Hindi Kavita
ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद
Khwaja Ghulam Farid
 Hindi Kavita 

Kafian Khwaja Ghulam Farid in Hindi

काफ़ियां ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद

101. हिको अलफ़ मैनूं बरमावम ड़ी

हको अलफ़ मैनूं बरमावम ड़ी ।तत्ती बे ते मूल न भावम ड़ी ।
सोहनी वहदत परम परीतां नैं ।ज़ौकी घातां इशकी गीतां नैं ।
कोझी कसरत कोझां रीतां नैं ।दिल गैरों ग़ैरत खाविम ड़ी ।
हर चालों नाज़ नवाज़ डिस्से ।सब हुसन अज़ल दा राज़ डिस्से ।
कुल आलम आलम साज़ डिस्से ।हक्को नूर नज़र विच्च आविम ड़ी ।
गैरियत महज़ मुहाल डिस्से ।चौ तरफ़ो हुसन जमाल डिस्से ।
हर वेले वसल वसाल डिस्से ।डेंह रात पुन्नल गल्ल लाविम ड़ी ।
क्युं करदी हार सिंगार मुट्ठी ।क्युं सुरख़ी कज्जला धार मुट्ठी ।
जे जाना सांवल यार मुट्ठी ।वल मुलक मल्हेर सिधाविम ड़ी ।
तत्तां दरद जदीद शदीद थिया ।हर रोज़ ए सोज़ मज़ीद थिया ।
हक्के दीद ख़रीद थिया ।बिन ढोलन घर वरतांविम ड़ी ।

102. हिक्को डिट्ठम हर गाल कनूं

हक्को डिट्ठम हर गाल कनूं ।हक्का रमज़ लद्धम हर चाल कनूं ।
हर सूरत मन नूं मोंहदी है ।हर मूरत दिल नूं कोंहदी है ।
सब निसबत यार नूं सोंहदी है ।हर हाल कनूं हर काल कनूं ।
कथे दिलबर थी मन मोंहदा है ।कथे आशक हो कर रोंदा है ।
कथे रब्ब तों फारग होंदा है ।ग़म नाज़ दी कैद वबाल कनूं ।
बदनामी मैडा नाम होया ।ग़म खावन शरब मदाम होया ।
रत पीवन काम दवाम होया ।छुट पैवसे शरम दी जाल कनूं ।
डेखो हुसन हकीकी ज़ाहर है ।क्या अन्दर है क्या बाहर है ।
किथे नासी है कत्थे माहर है ।सोहना आपने वसल वसाल कनूं ।
जडां इशक फ़रीद उसताद थिया ।सब इलमो अमल बरबाद थिया ।
पर हज़रते दिल आबाद थिया ।सो वजद कनूं लक्ख हाल कनूं ।

103. हुन दिल बदलायम सुर साईं

हुन दिल बदलायम सुर साईं ।ग्या दरदों जियड़्ड़ा झुर साईं ।
दरद दे कंडरे सीने ।लगड़े हिन देरीने ।
पए निकलन भुर भुर साईं ।
डुक्खड़े रोज़ सवाए ।जैं डेंह सज्जन सिद्धाए ।
शहर भंभोरों टुर साईं ।
डेहां रातीं मातम ।डुक्ख आया सुख वाटम ।
खुशियां दे थए पुड़ साईं ।
यार न आवे अक्खियां ।रो रो हुट्टियां थक्कियां ।
डेंह राती दी फुर फुर साईं ।
चमड़ा, मास, लवीरां ।कप्पड़े लीर कतीरां ।
बिरहों डित्तो से पुर साईं ।
सबर फ़रीद न आवे ।घर खावे ते झड़ तावे ।
दिल्लड़ी कीतम लुर साईं ।

104. हुन इशक वंजायम चस्स साईं

हुन इशक वंजायम चस्स साईं ।लक्ख वार असाडी बस्स साईं ।
रात डेंहां तड़फावां ।अते रो रो हाल वंजावां ।
रहम न कीतो खस्स साईं ।
कल्हड़ी पई कुरलावां ।खपदी उम्मर निभावां ।
धां करां बे वस्स साईं ।
चाक महीं मन भाने ।मेहणीं डेवम ननाने ।
ताअने मारम सस्स साईं ।
निन्दर सभो डुक्ख लायम ।सुत्तड़ीं साथ लडायम ।
ना कई ख़बर न डस्स साईं ।
इशकों सूद न पायम ।सारा भरम वंजायम ।
जो लगड़ी सो कस साईं ।
डुखे पैंडे थल दे ।पूर पौविन पल पल दे ।
दरदीं दी हत्थ रस्स साईं ।
दरद अन्दोह घनेरे ।करदे सूल वहीरे ।
नस्स ग्युं दिल खस्स साईं ।
ग़म फ़रीद सतायम ।डूख़्ख़ड़ा नेहड़ा लायम ।
मूह सर पायम भस्स साईं ।

105. हुन कीतम बिरहों तंग साईं

हुन कीतम बिरहों तंग साईं ।दिल नाल असाडी जंग साईं ।
ग़मजे सखत अवैड़े ।झेड़े करन बख़ेड़े ।
ना कुझ तरस ना संग साईं ।
इशक मरीले लुटियां ।हुट्टियां मुट्ठियां कुठियां ।
तन मन चूर चौरंग साईं ।
गुज़रे वेले सुख़ दे ।जी जुख़दे प्या डुक्खदे ।
रग रग ते अंग अमग साईं ।
दरद अन्दोह पुराने ।झुरदी झोर झगाने ।
यार मिलम दिल संग साईं ।
इशक अलामत ज़ाहर ।सूल घने ते लाग़र ।
सावा पीला रंग साईं ।
नेंह नगली छाते ।मिली फ़रीद बचाते ।
ग्या नामूस ते नंग साईं ।

106. हुन मैं रांझन होई

हुन मैं रांझन होई ।रेहा फ़रक न कोई ।
जै संग दिल्लड़ी पीत लगाई ।आख़र बण गई सोई ।
हीर सलेटी चूचक बेटी ।वंज किस जा खड़ोई ।
हीरों हीरा थीसी जेकर ।सर हीं राह डितोई ।
पहले खा कर दरद कशाले ।ओड़क थई दिल जोई ।
शाबस असलों महजन हार्यों ।जितना बार चतोई ।
जो कोई सिलक मुहबत दे विच्च ।मरन दे अग्गे मोई ।
सेझ सुहाग सुहायस थी खुश ।शाम सुन्दर संग सोई ।
नाल ख्याल अना दे जै ने ।मैल दूई दी धोई ।
सारे जग विच्च हिक्क मैं रह गई ।ना तूई ना ऊई ।
थया मनसूर फ़रीद हमेशा ।जै ए राज़ लधोई ।

107. हुन वतन बिगाने दिल नहीं आवनड़ां

हुन वतन बिगाने दिल नहीं आवनड़ां ।याद कीतम दिलदार नीं ।
कोले रहसां मूल न सहसां ।हजर दा बारी बार नीं ।
विस्सर्या सारा राज बबानड़ां ।विसर ग्या घर बार नीं ।
भांड़ मनड़ेसां मांड़ नभेसां ।घोले आर व यार नीं ।
सुरखी कज्जल मसाग क्युं से ।बट्ठ प्या हार सिंगार नीं ।
पारों डिसदी झोक सज्जन दी ।क्युं रहसां उरवार नीं ।
मैं मनतारी ते नै बारी ।कादर नेसम पार नीं ।
बट्ठ पई सिंधड़ी कीतम मूला ।मुलक मल्हेर मल्हार नीं ।
देस अरब दा मुलक तरबदा ।सारा बाग़ बहार नीं ।
रोही रावीं रोही रुलसी ।नस्स ग्या करहों कतार नीं ।
डेंह डुक्खां दा डूंगर डिस्सदा ।रात ग़मां दी मार नीं ।
सांवल आया रोही वट्ठड़ी ।बार थई गुलज़ार नीं ।
दार मदार फ़रीद है दिल नूं ।डुक्खड़े तारो तार नीं ।

