Hindi Kavita
ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद
Khwaja Ghulam Farid
 Hindi Kavita 

Dohre Khwaja Ghulam Farid in Hindi

दोहड़े ख़्वाजा ग़ुलाम फ़रीद



वड्डड़े वेले उठी के सईआं साज़ वज़ू बैठियां घबकावन सैं ठहावन ।
ते जड़ जड़ लांवन मैल मख़न पैंडियां डोले डेन सुग़ात चलावन ।
मैं जेहियां बदकार निकम्मियां यार फ़रीद ओदियां दर दर नोट भनवावन ।
अज़लों भाग तिन्हां दे मत्थे जेहड़ियां सेज ते यार मनावन ।



उड्ड वे कागा काल्या तूं तां छड्ड असाडी बेर ।
तूं तां बैठां करदा है बातियां मैंडे अंलड़े ज़खम न छेड़ ।
तैनूं कुट्ट कुट्ट घतसां चूरियां तूं तां मंगी दुआईं ढेर ।
फ़रीदा उड्डीना रब्ब करे चले वंजो मदीने दी सैर ।



सावन माह सुहेला आया ते वणजारे घुम्मे पए डेवन मसाग दे होके ।
उह मसाग ख़रीद करन जिन्हां दे पल्ले रकम रोके ।
उह की मलन मसाग करमां दियां मारियां जेहड़ियां सेज ते सुत्तियां रो के ।
यार फ़रीदा चल वतन चलाहीं क्युं लाई परदेस विच्च झोके ।



यार रुझावन सिख वे मुलां ब्यां स्ट्ट घत सब दलीलां ।
इशक मज़ाज़ी ते मुशकल बाज़ी कंम नहीं बख़ीलां ।
सिर ते भड़के ढांड हिजर दा ओ वी समझी ठंडियां हीनां ।
यार फ़रीद जथां अक्खियां लगियां अथ हाजत नहीं वकीलां ।



मुफ़त ख़रीद करे कोई असा कूं ते हाल डेवे सजणां दा ।
जै डेहाड़े दे सजन लड्ड सिधाए वैंदा ज़ोफ़ अन्दर कूं खांदा ।
सै मलमां पट्टियां बन्न्ह बन्न्ह हट्टियां ते ज़खम खड़ा चचलांदा ।
बाझों पीर फ़रीदन यार दे साडी अदन कोई नहीं लांहदा ।



इशक तैंडे दी नहर वगे कई तरियां करमां वालड़ियां ।
कई कोझियां लंघ पार गईआं ते रोवन शकलां वालड़ियां ।
शकलां डेख न भुलीं बाहरों चिट्टियां ते अन्दरों कालड़ियां ।
यार फ़रीद चा भाल भाले ऐबां वालियां दे मत्थे लालड़ियां ।



अज़लों डाज ढ्यावन अम्मड़ी अखीं नीरां नीरां ।
ज़ीरा पार लवीरा कीता इन्हां कोट मिट्ठन द्यां तीरां ।
लोक आखन हीर रांझन दी मै पीर फ़रीद दी हीरां ।
बाझों पीर फ़रीदन यार दे मैंडियां कौन लहम दिल धीरां ।



चाचड़ वांग मदीना जातम अते कोट मिट्ठन बेत अल्ला ।
रंग बिना बेरंगी आया कीतम रूप तजल्ला ।
ज़ाहर दे विच्च मुरशद हादी बातन दे विच्च अल्ला ।
नाज़क मुक्खड़ा पीर फ़रीद दा सानूं डिसदा वजा अल्ला ।



वकत जनाज़े मियां रांझा मैंडियां आप पढ़ाईं तकबीरां ।
इस वेले मैं जैंदी होसां करके कफ़न लवीरां ।
लीरां दी बह कफ़नी सीवां रुलां हाल फकीरां ।
हसाब किताब मैंडा रांझा लैसी कुझ हाजत नहीं नकीरां ।

१०

ख़ुदा ख़ुदा भी सुनदे हा से डेखन दे विच्च आया ।
इनी ते मन इनी बण आप नबी फ़ुरमाया ।
रांझड़े राज अनोखे सानूं माही है समझाया ।
नाज़क वी दिल लुट्टन कारन बण पीर फ़रीद न आया ।

