Hindi Kavita
शाह हुसैन
Shah Hussain
 Hindi Kavita 

Kafian Shah Hussain in Hindi.

काफ़ियां शाह हुसैन

101. नाल सजन दे रहीए

नाल सजन दे रहीए ।

झिड़कां झम्बां ते तकसीरां,
सो भी सिर ते सहीए ।

जे सिर कट्ट लैन धड़ नालों,
तां भी आह न कहीए ।

चन्दन रुक्ख लगा विच वेहड़े,
ज़ोर धिङाने खहीए ।

मरन मूल ते जीवन लाहा,
दिलगीरी क्युं रहीए ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
रब्ब दा दित्ता सहीए ।

102. नी असीं आउ खिडाहां लुड्डी

नी असीं आउ खिडाहां लुड्डी ।रहाउ।

नउ तारु डोरु गुड्डी दी,
असीं लै कर हां उड्डी ।1।

साजन दे हत्थ डोर असाडी,
मैं साजन दी गुड्डी ।2।

इसु वेले नूं पछोतासें,
जाय पउसें विच खुड्डी ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
सभु दुनियां जांदी बुड्डी ।4।

103. नीं गेड़ि गिड़न्दीए

नीं गेड़ि गिड़न्दीए,
गड़ीदा गिड़दा गुंमा ।रहाउ।

पंजां नूं क्युं झुरदा भंउदू,
इकसे पाईआं धुंमा ।
जो फ़ल मीठे चिन चुनि खाध्यो,
आहयो कउड़ा तुंमा ।1।

अउखी घाटी बिखड़ा पैंडा,
राह फ़कीरां दा लंमा ।
सारी उमरि वंञाईआ ईंवै,
करि करि कूड़े कंमां ।2।

जिसु धनु तूं गरब करेनैं,
सो नालि न चलसन दंमां ।
लख़्ख़ां ते करोड़ां वाले,
से पउसन वसि जंमां 3।

आउंद्यां थों सदि बलेहारी,
जाउंद्यां थों घुंमां ।
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
पैर साहां दे चुंमां ।4।

104. नी माए सानूं खेडनु देइ

नी माए सानूं खेडनु देइ,
मेरा वति खेडनि कउन आसी ।रहाउ।

इकु कीड़ी ब्या दरस भलेरा,
थर हरि कम्पे कोई इह जिया मेरा,
सहु गुणवंता ब्या रूप चंगेरा,
अंगि लावै कि मूल न लासी ।1।

इह जग झूठा दुनियां फ़ानी,
ईवैं गई मेरी अहल जुआनी,
गफ़लति नालि मेरी उमर वेहानी,
जो लिख्या सोई होसी ।2।

शाह हुसैन फ़कीर रब्बाणा,
सो होसी जो रब्ब दा भाणा,
ओड़क इथों उथे जाणा,
इस वेले नूं पछोतासी ।3।

105. नीं माए, मैनूं खेड़्यां दी गल्लि न आखि

नीं माए, मैनूं खेड़्यां दी
गल्लि न आखि ।रहाउ।

रांझन मैंहडा मैं रांझन दी,
खेड़्यां नूं कूड़ी झाकु ।1।

लोकु जानै हीर कमली होई,
हीरे दा वर चाकु ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
जाणदा मउला आपु ।3।

106. निमाण्यां दी रब्बा रब्बा होई

निमाण्यां दी रब्बा रब्बा होई ।1।रहाउ।

भठि पई तेरी चिट्टी चादर,
चंगी फ़कीरां दी लोई ।1।

दरगाह विच सुहागन सोई,
जो जो खुलि खुलि नच्च खलोई ।2।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
तां दरि लहसें ढोई ।3।

107. नी सईयो असीं नैणां दे आखे लग्गे

नी सईयो असीं नैणां दे आखे लग्गे ।
जिन्हां पाक निगाहां होईआं,
से कहीं न जांदे ठग्गे ।रहाउ ।

काले पट न चढ़ै सफैदी,
कागु न थींदे बग्गे ।1।

शाह हुसैन शहादत पायन,
जो मरन मित्तरां दे अग्गे ।2।

108. नी सईयो मैनूं ढोल मिले तां जापै

नी सईयो मैनूं ढोल मिले तां जापै ।
बिरहु बलाय घत्ती तन अन्दर,
मैं आपे होई आपै ।रहाउ ।

बालपना मैं खेल गवायआ,
जोबन मान ब्यापै ।
सहु रावन दी रीत न जाणी,
इस सुंञे तरनापै ।1।

इशक विछोड़े दी बाली ढाढी,
हर दम मैनूं तापै ।
हकस कहीं नाल दाद न दित्ती,
इक सुंञे तरनापै ।2।