108. हुसन अज़ल दा थिया इज़हार

हुसन अज़ल दा थिया इज़हार ।अहदों वेस वटा थी अहमद ।
सलब सबूत जथां मसलूबे ।उथ न तालब न मतलूबे ।
है लायद रिका अलअब सार ।बेहद मुतलक, मुतलक बेहद ।
गैबलगैब दे देसों आया ।शहर शहादत देर अलाया ।
अहदियत दा घुंड उतारा ।थिया इतलाकों महज मक्कियद ।
हक बातल हक है हक है ।पराए राज़ बहूं मुग़लक है ।
यार है यार है यार है यार ।सोहना कोझा नेक अते बद ।
यो दिलबर बे चूं व चगूना ।नाहीं जेहदा मिसल नमूना ।
तिसदा है बे शक तकरार ।दुनियां अकबा मजोला मशहद ।
गई तकलीद आई तहकीके ।थीए वाज़्या मकशूफ दकीके ।
फ़ाश मबियन कल इसरार ।बरजुख ज़ोर ज़बर शदमद ।
कीता अज़ली लुतफ जहूरा ।सौ सौ शुकर मिल्या गुर पूरा ।
थिया दिल कूं तसकीं करार ।होए खतरात शकूक सभे रद ।
पीरे मगां मसजूदु जतौ से ।फ़रज फ़रीद नमाज नतोसे ।
कीता मन कर मन्न इकरार ।है ख़ुद असल हकीकी मकसद ।

109. इह नाज़ अदा सांवलड़े दे

इह नाज़ अदा सांवलड़े दे ।हन बायस इशक अवल्लड़े दे ।
गए वेले भाग सवलड़े दे ।आए दरद कलल्लड़े दे ।
डित्ते पेश फ़राक पुन्नलड़े दे ।डुक्खे पैंडे मारू थल्लड़े दे ।
गए गुज़र डेहाड़े रलड़े दे ।तरसलड़े अेस सुखलड़े दे ।
हुन परभत रोह ज़बलड़े दे ।सुखपाल थए दिल जल्लड़े दे ।
जुड़ कीती बिरहें छोल मुठी ।ग्या हार शिंगार दा तोल उठी ।
लगी फकड़ी हू हू दोल रुट्ठी ।वाह भलड़े भाग़ा भल्लड़े दे ।
सब मिशरी खंड नबात भुलेम ।ऐज़ाज मसीह दी बात भुलेम ।
मै कंसर आब हयात भुलेम ।सुन शोख सुखन गव्वलड़े दे ।
लगा नेंह न्यारड़ी पीड़ असां ।दिल चुभड़े बरछे तीर असां ।
सौ सौ नसतर लख़्ख़ लक्ख सीड़ असां ।निभ वकत चके दरमलड़े दे ।
लगी नोक नज़र ग्या होश हुनर ।रहो दरद अन्दर सदा सूल जिगर ।
डोड़े ज़ुलम कहर ढां मूंह दे भर ।डुक्खे रोह डूंगर राह वल्लड़े दे ।
सट्ट नहमल मलमल रंग महल ।गए सांग बदल कोई लहम न कल ।
रिच्छ राखस घल ममीं डैनी दल ।आए पेश संभल सर कलड़े दे ।
वल वल प्या ज़ुलफ पुन्नल दा गल ।पए शोज़ ओछल पए रोग ओटल ।
गए सुखड़े ढल गईआं खुशियां जल ।दिल चलड़े नेश अज्जलड़े दे ।
कुल कारैं इशक फ़रीद कीता ।घर बारो बिरहें बईद कीता ।
हर पल पल शौंक जदीद कीता ।मूंह नूर भरे निरमल्लड़े दे ।

110. इशक अनोखड़ी पीड़

इशक अनोखड़ी पीड़ ।सौ सौ सूल अन्दर दे ।
नैन वहायम नीर ।अल्लड़े ज़खम जिगर दे ।
बिरहों बखेड़ा सख़त आवैड़ा ।खवेश कबीला लाविम झेड़ा ।
मारग मा प्यु वीर ।दुसमन लोक शहर दे ।
तांग अवल्लड़ी सांग कलल्लड़ी ।जिन्दड़ी जलड़ी दिल्लड़ी गलड़ी ।
तन मन दे विच्च तीर ।मारे यार हुनर दे ।
ग़मजे सेहरी रमज़ां वैरी ।अक्खियां जादू दीद लुटेरी ।
जुलमीं ज़ुलफ़ ज़ंजीर ।पेची पेच कहर दे ।
पीत पुन्नल दी सिक पल पल दी ।मारूथल दी रीत अज़ल दी ।
डुक्ख लाविन तड़भेड़ ।जो सरदे सो करदे ।
तुल नेहाली डेन डिखाली ।सबर आराम दी विसरिअम चाली ।
लूं लूं लक्ख लक्ख चीर ।कारी तेग़ तबर दे ।
यार फ़रीद न पायम फेरा ।लाया दरदां दिल विच्च देरा ।
सर ग्युम सीस सरीर ।नैसां दाग़ कबर दे ।

111. इशक असांझी जा आहे इनसाफ

इशक असांझी जा आहे इनसाफ ।
ज़ुलम नभाएं दस तांभी तहंजा थोग गाएंदस ।
सिजदा जानब तहंजी, तहंजे गिरद तवाफ ।
कदम कदम ते सीस नवाएंदस ।
तुहंजी सीरत, सूरत सोहनी किवें क्यां औसार ।
जिन्दड़ी तों तूं घोल घुमाएंदस ।
तन मन सोहणां मुलक है तुहंझा सच आहे ना है लाफ ।
कसम अवांझे सर जी खाएंदस ।
ज़िकर ऊं फिकर है तहंजा, दम दम चुएंदस साफ जा साफ ।
अबद मअबूद मैं तोखे याएंदस ।
बांदी गोली यार दी आहियां ना है फरीद खलाफ ।
उन्हे भै भाएदस खूह न भाएंदस ।

112. इशक अवल्लड़ी चाल भला यार वे

इशक अवल्लड़ी चाल भला यार वे ।यारियां लावन सर मंगदियां ।
ज़ुलफ़ा दिल नूं पाविन जाली ।अक्खियां करदियां मसत मवाली ।
नाज़ निगाहां दे नाल भला यार वे ।बिरहों बछेंदियां नहीं संगदियां ।
चशमां कहरी रमज़ां वैरी ।अख़्ख़ियां ज़ालम दीद लुटेरी ।
डेवन जिन्दड़ी गाल भला यार वे ।सिरहो बहादुर हुन जंगदियां ।
नाज़क चालीं यार सज्जन दियां ।मोहणियां गाल्ही मन मोहन दियां ।
करन दिलीं पामाल भला यार वे ।हर हर आन खड़ियां तंगदियां ।
चेहरी तरज़ डिखावन अक्खियां ।ज़ुलफां तेल फुलेल दियां मक्खियां ।
घतदियां जी जंजाल भला यार वे ।ज़ोरे रग रग नूं डंगदियां ।
इशक फ़रीद कशाले घल्ले ।आस उमीद तस्सले भल्ले ।
कूड़ा वहम ख़्याल भला यार वे ।डिट्ठड़ियां पीतां दिल संगदियां ।