११

घर घर दे विच्च धुम्मां पईआं हुसन रंझेटे यार दियां ।
कई हीरां विच्च झंग कुरलावन जेहड़ियां होनो तन वार दियां ।
कई सस्सियां रुलियां विच्च थलां दे जेहड़ियां तालब हुन दीदार दियां ।
कई सोहणियां डुब्बियां विच्च नै चंचल दे महींवाल दा नां पुकार दियां ।

१२

रोज़ अज़ल दी दर दिलबर दी कीमत इशक ग़ुलामे ।
तांग तंगेदी कांग उडेंदी रोवां सुबह व शामे ।
न कोई ख़त दिलदार दा आया न कासद पैगामे ।
आख़ फ़रीद दिल दरदों मांदी हुन मुट्ठड़ी बेआरामे ।

१३

इशक मज़ाजी नूर हजाज़ी बोस कनार दे तमीं ब्या क्या कम ए ।
धूआं लाऊं यार दे दर ते गालड़ां हड्ड ते चंमीं ब्या क्या कम ए ।
दिल विच्च सोज़ हज़ार दुखां दे मार मुकाया ग़मीं ब्या क्या कम ए ।
आख फ़रीद मैं जोगन बण ते फिरसां उभे लंमीं ब्या क्या कम ए ।

१४

सुंजड़ी किसमत न यार आया ते पईआं ख़बरां दिल दियां ।
अक्खियां नीर बरसात सावन दी जिवें नहरां चलदियां ।
दरद फ़राक ते सोज़ हिजर दे पई विच्च कुठाले गलदियां ।
आख फ़रीद रब्ब खुशियां डेवे अजां मुंझां न पईआं टलदियां ।

१५

सुरख़ी कज्जला नाज़ नहोड़े साको वल वल खून करेंदे ।
कीता कैद मुहब्बत साकों चा दिलबर मूंह लोकेंदे ।
सोज़ों सोज़ ते दरद पुकारां न दिलबर गल लैंदे ।
आख फ़रीद हुन मैं मुट्ठड़ी कूं क्युं डेस प्रदेस रुलेंदे ।

१६

हर वेले तांघ दिलबर दी रो रो काग उडारां ।
फालां पावां कासद भेजां थी ग्या हाल बीमारां ।
यार बाझों हुन जीवन कूड़े अन्दर दरद हज़ारां ।
ग़ुलाम फ़रीद मैं रोवां एवें जिवें विच्छड़ी कूंज कतारां ।

१७

हक्क हिक्क नाज़ दिलबर दे साकों कीता चा ख़रीदे ।
रुख दिलबर दा साडे वासते चांद मुबारक ईदे ।
दिलबर कोल आखेंदे वसम फरहत महज मज़ीदे ।
बांदा बरदा तैं दिलबर दा हरदम गुलाम फ़रीदे ।

१८

कज्जले सुरख़ी मार मुकाया चा दिलबर दिल्लड़ी लुट्टी ।
नैन अवैड़े जादूगर हन पई नाज़ां दी कुट्ठी ।
आराम तमाम ग्या काई एझीं बरछी इशक दी छुट्टी ।
यार फ़रीद आ संभाले करे हार संगार वल मुट्ठी ।

१९

अक्खीं साडियां कदम तुसाडे
बद्धी वफ़ा दी कसम ख़ुदा दी ।
सीना साडा सेज तुसाडी
लेट सोहना दिल आह दी कसम ख़ुदा दी ।
जिन्दड़ी जान हवाले कीतम
जानी जम्मदीं लादी कसम ख़ुदा दी ।
आख फ़रीद वल सांगे थीवन
हासल फ़रहत ज़्या दी कसम ख़ुदा दी ।

२०

लक्ख लक्ख वारी सदके थीवां दिलबर यूसफ़ सानी ।
दिल दा महरम राज़ असाडा ज़िन्द करां कुरबानी ।
डे दीदार लाचार फिरां मैं लाययो हिजर दी कानी ।
यार फ़रीद नूं मिल हिक्क वारीं हैरान फिरां दिल जानी ।