सिकन दूर न थीवे दिल तों,
वेखन नूं मन तापै ।
कहै हुसैन सुहागनि साई,
जां सहु आप सिंञापै ।3।

109. नी तैनूं रब्ब न भुल्ली

नी तैनूं रब्ब न भुल्ली,
दुआइ फ़कीरां दी एहा ।

रब्ब न भुल्ली होर सभ भुल्ली,
रब्ब न भुल्लनि जेहा ।रहाउ।

आयां कुड़मां नूं कुट्टें मलीदा,
फ़करां नूं टुक्कर बेहा ।1।

सुइना रुपा सभु छल वैसी,
इशक न लगदा लेहा ।2।

होरनां नाल हसन्दी खिडन्दी,
तैनूं सहु नाल घुंघटि केहा ।3।

चारे नैन गडा वड होइ,
विच वचोला केहा ।4।

इशक चउबारे पाईयो झाती,
हुन तैनूं ग़म केहा ।5।

आईए दी सहुं बाबले दी सहुं,
गल चंगेरड़ी एहा ।6।

जिस जोबन दा तूं मान करेंदी,
सो जलि बलि थीसी खेहा ।7।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मरना तां माना केहा ।8।

110. ओथे होर न काय कबूल मियां

ओथे होर न काय कबूल मियां,
गलि नेंहु दी ।1।रहाउ।

इक लाय बिभूत बहन लाय ताड़ी,
इक नंगे फिरदे विच उजाड़ीं,
कोई दरद न छाती तेंह दी ।1।

इक रातीं जागिन ज़िकर करेंदे,
इक सरदे फ़िरदे भुख मरेंदे,
जाय नहीं उथे केंह दी ।2।

इक पढ़दे नी हरफ़ कुरानां,
इक मसले करदे नाल ज़बानां,
इह गलि न हासी हेंह दी ।3।

कामल दे दरवाज़े जावैं,
ख़ैरु नेहुं दा मंगि ल्यावैं,
तां ख़बर पवी तिस थेंह दी ।4।

कहै हुसैन फ़कीर गदाई,
लक्खां दी गलि एहा आही,
तलबु नेहीं नूं नेंह दी ।5।

111. पांधिया वो गंढ सुंञड़ी

पांधिया वो गंढ सुंञड़ी,
छडि के न सउं ।1।रहाउ।

पिंड सभोई चोरीं भर्या,
छुटे चीर न चुन्नड़ी ।1।

धुर झगड़ेंद्यां लाज़म थीसें,
फिर करि समझ इथुन्नड़ी ।2।

सभनीं छेरीं पानी वहन्दा,
अज कल भजे तेरी कुन्नड़ी ।3।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
तेरी वहन्दी उमर वेहून्नड़ी ।4।

112. पावेंगा दीदारु साहबु दा

पावेंगा दीदारु साहबु दा,
फ़कीरा होर भी नीवां होइ ।1।रहाउ।

टोपी मैली साबनु थोड़ा,
बह किनारे धोइ ।1।

मीनी ढग्गी नाम सांईं दा,
अन्दरि बह करि चोइ ।2।

उछल नदियां तारू होईआं,
मैं कंढे रही खलोइ ।4।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
होनी होइ सो होइ ।5।

113. प्यारे बिन रातीं होईआं वड्डियां

प्यारे बिन रातीं होईआं वड्डियां ।
रांझा जोग़ी मैं जुग्याणी,
कमली करि करि सड्डियां ।रहाउ।

मास झरे झरि पिंजरु होया,
करकन लगियां हड्डियां ।1।

मैं यानी नेहुं की जाणा,
बिरहु तनावां गड्डियां ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
दावनु तेरे मैं लग्गियां ।3।

114. प्यारे लाल क्या भरवासा दम दा

प्यारे लाल क्या भरवासा दम दा ।रहाउ।

उड्या भौर थिया परदेसी
अग्गे राह अगंम दा ।
कूड़ी दुनियां कूड़ पसारा
ज्युं मोती शबनम दा ।1।

जिन्हां मेरा सहु रीझायआ
तिन्हां नहीं भउ जंम दा ।
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
छड्ड सरीर भसम दा ।2।

115. पोथी खोल्ह दिखा भाई बामणा

पोथी खोल्ह दिखा भाई बामणा,
प्यारा कद वो मिलसी सामना ।1।रहाउ।

बन काहे बेला सभ फुल्या,
दरद माही दा दरि दरि हुल्या,
झुकि रहियां नी इशक पलामना ।1।

देखो केडे मैं पैड़े पाड़दी,
मैं लंघदी ते नाग लताड़दी ।
सुत्त्यां शीहां नूं नित्त उलांघना ।2।

