Hindi Kavita
शाह हुसैन
Shah Hussain
 Hindi Kavita 

Kafian Shah Hussain in Hindi.

काफ़ियां शाह हुसैन

1. आगे नैं डूंघी, मैं कित गुन लंघसां पारि

आगे नैं डूंघी, मैं कित गुन लंघसां पारि ।रहाउ।

राति अन्नेरी पंधि दुराडा,
साथी नहीयों नालि ।1।

नालि मलाह दे अणबनि होई,
उह सचे मैं कूड़ि विगोई,
कै दरि करीं पुकार ।2।

सभना सईआं सहु राव्या,
मैं रह गई बे तकरारि ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मैं रोनियां वखति गुजारि ।4।

2.आखर दा दम बुझि, वे अड़्या

आखर दा दम बुझि, वे अड़्या ।रहाउ।

सारी उमर वंञायआ एवें,
बाकी रहिया ना कुझ वे अड़्या ।1।

दरि ते आइ लथे वापारी,
जैथों लीतिया वसत उधारी,
जां तरि थींदा ही गुझि वे अड़्या ।2॥

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
लुझ कुलुझि न लुझि वे अड़्या ।3।

3. आख़र पछोतावेंगी कुड़ीए

आख़र पछोतावेंगी कुड़ीए,
उठि हुन ढोल मनाय लै नीं ।1।रहाउ।

सूहे सावे लाल बाणे,
करि लै कुड़ीए मन दे भाणे,
इकु घड़ी शहु मूल न भाणे,
जासनि रंग वटाय ।1।

किथे नी तेरे नालि दे हाणी,
कल्लर विचि सभ जाय समाणी,
किथे ही तेरी उह जवानी,
किथे तेरे हुसन हवाय ।2।

किथे नी तेरे तुरकी ताज़ी,
सांईं बिनु सभ कूड़ी बाज़ी,
किथे नी तेरा सुइना रुपा,
होए ख़ाक सुआह ।3।

किथे नी तेरे माणिक मोती,
अहु जंज तेरी आइ खलोती,
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
पउ सांईं दे राह ।4।

4. आख नीं माए आख नीं

आख नीं माए आख नीं,
मेरा हाल साईं अग्गे आखु नीं ।1।रहाउ।

प्रेम दे धागे अंतरि लागे,
सूलां सेती मास नीं ।1।

निजु जणेदीए भोलीए माए,
जन करि लाययो पापु नीं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
जाणदा मउला आप नीं ।3।

5. आउ कुड़े रलि झूंमर पाउ नीं

आउ कुड़े रलि झूंमर पाउ नीं,
आउ कुड़े रलि रामु ध्याउ नीं ।
मान लै गलियां बाबलु वालियां,
वति न खेडनि देसिया माउ नीं ।रहाउ।

साडा जीउ मिलनु नूं करदा,
सुंञा लोक बख़ीली करदा ।
सानूं मिलन दा पहलड़ा चाउ नीं ।1।

सईआं वसनि रंगि महलीं,
चाउ जिनां दे खेडनि चल्ली ।
हथि अटेरन रह गई छल्ली,
दरि मुकलाऊ बैठे आउ नीं ।2।

उच्चे पिप्पल पींघां पईआं,
सभ सईआं मिल झूटनि गईआं ।
आपो आपनी गई लंघाउ नीं ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
दुनियां छोडि आख़र मरि जाना ।
कदी तां अन्दरि झाती पाउ नीं ।4।

6. आप नूं पछान बन्दे

आप नूं पछान बन्दे ।
जे तुध आपना आप पछाता,
साहब नूं मिलन आसान बन्दे ।रहाउ।

उचड़ी माड़ी सुइने दी सेजा,
हर बिन जान मसान बन्दे ।1।

इत्थे रहन किसे दा नाहीं,
काहे कूं तानह तान बन्दे ।2।

कहै हुसैन फ़कीर रब्बाणा,
फ़ानी सभ जहान बन्दे ।3।

7. आशक होवैं तां इशक कमावैं

आशक होवैं तां इशक कमावैं ।रहाउ।

राह इशक दा सूई दा नक्का,
तागा होवे तां जावैं ।1।

बाहर पाक अन्दर आलूदा,
क्या तूं शेख कहावैं ।2।

कहै हुसैन जे फारग थीवैं,
तां खास मुरातबा पावैं ।3।

8. अहनिसि वसि रही दिल मेरे

अहनिसि वसि रही दिल मेरे,
सूरति यारु प्यारे दी ।

बाग़ तेरा बगीचा तेरा,
मैं बुलिबुलि बाग़ तेहारे दी ।रहाउ।

आपने शहु नूं आप रीझावां,
हाजति नहीं पसारे दी ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
थीवां खाकि दुआरे दी ।2।