२१

उड्ड वंज कांगा दर सजनां ते अज्ज दिल्लड़ी मूंझी मांदी ।
फालां पावां नीर वहावां कई दिल दी ख़बर न आंदी ।
इंतज़ारी बेकरारी दिल जुदाई न सहन्दी ।
यार फ़रीद आवम हिक्क वारी वतां कूंज वांगे कीरने करदी ।

२२

बट्ठ प्या सुरमा सुरखी कज्जला बट्ठ प्या हार संगारे ।
संगियां सई्ईआं नित्त सतावन मा प्यु वीरन मारे ।
सै सै मिन्नतां ज़ारियां कीतम रहन्दा यार बेज़ारे ।
आख फ़रीद यार ने रोल्या हुन रोणों नाल वपारे ।

२३

दिलबर आवे चा गल लावे मुट्ठी हरदम मंगदी दुआईं ।
किसमत भैड़ी डित्तड़े रोले निकलन दरदों आही ।
कहीं घड़ी आराम न आवे रोंदी संज सबाहीं ।
आख फ़रीद न कहीं दे शाला निखड़न यार कडाहीं ।

२४

दिलबर आवे चा गल लावे मुट्ठी हरदम मंगदी दुआईं ।
किसमत भैड़ी डित्तड़े रोले निकलन दरदों आही ।
कहीं घड़ी आराम न आवे रोंदी संज सबाहीं ।
आख फ़रीद न कहीं दे शाला निखड़न यार कडाहीं ।

२५

कसम ख़ुदा दी दर दिलबर दा हरगिज़ छोड़ न वैसूं ।
इनशाअला जींदियां ताईं पूरी तोड़ निभेसूं ।
दिलों बजानो जिन्दड़ी सदके असलों फ़रक न पैसूं ।
आख फ़रीद हां ख़ाक कदमां दी थी ग़ुलाम जलेसूं ।

२६

दरदां मारी रो रो हारी नहीं पए आंदे दोसत दिलेंदे ।
जिवें दिलबर मैं नाल कीती इवें दुशमन न करेंदे ।
सुंजर थल, हबल दे विच्च क्युं वल वल रोले डेंदे ।
यार फ़रीदा मंगां दुआईं न निखड़न यार कहेंदे ।

२७

मौसम सावन रोही वुट्ठड़ी टोभा तार मतारां ।
माल मवैशी बकरियां गाईं छिड़ दियां थी कतारां ।
घुंड सुहावन दिल कूं भावन निकलन सोज़ तवारां ।
हक यार फ़रीद दम नाल होवे क्युं दरदों दरद पुकारां ।

२८

रोही वुठड़ी तत्तड़ी मुट्ठड़ी टुर पोसां पैर प्यादी ।
उच्चड़े टिब्बड़े हुन कोह तूर ते दिल कूं फ़रहत ज़्यादी ।
वंज दिलबर दे कदमीं ढैसां ते बद्धी प्रीत वफ़ादी ।
गट्ठड़ी इज़ज न्याज़ फ़रीदा प्रीतम जम्मदी लादी ।

२९

वकत तहजद कई सुहागनी मट्टियां बह घबकावन ।
ला इला इल्ल लिल्ला डे ज़रब मखन कूं चावन ।
पकड़ दामन पीर मनांदा खीर दी जाग जगावन ।
ग़ुलाम फ़रीद पीर कामल बाझों विच्च गफ़लत डुद्ध पठावन ।

३०

इशक मजाज़ी राज़ दी बाज़ी इहो इशक आला नूरे ।
बट्ठ पई दुनियां दौलत सौकत साकूं इशक मनज़ूरे ।
हुसन प्रसती महज़ इबादत दिल बे वस्स मजबूरे ।
ग़ुलाम फ़रीदा समझन आरफ दरअसल हकीकत दूरे ।

३१

सुंजड़ी रोही दिल नूं मोही फिरदी कमलियां वांगे ।
यार मुट्ठी दा नज़र न आदा डेखां हाल दे लांघे ।
नज़र मेहर दी दिलबर भाले रोही पंध अड़ांगे ।
ग़ुलाम फ़रीद यार मिलम हुन रब जोड़े चा सांगे ।