113. इशक अवलड़ी पीड़ वो

इशक अवलड़ी पीड़ वो ।लोकां ख़बर न काई ।
ज़ुलफ़ डंगेदीं मूल न संगी ।चशमां सरहों बहादर जंगी ।
नाज़ निगाह दे तीर वो ।नित्त करन लड़ाई ।
शाला नेड़ा कोई न लावे ।दरद अन्देशे सोज़ सवाए ।
दम दम दिलगर वो ।सर ते सख़ती आई ।
हक्क बेवाही ब्या फट जाही ।मूंझ मुंझारी गल दी फाई ।
तक्क तक्क राह मल्हेर वो ।रोदीं मोइम अजाईं ।
सुंज बर चड़ड़े शीह मरेले ।बशीर बद बघ्यार बघेले ।
डुक्ख डुक्खड़े थए वीर वो ।ग़म सकड़े भाई ।
सैणीं भैणीं वैन अलावम ।वीरन वैरी सख़त सुभावम ।
मारम बे तकसीर वो ए बेदरद कसाई ।
सूलम मूल न डित्तड़म साही ।कादर एंवें कलम वहाई ।
कीतम ते तकदीर वो ।सोहने नाल जुदाई ।
जिन्दड़ी जुक्खदी जियड़ा दुखदा ।वेल्हा वकत निभाया सुखदा ।
रंजो आलम दी भीड़ वो ।आफ़त प्युस समाई ।
मिज़ेगीं नशतर हादी मारी ।पलकी लाई कैबर कारी ।
ज़खम कलल्लड़े चीर वो ।वैंदीं चोट चलाई ।
लूं लूं सड़दी हड्ड चंम गलदा ।दिल्लड़ी जलदी सीना बलदा ।
रग रग छुटड़ी सीढ़ वो ।तैडे बिरहों छुडाई ।
सबर करार आराम ग्युसे बार मलामत मुफ़त चतोसे ।
कानी बे तदबीर वो ।जानी ला डिखलाई ।
यार फ़रीद न खड़ मुकलाया ।केच ग्या वल्ल घर न आया ।
डित्तड़म जुड़ ताअज़ीर वो ।कीतोस ख़ूब भलाई ।

114. इशक भुलाया ताआतां

इशक भुलाया ताआतां ए घर मेरा घर सुख मन्दर ।मअमूर ख़फ़ी दे अन्दर ।
जिथ बहर महीत दा मन्दर ।उथ हर जिनसों मिलन सौगातां ।
आई हाल मकाम दी वारी ।थई्ई रफ़ा हजब यक बारी ।
गई ज़हद इबादत सारी ।हज्ज ज़कवातां सौम सलवातां ।
थई नसरत फ़तह फ़तूही ।सब सरी कलबी रूही ।
गई ज़ुलमत नूर सबूही ।कीतियां जिसम अजब परभातां ।
सर्र अनहद तबल शहाना ।खुश मतरब तान तराना ।
ग्या नफ़ल नमाज़ दोगाना ।विस्सरियां डों तिरे चार रकअतां ।
गुर बात बताई पूरी ।तीफूरी ते मनसूरी ।
थई फाश तज्जली तूरी ।हर जा ऐमन ते मीकातां ।
ए वजदानी शतहातां ।हन वहदत दियां आयातां ।
कर तमस दिलीं सतवातां ।करदा ज़ाहर ए कलमातां ।
कुल उठ गए फ़गन ज़लाज़ल ।भज्ज पए अगलाल सलासल ।
दिल हिक पासे शागल ।बट्ठ दरकातां ते दरजातां ।
थए भाग फ़रीद भलेरे ।दिल दिलबर लाए देरे ।
आ कान्ह दवारे मेरे ।बंसी जोड़ सुणाईआं घातां ।

115. इशक चलाए तीर

इशक चलाए तीर ।डाढे ज़ुलम कहर दे ।
यार मिल्या बे पीर ।लूं लूं विच्च सौ दरदे ।
इशक उजाड़ी झोक अमन दी ।नज़र न आवम जोह जतन दी ।
सोज़ डितोस जागीर ।जियड़ा सूलां सड़दे ।
तूल डुक्खां दी सेझ न भांदी ।सूल सर्हांदी दरद पवांदी ।
रग रग विच्च है पीड़ ।डिस्सदा रोग अन्दर दे ।
रहन न डेंदी पीड़ पराई ।सिक्क महींवाल दी रोज़ सवाई ।
कीजो लोढ़ेम सीढ़ ।बोड़िम कन कप्पर दे ।
सुख सोमन दा वकत वेहाया ।बार बिरहों दा सर ते आया ।
गुज़र गई तदबीर ।निभ गए वकत हुनर दे ।
निभन फ़रीद ए डुक्ख डुहले ।शाला नाल वसाल सुहीले ।
होवां शकर शीर ।गुज़रन डेंह सफ़र दे ।

116. इशक लगा घर विसर्या

इशक लगा घर विसर्या ।ज़र विसरी वर विसर्या ।
गुज़रे नाज़ हुसन दे मानड़े ।ज़ेवर तरेवर विसर्या ।
विसरे कजले सुरखी मेदियां ।बल्ला बैंसर विसर्या ।
दरद अन्देशे दिल दी मूड़ी ।ब्याकुल जोहर विसर्या ।
दैर कनिशत दवारा मन्दर ।मसजद मम्बर विसर्या ।
हक दे शांगे हकदी सौंह है ।खैर भली शर विसर्या ।
हर वेळे हर याद असानूं ।होर अमान हर विसर्या ।
वैसां कीच फरीद न मुड़सां ।सुंज बरदा डर विसर्या ।

117. इथां मैं मुठड़ी जिन्द जान बलब

इथां मैं मुठड़ी जिन्द जान बलब ।ओतां ख़ुश वसदा मुलक अरब्ब ।
हर वेले यार दी तांघ लगी ।सुंजे सीने सिक दी सांग लगी ।
डुखी दिलड़ी दे हत्थ टांघ लगी ।थै मिल मिल सूल समोले सब ।
तती थी जोगन चौधार फिरां ।हन्द सिंध पंजाब ते माड़ फिरां ।
सुंज बार ते शहर बाज़ार फिरां ।मतां यार मिलम कही सांग सबब ।
जैं डेंह दा नेंह दे शीह फट्ट्या ।लगी नेश डुखादी ऐश घट्या ।
सब जोबन जोश खरोश हट्ट्या ।सुख सड़ गए मर गई तर्हा तरब ।
तोड़ धकड़े धोड़े खांदड़ी हां ।तैंडे नाम तों मुफ़त वकांदड़ी हां ।
तैंडी बांदियां दी मैं बांदड़ी हां ।है दर द्यां कुत्यां नाल अदब ।
वाह! सोहना ढोलन यार सजन ।वाह सांवल होत हजाज़ वतन ।
आ डेख फरीद दा बैत हज़न ।हम रोज़ अज़ल दी तांघ तलब ।

