Hindi Kavita
शाह हुसैन
Shah Hussain
 Hindi Kavita 

Kafian Shah Hussain in Hindi.

काफ़ियां शाह हुसैन

51. इशक फ़कीरां दा कायम दायम

इशक फ़कीरां दा कायम दायम,
कबहूं न थीवै बेहा ।
तैनूं रब्ब ना भुल्ली दुआइ फ़कीरां दी एहा ।1।रहाउ।

होरनां नाल हसन्दी खिडन्दी,
साहां थों घुंगट केहा ।1।

शहु नाल तूं मूल न बोलैं,
एह गुमान किवेहा ।2।

चारे नैन गडावड होए,
विच्च विचोला केहा ।3।

उच्छल नदियां तारू होईआं,
विच बरेता केहा ।4।

आप खानीं हैं दुद्ध मलीदा,
शाहां नूं टुक्कर बेहा ।5।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
मर जाना ते माना केहा ।6।

52. इथे रहना नाहीं

इथे रहना नाहीं,
कोईबात चलनु दी करु वो ।रहाउ।

वडे उच्चे महल उसार्यो,
गोर निमानी घरु वो ।1।

जिस देही दा तूं मान करेनैं,
ज्युं परछावै ढरु वो ।2।

छोड़ त्रिखाईपकड़ि हलीमी,
भै साहब थीं ड्रु वो ।3।

कहै हुसैन हयाती लोड़ें
तां मरन थीं अगे मर वो ।4।

53. ईवैं गई वेहाय

ईवैं गई वेहाय,
कोईदम यादु न कीता ।रहाउ।

रही वुणाय तणाय,
कोईगज़ पाड़ न लीता ।1।

कोरा गई हंढाय,
कोईरंगदार न लीता ।2।

भर्या सर लीलाय,
कोईबुक झोल न पीता ।3।

कहै हुसैन गदाय,
चलद्यां विदा न कीता ।4।

54. ईवैं गुजरी राति

ईवैं गुजरी राति,
खेडनि ना थिया ।रहाउ।

सभे जाती वड्डियां,
निमानी फ़कीरां दी जाति ।1।

खेडि घिन्नो खिडाय घिन्नो,
थी गई परभाति ।2।

खड़ा पुकारे पातणी
बेड़ा कवात ।3।

शाह हुसैन दी आजज़ी,
काछ (काफ़) कुहाड़े वाति ।4।

55. ईवें गुजरी गालीं करद्यां

ईवें गुजरी गालीं करद्यां,
कुछु कीतो नाहीं सरद्यां ।1।रहाउ।

तूं सुतों चादर तनि कै,
तैं अमलि न कीत्यां जानि कै,
रस रोसीं लेखा भरद्यां ।1।

जाय पुछो इना वांढियां,
जिन्हां अन्दर बलदी डाढियां,
उन्हां अरज न कीती ड्रद्यां ।2।

कहै हुसैन सुणाय कै,
पछुतासीं इथों जाय कै,
कोईसंग न साथी मरद्यां ।3।

56. जाग न लधिया सुन जिन्दू

जाग न लधिया सुन जिन्दू,
हभो वेहानी रात ।रहाउ।

इस दम दा वो की भरवासा,
रहन सरांईं रात ।1।

विछुड़े तन मन बहुड़ न मेला,
ज्युं तरवर तुट्टै पात ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
होइ गई परभात ।3।

57. जां जीवैं तां ड्रदा रहु वो

जां जीवैं तां ड्रदा रहु वो ।रहाउ।

बांदर बाजी करै बजारी,
सहल नहीं उथै लावन यारी,
रहु वो अडक वछेड़ अनाड़ी,
कढि न गरदन सिधा वहु वो ।1।

नेही सिर ते नाउं धरावन,
बलदी आतश नूं हथि पावन,
आहीं कढ्ढन ते कूक सुणावन,
गलि न तैनूं बणदी ओहु वो ।2।

दर मैदान मुहब्बत जाती,
सहल नहीं उथे पावन झाती,
जैं ते बिरहु वगावै काती,
मुढि कलेजे दे अन्दर डहु वो ।3।

असली इशक मित्तरां दा एहा,
पहले मार सुकावन देहा,
सहल नहीं उथै लावन नेहा,
जे लाययो तां किसे न कहु वो ।4।