३२

टोभे असाडे दिल कूं भावन खप झौपड़ खुश जाईं ।
लानड़ी फोग करड़े कंडा बोईं कतरन इतर हवाईं ।
रोही गुलज़ार डसीजम दिल कूं लक्ख लक्ख चाईं ।
आख फ़रीद दिल दिलबर लुट्टड़ी न थीसां दूर कडाहीं ।

३३

मुंझ मज़ीद शहीद हमेशा दिलबर डित्तड़े रोले ।
भुल्ल गई सुरख़ी कज्जला साकूं हिजर कनूं तन कोले ।
कप्पड़े मैले लीर कतीरां रुल गए बोछन चोले ।
ए जिन्दड़ी कुरबान फ़रीदा अजे ख़िल हस्स यार चा बोले ।

३४

बट्ठ पई सुरख़ी बट्ठ प्या कज्जला बट्ठ प्या हार सिंगारे ।
क्या धावां ते फल पावां दिड़्ड़ी दरद पूकारे ।
सै जतन सै हीले कीतम न मिलिम सांवल यारे ।
यार फ़रीद कूं कहन्दी मरसां जग डिसदा धूंआं अंधारे ।

३५

हक्को अलफ काफ़ी मुलां बे दी गरज़ न काई ।
अव्वल आख़र ज़ाहर बातन नाल अलफ़ दे लाई ।
न डे डर के अलफ़ कूं फड़के रमज़ अलफ़ समझाई ।
ग़ुलाम फ़रीद दिल अलफ़ लुटी वाह मीम कीती रुशनाई ।

३६

इशक मजाज़ी राज़ अनोखे क्या जानड़न मुलां मलवानड़ीं ।
रमज़ हकीकी आरफ़ समझन नाज़ दिलबर दे भानड़ीं ।
हां मैं कुतड़ी यार दे दर दी जानड़ीं यार न जानड़ीं ।
आख फ़रीद मैडी लूं लूं विच्च चा कीते इशक टिकानड़ीं ।

३७

जमदीं लादी इशक दी गट्ठड़ी शौक प्याले पीते ।
जींदी मोईं हिक्क यार दे रहसों सच्ची पीत प्रीते ।
दर दिलबर दा छोड़ न वैसूं इशक सिखाई रीते ।
आख फ़रीद दिल दिलबर लुट्टड़ी विसरे चाचड़ सदके कीते ।

३८

सिंधड़ों दिल्लड़ी थई उचाके डेखां रोही संजबर कूं ।
दिलबर नाल अख़्ख़ीं दे डेखां नहीं करार सबर कूं ।
चाचड़ महज़ न भांदे दिल कूं रहन्दा सोज़ जिगर कूं ।
आख फ़रीद टुर पैर प्यादी हुन स्ट्ट घत जरूर घर कूं ।

३९

मरवेसां कुरलांदी मुट्ठड़ी अखीं सावन बरसाते ।
सेज सूलां दी लगन कंडड़े सोज हिजर डेंह राते ।
जेहड़े ताअने शहर खवारी डित्तड़े इशक बराते ।
फ़रीदा जमदी मर वंजां हा इहा जिन्दड़ी सूलां वाते ।

४०

सुरख़ी कज्जला हार शिंगार ते बट्ठ पई सेज फुलां दी ।
लगन कंडड़े ढै ढै पवां दरद दी बांह सरांदी ।
बहर ग़मां विच्च लुढ़दी बुड्हदी सै सै गोते खांदी ।
ग़ुलाम फ़रीदा दरद कोकेसां न सल कनूं थियम वांदी ।

४१

नाज़ नेहोड़े इशक दे ग़मज़े डस्स कीं उसताद सिखाए ।
बे परवाही तरीढ़ी मत्थे की ए जींह सबक पढ़ाए ।
सुरख़ी ख़ून जिगर दा पींदी चा कज्जला फ़ौज चढ़ाए ।
समझ फ़रीद कूं ख़ाक कदमां दी इहा दिल्लड़ी महज़ फ़िदा ए ।

