Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Dohre Baba Bullhe Shah in Hindi


आपने तन दी ख़बर ना काई, साजन दी ख़बर ल्यावे कौण।
ना हूं ख़ाकी ना हूं आतश , ना हूं पानी पउन ।
कुप्पे विच रोड़ खड़कदे , मूरख आखन बोले कौन ।
बुल्ल्हा साईं घट घट रव्या,ज्युं आटे विच लौन ।

अल्ल्हा तों मैं ते करज़ बणायआ, हत्थों तूं मेरा करज़ाई ।
ओथे तां मेरी प्रवरिश कीती, जित्थे किसे नूं ख़बर ना काई ।
ओथों तांहीं आए एथे , जां पहलों रोज़ी आई ।
बुल्ल्हे शाह है आशक उसदा, जिस तहकीक हकीकत पाई ।

अरबा-अनासर महल बणायो, विच वड़ बैठा आपे ।
आपे कुड़ियां आपे नींगर, आपे बणना एं मापे ।
आपे मरें ते आपे जीवें, आपे करें स्यापे ।
बुल्ल्हआ जो कुझ कुदरत रब्ब दी, आपे आप सिंञापे ।

भट्ठ नमाज़ां ते चिकड़ रोज़े, कलमे ते फिर गई स्याही ।
बुल्ल्हे शाह शहु अन्दरों मिल्या, भुल्ली फिरे लुकाई ।

बुल्ल्हा कसर नाम कसूर है, ओथे मूंहों ना सकन बोल ।
ओथे सच्चे गरदन मारीए, ओथे झूठे करन कलोल ।

बुल्ल्हे चल बावरचीखाने यार दे, जित्थे कोहा कोही हो ।
ओथे मोटे कुस्सन बक्करे, तूं लिस्सा मिले ना ढो ।

बुल्ल्हे नूं लोक मत्तीं देंदे, बुल्ल्हआ तूं जा बहु मसीती ।
विच मसीतां की कुझ हुन्दा, जो दिलों नमाज़ ना कीती ।
बाहरों पाक कीते की हुन्दा, जे अन्दरों ना गई पलीती ।
बिन मुरशद कामल बुल्ल्हआ,तेरी ऐवें गई इबादत कीती।

बुल्ल्हे कोलों चुल्ल्हा चंगा, जिस पर ताअम पकाई दा ।
रल फ़कीरां मजलिस कीती, भोरा भोरा खाई दा ।

