Hindi Kavita
ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद
Khwaja Ghulam Farid
 Hindi Kavita 

Kafian Khwaja Ghulam Farid in Hindi

काफ़ियां ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद

151. मैकूं कल्हड़ा छोड़ ते

मैकूं कल्हड़ा छोड़ ते ।वैंदी कैंदे सांग ।
कतरा महेज ककेस न आइयो ।लाययो हिजर दी सांग ।
थल मारू दा पैंडा सारा ।थीसम हिक पल्हांग ।
जे तैं नासी दिल विच साहम ।रहसम तैडड़ी तांग ।
जावन लादी बिरहों सणायम ।कन्नीं डुखांदी बांग ।
सदके कीते हैं नेंह कोलहूं ।खावम कालड़ा नांग ।
छोटे वकत कवारे वेले ।लगरम तैडड़ा दांग ।
मैं हां केढ़े बाग दी मूली ।कई रल मोए मैं वांग ।
घुमर घेर फरीद कपरदे न तिड़ रिसम न टांग ।

152. मैं तां तैकूं मिनतां करदी

मैं तां तैकूं मिनतां करदी ।सांवल असां वल भाल ।
वाह गमज़े वाह नाज़ चबोले ।वाह नखरे वाह तिलक तिलोले ।
वाह ज़ुलफा वाह ख़ाल ।
थी कर दाम दिलीं नूं वंगन ।थी कर नांग जिगर नूं डंगन ।
अतरों भिनड़े वाल ।
जैं डेंह यार असां तों रुठड़े ।बन पए डोरे मलमल पुठड़े ।
जर जर जर बोघ ते आल ।
भाविन मूल न बाझ सजन दे ।कपड़े नाज़क वनड़ो वनड़ दे ।
ज़ेवर आलो आल ।
दरद फराक दी चाल असाडी ।सुंजरी बटड़ीं जाल असाडी ।
बे वाही दा हाल ।
इतना ज़ुलम मुनासब नहीं ।रो रो पिट्ट पिट्ट कर कर धाईं ।
गुज़र गए सै साल ।
यार फरीद ना रुला डेसम ।ओड़क सड कर कोल बल्हेसम ।
है सोहना लजपाल ।

153. मारू मिठल वल मुखड़ा छुपाया

मारू मिठल वल मुखड़ा छुपाया ।डुखड़ीं डुखाया दरदी मुंझाया ।
तांघी तपाया मुंझी मुसाया ।सूली सताया नेढ़े हराया ।
आतन न भावां संगीन रोवाया ।धोती दा वेड़ा ढोलन पराया ।
सोजड़ी सस्सी नूं जलबी रुलाया ।है है पुनल वल फेरा न पाया ।
पूरी पराई दिलड़ी नूं ताया ।पीड़ी पुरानी मुखड़ा वंजाया ।
ख़ुशियां वेहाणियां सांवल सिधाया ।गल ग्या फरीदा जोबन अजाया ।

154. मतां मन मांदा थीवे

मतां मन मांदा थीवे ।पुनल ना थी धार ।
सांवन डेंह सुहाग दे ।हरदम मेंघ मल्हार ।
रल कर साथ गुज़ारूं ।जोभन दे दिन चार ।
मौत सुणेंदी सवली ।वंजना वारो वार ।
चेतर बहार सुहाऊं ।कर के हार सिंगार ।
पलहर पानी पीऊं ।थिया थल बाग बहार ।
ख़ुश थी नेंह निभावन ।रुस ना सांवल यार ।
तौं बिन जीवन औखा ।डुखड़े तारो तार ।
यार फ़रीद न विसरे ।दिल कीतम लाचार ।

155. मैडा इशक वी तूं मैडा यार वी तूं

मैडा इशक वी तूं मैडा यार वी तूं ।मैडा दीन वी तूं ईमान वी तूं ।
मैडा जिसम वी तूं मैडा रूह वी तूं ।मैडा कलब वी तूं जिन्द जान वी तूं ।
मैडा काअबा किबला मसजद मन्दर ।मसहफ ते कुरान वी तूं ।
मैडे फ़रज़ फ़रीज़े हज्ज ज़कवातां ।सौम सुलवात इजान वी तूं ।
मैडी जुहद इबादत तायत तक्कवा ।इलम वी तूं इरफ़ान वी तूं ।
मैडा ज़िकर वी तूं मैडा फ़िकर वी तूं ।मैडा ज़ौक वी तूं वजदान वी तूं ।
मैडा सांवल मिट्ठड़ा शाम सलोना ।मन मोहन जानान वी तूं ।
मैडा मुरशद हादी पीर तरीकत ।शेख़ हकायकदान वी तूं ।
मैडा आस उमीद ते खट्ट्या वट्या ।तक्किया मान ते तरान वी तूं ।
मैडा धरम वी तूं मैडा भरम वी तूं ।मैडा शरम वी तूं मैडा शान वी तूं ।
मैडा डुक्ख सुक्ख रोवन खिलन वी तूं ।मैडा दरद वी तूं दिरमान वी तूं ।
मैडा ख़ुशियां दा असबाब वी तूं ।मैडे सूला दा सामान वी तूं ।
मैडा हुसन ते भाग सुहाग वी तूं ।मैडा बख़त ते नामो निशान वी तूं ।
मैडा देखन भालन जाचन जूचन ।समझन जान संजान वी तूं ।
मैडे ठंडड़े साह ते मूंझ मुंझारी ।हंजनू दे तूफ़ान वी तूं ।
मैडे तिलक तलोले सेधां मांगां ।नाज़ नेहोरे तान वी तूं ।
मैडी महन्दी कज्जल मसाग वी तूं ।मैडी सुरख़ी बीड़ा पान वी तूं ।
मैडा वहशत जोश जनून्न वी तूं ।मैडा गिरिया आहो फ़गान वी तूं ।
मैडा श्यार अरूज कवाफ़ी तूं ।मैडा बहर वी तूं औज़ान वी तूं ।
मैडा अव्वल आख़र अन्दर बाहर ।ज़ाहर ते पिनहान वी तूं ।
मैडा बादल बरखा खिमणियां गाजां ।बारश ते बारान वी तूं ।
मैडा मुलक मलेर ते मारू थल्लड़ा ।रोही चोलसतान वी तूं ।
जे यार फ़रीद कबूल करे ।सरकार वी तूं सुलतान वी तूं ।
नातां केहतर कमतर अहकर अदना ।लाशै ला इमकान वी तूं ।

156. मैडा यार ग्या परदेस डों वे मियां

मैडा यार ग्या परदेस डों वे मियां ।गाने गहने केंवें पावां ड़ी पावां ।
साड़ां सेंध ते मांघ उजाड़ां ।बोडी नूं अग्ग लावां ड़ी लावां ।
बट्ठ कजला बट्ठ सुरखियां महन्दियां ।सूलीं सांग निभावां ड़ी निभावां ।
सजड़ी रात करां फ़र्यादां ।डेहां वैन वलावां ड़ी वलावां ।
ककड़े कंडरे फ़रश विछा कर ।डुक्ख दी सेझ सुहावां ड़ी सुहावां ।
मुलक मल्हेर न वुठड़म है है ।रो रो सिंध डों आवां ड़ी आवां ।
भेनणीं वीर थए सभ वैरी ।अम्मड़ी मूल न भावां ड़ी भावां ।
बाझों यार फ़रीद हमेशा ।रत्त रोवां ग़म खावां ड़ी खावां ।

157. रथ धीमीं धीमीं टोर

रथ धीमीं धीमीं टोर ।
मैंडा दसता नरम करूर दा ।मतां वंगीं लगम टकोर ।
रथ ते बहन्दी वड़रा न सहदी ।हम तबाय कमज़ोर ।
रोज़ अज़ल दी पायम गल विच ।बिरहों तैंडे दी डोर ।
शाला मोल्ह सलामत नेवां ।राह विच लड़दिन चोर ।
जेकर रथ बैठीं थक पौसां ।घोड़ा घनसां बोर ।
सौखा, तेज़, लगाम दा कूला ।ना औखा सर ज़ोर ।
रांझन ते मैं जोड़ कूं जोड़ूं ।जोड़ जोड़ेंदा जोड़ ।
सिक ते तलब मिलन दी सीने ।रोज़ नवां हिम शोर ।
पंध अड़ांगे दिलड़ी तांघे ।जलद पचावीं तोड़ ।
मैं ते यार फ़रीद मणेसूं ।रल मिल शहर भंभोर

