Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Lajwanti Shiv Kumar Batalvi in Hindi

लाजवंती शिव कुमार बटालवी

वासता ई मेरा

वासता ई मेरा
मेरे दिल द्या महरमा वे
फुल्लियां कनेरां घर आ
लग्गी तेरी दीद दी
वे तेह साडे दीद्यां नूं
इक घुट्ट चाननी प्या ।

काले काले बाग़ां विचों
चन्नन मंगानी आं वे
देनी आं मैं चौकियां घड़ा
सोने दा मैं गड़वा
ते गंगा जल देनी आं वे
मल मल वटना नहा ।

सूहा रंग आथणा
ललारनां तों मंग के वे
देनी आं मैं चीरा वी रंगा
शीशा बण बहनी आं
मैं तेरे साहवें ढोलना वे
इक तन्द सुरमे दी पा ।

नित्त तेरे बिरहे नूं
छिछड़े वे आदरां दे
हुन्दे नहीयों साडे तों खुआ
टुक्क चल्ले बेरियां वे
रा-तोते रूप दियां
मालिया वे आण के उडा ।

रुक्खां संग रुस्स के
है टुर गई पेकड़े वे
सावी सावी पत्त्यां दी भा
रुत्तां दा सपेरा अज्ज
भौर्या दी जीभ उत्ते
ग्या ई सपोलिया लड़ा ।

थक्की थक्की याद तेरी
आई साडे वेहड़े वे
दित्ते असां पलंघ विछा
मिट्ठी मिट्ठी महक
चम्बेलियां दी पहरा देंदी
अद्धी रातीं गई ऊ जगा ।

माड़ी माड़ी होवे वे
कलेजड़े च पीड़ जेही
ठंडी ठंडी वगदी ऊ वा
पैन पईआं दन्दलां वे
नदी द्यां पाणियां नूं
न्हाउंदी कोयी वेख के शुआ ।

पिंड दियां ढक्कियां 'ते
लक्क लक्क उग्ग्या वे
पीला पीला किरनां दा घाह
रुक रुक होईआं
तरकालां सानूं चन्नना वे
होर साथों रुक्या ना जा ।

खेडे तेरा दुखड़ा
अंञाना साडे आंङने जे
देनी आं तड़ागियां बणा
मार-मार अड्डियां
जे नच्चे तेरी वेदना वे
देनी आं मैं झांजरां घड़ा ।

उड्डी उड्डी रोहियां वल्लों
आई डार लालियां दी
दिल दा गई बूटड़ा हिला
थक्क गई चुबार्यां 'ते
कंङनी खिलारदी मैं
बैठ गई ऊ झंगियां च जा ।

सोहण्यां दुमेलां दी
बलौरी जेही अक्ख उत्ते
बद्दलां दा महल पुआ
सूरजे ते चन्न दियां
बारियां रखा दे विच
तार्यां दा मोतिया लुआ ।

वासता ई मेरा
मेरे दिल द्या महरमा वे
फुल्लियां कनेरां घर आ
लग्गी तेरी दीद दी
वे तेह साडे दीद्यां नूं
इक घुट्ट चाननी प्या ।

याद

इह किस दी अज्ज याद है आई
चन्न दा लौंग बुरजियां वाला
पा के नक्क विच रात है आई
पुत्तर पलेठी दा मेरा बिरहा
फिरे चाननी कुच्छड़ चाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

उड्डदे बद्दलां दा इक खंडर
विच चन्ने दी मक्कड़ी बैठी
बिट्ट-बिट्ट देखे भुक्खी-भाणी
तार्यां वल्ले नीझ लगाई
रिशमां दा इक जाल विछाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

उफ़क जिवें सोने दी मुन्दरी
चन्न जिवें विच सुच्चा थेवा
धरती नूं अज्ज गगनां भेजी
पर धरती दे मेच ना आई
विरथा सारी गई घड़ाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

रात जिवें कोयी कुड़ी झ्यूरी
पा बद्दलां दा पाटा झग्गा
चुक्की चन्न दी चिब्बी गागर
धरती दे खूहे 'ते आई
टुरे विचारी ऊंधी पाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

अम्बर दे अज्ज कल्लरी थेह 'ते
तारे जीकन रुलदे ठीकर
चन्न किसे फक्कर दी देहरी
विच रिशमां दा मेला लग्गा
पीड़ मेरी अज्ज वेखन आई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

इह किस दी अज्ज याद है आई
चन्न दा लौंग बुरजियां वाला
पा के नक्क विच रात है आई
पुत्तर पलेठी दा मेरा बिरहा
फिरे चाननी कुच्छड़ चाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

माए नी माए

माए नी माए
मेरे गीतां दे नैणां विच
बिरहों दी रड़क पवे
अद्धी अद्धी रातीं
उट्ठ रोन मोए मित्तरां नूं
माए सानूं नींद ना पवे ।

भें भें सुगंधियां 'च
बन्न्हां फेहे चाननी दे
तां वी साडी पीड़ ना सवे
कोसे कोसे साहां दी
मैं करां जे टकोर माए
सगों सानूं खान नूं पवे ।

आपे नी मैं बालड़ी
मैं हाले आप मत्तां जोगी
मत्त केहड़ा एस नूं दवे
आख सू नी माए इहनूं
रोवे बुल्ल्ह चित्थ के नी,
जग्ग किते सुन ना लवे ।

आख सू नी खा लए टुक्क
हजरां दा पक्क्या
लेखां दे नी पुट्ठड़े तवे
चट्ट लए त्रेल लूणी
ग़मां दे गुलाब तों नी
कालजे नूं हौसला रव्हे ।

केहड़्यां सपेर्यां तों
मंगां कुंज मेल दी मैं
मेल दी कोयी कुंज दवे
केहड़ा इहनां दम्मां द्यां
लोभियां दे दरां उत्ते
वांग खड़्हा जोगियां रव्हे ।

पीड़े नी पीड़े
इह प्यार ऐसी तितली है
जेहड़ी सदा सूल ते बव्हे
प्यार ऐसा भौरा है नी
जिद्हे कोलों वाशना वी
लक्ख कोहां दूर ही रव्हे ।

प्यार उह महल्ल है नी
जिद्हे च पंखेरूआं दे
बाझ कोयी होर ना रव्हे
प्यार ऐसा आंङना है
जिद्हे च नी वसलां दा
रत्तड़ा ना पलंघ डव्हे ।

आख माए अद्धी अद्धी रातीं
मोए मित्तरां दे
उच्ची-उच्ची नां ना लवे
मते साडे मोयां पिच्छों
जग्ग इह शरीकड़ा नी
गीतां नूं वी चन्दरा कव्हे ।

माए नी माए
मेरे गीतां दे नैणां विच
बिरहों दी रड़क पवे
अद्धी अद्धी रातीं
उट्ठ रोन मोए मित्तरां नूं
माए सानूं नींद ना पवे ।

लाजवंती

मेरे गीतां दी लाजवंती नूं,
तेरे बिरहे ने हत्थ लायऐ ।
मेरे बोलां दे ज़रद पत्त्यां ने,
तेरी सरदल 'ते सिर निवायऐ ।

इह कौन माली है दिल मेरे दा
चमन जो फग्गन च वेच चल्लिऐ,
इह कौन भौरा है जिस निखत्ते ने
मेरे ग़म दी कली नूं तायऐ ।

उह केहड़ी कंजक सी पीड़ मेरी दी
जिस ने दुनियां दे पैर धोते,
इह केहड़ी हसरत है जिस ने दिल दे
वीरान वेहड़े च चौक वाहऐ ?

मेरे साहां दी पौन तत्ती दा
केहड़ा बुल्ला खला च घुलिऐ,
इह केहड़ा हंझू है मेरे नैणां दा
शहर छड्ड के जो मुसकरायऐ ?

मेरी उमरा दी लाजवंती नूं,
तेरे बिरहे ने हत्थ लायऐ ।
मेरे साहां दे ज़रद पत्त्यां ने
तेरी सरदल 'ते सिर निवायऐ ।

मेल तेरे दे मुक्ख संधूरी 'ते
पै गईआं ने वे होर छाहियां,
होर ग़म दे हुसीन मुक्ख 'ते
वे किल्ल फुरकत दा निकल आइऐ ।

टुर चल्ली है बाहर जोगण
वे करन पत्तझड़ दा पाक तीरथ,
तितलियां ने मलूक मंजरी दा
पीठ मत्थे 'ते तिलक लायऐ ।

नंगे पौणां दे सुहल पैरां 'च
किरन चानन दी चुभ गई है,
बीमार बद्दलां दे गल च रातां
करा के चन्न दा तवीत पायऐ ।

याद मेरी दी लाजवंती नूं
तेरे बिरहे ने हत्थ लायऐ ।
पीड़ मेरी दे ज़रद पत्त्यां ने
तेरी सरदल 'ते सिर निवायऐ ।

बीते वर्हआं दे गहरे सागर 'च
फेर आइऐ जवार-भाटा,
सिदक मेरे दे संख, घोगे
मलाह सम्यां दा चुग ल्याइऐ ।

रातड़ी दे स्याह मेरे 'च
खूह चानन दा गिड़ रेहा है,
चुप्प दी मैं मुलैम गाधी 'ते
हजर तेरे दा ग़म बिठायऐ ।

हंझूआं दी झलार नित्तरी 'च
दीद तेरी दा सोहल सुपना
वे शौक मेरे ने मुड़ नुहायऐ ।

आस मेरी दी लाजवंती नूं
तेरे बिरहे ने हत्थ लायऐ ।
सबर मेरे दे ज़रद पत्त्यां ने
तेरी सरदल 'ते सिर निवायऐ ।

