ईरा !
इहनूं रोवन दे तूं
दाग़ दिले दे धोवन दे तूं
हंझू साडे दुक्ख वंडांदे
इस नूं हलकी
होवन दे तूं

सईए ! एस धरती दे जीवां
दी अक्ख जेकर हंझ ना होवे
तां संभव है
दुक्खां लद्दी
सारी धरती पाग़ल होवे
हंझू साडे
सो मित्तर जो
बड़े प्यारे ते बे-ग़रज़े
साडे दुक्ख दी ख़ातिर जेहड़े
चुप्प चुपीते
ने डिग्ग मरदे
कहन्दे, हंझू सो वट्टे जो
प्यार नूं तोलण
तक्कड़ी चड़्हदे

सौ यारां दी यारी नालों
इक हंझू दी यारी चंगी
प्यार दी बाज़ी
जित्तन नालों
प्यार दी बाज़ी
हारी चंगी
(लूणा दा पिता बारू कमरे 'च
प्रवेश करदा है ।)

बारू

हर धी दा दुक्ख
जानन मावां
बाबल जानन सार कीह धीए ?
लोकी कहन्दे आए ग़ुरबत
नर-सिंघा अवतार नी धीए
ना इह सानूं
अन्दर मारे
ते ना बाहर-बार नी धीए
विच दल्हीजीं
संघी घुट्टे
काले हत्थ पसार नी धीए
निरधन दे घर
धी दा जंमणा
किसमत नूं है हार नी धीए
उट्ठ आ पहुंचे, मोरनीए नी
डोला घत्त कुहार नी धीए
बाहर राजा आ खड़्हा
ते नाल खड़्हे
असवार नी धीए
वापस कोट-स्याले ताईं
सभ्भे होए त्यार नी धीए
इक निरधन
बाबल दा लै जा
अंतम-वार प्यार नी धीए
(ईरा नूं सम्बोधन करके)

बारू

ईरा पुत्तर
तूं वी कुझ दिन
टुर जा लूणा नाल नी धीए
परछावें वत्त नाल रव्हीं
ते पूरी करीं संभाल नी धीए
जद इहदा मन
वरच जाए तां
मुड़ आवीं चम्ब्याल नी धीए
मेरा ते नाले बाप तेरे दा
इहो इक सवाल नी धीए
घल्लदी रहीं
किसे हत्थ सानूं
इस दा हाल
हवाल नी धीए
(सभ्भे रोंदे कमरे विचों निकलदे
हन । इक विदायगी दा गीत
कुड़ियां दे मूंह 'ते आ जांदा है ।)

चौथा अंक


अजीत, बलदीप ते आशा भोंसले दे नां

(रानी इच्छरां आपने महल च बैठी,
राजा सलवान दे दूजे व्याह दी ख़बर
सुन के आपनी गोली नाल रुदन कर रही है ।)

इच्छरां

केहड़े देश दित्ती
धी बाबला वे
जिथे लोकां नूं दुक्खां दी
सार कोई ना
जेहड़े देश च चन्दरे सूरजां दा
धुप्प आपनी नाल ही
प्यार कोई ना
आदम ख़ोर जंगल
गोरे पिंड्यां दे
डालीं पत्त ना फुल्ल, फलहार कोई ना
पिंडे वेचणे
ते पिंडे मुल्ल लैणे
हड्ड मास तों बिना वपार कोई ना
जेहड़े देश नारी
भोगे नरक कुंभी
जोती पैर दी
वद्ध सतिकार कोई ना

गोली

रक्ख हौसला
राणीए सबर करलै
रक्खें आस क्युं
मरद दी ज़ात कोलों
मरद ज़ात तों वफ़ा दी आस करनी
मंगनी रिशम
अमावस दी रात कोलों

इच्छरां

मैं ना गोलीए, भोलीए
वफ़ा मंगां
मैं तां इको ही मौत पई
मंगदी हां
मच्चे काळजा
जीभे कुड़ल्ल पैंदे
करनों गल्ल कुचज्जी पई संगदी हां
मेरे संघ 'चों
मेरा ना साह लंघे
काले पंध
नमोशी दे अंगदी हां
राजा होए, चमारी परनाए आंदी
फड़ कालजा
पीड़ पई थंमदी हां

गोली

मरद मुशके
जा बहन्दे नी कंजरां दे
कल्ली कारी चमारी
दी बात की ए
अंग चूप के फोक जां सुट्ट दिन्दे
फेर पुच्छदे जी
तेरी, ज़ात कीह ए ?
जेहड़ी किरन नूं
अंग छुहा बहन्दे
योस किरन दी फेर, औकात कीह ए ?
लक्ख सूरजा
योस दी भरे हामी
फेर उहदा ते मरद दा
साथ की ए
रातीं होर
ते दिने नूं होर हुन्दे
करनी गिरगटां दी भला
बात कीह ए

इच्छरां

नी मैं गिरगटां दे रंग
समझदी हां
पर इह मरदां दे रंग
ना समझ सकी
डंग समझां मैं काले खड़प्प्यां दे
पर इह मरदां दे डंग
ना समझ सकी

गोली

मरद लड़दे
दमूंहीं दे वांग राणी
जेहनूं लड़न
इह सदा ही लड़ी जांदे
इन्हां डंग्यां, अते ना डंग्यां वी
भाग नारी विचारी दे
सड़ी जांदे
कई वार
मैं राणीएं सोचदी हां
केहने लेख सी लिखे नी नारियां दे
चन्दन किसमतां दे
हत्थीं चीरने नूं
पुट्ठे दन्दे
कढाईए नी आरियां दे
जून पिंजरे
मरद दे भोगने नूं
खंभ नोचीए
आप उडारियां दे
नाले पुत्त दईए
नाले दाअवे वी करीए नी यारियां दे
माल जित्त-जिता के
मोड़ दईए
इन्हां चन्दरे सूम जुआरियां दे
दईए रंगने नूं
रंग कढ्ढ लैंदे
जाईए अशके नी
इन्हां ललारियां दे
पट्ट कत्तीए
ते नाले भुज्ज मरीए
लाअनत सुच्चियां
तन्दां खिलारियां दे

इन्हां मरदां दी ज़ात दी
भली पुच्छी
एस ज़ात तों राणीए
भले कुत्ते
बेहियां खाए के राखियां करन जेहड़े
छड्डन दर ना
खाए के रोज़ जुत्ते
खा जान नी कूलियां
लगर देहियां
पर इह मरद
मुहब्बत दे नाम उत्ते
सुंघदे फिरन
इह दरां पराईआं उत्ते
मरद रहन पराईआं दे सदा भुक्खे
नी इह उह कुत्ते
जो ना करन राखी
सन्न्ह मारदे
वफ़ा दे नाम उत्ते
दिने होर दे दरां तों
टुक खांदे
रातीं होर दे दरां 'ते
जा सुत्ते

इच्छरां

नी मैं गोलीए !
धुप्प पई अरज़ करदी
मैनूं मैंडड़ा सूरजा मोड़ देवो
उधे-नगरियां दी धी
हत्थ जोड़े
मेरे अंगां 'चों अग्ग नचोड़ देवो
जां नी उमर दी शाख़ 'ते
टहकदी दा
मेरा फुल्ल हयाती दा
तोड़ देवो
जां नी ग़मां दी
शूकदी नैं अन्दर
करो डक्करे
ते मैनूं रोड़्ह देवो
ज्युंदे जी
नी कंत विसार देणा
एस देस दी नार दे वस्स नाहीं
बुझ जाए संधूर जे
मांग विचों
हुन्दा किसे वी नार तों
हस्स नाहीं
एस देस ई कंत करतार सईए
लक्ख वैल होवे
हुन्दा दस्स नाहीं
नी मैं जाणदी
मरदां दे ऐब सारे
मैनूं मरदां दे ऐब
तूं दस्स नाहीं
होवे वैली जे मरद
तां बख़श दईए
कंते मन्दा ना बोलीए
गोलीए नी
कंत रूप नूं काहन कर जाणीए नी
औगुन मरद दे
कदे ना फोलीए नी
कदे आपणा
मरद ना भंडीए नी
पत्त आपनी आप ना रोलीए नी
मन्दर देवते दे
दीवा बाल आईए
कदे ओस दा सिला
ना टोलीए नी

गोली

इह तां निरा है
अंध-विशवास राणी
अक्खां मुन्द के खूहे दी मण भौणी
एस तर्हां
इस देस दी नार राणी
लक्खां जनम ना दुक्खां तों
मुकत होणी

इच्छरां

नारी नां ही
अंध-विशवास दा है
नारी सदा अन्यां 'चों जनम लैंदी
नारी नाम
इक ऐसे अहसास दा है
जिवें ज़ख़म 'च
पीड़ है घुली रहन्दी

गोली

जे कर राणीए
इह विशवास तेरा
तां तूं ऐवें
सलवान नूं रो नाहीं
इक छड्ड प्रणाए उह लक्ख लूणा
ऐवें नैणां 'च
हंझ परो नाहीं

इच्छरां

इह ना गोलीए नी
विशवास मेरा
इक नार करूपी पर कीह आखे
जेहड़ी नार ना कंत
रिझा सकी
नी उह दोश किसे सिर
कीह थापे
जेकर राखवां
पंछी वी उड्ड जाए
तां वी गोलीए डाढड़ा दुक्ख हुन्दै
पाए कंत विछोड़ा
जे नार ताईं
उहदा दीन ईमान ही
लुट्ट हुन्दै
ना तां ओस बेचारी तों बैठ होवे
ना तां ओस बेचारी तों उट्ठ हुन्दै
देह नैण-प्राण
ना रहन मासा
लहू मास दा
सक्खना बुत्त हुन्दै
ना तां किसे दे नाल ही
बोल होवे
ना तां किसे दे नाल ही
रुस्स हुन्दै
मेरे दिल दा हाल
अज्ज ईकना है
बियाबान ज्युं इक उजाड़ होवे
होवे सिख़र दुपहर
ते लू वगदी
तांबे रंग महीनड़ा
हाड़ होवे
दूर दूर तक कोई ना रुक्ख होवे
टावीं टावीं कोई
थोहरां दी वाड़ होवे
योस विच उजाड़ होवे
मड़्ही बलदी
सिर 'ते उड्डदी
गिरझां दी डार होवे
होवे हवा वगदी नाल हिचकियां दे
इक चुप्प आवाज़ां
रही मार होवे

इउं जापे
ज्युं डैन कोई करे पिच्छा
जेकर रता वी किते
खटकार होवे
इक डर लग्गे
आवे झुणझुनी जेही
दूजी चीख़
कलेज्युं पार होवे
नी कोई कहो सलवान नूं
जा अड़ीउ
मैनूं सुन्न उजाड़ां ने खा जाणा
मैंडी चन्दरी रूह विच
रोन कुत्ते
मेरा सूरजा मुक्ख
कुमला जाणा
मैनूं आपने छौर्यों डर लग्गदा
मैनूं मेर्यां छौर्यां
खा जाणा
कहणा, पूरन दे नां दा वासता जे
इक वार आ मुक्ख
विखा जाणा

गोली

जेहड़ा दिवस आउणा
विच कबर राणी
उह बाहर तां कदे ना आव्या ई
राई घटे
ना वधे ही तिल मासा
धुरों मत्थे जो लेख लिखाव्या ई
असां नारियां
मरदां दे पैर फड़-फड़
पीरां-मारियां
मान गवाव्या ई
चन्न सरवरीं तैरदा शैल भावें
विच वहणियां
कदे ना भाव्या ई
इक अरज़ गुज़ारां
मैं नारियां नूं
जदों ओस तों मरद ख़ुशबो मंगे
नारी मंग लए
योस दी मुलख सारी
योस छिन ना
योस दी जीभ संगे
कढ्ढे लिल्हियां, दवे उह लक्ख झांसा
ओदों तीक ना नार
ख़ुशबो वंडे
जदों तीक नी मरद ना हुकम मन्ने
सिर भार ना हो के
दरीं वंजे
पर तूं राणीएं
झल्ल खलेर नाहीं
काहदे लई तुं हंझू पई रोड़्हदी एं ?
इक दैंत नूं देवता
समझ काहनूं
गोरे हत्थ नमाणीएं जोड़दी एं
जो ना मास तों वद्ध
सवाद जाणे
ख़ूनी शिकरा पई घरे नूं मोड़दी एं

हाए नी नारीए
मैंडड़े वतन दीए
झूठे मरद लई
जान क्युं तोड़दी एं ?

वेख अंध-विशवास
इह नारियां दा
कदे रोह आउंदै
कदे मोह आउंदै
इक छिन चाहवां इहदी करां पूजा
दूजा नफ़रतां दे सर
छोह आउंदै
इह मरद कसाई वत्त दुम्बियां जो
बे-जीभियां नारियां
कोह आउंदै
रूप धार परमेशर दा
किंझ ख़ौरे
अल्ल्हड़ सुपन नी
नार दे छोह आउंदै

इच्छरां

सरमा कुत्ती सी
इन्दर दे दरां उत्ते
असीं मरदां दे दरां 'ते कुत्तियां हां
टुक्कर डंग दा
खा असीस दईए
छावें कंधां दी धुरां तों सुत्तियां हां
कुझ्झ मेच
ते कुझ्झ ना मेच आईआं
असीं मरदां दे पैरां 'च
जुत्तियां हां

जे मैं बांझ हुन्दी
तां ना दुक्ख हुन्दा
उहदे वेहड़े मैं चानना रोड़्हआ नी
चन्न हुन्द्यां
चट्ठ व्याह आंदी
मेरी पीड़ दा मुल्ल ना मोड़्या नी
इक पुत्त भोरे
दूजा पती खुस्सा
मत्था छड्ड मुकद्दर इउं दौड़्या नी
नी मैं कित्त वंञां
ते मैं कित्त जावां
मैनूं कोई वी
राह ना अहुड़्या नी
पूरन छड्ड भोरे
मुड़ां पेक्यां नूं
इह वी गोलीए बात ना ठीक जापे
धियां
मान की करन नी पिछल्यां 'ते
धियां कदों ने खड़दे
नी मोड़ मापे
जेकर माप्यां दे घर
मुड़न धियां
वज्जे ढोल नमोशी दा कुल्ल पासे
नी मैं ड्रां
कि डाढी कुचज्जड़ी मैं
ख़ौरे जग्ग वलल्ली नूं
कीह आखे ?