158. मैंडा मिट्ठड़ा मांहनू काक जा

मैंडा मिट्ठड़ा मांहनू काक जा ।शाला राना इन्दम रात ।
तैडी सिक दे कान सुतीहम ।सोमल कूं घिन सांत ।
फेर सुहाई जैदीं माड़ियां ।तोड़ीं डेहे छे सात ।
सच्च डस्स जो कुझ कीती एहां ।माड़दी हई मरजात ।
काक कंधन ते रल मिल माणूं ।सावन दी बरसात ।
कहीं वटड़ी वैह ग्युहां ।ते वल न पाययो झात ।
ग़म दा हाल सुणावां किवें ।सौ डुख ते हिक्क वात ।
कांगल खंड दियां चूरियां डेसां ।कर कोई मिलन दी बात ।
पीत पट्ठे नित दरद कसाले ।वाह डाते दी डात ।
डेंह बने रो रातीं कीतुम ।रातीं कई प्रभात ।
मुंझ सलाल फ़रीद मिल्योसे ।अज़लो बिरहो बरात ।

159. मिल महींवाला मिल महींवाला

(इह काफ़ी महींवाल दी आशक सोहनी दी ज़बानी ब्यानी गई है)
मिल महींवाला मिल महींवाला ।हर दिल में है तैडड़ी भाल ।
रोज अजल दी सखती मारी । डितड़ी मूल न किसमत वारी ।
मा प्यु वीर न लहम संभाल ।
फिकर फराक ते मूंझ मंझारी ।यारी ला के मुट्ठड़ी हारी ।
डिसदम वसल वसाल मुहाल ।
रोंदी रड़दी कूकां करदी ।आहीं भरदी जुख जुख मरदी ।
इशक अवलड़ा जी जंजाल ।
ज़ोरे तौरे हुसन दे माने ।सारे सिंग़ार वहाने ।
आई ओड़क सूलां ज़ाल ।
नाज़ नज़ाकत नोक नखरे ।सहजों सुख सुहाग दे बखरे ।
साडे खोपड़े कोझड़ा हाल ।
खवेश कबीला दुसमन सारा ।हर कोई मारम जान वचारा ।
बिरहों अवैड़ा उलटी चाल ।
वेड़े यार फरीद न आया ।गल ग्या जोभन मुफत अजाया ।
डिठड़े डन्द ते चिटड़े वाल ।

160. मुसाग मलेंदी दा गुजर ग्या डेंह सारा

मुसाग मलेंदी दा गुजर ग्या डेंह सारा ।
शिंगार करेंदी दा गुजर ग्या डेंह सारा ।
कजला पायम सुरखी लायम ।कीतम यार वसारा ।
काग उडेंदी उमर वेहानी ।आया न यार प्यारा ।
रोह डूंगर ते जंगल बेला ।रोलिअम शौक आवारा ।
हकदम ऐश दी सेज न मानड़िम ।बख़त न डितड़म वारा ।
पढ़ बिसमल्ला घोलिअम सरकूं ।चातम इशक अजारा ।
रांझन मैंडा मैं रांझन दी ।रोज़ अज़ल दा कारा ।
हजर फरीदा लम्बी लाई ।जल ग्योम मुफ़त विचारा ।

161. मुट्ठड़ी दिल्लड़ी डुक्खड़ीं कुट्ठड़ी

मुट्ठड़ी दिल्लड़ी डुक्खड़ीं कुट्ठड़ी ।है नाज़ अदा दी लुट्टड़ी ।
हन ज़खम जिगर दे आले ।दिल पुरज़े अक्खियां नाले ।
सै सीने पौन उबाले ।जिन्द हार हुटी मैं मुट्ठड़ी ।
तत्ते दरद अन्दोह अवैड़े ।लाई दिल्लड़ी झोकां देरे ।
हुन हज़रत इशक नवेड़े ।डित्ती पीड़ पुरानी पुट्ठड़ी ।
सर छतड़े नेंह ल्यु से ।सब शरम शउर गंव्यु से ।
दिल ढोले यार ल्युसे ।सस्स मारम अम्मड़ी रुट्ठड़ी ।
मिल माही आरो यारों ।थी फ़ारग़ कुल कंम कारों ।
रल रावल डाकां चारों ।है अज्ज कल रोही वुट्ठड़ी ।
थी खीरू ख़ीर चरेसां ।अक्खीं नाल उग्हाड़ बणेसां ।
पाह पलकां नाल बुढ़ेसां ।घर बारों संगत तरुट्टड़ी ।
थियां सुंज बर सेहन हवेलियां ।गईआं संगियां विस्सर सहेलियां ।
अलबेलियां बांह चुड़ेलियां ।मा भैन कनूं दिल छुट्टड़ी ।
ग्या चेतर फ़रीद अजाया ।घर सांवल यार न आया ।
सर सूलीं सख़त सताया ।थई दुशमन किसमत खुट्टड़ी ।

162. नाम अल्ला दे पांधिड़ा

नाम अल्ला दे पांधिड़ा ।मैंडा लै सनेहड़ा जा ।
आखीं बठ घत दरोह प्रीत कूं ।यार न वटड़ा ला ।
जीवें जिवें कंड डे ग्याहीं ।ओवें मूंह डे आ ।
है है ज़ालम नीयत्त मुरादी ।थोले खोट कमा ।
चालीं पेच फरेबी वाली ।ढोलन रीत वटा ।
करके संगत सांग बेगाने ।बैठूं मन परचा ।
ब्या है कोन कहेंदा तूं ही ।साडे बार उठा ।
सस्स नैणानां मारिम ताअने ।मेहने ड्योम मा ।
आ कर माही दीदीं देरे ।दिल विच झोकां ला ।
ना कढ्ढ गालीं ना दे मन्दड़े ।वातों समझ अला ।
यारी लाययो ला न जातो ।महज़ न आइयो डा ।
झोर झुराने जिन्द दा जोखों ।डितड़स मास सोका ।
डिठड़े बाझों क्युं जतरां ।बिरहों लगा हड्ड ता ।
सखड़ी ना डे यार उलांभे ।कर कुझ कान हया ।
सोहनी नाल निभावे हर कोई ।कोझी नाल निभा ।
जलदी आवीं ना चिर लावीं ।साह ते नहम विसा ।
डे कर साडी बांह सर्हांदी ।सूहे सेझ सुहा ।
तै कन सांवल दिलड़ी आपे ।आवेसचम सर चा ।
बे ठाई गुजरान न भली ।बठ प्या कूड़ निभा ।
चाढ़ी तोड़ न राह विच रोलीं ।रखना याद वफा ।
अंगन फ़रीद दे भूरल जानी ।सहजों आ पौं पा ।

163. नैनां नहीं रहन्दे हटके

नैनां नहीं रहन्दे हटके ।
नैन नैनां सां अड़दे लड़दे ।लाकर नाज़ दे लटके ।
गलड़ीं कूचीं शहर बज़ारां ।लगड़े नेंह दे चटके ।
नाज़ नहोरे नोकां नख़रे ।लांवन बिरहों दे कटके ।
मेहणीं सिट्ठड़ीं ताने तबरे ।घडड़े लोकां बटके ।
सहसां टोकां वैसां झोकां ।खवेश कबीले स्टके ।
यार बिनां फूक अग्ग अड़ेसां ।हार हमेलां पटके ।
डुक्खड़े सहन्दे नैन न रहन्दे ।बे वस थींकर अटके ।
नेड़े बाझ फ़रीद न भावे ।भट घत कूड़े खटके ।

164. नैन नराले नीर

नैन नराले नीर ।निक्खड़े नूर नज़र दे ।
साड़न सूल सरीर ।सागी सोज़ सकर दे ।
खुतड़े बिरहों कटारी कुट्ठड़े ।नाज़ नहोरे नख़रे मुट्ठड़े ।
चूचक चकमक वीर ।वैरी वल वल घर दे ।
सेझ सुहाग दी सड़ गई सारी ।डोहड़े डुक्ख डुहाग डहाड़ी ।
तक्क तक्क मारन तीर ।ज़हरी ज़ोर ज़बर दे ।
पोर पुन्नलड़ेदे पल पल दे ।जिदड़ी जुखदी जियड़ा जलदे ।
पीत पुरानी पीड़ ।वैरी दरद अन्दर दे ।
सट्ट कर सजन सधायउं सोहना ।मुलक मल्हेर मिल्यु मन मोहना ।
चुढ़ चुढ़ चकदे चीर ।जारी जरह जिगर दे ।
सांग सुंजी नूं सिक सांवल दी ।मंझ मुट्ठी नूं मूह मिठल दी ।
हार हुट्टी हुन हीर ।होस गए होश हुनर दे ।
नेंह नवां नित्त नाला ज़ारी ।फ़िकर फ़राक फ़रीद दी यारी ।
रग रग रोग दी रीर ।रोदीं रूह उबर दे ।

