Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Gandhan Baba Bullhe Shah in Hindi

कहो सुरती गल्ल काज दी मैं गंढां केतियां पाऊं।
साहे ते जंज आवसी हुन चाली गंढ घताऊं।

बाबल आख्या आण के तैं सहुर्यां घर जाणा।
रीत ओथे दी और है मुड़ पैर ना एथे पाणा।

गंढ पहली नूं खोल्ह के मैं बैठी बरलावां।
ओड़क जावन जावना हुन मैं दाज रंगावां।
देखूं तरफ़ बाज़ार दी सभ रसते लागे।
पल्ले नाहीं रोकड़ी सभ मुझ से भागे।१।

दूजी खोहलूं क्या कहूं दिन थोड़्हे रहन्दे।
सूल सभ्भे रल आंवदे सीने विच बहन्दे।
झल वलल्ली मैं होयी तन्द कत्त ना जाणा।
जंज इवें रल आवसी ज्युं चड़्हदा ठाणा।२।

तीजी खोहलूं दुक्ख से रोंदे नैन ना हट्टदे।
किस नूं पुच्छां जाय के दिन जांदे घटदे।
गुन वालियां सभ प्यारियां मैं को गुन नाहीं।
हत्थ मले मल सिर धरां मैं रोवां ढाईं।३।

चौथी क्या हूआ रल आवन सईआं।
दरद किसे ना कीत्या सभ भज घर गईआं।
वतन बेगाना वेखना की करीए माणां।
बाबल पकड़ चलावसी दायी बिन जाणा।४।

पंजवीं खोहलूं कूक के कर शोर पुकारां।
पहली रात ड्रावनी क्युं दिलों विसारां?
मुद्दत थोहड़ी आ रही किवें दाज बणावां?
जा आखो घर साहवरे गंढ लाग वधावां।५।

गंढ छेवीं मैं खोल्ह के जग्ग देंदी होका।
घर आण पई महमान हां की करीऐ लोका।
लग्गा फ़िकर फ़राक दा की करीए कारा।
रोवन अक्खियां मेरियां ज्युं वग्गन झलारां।६।

सत्तवीं गंढ चा खोहलिया मैं ओसे हीले।
रो रो हाल वंजायआ रंग सावे पीले।
सूल असां नाल खेडदे नहीं होश संभाले।
हुन दस्सो संग सहेलीयो कोयी चलसो नाले।७।

अट्ठवीं नूं हत्थ डाल्या मैं तां हो दीवानी।
जिवें मिसल कबाब है मछली बिन पाणी।
दुक्ख दरद अवल्ले आण के हुन लहू पींदे।
बिरहों दी दुकान ते साडे घाड़ घड़ींदे।८।

नावीं नूं चा खोहलआ दिन रहन्दे थोड़्हे।
मैं पूनी कत्त ना जातिया अजे रहन्दे गोहड़े।
मैं तरले लैंदी डिग पई कोयी ढो ना होया।
ग़फ़लत घर उजाड़्या अग्गों खेड विगोया।੯।

दसवीं गंढ जां मैं खोहली क्युं जंमदी आही।
सभ कबीला देस थीं दे वेस तराहीं।
आंबड़ घुट्टी देंदीए जे ज़हर रुलावें।
मैं छुट्टदी एस अज़ाब तों तूं जिन्द छुडावें।१०।

याहरां गंढीं खोहलियां मैं हिजरे मारी।
गईआं सईआं साहवरे हुन मेरी वारी।
बांह सराहने दे कदी असीं मूल ना साउंदे।
फट्टां उत्ते लून है फट्ट सिंमदे लाउंदे।११।

गंढ खोहली मैं बाहरवीं की होग तमाशा।
जिस लागी तिस पीड़ है जग्ग जाने हासा।
इक गए ना बाहुड़े जित जित के हरदी।
इनहीं अक्खीं वेख्या होइ ख़ाक कबर दी।१२।

तेर्हां गंढीं खोहलियां नैन लहू रोंदे।
होया साथ उतावला धोबी कपड़े धोंदे।
सजन चादर तान के सोया विच हुजरे।
अजे भी ना उह जाग्या जुग्ग कितने गुज़रे।१३।