118. जग वहम ख़्याल ते ख़वाबे

जग वहम ख़्याल ते ख़वाबे ।सब सूरत नकश बर आबे ।
जे पुछदीं हाल हकीकत ।सुन समझ अते रक्ख इबरत ।
जिवें बहर महीत है वह्हदत ।कुल कसरत शकल हबाबे ।
नहीं असलों असल दूई दा ।ख़ुद जान है नसल दूई दा ।
ग्या फोका निकल दूई दा ।वल ओही आब दा आबे।
न काफ़ी जान कफाया न हादी समझ हदाया ।
कर पुरज़े जलद वकाया ।एहा दिल कुरान कताबे ।
है परम ग्यान वी दिल्लड़ी ।है बेद पुरान वी दिल्लड़ी ।
है जान जहान वी दिल्लड़ी ।दिल बतन बतून दा बाबे ।
दिल लुब है कोन मकां दा ।दिल गायत असल जहां दा ।
दिल मरकज़ ज़मीं ज़मां दा ।ब्या कूड़ पलाल हजाबे ।
विच्च सूरत दे नासूती ।विच्च माने दे मलकूती ।
जबरूत अते लाहूती ।दिल अन्दर सब असबाबे ।
रक्ख अमतर ध्यान फ़रीदी ।सट्ट सुखड़ी पीर मुरीदी ।
है दूरी सख़त बईदी ।जी सुखड़ीं कान अज़ाबे ।

119. जैं रमज़ गवल जी बुझ्झी

जैं रमज़ गवल जी बुझ्झी ।तिन खे मुशाहदा रात दिन ।
नहीं जा अथां अफीयून दी ।ना भंग ना माजून दी ।
जिन्हां सुध लखी बेचून दी ।नित्त मसत रे पैतीं वतन ।
रल वस्सदे लोकां नाल हन ।पर असल फ़ारगबाल हन ।
हर आन ग़रक ख्याल हन ।शागल सुम्हन शागल उठन ।
ख़ुद तों ख़ुदी तों दूर हन ।सर मसत जाम तहूर हन ।
हक्क दे हमेश हजूर हन ।अवलीं विचों भोलो भनन ।
नहीं मिलक मुलक ते माल दे ।नहीं ज़ाल दे नहीं बालदे ।
हन जौक वजद ते हाल दे ।गुम कर गुमान यकरूर हन ।
सिर डे लहन सिरवा लका ।गए महज़ मरनों सिर लुका ।
होकर फना पावन बका ।सौ सूद नुकसानो करन ।
वंज वुट्ठड़े देस सुहाग दे ।सुख रूप मानड़न भाग दे ।
बारा महीने फाग दे ।पा चैन चढ़ सेजीं बहन ।
जैं मान मन्दर पाया पिया ।डुक्ख पाप सारा मिट ग्या ।
थी महव असबाती थिया ।रहन्दा फ़रीद फ़रीद बन ।

120. जड़ां जायम पाकर झोली

जड़ां जायम पाकर झोली ।कर वैन डित्ती मा लोली ।
पहलों पीत न पई प्यु मा दी ।वत होत बलोच न राधी ।
मैं मुट्ठड़ी जावन ला दी ।हम बख़त सड़ी डुक्ख रोली ।
घर फ़ख़र प्या पूं पावे आ उजड़ी झोक वसावे ।
रल चेतर बहार सुहावे ।वस्स हस्स रस्स खेडूं होली ।
तोड़े दरशन मूल न पेसां ।तां वी नाज़क नेंह निभेसां ।
विच्च कोट शहर मर वैसां ।थी दर दिलबर दी गोली ।
सारा बोछन घाघे ।गए ज़ेवर तरेवर लांघे ।
सर मांग मरेंदी सांगे ।थई सुरख़ी ज़हर दी गोली ।
बिन यार न सेज सुहेसां ।फ़ुल सेहरे तरोड़ स्टेसां ।
भन बेंसर बोल सड़ेसां ।बट्ठ चन्दन हार बनोली ।
सईआं रल मिल मेहने डेंदियां ।खल हासे कीस करेंदियां ।
मा भैणीं वैन अलेंदियां ।सस्स मारिम सौ सौ बोली ।
जिद जलड़ी जिन्दड़ी झूली ।जथ करड़ कंडा सब सूली ।
डिस्से ककरे रतेरड़ कूली ।दिल दरद चलाई गोली ।
हर पल पल पीत पुन्नल दी ।सिक्क सांवल बारोचल दी ।
है तैडी रोज़ अज़ल दी ।एहा कोझी कमली भोली ।
दिल यार फ़रीद न आया ।सर सूलीं सांग रसाया ।
सब हार सिंगार वेहाया ।गई नाज़ नवाज़ दी टोली ।

121. जीवन डेंह अढाहीं वो यार

जीवन डेंह अढाहीं वो यार ।सट घत फखर वडाई वो यार ।
किथ ओ पींघ पिपल मलकाने ।नाज़ हुसन कथ राज बबाने ।
कथ मा भैणीं भाई वो यार ।
किथ रांझन किथ खेड़े भैड़े ।किथ रह गए ओह झगड़े झेड़े ।
किथ चूचक दी जाई वो यार ।
किथ ओ मकर फ़रेब दा चाला ।किथ वत जोगी मुदरां वाला ।
परम जड़ी जैं लाई वो यार ।
माही, मंझियां, हीर सलेटी ।अतरों भिनड़ी मुशक लपेटी ।
गए सब झोक लडाई वो यार ।
जोबन साथी चार डेहां दा ।झट पट ज़ुअफ़ बढेपा आंदा ।
कूड़ी आस पराई वो यार ।
है है डिट्ठड़ी कहीं न वैंदी ।कजल मसाग ते सुरखी महन्दी ।
सुरमा सेंध सलाई वो यार ।
मौसम रुल फिर वल घर आई ।वंजन न वकत निरास अजाई ।
आवन दी कर काई वो यार ।
कूड़ी सुहबत कूड़ी संगत ।कूड़े नखरे कूड़ी रंगत ।
लप्प धूड़ी बुक छाई वो यार ।
मछलीं पीगीं लासू तारीं ।चणकी घंडड़ी होरां तवारी ।
सहजों रांद रसाई वो यार ।
थियां सरसबज़ फ़रीद दियां झोकां ।मेहरों सबज़ थियां वल सोकां ।
बखतीं वाग वलाई वो यार ।

122. झोपड़ जोड़ूं चिक खिप थड ते

झोपड़ जोड़ूं चिक खिप थड ते ।एझां न होवे सारे मड ते ।
न वकड़े न बन्द ते बहसां न गठ पाड़ दी खड्ड ते ।
सांवन आन सुहेसां रोही ।सिंधड़ों सघरी लड्ड ते ।
जे पानी खुट वैसी बहसूं ।ढाए ते कल अड्ड ते ।
शहर भंभोर वी खावन ओसम ।होत ना जावीं छड्ड के ।
तेग़ फ़रीद बिरहों दी वैह गई ।चम चम ते हड्ड हड्ड ते ।

123. जिन्दड़ी उचाके जीड़ा उदासे

जिन्दड़ी उचाके जीड़ा उदासे ।जापे तत्ती कूं केंदी प्यासे ।
पेकीं सुरीझीं गिल्लड़े वेखो है ।डेंदी मुट्ठी नूं मा भैन डोहे ।
किसमत दियां गाल्हीं दिलबर वी दरोहे ।एडों ग्यु से ओडों ग्यासे ।
थई आस पासे आई यास पासे ।ज़रबफ़रत डोरे मलमल ते ख़ासे ।
खंडड़ियां नबातां मिसरियां पतासे ।कचड़े उडाहे कूड़े दलासे ।
लिखड़ी मथे दी पलड़े प्यासे ।वह वाह ख़ुदा दे कंम बे क्यासे ।
जेढ़ीं कूं मुंह वी लेंदे न हासे ।मिल मिल करेंदियां खल टोक हासे ।
मूंह वेढ़ ठडड़े पई साह भरदी ।वैंदी निधाई डेंह व डेंह न ज़रदी ।
चस रस न मानड़िम घर दी न वरदी ।हक्क पल न डित्तड़म सिख सेज पासे ।
बिरहों बछेंदा लक्ख लक्ख बलाईं ।थी थी डखारी मंगदी दुआईं ।
शाला कहदियां या रब कडाहीं ।दीदां न अटकन दिल्लड़ी न फासे ।
सांवल सलोना मारू मरेला ।निखड़्या न डिट्ठड़म कोई वकत वेल्हा ।
शुरख़ी डुहागिन कज्जला डोहेला ।गल ग्या फ़रीदा जोबन नरासे ।

