Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Birha Tu Sultan Shiv Kumar Batalvi in Hindi

बिरहा तू सुलतान शिव कुमार बटालवी

बिरहा तू सुलतान

बिरहा बिरहा आखीए
बिरहा तूं सुलतान ।
जिस तन बिरहा ना उपजे
सो तन जान मसान ।

असीं सभ बिरहा घर जंमदे
असीं बिरहा दी संतान ।
बिरहा खाईए बिरहा पाईए
बिरहा आए हंढान ।

असीं सभ बिरहा दे मन्दरीं
धुखदे धूफ़ मसान ।
बिन बिरहा उमर सुगंधियां
सभ्भे बिनसा जान ।

बिरहा सेती उपज्या
इह धरती ते असमान ।
बिरहा सेती सूरज जंमण
देहुं पए गेड़े खान ।

माएं वडभागी तेरा बिरहा
लड़ लग्ग मेरे आण ।
बिन बिरहा थींदी ठीकरी
किसे उजड़े कबरिसतान ।

अज्ज सभ्भे धरतियां मेरियां
ते सभ्भे ही असमान ।
अज्ज सभ्भे रंग ही मैंडड़े
मेरे वेहड़े झूमर पान ।

तूं हाए रानी मां मेरीए
क्युं लोचें वसल हंढान ।
जे दिशा दिशावां आपसीं
मिलन कदे ना जान ।

असां जून हंढानी महक दी
सानूं बिरहा दा वरदान ।
साडे इस बिरहा दे नाम तों
कोट जनम कुरबान ।

बिरहा बिरहा आखीए
बिरहा तूं सुलतान ।
जिस तन बिरहा ना उपजे
सो तन जान मसान ।

अरजोई

तूं जो सूरज चोरी कीता
मेरा सी
तूं जिस घर विच न्हेरा कीता
मेरा सी

इह जो धुप्प तेरे घर हस्से, मेरी है
इस दे बाझों मेरी उमर हनेरी है
इस विच मेरे ग़म दी महक बथेरी है
इह धुप्प कल्ल्ह सी मेरी, अज्ज वी मेरी है

मैं ही किरन-वेहूना इस दा बाबल हां
इस दे अंगीं मेरी अगन समोयी है
इस विच मेरे सूरज दी खुशबोयी है
सिख़र दुपहरे जिस दी चोरी होयी है

पर इस चोरी विच तेरा वी कुझ दोश नहीं
सूरज दी हर युग्ग विच चोरी जोयी है
रोंदी रोंदी सूरज नूं हर युग्ग अन्दर
कोयी ना कोयी सदा दुपहरी मोयी है

मैं निर-लोआ रिशम-विछुन्ना अरज़ करां
मैं इक बाप अधरमी तेरे दुआर खड़ां
आ हत्थीं इह सूरज तेरे सीस धरां
आ अज्ज आपनी धुप्प लई तेरे पैर फड़ां

मैं कलख़ायी देह, तूं मैनूं बख़श दईं
धुप्पां साहवें फिर ना मेरा नाम लवीं
जे कोयी किरन कदे कुझ पुच्छे चुप्प रव्हीं
जां मैनूं 'काला सूरज' कह के टाल दवीं

इह इक धुप्प दे बाबल दी अरजोयी है
मेरी धुप्प मेरे लई अज्ज तों मोयी है
सने सूरज तेरी अज्ज तों होयी है
धुप्प जिद्हे घर हस्से बाबल सोयी है

तूं जो सूरज चोरी कीता
तेरा सी
मेरा घर तां जनम-दिवस तों
न्हेरा सी ।

गीत उधारा होर द्यु

सानूं प्रभू जी
इक अद्ध गीत उधारा होर द्यु
साडी बुझदी जांदी अग्ग
अंगारा होर द्यु
मैं निक्की उमरे सारा दरद
हंढा बैठां
साडी जोबन रुत्त लई
दरद कुआरा होर द्यु

गीत द्यु मेरे जोबन वरगा
सउला टूणे-हारा
दिन चड़्हदे दी लाली दा ज्युं
भर सरवर लिशकारा
रुक्ख-वेहूने थल विच्च जीकण
पहला संझ दा तारा
संझ होयी साडे वी थल थीं
इक अद्ध तारा होर द्यु
जां सानूं वी लाली वाकण
भर सरवर विच खोर द्यु

प्रभ जी देहुं बिन मीत तां बीते
गीत बिनां ना बीते
अउध हंढानी हर कोयी जाणे
दरद नसीबीं सीते
हर पत्तन दे पानी प्रभ जी
केहड़े मिरगां पीते
साडे वी पत्तणां दे पाणी
अणपीते ही रोड़्ह द्यु
जां जो गीत लिखाए साथों
उह वी प्रभ जी मोड़ द्यु