बुल्ल्हे शाह चल ओथे चलीए, जित्थे सारे होवन अन्न्हे ।
ना कोई साडी कदर (ज़ात) पछाणे, ना कोई सानूं मन्ने ।
१०
बुल्ल्हे शाह उह कौन है, उतम तेरा यार ।
ओसे के हाथ कुरान है, ओसे गल ज़ुन्नार ।
११
बुल्ल्हआ अच्छे दिन ते पिच्छे गए, जब हर से किया ना हेत ।
अब पछतावा क्या करे, जब चिड़ियां चुग गई खेत ।
१२
बुल्ल्हआ आशक होइउं रब्ब दा, मुलामत होई लाख ।
लोक काफ़र काफ़र आखदे, तूं आहो आहो आख ।
१३
बुल्ल्हआ आउंदा साजन वेख के, जांदा मूल ना वेख ।
मारे दरद फराक दे, बण बैठे बाहमन शेख ।
१४
बुल्ल्हआ चल सुन्यार दे, जित्थे गहने घड़ीए लाख ।
सूरत आपो आपणी, तूं इको रूपा आख ।
१५
बुल्ल्हआ चेरी मुसलमान दी, हिन्दू तों कुरबान ।
दोहां तों पानी वार पी, जो करे भगवान ।
१६
बुल्ल्हआ धरमसाला धड़वाई रहन्दे, ठाकुर दुआरे ठग्ग ।
विच मसीतां कुसत्तईए रहन्दे, आशक रहन अलग्ग ।
१७
बुल्ल्हआ धरमसाला विच नाहीं, जित्थे मोमन भोग पवाए।
विच्च मसीतां धक्के मिलदे, मुल्लां त्यूड़ी पाए ।
दौलतमन्दां ने बूहआं उत्ते, रोबदार बहाए ।
पकड़ दरवाज़ा रब्ब सच्चे दा,जित्थों दुक्ख दिल दा मिट जाए।
१८
बुल्ल्हआ ग़ैन ग़रूरत साड़ सुट्ट, ते मान खूहे विच पा ।
तन मन दी सुरत गवा वे, घर आप मिलेगा आ ।
१੯
बुल्ल्हआ हर मन्दर में आइके, कहो लेखा द्यो बता ।
पड़्हे पंडित पांधे दूर कीए, अहमक लीए बुला ।
२०
बुल्ल्हआ हिजरत विच इसलाम दे, मेरा नित्त है ख़ास अराम ।
नित्त नित्त मरां ते नित्त नित्त जीवां, मेरा नित्त नित्त कूच मुकाम ।
२१
बुल्ल्हआ इशक सजन दे आए के, सानूं कीतो सू डूम ।
उह प्रभा असाडा सख़ी है, मैं सेवा कनूं सूम ।
२२
बुल्ल्हआ जैसी सूरत ऐन दी, तैसी सूरत ग़ैन।
इक नुक्कते दा फेर है , भुल्ला फिरे जहान ।
२३
बुल्ल्हआ जे तूं ग़ाज़ी बणनैं, लक्क बन्न्ह तलवार।
पहलों रंघड़ मार के , पिच्छों काफर मार ।
२४
बुल्ल्हआ कनक कौडी कामनी, तीनों ही तलवार ।
आए थे नाम जपन को, और विच्चे लीते मार ।
२५
बुल्ल्हआ कसूर बेदसतूर, ओथे जाना बण्या ज़रूर ।
ना कोई पुन्न ना दान है, ना कोई लाग दसतूर ।
२६
बुल्ल्हआ खा हराम ते पड़्ह शुकराना, कर तौबा तरक सवाबों ।
छोड़ मसीत ते पकड़ किनारा , तेरी छुट्टसी जान अज़ाबों ।
उह हरफ़ ना पड़्हीए मत , रहसी जान जवाबों ।
बुल्ल्हे शाह चल ओथे चलीए, जित्थे मन्हा ना करन शराबों ।
२७
बुल्ल्हआ मन मंजोला मुंज दा, किते गोशे बहके कुट्ट ।
इह खज़ाना तैनूं अरश दा, तूं संभल संभल के लुट्ट ।
२८
बुल्ल्हआ मैं मिट्टी घुम्यार दी, गल्ल आख ना सकदी एक ।
ततड़ मेरा क्युं घड़्या, मत जाए अलेक सलेक ।
२੯
बुल्ल्हआ मुल्लां अते मसालची, दोहां इक्को चित्त ।
लोकां करदे चानणा, आप हनेरे विच ।
३०
बुल्ल्हआ पैंडे पड़े प्रेम के, किया पैंडा आवागौन ।
अंधे को अंधा मिल ग्या, राह बतावे कौन ।
३१
बुल्ल्हआ परसों काफ़र थी गइउं, बुत्त पूजा कीती कल्ल्ह ।
असीं जा बैठे घर आपणे, ओथे करन ना मिलिया गल्ल ।
३२
बुल्ल्हआ पी शराब ते खा कबाब, हेठ बाल हड्डां दी अग्ग ।
चोरी कर ते भन्न घर रब्ब दा, ओस ठग्गां दे ठग्ग नूं ठग्ग ।
३३
बुल्ल्हआ काज़ी राज़ी रिशवते, मुल्लां राज़ी मौत ।
आशक राज़ी राग ते, ना परतीत घट होत ।
३४
बुल्ल्हआ रंग महल्लीं जा चड़्हउं, लोकी पुच्छन आखन खैर ।
असां इह कुझ दुनियां तों वट्ट्या,मूंह काला ते नीले पैर ।
३५
बुल्ल्हआ सभ मजाज़ी पौड़ियां, तूं हाल हकीकत वेख ।
जो कोई ओथे पहुंच्या चाहे, भुल्ल जाए सलामअलेक ।
३६
बुल्ल्हआ वारे जाईए उन्हां तों,जेहड़े गल्लीं देन प्रचा ।