124. जिन्द सूलां दे वात ने

जिन्द सूलां दे वात ने ।डित्तरी बिरहों बरात ने ।
कडीं डेंह डुक्खां दा सिर ते ।कडीं ग़मां दी रात ने ।
तूल तलेंदी सेझ सड़ेंदी ।जलदी थई परभात ने ।
रोंदी उमर वेहानी सारी ।यार न पायम झात ने ।
पुनल है मसजूद दिलीं दा ।दीन ईमान दी बात ने ।
अहद ते अहमद फ़रक न कोई ।वाहद ज़ात सिफ़ात ने ।
हुसन परसती ते मैखवारी ।साडी सूम सलूत ने ।
फ़कर फना दा राह अड़ागा ।तिन्न लक्ख लक्ख आफ़ात ने ।
ठडड़े साह ते हार हंझू दे ।मुतड़ी इशक सुगात ने ।
साड़े सूल फ़रीद दी संगत ।दरद कशाले सात ने ।

125. जिथ थलड़ा, जिथ दरबूं है यार

जिथ थलड़ा, जिथ दरबूं है यार ।उथ हर वेले लदबूं है यार ।
तडड़े चीकन गीरे घूकिन ।जरखां तरखां लूम्बड़ कूकिन ।
गेंही शूकिन, सानूं फूकिन ।नांगी दी शूं शूं है यार ।
सोहणियां ठेड़ियां टिबड़े भिटड़े ।नाजो वाले ककड़े वटड़े ।
पांही, थोभे, पाड़े, घटड़े ।डिठड़ीं डुखड़ा वूं है यार ।
कंडरी काठीं नशतर मारी ।समझूं यारी ते ग़मखवारी ।
अलड़ी फटड़ी तों रत जारी ।खास सुहाग दी पौ है यार ।
हन खिले हासे साडे पेशे ।सूल सड़ापे दरद अन्देशे ।
ज़ीरे ज़खम ते ज़खमी रेशे ।सब डुख डितड़ा तूं है यार ।
रोही महज़ बशारत दरसों ।मरसूं, भुरसूं, मूल न ड्रसूं ।
बेदरदां दी दिलड़ी तरसूं ।डेंह रातीं घौं, मौं है यार ।
जै डेंह होत नीते पट देरे ।शहर भंभोरों सखत परेरे ।
दिल दियां बोटियां हां दे बेरे ।सानी दी मूं मूं है यार ।
तौं बिन यार फ़रीद दा जीवन ।जीदीं जग विच डुखड़ा थीवन ।
ज़हर डस्यो ए खावन पीवन ।तैडे सिर दी सौं है यार ।

126. जोसी तूं पोथी फोल वे

जोसी तूं पोथी फोल वे ।वससी कडां सोहणां कोल वे ।
रो रो थक्की पिट्ट पिट्ट हुट्टी ।के डे वेसां डुक्खड़ीं कुट्ठीं ।
सूलां लुट्टी दरदां मुट्ठी ।माही पुन्नल ग्युम रोल वे ।
पांधीं पुच्छां वाटीं तकां ।सड़ सड़ भुज्जां भुज्ज भुज्ज पकां ।
टुर टुर भुज्जां भज भज थक्कां ।सुंज बर रुलायम ढोल वे ।
जीड़ां ग़मां विच्च वड़ ग्या ।डुक्ख उड़ ग्या सुख लुड़ ग्या ।
दर्या गजब दा चढ़ ग्या ।सौ झोल लक्ख लक्ख छोल वे ।
सिक साथ सावल दी सदा ।दरदों ना थीउम दिल जुदा ।
शाला पुन्नल मेलम ख़ुदा ।जिन्दड़ी घत्तां मैं घोल वे ।
ज़ाहद वट्टा हुन जोल वे ।बिरहों चबोलां बोल वे ।
पतरी परम दी खोल वे ।दिल्लड़ी असाजड़ी चोल वे ।
डखां नेंह अनोखा राज़ वे ।तत्ता सोज़ दे हत्थ साज़ वे ।
मुट्ठी धां फ़रीद आवाज़ वे ।हू हू मलामत दोल वे ।

127. कहां पाऊं कहां पाऊं यार

कहां पाऊं कहां पाऊं यार ।
जिन इनसान मलायक सारे ।क्या सगला संसार ।
हैरत दे कुलज़म विच कुलथीए ।मुसतगरक सरशार ।
सूफी शागल ग्यानी ध्यानी ।गए ओड़क सभ हार ।
अरशी अते बसतामी गल लग ।रोवन ज़ारो ज़ार ।
बतलीमूस ते रीसा गौरस ।कर कर सोच बचार ।
खोज सुराग न पाया पता ।थक बैठे तन मार ।
बुध मजूस यहूद नसारा ।हन्दू ते दीनदार ।
आखन पाक मनज़ह है ।बे अंत अलख अपार ।
पीर पैगम्बर गौस कुतब ।क्या मुरसल क्या औतार ।
करन मनादी रो रो के ।ला यद कक्हअल अबसार ।
आलम फाजल आरफ कामल ।इजज़ कीता इकरार ।
आख फ़रीद नमाना भोला ।तूं विच कौन कतार ।

128. कहीं डुक्खड़ी लायम यारी

कहीं डुक्खड़ी लायम यारी ।रोंदी उमर गुज़ारिम सारी ।
सोहने होत बलोच अवैड़े ।डाढे कीते सख़त नखेड़े ।
न सुध सलाम सनेहड़े ।केडे वैसां सूलां मारी ।
एहो रावल रांझन माही ।खस्स दिल्लड़ी थीदां राही ।
वल करदा बे परवाही ।वाह जुलम ते बे नर वारी ।
महींवाल नेहाल न कीतम ।छड्ड कलढ़ी नाल न नीतम ।
भर जाम डुखांदा पीतम ।पेश आई शहर खवारी ।
सर आया बिरहों बखेड़ा ।डेंह रात हमेशा झेड़ा ।
प्या खावन आविम वेहड़ा ।ढोले असलों महज़ वसारी ।
जी जानी कारन लोहदा ।ग़म दरद अलम नित्त कोंहदा ।
गल हार ग़मां दा सोंहदा ।सर सेहरे मूंझ मुंझारी ।
माही आन वसावे झोकां ।क्युं करन स्याली टोकां ।
मैडियां सबज़ थीवन वल सोकां ।वंजां वारी लक्ख लक्ख वारी ।
सै रोग हज़ार कशाले ।तैडे कारन जिन्दड़ी जाले ।
थल मारू पर्रबत काले ।लाचार तत्ती हुन हारी ।
जैं दिलबर दी दिल बर दी ।तैंह बाझ फ़रीद न सरदी ।
जुड़ लायस चोट अन्दर दी ।वाह ज़खम कुलल्लड़ा कारी ।