चौधां गंढीं खोहलियां लहू पीना खाणा।
जिन राहां विच धाड़वी तिन्हीं राहीं जाणा।
लग्गी चोट फ़राक दी दे कौन दिलासा।
सख़त मुसीबत इशक दी रत्त रही ना मासा।१४।

पन्दरां पुन्ने रोज़ ने करां नाअरे आहीं।
शहर खमोशां जावना ख़ामोश हो जाईं।१५।

सोलां गंढीं खोहलियां मैं होयी निमाणी।
एथे पेश किसे ना जासिया ना अग्गे जाणी।
एथे आवन केहा ए होया जोगी दा फेरा।
अग्गे जा के मारना विच कल्लर डेरा।१६।

सतारां गंढीं खोहलियां सूलां दे हाड़ी।
मोयां नूं दुक्ख मारदा फड़ ज़ुलम कटारी।
तन-होलां सूलां वैरियां रंग ज्युं फुल्ल तोरी।
आए एस जहान ते इहो कीती चोरी।१७।

खोहलां गंढ अठारवीं दिल करके राज़ी।
इह चार दिनां दी खेड है हिजरे दी बाज़ी।
जिन्हां इह फ़राक है उह विंहदे मरदे।
नकारे वज्जन कूच दे मैं सिर पर बरदे।१८।

उन्नी गंढीं खोहलियां मैं सूल पसारा।
हुन इह देस बिदार्या वेख हाल हमारा।
किन्नी भैनी चाचियां उट्ठ कोलों गईआं।
कोयी दस्स ना पाउंदा उह कैं वल्ल गईआं।१੯।

वीह गंढीं फोल खोल्हियां हुन कित वल्ल भागूं।
लग्गी चेटक और है सोऊं ना जागूं।
पंज महमान सिर उत्ते सो पंजे बाकी।
जिस मुसीबत इह बनी तिस बख़त फराकी।२०।

इक्की खोहलूं क्युं नहीं मेरे मगर प्यादे।
तेल चड़्हायआ सोज़ दा असां होर तकादे।
जीवन जीना साड़दा मायआ मूंह पाए।
ऐसी पुन्नी वेख के उदासी आए।२१।

बायी खोहलूं पहुंच के सभ मीरां-मलकां।
ओहनां डेरा कूच है मैं खोहलां पलकां।
अपना रहना की करां केहड़े बाग़ दी मूली।
ख़ाली जग विच आइके सुफ़ने पर भूली।२२।

तेयी जे कहूं खोहलियां विच आप समाना।
हत्थों स्ट्टां टोर के किवें वेख पछाणा।
उलटी फाही पै गई दूजा साथ पुकारे।
पुरज़े पुरज़े मैं होयी दिल पारे पारे।२३।

चव्वी खोहलूं खोल्हदी चुक पवन नबेड़े।
सहम जिन्हां दे मारियां सोयी आए नेड़े।
त्योर होर ना होया ना ज़ेवर ना गहणे।
तान्हे देने देवरां चुप्प कीत्यां सहणे।२४।

मैं खोल्हां गंढ पचीसवीं दुक्खां वल मेलां।
हंझूआं दी गल हारनी असां दरद हमेलां।
वटना मल्या सोज़ दा तलख़ तुरश स्यापे।
नाल दोहां दे चलना बण आया जापे।२५।

छब्बीं गंढीं इमाम है कदी फेरा पायआ।
उमर तोशा पंज रोज़ है सो लेखे आया।
प्याले आए मौत दे इह सभ ने पीणे।
इह दुक्ख असाडे नाल है सहो जीयो कमीने।२६।

सतायी खोल्ह सहेलीयो सभ जतन सिधायआ।
दो नैणां ने रोंद्यां मींह सावन लायआ।
इक इक सायत दुक्ख दी सौ जतन गुज़ारी।
अग्गे जाना दूर है सिर गठड़ी भारी।२७।