9. अमलां दे उपरि होग नबेड़ा

अमलां दे उपरि होग नबेड़ा,
क्या सूफी क्या भंगी ।रहाउ।

जो रब्ब भावै सोई थीसी,
साई बात है चंगी ।1।

आपै एक अनेक कहावै,
साहब है बहुरंगी ।2।

कहै हुसैन सुहागनि सोई,
जे सहु दे रंग रंगी ।3।

10. अनी जिन्दे मैंडड़ीए

अनी जिन्दे मैंडड़ीए,
तेरा नलियां दा वखतु वेहाना ।1।रहाउ।

रातीं कत्तें देहीं अटेरें,
गोडे लाययो ताना ।1।

कोई जो तन्द पई अवली,
साहब मूल न भाना ।2।

चीरी आई ढिल न काई,
क्या राजा क्या राना ।3।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
डाढे दा राहु निमाना ।4।

11. अनी सईयो नीं

अनी सईयो नीं,
मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी,
अत्तन दे विच गोड़े रुलदे,
हथि विच रह गई जुटी ।1।रहाउ।

सारे वर्हे विच छल्ली इक कत्ती,
काग मरेंदा झुट्टी ।1।

सेजे आवां कंत न भावां,
काई वग्ग गई कलमु अपुठी ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
सभ दुनियां जांदी डिट्ठी ।4।

12. असां बहुड़ि ना दुनियां आवणा

असां बहुड़ि ना दुनियां आवना ।रहाउ।

सदा ना फलनि तोरियां
सदा ना लगिदे नी सावना ।1।

सोई कंमु विचारि के कीजीऐ जी,
जां ते अंतु नहीं पछुतावना ।2।

कहै शाह हुसैन सुणाय कै,
असां ख़ाक दे नाल समावना ।3।

13. असां कितकूं शेख़ सदावणा

असां कितकूं शेख़ सदावणा,
घरि बैठ्यां मंगल गावणा,
असां टुकर मंगि मंगि खावणा,
असां एहो कंम कमावना ।1।रहाउ।

इशक फ़कीरां दी टोहणी,
इह वसत अगोचर जोहणी,
असां तलब तेरी है सोहणी,
असां हर दंम रब्ब ध्यावना ।1।

असां होरि न किसे आखणा,
असां नाम सांईं भाखणा,
इक तकिया तेरा राखणा,
असां मन अपुना समझावना ।2।

असां अन्दर बाहर लाल है,
असां मुरशदि नाल प्यार है,
असां एहो वनज वपार है,
असां जीवन्द्यां मरि जावना ।3।

कोई मुरीदु कोई पीर है,
एहु दुनियां सभ ज़हीर है ।
इक शाहु हुसैन फ़कीर है,
असां रलमिलि झुरमटि पावना ।4।

14. चोर करन नित्त चोरियां

चोर करन नित्त चोरियां,
अमली नूं अमलां दियां घोड़ियां,
कामी नूं चिंता काम दी,
असां तलब सांईं दे नामु दी ।1।रहाउ।