129. कैं पाया बाझ फ़कीरां

कैं पाया बाझ फ़कीरां ।जज़बा-ए-इशक की लज़्ज़त को ।
कुल शै विच्च कुल शै डिठोसे ।हमा ओसत दा दरस कितोसे ।
बरकत सुहबत पीरां ।पी कर बादा वह्हदत को ।
जब मदहोशी नाज़ डिखाया ।उरबानी ने रंग जमाया ।
खिरका पाड़ लवीरां ।पहनियम रिन्दी ख़लकत को ।
दरद मन्दां कूं दरद सलामत ।बार मुहब्बत पंड मलामत ।
दुख दुख़ उठदियां पीड़ां ।घोल घतां सब राहत को ।
हुसन फ़रीद कई घर लूटे ।रुलद्यां फ़िरद्यां जंगल बूटे ।
सै सस्सियां लक्ख हीरां ।डेखो इशक दी शिदत को ।

130. कल्हड़ी रोल मल्हेर ग्युं

कल्हड़ी रोल मल्हेर ग्युं ।यार वला हुने हुने वागां ।
रोह जबलड़े औखड़े ।डुक्खड़े थल्लड़े झागां ।
कदम कदम ते ढै पौवां ।दिल्लड़ी लगड़ियां लागां ।
रोही वुट्ठड़ी घा थए ।मट्टड़ीं लगड़ियां जागां ।
गांईं सहंस सवाईआं ।सै सै चरन कुरागां ।
सिंधड़ी डुक्खड़े घाटड़े ।रोही मलड़े भागां ।
लाने फोग फुलारीए ।रल मिल चारों डागां ।
डैहां डोड़े डोड़ापड़े ।राती रोंदी जागां ।
संगियां सूरतियां मिल मिला ।सुरख़ियां कज्जल मसागां ।
मैले वेस सुहाउंदे ।फेरी कंड्ह सुहागां ।
दरद फ़रीद उजाड़्या ।डुक्खड़े डितम डुहागां ।

131. कां को को करलाऊंदा है

कां को को करलाऊंदा है ।कोई कासद यार दा आउंदा है ।
रुत्त सावन दी डेह मल्हारी ।बाद समाली किन मिन जारी ।
बुई लानी खिप ख़ूब फुलारी ।करड़ कंडा सब भाउंदा है ।
आस आई ते यास सिद्धाई ।झुड़ बादल आ झुड़मुर लाई ।
उजड़ियां झोकां ख़ुनकी चाई ।ग़म डर डर लुक पौंदा है ।
मींह बरसात ख़ुशी दे वेल्हे ।छेड़न छेड़ व छांग सवेले ।
आपे दिलबर कीते मेले ।जैं बिन जी तड़फाउंदा है ।
टिब्बे रेखां थल ते डहर ।कुल गल डिसदे अहमर असफ़र ।
डुक्ख कशाले गुज़रे यकसर ।सुक्ख रग रग विच्च धौंदा है ।
डुख डुहाग दा वकत वेहाया ।भाग सुहाग दा वेल्हा आया ।
यार फ़रीद अंगन पोंपाया ।हार सिंगार सहाउंदा है ।

132. करन नज़ारे तेज़ नज़र शाला जीवें

करन नज़ारे तेज़ नज़र शाला जीवें ।नूर वजूद अयाने ।
सर्रे सुबहानी राज़ अनलहक ।रिन्दी विरद लिसाने ।
विरद मबानी कशफ मुआनी ।अहल देलोंदा शाने ।
समझ सुंजानी गैर न जानी ।सब सूरत सुबहाने ।
अव्वल आखर ज़ाहर बातन ।यार अयान ब्याने ।
कत्थ मनसूरी ते तीफूरी ।कत्थ सरमद सनआने ।
हुसन परसती शाहद मसती ।साडा दीन ईमाने ।
राह तौहीदी रीत फ़रीदी ।अपने आप दा ध्याने ।

133. कर यार असां वल आवन्नडी

कर यार असां वल आवन्नडी ।अज्ज सहज कनूं अख फुरके वो ।
गुजरी डुक्ख डुहाग़ दी वारी ।रोही गुल फुल नाल सिंगारी ।
मुद मसतानी डेंह मलारी ।बाद शमाली लुरके वो ।
कीती भाग सुहाग उतावल ।रुत आई कर तुरत उबाहल ।
किन मिन कणियां रिम्म झिम्म बादल ।बारश बुरके बुरके वो ।
सिधड़ी थई वल किसमत पुट्ठड़ी ।आपें मनड़ी राहत रुट्ठड़ी ।
सोहनी मौसम रोही वुट्ठड़ी ।वहशत डूं दिल सुरके वो ।
ठडरियां हीलां पूरब वालियां ।कज्जले बादल लस्सड़ियां कालियां ।
संगियां सुरतियां नूं खुशहालियां ।हक्क वैरन पई कुरके वो ।
आपे यार फ़रीद संभालिअम ।सोहने सांवल प्रीतां पालिअम ।
बखती सुंजरी टालिअम ।जी मुसके दिल मुरके वो ।

134. कौन किरम निरवार तेग बिरहों दी कुट्ठियां कुट्ठियां

कौन किरम निरवार तेग बिरहों दी कुट्ठियां कुट्ठियां ।
अनहद बीन बजा मन मोहस ।गवल जोगी लुट्टियां लुट्टियां ।
गज़ हकीकी फाश डिट्ठोसे ।इलमो अमल तों छुट्टियां छुट्टियां ।
इशक नहीं है आग गज़ब दी ।धां करेंदी हुट्टियां हुट्टियां ।
कल्हड़ी छड्ड के केच सिधायउं ।अक्खीं मलेंदीं उट्ठियां उट्ठियां ।
जाम ज़हर दे ज़ुलम कहर दे ।दरद पलेंदा घुट्टियां घुट्टियां ।
इशक फ़रीद नहीं अज्ज कल दा ।रोज़ अज़ल दे दी मुट्ठियां मुट्ठियां ।

135. केच ग्युं यार बरोचल

केच ग्युं यार बरोचल ।कल ना लधड़ो सावल वल ।
मिसरी खंज नबातड़ी ।डिसदियां ज़हर हलाहल ।
घोले ज़ेवर भा लगे ।बठ पए डोरे मलमल ।
जोभन जोश जवानड़ी ।नाज़ नहोरे गए गल ।
कपड़े लीर कतीरड़े ।लिंगड़ी जाई मिलजल ।
अक्खियां कजलों कालियां ।पेची ज़ुलफ वलो वल ।
यो दिल चोट चलांदियां ए थी फाई पए गल ।
डिठम मलक मल्हेर डूं ।काले काले बादल ।
सिंधड़े रहन न डेंदियां ।लगड़ियां ताघा पलपल ।
रोही मेंघ मल्हरड़ा ।खमदियां खमनियां अजकल ।
दिलड़ी सिदकी देस डूं ।अखड़ीं हंझणूं बलबल ।
डेखां बाग बगोचड़े ।जियड़ा जानविम जलबल ।
लाने फोग फ़रीद दे ।दरद दलेंदे दरमल ।

136. किस धरती से आए हो तुम

किस धरती से आए हो तुम ।किस नगरी के बासी रे ।
परम नगर है देस तुम्हारा ।फिरते कहां उदासी रे ।
क्युं होते हो जोगी भोगी ।रोगी तरह बरागी रे ।
अंग भभ्भूत रमा के क्युं कर ।रखते बदन सन्यासी रे ।
अपना आप संभाल के देखो ।करके नज़र हकीकत की ।
फ़िकर न कीजो यारो हरगिज़ ।आसी या न आसी रे ।
तुम हो सागी तुम हो सागी ।वागी ज़रा न वागी रे ।
अपनी ज़ात सिफ़ात को समझो ।अपनी करो शनासी रे ।
बात फ़रीदी सोच के सुण्यु ।लाकर दिल के कानों को ।
दोनो जग के मालक तुम हो ।भुले अल्ला-रासी रे ।