तउ बाझू सभ झूठी बाजी,
कूड़ी दुनियां फिरै गमाज़ी,
नहूं हकीकत घिन्न मिजाज़ी,
दोवें गल्लां सुटि न बहु वो ।5।

कहै हुसैन फ़कीर गदाई,
दम न मारे बे परवाही,
सो जानै जिनि आपे लाई,
अहु वेख जांञी आए अहु वो ।6।

58. जगि मैं जीवन थोहड़ा कउन करे जंजाल

जगि मैं जीवन थोहड़ा कउन करे जंजाल ।रहाउ।

कैंदे घोड़े हसती मन्दर,
कैंदा है धन माल ।1।

कहां गए मुलां कहां गए काज़ी,
कहां गए कटक हज़ार ।2।

इह दुनियां दिन दोइ प्यारे,
हर दम नाम समाल ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
झूठा सभ ब्युपार ।4।

59. जहां देखो तहां कपट है

जहां देखो तहां कपट है,
कहूं न पइयो चैन ।

दग़ाबाज़ संसार ते,
गोशा पकड़ि हुसैन ।रहाउ।

मन चाहे महबूब को,
तन चाहे सुख चैन ।1।

दोइ राजे की सींध मैं
कैसे बने हुसैन ।2।

60. जेती जेती दुनियां राम जी

जेती जेती दुनियां राम जी,
- तेरे कोलों मंगदी ।रहाउ।

कूंडा देईं सोटा देईं,
कोठी देईं भंग दी ।

साफ़ी देईं मिरचां देईं,
बे-मिनती देईं रंग दी ।

पोसत देईं बाटी देईं,
चाटी देईं खंड दी ।

ग्यान देईं ध्यान देईं,
महमा साधू संग दी ।

शाह हुसैन फ़कीर सांईं दा,
इह दुआइ मलंग दी ।

61. झुमे झुम खेलि लै मंझ वेहड़े

झुमे झुम खेलि लै मंझ वेहड़े,
जपद्यां नूं हरि नेड़े ।1।रहाउ।

वेहड़े दे विच नदियां वगणि,
बेड़े लक्ख हज़ार,
केती इस विच डुब्बदी डिट्ठी,
केती लंघी पारि ।1।

इस वेहड़े दे नौं दरवाज़े,
दसवें कुलफ़ चढ़ाई,
तिसु दरवाज़े दी महरमु नाहीं,
जितु सहु आवह जाई।2।

वेहड़े दे विचि आला सोहे,
आले दे विच ताकी,
ताकी दे विचि सेज विछावां,
अपने पिया संगि राती ।3।

इस वेहड़े विच मकनां हाथी,
संगल नाल खहेड़े,
कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
जागद्यां कउन छेड़े ।4।

62. जिन्दू मैंडड़ीए

जिन्दू मैंडड़ीए,
तेरा नलियां दा वखत वेहाना ।रहाउ ।

रातीं कतैं रातीं अटेरैं,
गोशे लाययो ताना ।

इक जु तन्द अवल्ला पै गया,
साहब मूल न भाना ।

चार देहाड़े गोइल वासा,
उठ चड़दा पछोताना ।

चीरी आई ढिल्ल न करसी,
की राजा की राना ।

किसे नवां किसे पुराणा,
किसे अद्धोराना ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
बिन मसलत उट्ठ जाना ।

63. जिन्हां खड़ी न कीती मेरी डोलड़ी

जिन्हां खड़ी न कीती मेरी डोलड़ी,
अनी हो मां दोस कहारां नूं ।रहाउ।

कोलों तैंडे वाही लडि लडि चले,
तैं अजे न बद्धा भारां नूं ।1।

इक लडि चले इक बन्न्ह बैठे,
कउन उठाय साड्यां भारां नूं ।2।

सिर ते मउत खड़ी पुकारे,
मन लोचे बाग़ु बहारां नूं ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
कोईमुड़ि समझावे इन्हां यारां नूं ।4।

64. जिस नगरी ठाकुर जसु नाहीं

जिस नगरी ठाकुर जसु नाहीं,
सो काकर कूकर बसती है ।

अगर चन्दन की सारु न जाणै,
पाथर सेती घसती है ।

छैलां सेती घुंघट काढे,
बैलां सेती हसती है ।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
सवा सेर की मसती है ।

