Hindi Kavita
अज्ञेय
Agyeya
 Hindi Kavita 

Indradhanu Raunde Hue Ye Agyeya

इन्द्रधनु रौंदे हुये ये अज्ञेय

यही एक अमरत्व है
सत्य तो बहुत मिले
पुनर्दर्शनीय
टेसू
मरु और खेत
इतिहास का न्याय
शाश्वत संबंध
चातक पिउ बोलो
रेंक
साँप
शब्द
एक रोगिणी बालिका के प्रति
एक मंगलाचरण
मैं वहाँ हूँ
इतिहास की हवा
क्योंकि तुम हो
गोवर्धन
सीढ़ियाँ
अतिथि सब गए
विपर्यय
हम ने पौधे से कहा
मेरे विचार हैं दीप
तुम कदाचित न भी जानो
घुमड़न के बाद
नई कविता : एक संभाव्य भूमिका
साँझ : मोड़ पर विदा
मुझे तीन दो शब्द
मैं तुम्हारा प्रतिभू हूँ
ओ लहर
देना जीवन
महानगर : रात
हवाई यात्रा : ऊँची उड़ान
रूप की प्यास
धूप-बत्तियाँ
सूर्यास्त
एक दिन जब
बर्फ की झील
पश्चिम के समूह-जन
एक छाप
बार-बार अथ से
आगंतुक
भर गया गगन में धुआँ
जितना तुम्हारा सच है
क्यों आज
योगफल
आदम को एक पुराने ईश्वर का शाप
जिस दिन तुम
मैं-मेरा, तू-तेरा
कोई कहे या न कहे
सागर और गिरगिट
खुल गई नाव
तुम हँसी हो
आखेटक
पुरुष और नारी
साधुवाद
वैशाख की आँधी
सागर-तट की सीपियाँ
कवि के प्रति कवि
सर्जना के क्षण
 
 
 Hindi Kavita