Hindi Kavita
ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद
Khwaja Ghulam Farid
 Hindi Kavita 

Kafian Khwaja Ghulam Farid in Hindi

काफ़ियां ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद

51. दरद अन्दर दी पीड़ डाढा सखत सताया

दरद अन्दर दी पीड़ डाढा सखत सताया ।
हजर फ़िराक दे तीर दिल नूं मार मुंझाया ।
इशक हे डुखड़े दिल दी शादी ।इशक है रहबर मुरशद हादी ।
इशक है साडा पीर ।जै कुल राज़ सुझाया ।
ए दिल मुठड़ी गन्दड़ी मन्दड़ी ।जामन लादी बिरहों दी बन्दड़ी ।
अज़लों तांघ दा तीर ।जानी जोड़ चुंभाया ।
नाज़ तबस्सम गुझड़े हासे ।चाले पेच फरेब दिलासे ।
हुसन दे चार अमीर ।जिन्हां चौ गुठ नवाया ।
वुठड़ी पाली सदा मतवाली ।मींह वसरांद ते वाली आली ।
रह्ही रशक मलेर ।वैदा बखत वलाया ।
थियां सर सबज़ फ़रीद दियां झोकां ।सहजों ख़ुनकी चाई सोकां ।
ननद ना मायो खीर ।मूला माड़ वसाया ।

52. दरद पए वल पेटे

दरद पए वल पेटे ।डित्तड़े यार रंझेटे ।
मैं बैठीं गई उमर न आए ।लांवीं लहन दे नेटे ।
हत्थड़ीं पैरीं ग़म दे गाने ।सर सूलां दे रेटे ।
संगी सुरतीं लगड़े झेड़े ।सकड़ीं सौहरीं फेटे ।
सांवल आवे आ गल लावे ।सहजों सेहजीं लेटे ।
दिल्लड़े सौ सौ ज़खम कलल्लड़े ।सीने सख़त चपेटे ।
यार फ़रीद संभालम जैंदीं ।रब्ब डुक्ख डुक्खड़े मेटे ।

53. दरसन बिन अक्खियां तरस रहियां

दरसन बिन अक्खियां तरस रहियां ।
सै सूल सहां सिक सांग सिवा ।सुख सड़ गए खुशियां राख थिया ।
जी जलदा सीने अग्ग लगी ।दिल बेकब हजड़ूं ढलक पईआं ।
बठ सेझ सड़ी बठ तूल तत्ती ।गईआ सेंगियां सुरतियां विसरियां ।
गल कोझे कांटे ख़ार चुभन ।थई चोली सालू सहंस धईआं ।
कई लहर लुढ़े कई रोह रुले ।कई फिरदे बूटे बेटे लईआं ।
दिन बीत गए सुध बिसर गई ।साजन ने बुराईआं जोड़कियां ।
है नाज़ नहीं ऐराज मंढू ।रक्ख आस न थी ग़म वास मियां ।
बिन यार फ़रीद न ईद डिट्ठम ।खिल खेडां सारियां विसर गईआं ।

54. दसतों पीर मुगां दे

दसतों पीर मुगां दे ।पीतम इशक दा जाम ।
वहदत कीता गलबा ।भुल ग्या कुफर इसलाम ।
गुज़रे फरज़ फरीजे ।सुनत को भी सलाम ।
कशफ हकीकी आए ।गए अजगास अहलाम ।
वहदत जाती सभ दा ।है आगाज इंजाम ।
तिखड़ी तेग़ नफी दी ।गैर कीता कतलाम ।
बाझों शुगल हकीकी ।बिल कुल कूड़ कमाम ।
कर तोबा अग्यारों ।पठड़े बिरहों प्याम ।
तुरत फ़रीद फ़रीदों ।थी आज़ाद तमाम ।

55. डेहां राती संझ सथाहीं

डेहां राती संझ सथाहीं ।कनड़ीं काण्ह बजावम बींन ।
कुदसी बंसी अनहद अज़ोल ।रांझन फूक सुणावम फ़जलों ।
रक्ख रक्ख वहदत दी आईन ।
असनीनियत दी गई इल्लत ।औज थई सभ हनफी मिल्लत ।
सीन बलाल दा बेशक शीन ।
जो है मरद मुहक्कक मोकन ।उस दा थिया शैतान भी मोमन ।
मिलल नहल कुल कय्यम दीन ।
दिल्लड़ी गैरैं वैरों खाली ।सदर सदूर वलायत वाली ।
रासख मालक मुलक यकीन ।
मीसाकंो ता रोज़ हशर दे ।जूदो जूद नसार फ़क्कर दे ।
दौलत सुहबत फ़खरुदीन ।
ज़ुलम जहालत थीवम परेरे ।कीते अदल अदालत देरे ।
आई तमकीन ते गई तलवीन ।
भट्ठ घत ए तलबीस इबलीसी ए दिल सिख तदरीस इदरीसी ।
थी वारस फारान ते सीन ।
सौ सौ हमद ते लक्ख शुकराने ।यार फ़रीद लधोसे ख़ाने ।
गई तशवीश ते आई तसकीन ।

56. डेंह रात डुख़्ख़ां विच्च जालां

डेंह रात डुख़्ख़ां विच्च जालां ।वंजियां खूशियां ग़म बैठी पालां ।
यार पुनल ग्या शहर डूं ।थी राही रोही थल बर डूं ।
बेवाही क्युं आकर आकर घर डूं ।जुख जुख उमरां गालां ।
डेवन डोडे सूल सहेलियां ।बद तीनत पुट्ठड़ियां ते दिल मैलियां ।
सुंजबर सारे सेहन हवेलियां ।सिर साड़ां जी जालां ।
पीत परींदी रोज़ सवाई ।विसरे खवेश कबीले भाई ।
सट कर वीरन भैनी माई ।सांवल तैनूं भालां ।
यार न पांवां पई कुरलावां ।सुहे सेझ नूं भा भड़कावां ।
पिट्ट पिट्ट रो रो बार उठावां ।वैन करां रोह डालां ।
लगड़ी जुड़ कर चोट अन्दर विच्च ।आइम डोड़े ज़ुलम कहर विच्च ।
छड कर कल्हड़ी रोह डूंगर विच ।होत न लहम संभालां ।
यार फ़रीद न लहन्दा सारा ।सहन्दी साड़े सूल हज़ारां ।
रत्त रो रो कर रात गुज़ारां ।डुख़्ख़ डुखदीं डेंह ढालां ।

57. डेंह रातीं इशक सतावे

डेंह रातीं इशक सतावे ।ज़र घर वर रोग वधावे ।
थल रेखां झर बर देरे ।हर भिट भिट नाल बसेरे ।
सर सूला छकदे सेहरे ।गल हिजर दा हार सहावे ।
दिल लुट ग्या जोगी रावल ।सै पूर डुखां दे पल पल ।
हर वकत कहां हत्थ मल मल ।मुट्ठां नेड़ा कोई न लावे ।
रोह कोझे कालियां धारां ।पौं चुभन बबूल हज़ारां ।
सर कहर कलूर दियां मारां ।डुक्ख हर वेल्हे तन तावे ।
दिल दूद ग़मां दे दुक्ख दे ।जी हर वेल्हे प्या जुखदे ।
गए गुज़र डेहाड़े सुख दे ।मोई जिन्दड़ी सोज़ निभावे ।
है दरद अवल्लड़ा पुट्ठड़ा ।क्युं पेश प्युम ए कुट्ठड़ा ।
कुझ घटे न गाटे तरुट्टड़ा ।हत्थों मरहम ज़ख़म फटावे ।
जिन राखस सुंजड़ियां जाहीं ।रिच्छ बांदर बूज़ बलाईं ।
थए साथी संज सबाहीं ।मुट्ठी औखी उम्मर वेहावे ।
आए पेश फ़रीद गपाटे ।अंग तरुटन ते सर फाटे ।
लक्ख रोड़ां सहंस चकाटे ।तत्ती बेवस थी कुरलावे ।