मेरी जिन्द उते वलि हो रही,
मैनूं रोग ना हुन्दा को सही,
निति उठ बेले वलि तरांघना ।3।

नित्त शाह हुसैन पुकारिदा,
सांईं तलब तेरे दरबार दा,
इकु टुक असां वलि झाकना ।4।

116. रातीं सवें देहें फिरदी तूं वत्ते

रातीं सवें देहें फिरदी तूं वत्ते,
तेरा खेडनि नाल बपार, जिन्दू,
कदी उठ राम राम समार, जिन्दू ।रहाउ।

साहुरड़े घर अलबित जाणा,
पेईअड़े दिन चार, जिन्दू ।1।

अजि तेरे मुकलाऊ आइ,
रहीए न कोइ बिचार, जिन्दू ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
आवन एही वार, जिन्दू ।3।

117. रब्बा मेरे अउगुन चिति न धरीं

रब्बा मेरे अउगुन चिति न धरीं ।रहाउ।

अउगुण्यारी नूं को गुन नाहीं,
लूं लूं ऐब भरी ।1।

ज्युं भावै त्युं राखि प्यार्या,
मैं तेरे दुआरै परी ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
अदलों फ़जलु करीं ।3।

118. रब्बा मेरे गोडे दे हेठि पिरोटड़ा

रब्बा मेरे गोडे दे हेठि पिरोटड़ा,
मैं कत्तनी हां चाईं चाईं ।रहाउ।

तन तम्बूर रगां दियां तारां,
मैं जपनी हां सांईं सांईं ।1।

दिल मेरे विचि एहो गुजरी,
मैं सचे सों नेहुं लाईं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मेरी लगड़ी तोड़ु निबाहीं ।3।

119. रब्बा मेरे हाल दा महरमु तूं

रब्बा मेरे हाल दा महरमु तूं ।रहाउ।

अन्दरि तूं हैं बाहर तूं हैं,
रोमि रोमि विचि तूं ।1।

तूं हैं तूं हैं बाणा,
सभ किछ मेरा तूं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मैं नाहीं सभ तूं ।3।

120. रब्बा वे मैं नली छिपाई

रब्बा वे मैं नली छिपाई,
तूं बखसनि हारा सांईं ।रहाउ।

हत्थीं मेरे मुन्दरी,
मैं कंम क्युं करि करीं ।
पैरीं मेरे लाल जुत्ती,
मैं ताना क्युं करि तणी,
चुल्ल्हे पिछे पंज कसोरे,
मालु क्युं करि भरीं ।1।

अन्दरि बोलनि मुरग़ियां,
ते बाहर बोलनि मोरु ।
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
तानी नूं लै गए चोरु, जोरा जोरु ।2।

121. रहीए वो नाल सजन दे, रहीए वो

रहीए वो नाल सजन दे, रहीए वो ।रहाउ।

लक्ख लक्ख बदियां ते सउ ताहने,
सभो सिर ते सहीए वो ।1।

तोड़े सिर वंञे धड़ नालों,
तां भी हाल न कहीए वो ।2।

सुख़न जिन्हां दा होवै दारू,
हाल उथाईं कहीए वो ।3।

चन्दन रुख लगा विच वेहड़े,
जोर धिङाने खहीए वो ।4।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
जीवन्द्यां मर रहीए वो ।5।

122. रोंदा मूल न सौंदा ही

रोंदा मूल न सौंदा ही ।
जिस तन दरदां दी आह,
सोई तन रोंदा ही ।

कन्यारी दी सेजै उप्पर,
सुखिया कोई न सौंदा ही ।

चारे पल्ले मेरे चिक्कड़ बुडे,
केहड़ा मल मल धोंदा ही ।

दरदां दा दारू तेरे अन्दर वसदा,
कोई संत तबीब मिलौंदा ही ।

कहै हुसैन फ़कीर रबाणा,
जो लिख्या सोई होंदा ही ।

123. साजन रुठड़ा जांदा वे

साजन रुठड़ा जांदा वे,
मैं भुलियां वे लोका ।

साजन मैंडा वे,
मैं साजनि दी,
साजन कारन मैं जुलियां वे लोका ।1।रहाउ।

जे कोई साजन आनि मिलावे,
बन्दी तिस दी अनमुलियां वे लोका ।1।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
सांईं मिले तां मैं फुल्लियां वे लोका ।2।

124. साजन तुमरे रोसड़े

साजन तुमरे रोसड़े,
मोहु आदरु करै न कोइ ।
दुरि दुरि करनि सहेलियां,
मैं तुर तुर ताकउ तोह ।1।रहाउ।