65. जितु वलि मैंडा मित्तर प्यारा

जितु वलि मैंडा मित्तर प्यारा,
उथे वंझ आखीं मैंडी आजज़ी वो ।रहाउ।

जोगनि होवां धूंहां पांवां,
तेरे कारनि मैं मरि जावां,
तैं मिल्यां मेरी ताज़गी वो ।1।

रातीं दरदु देहैं दरमांदी,
मरन असाडा वाजबी वो ।2।

लिटां खोलि गले विच पाईआं,
मैं बैरागनि आदि दी वो ।3।

जंगल बेले फिरां ढुंढेदी,
कूक न सकां मारी लाज दी वो ।4।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
रातीं देहें मैं जागदी वो ।5।

66. जोबन गया तां घल्या

जोबन गया तां घल्या,
रब्बा तेरी मेहर न जावे ।

आया सावनि मन परचावण,
सईआं खेडनि सावें ।रहाउ।

नैं भी डूंघी तुला पुराणा,
मउला पार लंघावे ।1।

इकनां वटियां पूणियां,
इक सूत वुणावे ।2।

इक कंतां बाझ विचारियां,
इकनां ढोल कलावे ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
झूठे बन्न्हदे नी द्हावे ।4।

67. काईबात चलन दी तूं कर वोए

काईबात चलन दी तूं कर वोए,
इतै रहना नाहीं ।

साढे तरै हत्थ मिलख बन्दे दी,
गोर निमानी घर वोए ।रहाउ।

उचे मन्दर सुनहरी छज्जे,
विच रखायआ दर वोए ।

जिस मायआ दा मान करेंदा,
सो दूतां दा घर वोए ।

लिख लिखि पढ़ना मूल न गुढ़ना,
भै साईं दा कर वोए ।

जां आई आग्या प्रभु बुलायआ,
होइ निमाना तूं चल वोए ।

आगै साहब लेखा मांगै,
तां तूं भी कुछ कर वोए ।

कहै हुसैन फ़कीर रबाणा,
दुनियां छोड ज़रूरत जाणा,
मरन ते अग्गे मर वोए ।

68. कदी समझ मियां मरि जाना ही

कदी समझ मियां मरि जाना ही ।
कूड़ी सेज सवें दिन रातीं,
कूड़ा तूल वेहाना ही ।रहाउ।

हड्डां दा कलबूत बणायआ,
विच रख्या भौर रबाना ही ।1।

चार देहाड़े गोइल वासा,
लद चल्यो लबाना ही ।2।

कहै हुसैन फ़कीर मउले दा,
साईं दा राह निमाना ही ।3।

69. कदी समझ निदाना

कदी समझ निदाना,
घरि कित्थे ई समझ निदाना ।रहाउ।

आपि कमीना तेरी अकल कमीनी,
कउन कहै तूं दाना ।1।

इन्हीं राहीं जांदे डिट्ठड़े,
मीर, मलक, सुलताना ।2।

आपे मारे ते आप जीवाले,
अज़राईल बहाना ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
बिन मसलति उठ जाना ।4।

70. कै बागै दी मूली हुसैन

कै बागै दी मूली हुसैन,
तूं कै बागै दी मूली ।रहाउ।

बागां दे विचि फुलि अजायब,
तूं बी इक गंधूली ।1।

आपना आपि पछाने नाहीं,
अवरा देखि क्युं भूली ।2।

इशके दे दर्याउ कराही,
मनसूर कबूली सूली ।3।

शाह हुसैन पया दर उते,
जे करि पवै कबूली ।4।

71. कउन किसे नाल रुस्से

कउन किसे नाल रुस्से ।रहाउ।

जेह वल्ल वंजां मउत तिते वल्ल,
जीवन कोईन दस्से ।1।

सर परि लद्दना एस जहानों,
रहना नाहीं किस्से ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मउत वटेंदड़ी रस्से ।3।

72. केढ़े देसों आईयों नीं कुड़ीए

केढ़े देसों आईयों नीं कुड़ीए,
तैं केहा केहा शोर मचाययो क्युं ।

अपुना सूत तैं आपु वंझायआ,
दोसु जुलाहे नूं लाययो क्युं ।रहाउ।

तेरे अग्गे अग्गे चरखा,
पिच्छे पिच्छे पीहड़ा,
कतनी हैं हालु भलेरे क्युं ।1।

छल्लड़ियां पंज पाय पछोटे,
जाय बजार खलोवें क्युं ।2।

नालि सराफ़ां दे झेड़ा तेरा,
लेखा देंदी तूं रोवें क्युं ।3।

सईआं विच खिडन्दीए कुड़ीए,
सहु मनहु भुलाययो क्युं ।4।

राहां दे विचि अउखी होसें,
इतना भार उठाययो क्युं ।5।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
मरना चिति न आइयो क्युं ।6।