अज्ज उमीदां ने अम्बरां थीं
है सोन-रिशमां दी लाब लाई,
अज्ज हयाती दे काले खेतां 'च
तार्यां दा मैं कण बिजायऐ ।

आपनी उमरा ते तेरे साहां दी
महक नूं है मैं ज़रब दित्ती,
याद तेरी दा इक हासिल…
ते सिफ़र बाकी जवाब आइऐ ।

मेरे गीतां ने दरद तेरे दी
ख़ानगाह 'ते वे पड़्ह के कलमा,
शुहरतां दा वे मुरग़ काला
हलाल कर के नज़र चड़्हायऐ ।

उच्चियां पहाड़ियां दे

उच्चियां पहाड़ियां दे
उहले उहले सूरजा
रिशमां दी लाब प्या लाए ।
पीली पीली धुप्पड़ी नूं
भन्न भन्न पोट्यां थीं
टीसियां नूं बांकड़ी लुआए ।

गिट्टे गिट्टे पौणां विच
वगन सुगंधियां नी
नींद पई पंखेरूआं नूं आए ।
सावे सावे रुक्खां दियां
झंगियां च कूल कोई
बैठी अलगोजड़े वजाए ।

पाणियां दे शीशे विच
मुक्ख वेख कंमियां दे
रोन पए नी पत्त कुमलाए ।
निक्के निक्के घुंगरू नी
पौन बन्न्ह पैरां विच
अड्डियां मरींदी टुरी जाए ।

कूलियां करूम्बलां 'ते
सुत्ते जल-बिन्दूआं 'च
किरनां दे दीवड़े जगाए ।
आउंदे जांदे राहियां नूं
पटोला जेही सोन-चिड़ी
मार मार सीटियां बुलाए ।

नीले नीले अम्बरां 'च
उड्डे अबाबील कोई
किरनां दी कंङनी पई खाए ।
मिट्ठड़ी तरेल दी
छबील ला के फुल्ल कोई
छिट्ट-छिट्ट भौरां नूं प्याए ।

बूहे खली तितली
फ़कीरनी नूं मौलसरी
ख़ैर पई सुगंधियां दी पाए ।
एस रुत्ते पीड़ नूं
प्युंद ला के हौक्यां दी
वासता ई धियां दा नी माए ।

थक्की थक्की पीड़ कोई
नीझां दियां डंडियां 'ते
पोले पोले औंसियां पई पाए ।
टुट्ट पैना मिट्ठा-मिट्ठा
बिरहा नी अत्थरा
विचे विच हड्डियां नूं खाए ।

सज्जणां दे मेल दा
कढा दे छेती साहआ कोई
चैन साडे दीद्यां नूं आए ।
सज्जणां दे बाझ जग्ग
असां लटबौरियां नूं
आख आख झल्लियां बुलाए ।

एस पिंड कोयी नहीउं
सका साडा अंमीए नी
जेहड़ा साडी पीड़ नूं वंडाए ।
एसे रुत्ते सज्जणां तों बाझ
तेरे पिंड माए
इक पल कट्ट्या ना जाए ।

उच्चियां पहाड़ियां दे
उहले उहले सूरजा
रिशमां दी लाब प्या लाए ।
पीली पीली धुप्पड़ी नूं
भन्न भन्न पोट्यां थीं
टीसियां नूं बांकड़ी लुआए ।

इक करंग इक कहाणी

हाणियां तेरे शहर वल्लों
आ रही है अज्ज हवा
मार ढिड्डीं मुक्कियां है
रो रही सारी फ़िज़ा
निकल आई है छपाकी
तार्यां दी अरश 'ते
मार पल्ला अम्बर दा
गयी चन्न दा दीवा बुझा
रात एदां सौं रही है
जिस तर्हां हबशन कोई
फुल्ल अमलतास दे
पीले जहे जूड़े च ला ।

वेख के पगडंडियां
तेरे शहर वल्ल जांदियां
आ रेहै मेरे जिगर दे विच
पीड़ दा इक ज़लज़ला ।

फुल्ल सूहा आतशी
गूड़्हा गुलाबी हिजर दा
फेर अज्ज मायूसियां दे
अदन विच है खिड़ रेहा ।

फेर नैणां दी न्याईं
हो रही है अज्ज सैराब
फेर खूहा हिक्कड़ी विच
अग्ग दा है गिड़ रेहा ।

लै सबर दियां छापियां
सी दिल नूं वाड़ां कीतियां
ग़मां दा इज्जड़ फेर है
दिल दे क्यारे फिर रेहा
फेर मेरे कालजे नूं
धूह जही है पै रही
याद कर बीते देहुं
है दिल च पाला छिड़ रेहा ।

याद है इक वार एदां ही
हवा सी चल्ल रही
रात-रानी रात दे
पिंडे महक सी मल रही
तेरियां मुशकी लिटां विच
मेरे होठां दी कली
वेख सारी गुलफ़शां सी
तार्यां दी जल रही ।
आंदरां विच तेरे मेरे
हो रही सी इक जलूण
महक साडे जिसम दी सी
कहकशां विच रल रही ।

साडियां रालां च वधदा
जा रेहा सी इक सवाद
बदलियां दे महल बत्ती
चन्न दी सी बल रही ।

सां असीं उह रात सारी
मिल गले रोंदे रहे
रात भर नैणां दियां
जोगां असीं जोंदे रहे ।

रगड़ मत्थे देहरियां 'ते
रोट कोयी सुक्खे असां
भर के पलियां हंझूआं दा
तेल सां चोंदे रहे ।

गुटकदे चिट्टे कबूतर
वाकणां तेरे महल वेख
मेरियां झुग्गियां दे जाले
रात भर रोंदे रहे ।

घोल कल्लर चाननी दा
अम्बरां दे दाबड़े
आस दा मैला विछौणा
रात भर धोंदे रहे ।

वकत पा के हौली-हौली
साह मेरे चग़ले गए
हो गई जूठी जवानी
नैन हो गन्दले गए ।

हवस दा पापी फुलेरा
इतर कढ्ढ के लै ग्या
फुल्ल महक रूप दे
हो हशर लई फ़ुगले गए ।

चड़्ह गई तेरे दीद्यां 'ते
सोने चांदी दी वे पाण
लक्खां साणां 'ते मैं लाए
पर ना मुड़ बदले गए ।

छम्ब तेरे इशक दा
इक रोज़ रक्कड़ हो ग्या
मर गईआं वे टिच्चरां
ते दूर उड्ड बगले गए ।

फेर इक दिन मेर्यां
कन्नां दे परदे चीरदी
लंघ गई आवाज़
शहनायी दी कूकां मारदी ।

घुल गए सारे गरां दी
पौन विच तेरे सुहाग
जा रही सी पालकी
वीहवीं सदी दे प्यार दी ।

मोतियां दे भाय तेरा
बेहा जिसम सी विक ग्या
पतझड़ां विच पै गई
कीमत तेरी गुलज़ार दी ।

बीतदी रही उमर मेरी
मेल दे राह हूंझदी
भटकदी रही रीझ मेरी
हजर दे वग्ग चारदी ।

रात दिन लैंदे रहे
तेरे महल दी परदक्खना ।
शहद तेरी दीद दा
पर मुड़ ना जुड़्या चक्खना ।

हर साल बेलीं पीलड़ू
गरने वन्नीं पक्कदे रहे
पर ना आया तूं कदी वे
खान मेरे मक्खना ।

फेफड़े मेरे लहू दियां
बोटियां थुक्कदे रहे
हो ग्या पित्ता वी मेरा
ख़ून तों वे सक्खना ।

फेर वी इह भूक पीला
जिसम मेरा लाश जेही
लुड़छदा ही मर ग्या
तेरे शहर जा के वस्सना ।

अज्ज तेरी याद दा ही
इक सहारा रह गिऐ ।
कुल लुकायी दा जो ग़म है
हक्कड़ी विच लह गिऐ ।

पाणियां कंढे जिवें है
लहलहांदा डीलड़ा
बुल्ल्हियां 'ते लहलहांदा
दरद मेरे रह गिऐ ।

नज़र दे असमान मोह दी
चील है मंडला रही
आस दी ममटी 'ते कोई
आ के शिकरा बह गिऐ ।

हंझूआं दे साउन विच
ऐसा चुमासा लग्गिऐ
जिसम मेरा झुलस्या
इक करंग बण के रह गिऐ ।

कारूंआं दीए ज़ादीए
तूं ख़ूब दित्ती है सज़ा
आ कि बच्या ख़ून वी
जिन्दे नी तैनूं दां प्या आ के भावें जोक हैं
शाह रग 'ते तैनूं ला लवां
आ कि किल्लरी नागणें
तैनूं जीभ उत्ते लां लड़ा ।

मेरी ग़ुरबत नूं तेरी दौलत 'ते
कोयी रोस नहीं
जा रेहां परलोक मेरी
अलविदा ! मेरी अलविदा !