गोली

मरद मंगदे
राणीए पिंड्यां नूं
कोई वी मरद ना कदे संतान मंगे
काम-देव दा पुत्त
हर मरद ज़हरी
एस लई ना नार नूं कदे डंगे
उह तां डंगे
कि अंतर दी भटकना दे
लांबू मच्चदे रता हो जान ठंढे
इक विस्स ज़हरीली
है वाशना दी
जेहड़ी मरद नी
नार नूं रोज़ वंडे
इस विस्स दा फळ
संतान राणी
नारी विस्स है गरभ विच लई फिरदी
इक ज़ेहनी अय्याशी
मनुक्ख दी नूं
नारी कुक्ख दी पीड़ है कही फिरदी
ऐवें ममता
दे नशे च चूर हो के
नारी सत्त असमानां च पई फिरदी
नारी मरद दे
कोझ ते कूड़ नूं वी
ऐवें वफ़ा दा नाम
है दई फिरदी
वफ़ा नाम ना राणीए
वाशना दा
वफ़ा नाम है फुल्लां च महकदा नी
जिवें धुप्प विच
मोतिया रंग घुल्या
सागर जीकना चन्न नूं सहकदा नी
चन्न समझ
चकोर ज्युं अग्ग उत्ते
खंभ साड़ने ताईं आ बैठदा नी
पर नी गिट्ठां थीं
नार नूं मरद मिन के
झूठा वांग कसुंभड़े
टहकदा नी

कुज्जा भज्जे
तां सुट्टदे खोल्हआं थीं
नार भज्जे
तां मुड़ जाए माप्यां दे
जग्ग हस्स पैंदा
जंमन वालियां 'ते
दुक्ख मन्नन पराए क्युं हास्यां दे
कदे मंगूआं
मौत ना आ जांदी
कुड़े राणीए गिरझां दे आख्यां दे
जंमन वाले
ते दूसरा रब्ब सच्चा
मित्तर दो ही
दिलां दे पाट्यां दे

इच्छरां

रुस्से यार
तां गोलीए मन जांदा
रुस्सी नार ना कोई मना सकदा
अग्ग लग्गी
ज्युं बांस दे जंगलां नूं
किन्ना वर्हे, ना मेघ बुझा सकदा
रुस्सी नार
ते जग्ग होए इक पासे
कोई ना ओस नूं फेर हरा सकदा
अट्ठां कूटां दे दिगध
वी आउन भावें
उहदा पैर ना कोई
हला सकदा
पर मैं रुस्सां
तां गोलीए किंञ रुस्सां
केहदे आसरे पूरन नूं छड्ड जावां
तदों तीक
कीह मुड़ां मैं पेक्यां नूं
पुत्तर भोर्युं जे ना कढ्ढ जावां ?
ठारां वर्हे दी सहकदी
अज्ज कीकण
रुक्ख आया बहार 'ते वढ्ढ जावां
जे ना मां होवां
टिक्की उग्गदे नूं
छड्ड मुलख सलवान दा
लद्द जावां

नारी
पती दा हिजर तां सह जांदी
पर पुत्त दा हिजर ना सह सक्के
झिंझन वेल बे-जड़्ही वत्त
नार जीवे
पर पत्त्यां बाझ ना रह सक्के
बिनां पुत्त
इउं नार मजबूर होवे
जिवें पानी 'ते लीक ना वह सक्के
जिवें विधवा नूं
किसे थीं इशक होवे
पर उह किसे नूं
कदे ना कह सक्के
सक्क सौकणां हुन्दियां
किक्करां दे
मोईआं खल्लां वी जो रंग लैंदियां नी
बेहे मरद नूं
मुसकड़ी नाल मारन
अकल दशरथां दी डंग खांदियां नी
राम किसे दा
वणां नूं टोर देवण
भरत उच्चड़े तख़त बहांदियां नी
सच्च सूई दे नक्क्युं
ऊठ लंघे
झूठ सौकणां, सच्च कमांदियां नी

जदों पुत्त दी गोलीए
याद आवे
मेरे आंदरीं सरकड़ा रड़कदा नी
धुखे कालजा
जिगर च सल्ल पैंदे
दिल वांग मिरदंग दे धड़कदा नी
मत्था पाटदा
जुस्से च पैन चिणगां
भांबड़ धुन्नी दे लागे जहे भड़कदा नी
बुल्ल्ह सुक्कदे
जीभ कुमला जांदी
साह संघ दे विच ही
अटकदा नी

नी मैं ड्रां
कि लूणा ना लूणा भन्ने
नी कोई होर ना चन्न चड़्हा जावे
पहलां खा गई
सिरे दा साईं मेरा
मेरा पुत्त वी किधरे ना खा जावे
टूणेहारनां
इन्हां पहाड़नां दे
रूप वेख ना कोई नश्या जावे
लक्खां जनम थीं ओस दी
रूह भटके
जेहड़ा इन्हां नूं अंग छुहा जावे
टूणे, जड़ियां
ते धागे तवीत कहन्दे
पहलों जंमणों इन्हां नूं आ जावे
मुरदा कढ्ढ के
कबर 'चों भोग कर लए
जे कोई मरद नी नार नं भा जावे

मैं सां सोचदी
पूरन दा भोर्युं ही
बस निकलदे काज रचा देसां मत्थे चितर के
आप मैं ढोलकां दे
शगन भें के गौन बठा देसां
वंडूं भाजियां
महन्दी च हत्थ रंगूं
वटने मिलख दी गल्ल्ह 'ते ला देसां
हूर मरमरी
लभ्भ बलौर वरगी
पुत्तर पूरने दे लड़ ला देसां
रही दिलां दी
दिलां च गल्ल सारी
चाय मरे कुआरे ही गोलीए नी
जेहड़े वेहड़े
कलेश नी आण वड़दा
योस वेहड़े 'चों ख़ुशी ना टोलीए नी
कहन्दे
घरां च भूत प्रेत वस्सण
बोल कंध तों उच्ची जे बोलीए नी
घर होए कलेश
तां थेह थीवे
रत्त उल्लू दी दरां 'ते डोहलीए नी
जीवे लूणा
ते जीवे सलवान उस दा
ढले सूरजां धुप्प तों कीह लैना ?
थोड़्ही लंघ गई
थोड़्ही है लंघ जाणी
असां खिच्च धरूह के जी लैणा
मुक्खों कदे सलवान नूं आखना नहीं
असां जीभ नूं होठां च सी लैणा
पासे मारदे
उमर दी रात लंघू
मिट्ठा ज़हर
जुदाई दा पी लैणा

गोली

जीवें शाहणीएं
मेरीए राणीएं नी
मैथों तैंडड़ा दुक्ख ना वेख हुन्दा
खाधा लूण
मैं तेर्यां छन्न्यां दा
रुदन वेख नी कालजे छेक हुन्दा
लग्गी अग्ग
नसीबे नूं वेख तेरे
मैथों सह ना चन्दरा सेक हुन्दा
रूप रोण
ते करम ने बह खांदे
सारा कुदरतां दे हत्थ भेत हुन्दा

इक अरज़ करदी
जे ना बुरा मन्नें
चार दिनां लई परत जाउ माप्यां दे
पौन पानी वी बदल्यां
जिन्द महके
पानी भले पर पेक्यां पास्यां दे
पासा परत्यां
रोगी दा रोग घटदा
दुक्ख वधन इकल्ल्यां बैठ्यां दे
गंगा जाए के
भावें ना पाप धुलदे
कुझ्झ वहम पर रुड़्हन
नी न्हात्यां दे

तैंडा पुत्त नी मैंडड़ा पुत्त राणी
चिंता ओस दी
रक्ख ना राई सीने
पूरन भोर्युं
निकलने तीक राणी
पूरे पए नी
हालड़े पंज म्हीने
अजे उक्खली
मोहला नी मारने नूं
पक्के धान दा
किसमतीं होए चीने
रोज़ जाए के
योस दी ख़बर लैसां
रक्खां मैं वी
मां दा दरद सीने

इच्छरां

जा नी गोलीए
आख रथवान ताईं
पलां छिणां थीं
रथ नूं जोड़ देवे
धी किसे बिगानड़े
बाबले दी
ऊधे-नगर दे
महलां नूं मोड़ देवे
जेहड़ी वेल वधाई
सलवान वेहड़े
जड़ों पुट्ट देवे
फुल्लां नूं तोड़ देवे
मेरी
ग़मां दे काल्यां पत्तणां 'ते
काली बेड़ी
हयाती दी बोड़ देवे
( इच्छरां सिसकियां भरदी है। गोली उट्ठ के चली जांदी है ।)

पंजवां अंक


उमा, उरमला ते अनूं दे नां

(पूरन भोर्युं निकल के कुझ दिनां तों
लूणा दे महलां च ठहर्या होया
है । लूणां आपनी सहेली ईरा नाल महल
दे चबूतरे च बैठी गल्लां कर रही है। बाहर
निक्का निक्का मींह वर्ह रेहा है ।)

लूणा

सईए !
इह दिन कैसे आए
भिज्जे सिज्जे ते अलसाए
गगनीं काले घनियर छाए
सत्ते रंग प्राहुने आए
हुने तां धुप्पड़ी बाग़ां विच सी
हुने तां धुप्पड़ी उड्ड गई बेले
हुने तां धुप्पड़ी नज़र ना आए
हुने तां मन्दर दे कलसां 'ते
बैठी मन्द मन्द मुसकाए

हुने तां अम्बर खिड़ खिड़ हस्स्या
हुने तां नैणीं हंझ भर आए
हुने दामनी गल दा गहणा
हुने तां सप्पनी वांग ड्राए

हुने तां जंगळ मोर बोल्या
हुने तां रुक्ख विच रोन बम्बीहे
हुने झल्लारीं दादर हस्से
हुने तां कोइल पई कुरलाए

हुने तां शाम घटा विच बगले
मेघ-ब्रिछ दे फुल्ल सन लगदे
चिट्टे कंवल सरोवर तरदे
हुने तां धरती न्हाती धोती
हुने तां उस ने वाल वधाए

इवें तां उड्डदे जांदे सारस
जिवें किसे ने हार गुन्दाए
ते धरती दी जिवें पुजारण
अम्बर दे द्युते गल पाए

हुने तां सईए कीह पई सोचां
इस रुत्ते मैं मरना लोचां
कहन्दे इस रुत्ते जो मरदा
सीत सांवली घट बण जाए
मुड़ धरती दी जून ना आए

पर एने वी भाग ना सईए
मैं चन्दरी नूं मौत ही आए
तेरी सखी सहेली लूणा
मेघल्यां दी जून हंढाए
हो के बून्द बून्द किर जाए

मैं मोई नूं कुझ्झ ना सुझ्झदा
ना मैनूं कुझ्झ समझ ही आए
लूणा तों अज्ज लूणा तीकण
सईए कोई वी राह ना जाए

लूणा दे अंतर दी लूणा
अज्ज लूणा तों दूर बड़ी है
अग्ग दा इक जंगल है जिस विच
उह निर-शबद अडोल खड़ी है

हर सू अगन-पुशप महके हन
अग्ग विच इक महकार रली है
किते किते कोई अग्ग दी तितली
अगन-पुशप 'ते उड्ड रही है

दसीं दिशावीं अग्ग ही अग्ग है
अगन-कथूरी हुल्ल रही है
सावी अग्ग दे चहकन पंछी
सूही अग्ग दी घटा चड़्ही है
पर अग्ग दे जंगल विच लूणा
सुन्न, सीत ते ठरी ठरी है

सुणें तां सईए सच्च दस्सदी हां
जद मैं पूरन नूं तक्कदी हां
जिवें कोई कविता रचदी हां
अगन-लोक विच जा वसदी हां

साहवां दे विच सन्दल मौले
तन 'चों महक चन्दन दी आवे
दिल दी मिरगावली सुहावे
अग्ग दा मिरग कथूर्या जावे

अग्ग दा मिरग जां चुंगियां भरदा
कुल्ल देही दा जंगल ड्रदा
साह दा पुरा छताबी वगदा
कोई कोई पत्त अकल दा झड़दा
पर इह अग्ग दा मिरग ना चरदा

अन्दर वाड़ द्यां लक्ख मत्तां
एस मिरग दा कीह कीह दस्सां
काले कप्पड़ीं बन्न्हां अक्खां
बन्न्ह हया दे पावे रक्खां
अग्ग दा मिरग मैं कीकन डक्कां

ना इहनूं बाग़ बाग़ीचा भावे
महलां दी छां रास ना आवे
ना राजे दी सेज सुखावे
ना सोने दी घाह ही खावे
अग्ग दा मिरग अंगारे चाहवे
मरे प्या पूरन दे हावे

ईरा

लूणा !
इह तूं की कहन्दी हैं
अगन-मिरग ते अग्ग दा जंगल
इह की बात जही पांदी हैं
तूं पूरन तों की चाहुन्दी हैं ?

लूणा

अगन-मिरग लई अग्ग चाहुन्दी हां

ईरा

अग्ग चाहुन्दी हैं
उह तां इक विवरजित अग्ग है
इह की कूड़ बकी जांदी हैं ?
उस अग्ग दे पिंडे विच तेरे
आपने पिंडे दी ही लोय है
उस दे मूंह विच इच्छरां दी ना
तेरे दुद्ध दी वी ख़ुशबो है
तेरी ते पूरन दी अगनी
उमर च बे-शक्क सावें कोह है
फिर वी तेरी कुक्ख विच सईए
उस दे गरभ-जून दी छोह है
पूरन दी कच्च-अंगी रुत्त 'ते
जनम पीड़ दा मिट्ठा मोह है
ठीक है तेरी चन्दन देही
रचन-पीड़ तों अजे अछोह है
पर रिशते अहसास दे फुल्लां
दी चिरजीवी जही ख़ुशबो है

लूणा !
कदे विवरजित अग्ग नूं,
सच्च कहन्दी हां, हत्थ ना लाईं
अगन-मिरग दी पूरन अग्गे
जीवन जोगीए बात ना पाईं
धरती दी नारी नूं वेखीं
च्रितर-हीन ना कदे कहाईं
पूरन नूं पुत्तर कर जाणीं
पुत्तर-भोग कदे ना चाहीं
अगन-मिरग नूं वेच कसाईआं
उस दी पुट्ठी खल्ल लुहाईं
सारा चम्बा देस ना भंडीं
बाबल दे सिर खेह ना पाईं

लूणा

ईरा !
तूं वी सच्च सुणायआ
तूं वी लूणा दे ज़ख़मां 'ते
मत्तां दा बस लून है लायआ
तैनूं वी कुझ्झ समझ ना आया
धरमी बाबल पाप कमायआ
लड़ लायआ मेरे फुल्ल कुमलायआ
जिस दा इच्छरां रूप हंढायआ
मैं पूरन दी मां
पूरन दे हान दी !
मैं उस तों इक चुंमन वड्डी
पर मैं कीकन मां उहदी लग्गी
उह मेरी गरभ-जून ना आया
सईए नी मैं धी वरगी
सलवान दी ।

पिता जे धी दा रूप हंढावे
तां लोकां नूं लाज ना आवे
जे लूणा पूरन नूं चाहवे
च्रितरहीन कहे क्युं
जीभ जहान दी ।

च्रितरहीन ते तां कोई आखे
जेकर लूणा वेचे हासे
पर जे हान ना लभ्भन मापे
हान लभ्भन विच गल्ल कीह है
अपमान दी ?