165. ना कर बे परवाही वो यार

ना कर बे परवाही वो यार ।मिल सावल माही वो यार ।
बठ प्या रंग पुर दा परनीवना ।तौं बिन जीवन डुखड़ा थीवन ।
समझां मौत विसाहीं वो यार ।
बाझों तैंडे बाझ अजाई ।अमड़ी बाबल भैणीं भाई ।
फिरदी दिल तों लाही वो यार ।
किवें पेकीं पतनी वलदी ।तोड़ असल दी रोज़ अज़ल दी ।
हीर रांझन दी आही वो यार ।
चाई जाई इशक धनवाई ।पीत सिवा पई रीत ना काई ।
बे वाही बे ठाई वो यार ।
विसर्या रंग महल चचकाना ।झंग स्यालीं ते मघ्याना ।
लाययो कैबर जाही वो यार ।
धूड़ महीं दी नूर अखीं दा ।पाह हम्बाह है मान महीं दा ।
डेवम हाल गवाही वो यार ।
सहजों सुरखी मैंदी लैसां ।कजल्हा पीसां मांग बणेसां ।
जो थीयों मै डो राही वो यार ।
आपे तखत हज़ारों आया ।हीरे कारन चाक सडाया ।
सट कर शौकत शाही वो यार ।
बिरहों फ़रीद थी उसे साथी ।जै डेंह रावल पाकर झाती ।
जादू मुरली वाही वो यार ।

166. ना कर केच वंजन दी

ना कर केच वंजन दी ।रहो बरोचल यार ।
इशक लाययो सै पुठड़ा ।भुल ग्या कुल कंम यार ।
जान जिगर विच डुखड़े ।सीने सूल हज़ार ।
बाझों मारू मिट्ठड़े ।बार डिसे घर बार ।
तौं बिन होत प्यार ।सेझ थई कुल खार ।
रल मिल यार हमेशा ।माणूं चेतर बहार ।
नेंह निभावन औखा ।अखियां ज़ारो ज़ार ।
ढोल फ़रीद दे कोल्हों ।सारी उमर गुज़ार ।

167. नासह नाही नाथी मानिअ

नासह नाही नाथी मानिय ।इशक असाडा दीन ईमान ।
कुनतु कनज़न इशक गवाही ।पहलों हुब ख़ुद ज़ात कूं आही ।
जैं सागे थया जमल जहान ।
इशक है गद्दी परम नग्गर दा ।इशक है रह्हबर राह फ़कर दा ।
इशकों हासल है इरफ़ान ।
माल अयाल दी बट्ठ घत यारी ।दुनियां अकबा तों थी आरी ।
बे सामानी है सामान ।
मज़हब मशरब ला मज़हब दा ।लुब है अरश अरब दा ।
शाहद दरस हदीस कुरान ।
सिख लिखत्त स्ट्ट ग़ैर दी इल्लत ।इबनल अरबी दी रक्ख मिल्लत ।
आख्योम सोहने फ़खर जहान ।
ग़ाफ़ल शागल नासी ज़ाकर ।सालेह तालेह मोमन काफ़र ।
सब है नूर कदीम दा शान ।
अहद ओही है अहमद ओह है ।मीम दे ओल्हे दिल्लड़ी मोहे ।
ध्यान फ़रीद रक्खीं हर आन ।

168. नेंह अवलड़ा औखा लायम

नेंह अवलड़ा औखा लायम ।सिक्क पल पल दी मार मुंझायम ।
पुच्छदी मुला बहमन जोसी ।केढ़ा वकत मिलन दा होसी ।
ढोल असाडे वेढ़े औसी ।रंज हिजर दे सख़त सतायम ।
रोही वुठड़ी मेंघ मल्हारां ।पोटे पोटे थियां गुलज़ारां ।
शाला मोड़म दोसत मुहारां ।भाग सुहाग दी मौसम आइम ।
अखियां रोवन दिल कूरलावे ।दिल्लड़ी जुखदी तन तड़फावे ।
रात डेहां आराम न आवे ।डुक्ख डुहाग दे बार उठायम ।
इशक अवैड़ा पेश प्यु से ।दरद कशाले सेझ ढ्युसे ।
मूंझ मुंझारी हार तपोसे ।सहजों डुख डुहाग सुहायम ।
हुसन परसती घात असाडी ।गज़ हरायक बात असाडी ।
रमज़ हकीकी झात असाडी ।फ़खर जहां एहा रीत सखायम ।
मिलसम यार फ़रीद कडाहीं ।दूद दुखावां कढ्ढ कढ्ढ आहीं ।
जान जिगर तन भड़कन भाईं ।सोज़ पुनम दे साफ़ जलायम ।

169. नेंह अवलड़ी चोटक लाई

नेंह अवलड़ी चोटक लाई ।तन मन कीतुस चकना चूर ।
माही बाझों किवें गुज़ारां ।सोज़ घनेरे डुख हज़ारां ।
पौवन तती कूं पल पल पूर ।
सेझ सुती नैनां निन्दर न आंदी ।कीकर गुज़रे रैन डुखां दी ।
दिल दा ढोला छड्ड ग्या दूर ।
पिटद्यां खपद्यां उमर निभावे ।सोहने बाझ आराम न आवे ।
दरद वसाया कहर कलूर ।
गुमराही सब ज़ुहद इबादत ।शाहद मसती ऐन हदायत ।
जिस जा कीता इशक ज़हूर ।
नूर हकीकी घुंघट खोले ।उठ गए ओल्हे भज्ज पए भोले ।
हर जा ऐमन हर जा तूर ।
फ़खर जहां हिक रीत सुझाई ।अरज़ी थिया यक बार समाई ।
ज़ुलमत बण गई नूर नूर ।
नीत फरीद नमाज़ शहूदी ।हर शै में है रमज़ वजूदी ।
सट मलवाने जो मज़कूर ।

170. नेंह लायम कारन सुख़ वे मियां

नेंह लायम कारन सुख़ वे मियां ।पए पल्लड़े डोड़े डुक्ख वे मियां ।
न खवाहश दुनियां दोलत दी ।ना शाही सौकत सौलत दी ।
है हिक दीदार बुख वे मियां ।
ना कासद ना पैग़ाम आया ।ना खुशक जवाब सलाम आया ।
गई गुज़र उम्मर जुख जुख वे मियां ।
विच्च दिल्लड़ी दरद अन्दोह भरी ।पई रूड़ी वारे चिनग ज़री ।
नित्त सड़म तत्ती दुक्ख दुक्ख वे मियां ।
कहीं खबर डस्सां मैं ढालां दी ।दिल सुंजड़ी मुम्बड़ी मुढ लांदी ।
थोले गालों वैंदी डुख़्ख़ वे मियां ।
हउं इशक दे मुलक दे मीर असां ।पुशाक है सौ सठ लीर असां ।
है बिसतर खुतड़ी नुख वे मियां ।
इहो खट्टिया इलम हुनर दा है ।क्युं विसरे नकश पत्थर दा है ।
सोहने ख़ान पुनल दा मुक्ख वे मियां ।
है छोटी लादी दिल कुठड़ी ।हत्थों नाज़ बरोचल दी मुट्ठड़ी ।
अजां डित्ते न हामिस सुख वे मियां ।
थल मारू दे विच्च रोल ग्या ।आया सख़त डुक्खां दे वात ज्या ।
तले रेत तत्ती उतों लुख वे मियां ।
जैं डेह फ़रीद तूं यार रुठन ।पिट रो रो कट्ट कट्ट पैर मुठन ।
मारी मुक सीने गक कुख वे मियां ।

171. नेंह निभाया सख़त बुरा है

नेंह निभाया सख़त बुरा है ।बार अजल सर बारी भलो ।
मारू मुहब मल्हेर सिधाया ।वलदा कोई पैग़ाम न आया ।
फिर दी शहर आवारी भलो ।
केच ग्यां दी ख़बर न आई ।रोंदी गल गई उम्मर अजाईं ।
यार न कीतम कारी भलो ।
डुक्खड़े डुक्खड़े आइम पुक्खड़े ।ताडे डिट्ठड़े टोभे सुक्कड़े ।
दिल्लड़ी दरदीं मारी भलो ।
ककरे कंडड़े राह जबल दे ।औखे पैंडे मारूथल दे ।
सूलीं साड़ी हारी भलो ।
रेत थलां दी पैर पचाले ।झलकन छलकन लक्ख लख़्ख़ छाले ।
पल्लड़े प्युम खवारी भलो ।
रोह डूंगर दियां औखियां घटियां ।मारू थल दियां डुक्खड़ियां पट्टियां ।
वह वह यार दी यारी भलो ।
इशक फ़रीद न कीतम भला ।है है बख़त न थीवम सवल्ला ।
वैदम होत वसारी भलो ।