73. क्या करसी बाब निमानी दे

क्या करसी बाब निमानी दे न असां कत्त्या न असां तुम्ब्या,
केहा बखरा तानी दे ।रहाउ।

जंमद्यां तिल रोवन लग्गे,
याद पइयो ने दिन घानी दे ।1।

गोर निमानी विच पउंदियां कहियां,
हू हवाईं तेरियां इथे रहियां,
वासु आया विच वानी दे ।2।

कहै हुसैन फ़कीर मउले दा,
आखे सुखन हक्कानी दे ।3।

74. क्या कीतो एथै आइ कै

क्या कीतो एथै आइ कै,
क्या करसैं उथे जाय कै ।1।रहाउ।

ना तैं तुम्बन तुम्ब्या,
ना तैं पिंञन पिंञ्या,
ना लीतो सूत कताय कै ।1।

ना तैं चरखा फेर्या,
ना तैं सूतु अटेर्या,
ना लीतो तानी तणाय कै ।2।

ना तैं वेल पिंजायआ,
ना तैं पच्छी पायआ,
ना लीतो दाज रंगाय कै ।3।

शाह हुसैन मैं दाज वेहूणियां,
अमलां बाझहु गल्लां कूड़ियां,
ना लीतो शहु रीझाय कै ।4।

75. कित गुन लगेंगी सहु नूं प्यारी

कित गुन लगेंगी सहु नूं प्यारी ।रहाउ।

अन्दरि तेरे कूड़ा वति गइयो ही,
मूल न दितयो बुहारी ।1।

कत्तनु सिक्ख नी वलल्लीए कुड़ीए,
चढ़आ लोड़ें खारी ।2।

तन्दू टुटी अटेरन भन्ना,
चरखे दी कर कारी ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
अमलां बाझु खुआरी ।4।

76. क्युं गुमान जिन्दू नी

क्युं गुमान जिन्दू नी,
आखर माटी स्युं रल जाना ।
माटी स्युं रलि जाना है तां,
सरपर दुनियां जाना ।रहाउ।

मीर मलकु पातिशाहु शहज़ादे,
चोआ चन्दन लांदे ।
ख़ुशियां विच रहन मतवाले,
नंगीं पैरीं जांदे ।1।

लउ बाली दरगाह साहब दी,
कही न चलदा माना ।
आपो आपि जबाब पुछीसी,
कहै हुसैन फ़कीर निमाना ।2।

77. कोईदम जींवद्यां रुशनाई

कोईदम जींवद्यां रुशनाई,
मुयां दी ख़बर न काई।रहाउ।

चहुं जण्यां रलि डोली चाई,
साहुरड़ै पहुंचाई।

सस्स निनाणां देंदियां ताहने,
दाज वेहूनी आई ।

कबर निमानी विच वग्गन कहियां,
बन्न्ह चलाईआं डाढे दियां वहियां,
रहियां हूल हवाई।

कहै हुसैन फ़कीर रबाणा,
दुनियां छोड ज़रूरत जाणा,
रब्ब डाहढे कलम वगाई।

78. कोईदम मान लै रंग रलियां

कोईदम मान लै रंग रलियां,
धन जोबन दा मान न करीऐ,
बहुत स्याणियां छलियां ।रहाउ।

जिन्हां नाल बालपन खेड्या,
से सईआं उट्ठ चलियां ।1।

बाबल अत्तन छड्ड छड्ड गईआं,
साहुरड़ै घर चलियां ।2।

इह गलियां भी सुपना थीसन,
बाबल वालियां गलियां ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
कर लै गालीं भलियां ।4।

79. कुड़े जांदीए नी तेरा जोबन कूड़ा

कुड़े जांदीए नी तेरा जोबन कूड़ा,
फेर न होसिया रंगला चूड़ा ।रहाउ।

वति न होसिया अहल जवानी,
हस्स लै खेड लै नाल दिल जानी,
मुह ते पउसिया खाक दा धूड़ा ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
जो थीसी रब्ब डाढे दा भाणा,
चलना ही तां बन्न लै मूढ़ा ।2।