लूणा होवे तां अपराधण
जेकर अन्दरों होए सुहागण
महक उहदी जे होवे दागण
महक मेरी तां कंजक
मैं ही जाणदी ।

सईए नी मैनूं दे ना मत्तां
दरद दिले दा कीकन दस्सां
रिशता किंझ पछानन अक्खां
अग्ग मिली ना लूणा नूं
जे हान दी ।

अग्ग दा रिशता साड़न तक्क है
अग्ग दा रिशता चानन तक्क है
अगन-मिरग नूं मारन तक्क है
होर जवानी रिशता ना
कोई जाणदी ।

सईए जद मेरी कंचन-देही
सेज सुलगदी छोह आउंदी है
आपे 'चों मैनूं बो आउंदी है
उस छिन दी बे-चैनी
तूं ना जाणदी ।

उह छिन हुन्दा सवरगों वड्डा
भिन्नी जही महक विच भिज्जा
मदरा दे सरवर विच डिग्गा
उह छिन सईए कोई कोई
जिन्दड़ी माणदी ।

मेरा वी जद उह छिन आवे
लूणा 'चों लूणा मर जावे
उस छिन दी मैनूं महक ना भावे
खान पवे मैनूं सेज कुड़े
सलवान दी ।

उह छिन देह विच जद बलदा है
मत्थे दे विच सप्प चलदा है
सईए मैनूं इउं लगदा है
गरभ पीड़ जही पीड़
जिवें हां माणदी
पिंडे दी मिट्टी 'चों सुपना
छाणदी ।

योस अगन-छिन मैं रोंदी हां
योस अगन-छिन मैं हस्सदी हां
अगन-फुल्लां दे जंगल दे विच
नंगी-अलफ़ जही नच्चदी हां
आपने ही परछावें कोलों
दूर दुराडे पई नस्सदी हां
इउं लग्गदा है ज्युं अन्न्ही हां
फिर वी सभ कुझ्झ पई तक्कदी हां
गरभ-वान सप्पनी दे वाकण
अपना आप ही डस्सदी हां

फिर !
हर दिवस दे तिड़के होए
दरपन दे अन्दर
आपने ज़हर-वलिस्से चेहरे नूं तक्कदी हां
हर चेहरा
मेरे 'ते हस्सदा
हर चेहरे 'ते मैं हस्सदी हां
आपने चेहरे दी वलगन विच
जा फसदी हां
आपने ही चेहरे दियां कंधां
मैं टप्पदी हां
कंधां टप्प टप्प मैं हफ़दी हां
फिर तक्कदी हां
कि इह कंधां कोहां तीकण
इंज फैलियां
कि किधरे वी अंत ना होवण
मैं इन्हां कंधां 'ते रोवां
इह कंधां मेरे 'ते रोवण
हर चेहरा
इन्हां कंधां उहले विंगा जापे
लूणा तों लूणा दे
नकश ना जान पछाते
फिर इउं जापे
इह कंधां लूणा 'ते डिग्गण
रात बराते
ते लूणा दी होंद गवाचे

जां फिर लग्गदा
मैनूं चानन विच वी
आपना आप ना लभ्भदा
मेरा ही चेहरा ना मेरी
देह 'ते सज्जदा
मेरा कोई वी नकश
ना मैनूं मेरा लगदा
आपने चेहरे दे नकशां दी
भीड़ जुड़ी 'चों
अपना ही चेहरा ना लभ्भदा
सभ कंधां दे हेठां दब्बदा
सईए !
कुझ वी समझ ना आउंदी
सईए !
कुझ्झ वी पता ना चलदा
रुना-मन बस दिन भर जलदा
इक सदीवी भटकन जही विच
मर मर ज्यूंदा
ज्युं ज्युं मरदा

हर देहुं दा जां सूरज चड़्हदा
मन एदां महसूस है करदा
किरनां संग किरनां बण उड्डदा
चानन दी चाले है चलदा
हर ज़र्रे दे मूंह नूं तक्कदा
हर इक पौन दा बुल्ला फड़दा
कदे पतालीं इह जा लहन्दा
अम्बर दी कदे पौड़ी चड़्हदा
ख़ौरे झल्ला किस नूं लभ्भदा
ख़ौरे झल्ला की है करदा ?
इक पल वी किधरे ना खड़्हदा
जां फिर सईए ईकन लगदा
ज्युं लूणा ने हर इक देहुं दा
जनम जनम तों देना करज़ा
जो हर छिन है रहन्दा सून्दा
जो हर पल है जांदा वधदा

दिन भर बस बेचैनी दिल नूं
खांदी रहन्दी
जां ख़ुशबोई दिल सड़दे दी
आउंदी रहन्दी
जां ख़ामोशी मूक बिरहड़ा
गाउंदी रहन्दी
लूणा ही लूणा 'ते हस्सदी
लूणा तों लूणा शरमाउंदी
हर पल
अगन छिणां दी सप्पणी
रूह दियां कल्लरियां विच नस्से
भै दा भूत-भूताना नच्चे
हर इक देहुं दा चरखा डाह के
लूणा बैठी किरनां कत्ते
फिर किरनां दा रस्सा वट्टे
मुड़ लूणा
किरनां दा रस्सा
उमरां दी छत्त तों लटकाए
सत्त-रंगे रस्से दा फाहा
लै के लूणा नित्त मर जाए
पर लूणां नूं
मौत ना आए

ईरा !
मैं तां चिरां चिरां तों
सुन्न खलाय विच लटक रही हां
मड़्हियां दे विच सिख़र दुपहरे
बद-रूहां वत्त भटक रही हां
मेरे पैरां थल्ल्युं
धरती निकल चुक्की है
मेरे सिर दा
उतला अम्बर तिड़क चुक्का है
होंद मेरी दा पैर
चिरां तों थिड़क चुक्का है
हुन होनी दी पौण
उडाई फिरदी है
लूणा ते लूणा दी
मिट्टी किरदी है

ईरा

लूणा !
इह तां रीत
बड़े ही चिर दी है
आपने 'ते
आपनी ही मिट्टी किरदी है
हर धरती 'ते
ज्यूना पैंदा फिर वी है
इस धरती दी हर नारी ही
लूणा है
हर नारी दा नर ही
सुहज-वेहूना है
हर नारी दा बुत्त
मुहब्बतों ऊना है
प्यार घाट दा हर वेहड़े विच
टूना है

एथे हर बाबल ही
आपनी धी 'ते मरदा
ते इथे हर मां ही
पुत्तर 'ते है मरदी
बेही रत्त सज्जरी नूं छलदी
हर इक नार विलम्बित
आतम-घात है करदी
आपनी ही उमरा दे
पाले विच है ठरदी
आपने ही अंगां दी
अगनी विच है सड़दी
नित्त किरनां दा रस्सा वट्ट के
सूली चड़्हदी
पर ना ज्यूंदी
ना ही मरदी

इथों दा हर पुरख है
सलवान जेहा
हर लूणा दे मत्थे 'ते
अपमान जेहा

इह धरती
इक नगन नपुंसक बसती है
एथे रोटी महंगी
नारी ससती है

इस बसती दियां गलियां
अते बाज़ारां उहले
हर इक महल दी ममटी
ते दीवारां उहले

हर इक घर दे बूहे
ते बारां दे उहले
हर नारी दी सेजा ही
बस सुलग रही है
हर नारी ही लूणा वाकण
विलक रही है

इस बसती विच
शाम जदों आ ढलदी है
इकलापे दी पौन जही इक
चलदी है
हर घर दे चुल्ल्हे विच
नारी बलदी है
पर नारी ही आपनी आपे
अग्ग माणदी
आपने रूप 'ते आपे ही
बस मरदी है
एथे सभ नर
अगन-हीन हन वस्सदे
नारी दे छौरे तों नस्सदे
अन्दरों बन्द दरवाज़े करके
झीथां 'चों नारां थीं तक्कदे
ते आपनी होनी 'ते हस्सदे
इस बसती विच
हर कोई मर चुक्का है
इक दूजे नूं
आपनी आपणी
कबर ना दस्सदे
इक दूजे दी मौत 'ते हस्सदे

एथे अग्ग नूं
अग्ग नही मिलदी है
इथे हर शै
रोटी बदले तुलदी है
हर लूणा
एथे रोटी ख़ातिर गिरवी है

एथे
प्यार, मुहब्बत रोटी दा ही नां है
धरम अते अख़लाक वी
रोटी दा ही नां है
अकल, इलम, ते हुनर वी
रोटी दा ही नां है
तित्थ-वार, त्युहार वी
रोटी दा ही नां है
रोटी ख़ातिर हर लूणा
पूरन दी मां है
इस बसती विच रोटी ही
महबूबा थां है

एथे कोई वी
फुल्ल नहीं खिड़दा है
दिन दीवीं
गलियां विच पहरा फिरदा है
हर इक मोड़ 'ते आपणा
सायआ मिलदा है
आपने 'ते आपना ही
कूड़ा किरदा है

एथे हर वसनीक
निखड़वीं शख़सियत है
आपने हत्थों हर कोई
इथे बे-इज़्ज़त है
आपे तों हर कोई
आपे ही लज्जित है
एथों दी सौग़ात
नमोशी, ज़िल्लत है

तूं इस बसती विचों
लूणा की लभ्भदी हैं ?
नंग्यां दे विच
आपना आपा क्युं कज्जदी हैं ?
तूं नंग्यां विच
नंगी चंगी लगदी हैं

अगन छिणां दा
लूणा, तूं अहसास जला दे
लूणा विचों
लूणा दी तूं होंद गुआ दे
तूं लूणा नूं
अत्रिपती दा ज़हर खुआ दे
तेरे पिंडे विच जो
अगन-मिरग नस्सदा है
उस दा हत्थीं
गला दबा दे
आपने पिंडे दे पानी विच
घोल के मदरा
जद मंगे सलवान
तूं हत्थीं आप प्या दे
लूणा दे अन्दर दी लूणा
नूं मरवा दे
ढिड्ड दे अन्दरे कबर बना दे
इस लूणा दी याद भुला दे
उस लूणा दा
हर इक सुपना
आपनी मिट्टी हेठ दबा दे

एस देस हर नार
जदों परनाई जावे
उस दिन तों
बीमार जही हो जावे
बाबल वेहड़े चानन दे
बूटे नूं दब्ब के
पती लई परछावें नूं
लै जावे
हर लूणा ही
अंतर दी लूणा मरवावे
हौके भर भर उमर बिताए
फिर जद सेजा मानन जावे
चानन दे सुपने दा उहनूं
सुपना आवे
ते उस दा अन्दर दुक्ख जावे
उह सुपने विच
उस सुपने दा पिंडा माणे
पर कोई होर ही सुपना
उस दा पिंडा खावे
लूणा !
हर लूणा ही
बस एदां मर जावे
चानन दे सुपने
बस सुपने ही लैंदी
नित्त पराए सुपने दे संग
भोग रचावे
ते उह गरभवती हो जावे

हर इक गरभवती तद आपणी
कुक्ख विच झाके
पीड़ दा बूटा उग्गदा जापे
पीड़ां दे बूटे दी छावें
उस दी हर इक पीड़ गवाचे
तद नारी तों
बीते दिवस ना जान पछाते
बाबल वेहड़े दब्ब्या सुपना
सौंदा जापे

लूणा

ईरा !
कूड़ फ़लसफ़ा तेरा
दिल ना पोंहदा
बाबल दे वेहड़े दा सुपना
कदे ना सुणदा
अवचेतन मत्थे विच किधरे
रहन्दे भौंदा
मरन-दिवस तक्क हंझू हंझू
रहन्दा रोंदा

सईए !
उमर सुलगदी
धियां दी जां आउंदी
हर धी हर बाबल दे
वेहड़े सुपने लैंदी
सईआं दे संग
इक दिन उह खेडन है जांदी
फुल्लां लद्दे जंगल दे विच
उह गुंम हो जांदी
सईआं नूं उह लभ्भदी
ते आवाज़ां लांदी
पर कोई सखी नज़र ना आउंदी
ते उह इक बूटे दी छावें
थक्क टुट्ट के है जा बहन्दी

फेर किसे, परी लोक 'चों
इक शहज़ादा आउंदा
ते उहनूं
उह कुल्ल जंगल दी सैर कराउंदा
इक दिन फेर इवें दा आउंदा
उह शहज़ादा,
योस कुड़ी नूं
वर के दूर देश लै जांदा
हस्सदा हस्सदा गाउंदा गाउंदा
इक पल दा जे पवे विछोड़ा
उह मर जांदी
उह मर जांदा
पर सईए
इह सुपना, सुपना ही रह जांदा
शहज़ादे थां वरन कोई
दानव आ जांदा
वरके सत्तवीं कोठी पांदा
रोज़ रात नूं
भोरा भोरा कर के खांदा
हर धी दा ही सुपना है
ज़ख़मी हो जांदा
बाबल दे वेहड़े दा सुपना
बाबल दे वेहड़े रह जांदा

पर मैं बाबल वेहड़े
जो सी सुपना तक्क्या
जो सुपना मैं उण्या, कत्त्या
उस सुपने विच
पूरन वरगा सी कोई वस्स्या
उस सुपने विच
पूरन वरगे रंग घुले सन
पूरन दे अंगां ही वरगे
अंग घुले सन

उह सुपना सी
पूरन दे परछावें वरगा
जो मेरे नैणीं
रात दिने सी रहन्दा तरदा
उस सुपने 'ते मैं सां मरदी
उह सुपना मेरे 'ते मरदा
इउं लगदै
ज्युं मैं ते पूरन
जनम जनम दे होईए साथी
पर पिछले जनमां विच किधरे
दोहां दी गई होंद सरापी
इक रूह दो हंसां विच पाटी
इक दूजे ने
इक दूजे दी
किन्ने जनम ना शकल पछाती
किसे वडेरे पाप दे कारन
मैथों मेरा पूरन गुंम्या
ते मैं पूरन लई गवाची
पर मैं
पूरन दे राहवां दा
गुंम्या कोह हां
मैं पूरन दे अंगां 'चों
आउंदी ख़ुशबो हां
मैं उहदे मुक्ख 'चों किरदे
शबद दी मदरा हां
मैं पूरन दे मत्थे दे
सूरज दी लोय हां

ईरा

हां लूणा !
ईकन ही लग्गदा
हर आदरश-हीन प्रानी नूं
हर आदरश ही आपना लग्गदा
जो चेहरा आपना ना हुन्दा
जनम जनम तों गुंम्या लग्गदा
असंतुशटित हर काम हमेशा
संतुशटित हर काम 'ते मरदा
संतुशटित हर काम तों जलदा
हर चेहरे दे नकश फोलदा
हर चेहरे 'चों उस नूं लभ्भदा
हर लूणा नूं
हर पूरन ही आपना लग्गदा
मृग-त्रिशना दी इस किर्या 'चों
पर लूणा कुझ वी ना लभ्भदा
काम दी मारू जवाला अन्दर
नहुंयों सिर तक्क रहन्दा सड़दा

असीं तां लूणा !
बे-संतोखे कामी हां
इक किर्या विच सभ्भे
अंतरजामी हां
पुशतो-पुशती इक दूजे तों
नामी हां
काम लई इक दूजे तों वद्ध
दानी हां
नित्त नवें चेहरे दा पींदे
पानी हां

( मींह तेज़ हो जांदा है, पूरन भिज्ज्या होया
चबूतरे च दाख़ल हुन्दा है ! ईरा उट्ठ के चली
जांदी है। पूरन दे दूधा वसतर उहदे पिंडे नाल
चिंमड़े होए हन। लूणा उस वल्ल प्यार भरी तक्कणी
नाल वेख रही है। पूरन हत्थ जोड़ के परनाम करदा है ।)