४२

थीवां हार तैंडे गल दा दिलबर असलों दूर न थीवां ।
या तैडे पैरां दी थीवां जुत्ती कदमां हेठ मंडीवां ।
इजज़ न्याज़ दी मडी साडी नित्त बांदी यार सदीवां ।
आख फ़रीद तैं रुख दिलबर दा हर दम डेख ते जीवां ।

४३

मेंघ मल्हारां बारस बारां रोही रब्ब वसाई ।
बूटे बूटे घुंड सुहावन सबजियां खतगी चाई ।
फोग बूटी ते लानड़ीं खप वाह नाज़ करेंदी लाई ।
यार फ़रीद वसम पिया कोलों फरहत रोज़ सवाई ।

४४

यार दियां झोकां किबला काबा साडा इशक इमामे ।
दिल विच्च हरदम यार दे देरे क्या सुबह क्या शामे ।
बाझ दीदार वसाल दिलबर दे नैना नन्दर हरामे ।
दर दिलबर दी बांदी बरदी थिया फ़रीद गुलामे ।

४५

सोहण्यां दे विच्च नाज़ नज़ाकत सोहने नाज नेहोड़े ।
इशक दे गमज़े सुरख़ी कज्जला हुसन शबाब दा ज़ोरे ।
हार सिंगार ते ज़ेवर कप्पड़े वाह ! वाह !! नाज़क टोरे ।
इशक फ़रीदा मार मुकायम हुन यार करम चा गौरे ।

४६

मैं रुस्सां तां कैं दर वस्सां जे यार रुट्ठा मरवेसां ।
कसम ख़ुदा दी जिन्द दिलबर विच्च मैं कदमां विच्च जलेसां ।
रुसन मूल न डेसां हरगिज़ पैरीं पै मनेसां ।
ग़ुलाम फ़रीदा इशक दिलबर विच्च मैं पूरी तोड़ निभेसां ।

४७

सोहनी लुढ़ पई बहर ग़मां विच्च लुड़दी बुडदी वैंदी ।
सिक महींवाल बेहाल कीतस ते सै सै बानड़ मरैदी ।
ग़ोते खावे बांह उलारे आख़री विदा करेंदी ।
यार फ़रीद महींवाल दा कलमा पढ़ जिन्दड़ी पई मुकेंदी ।

४८

रांझा तखत हज़ारे दा आया ख़ातर हीर स्याले ।
झंग विच्च देरे माल चरायस मंझी बाग साले ।
जोगी बण के कन्न पड़वायस कीता इशक कमाले ।
डेख फ़रदि फ़कीर दी पालीस जो वाह जोगी लज पाले ।

४९

किबला खवाजा नूर मुहमद साहब शहर मुहारां ।
हन्द सिंध पंजाब दे विच्च चा कीतो फैज़ हज़ारां ।
चिशत बहशत गुलज़ार अजायब चलाईआं फैज़ दियां नहरां ।
ग़ुलाम फ़रीद हम दोसत दिलेंदा सर सदका जिन्दड़ी वारां ।

५०

कासदा मन्न नाम ख़ुदा दा वंज मैंडे यार दी खिदमत ।
बे परवाह पुर नाज़ दिलबर है वंज मैंडे दिलदार दी खिदमत ।
इजज़ न्याज़ ते हाल हकीकत डे ग़म धवार दी खिदमत ।
रहां गुलाम फ़रीद दिल चांहदी गुल रुखसार दी खिदमत ।

५१

जुलफां कालियां हुसन अजायब कीता इशक ख़रीदे ।
कातल चशमां सुरख़ी कज्जला कीतम दीद सहीदे ।
नाज़क टोरे नाज़ नहोड़े लुटरी दिल फ़रीदे ।
बांदा बरदा तैं दिलबर दा थिया ग़ुलाम फ़रीदे ।

५२

वंजां मुट्ठड़ी रोही वुट्ठड़ी टोभा तार मतारां ।
डेखां वंज कर माल दे लांघे घंड घंड विच्च तवारां ।
भेडां बकरियां गाईं डेखां सहजों अंगन बहारां ।
यार फ़रीद मतां गल लावम एथे मैले वेस उतारां ।