अठायी गंढीं खोल्हियां नहीं अकल असाथी।
सख़ती आई ज़ोर दी धर चशमा माथी।
सुक्खां तों टोटी आ गई दुक्खां तों लाही।
बेचारी बेहाल हां विच सोज़ कड़ाही।२८।

उनत्ती गंढीं खोल्हियां नहीं सख़ती हटदी।
लग्गा सीने बान है सिर वालां पट्टदी।
इत वल फेरा पायके इह हासल आया।
तन तलवारीं तोड़्या इक रूप उडायआ।२੯।

खोल्ही गंढ मैं तीसवीं दुक्ख दरद रंजाणी।
कदी सिरों ना मुक्कदी इह राम कहाणी।
मुड़ मुड़ फेर ना जीवना ना तन छप्पदा लुक्कदा।
ब्रेहों अजे ख्याल है इह सिर ते ढुक्कदा।३०।

इक्क इक्क गंढ नूं खोहल्यां इकती होईआं।
मैं किस दी पाणीहार हां एथे केतियां रोईआं।
मैं विच चतर खडार सां दाय प्या ना कारी।
बाज़ी खेडां जित्त पर मैं एथे हारी।३१।

बत्ती गंढां खोल्हियां जो खोल्ही बणदी।
अट्टी इक्क अटेर के फिरां ताना तणदी।
ताना होया पुराना हुन कीकर लाहवां।
कहूं खट्टू ना बावरी कित्थों लैसां लावां।३२।

बह परछावीं खोल्हियां हुन होईआं तेती।
एथे दो तिन्न रोज़ हां फिर सहुर्यां सेती।
रंङन चड़्ही रसूल दी सभ दाज रंङावे।
जिस दे मत्थे भाग है उह रंग घर जावे।३३।

चौतीं गंढीं खोल्हियां दिन आए नेड़े।
माही दे वल जावसां रउं कीते केहड़े।
ओड़क वेला जान के मैं नेहुं लगायआ।
इस तन होना ख़ाक सी मैं जा उडायआ।३४।

बुल्ल्हा पैंती खोल्हदी शहु नेड़े आए।
बदले एस अज़ाब दे मत्त मुक्ख दिखलाए।
अग्गे थोड़्ही पीड़ सी नेहुं कीता दीवानी।
पी गली असाडी आ वड़े तां होग असानी।३५।

छत्ती खोहलूं हस्स के नाल अमर ईमानी।
सुक्खां घाटा डाल्या दुक्खां तूलानी।
घुल्ली वा प्रेम दी मरने पर मरने।
टूने कामन मीत नूं अजे रहन्दे करने।३६।

सैंती गंढीं खोल्हियां मैं महन्दी लाई।
मलायम देही मैं करां मत गले लगाई।
उहा घड़ी सुलक्खनी जां मैं वल्ल आवे।
तां मैं गावां सोहले जे मैनूं रावे।३७।

अठत्ती गंढीं खोल्हियां की करने लेखे।
ना होवे काज सुहावना बिन तेरे वेखे।
तेरा भेत सुहाग है मैं उस केह करसां।
लैसां गले लगायके पर मूल ना ड्रसां।३८।

उनताली गंढीं खोल्हियां सभ सईआं रल के।
इनायत सेज ते आवसी हुन मैं वल फुल्ल के।
चूड़ा बाहीं सिर धड़ी हत्थ सोहे कंगणा।
रंगन चड़्ही शहु वसल दी मैं मन तन रंगणा।३੯।

कर बिसमिल्ल्हा खोल्हियां मैं गंढां चाली।
जिस आपना आप वंजायआ सो सुरजन वाली।

जंज सोंहनी मैं भाउंदी लटकेंदा आवे।
जिस नूं इशक है लाल दा सो लाल हो जावे।
अकल फ़िकर सभ छोड़ के शहु नाल सुधाए।
बिन कहणों गल्ल ग़ैर दी असां याद ना काए।

हुन इन अल्ल्हा आख के तुम करो दुआईं।
पिया ही सभ हो ग्या अबदुल्ल्हा नाहीं।४०।

 
 
 
 
 Hindi Kavita