लूणा

पूरन !
अज्ज दी रुत्त बड़ी ही
प्यारी है ।

पूरन

हां मां जी
जिवें रोंदी बिरहण
नारी है ।

लूणा

हां पूरन !
तूं सच्ची गल्ल उचारी है
इह रुत्त हंझूआं लद्दी
बिरहा-मारी है !
पूरन !
इन्दर देव जदों रुत्तां सी घड़दा
उन्हां दिनां विच
ऐंदर नां दी इक परी नूं
कहन्दे बड़ा ही प्यार सी करदा
हर मौसम दा रंग
उहदे रंगां 'चों लैंदा
रुत्तां दा आधार
उहदी मुदरा 'ते करदा

कहन्दे
जद उह हस्सी
रुत्त बहार बणी
कामी नज़रे तक्की
तां अंग्यार बणी
विच उदासी मत्ती
तां पत हार बणी
सेजा मान के थक्की
ठंडी ठार बणी
झांजर पा के नच्ची
तां शिंगार बणी
पंज रुत्तां दी ऐंदर
इउं आधार बणी
पर छेवीं इह रुत्त
जेहड़ी मल्हार बणी
जो अज्ज साडे साहवें
बिरहन वांग खड़्ही
दुक्ख-दायक है पूरन इस दी
जनम-घड़ी
ऐंदर होर किसे द्युते संग
गई वरी
बिरहों-जलन्दी ऐंदर
कहन्दे रोई बड़ी
कहन्दे उस दिन इन्दर ने
इह रुत्त घड़ी
अम्बर नैणीं
ऐंदर दी सभ
पीड़ भरी
ते इन्दर ने कहन्दे एनी मदरा पीती
उस नूं आपने आपे दी
ना होश रही ।
कहन्दे
जद वी अन्दर दा दिल
जलदा है
ऐंदर नूं उह याद
जदों वी करदा है
उसे दिन अम्बर तों
पानी वर्हदा है

पूरन

मां जी
कैसी मिट्ठड़ी कथा सुणाई है
बद्दलां 'चों
बिरहा दी ख़ुशबो आई है
ज्युं इन्दर दे हंझूआं
झड़ी लगाई है ।

लूणा

पर पूरन !
तूं आपनी ऐंदर नूं नहीं तक्क्या
जनम जनम तों
तूं उस दे अंतर विच वस्स्या
पर तूं उस नूं
याद ना रक्ख्या
उस ऐंदर नूं
याद तेरी जद आउंदी है
हर रुत्त ही
बिरहन दा रूप वटाउंदी है
इह रुत्त वी उहदे हंझूआं तों
शरमाउंदी है ।

पूरन

मां जी !
किस ऐंदर दी
बात पए पांदे हो
क्यूं पूरन दा
पए उपहास उडांदे हो ?

लूणा

पूरन !
सच्च मुच्च
इह कोई उपहास नहीं है
एस तों वड्डा कोई वी
इतेहास नहीं है
उह ऐंदर बे-नाम देश विच
रहन्दी है
योस देश तक्क
कोई वी सड़क ना जांदी है
योस देश विच
अम्बर पैरां वल्ले है
सिर दे उत्ते धरती नज़रीं
आउंदी है
उसे देश विच
उह ही 'कल्ली रहन्दी है
याद तेरी जां मिलन कदे
आ जांदी है
जद जी करदा रोंदी है
ते हस्स लैंदी है
दिन भर इक टिल्ले 'ते बैठी
बे-आवाज़ा गीत जेहा कोई
गाउंदी है
उह बेचारी
देह-हीन, दूशित नारी है
परनाई है
फिर वी कंज कुआरी है

पूरन

हां मां जी
मैं समझ ग्या जो वी कहन्दे हो
कथा-कथौली
परी-लोक दी पए पांदे हो

लूणा

पूरन !
इह कोई परी-लोक दी
कथा नहीं है
तैनूं उस बेचारी दा कुझ
पता नहीं है ।
काश !
कदे जे तैनूं उह मिल सकदी
तैनूं उह
पलकां दे उहले डक्कदी
तेरी देह नूं
वट्टने मल-मल रक्खदी
तेरी ख़ातिर
अंग्यारां 'ते नच्चदी
देह-हीण
किसे चन्दन देह विच वस्सदी
तैनूं उह नित्त
नागन बण के डस्सदी
काश !
कदे जे तैनूं उह मिल सकदी

हुन तैनूं उह
सुपने विच तक्क लैंदी है
तेरे पिंडे दा उह खिड़्या
फुल्ल वेख के
आपनी निर-आकार देही 'ते
हस्स लैंदी है
रोज़ तेरे दुआरे 'ते
लंमा सज्जदा कर के
नैणां दे विच हंझू भर के
मुड़ जांदी है
कदे कदे जां
मेरे घर वी आ जांदी है
तेरियां गल्लां करदी करदी
रो पैंदी है
उह इक ऐसा गीत है
जो गायआ नहीं जांदा
उह इक ऐसा बदन है
जो छुहआ नहीं जांदा
इक ऐसा परछावां
जो नज़रीं ना आउंदा
इक ऐसा अहसास
कि जो दस्स्या ना जांदा
कथन-हीन कथा दा
वरका उड्डदा जांदा
जिसदा कोई आदि ना आउंदा
अंत ना आउंदा

पूरन

मां जी !
हुन बस्स छड्डो वी
इह कथा छलेडी
सच्च दस्सो है कौन कुड़ी
दुख्यारन एडी ?

लूणा

पूरन !
मैनूं ओस कुड़ी दा
नां नहीं आउंदा
चिरां चिरां तों जीभ मेरी 'ते
बलदा, बुझदा धुखदा रहन्दा
कोई वी उस दा नाम ना लैंदा
योस कुड़ी दा
आपना हाणी
योस कुड़ी नूं मां है कहन्दा
योस कुड़ी दे
प्यु दा हाणी
योस कुड़ी नूं
पतनी कहन्दा
( लूणा रोन लग्ग जांदी है, पूरन
उस दा इशारा समझ जांदा है )

पूरन

पर मां !
योस कुड़ी नूं पूरन
मां ना आखे
ते कीह आखे ?
योस कुड़ी दी
बलदी धुप्प नूं
छां ना आखे ?
ते कीह आखे ?

लूणा

सरप दुफाड़ी जीभा वाकण
इक संग मैनूं
मां मां आखे
दूजी संग महबूबा आखे

पूरन

योस कुड़ी नूं
तां पूरन थीं प्यार नहीं है
योस कुड़ी नूं
पूरन दा सतिकार नहीं है
मां कहलाउणों
जे आपना अपमान समझदी
महबूबा कहलाउन दी वी
हक्कदार नहीं है
हर महबूबा दे चेहरे विच
मां हुन्दी है
ते हर मां दे चेहरे विच
महबूबा
जिस नारी विच ममता दा
सतिकार नहीं है
उस नारी विच
किसे रूप विच नार नहीं है
उस नारी विच
नारी हाले सीमत है
उस नारी विच
नारी दा विसथार नहीं है
ना उह मां भैन ते ना ही
महबूबा है
इस नूं प्यार करन दा
कोई अधिकार नहीं है

लूणा

पूरन !
लूणा ममता दा
सतिकार है करदी
पर उह उस ममता तों ड्रदी
जिस ममता विच
नारी दी ना होवे मरज़ी
लुड़्हियां वाकन जो नारी दी
कुक्ख विच चलदी
उस ममता नूं
कोई वी नारी
प्यार ना करदी

हर नारी ममता दा सुपना
इक ऐसे पिंडे 'चों लैंदी
जिस पिंडे 'चों पहल-वरेसे
आपने पिंडे नूं तक्क लैंदी
जिस पिंडे दे मुड़्हके विचों
फुल्लां दी ख़ुशबो है आउंदी
पूरन !
तेरे पिंडे विचों
लूणा ने ममता तक्की है
लूणा दे पिंडे विच तेरे
पिंडे दी ख़ुशबो वसी है
तेरी सूरत दी परछाईं
आपनी कुक्ख विच मैं तक्की है
उह परछाईं
मेरी कुक्ख 'चों
कई वारी ही जनम है लैंदी
ते लूणां परसूत हंढांदी
ते परछाईं
हड्ड-मास दा बुत्त बण जांदी
उस परछाईं दे मैं
कूले अंगां विचों
तेरे ते आपने अंगां नूं
लभ्भदी रहन्दी
दो पिंड्यां दे संगम उत्ते
हस्सदी रहन्दी
निक्के निक्के अंग वेख के
मैं नश्याउंदी
ते परछाईं छाती चुंघदी
छाती उत्ते ही सौं जांदी
तूं उस दा
बाबल बण जांदा
मैं उस दी
अम्बड़ी बण जांदी

पूरन

मां !
मैं ओसे परछावें दा
की तैनूं विसथार ना लग्गदा ?
की ओसे ही परछावें दा
मैं वध्या आकार ना लग्गदा ?
उहनां कूले नकशां दा ही
कीह तैनूं आधार ना लग्गदा ?
पूरन विचों परछावें दा
की तैनूं
उह प्यार ना लभ्भदा ?

लूणा

पूरन !
मैनूं पूरन विचों
बस्स 'कला पूरन है लभ्भदा
पूरन 'चों
लूणा ना लभ्भदी
इस लई मेरा मन ना रज्जदा
पूरन सदा
अपूरन लग्गदा
उस परछावें वरगा ना
परछावां लभ्भदा
पूरन उस परछावें दा
कुझ हिस्सा लग्गदा

पूरन

मां !
तैनूं जो पूरन विचों
कुझ कु हिस्सा आपना लगदा
ओसे पूरन दे हिस्से दी
अज्ज दी अज्ज बस्स
मां तूं बण जा
बाकी बचे अपूरन ख़ातिर
तूं धुप्प बण जा
जां छां बण जा
पूरन दे
पिंडे 'चों तैनूं
जिन्ना कु आपना अज्ज लग्गदै
ओना कु पूरन ही तेरे
दुक्खां संग हमदरदी करदै
बाकी रेहा अपूरन
पूरन कोलों ड्रदै
उह आपे इस घर दी अग्ग विच
धुख धुख सड़दै

माए नी !
सुन मेरीए माए
पूरन आपने ढिड्ड दियां पीड़ां
कीकन फोले किंज सुणाए
शबदां बाझों बुल्ल्ह तेहाए
मेरी इस निरलेप कथा 'ते
कोई वी शबद तां मेच ना आए
कथा कहां तां कही ना जाए
हर इक शबद प्या शरमाए
अठारां वर्हे
मेरी उमरा दे
इकलापे दी अग्ग विच सड़ गए
मौसम आए
मौसम मर गए
ओथों बच्या, ते कीह तक्क्या
बाप दियां करतूतां दे सप्प
पूरन दे अहसास नूं
लड़ गए
बचे-खुचे जज़बात वी
ठर गए
पूरन दे ही जंमन वाले
पूरन नूं गलियां विच धर गए
मेरे लई ज्यूंदे ही मर गए

फिर पूरन दे
जंमन वाली
जद पूरन ने घर ना वेखी
आपने बाबल दे घर बह के
पूरन लई होई परदेसी
ना पूरन उहदी छावें बैठा
ना उहने उहदी धुप्प ही वेखी
जनम-देहाड़े तों अज्ज तीकण
पूरन ने कोई ख़ुशी ना वेखी

इक तां पूरन
आपनी अग्ग विच सड़दा है
दूजे आपणी
मां दे हावे मरदा है
तीजे आपणी
प्यु दी काली दुनिया दे
मूंह 'ते पैंदे परछावें तों
डरदा है
चौथे अज्ज तों
तेरा वी वेहड़ा ना मेरा
मेरे लई
तेरा वी वेहड़ा बलदा है

इथे सभे अपूरन
पूरन कोई नहीं
इथे सभ अलूणे
लूणा कोई नहीं
इस चौगिरदे विच हुन मेरा
दम घुटदा है
हर कोई आपना कूड़ा
मेरे 'ते सुट्टदा है
मेरा हर अरमान ही
काला लहू थुक्कदा है

पूरन
इस चौगिरदे नूं हुण
छड्ड जावेगा
बद्दलां दे विच
घुल जावेगा
पौणां दे विच
मिल जावेगा
फुल्लां दे विच वस्स जावेगा
धुप्पां दे विच
खुर जावेगा छावां दे विच ढल जावेगा
अनंत-काल विच
रल जावेगा

माए !
इथों दा हर घर ही
ठंडी अग्ग विच सड़दा जावे
इक दूजे नूं
इक दूजे दा
पर घर सड़दा नज़र ना आवे
हर इक नूं
आपने ही घर दा
लूणा एथे राह ना आवे
हर कोई आपणे
घर दा रसता
होर किसे तों पुच्छना चाहवे
पर उह पुच्छणों वी शरमावे
हर कोई
उमर दी सरद रात विच
किसे चौराहे विच मर जावे
कोई किसे नूं
रोन ना आवे ।

लूणा !
तेरे मेरे वाकण
हर कोई एथे लहू थुक्कदा है
जो वी इथे लहू ना थुक्कदा
छौरा है पत्थर दे बुत्त दा
उह पाग़ल है
बुद्ध हीन है
बे-अहसासा, नज़र-हीन है
उह बे-दिला है
दरद-हीन है

लूणा

पूरन !
मैं तैनूं तेरे घर दा
रसता ही
दस्सना सी चाहआ
पर लूणा दा दस्स्या रसता
शायद तैनूं रास ना आया
दरद-वन्द दा
दरद रता वंडना सी चाहआ
पर तूं
लूणा नूं ठुकरायआ
प्यार मेरे दा
मुल्ल ना पायआ

पूरन

माए !
इथे कोई किसे नूं
प्यार ना करदा
पिंडा है पिंडे नूं लड़दा
रूहां दा सतिकार ना करदा
इक दूजे दी
अग्ग विच सड़दा
इक दूजे दे पाले ठरदा
इक दूजे दी धुप्प लई ज्यूंदा
इक दूजे दी
छां लई मरदा
दिन-दीवीं लोकां तों ड्रदा
रात पवे आपे तों ड्रदा
कोहलू वाला चक्कर चलदा
हर कोई आपणा-आपा छलदा
आपने संग ही धोखा करदा
हर कोई आपना आपे बरदा
आपने रूप 'ते आपे मरदा

एथों दी हर रीत दिखावा
एथों दी हरप्रीत दिखावा
एथों दा हर धरम दिखावा
एथों दा हर करम दिखावा
हर सू काम दा सुलगे लावा
एथे तां बस्स काम ख़ुदा है
काम च मत्ती वगदी वाय है
एथे हर कोई दौड़ रेहा है
हर कोई दम तोड़ रेहा है
एथे हर कोई खूह विच डिग्ग्या
इक दूजे नूं होड़ रेहा है
हर इक कोई एथे भज्ज्या टुट्ट्या
इक दूजे नूं जोड़ रेहा है
इक दूजे नूं तोड़ रेहा है
डरदा अन्दर दी चुप्प कोलों
साथ किसे दा लोड़ रेहा है
इक दूजे नूं आपने आपणे
पानी दे विच रोड़्ह रेहा है
हर कोई आपणी
कथा कहन नूं
आपने हत्थ मरोड़ रेहा है
आपने आपने दुक्ख दा एथे
हर कासे नूं कोड़्ह प्या है

