Hindi Kavita
हरिवंशराय बच्चन
Harivansh Rai Bachchan
 Hindi Kavita 

दो चट्टानें हरिवंशराय बच्चन

सूर समर करनी करहिं
बहुरि बंदि खलगन सति भाएँ
उघरहिं अन्त न होइ निबाहू
विभाजितों के प्रति
२६-१-’६३
मूल्य चुकाने वाला
२७ मई
गुलाब की पुकार
द्वीप-लोप
गुलाब, कबूतर और बच्चा
दो फूल
कील-काँटों में फूल
विक्रमादित्य का सिंहासन
खून के छापे
भोलेपन की कीमत
गाँधी
युग-पंक : युग-ताप
बाढ़-पीड़ितों के शिविर में
युग और युग
लेखनी का इशारा
कुकडूँ-कूँ
सुबह की बाँग
गत्यवरोध
गैंडे की गवेषणा
श्रृगालासन
कवि से, केंचुआ
क्रुद्ध युवा बनाम क्रुद्ध वृद्ध
काठ का आदमी
माँस का फर्नीचर
भुस की गठरी और हरी घास का आँगन
घर उठाने का बखेड़ा
दयनीयता : संघर्ष : ईर्ष्या
दिए की माँग
शिवपूजन सहाय के देहावसान पर
ड्राइंग रूम में मरता हुआ गुलाब
दो रातें
जीवन-परीक्षा
एक फिकर–एक डर
माली की साँझ
दो युगों में
दो बजनिए
भिगाए जा, रे
मुक्ति के लिए विद्रोह
सार्त्र के नोबल-पुरस्कार ठुकरा देने पर
शब्द-शर
नया-पुराना
दो चट्टानें
 
 
 Hindi Kavita