अज्ज शफ़ाखाने च शायद
आख़री इह रात है
कीह पता ना वेख सकां
फ़ज़र दी पहली शुआ ।

पुरे दीए पौणे

पुरे दीए पौणे
इक चुंमन दे जा
छिट्ट सारी दे जा ख़ुशबोई
अज्ज सानूं पुन्न्यां दी
ओदरी जही चाननी दे
होर नहीउं वेखदा नी कोयी ।

अज्ज मेरा बिरहा नी
होया मेरा महरम
पीड़ सहेलड़ी सू होई
कम्ब्या सू अज्ज कुड़े
परबत परबत
वन वण रत्तड़ी सू रोयी ।

सुक्क बने सागर
थल नी तपौंदे अज्ज
फुल्लां चों सुगंध अज्ज मोई
गगनां दे रुक्खों अज्ज
टुट्टे पत्त बद्दलां दे
टेपा टेपा चाननी सू चोयी ।

अज्ज तां नी कुड़े
साडे दिल दा ही रांझणा
खोह साथों लै ग्या ई कोई
अज्ज मेरे पिंड दियां
राहां ते तिज़ाब तिक्खा
लंघ ग्या डोल्हदा ई कोयी ।

सोईयो हाल होया अज्ज
प्रीत नी असाडड़ी दा
ठक्के मारे कंमी जिवें कोई
ना तां निकरमण
रही ऊ नी डोडड़ी
ना तां मुट्यार खिड़ होयी ।

फुल्लां दे खरासे
केहड़े माली अज्ज चन्दरे नी
तितली मलूक जही जोई
हंघदे ने काहनूं भौरे
जूही द्यां फुल्लां उत्ते
काली जेही ओढ के नी लोयी ।

किरनां दा धागा
सानूं लहरां दी सूयी विच
नैणां वाला पा दे अज्ज कोई
लभ्भे ना नी नक्का
साडी नीझ निमानड़ी नूं
रो-रो अज्ज धुन्दली सू होयी ।

सद्दीं नीं छींबा कोई
जेहड़ा असाडड़ी
मन्न लवे अज्ज अरजोई
ठेक देवे लेखां दी
जो कोरी चादर
पा के फुल्ल ख़ुशी दा कोयी ।

पुरे दीए पौणे
इक चुंमन दे जा
छिट्ट सारी दे जा ख़ुशबोई
अज्ज सानूं पुन्न्यां दी
ओदरी जही चाननी दे
होर नहीउं वेखदा नी कोयी ।

गरभवती

तन दी सन्दली गेली विचों
इह केही ख़ुशबो पई आवे
जीकन हिंग कथूरी दे विच
छिट्ट सारी डुल्ह जावे
ते मरन सुगंधियां ।

कुक्ख दी काली धरती अन्दर
चानन दा इक बूटा उग्गिऐ
इस बूटे दे फुल्ल ने विस्से
ज़हर-कौड़ियां फलियां
घुट्टन संघियां ।

कुक्ख दी सौड़ी धरती अन्दर
इह बूटा मैं कीकन सांभां ?
इह बूटा मैं कीकन छांगां ?
नित्त नित्त हुन्दियां जाण
डालियां लम्बियां ।

कुक्ख दी धरत कुआरी अन्दर
जे दुनियां दी मैली अक्ख नूं
इह बूटा नज़रीं पै जासी
सत्त जहानीं रज्ज के
होसन भंडियां ।

जावां ते मैं कित्त वल्ल जावां
किस मरियम नूं हाल सुणावां
इक पड़ोपी आटे ख़ातर
विकन हवा दियां जाईआं नी
विच मंडियां ।

एस शहर दी चौड़ी हिक्क 'ते
मेरे जहियां लक्खां कंजकां
इक तोला तांबे दी ख़ातर
विच चौराहीं विकन नी
हो हो नंगियां ।

गुरबत दा संघना जंगल
भुक्खां दी विच पौन वगेंदी
इशक जिवें इक बांस दा बूटा
ना कोयी लग्गे फुल्ल
ना दवे सुगंधियां ।

आस जिवें इक उच्चा परबत
मन जीकन होए सरघी वेला
याद जिवें सूरज दी टिक्की
विच सोचां दियां चील्हां
उड्ड उड्ड हंभियां ।

मात लोक दी दो गिट्ठ धरती
कईआं अग्गे गहने रक्खी
पर ना मैनूं इक वी मिल्या
दवे कीमतां जेहड़ा
मूंहों मंगियां ।

ना इहदी कीमत चांदी चाही
ना इहदी कीमत सोना मंगी
इक मंग्या बस साथी संगी
खा जाए भावें जेहड़ा
वढ्ढ वढ्ढ दन्दियां ।

ठीक किसे दरोपद दी जाई
पंज पांडवां नाल व्याही
झूठ है उहनूं अरजुन बाझों
होर वी शकलां लग्गदियां
होसन चंगियां ।

औरत तां इक उह पंछी है
जिस नूं सोने दे पिंजरे विच
मुट्ठ सारी बस कंङनी पा के
टंग दित्ता है जांदा
उहले कंधियां ।

पर इह फिर वी भोला पंछी
खा कंङनी दे इक दो दाणे
चुंझ भर पी के ठंढा पाणी
रव्हे दुआवां देंदा
उमरों लम्बियां ।

हे आदम दे कामी पुत्तरो
जां इह पंछी मार मुकावो
जां इस पंछी दा कुझ सोचो
छड्ड देवो इहनूं खुल्ल्हा वे
विच झंगियां ।

मैं कुंती हां अज्ज दे जुग दी
मेरी कुक्ख विच किरन है कोई
जां चानन दा है इक बूटा
जान ना मैथों शाखां
इस दियां झम्बियां ।

इस बूटे दे कूले विच
मैं ममता दा पासां पाणी
मैं लैसां परदक्खना इस दी
जान इसमतां भावें
सूली टंगियां ।

मात लोक दी धरती अन्दर
जिस माली इह बूटा लायऐ
खौरे कौन ते किथों सी उह
फिर वी उहदे नाल मैं
अज्ज तों मंगी आं ।

अज्ज मेरे इरादे अन्दर
उह मेरा नावाकफ़ माली
अज्ज तों मेरा कंत है होया
कर लां गी दिन पूरे
वाकन रंडियां ।

तन दी सन्दली गेली विचों
इह केही ख़ुशबो पई आवे
जीकन हिंग कथूरी दे विच
छिट्ट सारी डुल्ह जावे
ते मरन सुगंधियां ।

मेल

अज्ज फेर कोयी लै ग्या
मेरा ग़म उधाल के
वर्हआं तों बाअद गोद विच
दो पल बिठाल के ।

घणियां स्याह कालियां
सन्दली लटूरियां
मिणदा रेहा कोयी रात भर
बांह 'ते सुआल के ।

करदा रेहा उह कीरने
पा पा अलाहुणियां
हंझूआं च साडी पीड़ दा
मुरदा नुहाल के ।

यादां ज़ंगालियां नूं ला
बुल्ल्हियां दी सान 'ते
करदा रेहा गलोड़ियां
दीदे हंगाल के ।

आई है मुसकरान दी
आई है रुत्तड़ी
अज्ज मस्स्या दी ज़ुलफ़ 'चों
कालख है नुच्चड़ी ।

है फेर कोका लिशक्या
गोरी उशेर दा
आथन ने फेर भर लई
किरनां दी मुट्ठड़ी ।

अज्ज बिरहड़े दी अक्ख विच
फोला है पै ग्या
दिली दरद दी, सौंकणां
ख़ुशियां लै लुट्टड़ी ।

साहां च फेर उग्ग्या
चन्दन दा रुक्खड़ा
नैणां च फेर खिड़ पई
सूरज दी फुट्टड़ी ।

नीझां दे थल च मोह दियां
बे-अंत डाचियां
हंझू कचावीं ब्हाल के
धूड़ीं गवाचियां ।

मुड़ हसरतां दे कल्लरीं
फिर्या सुहागड़ा
आसां दी फिक्की जीभ 'ते
घुलियां इलाचियां ।

मुड़ तितलियां चावां दियां
भौरे उमीद दे
आपने दिल दे बाग़ 'चों
पीवन उदासियां ।

सोचां दी भर उजाड़ 'चों
हावां दे बूटड़े
अज्ज फेर कोयी लै ग्या
कर कर के गाचियां ।

बिरहों दे अज्ज छिले दियां
घड़ियां ने पुग्गियां
मन हो ख़ुशी च खीवड़ा
पांदा है लुड्डियां ।

दिल दे ख़लाय च फेर इक
छुट्टी है फुलझड़ी
रूह दी पुलाड़ तीक अज्ज
किरनां ने पुज्जियां ।

धड़कन दी हर आवाज़ विच
गज्ज्या है मेघला
मुड़ के जिगर च काशनी
धूड़ां ने उड्डियां ।

सुपने च मिल्या फेर अज्ज
माही असाडड़ा
गीतां दी सोहल जीभ 'ते
सूईआं ने चुभियां ।

चुंमण

उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।
जां मन्दर दी ममटी उत्ते
घ्यु दे दीवे वांग बलींदा
रोज़ तवी दे पानी पींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा ।

एस पिंड विच हाड़ महीने
उड्ड उड्ड आवन बद्दल चीने
बैठी पौन वजावे मट्टियां
बांसां दे विच ख़ाली सीने ।
रोन पहाड़ीं ईकन पाणी
जीकन बुढ्ढियां ते मुट्यारां
रोवन बैठियां विच वर्हीणे,
जां ज्युं हाजी विच मदीने ।

कदे कदे इहदे महलां उत्तों
काले काले खंभ मरींदा,
लंघ जाए कोयी काग उडींदा
उच्चे उच्चे बोल बुलींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां दियां सन्दली राहवां
छावां दे गल पा के बाहवां
वेखन आउंदे जांदे राही,
पुच्छन हर इक दा सिरनावां ।
बैंकड़्ह गुल्लर, पंज फुल्लियां
टुर टुर वेखन आउन शुआवां
अद्धी रातीं रुक्खां विचों,
लंघ लंघ जावन तेज़ हवावां ।