प्रभ जी रूप ना कदे सलाहीए
जेहड़ा अग्ग तों ऊणा
उस अक्ख दी सिफ़त ना करीए
जिस दा हंझ अलूणा
दरद विछुन्ना गीत ना कहीए
बोल जो साडा महक-वेहूणा
तां डाली तों तोड़ द्यु
जां सानूं साडे जोबन वरगा
गीत उधारा होर द्यु
मैं निक्की उमरे सारा दरद
हंढा बैठां
साडी जोबन रुत्त लई
दरद कुआरा होर द्यु

चीर हरन

मैं सारा दिन कीह करदा हां
आपने परछावें फड़दा हां
आपनी धुप्प विच ही सड़दा हां

हर देहुं दे दुरयोधन अग्गे
बेचैनी दी चौपड़ धर के
मायूसी नूं दाय 'ते ला के
शरमां दी दरोपद हरदा हां
ते मैं पांडव एस सदी दा
आपना आप दुशासन बण के
आपना चीर-हरन करदा हां
वेख नगन आपनी कायआं नूं
आपे तों नफरत करदा हां
नंगे होणों बहुं ड्रदा हां
झूठ कपट दे कज्जन ताईं
लक्ख उस 'ते परदे करदा हां
दिन भर भटकन दे जंगल विच
पीले जिसमां दे फुल्ल सुंघदा
शुहरत ते सरवर 'ते घुंमदा
बेशरमी दे घुट्ट भरदा हां
यारां दे सुन बोल कुसैले
फिटकारां संग होए मैले
बुझे दिल 'ते नित्त जरदा हां
मैं ज़िन्दगी दे महांभारत दा
आप इक्कला युद्ध लड़दा हां
किसमत वाले व्यूह-चक्कर विच
आपने ख़ाबां दा अभिमन्न्यू
जैदरथ सम्यां दे हत्थों
वेख के मर्या नित्त सड़दा हां
ते प्रतिग्ग्या नित्त करदा हां
कल्ल्ह दा सूरज डुब्बन तीकण
सारे कौरव मार द्यांगा
जां मर जान दा प्रन करदा हां
पर ना मारां ना मरदा हां
आपने पाले विच ठरदा हां
ते बस्स एस नमोशी विच ही
कौरवां दा रत्थ हिक्कदे हिक्कदे
ज़िल्लत दे विच पिसदे पिसदे
रात दे काले तम्बूआं अन्दर
हार हुट्ट के आ वड़दा हां
नींद दा इक सप्प पाल के
आपनी जीभे आप लड़ा के
बेहोशी नूं जा फड़दा हां
मैं सारा दिन कीह करदा हां
आपने परछावें फड़दा हां
आपना आप दुशासन बण के
आपना चीर हरन करदा हां

लोहे दा शहर

लोहे दे इस शहर विच
पित्तल दे लोक रहन्दे
सिक्के दा बोल बोलण
शीशे दा वेस पाउंदे

जिसती इहदे गगन 'ते
पित्तल दा चड़्हदा सूरज
तांबे दे रुक्खां उप्पर
सोने दे गिरझ बहन्दे

इस शहर दे इह लोकी
ज़िन्दगी दी हाड़ी साउणी
धूएं दे वढ्ढ वाह के
शरमां ने बीज आउंदे

चांदी दी फ़सल निस्सरे
लोहे दे हड्ड खा के
इह रोज़ चुगन सिट्टे
जिसमां दे खेत जांदे
इस शहर दे इह वासी
बिरहा दी जून आउंदे
बिरहा हंढा के सभ्भे
सक्खने दी परत जांदे

लोहे दे इस शहर विच
अज्ज ढार्यां दे उहले
सूरज कली करायआ
लोकां ने नवां कहन्दे
लोहे दे इस शहर विच
लोहे दे लोक रहसण
लोहे दे गीत सुणदे
लोहे दे गीत गाउंदे
लोहे दे इस शहर विच
पित्तल दे लोक रहन्दे
सिक्के दे बोल बोलण
शीशे दा वेश पाउंदे

ज़ख़म

(चीनी हमले समें )

सुण्युं वे कलमां वाल्यु
सुण्युं वे अकलां वाल्यु
सुण्युं वे हुनरां वाल्यु
है अक्ख चुभ्भी अमन दी
आइउ वे फूकां मार्यु
इक दोसती दे ज़खम 'ते
सांझां दा लोगड़ बन्न्ह के
सम्यां दी थोहर पीड़ के
दुद्धां दा छट्टा मार्यु