80. लटकदी लटकदी नीं माए

लटकदी लटकदी नीं माए,
हरि बोलो रामु लटकदी साहुरे चल्ली ।

सस्सु निणाणां देवनि ताअने,
फिरदी हैं घुंघट खुल्ल्ही ।

भोलड़ी माय कसीदड़े पायआ,
मैं कढ्ढि न जाणदी झल्ली ।

बाबलु दे घरि कुझ न वट्ट्या,
ते कुझि न खट्ट्या,
मेरे हथि नीं अटेरन छल्ली ।रहाउ।

नाल जिन्हां दे अतनि बहन्दी,
वेखदी सुणदी वारता कहन्दी ,
हुनि पकड़ि तिनाहां घल्ली ।1।

डाढे दे प्यादड़े नीं आए,
आनि के हत्थि उन्हां तकड़े नीं पाए,
मेरा चारा कुझ न चल्ली ।2।

लटकदी लटकदी मैं सेजि ते नीं आई,
छोडि चल्ले मैनूं सक्कड़े नीं भाई,
फुल्ल पान बीड़ा मैनूं अहल दिखलाई,
मैं सेज इकल्लड़ी मल्ली ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
जो थीसी रब्बु डाढे दा भाणा,
मैं आई हां अल्ल वलल्ली ।4।

81. लिखी लौह कलम दी कादर

लिखी लौह कलम दी कादर,
नीं माए, मोड़ु जे सकनी हें मोड़ ।रहाउ।

डोली पाय लै चल्ले खेड़े,
ना मैं थे उजर ना ज़ोरु ।
रांझन सानूं कुंडियां पाईआं,
दिल विच लग्गियां ज़ोरु ।1।

मच्छी वांगूं पई तड़फां,
कादर दे हथि डोर ।
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
खेड़्यां दा कूड़ा शोरु ।2।

82. माएं नीं मैं भई दिवानी

माएं नीं मैं भई दिवानी,
देख जगत मै शोरु ।
इकना डोली इकना घोड़ी,
इकु सिवे इकु गोर ।1।रहाउ।

नंगीं पैरीं जांदड़े डिठड़े,
जिन के लाख करोड़ ।1।

इकु शाहु इक दालिदरी,
इक साधू इक चोर ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
भले असाथों ढोरु ।3।

83. माएं नीं मैं कैनूं आखां

माएं नीं मैं कैनूं आखां,
दरदु विछोड़े दा हालि ।1।रहाउ।

धूंआं धुखे मेरे मुरशदि वाला,
जां फोलां तां लाल ।1।

सूलां मार दिवानी कीती,
बिरहुं पया साडे ख़्याल ।2।

दुखां दी रोटी सूलां दा सालणु,
आहीं दा बालनु बालि ।3।

जंगलि बेले फिरां ढूंढेंदी,
अजे न पाययो लाल ।4।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
शहु मिले तां थीवां नेहालि ।5।

84. माही माही कूकदी

माही माही कूकदी,
मैं आपे रांझन होई।1।रहाउ।

रांझनु रांझनु मैनूं सभ कोईआखो,
हीर न आखो कोई।1।

जिसु शहु नूं मैं ढूंढदी वत्तां,
ढूंढ लधा शहु सोई।2।

कहै हुसैन साधां दे मिल्या,
निकल भोल गइयोई।3।

85. मैं भी झोक रांझन दी जाणा

मैं भी झोक रांझन दी जाणा,
नालि मेरे कोईचल्ले ।रहाउ।

पैरियां पउंदी मिनतां करदी,
जाना तां पया इकल्ले ।1।

नैं भी डूंघी तुल्हा पुराणा,
शीहां तां पत्तन मल्ले ।2।

जे कोईख़बर मितरां दी ल्यावे,
मैं हथि दे देनियां छल्ले ।3।

रातीं दरद देहें दरमांदी,
घाउ मितरां दे अल्ले ।4।

रांझा यार तबीब सुणींदा,
मैं तन दरद अवल्ले ।5।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
साईं सुनेहड़े घल्ले ।6।

86. मैंडे सजना वे मउले नाल बणी

मैंडे सजना वे मउले नाल बणी,
दुनियां वाले नूं दुनियां दा माणा,
नंगां नूं नंग मनी ।1।रहाउ।