हर कोई
आपने आप दुआले
सुच्चियां तन्दां कत्त रेहा है
आपनी आपनी मौत दा रसता
हर कोई आपे दस्स रेहा है
हर कोई नंगा नच्च रेहा है
आपने उत्ते हस्स रेहा है
आपने कोलों लुक रेहा है
आपने कोलों बच रेहा है
आपनी कबर लई हर कोई
आपे मिट्टी पट्ट रेहा है
हर कोई मौहरा चट्ट रेहा है
घोगे दे विच वस्स रेहा है
ख़ुद नूं ज्यूंदा दस्स रेहा है
इथे सभ कुझ्झ मर चुक्का है
आपनी आपनी सूली उप्पर
हर कोई सूली चड़्ह चुक्का है
हर इक सूरज ठर चुक्का है
भूत, भविक्खत, वरतमान दा
हर इक छिन ही खड़ चुक्का है
सम्यां दा त्रै-जीभा फनियर
ख़ुद आपे नूं लड़ चुक्का है
आपनी वेहु संग मर चुक्का है
जो किसे करना कर चुक्का है

हुन तां
धरती थंम चुक्की है
जो इस जंमणा
जंम चुक्की है
हुन जो बच्या
रंग-हीन है
हुन जो बच्या
अंधकार है

लूणा

पूरन !
इह तेरा अभिमान है
धरती कल्ल्ह वी गरभवती सी
धरती अज्ज वी
गरभवान है
अज्ज वी किसे किरन नूं चीरो
तां सत्ते रंग उस विच बाकी
हर इक दी पर
तेरे वाकण
नज़र हुन्द्यां नज़र गवाची
अजे रौशनी हर थां बाकी
आपने अंधकार दे सदका
पर ना साथों जाए पछाती

असल च साडा
आपना ही कोई रंग नहीं है
उंज तां पूरन !
कोई किरन बेरंग नहीं है

लूणा नूं
तूं चीर के तक लै
लूणा चों हर रंग मिलेगा
हर रंग दा इतेहास मिलेगा
हर इक रंग दी बास मिलेगी
सभ रंगां दी लाश मिलेगी

जे सभनां दा
आपना रंग है
उह रंग सभ दा
ही बे-रंग है

उह रंग देह विच
कैद प्या है
उह रंग सभ ने
वेच ल्या है

उह रंग सभ दा
मर चुक्का है
अंधकार विच
रल चुक्का है

इह रंगां दी मजबूरी है
जद वी कोई, दो रंगां दा
आपस दे विच मेल मिलावे
दोहां दा ही रंग मर जावे
होर कोई रंग ही बण जावे
होर मिलावे, होर मिलावे
रंगों रंग बदलदा जावे
सत्त रंगां दा आपा मिल के
कई वारी सत्त-रंगा इह रंग
सत्त रंगां दी लाश कहावे

पर पूरन !
मेरे बाबल वेहड़े
जो होनी ने रंग मिलाए
उह लूणा दे भुक्खे बाबल
दंमां बदले सी तुलवाए
उह लूणा नूं रास ना आए
मैं चाहुन्दी हां तीजा रंग वी
दो रंगां दे विच मिल जाए
ख़ौरे इस बे-रंग वेहड़े
होर कोई रंग खेडन आए
रंग-हीन लूणां दी देही
तेरे रंग विच रत्ती जाए
ते इस घर दा रंग वटाए

पूरन

तूं चाहुन्दी हैं
जे रंगां विच
तीजा रंग वी होंद गवाए
लूणा
इह संजोगां दे रंग
कौन मिलाए कौन मिटाए
इह मत्थे विच धुरों ल्याए
मत्थे दा रंग कौन वटाए ?

लूणा

पूरन !
लूणा दे रंगां विच
आपना सूहा
रंग मिलावे
नहीं तां संभव है कि लूणा
इस घर दा हर रंग जला दे
सभ ते आपना रंग चड़्हा दे
आपने रंग दी लोथ बना दे
तेरे रंग नूं
ज़िब्हा करादे
रंगां-मत्ती एस कथा दा
हर अक्खर
बे-रंग बना दे

पूरन

जो लूणा चाहे करवाए
चंगा ही है, जे पूरन दा
इह बे-रंगा रंग मर जाए
रंग-हीन इस घर दे रंग नूं
मेरे लहू दा रंग चड़्हाए
रंग-वेहूनी इस दुनिया विच
पूरन हुण
जीऊना ना चाहे
मैथों मेरे रंगां दी धुप्प
मां अग्गे ना
वेची जाए

लूणा

पूरन !
जे तूं धुप्प ना वेची
मैं आपनी छां वेच द्यांगी
धुप्प बिन जी के वेख चुक्की हां
छां बिन जी के
वेख लवांगी

पूरन

माए !
मुहब्बत इक दूजे दे
रंगां दा
सतिकार है हुन्दी
इक दूजे दी
धुप्प 'चों आउंदी
निघी जेही
महकार है हुन्दी
कदे मुहब्बत
दो रंगां दी
मिलनी दा
आधार ना हुन्दी
रंग ने रंग दी
होंद गवाणी
प्यार नहीं
विभ्भचार है हुन्दी
दो रंगां दी अत्रिपती ही
दो रंगां दा
प्यार है हुन्दी
आपस दी
पहचान है हुन्दी
पिंड्यां दा
अधिकार ना हुन्दी
एसे कारन कूड़ मुहब्बत
पूरन नूं
सवीकार ना हुन्दी

लूणा !
प्यार अक्खां विच वस्सदा
जीभ 'ते उह तां
कदे ना आउंदा
प्यार तां
चुप्प, निरशबद कथा है
प्यार कदे
रौला ना पांदा
प्यार सदा
अंतर विच बलदा
बाहर उस दा
सेक ना आउंदा
उह ना तेरे
वांग बड़ांदा
प्यार, प्यार ना
कदे जतांदा
लूणा तैनूं
काम सतांदा
पूरन !
प्यार वी
कर सकदा सी
जे लूणा 'चों
नज़रीं आउंदा
कामी हो जे
शोर ना पाउंदा
जे ना आपणी
होंद जतांदा
मैनूं तेरे
दुक्ख दा दुक्ख है
पर कोई हल्ल
ना नज़रीं आउंदा
चंगा सी
जे तूं ना जंमदी
जां मैं जंमदा
ही मर जांदा

(पूरन उट्ठ के चला जांदा है। लूणा
'कल्ली चबूतरे च बैठी रोंदी रहन्दी है ।)

छेवां अंक


आपनी मालविदा ते अरुना दे नां

(लूणा ते राजा सलवान शाही बाग़
'च शाम ढले सैर कर रहे हन ।
सलवान लूणा दे प्यार च लीन,
उहदे नाल गल्लां कर रेहा है ।)

सलवान

लूणा !
अज्ज लहन्दे पत्तणां 'ते
आथन दा सूरज
इंज ढले
केसर दे सूहे खेतां 'ते
कोई तितली जीकण
नाच करे ।

ज्युं उफ़क दी गोल धुणखनी 'ते
सै पेंजे बद्दल पिंज रहे
रंगां दी वगदी नैं अन्दर
सोने दी गागर
पई तरे ।

पहलां वी सूरज
रोज़ चड़्हे
पहलां वी सूरज
रोज़ ढले
पर एने गूड़्हे रंग कदे
किसे सूरज विच सन
नहीं रले ।

तेरा साथ जदों दा
आ जुड़िऐ
दिन मिट्ठे जीकन शहद भरे
है फुल्लां दे विच
महक वधी
रुक्ख जापन हो गए
होर हरे ।

बस दिन भर
मधरा-मुगध जही
इतरां विच भिज्जी पौन चले
तेरे वगदे सौंफ़ी साहवां 'चों
हर मौसम आपणी
चुंझ भरे ।

किसे अगन साज़ दी
लैय उत्ते
किसे अगन-गीत दा बोल जले
इक शोख़ सुलगदी
धुन कोई
तेरे होठां उत्ते
रोज़ बल्ले ।

किसे नीम-सांवले
मरमर 'चों
हन शिलपी तेरे अंग घड़े
तेरे अंगां 'चों ख़ुशबो आवे
चन्दन दा जंगळ
प्या सड़े ।

तेरी हिक्क दे बलदे
सरवर 'ते
जद रूप दा पानी आण चड़्हे
इक अग्ग दे हंसां दा जोड़ा
मेरे ख़ाबां दे विच
रोज़ तरे ।

तेरे साथ दे
एस क्रिशमे दी
कुझ वी ना मैनूं समझ पवे
हर रात छुटेरी लग्गदी है
दिन ढलणों पहलां
आन ढले ।

पर तूं जद नहीं सी
कोल मेरे
दिन वक्खरे सन कुझ होर मेरे
सां आपे, आपने कोल मेरे
दिन उजड़े सी
बे-जोड़ मेरे ।

हर सूरज
जद सी आ चड़्हदा
उह सदा नधुप्पा ही लगदा
जां मैले मैले चानन विच
मैनूं आपना आपा
ना लभ्भदा ।

मैं मायूसी दे
जंगल विच
कोई हिरन गवाचा सी लभ्भदा
किसे जनम जनम दा तिरहायआ
तेरे रूप दा पाणी
सी लभ्भदा ।

इक काली अग्ग
इकलापे दी
दा काला भांबड़ सी बलदा
उस काली अग्ग विच मैं लूणा
बस दिन भर रहन्दा
सी सड़दा ।

मेरी अमर भटकणा
वाकन ही
जद शाम दा सूरज आ ढळदा
मैनूं हर नारी दे पिंडे 'चों
ख़ुशबोई दा सप्प
आ लड़दा ।

लक्ख जुड़े जशन
ते भीड़ां विच
मैं कल्ल-मुकल्ला ही लग्गदा
किसे मरघट दे विच शाम ढले
इक दीवे वाकण
सी बलदा ।

दिन भर इक भै दा
भूत जेहा
मेरा पिच्छा रहन्दा सी करदा
इक चुप्प जही दा परछावां
मेरे हड्डां दे विच
आ वड़दा ।

मैं अरथ-हीण
हर रचना दा
कोई अरथ बे-अरथा सां लभ्भदा
मैं धरती उत्ते नहीं, सगों
धरती दे हेठां
सी चलदा ।

मैं धरती थल्ल्युं
निकलन दी
कई वारी कोशिश सी करदा
पर धरती थल्ल्युं निकलन दा
कोई रसता मैनूं
ना लभ्भदा
निर-वाउ घुटन विच
सी मरदा ।

पर लूणा !
अज्ज सलवान तेरा
मुड़ धरती उप्पर है चलदा
मायूस, निरासा मन मेरा किसे काळख तों
हुन नहीं ड्रदा
हर सूरज विच हां
मैं बलदा ।

मेरा हर रसता
तेरे पिंडे दे
चौराहे विचों हो लंघदा
हुन लूणां तेरे साथ बिनां
रब्ब कोलों कुझ्झ वी
नहीं मंगदा
हुन हर इक दिवस ही मेरा है
हर दिन चड़्हदै
तेरे रंग वरगा

( इक गोली प्रवेश करदी है )

गोली

महाराज !
जे जान अमानत पां
तां गोली इक गल्ल अरज़ करे ?

सलवान

जो कहना है अवश्श कहो

गोली

महाराज जीउ !
मेरी जीभ जले
जे चन्दरा मुक्खों बोल कहे
पर पूरन जी छड्ड महलां नूं
हन ख़ौरे किधर
गए चले
कुझ वी ना सानूं समझ पवे
सानूं जूहां बेले छाणद्यां
परभातों सूरज आण ढले
उहनां दे सोन-भवन 'चों
इह लिखे अक्खर
हैन मिले
जो मेरे तों ना
जान पड़्हे ।

( सलवान गोली कोलों पत्तर लै लैंदा है।
गोली चली जांदी है , लूणां सलवान नूं
पत्त्र पड़्हन लई कहन्दी है। सलवान
पत्त्र नूं उच्ची उच्ची पड़्हदा है ।)

पत्त्र

मां !
मैं जा रेहां
छड्ड के तेरे महल
छड्ड के तेरी मैं छां
छड्ड के तेरा गरां
मैं जा रेहां ।

जा रेहां दूर दुमेलां तों दूर
दूर जित्थे सच्च दा प्रकाश है
दूर जिथे
धरत ना आकाश है
दूर जिथे
दिवस है ना रात है
मैं दूर ओथे जा रेहां

दूर जिथे पिंड्यां विच
रिशत्यां दी कंध नहीं
दूर जिथे रंग इको
होर कोई वी रंग नहीं
दूर जिथे पंध इको
होर कोई वी पंध नहीं
दूर जो चौपाट खुल्ल्हा
कोई बूहा बन्द नहीं
दूर जो सीमा-रहत है
जिथे कोई वी कंध नहीं
मैं दूर ओथे जा रेहां

मैं दूर ओथे जा रेहां
जेहड़ा कि बस निरशबद है
मैं दूर ओथे जा रेहां
जेहड़ा कि निर-आकार है
मैं दूर ओथे जा रेहां
जेहड़ा कि रंग-हीन है
जेहड़ा कि है अण-जनम्या
जेहड़ा कि निर-आधार है
जेहड़ा कि अपरम्पार है
जेहड़ा कि ना चानणा
जेहड़ा ना अंधकार है
मैं दूर ओथे जा रेहां

मैं जा रेहां ओथे
कि जिथों दा धरम
बस करम है
मैं जा रेहां ओथे
कि जिथों दा मज़्हब बस इलम है
मैं जा रेहां ओथे
कि जिथे हुनर है इख़लाक है
जिथे अकल दे फुल्ल 'चों
चानन दी आउंदी बास है

मैं जा रेहां
बस्स जा रेहां
भरमां दे बंधन तोड़ के
शरमां दे संगल तोड़ के
न्हेरे दा जंगळ फूक के
नफ़रत दे सागर डीक के
रीतां दे पासे भन्न के
इक नवां चानन जंम के
मैं जा रेहां ।
मैं जा रेहां ।

मैं जा रेहां
संतुशट हां
लूणा मगर अफ़सोस ए
तेरी देह दे अपमान लई
पूरन सदा निरदोश ए
तेरी उमर दी पहचान लई
पूरन सदा निरदोश ए
रिशता तेरा ठुकरान लई
पूरन सदा निरदोश ए
इह काम दो घड़ियां लई
लहूआं च उठ्या जोश ए
पूरन है सभ कुझ्झ जाणदा
पूरन नूं पर अफ़सोस ए
पूरन दा इस विच दोश नहीं
करमां दा शायद
दोश ए ।

अच्छा मैं लूणा जा रेहां
इस जनम विच मैं आख़री
प्रनाम तैनूं कह रेहां
मैं जा रेहां ।
मैं जा रेहां ।
मैं जा रेहां ।
मैं जा रेहां ।

( सलवान पत्त्र पड़्ह के कुझ समें लई
चुप्प हो जांदा है । पागलां वांग हस्सदा ते
फेर रोंदा है । पूरन नूं उच्ची-उच्ची आवाज़ां मारदा है ।)

सलवान

पूरना !
यो पूरना !
तूं परत आ
छड्ड के दुनिया ना जा
तैनूं तेरी जणन-हारी दी कसम
तैनूं तेरे प्यो दे नां दा वासता
तूं परत आ
तूं परत आ
छड्ड के एवें ना जा
नार विच किथे वफ़ा ?
इह सदा है बे-वफ़ा
इह सदा है बे-हया
इस कमीनी ज़ात लई
तूं जान ना ऐवें गुआ
तूं परत आ
तूं परत आ