वेहड़े असाडी धरत दे
तारीख़ टूना कर गई
सेहे दा तक्कला गड्ड के
साहां दे पत्तर वढ्ढ के
हड्डियां दे चौल डोहल के
नफरत दी मौली बन्न्ह के
लहूआं दी गागर धर गई
यो साथीयो, ओ बेलीओ
तहज़ीब ज्यूंदी मर गई ।

इख़लाक दी अड्डी 'ते मुड़
वहशत दा बिसियर लड़ ग्या
इतेहास दे इक बाब नूं
मुड़ के ज़हर है चड़्ह ग्या
सद्द्यो वे कोयी मांदरी
सम्यां नूं दन्दल पै गई
सद्द्यो वे कोयी जोगिया
धरती नूं गश है पै गई
सुक्खो वे रोट पीर दे
पिप्पलां नूं तन्दां कच्चियां
आउ वे इस बारूद दी
वरमी ते पाईए लस्सियां
यो दोसतों, ओ महरमो
काहनूं इह अग्गां मच्चियां

हाड़ा जे देशां वाल्यो
हाड़ा जे कौमां वाल्यो
यो ऐटमां द्यु ताजरो
बारूद दे वणजार्यु
हुन होर ना मनुक्ख सिर
लहूआं दा करज़ा चाड़्हउ
है अक्ख चुभ्भी अमन दी
आइउ वे फूकां मार्यु
हाड़ा जे कलमां वाल्यु
हाड़ा जे अकलां वाल्यु
हाड़ा जे हुनरां वाल्यु

करज़

अज्ज दिन चड़्हआ तेरे रंग वरगा
तेरे चुंमन पिछली संग वरगा
है किरनां दे विच नशा जेहा
किसे छींबे सप्प दे डंग वरगा
अज्ज दिन चड़्हआ तेरे रंग वरगा

मैं चाहुन्दां अज्ज दा गोरा दिन
तारीख़ मेरे नां कर देवे
इह दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
मैनूं अमर जहां विच कर देवे
मेरी मौत दा जुरम कबूल करे
मेरा करज़ तली 'ते धर देवे
इस धुप्प दे पीले काग़ज़ 'ते
दो हरफ़ रसीदी कर देवे

मेरा हर देहुं दे सिर करज़ा है
मैं हर देहुं तों कुझ लैना है
जे ज़रबां देवां वहियां नूं
तां लेखा वधदा जाना है
मेरे तन दी कल्ली किरन लई
तेरा सूरज गहने पैना है
तेरे चुल्ल्हे अग्ग ना बलनी है
तेरे घड़े ना पानी रहना है
इह दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
मुड़ दिन-दीवीं मर जाना है

मैं चाहुन्दां अज्ज दा गोरा दिन
अण्यायी मौत ना मर जावे
मैं चाहुन्दां इस दे चानन तों
हर रात कुलहनी डर जावे
मैं चाहुन्दां किसे तिजोरी दा

सप्प बण के मैनूं लड़ जावे
जो करज़ मेरा है सम्यां सिर
उह बेशक्क सारा मर जावे
पर दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
तारीख़ मेरे नां कर जावे
इस धुप्प दे पीले काग़ज़ 'ते
दो हरफ़ रसीदी कर जावे

कौन मेरे शहर आ के

कौन मेरे शहर आ के मुड़ ग्या
चन्न दा सारा ही चानन रुड़्ह ग्या

पीड़ पा के झांजरां किधर टुरी
केहड़े पत्तणीं ग़म दा मेला जुड़ ग्या

छड्ड के अकलां दा झिक्का आल्हणा
उड़ ग्या हिजरां दा पंछी उड़ ग्या

है कोयी सूयी कंधूयी दोसतो
वकत दे पैरां च कंडा पुड़ ग्या

शुहरतां दी धड़ ते सूरत वी है
फिर वी खौरे की है मेरा थुड़ ग्या

मैनूं तेरा शबाब लै बैठा

मैनूं तेरा शबाब लै बैठा
रंग गोर गुलाब लै बैठा

दिल दा डर सी किते ना लै बैठे
लै ही बैठा जनाब लै बैठा

वेहल जद वी मिली है फ़रज़ां तों
तेरे मुक्ख दी किताब लै बैठा

किन्नी बीती ते किन्नी बाकी है
मैनुं इहो हिसाब लै बैठा

शिव नूं इक गम ते ही भरोसा सी
गम तों कोरा जवाब लै बैठा

ढोलिया वे ढोलिया

ढोलिया, वे ढोलिया !
यो मेरे बेलिया !!
इक डग्गा ढोल ते लांदा जा
मेरा सुतड़ा देश जगांदा जा ।

सारी दुनियां जागी
मेरे देश नूं नींदर आई
पच्छड़ी साडी हाड़ी-साउणी
पछड़ी बार-ब्याई
सुपने वरगी धरती साडी
फिरदी है कुमलायी ।