58. डेस सुहा सांवल अज कल

डेस सुहा सांवल अज कल ।ना तावेसाईं मर जल गल ।
वहट में वसदा मैंधड़ा ।शहर लोदरवे मोमल ।
कनड़ीं खावन सेंगियां ।कर कर कूड़ी कल कल ।
तौं बिन नज़रम ओपरियां ।तोड़ीं साधां सोमल ।
सड़ गई सेझ सुहागड़ी ।फाटे फाटे डोड़े मल मल ।
सुरखी लह गई वह गए ।रो रो सुरमे काजल ।
सिक सिर मारम सांगरां ।ताघां तानुम वल वल ।
सूल अन्दोह अन्देसड़े ।मल मल आवन पल पल ।
भैणीं, दाईआं डरानड़ियां ।अमड़ी, वीरन, बाबल ।
कौन है दरद फरीद दा ।तौं बिन दारू दरमल ।

59. ढोलन तैडी सिक ढेर हम

ढोलन तैडी सिक ढेर हम ।ताघां घणियां चाहीं बहूं ।
खप खप करां आहीं बहूं ।तप तप उट्ठन भाईं बहूं ।
खसी दिल महीं दे चाक है ।जियड़ा सदा ग़मनाक है ।
तन चूर सीना चाक है ।सर धूड़ मूंह पाहीं बहूं ।
लगा सखत डुक्खड़ा रोग है ।बे पीर दिल नूं जोग है ।
तत्ती पई भोगेंदी भोग है ।रो रो करे धाईं बहूं ।
माही पुनल दिल्लड़ी लुट्टी ।दिल लुट्ट के थिया राही पुट्ठी ।
रुल रुल थक्की फिर फिर हुट्टी ।बूटे लईआं काहीं बहूं ।
जडां दिल नूं तैडी चाह थई ।सट्ट सेझ थल दे राह थई ।
सुंजबर कल्ही बे वाह थई ।छड्ड आसरै वाहीं बहूं ।
गुजरी फ़रीद आख़र उमर ।आई न दिलबर दी ख़बर ।
ढूंढां जंगल झर बर बहर ।तक तक रहां राहीं बहूं ।

60. दिल दम दम दरदों मांदी है

दिल दम दम दरदों मांदी है ।सिक डिट्ठड़ीं बाझ न लहन्दी है ।
हजर दियां गुज़रियां डुक्खियां रातीं ।मा प्यु खवेश न पुच्छदीं बातीं ।
सेंगियां सुरतियां लहन न तातीं ।मुट्ठड़ी पई तड़फांदी है ।
चाक महींदा मन नूं भानड़ां ।भुल ग्या सारा राज़ बबांनड़ां ।
घोलां सेज ते तोल वहानड़ां ।बेट दी रीत सुहांदी है ।
रांझन जोगी मेरा मीता ।दिल नूं जिसने जाद कीता ।
इशक तहींदा लूं लूं सीता ।रग रग मूल न वांदी है ।
भाना यार दा मन मानड़ां ।साड़ां झंग ते शहर मघ्यानड़ां ।
पा मसकीनी स्ट्टसां मानड़ां ।जिन्दड़ी झोक ग़मां दी है ।
गुज़र्या वेल्हा हस्सन खिलन दा ।आया वकत फ़रीद चलन दा ।
औखा पैंडा दोसत मिलन दा ।जान लबां ते आंदी है ।

61. दिल दरदों हुन हारी वो यार

दिल दरदों हुन हारी वो यार ।वल करीं हा कारी वो यार।
ज़ुलफ स्याह थी नाग विराधे ।डंग मरेंदे कारी वो यार ।
लूं लूं सीढ़ां जारी वो यार ।
सांवल आवीं ना तरसावीं ।मौसम चेतर बहारी वो यार ।
घर घर थई गुलज़ारी वो यार ।
यारी ला कर याद न कीतो ।जिन्दड़ी मुफत अज़ारी वो यार ।
डिठड़ी तैडड़ी यारी वो यार ।
सट कर कल्हड़ी ते बे वाही ।कीतो केच त्यारी वो यार ।
है है बे नरवारी वो यार ।
शाह बिरहों दे डितरम औहदा ।गाल्हीं दी सरदारी वो यार ।
खलअत शहर खवारी वो यार ।
सिक महींवाल दी लोड़ लुड़ायम ।मैं मुठड़ी मनतारी वो यार ।
कोझी रात अंधारी वो यार ।
डे कर दलबे कूड़ दिलासे ।लुट नीतो दिल सारी वो यार ।
मैं वारी लख वारी वो यार ।
थल बर रोही रोहीं रावीं ।रुलदी डुखड़ी मारी वो यार ।
बार बिरहों सिर बारी वो यार ।
यार फ़रीद न आइम वेढ़े ।हर दम मूंझ मूंझारी वो यार ।
रोंदीं उमर गुज़ारी वो यार ।

62. दिले दारम बसे आवारा तबे वहशत आराए

दिले दारम बसे आवारा तबे वहशत आराए ।
बिरहों बारे बरोचल दे बियाबां दशत रुलवाए ।
केहां गम दियां बातीं डुक्खी है दिल डेहां रातीं ।
ख़ुदा रा हाले ज़ारम बीं कि दसतेम व बे पाए ।
बमा ताल्या शुदा पुर की नज़ारम बे दिलो ग़मगीं ।
न पैंदा यार है झाती अजन डुक्खड़े न पादाए ।
सजन वस रस डखांइम चस सुरीझीं पेकड़ीं बस बस ।
दिल दीवाना बाहर कस न दारद हेच परवाए ।
हमेशा मूंझ वाधी है सुंजी सख़ती ज़्यादी है ।
सदा सूलां दी शादी है मैं अपने बख़त अज़माए ।
डेहां डोड़ी खराबी है कलक है इज़तराबी है ।
नमासां जी अज़ाबी है न आप आए न बुलवाए ।
ज़े इशक आरज़ रंगीं चू लाला दाग़हा देरीन ।
कीतियां हन दिल अन्दर जाहीं कडीं रब्ब यार मलवाए ।
बग़ैर अज़ मन किरा शायद फ़रीद ईं मरमरा बायद ।
डुखे पैंदे ते डुख़्ख़ बेहद ममीं राखस ते रिच्छ साए ।