172. नेड़ अलावन हाल वंजावण

नेड़ अलावन हाल वंजावन ।मुफ़ते पूर पराए ।
मेहणीं खादी सिट्ठड़ीं सहन्दी ।दिल्लड़ी चा बरमाए ।
करन शकायत सेंगियां सईआं ।गिल्लड़े हक्क हमसाए ।
आर व यार पचार करेंदे ।सकड़े मां प्यु जाए ।
वीर नहेड़े अमड़ी झेड़े ।बाबल नित्त दड़काए ।
सस्स निनाणां करन बखेड़े ।रोज़ बरोज़ सवाए ।
बांदियां बरदियां महज़ न ड्रदियां ।दाई वैन अलाए ।
असलों सिद्धड़ा मूंह न डेंदे ।मामे चाचे ताए ।
कांगा कासद पठ पठ हुट्टड़ी ।यार न वाग वलाए ।
नाज़ नवाज़ निमाने शोदे ।हार सिंगार अजाए ।
मारू छोड़ मल्हेर मल्हारां ।आपे आ बुलवाए ।
रल मिल टोभे ते तिर ताडे ।साडो नाल वसाए ।
किसमत जागे बख़त भड़ाए ।कादर दोसत मलाए ।
सहजों लेटे तूल नेहाली ।सूही सेझ सुहाए ।
भागम सख़ती ते बद बख़ती ।भाग सुहाग मल्हाए ।
सांवल बांह सिरांद िडेकर ।सारी रात निभाए ।
छोड़ वंजन दी दूर रहन दी ।ना रक्ख रांझन राए ।
तौं बिन रावल जोगी दिल दे ।डुक्खड़े कौन मिटाए ।
ना कोई संगती ना कोई साथी ।ना कोई हाल वंडाए ।
सच्च है कौन पराए डुक्खड़े ।अपने गलड़े पाए ।
जिस तन लगड़ी सोई तन जाने ।होरां क्या परवाए ।
अपने बारे आप उठेसां ।दिल्लड़ी नित्त फरमाए ।
कर बोवाही स्ट्ट निन्दराई ।पेची केच सिधाए ।
सुंजड़ेदे सुंजड़ेपे क्या क्या ।पेश तत्ती दे आए ।
सुरख़ीं मैंदीं तिलक तलौलीं ।फ़िक्कड़े रंग डिखाए ।
हक्क डुक्ख सै सै सांग खुशी दे ।सारे साफ़ वंजाए ।
चोली चुनड़ी सोज़ों भुनड़ी ।आस न पुन्नड़ी हाए ।
इशकों मूल न फिरसां ।तोड़ीं मूंह न लाए ।

173. पल पल सूल सवाया है

पल पल सूल सवाया है ।जी मुफत डुक्खां विच्च आया है ।
दूर ग्या मनज़ूर दिलीं दा ।तन मन धन है माल जहीं दा ।
शाला ढोलन मिलम चहींदा ।दरदां सख़त सताया है ।
दशत बियाबां जाल असाडी ।सोज़ अन्दोह दी चाल असाडी ।
मातम हाल ते काल असाडी ।इशक बहूं डुक्ख लाया है ।
चाक कीते दिल चाक महीदे ।कौन कलल्लड़े ज़खम कूं सींदे ।
मरहम वसल वसल तहीदे ।खेड़ा कूड़ा जाया है ।
रांझन जोगी मैं जुग्यानी ।बे ज़र उस दे राह वकानी ।
मुट्ठड़ी मारी फिरां नमानी ।नान नशान गंवाया है ।
बिरहों अलम्बी जूड़ कर लाई ।सड़दी बलदीं फिरां लुकाई ।
लोक क्या जाने पीड़ पराई ।जो लिख्या सो पाया है ।
छड्ड ग्या रांझन सिर दा वाली ।कीतस हाल कनूं बेहाली ।
साड़ां सेझ ते तोल नेहाली ।सभ कुझ हिजर भुलाया है ।
दिल नूं लुट्या इशक मरेले ।फिरदी शहर ते जंगल बेले ।
मतां फ़रीद करे रब्ब मेले ।तांघ आराम वंजाया है ।

174. परदेस डेहों दीदां अड़्यां वे यार

परदेस डेहों दीदां अड़्यां वे यार ।साड्यां वतन कनूं दिली सड़ियां वे यार ।
खबर नहीं इन्हां कमल्यां लोकां ।तेग़ां तेज़ बिरहों दियां नोकां ।
दरद मन्दां सिर खड़ियां वे यार ।
जे तईं मौत करेसम टाला ।डेखां नाल अक्खीं दे शाला ।
शहर इरम शाह परियां वे यार ।
डेख के चाली यार सजन दियां ।नाज़ खरामां मनमोहन दियां ।
कबकां रोही वड़ियां वे यार ।
मैं जेहियां तैंडियां सौ (सठ) सहेलियां ।नाज़ पनुनियां राज गेहलियां ।
थियां दीवानियां चरियां वे यार ।
किसनी चायम नेहड़ा लायम ।जिन्दड़ी मुफ़त फ़रीद गवायम ।
निभ गईआं सुख दियां घड़ियां वे यार ।

175. परदेसी यारा वा पूरब दी घुले

परदेसी यारा वा पूरब दी घुले ।
सावन मींह बरसात दी वारी ।फोरा फुली खिप फुले ।
गाजां गजकन बिजलियां लिशकन ।ज़ौकों दिल्लड़ी चुले ।
धामन कतरन सण्ह ते सहजों ।छतर सुहाग दा झुले ।
जे तैं पानी पल्हड़न खुटसी ।कौन भला सिंध जुले ।
रोज़ बरोज़ फ़रीद है लज़्ज़त ।तबा डेंहों डेंह खुले ।