पातिशाहां नूं पातिशाहियां,
शाहां नूं उगराहियां,
मेहरां नूं पिंड गरांव दी ।1।

इकु बाजी पाई साईआं,
इक अचरज खेल बणाईआं,
सभि खेड खेड घरि आंवदी ।2।

लोक करन लड़ाईआं,
सरमु रखीं तूं साईआं,
सभ मरि मरि ख़ाक समांवदी ।3।

इक शाहु हुसैन फ़कीर है,
तुसीं न कोई आखो पीर है,
असां कूड़ी गल्ल न भांवदी ।4।

15. अत्तन मैं क्युं आई सां

अत्तन मैं क्युं आई सां,
मेरी तन्द न पईआ काय ।

आउंद्यां उठि खेडनि लगी,
चरखा छड्या चाय ।रहाउ।

कत्तन कारन गोढ़े आंदे,
गया बलेदा खाय ।1।

होरनां दियां अड़ी अट्टियां,
निमानी दी अड़ी कपाह ।2।

होरनां कत्तियां पंज सत पूणियां,
मैं की आखांगी जाय ।3।

कहै हुसैन सुचजियां नारी,
लैसन सहु गल लाय ।4।

16. बाबल गंढीं पाईआं

बाबल गंढीं पाईआं,
दिन थोड़े, पाए,
दाज वेहूनी मैं चली,
मुकलाऊड़े आए ।1।

या मउला या मउला,
फिर है भी मउला ।1।रहाउ।

गंढां खुलनि तेरियां,
तैनूं ख़बर न काई,
इस विछोड़े मउत दे,
कोई भैन न भाई ।2।

आवहु मिलहु सहेलड़ीओ,
मैं चड़नी हां खारे,
वत्त न मेला होसियां,
हुन एहो वारे ।3।

मां रोवन्दी ज़ार ज़ार,
भैन खरी पुकारे,
अज़राईल फ़रेशता
लै चल्या विचारे ।4।

इक अन्हेरी कोठड़ी
दूजा दीवा न बाती,
बाहों पकड़ जम लै चले,
कोई संग न साथी ।5।

खुदी तकब्बरी बन्द्या छोडि दे,
तूं पकड़ हलीमी,
गोर निमानी नूं तूं यादि करि,
तेरा वतन कदीमी ।6।

हत्थ मरोड़ें सिर धुणे,
वेला छलि जासी,
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मित्र होइ उदासी 7।

17. बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा

बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा ।
बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा ।रहाउ।

मन तनूर आंही दे अलम्बे,
सेज चढ़ीदा मैंडा तन मन भुजदा ।1।

तन दियां तन जाणे,
मन दियां मन जाणे,
महरमी होइ सु दिल दियां बुझदा ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
लोक बखीला पचि पचि लुझदा ।3।

18. बालपन खेड लै कुड़ीए नीं

बालपन खेड लै कुड़ीए नीं,
तेरा अज्ज कि कल्ह मुकलावा ।रहाउ।

खेनूड़ा खिडन्दीए कुड़ीए,
कन्नु सुइने दा वाला,
साहुरड़े घरि अलबत जाणा,
पेईए कूड़ा दावा ।1।

सावनु मांह सरंगड़ा आया,
दिस्सन सावें तल्ले,
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
अजु आए कल्ह चल्ले ।2।

19. बन्दे आप नूं पछाण

बन्दे आप नूं पछान ।
जे तैं आपदा आपु पछाता,
साईं दा मिलन असानु ।रहाउ।

सोइने दे कोटु रुपहरी छज्जे,
हरि बिनु जानि मसानु ।1।

तेरे सिर ते जमु साजश करदा,
भावें तूं जान न जान ।2।

साढे तिन हथि मिलख तुसाडी,
एडे तूं ताने ना तानु ।3।

सुइना रुपा ते मालु ख़ज़ीना,
होइ रहआ महमानु ।4।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
छड्डि दे ख़ुदी गुमानु ।5।

20. बुरियां बुरियां बुरियां वे

बुरियां बुरियां बुरियां वे,
असीं बुरियां वे लोका ।

बुरियां कोल न बहु वे ।
तीरां ते तलवारां कोलों,
तिक्खियां बिरहुं दियां छुरियां वे लोका ।1।रहाउ।

लडि सज्जन परदेस सिधाणे,
असीं विद्या कर के मुड़ियां वे लोका ।1।

जे तूं तख़त हज़ारे दा सांईं,
असीं स्यालां दियां कुड़ियां वे लोका ।2।

साझ पाति काहूं सों नाहीं,
सांईं खोजनि असीं टुरियां वे लोका ।3।

जिन्हां सांईं दा नाउं न लीता,
ओड़क नूं उह झुरियां वे लोका ।4।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
साहबु स्युं असीं जुड़ियां वे लोका ।5।

(पाठ भेद)

असीं बुरियां वे लोका बुरियां।
कोल न बहु वे असीं बुरियां ।रहाउ।

तीरां ते तलवारां कोलों,
तिक्खियां नैणां दियां छुरियां ।

सज्जन असाडे परदेस सिधाणे,
असीं विद्या कर के मुड़ियां ।

जे तूं तख़त हज़ारे दा सांईं,
असीं स्यालां दियां कुड़ियां ।

कहै हुसैन फ़कीर रबाणा,
लगियां मूल न मुड़ियां ।

21. चारे पलू चोलणी, नैन रोंदी दे भिन्ने

चारे पलू चोलणी,
नैन रोंदी दे भिन्ने ।रहाउ।

कति न जाना पूणियां,
दोश देनियां मुन्ने ।1।

आवनु आवनु कह गए,
माह बारां पुन्ने ।2।

इक अन्न्हेरी कोठड़ी,
दूजे मित्तर विछुन्ने ।3।

काले हरना चर ग्युं
शाह हुसैन दे बन्ने ।4।

22. चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े ।
चरेंदी आई लेलड़े,
तुमेंदी उन्न कुड़े ।रहाउ।