नार चिट्टा झूठ है
मक्कार है
नार काली अग्ग दा
अंगार है
कूड़ है अंध्यार है
इक ज़हरीले फुल्ल दी
महकार है
लूणा वाकण
गोत इसदी है भरिशटी
ज़ात दी चम्यार है
पुत्तर तों मंगदी प्यार है
नारी नूं जंमन वालीए
तेरी कुक्ख नूं फिटकार है

तेरे लिखे
सुलगदे अक्खरां दी सहुं
उस दिवस तक सुलगदा
मैं रव्हांगा
जिस दिवस लूणा दी
चिट्टी लोथ दी
पुत्तरा काली ना छावें
बव्हांगा
लूणां दे काले, कमीने
लहू विच
सुलगदे ना हत्थ ठंढे करांगा
मैं सुलगदा ही रहांगा
मैं सुलगदा ही रहांगा

लूणा

हां !
लूणा है कमीनी
क्युंकि उह इक नार है
ज़ात उसदी है कमीनी
क्युंकि उह इक नार है
लहू उस दा है कमीना
क्युंकि उह इक नार है
गोत उस दी है कमीनी
क्युंकि उह इक नार है
क्युंकि उह लाचार है
हुने उह गंगा-जली सी
ते हुने चम्यार है
हुने उह चम्पा-कली सी
ते हुने इक ख़ार है
हुने उह सी रौशनी
ते हुने अंध्यार है
मरद दा तां प्यार बस्स
इक डूमने दी डार है
जीभ उत्ते माख्युं
डंगां च भर्या ज़हर है
लूणां तां निर-अपराध है
पर मरन लई त्यार है

महाराज जी
लूणा नूं पर
कुझ कहन दा
अधिकार है
लूणा च्रितर-हीन नहीं
पूरन ही बस बदकार है
लूणा दा धरम पती है
करदी पती नूं प्यार है
नारी नूं सदा निन्दणा
हर युग्ग दे विच रीत सी
हर युग्ग नारी नूं सदा
पांदा रेहा फिटकार है
नारी नूं ही दुतकारना
हर धरम दा आधार है
नारी दे ठीकरे भन्नणे
हर युग्ग दा अधिकार है
नारी दे मूंह 'ते थुक्कणा
शायद पुरख दी सभिअता है
नारी नूं मैला आखणा
शायद उहदा सतिकार है
जां कहन तों लाचार है
नारी नूं जंमन वालीए
धिक्कार है, धिक्कार है
मैं तां ड्रदी सां
कि लोकीं कहणगे
ऐवें झूठी मां-मतई्ई भौंकदी है
ग़रज़ ख़ातिर
कोई ककई्ई बोलदी है
पर जो वी, सच्च है सो सच्च है

आखदा सी, तैनूं मेरा
मां कहन दा हक्क नहीं
तैनूं तां महबूब कहणा
हक्क है
आखदा सी
तूं तां मेरी हान हैं
आखदा सी
तूं अजे जवान हैं
तूं तां मेरी जान हैं
आखदा सी
तूं तां मेरा गुलाब हैं
तों मेरी शराब हैं
तूं ही मेरे जिसम दा
प्रतक्ख दिस्सदा ख़ाब हैं

सलवान

इह कुफ़र है, बकवास है ।

लूणा

महाराज !
हाले तां अधूरी बात है
कच्ची-गिरी गोरी चिट्टी बांह 'ते
पै गई जो लास है
पूरन च वसदे पशू दी
महाराज इक सौग़ात है

कद कोई पुत्तर, इह मां दी
बांह फड़के आखदा है ?
सोहणीएं !
मेरे जिसम दे विच
जिसम तेरा जागदा है
मेर्यां ख़ाबां च चन्नीएं
रूप तेरा सुलगदा है
तेर्यां होठां च मेरी
मध दा प्याला छलकदा है
तेरियां मुशकी लिटां 'चों
नाग काला डस्सदा है
बिन तेरे मेरी सेज सुन्नी
दिल च भांबड़ मच्चदा है
फेर मां जे बांह छुडाए
वांग जाबर हस्सदा है
सेज उत्ते स्ट्टदा है

( लूणां रोन लग्ग जांदी है )
महाराज !
मैं तां मर के उस तों
पत्त है आपनी बचाई
जे तुहाडा डर ना पांदी
जां ना देंदी दुहाई
तां ते लुट्टी जांदी लूणा
नाले लूणा दी ख़ुदाई

सलवान

बस्स कर लूणा !
इह बलदी
अगन-शबदां दी कथा
बस होर ना मैनूं सुणा
अगन-शबदां दी कथा
मेर्यां कन्नां च है
शबदां दा सिक्का पिघलदा
ख़ून नाड़ां दा मेरा
खांदा उबाले उबलदा
हर शबद कोला अग्ग दा
बन के है दिल विच सुलगदा
बन्द करदे इह कथा
बन्द करदे इह कथा
अगन-शबदां
दी कथा विच
सच्च दा जे वास है
तां लूणा दा नहीं
मेरा लहू बदमाश है
मेरा लहू अय्याश है
मेरे लहू दे फुल्ल 'चों
आई कमीनी बास है

लूणा !
मेरे ही लहू दी
निकली भरिशटी ज़ात है

लूणा !
मैं आपना लहू तेरे
साहमने बह पियांगा
आपने मैं ज़ख़म आपणे
लहू दे संग सियांगा
कलंक आपने लहू दा
मैं धो लवां तां जियांगा
पूरन दे टोटे चीर के
मैं फेर पूरन थियांगा
लूणा !
कलंके लहू दी
बस्स लाश भावें लभ्भ जावे
मोए नूं मुड़ के मार के
सलवान किधरे गड्ड आए
बाहवां ते लत्तां तोड़ के
अक्खां दे डेले कढ्ढ आए
कुत्त्यां नूं धामां वरज के
गिरझां दे टोले छड्ड आए
इक वार बस्स मर्या ज्यूंदा
लभ्भ जाए
उह लभ्भ जाए !

( सलवान दुख्या होया लूणा नूं
इकल्ल्यां छड्डके चला जांदा है ।
ईरा दाख़ल हुन्दी है )

ईरा

लूणा !
इह सभ्भे झूठ है
इह कहर है
इह पाप है

लूणा

हां झूठ है
हां कहर है
हां पाप है, हां पाप है
पाप दी मुकती लई
करना ही पैंदा पाप है
पाप दा वधना ही हुन्दा
पाप दा बस्स नाश है
अज्ज तों लूणा लई
कोई पुन्न है ना पाप है
ना दिवस है ना रात है
नार दे अपमान दा
इह सुलगदा इतेहास है
नार दा अपमान करना
सभ तों वड्डा पाप है

नारी जे होवे मेहरबां
नारी दे जेड वर नहीं
नारी जे किधरे विगड़ जाए
तां काल है, सराप है
कीह पुन्न है, की पाप है
हर पाप शायद पुन्न है
हर पुन्न शायद पाप है
रीतां दा मज़्हबी नाप है
रसमां दा पुट्ठा जाप है
हर मज़्हब ऐसा जिसम है
सुत्ता जो ख़ुद संग आप है
ते शायद इह ही पाप है

है पाप ज्युं ना मानणा
ना आप ख़ुद नूं जानणा
ना आप न्हेरा मानणा
ना आप आपना चानणा
बिन आग्या, अधिकार दे
अन्दर दे धुर सतिकार दे
किसे हान दे ना हान दे
पिंडे 'चों पिंडा छानणा
ना बुझ्झना ना जानणा
लूणा दे सुच्चे जिसम नूं
सलवान वाकन मानणा
नित्त लून ला के गालणा

ईरा

लूणा !
कीह तैनूं होश ए ?
तेरा हर शबद पागल जहआ
तेरा हर शबद मध-होश ए
पूरन सदा निरदोश सी
पूरन सदा निरदोश ए
उह आल्हने दा बोट ए
मासूम ए
निरदोश ए

लूणा

ईरा !
हां मैनूं होश ए
उह आल्हने दा बोट ए
मासूम ए निरदोश ए
पूरन है मेरा चानणा
पूरन ही मेरी जोत ए
पर नार सप्प दे सीस 'ते
अंमृत दा बण्या कुंड है
कोई पी लवे तां अमर है
कोई ना पीवे तां मौत ए

कहन्दे, अशोक बिरछ नूं
लग्गदे तदों तक्क फुल्ल ना
जद तक्क कुआरी इसतरी
मारे जड़्हां 'ते पैर ना
इस दा ते ना अपमान ना
इस दा ते ना कोई वैर ना
इह तां सगों उपकार है
इह तां सगों सतिकार है
अशोक रुक्ख सिर हर कुआरी
दा सगों इक भार है

पूरन मेरे दी होंद वी
बे-फुल्ल अशोक-बिरछ सी
एसे दी मैनूं पीड़ सी
एसे दा मैनूं हिरख सी

अज्ज सोच के उहदी होंद दी
जड़्ह 'ते मैं मारे पैर ने
पाकीज़गी उहदी च घोले
दोश दे के ज़हर ने
इस दोश संग उहदी होंद नूं
कुझ्झ फुल्ल ऐसे पैणगे
जो जनम-जनमांतर लई
धरती 'ते टहके रहणगे
जद लोक किधरे जुड़नगे
जद लोक किधरे बहणगे
पूरन दे सुच्चे फुल्ल दी
उह बात रल के पाणगे
लूणा नूं गाल्हां देणगे
पूरन नूं गल्ल थीं लाणगे
ते महक उहदे फुल्ल दी
घर घर च वंडन जाणगे
शायद किसे सलवान संग
लूणा ना मुड़ परनाणगे
मेरे जही कोई धी दे
अरमान ना रुल जाणगे
पूरन जेहे किसे पुत्त नूं
ना दाग़ दिल दे खाणगे

(लूणा उच्ची-उच्ची हस्सदी है
ते फेर रोन लग्ग जांदी है ।)

सत्तवां अंक


इन्दरा बिल्ली, परवीन चौधरी ते शमशाद बेग़म दे नां

(राजा चौधल आपने महलां च बैठा
आपनी धी नाल गल्लां कर रेहा हे ।)

चौधल

धियां दे दुक्ख
डाढे वे लोका
विरला तां जाने कोई
धी ते तितली
लोकीं आखण
वेखी ना जांदी सोई
धियां, धरेकां
सावियां सुंहदियां
मिरगां संग ख़ुशबोई
धियां दी धुप्प
चार देहाड़े
फिर होई ना होई
दुखिया धी दा
दुखिया बाबला
अज्ज करे अरज़ोई
सुनी वे लोका
देवां मैं होका
धियां ना जंमे कोई

इच्छरां

हां जी बाबला
ठीक तां आख्या
धियां ना जंमे कोई
धियां दा जंमणा
न्युं के लंघणा
छिज्जदी लोका लोई
चिट्टड़ी पग्ग दे
चिट्टड़े फुल्ल 'चों
उड्ड जांदी ख़ुशबोई
धियां तां धन नूं
लेह ने हुन्दियां
स्युंक वे लोका कोई
जिस घर लग्गे
कक्ख ना छड्डे
बूहा ना बार ना डोई

चौधल

धीए नी !
धियां तां धन ने हुन्दियां
धियां दे जेड ना कोई
इह धन वध्या
मान वधेंदै
कुल दी वधे ख़ुशबोई
पर धीए
तेरा बाबला सोचे
कैसी इह होनी होई ?
पुत्त, पती ते
प्यु दे हुन्द्यां
अज्ज ना तेरा कोई
किंज बाबल
तेरी पीड़ वंडाए
किंज करे दिलजोई ?
धरती तां मैनूं
वेहल ना देंदी
अरश ना देंदा ढोई
जे तैनूं
तेरे घर नूं मोड़ां
दिल विच पैंदी खोई
जे दिन
बाबल दे घर कट्टें
मान ना रहन्दा कोई
इहो तां सोचां सोचद्यां
मेरी सोच है ज़ख़मी होई

इच्छरां

सुनी वे मेर्या
धरमिया बाबला
मोड़ीं ना ओस घरे
मोड़ीं ना ओस घरे
मेरे बाबला
दुक्खां दा नाग लड़े
दुक्खां दा नाग लड़े
मेरे बाबला
काली तां ज़हर चड़्हे
काली तां ज़हर चड़्हे
मेरे बाबला
धी परदेस मरे
धी परदेस मरे
मेरे बाबला
कफ़नों बाझ सड़े
रुलन सड़ी दे
फुल्ल वे बाबला
कोई ना मुट्ठ भरे
पा वे बाबला
ख़ैर कफ़न दी
धी पई अरज़ करे
विच परदेसीं
रुलणों चंगा
एथे ही मौत वर्हे

चौधल

धीए ध्याणीएं
बीबीए राणीएं
बोल ना चन्दरे बोल
बोल ना चन्दरे बोल
नी धीए
पैंदी कलेजड़े डोल
पैंदी कलेजड़े डोल
नी धीए
ढिड्ड च उठदे हौल
धीए मैं तैंडड़े
दुक्ख तां समझां
दारू नहीं पर कोल
धियां दे दुक्खां दा
दारू जे लभ्भे
देवां मैं मंगड़े मोल

इच्छरां

धियां दे दुक्खां दा
दारू वे बाबला
कोई ना वैद दवे
धियां दे दुक्ख
तां मुक्कदे बाबला
धियां जे बलन सिवे
धियां दे दुक्ख
तां रोग ने काले
हड्डां च ताप पवे
जनम-घड़ी तों
मरन-घड़ी तक्क
संघ च ख़ून रव्हे

चौधल

धीए नी
धियां तां जून चन्दन दी
आई लुकाई ए कहन्दी
विस्स पीवे
ते महक लुटावे
दुक्खां दे नाग लड़ांदी
धियां नूं ढिड्ड दे
जंमे दी दूरी
ईकना भोर के खांदी
चन्नन नूं चानणी
नाल ज्युं लोका
आखदे अग्ग लग्ग जांदी

इच्छरां

बाबल !
धियां तां महक-विछुन्नियां
धियां 'चों महक ना आउंदी
धियां नूं ऐवें ही
कूड़ लुकाई
चन्दन तां आख बुलाउंदी
धियां, धरेकां
कौड़ियां लक्कड़ां
इह लक्कड़ विक जांदी
इस लक्कड़ नूं
घुन ना लग्गदा
ना इहनूं स्युंक ही खांदी
धियां तां हुन्दियां
कौड़ छतीरां
इसे लई दुनिया चाहुन्दी
धियां दी देह दे
चीर के बाले
हड्डां दे महल छताउंदी
धियां तां सम्यां दे
नकशां दी बाबला
डार कोई उड्डदी जांदी
बीतड़े युग्ग नूं
चुंझां थीं भर के
अगले युग्ग लै जांदी
पिछले युग्ग दे
मोहरे मुहांदरे
कक्खां च सांभ ल्याउंदी
अगले नूं नकशां दी
चोग चुगांदी
ख़ुद भुक्खी मर जांदी
नारी ही बीते दे
लहूआं दी गाथा
हर युग्ग विच दुहरांदी
बीत चुक्के नूं
मुड़ मुड़ जंमदी
कुक्ख दी पीड़ बणांदी
भूत, भविक्खत
वरतमान विच
हर पल ज्यूंदी रहन्दी
त्रै-कालां दी
इह त्रै-वहणी
वरतमान विच वहन्दी
ते त्रै-वहनी दे संगम 'ते
हर धी रोंदी रहन्दी
बाबला किसे नूं
पीड़ ना दस्सदी
बात ना दिले दी पाउंदी
धियां त्रै-काल
दे वेहड़े दा शीशा
होंद जिद्ही लचकांदी
इस शीशे दी
कायआं वे बाबला
नित्त वधदी घट जांदी
इस शीशे 'चों
बीत चुक्के दी
ख़ुशबोई है आउंदी
इस शीशे विच
बीत रहे दी
परछाईं मुसकाउंदी
बीतन वाले
दी इस अन्दर
देही है थरथरांदी
इह शीशे दी
टुकड़ी बाबला
हर युग्ग दी है बांदी
हर युग्ग दे विच
भज्जदी, टुट्टदी
हर युग्ग विच जुड़ जांदी

चौधल

धीए नी
कोई वी धी ना बरदी
धियां दा बरदा जहां
बाल वरेसे
पींघ झुटेंदियां
दाज कतेंदी मां
अगन-वरेसे
बाबला सोचे
कित्थे तां काज रचां ?
ढली-वरेसे
धीए नी मेरीए
धी बण जांदी मां
धियां दी हुन्दी
धीए नी मेरीए
सभ तों मिट्ठड़ी छां
धीए, ध्याणीएं
तैंडड़े दुक्ख दा
किंज करां सम्यां ?
केहा कुचज्जड़ा
मैं वर टोल्या
कीता सू मैं अन्यां
धीए नी तुद्ध तों
मैं शरमिन्दड़ा
कित्थे तां डुब्ब मरां ?
तैंडड़े दुक्खां दा
मार्या धीए
कित्थे तां मैं टुर जां ?