कदे कदे इन्हां राहां उत्ते
दिसे कोयी वग्ग चरींदा ।
जां कोयी अलबेला पाली
मिट्ठा कोयी साज़ वजींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस पिंड दियां कुड़ियां चिड़ियां
वांग मोतीए तड़के खिड़ियां
नैणीं वीरवार दियां झड़ियां
जीकन साउन महीने होवण,
रब्ब दे खूह दियां माहलां गिड़ियां
बुक्क बुक्क कन्नीं पावन बुन्दे
वालां दे विच पावन पिड़ियां ।

नैन उन्हां दे गिट्ठ गिट्ठ लंमे
ज्युं भौरां दियां लंमियां डारां
चेत महीने आथन वेले
पोहली दे फुल्लां 'ते जुड़ियां ।
होंठ जिवें रूही दे पत्तर
विचों मिट्ठा दुद्ध वगींदा,
कोयी कोयी करमां वाला पींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां विच सरघी वेले
उच्चे टिब्बे दुद्ध चुबारे,
ईकन लग्गन प्यारे प्यारे
जीकन काली बदली दे विच
चिट्टा बगला तारी मारे ।
कदे कदे इहदे महलां उहले,
निक्की-सोन चिड़ी इक बोले ।
जां कोयी लंम-सलंमी नढ्ढी,
महलां दे दरवाज़े खोहले ।

किसे किसे बारी दे पिच्छे,
बैठी कोयी त्रीमत दिसे
रक्खी पट्टां दे विच शीशा
कोह कोह लंमे वाल वरोले ।
पर ना मूंहों कुझ वी बोले ।
कदे कदे जां चोणां वाला
सालू पीली भा मरींदा,
दिसे महलां विच उडींदा,
पौणां विचों महक छटींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां दे आले-दुआले
कूल्हां, कस्सियां, नदियां नाले
लैन परकरमा करमां वाले ।
आशक न्हाउन नसीबां वाले ।

न्हाउन गरां दियां रल मिल परियां
वालीं टंग चम्बे दियां कलियां
पकड़ दहीं दे हत्थ कटोरे
छंग अतलस दे लहंगे काले ।
कदे कदे जे हंस विचारा,
मानसरोवर जावन वाला
एस गरां दा पानी पींदै,
ओथे ही उह डुब्ब मरींदै,
मुड़ ना मोती इक चुगींदै ।

उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां इक कुड़ी शुकीना
कोह काफ़ दी परी हुसीना
परी हुसीना जिद्हा सुणींदा,
सुत्तियां कंमियां वरगा सीना ।
सारे पिंड दी मुन्दरी अन्दर
सुच्चा इको इक नगीना ।
ईकन हस्से नक्क विच कोका
जीकन कोयी आशक झूठा
काम मत्त्या मदरा पी के
आपनी सुबक जेही सजनी संग
हस्स हस्स गल्लां करे कमीना ।

याद है मैनूं जेठ महीना
पहली वार मिली शुकीना
मुक्ख ते सोहवे इवें पसीना
जिवें कि अरबी दे पत्त्यां 'ते
कत्ते दे विच सुब्हा सवेरे
शबनम दा इक होए नगीना ।
योस नगीने दी अक्ख अन्दर,
सूरज होवे मुक्ख वखींदा,
किरनां दे पैमाने अन्दर,
छिट्ट छिट्ट होवे चानन पींदा ।
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां दी वरखा रुत्ते
कंजकां दे इक मेले उत्ते
दूजी वारी मिली शुकीना
मैनूं पिंड दी लहन्दी गुट्ठे
अम्बां दी इक झंगी उहले
जिथे दिन भर कोइल बोले
रोंदी रोंदी आई शुकीना
दे गई दो कु चुंमन सुच्चे ।

उस दिन मगरों कदे शुकीना
कोह-काफ़ दी परी हुसीना
परी हुसीना जिद्हा सुणींदा,
सुत्तियां कंमियां वरगा सीना ।
मैनूं कदे वी मिलन ना आई
पिंड बसोहली दी उह जायी ।

अक्खां दे विच सांभ उनींदा
रातां तों मैं रेहा पुछींदा
त्रिंञणां दे विच रेहा फरींदा
राहियां कोलों हाल पुछींदा ।

उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां दियां कुड़ियां चिड़ियां
इक दिन तीर नदी ते मिलियां
बिनां बुलायआं झोली मेरी विच
रुग्ग-रुग्ग कलियां धरके मुड़ियां ।
मुक्ख उहनां दे सोगी तक्के
कज्जले नैणों हिंझां चट्टे
होंठ उहनां दे होए खट्टे
छड्ड छड्ड रात दिने साह तत्ते ।
उस दिन मगरों कुड़ियां चिड़ियां
फेर कदे ना मैनूं मिलियां
दिल दियां दिल तों रेहा पुछींदा
सोहल शुकीना जेहा लभींदा
अक्खां दे विच सांभ उनींदा
उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

एस गरां वरखा दी रुत्ते
कंजकां दे उस मेले उत्ते
कदे कदे मैं अज्ज वी जांदा
वादी दे विच फिरदा रहन्दा ।
अम्बां दी उस झंगी उहले
जित्थे अज्ज वी कोइल बोले
रोंदा रोंदा मैं सौं जांदा ।
विल्ह विल्ह हर्यां घावां उत्ते
उस नूं वाजां मार बुलाउंदा
खा बैंकड़्ह दे कौड़े पत्ते
आपने मूंह दा सुआद गवाउंदा
उस दे चुंमन भुल्लना चाहुन्दा ।
अद्धी अद्धी रातीं उट्ठ के
चानणियां तों राहवां पुच्छ के
धुन्दले जेहे इक साए पिच्छे
कोहां तीकन हो के आउंदा
पर उह सायआ नहीं फड़ींदा
ना कोयी मेरी गल्ल सुणींदा
ना कोयी मुक्खों बोल बुलींदा
निरा शुकीना वांग दसींदा ।

उच्चे टिब्बे पिंड बसोहली
नेड़े जंमू शहर सुणींदा,
किसे कुड़ी दी गोरी हिक्क 'ते,
काले तिल दे वांग दसींदा ।

तीरथ

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
खोटे दम मुहब्बत वाले
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

सद्द सुन्यारे प्रीत-नगर दे
इक इक करके मोड़ां
सोना समझ वेहाजे सन जो
मैं पित्तल दे छल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
यादां दा इक मिस्सा टुक्कर
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

करां सराध परोहत सद्दां
पीड़ मरे जे दिल दी
द्यां दक्खना सुच्चे मोती
करन ज़ख़म जे अल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
गीतां दा इक हाड़ तपन्दा
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

ताड़ी मार उड्डदे नाहीं
बद्दलां दे माली तों
अज्ज किरनां दे काठे तोते
धरती नूं टुक्क चल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
महक सज्जन दे साहां दी
अज्ज बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

कोतर सौ मैं कंजक ब्हावां
नाल लंकड़ा पूजां
जे रब्ब यार मिलाए छेती
छेती मौतां जां घल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
चड़्ही जवानी दा फुल्ल कारा
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

शहद सुआवां दा किंज पीवे
काली रात मखोरी
चन्न दे खग्ग्यों चानन 'चों अज्ज
लै गए मेघ निगल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
भुब्बल तपी दिल दे थल दी
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

हेक गुलेलियां वरगी ला के
गावन गीत हिजर दे
अज्ज परदेसन पौणां थक्कियां
बह रुक्खां दे थल्ले ।

माए नी असीं करन ब्रेहों दा
तीरथ हां अज्ज चल्ले
हंझूआं दी इक कूल्ह वगेंदी
बन्न्ह उमरां दे पल्ले ।

इक हत्थ कासा इक हत्थ माला
गल विच पा के बगली
जित वल्ल यार ग्या नी माए
टुर चल्लियां उत्त वल्ले ।

मेरे दोसता

मैनूं तां मेरे दोसता
मेरे ग़म ने मार्या ।
है झूठ तेरी दोसती दे
दम ने मारिऐ ।

मैनूं ते जेठ हाड़ 'ते
कोयी नहीं गिला
मेरे चमन नूं चेत दी
शबनम ने मारिऐ ।

मस्स्या दी काली रात दा
कोयी नहीं कसूर
सागर नूं उहदी आपणी
पूनम ने मारिऐ ।

इह कौन है जो मौत नूं
बदनाम कर रेहै ?
इनसान नूं इनसान दे
जनम ने मारिऐ ।

चड़्हआ सी जेहड़ा सूरजा
डुब्बना सी उस ज़रूर
कोयी झूठ कह रेहा है
कि पच्छम ने मारिऐ ।

मन्न्यां कि मोयां मित्तरां
दा ग़म वी मारदै
बहुता पर इस दिखावे दे
मातम ने मारिऐ ।

कातल कोयी दुशमन नहीं
मैं ठीक आखदां
'शिव' नूं तां 'शिव' दे
आपने महरम ने मारिऐ ।

आस

नी जिन्दे तेरा यार
मैं तैनूं किवें मिलावां ।
किथों नी मैं सतबरग दी
तैनूं महक प्यावां ।
केहड़ी नगरी च तेरे चन्न दी
डली वस्सदी है जिन्दे ?
कित्त वल्ले नी अज्ज नीझां दे
मैं काग उडावां ?