125. सालू सहज हंढाय लै नीं

सालू सहज हंढाय लै नीं,
तूं सालू सहज हंढाय लै नीं ।रहाउ।

सालू मेरा कीमती,
कोई देखन आईआं तरीमतीं,
गईं सभ सलाह ।1।

सालू पायआ टंङणे,
गवांढन आई मंगणे,
दित्ता कही न जाह ।2।

सालू धुर कशमीर दा,
कोई आया बरफ़ां चीरदा,
जाना कर के राह ।3।

सालू धुर गुजरात दा ,
कोई मैं भउ पहली रात दा,
किते ढंग बेहाय ।4।

सालू धुर मुलतान दा,
कोई रब्ब दिलां दियां जाणदा,
सुती सहु गल लाय ।5।

सालू मेरा आल दा,
कोई महरमु नाहीं हाल दा,
किस पै आखां जाय ।6।

सालू भोछन जोड़्या,
कोई थीसी रब्ब दा लोड़्या,
होर न कीता जाय ।7।

सभे सालू वालियां,
कोई इक बिरख दियां डालियां,
तेरे तुल न काय ।8।

सालू दा रंग जावणा,
कोई फेर ना इस जग्ग आवणा,
चले घुंम घुंमाय ।9।

सालू मेरा उणीदा,
कोई शामु बिन्द्राबन सुणीदा,
जाना बिखड़े राह ।10।

कहै हुसैन गदाईआ,
कोई रात जंगल विच आईआ,
रब्ब डाढा बेपरवाह ।11।

126. सभ सखियां गुणवंतियां

सभ सखियां गुणवंतियां,
वे मैं अवगुण्यारी ।रहाउ।

भै साहब दे परबत ड्रदे,
वे मैं कौन विचारी ।1।

जिस गल नूं सहु भज्या ई वो,
सो मैं बात बिसारी ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
छुट्टा जे मेहर करे सत्तारी ।3।

127. सभ वल छड के तूं इको वल होइ

सभ वल छड के तूं इको वल होइ ।

वल वल दे विच कई वल पैंदे,
इक दिन देसीं रोइ ।रहाउ।

औखी घाटी बिखड़ा पैंडा,
हुन ही समझि खलोइ ।

छोड़ि तकबर पकड़ हलीमी,
पवी तडाहीं सोइ ।

कड़किन कपड़ सहु दर्यावां,
थीउ मुहाना बेड़ी ढोइ ।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
जो होनी सो होइ ।

128. साधां दी मैं गोली होसां

साधां दी मैं गोली होसां,
गोलियां दे करम करेसां ।
चउंका फेरीं मैं देईं बुहारी,
जूठे बासन धोसां ।रहाउ।

पिप्पल पति चुणेंदी वत्ता,
लोक जाने देवानी ।
गहला लोक न हाल दा महरमु,
मैनूं बिरहुं लगाई कानीं ।1।

लोकां सुण्या देसां सुण्या,
हीर बैरागनि होई ।
इकु सुणेंदा लक्ख सुणे,
मेरा कहां करैगा कोई ।2।

सावल दी मैं बांदी बरदी,
सावल मैंहडा सांईं ।
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
सांईं सिक्कदी नूं दरसु दिखाईं ।3।

129. सदके मैं वंञा उन्हां राहां तों

सदके मैं वंञा उन्हां राहां तों,
जिनि राहीं सो सहु आया ही ।1।रहाउ।

पच्छी सट सत्तां भरड़ांदी,
कत्तनि तों चिति चायआ ही ।1।

दिलि विचि चिनग उठी हीरे दी,
रांझन तख़ति हज़ार्यों पायआ ही ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मउले दोसति मिलायआ ही ।3।

130. सांईं बेपरवाह मैंडी

सांईं बेपरवाह मैंडी,
लाज तौ परि आई,
चहुं जण्यां मेरी डोली चुक्की,
साहुरड़े पहुंचाई ।1।रहाउ।

तन्दु तुटी अटेरनु भन्ना,
तकुलड़े वल पायआ,
भउंद्यां झउंद्यां छल्ली कत्ती,
कागु पया लै जायआ ।1।

राति अंधेरी गलीएं चिक्कड़ु,
मिल्या यार सिपाही,
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
इह गल्ल सुझदी आही ।2।

131. साईं जिनांदड़े वल्ल, तिनां नूं ग़म कैंदा, वे लोका

साईं जिनांदड़े वल्ल,
तिनां नूं ग़म कैंदा, वे लोका ।रहाउ।

सेई भलियां जो रब्बु वल्ल आईआं,
जिन्हां नूं इशक चरोका, वे लोका ।1।

इशके दी सिर खारी चाईआ,
दर दर देनियां होका, वे लोका ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
लद्धा ही प्रेम झरोखा, वे लोका ।3।