५३

अलसत कनूं दिल मसत होइम जां सुणिअम अलसती कौले ।
'कालू बला' इकरार असाडा बा सिदक सफ़ा रूह बोले ।
अहदों अहमद बण कर आया हिक्क मीम खड़ा विच्च ओले ।
ग़ुलाम फ़रीद दी दिल चा लुट्टड़ी ओ सोहने अरबी ढोले ।

५४

मरवेसां इह दरद कूकेंदी क्युं दिलबर दिल्लड़ी चाती ।
नीर हज़ारां ठंडे साह हुन नित्त हिजर दी काती ।
तोड़े सै सै मिनतां कीतम आ पाई यार न झाती ।
यार फ़रीद आइम वेड़े हुन साडी ख़तम हयाती ।

५५

वंज वे कासद यार दी ख़िदमत साडा रो रो हाल सुणावीं ।
साडी कहीं कसूरे मान भर्या आ रोंदी कूं गल लांवीं ।
कोझा हाल असाडा तै बिन चा कदम मुबारक पांवीं ।
ग़ुलाम फ़रीद मतां मर वंजां चा दीदार डखावीं ।
५६ आ सजन मन नाम खुदा दा
खुली मौसम चेतर बहारां ।
संगियां सईआं दर गल लाए
मैं खुल्ही करां पुकारां ।
सेज फुलां दी मूल न भांदी
नित्त गांदी सोज़ दियां वारां ।
यार फ़रीद अंगन पाउं पांवीं
तां मैं भी शुकर गुज़ारां ।

५७

केची होत पुन्नल कूं घन गए हाय तेज़ रफतार उठां दी ।
थी बेदार सस्सी सड्ड मारे वंजे कूंज वांग कुरलांदी ।
डेखे पैरि पौवन घेरे तत्ती ज़ालम रेत थलां दी ।
आख फ़रीद सस्सी मोई थलां विच्च कफ़न बोछन बाह सरांदी ।

५८

आखां खली साडे लिड़े आ रांझन माल चरांई हा ।
कट्टियां तैं बिन बैठियां रहन्दियां आ आपने भांड़ वसाई हा ।
ला इला हा इल्ल लिल्ला दी
वंजली आन सुणाई हा ।
आख़ फ़रीद मुहमद रसूल अल्ला
साडी तन मन जोत जगाई हा ।

५९

रात डेहां फ़र्याद हमेशा एहा दिल्लड़ी दरद पुकारे ।
दरद फ़राक हिजर कनूं हुन हर दम सोज़ दे नाअरे ।
सेज सूलां दी नन्दर न आंदी रब्ब डेवे सुख दे वारे ।
यार ग़ुलाम फ़रीद बाझों जग डिस्सदा धूआं अंधारे ।

६०

सोहना बेला सावे टिल्लड़े इशक रांझा जागीरे ।
मंझियां कट्टियां कूं धनवाए आ नज़र तैंडी अकसीरे ।
मट्टियां दुध वलोड़ां किवें तैं बिन हीर ज़हीरे ।
आख फ़रीद दिल हिजर न सहन्दी डस्स हीर दी क्या तकसीरे ।

६१

अरब शरीफ दा मुलक अजायब जथां अरबी ढोल प्या वस्सदा ।
दिल्लड़ी अरबी यार पुकारे जिवें आवाज़ जरस दा ।
रहन्दा दिलबर मीम दे ओले लुक छुप भेत न डस्सदा ।
यार फ़रीदा अरज़ मनज़ूर करे चा ईं आजज़ बेकसदा ।

६२

सावन मद सुहाग दी सोहनी आरफ़ इबरत खादे ।
खिमन ख़िमदी बदल गज़कारां कई आंदे ते कई जांदे ।
यार जिन्हां दे कोल पए वस्सदे हार सिंगार पै ठांदे ।
यार फ़रीद आ सीने लाईए डस्स बाकी क्या चांहदे ।

६३

सुरखी कज़्ज़ला डितम मथे कपड़े मैल कचेले ।
क्या धांवा क्या ज़ेवर कपड़े क्या लाउं तेल फुलेले ।
यार बाझों हुन जीवन कूड़े मौत मारम चा पहले ।
आब हयात है रुख दिलबर दा फ़रीद करे रब्ब मेले ।