176. पटी पीत दे पंध परेरे

पटी पीत दे पंध परेरे ।बुरे बिरहों दे बार बरेरे ।
जाने मूल न जाने ।भाने यार दे मन नूं भाने ।
गाने गहने मेवे खाने ।विस्सरे तोल वहाने ।
राज बबाने हुसन दे माने ।गुज़रे भाग भलेरे ।
टोल खुशी दे रोल डित्ते ।वोह सूलां लाई कानी ।
ढोल न नीतम कोल मुट्ठी ।ग्या जोबन जोश जवानी ।
हार शिंगार न खड़ मुकलाया ।तरुट्टड़े फुलों सेहरे ।
बादल काले पूरब वाले ।नाले बाद शमाले ।
बारश नाले वकत सुखाले ।मौसम रूप डखाले ।
सोज़ उगाले पौन उबाले ।यार नहीं है वेढ़े ।
चेतर बहारां खेतर हज़ारां ।टोभे तार मतारां ।
गुल गुलफ़ारां लक्ख लल्हकारां ।कनड़ी पवन तवारां ।
झौपड़ साड़ां झोक उजाड़ां ।दोसत न वसदा नेड़े ।
तांघां यार दियां सागा ।कन्नड़ीं बिरहों सुणाईआं बांगां ।
कज्जड़े वाल ते उज्जड़ियां माघां ।लिखदी हिजर दे कांगां ।
करदी चांगां सुझन न तांगां ।सुख दे बुड गए बेड़े ।
राह जबल दे मारू थल दे ।सांग कसांग अज़ल दे ।
आवन याद पुन्नल दे रलड़े ।पूर पवन पलपल दे ।
डुक्खड़े वलवल पुक्खड़े ढलदे ।दरद अन्दोह घनेड़े ।
वेस वटेसां देस छुड़ेसां ।जोगन थी गुज़रेसां ।
ख़ाक रमेसां धूनड़ी लेसां ।नाज़क नेंह निभेसां ।
शरम लोढ़ेसां भरम पुड़ेसां ।कीजो खिलसन खेड़े ।
नोक ग़मां दी चोक डुक्खां दी ।दम दम दिल दरमांदी ।
रात डेहां तड़फांदी ।कुट्ठड़ी मेहनी सिट्ठड़ीं खांदी ।
सेझ न भांदी पई कुरलांदी ।मुट्ठड़ी इशक अवैड़े ।
दिल्लड़ी हरमल अख़्ख़ियां पलपल ।पैरीं छल छल छाले ।
नरमल दरद अन्दर दे दरमल ।डित्तड़े रोग कसाले ।
जलबल ते हत्थ मलमल कूकां ।ज़खम पए विच्च ज़ेरे ।
लाली लिवे ते कांगां बोले ।थीवां ओले घोले ।
मुरग ममोले करन चबोले ।ना डे रावल रोले ।
सारे सौन शगून शमोले ।दर वेढ़े बट्ठ झेड़े ।
क्या दूरी महजूरी ओड़क ।वंजणां झोक ज़रूरी ।
पूरी नेसां सिक्क सावल दी ।हम ईमान दी मोड़ी ।
पूरे झोरै ख़ाक पट्टी दी ।करसम केच केच वहेड़े ।
अग लाई भड़काई रंगत ।चशमां चोल चलाई ।
दीदां करन लड़ाई ।रमज़ां जड़ कर चाट चखाई ।
बेवाही दे नाल अजांई ।ग़मज़े रखन बखेड़े ।
अल्ला रासी मा ना मासी ।शहर भंभोर दी वासी ।
तरह उद्दासी सख़त प्यासी ।बदन भभूत सनासी ।
खोसा फासी थी बे आसी ।पलपल मौत कहेड़े ।
जंगल बेले सीह मरेले ।डोड़े डुक्ख डुहेले ।
कपड़े मैल कुचेले ।निभ गए हस्सन खिलन दे वेल्हे ।
वेल्हे मेले कर अलबेले ।आवस होत उरेरे ।
पंध अड़ागे दिल्लड़ी तांघे ।औखे वसल दे सांघे ।
मिलन मरांगे कोझे लांघे ।चोला बोछन घांगे ।
जोह जतन दे डिस्सम न चागे न खारे न छेड़े ।
तीर जिगर विच्च पीड़ अन्दर विच्च ।नीरा नीर वहीरां ।
पीर मनावां धीर न पावां ।दिल दिलगीर लवीरां ।
मारू छोड़ मल्हेर सिधाया ।पए तकदीर नखेड़े ।
सटियां मटियां भटियां कट्टियां ।वटियां पटियां पतियां ।
घटियां खुशियां पाड़ूं पटियां ।हटियां सुख दियां रतियां ।
मुट्ठियां तेग़ बिरहों दियां कुट्ठियां ।लोटियां नाज़ नवेरां ।
दरद जदीद मजीद हमेशां ।रीत परीत सवाई ।
पीत परम दे गीत सिखायम ।नीत असां सर चाई ।
ईद फ़रीद बईद सुण्युसे ।ग़म कीते दिल देरे ।

177. पए डुख गल विच जमदे यार

पए डुख गल विच जमदे यार ।ना रह ग्यो सै कहीं कंम वे यार ।
बाग़ बहार उजाड़ कीतो सै ।हार शिंगार वसार डितों सै ।
दौलत दुनियां दार थीयो सै ।नौकर तैंडड़े दम दे यार ।
शरम शऊ्रर असां तों रुठड़े ।नंग नमूज़ दे सांगे तरुटड़े ।
घोले सदके कीते मुठड़े ।आसरे भीम भरम दे यार ।
हक वेल्हे अहराम हरम दे ।हक वेल्हे ज़नार धरम दे ।
ना पाeन्द हूं दीन जड़म दे ।बन्दड़े इशक दे ग़म दे यार ।
डोखे चाल अनोखी पुठड़ी ।कई वंज पहुंती, कई मरहुटड़ी ।
नाज़ तैंडे दी रांद न खुटड़ी ।गुजरे दह आदम दे यार ।
लाने फोग असाडे माने ।टिबोड़े,भिटड़े,डहर टकाने ।
डिसदे सुकड़े खेतर कमाने ।सागी बाग़ इरम दे यार ।
यार फ़रीद मिलम घर अन्दर ।पांवां भाग सुहागों ज़ेवर ।
खावन सहजों बोले बेंसर ।लचके कल सरसम दे यार ।

178. पीड़ पुरानी बेशम कीता

पीड़ पुरानी बेशम कीता ।नाल न नीतम सांवल यार ।
पुनल यार कूं चा भरमाययो ने ।ज़ोरा ज़ोरी पकड़ नीतो ने ।
पौने शाला रब दी मार ।
पैर हवाड़ां खोज न पावां ।रो रो करड़ कंडा गल लावां ।
नैन सिके ते ज़ार नज़ार ।
थी राही थल मारू जुलसां ।लांडी ते लस बेलां रुलसां ।
सुंज बर बार, कीतम घर बार ।
पानी मूल न मिठड़े खारे ।ना कुझ पलड़े ना कोई चारे ।
नारह डिसदम सुतर सवार ।
विसरियां रंग रंगेलियां जाईं ।बाग़ बगुचड़े ठडरियां छाईं ।
सेहरे गाने घने यार ।
नाज़क शौख मज़ाज निगाह अनोहां ।यारी ला कर थीयो अणसुहां ।
केडे गल गए कौल करार ।
करम तती दे ना डुख मिटड़े ।करम न कीतम मारू मिठड़े ।
जितड़ी बाज़ी डितरश हार ।
केच डु तणसां जे तैं जैसां ।जे वल वलसां काफ़र थीसां ।
गल विच पायम परीत महार ।
औखियां घाटियां गाटियां चाटियां ।लाहियां चाढ़ियां सभ अठ काठियां ।
सजड़ो खबड़ो सौ सौ ग़ार ।
बठ प्या भुटड़े वाहन दा जोमां ।शहर भम्बोर वी कूड़ निकमां ।
कीच हई वतन हकीकी वार ।
यार फ़रीद न कीतम गोली ।सुरखी डिसम बन्दूक दी गोली ।
धार कजल दी थई तलवार ।

179. पिरी अज न ग्युसे कल ही सही

पिरी अज न ग्युसे कल ही सही ।इहो वतन बेगाना कूड़ा कूड़ टिकाना ।
रंग गुल फुल डेख के भुल न बहीं ।सिद्धे राहों सालिक रूल न बहीं ।
एहीं जग दी जगमग़ समझ बहाना ए ।
नग्गरी मुलक पराया है ।अत्थ आसरा रक्खन अजाया है ।
मुढों रहन न डेंदे करिन रवाना ।
थी ग़ाफ़ल असलों हिक्क न घड़ी ।हुन हत्थ हत्थ मल मल परताब ज़री ।
माझु मौत ने भेज्या लिख परवाना ।
बट्ठ दुनियां फ़ानी देस इहो ।सभ मकर फरेब दा वेस एहो ।
क्या नाज़ नहोरे तान तुराना ।
कर तोबा इसतगफ़ार सदा ।रक्ख बिदअत शरको आर सदा ।
थी महज़ मवाहद साफ़ यगाना ।
रब्ब बाझ फ़रीद नूं आस नहीं ।एहा उम्मर सभो हिक पास नहीं ।
कहीं नाल न चाड़े तोड़ ज़माना ।

180. प्या इशक असाडी आन संगत

प्या इशक असाडी आन संगत ।गई शदमद ज़ेर जबर दी भत्त ।
सभि विसरे इलम अलूम असां ।कुल भुल गए रसम रसूम असां ।
है बाकी दरद दी धूम असां ।पए बिरहों दी याद रहउसे गत ।
इन्हां जूठ्यां गैरां वैरियां तों ।इन्हां कूड़्यां खेड़्यां भैड़ियां तों ।
इन्हां कोझ्यां गेड़्यां पेड़्यां तों ।हर वेल्हे यार बिनम डतपत ।
कर सबर ते शुकर शकायत ते ।रख आस उमीद इनायत ते ।
पए फख़र दी फ़कर वलायत ते ।डेंह रातीं दिलड़ी ड्योम मत ।
मुठी गिलड़ी शहर विखोही दी ।तत्ती मुलक मलामत डोही दी ।
सुंजी रोही रावे रोहीं दी ।डिती खलअत यार बरोचल जत ।
नित खावां डुखड़ीं तूं मुक लत ।हां! आखन नेड़ा लैसीं वत ।
कडीं वोए तोए ते कडीं करन हट हट ।डे डर के खूब नपीड़न सत ।
सट कल्हड़ी यार फरीद ग्या ।इहो हाल नमानी नाल थिया।
फर्याद करां कर याद पिया ।हत्थ मल मल बैठी रोवां रत्त ।