इच्छरां

धरमियां बाबला
धियां दे दुक्ख दी
दुखदी बात ना पा
धियां दे दुक्ख दी
बात ना छेड़ीए
धियां दा दुक्ख बुरा
धियां दे दुक्ख
समुन्दरों डूंघे
शूक रहे दर्या
धियां दे दुक्ख तां
परबतों भारे
धियां दे दुक्ख अथाह
धियां जे लोका
निकलन मैलियां
देंदियां पत्त गवा
धियां जे लोका
होन करूपियां
कौन खड़े परना ?
धियां जे लोका
होन सुनक्खियां
देंदा ई लोक ड्रा
धियां जे लोका
होवन विधवा
लगदी आ तुहमत आ
धियां जे लोका
होवन छुट्टड़ां
रोज़ हड्डां दा खा
धियां तां लोका
जंमदियां मारीए
धियां दा कास विसाह
धियां दा जंमणा
कंधां दा कम्बणा
पग्ग नूं लगदी ढा

( इक गोली प्रवेश करदी है ।)

गोली

महाराज !
महाराज !!
इक उड्डदा घोड़ सवार
हुने तां तिक्खड़ी
पौन दी चाले
आया सी महल-दुआर
बात सुलगदी
कह के मैनूं
मुड़्या पिछले पैर

चौधल

कौन सी उह
ते कीह कहन्दा सी
छेती अरज़ गुज़ार

गोली

महाराज !
उस ने नां नहीं दस्स्या
गई मैं पुच्छ पुच्छ हार
कहन्दा सी
कोट-स्याले इच्छरां
आ जाए इक वार
नहीं तां उस दा
पुत्तर पूरन
देसी राजा मार

इच्छरां

की कहन्दी हैं
पूरन ताईं
देसी राजा मार
किस औगुन लई
प्यु पुत्तर दा
कर देसी संघार ?

गोली

राजवरे
इह मैं कीह जाणां
कीह चन्दरी नूं सार
उह कहन्दा सी
कह इच्छरां नूं
आ जाए इक वार
पूरन दा
जे मूंह तक्कना एं
उस ने अंतम वार

इच्छरां

मैं पूरन दा
मूंह ना तक्क्या
अजे तां
पहली वार
इह गल्ल
कह के गोलड़ीए
ना छुरी कलेजे मार

गोली

राजश्री जी
उह कहन्दा सी
पूरन राजकुमार
आपनी लूणा
मां तों चाहुन्दै
महबूबा दा प्यार
ते जबरन विभ्भचार
मां दी
देह 'ते
करना चाहआ
पूरन ने अधिकार
इह कैसा अंधकार ?
कहन्दे
पूरन
जंगल धायआ
छड्ड के राज-दुआर
पर फ़ौजां ने
बन्दी कीता
लंमे हत्थ पसार
हत्थ, पैर
वढ्ढन दा राजे
दित्ता हुकम गुज़ार

( इच्छरां ग़श खा के डिग्ग पैंदी है,
राजा चौधल ते गोली उस वल्ल नस्सदे हन ।)

अट्ठवां अंक


गुरशरन, बलविन्दर ते सुरजीत दे नां

(इक बहुत खुल्ल्हे मैदान विच भीड़ जुड़ी होई है,
सारा शहर हुंम-हुंमा के ढुक्क्या है । इक पासे
राजा सलवान, लूणा ते उहदे दरबारी बैठे हन ।
पूरन उस भीड़ दे विचकार खड़्हा है । जल्लाद उस
दे पिच्छे नंगियां तलवारां फड़ी खड़्हे हन । पूरन दे
पैरां च बेड़ियां पईआं हन । इक अजीब किसम
दा शोर मच्या होया है । इक पास्युं इच्छरां
भीड़ नूं चीरदी पूरन वल्ल वधदी है )

इच्छरां

पूरन !
कीह मेरा पूरन
ठीक अपूरन है ?

पूरन

हां मां, तेरा पूरन
ठीक अपूरन है
एथे जो अपूरन
सो ही पूरन है
एथे जो वी पूरा
सदा अधूरा है
एथे कोई वी सच्च नहीं
सभ कूड़ा है
एथे जो परतक्ख है
उस विच उहला है
एथे जिसदी होंद है
उस दी होंद नहीं
एथे जिस दा रंग है
उस दा रंग नहीं
एथे जिस दे अंग ने
सो निर-अंगा है
एथे जो ज्यूंदा है
सो ही मर्या
एथे जो चलदा है
सो ही खड़्या है

इच्छरां

की मेरा पूरन
सच्च-मुच्च ही तां दोशी है ?
की मेरे दुद्ध दी
ज़ात वी निकली होछी है

पूरन

माए !
तेरे दुद्ध दा कोई दोश नहीं
कोई वी जणनी दे थण अन्दर
खोट नहीं
पर हर जणनी माए
ऐसा मन्दर है
जिद्हे मुहाठीं बलदी
कोई जोत नहीं
इस मन्दर दी
परकरमा विच न्हेरा है
चाम चड़िक्कां कीता
जिस विच डेरा है
इस दुनिया विच
ग़रज़-वन्द कुझ पंछी रहन्दे
दिन होवे तां
चोग चुगन खेतीं उड्ड जांदे
शाम ढले तां मुड़ के आउंदे
आपस दे विच लड़दे, भिड़दे
शोर मचांदे
विट्ठां विट्ठदे कक्ख उडांदे
आपने आपने घुरने मल्ल के
रात लंघांदे
ते इन्हां दे बोट अलूंएं
इन्हां दी ना-समझी कारन
आल्हण्यां 'चों डिग्ग मर जांदे
ते उन्हां नूं कीड़े खांदे
मैं वी ओस तर्हां दा कोई
बोट हां माए
जेहड़ा नीड़ों, जून नखंभी
विच डिग्ग जाए
ते जो ज्यूंदा ही मर जाए
भौन कीड़्यां दा रल जिस नूं
आपणियां रुड्डां तक लै जाए
रुड्डां उते प्या प्या जो
बो छड्डे ते गल त्रक जाए

इच्छरां

पूरन !
तेरी बात सुलगदी
तेरी मां तों सुनी ना जाए
पुत्तरा मेरे दुद्ध दी ममता
अज्ज मेरे तों पई शरमाए
ममता दी थां अज्ज थणां 'चों
लज्ज्या दी वेहु
किर किर जाए
तेरी मां ही तेरी मां दी
कुक्ख नूं पई फिटकारां पाए
पुत्तरा आपनी मां संग अड़्या
तूं किस जनम दे पाप कमाए
आपनी मां दे दुद्ध नूं ता के
कदे किसे ना सुक्ख हंढाए
चिट्टी डूम चमारी ख़ातिर
किस लई एडे पाप कमाए
लूणा तों वद्ध लक्खां फिरदे
हुसन चन्दर्या दून सवाए
इक वारी तूं हामी भरदा
दिन्दी तैनूं मैं परनाए
मैनूं कुझ वी समझ ना आए
मां पुत्तरां कद नेहुं ने लाए ?
निज्ज जंमें संतान अवल्ली
जेहड़ी कुल नूं दाग़ लगाए

पूरन

माए नी
सुन मेरीए माए
जो जननी दी जून हंढाए
सो इउं लज्जित हो मर जाए
हर मां दे दुद्ध दा परछावां
मां दे दुद्ध नूं भंडन आए
एथे हर कोई पाप कमाए
वाकफ़, ना वाकफ़, हर चेहरा
इक दूजे दा पिंडा खाए
इक दूजे दे नकश हंढाए
हर पिंडे दे रूप दी मधरा
हर कोई एथे पीना चाहे
हर पिंडे दा रंग सुलगदा
हर पिंडे 'ते ही चड़्ह जाए
एथे इक नर
नार-समूह दा जोबन माणे
ते इक नारी
हर इक नर दी महक हंढाए
हर पिंडा
अवचेतन-काम थीं भोग रचाए
मत्थे दी रंडी नूं
कदे वी चैन ना आए
देह-वेहूनी देह दी
सेजा मानन जाए
सुपन-दोश रातां लई
हर कोई सेज विछाए
एथे सभ्भे
काम देव दी जूने आए
आपने आपने चिल्ले उपर
मद्ध-मक्खियां दे तन्द चड़्हाए
अक्खां उप्पर पट्टी बन्न्ह के
फुल्ल-पत्तियां दे तीर सजाए
सभ 'शद्धा' दी कुक्खों जाए

इच्छरां

पूरन !
इस तों पहलां कि इह
बात सुलगदी सुलग ही जाए
तेरी दया नूं फूक जलाए
तैनूं अंग-हीना कर जाए
मैं चाहुन्दी हां मेरा पूरन
एस पाप तों मुक्कर जाए
मेरे दुद्ध दी पत्त बचाए
मेरी कुक्ख नूं लाज ना लाए

पूरन

माए !
इस धरती दे जाए
सभ लज्ज्या दी जूने आए
इथे हर कोई
आपनी नज़र 'चों इउं डिग्ग जाए
कि सानूं आपना आप
ना आपने कोल बिठाए
साथों साडा आपना आप
नज़र बचाए
साथों साडे भेत छुपाए
आपा आपने कोलों ड्रदा
किधरे सानूं भंड ना आए
सानूं साथों ही बो आए
इथे सभ कुझ जंमणों पहलां
ही मर जाए
मर के ही हर कोई
इस धरती 'ते आए
आपनी आपे लाश नूं
आपने मोढीं चा के
हर कोई आपनी आपणी
एथे अउध हंढाए
मिट्टी नूं बस्स मिट्टी खाए
मिट्टी नूं मिट्टी परनाए
मिट्टी गरभवती हो जाए
मिट्टी जंमे ते मर जाए
चौरासी दा चक्कर लाए
मिट्टी मनुक्ख नाम धराए
मिट्टी सारे पाप कमाए
मिट्टी दी कुझ समझ ना आए
किस मंतव लई जंमे जाए
इस दी विथ्या कही ना जाए
चंगा है जे मेरी मिट्टी
एस जनम तों मुकती पाए
ते निर-लज्जित ही मर जाए
मैथों मैनूं लाज ना आए
'पूरन' हर जीवन दा
इक प्रतीक है माए
पिता जिद्हा सलवान
सदा वारिस सदवाए
पर जीवन नूं समझ ना पाए
ते इच्छरां हर जीवन दी
जननी कहलाए
जननी जो जीवन नूं
आपनी रत्त चुंघाए
पीड़ दी उमरा भोगन आए
ते लूणा, जीवन दे राह दी
ऐसी भटकण
ऐसी अड़चन
जेहड़ी जीवन नूं खा जाए
धुर तों आवे लिखी लिखाए
ऐसा रोड़ा
ऐसा पत्थर
चाहआं, अण-चाहआं वी जिस संग
हर कोई ऐसा ठेडा खाए
जीवन अंग-हीन कर जाए
जीवन 'चों जीवन मर जाए
फिर जीवन नूं कुझ ना सुझ्झे
सूरज गिन गिन उमर वंञाए
आपे तों नफ़रत हो जाए
लोकां दा उहनूं साथ ना भाए
कंडे तों कंडा ना लग्गे
फुल्लां 'चों ख़ुशबो ना आए
मुड़ जीवन 'चों जिया ना जाए
उस नूं आपना आपा खाए
माए !
अग्ग दी बात सुलगदी
मैं चाहुन्दा हां सुलग ही जाए
मैनूं अंग-हीन कर जाए
तां जो कोई सलवान मुड़
ना धी परनाए
कोई बाबल ना
आपनी धी दा पिंडा खाए
तां जो हर कोई
आपना आपना हान हंढाए
धी परनाई बाबल वेहड़े
ना मुड़ जाए
तां जो मुड़ कोई इच्छरां ना
ज्यूंदी मर जाए
कोई धी मुड़ बाबल दी
पग्ग नूं मैल ना लाए
मुड़ ना कोई लूणा
मंगे अंग पराए
किसे वी लूणा दा मुड़
जोबन ना रुल जाए
धन दे के, मुड़्ह एथे ना
कोई तन नूं खाए
मुड़ ना कोई पूरन
अंग-हीन हो जाए
कोई पिता ना,
मुड़ पुत्तर दे अंग कटाए
कोई पूरन मुड़ प्यार-विछुन्ना
ना मर जाए
कोई पूरन मुड़ जीवन ज्यूणों
मूंह ना चाए
फिर कोई पूरन
पूरन तों ना नफ़रत खाए
फिर कोई पूरन
पूरन कोलों डर ना जाए
फिर पूरन नूं
पूरन कोलों बो ना आए
इस धरती दा हर बन्दा
इक बन्दा होवे
इस धरती दी हर नारी
नारी कहलाए
मैं चाहुन्दां पूरन मर जाए
मर के ऐसा चिन्न्ह बण जाए
जिस नूं पड़्ह सुन के हर कोई
आपने राह तों भटक ना जाए

( सलवान ते लूणां, पूरन ते इच्छरां वल्ल वधदे हन ।)