137. किवें तूं फरद ते जुजव सडावें तूं कुल्ल तूं

किवें तूं फरद ते जुजव सडावें तूं कुल्ल तूं ।
बाग बहशत दा तूं हैं मालक ।खुद बुलबुल खुद गुल ।
अरश वी तैडा फरश वी तैडा ।तूं आली अणमुल ।
चढ़ दारी मनशर दे भाई ।करन अजब गुलगुल ।
रूह मिसाल शहादत तूं हैं ।समझ संजान ना भुल ।
दुनिया उकबा बरजुख अन्दर ।नाहीं तैडरा तुल ।
यार फ़रीदा कोल है तैडे ।ना बेहूदा रुल ।

138. कोई माहणूं आए मैं यार दा

कोई माहणूं आए मैं यार दा ।साथी खड़ा सनेहड़ा डेंदा ।
इशक नहीं है तीर बला दा ।ज़ुलमीं चोट चलेंदा ।
नाज़ अदा कुझ करे न टाला ।हुकमी बिरहों बछेंदा ।
रमज़ रमूज़ ते गुझड़े हासे ।सभ कुझ दरद सझेंदा ।
सोज़ फराक ते दरद अन्देशे ।तन मन फूक जलेंदा ।
हरगिज़ सूल न सहन्दी दिलड़ी ।यार ऐ बार सहेंदा ।
हज़र फरीद कीती दिल ज़खमी ।दोसत न मरहम लैंदा ।

139. कुल ग़ैर कनूं जी वांदे

कुल ग़ैर कनूं जी वांदे ।मुट्ठी रीत अनोखी रांदे ।
सट्ट कर खवेश कबीला थ्योसे ।बरदे तैडड़े नां दे ।
सब सूरत विच्च ढोल संजानो ।थ्यो व ना दरमांदे ।
सीने झोकां दीदीं देरे ।सोहने दोसत दिलां दे ।
हर पल पल विच्च कोल बगल विच्च ।यार मिट्ठे मन भांदे ।
अक्खियां दे विच्च कतर न मावे ।सारे सज्जन समांदे ।
शाला वंज कर हज़रत रोही ।डेखूं घर मित्तरां दे ।
सट्ट कर विरद फ़रीद हमेशां ।गीत परम दे गांदे ।

140. क्या डुख़्ख़ड़ा नेंह ल्युसे

क्या डुख़्ख़ड़ा नेंह ल्युसे ।डुक्ख बाझ पल्ले न प्यु से ।
इशक नहीं है नार ग़ज़ब दी ।तन मन कीतुस कोले ।
सूलां सड़दीं आही भरदीं ।सारी उम्मर निभ्युसे ।
ना गमख़ार ना कोई साथी ।ना कोई हाल वंडावे ।
इशक जेहां डुक्ख होर न कोई ।मा प्यु वैरी थिओसे ।
ख़वेश कबीला हर कोई जाने ।मंज़िल यार दियां झोकां ।
सेंगियां सुरतियां करदियां टोकां ।सारा भरम लुढ़ओसे ।
गलियां कूचे शहर बज़ारां ।लोग मरेंदा काने ।
नंढड़े वडड़े डेवन ताने ।शरम शउर वंज्युसे ।
गाल्ह नहीं अज्ज कल दी सुंजड़ी ।रोज़ अज़ल दी मुट्ठड़ी ।
बे निशान सज्जन दे कीते ।नास निशान गंव्युसे ।
हार हंजूं दा गल विच्च पावां ।बैठी रो रो हाल वंजावां ।
पीत सुवा बई रीत न काई ।डे सिर मुफ़त राध्युसे ।
मूंझ मुंझारी दरद विछोड़ा ।लिख्या बाब तत्ती दे डोड़ा ।
यार फ़रीद ख़रीद न कीता ।रो रो ख़लक रुव्युसे ।

141. क्या हाल सुणावां दिल दा

क्या हाल सुणावां दिल दा ।कोई महरम राज़ न मिलदा ।
मुंह धूड़ मिटी सिर पायम ।सारा नंग नमूज़ वंजायम ।
कोई पुछन न वेहड़े आइम ।हथो उलटा आलम खिलदा ।
आया बार बिरहो सिर बारी ।लगी हूं हूं शहर खवारी ।
रोंदी उमर गुज़रेम सारी ।ना पायम डस मनज़ल दा ।
दिल यार कीते कुरलावे ।तड़फ़ावे ते गम खावे ।
डुख पावे सूल निभावे ।एहो तौर तैंडे बेदिलदा ।
कई सहंस तबीब कमावन ।सै पुड़ियां झोल पलावन ।
मैडे दिल दा भेद न पावन ।पवे फरक नहीं इक तिलदा ।
पुनूं होते न खड़ मुकलाया ।छड कल्हड़ी कीच सिधाया ।
सोहने जान पछान रोलाया ।कूड़ा उजर नभायम घिलदा ।
सुन लेला धांह पुकारे ।तैंडा मजनूं ज़ार नज़ारे ।
सोहना यार तूने हिकवारे ।कडी चा परदा मुहमल दा ।
दिल प्रेम नगर डूं तांघे ।जथां पैंडे सखत अड़ांगे ।
नाराह फ़रीदन लांघे ।पंध बहूं मुशकल दा ।

142. क्या इशक अड़ाह मचाया है

क्या इशक अड़ाह मचाया है ।हर रोज़ इह सोज़ सवाया है ।
सर तन मन फूक जलाया है ।मुट्ठा जोबन मुफ़त गंवाया है ।
भैड़ी दिल्लड़ी मार मुंझाया है ।दम दम विच्च दरद सवाया है ।
सट्ट सेझ इकेली होत नस्से ।ग़म पा कर झोली ऐश ख़स्से ।
गल हार फुलां दा नांग डिस्से ।डुक्खी किसमत सब डुक्ख लाया है ।
सोहना सांग हिजर दी मार ग्या ।यकबारी यार वसार ग्या ।
कर ज़ार नज़ार खवार ग्या ।तत्ती बे वस्स बार सहाया है ।
एहा दिल्लड़ी इशक दी कुट्ठड़ी है ।जैं सबर आराम वंजाया है ।
मा डित्तड़ी शौक दी गुट्ठड़ी है ।जैं सबर आराम वंजाया है ।
दिल लावन हाल वंजावन है ।सुख डेवन ते डुक्ख पावन है ।
ग़म खावन दरद निभावन है ।नेड़ा बेशक कूड़ा जाया है ।
सोहने बाझ फ़रीद करार ग्या ।कंम कार सभो घर बार ग्या ।
सब नाज़ नवाज़ संगार ग्या ।सर बार डुहाग सहाया है ।

143. क्या रीत परीत सिखाई है

क्या रीत परीत सिखाई है ।सब डिस्सदा हुसन ख़ुदाई है ।
डिस्सदी यार मिट्ठल दी सूरत ।कुल तसवीर अते कुल मूरत ।
हर वेले है शगन महूरत ।ग़ैर दी ख़बर न काई है ।
नाज़ नेहोरे यार सज्जन दे ।इशवे ग़मज़े मन मोहन दे ।
हर हर आन अनोखड़े वन्दे ।वाह ज़ीनत ज़ेबाई है ।
नख़रे नख़रे नोकां टोकां ।दिल्लड़ी जोड़ चुभेंदियां चोंकां ।
सोकां सबज़ थियां वल्ल झोकां ।ख़ूबी ख़ुनकी चाई है ।
नाज़क चालीं नूर नोल दी ।रमज़ां बाकी तरज़ जदल दी ।
धाड़ कज्जल दी धाड़ा जलदी ।सुरख़ी भा भड़काई है ।
डुक्ख डुहाग ते दरद जुदाई ।रल मिल वैंदे साथ लडाई ।
इशक फ़रीद थ्युसे भाई ।इशरत रोज़ सवाई है ।