181. पुनल छड के नीच सिधायओं

पुनल छड के नीच सिधाययों ।दिलड़ी नमानी है ज़ार नज़ार ।
यास प्यास नसीब असाडे ।ना कोई टोभे ना कई ताडे ।
ना राह डिसदम करहूं कतार ।
दरद घनेरे डुख हज़ारां ।सूल तती कूं तार मतारां ।
बिरहों बछेंदा रोज़ आज़ार ।
सट कर शाही थीसां बांदी ।ठीक सोहेसां रीत ग़मां दी ।
कीजो करसम लोग व्यार ।
सेझ न भाविम पई तड़फ़ावां ।तारे गिन गिन रात निभावां ।
न कोई साथी न ग़म खवार ।
मां प्यो वैरी मूल न भांदे ।मेने डेवम बरदे बांदे ।
सैगियां सुरतियां करदे आर ।
जैं तन लगड़ी सोई तन जाने ।गैर फ़रीद न रमज़ पछाने ।
जानम सोहणां दिलबर यार ।

182. पुनल थीवीं पांधी यारा

पुनल थीवीं पांधी यारा ।छड्ड के कल्हड़ी बर विच ।
हर दम वतां दरमादी यारा ।सै सै रोग अन्दर विच ।
पीत न पाली सर दे वाली ।तूल नेहाली रोलेस खाली ।
दिल दरदों कुरलांदी यारा ।मूंह पलड़ु घर घर विच ।
रखदी आस उमीद हजारां ।आखर हिक डैंह मोड़ महारां ।
होत थीसम आ कांधी यारा ।नेसम तोड़ कबर विच ।
सूल दे सेहरे सोज़ दे गाने ।मुंझ दे हार डुखां दे गहने ।
दरदी बांह सरहांदी यारा ।वसदी यास नगर विच ।
नेंह अवैड़ा, दुशमन वैढ़ा ।मा प्यु रखम बखेड़ा झेड़ा ।
क्या बरदी क्या बादी यारा ।करदियां टोक टबर विच ।
मारू थल दे डुखड़े घाटे ।गप्प खड खुड़बन खोब गपाटे ।
गत डेहां तड़फांदी यारा ।रुलदी रोह डुंगर विच ।
बिरहों बलाईं संझ सबाहीं ।दम दम आहीं निकलन धाईं ।
सेझ फरीद न भांदी यार ।लगड़ी चोट अन्दर विच ।

183. पूरब लिलहावे ते पतालों पानी आवे

पूरब लिलहावे ते पतालों पानी आवे ।
पीघां वनड़ो वन्नड़ दियां ।मछलै पीले गूढ़े सावे ।
बदले दरदों रोवन ।बिजली अक्ख मारे मुसकावे ।
रोही रंग रंगीली ।चक खिप हार हमेलां पावे ।
बूटे बूटे घुंड सुहागों ।गीत परम दे गावे ।
केसर भिन्नड़ी चोली चुन्नड़ी ।वल वल मींह पुसावे ।
पूरब माड़ दखन दे बादल ।कोई आवे कोई जावे ।
सावन मेंघ मल्हारां ।सहजों थलड़ीं माल न मावे ।
पीसूं पानी धारो धारी ।डेसूं झोक तरावे ।
वुट्ठवे पाले थए ख़ुसहाले ।माल मवैशी गावे ।
सभ कई पाकर चूड़े बीड़े ।बह मटिया घबकावे ।
सोहनी कोझी गहने गट्ठड़े ।पावे पा ठुमकावे ।
सेंध मांघां तिलक तलोले ।कज्जल मुसाग सुहावे ।
रशक खुईद डिस्से सिण्ह धामन ।थए चौगुट्ठ पलावे ।
ननद न मावन खीर गईदे ।पुर थए झाब डुहावे ।
कूंजां करकन मोर चंघारे ।कोइल कूक सुनावे ।
आवन रलड़े याद सजन दे ।जुलमीं बिरहों सतावे ।
सोहनी मौसम सोहणियां मुद्दतां ।सोहणां आन मल्हावे ।
बाकी उम्मर फ़रीद दी शाला ।सांवल सांग वहावे ।

184. पुरानी पीड़ पई गल दी

पुरानी पीड़ पई गल दी ।ना गलदी दाल दरमल दी ।
सदा जलदी ते हत्थ मलदी ।अज़ल दी तांग पलपल दी ।
वता रोलदी पट्टी थल दी न टलदी सिक बरोचल दी ।
सड़ेंदी सेझ बखमल दी ।तलेंदी तूल नरमल दी ।
सुंजी नूं सांग सावल दी ।अज़ल दी है न अज्जकल दी ।
डुक्खां डुखड़े डित्ते डाढे ।हडां दा मास ग़म खाधे ।
हमेशा दरद हिन वाधे ।पुन्नल वलदीं करीं जलदी ।
अवैड़ा इशक प्या झोली ।लवीरां है चुन्नी चोली ।
न जमदीं वकत मा घोली ।डित्ती गोली हलाहल दी ।
सजन रुठड़ा ते मुख मुट्ठड़ा ।खुशी दा सांग सभ तरुट्टड़ा ।
ना डुक्ख खुटड़ा न जी छुट्टड़ा ।अपुठड़ी मूंझ वल वलदी ।
सड़ेंदा सोज़ छाती है ।मरेंदा रोग काती है ।
ना पैंदां यार झाती है ।करां क्या कुझ्झ नहीं चलदी ।
डुक्खी दा दरद देरी है ।मुट्ठी दी मां अवैड़ी है ।
तत्ती दा वीर वैरी है ।सिरों सख़ती नहीं ढलदी ।
फ़रीद आया न माही है ।डित्ती सूलां न साही है ।
जिगर विच्च जरह जाही है ।लग्गी जढ़ नोक रावल दी ।

185. पुर वहशत सुंजड़ी रोही

पुर वहशत सुंजड़ी रोही ए दिल दीवानी मोही ।
वाह यार पुन्नल मन भांदा ।वा दारूं दरद दिलां दा ।
हां बरदा तैडड़े नां दा ।चुम्म चातम तैडड़ी डोही ।
वंज आखीं कासद भल्लड़ा ।है सावन सख़त अवल्लड़ा ।
मिल यार थलां विच्च कल्ल्हड़ा ।हई कसम ख़ुदा दी दरोही ।
थी राही बर डूं जुलसां ।वल राहों मूल न वलसां ।
वंज साथ परीं दे रलसां ।विच्च रोही करसूं बोही ।
बट्ठ तूं बन चेंतर बहारां ।सिर सूल आविन कर वारां ।
दिल डुक्खड़े दरद हज़ारा ।अन्दोह करन अम्बोही ।
क्या ज़ेवर हार चम्बेली ।क्या फलों सेझ सहेली ।
थिया इशक फ़रीद आ बेली ।सभ भुल्ल गए एही ओही ।

186. कसम ख़ुदा दी कसम नबी दी

कसम ख़ुदा दी कसम नबी दी ।इशक है चीज़ लज़ीज़ अजीब ।
नफसी ख़लत है तूने ग़ालिब ।पर मायूस न थीवीं तालब ।
पीर-ए-मग़ां है खास तबीब ।
लक्ख लक्ख सूल हाजारां डुखड़े ।सौ सौ शुकर ज़ो आइम पुखड़े ।
बेशक जरब हबीब ज़बीब ।
उमर निभायम सड़दीं दुखदीं ।तपदीं खपदीं डुखदीं, जुखदीं ।
पलड़े पैइम नसीब यसीब ।
थी अण सूहां मूंह न लावे ।जे लुक डेखां घुंगट पावे ।
तूने वस दम सख़त करीब ।
हरदम उसदी प्यास असीसे ।मैं लोहा ओ मिकना तीसे ।
इनअलकलब इबंयू नेईब ।
सर्र मकतूम मुइम्मा जई्ईअद ।दुनियां तूं खुद चुण्या सय्यद ।
जौक नमाज़ नसा ते तईब ।
मैं मसकीन फ़रीद नमाना ।धूता पाड़ा यार अयाना ।
सौ सौ वेढ़े वस रकीब ।

187. रांझन अंग लगाया है

रांझन अंग लगाया है ।सब गैर दा वहम भुलाया है ।
रांझन मेरा नूर इलाही ।मज़हर ज़ात सिफ़ात कमाही ।
सर लौ लाक कलंगी पाई ।'ताहा' चत्तर झुलाया है ।
रांझन मैडे वेहड़े आया ।खेड़ीं भैड़ीं शोर मचाया ।
आया वलदा नहीं वलाया ।बे शक बख़त भड़ाया है ।
माही मैं वल पाई झाती ।पाकर झाती लायस छाती ।
हर वेल्हे हर जा है साथी ।लूं लूं विच्च समाया है ।
हुसन रांझन दियां धुम्मां पईआं ।खेडन आईआं संगियां सईआं ।
हीर दा बोछन धईआं धईआं ।डेखो क्या रंग लाया है ।
फ़खर पिया तों बल बल जावां ।जैंदे नाल मैं लधियां लावां ।
इस दी हो कर क्युं ग़म खावां ।सब कुझ यार सुझाया है ।
यार फ़रीद नहीं मसतूरे ।हर जा उस दा ऐन ज़हूरे ।
ज़ुलमत भी सभ नूर हजूरे ।इसम फ़कत ब्या आया है ।