उच्ची घाटी चढ़द्यां,
तेरे कंडे पैर पुड़े ।
तैं जेहा मैं कोई न डिट्ठा,
अग्गे होइ मुड़े ।1।

बिनां अमलां आदमी,
वैंदे कक्खु लुड़े ।
पीर पैकम्बर अउलीए,
दरगह जाय वड़े ।2।

सभे पानी हारियां,
रंगा रंग घड़े ।
शाह हुसैन फ़कीर साईं दा,
दरगह वंज खड़े ।3।

23. चारे पल्ले चूनड़ी नैन रोंदी दे भिन्ने

चारे पल्ले चूनड़ी नैन रोंदी दे भिन्ने ।
आवन आवन कह गए जाहु बागां पुन्ने ।
कत्त न जाणां पूणियां दोश देदी हां मुन्ने ।
लिखन हारा लिख गया की होंदा रुन्ने ।
इक हनेरी कोठड़ी दूजा मित्तर विछुन्ने ।
काल्या हरना चर गइओं, शाह हुसैन दे बन्ने ।

24. चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लाल

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु ।रहाउ।

जेवडु चरखा तेवडु मुन्ने,
हुन कह गया, बारां पुन्ने,
साईं कारन लोइन रुन्ने,
रोइ वंञायआ हालु ।1।

जेवडु चरखा तेवडु घुमायण,
सभे आईआं सीस गुन्दायण,
काई न आईआ हाल वंडायण,
हुन काई न चलदी नालु ।2।

वच्छे खाधा गोढ़ा वाड़ा,
सभो लड़दा वेड़ा पाड़ा,
मैं की फेड़्या वेहड़े दा नीं,
सभ पईआं मेरे ख्यालु 3।

जेवडु चरखा तेवडु पच्छी,
माप्यां मेर्यां सिर ते रक्खी,
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
हर दम नाम समालु ।4।

25. चूहड़ी हां दरबार दी

चूहड़ी हां दरबार दी ।रहाउ।

ध्यान दी छज्जली ग्यान दा झाड़ू,
काम करोध नित्त झाड़दी ।
काज़ी जाने सानूं हाकम,
जाणे, साथे फारखती वेगार दी ।1।

मल्ल जाने अर महता जाणै,
मैं टहल करां सरकार दी ।
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
तलब तेरे दीदार दी ।2।

26. डाढा बेपरवाह

डाढा बेपरवाह,
मैड्डी लाज तैं पर आही ।

हत्थी महन्दी पैरीं महन्दी,
खारे चाय बहाई ।
सस्स निनाणां देंदियां ताहने,
दाज वेहूनी आई ।

सुन्ने मुन्ने दायम रुन्ने,
चरखै जीउ खपायआ ।
बीबी पच्छी दायम पच्छी,
कति तुम्ब जिस विच पायआ ।

भउंद्यां चौंद्यां छल्ली कीती,
काज पायआ लै जायआ ।

रात अंधेरी गलींएं चिक्कड़,
मिल्या यार सिपाही ।
शाह हुसैन फ़कीर सांईं दा,
इह गल्ल सुझदी आही ।

27. दरद विछोड़े दा हाल

दरद विछोड़े दा हाल,
नी मैं कैनूं आखां ।

सूलां मार दीवानी कीती,
बिरहुं पया साडे ख़्याल,
नी मैं कैनूं आखां ।

सूलां दी रोटी दुखां दा लावण,
हड्डां दा बालन बाल,
नी मैं कैनूं आखां ।

जंगल जंगल फिरां ढूंढेंदी,
अजे न मिल्या महींवाल,
नी मैं कैनूं आखां ।

रांझन रांझन फिरां ढूंढेंदी,
रांझन मेरे नाल,
नी मैं कैनूं आखां ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
वेख निमाण्यां दा हाल,
नी मैं कैनूं आखां ।