न असीं नंग न दुनियां वाले,
हसदी जनी खनी ।1।

दुनियां छोडि फ़कीर थियासे,
जागी प्रेम कनी ।2।

कहै हुसैन फ़कीर सांईं दा,
जानै आप धनी ।3।

87. मैंडी दिल रांझन रावन मंगे

मैंडी दिल रांझन रावन मंगे ।1।रहाउ।

जंगल बेले फिरां ढूंढेंदी,
रांझन मेरे संगे ।1।

मेहीं आईआं,
मेरा ढोल न आया,
हीरां कूके विच झंगे ।2।

रातीं देहें फिरां विचि झल दे,
पुड़नि बम्बूलां दे कंडे ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
रांझन मिले किते ढंगे ।4।

88. मैंडी दिल तैंडे नाल लग्गी

मैंडी दिल तैंडे नाल लग्गी ।
तोड़ी नहीं तुटदी छोड़ी नहीं छुटदी,
कलम रबानी वग्गी ।रहाउ।

साईं दे खज़ाने खुल्हे,
असीं भी झोलड़ी अड्डी ।1।

किचर कु बालीं मैं अकल दा दीवा,
बिरहु अंधेरड़ी वग्गी ।2।

कोईमीरी कोईदोली,
शाह हुसैन फड्डी ।3।

89. मैंहडी जान जो रंगे सो रंगे

मैंहडी जान जो रंगे सो रंगे ।रहाउ।

मसतकि जिन्हां दे पई फ़कीरी,
भाग तिनां दे चंगे ।1।

सुरति दी सूईप्रेम दे धागे,
पेंवदु लग्गे सत्त संगे ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
तख़त न मिलदे मंगे ।3।

90. मैनूं अम्बड़ि जो आखदी कति नी

मैनूं अम्बड़ि जो आखदी कति नी,
मैनूं भोली जो आखदी कति नी ।रहाउ।

मैं निजि कतनि नूं सिखियां,
मैनूं लग्गियां सांगां तिक्खियां,
मैं पच्छी नूं मारां लति नी ।1।

हंझू रोंदा सभ कोई,
आशक रोंदे रति नी ।2।

कहै शाह हुसैन सुणाय कै,
इथे फेरि न आवना वति नी ।3।

91. मन अटक्या बे-परवाह नालि

मन अटक्या बे-परवाह नालि ।
उस दीन दुनी दे शाह नालि ।1।रहाउ।

काज़ी मुल्लां मत्ती देंदे,
खरे स्याने राह दसेंदे,
इशक की लग्गे राह नाल ।1।

नदीयों पार रांझन दा ठाणा,
कीता कउल ज़रूरी जाणा,
मिन्नतां करां मलाह नाल ।2।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
दुनियां छोडि आख़र मर जाणा,
ओड़कि कंम अलाह नाल ।3।

92. मन्दी हां कि चंगी हां

मन्दी हां कि चंगी हां,
भी साहब तेरी बन्दी हां ।रहाउ।

गहला लोकु जानै देवानी,
मैं रंग साहब दे रंगी हां ।1।

साजनु मेरा अखीं विचि वसदा,
मैं गलीएं फिरां निशंगी हां ।2।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
मैं वर चंगे नाल मंगी हां ।3।

93. मन वारने तउ पर जांवदा

मन वारने तउ पर जांवदा ।रहाउ।

घोल घुमाईसदके कीती,
सानूं जे कोईमिले वो गरांव दा ।1।

जै घरि आइ वस्या मेरा प्यारा,
ओथै दूजा नहीं समांवदा ।2।

सभ जग ढूंढि बहुतेरा मैनूं,
तुध बिनु होर न भांवदा ।3।

कहै हुसैन पया दरि तेरे,
साईं तालब तेरड़े नांव दा ।4।

94. मतीं देनी हां बालि याने नूं

मतीं देनी हां बालि याने नूं ।रहाउ।

पंजां नदियां दे मुंहु आइओ,
केहा दोसु मुहाने नूं ।1।

दारू लायआ लगदा नाहीं,
पुछनी हां वैद स्याने नूं ।2।

स्याही गई सफ़ैदी आईआ,
की रोंदा वखति वेहाने नूं ।3।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
की झुरनां हैं रब्ब दे भाने नूं ।4।

95. महबूबां फ़कीरां दा

महबूबां फ़कीरां दा
सांईं निगहवान,
जाहर बातन इक करि जाणनि,
सभ मुशकल थिया असान ।1।रहाउ।