सलवान

इच्छरां !
इह की पाप कमायआ ?
निज्ज जंमेंदीउं ऐसा जायआ
जिस तेरी कुक्ख दी
पीड़ नूं भंड्या
ते मैनूं छज्जीं चाड़्ह छटायआ
ख़ौरे केहड़े पाप दे कारन
इह मैनूं लेखा देना आया ?
ढिड्ड दा जंम्या, जण्या, जायआ
आपने हत्थीं किस मरवायआ ?
अज्ज दे दिन दा
सूरज खौरे
किस मेरी लेखीं सी लिखवायआ ?
अज्ज दे सूरज पिच्छों मेरा
हर सूरज होसी कलख़ायआ
मेरी बच गई लज्जित उमरा
तों हर दिन होसी शरमायआ
मेरे बच गए साहवां कोलों
हुन ना जांदा सिर नूं चायआ
अज्ज तों नीवीं पा के लंघू
मैथों मेरा आपना सायआ
हे मेरे दाता !
कैसा सूरज ?
अज्ज तूं मेरी झोळी पायआ
अज्ज दी धुप्प विच रंग-वेहूणा
इह केहड़ा अठवां रंग रलायआ ?
जेहड़ा रंग नमोशी बण के
अज्ज मेरी प्रतिभा 'ते छायआ
जेहड़ा रंग उदासी बण के
अज्ज इस धरती दे घर जायआ
जेहड़ा रंग ख़ामोशी बण के
चौंह कूटां नूं रंगन आया
हे दाता ! इह कैसा रंग है
मैनूं कुझ वी समझ ना आया ?
प्रभ जी, अज्ज मैं
आपे तों शरमिन्दा हां
प्रभ जी, अज्ज मैं
इच्छरां तों शरमिन्दा हां
प्रभ जी, अज्ज मैं
लूणा तों शरमिन्दा हां
प्रभ जी, अज्ज मैं
लोकां तों शरमिन्दा हां
प्रभ जी, मैं मर चुक्क्या हां
पर ज़िन्दा हां
दाता जी !
मैं एडा वी कीह पाप कमायआ ?
अज्ज दा बलदा काला सूरज
अउध मेरी दे वेहड़े आया
इस सूरज तों पहला सूरज
क्युं मेरा काल ना बण के
धायआ ?
( पूरन वल्ल संकेत कर के )
हे मेरी नीली नाड़ दे
गन्दे रकत दी किर्या
हे इच्छरां दे
दुरगंधित जहे सुआस दे साए
कही कुलच्छनी घड़ी एं तूं
कलजुग बण जायआ ?
मैनूं जग्ग विच नीवां पायआ
मेरी कुल नूं दाग़ लगायआ
हे मेरी कूड़, कलंकित
दूशित-छिन दी रचना
की तूं मेरा ख़ून हैं
जां हैं ख़ून परायआ ?
तेरे 'चों मैनूं मेरा सूरज
नज़र ना आया
तेरे 'चों इस युग्ग दी
संसक्रिती ना बोले
तेरे 'चों इस युग्ग दा
धरम ना नज़रीं आया
की तूं अज्ज वी
पत्थर दे युग्ग विच वस्सदा हैं
कि तैनूं मां दी देह 'चों
पाप है नज़रीं आया
मां नूं मैला हत्थ है लायआ
दुद्ध दा तूं रिशता ठुकरायआ

पूरन

एथे हर युग्ग
पत्थर दे युग्ग विच रहन्दा है
एथे हर युग्ग
पत्थर-युग्ग दे विच रहेगा
हर युग्ग आपनी संसक्रिती नूं
आपनी दासी सदा कहेगा
मानव सदा असभ्भिय रेहा है
मानव सदा असभ्भिय रहेगा
देह दे मन्दर नूं हर युग्ग ही
आपना आपना धरम कहेगा
मोह मायआ दी
पंच-वटी विच
सभ नूं सवरना मिरग छलेगा
रोज़ किसे ना किसे नख़ा दा
हर युग्ग दे विच नक्क कटेगा
इक युग्ग विच सी रावन मर्या
इक युग्ग दे विच राम मरेगा
इक युग्ग विच है पूरन दोशी
इक युग्ग विच सलवान बणेगा
एथे इको पाप है बच्या
एथे इको पाप बचेगा
मानव दे एथे दिल दा न्हेरा
सदा रेहा है सदा रहेगा
काला सूरज रोज़ चड़्हेगा

सलवान

कीह तूं इह कहना हैं चाहुन्दा
कि तूं बिलकुल्ल निरदोशा हैं ?

पूरन

एथे कोई निरदोश नहीं है
ना एथे कोई दोशवान है
चौगिरदे दी मजबूरी है
मजबूरी दा 'दोश' नाम है

सलवान

ऐ कुलटा दी
कुक्ख दे जाए
एडी केहड़ी मजबूरी सी
कि तैनूं आपनी मां दे दुद्ध 'चों
कोझ दे कीड़े नज़रीं आए
क्युं तेरे हत्थ
ना कोहड़े हो गए
जेहड़े उस दी देह नूं लाए ?

पूरन

एस प्रशन दा उत्तर शायद
कोई वी पुत्तर ना दे पाए
एसे दा नां मजबूरी है
जे गल्ल निर-शबदी रह जाए
निर-शबदा सच्च, दोश कहाए

सलवान

तां फिर इह निर-शबदा सच्च है
कि तूं मां संग कूड़ कमाए ?

पूरन

हां ! इह इक निर-शबदा
सच्च है
मां नूं मैले हत्थ मैं लाए
मां दे दुद्ध संग पाप कमाए

( सलवान पूरन दे मूंह 'ते इक ज़ोर दी
चपेड़ मारदा है ते ग़ुस्से च कड़कदा है ।)

सलवान

लै जाउ… !
निर शबद सच्च नूं लै जाउ
काले सच्च नूं लहू च लिब्बड़े
शबदां दी पोशाक पुआउ
इहनूं मैथों दूर हटाउ
इसदा बन्द-बन्द कटवाउ
गिरझां नूं इहदा मास खुआउ
कुत्त्यां अग्गे हड्डियां पाउ
अंग-हीना अज्ज कर के इहनूं
अन्न्हे खूह विच सुट्ट के आउ

लूणा

महाराज !
कुझ रहम कमाउ
इह बच्चा है बुद्ध-हीन है
इस 'ते एडा ज़ुलम ना ढाउ

सलवान

हट जाउ !
मैनूं हत्थ ना लाउ

जनता

रहम कमाउ !
रहम कमाउ ! !

इच्छरां

मेरा पुत्तर निरदोशा है
इस 'ते ऐवें दोश ना लाउ

सलवान

मैं कहन्दा हां
चुप्प हो जाउ
एस कलंकित पुत्त दी मां नूं
मेरी नज़रों दूर हटाउ
कुझ इहदे सिर घट्टा सुट्टो
ते कुझ्झ मेरे सिर खेह पाउ

हर मां इच्छरां वाकन बकदी
हर मां पुत्त दे
ऐब है ढक्कदी
भावें मां संग भोग वी कर लए
फिर वी, चरित्रवान है दस्सदी

आउ जल्लादो, नेड़े आउ
तलवार नूं
साने लाउ
अन्न्हे काम दे इस कीड़े दे
हत्थां 'ते तलवार चलाउ
पैरां नूं निर-ज़िन्द बणाउ

पैर जेहनां विच दुरगंधी है
पैर जो मां दी सेजे चड़्ह गए
पैर जो मां दे प्यार दा रिशता
दुनिया विच कलंकित कर गए
पैर कि जेहड़े मेरी पत्त नूं
काले बिशियर बण के लड़ गए

हत्थ जेहनां विच नफ़रत बलदी
हथ जो मैनूं फ़नियर लग्गदे
पंज-जीभे फुंकारे छड्डदे
हत्थ जो मेरी कुल नूं डस्स गए
किसमत नूं कर नीला रक्ख गए
इह फ़नियर अज्ज मार मुकाउ
चीना चीना कर कटवाउ
चहुं सप्पां दियां सिरियां विचों
जग्ग नूं कढ्ढ के ज़हर विखाउ

इच्छरां

रहम कमाउ !
रहम कमाउ !
बे-जीभे नूं ना मरवाउ !
पूरन दी थां मैं हाज़िर हां
इहदी थां मैनूं मरवाउ
इह पापी नहीं
मैं पापन हां
पाप दी मां नूं जड़्हों कटाउ
मैं जननी जिस पाप जनम्या
मैनूं पाप दी
सज़ा सुणाउ ।

लूणा

हां, राजन कुझ्झ रहम कमाउ

सलवान

मैनूं कुझ वी समझ ना लग्गदी
मैनूं कुझ वी ना समझाउ
मैं कहन्दा, मेरे कोल ना आउ
बदली जांदी अगन-कथा विच
बलदे जांदे शबद ना पाउ
बलदी जांदी एस कथा दा
जलदी मैनूं अंत सुणाउ
हुन ना मैनूं होर जलाउ
जल्लादो ! तलवार उठाउ
पाप मार के पुन्न कमाउ

( जल्लाद पूरन दे हत्थ पैर वढ्ढ दिन्दे हन ।
इच्छरां बेहोश हो के डिग्ग पैंदी है । पूरन दी
तड़पदी लोथ वल्ल सलवान पिट्ठ करके खलोता है ।
सारे पंडाल च इक कुरलाहट मच्ची होई है। इक
तेज़ अन्हेरी सारे पंडाल नूं चीरदी लंघ जांदी है। लूणा,
पूरन दी तड़पदी लोथ दे सिरहाने बैठी मूंह ते हत्थ रक्खी
रोई जांदी है ।)

अंतिका
पहला अंक

नटी : इन्दर दे अखाड़े दी इक गंधरव-नायका
जेहड़ी सूतरधार दी प्रेमिका समझी जांदी है । कई
इहनूं सूतरधार दी पतनी वी कहन्दे हन, पर एस
गल्ल विच मतभेद है ।

सूतरधार : इन्दर दे अखाड़े दा इक गंधरव-नायक
है जेहड़ा हर नाटक शुरू होन तों पहलां आपनी प्रेमिका
नटी संग मंच 'ते प्रवेश करदा है ते नाटक दा आरंभ करदा है ।

ऐरावती : रावी दा पुरातन नां ।

पांगी : इक रिशी दा नां, जेहदे मुक्ख 'चों रावी दर्या निकल्या
दस्स्या ग्या है, इहदे नां 'ते पांगी-घाटी वी है, जो चम्बे शहर
दी ऐन पिट्ठ 'ते खड़्ही है ।

चन्दरभाग : झनां दा इक पुरातन नां ।

चम्ब्याली : चम्बे दी इक राणी, जिन्हे आपनी बली दे के रावी नूं
चम्बे देश च ल्यांदा, चम्ब्याली तों पहलां कहन्दे ने चम्बे देश विच
पानी नहीं सी मिलदा ।

कुलिक : सप्पां दे अट्ठां राज्यां विचों इक दा नां, इस दा रंग भूरा
अते सिरी उत्ते अद्धे चन्न दा चिन्न्ह लग्गा हुन्दा है ।

सूरसा : सूरसा जां सुरसा, राख़शी नागां दी मां सी जदों हनूंमान समुन्दर
उलंघ के रावन दे मुकाबले 'ते ग्या तां इस ने उहनूं निगल जाणा
चाहआ सी ।

अरनैनी : रिगवेद अनुसार इह वणां ते जंगलां दी देवी है ।

सुरभी : सागर मंथन समें निकली इक गऊ दा नां, पर इहनूं कई
वारी, सूरज दा रथवान वी केहा जांदा है सूरज दे रथवान नूं अरुण
जां विवसवत वी कहन्दे हन ।

सरसवती : हुनर दी देवी दा नां ।

सवर-मंडल : इक साज़ दा नां ।

बिछूआ : पैर दियां उंगलियां दा गहना ।

पारवती : शिवजी दी पतनी ।

वैतरनी : नरक विच लहू-पाक दी वगदी इक नदी ।

वरमन : चम्बे दा राजा ।

कुंत : वरमन दी पतनी ।

सलवान : पूरन दा बाप ते स्यालकोट दा राजा ।

दूजा अंक

चौधल : सलवान दा सौहरा, इच्छरां दे बाप दा नां, इह उधेनगर
दा राजा सी ।

पूरन : राजे सलवान दा पुत्तर ।

लूणा : राजे सलवान दी दूजी वहुटी, जो ज़ात दी चम्यार सी ।

बारू : लूणा दे प्यु दा नां ।

वरमन : चम्बे दा राजा ।

कुंत : वरमन दी पतनी ।

सलवान : पूरन दा बाप ते स्यालकोट दा राजा ।

रत्ती : हुसन दी देवी दा नां ।

तीजा अंक

ईरा : लूणा दी सहेली दा नां ।

मथरी : लूणा दी इक होर सहेली ।

ऐ-रावन : पाताल दा राजा ।

भिट्ट-अंगी : शूदर तों मुराद है ।

नारायन : ब्रहमा दा नां है, जिस ने दुनिया सिरजी है ।

बारू : लूणा दे प्यु दा नां ।

नर-सिंघा अवतार : प्रहलाद दे प्यु दा संघार करन वाला
अवतार । अद्धी शेर दी 'ते अद्धी आदमी दी शकल दा ।

चौथा अंक

इच्छरां : पूरन दी मां, सलवान दी पहली पतनी ।

सरमा : रिगवेद विच इस नूं इन्दर दी कुत्ती लिख्या है ।
इस दे दो कतूरे सन, जिन्हां नूं मां दे नां 'ते सरमाये कहन्दे
हन । यमराज दे रखवाले सन ।

इन्दर : आकाश दा देवता ते वायूमंडल दा मानवीकरन । इस
नूं रुत्तां दा देवता वी केहा जांदा है । इह बड़ा अय्याश देवता है ।

उधेनगर : इच्छरां दे प्यु चौधल दी राजधानी दा नां ।

दमूंहीं : दो मूंहां वाली सप्पणी, जेहड़ी किसे नूं लड़ जावे तां हर छे
महीने बाअद लड़दी रहन्दी है ।

पूरन : राजे सलवान दा पुत्तर ।

लूणा : राजे सलवान दी दूजी वहुटी, जो ज़ात दी चम्यार सी ।

दिगध : शासतरां मुताबक अट्ठां कूटां च अट्ठ हाथी हन, जिन्हां
नूं दिगध कहन्दे हन । इन्हां सदका धरती थंमी होई है ।

पंजवां अंक

लूणा : राजे सलवान दी दूजी वहुटी ।

ईरा : लूणा दी सहेली दा नां ।

पूरन : इच्छरां दा पुत्तर ।

सलवान : पूरन दा बाप ते स्यालकोट दा राजा ।
इन्दर : रुत्तां दा देवता ।

ऐंदर : ऐंदरी जां एंदरी, इन्दर दी पतनी दा नां है ।
पहलां इस दा व्याह इन्दर दी बजाए किसे होर नाल हो
ग्या सी ।

छेवां अंक

सलवान : पूरन दा बाप ते स्यालकोट दा राजा ।
लूणा : राजे सलवान दी दूजी वहुटी ।

पूरन : सलवान ते इच्छरां दा पुत्तर ।

सत्तवां अंक

चौधल : सलवान दा सौहरा, इच्छरां दे बाप दा नां ।

इच्छरां : चौधल दी धी, पूरन दी मां, सलवान दी पहली पतनी ।

अट्ठवां अंक

पूरन : सलवान ते इच्छरां दा पुत्तर ।

लूणा : राजे सलवान दी दूजी वहुटी ।

इच्छरां : चौधल दी धी, पूरन दी मां ।

सलवान : पूरन दा बाप ।

कामदेव : काम दा देवता ।

श्रद्धा : काम देव दी मां ।

 
 
 Hindi Kavita