६४

इशक लेला विच्च मजनूं कामल खड़ा लेला याद करेंदा ।
बारां साल जंगल दे विच्च चंम बदन खड़ा सुकेंदा ।
सग लेला दा बाहर आया प्या मजनूं पैर चुंमेंदा ।
सादक इशक फ़रीद जिन्हां कूं जैंदीं मोईं तोड़ निभेंदा ।

६५

हुसन परसती रमज़ अजायब
हासल इशक मजाज़ी ।
दर हकीकत इशक हकीकी
दर परदे कसरत साज़ी ।
आशक सादक वासल बिला
राज़ रमूज़ दी बाज़ी ।
मज़हर नूर जमाल वसाल थिया
यार फ़रीद ते राज़ी ।

६६

लक्ख शुकराना पढ़ां दोगाना अरबी मैं घर आया बख़त सिवाया ।
सदके वैंदी कदम चुंमेंदी रब्ब दीदार डखाया बख़त सिवाया ।
डोहीं जहान कुरबान करां जै ताज लौलाकी पाया बख़त सिवाया ।
बेशक यार फ़रीद सोहना है आया नहीं वलाया बख़त सिवाया ।

६७

कोट मिट्ठन है किबला काबा ज़ाहर नूर इरफान आया ।
कुतबी गौसिया ख़ास मदारज मारफ़त दा सामान आया ।
चिशत बहशत है नूर मुहमदी अजब मज़हर ज़ीशां आया ।
ग़ुलाम फ़रीदा दिल लुटन कीते बण कर फ़खर जहां आया ।

६८

कोट शरीफ है नूर खुदाई फ़खर रौशन जमीरे कामल पीरे ।
कसम खुदा दी मुरशद हादी नज़र जैंदी अकेरे कामल पीरे ।
वाकफ़ राज रमूज़ रबानी साहब फ़ैज मेनरे कामल पीरे ।
यार फ़रीद न लहम संभाल थिया सिदकों दिलगीरे कामल पीरे ।

६९

फ़खर न करवे ऐडा बन्द्या फ़खर कीते की कंम आवनाई ।
तैंडे नाल दे सानी लड्ड सिधाए उदरे तू वी लड्ड सधावना ईं ।
कुझ मसलम नहीं बन्द्या नाल तैंडे वकत गुज़ार के पछोतावनाईं ।
पढ़ कलमा ते आख फ़रीद बन्द्या औखे सौखे वेले कंम आवनाई ।

७०

शरम रसूल करीम साईं नूं मैंडा बेड़ा टांग ते लावनाई ।
घुमर घेर गुनाह दा फेर पोवन लायला दा पक्ख चढ़ावनाई ।
चपे बण के नूर शफायत वाले इल लिल्ला दा वंज लगावनाई ।
मैडा पीर फ़रीद अरज़ करे सारी उम्मत नूं पार लंघावनाई ।

७१

मैं वल अक्खियां मूल न भालीं तैंडे नैन मरेंदे काती ।
हक डेंह भुल भुलेके लायम अते चीर सुट्यो ने छाती ।
पुच्छां हकीम जर्राह स्याने पट्टियां बद्धां डेंह राती ।
सदका पीर फ़रीद दा साईं कडां रांझन पैसी झाती ।

७२

बाग तैडे दा संगतरा होवां मै ता शाखों तरोड़ के नीवां ।
आवां हत्थ माशूकां दे मैं तां डल्लियां डल्लियां थीवां ।
चोपन चोप के स्ट्टन विच्च गलियां मैं तां पैरां हेठ मंडीवां ।
डेवन बुहारियां साड़न मैकूं तूं सेकीं ते मैं जीवां ।

७३

इशक ते बाह बरोबर, इशक दा ता तखेरा ।
बाह सड़ेंदी कक्ख काने नूं इशक सड़ेंदा जेअड़ा ।
बाहर सामे नाल पानी दे,इशक दा दारू केहड़ा ।
यार मैडे उत्थे चाह ना रक्खीं, जित्थे इशक लायन्दा डेरा ।

 
 
 Hindi Kavita