188. रांझन माही तख़त हज़ारों

रांझन माही तख़त हज़ारों ।मैं कारन इत्थ आए ।
सूही सेझ ते सांवल सहजों ।सिक्कदी कूं गल लाए ।
डुक्खड़े खा खा यार लद्धो से ।डुक्खड़े थीवम सजाए ।
ईं जेंहें हिक्क हिक्क डुख तों ।सै सै सुखड़े घोल घुमाए ।
बखतीं भाग सुहागीं सुघड़ीं ।मैं वल मूंह वलाए ।
रातों रात नसोकड़ डुखड़े ।काले रोह सिधाए ।
सेधां माघां सर चढ़ बोलन ।वालीं सौ वल पाए ।
गाने नाज़ नवाज़ दे गाहने ।पाए पा ठुम्मकाए ।
हजर फ़राक नसाहा थी हिक्क ।चाए सहंस लुढ़ाए ।
पा कज्जला ला सुरखी दिल्लड़ी ।डेखे ते मुसकाए ।
मुदतां पिच्छे शाम सलोने ।झोक नूं आन वसाए ।
सौ सौ हमद ते लक्ख शुकराने ।मूला माड़ वसाए ।
सांवल सुहना सावन बदरा ।साडे आन मल्हाए ।
डेवन वधाईआं संगियां सईआं ।रल वस्सदे हमसाए ।
गुझ्झड़े राज़ फ़कर दे सारे ।फ़ख़रुदीन सुझाए ।
हाल मुकाम दी रतक फतक ।सब शरहीं कर फरमाए ।
यारियां बाशियां रलड़े वारियां ।वस्स वसेब वहाए ।
पूइम फ़रीद बिरहों दे पंधड़े ।पै धन्दड़े मुकलाए ।

189. रत्त रोदीं उमर नभेसां

रत्त रोदीं उमर नभेसां ।इहो दाग़ कबर विच्च नेसां ।
लगा तीर जगर विच्च कारी ।थिया ख़ून अख़्ख़ीं तों जारी ।
मैं मुट्ठड़ी डुक्खड़ी मारी ।है इकेंदे सांग जलेसां ।
इत्थ रहन न डेंदियां पीड़ां ।थए्ए नीर हंझू नक्क सीड़ां ।
डेंह रात डुक्खां दियां भीड़ां ।हुन मौत दा मुलक वस्सेसां ।
सड़ सवनी दी गई महन्दी ।थई्ई कंडड़े सेझ फलेंदी ।
तत्ती किसमत रौधे डेंदी ।मैं मुट्ठड़ी कैडे वेसां ।
खिल खेडदे वकत वेहाने ।बट्ठ पहलों तूल वेहाने ।
भन हार हमेलां गाहने ।भन्न चूड़ा अग्ग अड़ेसां ।
हड्ड जाले तत्तड़ी आहीं ।तन गाले ठंडड़ीं साही ।
मैं वैसां यार दे राहीं ।वंज कच्च फ़रीद मणेसां ।

190. रत रो सिर पार रुंगोंदियां

रत रो सिर पार रुंगोंदियां ।बुरे बिरहौं दे सगन सुहौंदियां ।
सभ संगियां सुरतियां भाग लद्धा ।सर गोडड़े कंथ सुहाग लद्धा ।
मैं मुट्ठड़ी मुफ़त डुहाग लद्धा ।डुक्खे डुक्खवे बार उठौंदियां ।
कहीं सुरखी कजला धार ठहे ।कहीं चूड़ा हार शिंगार ठहे ।
कहीं नूरी ठुमकार ठहे ।मैं किजड़े साग रसौंदियां ।
कहीं जोबन जोश बहार सोहे ।कहीं टोल खुशी दे तार सोहे ।
कहीं बांह सरांदी यार सोहे ।हक मैं रोंदी ग़म खा औदियां ।
हको जेडियां बैंसर बोल छके ।सहजों सेझ नेहाली तोल छके ।
मैं मोई नूं कोझा सूल छके ।मूंह पलड़ू घर घर पौदियां ।
सोहना यार फ़रीद ना भाऔदियां ।सूही सेझ सुंजी अग्ग लाऔदियां ।
तड़फांदी रात निभाऔदियां ।रो बोछन पाद पौसाऔदियां ।

191. रोही लगड़ी हे(है) सावणी(साउणी)

रोही लगड़ी हे(है) सावणी(साउणी) ।तुरत वला होत मुहारां ।
खिमणियां खिमन रंगीलड़ियां ।रिम्म झिम्म बारश बारां ।
सारे सगन सुहागड़े ।यार मिलम आ यारां ।
बदले गूड़े सांवरे ।विच्च बरसात दियां धारां ।
कर धदकारे गाजड़ा गाजड़ां ।गावन बिरहों दियां वारां ।
मारू वालियां ख़ारड़े ।सुंजड़े थलड़े बारां ।
कारन मुट्ठड़ी मारवी ।गुल गुलज़ार बहारां ।
कारन मिट्ठड़े यार दे ।गुल गुलज़ार बहारां ।
सख़तियां सूल सड़ापड़े ।सहन्दड़ी सारियां मारां ।
शांला भटड़ी रेहड़ी ।तों संग डागां चारां ।
सजन सुंजी दा कोई नहीं ।दुशमन सहंस हज़ारां ।
डोड़ै डोह डोरापड़े ।गिलड़े करन पचारां ।
उट्ठी उट्ठी निन्दरों रोंदड़ी ।सै सै सुफने गार्हां ।
सुन सुन हस्स हस्स सेंगियां ।उलटा करन तवारां ।
टिब्बड़े डहर सलाबड़े ।टोभे तारमतारां ।
छेड़न छेड़ू छागड़ां ।नाज़ू करन तवारा ।
मकलवादा सवाद डो ।रो रो वाट नेहारां ।
डिस्सदा यार परौभरा ।बैठी कांग उडारां ।
कक्कड़े मक्कड़े ढांडले ।किन मिन मींह फौगारां ।
तरफां मरखां फोगड़े ।लानी लाईआं ख़ारां ।
पूरब हीलां भांवड़ियां ।ठड्डड़ियां मेंघ मल्हारां ।
कोइल अग़न पपीहड़े ।दरदों कढ्ढन पुकारां ।
सोहना अरबी सांवरा आ लहो साडियां सारां ।
तैडे बाझ फ़रीद नूं ।डुक्खड़े तार व तारां ।

192. रोही वुठड़ी टोभा तार वे

रोही वुठड़ी टोभा तार वे आ मिल तों सींगा यार वे ।
थए थलेड़ बाग़ बहार वे ।चौ धार गुल गुलज़ार वे ।
कथे चणकी दे छणकार वे ।कथे मट्टियां दे घुबकार वे ।
डेंह रात मेंघ मल्हार वे ।विच्च पक्खियां दे चुहंकार वे ।
कथे गाज दे धुदकार वे ।कथे ख़मनी दे लशकार वे ।
पए ठहन्दे हार शिंगार वे ।सुरखी ते कज्जला धार वे ।
आए सुख सुहाग दे वार वे ।गए डुक्ख वी आर वे पार वे ।
संगियां वस्सन घर बार वे ।ला गल सोम हन दिलदार वे ।
हक्क मैं रुली अवासार वे ।डुक्ख सूल नाल वपार वे ।
तौं बिन फ़रीद खवार वे ।रत्त हंजड़ू रोवन कार वे ।
वल जलद मोड़ मुहार वे ।ना तां मरवेसां वार वार वे ।

193. रोंदे (रोदीं) उम्मर निभाई

रोंदे (रोदीं) उम्मर निभाई ।यार दी ख़बर न काई ।
भाग सुहाग संगार वंजायम ।दिलों विसार्या माही ।
दूर ग्या वल आया नाहीं ।मरसां खा कर फाई ।
इशक नहीं है नाज़ ग़ज़ब दी ।चड़ंग चुवांती लाई ।
जोबन सारा रूप गंवायम ।दरदीं मार मुसाई ।
फ़खरुदीन मिट्ठल दे इशको ।दम दम पीड़ सवाई ।
यार फ़रीद न पायम फेरा ।गल ग्युम मुफ़त अजाई ।