63. दिलियां ते दीदां सोहना तैडड़े देरे

दिलियां ते दीदां सोहना तैडड़े देरे ।हरदम वस्सीं पियां तूं साडड़े नेड़े ।
संगियां सुरतियां हक हमसाए ।गिलड़े करन वेख वे ।
मां प्यु वीरन भैन भणीजियां ।जुड़ जुड़ लांविन झेड़े ।
जगतां मारन पेके पतने ।हासे करन सोरीजे ।
उट्ठदीं बहन्दीं टुरदीं फिरदीं ।सस्स ननान कहेड़े ।
चूचक चाक तैडा तूं मालक ।सर सर वाह दा वारस ।
मंझियां तैडियां झोकां तैडियां ।कूड़े छोड़ बखेड़े ।
कौन है काज़ी रिशवत राजी ।कौन स्याल दे खेड़े ।
बाझ ख़ुदा दे झगड़े झेड़े ।साडे कौन नबेड़े ।
डूं डहेंदे नाहक दावे ।ओड़क नाहक थींदे ।
रांझन ते मैं हस्स रस्स वस्सूं ।सड़ सड़ मरसन खेड़े ।
जो जो लेख मत्थे दे आहे ।आख़र वहा मिलिओसे ।
जिन्दड़ी छुट्टन फ़रीद है मुशकल ।वेड़्यां इशक अवैड़े ।

64. दिल इशक मचाई अग्ग साईं

दिल इशक मचाई अग्ग साईं ।डुख़्ख़ सोज़ रच्या रग रग साईं ।
घर घर मिल गए होके ।किबला यार दी झोके ।
ई जग ते ऊं जग साईं ।
दिलबर दूर सिधानड़ां ।साड़ां तूल वेहानड़ां ।
जीवां कैंदे लग साईं ।
होर नहीं कई बाकी ।एहा ज़ात सिफ़ाती ।
हां दिलदार दा सग साईं ।
मन मुंझा तन्न टुंडे ।लिंग मैले सिर भोंडे ।
सूल आवन कर वग्ग साईं ।
बिरहों रूह हयाती ।ग़म है बेली साथी ।
दरदां दी हम तग्ग साईं ।
हाल फ़रीद खवारे ।दिलड़ी ज़ार नज़ारे ।
कीतम हिजर अलग़्ग़ साईं ।

65. दिल मसत महव ख्याल है

दिल मसत महव ख्याल है ।सरे मु तफ़ावत न सहूं ।
ए ख़्याल ऐन वसाल है ।ते कमाल है न कि है जनूं ।
असल अल-असूल शेहदतुन ।हमा सू बसू हमा कू बकू ।
चेह शहूद ऐ बऐनही ।नहीं फुरसत इतनी कि दम भरूं ।
जो मकान था बन ग्या ला मकान ।जो निशान था हो ग्या बेनिशान ।
सदा इसम व रसम ज़मन दवां ।अल्ला अपने आप को क्या कहूं ।
न अयान है न नेहां है न ब्यान है न ध्यान है ।
न रहा इह जिसम न जान है ।केहां डोस होश हवास कूं ।
शुद अकस दर अकस ईं बना ।कि फ़ना बक्का है बक्का फ़ना ।
बाकी नमानद बजुज़ अना ।कत्थ ओते तूं कत्थ हां ते हूं ।
कडीं शोर दे सतवात हन ।कडीं ज़ोर दे शतहात हन ।
कई किसम दे बकवात हन ।सतून दे बतून बतून दे सतून ।
उट्ठ गई फ़रीद हवस मुंढो न रहा हई वस हिक ख़श मुंढो ।
कसे कस हो कस नाकस मुढो ।चुप्प चाप फेल फ़साद तों ।

66. दिल नूं मार मुंझायम

दिल नूं मार मुंझायम ।नित्त दे दरद अन्देशे ।
वस नेड़े चाक महींदा ।तौं बाझ ए हाल सुंजीदा ।
ज़खमी सीने चिकदे रेशे ।
डुख डुहेलियां डोड़ डुड़ापे ।सै साड़े लक्ख सूल सड़ापे ।
वैन स्यापे साडे पेशे ए गमज़े नाज़ नेहोरे ए इशवे ज़ोरें तेरे ।
सर सांगां तन मन तेशे ।
बट्ठ बिरहों बराबर वैरी ।चा कीतुस कोले कीरी ।
ज़ुलमीं मज़हब काख़ केशे ।
क्या धां फ़रीद सुनावां ।क्या रो रो जगत रोआवां ।
मसतक लिक्खड़ी आई पेशे ।

67. दिल्लड़ी दरदों टोटे टोटे

दिल्लड़ी दरदों टोटे टोटे ।पुरज़े पुरज़े ज़र्रे वो ज़र्रे ।
इशरे ग़मज़े नाज़ नहोरे ।नखरे टक्खरे ज़ोरे तोरे ।
ख़ून करेंदे ज़रे वो ज़रे ।
आपे अपणां सोहां कीतो ।आपे अपनी जाते नीतो ।
हुन क्युं थींबीं परे वो परे ।
गूढ़े नैन ते ज़ुलफां कालियां ।सोहणियां रमज़ां मोहणियां चालियां ।
जैं बिन मूल न सरे वो सरे ।
पलपल तीर निगाह दे फल्लड़े ।वलवल पेच ज़ुलफ दे वल्लड़े ।
बे वस्स केंवीं करे वो करे ।
मूंझ मुंझारी दरद अन्देशे ।डेहां रात फ़रीद दे पेशे ।
हजरों जिन्दड़ी डरे वो डरे ।

68. दिल्लड़ी नमानी कूं रोज़ मुंझारी

दिल्लड़ी नमानी कूं रोज़ मुंझारी ।छड्ड ग्या ढोला यार आज़ारी ।
इशक नहीं कई भाह ग़ज़ब दी ।सड़दी जलदी जान विचारी ।
आशक फिरदे मसत मवाली ।सर कुरबान करन लख वारी ।
दरद अन्दोह ते सूल हज़ारां ।ला कर यारी यार विसारी ।
सैद करेंदे मुरग दिलेंदे ।नाज़ो अदा हिन बाज़ शिकारी ।
चशमां शोख बहादर जंगी ।पलकां धरदियां दसत कटारी ।
जिन्द फ़रीद बचे हुन केंवें ।नैनां ख़दंग चलाई कारी ।

69. दिन रैन दिल हैरान है

दिन रैन दिल हैरान है ।आसायश न पायम हिक्क घड़ी ।
सर टुक्कड़े टुक्कड़े हो ग्या ।तन मन जल्या लूं लूं सड़ी ।
दर्या बिरहों दा तार है ।हर मौज आदम खवार है ।
न पार न उरवार है ।औखी अड़ाहीं आ अड़ी ।
एहा है हकीकत हाल दी ।सारी उम्मर रही भालदी ।
कई कल न पई महींवाल दी ।बेवस्स तत्ती लहरीं लुढ़ी ।
साथी पुन्नल छड्ड ग्युं परे ।जैं बाझ हिक पल न सरे ।
फिर फिर डूंगर घाटियां दर्रे ।सिक साथ वंज भोइ विच्च वड़ी ।
हुन इशक आदल मूं प्या ।होशो हुनर ज़ाया थ्या ।
सब महव मनसी हो ग्या ।जो कुझ्झ सिखी जो कुझ पढ़ी ।
थई दिल फ़रीद आगाह है ।हर जा जलूसे शाह है ।
बादल मूं ज़ाहर माह है ।जब झड़्ड़ गई मन की झड़ी ।