28. डेख न मैंडे अवगुन डाहूं

डेख न मैंडे अवगुन डाहूं,
तेरा नामु सत्तारी दा ।रहाउ।

तूं सुलतान सभो किछु सरदा,
मालम है तैनूं हाल जिगर दा,
तउ कोलों कछु नाहीं पड़दा,
फोलि न ऐब विचारी दा ।1।

तूं ही आकल तूं ही दाना,
तूं ही मेरा करि खसमाना,
जो किछु दिल मेरे विच गुज़रे,
तूं महरम गल्ल सारी दा ।2।

तूंहे दाता तूंहे भुगता,
सभ किछु देंदा मूल न चुक्कदा,
तूं दर्याउ मेहर दा वहन्दा,
मांगनि कुरब भिखारी दा ।3।

एहु अरज हुसैन सुणावै,
तेरा कीता मैं मन भावै,
दूख दरद किछु नेड़ि न आवै,
हर दम शुकर गुज़ारी दा ।4।

29. दिल दरदां कीती पूरी

दिल दरदां कीती पूरी,
दिल दरदां कीती पूरी ।रहाउ।

लखि करोड़ जेहनां दे जड़्या,
सो भी झूरी झूरी ।1।

भट्ठि पई तेरी चिट्टी चादर,
चंगी फ़कीरां दी भूरी ।2।

साधि संगति दे ओल्हे रहन्दे,
बुद्ध तिनां दी सूरी ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
ख़लकत गई अधूरी ।4।

30. दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी

दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी,
देखां कउन जीतै बाजी कउन हारै ।

घोड़ा कउन का चाकि चालाकि चाले,
देखां हाथि हिंमति करि कउन डारै ।रहाउ।

इसु जीउ परि बाजिया आन पड़ी,
देखां गोइ मैदान मैं कउन मारै ।1।

हाय हाय जहानि पुकारता है,
समझि खेल बाजी शाहु हुसैन प्यारे ।2।

31. देहुं लथा ही हरट न गेड़ नीं

देहुं लथा ही हरट न गेड़ नीं ।1।रहाउ।

सईआं नालि घरि वंञ सवेरे,
कूड़े झेड़ु न झेड़ि नीं ।1।

इकना भर्या इक भर गईआं,
इकना नूं भई अवेर नीं ।2।

पिछों दी पछुतासें कुड़ीए,
जदूं पउसिया घुंमन घेर नीं ।3।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
इथे वति नहीं आवना फेरि नीं ।4।

32. दिन लथड़ा हरट न गेड़ मुईए

दिन लथड़ा हरट न गेड़ मुईए ।

इक भर आईआं इक भर चलियां ।
इकना लाई डेर मुईए ।

तुझे बिगानी क्या पड़ी,
तूं आपनी आप निबेड़ मुईए ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
आवन न दूजी वेर मुईए ।

33. दुनियां जीवन चार देहाड़े

दुनियां जीवन चार देहाड़े,
कउन किस नाल रुस्से ।रहाउ।

जेह वल्ल वंजां मउत तिते वल्ल,
जीवन कोई न दस्से ।1।

सर पर लद्दना एस जहानों,
रहना नाहीं किस्से ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मउत वटैंदड़ी रस्से ।3।

34. दुनियां तालब मतलब दी वो

दुनियां तालब मतलब दी वो,
सचु सुन वो फ़कीरा ।रहाउ।

मतलब आवै मतलब जावै,
मतलब पूजे गुर पीरा ।1।

मतलब पहनावै, मतलब खिलावै,
मतलब पिलावै नीरा ।2।

कहै हुसैन जिन मतलब छोड्या,
सो मीरन सिर मीरा ।3।

35. दुनियां तों मर जावणा, वत न आवणा

दुनियां तों मर जावणा, वत न आवणा,
जो किछु कीतो बुरा भला वो,
कीता आपना पावना ।रहाउ।

