Hindi Kavita
हरिवंशराय बच्चन
Harivansh Rai Bachchan
 Hindi Kavita 

चार खेमे चौंसठ खूंटे हरिवंशराय बच्चन

चल बंजारे
नभ का निर्माण
कुम्‍हार का गीत
जामुन चूती है
गंधर्व-ताल
आगाही
मालिन बिकानेर की
रूपैया
वर्षाऽमंगल
राष्‍ट्र-पिता के समक्ष
आज़ादी के चौदह वर्ष
ध्‍वस्‍त पोत
स्‍वाध्‍याय कक्ष में वसंत
कलश और नींव का पत्‍थर
दैत्‍य की देन
बुद्ध के साथ एक शाम
पानी मारा एक मोती
तीसरा हाथ
दो चित्र
मरण काले
 
 
 Hindi Kavita