70. डिट्ठा इशक अयां ता बाज़ार गली

डिट्ठा इशक अयां ता बाज़ार गली ।सभो रमज़ ख़फी हुन थीवम जल्ली ।
सभ जलवा नूर ज़हूर डिस्से ।या ऐमन ते या तूर डिस्से ।
गई ग़बित ऐन हजूर डिस्से ।दिल वंज दिलबर दे साथ रली ।
है कशफ़ कमाल दी बात अजब ।है वजद ते हाल दी घात अजब ।
है वसल वसाल दी रात अजब ।मुट्ठी गैर दी ज़ात सिफ़ात जली ।
कडीं तैर अरूज़ दा हाल बने ।कडीं सैर नज़ूल दी चाल बने ।
जो हिजर है आन वसाल बने ।सारे सूल सड़े सारी मूंझ टली ।
जल ख़ाक ते खोट-खपोट ग़ुमां ।गुम हो ग्या ग़ैर दा नाम निशान ।
थ्या नूर वजूद सहूद अयां ।घर बार गली बाज़ार मिली ।
जथां भाल डे्ेख़ां तथे राज़ डिस्से ।सभ हुसन दे नाज़ नवाज़ डिस्से ।
सभ सोज़ फ़रीद नूं साज़ डिस्से ।हमा ओसत सुझाई रीत भली ।

71. डिट्ठड़ी यार भलाई

डिट्ठड़ी यार भलाई ।हक्क तिल तरस न आइयो ।
पा गलवाड़ी सुतड़ों ।वैदीं ना मुकलाययो ।
सहजो कोल बुल्हा के ।क्युं जानी दिल चाययो ।
है है यार बरोचल ।कैं मै तूं भरमाययो ।
जे हावी इह नियत ।क्युं वत यारी लाययो ।
जान फ़रीद निकम्मड़ी ।मुफ़त डुक्खां विच्च पाययो ।

72. डुखां सूला कीतम कक्के साईं

डुखां सूला कीतम कक्के साईं ।हुन मौत भली बे शक्क साईं ।
पुनल केच सिधायम ।वलदी ख़बर न आइम ।
रहियां राही तक्क साईं ।
घोला भैड़ी घिल कूं ।पौवन तत्ती दे दिल कूं ।
सौ सौ पूर ते जक साईं ।
आए सख़त करूप कशाले ।कौन बन्दी दे टाले ।
जो लिख्या मसतक साईं ।
डुखड़े दरद डुखेंदे ।जान जिगर विच्च पैंदे ।
सौ चूंढी लक्ख चक्क साईं ।
भाग सुहाग ग्यो से ।यार दिलों विसर्यो से ।
पक्क साईं हिम पक्क साईं ।
हजर फ़रीद उजाड़ेम ।सोज़ अन्दर दे साड़ेम ।
दिलड़ी हम चक्कमक्क साईं ।

73. डुख ढेर सुख दा वैर है

डुख ढेर सुख दा वैर है ।रीड़ां घणियां पीड़ां बहूं ।
रत रो हंजू नीरां वहन ।नक्क-सीढ़ ते सीढ़ा बहूं ।
जुख जुख करा धाईं बहूं ।डुख डुख कढ्ढां आहीं बहूं ।
दुक्ख दुक्ख उठन भाईं बहूं ।उक चुक्क पईआं धीरा बहूं ।
सर भोंडा चड़्या ख़ाक है ।मूंह धूड़ सीना चाक है ।
चूचक थिया हुन चाक है ।मुट्ठी झोक दिल वीरान बहूं ।
सभ लोक करदा टोक हिम ।लगी दिल न्यारड़ी नोक हिम ।
डित्ती बिरहों डाढी चोक हिम ।चुट्टी दरद दे तीरां बहूं ।
बे पीर दिल दियां चालियां ।सभ हन उपट्ठियां गाल्हियां ।
पीतम न पीतां पालियां ।रो रो करे रीड़ां बहूं ।
कल्ही मैं नमहीं एहीं जोलदी ।फिरे लक्ख फ़रीद एहीं तोलदी ।
दिल बोड़दी दिल रोलदी ।सोहणियां सस्सियां हीरां बहूं ।

74. डुखे डेंह फुरकत दे निभन

डुखे डेंह फुरकत दे निभन ।मुट्ठे नैन रो रो रत्त थीवन ।
साथी पुनल ग्या दूर है ।सर दरद कहर कलूर है ।
तन चूर मन रंजूर है ।शाला सजन कोले वसन ।
माही मिट्ठल ग्युं रोल वे ।वाह ढोल तैंडड़े बोल वे ।
डेखां है कैंदे कोल वे ।दिल ढांढ दरदां दे बलन ।
दिल्लड़ी तपे सीना जले ।जियड़ा डुखे जिन्दड़ी गले ।
हड्ड चम्म सड़े लूं लूं तले ।अक्खियां डुखन दीदां सिकन ।
मूनस ते ना गमखवार है ।चौगुट्ठ सख़त उजाड़ है ।
पलपल गमां दी धाड़ है ।मुशकल निभावां रात दिन ।
डिट्ठड़े सवा किकर रहूं ।सुंज बर फ़िरूं डुख़ड़े सहूं ।
जथ रिच्छ घने राखस बहूं ।बांदर बलाईं भूत जिन ।
सय्यद फ़रीद सहसी सभे ।माही पिच्छे राही थीए ।
या वंज मिले या रुल मोए ।गए हिन डुक्खां नूं साथ घिन ।

75. डुक्खे इशक दे डुक्खड़े घाटे नैं

डुक्खे इशक दे डुक्खड़े घाटे नैं ।सर फट्टड़ा तरुटड़े गाटे नैं ।
मैं जात सोहना यार पुनल ।रहसी कोल न वैसी केच डूं वल ।
हुन वलवल पूर पौवन पलपल ।अक्खीं नीर हंजू फरवाटे नैं ।
सुंज सेझ अते गुल ख़ार थीए ।धईआं हार हमेलां मार थीए ।
जिन्द जोखों तार व तार थीए ।मुट्ठी दिल्लड़ी किरम गघाटे नैं ।
बुरा बिरहों बुरी बीमारी है ।डुक्ख पैर ते नाला जारी है ।
ढोले बाझ न हरगिज़ कारी है ।कूड़े सरबत घोटे चाटे नैं ।
बदूं बांदर बूज़ अदाईं हन ।गड गैंडे गुरग बलाईं हन ।
थल मारू औखियां जाहीं हन ।सरड़ाटे सख़त चकाटे नैं ।
बठ वाली वालियां बूल तते ।आए पेश तत्ती दे सूल तत्ते ।
पैरी चुभन हज़ार बबूल तत्ते ।हक रीत तत्ती थ्याभाटे नैं ।
आई रोहां जबलां जाल मेरी ।मम्मीं डैणीं लहन संभाल मेरी ।
रिच्छ राखस रक्खदे भाल मेरी ।डेंह गत फ़रीद गपाटै नैं ।

76. डुखी दिल्लड़ी दरदीं मारी

डुखी दिल्लड़ी दरदीं मारी ।हर वेल्हे आज़ारी ।
सोज़ अन्दर विच्च सूल जिगर विच्च ।आइम बरोच रोह डूंगर विच्च ।
सख़त सफ़र विच्च जुलम कहर विच्च ।होत न कीतम कारी ।
दार मदारां सुंजड़ियां बारां ।पर्रबत धारां ग़म दियां मारां ।
परम पुकारां जिन्दड़ी वारां ।यार विसारी यारी ।
शान शरम ग्या भीम भरम ग्या ।दीन जरम ग्या दैर धरम ग्या ।
लुतफ़ करम ग्या नेक रहम ग्या ।लगड़ी शहर खवारी ।
औखियां घाटियां लक्ख लक्ख घाटे ।खुड़बन भाटे सहंस गपाटे ।
तत्तड़ी वाली डुक्खड़े घाटे ।कर कर पीत प्यारी ।
नेंह निभाया रोज़ सिवाया ।पोर पराया मुफ़त अज़ाया ।
दीद मुसाया ज़ुलफ अड़ाया ।घत्त घत्त पेच दी गारी ।
साड़िन छाती मारन काती ।सोज़ है साथी रोग है भाती ।
हजर दी झाती खिसम हयाती ।पल पल मौत त्यारी ।
दरद फ़रीद जदीद जदीदे ।ईद बईदे बख़त अनीदे ।
शौक शदीदे मूंझ मज़ीदे ।बार बिरहों सर बारी ।