194. रोंदी संज सबाहीं

रोंदी संज सबाहीं ।
पुन्नल आवम आ गल लावम ।पोम कबूल दुआईं ।
यार बरोचल फेर न आया ।उचड़ियां झोकां जाहीं ।
मारू थल दे डुक्खड़े पैंडे ।सहंस हज़ार बलाईं ।
बाझ मिट्ठल दे बाझन काई ।सूझिम न हरगिज़ वाही ।
रोज़ अज़ल दी ईं जग ऊं जग ।मैं बांदी तूं साईं ।
साझा बेवर ज़ेवर तरेवर ।बैठां बेसर बाहीं ।
केची पेची दे हत्थ वेची ।जिन्दड़ी सत्तड़े पाईं ।
उमर वेहानी कांग उडेंदी ।थकड़ी तक्क तक्क राहीं ।
कर कर याद सजन दे रलड़े ।निकलन लक्ख लक्ख आहीं ।
ढोलन कारन जावन लादियां ।लगड़ियां दिल नूं चाहीं ।
अंगन फ़रीद दे आ अलबेला ।कर कर नाज अदाईं ।

195. रोदीं उम्मर गुज़ार डितो से

रोदीं उम्मर गुज़ार डितो से ।यार पुन्नल दी कल न पिaु से ।
लाई दिल्लड़ी चोट अन्दर दी ।विसरी सेझ रंगीली घर दी ।
रुलदी रेत तत्ती थल बर दी ।ओड़क मौत नसीब थ्युसे ।
पेच प्या वल केच शहर दा ।मुशकल पैंडा रोह डूंगर दा ।
माया पहरा सख़त पहर दा ।रुलदे फिरदे मर भुर ग्युसे ।
रल मिल डुक्खड़े आए पक्खड़े ।उजड़ियां, खुसियां निभ गए सुखड़े ।
गाने गहने सेहरे सकड़े ।सुंजड़े ग़म दे सांग रल्योसे ।
औखियां घाटियां डूंगर काले ।तत्तड़े बट्टड़ी पैर पजाले ।
डुख खा खा सुंजवाह वचाले ।थी बेवाह डुहाग छक्युसे ।
रखसां दम दम नाल संभाले ।सहजां रोग करूप कशाले ।
भाले यार फ़रीद न भाले ।जै ज़ोरे जिन्द जान लुट्युसे ।

196. सब सर इसरार कदम दा है

सब सर इसरार कदम दा है ।इथ दखल न महज़ अदम दा है ।
दिल्लड़ी सुघड़ सुंजान स्यानी ।आखे हरदम समंझ बिल्यानी ।
मज़हर ज़ात हमद दा जानी ।तोने रूप सनम दा है ।
जो है नफ़स मुकद्दम ताहर ।अलवी सफ़ली दा है माहर ।
कुल्ल दा मज़हर कुल्ल दा ज़ाहर ।वाली अरब अजम दा है।
जिस नूं ज़ोके ख्याल मुह्हिया ।इस नूं काल ते हाल मुह्हिया ।
गुलशन जशन जमाल मुह्हिया ।वारिस बाग़ इरम दा है ।
ब्युला यानी ते नादानी ।दिल दिलदार ते दिल दा जानी ।
दिल इख़लास ते सबा-मसानी ।मबदा दम कदम दा है ।
देख़ो शौकत शान पसारा ।महव गरदश सबा स्यारा ।
मरकज़ दूर महीत दा सारा ।नुकता दिल आराम दा है ।
सीना साफ़ शफ़ा बे कीना ।नूर हकीकी दा आईना ।
दिल्लड़ी ख़ालस पाक नगीना ।नकशा बैत हरम दा है ।
ख़ास फ़रीद गुलाम फ़खर दा ।बांदा बरदा इस दे दर दा ।
बट्ठ प्या आसरा इलमो हुनर दा ।तकिया दोसत दे दम दा है ।

197. सब सूरत विच्च वसदा ढोला माही

सब सूरत विच्च वसदा ढोला माही ।दिल असाडी खस्सदा ढोल्हा माही ।
रंग बरंगी इस दे देरे ।आपे रांझा हीर ते खेड़े ।
लुक छुप भेद न डस्सदा ढोल्हा माही ।
आप है हिजर ते आप है मेला ।आप है कैस ते आप है लेला ।
आप आवाज़ जरस दा ढोला माही ।
आप है मुतरब मजलस काफ़ी ।आप मवाहद सूफ़ी साफ़ी ।
मुनकर होकर हस्सदा ढोल्हा माही ।
रावल यार बरोचल सांवल ।आकर हर हर आन असां वल ।
दिल खस्स खस दिल नसदा ढोल्हा माही ।
बतन बतून तों जाहर होया ।अरबी थी कर मुलक नूं मोया ।
रसम रसालत रसदा ढोल्हा माही ।
दिल नूं तांघां लक्ख लक्ख चाहीं ।निकलन आहीं सुझन नवाहीं ।
हंजड़ूं मीह बरसदा ढोल्हा माही ।
यार फ़रीद न विसरम शाला ।ओड़क लहसी आप संभाला ।
मैं बेवस बेकस दा ढोल्हा माही ।

198. सब सूरत विच्च ज़ात संजाणी

सब सूरत विच्च ज़ात संजानी ।हक्क बाझों ब्यु ग़ैर न जानी ।
न कोई आदम न कोई शैतान ।बन गई ए कुल्ल कूड़ कहानी ।
बाझ ख़ुदा दे महज़ ख़्याले ।दिल न कर गैरियत हानी ।
मतलब वहदत है हर चालों ।सिक्क न रख बने पासे तानी ।
जांवन लांदी दिल दा नायों ।इसनीनत मूल न भानी ।
सोहना कोझा सिरफ बहाना ।हकड़ौ हई दिल समंझ संजानी ।
रोज़ अज़ल दी यार पुन्नल दी ।पई गल साडे पीत पुरानी ।
यार फ़रीद मिल्युसे जेंदीं ।सोहनी सारी उमर वेहानी ।

199. साडा दोसत दिलीं दा नूर मुहंमद खवाजा

साडा दोसत दिलीं दा नूर मुहंमद खवाजा ।
ढोला यार चाहेंदा नूर मुहंमद खवाजा ।
सारी साडी शरम भरम दा ।तैंडे गल विच लाजा ।
अरब वी तैंडी, अजम वी तैंडी ।सिंध पंजाब दा राजा ।
ज़मीन ज़मन विच वजदा गजदा ।फैज़ तैंडे दा वाजा ।
कदम तैंडे विच नौ मण भागम ।अंगन मेरे पैन पाजा ।
दिलबर जानी यूसफ़ सानी ।मोहन मुख डखलाजा ।
नस्सा शहर महार दा बनड़ा ।सिक्कदी कूं गल लाजा ।
नैन फ़रीद दे दरस प्यासे ।आजा ना तरसा जा ।

200. सदा जिय पजले दिल जले वो यार

सदा जिय पजले दिल जले वो यार ।लगियां दिलां नूं कौन झल्ले वो यार ।
डिसम न रावल गझन साईं ।रंगपुर सारा उजड़ियां जाईं ।
कोझे कहर कुलले वो यार ।
दरद, अन्दोह ते सूल हज़ारां ।सै सै सूल कलूर दियां मारां ।
जिन्द जुख जुख पई गले वो यार ।
रातीं डेंहां मूंझ मुंझारी ।छड्ड ग्या ढोला यार आज़ारी ।
निभ गए सुख दे रले वो यार ।
रल मिल सेंगियां मारूं ढाला ।मंगूं दुआई मैं वल शाला ।
होत पुनल वल वल्ले वो यार ।
यार न आवे सेज न भावे ।वेढ़ा खावे, घर अग्ग लावे ।
गुज़रे वकत सवल्ले वो यार ।
रांझन माही मुरली वाही ।परेम जड़ी जड़ लायस जाही ।
डख डुखड़े पए पल्ले वो यार ।
आतिश इशक रंझेटे वाली ।होश फिकर दी पाड़ पजाली ।
ढांढ अन्दर विच बल्ले वो यार ।
आतन, अंगन हवेलियां, जाहीं ।खवाजा जान डेवम कथाहीं ।
कोई जा मैकूं न झल्ले वो यार ।
ख़ेडन कुडन फरीद ग्यो सै ।पंड मलामत मुफत चतोसै ।
डिठड़े इशक दे भल्ले वो यार ।

Next......(201-273)
Previous......(101-150)
 
 
 Hindi Kavita