चंगा है हशर तक ना मिले
मोतियां वाला
दूरों ही शबद भेहरी दा
लग्गदा है सुहावा ।
अस्सू च तां फुल्ल सण दे वी
लग्गदे ने प्यारे
रक्कड़ां च न्यामत ने
करीरां दियां छावां ।

ज़िन्दगी दी नदी दे कंढे
उमीद दा ऐरा
सुक्क सड़ के कई यार(वार) वी
हो जांदा है लैरा ।
अकसर ही कई वार
इवें हुन्दा है जिन्दे
नहरी तों फ़सल चंगी वी
हो जांदी है मैरा ।

सौ साल जदों गुज़ारे
तां फुल्ल बांस नूं लगदै
सुरख़ाब हुनाले च नी
हो जांदा है बहरा ।
इक सुलफ़े दी बस लाट है
ज़िन्दगी च मुहब्बत
बस ग़म दे मलंगां दी
हयाती है इह दैरा ।

सुण्या है मधू-मक्खियां दी
इक हुन्दी है राणी
भरपूर जवानी च जदों
लभ्भदी है हानी ।
उड्ड पैंदी है खग्गे 'चों निकल
वल्ल अगासां
उड्डदी है उहदे पिच्छे नी
नर-मक्खियां दी ढानी ।

जेहड़ा वी वनज करदा है
उहदी कुक्ख दा नी जिन्दे
मुक्क जांदा है उहदे नैणां 'चों
ज़िन्दगानी दा पानी ।
कुक्खां दा वनज करना
कोयी प्यार नहीं है
इस तों तां बड़ी लंमी है
इशके दी कहानी ।

तकदीर दी हर रात 'च
इक कुतब सितारा
ज़िन्दगी दे मलाहां नूं
देंदा है सहारा ।
तकदीर दी तकदीर है
जे बेड़ी ग़रक जाए
मलाहां दा दोश है
जे लभ्भे ना किनारा ।

ना सोच कि हर डाची दी
जे नज़र बदल जाए
होवेगा किवें
मारूथलां दा नी गुज़ारा ।
तकदीर ते तदबीर दा
कुझ ऐसा है रिशता
उग आए जिवें
रुक्ख ते कोयी रुक्ख विचारा ।

पर ठीक है कोयी थोर्हां नूं
क्युं वाड़ करेगा
कोयी भौर भला कंड्यां 'ते
क्युं जीभ धरेगा ।
मेरे दिल दे बियांबान 'च
उग्ग्या है क्युड़ा
हैरान हां बिरहों दी तपश
किद्दां जरेगा ।

मेरा इशक है थेहां ते नी
इट्ट-सिट्ट दी बरूटी
सुक्केगी ना बदबख़त
ना इजड़ ही चरेगा ।
लग्ग जाए नी लक्ख वार
मेरे नैणां नूं उल्ली
मेरा सिदक उसदे राहां 'ते
रो रो के मरेगा ।

हो जाएगी इक रोज़ सबज़
दिल दी फलाही
बंजर वी मुकद्दर दा नी
हो जाएगा चाही ।
है आस मेरे होठां दी
कचनार दी छावें
सुसताणगे मुसकानां दे
बेअंत ही राही ।

मुंजरां च मेरे जिसम दी
जद महक रचेगी
इह धरत मेरे इशक दी
देवेगी गवाही ।
नच्चेगी ख़ुशी दिल दे पिड़ीं
मार दमामे
विछड़ेगा ना मुड़
तेरा कदी तेरे तों माही ।

सईयो नी सईओ

सईयो नी सईयो ।
पीली चन्ने दी तितली
मारे पई गगनीं उडारियां वे हो
लहन्दे द्यां पत्तणां 'ते
तार्यां दे फुल्ल खिड़े
सर्हों दियां होन ज्युं क्यारियां वे हो ।

अद्धी रातीं चाननी दी
कच्चड़ी जेही बौली उत्ते
न्हाउन पईआं फम्बियां कुआरियां वे हो ।

दूर किते पिंड दे नी
मैरे च टटीर्हियां
रोन पईआं करमां नूं मारियां वे हो ।

सईयो नी सईओ
भिन्नी पौन वगेंदड़ी तों
लै द्यो सुगंधियां उधारियां वे हो ।
मिलूगा जदों मैनूं
सज्जन मैंडड़ा नी
मोड़ दऊंगी गिन गिन सारियां वे हो ।

सज्जन तां मेरा इक
घुट्ट क्युरड़े दा
अक्खियां अंगूरी लोहड़े मारियां वे हो
सज्जन तां मेरे दियां
थिन्दियां लटूरियां नी
महकां दियां भरियां पटारियां वे हो ।

साउन दियां सद्धरां दे
वांग नी उह सांवला
दिल दियां करे सरदारियां वे हो
आतशी गुलाब लक्खां
शामां गुलनारियां नी
असां उहदे मुक्खड़े तों वारियां वे हो ।

सईयो नी सईओ
ना नी पुच्छो असां ओस बाझों
किवें नी इह उमरां गुज़ारियां वे हो
असीं ओस बाझों सईओ
अग्ग च नहातियां हां
फक्कियां ने मघियां अंगारियां वे हो ।

असां ओस बाझों सईओ
ख़ाक कर छड्डियां ने
दिले दियां उच्चियां अटारियां वे हो
योस बाझों फिट्ट गिऐ
रंग साडे रूप दा नी
दग़ा कीता समें दे ललारियां वे हो ।

प्या भुस्स हौक्यां दा
मूंह सानूं चुंमने दा
बिरहों संग लग्गियां ने यारियां वे हो
सईयो नी सईयो ।
पीली चन्ने दी तितली
मारे पई गगनीं उडारियां वे हो ।

लहन्दे द्यां पत्तणां 'ते
तार्यां दे फुल्ल खिड़े
सर्हों दियां होन ज्युं क्यारियां वे हो ।

तकदीर दे बाग़ीं

आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ होठां दी संघनी छावें,
सोहल मुसकड़ी बण सौं जाईए आ नैणां दे नील-सरां 'चों
चुग चुग महंगे मोती खाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना तेरे सौंफी साह दा
पत्तझड़ नूं इक जाम प्याईए आ किसमत दी टाहनी उत्ते,
अकलां दा अज्ज काग उडाईए आ अज्ज ख़ुशी-मतई्ई-मां दे,
पैरीं आपने सीस निवाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना अज्ज महकां कोलों,
माली कोयी जिब्हा कराईए आ पुन्न्यां दी राते रोंदी,
चकवी कोयी मार मुकाईए आ उमरां दी चादर उत्ते,
फुल्ल फेरवें ग़म दे पाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना हर राह दे मत्थे,
पैड़ां दी अज्ज दौनी लाईए ।
हर राही दे नैणां दे विच,
चुटकी चुटकी चानन पाईए ।

हर मंज़ल दे पैरां दे विच,
सूलां दी पंजेब पुआईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना अज्ज दे दिल विच
बिरहों दा इक बीज बिजाईए ।
छिन्दियां पीड़ां लाडलियां दे,
आ यादां तों सीस गुन्दाईए आ सज्जना अज्ज दिल दे सेजे,
मोईआं कलियां भुंजे लाहीए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना अज्ज गीतां कोलों,
पीड़ कंजक दे पैर धुआईए आ अज्ज कंड्यां दे कन्न विन्न्हीएं,
विच फुल्लां दियां नत्तियां पाईए आ नच्चीए कोयी नाच अलौकिक,
साहां दी मिरदंग वजाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए आ होठां दी संघनी छावें
सोहनी मुसकड़ी बण सौं जाईए आ नैणां दे नील-सरां 'चों
चुग चुग महंगे मोती खाईए आ सज्जना तकदीर दे बाग़ीं
कच्चियां किरनां पैलीं पाईए ।

अद्धी रातीं पौणां विच

अद्धी रातीं पौणां विच
उग्गियां नी महकां माए
महकां विच उग्गियां शुआवां
देवीं नी माए मेरा
चन्नने दा गोडनूं
महकां नूं मैं गोडने थीं जावां ।

देवीं नी माए पर
चन्नने दा गोडनूं
टुक्कियां ना जान शुआवां
देवीं नी माए मैनूं
सूयी कोयी महनि जेही
पोले पोले किरनां गुडावां ।

देवीं नी माए मेरे
नैणां दियां सिप्पियां
कोसा कोसा नीर प्यावां
कोसा कोसा नीर
ना पाईं मुढ्ढ रातड़ी दे
सुक्क ना नी जान शुआवां ।

देवीं नी चुली भर
गंगा-जल सुच्चड़ा
इक बुक्क संघणियां छावां
देवीं नी छट्टा इक
मिट्ठी मिट्ठी बातड़ी दा
इक घुट्ट ठंढियां हवावां ।

देवीं नी, निक्के निक्के
छज्ज फुल्ल-पत्तियां दे
चाननी दा बोहल छटावां
देवीं नी खंभ मैनूं
पीली पीली तितली दे
खंभां दी मैं छाननी बणावां ।

अद्धी अद्धी रातीं चुणां
तार्यां दे कोरड़ू नी
छट्ट के पटारी विच पावां
देवीं नी माए मेरी
जिन्दड़ी दा टोकरू
चन्न दी मैं मंजरी ल्यावां ।