77. डुखड़े पुखड़े आइम

डुखड़े पुखड़े आइम ।खुशियां भावनड़ूं रहियां ।
चांदड़ियां रातीं बिरहो बरातीं ।सईआं खेडन गईआं ।
रुत सावन दी मींह बरसातीं ।रल मिल धावन पईआं ।
सदके कीता नाल न नीता ।पकड़ न खेड़ा बईआं ।
रोज़ अज़ल दा वारस साडा ।तूं है रांझन साईआं ।
विसरिअम सारा राज बबाना ।विसरियां सेगियां सईआं ।
सकड़े सौहरे खवेश कबीले ।सट कर तैंडड़ी थईआं ।
सेगियां सरतियां शहर सुहावन ।मैं वत्त बूटे लईआं ।
इशक फ़रीद कूं खलअत डित्तड़ी ।मूंह सिर भुस्सड़ छईआं ।

78. डुखड़ीं कारन जाई हम

डुखड़ीं कारन जाई हम ।सूलीं सांग समाई हम ।
दरद अन्देशे सकड़े सौरे ।ब्या ना भैन ते भाई हम ।
गहली कमली सूंजड़ी धुर दी ।हक ग़म दी सधराई हम ।
जावन लादी पंड बला दी ।चुम सिर अक्खियां चाई हम ।
राहत वेंदीं विदा ना कीतम ।मई हम पर मतराई हम ।
पीड़ पुरानी अमड़ी सकड़ी ।मूंझ मंझारी दाई हम ।
सख़ती ते बद बख़ती तत्तड़ी ।हाल वंडायो हमसाई हम ।
बे ठाई दी चोली चुनड़ी ।पाई हम पा ठमकाई हम ।
सिर ते छतड़े चोटियां मत्थड़े ।तैं संग दिल्लड़ी लाई हम ।
हू हू फकड़ी शहर खवारी ।चाती फ़खर वडाई हम ।
किवें यार फ़रीद वसारां ।जै कीते इथ आई हम ।

79. डुक्ख सीने ते मूंग डाले

डुक्ख सीने ते मूंग डाले ।सिक्क तड्डी तड्डी तेल डखाले ।
ग़म दरद अलम बद नीते ।पए साड़न सोज़ पलीते ।
थए मैं मुट्ठड़ी दे कीते ।सब रानी खां दे साले ।
कई डेंह ना रल गुज़र्यु ने ।सारी आस उमीद वंज्युं ने ।
है ख़बर नहीं क्या थ्यु ने ।थए पेची केच उबाहले ।
हम संगती सारे खोटे ।खच बाज़ उपट्ठड़े डोटे ।
रल मिल बे दरद कल्होटे ।पए करन ख़िलां हां काले ।
तत्ती सोज़ अन्दोह वचाले ।सै वाके फ़ाके घाले ।
नित्त रोह पत्थर पड़ताले ।हत्थी लफां पेरीं छाले ।
कर सबर फ़रीद निभेसां ।पई सूली सांग जलेसां ।
दम जैंदीं तई पुकरेसां ।मतां कादर सख़ती टाले ।

80. डुख थीए बांह बेली वो यार

डुख थीए बांह बेली वो यार ।हथी अइम अकेली वो यार ।
तौं बिन डेवम कौन दिलासे ।थी ना सांवल आसे पासे ।
माणीं अंगन हवेली वो यार ।
आली अदनी जो जग जीवे ।मैं वांगन पई कई न थीवे ।
डुखड़ी ! वाढी !! व्हेली!!! वो यार ।
ना माही ना मंझियां डिसदियां ।अक्खियां विसदियां दिलड़ियां फसदियां ।
जिन्दड़ी थी भां बेली वो यार ।
सौं है नाज़ निगाह दी मैकूं ।जे तैं वल न डेखां तैकूं ।
रहसां मैल कुचैली वो यार ।
किथ ओ आसां किथ ओ माने ।ना माही ना राज बबाने ।
जैसां डुख डुहेली वो यार ।
भाग सुहाग सुंजी तूं रुठड़े ।हार, हमेलां गाने तरुटड़े ।
टोटे बांह चुड़ेली वो यार ।
हक मैं दरद अन्दोह विचाले ।पई सभ नाज़ नवाज़ीं जाले ।
तरै सौ स्ट्ठ सहेली वो यार ।
बाझों यार फ़रीद दा हीला ।कजड़ा, कोझा, ते रंग पीला ।
सेंध धड़ी थई मैली वो यार ।

81. ए इशक नहीं सर रोह है

ए इशक नहीं सर रोह है ।डुक्खीं सूलीं दा अम्बोह है ।
न तूल्ह टांग सन्दारी ।मैं मन तारी ते नैं बारी ।
मींह बूरी रात अंधारी ।ब्या खास महीना पो है ।
थी यार रखे हम राज़ी ।है कूड़ी हीला साज़ी ।
है पेच अते ठग्ग बाज़ी ए लुतफ़ नहीं कोई दरो है ।
पईआं खोज़ पुन्नल दियां ख़बरां ।गईआं रोग अन्दर दियां डमरां ।
जड्डां आशकां बद्धियां कमरां ।थई दिली ढाई को है ।
रो रिंग रिंग कहम करेहल ।बट्ठ डुक्ख सुख़ रज्ज बुख दी ग़ल ।
दम जैंदी तोड़ी गेहल ।जथ जोह जतन दी तहो है ।
ना यार फ़रीद मिल्यु से ।ना दरदीं वांद डित्तो से ।
पंध कर कर हुट्ट प्यु से ।संध संध दी निखती मोहै ।

82. ए रीत सिखी हई कैं कनों

ए रीत सिखी हई कैं कनों ।ढोला लुक छुप्प बहन्दीं मैं कनों ।
जुड़ तेग़ बिरहों दी मार ग्युं ।खस सबर आराम करार ग्युं ।
क्युं झोक लडा लंघ पार ग्युं ।कोई पुछन वाला हम तैं कनों ।
डेहां डोड़े डुक्खड़े पौंदियां ।रत्तै रो रो रात निभाउंदियां ।
कर वैन डोहाग सुहाउंदियां ।वंज हाल घिनो हमसाईं कनों ।
जैंदे नाल मुहब्बत जकड़ी है ।लगी शहर मलामत फकड़ी है ।
दिल मिनहड़ों सिठड़ों तकड़ी है ।निसे डरदे मेहनीं कनों ।
ए रोही यार मलावड़ी वे ।शाला होवे हरदम सावड़ी वे ।
वंज पीसूं लसड़ी गाउड़ी वे ।घिन अपने सोहने सैं कनों ।
ग़म दरद फ़राक दी रोलड़ियां ।गईआं नाज़ नवाज़ दियां टोलड़ियां ।
थई गहली कमली भोलड़ियां ।धक मार झल्लां जैं तैं कनों ।
दिल झर जंगल दी बांदी है ।जथां झोक मैंडे मित्तरां दी है ।
बू सिदक वफा दी आंदी है ।इनहीं सावीं सनेहड़ीं लैं कनों ।
कुझ याद नेहाली तूल नहीं ।कोई संगती बाझों सूल नहीं ।
तुड़ पार वंजन दा मूल नहीं ।हैं नैनां दी बारी नैन कनों ।
बिन यार फ़रीद न जीवां मैं ।क्युं एझीं औखी थीवां मैं ।
नूर हर प्याला पीवां मैं ।छुप पौसां सूलीं सैं कनों ।