आदमीयों फिर मुरदा कीता,
मितर प्यार्या तेरा चोला सीता,
गोर मंज़ल पहुंचावना ।1।

चार देहाड़े गोइल वासा,
क्या जाना कित ढुलसी वो पासा,
बालक मन परचावना ।2।

चहुं जण्यां मिल झोलम झोली,
कंधे उठाय लीता डंडा डोली,
जंगल जाय वसावना ।3।

कहै हुसैन फ़कीर रबाणा,
कूड़ कड़ावा करदा ई माणा,
खाकू दे विच समावना ।4।

36. गाहकु वैंदा ही कुझि वटि लै

गाहकु वैंदा ही कुझि वटि लै ।
आया गाहकु मूल न मोड़ें,
टका पंजाहा घट्ट लै ।रहाउ।

पेईअड़े दिनि चार देहाड़े,
हरि वलि झाती घति लै ।1।

बाबलि दे घरि दाज वेहूणी,
दड़ि बड़ि पूंनी कति लै ।2।

होरना नाल उधार करेंदी,
साथहु भी कुझ हथि लै ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
इह शाहां दी मति लै ।4।

37. गलि वो कीती साडे ख़्यालु पई

गलि वो कीती साडे ख़्यालु पई,
गल पई वो निबाही लोड़ीए ।रहाउ।

शम्हां दे परवाने वांगूं,
जलद्यां अंगि न मोड़ीए ।1।

हाथी इशक महावत रांझा,
अंकसु दे दे होड़ीए ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
लग्गी प्रीत न तोड़ीए ।3।

38. घड़ी इकु दे मिजमानु मुसाफर

घड़ी इकु दे मिजमानु मुसाफर,
पईआं तां रहन सराईं ।

कोटां दे सिकदार सुणीदे,
अक्खी दिसदे नाहीं ।रहाउ।

छोडि तकब्बरी पकड़ि हलीमी,
कोई कहीं दा नाहीं ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
हरि दम साईं साईं ।2।

39. घरि सोहनि सहियां एतड़ियां

घरि सोहनि सहियां एतड़ियां,
होड़ियां हटकियां रहन न मूले,
डूंघे चिक्कड़ लेटड़ियां ।रहाउ।

काईआं भुक्खियां काई तेहाई,
काय जगन्दियां काय निन्दराई,
कईआं सखियां चुन्द मचाई,
पंजां बेड़ी वहन लुढ़ाई,
सभि घरि दियां मंझ भेतड़ियां ।1।

पंजे सखियां इको जेहियां,
हुकम संजोग इकट्ठियां होईआं,
जो पंजां नूं धागा पाए,
सा सभराई कंतु रीझाए,
कहै हुसैन बिशरमीं सईंआं,
आइ पवनि अचेतड़ियां ।2।

40. घोली वंञां सांईं तैथों

घोली वंञां सांईं तैथों,
हालु असाडे दे महरम सज्जना ।

कदी तां दरस दिखालि प्यार्या,
सदा सुहारा पड़दे कज्जना ।रहाउ।

एहो मंगि लीती तउ कोलों,
पलि पलि बढे तुसां वलि लग्गना ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
हर दम नाम तुसाडे रज्जना ।2।

41. घुंम चरखड़्या घुंम (वे)

घुंम चरखड़्या घुंम (वे),
तेरी कत्तन वाली जीवे,
नलियां वट्टनि वाली जीवे ।रहाउ।

बुढ्ढा होइयों शाह हुसैना,
दन्दीं झेरां पईआं,
उठि सवेरे ढूंडनि लगों,
संझि दियां जो गईआं ।1।

हर दम नाम समाल साईं दा,
तां तूं इसथिर थीवें,
पंजां नदियां दे मूंह आया,
कित गुन चायआ जीवें ।2।

चरखा बोले साईं साईं,
बायड़ बोले तूं,
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मैं नाहीं सभ तूं ।3।

42. गोइलड़ा दिन चारि

गोइलड़ा दिन चारि,
कुड़े सईआं खेडनि आईआं नी ।रहाउ।

भोली माउ न खेडनि देई,
हंझू दरद रुआईआं नी ।
चन्द के चांदन सईआं खेडणि,
गाफ़ल तिमर रहाईआं नी ।1।

साहुरड़े घर अलबित जाणा,
जानन से सभराईआं नी ।
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
जिनां चाईआं सो तोड़ निभाईआं नी ।2।

43. हस्सन खेडनु भाय असाडे

हस्सन खेडनु भाय असाडे,
दित्ता जी रब्ब आपि असानों ।

इक रोंदे रोंदे रोइ गए,
इक हसि रसि लै गए गोइ मैदानों ।रहाउ।

छोडि तकब्बरी पकड़ि हलीमी,
की वट्यो इस ख़ुदी गुमानों ।1।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
सही सलामति चले जहानों ।2।