साईं जिनांदड़े वल्ल,
तिनां नूं ग़म कैंदा, वे लोका,
हो मैं वारी ग़म कैंदा, वे लोका ।4।

132. साईं साईं करेंद्यां मां प्यो हुड़ेंद्यां

साईं साईं करेंद्यां मां प्यो हुड़ेंद्यां,
कोई नेहुड़ा लाययो ।
वल घरि वंञन केहा वे माहिया ।रहाउ।

हीरे नूं इशक चरोका आहा,
जां आही दुधि वाती ।

विचि पंघूड़े दे पई तड़फ्फे,
वेदन रती न जाती ।

बिरहु कसाई तन अंतरि वड़्या,
घिन्न कुहावी काती ।

सैआं वर्हआं दी जहमति जावै,
जे रांझन पावै झाती ।1।

छिलत पुड़ी तन रांझन वाली,
महरम होइ सोई पुट्टे ।

लख लख सूईआं ते लख नहेरनु,
लख जम्बूरां दे तुट्टे ।

लख लख मुल्लां ते लख काजी,
लखि इलम पड़ि पड़ि हुटे ।

जे टुक रांझन दरस दिखावै,
तां हीर अज़ाबों छुटे ।2।

शाह हुसैन फ़कीर सुणावै,
रांझे बाझों बिरहुं सतावै,
जे मिलसां तां सांत आवै ।3।

133. साईं तों मैं वारियां वो

साईं तों मैं वारियां वो,
वारियां वो, वार डारियां वो ।
चुप्प करां तां देवनि ताअने,
जां बोलां तां मारियां वो ।रहाउ।

इकना खन्नी नूं तरसावें,
इक्क वंडि वंडि देंदे ने सारियां वो ।1।

इकना ढोलि कलावे नी सईओ,
इक कंतां दे बाझ बिचारियां वो ।2।

अउगुण्यारी नूं को गुनि नाहीं,
निति उठि करदी ज़ारियां वो ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
फज़ल करैं तां तारियां वो ।4।

134. सईयो मेरा माही तां आनि मिलावो

सईयो मेरा माही तां आनि मिलावो,
काहलि होईआं घनी ।1।रहाउ।

बाबल कोलों दाज ना मंगदी,
माउं न मंगदी मालों ।
इको रांझनि पलि पलि मंगदी,
छुट्टे हीर जंजालों ।1।

रोंदी पकड़ बैठाई खारे,
ज़ोरी दितीयो लावां ।
खून्नी खेड़े दे गलि बद्धी,
कूकां ते कुरलावां ।2।

करंग सबर रांझन दी सेवा,
हीर सुपने मिलि मिलि आवे 3।

रातीं भी कालीं ते मेहीं भी कालियां,
चर्या लोड़नि बेले ।
कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
विछुड़्यां रब्ब मेले 4।

135. सजन बिन रातीं होईआं वड्डियां

सजन बिन रातीं होईआं वड्डियां ।

मास झड़े झड़ पिंजर होया,
कन कण होईआं हड्डियां ।

इशक छपायआ छपदा नाहीं,
बिरहों तणावां गड्डियां ।

रांझा जोगी मैं जुग्याणी,
कमली कर कर सद्दियां ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
दामन तेरे लग्गियां ।

136. सज्जन दे गल बांह असाडी

सज्जन दे गल बांह असाडी,
क्युं कर आखां छड्ड वे अड़्या ।

पोसतियां दे पोसत वांगूं,
अमल पया असाडे हड्ड वे अड़्या ।

राम नाम दे सिमरन बाझों,
जीवन दा की हज्ज वे अड़्या ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
साहब दे लड़ लग्ग वे अड़्या ।

137. सजन दे हथि बांह असाडी, क्युं करि आखां छडि वे अड़्या

सजन दे हथि बांह असाडी,
क्युं करि आखां छडि वे अड़्या ।रहाउ।

रात अंधेरी बद्दल कणियां,
बाझ वकीलां मुशकल बणियां,
डाढे कीता सडि वे अड़्या ।1।

इशक मुहब्बत सेई जाणनि,
पई जिनां दे हड्ड वे अड़्या ।2।

कल्लरि खट्ट न खूहड़ी,
चीना रेति ना गड्डि वे अड़्या ।3।

निति भरेना एं छटियां,
इक दिन जासें छडि वे अड़्या ।4।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
नैन नैणां नालि गडि वे अड़्या ।5।