83. ग़मज़े करदे जंग

ग़मज़े करदे जंग ।लड़दे मूल न अड़दे ।
नेज़े तीर तफंग ।कहरी नाज़ नज़र दे ।
ज़ुलफ है बशीर अबरू बिछूए ।मारन डंग नसंग ।
चिकदे ज़खम जिगर दे ।
सांवल दी है तरज़ अनोखी ।तन नाज़क दिल संग ।
ज़रा मेहर न करदे ।
बिरहो असां वल ख़लअत भेजी ।सावा पीला रंग ।
सौ सौ सूल अन्दर दे ।
इशक वंजायम सरम भरम कूं ।ग्या नामूस ते नंग ।
गुज़रे वकत सबर दे ।
हाल फ़रीद दा डुख़्ख़ डुहेला ।दिल्लड़ी कीतुस तंग ।
ना जींदे ना मरदे ।

84. घाटे इशक दे घाटे जाते मैं

घाटे इशक दे घाटे जाते मैं ।ता भी चुम्म सर अक्खियां चाते मैं ।
खोटा नेंह अनोख़ा वैरी है ।मूंह धूड़ मिट्टी सिर केरी है ।
डुक्खां सूलां दिलड़ी घेरी है ।पलू सूल कुपत्तड़े पाते मैं ।
सजी रात सुंजी तड़फांदी है ।तत्ती तूल सोतीं अग्ग लांदी है ।
डूखी डुसक डुसक कुरलांदी है ।बुरे बिरहों दे साह सुंजाते मैं ।
बेवाही वाह! वाह!! वाह!!! मेरी ।है हू! हू!! इज़त जाह मेरी ।
सुंजवाह है तकिया गाह मेरी ।पाती पीत तों इहा बराते मैं ।
लगी तांग पुनल दी सांग जुडां ।भन्ना चूड़ा उज्जड़ी मांघ तुडां ।
अल्ला थसिम वसल दा सांग कडां ।सेहरे साड़ स्टे गहने लाथे मैं ।
ना बाझ है बाझ ख़वारी दे ।इह हाल तुसाडड़ी यारी दे ।
डुखे गुज़रन डेंह अज़ारी दे ।मुट्ठे नैन कुललड़े लाते मैं ।
गल ज़ुलफ दा पेच प्युम ।हत्थ होत दे दिल्लड़ी वेच डितम ।
सट सेझ फ़रीद बईद थ्युम ।वैसां केच न ररिसां जाते मैं ।

85. गूढ़ियां अक्खियां सदा मतवालियां

गूढ़ियां अक्खियां सदा मतवालियां ।रत्त पीवन कान उभालियां ।
तन मन बन्न्ह बन्न्ह कैद करेंदियां ।रग रग वग वग पेच अड़ेंदियां ।
इह ज़ुलफां दिल्लड़ी कालियां ।
जान जिगर विच्च पाविन दामां ।इसवे ग़मज़े नाज़ ख़रामा ।
वाह नाज़क रेडां चालियां ।
करन न टाले मोहन माले ।बेंसर बोल अते कटमाले ।
क्या फुलवाले क्या वालियां ।
साड़िम दिलड़ी डुक्खड़ीं कुट्ठड़ी ।जिन्दड़ी लुट्टड़ी सुक्खड़ीं खुटरी ।
ब्यां अक्खियां दरदों आलियां ।
घोले कूचे शहर बज़ारां ।सोहन फ़रीद नूं उज्जड़ियां बारां ।
डित्तियां बिरहों मुलक नकालियां ।

86. गुज़र गई गुज़रान ग़म दे सांग रल्योसे

गुज़र गई गुज़रान ग़म दे सांग रल्योसे ।
डिट्ठड़ा जमल जहां न कुझ्झ पलड़े प्यु से ।
वैंदी यार न खड़ मुकलाया ।केचों कोई पैग़ाम न आया ।
जिन्दड़ी दा जजमान ।गल दा गेड़ थ्यो से ।
ना माही न रिंग महींदी ।झोक उजाड़ डिस्सम तेंह डेंह दी ।
बेला थ्या वीरान ।थी बे आस रुल्योसे ।
लांवी लेंहदी प्युम विछोड़ा ।खारे चढ़दी आइउम धोड़ा ।
महन्दी सुरखी बान ।नीला रंग वट्यो से ।
वैन स्यापे मातम गाहने ।डुक्ख डुहाग दे भोल वेहाने ।
सूलां दा सामान ।अज़लों डाज ढइओसे ।
छोटी उम्मर रंडेपा आइम ।खोटी किसमत खोट कमायम ।
डुज्जा ए इरमान ।वेंदीं न मुकल्योसे ।
जैंदी तईं ए दरद निभेसां ।मरदीं दाग़ कबर विच्च नेसा ।
पिट्ट पिट्ट थ्या ख़फ़कान ।रो रो ख़लक रौव्यो से ।
जैं बिन हिक्क पल मूल न विसे ।बाकी करने आए किसे ।
वह तकदीर दा शान ।क्या हा क्या थी ग्योसे ।
कर कर याद फ़रीद सज्जन कूं ।ला गल रोवां हिक्क हिक्क वण कूं ।
जान जिगर विच्च कान ।जानी जोड़ मर्यो से ।

87. गुज़र्या वकत गुंधावन धड़ियां

गुज़र्या वकत गुंधावन धड़ियां ।विसर्या हार सिंगार असाहां ।
रोग करूप कशाले हर दम ।दरदों नाला ज़ार असाहां ।
सुरमा पावन सुरख़ी लावन ।बेंसर बोल ते मांघ बणावन ।
सहजों फुलों सेहरे पावन ।सभ कुझ थया बेकार असाहां ।
तन मन चुभ्भड़ी साग ग़मां दी ।जान जिगर विच्च चूक डुक्खा दी ।
दिल्लड़ी सूली कीती मांदी ।सीने सौ सौ ख़ार असाहां ।
हस्सन खिलन कुझ याद न आवे ।रोंदी खपदी उम्मर नभावे ।
जिन्द जुख जुख लक्ख रंज उठावे ।डुक्खड़े तारो तार असाहां ।
पीत पुनल दी रग रग घेरिम ।यार अग़यार कनूं मूंह फेरिम ।
झूर झुगटे जुड़ जुड़ वेड़िम ।छुट्ट ग्या कुल कंम कार असाहां ।
यार फ़रीद न आइम वेड़े ।टोकां करदे खेड़े भेड़े ।
सोहने कीते सख़त नखेड़े ।तूल तत्ती दार असाहां ।