44. हउं मतीं देंदी हां बाल याने नूं

हउं मतीं देंदी हां बाल याने नूं ।
दारू लायआ लगदा नाहीं,
पुछ पुछ रही स्याने नूं ।रहाउ ।

स्याही गई सपेदी आई,
रोनीं हां वखत वेहाने नूं ।

पंजां नदियां दे मूंह आई,
केहा दोस मुहाने नूं ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
की करीए रब दे भाने नूं ।

45. हुनि तनि देसां तेरा ताणा

हुनि तनि देसां तेरा ताणा,
मेरी जिन्दुड़ीए नीं ।
साहब जादड़ीए नीं ।
सरपर जावणीएं नीं ।
घुंम न आवणीएं नीं ।
हुनि तनि देसां तेरा ताना ।

कत्तद्यां कत्तद्यां उमरि वेहाई,
निकल्या सूत पुराना ।
खड्डी दे विच जलाही फाथी,
नलियां दा वखतु वेहाना ।रहाउ।

ताने पेटे इको सूतरि,
दुतिया भाउ न जाना ।
चउंसी पैंसी छडि कराही,
हज़ारीं रच्छ पछाना ।1।

ताना आंदा बाना आंदा,
आंदा चरखा पुराना ।
आखन दी किछु हाजति नाहीं,
जो जाने सो जाना ।2।

धरनि अकाश विचि विथु चप्पे दी,
तहां शाहां दा ताना ।
सभ दीसे शीशे दा मन्दरि,
विचि शाह हुसैन निमाना ।3।

46. हुसैनूं किस बाग़े दी मूली

हुसैनूं किस बाग़े दी मूली ।

बागां दे विचि चम्बा मरूआ,
मैं भि विचि गंधूली ।

कूड़ी दुनियां कूड़ा माणा,
दुनियां फिरदी फुली ।

छोड तकब्बर पकड़ हलीमी,
शाह हुसैन पाय समझूली ।

47. इकु अरज़ निमाण्यां दी

इकु अरज़ निमाण्यां दी,
सुनि जिन्दू नीं ।

सुरति दा ताणा,
निरति दा बाणा,
हरि हरि पेटा
वुनि जिन्दू नीं ।रहाउ।

काहे को झुरैं ते झखि मारैं,
राम भजनु बिनु बाजी हारैं,
बीज्या ही सो लुनि जिन्दू नीं ।1।

काहे गरबहं देख जुआनी,
तैं जेहियां कईआं खान खवानी,
कालि लईआं सभु चुनि जिन्दू नीं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर गदाई,
पच्छी पूनी देह लुटाई,
शहु नूं मिलनी हैं हुन जिन्दू नीं ।3।

48. इक दिन तैनूं सुपना भी होसन

इक दिन तैनूं सुपना भी होसन
गलियां बाबल वालियां ।

उड्ड गए भौर फुल्लां दे कोलों,
सन पत्तरां सण डालियां ।

जंगल ढूंड्या मैं बेला ढूंड्या,
बूटा बूटा कर भालियां ।

कत्तन बैठियां वति वति गईआं,
ज्युं ज्युं खसम समालियां ।

सेई रातीं लेखै पईआं,
जिके नाल मित्तरां दे जालियां ।

जित तन लग्गी सोई तन जाणै,
होर गल्लां करन सुखालियां ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
बिरहों तुसाडे जालियां ।

49. इक दिन तैनूं सुपना थीसनि

इक दिन तैनूं सुपना थीसनि,
गलियां बाबल वालियां वो ।रहाउ।

उडि गए भउर फुल्लां दे कोलों,
सन पत्तरां सण डालियां ।1।

जितु तनि लग्गी सोई तनि जाणे,
होर गल्लां करन सुखालियां ।2।

रहु वे काजी दिल नहीयों राजी,
गल्लां होईआं तां होवन वालियां ।3।

सेई रातीं लेखे पउसनि,
जो नाल साहब दे जालियां ।4।

नाउं हुसैना ते जात जुलाहा,
गालियां देंदियां ताणियां वालियां ।5।

50. इकि दुइ तिन चारि पंज

इकि दुइ तिन चारि पंज,
छिइ सति असीं अठि नउं ।रहाउ।

चरखा चाय सभे घर गईआं,
रही इकेली इकि हउं ।1।

जेहा रेजा ठोकि वुणायओ,
तेही चादर तानि सउं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
आइ लग्गी हुन छकि पउं ।3।

Next......(51-100)
 
 
 Hindi Kavita