चन्न दी मंजरी नूं
घोलां विच पाणियां दे
मत्थे दियां कालखां लुहावां
काली काली बद्दली दे
काले काले केसां विच
चन्न दा मैं चौंक गुन्दावां ।
गगनां दी सूही बिम्ब
अद्धोरानी चुन्नड़ी ते
तार्यां दे बाग़ कढावां ।

अद्धी रातीं पौणां विच
उग्गियां नी महकां माए
महकां विच उग्गियां शुआवां
देवीं नी माए मेरा
चन्नने दा गोडनूं
महकां नूं मैं गोडने थीं जावां ।

रोजड़े

तेरी याद असानूं मनस के
कुझ पीड़ां कर गई दान वे ।
साडे गीतां रक्खे रोजड़े
ना पीवन ना कुझ खान वे ।

मेरे लेखां दी बांह वेख्यो
कोयी सद्द्यो अज्ज लुकमान वे ।
इक जुगड़ा होया अत्थरे
नित्त माड़े हुन्दे जान वे ।

मैं भर भर द्यां कटोरड़े
बुल्ल्ह चक्खन ना मुसकान वे ।
मेरे दीदे अज्ज बदीदड़े
पए नींदां तों शरमान वे ।

असां ग़म दियां देग़ां चाड़्हियां
अज्ज कढ्ढ बिरहों दे डाण्ह वे ।
अज्ज सद्दो साक सकीरियां
करो धामां कुल्ल जहान वे ।

तेरी याद असानूं मनस के
कुझ हंझू कर गई दान वे ।
अज्ज पिट्ट पिट्ट होया नीलड़ा
साडे नैणां दा असमान वे ।

साडा इशक कुआरा मर ग्या
कोयी लै ग्या कढ्ढ मसान वे ।
साडे नैन तेरी अज्ज दीद दी
पए किर्या करम करान वे ।

सानूं दित्ते हिजर तवीतड़े
तेरी फुरकत दे सुलतान वे ।
अज्ज प्रीत नगर दे सौरीए
सानूं चौकी बैठ खिडान वे ।

अज्ज पौणां पिट्टन ताजीए
अज्ज रुत्तां पड़्हन कुरान वे ।
अज्ज पी पी जेठ तपन्दड़ा
होया फुल्लां नूं यरकान वे ।

तेरी याद असानूं मनस के
कुझ हौके कर गई दान वे ।
अज्ज सौंकन दुनियां मैंडड़ी
मैनूं आई कलेरे पान वे ।

अज्ज खावे ख़ौफ़ कलेजड़ा
मेरी हिक्क 'ते पैन वदान वे ।
अज्ज खुंढी खुरपी सिदक दी
मैथों आई धरत चंडान वे ।

असां खेडी खेड प्यार दी
आया देखन कुल्ल जहान वे ।
सानूं मीदी हुन्द्यां सुन्द्यां
सभ फाडी आख बुलान वे ।

अज्ज बने पराली हाणियां
मेरे दिल दे पलरे धान वे ।
मेरे साह दी कूली मुरक 'चों
अज्ज खावे मैनूं छाण्ह वे ।

तेरी याद असानूं मनस के
कुझ सूलां कर गई दान वे ।
अज्ज फुल्लां दे घर महक दी
आई दूरों चल्ल मुकान वे ।

साडे वेहड़े पत्तर अम्ब दे
गए टंग मरासी आण वे ।
काग़ज़ दे तोते ला गए
मेरी अरथी नूं तरखान वे ।

तेरे मोह दे लाल गुलाब दी
आए मंजरी भौर चुरान वे ।
साडे सुत्ते माली आस दे
अज्ज कोरी चादर तान वे ।

मेरे दिल दे मान सरोवरां
विच बैठे हंस परान वे ।
तेरा बिरहा ला ला तौड़ियां
आए मुड़ मुड़ रोज़ उडान वे ।

सवागत

हैं तूं आई मेरे गरां
हैं तूं आई मेरे गरां ।
होर गूहड़ी हो गई है,
मेर्यां बोहड़ां दी छां ।
खा रहे ने चूरियां
अज्ज मेर्यां महलां दे कां ।
हैं तूं आई मेरे गरां,
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
आल्हना मेरे दिल च ख़ुशियां
पान दी कीती है हां ।
तेरे नां ते पै गए ने,
मेर्यां राहां दे नां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
पौन दे होठां 'ते अज्ज है
महक ने पायी सरां
टुरदा टुरदा रुक ग्या है
वेख के तैनूं समां
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
लै लई कलियां ने
भौरां नाल अज्ज चौथी है लां ।
तेरी हर इक पैड़ 'ते
है तितलियां रक्खी ज़बां
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां आ तेरे पैरां च पुग्गे
सफ़र दी महन्दी लगां आ तेरे नैणां नूं मिट्ठे
सुपन्यां दी प्युंद लां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
वरत रक्खेगी निराहारी
मेरियां पीड़ां दी मां ।
आउणगे ख़ुशियां दे ख़त
अज्ज मेर्यां गीतां दे नां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
होर गूहड़ी हो गई है
मेर्यां बोहड़ां दी छां ।
खा रहे ने चूरियां
अज्ज मेर्यां महलां दे कां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।
हैं तूं आई मेरे गरां ।

शीशो

एकम दा चन्न वेख रेहा सी
बह झंगियां दे उहले ।
शीशो टुरी जाए संग सखियां,
पैर धरेंदी पोले ।
टोर उहदी ज्युं पैलां पाउंदे
टुरन कबूतर गोले ।
ज़ख़मी होन कुमरियां कोइलां
जे मुक्खों कुझ बोले ।

लक्खां हंस मरीवन गश खा
जे हंझू इक डोहले ।
उड्डन मार उडारी बगले
जे वालां थीं खोहले ।
पै जाए डोल हवावां ताईं,
जे पक्खी फड़ झोले ।
डुब्ब मरीवन शौह थीं तारे
मुक्ख दे वेख ततोले ।

चन्न दूज दा वेख रेहा सी
वेहड़े विच फलाही ।
शीशो शीश्यां वाली रंगली
थल्ले चरखी डाही ।
कोह कोह लंमियां तन्दां कढ्ढदी
चा चन्दन दी बाही ।
पूणियां ईकन कढ्ढे बूम्बल
ज्युं सावन विच काही ।

हेक समुन्दरी पौणां वरगी
कोइलां देन ना डाही ।
रंग जिवें केसू दी मंजरी
नूर मुक्ख अलाही ।
वाल जिवें चानन दियां नदियां
रेशम देन गवाही ।
नैन कुड़ी दे नीले जीकण
फुल्ल अलसी दे आही ।

चन्न तीज दा वेख रेहा सी
शीशो नदीए न्हाउंदी ।
भर भर चुलियां धोंदी मुक्खड़ा
सतिगुर नाम ध्याउंदी ।
अकस प्या विच नित्तरे पाणी
आप वेख शरमाउंदी ।
सड़ सड़ जांदे नाज़ुक पोटे
जिस अंग हत्थ छुहाउंदी ।

सुत्ते वेख नदी विच चानण
रूह उहदी कमलाउंदी ।
मार उडारी लंमी सारी
अरशीं उड्डना चाहुन्दी ।
महकां वरगा सुपना उणदी
झूम गले विच पाउंदी ।
सुपने पैरीं झांजर पा के
तौड़ी मार उडाउंदी ।

चन्न चौथ दा वेख रेहा सी
खड़्या वांग ड्रावे ।
शीशो दा प्यु खेतां दे विच
उग्ग्या नज़रीं आवे ।
तोड़ उफ़क तक झूम रहे सन
टांडे सावे सावे ।
हर सू नच्चे फ़सल स्यूलां
लै विच धरत कलावे ।

शीशो दा प्यु ड्रदा किधरे
मालक ना आ जावे ।
पल पल मगरों मारे चांगर
बैठे अड़क उडावे ।
रात दिने दी राखी बदले
टुक्कर चार कमावे ।
अद्धी रात होयी पर जागे
डर रोज़ी दा खावे ।

पंचम दा चन्न वेख रेहा सी
आथन वेला होया ।
लहन्दे दे पत्तणां दा अम्बर
लाल किरमची होया ।
गगनां दे विच कोयी कोयी तारा
जापे मोया मोया ।
शीशो दी मां रंगों लाखी
ज्युं कणकां विच कोया ।

टोर उहदी ज्युं होए नवेरा
बलद तराने जोया ।
नैन उहदे बरसाती पानी दा
ज्युं होवे टोया ।
वाल जिवें कोयी दूधी बद्दल
सरूआं उेहले होया ।
शीशो दी मां वेख विचारी
चन्न बड़ा ही रोया ।

चन्न छटी दा वेख रेहा सी
शीशो ढाके चायी ।
घड़ा गुलाबी गल गल भर्या
लै खूहे तों आई ।
खड़्या वेख बीही विच मालिक
खेतां दा, शरमायी ।
डरी ड्रायी ते घबराई
लंघ गई ऊंधी पायी ।

मटक-चानने वाकन उसदी
जान लबां 'ते आई ।
लो लगदी उहदी रूह थीं जापे
लभ्भे किरन ना कायी ।
जिस पल सुट्ट्या पैर घरे थीं
उस पल थीं पछतायी ।
सारी रैन निमानी शीशो
पासे परत वेहायी ।

सतवीं दा चन्न वेख रेहा सी
चुप्प चपीते खड़्हआ ।
पिंड दा मालक चूर नशे विच
वेख बड़ा ही ड्र्या ।
इक हत्थ सांभ बक्की दियां वागां
इक हत्थ हन्ने धर्या ।
कन्नीं उहदे नत्तियां लिशकण
मुक्ख 'ते सूरज चड़्हआ ।