138. सज्जणा, असीं मोरीयों लंघ पयासे

सज्जणा, असीं मोरीयों लंघ पयासे ।
भला होया गुड़ मक्खियां खाधा,
असीं भिन भिणाटों छुट्यासे ।रहाउ।

ढंड पुरानी कुत्त्यां लक्की,
असीं सरवर माह धोत्यासे ।1।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
असीं टप्पन टप्प निकल्यासे ।2।

139. सज्जना बोलन दी जाय नाहीं

सज्जना बोलन दी जाय नाहीं ।
अन्दर बाहर इक्का सांईं,
किस नूं आख सुणाईं ।

इक्को दिलबर सभ घटि रव्या,
दूजा नहीं कदाईं ।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
सतिगुर तों बलि जाईं ।

140. समझ निदानड़ीए, तेरा वैंदा वखत वेहांदा

समझ निदानड़ीए, तेरा वैंदा वखत वेहांदा ।रहाउ।

इह दुनियां दूह चारि देहाड़े,
देखद्यां लद जांदा ।1।

दउलति दुनियां मालु खज़ीना,
संग न कोई लै जांदा ।2।

मात पिता भाई सुत बनिता,
नालि न कोई जांदा ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
बाकी नाम साईं दा रहन्दा ।4।

141. सारा जगि जाणदा

सारा जगि जाणदा,
साईं तेरे मिलन दी आस वो ।
मेरे मनु मुरादि एहो साईआं,
सदा रहां तेरे पासि वो ।रहाउ।

दरशन देहु दया करि मो कउं,
सिमरां मैं सास गिरास वो ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
तूं साहब मैं दास वो ।2।

142. सुन तो नीं काल मरेंदा ई

सुन तो नीं काल मरेंदा ई,
हरि भजि लै गाहक वैंदा ई ।रहाउ।

डूंघे जल विचि मछुली वस्सदी,
भै साहब दा मन नहीं रक्खदी,
उस मच्छली नूं जाल ढूंढेंदा ई ।1।

मीर मलकु पातिशाहु शाहज़ादे,
झुलदे नेज़े वज्जदे वाजे,
विच घड़ी फनाह करेंदा ई ।2।

कोठे ममटु ते चउबारे,
वसि वसि गए कई लोकु विचारे,
इक पलकु न रहने देंदा ई ।3।

चिड़ी जिन्दड़ी कालि सिचाणा,
निसदिन बैठा लाय ध्याना,
उह अजि कलि तैनूं फसेंदा ई ।4।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
दुनियां छोडि आख़िर मर जाणा,
नरु कूड़ा मान करेंदा ई ।5।

143. सुरति का ताना निरत का बाणा

सुरति का ताना निरत का बाणा,
सच्च का कप्पड़ा वुन जिन्दे नी ।

काहे कूं झुरें ते झख मारें,
राम नाम बिन बाजी हारें,
जो बीज्या सो लुन जिन्दे नी ।

ख़ान ख़वीनी ते सुलतानी,
काल लईआं सभ चुन जिन्दे नी ।

शाह हुसैन फ़कीर गदाई,
पच्छी पूनी सभ लुटाई,
शाहु नूं मिल्या लोड़ें हुन जिन्दे नी ।

144. तारीं साईं रब्बा वे मैं औगुण्यारी

तारीं साईं रब्बा वे मैं औगुण्यारी ।
सभ सईआं गुणवंतियां
तारीं साईं रब्बा वे मैं औगुण्यारी ।

भेजी सी जिस बात नो प्यारी री,
साई बात विसारी ।

सल मिल सईआं दाज रंगायआ प्यारी री,
मैं रही कुआरी ।

अंगन कूड़ा वत गया,
मुड़ देह बहारी ।

भै साईं दे परबत ड्रदे,
मैं कवन विचारी ।

कहै हुसैन सहेलीओ,
अमलां बाझ ख़ुआरी ।

145. तेरे सहु रावन दी वेरा

तेरे सहु रावन दी वेरा,
सुती हैं तां जाग,
मोढे तेरे दोइ जणे,
लिखदे नी आब सवाब ।1।रहाउ।

इह वेला न लहसें कुड़ीए,
थीसें तूं बहुत ख़राब ।1।

कहै हुसैन शहु लेखा पुच्छसी,
देसें तूं कवनु जबाब ।2।

146. थोहड़ी रह गईयो रातड़ी

थोहड़ी रह गईयो रातड़ी,
सहु राव्यो नाहीं ।
धन्न सोई सुहागणी,
जिन पिया गलि बाहीं ।रहाउ।

इक अन्न्हेरी कोठड़ी,
दूजा दीवा न बाती ।
बांहु पकड़ि जमु लै चले,
कोई संगि न साथी ।1।