144. क्या थ्या जो तैडी न बणी

क्या थ्या जो तैडी न बनी ।थीसी ओहा जो रब्ब गिनी ।
दौलत कूं चूची ला अड़ा ।ठग बाज़ दा डटको न खा ।
आज़ाद थी सफन सफ़ा ।चुन घिन सुंजाएंदी अनी ।
दुनियां दा न थी आशना ।है ए मकारा बे वफ़ा ।
खावीं न मुज़िन दा दग़ा ।है पंज कनी तैकूं घनी ।
धज्ज वज्ज दी झग्ग मग्ग तरोड़ वे ।डोरे भे मलमल छोड़ वे ।
है डिल्ह पत्थर दी भोर वे ।तैं कान हीरे दी कनी ।
मुलां नहीं कहीं कार दे ।शेवे न जाणिन यार दे ।
समझन न भेत इसरार दे ।वंज कंड दे भरने थए दनी ।
ईं राह डो आंवी ना हा ।जे आईं कदम डेहों डेंह वधा ।
पिछों ते ना डेखीं मूंह वला ।हीला करीं सर तईं तनी ।
निञ्ही तरस बारोचल रती ।रोहीं पहाड़ी विच तत्ती ।
शोदी सस्सी रुलदी वत्ती ।नेहीं अल्हड़ी हिक्क जनी ।
है वल कहर दी मुबतला ।है ओ गज़ब दा बे वफ़ा ।
मन छड्ड अते मन डे विया ।आपत दे विच्च खड़बड़ बनी ।
सुन बेवफा दी गाल्ह वे ।पुछदे न हरगिज़ माल वे ।
असलों न लहम संभाल वे ।डेवे न चोली दी तनी ।
थी ख़ुश फ़रीद ते शादवल ।डुख़ड़ीं कूं न कर याद वल ।
अझू थीवम झोक आबाद वल ।एहा नैं न वैहसी हिक मनी ।

145. क्युं लोड़, कल्हड़ी विच्च कुन कपरदे

क्युं लोड़, कल्हड़ी विच्च कुन कपरदे ।रोधे डितो नी पिछली उम्मर दे ।
तैं बाझ जीवें असलों न जीवां ।तैडे अख़्ख़ीं दे साहमे पुरीवां ।
मारू, मरीला, भौं बिन ना थीवां ।बट्ठ डेंह हिजर दे औखे गुज़रदे ।
मारां मरोड़ा धक्कड़े ते धोड़े ।भेजियां सौगातां तैडे विछोड़े ।
डुक्खड़े डेंहों डेंह डेढे ते डोड़े ।है है न जींदे जियड़ा न मरदे ।
गए वकत वेल्हे यारो भलेड़े ।डुक्खड़े डुक्खी ते कीते वहीरे ।
शाला डेहाड़े थीवम थुलेरे ।पाड़े गुज़ारूं सजणीं दे घर दे ।
घोली तुसैडी गोली तुसैडी ।डे कन ते सुणीं पीड़ मैडी ।
पानी असाडा थई रत्त असेडी ।रोटी है टुक्कड़े हां दे जिगर दे ।
मुंढ लादी जिन्दड़ी डुखड़ेंदी डोहड़ी ।दरदेंदीं बद्धड़ी सोज़ेंदी रोहड़ी ।
हक्क तूं तत्ती दी वल्ल कल न लधड़ी ।पए सूल सदमे चौथे पहर दे ।
रह ग्युम खुशियां विसरे ननढेपे ।धां धां करदे आए बुढेपे ।
थए बेनवाई डित्तड़े रंडेपे ।आए बार सिर ते बारी कहर दे ।
जोगी बरागी थीकर ढूंडेसां ।कफ़नी डुक्खां दी पागल सुहेसां ।
एवें फ़रीदां उमरां नभेसां ।जे तईं ना थीसां दाखल कबरदे ।

146. लज्ज लोई कीं उतारेंदस

लज्ज लोई कीं उतारेंदस ।तुहंजा नहमल भा मैं बारेंदस ।
तुहंजा ज़ोर ज़लल औं मकर वदगा ।
तुहंजे ज़ुलम जयां गार्हेउ उमरादा ।
वंजीं वेहेड़ीजन सां गारेंदस ।
थर नप्हवारन जा डेस वतन ।
थर आहे संहज़ा मुलक वतन ।
खुश सेंगी सां गुजारेंदस ।
हन कैद में केढ़ो कामक्यां ।
साला मारन वारे नहन वयां ।
जा थी वार उगार बुहारेदस ।
हुजै हरदम डेंह अबाने मेंह ।
आहे सिक साड़्या जे रातीं डेंह ।
वैठी धां कन्दस हंजूं हारेंदस ।
बठ माड़्यों औं महलात जा घर ।
आखे मरक फरीद जा मारूथर ।
वहन सांगे अड़न जे चारेंदस ।

147. माडी दिलड़ी अड़ी

माडी दिलड़ी अड़ी ।होत पुनल दी सांग ।
सट कर खवेश कबीलड़े ।सिक सांवल दी सांग ।
रग रग ज़ुलफ दे पेचड़े ।नांग अजल दे सांग ।
विसरे इशक मजाज़ड़े ।हुसन अज़ल दी सांग ।
तांघ फरीद कूं रोलदी ।मारू थल दी सांग ।

148. माडी दिलड़ी अड़ी

माडी दिलड़ी अड़ी ।यार सजन दे सांग ।
जैंदी मेला रब करम ।जोह जतन दे सांग ।
नाज़ व ढोल दे नाज़ वे ।हर हर वन दे सांग ।
भुलड़े सकड़े सोहरड़े ।मन मोहन दे सांग ।
लानी फोग फुलारी ।सब पन पन दे सांग ।
वकत ज़ईफ बुढेपड़े ।सन जोभन दे सांग ।
तांग फ़रीद कूं आखदी ।बैत हज़न दे सांग ।

149. मान महीं दा चाक

मान महीं दा चाक ।असाडे मन भांवदा ।
हरदम होवीं कोल मैंडे ।कर रखां दिल-पाक,
वतां गलक्कड़ी पांवदा ।
रातीं रोंदी पिटदी खपदीं ।फट गई हम बाख,
क्युं गल नहीं लांवदा ।
सांवन सहजों मेघ मल्हारां ।आई मिलन दी मद साख,
नेहड़ा जीड़ा तांवदा ।
दरदों ठडरियां साहीं कढ्ढदी ।रो रो डेवां बाक,
डुक्खड़ा अंग न मांवदा ।
नाल फ़रीद दे सच्च ना कीतो ।आवन दी ग्यों आख,
सो हुन वल नहीं आंवदा ।

150. माही बाझ कलल्लियां

माही बाझ कलल्लियां ।दिलदार बगैर अवल्लियां ।
माही झोक लडाई वैंदा ।सारा हिजर दे रलियां ।
तरस न आवे हिक तिल तैनूं ।सख़त ग़मां विच्च गलियां ।
वेड़ा खावे अंगन न भावे ।अग्ग फ़राक दी जलियां ।
शरम वंजायम भरम गंवायम ।रुलदी कूचे गलियां ।
इशक फ़रीद बहूं डुक्ख डेसम ।अज्ज कल मोई मोई भलियां ।

Next......(151-200)
Previous......(51-100)
 
 
 Hindi Kavita