तूं धरती दे जायआं नूं
इक सावा गीत सुणांदा जा
इक डग्गा ढोल ते लांदा जा
मेरा सुतड़ा देश जगांदा जा ।

जागे मिट्टी, जागन फ़सलां
जागन हाली पाली
जागन मेरे लाखे काले
जागे हल्ल पंजाली
जागे मेरे सिट्ट्यां दे विच
नवीं कोयी हर्याली ।

तूं धरती दा चप्पा चप्पा
सुहना सवरग बणांदा जा
इक डग्गा ढोल ते लांदा जा
मेरा सुतड़ा देश जगांदा जा ।

जागे अज्ज धरती दा वारिस
जागे खेत दा राणा
कह धरती दे जायआं नूं
कोयी छोहन गीत सुहाणा
मिट्टी दे विच सूझ रला के
बीजो दाना दाना ।

नवें युग्ग दी नवीं चेतना
मत्थे नाल छुहांदा जा
इक डग्गा ढोल 'ते लांदा जा
मेरा सुतड़ा देश जगांदा जा ।

इह मिट्टी साडे लक्ख शहीदां
लहूआं विच हंघाली
इस मिट्टी लई लक्ख जवानां
सिर दी होली बाली
इस मिट्टी दी नाल मोतियां
भरनी झोल है ख़ाली ।

इस मिट्टी नूं देश वासिया
हरदम सीस निवांदा जा
इक डग्गा ढोल 'ते लांदा जा
मेरे सुतड़े खेत जगांदा जा ।

सूरज दा मरसिया

(पं: नहरू दी अंतिम विदा वेले)

अज्ज अमनां दा बाबल मर्या
सारी धरत नड़ोए आई
ते अम्बर ने हौका भर्या
इंझ फैली दिल दी ख़शबोई

ईकन रंग सोग दा चड़्हआ
जीकन संघने वण विच्च किधरे
चन्दन दा इक्क बूटा सड़्या
तहज़ीबां ने फूहड़ी पाई

तवारीख़ दा मत्था ठर्या
मज़्हबां नूं अज्ज आई त्रेली
कौमां घुट्ट कलेजा फड़्या
राम रहीम गए पथराए

हरमन्दर दा पानी ड्र्या
फेर किसे मरियम दा जायआ
अज्ज फ़रज़ां दी सूली चड़्हआ
अज्ज सूरज दी अरथी निकली

अज्ज धरती दा सूरज मर्या
कुल्ल लोकायी मोढा दित्ता
ते नैणां विच्च हंझू भर्या
पैन मनुक्खता ताईं दन्दलां

काला दुक्ख ना जावे जर्या
रो रो मारे ढिड्डीं मुक्कियां
दसे दिशावां सोगी होईआं
ईकन चुप्प दा नाग है लड़्या

ज्युं धरती ने अज्ज सूरज दा
रो रो के मरसिया पड़्हआ
अज्ज अमनां दा बाबल मर्या
सारी धरत नड़ोए आई
ते अम्बर ने हौका भर्या

डर

जेठ हाड़ दी
बलदी रुत्ते
पीली पित्तल रंगी धुप्पे
मड़्हियां वाले
मन्दर उत्ते
बैठी चुप्प त्रिंजन कत्ते
धुप्प-छावां दा
मुढ्ढा लत्थे
गिरझां दा परछावां नस्से
नंगी डैण
पयी इक नच्चे
पुट्ठे थण मोढे 'ते रक्खे
छज्ज पौन दा
कल्लर छट्टे
बोदी वाला वावरोला
रक्कड़ दे विच चक्कर कट्टे
हल्लन पए
थोहरां दे पत्ते
विच करीरां सप्पनी वस्से
मकड़ियां दे
जाल पलच्चे
अक्क कक्कड़ी दे फंभ्यां ताईं
भूत भूताणा
मारे धक्के
बुढ्ढे बोहड़ दियां खोड़ां विच
चाम चड़िक्कां दित्ते बच्चे
मड़्हियां वाला
बाबा हस्से
पाटे कन्न भबूती मत्थे
ते मेरे ख़ाबां दे बच्चे
डर थीं सहमे
जावन नस्से
नंगे पैर धूड़ थीं अट्टे
दिल धड़कण
ते चेहरे लत्थे
पीली पित्तल रंगी धुप्प दा
दूर दूर तक
मींह प्या वस्से

(नोट='बिरहा तूं सुलतान' में; पीड़ां दा परागा,
लाजवंती, आटे दीआं चिड़ियां, मैनूं विदा करो
रचनायें भी शामिल हैं)

 
 
 Hindi Kavita