सुती रही कुलखणी,
जागी वडि भागी ।
जागनि की बिधि सो लहै,
जिस अंतर लागी ।2।

कहै हुसैन सहेलीओ,
सहु कित बिधि पईऐ ।
कर साहब दी बन्दगी,
रैन जाग्रति रहीऐ ।3।

147. तिना ग़म केहा साईं जिन्हां दे वल्लि

तिना ग़म केहा साईं जिन्हां दे वल्लि ।रहाउ।

सोहनी सूरति दिलबर वाली,
रही अक्खीं विचि गल्लि ।1।

इकु पल सजन जुदा न थीवै,
बैठा अन्दर मलि ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
चलना अज्जु कि कल्ल ।3।

148. तूं आहो कत्त वलल्ली

तूं आहो कत्त वलल्ली,
नी कुड़ीए तूं आहो कत्त वलल्ली ।रहाउ।

सारी उमर गवाईआ ईवैं,
पच्छी न घत्तिया छल्ली ।1।

गलियां विच फिरे लटकन्दी,
इह गलि नाहीउं भल्ली ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
दाज वेहूनी चल्ली ।3।

149. तुझै गोरि बुलावै घरि आउ रे

तुझै गोरि बुलावै घरि आउ रे ।
जो आवै सो रहन न पावै,
क्या मीर मलकु उमराउ रे ।रहाउ।

हर दम नामु समालि साईं दा,
इह अउसर इह दाउ रे ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
आख़र ख़ाक समाउ रे ।2।

150. टुक बूझ मन में कउन है

टुक बूझ मन में कउन है,
सभ देखु आवागउन है ।

मन अउर है तन अउर है,
मन का वसीला पउन है ।रहाउ।

बन्दा बणायआ जाप को,
तूं केहा लुभाना पाप को,
तैं सही की किया आप को ।1।

इक शाह हुसैन फ़कीर है,
तुसीं न आखो पीर है,
जग चलता देखि वहीर है ।2।

151. टुक बूझ समझ दिल कौन है

टुक बूझ समझ दिल कौन है ।
मन का वसीला पौन है ।

बन्दा बनायआ जाप को ।
तूं क्या भुलावैं पाप को ।

मन और है मुख और है ।
दुनियां आवागउन है ।

शाहु हुसैन फ़कीर है ।
जग चलता देख वहीर है ।

152. तुसीं बई न भुल्लो

तुसीं बई न भुल्लो,
काय जे मैं भुलियां ।

प्रेम प्याला सतिगुर वाला,
पीवति ही मैं झुलियां ।1।रहाउ।

लोक लाजि कुल की मिरजादा,
डालि सज्जन वलि चुलियां ।1।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
नामु तेरे मैं हुलियां ।2।

153. तुसीं मति कोई करो गुमान

तुसीं मति कोई करो गुमान,
जोबन धन ठग्गु है ।1।रहाउ।

हंसां दे भुलावे भुली,
झोली लीता बग्ग है ।1।

पब्बन पत्त्र उपरि मौत,
तिवहीं सारा जग्ग है ।2।

निन्द्या ध्रोह बखीली चुगली,
नित्त करदा फिरदा ठग्ग है ।3।

कहै हुसैन सेई जग्ग आए,
जिन्हां पछाता रब्ब है ।4।

154. तुसीं रल मिलि देहु मुमारखां

तुसीं रल मिलि देहु मुमारखां,
मेरा सोहना सजन घरि आया ही ।1।रहाउ।

जिस सजन नूं मैं ढूंढेदी वतां,
सो सजन मैं पायआ ही ।1।

वेहड़ा तां अंङनु मेरा,
भया सुहावणा,
माथे नूर सुहायआ ही ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मुरशद दोसत मिलायआ ही ।3।

155. वाहो बणदी है गल

वाहो बणदी है गल,
सजन नालि मेला करीऐ ।
पारि खड़ा मितर रांझण,
सारे बाहलीऐ नैं तरीऐ ।रहाउ।

भउ सागरु बिख़ड़ा अति भारी,
साधां दे लेड़े चड़ीऐ ।1।

साईं कारनि जोगनि होवां,
करीऐ जो किछु सरीऐ ।2।

लक्ख टक्का मैं सरीनी देवां,
जे सहु प्यारा वरीऐ ।3।

मिल्या यार होई रुसनाई,
दम सुकराने दा भरीऐ ।4।

कहै हुसैन हयाती लोड़ैं,
तां जींवद्यां ही मरीऐ ।5।

156. वारे वारे जानी हां घोलियां(घोली आही) नीं

वारे वारे जानी हां घोलियां(घोली आही) नीं ।रहाउ।

जिस साजन दा देवउ तुसीं मेहणा,
तिस साजन दी मैं गोली आही नीं ।1।

अचाचेती भोलि भुलावे,
बाबल दे घर भोली आही नीं ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
तुधु बाझउ कोई होर न जाणा,
ख़ाक पैरां दी मैं रोली आही नीं ।3।