सूई सलाई दान करन, ते आहरन लैन छुपा ।
३७
बुल्ल्हआ वारे जाईए उहनां तों,जेहड़े मारन गप्प सड़प्प ।
कउडी लभ्भी देन चा , ते बुग़चा घऊ-घप्प ।
३८
फिरी रुत्त शगूफ्यां वाली, चिड़ियां चुगन नूं आईआं ।
इकना नूं जुर्यां लै खाधा, इकना नूं फाहियां लाईआं ।
इकना नूं आस मुड़न दी आही, इक सीख कबाब चड़्हाईआं ।
बुल्ल्हे शाह की वस्स उन्हां दे, उह किसमत मार वसाईआं ।
३੯
होर ने सभ्भे गलड़ियां, अल्ल्हा अल्ल्हा दी गल्ल ।
कुझ रौला पायआ आलमां, कुझ कागज़ पाया झल्ल ।
४०
इन को मुक्ख दिखलाए है, जिन सो इस की प्रीत ।
इन को ही मिलता है, वोह जो इस के हैं मीत ।
४१
इस का मुक्ख इक जोत है, घुंघट है संसार ।
घुंघट में वोह छुप्प ग्या, मुक्ख पर आंचल डार ।
४२
इट्ट खड़िके दुक्कुड़ वज्जे, तत्ता होवे चुल्ल्हा ।
आवन फ़कीर ते खा खा जावण,राज़ी होवे बुल्ल्हा ।
४३
कनक कौडी कामनी, तीनों ही तलवार ।
आया सैं जिस बात को, भूल गई वोह बात ।
४४
मूंह दिखलावे और छपे, छल बल है जग देस ।
पास रहे और ना मिले, इस के बिसवे भेस ।
४५
ना ख़ुदा मसीते लभदा, ना ख़ुदा विच काअबे ।
ना ख़ुदा कुरान किताबां, ना ख़ुदा नमाज़े ।
४६
ना ख़ुदा मैं तीरथ डिट्ठा, ऐवें पैंडे झागे ।
बुल्ल्हा शहु जद मुरशद मिल ग्या, टुट्टे सभ तगादे ।
४७
रंघड़ नालों खिंघर चंगा, जिस पर पैर घसाईदा ।
बुल्ल्हा शहु नूं सोई पावे , जो बक्करा बने कसाई दा ।
४८
ठाकुर दुआरे ठग्ग बसें, भाई दवार मसीत ।
हरि के दवारे भिक्ख बसें, हमरी इह परतीत ।
४੯
उह हादी मेरे अन्दर बोल्या, रुड़्ह पुड़्ह गए गुनाहां ।
पहाड़ीं लग्गा बाजरा, शहतूत लग्गे फरवाहां ।
५०
वहदत दे दर्या दसेंदे, मेरी वहदत कित वल धाई।
मुरशद कामिल पार लंघायआ , बाझ तुल्हे सरनाही ।
५१
पढ़ पढ़ आलिम फ़ाज़िल होइओं,
कदे अपने आप नूं पढ़आई नहीं।
जा जा वड़दा एं मन्दिर मसीतीं,
कदे मन अपने विच वड़्याई नहीं ।
ऐवें रोज़ शैतान नाल लड़नै,
कदे नफ़स अपने नाल लड़्याई नहीं ।
बुल्ल्हे शाह असमानीं उडदियां फड़नै,
जेहड़ा घर बैठा उहनूं फड़्याई नहीं ।
५२
रब्ब रब्ब करदे बुढ्ढे हो गए मुल्लां पंडित सारे ।
रब्ब दा खोज खुरा ना लभ्भा अते सज्जदे कर कर हारे ।
रब्ब ते तेरे अन्दर वस्सदा इहदे विच कुरान इशारे ।
बुल्ल्हे शाह रब्ब उहनूं मिलदा जेहड़ा यार तों तन मन वारे ।
५३
तूं वार दे हर शै यार अपने तों जे जित्तनी इशक दी बाज़ी ।
यार दे नां दी तूं नीत खलो जा तैनूं आखन इशक नमाज़ी ।
तेरा यार कहे जे तूं घुंगरू पा लै भावें फ़तवे लावे काज़ी ।
बुल्ल्हे शाह जग्ग रुसदा रुस्स जावे पर असां यार नूं रक्खना एं राज़ी ।
५४
ऐन इशक दे महकमे मैं ग्या, अग्गों इशक ने मेरी कड़ई लुट्ट लई ।
मैं ग्या सां इशक सुदागरे वन्न, अग्गों इशक ने मेरी रसई लुट्ट लई ।
इशक लुटदा वलियां पैग़म्बरां नूं, कईआं बादशाहां दी बादशाही लुट्ट लई ।
अजे तेरा की लुट्ट्या ऐ बुल्हआ, ऐस इशक ख़ुदा दी ख़ुदाई लुट्ट लई ।
५५
पंजे वकत नमाज़ां पढ़ियां, ते तैनूं लोकी आखन नमाज़ी ।
जंग कर के मुड़ जित्त घर आइउं, तैनूं लोकी आखन ग़ाज़ी ।
चढ़ इनसाफ़ दी कुरसी बैठों, तैनूं लोकी आखन काज़ी ।
बुल्ल्हे शाह तूं कुझ वी नहीं खट्ट्या, जे तूं यार ना कीता राज़ी ।
५६
जे मैं तैनूं बाहर ढूंडां, ते मेरे अन्दर कौन समाना ।
जे मैं तैनूं अन्दर ढूंडां, फेर मुकई्ईअत जाना ।
सभ कुझ तूं एं ते सभ विच तूं एं, ते मैं तैनूं सभ तों पाक पछाना ।
मैं वी तूं एं ते तूं वी तूं एं, ऐथे बुल्ल्हा कौन निमाना ।

 
 
 Hindi Kavita