उमरों अधखड़ रंग प्याज़ी
सिर 'ते साफा हर्या ।
अड्डी मार बक्की दी कुक्खे
जा खेतां विच वड़्या ।
शीशो दा प्यु मालिक साहवें
ऊंधी पायी खड़्या ।
वेख रेहा सी लिश लिश करदा
हार तली 'ते धर्या ।

चन्न अशटमी दे ने तक्क्या
शीशो भों 'ते लेटी ।
चिट्टी दुद्ध मरमरी चिप्पर
चानन विच वल्हेटी ।
साहवां दे विच विल्हे कथूरी
दूरों आण उचेटी ।
सुत्ती घूक लवे पई सुफ़ने
चन्न रिशमां दी बेटी ।

सुफ़ने दे विच शीशो ने
खुद शीशो मोयी वेखी ।
डिट्ठा कुल्ल गरां उस सड़दा
सुक्की सारी खेती ।
शीशो दे प्यु मोयी शीशो
कफ़न बदले वेची ।
शीशो वेख कुलहना सुफ़ना
झब्बदी उट्ठ खलोती ।

नौवीं दा चन्न वेख रेहा सी
शीशो 'ते इक सायआ ।
शीशो संग टुरींदा
अद्धी रात नदी 'ते आया ।
नदीए गल गल चानन वगदा
हड़्ह चानन दा आया ।
चीर नदी दे चानन लंघ गए
शीशो ते उह सायआ ।

बां बां करदा संघना बेला
विच किसे महल पुआया ।
शीशो पैर जां धर्या महलीं
कुल्ल बेला कुरलायआ ।
चन्न महलां थीं मारे टक्करां
पर कुझ नज़र ना आया ।
सारी रात रेहा चन्न रोंदा
भुक्खा ते तिरहायआ ।

दसवीं दा चन्न अम्बरां दे विच
वग्ग बद्दलां दे चारे ।
रुक रुक झल्ला पायी जावे
मगरी दे विच तारे ।
कोह कोह लंमे शीशो गल विच
मुशकी वाल खिलारे ।
लै लै जान सुनेहे उहदे
पौणां दे हरकारे ।

चन्न विचारा महलां वल्ले
डरदा झात ना मारे ।
महलीं बैठे पीवन मदरा
मालिक नाल मुज़ारे ।
वांग पूणियां होए बग्गे
शीशो दे रुख़सारे ।
हासे दा फुल्ल रेहा ना काई
होठां दी कचनारे ।

चन्न इकादश दे ने तक्क्या
शीशो वांग शुदैणां ।
नंगी अलफ़ फिरे विच महलां
जिवें सुणीवन डैणां ।
मुक्ख 'ते हलदी दा ले चड़्हआ
अग्ग बले विच नैणां ।
पुट्टे पैर तां ठेडा लग्गे
औखा दिसे बहना ।

थंम्हियां पकड़ खलोवे चन्दरी
आया वकत कुलहना ।
मां मां करदी मारे डाडां
सबक रटे ज्युं मैना ।
औखा जीकन होए पछानण
सूरज चड़्हे टटहना ।
सोईयो हाल होया शीशो दा
सूरत दा की कहना ।

चन्न दुआदश दे ने तक्क्या
शीशो महलीं सुत्ती ।
दिसे वांग चर्ही दे टांडे
सवा मसातर उच्ची ।
पीली-भूक होयी वत्त पोहली
नीम जोगिया गुट्टी ।
पौन वगे तां उड्ड जाए शीशो
तोड़ तणावों टुट्टी ।

लए हटकोरे जापे जीकण
बस्स मुक्की कि मुक्की ।
लंमी पई करीचे दन्दियां
लुड़छे हो हो पुट्ठी ।
ढाईं मार कुरलाए शीशो
ज्युं ढाबीं तरमुच्ची ।
पर चन्न बाझों किसे ना वेखी
उह हड्डां दी मुट्ठी ।

चन्न तिरौदश दे ने तक्क्या
हो महलां दे नेड़े ।
पानी पानी करदी शीशो
जीभ लबां 'ते फेरे ।
शीशो पलंघ 'ते लेटी हूंघे
पीले होठ तरेड़े ।
पल पल मगरों नीम ग़शी विच
रत्ते नैन उघेड़े ।

हू हू करदी बिल्ल-बतौरी
बोले बैठ बनेरे ।
दूर गरां दी जूह विच रोवण
कुत्ते चार चुफ़ेरे ।
शीशो वांग धुखे धूनी दे
विच फक्करां दे डेरे ।
चानन लिप्पे वेहड़े दे विच
बी हंझूआं दे केरे ।

चन्न चौधवीं दे ने तक्क्या
महलां दे विच गभ्भे ।
नीले नैणां वाली शीशो
भुंजे लाही लग्गे ।
शीशो दे सिरहाने दीवा
आटे दा इक जग्गे ।
लग्गे अद्ध कवारी शीशो
ज्युं मर जासी अज्जे ।

शाला ओस गरां दे सभ्भे
हो जान बुरद मुरब्बे ।
कुल ज़िमीं जां पै जाए गिरवी
जूहां सने सेहद्दे ।
सड़ जाए फ़सल सवे 'ते आई
बोहल पिड़ां विच लग्गे ।
जिस गरां विच ज़िन्दगी नालों
मढ्ढल महंगी लभ्भे ।

पुन्न्यां दा चन्न वेख रेहा सी
चानन आए मकाने ।
पौणां दे गल लग्ग रोवण
शीशो नूं मर जाने ।
अग्ग मघे शीशो दी मड़्हीए
लोगड़ वांग पुराने ।
उट्ठदा धूंआं बुल्ल्हियां टेरे
वाकन बाल अंञाने ।

रोंदे रहे सितारे अम्बरीं
फूहड़ी पा निमाने ।
सारी रात रेहा चन्न बैठा
शीशो दे सिरहाने ।
शाला बांझ मरीवन मापे
ढिड्डों भुक्खे भाने ।
उस घर जंमे ना कोयी शीशो
जिस घर होन ना दाने ।

इतरां दे चो

जिथे इतरां दे वगदे ने चो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा
जिथों लंघदी ए पौन वी खलो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

नंगे नंगे पैरीं जिथे आउन परभातां
रिशमां दी महन्दी पैरीं लाउन जित्थे रातां
जिथे चाननी च न्हावे ख़ुशबो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

जिथे हन मूंगिया चन्दन दियां झंगियां
फिरन शुआवां जिथे हो हो नंगियां
जिथे दीव्यां नूं लभ्भदी ए लो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

पानी दे पट्टां उत्ते सवें जिथे आथण
चुंगियां मरीवे जिथे मिरगां दा आतण
जिथे बदोबदी अक्ख पैंदी रो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

भुक्खे भाने सौन जिथे खेतां दे राणे
सज्जणां दे रंग जेहे कणकां दे दाणे
जिथे दम्मां वाले लैंदे ने लुको
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

जिथे इतरां दे वगदे ने चो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा
जिथों लंघदी ए पौन वी खलो
नी ओथे मेरा यार वस्सदा ।

पंज पड़ाअ

तूं जदों मैनूं मिली सैं पहली वार
तूं केहा सी लाडली जही चपत मार
मैं तेरे तों बहुत ही हां शरमसार
कीह करां विधवा हां मैं मज़बूर हां ।
इस जनम विच मैं तेरे तों दूर हां
फिर वी मैनूं मौत वाकन है यकीन
मैं तेरी अगले जनम विच मां बणांगी
जां तेरी तरीमत दी कुक्खों मैं जणांगी
जां तेरे दुक्खां दी मैं बेलन बणांगी
इह जनम सोहण्यां मेरे बग़ैर
जिस तर्हां वी हो सके तूं गुज़ार
तूं जदों मैनूं मिली सैं पहली वार
तूं केहा सी लाडली जही चपत मार
मैं तेरे तों बहुत ही हां शरमसार ।

तूं जदों मैनूं मिली सैं दूजी वार
किरमची इक शाम सूही सोगवार
बदलियां दे सोन-रथ 'ते हो सवार
जा रही सी पेकड़े इक रात लई
धूं जहे दे वाल मोढे 'ते खिलार
शाम दी उस अरगवानी धूड़ विच
हत्थ तेरे घुग्गियां वत्त गुटकदे
मेरे हत्थां विच जिन्हां विच मौत सी
ख़ौरे केहड़े वेलड़े सी आ गए ?
तारे आथन दे सी सभ शरमा गए
भेत साडे प्यार दा सी पा गए
पा गए सी जीभ साडी नूं मुहार
तूं जदों मिली सैं दूजी वार
किरमची इक शाम सूही सोगवार
बदलियां दे सोन-रथ 'ते हो सवार
जा रही सी पेकड़े इक रात लई
धूं जहे दे वाल मोढे 'ते खिलार ।

तूं जदों मैनूं मिली सैं तीजी वार
मैं तेरे नैणां च वेखी सी उजाड़
उघ्घ रहियां सन हज़ारां बत्तियां
जाग रहे सन शहर तेरे दे बाज़ार
तूं केहा सी करद्यां इक सड़क पार
इह सड़क लग्गी है मैनूं ईकणा
जीकना मल्हआं दी छावें हाड़ विच
बैठी होवे नागनी कोयी फ़न खिलार
आई होवे काम 'दी उस ते बहार
फेर अचन-चेत सैं तूं रो पई
मूंह दुआले बाज़ूआं दा झुम्ब मार
तूं केहा सी मोड़ दे मेरा प्यार
झुलस चुक्की कली नूं की हक्क है ?
चूस चुक्के होन कि जिस नूं इतार ?
इक पवित्तर भौर तों मंगे प्यार
तूं जदों मैनूं मिली सैं तीजी वार
मैं तेरे नैणां च वेखी सी उजाड़ ।