88. ग्या रोल रावल विच्च रोह रावे

ग्या रोल रावल विच्च रोह रावे ।ना यार मिलदा ना मौत आवे ।
आतन कतेंदी संगियां सतावन ।जुगतां मरेंदियां बोलियां सुणावन ।
कई केस करदियां कई नोक लावन ।जियड़ा हमेशा सदमे उठावे ।
भैनी न भावां अम्मड़ी अलावे ।पेके सोर्हे जे हर कोई डखावे ।
जानी अवैड़ा फेरा न पावे ।हक्क सेझ साड़ने ब्यां तोल तावे ।
डुखड़े सस्सी नूं डेहों डेंह सवाए ।जैं डेंह बरोचल घर डु सिधाए ।
मुंझी मुंझाए सूलीं सताए ।कादर कडाहीं विछड़े मलावे ।
मुट्ठड़ी अकेली सांवल न बेली ।अलभल न करदी सर ते सहेली ।
नज़रे हवेली सुंजड़ी डुहेली ।मारू थलां दी वाली सहावे ।
किसमत फ़रीदा डित्तड़ी न वारी ।असलों पुन्नल कीतम न कारी ।
केडे वंजे दरदां दी मारी ।रो रो निभाई जग नूं रोवावे ।

89. है अरब शरीफ सधाई

है अरब शरीफ सधाई ।बू सिंध पंजाब दी आई ।
बिन अरब इह अक्खियां रोवन ।रो हार हंजूं दे पोवन ।
कर नीरे मुक्खड़ा धोवन ।दिल दरदीं चोट चखाई ।
ए पहली मंज़िल हद्दे ।थई शहर मुबारक जद्दे ।
कुल्हा बहर दी शद्दे मद्दे ।अज्ज अनद वैदी मुकलाई ।
कर सई तवाफ ज़्यारत ।लह लुतफ़ो अफ़ू इशारत ।
घिन इशकों ज़ौक बशारत ।वल्ल वतने वाग वलाई ।
क्युं गाने गहने पावां ।क्युं सुरख़ियां मैंदियां लावां ।
क्युं कज्जला धार बणावां ।है थीवस नसीब जुदाई ।
कुल सेहरे हार कमाने ।कुल नाज़ नवाज़ वेहाने ।
गए जोश जवानी माने ।ग्या धज विच्च फ़खर वडाई ।
तों बाझों सांवल घर विच्च ।हां बेशक सख़त सफ़र विच्च ।
थल मारू सुंजड़े बर विच्च ।हम सख़ती रोज़ सवाई ।
गई आस फ़रीद न पुनड़ी ।जी जल्या दिलड़ी भुन्नड़ी ।
सर सोज़ फ़राक दी चुनड़ी ।गल दरदों चोली पाई ।

90. है! है!! यार बरोचल

है! है!! यार बरोचल ।हक तिल तरस न कीता ।
करके सखत निमानी । अपने नाल न नीता ।
हजर प्याला अज़लों ।मैं मुठड़ी लोपीता ।
जैं डिंह सजन सिधाए ।डुखे आया सुख बीता ।
सूल कुलल्लड़ा कोझा ।लूं लूं रग रग सीता ।
असलों महज विसार्युस ।ला कर परम पलीता ।
रोह फ़रीद लताड़ां ।शाला खाविम चीता ।

91. है इशक दा जलवा हर हर जा

है इशक दा जलवा हर हर जा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
ख़ुद आशक ख़ुद माशूक बण्या ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
ख़ुद बुलबुल ते परवाना है ।गुल शमा उते दीवाना है ।
थी चांद चकोर नूं मोह ल्या ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
कडीं मूसा थी मीकात चढ़े ।वल वाअज़ करे तौरेत पढ़े ।
कडीं ईसा याहा ज़िकरिया ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
कथे शाद कथे दिल तंग डिस्से ।कथे सुल्हा डिसे कथे जंग डिस्से ।
थिया शान जलाल जमाल अदा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
किथे राज़ अनल हक्क फाश थिया ।कथे सुबहानी दा वरद पढ़आ ।
किथे इनी अबद रसूल केहा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
हन हसती दे नैरंग अजब ।हन हुसन अज़ल दे ढंग अजब ।
बे रंग बहर हर रंग अजब ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
है महज मुकाम तहौयर दा ।बट्ठ हीला दर केवत फ़कर दा ।
हैन डूंघड़े डोंह डूं हत्थ न पा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
तकदीस कथां तनज़ीह कथां ।तकलीद अते तशबीह कथां ।
है हैरत सिख़ तसलीम व रज़ा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
थई aुम्मर तलफ़ बरबाद सभो ।हयात सभो फर्याद सभो ।
मर मर दे तईं न प्युम समा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।
है पीत फ़रीद दी रीत अजब ।है दरद ते सोज़ दी गीत अजब ।
सुन समझो सारे अहले सफा ।सुबहान अल्ला ! सुबहान अल्ला !! ।

92. है सदके घोले यार तों

है सदके घोले यार तों ।इहो जेड़ा नेह निप्पनां ।
शाला हुसन जवानी माने ।मुट्ठड़ी दिल दा वन्नां ।
थल तैडे चतराग वी तैडे ।मुलक मलेर दा बन्नां ।
डुख दा हाल ना थीवम पूरा ।चित्तरां सौ सौ पन्नां ।
जी तूं आवें तन मन डेसां ।पीरा परम दा छन्ना ।
बैअत करके इशक कढायम ।इलमो अमल तों बन्नां ।
सोहने दे विच्च वसफ़ वफ़ा दी ।इह गाल्ह न मन्नां ।
बिरहों फ़रीद थीवसे साथी ।सब शै तों जी भन्नां ।

93. हर दिल जो दिलदार ! यार महंजु

हर दिल जो दिलदार ! यार महंजु ।सोहणियां जो सरदार ! यार महंजु ।
कथ मुला कथ आमिर नाहीं ।कथ मनसूर दे दार ! यार महंजु ।
आप छुपाए राज हकीकी ।आप करे इज़हार ! यार महंजु ।
किथ बुलबुल किथ गुल जी सूरत ।बरग किथां कित्थ खार ! यार महंजु ।
किथ सुरखी किथ नाज़ नजाकत ।किथ कज्जला किथ धार ! यार महंजु ।
कथ ढोलक ते कथ तान तुगना ।किथ सूफ़ी कथ सरशार ! यार महंजु ।
किथ आबद ते किथ नफल दोगाना ।किथ कैफी मै खवार ! यार महंजु ।
कथ आशक कथ दरद कशाले ।कथ दिलबर ग़मखवार ! यार महंजु ।
यार फ़रीद नहीं विच्च परदे ।ख़ुद परदा है यार ! यार महंजु ।

94. हर जा ज़ात पुन्नल है

हर जा ज़ात पुन्नल है ।सूफ़ी समझ संजान ।
लैसा कमिसला शै उन ।सब शै उस नूं जान ।
यबक्का वजाहू रबक्का ।बाकी कुल शै फान ।
ला यहताज सिव अल्ला ।है फ़कर दा शान ।
ला मौजूद सिव अल्ला ।साडा दीन ईमान ।
हक्क बाझों ब्यु बातल ।ध्यान रखीं हर आन ।
इलम फ़रीद है हाजब ।बे शक बे इरफ़ान ।

95. हर जा ज़ात पुन्नल जी

हर जा ज़ात पुन्नल जी ।आशक जान यकीन ।
हर सूरत विच्च यार दा जलवा ।क्या असमान ज़मीन ।
अहद आहा बण अहमद आया ।मोहेस चीन मचीन ।
हाकम हो कर हुकम चलावे ।आप बने मसकीन ।
आप करे बह वाअज़ नसीहत ।आप बजाए बीन ।
जे चाहें तूं यार दा मेला ।सट्ट काविड़ बठ कीन ।
ज़ाहद कूं जा खबर सुणाउ ।इशक असाडा दीन ।
पीर मग़ा हिक्क रमज़ सुझाई ।साजन समझ करीन ।
ग़ाफ़ल न थी यार थो हिकदम ।हर जा सह हर हीन ।
दिल फ़रीद दे लुटन कीते ।बन्या फ़ख़रुदीन ।