शादी ग़मी न दिल ते आनणि,
सदा रहन मसतान ।1।

कहै हुसैन थिर सचे सेई,
होर फ़ानी कुल जहान ।2।

96. मेरे साहबा मैं तेरी हो मुकी आं

मेरे साहबा मैं तेरी हो मुकी आं ।रहाउ ।

मनहु ना विसारीं तूं मैनूं मेरे साहबा,
हरि गलों मैं चुकी आं ।1।

अउगुण्यारी नूं को गुनु नाहीं,
बखसि करें तां मैं छुटी आं ।2।

ज्युं भावे त्युं राख प्यार्या,
दावन तेरे मैं लुकी आं ।3।

जे तूं नज़र मेहर दी पावें,
चढ़ चउबारे मैं सुत्ती आं ।4।

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
दर तेरे दी मैं कुत्ती आं ।5।

97. मियां गल सुनी ना जांदी सच्ची

मियां गल सुनी ना जांदी सच्ची ।
सच्ची गलि सुणीवे क्युंकरि
कच्ची हड्डां विचि रच्ची ।1।रहाउ।

सच्ची गलि सुनी तिनाहां,
चिनग जिन्हां तनि मच्ची ।
पड़दा पाड़ डिठोने प्रीतमु,
दूत मुए सभु पच्ची ।1।

ज़हरी नाग फिरनि विच गलीएं,
जेहड़ी सहु लड़ि लग्गी सो बच्ची ।
कहै हुसैन सुहागनि साई,
जो गल थीं वांदी नच्ची ।2।

98. मितरां दी मिजमानी कारन

मितरां दी मिजमानी कारन,
दिल दा लोहू छाणीदा ।रहाउ।

काढ कलेजा कीता बेरे,
सो भी नाहीं लायक तेरे,
होर तुफ़ीक नहीं कुछ मेरे,
इक कटोरा पानी दा ।1।

सेज सुती नैणीं नींद न आवै,
ज़ालम बिरहों आण सतावै,
लिखां किताब भेजां दर तेरै,
दिल दा हरफ पछाणीदा ।2।

रातीं दरद देहैं दरमाती,
हुन नैणां दी लाईआ काती,
कदीं ते मुड़ के पावहु झाती,
देखो हाल निमानी दा ।3।

ज्युं भावै त्युं करै प्यारा,
इन्हां लगआं दा पंथ न्यारा,
रातीं देहै ध्यान तुहारा,
ज्युं भावै त्युं तारीदा ।4।

तेरे कारन मैं फिरां अज़ादी,
जंगल ढूंड्या मैं पैर प्यादी,
रो रो नैन करन फरयादी,
केहा दोश निमानी दा ।5।

दुखां सूलां रल कीता एका,
न कोईसहुरा न कोईपेका,
आस रही हुन तेरी एका,
पल्ला पकड़ यानी दा ।6।

कहै हुसैन फ़कीर करारी,
दरदवन्दां दी रीत न्यारी,
एहा वेदन मैं तन भारी,
अग्गै सच्च पछाणीदा ।7।

99. मित्तरां दी मिजमानीं ख़ातर

मित्तरां दी मिजमानीं ख़ातर,
दिल दा लहू छाणीदा ।1।रहाउ।

कढ्ढि कलेजा कीतम बेरे,
सो भी लायक नाहीं तेरे,
होर तउफ़ीकु नहीं किछु मेरे,
पीउ कटोरा पानी दा ।1।

मित्तरां लिख किताबत भेजी,
लग्गा बान फिरां तड़फेंदी,
तन विचि ताकत रही न मूले,
रो रो हरफ़ पछाणीदा ।2।

तन मन अपुना पुरज़े कीता,
तैनूं मेहर न आईआ मीता,
असानूं होर उज़र न कोई,
चारा क्या निमानी दा ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
तै बाझहु कोईहोर न जाणा,
तूं ही दाना तूं ही बीना,
तूंहें तानि नितानी दा ।4।

100. मुशकल घाट फ़कीरी दा वो

मुशकल घाट फ़कीरी दा वो,
पाय कुठाली दुरमति गाली,
करम जगाय शरीरी दा वो ।रहाउ।

छोडि तकब्बरी पकड़ि हलीमी,
राह पकड़ो शीरीं दा वो ।1।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
दफ़तर पाड़ो मीरी दा वो ।2।

Next......(101-164)
Previous......(1-50)
 
 
 Hindi Kavita