Hindi Kavita
गुरू राम दास जी
Guru Ram Das Ji
 Hindi Kavita 

Guru Ram Das Ji

Guru Ram Das Ji (September 24, 1534- September 1, 1581) was born at Chuna Mandi, Lahore (Pakistan). His original name was Bhai Jetha. His father was Hari Das and mother Anup Devi (Daya Kaur). He was married to Bibi Bhani Ji (daughter of Guru Amardas Ji). He had three sons Prithi Chand Ji, Mahadev Ji and (Guru) Arjan Dev Ji. Guru Amar Das Ji installed him as the Fourth Guru of the Sikhs on September 1, 1574. He wrote 638 hymns in 30 ragas. He nominated his youngest son (Guru) Arjan Dev Ji as the fifth Guru.


गुरू राम दास जी

गुरू राम दास जी (२४ सितम्बर, १५३४ -१ सितम्बर, १५८१) का जन्म चूना मंडी लाहौर में हुया । उनका पहला नाम भाई जेठा था । उनके पिता जी का नाम हरी दास जी और माता जी का नाम अनूप देवी (दया कौर) जी था । उनकी शादी गुरू अमर दास जी की सुपुत्री बीबी भानी जी के साथ हुई। उन के घर तीन पुत्र प्रिथी चंद जी, महांदेव जी और (गुरू) अर्जुन देव जी पैदा हुए। वह १ सितम्बर, १५७४ को सिक्खों के चौथे गुरू बने। उनकी वाणी में ३० रागों में ६३८ रचनायें हैं। उन्होंने अपने छोटे पुत्र (गुरू) अर्जुन देव जी को पाँचवे गुरू स्थापित किया ।

 
 
 Hindi Kavita