तूं जदों मैनूं मिली सैं चौथी वार
पत्तझड़ां विच बदल चुक्की सी बहार
चुभ चुक्के सन हुसन दी तली विच
बेरहम, बेदरद सै सम्यां दे ख़ार
मौत तैनूं कूक के सी रही वंगार
संघने सिंमलां दे हेठां बैठ्यां
कर रहे सां सरब-सम्यां 'ते विचार
जद ही कूंजां असाडे सिरां तों
लंघ गईआं सी बना लंमी कतार
तूं केहा सी-हाए इन्हां दे बच्चड़े
रहन दब्बे रेत दे विच तत्तड़े
बहुत ही निरमोही हन इह पंखड़ू
इन्हां च इक मोह-परी दा है सराप
करनगे लोकीं एन्हां दा नित्त शिकार
लक्ख भावें बन्न्ह के उड्डन कतार
लक्ख भावें होए इन्हां दा प्यार
बनणगे ढिड्डां च इन्हां दे मज़ार
फेर तूं मुड़ मुक्ख 'ते हासी खिलार
आख्या सी बुल्ल्हियां 'ते जीभ मार
मैं तां तैनूं बहुत ही करदी हां प्यार
तूं जदों मैनूं मिली सैं चौथी वार
पत्तझड़ां विच बदल चुक्की सी बहार ।

तूं जदों मैनूं मिली हैं एस वार
दग़ रहे ने मेरे साहवें कुझ अंगार
धुख़ रहे ने अद्ध-जले मोछे स्याह
भर रेहा मेरी हिक्क विच धूंआं जेहा
वग रही है हौक्यां दी इक झलार
मैं तेरे तों बहुत ही हां शरमसार
कर ना सक्या आख़री तेरा दीदार
फिर वी मैनूं मौत वाकन है यकीन
तूं मेरी अगले जनम विच मां बणेंगी
जां मेरी तरीमत दी कुक्खों तूं जणेंगी
जां मेरे दुक्खां दी तूं बेलन बणेंगी
माए नी, धीए नी मेरीए महरमे
कर के तैनूं जा रेहा हा नमसकार
दग़ रहे ने मेरे साहवें कुझ अंगार
धुख़ रहे ने अद्ध-जले मोछे स्याह
मिल ग्या मिट्टी च है तेरा आकार
तूं जदों मैनूं मिली हैं एस वार ।

परदेस वस्सन वाल्या

रोज़ जद आथन दा तारा
अम्बरां 'ते चड़्हेगा
कोयी याद तैनूं करेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

याद करके तैंडड़े
ठुकरयी हासे दी आवाज़
जिगर मेरा हिजर दे
सक्कां दी अग्ग विच सड़ेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

तेरे ते मेरे वाकणां
ही फूक दित्ता जाएगा
जो यार साडी मौत 'ते
आ मरसिया वी पड़्हेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

गरम साहवां दे समुन्दर
विच गरक जाए दिल
कौन इहनूं नूह दी
किशती दे तीकन खड़ेगा ?
परदेस वस्सन वाल्या ।

धरत दे मत्थे 'ते
टंगी अरश दी कुन्नी स्याह
पर कलहना नैण
सम्यां दा असर कुझ करेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

पालदे बे-शक्क भावें
काग ने कोइलां दे बोट
पर ना तेरे बाझ
मेरी ज़िन्दगी दा सरेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

लक्ख भावें छुंग के
चल्लां मैं लहंगा सबर दा
याद तेरी दे करीरां
नाल जा ही अड़ेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

बख़श दित्ती जाएगी
तेरे जिसम दी सलतनत
चांदी दे बुन के जाल
तेरा दिल हुमा जो फड़ेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

रोज़ जद आथन दा तारा
अम्बरां 'ते चड़्हेगा
कोयी याद तैनूं करेगा
परदेस वस्सन वाल्या ।

साह सज्जणां दा

इक साह सज्जणां दा
इक साह मेरा
केहड़ी थां धरती उत्ते बीजीए नी मां ।
गहने तां पई ऊ साडे
दिले दी धरती
होर माए जच्चदी कोयी ना ।

जे मैं बीजां माए
तार्यां दे नेड़े-नेड़े
रब्ब दी मैं ज़ात तों ड्रां
जे मैं बीजां माए
शर्हां दियां ढक्कियां 'ते
ताअना मारू सारा नी गरां ।

जे मैं बीजां माए
महलां दियां टीसियां 'ते
अत्थरे तां महलां दे नी कां
जे मैं बीजां माए
झुग्गियां दे वेहरड़े
मिद्धे नी मैं जान तों ड्रां ।

महंगे तां साह साडे
सज्जणां दे साडे कोलों
किद्दां द्यां बीज नी कुथां
इक साडी लद्द गई ऊ
रुत्त नी जवानियां दी
होर रुत्त जच्चदी कोयी ना ।

जे मैं बीजां माए
रुत्त नी बहार दी 'च
महकां विच डुब्ब के मरां
चट्ट लैन भौर जे
पराग माए बूथियां तों
मैं ना किसे कंम दी रव्हां ।

जे मैं बीजां माए
साउन दियां भूरां विच
मन्दी लग्गे बदलां दी छां
जे मैं बीजां माए
पोह द्यां कक्करां 'च
नेड़े तां सुणीदी ऊ ख़िज़ां ।

माए साडे नैणां दियां
कस्सियां दे थल्ल्यां 'च
लभ्भे किते पानी दा नां
तत्ती तां सुणींदी बहुं
रुत्त नी हुनाल्यां दी
दुक्खां विच फाथी ऊ नी जां ।

इक साह सज्जणां दा
इक साह मेरा
केहड़ी थां धरती उत्ते बीजीए नी मां ।
गहने तां पई ऊ साडे
दिले दी धरती
होर माए जच्चदी कोयी ना ।

इलज़ाम

मेरे 'ते मेरे दोसत
तूं इलज़ाम लगायऐ
तेरे शहर दी इक तितली दा
मैं रंग चुरायऐ
पुट्ट के मैं किसे बाग़ 'चों
गुलमोहर दा बूटा
सुन्नसान बियाबान
मैं मड़्हियां च लगायऐ ।

हुन्दी है सुआंझने दी
जिवें जड़्ह च कुड़ित्तण
ओना ही मेरे दिल दे जड़्हीं
पाप समायऐ ।
बदकार हां बदचलन हां
पुज्ज के हां कमीना
हर ग़म दा अरज़ जान के
मैं तूल बणायऐ ।

मैं शिकरा हां मैनूं चिड़ियां दी
सोंहदी नी यारी
खोटे ने मेरे रंग
मैं झूठा हां ललारी
शुहरत दा स्याह सप्प
मेरे गल च पलमदै
डस्स जाएगा मेरे गीतां सणे
दिल दी पटारी ।

मेरी पीड़ अशवथामा दे
वाकन ही अमर है
ढह जाएगी पर जिसम दी
छेती ही अटारी
गीतां दी महक बदले
मैं कुक्खां दा वनज करदां
तूं लिख्या है मैं बहुत ही
अल्लड़्ह हां वपारी ।

तूं लिखिऐ कि पुत्त किरनां दे
हुन्दे ने सदा साए
सायआं दा नहीं फ़रज़
कि हो जान पराए
साए दा फ़रज़ बणदा है
चानन दी वफ़ादारी
चानन च सदा उग्गे
ते चानन च ही मर जाए ।

दुक्ख हुन्दै जे पिंजरे दा वी
उड्ड जाए पंखेरू
पर मैं ते नवें रोज़ ने
डक्के 'ते उडाए
कारन है हवस इको
मेरे दिल दी उदासी
जो गीत वी मैं गाए ने
मायूस ने गाए ।

तूं होर वी इक लिखिऐ
किसे तितली दे बारे
जिस तितली ने मेरे बाग़ 'च
कुझ दिन सी गुज़ारे
जिस तितली नूं कुझ चांदी दे
फुल्लां दा ठरक सी
जिस तितली नूं चाहीदे सी
सोने दे सितारे ।

प्यारा सी उहदा मुक्खड़ा
ज्युं चन्न चड़्हआ उजाड़ीं
मेरे गीत जिद्ही नज़र नूं
सन बहुत प्यारे
मन्नदा सैं तूं मैनूं पुत्त
किसे सरसवती दा
अज्ज राए बदल गई तेरी
मेरे है बारे ।

आख़िर च तूं लिखिऐ
कुझ शरम करां मैं
तेज़ाब दे इज हौज 'च
अज्ज डुब्ब मरां मैं
बिमार जेहे जिसम
ते गीतां दे सने मैं
टुर जावां तेरे दोश दी
अज्ज जूह 'चों पर्हां मैं ।

मेरी कौम नूं मेरे थोथे जेहे
ग़म नहीं लोड़ींदे
मैनूं चाहीदै मज़दूर दे
हक्कां लई लड़ां मैं
महबूब दा रंग वंड द्यां
कणकां नूं सारा
कुल्ल दुनियां दा ग़म
गीतां दी मुन्दरी च जड़ां मैं ।

 
 
 Hindi Kavita