157. वारी वो देख निमाण्यां दा हालु

वारी वो देख निमाण्यां दा हालु,
कदावी वो मेहर पवी ।रहाउ।

रातीं दरद देहें दरमांदी,
बिरहु भछायअड़ सींह ।1।

रो रो नैन भरेनी हां झोली,
ज्युं सावणदड़ो मींहु ।2।

गल विच पल्लू मैंडा दसत पैरां ते,
कदी तां असाडड़ा थीउ ।3।

सिर सदके कुरबानी कीती,
घोल घुमांदी हां जीउ ।4।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
होर भरोसा नहीं कही दा,
आन मिलाअड़ो पीउ ।5।

158. वो गुमानियां, दम गनीमत जाण

वो गुमानियां, दम गनीमत जान ।रहाउ।

क्या लै आया क्या लै जासैं,
फानी कुल जहान ।1।

चार देहाड़ै गोइल वासा,
इस जीवन दा की भरवासा,
ना करि इतना मान ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
आख़र ख़ाक समान ।3।

159. वो की आकड़ि आकड़ि चलणा

वो की आकड़ि आकड़ि चलना ।रहाउ।

खाय खुराकां ते पहन पुशाकां,
की जम दा बकरा पलना ।2।

साढे तिन्न हथि मिलकु तुसाडा,
क्युं जूह पराई मल्लना ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
अंत खाक विच रलना ।3।

160. वो यारु जिन्हां नूं इशक तिनां कत्तन केहा

वो यारु जिन्हां नूं इशक तिनां कत्तन केहा,
अलबेली क्युं कत्ते ।रहाउ।

लग्गा इशक चुक्की मसलाहत,
बिसरियां पंजे सत्ते ।1।

घायलु मायलु फिरै दिवानी,
चरखे तन्द न घत्ते ।2।

मेरी ते माही दी परीति चरोकी,
जां सिरी आहे न छत्ते ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
नैन साईं नालि रत्ते ।4।

161. वत्त न आवना भोलड़ी माउ

वत्त न आवना भोलड़ी माउ,
एहो वारी ते एहो दाउ ।
भला करैं तां भजि लै नाउं ।रहाउ।

जां कुआरी तां चाउ घणा,
पुत पराए दे वसि पवां,
क्या जाना केही घुल्ले वाउ ।1।

सो खेडनु जिन्हां भागु मथूरे,
खेडद्यां लह जान विसूरे,
खेड खिडन्दड़ी दा लथा चाउ ।2।

चउपड़ि दे खाने चउरासी,
जो पुग्गे से चोट न खासी,
क्या जाना क्या पउसी दाउ ।3।

साची साखी कहै हुसैना,
जां जीवें ताहीं सुख चैना,
फेर न लहसिया पछोताउ ।4।

162. वत्त न दुनियां आवण

वत्त न दुनियां आवन ।
सदा न फुले तोरिया,
सदा न लग्गे सावन ।रहाउ।

एह जोबन तेरा चार देहाड़े,
काहे कूं झूठ कमावन ।

पेवकड़ै दिन चार देहाड़े,
अलबत सहुरे जावन ।

शाह हुसैन फ़कीर सांईं दा,
जंगल जाय समावन ।

163. वेला सिमरन दा नी, उट्ठी रामु ध्याइ

वेला सिमरन दा नी,
उट्ठी रामु ध्याइ ।रहाउ।

हत्थ मले मल पछोतासीं,
जदु वैसिया वखत वेहाय ।१।

इस तिड़े तों भर भर गईआं,
तूं आपनी वार लंघाय ।२।

इकना भर्या इक भर गईआं,
इक घरे इक राह ।३।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
आतन फेरा पाय ।४।

164. या दिलबर या सिर कर प्यारा

या दिलबर या सिर कर प्यारा ।

जे तूं हैं मुशताक यगाना ।
सिर देवन दा छोड बहाना ।

दे दे लाल लबां दे लारे ।
सूली उपर चढ़लै हुलारे ।

जिन्हां सच तिन्हां लब नहीं प्यारे ।
सचो सच फिर साच नेहारे ।

शाह हुसैन जिन्हां सच्च पछाता ।
कामल इशक तिन्हां दा जाता ।

आइ मिल्या तिन्हां प्यारा ।

Previous......(51-100)
 
 
 Hindi Kavita