96. हर सूरत विच आवे यार

हर सूरत विच आवे यार ।कर के नाज़ अदा लख वार ।
हुसन मलाहत बिरहो बछाए ।रमज़ नज़ाकत भा भड़काए ।
इशवा ग़मज़ा तीर चलाए ।बेबिल फिरदे ज़ार नज़ार ।
सोहणियां तरज़ां मोहणियां गाल्ही ।दिलड़ी खूब उजाड़िन चांलीं ।
होश करार भुलावन भालीं ।पलकां करदियां खून हज़ार ।
हक जा रूप सिंगार डिखावे ।हक जा आशक बण बण आवे ।
हर मज़हर विच आप समावे ।आपना आप करे दीदार ।
कडीं शहाना हुकम चलावे ।कडीं गदा मसकीन सडावे ।
उसदा भेत कोई न पावे ।सब बद मसत फिरन सरशार ।
फ़खर जहान कबूल कितोसे ।वाकफ कुल इसरार थ्युसे ।
हर जा नूर जमाल डिठोसे ।मखफी राज़ थीए इज़हार ।
यार फरीद अयां ब्याने ।नहुन अकरब विच फुरकाने ।
एहो अकीदा दीन ईमाने ।तोड़े पकड़ चढ़ावन दार ।

97. हर सूरत विच्च दीदार डिट्ठम

हर सूरत विच्च दीदार डिट्ठम ।कुल यार अग़ियार नूं यार डिट्ठम ।
कित्थ जौहर ते कित्थ अरज डिट्ठम ।कत्थ सुनत नफ़ल ते फ़रज़ डिट्ठम ।
कित्थ सेहत डिट्ठम कत्थ मरज़ डिट्ठम ।कत्थ चुसत अते बीमार डिट्ठम ।
कित्थ बतन ज़हूर डिट्ठम ।कित्थ ज़ाहद ते मखमूर डिट्ठम ।
कित्थ मुलां ते मनसूर डिट्ठम ।कत्थ चोब रसन ते दार डिट्ठम ।
ए मज़हब पाक नबियां दा ए मशरब साफ़ सफियां दा ।
ए रशद इरशाद वलियां दा ।आयात डिट्ठम अक्खबार डिट्ठम ।
कित्थ फुल गुल बाग़ बहार डिट्ठम ।कित्थ बुलबुल ज़ार नज़ार डिट्ठम ।
कित्थ ख़स खाशाक ते ख़ार डिट्ठम ।हक्क नूर दे सभ इतवार डिट्ठम ।
कित्थ बरम नरायन नरंजन है ।कत्थ राम कनिया लछमन है ।
कित्थ बेद ब्यास ब्रहमन है ।कत्थ राजस ते औतार डिट्ठम ।
इरवाह नफुस अकूल डिट्ठम ।इनसान ज़लूम जहूम डिट्ठम ।
माकूल डिट्ठम मनकूल डिट्ठम ।इकरार डिट्ठम इनकार डिट्ठम ।
कत्थ मंतक नहव ते सरफ डिट्ठम ।कत्थ इसम ते फेअल ते हरफ़ डिट्ठम ।
हक्क माने हर हर तरफ़ डिट्ठम ।चौगुट्ठ डिट्ठम चौधार डिट्ठम ।
सब आला आला शान डिट्ठम ।हसनैन ते शाह मरदा डिट्ठम ।
बू बकर उमर उसमान डिट्ठम ।वुह पाक नबी मुख़तार डिट्ठम ।
कत्थ शाह नज़ामुदीन डिट्ठम ।कत्थ फ़रद फरीदुदीन डिट्ठम ।
कत्थ कुतब मईनुदीन डिट्ठम ।कत्थ फ़खर जहां दिलदार डिट्ठम ।

98. हसन कबाह सब मुज़हर ज़ाती

हसन कबाह सब मुज़हर ज़ाती ।हर रंग मे बेरंग प्यारा ।
नाहनु अकरबु राज़ अनोखा ।है 'वाहु मअकमु' मिल्या होका ।
समझ सुजानो आलम लोगा ।है हर रूप मे ऐन नज़ारा ।
'वफी अनफसिकुम' सर्रेइलाही ।'लो दुलीतस्स' फ़ाश गवाही ।
हर सूरत विच रांझन माही ।कीता नाज़ दा ढंग न्यारा ।
हुसन अज़ल दी चाल अजीबे ।तर्हां लतीफे तरज़ ग़रीबे ।
आप ही आशक आप रकीबे ।थी दिलबर जग मोहस सारा ।
कथ मतरथ कथ तान तराने ।कथ आबद कथ नफ़ल दोगाने ।
कथ सूफ़ी सरमसत यगाने ।कथ रिन्दां मे करे अवतारा ।
क्या अफ़लाक अकूल अनासर ।क्या मुतक्कलम ग़ायब हाज़र ।
सब जा नूर हकीकी ज़ाहर ।कौन फ़रीद गरीब विचारा ।

99. हिक्क दम हिजर न सहन्दी है

हक्क दम हिजर न सहन्दी है ।दिल दिलबर कारन मांदी है ।
सोज़ गुदाज़ तूल विछावां ।डुक्ख डुहाग दी सेझ सुहावां ।
हार ग़मां दा गल विच्च पावां ।दरद दी बांह सिरांदी है ।
माही बे परवाह मिल्युसे ।पल्लड़े सोज़ फ़राक प्यु से ।
हाल कनूं बे हाल थ्युसे ।जिन्दड़ी झोक ग़मां दी है ।
डेह निभावां सड़दीं जलदीं ।रात वंजावां जलदी गलदी ।
सारी उमर गई हत्थ मलदीं ।है है मौत न आंदी है ।
सोहने कीती केच त्यारी ।आया बार बिरहों सर बारी ।
संगियां सुरतियां करन न कारी ।बे वस्स पई कुरलांदी है ।
याद करेसां यार दियां गाली ।सोहणियां रमज़ां मोहणियां चाली ।
तूनी मेहणीं डेवम स्यालीं ।तांग फ़रीद न जांदी है ।

100. हिक्क है हिक्क हिक्क है

हक्क है हिक्क हिक्क है ।हक्क दी दम दम सिक्क है ।
हक्क दे हर हर जा विच्च देरे ।क्या उच्च है क्या झिक्क है ।
हक्क है ज़ाहर हिक्क है बातन ।ब्या सब कुझ हालिक है ।
मिकनातीस ते लोहे वागन ।हूं डो दिल दी छिक्क है ।
जेहड़ा हिक्क कूं डूं कर जाने ओ काफ़र मुशरक है ।
मतलब डाढा सख़त नज़ीकी ।पर राह ते चिल चिक्क है ।
साडे सर सर वाह दा सारा ।फखर पिया मालिक है ।
दरद दा बार उठा ना सगदी ।दिल शोदी निक तरिक है ।
रोज़ अज़ल दी दिल्लड़ी मैंडी ।राह हक्क दी सालिक है ।
जिन्द दे नाल ख़्याल ख़ुदाई ।क्या पूरा ग्या बिक है ।
यार फ़रीद संजानन कीते ए नुसखा हिक्क टिक्क है ।

Next......(101-150)
Previous......(1-50)
 
 
 Hindi Kavita